बुधवार, 25 दिसंबर 2019

पूर्व प्रधानमंत्री की मूर्ति का किया अनावरण

तरून कुमार


लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ में लोकभवन परिसर में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 25 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया। अटल बिहारी वाजपेयी की ये प्रतिमा कांस्य से बनी है, जो 25 फीट ऊंची व पांच टन वजनी है। अटलजी की प्रतिमा को जयपुर की एक कंपनी ने बनाया है और इसकी लागत 89 लाख रुपये है। यह प्रतिमा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर संस्कृति विभाग ने निर्मित करवाई है। प्रतिमा अनावरण करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकभवन के प्रेक्षागृह में अटल बिहारी चिकित्सा विश्वविद्यालय का बटन दबाकर शिलान्यास किया। इस अवसर पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य आदि मौजूद थे।


भाजपा शासन में दुष्कर्म-लूट की घटनाएं बढ़ी

उन्नाव। हसनगंज थाना क्षेत्र में दुष्कर्म पीड़िता की मौत मामले में मंगलवार की दोपहर सपा पूर्व सीएम अखिलेश यादव पीड़िता के घर पहुंचे। उन्होंने पीड़िता के परिजनों से बातचीत कर हालचाल लिया। अखिलेश ने परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन देते हुए आरोपित को सजा दिलवाए जाने की बात कही। पीड़ित परिजनों को पांच लाख रुपए का चेक दिया। उन्होंने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि प्रदेश में लगातार दुष्कर्म, लूट व चोरी की वारदातें बढ़ती ही जा रहा है। सरकार अपराधियों पर नकेल कसने में अक्षम साबित हो रही है।


पूर्व सीएम अखिलेश यादव के 12.44 मिनट पर दुष्कर्म पीड़िता के गांव पहुंचते ही सपा पदाधिकारियों ने नारेबाजी शुरू कर दी। दस मिनट पर परिजनों से मुलाकात करने के बाद पांच लाख रुपए की आर्थिक मदद करते हुए चेक प्रदान किया। उसके बाद मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि परिजनों को न्याय नहीं मिला तो सपा पदाधिकारी धरना प्रदर्शन करेंगे। पुलिस की लापरवाही पर नाराजगी जताते हुए बोले कि अगर पुलिस सजग होती तो घटना नहीं होती। पीड़िता चौकी से लेकर सीएम तक न्याय के लिए गुहार लगाती रही। मगर उसे न्याय नहीं मिला तो घटना को अंजाम दे डाला था। बिल के विरोध प्रदर्शन को लेकर बोले कि सरकार झूठ बोल रही है। बिल भारतीय लोगों के लिए नुकसानदायक है। इस दौरान पूर्व सीएम के संग पूर्व विधायक उदयराज यादव, एमएलसी सुनील साजन आदि एक दर्जन पदाधिकारी मौजूद रहे।



बेटी की मौत के बाद मां की हालत बिगड़ी-
एसपी कार्यालय के अंदर खुद को आग लगाने से झुलसी दुष्कर्म पीड़िता की मौत के तीन दिन बाद मंगलवार की सुबह मां की हालत बिगड़ गई। जानकारी होने पर प्रशासन ने सीएचसी व पीएचसी के डॉक्टरों की छह सदस्यीय टीम सुबह पीड़िता के घर पहुंच गई। जहां जांच के बाद डॉक्टर से दवाईयां मुहैय्या करवाई गई। टीम में हसनगंज पीएचसी से डॉ. पवन, डॉ. पंकज, राजीव और मियांगंज पीएचसी से डॉ. राजेश वर्मा, शोयब निसार तथा मोहान पीएचसी से डॉ. सचिन आदि मौजूद रहे। डॉक्टरों के मुताबिक मां की सर्दी लगने से बीमार हुई और अब हालत सामान्य है।



सपा पदाधिकारियों से पुलिस की हुई नोंकझोंक-
सपा अध्यक्ष व पूर्व सीएम अखिलेश यादव के पहुंचने को लेकर सपा जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र यादव व एमएलसी सुनील साजन, पूर्व मंत्री सुधीर रावत व पूर्व विधायक उदय राज यादव तथा पदाधिकारी राजेश यादव, मंटू कटियार, राजेश मिश्र और डॉ. शकील आदि अपने वाहनों से पीड़िता के परिजनों से मिलने गांव जा रहे थे। पूर्व सीएम के आने को लेकर गांव में भारी मात्रा में फोर्स मौजूद था। वाहनों के गांव के अंदर घुसते ही तैनात फोर्स ने रोक दिया। जिसको लेकर सपा पदाधिकारियों व पुलिस कर्मियों के बीच नोंकझोंक शुरू हो गई। मामला बढ़ने से पहले ही पुलिस बैकफुट पर आ गई और वाहनों को अंदर जाने की अनुमति दे दी। उसके बाद मामला शांत हुआ और सपा पदाधिकारियों ने पीड़िता के घर पहुंच कर उनके परिजनों का हालचाल लिया।


इतिहास के छात्र ने डिग्री लेने से किया मना

वाराणसी। बीएचयू के 101वें दीक्षांत समारोह में नागरिकता कानून का विरोध दिखाई दिया। मंगलवार को हिस्ट्री ऑफ आर्ट्स के छात्र रजत सिंह ने नागरिकता कानून के विरोध को लेकर बनारस में हुई गिरफ्तारियों के खिलाफ अपनी डिग्री लेने से मना कर दिया। रजत ने संकाय स्तपर पर आयोजित दीक्षांत समारोह में भाग लिया और मंच पर भी गया लेकिन डिग्री नहीं ली। रजत ने कहा कि आज कई छात्रों को यहां डिग्री लेनी थी लेकिन वह जेल में हैं। गिरफ्तार किए गए सभी लोगों को रिहा किया जाना चाहिए।


रजत ने आरोप लगाया कि बनारस में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे 70 लोगों को पुलिस ने जेल भेज दिया था। इसमें कई बीएचयू के छात्र हैं। बनारस के प्रदर्शन में किसी भी प्रकार की कोई हिंसा नही हुई थी। इसके बावजूद पुलिस ने बीएचयू के छात्रों को डराने के लिए फर्जी मुकदमे लगाए हैं। वहीं, बीएचयू के कई छात्रों ने संकाय स्तर पर आयोजित दीक्षांत में मिली डिग्री को मालवीय जी की प्रतिमा के समीप रखकर प्रदर्शन किया। छात्र नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के दौरान विश्वविद्यालय से गिरफ्तार कर जेल भेजे गए छात्रों को रिहा करने की मांग कर रहे थे। रजत सिंह ने बताया कि इस समय बीएचयू के करीब 15 छात्र जेल में हैं। विश्वविद्यालय उनकी रिहाई के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहा है। छात्र के समर्थन में बीएचयू के समान विचारधारा वाले छात्रों ने संयुक्त रूप से बीएचयू परिसर में विश्वनाथ मंदिर में बीएचयू के संस्थापक महामना पं मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा के पास अपनी डिग्री, पगड़ी और अंगवस्त्रम रखकर छात्रों के गिरफ्तारी का विरोध किया।उन्होंने सर्वसम्मति से गिरफ्तार छात्रों की रिहाई की मांग की। छात्र प्रियेश ने कहा कि 19 दिसम्बर को कुछ छात्र बेनिया क्षेत्र में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में भाग लेने के लिए जा रहे थे, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। वे फिलहाल जेल में बंद हैं। उन्हें छोड़ देना चाहिए क्योंकि वे छात्र हैं।


यूपी में 43 कांग्रेस जिलाध्यक्ष किए नियुक्त

लखनऊ। कांग्रेस यूपी में प्रियंका गाँधी की एजेंडे पर तेजी से आगे बढ़ रही है। मिशन 2022 को देखते हुए कांग्रेस ने आज 43 जिला/ महानगर अध्यक्ष घोषित किये हैं। अलीगढ में कांग्रेस ने चौ सुरेंद्र सिंह बालियान को जिलाध्यक्ष और परवेज अहमद को महानगर अध्यक्ष मनोनीत किया है। गाजियाबाद का जिलाध्यक्ष बिजेंद्र यादव, बागपत का यूनुस चौधरी को जिलाध्यक्ष बनाया गया है।


आईएएस तुलसी के खिलाफ भ्रष्टाचार का केस

लखनऊ। पूर्व आईएएस अधिकारी तुलसी गौड़ के खिलाफ भ्रष्टाचार का केस चलेगा। इसके लिए शासन ने विजिलेंस को अनुमति दे दी है। विजिलेंस के एक अधिकारी ने बताया कि 2001 में तुलसी गौड़ पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था जिसके बाद तुलसी के खिलाफ लोकायुक्त ने जांच की थी। लोकायुक्त ने अपनी जांच में तुलसी को दोषी पाया था और शासन से किसी स्वतंत्र एजेंसी से जांच कराने की सिफारिश की थी। तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने 2011 में लोकायुक्त की सिफारिश को मानते हुए इस मामले की जांच विजिलेंस को सौंप दी थी। 1980 बैच के आईएएस रहे तुलसी गौड़ पर निर्यात निगम में तैनाती के दौरान भ्रष्टाचार के कई गंभीर आरोप लगे थे। इसमें से एक मामला अपनी पत्नी के नाम फर्म बनाकर उन्हें सरकारी ठेका दिलाने का था। जबकि एक अन्य मामला विदेश यात्रा के खर्चों में हेर फेर का था। गौड़ पर आरोप था कि सरकारी विदेश यात्रा केखर्च का ब्यौरा उन्होंने बढ़ा चढ़ा कर पेश किया और उसका भुगतान ले लिया। इतना ही नहीं जब शासन ने विदेश खर्च का ब्यौरा मांगा तो उन्होंने विदेशी करंसी और हवाई टिकट चोरी होने की झूठी कहानी गढ़ दी।कई साल तक चली जांच में विजिलेंस ने तुलसी पर लगे आरोपों को सही पाया। विजिलेंस ने 2014 में शासन से मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी थी। पांच साल बाद तुलसी के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति शासन ने दे दी है।


