सोमवार, 31 अक्तूबर 2022

'राष्ट्रीय एकता दिवस' की बधाई व शुभकामनाएं: संस्था

'राष्ट्रीय एकता दिवस' की बधाई व शुभकामनाएं: संस्था

पंकज कपूर 

हल्द्वानी। एकसमाज श्रेष्ठ समाज संस्था की तरफ से आप सभी को 'राष्ट्रीय एकता दिवस' की बहुत-बहुत बधाई एवं मंगलमय शुभकामनाएं। लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल जी के लौह इरादों के आगे कुछ भी असंभव नहीं था उन्होंने अपने दृढ़ नेतृत्व से अलग अलग रियासतों में बंटे भारत को एकता के सूत्र में पिरोकर राष्ट्रीय एकीकरण का महान स्मरणीय कार्य किया है। राष्ट्रहित के दृढ़ संकल्प से पूरा जीवन भारत देश के लिए जीने वाले एक भारत श्रेष्ठ भारत के निर्माता संप्रभुता के प्रतिपालक भारत की एकता और अखंडता के प्रतीक आधुनिक भारत के शिल्पकार महान स्वतंत्रता सेनानी एवं भारत रत्न लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जयंती पर उन्हें शत् शत् नमन।

आइए, हम सभी भारतवासी शांति प्रेम बंधुत्व की भावना रखते हुए राष्ट्रीय एकता दिवस के इस पुनीत अवसर पर भारत माता भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के मान सम्मान के प्रति त्याग समर्पण भाव के साथ कर्तव्य पथ पर सतत डटे रहने के लिए संकल्पित होकर यह संकल्प लें की हम सभी भारतीय एकता के सूत्र में बंधकर भारत देश को विश्वगुरु बनाने के लिए हम आस्था निष्ठा दृढ़ संकल्प शक्ति के साथ हमेशा समाजहित एवं भारतहित में कार्य करते रहेंगे और संपूर्ण विश्व को भारतीय रंग में रंग कर सब कुछ भारत मय करें।

यहां स्वर्ग का नजारा है कि, बहती प्यार की धारा है।

यह हमको जान से प्यारा है, यह हिन्दुस्तान हमारा है।

जय माता दी, जय हिन्द, वन्दे मातरम्, भारत माता की जय...।

यशदेव व सरिता को पौधा भेंट कर सम्मानित किया

यशदेव व सरिता को पौधा भेंट कर सम्मानित किया


प्रमुख समाजसेवी एवं लेखक डॉक्टर यशदेव आर्य का क्षेत्र के गाँव शबगा पहुँचने पर आँखें के पर्यावरण संरक्षक ने पौधा भेंट कर किया सम्मानित

गोपीचंद/भानु प्रताप उपाध्याय 

छपरौली। रोहतक से पाणिनि व्याकरण मीमांसा के लेखक एवं प्रमुख समाजसेवी डॉक्टर यशदेव आर्य एवं उनकी पत्नी डॉक्टर सरिता आर्य को शबगा पहुँचने पर सामाजिक संस्था आँखें के पर्यावरण संरक्षक समाजसेवी आर०आर०डी० उपाध्याय एवं रोहित कुमार ने पौधा भेंट कर सम्मानित किया। पर्यावरण पर शोध पेपर प्रकाशित करने वाले डॉक्टर यशदेव आर्य सामाजिक संस्था आँखें मीडिया सोशल नेटवर्क के पौधा रोपण अभियान से प्रेरित होकर आँखें के पर्यावरण संरक्षकों से पौधा रोपण अभियान पर समीक्षा करने पहुँचे थे।

डॉक्टर यशदेव आर्य ने कहा कि आँखें द्वारा चलाये जा रहे पौधा रोपण अभियान का चरण विवाह संस्कार में पौधा रोपण संस्कार उन्हें अत्यन्त प्रभावित करता है। उन्होंने कहा वेदों में पर्यावरण शुद्धि की ऋचाओं का उल्लेख है। वेदों का अनुसरण प्रदुषित पर्यावरण को शुद्ध करता है। पर्यावरण शुद्धि के लिए यज्ञ और पौधा रोपण वेदों द्वारा प्रमाणित सबसे सरल उपाय है। इस अवसर पर गुरूकुल कुरुक्षेत्र के मुख्य संरक्षक डॉक्टर संजीव आर्य, रोहित कुमार, प्रधानाचार्य सुनील कुमार आर्य, समाजसेवी रविकुमार एडवोकेट, मास्टर राकेश सरोहा, शिवा आर्य आदि उपस्थित रहे।

स्वर्गीय गांधी की पुण्यतिथि, पटेल की जयंती मनाई 

स्वर्गीय गांधी की पुण्यतिथि, पटेल की जयंती मनाई 


शामली जिला कांग्रेस कमेटी ने इन्दिरा गांधी की पुण्यतिथि मनाई ओर सरदार वल्लभभाई जी की जयंती मनाई: दीपक सैनी 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। जिला शहर कांग्रेस कमेटी के केंप कार्यालय पर जनपद के कांग्रेसियों के द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी जी की पुण्यतिथि व देश के पहले गृह मंत्री स्वर्गीय सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती मनाई गई। कांग्रेसियों ने दोनों नेताओं को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए उन्हें नमन किया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक सैनी ने कहा कि श्रीमती इंदिरा गांधी जी सुरुवात से ही स्वतंत्रता संग्राम से जुड़ी हुई थी उन्होंने बचपन में ही बाल चरखा संघ की स्थापना की तथा असहयोग आंदोलन मे सहयोग के लिए बच्चों की सहायता से वानर सेना का 1930 मे गठन किया। 1947  मे उन्हें जेल में भी डाल दिया गया तथा गांधी जी के मार्ग दर्शन में उन्होंने दिल्ली के दंगा प्रभावित क्षेत्रों में कार्य भी किया।

