रविवार, 2 अक्तूबर 2022

पूर्ण शराब बंदी की मांग, जिलाधिकारियों को ज्ञापन 

पूर्ण शराब बंदी की मांग, जिलाधिकारियों को ज्ञापन 

गोपीचंद/भानु प्रताप उपाध्याय 

बागपत। आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर, रविवार को आर्य प्रतिनिधि सभा उत्तर प्रदेश के आह्वान पर उत्तर प्रदेश में पूर्ण शराब बंदी की मांग को लेकर आर्य समाज और उसके संगठन पूरे प्रदेश में माननीय मुख्यमंत्री के नाम संबोधित 5 सूत्रीय ज्ञापन प्रदेश के सभी जिलों में जिलाधिकारियों को सौंपा। इस आशय की जानकारी देते हुए जिला आर्य प्रतिनिधि सभा बागपत के मंत्री रवि शास्त्री ने कहा, कि प्रदेश स्तर पर आर्य समाज वर्षों से शराब बंदी की मांग को लेकर समय समय पर अभियान चलाता रहा है।

इसी क्रम में प्रदेश सभा के प्रधान माननीय देवेन्द्र पाल वर्मा एवं जिला सभा के प्रधान माननीय सुशील राणा के निर्देश पर अपराध और दुर्घटनाओं की जननी शराब को पूरे राज्य में प्रतिबंधित कर पूर्ण शराब बंदी कानून बनाने, प्रदेश में शराब के सभी वैध अवैध कारखानों को तत्काल बंद करने, प्रदेश के तीर्थ स्थलों में शुमार अयोध्या, मथुरा, काशी, प्रयागराज, चित्रकूट सहित सभी धार्मिक स्थलों को शराब मुक्त घोषित करने, संविधान के अनुच्छेद 47 जिसमें किसी भी राज्य में नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक मादक पदार्थों को राज्य सरकार नहीं चलने देगी का प्राविधान है, प्रदेश में अबतक घटित जहरीली शराब कांडों की न्यायिक जांच कराकर दोषी जनों की संम्पतियों को बुलडोजर से ढहाये जाने की प्रमुख मांगों को लेकर बागपत में भी आर्य समाज का एक प्रतिनिधि मंडल माननीय मुख्यमंत्री के नाम संबोधित 5 सूत्रीय ज्ञापन माननीय जिलाधिकारी बागपत को सौंपा।

बागपत जिले की समस्त इकाई समाजों से इस कार्यक्रम में सक्रिय सहभागिता रही है। जिला आर्य प्रतिनिधि सभा जनपद बागपत के द्वारा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया।जिला मंत्री रवि शास्त्री, कोषाअध्यक्ष कपिल आर्य, दीपक शर्मा,  धर्मपाल त्यागी,  मास्टर कर्मवीर आर्य, राधेश्याम शर्मा,  मनोज बालियान, सक्षम शर्मा, जगपाल सरोहा, मास्टर ब्रह्म सिंह, धर्मवीर आर्य, रामपाल सिंह तोमर आदि उपस्थित रहे।

'राष्ट्रपिता' गांधी व शास्त्री की जयंती मनाई: बागपत 

'राष्ट्रपिता' गांधी व शास्त्री की जयंती मनाई: बागपत 

गोपीचंद/भानु प्रताप उपाध्याय 

बागपत। सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वाधान में रविवार को काशीराम कॉलोनी बड़ौत में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जयंती व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मनाई गई। दोनों महापुरुषों को नमन करते हुए पुष्प मालाएं पहनाकर याद किया गया, जिसमे नन्हे मुन्ने बच्चो के साथ गांधी जयंती मनाई गई। कार्यक्रम की शुरुआत में लाल बहादुर शास्त्री व गांधी जयंती की तस्वीर पर पुष्प अर्पण करके जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। सारथी वेलफेयर फाउंडेशन की चेयरपर्सन वंदना गुप्ता ने बताया की कार्यक्रम में 50 बच्चों को कुर्ते पजामे वितरित किए। नए कपड़ों के साथ सभी बच्चे बहुत खुश दिखाई दिए।

उन्होंने बच्चो को बताया कि 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मनाई जाती हैं। बताया कि बापू ने सत्य और अहिंसा का मार्ग दिखाया, तो वही लाल बहादुर शास्त्री ने सादगी सरलता ईमानदारी का पाठ पढ़ाया।इस दौरान शालू गुप्ता, प्रिया, भारती,हिमांशु अग्रवाल, विकास गुप्ता, संजय गुप्ता, ऋषभ जैन,अमन जैन,ध्रुव जैन,अक्षित जैन ,सादिक आदि मौजूद रहे।

'राष्ट्रपिता' गांधी व शास्त्री की जयंती मनाई: शामली 

'राष्ट्रपिता' गांधी व शास्त्री की जयंती मनाई: शामली 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। शामली के गांधी पार्क में जिला कांग्रेस कमेटी व यूवा कांग्रेस के द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मनाई गई। कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक सैनी, यूवा प्रदेश महासचिव अशवनी शर्मा (सींगरा) के नतृत्व मे कांग्रेसियों ने गांधी पार्क स्थित दोनों महापुरुषों को नमन् करते हुए पुष्प मालाएं पहनाकर याद किया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक सैनी ने कहा कि महात्मा गांधी और शास्त्री जी जैसे महापुरुष विरले ही जन्म लेते हैं। रोलेट एक्ट के विरोध में गांधी ने अनगिनत सभाओं को संबोधित किया।जलियांवाला बाग नरसंहार के उपरांत असहयोग आंदोलन की सुरुवात करते हुए ब्रिटिश शासन के खिलाफ शांति पूर्ण तरीक़े से आजादी की अलख जगाने का काम किया। देश की आजादी मे दोनों महापुरुषों का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता है। महात्मा गांधी के सहयोगियों ने अंग्रेजी हुकूमत की लाठियां खाकर के भूखे रहकर असहनीय पीड़ा सही किंतु अपने मनोबल को कमजोर नहीं पडने दिया। गांधी का जन्म पोरबंदर मे 2 अक्टूबर को हुआ था।

