शनिवार, 28 सितंबर 2019

'शक्ति' स्वरूपा देवी दुर्गा के नौ रूप

नवरात्रि एक हिंदू पर्व है। नवरात्रि एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है 'नौ रातें'। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। दसवाँ दिन दशहरा के नाम से प्रसिद्ध है। नवरात्रि वर्ष में चार बार आता है। पौष, चैत्र,आषाढ,अश्विन प्रतिपदा से नवमी तक मनाया जाता है। नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों - महालक्ष्मी, महासरस्वती या सरस्वती और दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा होती है जिन्हें नवदुर्गा कहते हैं। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। दुर्गा का मतलब जीवन के दुख कॊ हटानेवाली होता है। नवरात्रि एक महत्वपूर्ण प्रमुख त्योहार है जिसे पूरे भारत में महान उत्साह के साथ मनाया जाता है।


नौ देवियाँ है :-


शैलपुत्री - इसका अर्थ- पहाड़ों की पुत्री होता है।
ब्रह्मचारिणी - इसका अर्थ- ब्रह्मचारीणी।
चंद्रघंटा - इसका अर्थ- चाँद की तरह चमकने वाली।
कूष्माण्डा - इसका अर्थ- पूरा जगत उनके पैर में है।
स्कंदमाता - इसका अर्थ- कार्तिक स्वामी की माता।
कात्यायनी - इसका अर्थ- कात्यायन आश्रम में जन्मि।
कालरात्रि - इसका अर्थ- काल का नाश करने वली।
महागौरी - इसका अर्थ- सफेद रंग वाली मां।
सिद्धिदात्री - इसका अर्थ- सर्व सिद्धि देने वाली।
शक्ति की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्र प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल से मनाया जा रहा है। सर्वप्रथम श्रीरामचंद्रजी ने इस शारदीय नवरात्रि पूजा का प्रारंभ समुद्र तट पर किया था और उसके बाद दसवें दिन लंका विजय के लिए प्रस्थान किया और विजय प्राप्त की। तब से असत्य, अधर्म पर सत्य, धर्म की जीत का पर्व दशहरा मनाया जाने लगा। आदिशक्ति के हर रूप की नवरात्र के नौ दिनों में क्रमशः अलग-अलग पूजा की जाती है। माँ दुर्गा की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री है। ये सभी प्रकार की सिद्धियाँ देने वाली हैं। इनका वाहन सिंह है और कमल पुष्प पर ही आसीन होती हैं। नवरात्रि के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है।


नवदुर्गा और दस महाविद्याओं में काली ही प्रथम प्रमुख हैं। भगवान शिव की शक्तियों में उग्र और सौम्य, दो रूपों में अनेक रूप धारण करने वाली दशमहाविद्या अनंत सिद्धियाँ प्रदान करने में समर्थ हैं। दसवें स्थान पर कमला वैष्णवी शक्ति हैं, जो प्राकृतिक संपत्तियों की अधिष्ठात्री देवी लक्ष्मी हैं। देवता, मानव, दानव सभी इनकी कृपा के बिना पंगु हैं, इसलिए आगम-निगम दोनों में इनकी उपासना समान रूप से वर्णित है। सभी देवता, राक्षस, मनुष्य, गंधर्व इनकी कृपा-प्रसाद के लिए लालायित रहते हैं।



अहमदाबाद का गरबा नृत्य
नवरात्रि भारत के विभिन्न भागों में अलग ढंग से मनायी जाती है। गुजरात में इस त्योहार को बड़े पैमाने से मनाया जाता है। गुजरात में नवरात्रि समारोह डांडिया और गरबा के रूप में जान पड़ता है। यह पूरी रात भर चलता है। डांडिया का अनुभव बड़ा ही असाधारण है। देवी के सम्मान में भक्ति प्रदर्शन के रूप में गरबा, 'आरती' से पहले किया जाता है और डांडिया समारोह उसके बाद। पश्चिम बंगाल के राज्य में बंगालियों के मुख्य त्यौहारो में दुर्गा पूजा बंगाली कैलेंडर में, सबसे अलंकृत रूप में उभरा है। इस अदभुत उत्सव का जश्न नीचे दक्षिण, मैसूर के राजसी क्वार्टर को पूरे महीने प्रकाशित करके मनाया जाता है।


महत्व  
नवरात्रि उत्सव देवी अंबा (विद्युत) का प्रतिनिधित्व है। वसंत की शुरुआत और शरद ऋतु की शुरुआत, जलवायु और सूरज के प्रभावों का महत्वपूर्ण संगम माना जाता है। इन दो समय मां दुर्गा की पूजा के लिए पवित्र अवसर माने जाते है। त्योहार की तिथियाँ चंद्र कैलेंडर के अनुसार निर्धारित होती हैं। नवरात्रि पर्व, माँ-दुर्गा की अवधारणा भक्ति और परमात्मा की शक्ति (उदात्त, परम, परम रचनात्मक ऊर्जा) की पूजा का सबसे शुभ और अनोखा अवधि माना जाता है। यह पूजा वैदिक युग से पहले, प्रागैतिहासिक काल से है। ऋषि के वैदिक युग के बाद से, नवरात्रि के दौरान की भक्ति प्रथाओं में से मुख्य रूप गायत्री साधना का हैं।


साहित्यकार-आलोचक होंगे सम्मानित

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार की हिंदी अकादमी प्रख्यात हिंदी साहित्यकार एवं आलोचक डॉ. विश्वनाथ त्रिपाठी को सोमवार को 2018-19 शलाका सम्मान से सम्मानित करेगी। वहीं अकादमी के शिखर सम्मान के लिए शीला झुनझुनवाला और विशिष्ट योगदान सम्मान के लिए सुधाकर बाबू पाठक को चुना गया है।


हिंदी अकादमी राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लेखकों, साहित्यकारों, पत्रकारों और कवियो को हिंदी साहित्य में उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित करती है। इस साल इस सम्मान के लिए चुने गए लोगों को सोमवार को कमानी सभागार में आयोजित एक कार्यक्रम में सम्मानित किया जाएगा। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया होंगे। कार्यक्रम में सिसोदिया के अलावा हिंदी अकादमी के अध्यक्ष सुरेंद्र शर्मा और दिल्ली सरकार के कला, संस्कृति एवं भाषा विभाग की सचिव मनीषा सक्सेना भी शामिल होंगी। अकादमी ने शलाका सम्मान के लिए विश्वनाथ त्रिपाठी, शिखर सम्मान के लिए शीला झुनझुनवाला, विशिष्ट योगदान सम्मान के लिए सुधाकर बाबू पाठक, काव्य सम्मान के लिए माणिक वर्मा, गद्य विद्या सम्मान के लिए डॉ. श्यौराज सिंह बैचेन, ज्ञान प्रौद्योगिकी सम्मान के लिए डॉ. यतीश अग्रवाल, बाल साहित्य सम्मान के लिए घमंडी लाल अग्रवाल, नाट्य सम्मान के लिए राधावल्लभ त्रिपाठी, हास्य व्यंग्य सम्मान के लिए वरुण ग्रोवर, अनुवाद सम्मान के लिए हरजेंद्र चौधरी, पत्रकारिता सम्मान (इलेक्ट्रॉनिक) के लिए सुप्रिय प्रसाद, हिंदी सेवा सम्मान के लिए सलिल चतुर्वेदी और सहभाषा सम्मान के लिए डॉ. पृथ्वी सिंह को चुना है। शलाका सम्मान के तहत पुरस्कार स्वरूप पांच लाख रुपये की सम्मान राशि प्रदान की जाती है जबकि शिखर सम्मान विजेता को दो लाख रुपए प्रदान किए जाते हैं।    हिन्दी अकादमी संचालन समिति की वार्षिक बैठक के बाद उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने अलग-अलग श्रेणियों में कुल 15 सम्मानों की अगस्त में घोषणा की थी।


अफरीदी ने 370 पर खेली जहरीली पारी

वैसे तो क्रिकेटर क्रिकेट के मैदान में ज्यादा बोलते हैं। लेकिन पाकिस्तान के क्रिकेटरों का कुछ नहीं कह सकते कहां बोले और क्या बोले यह भी भरोसा नहीं रहता।