अपने शासन काल में इंदिरा गांधी जी ने देश में सेनिक शक्ति का विस्तार किया तथा पाकिस्तान से बंगलादेश के रूप में नये देश का निर्माण कराया।इंदिरा गांधी जी को आयरन लेडी व सरदार वल्लभ भाई पटेल को लोह पुरुष के नाम से याद किया जाता है। किसान परिवार में जन्मे पटेल अपनी कूटनीतिक क्षमताओं के लिए याद किये जाते हैं।आजाद भारत को एक जुट करने का श्रेय सरदार पटेल को ही जाता है।

एक मुकदमे की सुनवाई के दौरान उन्हें अपनी पत्नी के निधन की खबर मिली लेकिन इस दौरान सरदार पटेल ने बहस जारी रखी और मुकदमा जीत गये तथा बाद मे पत्नी के देहांत की सूचना सबको दी। कांग्रेस नेता अशवनी शर्मा ने भी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि इंदिरा जी ने समुचे विश्व में अपनी लोकप्रियता का लोहा मनवाया।अन्हे विभिन्न देशों से अनेकों डिग्रियाँ उपहार स्वरूप प्राप्त हुई। श्रीमती इंदिरा गांधी जी ने देश के दुश्मन पाकिस्तान के दो  हिस्से कराने का काम किया। इंदिरा गांधी जी ने कहा था कि मेरे खून का एक एक कतरा देश को मजबूत करेगा और अखण्ड भारत को जीवित रखेगा। देश की उन्नति के लिए उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दे दी थी। सरदार पटेल ने स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देशी रियासतों का एकीकरण कर अखण्ड भारत के निर्माण में सहयोग किया। जिनके द्वारा किए गए कार्यों के लिए देश युगों युगों तक याद करेगा। 

दीपक सैनी कांग्रेस जिलाध्यक्ष अनुज गोतम कांग्रेस शहर अध्यक्ष शामली विश्वनाथ शास्त्री वरिष्ठ कांग्रेसी, प्रवीण तरार जिला उपाध्यक्ष, शैखरपाल प्रदेश महासचिव, रामदेव शर्मा वरिष्ठ कांग्रेसी, बिजेंद्र वर्मा जिला उपाध्यक्ष, अश्वनी शर्मा प्रदेश महासचिव, सुरेन्द्र सरोहा, रमेश मराठा नगर उपाध्यक्ष, धीरज उपाध्याय, अरविंद झझोट जिला सचिव, रिजवान जिलाध्यक्ष सेवादल, महाबीर सैनी, टोनी गिरी, संदीप शर्मा, जिला राजेंद्र गोल्डी जिला उपाध्यक्ष, युवा सचिव राहुल शर्मा, जिला सचिव रामशरन नामदेव। शहीद अली, बिजेंद्र सैनी, प्रमोद कश्यप, अरुण जैन, सुशील शर्मा आदि शामिल हुए।

पूर्व प्रधानमंत्री गांधी के चित्र पर पुष्प अर्पण, श्रद्धांजलि 

पूर्व प्रधानमंत्री गांधी के चित्र पर पुष्प अर्पण, श्रद्धांजलि 


कांग्रेसियों ने भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी जी की 37वी पुण्यतिथि मनाई

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। सोमवार को शहर कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में आनंद भवन पर एकत्रित होकर पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी जी के चित्र पर पुष्प अर्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर शहर अध्यक्ष प्रदीप मिश्रा अंशुमन ने कहा कि इंदिरा जी ने विश्व में अपना लोहा मनवाया था। उनका नाम आयरन लेडी के नाम से पूरे विश्व में जाना गया इंदिरा जी ने अपना पूरा जीवन देश की एकता अखंडता के लिए समर्पित कर दिया और देश के लिए अपनी जानकी कुर्बानी दे दी।

श्रद्धा सुमन अर्पित करने वालों में मुख्य रूप से मौजूद प्रदीप कुमार मिश्रा अंशुमन, शेखर बहुगुणा, रघुनाथ द्विवेदी, इरशाद उल्ला,राजकुमार सिंह रज्जू, विनय पांडे, अब्दुल कलाम आजाद, अजेंद्र गौड़, जावेद उर्फी, रविंद्र सिंह,अतुल श्रीवस्तवा, लाल बाबू साहू, राकेश श्रीवास्तव,रचना पांडेय,रिजवाना बेगम, अब्दुल शकूर, प्रदीप नारायण, अभिनव पांडेय, राज बहादुर गुप्ता, सचिन पांडेय, आशा देवी, शीला रावत आदि लोग मौजुद है।

डीएम ने 'राष्ट्रीय एकता दिवस' की शपथ दिलाई 

डीएम ने 'राष्ट्रीय एकता दिवस' की शपथ दिलाई 


जिलाधिकारी ने भारत रत्न लौहपुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जयंती के अवसर पर उनकी चित्र पर माल्यार्पण कर अधिकारियों एवं कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलाई 

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। जिलाधिकारी श्री संजय कुमार खत्री ने सोमवार को संगम सभागार में भारत रत्न लौहपुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर उनके चित्र पर माल्यार्पण कर नमन किया। उन्होंने संगम सभागार में उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलाई। ‘‘मैं सत्यनिष्ठा से शपथ लेता हूँ कि मैं राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाये रखने के लिए स्वयं को समर्पित करूंगा और अपने देशवासियों के बीच यह संदेश फैलाने का भी भरसक प्रयत्न करूगा।

मैं यह शपथ अपने देश की एकता की भावना से ले रहा हूं, जिसे सरदार वल्लभ भाई पटेल की दूरदर्षिता एवं कार्यों द्वारा सम्भव बनाया जा सका। मैं अपने देश की आन्तरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपना योगदान करने का भी सत्यनिष्ठा से संकल्प करता हूं।’’ इस अवसर पर एडीएम वित्त एवं राजस्व श्री जगदम्बा सिंह, एडीएम प्रशासन श्री हर्षदेव पाण्डेय, एडीएम सिटी श्री मदन कुमार सहित समस्त अधिकारीगण एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहें।

डीएम ने सचल पुस्तक प्रदर्शनी का शुभारंभ किया

डीएम ने सचल पुस्तक प्रदर्शनी का शुभारंभ किया


संगम नगरी प्रयागराज पहुंची गंगा पुस्तक परिक्रमा

जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट परिसर में सचल पुस्तक प्रदर्शनी का फीता काटकर किया शुभारम्भ