जल्द दायर की जाएगी चार्जशीट-डीजी विजिलेंस हितेश चंद्र अवस्थी ने बताया कि एक पुराने मामले में तुलसी गौड़ के खिलाफ अभियोजन स्वीकृति मिली है। इस मामले में आरोप पत्र दाखिल करने की तैयारी की जा रही है। गौड़ पांच साल पहले ही रिटायर हो चुके हैं। वह अब कहां हैं, इसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।


'फाइल कल्चर' को खत्म करने की तैयारी

नई दिल्ली। केंद्र सरकार अब रेल मंत्रालय (Ministry of Railway) से फाइल कल्चर को पूरी तरह से समाप्त करने की तैयारी में हैं। रेल मंत्रालय को पेपर लेस बनाने के लिए रेलवे ने मेगा प्लान बनाया है। इस प्लान से फाइलों का जंजाल खत्म होगा सभी मैनुअल फाइलों को ई फाइलों में तब्दील किया जाएगा। पहले चरण में रेल मंत्रालय ने 72 हजार से ज्यादा ई-फाइल को तैयार किया है। रेलवे के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को इसकी ट्रेनिंग दी जा रही है। ऐसी भी खबर है कि रेल मंत्रालय के 50,000 से ज्यादा कर्मचारी ई फाइल सिस्टम में काम करने लगे हैं और अब धीरे-धीरे रेल मंत्रालय का वर्क कल्चर बदलने लगा है।


खबर है अब सभी कर्मचारियों को इसकी ट्रेनिंग दी जानी है। इसकी ट्रेनिंग का सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि डिजिटल तरीके से काम होने पर मैनुअल फ़ाइल नहीं होगी, लिहाजा पेपर की बचत होगी और दूसरा बड़ा फायदा होगा कि फाइल अधिकारियों की टेबल पर पेंडिंग नहीं रहेंगी और जहां फाइल पेंडिंग होगी उसका पता लगाना आसान होगा।


E-फ़ाइल सिस्टम होने से फाइलों को जल्दी निपटाने में मदद मिलेगी पहले चरण में रेलवे ने अपने 58 संस्थानों में ई ऑफिस बनाया है। इसके जरिए भारतीय रेलवे इफेक्टिव तरीके से फाइलों को हैंडल कर पाएगी और फाइलें पेंडिंग नहीं रहेंगी। भारतीय रेलवे के 58 संस्थानों की 6 महीने से कम समय में 72000 से ज्यादा डिजिटल फाइल बनाई गई है और मैनुअल फ़ाइल को e फ़ाइल में बदला गया है।


इस पर रेलवे का काम जोर शोर से चल रहा है रेलवे का इरादा सभी मैनुअल फाइल को डिजिटल फाइल में तब्दील करना है और आगे का वर्क कल्चर पेपरलेस बनाना है। यानी आने वाले वक्त में रेलवे का सभी कामकाज डिजिटल तरीके से होगा। मैनुअल फाइल की कोई जगह नहीं होगी यानी लंबी चौड़ी कागजी कार्रवाई से रेल मंत्रालय को मुक्ति मिलेगी।


रेल मंत्रालय में 1300000 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं और रेल मंत्रालय पेपरलेस होने से कई टन पेपर की बचत हर दिन होगी इसका बड़ा फायदा यह होगा कि इससे पेड़ों की कटाई कम करने में मदद मिलेगी। रेलवे का पैसा बचेगा अलग से। रेलवे की इस प्रोजेक्ट को रेलवे का ही संस्थान रेलटेल (RAILTEL) लागू कर रहा है।


रेलटेल (RAILTEL) के सीएमडी पुनीत चावला ने ZEE न्यूज़ को बताया कि ई-ऑफिस बनाने और सभी मैनुअल फाइल को ई फाइल में बदलने का सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि रेलवे में काम करने की क्षमता बढ़ेगी, दक्षता आएगी। उन्होंने कहा कि  250000 से ज्यादा ई रिसिप्ट क्रिएट कर लिए गए हैं और इसके पहले फेज का काम पूरा हो गया है। रेलटेल दूसरे फेज में रेल मंत्रालय के 39 संस्थानों में डिजिटल वर्कप्लेस के तहत ऑफिस बनाएगा और सभी मैनुअल फाइलों को डिजिटल फाइल में कन्वर्ट करेगा।


पुनीत चावला ने बताया, 'ये हमारे लिए एक बड़ी चुनौती थी जिसकी हमने शुरुआत की है, रेल मंत्रालय जैसे बड़े मंत्रालय में मैनुअल फाइल को ई फाइल सिस्टम में कन्वर्ट करना एक मुश्किल काम था। लेकिन इस काम की शुरुआत हमने कर दी है, पहला चरण पूरा हो चुका है और जल्द ही रेल मंत्रालय की सभी मैनुअल फाइलों को ई-फाइल में कन्वर्ट कर दिया जाएगा। इसके चलते आगे रेल मंत्रालय का पेपर लेस बनाने का सपना पूरा हो सकेगा।'


यह भी पढ़ें- अब कोहरे-बारिश में नहीं थमेगी ट्रेनों की रफ्तार, रेलवे ने शुरू किया सबसे बड़ा मॉर्डनाइजेशन प्रोजेक्ट


रेल मंत्रालय ने कहा है कि रेलटेल (RAILTEL) पूरी क्षमता से इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है और तय टाइम लाइन से पहले ही रेलटेल इस प्रोजेक्ट को पूरा कर देगा। इससे रेलवे में एक नया वर्क कल्चर मिसाल बनेगा। ये भारत के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए क्योंकि रेल मंत्रालय में 1300000 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं यह दुनिया के बड़े सरकारी संस्थानों में से एक है।


खाकी वाली पत्नी ने पति से की बेवफाई

अलीगढ़। अलीगढ़ का एक युवक खाकी वाली प्रेमिका से प्रेमविवाह करने की सजा भुगत रहा है। सिपाही बीबी ने 8 साल बाद अब दूसरा विवाह कर लिया है । फिरोजाबाद के थाना दक्षिण में तैनात महिला सिपाही पूजा त्यागी द्वारा 8 साल बाद पति को छोड़ दूसरे युवक से विवाह करने की खबर अलीगढ़ से लेकर फिरोजाबाद तक चर्चाओं में हैं। अब पति ने महिला सिपाही पर कार्यवाही न करने पर डीजीपी आफिस लयकनऊ में आत्महत्या करने का एलान किया है।


एनपीआर को लेकर फैलाई जा रही है अफवाह

नई दिल्ली। यह बात तो हम सभी जानते है कि पिछले कई दिनों से देशभर में एनआरसी और सीएए के विरोध पर बवाल मचा हुआ था। वहीं एनपीआर, एनआरसी, सीएए, पुलिस की बर्बरता और हिरासत केंद्रों की रिपोर्ट पर गृह मंत्री अमित शाह इन सारे सवालों के दिए।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नागरिकता संशोधन कानून पर देशभर में हुए विरोध को लेकर अमित शाह ने कहा कि नागरिकता कानून को लेकर सबसे ज्यादा उत्तर पूर्वी राज्यों में विरोध की उम्मीद थी, लेकिन वहां तुलनात्मक रूप से शांति रही। बाकी जगहों पर राजनीतिक विरोध हुआ है। डिटेंशन सेंटर के सवाल पर अमित शाह ने कहा कि मेरी जानकारी के हिसाब से एक ही डिटेंशन सेंटर है, कोई और डिंटेशन सेंटर हमने शुरू नहीं किया है। केरल और पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों के द्वारा नागरिकता संशोधन कानून लागू करने से मना करने के सवाल पर बोले अमित शाह ने कहा कि मैं राज्यों से बात कर उन्हें समझाऊंगा।


वहीं इस बात का पता चला है कि NPR को लेकर विस्तृत में बताते हुए गृह मंत्री ने कहा कि देश की जनगणना का संवैधानिक प्रोविजन 10 साल में करने का है। 2011 में पिछली जनगणना हुई थी, इसलिए अगली 2021 में होनी है। जनगणना की प्रक्रिया अप्रैल 2020 में शुरु होगी लेकिन तब मकानों की मैपिंग शुरु होगी। पूरी जनगणना और एनपीआर 2021 में होगा। जहां इसके साथ ही गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि एनपीआर को लेकर कहीं पर भी देश के किसी भी नागरिक को मन में ये संका लाने का कोई कारण नहीं है और जहां खासकर अल्पसंख्यकों के भाई-बहनों को कि इसका उपयोग एनआरसी बनाने के लिए होगा, इसका इससे कोई लेना-देना नहीं है। NPR को लेकर कोरी अफवाहें फैलाई जा रही हैं।