लाल बहादुर शास्त्री के नेतृत्व में देश की सीमाओं का विस्तार हुआ। देश ही नहीं अपितु समूचे विश्व मे  मां भारती के दोनों लाल स्मरणीय हैं। कांग्रेस नेता अशवनी शर्मा सींगरा ने कहा कि गांधी ने देश ही नहीं, पूरे विश्व में आमरण अनशन के रुप अपने हक की लडाई लडने का रास्ता तैयार किया। बापू हम सबके आदर्श है, जोकि हमेशा हमारे दिलो मे जिंदा रहेंगे। उनके रास्ते पर चलकर अपने क्षेत्र की समस्याओं को सुलझाने का काम करते रहेंगे। यूवा जिलाध्यक्ष राजेंद्र गोल्डी व अशवनी कौशिक हथछोया ने बताया कि बापू व शास्त्री जी की जयंती पर उनके बताए गए रास्ते पर चलने का संकल्प लिया गया है। अन्याय के विरुद्ध आवाज उठाते रहेंगे।

मुख्य रूप से जिला अध्यक्ष दीपक सैनी, यूवा प्रदेश महासचिव अशवनी शर्मा सींगरा,प्रवीण तरार, चयन सिंह पुण्डीर, राजेंद्र गोल्डी यूवा जिलाध्यक्ष, अशवनी कौशिक हथछोया, सुधीर चौधरी मंगलोरा,इंतेज़ार अहमद कैराना ब्लॉक अध्यक्ष किसान कांग्रेस, अंकित राणा, महावीर सैनी, रिजवान,अरविंद झंझोट, नंदू प्रशाद बाल्मीकि,प्रमोद कश्यप, रामशरन नामदेव, रामपाल पांचाल, फुरकान, रुपक मछरोली, अरुण जैन,संदीप शर्मा, राहुल शर्मा आदि मौजूद रहे।

300 रूरल इंडस्ट्रियल पार्क का भूमिपूजन व शिलान्यास

300 रूरल इंडस्ट्रियल पार्क का भूमिपूजन व शिलान्यास 

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को गांधी जयंती पर अपनी सरकार की महत्वाकांक्षी ‘महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना‘ का शुभारंभ करते हुए 300 रूरल इंडस्ट्रियल पार्क का भूमिपूजन और शिलान्यास किया। बघेल ने इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि महात्मा गांधी के स्वावलंबी और आत्मनिर्भर गांवों के सपने को साकार करने में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इस योजना के माध्यम से गांवों को स्वावलंबी बनाने की दिशा में मजबूती से कदम उठाया गया है।

उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में 300 रूरल इंडस्ट्रियल पार्क विकसित किए जा रहे हैं। इसके लिए गौठानों में एक से तीन एकड़ भूमि में पार्क के लिए आरक्षित की गई है। प्रथम चरण में प्रत्येक विकासखण्ड में दो गौठानों को रूरल इंडस्ट्रियल पार्क के रूप में विकसित किया जा रहा है। राज्य सरकार के बजट में इस योजना के लिए 600 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। स्वीकृत सभी रूरल इंडस्ट्रियल पार्को को एक-एक करोड़ रूपए की राशि उपलब्ध कराई गई है। इस राशि से इन पार्कों में वर्किंग शेड और एप्रोच रोड के निर्माण के साथ बिजली-पानी की सुविधा उपलब्ध कराने के साथ युवाओं के प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है।

सुराजी गांव योजना के तहत विकसित किए गए गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट के निर्माण, मुर्गी पालन, बकरी पालन, कृषि और उद्यानिकी फसलों तथा लघु वनोपजों के प्रसंस्करण की इकाईयां स्थापित की जा रही है। साथ ही आटा-चक्की, दाल मिल, तेल मिल की स्थापना भी की जा रही है। बघेल ने मुख्यमंत्री निवास में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित कार्यक्रम में कहा कि रूरल इंडस्ट्रियल पार्क (रीपा) से आत्मनिर्भर गांव का महात्मा गांधी का सपना पूरा होगा। गांधी जी ने ग्राम स्वराज की कल्पना की, उसे साकार करने के लिए हमारी सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है, नरवा गरुवा घुरूवा बाड़ी योजना से उसी दिशा में कार्य हो रहा है।

गोबर से वर्मी कम्पोस्ट, दीया बन रहा है, अब पेंट भी बन रहा है। उन्होने कहा कि गौठानों में तैयार उत्पादों के विक्रय की व्यवस्था का ख्याल हमें रखना है, बारदानों के निर्माण का कार्य रीपा में हमें करना है, ये बहुत बड़ा उद्योग है, बलौदाबाजार की महिलाएं रीपा के तहत बारदाने के निर्माण का कार्य करना चाह रही हैं, ये बहुत खुशी की बात है। प्रत्येक जिले में सी मार्ट खोले गए हैं, ताकि उत्पादन करने वाले समूहों को सही दाम मिल सके। उन्होने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के ऐसे युवा जो अपना उद्योग प्रारंभ करना चाहते हैं, उन्हें भी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क में स्थान उपलब्ध कराया जाना चाहिए। रूरल इंडस्ट्रियल पार्क में कृषि और उद्यानिकी उपजों और लघु वनोपजों के प्रसंस्करण और वैल्यू एडिशन तथा तैयार उत्पादों की राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मार्केटिंग के लिए अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग किया जाएगा। इसके लिए टाटा टेक्नोलॉजिस के साथ राज्य योजना आयोग ने एमओयू किया है।

नागरिक द्वारा की गई ‘धोखाधड़ी’ को गंभीरता से लिया

नागरिक द्वारा की गई ‘धोखाधड़ी’ को गंभीरता से लिया

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने एक बच्चे की अभिरक्षा की लड़ाई में भारतीय मूल के एक केन्याई नागरिक द्वारा की गई ‘धोखाधड़ी’ को गंभीरता से लिया है और उसकी मौजूदगी सुनिश्चित करने के लिए उठाये गए कदम तथा बच्चे की अभिरक्षा उसकी मां को हस्तांतरित किया जाना सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से रिपोर्ट तलब की है। शीर्ष अदालत ने राजकोट के आश्वस्ति पंजीयक को निर्देश दिया कि वह अवमानना के दोषी पेरी कंसागरा की दो परिसम्पत्तियों का इस बारे में विस्तृत ब्योरा सौंपे कि क्या दोनों परिसम्पतियों में अन्य किसी का हिस्सा है या नहीं, ताकि उसे कुर्क करने की दिशा में आगे बढ़ा जा सके।