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। जिलाधिकारी श्री संजय कुमार खत्री ने कलेक्ट्रेट परिसर में सचल पुस्तक प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। उन्होंने पुस्तक प्रदर्शनी का अवलोकन किया और मां गंगा के महत्व के प्रति लोगों में जागरुकता बढ़ाने की इस अनूठी पहल की सराहना की। यह प्रदर्शनी 31 अक्टूबर से 02 नवंबर तक प्रयागराज के विभिन्न विद्यालयों, विश्वविद्यालयों व अन्य महत्त्वपूरर्ण स्थानों का दौरा करेगी। सभी को पढ़ने के लिए पुस्तकों का खजाना उपलब्ध करवाने के अतिरिक्त छात्रों और युवाओं को हमारे जीवन पर मां गंगा के सांस्कृतिक और पर्यावरणीय पहलुओं के बारे में भी जागरूक करेगी।

देश में मां गंगा के सांस्कृतिक महत्व और इसके संरक्षण की आवश्यकता पर विचारों का आदान-प्रदान करने के लिए न्यास पर्यावरणविदों, आध्यात्मिक विभूतियों और शिक्षाविदों को भी आमंत्रित कर इस यात्रा में जोड़ रहा है जिससे लोगों में अपनी इस पवित्र नदी के संमृद्ध इतिहास के सम्बन्ध में अधिकाधिक जागृति हो। गंगा पुस्तक प्रदर्शनी प्रयागराज से आगे बढ़कर मिर्जापुर, वाराणसी, छपरा, पटना, बेगूसराय, सुल्तानगंज, भागलपुर, साहिबगंज, बहरामपुर, कोलकाता से होकर 22 दिसंबर, 2022 को हल्दिया में अपनी यात्रा समाप्त करेगी।

इस पुस्तक प्रदर्शनी में हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत और उर्दू में विभिन्न आयु वर्ग हेतु पुस्तकों के अलावा मां गंगा और भारतीय नदियों और जल निकायों के आस पास विकसित पारिस्थितिकी तंत्र पर पुस्तकें प्रदर्शन एवं विक्रय के लिए उपलब्ध हैं। गंगा पुस्तक परिक्रमा किताबों की दुनिया के माध्यम से गंगा की साहित्यिक विरासत से जुड़ने की इच्छा रखने वाले हर व्यक्ति के लिए आकर्षण के केंद्र है।

पटेल को प्रण-प्राण से समर्पित रहने वाला योद्धा बताया

पटेल को प्रण-प्राण से समर्पित रहने वाला योद्धा बताया


देश मे एकता अखण्डता और सभी के लिए प्रण प्राण से समर्पित रहने वाले योद्धा थे, लौहपुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल: (इफ्तेखार हुसैन)

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। समाजवादी पार्टी महानगर कमेटी की ओर से ज़िला कचहरी मे बड़ी संख्या मे जुटे सपाईयों व अधिवक्ताओं ने निर्वतमान महानगर अध्यक्ष सैय्यद इफ्तेखार हुसैन व निर्वतमान महानगर महासचिव रवीन्द्र यादव रवि के नेतृत्व मे लौहपुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल के चित्र पर पुष्प अर्पित करते हुए उन्हें एक आदर्श पुरुष और देश की एकता व अखण्डता के साथ सभी के लिए प्रण-प्राण से समर्पित रहने वाला योद्धा बताया। इफ्तेखार हुसैन ने कहा, कि देश की सरकारों को अगर सच्ची भावना से आम जनमानस के लिए कार्य करने की योजना पर अमल करना है, तो सरदार पटेल के इतिहास को पढ़े और उस पर चलें।

तभी लौहपुरुष को सच्ची लगन से याद करना सार्थक होगा, अन्यथा सिर्फ जयंती पर पुष्प चढ़ाने से न तो देश आगे बढेगा और न ही समाज। रवीन्द्र यादव ने दृढ़ इच्छाशक्ति के बलबूते लौहपुरुष की संज्ञा से नवाज़े गए बल्लभ भाई पटेल के आदर्शवादी किरदार को अपने मन और मस्तिष्क मे समाने और उस पर चलने का नौजवान पीढी से आह्वान किया।

कार्यक्रम मे इफ्तेखार हुसैन ,रवीन्द्र यादव ,लल्लन सिंह पटेल, बृजेश यादव ,सुशील यादव ,बिट्टू भारतीया ,कौशलेश सिंह ,प्रमोद सिंह नीरज ,वरुण सिंह ,मंगल सिंह यादव, आशीष पाण्डेय ,अमित श्रीवास्तव ,जिज्ञांशू यादव ,जयभारत यादव ,अभिजीत राय आदि के साथ बड़ी संख्या मे अधिवक्ता गण उपस्थित रहे।

जयंती: पीएम मोदी ने 'राष्ट्रीय एकता' की शपथ दिलाई

जयंती: पीएम मोदी ने 'राष्ट्रीय एकता' की शपथ दिलाई

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सरदार पटेल की 147वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह दो अलग-अलग कार्यक्रमों में शामिल हुए। एक तरफ पीएम मोदी सोमवार, 31 अक्टूबर 2022 को गुजरात के केवड़िया में पहुंचे और एकता दिवस परेड में हिस्सा लेकर राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई। यहां पीएम ने कहा कि दुख की घड़ी में देश एकजुट दिखाई देता है। सरकारी योजनाओं की बात करते हुए कहा कि एकता का संदेश देते हुए ये योजनाएं देश के कोने-कोने में पहुंच रही हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर केवड़िया में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पहुंचे‌। यहां उन्होंने भारत के पहले गृह मंत्री सरदार पटेल की भव्य प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की और जल चढ़ाकर उनको नमन किया। प्रधानमंत्री इसके बाद केवड़िया परेड ग्राउंड में राष्ट्रीय एकता दिवस परेड कार्यक्रम में शामिल हुए। कई राज्यों की पुलिस फोर्स के जवानों ने राष्ट्रीय एकता दिवस के मौके पर परेड निकाली, जिसका पीएम मोदी ने निरीक्षण किया। पीएम मोदी ने ‘आरंभ 2022’ में प्रशिक्षु पुलिस अधिकारियों को राष्ट्रीय एकता व अखंडता को बनाए रखने की शपथ दिलाई। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन की शुरुआत मोरबी पुल हादसे में जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि देते हुए की।