1 किलो प्लास्टिक कचरे के बदले लंच-डिनर

 अब एक किलो प्लास्टिक कचरे के बदले मिलेगा लंच व डिनर, जानिए पूरी खबर
 
नई दिल्ली। क्या आप भी नई दिल्ली के नजफगढ़ जोन में रहते हैं और आपके घर में या आसपास प्लास्टिक का कचरा भी है तो आप इस कचरे के बदले में बेहतर ब्रेकफास्ट और लंच कर सकते हैं। दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने मंगलवार को स्वच्छ भारत अभियान के तहत नजफगढ़ जोन में ऐसी अनोखी मुहिम शुरू की है कि एक किलो प्लास्टिक कचरे के बदले लंच व डिनर और ढ़ाई सौ ग्राम प्लास्टिक कचरे के बदले ब्रेकफास्ट की सुविधा शुरू की है। वहीं नजफगढ़ जोन में इस योजना के तहत द्वारका के वर्धमान मॉल के एक रेस्टोरेंट में गारबेज कैफे की शुरूआत की गई है। इस कैफै पर लोगों को ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर की सुविधा मिलेगी, लेकिन यहां पर खाना खाने के लिए लोगों के प्लास्टिक का कचरा बदले में देना होगा।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली में इस तरह का यह पहला गारबेज कैफे है, जिसपर प्लास्टिक कचरे के बदले भोजन दिया जाएगा। इसके साथ ही इलाकों को प्लास्टिक का कचरा बीनने वाले लोगों के लिए भी यहां पर प्लास्टिक कचरे के बदले में भोजना की व्यवस्था है। वहीं निगम का कहना है कि किसी भी तरह का एक किलो प्लास्टिक कचरा लेकर आने वाले लोगों को एक समय का लंच या डिनर दिया जाएगा। इसके साथ ही अगर कोई 250 ग्राम प्लास्टिक कचरा लेकर आएगा तो वह यहां नाश्ता कर सकता है। यहां सुबह, दोपहर और रात्रि तीनों समय लोगों के लिए यह गारबेज कैफे खुलेगा। दिल्ली को प्लास्टिक के प्रदूषण से मुक्त बनाने के लिए यह पहल की गई है।


बता दें कि इतना ही नहीं दिल्ली के अन्य इलाकों में भी इस योजना को लागू करके लोगों को गारबेज कैफे की सुविधा दी जा सकती है। हालांकि नजफगढ़ जोन के अन्य वार्डों में यह योजना जल्द ही लागू हो सकती है। गारबेज कैफे का उद्देश्य लोगों को प्लास्टिक कचरे के निष्पादन के बारे में जागरूक करना है।


लापरवाही की इंतहा आज भी जारी

संदीप मिश्रा


रायबरेली। रेप पीड़िता के लिए चाहे जितने भी नियम कानून बन जाए, लेकिन लापरवाही की इंतहा आज भी जारी है । जिला महिला चिकित्सालय रेप पीड़िता अपना महिला पुलिस के साथ चिकित्सीय परीक्षण कराने आई थी।आरोप है कि अस्पताल में तैनात चिकित्सक डॉ आरती ने उन्हें टूटी हुई बेंच पर लिटा दिया और उनकी लापरवाही से बेंच टूट भी गई।जिससे उसके दाहिने हाथ का अंगूठा कट गया। इस घटना पर जब मुख्य चिकित्सा अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि यह दुर्घटना हो सकती है।तत्काल चिकित्सा व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी। परंतु 3 घंटे तक अस्पताल में उस महिला का इलाज करने कोई भी चिकित्सक नहीं आया और रूटीन चेकअप के दौरान पहुंचे चिकित्सक ने एक्स-रे की एडवाइजरी कर सुबह अंगूठे की गंभीर हालत बताते हुए उसे लखनऊ भेज दिया गया । यहां यह भी बताते चलें महिला ने शंका व्यक्त की है कि डॉक्टर दुष्कर्म आरोपी के साथ मिलकर शायद कोई बड़ी घटना को अंजाम देना चाहती थी। बताते चलें कि महिला जिला चिकित्सालय बिल्डिंग का उद्घाटन हुए भी कुछ ही महीने बीत हैं । लेकिन सामान की क्वालिटी ऐसी कि महिला मरीज के लेटते ही बेंच टूट गयी। जिससे मरीज घायल हो गया। तो इस मामले की भी जांच होनी चाहिये।
मामला जिला महिला अस्पताल का है जहां सलोंन से एक रेप पीड़िता का मेडिकल कराने के लिए पुलिस लेकर आई थी। पीड़िता जैसे ही बेंच पर लेटी बेंच टूट गई और पीड़िता का अंगूठा बुरी तरह से कट गया इस पर पीड़िता ने जिला महिला अस्पताल के डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया है।
इस मामले में जब जिला चिकित्सा अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने इसे दुर्घटना बताया। लेकिन सबसे बड़ी बात यह है दुर्घटना होने के बाद जब घायल रेप पीड़िता को जिला अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया तब 3 घंटे तक कोई भी डॉक्टर उसे देखने नहीं आया और सुबह होते ही रेप पीड़िता को लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया।इस पूरे घटना में सबसे बड़ी बात यह है कि इतने गंभीर मामले के लिए जिला अस्पताल आई महिला को सावधानी के साथ इलाज क्यों नहीं कराया गया।जबकि पीड़िता का आरोप है की मेडिकल करने वाले डॉक्टर के साथ मिलकर दुराचार का आरोपी उसे मरवाना चाहता है।
सबसे बड़ा संदेह का विषय यह है कि हाल ही में इस बिल्डिंग का उद्घाटन हुआ है और इसमें जो भी सामान चिकित्सा के लिए उपयोग होता है सभी नया है। ऐसे में लोहे की बिंज का टूटना भी कमीशन खोरी की बात को गवाही देता है। फिर हाल महिला इलाज के लिये लखनऊ रिफर कर दी गई है। लेकिन महिला ने इस पर कानूनी कार्यवाही और इंसाफ के लिये लड़ने की भी बात कही है। उसके अनुसार उसका दाहिना हाथ का अंगूठा है।


 


त्यागी समाज की 'प्रतिनिधित्व विस्तार' पर चर्चा

त्यागी समाज के अध्यक्ष बने समाजसेवी राजीव त्यागी          अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। लोनी विधानसभा क्षेत्र के विकास कुंज में त्यागी महासभा लोनी की एक कोर कमेटी की बैठक हुई। जिसमें सर्वसम्मति से राजीव त्यागी निवासी लाल बाग को त्यागी महासभा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया और ओमदत्त त्यागी पुर वाले को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया। बैठक में महासभा के संरक्षक विजेन्द्र त्यागी,मुनेश त्यागी ,ओमकार त्यागी ,ओमपाल त्यागी,धर्मेन्द्र त्यागी ने सभी नियुक्त अध्यक्ष को बधाई और शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर पवन त्यागी प्रधान भनेड़ा ,सतीश त्यागी ,सुनील त्यागी ,अमित त्यागी समेत अनेक लोग उपस्थित रहे और मिठाई खिलाकर एक दूसरे को बधाई दी। बैठक में त्यागी समाज के राजनीतिक प्रतिनिधित्व को लेकर विस्तार से चर्चा हुई और अन्य भी कई महत्वपूर्ण मुद्दों में एक जुटता दिखाई दी। इस पर भाजपा नेता और महासभा के संरक्षक विजेन्द्र त्यागी ने बोलते हुए बताया कि लोनी में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से मिलकर समाज की बातों से अवगत कराया जाएगा और विश्वास दिलाया कि भाजपा सबका साथ सबका विकास के तहत सबको सम्मान देती है।


हिंदू युवा वाहिनी ने मनाया सुशासन-दिवस

वरुण नागर ने अपने कार्यालय पर मनाया "सुशासन दिवस"


अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। हिंदू युवा वाहिनी के जिला उपाध्यक्ष वरुण नागर ने अपने कार्यालय पर पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेई जी की जयंती मनाई । सभी कार्यकर्ताओं ने मूर्ति के समक्ष दीपक जलाकर माल्या व पुष्प अर्पण करते हुए अटल बिहारी वाजपेई को श्रद्धांजलि अर्पित की ।
वरुण नागर ने मौजूद लोगों को बताया सुशासन दिवस भारत में प्रतिवर्ष पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती के रूप में 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है। भारतीय राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा 23 दिसंबर 2014 को, नब्बे वर्षीय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, और पंडित मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार के प्राप्तकर्ता के रूप में घोषित किया गया था।
मौजूद भारतीय जनता पार्टी के मंडल मीडिया प्रभारी पंडित अभिषेक शर्मा ने बताया अटल जी आजीवन अविवाहित रहे। वे एक ओजस्वी एवं पटु वक्ता (ओरेटर) एवं सिद्ध हिन्दी कवि भी थे।
परमाणु शक्ति सम्पन्न देशों की संभावित नाराजगी से विचलित हुए बिना उन्होंने अग्नि-दो और परमाणु परीक्षण कर देश की सुरक्षा के लिये साहसी कदम भी उठाये। हम सभी को उनकी जीवनी को पढ़ना चाहिए और उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए । सुशासन दिवस के अवसर पर धीर सिंह नागर, विजय, यतेंद्र गुप्ता, यशपाल, हिंदू युवा वाहिनी जिला अध्यक्ष प्रिंस त्यागी, राजकुमार पांचाल, धर्मेंद्र कुशवाह, अजय पवार, अरविंद गुप्ता, आदित्य नागर, विनय तोमर, आरिफ कसार, सोनू बैंसला, रामू, भूपेंद्र कुशवाहा, कपिल नागर, शीलू, रिशु(लेफ्टि), प्रवेश कसाना, मनीष, संजय गहलोत व स्थानीय लोग और भाजपा कार्यकर्ता आदि मौजूद रहे ।