क्रिकेट की दुनिया के बदनाम खिलाड़ी और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने कश्मीर मुद्दे पर उगला जहर,क्रिकेट को शर्मसार करने वाले क्रिकेटर ने कश्मीर मुद्दे पर नापाक बयान दिया है। अफरीदी ने कश्मीर मुद्दे को लेकर एक ट्वीट किया है। पीएम इमरान के कश्मीरियों के समर्थन के लिए शुरू किए गए कश्मीर आवर कार्यक्रम को अपना समर्थन दें, में शुक्रवार को दोपहर 12:00 बजे इसके लिए मजार-ए-कायद में उपस्थित रहूंगा। कश्मीरी भाइयों के समर्थन के लिए मेरे साथ जुड़े 6 सितंबर को मैं शहीद के घर का दौरा करूंगा और जल्दी में एलओसी पर भी जाऊंगा।अफरीदी का यह ट्वीट पाक प्रोपेगेंडा का हिस्सा लग रहा है। जिसमें पाकिस्तान के पीएम इमरान खान पाकिस्तान के क्रिकेटरों को भी कश्मीर मसले से जोड़कर आवाम को गुमराह कर रहे हैं वैसे पहला मौका नहीं है। जब पाकिस्तान के बदनाम क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने कोई विवादित बयान दिया हो इससे पहले भी वह कश्मीर मुद्दे पर ट्वीट कर चुके हैं। जिससे उनकी जमकर किरकिरी भी हुई थी और उन्हें टीम इंडिया के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने भी लताड़ लगाई थी।


12 घंटे में तीन आतंकी हमले, जवान शहीद

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के अलग-अलग इलाकों में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई मुठभेड़ में 4 आतंकियों को मार गिराया है। राज्य के गांदरबल और रामबन जिले में हुई आतंकी मुठभेड़ों में जवानों ने 4 आतंकियों को ढेर किया है। रामबन में एक परिवार को बंधक बनाने की कोशिश करने तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। रामबन के अलावा गांदरबल जिले में एक आतंकी ढेर किया गया है। 
एक जवान हुआ शहीद 


जम्मू-कश्मीर के आईडी मुकेश सिंह ने रामबन के बटोत मुठभेड़ पर जानकारी देते हुए कहा कि सभी बंधकों को छुड़ा लिया गया है। इस मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर हुए हैं जबकि सेना का एक जवान शहीद हो गया। इसके अलावा पुलिस के दो जवान भी घायल हुए हैं। ऑपरेशन समाप्त हो गया है। 
बंधक बनाने का किया था प्रयास 
सुरक्षाबलों के अनुसार, रामबन में आतंकियों ने एक परिवार को बंधक बनाने का प्रयास किया था, जिसके बाद जवानों ने इस परिवार को किसी प्रकार घर से निकाल लिया। परिवार को रेस्क्यू करने के बाद यहां मुठभेड़ शुरू हुई, जिसमें 3 आतंकी मार गिराए गए। रामबन में आतंकी मुठभेड़ खत्म होने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी मुकेश सिंह ने बताया कि सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया है। वहीं काउंटर ऑपरेशन में सेना का 1 जवान शहीद हुआ है, जबकि दो अन्य पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए हैं।


आकाशीय बिजली से 10 झुलसे,2 की मौत

सवांददाता-कासिम खाँन


बाँदा। बबेरू कोतवाली क्षेत्र के एक गांव पर आकाशीय बिजली गिरने से 10 लोग झुलस गए । जिसमें दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। 8 लोग गंभीर रूप से झुलस गए, जिनको डायल हंड्रेड व कोतवाली पुलिस ने सभी झुलसे हुए लोगों को बबेरु सीएचसी पर भर्ती कराया। जहां पर डाक्टरों ने देखते ही दो को मृत घोषित कर दिया। तथा पांच की हालत खराब होने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया।


आपको बता दें पूरा मामला बबेरु कोतवाली क्षेत्र के बुढ़ौली गांव के पास का है। जहां पर तेज बारिश के चलते लोग यात्री शेड के नीचे बैठ गए। तभी अचानक आकाशीय बिजली गिरी , जिसमें 10 लोग बुरी तरह से झुलस गए। जिसमें एक युवक व एक महिला की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने पर मौके पर डायल हंड्रेड व कोतवाली पुलिस पहुंचकर अपनी गाड़ी पर लेकर बबेरु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भर्ती कराया। जहां पर डाक्टरों ने रवि कुमार पुत्र अरविन्द उम्र 18 वर्ष निवासी दतौरा व केसनिया पत्नी राजाराम उम्र 60 वर्ष निवासी परसौली को देखते ही मृत घोषित कर दिया औऱ 5 लोगों की हालत खराब होने पर डाक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। मृतक रवि कुमार के चाचा ने बताया कि, रवि अपने भाई जीतू के साथ पुणे महाराष्ट्र से मजदूरी कर वापस आ रहा था। तभी यह गांव के पास हादसा हो गया ।जिसमें रवि की मौत हो गई हैं।
वहीं अस्पताल परिसर पर पुलिस क्षेत्राधिकारी कुलदीप सिंह वा बबेरु उपजिलाधिकारी महेंद्र प्रताप सिंह मौके पर पहुंचकर सभी के नाम लिखकर और शासन द्वारा आर्थिक मदद दिलाने का भरोसा दिया।


एसडीएम से जनता को लूटने की सिकायत

भारतीय जनता पार्टी से भाजपा किसान मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष सत्य प्रकाश प्रधान निठौरा ने उप जिलाधिकारी से जन सुविधा केंद्र मे चल रही लूट की, की शिकायत।लोनी की भोली-भाली जनता को भ्रष्टाचारियों के द्वारा लूटा जा रहा है। जन सुविधा केंद्र में कागजों में कमी बताकर किया जा रहा है। रकम लूटने का काम फैलाया जा रहा है भ्रष्टाचार,


सचिन वाशौरिया


गाजियाबाद,लोनी। नगर पालिका में जन सुविधा केंद्र मे मातृ शक्तियों व गरीब लोनी की जनता के साथ किया जा रहा है खिलवाड़। जी हां बताते चले कि लोनी की भोली-भाली जनता के कागजातों में कमी बताकर रुपए ऐंठने का मामला सामने आया है। जिसकी शिकायत भारतीय जनता पार्टी से भाजपा किसान मोर्चा गाजियाबाद के जिला उपाध्यक्ष सत्य प्रकाश प्रधान ने लोनी उपजिलाधिकारी से की है। इसकी गहनता से जांच कर लोनी की जनता को न्याय दिलाकर, जन सुविधा केंद्र की जांच कर, उन भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है। यह कोई पहला मामला ऐसा नहीं है।ऐसे अन्य कई मामले पहले भी भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष सत्यप्रकाश के सामने आए हैं। सत्य प्रकाश प्रधान ने बताया कि लोनी की जनता के साथ नाइंसाफी बर्दाश्त नहीं की जाएगी और जो कोई भी कर्मचारी से लेकर अधिकारी भ्रष्ट हैं। उन लोगों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही कराई जाएगी। जिससे लोनी की भोली-भाली जनता को इंसाफ मिले।


गाजियाबाद पुलिस ने 3 शातिर चोर दबोचे

गाज़ियाबाद थाना इंदिरापुरम पुलिस द्वारा 03 शातिर वाहन चोर गिरफ़्तार
गाज़ियाबाद। एनसीआर क्षेत्र में चोरी करने वाले 03 शातिर वाहन चोरों को मय 08 चारपहिया वाहनों व अवैध असलहा,कारतूस व चाकू सहित दबोचा। जिसमे अभियुक्त लल्लू खां जनपद अलीगढ़ क्षेत्र इग्लास में विधायक मलिखान की हत्या में शामिल अभियुक्त को, अन्य दो साथियों समेत इंदिरापुरम पुलिस ने गिरफ़्तार किया है। ये अभियुक्त पहले घूम-घूमकर वाहनों की रेकी करते थे। फिर अपने गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर मौका पाकर वाहन चुरा लेते थे। ये लोग बहुत ही शातिर प्रवृति के अपराधी है।प्रभारी निरीक्षक श्री दीपक शर्मा थाना इंदिरापुरम ने एक पुलिस टीम गठित कर तत्परता से कारवाई करते हुए। इन वाहन चोरों को शिप्रा अंडर पास से मुखबिर की सूचना पर गिरफ़्तार किया गया और पुलिस ने इनके अपराधिक इतिहास की जांच कर इन अभियुक्तों को जेल भेज दिया है।
रिपोर्ट-शकील खान


चंडीगढ़ में चली गोलियां,विश्नोई ग्रुप ने स्‍वीकारा

राणा ओबराय
चंडीगढ़ सेक्टर-45 बुडै़ल एरिया में चली गोलियां, गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप ने ली हत्या की जिम्मेदारी

चंडीगढ़। शहर के सेक्टर-45 बुडै़ल एरिया में शनिवार यानी आज मर्डर हो गया। यहां के वाल्मीकि मोहल्ले में दिनदिहाड़े कुछ आरोपियों ने तीन युवकों पर गोलियां बरसा दीं। जिन तीन युवकों पर आरोपियों ने गोलियां चलाईं, उनके नाम सोनू शाह, रोनी और जोगिन्दर हैं। वहीँ जब तीनो को 32 हॉस्पिटल ले जाया गया तो यहां डॉक्टरों ने सोनू शाह को मृत घोषित कर दिया, जबकि घायल रोनी और जोगिन्दर को गंभीर हालत में भर्ती कर लिया। सोनू शाह की मौत से उसके घर पर कोहराम मचा हुआ है। एसएसपी नीलांबरी जगदाले व एसपी क्राइम विनीत कुमार के साथ पुलिस टीम मौके पर पहुंचकर अपनी जांच को अंजाम दे रही है। बता दें कि साेनू शाह कई आपराधिक गतिविधियों में शामिल रहा है।


गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप ने सोशल मीडिया पर ली हत्या की जिम्मेदारी।


गांधी जयंती पर फिर शक्ति-प्रदर्शन

गांधी जयंती के बहाने एक फिर करेंगे सचिन पायलट शक्ति प्रदर्शन। 
मतमभेदों के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मूक दर्शक बने। 

गांधी जयंती के बहाने राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट एक फिर अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे। यह दिखाने की कोशिश होगी कि राज्य सरकार कांग्रेस संगठन के दम पर चल रही है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ मतभेदों के चलते पायलट ऐसे शक्ति प्रदर्शन अपने जन्मदिन और पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की जयंती पर भी कर चुके हैं। आमतौर पर दो अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन कांग्रेस के कार्यकर्ता अपने क्षेत्रों में रह कर जिला और ब्लॉक स्तर पर गांधी प्रतिमा पर कार्यक्रम करते हैं, लेकिन इस बार सचिन पायलट ने प्रदेशभर के ब्लॉक अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष, विधायक, प्रमुख पदाधिकारियों को एक अक्टूबर को ही जयपुर बुला लिया है। एक अक्टूबर को गांधी जी पर कार्यशाला रखी गई है तथा दो अक्टूबर को जयपुर में पैदल मार्च होगा। यानि प्रदेशभर से कांग्रेस के प्रमुख पदाधिकारी अपने क्षेत्रों में नहीं रह कर जयपुर में प्रदेशाध्यक्ष पायलट के नेतृत्व में एकत्रित होंगे। यानि गांधी जयंती पर जिला और ब्लॉक स्तर पर होने वाले कार्यक्रमों में कांग्रेस के प्रमुख पदाधिकारी उपस्थित नहीं रहेंगे। चूंकि जयपुर के सभी कार्यक्रम प्रदेश कांग्रेस ने आयोजित किए हैं, इसलिए कार्यक्रमों में सचिन पायलट ही प्रमुख भूमिका में होंगे। पैदल मार्च भी पायलट के नेतृत्व में ही निकाला जाएगा। हालांकि इन कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी रहेंगे, लेकिन मुख्यमंत्री की भूमिका मूक दर्शक की होगी। असल में अब पायलट ने राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश प्रभारी अवनिाश पांडे की परवाह करना भी छोड़ दिया है। अब सभी कार्यक्रम पायलट अपने स्तर पर तय करते हैं। सूत्रों की माने तो पांडे ने पायलट से कहा था कि कांगे्रस में शामिल होने वाले छह बसपा विधायकों को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बुलाकर सदस्यता दिलवाई जाए, लेकिन पायलट ने इंकार कर दिया। अब पायलट का कहना है कि एक अक्टूबर से जब सदस्यता अभियान चलेगा, तब बसपा के विधायक भी कांग्रेस की सदस्यता ले सकते हैं। कांग्रेस और सरकार के लिए यह हास्यास्पद बात है कि बसपा के जिन छह विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कांग्रेस विधायक के तौर पर मान्यता दे दी , उन विधायकों ने अभी तक भी कांग्रेस की सदस्यता नहीं ली है। असल में अपनी रणनीति के तहत सीएम गहलोत ने छह बसपा विधायकों को कांग्रेस में शामिल करते समय कांग्रेस संगठन को अलग रखा था, इसलिए अब पायलट खफा हैं। पायलट के विरोध के चलते ही बसपा विधायकों को मंत्री नहीं बनाया जा रहा है। पायलट कह चुके हैं कि बसपा के विधायक मंत्री बनने के लिए नहीं आए हैं। ये विधायक बिना किसी स्वार्थ के अए हैं। जबकि प्रदेश प्रभारी पांडे का कहना है कि मंत्री बनाने का विशेषाधिकार मुख्यमंत्री के पास है। सवाल यह भी है कि क्या बसपा के विधायक सिर्फ विधायक रहने के लिए कांग्रेस में शामिल हुए हैं? साफ जाहिर है कि राजस्थान के सत्ता और संगठन में तालमेल नहीं है। हालांकि सरकार को मजबूती देने के लिए मुख्यमंत्री ने बसपा के सभी छह विधायकों को कांग्रेस में शामिल करवाया, लेकिन यह फैसला संगठन को ही रास नहीं आ रहा है। देखना है कि ताजा हालातों का जवाब मुख्यमंत्री गहलोत किस प्रकार देते हैं। वैसे अब पायलट के तेवर भी तीखे हैं। 
एस.पी.मित्तल


गरबा मौज-मस्ती नहीं,उपासना का अंग

गरबा कोई मौज-मस्ती का खेल नहीं है। यह शक्ति देने वाली मां की उपासना है। महिलाएं भी शालीनता दिखाएं। 



जयपुर। अमावस्या के साथ ही श्राद्ध पक्ष समाप्त हो गया और 29 सितम्बर से नवरात्रा की शुरुआत हो जाएगी। भारत की सनातन संस्कृति में नवरात्र के 9 दिनों तक शक्ति देने वाली मां की उपासना करने वाला माना जाता है। घर परिवार और समाज में मां की क्या स्वरूप है, इसे सब जानते हैं। चूंकि अब 9 दिनों तक मां की उपासना होगी, इसलिए जगह-जगह गरबा के कार्यक्रम भी होंगे। हालांकि गरबा नृत्य गुजरात का लोक नृत्य है, लेकिन बदलते माहौल में पूरे देश में नवरात्र में गरबा डांस होने लगे हैं। गली मोहल्लों से लेकर सार्वजकि स्थलों तथा बड़ी-बड़ी होटलों तक में गरबा के नृत्य होंगे। अजमेर से लेकर अहमदाबाद और दिल्ली से मुम्बई तक तैयारी पूरी हो चुकी है। क्रेज इतना है कि युवक-युवतियों ने गरबा नृत्य की कोचिंग तक ली है। नृत्य की प्रतियोगिता जीतने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। कई संस्थाओं ने फिल्मी कलाकारों को बुलाकर गरबा नृत्य पर टिकिट भी लगा दिया है। सवाल उठता है कि जब हम नवरात्र को शक्ति की उपासना मानते हैं तब कॉमर्शियल रवैया क्यों? भारत की सनातन संस्कृति का पुरजोर प्रदर्शन होना चाहिए, लेकिन इसमें मर्यादाओं का भी ख्याल रखा जाए। यह माता-पिता का भी दायित्व है कि उनके बच्चे सभ्य पौशाक पहने। आमतौर पर देखा गया है कि गरबा नृत्य करने वाली लड़कियां पश्चिमी संस्कृति के कपड़े पहनती है। सवाल किसी की नजर के दोष का नहीं है? सवाल हमारी संस्कृति का है। हम जब नवरात्र को उपासना के दिन मानते हैं तो फिर नृत्य के दौरान शरीर दिखाने वाले कपड़े क्यों पहनते हैं? वैसे भी जब लड़कियां सार्वजनिक स्थानों पर नृत्य करती हैं तो उन्हें कपड़े तो हमारी संस्कृति के अनुरूप ही पहनने चाहिए। अनेक स्थानों पर देखा गया है कि गरबा नृत्य के दौरान फिल्मों के अश्लील गाने बजाए जाते हैं। यह पूरी तरह गलत हैं। गरबा के आयोजनों में सिर्फ मां की भक्ति वाले धार्मिक गाने बजने चाहिए। 
एस.पी.मित्तल


घड़ियाली आंसू नहीं बहाने चाहिए

इमरान खान इस सच्चाई को क्यों नहीं समझते कि जम्मू-कश्मीर के 80 प्रतिशत क्षेत्र में कोई पाबंदी नहीं है। पाबंदी वाले 20 प्रतिशत क्षेत्र में हिन्दुओं को प्रताडि़त कर भगा दिया था। इस सच्चाई की वजह से ही एक भी मुस्लिम देश पाकिस्तान के साथ नहीं है।

संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएनओ) की महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि भारत ने जम्मू कश्मीर में ज्यादती कर रखी है। कफ्र्यू हटते ही जम्मू कश्मीर में खून खराबा हो जाएगा। पाकिस्तान भारत पर परमाणु हमला करने के लए तैयार बैठा है। इमरान खान यह बात तब से कह रहे है जब से नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाया है। पिछले दो माह से न तो जम्मू कश्मीर में खून खराब हुआ है और न ही पाकिस्तान ने परमाणु हमला किया। अलबत्ता अमरीका से मध्यस्थता के लिए इमरान खान डोनाल्ड ट्रंप के सामने गिड़गिड़ाते नजर आए। असल में इमरान खान जम्मू कश्मीर की सच्चाई को नहीं समझ रहे हैं। जिस जम्मू कश्मीर का रोना रोया जा रहा है वह अनुच्छेद 370 के हटने के बाद बहुत बदल गया है। 80 प्रतिशत क्षेत्र में किसी भी प्रकार की पाबंदी नहीं है। यातायात से लेकर इंटरनेट तक चल रहा है। यहां मीडिया भी पूरी आजादी के साथ काम कर रहा है। असल में जम्मू और लद्दाख के इस 80 प्रतिशत क्षेत्र में मुसलमानों के साथ हिन्दू समुदाय भी अच्छी तरह रह रहा है। यह बात कांगे्रस के राज्यसभा में नेता गुलामनबी आजाद भी जानते हैं। राहुल गांधी ने भी कभी भी जम्मू और लद्दाख को असामान्य नहीं बताया। इमरान खान को यह सच्चाई समझनी चाहिए कि कश्मीर घाटी के मात्र पांच छह जिलों में थोड़ी पाबंदियां हैं। जो जम्मू कश्मीर राज्य का मात्र 20 प्रतिशत क्षेत्र हैं। यह क्षेत्र वो है जिसमें अब्दुल्ला और मुफ्ती परिवारों की सरकार के समय चार लाख हिन्दुओं को प्रताडि़त कर भगा दिया गया था। चूंकि अब इस 20 प्रतिशत क्षेत्र में एक तरफा माहौल है, इसलिए कुछ लोग हिंसा करने को उतावले हैं। सरकार ने जम्मू कश्मीर के 80 प्रतिशत लोगों को बचाए रखने के लिए 20 प्रतिशत क्षेत्र में पाबंदियां लगाई है। इन पाबंदियों की वजह से ही 20 प्रतिशत क्षेत्र में भी सुरक्षा बलों को पिछले दो माह में एक बार भी गोली नहीं चलानी पड़ी। घाटी के पाबंदी वाले इलाकों में चिकित्सा आदि की सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है। यहां तक कि लैंड लाइन भी चालू हैं। भारत ने यह सच्चाई पड़ौसी मुस्लिम देश बांग्लादेश से लेकर अमरीका तक को समझा दी है। यही वजह है कि बांग्लादेश भी कश्मीर मुद्दे पर भारत के पक्ष में है। यदि जम्मू कश्मीर के नागरिकों पर कोई अत्याचार होता तो सबसे पहले बांग्लादेश विरोध जताता। जब पाकिस्तान के साथ बांग्लादेश भी नहीं है तो इमरान खान को यूएनओ की सभा में कश्मीर पर घडिय़ाली आंशू नहीं बहाने चाहिए। इमरान खान यह अच्छी तरह समझ लें कि अब जम्मू कश्मीर प्रांत पर भारत का नियंत्रण हो गया है, इसलिए पाकिस्तान को आतंकी वारदात करने का कोई अवसर नहीं दिया जाएगा। अब यह देखना है कि पाकिस्तान में सैनिक शासन कब लागू होता है तथा इमरान खान पाकिस्तान से भाग कर कब इंग्लैंड में शरण लेते हैं। 
एस.पी.मित्तल


गिरते पानी में किसानों के आंसू भी शामिल

ढहे आशियानों पर अन्नदाता बहा रहे बेबसी के आंसू
ये महज आकाश से गिरता पानी नही है। गौर से देखो इसमें किसानों के आंसू शामिल है
प्रतापगढ़। जलविप्लव का ऐसा नजारा और मंजर कि मुफलिसी में पेट काटकर आशियाने की छत तैयार करने वाले किसानों पर कुदरत का कहर इस कदर बरसा है कि उनके आशियाने उजड़ गए। बच्चो की पढ़ाई कराने या फिर बेटी की शादी के सपनो का अरमान उनके मन मे ही आशियाने के साथ ढह गया जब उनके अरमानो की बुनियाद ही दरक गई तो फिर उम्मीद की इमारत कहा टिके यही सोच-सोच कर अन्नदाता बस बेबसी के आंसू बहाने पर मजबूर है।
बुधवार की रात से ही लगातार हो रही बारिश रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। शुक्रवार की शाम को बरसात थोड़ी देर के लिए बरसात एक्सप्रेस की रफ्तार थोड़ी देर के लिए थम जरूर गई। लेकिन बादलों ने ऐसा डेरा जमाया कि शनिवार की सुबह फिर मूसलाधार बारिश ने रफ्तार पकड़ ली। उमरडीहा गांव के रहने वाले पन्नालाल अच्छेलाल और उनके दो भाइयों के मकान इस कदर धराशाई हो गए। सभी बरसात में खुले आसमान के नीचे आ गए। उनके आंसुओं का सैलाब देखकर दर्द और बेबसी और पीड़ा को सिर्फ एक किसान ही समझ सकता है। गनीमत यह रही कि उन्होंने किसी तरह नजदीक के  प्राथमिक विद्यालय में छोटे-छोटे बच्चों और महिलाओं के साथ पूरा कुनबा प्राथमिक विद्यालय में डेरा जमा लिया है। लेकिन बारिश ने अपना कहर इस तरह बरपाया है की प्राथमिक विद्यालय मे पानी भर आया है। इसी तरह रेडीगारापुर गांव के महावीर यादव और लाल बहादुर यादव सहित आधा दर्जन किसानों के आशियाने मूसलाधार बारिश में बह गए। जिससे सभी किसान परेशान और लाचार दिखाई दे रहे हैं। हालांकि वे प्रशासन की तरफ से उम्मीद भरी नजरों से निहार रहे हैंं। लेकिन प्रशासन की कार्यशैली और कच्छप चाल और मदद के नाम पर घोषणाओं के अलावा त्वरित मदद कहा मिलने वाली हैै। कमोबेश यही हाल पट्टी तहसील के किसानों के आशियाने के साथ उनके अरमान और उम्मीद ढह चुके है।
मनोज यादव-संवाददाता


लिंक न कराने पर पैन कार्ड होगा रद्‍द

नई दिल्ली। नए महीने यानी अक्‍टूबर के आगाज में अब सिर्फ दो दिन बचे हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि सितंबर के इन आखिरी दो दिनों में हर जरूरी काम निपटा लिया जाए। ऐसा ही एक जरूरी काम आपके पैन कार्ड से जुड़ा हुआ है। अगर आपने 30 सितंबर तक यह काम नहीं किया तो आपका पैन कार्ड रद्द हो सकता है। दरअसल, आधार कार्ड को पैन कार्ड के साथ लिंक करने की आखिरी तारीख 30 सितंबर 2019 है। अगर आपने इस तारीख तक आधार-पैन लिंकिंग का काम नहीं कराया तो आपका पैन कार्ड रद्द या अमान्‍य हो सकता है। इस संबंध में सीबीडीटी की ओर से कई बार संकेत भी दिए जा चुके हैं। आधार और पैन कार्ड को लिंक करने के लिए सबसे पहले इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की आधिकारिक वेबसाइट www.incometaxindiaefiling.gov.in पर जाना होगा। यहां बाईं तरफ आपको पैन-आधार लिंक करने का विकल्प दिखाई पड़ेगा।


सीबीआई में बड़े स्तर पर तबादले किये

नई दिल्ली। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) में बड़े स्तर पर तबादले की खबर मिली है। करीब 300 से ज्यादा कर्मी इधर से उधर किए गए हैं। बताया जा रहा है कि सीबीआई में लंबे समय से जमे कर्मियों का तबादला किया गया है। यह सीबीआई की आंतरिक पॉलिसी में किए गए बदलाव के तहत किया गया है। सीबीआई के वरिष्ठ सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि एजेंसी की 'ट्रांसफर पॉलिसी' में बदलाव किया जा रहा है। इसके तहत कोई भी अधिकारी या कर्मी एक ही शहर में या एक ही शाखा में लंबे समय तक नहीं रह सकता है। सीबीआई के वरिष्ठ सूत्रों के अनुसार, एक ही शहर या शाखा में रहने पर पावर और संसाधन का दुरुपयोग होने लगता है या दुरुपयोग करने की कोशिश की जाती है। उनका मानना है कि इसे जांच एजेंसी की साख भी प्रभावित होती है। मालूम हो कि सीबीआई में आंतरिक रिपोर्ट के आधार पर पता चला था कि कई अधिकारी और कर्मचारी 20-20 सालों से एक ही शहर या एक ही शाखा (ब्रांच) में कार्यरत हैं।