‘सरदार वल्लभभाई पटेल जैसा नेतृत्व नही होता तो क्या होता’

पीएम मोदी ने कहा, "साल 2022 में राष्‍ट्रीय एकता दिवस को बहुत विशेष अवसर के रूप में मैं देख रहा हूं। यह वह साल है जब हमने आजादी के 75 वर्ष पूरे किए हैं। हम नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ रहे हैं। अगर भारत के पास सरदार पटेल जैसा नेतृत्व न होता तो क्या होता? अगर 550 से ज्यादा रियासतें एकजुट न हुई होती तो क्या होता? हमारे ज्यादातर राजा रजवाड़े त्याग की पराकाष्ठा न दिखाते, तो आज हम जैसा भारत देख रहे हैं हम उसकी कल्पना न कर पाते‌। ये कार्य सरदार पटेल ने ही सिद्ध किए हैं।''

पीएम मोदी ने कहा कि अतीत की तरह ही भारत के उत्थान से परेशान होने वाली ताकतें आज भी मौजूद हैं। जातियों के नाम हमें लड़ाने के लिए तरह तरह के नरेटिव गढ़े जाते हैं। इतिहास को भी ऐसे पेश किया जाता हैं कि जिससे देश जुड़े नहीं और दूर हो जाएं। कई बार ये ताकत गुलामी की मानसिकता के रूप में हमारे अंदर घर कर जाती है। कई बार ये तुष्टिकरण के रूप में, कभी परिवारवाद के रूप में, कभी लालच और भ्रष्टाचार के रूप में दरवाजे तक दस्तक दे देती है। जो देश को बांटती और कमजोर करती है।

गौरतलब है कि साल 2018 में सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा के निर्माण के बाद से, पीएम मोदी ने राष्ट्रीय एकता दिवस के उत्सव को स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस जैसे आयोजनों के समान ही लाकर खड़ा कर दिया है‌। राष्ट्रीय एकता दिवस, हर साल 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर मनाया जाता है। इस दिन ‘रन फॉर यूनिटी’ यानी एक मैराथन कार्यक्रम आयोजित करने की भी प्रथा रही है।

अमित शाह ने रन फॉर यूनिटी को दिखाई हरी झंडी

इस मौके पर दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह मेजर ध्यानचंद स्टेडियम से 'रन फॉर यूनिटी' को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसके अलावा वो कई अन्य कार्यक्रमों भी शिरकत करेंगे‌। इस दौड़ में अलग-अलग वर्गो के हजारों लोग शामिल हुए। वहीं अमित शाह पार्लियामेंट के सेंट्रल हॉल में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। दोपहर 12 बजे सरदार पटेल स्कूल में आयोजित एक कार्यक्रम में भी शामिल होंगे‌।

आदिवासी नृत्य महोत्सव व राज्योत्सव का उद्घाटन 

आदिवासी नृत्य महोत्सव व राज्योत्सव का उद्घाटन 

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। छत्तीसगढ़ के 22वें राज्योत्सव एवं तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव एवं राज्योत्सव का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंगलवार सुबह उद्घाटन करेंगे। जबकि राज्य अलकंरण समारोह की मुख्य अतिथि राज्यपाल अनुसुईया उइके होंगी।

मुख्यमंत्री बघेल कल 01 नवम्बर को पूर्वान्ह 11 बजे राजधानी के साईंस कॉलेज मैदान में आयोजित गरिमामय समारोह में तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव एवं राज्योत्सव का उद्घाटन करेंगे। छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत इस कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

राज्यपाल उइके शाम को साईंस कॉलेज मैदान में आयोजित राज्य अलंकरण समारोह एवं राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की मुख्य अतिथि होंगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

सड़क दुर्घटनाओं में 7 लोगों की मौंत, 8 घायल 

सड़क दुर्घटनाओं में 7 लोगों की मौंत, 8 घायल 

विमलेश यादव 

हैदराबाद। तेलांगना में सोमवार तड़के में दो अलग-अगल सड़क दुर्घटनाओं में सात लोगों की मौत हो गई। जबकि इसमें आठ लोग घायल हो गए। पुलिस सूत्रों ने बताया कि शहर से बाहर मेडचल जिले के कांडलाकोया गांव के आउटर रिंग रोड (ओआरआर) में एक वाहन की कंटेनर के साथ टक्कर हो गई।

जिसमें तीन लोगों की मौत और सात अन्य घायल हो गए। एक अन्य घटना में अदिलाबाद जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर एक लॉरी कार से टकरा गई, जिससे चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और एक व्यक्ति घायल हो गया। इनमें तीन मृतक एक ही परिवार के थे। वे हैदराबाद से अदिलाबाद लौट रहे थे।

'भाजपा' सरकार को उखाड़ फेंके हिमाचल के लोग

'भाजपा' सरकार को उखाड़ फेंके हिमाचल के लोग

अकांशु उपाध्याय/श्रीराम मौर्य 

नई दिल्ली/शिमला। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश के लोग विकास और खुद की बेहतरी के लिए राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार को उखाड़ फेंके। वाड्रा ने यहां एक विशाल जनसभा को संबाेधित करते हुयेे कहा कि भ्रष्ट भाजपा सरकार का सफाया हिमाचल प्रदेश के लोगों की बेहतरी के लिये जरूरी है। उन्होने कहा, " आप लोगों ने पांच साल में सरकार बदलने की जो परंपरा कायम रखी है, वह वास्तव में बहुत अच्छी है। इससे पार्टी और उसके नेताओं का दिमाग दुरूस्त रहता है।"