आज साल का आखरी 'सूर्य ग्रहण'

नई दिल्ली। सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर, 2019 (5 पौष, शक संवत 1941) को लगने जा रहा है। यह इस साल का अंतिम सूर्य ग्रहण होगा। जो भारतीय समयानुसार यह ग्रहण सुबह 8 बजे से शुरू होकर 10 बजकर 57 मिनट तक प्रभावी रहेगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा यानी पूर्णग्रास नहीं बल्कि खंडग्रास सूर्य ग्रहण होगा। यह पूर्ण सूर्यग्रहण भारत समेत अन्य देशों में भी दिखाई देगा। हालांकि यह साल का तीसरा सूर्यग्रहण है, लेकिन पूर्ण सूर्यग्रहण के रूप में यह साल का पहला ग्रहण होगा। इससे पहले इस साल 6 जनवरी और 2 जुलाई को आंशिक सूर्यग्रहण लगा था। भारत में सूर्योदय के बाद इस वलयाकार सूर्य ग्रहण को देश के दक्षिणी भाग में कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के हिस्सों देखा जा सकेगा जबकि देश के अन्य हिस्सों में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई देगा।


क्या है इस सूर्य ग्रहण की खास बात


26 दिसंबर को पड़ने जा रहे सूर्यग्रहण की खास बात यह है कि इस बार ग्रहण से 12 घंटे पहले सूतक काल शुरू हो जाएगा। यानि 25 दिसंबर की शाम से ही सूतक काल प्रभावी हो जाएगा, जोकि 26 दिसंबर तक जारी रहेगी।


सूर्य ग्रहण का समय?


भारतीय मानक समय अनुसार आंशिक सूर्यग्रहण सुबह आठ बजे आरंभ होगा, जबकि वलयाकार सूर्यग्रहण की अवस्था सुबह 9.06 बजे शुरू होगी। सूर्य ग्रहण की वलयाकार अवस्था दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर समाप्त होगी, जबकि ग्रहण की आंशिक अवस्था दोपहर एक बजकर 36 मिनट पर समाप्त होगी।


भारत में कहां-कहां दिखेगा सूर्य ग्रहण?


ग्रहण की वलयाकार प्रावस्था का संकीर्ण गलियारा देश के दक्षिणी हिस्से में कुछ स्थानों यथा कन्नानोर, कोयंबटूर, कोझीकोड, मदुरई, मंगलोर, ऊटी, तिरुचिरापल्ली इत्यादि से होकर गुजरेगा। भारत में वलयाकार सूर्य ग्रहण के समय सूर्य का करीब 93 फीसदी हिस्सा चांद से ढका रहेगा।


क्या करें क्या नहीं


ग्रहण काल में खान-पान, शोर, शुभ कार्य, पूजा-पाठ आदि करना निषेध होता है। गुरु मंत्र  का जाप, किसी मंत्र की सिद्धी, रामायण, सूंदर कांड का पाठ, तंत्र सिद्धि ग्रहण काल में कर सकते हैं। ग्रहण के बाद पवित्र नदियों में स्नान, शुद्धिकरण करके दान देना चाहिए। इस समय में गर्भवती स्त्रियों को घर से बाहर नही निकलना चाहिए। ग्रहण काल में सूर्य से पराबैंगनी किरणे निकलती हैं, जो गर्भस्थ शिशु के लिए हानिकारक होती हैं।


कैसा होगा 26 दिसंबर को लगने वाला सूर्य ग्रहण?


वलयाकार पथ से देश के उत्तर एवं दक्षिण की ओर बढ़ने पर आंशिक सूर्य ग्रहण की अवधि घटती जाएगी। आंशिक ग्रहण की अधिकतम प्रावस्था के समय चंद्रमा द्वारा सूर्य का आच्छादन बंगलोर में लगभग 90 फीसदी चेन्नई में 85 फीसदी, मुंबई में 79 फीसदी, कोलकाता में 45 फीसदी, दिल्ली में 45 फीसदी, पटना में 42 फीसदी, गुवाहाटी में 33 फीसदी, पोर्ट ब्लेयर में 70 फीसदी और सिलचर में 35 फीसदी रहेगा।


साल 2020 का पहला सूर्य ग्रहण कब होगा?


अगला सूर्य ग्रहण भारत में 21 जून, 2020 को दिखाई देगा। यह एक वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। वलयाकार अवस्था का संकीर्ण पथ उत्तरी भारत से होकर गुजरेगा। देश के शेष भाग में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई पड़ेगा।


सूर्यग्रहण के दौरान इन बातों का रखें ध्यान:


सूर्य ग्रहण के दौरान अक्सर लोग नंगी आंखों के सूरज को देखते हैं। ऐसा न करें। यह आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है।
अगर आपको सूर्यग्रहण देखना है तो इसके लिए सोलर फिल्टर चश्मे का इस्तेमाल करें।
सोलर फिल्टर चश्मे को सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस भी कहा जाता है।
चश्मा न होने की स्थिति में सूर्य ग्रहण को न देखें।
सूर्यग्रहण के दौरान सूरज को पिनहोल, टेलेस्कोप या फिर दूरबीन से भी न देखें।


बुर्किना फासो में आतंकी हमला, 35 की मौत

अफ्रीकी देश बुर्किना फासो के उत्तरी इलाके के एक कस्बे में मंगलवार को एक आतंकवादी हमले में करीब 35 लोगों की मौत हो गई। मृतकों में ज्यादातर महिलाएं शामिल हैं। देश के राष्ट्रपति रोच मार्क काबोर ने कहा कि हमले के बाद सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ों में करीब 80 आतंकवादी भी मारे गए हैं।


माली और नाइजर सीमा से लगे बुर्किना फासो में लगातार जिहादी हमले होते रहते हैं। ऐसे हमलों में 2015 की शुरुआत से अब तक सैकड़ों लोगों की जान जा चुकी है।आर्मी चीफ ऑफ स्टाफ ने एक बयान में कहा कि आतंकवादियों के एक बड़े गुट ने सैन्य अड्डे और अरबिंदा में आम नागरिकों पर एक साथ हमला किया। बुर्किना फासो के राष्ट्रपति रोश मार्क काबोर ने ट्वीट किया, 'बर्बर हमले में 35 नागरिक मारे गए, जिनमें अधिकतर महिलाएं हैं।' उन्होंने साथ ही रक्षा एवं सुरक्षा बलों की वारता तथा प्रतिबद्धता की सराहना भी की। संचार मंत्री एवं सरकार के प्रवक्ता रेमीस डंडजिनौ ने बाद में बताया कि 31 महिलाएं मारी गई हैं और करीब 20 सैनिक घायल हुए हैं। राष्ट्रपति ने 48 घंटे के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है। सेना ने बताया कि मोटरसाइकिलों पर सवार जिहादियों ने सुबह हमला किया जो कई घंटों तक चला। बाद में, वायु सेना की मदद से सशस्त्र सेना ने आतंकवादियों को खदेड़ दिया। किसी समूह ने तत्काल हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट समूह अक्सर यहां जिहादी हमलों को अंजाम देते रहते हैं।


पार्टी रहे ना रहे, देश रहेः अटल

देश आज पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी की 95वीं जयंती मना रहा है। इस अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई नेताओं ने वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की। अटल बिहारी वाजपेयी एक ऐसा राजनेता रहे हैं जो अपनी पार्टी के साथ ही सभी दलों के प्रिय नेता रहे हैं। भारत के राजनीतिक इतिहास में अटल बिहारी वाजपेयी का संपूर्ण व्यक्तित्व शिखर पुरुष के रूप में दर्ज है। उनके भाषण के सभी कायल रहे हैं। जब वो सदन में बोलते थे तो हर कोई उन्हें सुनना चाहता था।


ऐसी सत्ता को चिमटे से भी छूना पसंद नहीं करूंगा


अटल बिहारी वाजपेयी राजनीतिक सिद्धांतों का पालन करने वाले नेता रहे। राजनीति में शुचिता के सवाल पर एक बार उन्होंने कहा था कि मैं 40 साल से इस सदन का सदस्य हूं, सदस्यों ने मेरा व्यवहार देखा, मेरा आचरण देखा, लेकिन पार्टी तोड़कर सत्ता के लिए नया गठबंधन करके अगर सत्ता हाथ में आती है तो मैं ऐसी सत्ता को चिमटे से भी छूना पसंद नहीं करूंगा।


31 मई 1996 को संसद में दिया गया 'अमर भाषण'


ऐसा ही सदन में दिया उनका भाषण अमर हो गया। वो भाषण था 31 मई 1996 का। जब अटल प्रधानमंत्री थे और उनकी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था तो उन्होंने खुद सदन में पार्टी के संख्या बल कम होने की बात कही थी और राष्ट्रपति को इस्तीफा सौंपा था। इस दौरान उन्होंने जो भाषण दिया वह आज भी राजनीति के सर्वश्रेष्ठ भाषणों में से एक गिना जाता है। इसके साथ ही अटल जी ने जो बातें विपक्षी दलों, पत्रकारों आदि के बारे में कही हैं उनसे सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। पढ़ें उनकी वो सभी बातें।


-लोग उनके बारे में क्या विचार रखते हैं उस बारे में उन्होंने संसद के पटल से कहा था, 'कई बार यह सुनने में आता है कि वाजपेयी तो अच्छा लेकिन पार्टी खराब….अच्छा तो इस अच्छे बाजपेयी का आप क्या करने का इरादा रखते हैं?'