मर्दानी-2 और वार एक साथ रिलीज

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस रानी मुखर्जी के फैंस के लिए अच्छी खबर है। उनकी फिल्म 'मर्दानी 2' का ट्रेलर 'वॉर' फिल्म के साथ रिलीज होगा। आपको बता दें ये दोनों ही फिल्में यशराज की है। ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की फिल्म 'वॉर' 2 अक्टूबर को रिलीज होने जा रही है। एक्शन से भरपूर इस फिल्म का लोगों से बेसब्री से इंतजार है। खबर तो ये भी आ रही है कि वॉर फिल्म के साथ दो दबंग 3 का ट्रेलर भी आ सकता है। ड एनालिस्ट तरण आदर्श ने ट्वट कर मर्दानी 2 के टीज़र रिलीज होने की जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया- फिल्म मर्दानी 2 का ट्रेलर के साथ और यह फिल्म 13 दिसंबर को रिलीज होगी।


सेना के काफिले पर आतंकी हमला

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के बटोट-डोडा रोड पर भारतीय सेना के काफिले पर आतंकी हमला हुआ। जानकारी के अनुसार सेना के जवानों पर ग्रेनेड फेंका गया। हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। सेना और पुलिस ने धार्मुंड गांव और उसके आसपास के इलाके की घेराबंदी कर ली है, तलाश अभियान अब भी जारी है। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-डोडा मार्ग के नजदीक स्थिति एक गांव में विस्फोट और गोलियां चलने की आवाज सुने जाने के तुरंत बाद अभियान शुरू किया गया। मिली जानकारी के अनुसार संदिग्ध आतंकवादियों ने एक ग्रेनेड फेंका और उसके बाद सुरक्षा बलों के त्वरित कार्रवाई दल पर गोलियां चलाईं। इस दल ने कुछ लोगों को जांच के लिए रुकने का इशारा किया था। बहरहाल, वरिष्ठ अधिकारी घटना के बारे में चुप्पी साधे हुए हैं। अधिकारियों ने बताया कि इलाके में अतिरिक्त बल भी भेजा गया है।


नेशनल हेराल्ड केस की सुनवाई टली

नई दिल्ली। नेशनल हेराल्ड केस मामले में दिल्ली की राउज एवेन्यू अदालत ने मामले की सुनवाई 21 अक्टूबर तक टाल दी है। बता दें कि इस मामले में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित कई वरिष्ठ कांग्रेसी आरोपी हैं। भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर सुनवाई हुई। इससे पहले हुई सुनवाई में अदालत में कांग्रेस के वकील ने स्वामी से कई सवाल पूछे थे जिसके उन्होंने जवाब भी दिए। अदालत ने आज की सुनवाई को खत्म करते हुए अगली सुनवाई के लिए 28 सितंबर की तारीख तय की थी, जिसे अदालत ने आज बढ़ा कर 21 अक्टूबर कर दिया है।


रेलवे ने चलाया टिकट चेकिंग अभियान

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के वाणिज्य विभाग द्वारा टिकट चेकिंग अभियान चलाया गया। जिसमें बिना टिकट यात्रा करने वाले लगभग 57 मामलों से 25,775 रुपए राजस्व प्राप्त हुआ। वहीं अनियमित टिकट के 90 मामलों से 37,655 रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ। अनबुक्ड  लगेज के 342 मामलों से 34,390 रुपए राजस्व प्राप्त हुआ एवं रेलवे परिसर में गंदगी फैलाने वालों के 45 मामलों से 4500 रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ। कुल 534 मामलों से रायपुर रेल मंडल के वाणिज्य विभाग द्वारा 1,02,320 रुपए का राजस्व प्राप्त किया गया। इस टिकट चेकिंग अभियान में 29 टीटीई, 02 मुख्य वाणिज्य निरीक्षक, रेलवे सुरक्षा बल 1 द्वारा  08 लोकल एवं लगभग 22 एक्सप्रेस ट्रेनों में जांच की गई। रेल प्रशासन ने  यात्रियों से अनुरोध किया है कि वे उचित टिकट लेकर यात्रा करें।


स्कूल की दीवार के नीचे दबे 3 की मौत

उदयपुर। राजस्थान के उदयपुर जिले के खैरवाड़ा इलाके में एक सरकारी स्कूल में पढऩे वाले तीन छात्र-छात्राओं की मौत हो गई। ये छात्रा-छात्राएं स्कूल की जर्जर दीवार गिरने से उसके नीचे दब गए। हादसे के बाद स्कूल में अफरा-तफरी मच गई और वहां लोगों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई। सूचना पर पुलिस-प्रशासन मौके पर पहुंचा है। मृतकों में दो छात्र और एक छात्रा शामिल है। यह हादसा शनिवार सुबह के थोबावाड़ा गांव के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में हुआ। सरकारी स्कूल की जर्जर दीवार अचानक भरभराकर ढह गई। इससे बच्चे उसकी चपेट में आ गए। हादसे की सूचना गांव में आग की तरह फैल गई। सूचना पर बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंचे और पुलिस-प्रशासन को सूचित कर दीवार का मलबा हटाना शुरू किया। बाद में मौके पर पहुंचे पुलिस-प्रशासन ने ग्रामीणों की मदद से मलब में दबे तीन बच्चों को बाहर निकला, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।


370 के विरुद्ध याचिका पर सुनवाई

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों वाली संविधान पीठ एक अक्टूबर से जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को रद्द करने को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई शुरू करेगी। गौरतलब है कि सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से शीर्ष अदालत में इसके खिलाफ कई याचिकाएं दायर की गई हैं। सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था। इससे पहले शीर्ष अदालत ने जम्मू और कश्मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म किए जाने से जुड़े कई मामलों में सुनवाई की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उसे उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से रिपोर्ट मिली थी कि जो जम्मू-कश्मीर में लोगों के हाईकोर्ट से संपर्क करने में असमर्थ होने संबंधी दावे का समर्थन नहीं करती। कश्मीर में बच्चों को कथित तौर पर हिरासत में रखे जाने का आरोप लगाने वाले बाल अधिकार कार्यकर्ता इनाक्षी गांगुली और शांता सिन्हा की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता हुजेफा अहमदी ने 16 सितंबर को शीर्ष अदालत को बताया था कि घाटी के लोग वहां उच्च न्यायालय से संपर्क नहीं साध पा रहे हैं। इसके बाद पीठ ने जम्मू-कश्मीर के मुख्य न्यायाधीश से इस बारे में रिपोर्ट मांगी थी।


नाबालिग से चार युवकों ने किया गैंगरेप

अलवर। राजस्थान के अलवर जिले में नाबालिग लड़की से गैंगरेप का मामला सामने आया है। जिले के राजगढ़ थाना इलाके में चार युवकों पर 16 साल की एक लड़की को अगवा कर उससे गैंगरेप का आरोप लगा है। पीडि़ता शनिवार सुबह राजगढ़ थाने पहुंची और  गैंगरेप की शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने लड़की का मेडिकल करवाकर केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने तत्काल 4 टीमें बनाकर फरार आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। राजगढ़ थाने में पीडि़ता की ओर से दर्ज करवाई गई रिपोर्ट के अनुसार शुक्रवार रात को सोनू और राजू उसे लेने आए। वो उसे बहला-फुसलाकर अपने साथ बोलेरो गाड़ी में ले गए। कुछ दूरी पर दो और लड़के मिले। वो सभी गाड़ी में सवार हो गए। चारों युवक पीडि़ता को चंदीपुरा नदी की तरफ ले गए। वहां चारों ने बारी-बारी से उससे रेप किया और उसका वीडियो बना लिया। रिपोर्ट में पीडि़ता ने बताया कि आरोपियों ने उसे डराया-धमकाया कि अगर घटना के बारे में उसने किसी को कुछ बताया तो उसका अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया जाएगा। साथ ही उसे और उसके परिवार को जान से मार दिया जाएगा। इसके बाद आरोपी उसे गांव में घर के पास वापस छोड़कर चले गए। पुलिस अधीक्षक (एसपी) अलवर देशमुख परिस अनिल ने बताया कि पीडि़ता की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ गैंगरेप का मामला दर्ज कर लिया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को मौके पर भेजा गया है। मामले की जांच पुलिस उपाधीक्षक राजगढ़ को सौंपी गई है। आरोपियों की तलाश की जा रही है। आरोपियों में से दो लोग पीडि़ता के रिश्तेदार और परिचित बताए जा रहे हैं।


जानवरों की बलि प्रथा पर लगा प्रतिबंध

जानवरों की बलि पर लगा प्रतिबंध, 500 साल पुरानी प्रथा पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक


त्रिपुरा। हाईकोर्ट ने मंदिरों में जानवरों की बलि पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है। इससे माता त्रिपुरेश्वरी मंदिर की 500 साल पुरानी प्रथा पर भी रोक लग गई हैं। चीफ जस्टिस संजय करोल और जस्टिस अरिंदम लोढा की बेंच ने कहा, “सरकारी पैसे से मंदिर में रोज एक बकरे की बलि देने के करना संविधान के अनुच्छेद 25(2)(a) में बताई गई सेकुलर गतिविधि के तहत नहीं आता। इसलिए बदलाव लाना राज्य की जिम्मेदारी है।