उन्होने वादा किया कि यदि कांग्रेस चुनाव जीत कर सरकार बनाने में सफल होती है तो उनकी पार्टी की सरकार हर साल बेरोजगारों को एक लाख नौकरियां देगी। उन्होंने वादे पर भरोसा करने के लिये उदाहरण दिया कि छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्ज माफ करने का वादा सरकार बनने के पहले ही दिन पूरा हो गया। वाड्रा ने कहा कि भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री मंडी जिले से हैं लेकिन उन्होंने यहां कुछ नहीं किया। उन्होने सवालिया लहजे में कहा " जिस भाजपा सरकार ने पांच साल में आपके लिये कुछ नहीं किया तो क्या आप उन्हें पांच साल और देना चाहते हैं।" भाजपा सरकार पर युवाओं को रोजगार के नाम पर ठगने का आरोप लगाते हुए उन्होने कहा कि हिमाचल प्रदेश में सरकारी विभागों में 63 हजार पद खाली हैं, मगर उन्हें भरा नहीं गया।

सरकार ने सेना भर्ती की अग्निवीर योजना लाकर युवाओं के साथ ठगी की है। दूध, दही, आटा और सरसों के तेल पर जीएसटी लगाया गया। उन्होने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री और उनकी दादी इंदिरा गांधी का हिमाचल प्रदेश से अटूट रिश्ता था। आज की राजनीति में पैसे का बोलबाला है। झूठ बोला जाता है, लेकिन इंदिरा गांधी के समय में ऐसा नहीं था।

ऐलान: टी-20 टीम की कमान हार्दिक पंड्या को सौंपी 

ऐलान: टी-20 टीम की कमान हार्दिक पंड्या को सौंपी 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के बाद टीम इंडिया को न्यूजीलैंड का दौरा करना है। सोमवार (31 अक्टूबर) को बीसीसीआई द्वारा इस दौरे के लिए टीम का ऐलान किया गया है। भारत को न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन टी-20 और तीन वनडे मैच खेलने हैं। इस सीरीज के लिए टीम इंडिया के सीनियर प्लेयर्स को आराम दिया गया है, जबकि टी-20 टीम की कमान हार्दिक पंड्या के हाथ में दी गई है। वनडे टीम की कप्तानी शिखर धवन के हाथ में रहेगी। 

टी-20 सीरीज के लिए टीम इंडिया: हार्दिक पंड्या (कप्तान), ऋषभ पंत (उप-कप्तान, विकेटकीपर), शुभमन गिल, ईशान किशन, दीपक हुड्डा, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर, संजू सैमसन (विकेटकीपर), वाशिंगटन सुंदर, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अर्शदीप सिंह, हर्षल पटेल, मोहम्मद सिराज, भुवनेश्वर कुमार, उमरान मलिक वनडे सीरीज के लिए टीम इंडिया: शिखर धवन (कप्तान), ऋषभ पंत (उप-कप्तान, विकेटकीपर), शुभमन गिल, दीपक हुड्डा, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर, संजू सैमसन (विकेटकीपर), वाशिंगटन सुंदर, शार्दुल ठाकुर, शहबाज़ अहमद, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अर्शदीप सिंह, दीपक चाहर, कुलदीप सेन, उमरान मलिक न्यूजीलैंड दौरे के लिए विराट कोहली, रोहित शर्मा, केएल राहुल, दिनेश कार्तिक, रविचंद्रन अश्विन, मोहम्मद शमी जैसे बड़े प्लेयर्स टीम का हिस्सा नहीं हैं. यानी ये सभी प्लेयर टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के बाद अपने घर लौटेंगे. भारत और न्यूजीलैंड शेड्यूल 

18 नवंबर, शुक्रवार: पहला टी-20, वेलिंगटन 

20 नवंबर, रविवार: दूसरा टी-20, माउंट माउंगनुई 

22 नवंबर, मंगलवार: तीसरा टी-20, ऑकलैंड 

25 नवंबर, शुक्रवार: पहला वनडे, ऑकलैंड 

27 नवंबर, रविवार: दूसरा वनडे, हैमिल्टन 

30 नवंबर, बुधवार: तीसरा वनडे, क्राइस्टचर्च।

शुक्ल-पक्ष की अष्टमी तिथि को मनेगा 'गोपाष्टमी' पर्व

शुक्ल-पक्ष की अष्टमी तिथि को मनेगा 'गोपाष्टमी' पर्व


कार्तिक मास के शुक्ल-पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन गोपाष्टमी पर्व मनाया जाता है। इस दिन गौ माता की विशेष पूजा का विधान शास्त्रों में वर्णित है। मान्यता है कि गोपाष्टमी के दिन गाय माता में सभी देवी-देवताओं का वास होता है। इसलिए इस दिन उनकी पूजा करने से व्यक्ति को देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है और उनके सभी दुःख-दर्द दूर हो जाते हैं। इस साल यह पर्व 1 नवम्बर के दिन मनाया जाएगा। बता दें कि यह पर्व विशेष रूप से वृन्दावन, मथुरा में धूम-धाम से मनाया जाता है। आइए जानते हैं तिथि और शुभ मुहूर्त।


गोपाष्टमी 2022 तिथि और शुभ मुहूर्त 

कार्तिक शुक्ल पक्ष अष्टमी तिथि प्रारम्भ: 31 अक्टूबर 2022, सोमवार से

अष्टमी तिथि समाप्त: 1 नवंबर 2022, मंगलवार रात 11:03 तक

गोपाष्टमी व्रत तिथि: 1 नवंबर 2022, मंगलवार


गोपाष्टमी पर बन रहा है अभिजीत मुहूर्त

हिन्दू पंचांग के अनुसार इस वर्ष गोपाष्टमी पर्व के दिन अभिजित मुहूर्त का निर्माण हो रहा है। मान्यता है कि अभिजीत मुहूर्त में पूजा-पाठ करने से भक्तों की सभी मनोकामना पूर्ण हो जाती है। कार्तिक शुक्ल पक्ष पर अष्टमी तिथि सुबह 11:47 से दोपहर 12:31 तक रहेगा। यह समय पूजा के लिए सर्वोत्तम है।