-अपने इस्तीफे पर उन्होंने कहा था, 'आज प्रधानमंत्री हूं, थोड़ी देर बाद नहीं रहूंगा, प्रधानमंत्री बनते समय कोई मेरा हृदय आनंद से उछलने लगा ऐसा नहीं हुआ, और ऐसा नहीं है कि सब कुछ छोड़छाड़ के जब चला जाऊंगा तो मुझे कोई दुख होगा….'


-पार्टी के संघर्ष के बारे में उन्होंने कहा था, 'हमारे प्रयासों के पीछे 40 सालों की साधना है, यह कोई आकस्मिक जनादेश नहीं है, कोई चमत्कार नहीं हुआ है, हमने मेहनत की है, हम लोगों के बीच गए हैं, हमने संघर्ष किया है, यह पार्टी 365 दिन चलने वाली पार्टी है। यह कोई चुनाव में कुकरमुत्ते की तरह खड़ी होने वाली पार्टी नहीं है।'-राजनीतिक पारदर्शिता के बारे में वो बोले थे, 'राजनीति में जो कुछ हो पारदर्शी हो, दल अगर साथ आते हैं, तो कार्यक्रम के आधार पर आए हिस्सा बांट के आधार पर नहीं….बैंकों में लाखों रुपये जमा किए जाएं इसके लेकर नहीं।'


आडवाणी पर किया था ये मजाक


अपने करियर की शुरुआत पत्रकारिता से करने वाले वाजपेयी का पत्रकारों को लेकर बहुत सरल व्यवहार रहा। उन्होंने एक बार पत्रकारों से कहा था-


'मैं पत्रकार होना चाहता था, बन गया प्रधानमंत्री, आजकल पत्रकार मेरी हालत खराब कर रहे हैं,


मैं बुरा नहीं मानता हूं, क्योंकि मैं पहले यह कर चुका हूं….'


आडवाणी और अटल का रिश्ता बहुत ही गहरा रहा है। इन दोनों का नाम हमेशा साथ में लिया जाता था। एक बार आडवाणी को लेकर मजाकिया लहजे में अटल ने कहा था-


'भारत और पाकिस्तान को साथ-साथ लाने का एक तरीका यह हो सकता है कि दोनों देशों में सिंधी बोलने वाले प्रधानमंत्री हो जाएं, जो मेरी इच्छा थी वह पाकिस्तान में तो पूरी हो गई है लेकिन भारत में यह सपना पूरा होना अभी बाकी है।


पार्टियां रहे या न रहे लेकिन देश रहना चाहिए


वाजपेयी का मानना था कि पार्टियां बनें या बिगड़ें लेकिन देश नहीं बिगड़ना चाहिए। देश में स्वस्थ्य लोकतंत्र की व्यवस्था रहनी चाहिए-


जब जब कभी आवश्यकता पड़ी, संकटों के निराकण में हमने उस समय की सरकार की मदद की है, उस समय के प्रधानमंत्री नरसिंह राव जी ने मुझे विरोधी दल के रूप में जेनेवा भेजा था। पाकिस्तानी मुझे देखकर चकित रह गए थे? वो सोच रहे थे ये कहां से आ गया? क्योंकि उनके यहां विरोधी दल का नेता राष्ट्रीय कार्य में सहयोग देने के लिए तैयार नहीं होता। वह हर जगह अपनी सरकार को गिराने के काम में लगा रहता है, यह हमारी प्रकृति नहीं है, यह हमारी परंपरा नहीं है। मैं चाहता हूं यह परंपरा बनी रहे, यह प्रकृति बनी रहे, सरकारें आएंगी-जाएंगी, पार्टियां बनेंगा-बिगड़ेंगी पर यह देश रहना चाहिए…इस देश का लोकतंत्र अमर रहना चाहिए…


गर्लफ्रेंड के साथ फिल्म,पत्नी का धमाल

अहमदाबाद। गुजरात के अहमदाबाद में कुछ ऐसा हुआ, जिसने हर किसी को हैरान कर दिया। पति कथित गर्लफ्रेंड के साथ रानी मुखर्जी की फिल्म 'मर्दानी-2' देखने पहुंचा पत्नी को पता चला तो उसने सिनेमा हॉल में आकर जमकर बवाल काटा। खबर के मुताबिक, उनके एक परिचित का कॉल आया और बताया कि उनके पति सिनेमा हॉल में 'मर्दानी -2' देखने आए हैं।


महिला को पहली बार में बड़ी बात नहीं लगी। लेकिन, जब कॉल पर मौजूद व्यक्ति ने बताया कि उनके साथ एक 35 वर्षीय महिला है तो पत्नी को तुरंत शक हो गया। उन्होंने खुद जांच करने का फैसला किया और थियेटर में आ गईं। सिनेमा हॉल में उनका पति फिल्म को एन्जॉय कर रहा था।


पत्नी ने पति को मूवी हॉल के कॉर्नर सीट पर बैठा पाया जहां पति के साथ पास में एक महिला बैठी थी और दोनों रोमांस कर रहे थे। महिला ने पति पर अपना गुस्सा निकालने का फैसला किया और जनता की नजरों को खींचने के लिए चिल्लाना शुरू कर दिया। जब दूसरी महिला ने हस्तक्षेप किया तो पत्नी ने उसके बाल पकड़े और पीटना शुरू कर दिया, जिसके बाद पत्नी ने पुलिस को बुलाया और उन्हें अपने पति की बेवफाई के बारे में बताया।


पुलिस अधिकारियों के अनुसार, पति ने पहले 'दबंग-3 ' का टिकट खरीदा था। जब उसने देखा कि सिनेमा हॉल भरा हुआ है तो उसने 'मर्दानी-2' की टिकट खरीदी सिनेमा हॉल खाली होने की वजह से उन्होंने इस फिल्म की टिकट खरीदी थी। तीनों को काउंसलिंग के बाद पुलिस ने वापस भेज दिया। क्योंकि महिला ने अपने पति पर कोई मामला दर्ज नहीं करने का फैसला किया।


मुस्लिमों को चिंतित होने की जरूरत नहीं

मुंबई । संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में हो रहे प्रदर्शनों के बीच महाराष्ट्र के सीएम एवं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि राज्य में कोई 'डिटेंशन सेंटर' नहीं है, और उनके शासन में मुस्लिम नागरिकों को चिंतित होने की जरूरत नहीं है। सीएम ठाकरे ने मुस्लिम समुदाय के कुछ विधायकों के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल को भरोसा दिलाया, जिन्होंने उनसे मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा रहे राकांपा विधायक नवाब मलिक ने कहा कि नवी मुंबई के खारघर स्थित डिटेंशन सेंटर मादक पदार्थों की तस्करी में संलिप्त विदेशी नागरिकों के लिए है। 
मलिक की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ठाकरे नीत महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार का हिस्सा है। मलिक ने कहा कि सिर्फ 38 लोग वहां (खारघर डिटेंशन सेंटर) रखे जा सकते हैं। यह जेल से रिहा होने के बाद अपने मूल देशों में प्रत्यर्पित किए जाने से पहले विदेशी नागरिकों के लिए है।लोगों को नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के बारे में कोई गलतफहमी नहीं रखनी चाहिए। नबाव मालिक ने कहा, मेरी सरकार किसी धर्म या समुदाय के नागरिकों के अधिकारों को नुकसान नहीं पहुंचने देगी। मैं राज्य में शांति एवं सौहार्द की अपील करता हूं।
इस मौके पर महाराष्ट्र के गृहमंत्री एकनाथ शिंदे, उद्योगमंत्री सुभाष देसाई, पुलिस महानिदेशक सुबोध जायसवाल, मुंबई पुलिस आयुक्त संजय बर्वे, शिवसेना विधायक अब्दुल सत्तार और कांग्रेस विधायक अमीन पटेल भी मौजूद थे। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में एक रैली में कांग्रेस, उसके सहयोगी दलों और 'अर्बन नक्सलियों' पर मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर में भेजे जाने की अफवाह फैलाने का आरोप लगाया था। वहीं, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कहा था कि उनकी सरकार ने उन विदेशी नागरिकों को अस्थायी रूप से रखने के लिए एक केंद्र बनाने का प्रस्ताव रखा था, जिनका वीजा समाप्त हो गया है, लेकिन इस तरह के केंद्र को डिटेंशन सेंटर कहना गलत होगा।


रेलवे बढ़ाएगा किराया, लेगा यूजर चार्ज

नई दिल्ली। रेल में सफर करने वाले यात्रियों के लिए अहम खबर आ रही है। खबर है कि आने वाले दिनों में रेल किराए में बढ़ोतरी हो सकती है। माना जा रहा है कि सरकार एयरपोर्ट की तर्ज पर रेलवे स्टेशन इस्तेमाल करने पर यूजर डिवेलपमेंट फीस (UDF) वसूलेगी। ऐसा बताया जा रहा है कि पहले चरण में यह 4 रेलवे स्टेशनों पर लागू होगा, इनमें नागपुर, अमृतसर, ग्वालियर और साबरमती स्टेशन शामिल हैं।