किसानों को पासवान की सकारात्मकता

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री अपने दिल्ली प्रवास के दौरान आज केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के मंत्री रामविलास पासवान से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने किसानों के हित में भारतीय खाद्य निगम को सेंट्रल पूल के अंतर्गत छत्तीसगढ़ से 32 लाख मीट्रिक टन चावल के उपार्जन की अनुमति देने की माँग करते हुये राज्य की जनसंख्या अनुसार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत खाद्यान आबंटन में वृद्धि का भी आग्रह किया।मुख्यमंत्री ने बस्तर और सरगुजा क्षेत्र में स्थापित उसना मिलों से भारतीय खाद्य निगम में उपार्जन किये जाने का अनुरोध किया जिससे प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्र के किसानों को फायदा हो सकेगा। इसके साथ ही पुराने बारदाने की कमी की पूर्ति हेतु नये बारदाने खरीदने की अनुमति देने का भी आग्रह किया है। मुलाकात के दौरान केंद्रीय मंत्री श्री रामविलास पासवान ने मांगों पर विचार कर सकारात्मक कार्रवाई का आश्वासन दिया है।


सिख पुलिस अधिकारी को मारी गोली

ह्यूस्टन। भारतीय अमेरिकी सिख पुलिस अधिकारी को टैक्सास में ट्रैफिक रोकने की बात पर गोली मार दी गई। प्रशासनिक अधिकारी एड गोंजालेंज ने बताया कि पुलिस अधिकारी संदीप सिंह धालीवाल ने ड्यूटी के दौरान एक गाड़ी को रोका था, जिसमें एक महिला और पुरुष सवार थे। हमलावर ने गाड़ी से निकलते ही सिंह पर गोली चला दी।


अधिकारी गोंजालेंज के मुताबिक, जांच अधिकारियों को ड्यूटी के दौरान धालीवाल के पास कैमरे में कैद कुछ तस्वीरें मिलीं, जिनकी मदद से हमलावर को पकड़ा गया। फुटेज को सभी अधिकारियों के साथ साझा कर दिया गया था। ऐसे में हमलावर की पहचान करना ज्यादा मुश्किल नहीं था। पुलिस ने हमलावर की गाड़ी भी बरामद कर ली है। महिला और पुरुष दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है।अधिकारी गोंजालेंज के अनुसार, उप-प्रशासनिक अधिकारी धालीवाल एक ऐसे व्यक्ति थे, जिन पर सभी अपनी जान छिड़कते थे। वे टैक्सास के एकमात्र अधिकारी थे, जो अपनी पगड़ी और दाढ़ी के साथ ड्यूटी करते थे। इसका मकसद संस्कृति की रक्षा करना भी था। सिंह बीते 10 साल से विभाग में काम कर रहे थे।


विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने कहा- अमेरिका के ह्यूस्टन में सिख भारतीय-अमेरिकी अधिकारी डिप्टी संदीप सिंह धालीवाल का निधन बेहद दुखद है। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं। वहीं ह्यूस्टन कमिश्नर एड्रियन ग्रेसिया ने कहा- धालीवाल एक बेहतरीन अफसर थे। वे कई लोगों के लिए उदाहरण थे। वे अपने समुदाय का पूरे सम्मान और गर्व के साथ प्रतिनिधित्व करते थे।


तीन दिवसीय खेलकूद कार्यक्रम प्रारंभ

निघासन तहसील के गाँव बम्हनपुर में लाल जी प्रसाद सरस्वती विद्या इन्टर कालेज में


लखीमपुर खीरी।जनशिक्षा समिति द्वारा आयोजित तीन दिवसीय जनपदीय खेलकूद प्रतियोगिता कार्यक्रम का शुभारंभ शैलेंद्र कुमार सिंह जिलाधिकारी खीरी द्वारा ध्वजारोहण कर तथा आशीष मिश्रा मोनू भैया द्वारा उद्घाटन भाषण से किया गया। 
लालजी प्रसाद सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में विद्या भारती से संबद्ध जन शिक्षा समिति द्वारा जनपदीय खेलकूद समारोह एवं ज्ञान विज्ञान मेला का तीन दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। समारोह का उद्घाटन मुख्य अतिथि शैलेंद्र कुमार सिंह जिलाधिकारी खीरी साथ मे प्रदेश निरीक्षक राजकुमार सिंह द्वारा ध्वजारोहण तथा भाजपा युवा नेता आशीष कुमार मिश्रा मोनू भैया द्वारा उद्घाटन भाषण से किया गया। जिलाधिकारी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि खेल और संस्कार हमारे लिए बहुत जरूरी है। समाज की रचना के लिए संस्कारों का होना अति आवश्यक है। खेल स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद हैं। खेलों से हमारा स्वास्थ्य ठीक रहता है। जिलाधिकारी ने बच्चों से उनकी इच्छा जानी। उन्होंने बच्चों को समय को एटीएम कार्ड की तरह उदाहरण देते हुए कहा कि जो समय चला जाएगा वह वापस नहीं मिलेगा। समय का सही उपयोग करें। दिमाग का जितना इस्तेमाल करेंगे। दिमाग उतना ही मजबूत होगा। गुरु को सर्वश्रेष्ठ बताते हुए उन्होंने गुरुजनों को नमन किया। इससे पहले विद्यालय के प्रिंसिपल बलदेव श्रीवास्तव द्वारा जिलाधिकारी को स्मृति चिन्ह देकर तथा शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। डॉक्टर ओपी गुप्ता डायट प्राचार्य को विद्यालय के कोषाध्यक्ष मुन्नू लाल मौर्य तथा सरदार मंजीत सिंह द्वारा स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। डॉक्टर आरके जायसवाल जिला विद्यालय निरीक्षक को दयाशंकर मौर्य जिला उपाध्यक्ष भाजपा द्वारा स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। इसके अलावा कार्यक्रम को  आशीष मिश्रा मोनू भैया,  योगेश कुमार क्षेत्रीय सेवा प्रमुख पूर्वी उत्तर प्रदेश वरिष्ठ प्रचारक,
 डॉक्टर आरके जयसवाल, डॉक्टर ओपी गुप्ता, द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। इस मौके पर वेद प्रकाश मौर्य जिला मंत्री, कनक पाल सिंह राणा, हनुमत शरण तिवारी, कैलाश चंद्र वर्मा, रती राम लोधी तथा प्रज्ञानंद श्रीवास्तव समेत तमाम लोग मौजूद थे।


शाह ने क्रिकेट एसोसिएशन का पद छोड़ा

 अमित शाह ने छोड़ा गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष पद


नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। वह इस पद पर साल 2014 से थे। उनसे पहले यह पद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संभाल रहे थे। पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद यह पद छोड़ा था।


केंद्रीय गृह मंत्री ने सुप्रीम कोर्ट और लोढ़ा समिति के सुधारों के आदेश के अनुरूप इस्तीफा दिया है, जिसमें कहा गया था कि इस पद के लिए मंत्री और लोक सेवक अयोग्य हैं। अध्यक्ष का पद फिलहाल खाली रहेगा। इसी बीच धनराज नाथवानी ने भी जीसीए के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। खबरों की मानें तो अब वह शाह की जगह ले सकते हैं, लेकिन अध्यक्ष पद के लिए किसी तत्काल उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं हुई हैं।वहीं अमित शाह का बेटा जयशाह ज्वाइंट सेक्रेटरी के पद पर बना रहेगा। जब अमित शाह अध्यक्ष बने थे तो जीसीए उपाध्यक्ष और राज्यसभा सांसद परिमल नथवानी ने उस वक्त अमित शाह के नाम का प्रस्ताव रखा था।


यूपी में बारिश से 51 की मौत,राहत नहीं

यूपी में बारिश से 51 की मौत, अगले 24 घंटे तक राहत नहीं


लखनऊ। यूपी में तीन दिन से हो रही मूसलाधार बारिश अब जानलेवा साबित होने लगी है। सूबे में बारिश से गांवों में बड़े पैमाने पर कच्चे और जर्जर मकान व पेड़ धराशायी हो गए। जिनमें दबकर 51 लोगों की मौत हो गई। पिछले चौबीस घंटे में अवध क्षेत्र में 15, प्रयागराज में 14 पूर्वांचल में 13, बुंदेलखंड में सात, सहारनपुर और कानपुर में एक-एक व्यक्ति ने जान गंवाई है। उधर, लगातार बारिश को देखते हुए जिला प्रशासन ने आज भी इंटर तक के सभी स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया है।अवध क्षेत्र में सबसे ज्यादा नुकसान अमेठी जिले में हुआ जहां दीवारें गिरने से एक दंपती समेत सात लोगों की मौत हो गई। जबकि बाराबंकी में तीन, अंबेडकरनगर में दो और सीतापुर, अयोध्या व रायबरेली में एक-एक व्यक्ति की जान चली गई। वहीं रुदौली, मिल्कीपुर, अमानीगंज, पटरंगा में दीवार व घर ढहने से लोगों के घायल होने की सूचना है।