प्रधान न्यायाधीश उदय उमेश ललित और न्यायमूर्ति पी.एस. नरसिम्ह की पीठ ने गत 11 जुलाई को कंसागरा को अवमानना का दोषी ठहराया था। पीठ ने यह कार्रवाई कंसागरा द्वारा अपने बच्चे की अभिरक्षा हासिल करने के बाद वायदे के मुताबिक फिर से उसके समक्ष न पहुंचकर उसके साथ ‘धोखाधड़ी’ करने के कारण की थी। पीठ ने शुक्रवार को सीबीआई को याद दिलाया कि उसे आश्वासन दिया गया था कि कंसागरा और उसके बच्चे की इस अदालत के समक्ष पेशी सुनिश्चित करने के लिए केन्या में केंद्रीय एजेंसियों और भारतीय दूतावास द्वारा हरसंभव मदद और सहायता प्रदान की जाएगी।

पीठ ने आदेश में कहा, ‘‘सीबीआई की ओर से पेश हुए अधिवक्ता रजत नायर ने कहा कि स्थिति रिपोर्ट आठ अक्टूबर, 2022 को या उससे पहले दायर की जाएगी। जो जरूरी है, उसे करने दें।’’ इसने बच्चे की मां की इस दलील का संज्ञान लिया कि राजकोट में उसके परित्यक्त पति की दो संपत्तियां हैं और शीर्ष अदालत के समक्ष पेश नहीं होने के लिए उसकी इन दोनों सम्पत्तियों को कुर्क की जानी चाहिए।

नवरात्रि का आठवां दिन माता 'महागौरी' को समर्पित

नवरात्रि का आठवां दिन माता 'महागौरी' को समर्पित 

सरस्वती उपाध्याय 
हिन्दू धर्म में शारदीय नवरात्र के आठवें दिन को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। इस दिन मां दुर्गा की सिद्ध स्वरूप माता महागौरी की विधि-विधान से पूजा की जाती है। बता दें कि नवरात्र के अष्टमी तिथि को दुर्गाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। देशभर में 3 सितंबर को माता आदिशक्ति की विशेष पूजा की जाएगी और व्रत का पालन किया जाएगा। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन पूजा-पाठ करने से और उपवास रखने से सभी प्रकार की समस्याएं दूर हो जाती हैं और माता महागौरी का आशीर्वाद अपने भक्तों पर सदैव बना रहता है। आइए जानते हैं, कैसे की जानी चाहिए माता की पूजा और क्या है इस दिन का महत्व ?

माता महागौरी का स्वरूप...

मां दुर्गा के आठवें सिद्ध स्वरूप में माता महागौरी का रंग दूध के समान श्वेत है। साथ ही वह इसी रंग के वस्त्र भी धारण करती हैं। माता महागौरी भैंस ओर सवार होकर अपने भक्तों की प्रार्थना सुनने आती हैं। माता की चार भुजाएं हैं और प्रत्येक भुजा में माता ने अभय मुद्रा, त्रिशूल, डमरू और वर मुद्रा धारण किया है।

माता महागौरी की पूजा-विधि...

नवरात्र पर्व के अष्टमी तिथि को ब्रह्ममुहूर्त में स्नान-ध्यान करें और पूजा स्थल की साफ-सफाई करें। इसके बाद पूजा स्थल को गंगाजल से सिक्त करें। ऐसा करने के बाद व्रत का संकल्प लें और माता को सिंदूर, कुमकुम, लौंग का जोड़ा, इलाइची, लाल चुनरी श्रद्धापूर्वक अर्पित करें। ऐसा करने के बाद माता महागौरी और मां दुर्गा की विधिवत आरती करें। आरती से पहले दुर्गा चालीसा और दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करें।

शास्त्रों के अनुसार इस दिन नौ कन्याओं के पूजन का भी विधान है। इस दिन 10 या उससे कम उम्र की नौ कन्या और एक बटुक को घर पर आमंत्रित करें और फिर श्रद्धापूर्वक पूड़ी-सब्जी या खीर-पूड़ी का भोग लागएं। ऐसा करने से मां प्रसन्न होती हैं।

माता महागौरी मंत्र...

वन्दे वांछित कामार्थे चन्द्रार्घकृत शेखराम्।

सिंहरूढ़ा चतुर्भुजा महागौरी यशस्वनीम्।।

पूर्णन्दु निभां गौरी सोमचक्रस्थितां अष्टमं महागौरी त्रिनेत्राम्।

वराभीतिकरां त्रिशूल डमरूधरां महागौरी भजेम्।।

पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानालंकार भूषिताम्।

मंजीर, हार, केयूर किंकिणी रत्नकुण्डल मण्डिताम्।।

प्रफुल्ल वंदना पल्ल्वाधरां कातं कपोलां त्रैलोक्य मोहनम्।

कमनीया लावण्यां मृणांल चंदनगंधलिप्ताम्।।


स्तोत्र पाठ...


सर्वसंकट हंत्री त्वंहि धन ऐश्वर्य प्रदायनीम्।

ज्ञानदा चतुर्वेदमयी महागौरी प्रणमाभ्यहम्।।

सुख शान्तिदात्री धन धान्य प्रदीयनीम्।

डमरूवाद्य प्रिया अद्या महागौरी प्रणमाभ्यहम्।।

त्रैलोक्यमंगल त्वंहि तापत्रय हारिणीम्।

वददं चैतन्यमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्।।


माता महागौरी की आरती...