दरअसल रेल मंत्रालय स्टेशन री-डेवलप्मेन्ट योजना के तहत 4 स्टेशनों नागपुर, अमृतसर, ग्वालियर और साबरमती रेलवे स्टेशन का री-डेवलोपमेन्ट करने जा रहा है। री-डिवेलपमेंट के तहत स्टेशनों को ना केवल नया आधुनिक बनाया जाएगा बल्कि साथ ही यात्री सुविधाओं में जबरदस्त इजाफा होगा, जिसमें कमर्शियल एरिया भी डेवेलोप किया जाएगा। प्राइवेट प्लेयर को आमंत्रित कर स्टेशन री डेवलोपमेन्ट योजना को अंजाम दिया जाएगा।
ऐसी तमाम सुविधाओं के लिए रेलवे एयरपोर्ट की तर्ज़ पर यूडीएफ वसूलेगी। अभी जैसे आप एयरपोर्ट पर जाते है या फ्लाइट टिकट बुक करते हैं तो आपके फ्लाइट टिकट में एयरपोर्ट इस्तेमाल करने पर यूजर डेवलपमेंट फीस भी शामिल होती है। अभी अगर आप दिल्ली एयरपोर्ट से फ्लाइट पकड़ते हैं तो अमूमन 700-800 रुपए यूडीएफ लगता है। सूत्रों के मुताबिक, अगर आप इन 4 स्टेशनों पर ट्रेन में चढ़ते या उतरते हैं तो आपके रेल किराए में यूडीएफ शामिल होगा। यही नहीं इन 4 रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म टिकट पर भी अतिरिक्त यूडीएफ लागू होगा। हालांकि रेलवे स्टेशनों पर भविष्य पर लगने वाले यूजर डेवलपमेंट फीस मामूली शुल्क होगा। प्लानिंग के तहत - 4 स्टेशनों पर आने वाले यात्रियों और स्टेशनों से जाने वाले यात्रियों से अलग अलग UDF शुल्क वसूला जाएगा। रेल मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले उपक्रम IRSDC(इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलोपमेन्ट कॉर्पोरेशन) पर रेलवे स्टेशन री डेवलपमेंट की ज़िम्मेदारी है। पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप यानी पीपीपी मॉडल पर री डेवलप किये जा रहे स्टेशनों पर UDF लगेगा। अधिकारियों के मुताबिक जनवरी में कितना यूडीएफ या यूजर डेवलोपमेन्ट फीस लगेगी इसको नोटिफाई कर दिया जाएगा। अगले साल, 6 फरवरी 2020 तक 4 स्टेशनों के लिए टेंडर जारी कर दिया जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक अगले 3 साल यानी संभवतः 2023 तक चारों स्टेशन को नए डिज़ाइन और तमाम यात्री सुविधाओं, कमर्शियल एरिया के साथ तैयार कर लिया जाएगा जिसका बाड़ीं स्टेशनों पर आने या जाने के लिए किसी भी व्यक्ति को यूजर फीस चुकानी पड़ेगी।


नागपुर, अमृतसर, ग्वालियर और साबरमती के बाद अगले स्टेशन चिन्हित भी किए जा चुके हैं। मुम्बई का छत्रपति शिवाजी स्टेशन, लुधियाना, बिजवासन, आनंद विहार, दिल्ली स्टेशन भी फेहरिस्त में शामिल किए गए हैं। नागपुर, अमृतसर, ग्वालियर और साबरमती रेलवे स्टेशन के री डिवेलपमेंट के लिए सरकार ने RFQ (request for qualification) जारी कर दिया है। अगले चरण के तहत सरकार RFQ और फिर फाइनल टेंडर जारी करेगी।


हिजाब के कारण रोका,मेडल लेने से इनकार

नई दिल्ली। भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मौजूदगी में हिजाब पहनने वाली गोल्ड विजेता छात्रा के साथ भेदभाव का मामला सामने आया है। यह घटना केंद्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी का है, जहां के एक विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने सभी टॉपर छात्रों और छात्राओं को अपने हाथों से सम्मानित किया। लेकिन इस दौरान विश्वविद्यालय की गोल्ड मेडल विजेता मुस्लिम छात्रा राबिया को हिजाब पहने होने की वजह से कैंपस के अंदर समारोह में ही जाने से रोक दिया गया।


यूनिवर्सिटी में गोल्ड विजेता छात्रा राबिया का आरोप है कि जब तक राष्ट्रपति कोविंद समारोह में मौजूद रहे, तब तक उसे अंदर नहीं जाने दिया गया। बाद में जब कई छात्रों को सम्मानित करने के बाद राष्ट्रपति ऑडिटोरियम से बाहर निकल गए, तब उसे अंदर जाने दिया गया। इस भेदभाव वाले रवैये पर विरोध जताते हुए बाद में राबिया ने यूनिवर्सिटी से गोल्ड मेडल लेने से इनकार कर दिया।


राबिया का आरोप है कि उसे सबके सामने नीचा दिखाने और अपमानित करने की कोशिश की गई। छात्रा ने कहा, “मैं अन्य छात्रों के साथ सभागार के अंदर बैठी हुई थी, तभी मुझे वहां से बाहर जाने के लिए कहा गया। वहां पर मुझे अपना हिजाब हटाने के लिए कहा गया, लेकिन जब मैंने इससे इनकार कर दिया तो मुझे सभागार से बाहर बैठने के लिए कहा गया। इस पूरी घटना के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अंदर ही मौजूद थे।”


जापानी प्रतिनिधिमंडल से सीएम की वार्ता

रायपुर। छत्तीसगढ़ के भ्रमण पर आए जापानी प्रतिनिधि मण्डल ने बुधवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके भिलाई स्थित निवास पर मुलाकात की। उन्होंने प्रदेश में स्थित पुरातात्विक स्थल सिरपुर और प्रज्ञागिरी डोंगरगढ़ के विकास के संबंध में मुख्यमंत्री के साथ विचार-विमर्श किया। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि यदि सिरपुर और प्रज्ञागिरी में सुविधाएं विकसित की जाएं तो ये दोनों स्थल जापानी पर्यटकों के लिए बड़े आकर्षण का केन्द्र बन सकते हैं। उन्होंने सिरपुर के नजदीक हेलीपेड निर्माण की आवश्यकता बताते हुए कहा कि इससे जापान के पर्यटक दो दिनों में सिरपुर का भ्रमण कर वापस जापान लौट सकेंगें।


उल्लेखनीय है कि सिरपुर के उत्खनन में बौद्ध धर्म से संबंधित अनेक पुरातात्विक स्थल सामने आए हैं और प्रज्ञागिरी को बौद्ध तीर्थ के रूप में विकसित किया गया है। जापानी प्रतिनिधिमंडल ने सिरपुर के नजदीक हेलीपेड निर्माण का आग्रह भी मुख्यमंत्री से किया। उन्होंने कहा कि इससे जापान से आने वाले पर्यटकों को सुविधा होगी और उनके समय की बचत होगी। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को बताया कि जापान के लोगों के लिए भारत एक पवित्र तीर्थ स्थान है। जापान के लोग भारत से प्यार करते हैं। जब हम भारत आते हैं तो भारत की धरती को प्रणाम करते हैं और जब हम जापान जाते हैं तब भारत-भूमि के पावन मिट्टी जापान लेकर जाते हैं।


मुख्यमंत्री ने जापानी प्रतिनिधिमंडल को भारत देश से इतना स्नेह रखने के लिए धन्यवाद दिया और आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के सिरपुर में बौद्ध धर्म की पुरातात्विक सम्पदा दुनिया के लिए अनमोल धरोहर है। यहां अनेक बौद्ध विहार और भगवान बुद्ध की प्रतिमाएं मिली हैं।  मुख्यमंत्री ने बताया कि सिरपुर में बौद्धाचार्य नागार्जुन निवास करते थे और चीनी यात्री हृेनसांग सिरपुर आये थे। जिन्होंने भारतीय इतिहास को चीनी भाषा में लिखकर भगवान बुद्ध के शांति एवं भाईचारा के संदेश को दुनिया में फैलाया और भारतीय इतिहास को बचाकर रखा।


आप लोग सिरपुर का यात्रा करें और सिरपुर का अध्ययन करें। जापानी प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से सिरपुर को टूरिज्म से जोड़ने को आग्रह किया वहां के नजदीक में एयरपोर्ट-हेलीपेड बनाने का भी आग्रह किया जिससे जापान के लोग दो दिन में भारत आकर जापान लौट सकें। हमारे जापानी लोगों के लिए समय बहुत बहुमूल्य होता है। चर्चा में मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में अभी 27, 28, 29 दिसम्बर को रायपुर में आयोजित तीन दिन के अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य के संबंध में जानकारी दी। जापानी प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि जापान में भी पारम्परिक नृत्य और गाने की समृद्ध परम्परा है। लोग बहुत उत्साह के साथ इनके आयोजनों में हिस्सा लेते है। आप रूचि लेंगे तो हम जापानी और भारतीय लोक पारम्परिक नृत्य का आयोजन कर सकते हैं।


जापानी प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को जापान यात्रा करने के लिए आमंत्रित किया


