मंगलवार, 9 जुलाई 2024

टीम 'इंडिया' के नए हेड कोच बनें गौतम, ऐलान

टीम 'इंडिया' के नए हेड कोच बनें गौतम, ऐलान 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। टीम इंडिया को नया हेड कोच मिल गया है और तमाम अटकलों को सही साबित करते हुए बीसीसीआई ने पूर्व स्टार ओपनर गौतम गंभीर को टीम इंडिया की जिम्मेदारी दी है। बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने मंगलवार 9 जुलाई को गंभीर के नाम का ऐलान करते हुए टीम इंडिया में उनका स्वागत किया।
पिछले महीने तक ही गंभीर कोलकाता नाइट राइडर्स के मेंटॉर थे, जहां उनके नेतृत्व में केकेआर ने 10 साल के लंबे इंतजार के बाद आईपीएल 2024 का खिताब जीता था।
गौतम गंभीर कोच के रूप में राहुल द्रविड़ की जगह लेंगे, जिन्होंने टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में टीम इंडिया की जीत के साथ ही अपना सफर खत्म किया था। गंभीर के कोच बनने की उम्मीद पिछले काफी वक्त से जताई जा रही थी। उनके मेंटॉर रहते हुए कोलकाता के आईपीएल चैंपियन बनने के बाद से ही बीसीसीआई उनके संपर्क में थी, जिसके बाद गंभीर ने औपचारिक तौर पर आवेदन किया था और फिर पिछले महीने क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी को इंटरव्यू भी दिया था‌।

भारतीय क्रिकेट के लिए गंभीर आदर्श शख्स

जय शाह ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मे एक्स पर एक पोस्ट में गंभीर के नाम का ऐलान किया और कहा कि मॉडर्न क्रिकेट में तेजी से काफी बदलाव हो रहे हैं और गंभीर ने इन बदलावों को करीब से देखा है। अलग-अलग रोल में गंभीर की मेहनत और सफलता की तारीफ करते हुए शाह ने भरोसा जताया कि भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए गंभीर ही सबसे आदर्श शख्सियत हैं।
टीम इंडिया के लिए गौतम गंभीर के स्पष्ट विजन और लंबे अनुभव को अहम बताते हुए शाह ने उन्हें दुनिया की सबसे पॉपुलर क्रिकेट टीम के कोच के लिए सही विकल्प बताया और बीसीसीआई की ओर से उन्हें पूरे सहयोग का भरोसा भी दिलाया।

कब तक रहेंगे हेड कोच ?

राहुल द्रविड़ नवंबर 2021 में टीम इंडिया के कोच बने थे और उन्हें 2 साल का कार्यकाल दिया गया था। द्रविड़ का वक्त वनडे वर्ल्ड कप 2023 के फाइनल के साथ ही खत्म हो गया था। लेकिन इसके बावजूद बीसीसीआई ने उन्हें टी-20 वर्ल्ड कप तक एक्सटेंशन दिया था। गंभीर को हालांकि शुरू से ही लंबा कार्यकाल मिलेगा। बीसीसीआई ने मई में जब नए हेड कोच के लिए विज्ञापन जारी किया था, उस वक्त ही साफ कर दिया था कि नए कोच का कार्यकाल 31 दिसंबर 2027 तक यानी साढ़े 3 साल का रहेगा।

मॉनसून: डाइट में शामिल करें काली मिर्च, जानिए

मॉनसून: डाइट में शामिल करें काली मिर्च, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय 
काली मिर्च में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल, एंटी-फ्लैटुलेंस और एंटी-माइक्रोबियल गुणों का खजाना होता है। दुनियाभर में किंग ऑफ स्पाइस के नाम से मशहूर इस मसाले में पोषक तत्वों का भंडार पाया जाता है।
इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे, कि मानसून में पाचन तंत्र और इम्यूनिटी को मजबूत बनाने के लिहाज से डाइट में इसे जगह देना कितना जरूरी है और इससे आपको क्या-क्या फायदे मिल सकते हैं ?