जय महागौरी जगत की माया ।

जय उमा भवानी जय महामाया ।।

हरिद्वार कनखल के पासा ।

महागौरी तेरा वहा निवास ।।

चंदेर्काली और ममता अम्बे ।

जय शक्ति जय जय मां जगदम्बे ।।

भीमा देवी विमला माता ।

कोशकी देवी जग विखियाता ।।

हिमाचल के घर गोरी रूप तेरा ।

महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा ।।

सती 'सत' हवं कुंड मै था जलाया ।

उसी धुएं ने रूप काली बनाया ।।

बना धर्म सिंह जो सवारी मै आया ।

तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया ।।

तभी मां ने महागौरी नाम पाया ।

शरण आने वाले का संकट मिटाया ।।

शनिवार को तेरी पूजा जो करता ।

माँ बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता ।।

'चमन' बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो ।

महागौरी माँ तेरी हरदम ही जय हो ।।

6 को ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल होगी, गांधी 

6 को ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल होगी, गांधी 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी आगामी 6 अक्टूबर को कर्नाटक में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल होगी। सूत्रों ने यह जानकारी दी है। हालांकि, यह अभी स्पष्ट नहीं है कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा भी अपनी मां के साथ इस यात्रा में शिरकत करेंगी या नहीं। राहुल गांधी और कांग्रेस के कई अन्य नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने गत सात सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की शुरुआत की थी।

इन दिनों यात्रा कर्नाटक में है। यात्रा का समापन अगले साल की शुरुआत में कश्मीर में होगा। इस यात्रा में कुल 3570 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी।

14 परियोजनाओं व योजनाओं का उद्घाटन-शिलान्यास

14 परियोजनाओं व योजनाओं का उद्घाटन-शिलान्यास 

श्रीराम मौर्य 

धर्मशाला। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार को धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में 195.38 करोड़ रुपये की 14 विकासात्मक परियोजनाओं एवं योजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया। ठाकुर ने एसटीपी ऑटोमेशन और अमृत नील सरोवर संवर्द्धन के लिए 13.64 करोड़ रुपये और 24.76 करोड़ रुपये के झुग्गीवासियों के लिए झुग्गियों के निर्माण और पुनर्निर्माण कार्य का उद्घाटन किया। इसके अलावा 9.37 करोड़ रुपये के बाधा मुक्त बस शेल्टर, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग और वीवीपैट मशीनों के लिए 6.85 करोड़ रु. का गोदाम, धर्मशाला-योल-पालमपुर-चढियार मार्ग पर भगनखुड़ पर 3.55 करोड़ रुपये की राशि से 50 मीटर का पुल, सरकारी डिग्री कॉलेज धर्मशाला के 8.50 करोड़ साइंस ब्लॉक और बगीचे के लिए 67 लाख रुपये के कार्यो का उद्घाटन किया। मुख्यमंत्री ने 128 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी।

स्मार्ट सिटी धर्मशाला के लिए 101 करोड़ की व्यापक विद्युतीकरण परियोजना के रुपये भी इसमे शामिल है। धागवाड़ में 8.41 करोड़ रुपये 33 केवी सब-स्टेशन, चामुंडा नंदिकेश्वर धाम के लिए 7.99 रुपये करोड़ की पेयजल आपूर्ति योजना और 5 करोड़ रु . फुटबॉल स्टेडियम, धर्मशाला स्मार्ट सिटी क्षेत्र में 2.17 करोड़ रुपये ग्रीन फील्ड गार्डन, 1.91 करोड़ रुपये चामुंडा माता मंदिर और राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला धर्मशाला के विज्ञान खंड के विकास कार्य शामिल है।

बाद में गांधी जयंती के अवसर पर पुलिस मैदान में आयोजित एक समारोह में जय राम ठाकुर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत एकीकृत आवास एवं स्लम विकास कार्यक्रम एवं स्लम पुनर्विकास घटक के लाभार्थियों को आवास आवंटन पत्र प्रदान किये। धर्मशाला नगर निगम और धर्मशाला स्मार्ट सिटी लिमिटेड में 83 लाभार्थियों को आवंटन पत्र मिले।

महत्वपूर्ण जानकारियों की अनदेखी न करें: पीएम 

महत्वपूर्ण जानकारियों की अनदेखी न करें: पीएम 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी मंत्रियों और सचिवों से कहा है कि वे राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय (एनएससीएस) और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) की तरफ से दी गईं महत्वपूर्ण जानकारियों की अनदेखी न करें और उन्हें गंभीरता से लें। सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। मोदी ने कहा कि कोई भी नीति बनाते समय, उसे भारत के रणनीतिक दृष्टिकोण से देखने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि ऐसे उदाहरण भी मौजूद हैं, जब राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की ओर से दी गई जानकारियों को उचित महत्व नहीं दिया गया। शुक्रवार को हुई मंत्रिपरिषद की पांच घंटे तक चली बैठक में केंद्र सरकार के सभी सचिवों ने भी भाग लिया। इस दौरान मोदी ने दवाओं के निर्माण के लिए उपयोग की जाने वाली आयातित औषधि सामग्री पर निर्भरता के मामले का हवाला दिया, जिसे कई साल पहले एनएससीएस ने रेखांकित किया था। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी के निर्देश पर उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार विक्रम मिसरी ने सचिवालय के बारे में मंत्रियों को अवगत कराने के लिए एनएससीएस पर एक प्रस्तुतिकरण दिया।

सूत्रों ने बताया कि मिसरी ने प्रस्तुतिकरण में दुनिया भर में और खासतौर पर यूरोप, रूस व अमेरिका में हो रहे बदलावों तथा भारत पर उनके प्रभाव के बारे में जानकारी साझा की। सूत्रों ने बताया कि मिसरी का प्रस्तुतिकरण मूल रूप से निर्धारित नहीं था और यह प्रधानमंत्री के निर्देश पर दिया गया। मिसरी से पहले वित्त सचिव टी.वी. सोमनाथन और वाणिज्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने भी अपना प्रस्तुतिकरण दिया।

बैठक के दौरान, मोदी ने यह भी रेखांकित किया कि नीति निर्माण की प्रक्रिया गतिशील है और बदलते समय के साथ इसमें बदलाव की जरूरत है। उन्होंने कहा कि नीतियों को बनाने और लागू करने में आत्मसंतुष्ट होने की प्रवृत्ति रही है और इससे बचा जाना चाहिए। सूत्रों ने प्रधानमंत्री के हवाले से कहा कि नीतियां बदलते समय के अनुकूल होनी चाहिए।