गोपाष्टमी पूजा विधि 

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान-ध्यान के बाद साफ वस्त्र धारण करें। इसके बाद गाय और उसके बछड़े को माला पहनाएं व तिलक लगाएं। इसके बाद गाय की धूप, दीप, पुष्प आदि से पूजा करें। इस दिन उन्हें अपने हाथों से भोजन कराना न भूलें। अंत में उनके चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लें और उनकी आरती करें। शास्त्रों में एक उपाय यह भी बताया है कि इस दिन गाय को गुड़ का भोग लगाने से सूर्य दोष से मुक्ति मिल जाती है। साथ ही घर के नजदीक बनें गौशाला में दान जरूर करें।


गोपाष्टमी पर करें इस मंत्र का जाप 

सुरभि त्वं जगन्मातर्देवी विष्णुपदे स्थिता ।

सर्वदेवमये ग्रासं मया दत्तमिमं ग्रस ।।

तत: सर्वमये देवि सर्वदेवैरलड्कृते ।

मातर्ममाभिलाषितं सफलं कुरु नन्दिनी ।।

श्रीराम 'निर्भयपुत्र'

मोरबी पुल हादसा, 9 लोगों को गिरफ्तार किया

मोरबी पुल हादसा, 9 लोगों को गिरफ्तार किया

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/गांधीनगर। गुजरात के मोरबी पुल हादसे ने दिल को दहला कर रख दिया है। जहां पुलिस ने सोमवार को नौ लोगों को गिरफ्तार किया है। हिरासत में लेने के बाद पुलिस ने आरोपियों की अस्पताल ले जाकर कोविड जांच करवाई। घटनास्थल पर बचाव कार्य जारी है। बता दें कि इस हादसे में 134 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। एनडीआरएफ-एसडीआरएफ की कई टीमें बचाव कार्य में लगी हुई हैं।

मोरबी पुलिस ने कहा कि घटना के संबंध में जिम्मेदार लोगों के खिलाफ तत्काल प्रभाव से मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया है उनमें 2 प्रबंधक, 2 मरम्मत करने वाले कॉन्ट्रेक्टर पिता और पुत्र, 3 सुरक्षा गार्ड और 2 टिकट क्लर्क शामिल हैं।राजकोट रेंज के आईजी अशोक यादव ने कहा कि मोरबी में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी, हम संवेदना व्यक्त करते हैं। कल शाम को 6।30 बजे पुल गिरा था। हमने सभी आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए आईपीसी की 304, 308 धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। आरोपियों को सख्त सजा दिलाएंगे। गिरफ्तार लोगों में ओरेवा कंपनी के मैनेजर और टिकट क्लर्क शामिल हैं। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों ने बचाव अभियान में काफी मदद की है।

गुजरात के मोरबी में रविवार (30 अक्टूबर) की शाम को ये हादसा हुआ था जब माच्छू नदी पर स्थित झूलता पुल गिर गया था। इस हादसे में 134 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। आरोप है कि पुल की संचालक कंपनी ने समय से पहले ही पुल को खोल दिया था।

इस हादसे पर दुख जताते हुए पीएम मोदी सोमवार को गुजरात के बनासकांठा जिले में एक जनसभा के दौरान भावुक भी हो गए। पीएम मोदी ने हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने की भी घोषणा की। इसके अलावा राज्य सरकार की ओर से भी मृतकों के परिजनों को 4 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया है।

हफ्ते के बिग बॉस क्वीन का रिजल्ट घोषित, पोस्टर 

हफ्ते के बिग बॉस क्वीन का रिजल्ट घोषित, पोस्टर 

कविता गर्ग 

मुबंई। मोस्ट पॉपुलर और कंट्रोवर्शियल शो बिग बॉस 16 ने इस हफ्ते के बिग बॉस क्वीन का रिजल्ट घोषित कर दिया है। बिग बॉस मेकर्स ने सोशल मीडिया पर पोस्टर शेयर किया है। वहीं मेकर्स ने अपकमिंग एपिसोड का वीडियो भी शेयर किया है, जिसमें शेखर सुमन कंटेस्टेंट्स से सवाल करते नजर आ रहे हैं।

BB16 क्वीन ऑफ द वीक
बिग बॉस मेकर्स ने पोस्ट शेयर किया है जिसमें जिसमें सुंबुल को Bigg boss 16 Queen ऑफ द वीक बनाया है और सुंबुल क्वीन की क्राउन के साथ चेयर पर मुस्कुराती हुई बैठी हैं।

शेखर सुमन के सवाल ने बढ़ाई टेंशन
बिग बॉस मेकर्स ने अपकमिंग एपिसोड का प्रोमो वीडियो शेयर किया है। वहीं बिग बॉस 16 के आने वाले एपिसोड में शेखर सुमन गेस्ट के रूप में नजर आने वाले हैं। वहीं वे कंटेस्टे्ंस से ऐसे सवाल करते हैं कि सभी टेंशन में आ जाते हैं।

‘सशस्त्र बल (विशेषाधिकार) अधिनियम, 1958’ वापस

‘सशस्त्र बल (विशेषाधिकार) अधिनियम, 1958’ वापस

विमलेश यादव 

दिसपुर/गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार राज्य में दो और स्थानों से ‘सशस्त्र बल (विशेषाधिकार) अधिनियम, 1958’ (AFSPA ) को वापस लेने पर विचार कर रही है। बराक घाटी में कछार के लखीमपुर उप-संभाग के साथ तिनसुकिया, डिब्रूगढ़, चराईदेव, शिवसागर, जोरहाट, गोलाघाट, कार्बी आंगलोंग और दिमा हसाओ जिलों के लिए ‘अशांत क्षेत्र’ के टैग के साथ एक अक्टूबर से छह महीने के लिए अफ्स्पा लगाया गया था। सरकार ने पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले में स्थिति में काफी सुधार होने की बात कहते हुए वहां से इस विवादास्पद कानून को वापस ले लिया था।