मुख्यमंत्री से प्रतिनिधिमंडल ने बाबूजी नंदकुमार बघेल के नेतृत्व में मुलाकात की। जापान से आये पूज्य भन्ते शीन्दो कोन्दो ने जापानी भाषा में जापान की संस्कृति एवं वहां के लोगों के भारत के प्रति सद् विचारों की जानकारी दी। पूज्य भदन्त संघरत्न मानके ने भन्ते शीन्दो कोन्दो की बातों का हिन्दी अनुवाद मुख्यमंत्री को बताया। इस प्रतिनिधिमंडल में जापान से आये ताकाहिरो यामाशकी जापान ग्लोबल स्टेªटजी डेवलपमेंन्ट टीम के सदस्य हैं। उनके साथ सगुन लाल वर्मा, अधिवक्ता रामकृष्ण जांगड़े, विवेक वासनिक, रघु साहू एवं रजत गजबिये भी उपस्थित थे।


मुसलमानों के पास 150 देश, हिंदु का 1

गांधीनगर। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर देशभर में विरोध-प्रदर्शन जारी है और कई गैर भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों ने इसे अपने यहां लागू करने से मना कर दिया है। ऐसे में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने सीएए का पुरजोर समर्थन करते हुए कहा कि अगर किसी दूसरे देश का हिंदू भारत वापस लौटना चाहता है तो उसमें गलत क्या है।


सीएम विजय रुपाणी के लिए इमेज नतीजे"
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) का समर्थन करते हुए कहा कि मुस्लिमों के पास जाने के लिए दुनिया में 150 देश हैं, जबकि हिंदुओं के पास केवल एक देश भारत ही है। ऐसे में अगर वे भारत वापस लौटना चाहते हैं तो इसमें गलत क्या है।


इस बीच नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर मचे घमासान के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने इस मुद्दे पर जन जागरण अभियान चलाने का फैसला किया है। राष्ट्रीय पदाधिकारियों की पिछले शनिवार को दिल्ली में हुई बैठक में तय किया गया कि पार्टी घर-घर जाकर नागरिकता संशोधन कानून के बारे में जानकारी देगी।


सीएम विजय रुपाणी के लिए इमेज नतीजे"
नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के समर्थन में गुजरात भी शामिल है। बीजेपी इसी सिलसिले में गुजरात में भी जगह-जगह सीएए के समर्थन में रैलियां निकाल रही है। राज्य के 30 से ज्यादा जिलों में मंगलवार को रैलियां निकाली गईं।


सचिन की सुरक्षा घटाई, अन्ना की बढाई

मुंबई। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले और पूर्व राज्यसभा सांसद सचिन तेंदुलकर की सुरक्षा उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार ने घटा दी है। पहले सचिन को एक्स कैटेगिरी की सुरक्षा प्रदान की गई थी। वहीं, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और वर्ली के विधायक आदित्य ठाकरे की सुरक्षा को वाई से अपग्रेड करके जेड कर दी गई है। ये निर्णय राज्य सरकार ने हाईप्रोफाइल लोगों की सुरक्षा समीक्षा के बाद लिया है। एक्स कैटेगिरी में सचिन के पास हर समय एक पुलिस कांस्टेबल तैनात रहता था। हालांकि अब उन्हें भी पुलिस एस्कॉट मिल सकता है। भाजपा नेता एकनाथ खड़से को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है लेकिन उनके एस्कॉट को हटा दिया गया है। वहीं, उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नाईक की सुरक्षा जेड प्लस से घटाकर एक्स कर दी गई है। इसी कड़ी में वरिष्ठ वकील उज्जवल निकम की जेड प्लस की सुरक्षा घटाकर वाई श्रेणी कर दी गई है। समाजसेवी अन्ना हजारे की सुरक्षा बढ़ाते हुए सरकार ने वाई से जेड श्रेणी कर दी गई है। बता दें कि सुरक्षा बढ़ाने या घटाने का निर्णय एक समिति लेती है जो हर तीन महीने पर खतरे का आकलन करती है। समिति द्वारा इंटेलिजेंस एजेंसियों और पुलिस थानों से मिले जानकारी के आधार पर सुरक्षा घटाने या बढ़ाने का फैसला किया जाता है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि समिति ने 97 लोगों को मिली सुरक्षा की समीक्षा की है। 29 लोगों की सुरक्षा में कटौती की गई है, जबकि 16 लोगों की सुरक्षा हटा दी गई है।


आदिवासी नृत्य महोत्सव में राहुल मुख्य अतिथि

अरविंद तिवारी की रिपोर्ट


रायपुर। राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का शुभारंभ 27 दिसम्बर को प्रात: 10:00 बजे साईंस कॉलेज मैदान में होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल करेंगे। महोत्सव के शुभारंभ अवसर पर अतिविशिष्ट अतिथि के रूप में राज्य सभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, उप नेता आनंद शर्मा, राज्यसभा सांसद अहमद पटेल और मोतीलाल वोरा, पूर्व सांसद के.सी. वेणुगोपाल, श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरण दास महंत, सांसद पी.एल. पुनिया, बी.के. हरिप्रसाद, रणदीप सिंह सुरजेवाला, चंदन यादव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया और भक्त चरणदास शामिल होंगे।



कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में मंत्री टी.एस. सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू, रविन्द्र चौबे, डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, मोहम्मद अकबर, कवासी लखमा, डॉ. शिवकुमार डहरिया, श्रीमती अनिला भेंड़िया, जयसिंह अग्रवाल, गुरू रूद्र कुमार, उमेश पटेल, अमरजीत भगत , सांसद छाया वर्मा, ज्योत्सना महंत, दीपक बैज, विधायक मोहन मरकाम, सत्यनारायण शर्मा, श्री धनेन्द्र साहू, कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय, जिला पंचायत की अध्यक्ष शारदा वर्मा  शामिल होंगे।
उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ में पहली बार राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। यह महोत्सव अब अंतर्राष्ट्रीय महोत्सव का रूप ले लिया है। तीन दिवसीय इस नृत्य महोत्सव में देश के 25 राज्य एवं केन्द्र शासित प्रदेशों के साथ ही 06 देशों के लगभग 1350 से अधिक प्रतिभागी अपनी जनजातीय कला संस्कृति का प्रदर्शन करेंगे। इस महोत्सव में 39 जनजातीय प्रतिभागी दल 04 विभिन्न विधाओं में 43 से अधिक नृत्य शैलियों का प्रदर्शन करेंगे।


ईसा मसीह के जन्मदिन पर दिया संदेश

क्रिसमस ," ईसा मसीह का जन्म दिवस जिसने दुनिया को प्रेम का संदेश दिया था।


" ईसा मसीह का जीवन प्रेम और करूणा के लिए समर्पित रहा है।उनके जीवन में द्वेष और घृणा का कोई स्थान नहीं था।चाहे वो उनको यातनाएं देने वाला ही क्यों न रहा हो।ईसा मसीह की ये शिक्षाएँ हर किसी इंसान के जीवन में बहुत महत्व रखती हैं। उनकी शिक्षाओं की आज इसलिए जरूरत है क्योंकि इंसान से इंसान कट रहा है,तब यह जरूरी हो जाता हैं कि समाज में प्रेम करूणा के भावों का अधिकाधिक संचार हो ,इंसान को इंसान से जोड़े ,एक अच्छा समाज बनाए । ईसा ने दुश्मन से भी प्यार करने की बात कही है। ईसा हर किसी के प्रति समान भाव रखते थे।


गुरु होकर अपने शिष्यों के पांव धोकर सेवा की चरम मिसाल पेश की थी। उनके लिए ईश्वर ऐसे प्यारे पिता की तरह थे ,जो भले और बुरे के बीच भी फर्क नहीं करता और सूरज की रोशनी और बारिश का पानी सभी को बराबर देता है। ईसा मसीह का कहना है कि "जैसा व्यवहार आप दूसरों से चाहते है ,वैसा ही व्यवहार उनके साथ भी करें।


"ईसा मसीह का व्यक्तित्व विराट था।हम उनके व्यक्तित्व से,गुणों से,जीवन जीने की कला सीख सकते है।ऐसा करने से हमारा जीवन सुख मय बन सकता है। यदि हम उनके गुणों को जीवन में आत्मसात कर ले तो जीवन सफल हो जाएगा, एक अच्छे इंसान बन सकते है। पहला गुण है क्षमाशीलता का ,ईसा मसीह क्षमाशीलता की प्रतिमूर्ति थे।लोगों ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया लेकिन वो हमेशा उनको क्षमा करते रहे।जब उनको सूली पर चढ़ाया गया तब भी उन्होंने भगवान से प्रार्थना की कि सूली पर चढ़ाने वालों के लिए क्षमा मांगी।उन्होंने कहा


हे ईश्वर इन्हें माफ कर देना।ये नहीं जानते कि वो क्या कर रहे है।'उन्होंने कहा इंसान को क्षमा करना आना चाहिए। दूसरा गुण सीखना चाहिए वो है विनम्रता-इंसान को विनम्र होना चाहिए।


यदि कोई आपके साथ गलत करे या हो जाए तो आपको अपने विनम्र स्वभाव को नहीं छोड़ना चाहिए। ईसा मसीह के एक शिष्य ने उनके साथ धोखा किया था, जब वो अन्य शिष्यों के साथ जा रहे थे तो राजा के सैनिकों से कैद करवा दिया गया।फिर ईसा मसीह का अपने शिष्य के प्रति व्यवहार में कोई बदलाव नहीं आया।अपने विनम्र स्वभाव व सहनशीलता के चलते अपने शिष्यों को क्षमा कर दिया। दानशीलता भी हमें ईसा मसीह से सीखना चाहिए।उन्होंने सभी को दान करने की सीख भी दी थी। ईसा मसीह सद्भाव की शिक्षा देते है।