'एलसीएच' को अपने बेड़े में शामिल करेगी, आईएएफ

'एलसीएच' को अपने बेड़े में शामिल करेगी, आईएएफ

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना (IAF) सोमवार को देश में विकसित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर (एलसीएच) को औपचारिक रूप से अपने बेड़े में शामिल करेगी। इससे वायुसेना की ताकत में और वृद्धि होगी क्योंकि यह बहुपयोगी हेलीकॉप्टर कई मिसाइल दागने और हथियारों का इस्तेमाल करने में सक्षम है। एलसीएच को सार्वजनिक उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने विकसित किया है और इसे ऊंचाई वाले इलाकों में तैनात करने के लिए प्राथमिक रूप से डिजाइन किया गया है। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि इस हेलीकॉप्टर को जोधपुर स्थित वायुसेना के ठिकाने पर आयोजित कार्यक्रम में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वी आर चौधरी की उपस्थिति में शामिल किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि 5.8 टन वजन के और दो इंजन वाले इस हेलीकॉप्टर से पहले ही कई हथियारों के इस्तेमाल का परीक्षण किया जा चुका है। गौरतलब है कि इस साल मार्च में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडल समिति (सीसीएस) की बैठक में, स्वदेश विकसित 15 एलसीएच को 3,887 करोड़ रुपये में खरीदने की मंजूरी दी गई थी। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि इनमें से 10 हेलीकॉप्टर वायुसेना के लिए और पांच थल सेना के लिए होंगे। अधिकारियों ने बताया कि एलसीएच ‘एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर’ ध्रुव से समानता रखता है। उन्होंने बताया कि इसमें कई में ‘स्टील्थ’ (राडार से बचने की) विशेषता, बख्तर सुरक्षा प्रणाली, रात को हमला करने और आपात स्थिति में सुरक्षित उतरने की क्षमता है।

सीएम शिंदे को आत्मघाती विस्फोट से उड़ाने की धमकी

सीएम शिंदे को आत्मघाती विस्फोट से उड़ाने की धमकी

कविता गर्ग 

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को आत्मघाती विस्फोट से उड़ाने की धमकी मिली है। खुफिया विभाग को मिली जानकारी के अनुसार, मुख्यमंत्री शिंदे को जान से मारने की धमकी से भरा एक पत्र एक महीने पहले आया था, जिसमें सीएम शिंदे को जान से मारने की बात कही गई थी। अब धमकी देने वाला फोन भी आया है। इससे पहले भी नक्सलवादियों द्वारा मुख्यमंत्री को जान से मारने की धमकी दी जा चुकी है।

मुख्यमंत्री शिंदे को किसने धमकाया, इस बारे में अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है। मुख्यमंत्री बनने के बाद अब तक एकनाथ शिंदे को तीन बार जान से मारने की धमकी दी गई है। एक बार तब भी उन्हें मारने की साजिश रची गई थी जब वे आषाढ़ी एकादशी के वक्त पंढरपुर के दौरे पर थे। गढ़चिरोली का संरक्षक मंत्री होने की वजह वे नक्सलियों के निशाने पर भी थे।

सीएम शिंदे ने दी जान से मारने की धमकी पर प्रतिक्रिया...

इस बारे में अपनी प्रतिकिया देते हुए सीएम शिंदे ने मीडिया से कहा, ‘मुझे पहले भी धमकियां मिली हैं। कई बार धमकियां मिली हैं। मैं इन धमकियों की परवाह नहीं करता हूं। नक्सलियों की तरफ से भी धमकी के फोन आ चुके हैं। पुलिस और गृहविभाग मेरी सुरक्षा के लिए सक्षम हैं।’

मूसेवाला हत्याकांड का आरोपी हिरासत से फरार

मूसेवाला हत्याकांड का आरोपी हिरासत से फरार

अमित शर्मा

चंडीगढ़/मानसा। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का आरोपी गैंगस्टर दीपक टीनू पंजाब के मानसा जिले में पुलिस हिरासत से फरार हो गया है। आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। सूत्रों के मुताबिक, टीनू को पकड़ने के लिए तलाश अभियान शुरू किया गया है। शनिवार रात मानसा पुलिस द्वारा एक अन्य मामले में गोइंदवाल साहिब जेल से पेशी वारंट पर उसे एक स्थानीय अदालत ले जाये जाने के दौरान वह फरार हो गया। दीपक टीनू, गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का करीबी सहयोगी है। मूसेवाला की हत्या मामले में बिश्नोई प्रमुख आरोपी है। इस घटना के बारे में पूछे जाने पर पटियाला रेंज के महानिरीक्षक (आईजी) मुखविंदर सिंह छिना ने कहा, पुलिस की टीम प्रयास कर रही है और हम उसे जल्द ही पकड़ लेंगे। छिना के पास वर्तमान में बठिंडा रेंज के महानिरीक्षक का भी अतिरिक्त प्रभार है।

वहीं इससे पहले सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल तीन फरार शार्प शूटरों को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया गया था। DGP पंजाब ने बताया कि केंद्रीय एजेंसियों की मदद से पंजाब और दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के बीच एक संयुक्त अभियान के तहत दीपक उर्फ मुंडी और उसके सहयोगियों कपिल पंडित और राजेंद्र उर्फ जोकर को गिरफ्तार किया गया। डीजीपी ने बताया, दीपक, पंडित और राजिंदर को आज एजीटीएफ (एंटी-गैंगस्टर टास्क फोर्स) टीम द्वारा पश्चिम बंगाल-नेपाल सीमा पर एक खुफिया-आधारित ऑपरेशन की परिणति में गिरफ्तार किया गया है। दीपक बोलेरो मॉड्यूल में शूटर था, पंडित और राजिंदर ने उसे हथियारों और ठिकाने सहित रसद सहायता प्रदान की थी।

सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल 3 शार्पशूटर प्रियवर्त फौजी, अंकित सेरसा और कशिश उर्फ कुलदीप को दिल्ली पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है जबकि दो शूटर एनकाउंटर में ढेर हो चुके थे। बता दें कि पंजाब के मानसा जिले में 29 मई, 2022 को सिद्धू मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 25 अगस्त को पुलिस ने मूसेवाला हत्याकांड में 1850 पन्नों का आरोपपत्र दायर किया था। इस आरोपपत्र में कुल 36 आरोपियों में से 24 के नाम दिए गए हैं। आरोपपत्र के अनुसार कनाडा में रहने वाला कुख्यात अपराधी गोल्डी बरार मूसेवाला की हत्या का मुख्य साजिशकर्ता था और उसने इस घटना को अंजाम देने के लिए गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और जग्गू भगवानपुरिया तथा कुछ अन्य लोगों की मदद ली थी।