प्रयागराज और आसपास के जिलों में सैकड़ों घर गिर गए हैं। यहां प्रतापगढ़ में घर के मलबे में दबने से नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि 25 से भी अधिक लोग घायल हो गए। गुरुवार रात से शुक्रवार शाम तक लगातार बारिश होने से सरकारी दफ्तरों, स्कूलों और घरों में पानी घुस गया। कौशाम्बी के सिराथू में दीवार ढहने से किशोर न्याय बोर्ड के पीठासीन अध्यक्ष विनय मिश्रा की मौत हो गई, जबकि प्रयागराज के मऊआईमा व हंडिया में कच्चे मकान ढहने से तीन लोगों की मौत हो गई।


पूर्वांचल के विभिन्न जिलों में लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को भी बारिश के चलते चलते 160 से अधिक कच्चे मकान गिर गए। इसके मलबे में दबने से 13 लोगों की जान चली गई। मरने वालों में चंदौली में मां और दो बेटों समेत पांच, भदोही में दंपती समेत तीन, वाराणसी में तीन तथा आजमगढ़-जौनपुर में एक-एक ने जान गंवाई। कई जिलों में बिजली आपूर्ति ठप रही।


सोच समझकर धन निवेश करें:मिथुन

राशिफल


वृषभ: बुद्धि-विवेक से सफलता आज आपके कदम चूमेगी, मनोरंजन कार्य में समय अधिक व्यतीत होगा, प्रिय व्यक्ति से मुलाकात एवं सहयोग प्राप्त होगा। नौकरीपेशा लोगों को पद प्रतिष्ठा आदि का लाभ होगा। यदि आप व्यवसायी है तो समय अनुकूल है। 


मिथुन:क्रोध पर नियंत्रण रखना अति आवश्यक है। वाद-विवाद में न पड़ें अन्यथा विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। शत्रु आज आपको नुकसान पहुंचाने का प्रयास कर सकते हैं। सरकारी कामों में बाधा आ सकती है।


कर्क:आत्मविश्वास एवं पराक्रम में वृद्धि के कारण सफलता आपको अवश्य प्राप्त होगी। मेहनत के अनुपात में लाभ अवश्य प्राप्त होगा। सभी काम में सावधानी बरतें। भूमि भवन संबंधी कार्य व्यवसाय लाभदायक रहेंगे। स्वास्थ्य ठीक रहेगा।
सिंह:आज परिवार के सदस्यों का पूर्ण सहयोग मिलेगा। धन प्राप्ति के विशेष योग हैं। कहीं से शुभ मदद मिलने के संकेत प्राप्त हो रहे हैं। क्रीड़ा व शैक्षिक क्षेत्रों में किसी सफल शख्सियत से प्रभावित होंगे। संतान से खुशी का समाचार मिलेगा।


कन्या:आज धन का आवागमन लगा रहेगा, जहां आय होगी वहीं अपव्यय के भी योग बन रहे हैं। सोच-समझकर ही धन निवेश करें। पूंजी निवेश से पहले कंपनी की वैधता निजी स्तर पर जांच लें, अन्यथा हानि हो सकती है। मानसिक तनाव हो सकता है।


तुला:खर्च और कर्ज आज आपकी चिन्ता का कारण बन सकते हैं, इसलिए सोच-समझकर कार्य करें, अनावश्यक खर्च से बचें। आज आप परिवार में किसी अपने के कारण ही नुकसान की स्थिति का सामना कर सकते हैं। अपनी निजी बातें किसी को न बताएं।
वृश्चिक:आज बेहद शुभ दिन है। आज आपके कार्य बनते चले जाएंगे। पुरानी समस्याओं का अंत होगा। नौकरी में अधिकारियों का सहयोग एवं कार्य करने के लिए उत्साह बना रहेगा। घर के बड़े बुजुर्गों के स्वास्थ्य पर ध्यान दें। अध्यात्मिक उन्नति होगी।


धनु:आज दिन भर कार्य की व्यस्तता रहेगी। मान-सम्मान, यश में वृद्धि होगी, पूजा-पाठ से मन-प्रसन्न रहेगा। आज आपके लिए शुभ और सफलता का दिन है। यात्राओं की अधिकता के कारण स्वास्थ कुछ नरम रहेगा। थकान लग सकती है।


मकर:आध्यात्मिक सुख एवं सुख-शांति का वातावरण बना रहेगा, भाग्य आज आपका साथ देने के लिए है तत्पर, नए अवसर प्राप्त होंगे। वित्तीय मामलों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। आय के नए स्रोत बनते दिखाई देंगे।
कुंभ:आज दूर की यात्रा न करें, वाहन सावधानीपूर्वक चलाएं, अजनबी लोगों पर भरोसा न करें वरना लेने के देने पड़ सकते हैं। भूमि या भवन के विवाद के कारण मानसिक अशांति हो सकती है। पड़ोसी के साथ किसी प्रकार के विवाद में पड़ने से बचें।


मीन:जीवनसाथी का सहयोग प्राप्‍त होगा। प्रिय व्यक्ति का साथ मिलेगा, शेयर में निवेश भी कर सकते हैं, लाभ होगा। खर्च सोचकर करें। कागजी कामकाज और रोजमर्रा के कार्यों को आप बेहतर ढंग से निपटाएंगे।


उपवास में फलाहार सर्वोत्तम

निषेचित, परिवर्तित एवं परिपक्व अंडाशय को फल कहते हैं। साधारणतः फल का निर्माण फूल के द्वारा होता है। फूल का स्त्री जननकोष अंडाशय निषेचन की प्रक्रिया द्वारा रूपान्तरित होकर फल का निर्माण करता है। कई पादप प्रजातियों में, फल के अंतर्गत पक्व अंडाशय के अतिरिक्त आसपास के ऊतक भी आते है। फल वह माध्यम है जिसके द्वारा पुष्पीय पादप अपने बीजों का प्रसार करते हैं, हालांकि सभी बीज फलों से नहीं आते।


किसी एक परिभाषा द्वारा पादपों के फलों के बीच में पायी जाने वाली भारी विविधता की व्याख्या नहीं की जा सकती है।छद्मफल (झूठा फल, सहायक फल) जैसा शब्द, अंजीर जैसे फलों या उन पादप संरचनाओं के लिए प्रयुक्त होता है जो फल जैसे दिखते तो है पर मूलत: उनकी उत्पप्ति किसी पुष्प या पुष्पों से नहीं होती। कुछ अनावृतबीजी, जैसे कि यूउ के मांसल बीजचोल फल सदृश होते है जबकि कुछ जुनिपरों के मांसल शंकु बेरी जैसे दिखते है। फल शब्द गलत रूप से कई शंकुधारी वृक्षों के बीज-युक्त मादा शंकुओं के लिए भी होता है।


वनस्पतिक फल व सब्जियां


एक वेन आरेख पाक्य सब्जियों और वनस्पतिक फलों के मध्य संबंध प्रदर्शित करते हुये। कुछ सब्जियां जैसे कि टमाटर फल और सब्जी दोनो वर्गों में आते हैं।
वनस्पतिक अर्थ के कुछ वास्तविक फलों, को खाना पकाने और भोजन तैयार करने में, सब्जी, मात्र इसलिए माना जाता है क्योंकि वे मीठे नहीं होते। इन वनस्पतिक फलों मे कूष्माण्ड (जैसे, स्क्वैश, कद्दू और खीरा), टमाटर, मटर, सेम, मक्का, बैंगन और मीठी मिर्च, कुछ मसाले जैसे, ऑलस्पाइस और मिर्च वनस्पतिक फल हैं। कभी कभी, लेकिन बहुत कम, एक पाक्य (भोजन पकाने संबंधी) "फल" वनस्पतिक अर्थ मे एक वास्तविक फल नहीं होता, उदाहरण के लिए रेवतचीनी को अक्सर एक फल माना जाता है क्योंकि इसका उपयोग मिष्ठान बनाने मे किया जाता है, हालाँकि रेवतचीनी का सिर्फ डंठल (पर्णवृंत) ही खाने योग्य होता है। पाक संबंधी अर्थ में, एक फल आमतौर पर एक वनस्पति उत्पाद होता है जिसका स्वाद मीठा होता है और इसमे बीज होते हैं, एक सब्जी एक फीका या कम मीठा वनस्पति उत्पाद है और एक गिरी एक कठोर तेलयुक्त और खोलयुक्त वनस्पति उत्पाद है।