सब लोग मिलजुल कर रहे ।सब ईश्वर की संतान है और उनके लिए कोई छोटा या बड़ा नहीं है। इंसान को बच्चों की तरह सरल व निश्छल होना चाहिए जो पक्षपात रहित हो।बिना किसी पूर्वाग्रह या पक्षपात के जीवन जिया जाए,तो जीवन मे किसी प्रकार का तनाव नहीं रहेगा और जीवन बिल्कुल सहज,सरल बन जाएगा। आज फिर से दुनिया को गौतम बुद्ध ,महावीर स्वामी और ईसा मसीह जैसे शांति के दूत ,मानवता व समानता के पुरोधा महापुरुषों के संदेशों को पुनः स्मरण करने की जरुरत है। शुभ अवसर पर दुनिया के हर इंसान को बहुत बहुत बधाइयां।


पीएम-राष्ट्रपति ने अटल को श्रद्धांजलि दी

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के मौके पर आज पूरे देश में विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। राजधानी दिल्ली में आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राजघाट स्थित अटल स्मारक पहुंचकर अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान भजन सम्राट अनूप जलोटा ने भजन गाकर अटल जी को याद किया। सदैव अटल स्मारक में राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और तमाम सांसद मौजूद थे।  इससे पहले पीएम मोदी ने एक वीडियो ट्वीट किया और लिखा, ''देशवासियों के दिलों में बसे पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनकी जन्म-जयंती पर कोटि-कोटि नमन।'


गौरतलब है कि पीएम मोदी आज उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में अटल जी की कांसे से बनी 25 फीट की प्रतिमा का अनावरण भी करेंगे। आज से ही रोहतांग सुरंग का नाम अटल टनल किया जाएगा।


मोदी ने पंडित मदन मोहन मालवीय को भी दी श्रद्धांजलि


वहीं, पीएम मोदी ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भारतरत्न पंडित मदन मोहन मालवीय को भी ट्वीट करके श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी ने लिखा, ''भारत माता की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले महामना पंडित मदन मोहन मालवीय जी को उनकी जयंती पर विनम्र श्रद्धांलि। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान देने के साथ आजादी के आंदोलन में भी अहम भूमिका निभाई। उनकी विद्वता और आदर्श देशवासियों को सदा प्रेरित करते रहेंगे।'


टेलीकॉम कंपनियों ने टैरिफ की कीमतें बढ़ाई

नई दिल्ली। सभी टेलीकॉम कंपनियों ने अपनी टैरिफ की कीमतें बढ़ा दी हैं। रिलायंस जियो से लेकर आईडिया वोडा और एयरटेल ने हर प्लान्स पर 40% तक का प्राइस हाइक किया है। लेकिन ये यहीं नहीं रूकेगा, आने वाले वक्त में टैरिफ की कीमतें और बढ़ सकती हैं। एक्स्पर्ट्स का मानना है कि टेलीकॉम इंडस्ट्री को नुकसान से बचाने के लिए ऐसा किया जा सकता है। टेलीकॉम टॉक की एक रिपोर्ट के मुताबिक सेल्यूयर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया यानी COAI के डायरेक्टर जनरल राजन मैथ्यूज का मानना है कि इंडस्ट्री के फाइनांशियल स्ट्रेस को ठीक करने के लिए टैरिफ हाइक होने चाहिए। उन्होंने यह भी कहा है कि टैरिफ हाइक 200 रुपये ARPU (एवरेज रेवेन्यू पर यूजर) तक बढ़ने चाहिए।


टेलीकॉम कंपनियां भी टैरिफ हाइक को लेकर TRAI के पास गई हैं ताकि वॉयस और डेटा के लिए फ्लोर प्राइसिंग तय किया जा सके। फ्लोर प्राइसिंग के लिए एक पेपर भी तैयार किया गया है और इसके तहत अगले महीने या अगले हफ्ते में टैरिफ की कीमतें और भी बढ़ सकती हैं।


रिपोर्ट के मुताबिक सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने टैरिफ बढ़ोतरी को लेकर TRAI के पास गई है और कन्सल्टेशन पेपर दे कर फ्लोर प्राइस सेट करने को कहा है। इसमें कहा गया है कि ज्यादातर कस्टमर्स ने अब भी नए प्लान्स के साथ रिचार्ज नहीं कराया है।


ET Now को दिए एक इंटरव्यू में COIA के हेड राजन मैथ्यूज ने कहा था, 'हां, हम कह रहे थे शॉर्ट टर्म के लिए टैरिफ को बढ़ा कर कम से कम 200 रुपये ARPU किया जाना चाहिए। फिलहाल टेलीकॉम रेग्यूलेटर अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी TRAI स्टेक होल्डर्स के कॉमेन्ट का इंतजार कर रही है जिसके बाद टैरिफ की बढ़ोतरी की जाए या नहीं इस पर फैसला लिया जाएगा। फिलहाल ये साफ नहीं है कि इस बार टैरिफ में कितनी बढ़ोतरी की जाएगी।


सीएम भूपेश ने जनता का धन्यवाद किया

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नगरीय निकाय चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों की जीत को अभूतपूर्व बताते हुए आज कहा कि शहरी क्षेत्र में मतदाताओं ने एक बार फिर कांग्रेस पर भरोसा जताया है। कांग्रेस को ऐतिहासिक जनादेश मिला है। 


मुख्यमंत्री आज राजधानी में राजीव भवन में मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने शानदार जीत के लिए पीसीसी चीफ मोहन मरकाम को बधाई भी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि लगभग सभी जगह हम लोग जीते, एक जगह कोरबा में बीजेपी जरूर आगे है, लेकिन वहां भी उन्हें बहुमत नहीं मिला। उन्होंने जीत को आशातीत बताते हुए कहा कि हमारी जीत हर क्षेत्र में हुई। धमतरी में हमारी ना जाने कब जीत हुई थी, वहां भी काँग्रेस जीती है। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के क्षेत्र में भी कांग्रेस एकतरफा जीती।
उन्होंने कहा कि पहली बार ऐसा ऐतिहासिक जनादेश मिला है। यही नहीं, पहली बार ऐसा हुआ है जब किसी भी नगर निगम में बीजेपी के पास बहुमत नहीं है। जबकि बीजेपी को शहरी वोटरों वाली पार्टी के तौर पर जाना जाता है।
प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने जीत का श्रेय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के शानदार एक साल के कार्यकाल को दिया है। उन्होंने कहा कि ये जीत कांग्रेस सरकार की उपलब्धियों पर मुहर लगाती है। उन्होंने दावा किया कि सभी 10 नगर निगमों में कांग्रेस की सरकार बनेगी, वो भी उस सूरत में जब बीजेपी शहरी क्षेत्र में खुद का दबदबा बताती है।


बुंदेलखंड में पेयजल योजना को मंजूरी

लखनऊ। राज्य सरकार द्वारा कैबिनेट की मीटिंग में कई अहम फैसले लिए गए हैं। जिनमें से बुन्देलखण्ड 7के कुल नौ जनपदों के समस्त ग्रामों तक शुद्ध पानी मुहैया कराने के लिए पाइप पेय जल योजना को मंजूरी मिली।
जिसपर कुल 17722.89 करोड़ रुपए व्यय किए जाएंगे।
नगर निगम शाहजहांपुर व आगरा की सीमा विस्तार प्रस्ताव को भी मंजूरी मिली है।
हाथरस की नगर पालिका परिषद हाथरस , महाराजगंज की महाराजगंज नगर पालिका परिषद व अम्बेडकर नगर की नगर पालिका परिषद जलालपुर की सीमा विस्तार को मंजूरी मिली।


संतकबीनगर की नगर पंचायत मेहदावल व महाराज गंज की नगर पंचायत आनंद नगर की सीमा विस्तार के प्रस्ताव को मंजूरी मिली है ।


सुल्तानपुर जिले के गांव पंचायत लम्भुआ अलीगढ़ के मडराक गांव पंचायत कुशीनगर के ग्राम पंचायत तमकुही आजमगढ़ के जहानागंज बाजार जौनपुर के गौराबादशाहपुर, कानपुर देहात के कस्बा राजपुर महाराज गंज के ग्राम पनियरा व ग्राम परतावल तथा लखनऊ में मोहन लाल गंज तहसील मुख्यालय कस्बा को नगर पंचायत बनाने के प्रस्ताव को पास किया गया है।
एटा व हरदोई जनपद के जिला चिकित्सालयों को मेडिकल कालेज में उच्चीकृत करने व पुराने निष्प्रर्योज्य भवनों को ध्वस्त करने के प्रस्ताव को भी राज्य सरकार की कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


दिसंबर 26, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-142 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, दिसंबर 26, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष- कृष्ण पक्ष, तिथि- चत्तुर्दशी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 07:13,सूर्यास्त 05:35
5. न्‍यूनतम तापमान - डी.सै.,अधिकतम-16+ डी.सै., शीत लहर के साथ बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


नये सिरे से चुनाव प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए

अकांशु उपाध्याय        नई दिल्ली। भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ(एनआरएआई) के मोहाली में होने वाले चुनावों से एक दिन पहले खेल मंत्रालय ने निशानेब...