बिना हिजाब के खाना खाते हुए महिला गिरफ्तार 

बिना हिजाब के खाना खाते हुए महिला गिरफ्तार 

अखिलेश पांडेय 

तेहरान। ईरान की एक महिला डोन्या राड के परिवार के मुताबिक, रेस्टोरेंट में बिना हिजाब के खाना खाते हुए डोन्या की तस्वीर सामने आने के बाद उसे गिरफ्तार किया गया है। उसकी बहन ने कहा कि अधिकारियों ने डोन्या को पूछताछ के लिए बुलाया था। इससे पहले ईरान में हिजाब को लेकर हिरासत में ली गई एक महिला की मौत हुई थी। ईरान के सुरक्षा बलों ने बगैर हिजाब के रेस्त्रां जैसे सार्वजनिक स्थान में नाश्ता करती एक महिला डोन्या राड को गिरफ्तार किया है। डोन्या की यह गिरफ्तारी उनकी फोटो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद की गई है, जिसमें वह एक अन्य महिला के साथ परंपरागत ईरानी रेस्त्रां में नाश्ता कर रही हैं।

बताते हैं कि यह फोटो बुधवार को पहली बार सामने आई, जहां वह पुरुष प्रधान कैफे में बगैर हिजाब के नाश्ता कर रही थीं। डोन्या की बहन के मुताबिक, सुरक्षा एजेंसी ने उनकी बहन से संपर्क किया और अपनी हरकत पर स्पष्टीकरण देने को कहा। कुछ घंटों तक डोन्या का कुछ पता नहीं चला फिर एक बेहद संक्षिप्त कॉल में डोन्या ने बताया कि उसे इवन जेल के वार्ड 209 में रखा गया है। तेहरान की इवन जेल कैदियों के साथ क्रूरता के लिए कुख्यात है। यहां अमूमन ईरान के राजनीतिक विरोधियों को रखा जाता है। इसका प्रबंधन ईरान के खुफिया मंत्रालय के अधीन है।

बिहार के कृषि मंत्री सिंह ने यादव को इस्तीफा सौंपा

बिहार के कृषि मंत्री सिंह ने यादव को इस्तीफा सौंपा 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। बिहार के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने रविवार को डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को अपना इस्तीफा सौंप दिया। कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह के बाद अब नीतीश सरकार में बने कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने भी मंत्री पद से अपना इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को अपना त्याग पत्र सौंप दिया है, हालांकि अभी इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ है। इस बात की पुष्टि राजद प्रदेश अध्यक्ष व सुधाकर सिंह के पिता जगदानंद सिंह ने भी की है।

बता दें कि बिहार के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने हाल ही में तब खूब चर्चाओं में रहे थे जब उन्होंने अपने ही विभाग में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया। राजद नेता हाल ही में तब विवाद खड़ा कर दिया जब उन्होंने बयान दिया था कि उनके विभाग के सभी अधिकारी चोर हैं और इस विभाग के प्रमुख होने के नाते वह चोरों के मुखिया हैं। सुधाकर सिंह, कैमूर जिले के रामगढ़ से पहली बार विधायक बने हैं।

गांधी जयंती और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के मौके पर सुधाकर सिंह के इस्तीफे से राज्य की राजनीति में सरगर्मी बढ़ गई है। कृषि मंत्री के इस्तीफा की चर्चा करते हुए प्रदेश अध्यक्ष और सुधाकर सिंह के पिता जगदानंद सिंह ने कहा कि आज गांधी जयंती और शास्त्री जी की जयंती है। दोनों नेताओं ने हमेशा किसानों की चिंता की। किसान देश की जरूरत हैं। कृषि मंत्री हमेशा किसानों का सवाल उठाते रहते थे। किसानों के साथ राज्य में न्याय नहीं हो रहा। अपनी उपज को बेचने के लिए किसानों के पास आज कोई मंडी नहीं है । इस वजह से कृषि मंत्री बहुत आहत हैं।

जमीन से गोली फायर, प्लेन में बैठे शख्स को लगीं

जमीन से गोली फायर, प्लेन में बैठे शख्स को लगीं

सुनील श्रीवास्तव

नाएप्यीडॉ। म्यांमार में ज़मीन से दागी गई गोली म्यांमार नैशनल एयरलाइंस के उड़ते विमान को चीरती हुई एक यात्री को लग गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 63 यात्रियों को ले जा रहा विमान घटना के समय 3,500 फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था और उतरने वाला था। अपनी गर्दन और गाल पर रूमाल पकड़े यात्री की तस्वीर सामने आई है। म्यांमार में एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। यहां जमीन से एक गोली फायर की गई, जो प्लेन में बैठे एक शख्स को लग गई। ये शख्स म्यांमार नैशनल एयरलाइंस के प्लेन में सवार था। हवाई जहाज 3500 फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था। तभी गोली उसमें बैठे शख्स को लगी।

घटना के तुरंत बाद फ्लाइट की लैंडिंग करवाई गई और घायल शख्स को अस्पताल में भर्ती करवाया गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, गोली शख्स के गले के पास लगी। उसे खून से लथपथ देखा गया। इस घटना से जुड़ी हैरान कर देने वाली कुछ फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। वहीं, शख्स के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। म्यांमार नेशनल एयरलाइंस की इस फ्लाइट में 63 यात्री सवार थे। ये पूर्वी राज्य काया की राजधानी लोइकाव जा रहा था। लोइकाव में लैंडिंग के वक्त हमला किया गया। घटना के बाद म्यांमार नेशनल एयरलाइंस के एक अधिकारी ने कहा- हमले में अन्य यात्रियों को नुकसान नहीं पुहंचा। सुरक्षा के लिहाज से लोइकाव आने-जाने वाली सभी फ्लाइट्स को कैंसल कर दिया है। फ्लाइट्स पर रोक कब तक लगाई गई है। इसे बारे में जानकारी नहीं दी गई।