उपवास व्रत का एक अंग है

मनुष्य को पुण्य के आचरण से सुख और पाप के आचरण से दु:ख होता है। संसार का प्रत्येक प्राणी अपने अनुकूल सुख की प्राप्ति और अपने प्रतिकूल दु:ख की निवृत्ति चाहता है। मानव की इस परिस्थिति को अवगत कर त्रिकालज्ञ और परहित में रत ऋषिमुनियों ने वेद, पुराण, स्मृति और समस्त निबंधग्रंथों को आत्मसात् कर मानव के कल्याण के हेतु सुख की प्राप्ति तथा दु:ख की निवृत्ति के लिए अनेक उपाय कहे हैं। उन्हीं उपायों में से व्रत और उपवास श्रेष्ठ तथा सुगम उपाय हैं। व्रतों के विधान करनेवाले ग्रंथों में व्रत के अनेक अंगों का वर्णन देखने में आता है। उन अंगों का विवेचन करने पर दिखाई पड़ता है कि उपवास भी व्रत का एक प्रमुख अंग है। इसीलिए अनेक स्थलों पर यह कहा गया है कि व्रत और उपवास में परस्पर अंगागि भाव संबंध है। अनेक व्रतों के आचरणकाल में उपवास करने का विधान देखा जाता है।


व्रत, धर्म का साधन माना गया है। संसार के समस्त धर्मों ने किसी न किसी रूप में व्रत और उपवास को अपनाया है। व्रत के आचरण से पापों का नाश, पुण्य का उदय, शरीर और मन की शुद्धि, अभिलषित मनोरथ की प्राप्ति और शांति तथा परम पुरुषार्थ की सिद्धि होती है। अनेक प्रकार के व्रतों में सर्वप्रथम वेद के द्वारा प्रतिपादित अग्नि की उपासना रूपी व्रत देखने में आता है। इस उपासना के पूर्व विधानपूर्वक अग्निपरिग्रह आवश्यक होता है। अग्निपरिग्रह के पश्चात् व्रती के द्वारा सर्वप्रथम पौर्णमास याग करने का विधान है। इस याग को प्रारंभ करने का अधिकार उसे उस समय प्राप्त होता है जब याग से पूर्वदित वह विहित व्रत का अनुष्ठान संपन्न कर लेता है। यदि प्रमादवश उपासक ने आवश्यक व्रतानुष्ठान नहीं किया और उसके अंगभूत नियमों का पालन नहीं किया तो देवता उसके द्वारा समर्पित हविर्द्रव्य स्वीकार नहीं करते।


ब्राह्मणग्रंथ के आधार पर देवता सर्वदा सत्यशील होते हैं। यह लक्षण अपने त्रिगुणात्मक स्वभाव से पराधीन मानव में घटित नहीं होता। इसीलिए देवता मानव से सर्वदा परोक्ष रहना पसंद करते हैं। व्रत के परिग्रह के समय उपासक अपने आराध्य अग्निदेव से करबद्ध प्रार्थना करता है- "मैं नियमपूर्वक व्रत का आचरण करुँगा, मिथ्या को छोड़कर सर्वदा सत्य का पालन करूँगा।" इस उपर्युक्त अर्थ के द्योतक वैदिक मंत्र का उच्चारण कर वह अग्नि में समित् की आहुति करता है। उस दिन वह अहोरात्र में केवल एक बार हविष्यान्न का भोजन, तृण से आच्छादित भूमि पर रात्रि में शयन और अखंड ब्रह्मचर्य का पालन प्रभृति समस्त आवश्यक नियमों का पालन करता है।


कागभूषडं-लोमस क्रियाकलाप

गतांक से...
शिशु एक बिंदु है और उस बिंदु में उस परमाणु का जब विभाजन करते हैं, तो उसमें सर्वत्र देवता विद्यमान रहते हैं। कौन देवता है? उसमें गति भी विद्यमान है, प्राण भी विद्यमान है, तेज भी विद्यमान है, गुरुत्व भी विद्यमान है। सर्वत्र ब्रह्मांड उसमें दृष्टिपात आता है। एक परमाणु में सर्वत्र ब्रह्मांड दृष्टिपात आ रहा है। जैसा यह ब्रह्म हमें ब्रह्मांड दृष्टिपात आ रहा है। तो इस ब्रह्मांड की कल्पना करते हुए उन्होंने कहा कि एक प्रकार का रथ है। वह माता कौन है, जो रथ ही है। जो रथ बनी हुई है। वह चेतना है वह मेरा प्यारा प्रभु है। उस रथ में सर्वत्र जीव विद्यमान है। लोक-लोकांतर उसने विद्यमान है। जैसे एक मधुमक्खी होती है। परंतु वह आवर्तयो में रमण करने वाली प्रत्येक मक्खियां उसकी परिक्रमा करती रहती है। इसी प्रकार कुछ परमाणु गति करते हैं जो रथ के रूप में विद्यमान है। यही विज्ञान जब ऋषि भारद्वाज मुनि के यहां प्रकट हुआ था। ब्रह्मचारी सुकेता ने यही कहा था कि महाराज यह जो एक वस्तु का बिंदु है। एक रथ के बिंदु में परमाणु है। विशेष और उस परमाणु के अंतर्गत नाना प्रकार के परमाणु गति कर रहे हैं और जो परमाणु गति कर रहे हैं। वह एक प्रकार का बिंदु रथ बना हुआ है। उस बिंदु रथ में ही मानव का चित्त विद्यमान रहता है। मेरे प्यारे, यह विशाल ज्ञान है प्रभु का। यही कागभूषडं जी और लोमस मुनि की अपने विद्यालय में इस प्रकार की चर्चाएं होती रहती थी। इस प्रकार का अनुसंधान होता रहता था। इन अनुसंधान की प्रवृत्तियों में मानव परंपरागत से रत होता रहा है।
 मैं तुम्हें कोई विशेष विवेचना देने नहीं आया हूं। विवेचना केवल यह देने के लिए आया हूं कि यह जो प्रभु का जगत है। यह जो प्रभु का ब्रह्मांड है। यह इतना अनंतवत्‍त माना गया है कि मानव चिंतन करता हुआ अंत में मौन हो जाता है। अंत में शिशु की भांति बाल्‍य प्रवर्ती में प्रवेश कर जाता है। इतना विशाल विज्ञान है प्रभु का। लोमस और कागभूषडं जी अपने स्थलों पर विद्यमान होकर के प्राण के ऊपर चर्चा करने लगे। उन्होंने कहा कि यह जो सूर्य प्राण है इसका संबंध सूर्य से होता है। चंद्र का जो चंद्र प्रणायाम में उसका संबंध चंद्रमा से होता है। चंद्रमा में अमृत है, शीतलता है और देखो सूर्य में तेज है प्रकाश है। ऊर्जा है तजोमई कहलाता है। परमाणु के आदान प्रदान की इसमें शक्‍ति है। यही शक्ति चंद्रमा में मानी गई है। परंतु देखो इन दोनों प्राण को हम अपने में जब ग्रहण कर लेते हैं। अपने अंतर जगत में ले जाते हैं और ब्राह्म जगत से परमाणुओं को ले लेते हैं। अंतर जगत से अशुद्ध परमाणुओं को त्याग देते हैं तो इससे हमें यह सिद्ध हुआ है कि हमारा प्राण संशोधन करने वाला है। प्राण गति को देने वाला है। प्राण सूत्र में दोनों एक समय प्राण को लेकर के पृथ्वी के गर्भ में प्रवेश कर गए। पृथ्वी के गर्भ में जो जल-अग्नि का भंडार है। 'अप्रतम्‌ ब्रह्मवाचा:' प्राण दोनों रूपों में परमाणु के लिए गति कर रहा है। कहीं वही प्राण अग्नि का भंडार बन करके, कहीं प्रांण जल का भंडार बनकर के, शिशु का भंडार बन करके। दोनों का आदान-प्रदान कर रहा है। उन्हीं परमाणु में सूर्य और चंद्र दोनों प्रकार के परमाणुओं से श्रवन का निर्माण हो रहा है। रत्नों का निर्माण हो रहा है। जल को शक्तिशाली बनाया जा रहा है। पृथ्वी के गर्भ में वसुंधरा के गर्भ में अग्नि का भंडार है। वहां अमृत का भंडार है। जिसके ऊपर मुनिवर वैज्ञानिकजनो ने जिन्होंने पृथ्वी के गर्भ में प्रवेश किया तो वहां नाना प्रकार के रत्नों का परमाणुओं का निर्माण हो करके धातु-पिपात का निर्माण हो रहा था। तो उन्हीं परमाणुओं का संबंध माता के गर्भ स्थल में एक बिंदु प्रवेश हुआ। उन्हीं धातुओं का संबंध चंद्र प्राण के ऊपर सूर्य स्वरों से ऊपर वही प्राण बनकर के नाना धातु के पिपात बनकर के इस मानव के शरीर का निर्माण हो रहा है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


september 29, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-57 (साल-01)
2. शनिवार,29 सितबंर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,शुक्‍लपक्ष,तिथि प्रतिपदा,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 6:15,सूर्यास्त 6:10
5. न्‍यूनतम तापमान -24 डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...