डाइजेशन के लिए लाभकारी 

बदलते मौसम में पाचन तंत्र को कई तरह की परेशानियों से जूझना पड़ता है। ऐसे में, काली मिर्च में पाया जाने वाला पाइपरिन नामक तत्व पाचन तंत्र से जुड़े एंजाइम को बूस्ट करने में मदद करता है और इससे डाइजेशन काफी इम्प्रूव हो जाता है।

स्ट्रांग इम्युनिटी 

मानसून के सीजन में अक्सर लोगों को कमजोर इम्युनिटी की समस्या रहती है। ऐसे में, अगर आप भी थकान और कमजोरी का कोई सस्ता और टिकाऊ उपाय खोज रहे हैं, तो काली मिर्च इस मामले में काफी मददगार हो सकती है। इसके सेवन से आप कई तरह के संक्रमण से बच सकते हैं।

वेट लॉस में फायदेमंद

मानसून के मौसम में अक्सर खानपान बिगड़ जाता है, ऐसे में वेट लॉस भी मुश्किल हो जाता है। बता दें, वजन घटाने के लिहाज से भी काली मिर्च एक अच्छा ऑप्शन साबित होती है। इसमें मौजूद पाइपरिन और एंटी ओबेसिटी गुण वजन घटाने में काफी मदद करते हैं, जिससे आपको मोटापे की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

जोड़ों के दर्द से दिलाएं राहत

मानसून के मौसम में अक्सर जोड़ों का दर्द भी बढ़ जाता है। ऐसे में अगर आप काली मिर्च को अपनी डाइट में शामिल करते हैं, तो इससे सूजन और दर्द से भी राहत मिलती है। बता दें, कि ऐसा काली मिर्च में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी अर्थराइटिस गुणों के कारण होता है।

'बैंकर्स उन्मुखीकरण' कार्यशाला का आयोजन

'बैंकर्स उन्मुखीकरण' कार्यशाला का आयोजन

कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी डॉ. रवि किशोर त्रिवेदी की अध्यक्षता में उदयन सभागार में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तत्वाधान में एक दिवसीय 'बैंकर्स उन्मुखीकरण' कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यशाला में मुख्य विकास अधिकारी ने उपस्थित बैंकर्स से कहा कि महिलाओं को सशक्त व स्वावलंबी बनाने के उद्देश्य से महिला स्वयं सहायता समूहों का संचालन कराया जा रहा है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित स्वयं सहायता समूह को सशक्त बनाने में बैंकर्स अपनी महती भूमिका अदा करें। समूह गठन के बाद उनके खाते खोलने, रिवाल्विंग फंड, सीसीएल से उन्हें लाभान्वित कराया जाएं। उन्होंने कहा कि एनआरएलएम योजना के अन्तर्गत ग्राम के गरीब परिवार की महिलाओं को समूह से जोड़कर उनको आजीविका के क्षेत्र में कार्य कराकर उनकी आजीविका संवर्धन कराएं। उन्होंने कहा कि समूह एसएचजी लोन लेने तक सीमित न रहकर,उससे पैसा कमाते हुए आत्मनिर्भर बनें। बैंकर्स एसएचजी के लोनदाता के साथ मार्गदर्शक की भूमिका अदा करें, स्वयं सहायता समूहों के प्रति सकारात्मक रुख अपनाएं, उन्हें प्राथमिकता के आधार पर लोन दें। लोगों द्वारा की गई छोटी-छोटी मदद बड़े बदलाव का वाहक बनती हैं। 
मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि बैंक सखी एवं शाखा प्रबंधक अपने कार्यो में सुधार लाएं, जिससे शाखाओं पर दबाव कम हो और बैंक सखियों के आजीविका का एक सशक्त माध्यम सिद्ध हो सकें। उन्होंने कहा, कि बीसी सखियों द्वारा वित्तीय लेनदेन से बैंक शाखाओं पर कार्य का दबाव कम हुआ है। इनके व्यवसाय को शाखाओं द्वारा बूस्ट देने की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त बैंक क्रेडिट लिंकेज,जो ग्रामीण गरीब परिवारो के आजीविका का एक सशक्त माध्यम है। सीएम डैशबोर्ड पर भी सम्मिलित हैं। इसमें विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।
कार्यशाला में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान, हैदराबाद श्री शुभंकर झा व एम0पी0 सिंह द्वारा बैंकों को एनआरएलएम के विभिन्न चरणों एवं सीसीएल के महत्वपूर्ण बिन्दुओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। 
इस अवसर पर उपायुक्त एनआरएलएम सुखराज बंधु, समस्त ग्रामीण शाखाओं के प्रबंधक, प्रतिनिधि, बैंक सखी, समस्त ब्लॉक मिशन प्रबन्धक एवं जिला मिशन प्रबन्धक आदि उपस्थित रहें।