म्यांमार की सैन्य सरकार ने विद्रोही बलों पर विमान पर गोलीबारी करने का आरोप लगाया है। हालांकि विद्रोही समूहों ने आरोपों से इनकार कर दिया है। म्यांमार मिलिट्री काउंसिल के स्पोक्सपर्सन मेजर जनरल जॉ मिन टुन ने इस हमले को वॉर क्राइम बताया है। उन्होंने कहा- मैं कहना चाहता हूं कि यात्रियों से भरे विमान पर इस तरह का हमला युद्ध अपराध है। जो लोग शांति चाहते हैं, उन्हें इस हमले के खिलाफ आवाज उठाना चाहिए।

अंटार्कटिका महाद्वीप में ग्लेशियर से निकल रहा ‘खून‘

अंटार्कटिका महाद्वीप में ग्लेशियर से निकल रहा ‘खून‘ 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 

लंदन। दक्षिणी ध्रुव पर स्थिति अंटार्कटिका महाद्वीप में एक ग्लेशियर से ‘खून‘ निकाल रहा है। लाल रंग के इस बहाव को देखकर वैज्ञानिक भी आश्चर्यचकित हैं। ये खून बताता है कि ग्लेशियर के काफी नीचे जिंदगी पनप रही है। ग्लेशियर का यह खून नमकीन सीवेज है, जो एक पुराने इकोसिस्टम का हिस्सा है। ब्लड फॉल्स जीवंत लाल पानी का एक झरना है जो विक्टोरिया लैंड, पूर्वी अंटार्कटिका में टेलर ग्लेशियर से निकलता है। दशकों तक इस अजीबो-गरीब नजारे ने इस दूर की घाटी तक पहुंचने में कामयाब रहे बहादुर खोजकर्ताओं को भ्रमित किया। पिछले कुछ दशकों में शोध से पता चला है कि अंटार्कटिका का यह छोटा टुकड़ा शायद पहले की तुलना में भी अजीब है।

खून के झरने यानी ब्लड फॉल्स की खोज सबसे पहले ब्रिटिश खोजकर्ता थॉमस ग्रिफिथ टेलर ने वर्ष 1911 में की थी। अंटार्कटिका के इस इलाके में यूरोपियन वैज्ञानिक सबसे पहले पहुंचे थे। शुरुआत में थॉमस और उनके साथियों को लगा था कि ये लाल रंग की एल्गी है, लेकिन ऐसा था ही नहीं। बाद में यह मान्यता रद्द कर दी गई। उस समय, टेलर और उनके दल ने सोचा कि जीवंत रंग लाल शैवाल के कारण है। हालांकि, यह बाद में गलत साबित हुआ। 1960 के दशक तक वैज्ञानिक यह दिखाने में सक्षम नहीं थे कि ब्लड फॉल्स का लाल रंग वास्तव में लोहे के लवण, या फेरिक हाइड्रॉक्साइड का परिणाम था, जिसे बर्फ की चादर से निचोड़ा जा रहा था।

2009 में, वैज्ञानिकों ने पाया कि टेलर ग्लेशियर से रिसने वाला लाल पानी एक खारे पानी की झील से निकलता है जो 1.5 से 4 मिलियन वर्षों से बर्फ में फंसा हुआ है। वास्तव में, यह झील अति-नमकीन झीलों और जलभृतों की एक बहुत बड़ी भूमिगत प्रणाली का सिर्फ एक हिस्सा है। ब्लड फॉल्स के पानी के विश्लेषण से संकेत मिलता है कि नमकीन पानी के दबे हुए शरीर बैक्टीरिया के एक दुर्लभ सबग्लेशियल इकोसिस्टम का घर हैं। इसका मतलब है कि बैक्टीरिया प्रकाश संश्लेषण के बिना बना रहता है और संभवतः ब्राइन से साइकलिंग आयरन के माध्यम से खुद को बनाए रखता है।

इसके ऊपर, पानी हिमांक बिंदु से काफी नीचे होता है, जब यह ग्लेशियर से निकलता है तो इसका तापमान लगभग -7 डिग्री सेल्सियस (19.4 डिग्री फारेनहाइट) होता है। फिर 1960 में पता चला कि यहां ग्लेशियर के नीचे लौह नमक यानी आयरन साल्ट है। यह बर्फ की मोटी परत से वैसे निकल रहा है जैसे आप टूथपेस्ट से पेस्ट निकालते हैं। फिर साल 2009 में यह स्टडी आई है कि यहां पर ग्लेशियर के नीचे सूक्ष्मजीव हैं, जिनकी वजह से ये खून का झरना निकल रहा है। ये सूक्ष्मजीव इस ग्लेशियर के नीचे 15 से 40 लाख साल से रह रहे हैं। यह एक बहुत बड़े इकोसिस्टम का छोटा सा हिस्सा है। इंसान इसका छोटा सा हिस्सा ही खोज पाए हैं। यह इतना बड़ा है कि इसके एक छोर से दूसरे छोर तक की खोज करने में कई दशक लग जाएंगे। क्योंकि इस इलाके में आना-जाना और रहना बेहद मुश्किल है।

जब खून के झरने के पानी की जांच लैब में की गई, तो पता चला कि इसमें दुर्लभ सबग्लेशियल इकोसिस्टम के बैक्टीरिया हैं। जिनके बारे में किसी को पता नहीं है, ये ऐसी जगह जिंदा हैं, जहां पर ऑक्सीजन है ही नहीं। यानी बैक्टीरिया बिना फोटोसिंथेसिस के ही इस जगह पर अपना जीवन जी रहे हैं। इस जगह का तापमान दिन में माइनस 7 डिग्री सेल्सियस रहता है। यानी खून का झरना बेहद ठंडा है और ज्यादा नमक होने के कारण यह बहता रहता है, अन्यथा तुरंत जम जाता।

सरकारी आवास पर शिंदे गुट में शामिल हुए, कार्यकर्ता 

सरकारी आवास पर शिंदे गुट में शामिल हुए, कार्यकर्ता 

कविता गर्ग 

मुंबई। महाराष्ट्र में दहशरा रैली से पहले उद्धव गुट को बड़ा झटका लगा है। मुंबई के वर्ली इलाके से बड़ी संख्या में शिवसेना कार्यकर्ता रविवार को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के सरकारी आवास पर शिंदे गुट में शामिल हो गए हैं। बता दें कि शिवसेना के दोनों गुटों की दशहरा रैली पांच अक्टूबर को मुंबई के शिवाजी पार्क में होगी।

दशहरा रैली में अधिक भीड़...