अफस्पा सुरक्षा बलों को अभियान चलाने और बिना किसी वारंट के किसी को भी गिरफ्तार करने का अधिकार देता है और साथ ही यदि उनकी गोली से किसी की मौत हो जाती है तो उन्हें गिरफ्तारी और मुकदमे से छूट प्रदान करता है। शर्मा ने कहा, ‘असम और पूर्वोत्तर में शांति लौट आई है। आज राज्य के 65 प्रतिशत क्षेत्र से अफस्पा वापस ले लिया गया है। भविष्य में, हम कछार के लखीमपुर और पूरे कार्बी आंगलोंग जिले से इसे वापस लेने के बारे में विचार कर रहे हैं।' उन्होंने कहा कि दो और इलाकों के अफस्पा के दायरे से बाहर होने के बाद ऊपरी असम के केवल छह जिले कानून के दायरे में रहेंगे।

अफस्पा के तहत ‘अशांत क्षेत्र’ का दर्जा हटा दिया गया

आत्मसमर्पण करने वाले उग्रवादियों को उनके पुनर्वास के लिए वित्तीय सहयोग देने के लिहाज से आयोजित एक कार्यक्रम में शर्मा ने कहा कि त्रिपुरा, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, नगालैंड और मणिपुर के विभिन्न इलाकों से भी अफस्पा के तहत ‘अशांत क्षेत्र’ का दर्जा हटा दिया गया है. उन्होंने कहा, ‘असम में बहुत खून-खराबा हुआ है. हमारा कर्तव्य इसे रोकना और राज्य का विकास करना है. हम राज्य के बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर देने के लिए बड़ी योजना शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं.’ मुख्यमंत्री ने 318 पूर्व उग्रवादियों को डिमांड ड्राफ्ट (डीडी) सौंपे जिन्होंने पिछले दिनों राज्य के पुलिस महानिदेशक और असम पुलिस, सेना एवं अर्द्धसैनिक बलों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में हथियार छोड़ दिये थे.

असम में उल्फा (आई) को छोड़कर सभी उग्रवादी संगठन मुख्यधारा में लौट आए

यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (आई), यूनाइटेड गोरखा पीपल्स ऑर्गेनाइजेशन (यूजीपीओ), तिवा लिबरेशन आर्मी (टीएलए), कूकी लिबरेशन फ्रंट (केएलएफ), दिमासा नेशनल लिबरेशन आर्मी (डीएनएलए) और कूकी नेशनल लिबरेशन आर्मी (केएनएलए) के आत्मसमर्पण करने वाले उग्रवादियों को डेढ़-डेढ़ लाख रुपये की एकमुश्त अनुग्रह राशि दी गई। शर्मा ने कहा, ‘हमारी सरकार के पिछले डेढ़ साल में असम में उल्फा (आई) को छोड़कर सभी उग्रवादी संगठन मुख्यधारा में लौट आए हैं। मैं उल्फा (आई) के प्रमुख परेश बरुआ से एक बार फिर अपील करता हूं कि शांति से समाज को आगे ले जाएं, खून-खराबा करके नहीं।’ उन्होंने कहा कि पिछले साल मई में उनके पदभार संभालने के बाद अनेक संगठनों के 6,780 से अधिक कैडर आत्मसमर्पण कर चुके हैं।

बांग्ला अभिनेत्री चक्रवर्ती का निधन, शोक व्यक्त 

बांग्ला अभिनेत्री चक्रवर्ती का निधन, शोक व्यक्त 

मिनाक्षी लोढी 

कोलकाता। बांग्ला अभिनेत्री सोनाली चक्रवर्ती का लंबी बीमारी के बाद सोमवार को कोलकाता के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह 59 वर्ष की थीं और उनके परिवार में पति अभिनेता शंकर चक्रवर्ती और बेटी हैं। बांग्ला टेलीविजन की जानी-मानी अभिनेत्री चक्रवर्ती यकृत की बीमारी से जूझ रही थीं।

महीनों से अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। उन्होंने ‘दादर कीर्ति’ (1980), ‘हार जीत’ (2002) और ‘बंधन’ (2004) जैसी फिल्मों में अभिनय किया। आखिरी बार उन्हें धारावाहिक ‘गाछोरा’ में देखा गया था। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की है।

विज्ञान: शोधकर्ताओं की टीम ने एक नई वस्तु खोजी

विज्ञान: शोधकर्ताओं की टीम ने एक नई वस्तु खोजी

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, गांधीनगर (आईआईटीजीएन) और जापान एडवांस्ड इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (जेएआईएसटी) के शोधकर्ताओं की एक टीम ने एक नई वस्तु खोजी है, जो लिथियम बैटरी को मिनटों में रिचार्ज कर सकती है। इसके जरिए जल्द ही आप अपने बैटरी वाले उपकरणों और यहां तक ​​कि इलेक्ट्रिक वाहनों को बहुत तेज गति से चार्ज कर पाएंगे।

टीम के अनुसार, टाइटेनियम डाइबोराइड (टीआईबी2) से प्राप्त नैनोशीट्स का उपयोग करके नयी द्वि-आयामी (2डी) वस्तु तैयार की गई है। यह वस्तु कई परतों वाले सैंडविच जैसी दिखती है, जिसमें परतों के बीच धातु के परमाणु बोरॉन लगे हुए हैं। आईआईटीजीएन और जेएआईएसटी की शोध टीमों ने एक ऐसी वस्तु विकसित करने का लक्ष्य रखा था जो न केवल बैटरी को तेजी से चार्ज करने में सक्षम हो, बल्कि उसे लंबा जीवन भी प्रदान करे।

आईआईटीजीएन में केमिकल इंजीनियरिंग के एसोसिएट प्रोफेसर कबीर जासुजा ने कहा, ” फिलहाल, ग्रेफाइट और लिथियम टाइटेनेट व्यावसायिक रूप से उपलब्ध लिथियम-आयन बैटरी (एलआईबी) में सबसे व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाली एनोड सामग्रियों में से हैं। ये लैपटॉप, मोबाइल फोन और इलेक्ट्रिक वाहनों को पावर देती हैं। ग्रेफाइट एनोड से लैस लिथियम-आयन बैटरी किसी इलेक्ट्रिक वाहन को एक बार चार्ज करने पर सैकड़ों किलोमीटर तक चला सकती है। उन्होंने कहा कि हालांकि, सुरक्षा के मोर्चे पर इनकी अपनी चुनौतियां हैं क्योंकि इनमें आग लगने का खतरा रहता है। लिथियम टाइटेनेट एनोड सुरक्षित और अधिक पसंदीदा विकल्प हैं, और ये फास्ट चार्जिंग की सुविधा भी देते हैं।

‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ अभियान की फाइल भेजी 

‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ अभियान की फाइल भेजी 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ अभियान की फाइल एक बार फिर उपराज्यपाल वी. के. सक्सेना को विचारार्थ भेजी है। सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। यह कदम ऐसे समय आया है, जब उपराज्यपाल सक्सेना ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से इस तरह के ‘अस्थायी’ उपाय की प्रभावशीलता पर सवाल उठाते हुए अभियान पर पुनर्विचार करने के लिए कहा है क्योंकि दिल्ली उच्च वायु प्रदूषण से जूझ रही है।

महीने भर के ‘रेड लाइट ऑन, गाडी ऑफ’ अभियान का मकसद ट्रैफिक सिग्नल पर इंतजार कर रहे वाहन चालकों को इंजन बंद करने के लिए प्रोत्साहित करना है। सूत्रों ने कहा, हमने उपराज्यपाल के विचारार्थ फाइल फिर से भेजी है। सरकार ने पर्याप्त मात्रा में सबूत भेजे हैं जिनमें अभियान के अनुकूल परिणामों को रेखांकित किया गया है। इसी तरह के अभियान देश के 40 शहरों में चलाए गए हैं।’

उन्होंने कहा, अमेरिका और लंदन में भी इस तरह के अभियान चलाए गए हैं। ‘सीआरआरआई’ के मुताबिक, ट्रैफिक सिग्नल पर सिर्फ 20 फीसदी चालक ही इंजन बंद करते हैं लेकिन यह पाया गया कि अभियान के दौरान 80 फीसदी लोगों ने सिग्नल पर अपने इंजन बंद कर दिए।’ राजधानी में वाहनों से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए पहली बार यह अभियान 16 अक्टूबर, 2020 को शुरू किया गया था। इस अभियान के तहत, वाहन चालकों को ट्रैफिक लाइट के हरे होने की प्रतीक्षा करते हुए अपने वाहनों का इंजन बंद करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शनिवार को कहा था कि नगर सरकार अभियान के संबंध में उपराज्यपाल द्वारा उठाए गए सभी सवालों का जवाब देगी और उनकी मंजूरी के लिए फाइल फिर से उन्हें भेजेगी। उन्होंने उपराज्यपाल पर ऐसे मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया था जो दिल्ली के लोगों के जीवन से जुड़ा है।

जांच के तरीके पर तत्काल रोक लगाने का आदेश

जांच के तरीके पर तत्काल रोक लगाने का आदेश

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बलात्कार मामले की जांच के दौरान ‘टू-फिंगर टेस्ट’ कराये जाने को अवैज्ञानिक, पितृसत्तात्मक, लैंगिक भेदभावपूर्ण और पीड़िता को दोबारा आघात पहुंचाने वाला करार देते हुए जांच के तरीके पर तत्काल रोक लगाने का सोमवार को आदेश दिया। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने ‘टू-फिंगर टेस्ट’ पर तत्काल रोक लगाने का केंद्र सरकार को आदेश देते हुए कहा कि इस प्रक्रिया से जांच करने वाले को दोषी ठहराया जाएगा। शीर्ष अदालत ने केंद्र सरकार को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि बलात्कार पीड़िताओं का ‘टू-फिंगर टेस्ट’ नहीं किया जाए। इसके साथ ही सभी राज्यों के पुलिस प्रमुखों को अपने आदेश की प्रति भेजने का भी अदालत ने निर्देश दिया।

शीर्ष न्यायालय ने तेलंगाना हाई कोर्ट के एक फैसले को पलटते हुए यह आदेश दिया। तेलंगाना की एक अदालत ने बलात्कार के दोषियों को आजीवन कारावास की सजा दी थी, लेकिन राज्य के उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के फैसले के खिलाफ की गयी अपील पर सुनवाई के बाद दोषियों को रिहा करने का आदेश दिया था। शीर्ष अदालत ने सोमवार को तेलंगाना उच्च न्यायालय के उस फैसले को पलटते हुए निचली अदालत द्वारा दोषियों को आजीवन कारावास की सजा को कानून सम्मत करार दिया।

शीर्ष अदालत ने इस मामले की अपील पर सुनवाई करते हुए कहा कि ‘टू फिंगर टेस्ट’ का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। जांच का यह चलन गलत धारणा पर आधारित है, जो पीड़िता को दोबारा प्रताड़ित करता है। शीर्ष अदालत इस प्रकार के जांच का तरीका अपनाने को बार-बार हतोत्साहित करती रही है। सर्वोच्च अदालत के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि यह खेदजनक है कि आज भी ‘टू फिंगर टेस्ट’ का चलन बना हुआ है। पीठ ने यह भी कहा कि इस अदालत ने बलात्कार और यौन उत्पीड़न के मामलों में ‘टू-फिंगर टेस्ट’ प्रक्रिया की बार-बार निंदा करते हुए इसे हतोत्साहित किया है।

शीर्ष अदालत ने आदेश देते हुए कहा,तथाकथित परीक्षण का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। यह महिलाओं को फिर से पीड़ित और पुन: पीड़ित करता है। ‘टू फिंगर टेस्ट’ नहीं की जाना चाहिए। यह एक गलत धारणा पर आधारित है कि एक यौन सक्रिय महिला का बलात्कार नहीं किया जा सकता है। सच्चाई से आगे कुछ भी नहीं हो सकता है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन




प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-386, (वर्ष-05)

2. मंगलवार, नवंबर 1, 2022

3. शक-1944, कार्तिक, शुक्ल-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:25, सूर्यास्त: 05:44। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम-34+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...