आपस में टकराई दो बाइक, 4 लोगों की मौत

आपस में टकराई दो बाइक, 4 लोगों की मौत 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। तेज रफ्तार से दौड़ रही दो बाइक आपस में जब टकराई, तो इस दुर्घटना में चार लोगों की दुखद मौत हो गई। गौरतलब है, कि यूपी के महोबा जिले के थाना श्रीनगर इलाके के गांव ननौरा रोड पर दो बाईक में आपस में जबरदस्त तरीके से भिड़ गई। जिसमें ललतेश और राज की जलने के कारण मौत हो गई, तो चंद्रभान और सुनील ने गंभीर चोट आने के कारण इस एक्सीडेंट में दम तोड़ दिया। 
बताया जाता है, कि मरने वाला ललतेश मध्य प्रदेश का रहने वाला था तथा जिले के ग्राम मुरार में अपनी बहन के यहां आया हुआ था। मंगलवार शाम को वह अपने 7 साल के भांजे देवेंद्र, 10 साल के राज और 20 वर्षीय बहन केसर के साथ अपने मामा के यहां शादी में शामिल होने के लिए निकला था। दूसरी तरफ बाजा बजाने का काम करने वाले चंद्रभान और सुनील भी मोटरसाइकिल पर सवार होकर निकल रहे थे। इसी बीच दोनों की जबरदस्त भिड़ंत हो गई और इस एक्सीडेंट में चार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

रूस ने मोदी को 'सर्वोच्च नागरिक सम्मान' से नवाजा

रूस ने मोदी को 'सर्वोच्च नागरिक सम्मान' से नवाजा

अखिलेश पांडेय 
मॉस्को। दो दिवसीय रूस के दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रूस ने अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजा है। खुद राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने पीएम मोदी को सम्मानित किया। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन की रूस यात्रा पर गए हुए हैं। सबसे पहले रूस पहुंचने पर उन्हें गार्ड आफ ऑनर दिया गया था। उसके बाद भारतीय गीत पर थिरकते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत भी किया गया था। रूस दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रूस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान आर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द एपोस्टल से सम्मानित किया गया। 
सबसे बड़ी बात यह रही कि रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने प्रधानमंत्री को खुद सर्वोच्च नागरिक सम्मान आर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द एपोस्टल से नवाजा। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच द्विपक्षीय वार्ता भी हुई। बताया जाता है, कि इस वार्ता के दौरान दोनों नेताओं ने आतंकवाद, आपसी सहयोग और शांति बहाली को लेकर भी विचार-विमर्श किया।

जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक की: डीएम

जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक की: डीएम 

कौशाम्बी। जिलाधिकारी मधुसूदन हुल्गी द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी सभागार में सम्बन्धित अधिकारियों के साथ जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक की गई। 
बैठक में जिलाधिकारी ने कहा, कि सभी चिकित्सक समय से अस्पताल जाएं एवं अस्पताल में उपस्थित रहकर मरीजों को बेहतर चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराएं। पारदर्शी तरीके से कार्य करें। 
कार्ययोजना/रणनीति बनाकर शासन की योजनाओं/कार्यक्रमों का क्रियान्वयन कर जमीनी स्तर पर प्रगति लाएं। उन्होंने नियमित टीकाकरण की समीक्षा के दौरान सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों से कहा कि आशा एवं एएनएम के साथ नियमित रूप से बैठक कर टीकाकरण की प्रगति की समीक्षा की जाय तथा आशा एवं एएनएम के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाय कि वे अपने बच्चों को टीका अवश्य लगवाएं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों को चिन्हित कर टीकाकरण कराया जाएं। उन्होंने परिवार कल्याण कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान प्रभारी चिकित्साधिकारियों से कहा कि कार्ययोजना बनाकर लक्ष्य के सापेक्ष प्रगति सुनिश्चित किया जाएं। उन्होंने संस्थागत प्रसव की समीक्षा के दौरान अन्य सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों की अपेक्षा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र-कनैली, कड़ा एवं सरसवां में प्रगति कम पाये जाने पर नाराजगी प्रकट करते हुए सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारियों को आशाओं के साथ बैठक कर समीक्षा करते हुए प्रगति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान कहा कि प्रसूता को निर्धारित समयावधि 48 घण्टें तक अस्पताल में रोका जाएं। 
बैठक में बताया गया कि जननी सुरक्षा योजना के तहत अब तक 97 प्रतिशत लाभार्थियों का भुगतान किया जा चुका है, जिस पर जिलाधिकारी ने शेष लाभार्थियों का भी भुगतान शीघ्र कराने के निर्देश दियें। बैठक में बताया गया कि जननी सुरक्षा योजना के तहत आशाओं को 97.45 प्रतिशत भुगतान किया जा चुका हैं, जिस पर जिलाधिकारी ने शेष आशाओं का भी भुगतान सुनिश्चित कराने के निर्देश दियें। बैठक में बताया गया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत माह-जून 2024 तक 691084 लक्ष्य के सापेक्ष अब तक कुल 524051 गोल्डेन कार्ड बनाएं जा चुकें हैं। बैठक में उप मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. हिन्द प्रकाश मणि ने बताया कि पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत जनपद में 45 अल्ट्रासाउण्ड सेन्टर पंजीकृत हैं तथा अल्ट्रासाउण्ड सेन्टरों की नियमित निरीक्षण कर आवश्यक कार्यवाही की जाती है। बैठक में बताया गया कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत जिला चिकित्सालय तथा सामुदायिक/प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर प्रत्येक माह की 01, 09, 16 एवं 24 तारीख को हाईरिस्क चिहिन्त गर्भवती महिलाओं को घर से अस्पताल तक लाने की परिवहन सुविधा उपलब्ध करायी जाती है। आवश्यक जॉचे, हीमोग्लोबिन अति न्यून होने पर खून चढ़ाने की सुविधा, उपचार के बाद घर तक जाने के लिए परिवहन की सुविधा एवं अति जोखिम ग्रस्त महिलाओं के लिए एनएनएम व आशा द्वारा विशेष फॉलो-अप किया जाता है। उन्होंने बताया कि माह जून में कुल 1943 गर्भवती महिलाओं की जॉच की गई, जिसमें 237 अति जोखिमग्रस्त गर्भवती महिलाओं का भी उपचार किया गया।
जिलाधिकारी ने राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, राष्ट्रीय अन्धता निवारण कार्यक्रम, पुनरीक्षित क्षय रोग नियन्त्रण कार्यक्रम, राष्ट्रीय कुष्ठ रोग कार्यक्रम आदि की भी विस्तृत समीक्षा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दियें।इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डॉ. रवि किशोर त्रिवेदी, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सुष्पेन्द्र कुमार एवं सीएमएस सुनील कुमार शुक्ला सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहें।
सुशील केसरवानी

अखिलेश ने बाढ़ की विकरालता पर चिंता व्यक्त की

अखिलेश ने बाढ़ की विकरालता पर चिंता व्यक्त की

संदीप मिश्र 
लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश में बाढ़ की विकरालता पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि बाढ़ की विभीषिका से लाखों लोग प्रभावित है। लेकिन, भाजपा सरकार या तो बेख़बर है या संवेदनशून्य है। 
उन्होने कहा कि राज्य के सैकड़ों गांव बाढ़ की चपेट में है। फसलें नष्ट हो गई। आम जनता और पशुओं का जीवन संकट में है। मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। किसानों की स्थिति बहुत ही खराब है। बाढ़ पीड़ितों को कोई मदद नहीं मिल रही है। यह सरकार किसी भी पीड़ित की सुध क्यों नहीं लेती है। यह आशंका अब सही साबित होती दिखती है कि 2024 के लोकसभा चुनाव में हुई करारी हार से भाजपा इतना परेशान है कि वह मतदाताओं से बदला लेने पर उतारू है। यादव ने कहा कि बरेली, गोण्डा, गोरखपुर, श्रावस्ती, बहराइच, संतकबीर नगर, पीलीभीत, बस्ती, सिद्धार्थनगर, कुशीनगर, देवरिया आदि दो दर्जन से ज्यादा जनपदों की हालत बहुत खराब है। लाखों लोगों का जनजीवन पूरी तरह बाढ़ से अस्त-व्यस्त है। पीलीभीत में नदी का जलस्तर बढ़ने पर रेलवे लाइन की पुलिया ही बह गई। ताजनगरी आगरा में जगह-जगह सड़के धंस गई। स्कूल-अस्पताल प्रभावित हैं। भाजपा सरकार ने बाढ़ को लेकर पहले से कोई तैयारी नहीं की। 
उन्होने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार की लापरवाही, निष्क्रियता और भ्रष्टाचार से कई शहरी इलाके भी जलभराव से प्रभावित है। जलभराव से लोगों को भारी परेशानी हो रही है। भाजपा की ट्रिपल इंजन की सरकार प्रभावी कार्यवाही करने में पूरी तरह फेल हो गई है। लखनऊ, वाराणसी, बरेली, मेरठ समेत अन्य कई जिलों के कई इलाकों में सड़कों, लोेगों के घरों में पानी घुस गया है। भाजपा सरकार ने स्मार्टसिटी के नाम पर जनता को ठगने का काम किया है। स्मार्टसिटी के नाम पर सैकड़ों करोड़ की लूट हो गई। लेकिन, जल निकासी और नालो की सफाई नहीं हुई। भाजपा सरकार में बजट की जमकर लूट हुई है। करोड़ों रूपये खर्चकर भव्य अयोध्या बनाने का दावा किया गया था परन्तु पहली बरसात में ही रामपथ में सड़क धंस गई, मंदिर से पानी चूने लगा, भाजपा की झूठ और लूट की राजनीति का यह एक उदाहरण है।