शिवसेना के दोनों गुट दशहरा रैली में अधिकाधिक भीड़ जुटाने का इंतजाम करने में जुट गए हैं। उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे के खेमों में भीड़ प्रबंधन की होड़ लग गई है। ठाकरे की रैली में पार्टी के शाखा प्रमुख और जिला प्रमुख पर सब निर्भर करता है। वहीं, शिंदे की रैली में भीड़ बढ़ाने के लिए विधायकों और सांसदों का भरपूर जोर है।

राजनीति: कांग्रेस के 3 बड़े प्रवक्ताओं ने इस्तीफा दिया 

राजनीति: कांग्रेस के 3 बड़े प्रवक्ताओं ने इस्तीफा दिया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए पार्टी ने कमर कस ली है। अध्यक्ष पद के उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इसमें खड़गे के साथ दीपेंद्र हुड्डा, गौरव बल्लभ और नासिर हुसैन भी मौजूद रहे। इस दौरान पता चला कि कांग्रेस के तीन बड़े प्रवक्ताओं ने इस्तीफा दे दिया है। अब ये तीन प्रवक्ता अध्यक्ष पद के उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे के लिए चुनाव प्रचार करते हुए दिखाई देंगे। चुनाव लड़ने के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे, शशि थरूर और झारखंड के पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने नामांकन दाखिल किया था।

अध्यक्ष पद के लिए अपना अभियान शुरू करता हूं- खड़गे...

वहीं अध्यक्ष पद के प्रत्याशी मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, जिस दिन मैंने अपना नामांकन दाखिल किया, मैंने उदयपुर में लिए गए पार्टी के ‘एक व्यक्ति एक पद’ के फैसले के अनुरूप राज्यसभा में विपक्ष के नेता पद से इस्तीफा दे दिया। मैं आज से आधिकारिक तौर पर कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष पद के लिए अपना अभियान शुरू करता हूं। आज गांधी जी और शास्त्री जी का जन्मदिन है, इसलिए मैंने यह दिन चुना है। एक ने देश को आजादी दिलाई और एक ने देश को सुरक्षित रखते हुए ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा दिया। इसलिए चुनाव प्रचार शुरू करने के लिए इससे बेहतर दिन नहीं हो सकता था।

आवेदन के बाद दोनों प्रत्याशियों ने अपने पक्ष में वोट जुटाने के लिए प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया। जिससे पहले मल्लिकार्जुन खड़गे ने राज्यसभा में पार्टी नेता के पद से इस्तीफा दे दिया। क्योंकि पार्टी आलाकमान ने यह तय किया है कि एक व्यक्ति एक ही पद पर रह सकता है। इस लिहाज से खड़गे ने इस्तीफा दे दिया।

तीन नेताओं ने पार्टी प्रवक्ता पद से दिया इस्तीफा...

अब प्रचार अभियान के दूसरे दिन बड़ी खबर आ रही है। एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने ऐलान करते हुए कहा कि, “मैं, दीपेन्द्र सिंह हुड्डा और सैयद नसीर हुसैन अपने प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे रहे हैं। हम तीनों अध्यक्ष पद के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे के लिए प्रचार करेंगे और चाहते हैं कि यह चुनाव स्वतंत्र और निष्पक्ष हो, जिसके लिए हम तीनों अपने प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे रहे हैं।”

मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर आमने-सामने...

बता दें कि, कांग्रेस के दो उम्मीदवार अध्यक्ष पद के चुनाव में खड़े होंगे। 8 अक्टूबर तक नाम वापस लिया जा सकता है। फिलहाल अभी मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर अध्यक्ष पद के लिए आमने-सामने हैं, बाकी तस्वीर 8 अक्टूबर के बाद साफ होगी। अगर इन दोनों में से कोई भी अपना नाम वापस नहीं लेता है, तो चुनाव की प्रक्रिया शुरू होगी।

टेलीकॉम टेक्नोलॉजी के उपकरणों का विकास हुआ

टेलीकॉम टेक्नोलॉजी के उपकरणों का विकास हुआ

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारत में 5जी लॉन्च होते ही 6जी की तैयारी शुरू हो गई। बता दें कि शनिवार को नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित कार्यक्रम के दौरान, देश के तीन प्रमुख दूरसंचार ऑपरेटरों एयरटेल, रिलायंस जियो और वोडाफोन आइडिया ने 5G के उपयोग और अपनी योजनाओं को पेश किया था।

केंद्रीय संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि टेलीकॉम टेक्नोलॉजी के उपकरणों का विकास भारत में हुआ है और दुनिया में निर्यात होने के लिए तैयार है। इसके साथ 6G में हमें आगे रहना है और 6G के टेक्नोलॉजी के एलिमेंट पर भारत के पेटेंट हो चुके हैं। उस सबको उतारने की तैयारी है।बता दें कि एयरटेल ने देश में अपनी 5जी सेवा को 8 शहरों के साथ शुरू कर दिया है जिसमें दिल्ली, वाराणसी, मुंबई और बेंगलुरु शामिल हैं। कैरियर मार्च 2023 तक सभी शहरी क्षेत्रों और मार्च 2024 तक पूरे देश को अपनी 5G सेवाओं के साथ कवर करेगा।

वहीं रिलायंस जियों ने कहा कि 5G नेटवर्क को दिवाली से कुछ सलेक्‍टेड शहरों के लिए शुरू करेगा। डिपॉर्टमेंट ऑफ टेलीकॉम के अनुसार, पहले फेस के दौरान 13 शहरों को 5G सर्विस की सुविधा उपलब्‍ध कराई जाएगी। इसमें अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्‍नई, वाराणसी, चंड़ीगढ़, दिल्‍ली, जामनगर, गांधीनगर, मुंबई, पुणे, लखनऊ, कोलकत्ता, सिलिगुडी, गुरुग्राम और हैदराबाद में सेवाएं शुरू होंगी।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-358, (वर्ष-05)

2. सोमवार, अक्टूबर 3, 2022

3. शक-1944, आश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 06:20, सूर्यास्त: 06:25। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 23 डी.सै., अधिकतम-35+ डी.सै., उत्तर भारत में भारी बरसात की संभावना है।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

 (सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...