डीएम ने तहसील बुढ़ाना का निरीक्षण किया

डीएम ने तहसील बुढ़ाना का निरीक्षण किया 

भानु प्रताप उपाध्याय 
मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा जनपद की तहसील बुढ़ाना का औचक रूप से निरीक्षण किया गया। तहसील के विभिन्न पटलो का निरीक्षण कर व्यवस्थाओ का जायजा लिया। गौरतलब है कि शासन के दिशा निर्देशन में आज दिनांक 09-07-2024 को जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा जनपद की तहसील बुढाना का औचक रूप से निरीक्षण किया गया। जिसमें जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा तहसील के समस्त कार्यालयो एवं पटलो का निरीक्षण कर कार्यालयो में पत्रावलियो के रख–रखाव की व्यवस्थाओ का बारीकी से निरीक्षण किया गया तथा सम्बन्धित को आवश्यक निर्देश दिए गए। 
जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा उप जिलाधिकारी बुढाना व तहसीलदार बुढाना को निर्देशित करते हुए कहा गया कि आमजन मानस द्वारा दर्ज करायी जाने वाली शिकायतो का प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्ता पूर्ण व समयबद्धता पूर्वक निस्तारण कराने के साथ ही तहसील न्यायालय में दर्ज वादों का भी ससमय निस्तारण किया जाए। इसी क्रम में जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा उप जिलाधिकारी न्यायालय व तहसीलदार न्यायालय कक्ष का निरीक्षण कर न्यायालय कि पंजिका में दर्ज वादो की स्थिति का जायजा लेते हुए न्यायालय में दर्ज वादो को ससमय निस्तारण कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया।  जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा 5 साल से लंबित वादों की स्थिति व उनके निस्तारण के संबंध में जानकारी लेते हुए विभागीय कार्यवाही की स्थिति का भी जायजा लिया गया।इसी क्रम में जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा रजिस्टार कानूनगो कार्यालय की विभागीय कार्यवाही को देखते हुए रियल टाइम खतौनी का निरीक्षण कर संबंधित को नियमानुसार खतौनी तैयार करने के संबंध में निर्देशित किया गया। इसके पश्चात जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा सार्वजनिक प्रयोजन की भूमियों तथा तालाब, पोखर, चक रोड, शमशान आदि पर से अवैध कब्जे को हटाने की स्थिति का जायजा लेते हुए विभिन्न परियोजना हेतु भूमि आवंटन व आवंटियों के कब्जा दखल व आवंटन रजिस्टर के रखरखाव का अवलोकन किया गया। जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा नजारत कार्यालय की समस्त पत्रावलियों का अवलोकन करते हुए राजस्व वादों के इश्तेहारो के तामीला की स्थिति व आडिट आपत्तियों के निस्तारण की प्रक्रिया को जाना तथा संबंधित को आवश्यक रूप से निर्देशित किया गया। संपूर्ण कार्यालय का निरीक्षण करने के पश्चात जिलाधिकारी अरविन्द मल्लप्पा बंगारी द्वारा तहसील परिसर में आम जनमानस हेतु बैठने, पेयजल व साफ सफाई सहित परिसर की अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए तहसील बुढाना से संबंधित समस्त व्यवस्थाओं को सुचारू रूप से सुदृढ़ करने हेतु संबंधित को निर्देशित किया गया।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-263, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. बुधवार, जुलाई 10, 2024

3. शक-1945, आषाढ़, शुक्ल-पक्ष, तिथि-चतुर्थी, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 06:03, सूर्यास्त: 06:43।

5. न्‍यूनतम तापमान- 36 डी.सै., अधिकतम- 22+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...