रविवार, 15 सितंबर 2019

खेलकूद प्रतियोगिता से मिलेगी प्रेरणा

 खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया


मोहित श्रीवास्तव


गाजियाबाद,लोनी। विद्यार्थियों के शारीरिक विकास शिव खेलों के प्रति प्रेरित करने के उद्देश्य से प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता का आयोजन गढ़ी जस्सी स्थित मदर्स लैप कान्वेंट स्कूल में किया गया।


आयोजक भाजपा नेता शनि कुमार शर्मा से प्राप्त जानकारी के अनुसार विभिन्न विद्यालयों से छात्राओं के द्वारा बैडमिंटन, रस्सी कूद, दौड़ आदि खेलकूद की प्रतियोगिता में भाग लिया गया। बैडमिंटन में दीपिका, रस्सी कूद में कनिका और दौड़ में पूजा ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। छात्राओ का उत्साह बढ़ाने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर नेहरू महिला मंडल अध्यक्ष सुषमा त्यागी, प्रधानाचार्य कुमारी मोनिका कौशिक, प्रबंधक श्रीमती गीता, सरोज आदि मौजूद रहे।


वंचित-पिछड़ों को मिले योजना का लाभ

गाजियाबाद,मोदीनगर।आज सेवा सप्ताह के अंतर्गत मोदी नगर स्थित जीवन हॉस्पिटल में फल वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। उसके पश्चात मुकेश गुप्ता के मोदी नगर स्थित निवास पर धारा 370 को हटाने के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। इसमें मुख्य रूप से केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह, डॉ सत्यपाल सिंह सांसद बागपत के द्वारा  सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार के संबंध में बात करते हुए पात्र लोगों को योजनाओं का लाभ दिलाने का प्रयास करने के संदर्भ में सभी से अपील की। उन्होंने कहा कि सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से  देश की पिछड़ी और वंचित जनता को लाभ प्राप्त कराने के लिए,भाजपा के प्रत्येक कार्यकर्ता का दायित्व बन जाता है।  सभी को कर्तव्यनिष्ठा से अपना दायित्व निर्वाह करना चाहिए। यह पार्टी की सच्ची सेवा होगी। इस अवसर पर कैप्टन विकास गुप्ता दर्जाप्राप्त मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार, डॉ मंजू शीवाच विधायक मोदीनगर, सतेंद्र त्यागी वरिष्ठ भाजपा नेता, दिनेश सिंघल जिला महामंत्री, नितिन त्यागी जिला उपाध्यक्ष, भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ पारुल त्यागी,अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दीक्षा शर्मा व मनीषा शर्मा अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी त्यागी आदि उपस्थित रहे।


मुलायम से बंगले के बाद छटका ट्रस्ट

सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव को अपने बंगले के बाद अब लोहिया ट्रस्ट से भी हाथ धोना पड़ा है
लखनऊ । राज्य सम्पत्ति विभाग ने विक्रमादित्य मार्ग स्थित लोहिया ट्रस्ट का बंगला खाली करा लिया। मुलायम सिंह यादव ट्रस्ट के अध्यक्ष और शिवपाल सिंह यादव सचिव हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और कई शीर्ष समाजवादी नेता ट्रस्ट के सदस्य हैं। समाजवादी पार्टी के लोहिया ट्रस्ट के बंगले को खाली करवाया गया, राज्य संपत्ति विभाग ने सुप्रीमकोर्ट के आदेश पर की कार्रवाई। राज्य संपत्ति विभाग ने कार्रवाई करते हुए कड़ी सुरक्षा के बीच लोहिया ट्रस्ट को कब्जे में लिया, सुप्रीम कोर्ट ने प्रदेश के छह पूर्व मुख्यमंत्रियों से सरकारी बंगला खाली करवाने के दिये थे आदेश। माना जा रहा है ,अखिलेश के रामपुर जाने के एक्शन के रिएक्शन का होने का है अनुमान?                                    


रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


मुख्यमंत्री योगी ने पकड़ी माया की राह

चित्रकूट। भगवान राम की तपोभूपि चित्रकूट मंडल में दो दिवसीय दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने तेवर को दिखा ही दिया। विकास कार्य की समीक्षा के साथ ही अस्पताल का दौरा करने के दौरान नाराज दिख रहे सीएम योगी आदित्यनाथ ने सीएमएस व सीएमओ के बाद तीन एसडीएम को चित्रकूट से हटा दिया। इन सभी का दूसरे जिलों में तबादला कर दिया। इनके स्थान पर काम में तेज माने जाने वाले अधिकारियों को तैनाती प्रदान की गई है। स्वास्थ व्यवस्था का महकमा संभालने के लिये बांदा के दो चिकित्सकों को जिम्मेदारी दे उनपर भरोसा जताया गया है़ ।अपने इस तेज अन्दाज से योगी ने निश्चित तौर पर नौकरशाही को संदेश दे दिया है़ काम न करने वाले अधिकारी बख्शे नहीं जायेगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चित्रकूट के दौरे में पूर्व मुख्य मंत्री मायावती की कार्यशैली की याद ताजा कर दी कि वह अपने दौरों में नौकरशाही पर कैसे सख्ती करती थीं। चित्रकूट के अधिकारियों पर इसी तरह गाज गिरी है़ । करीब 20 घंटे के अपने दौरे में मुख्यमंत्री ने जहां पर कमी देखी, वहां के अधिकारियों का तबादला कर दिया । चित्रकूट में तैनात रहे तीन एसडीएम हटाए। सदर और मऊ तहसील के एसडीएम को हटाया। गाजियाबाद से राजबहादुर, हरदोई से राम प्रकाश तथा बाराबंकी से अभय पाण्डेय को चित्रकूट में तैनाती दी। सीएमएस व सीएमओ का भी गैर जनपद तबादला किया। मुख्यमंत्री ने जिला के अस्पतालों का निरीक्षण किया था। इसके बाद खामियां मिलने पर गाज मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) पर गिरी। धर्मनगरी से जाते ही सीएमएस और सीएमओ को हटा दिया। नये अधिकारियों को तैनाती दी। मुख्यमंत्री ने जिला अस्पताल निरीक्षण के दौरान ही सीएमओ व जिलाधिकारी से व्यवस्था बेहतर करने को कहा था। उनके यहां से जाते ही लखनऊ से दोनों के तबादले के फरमान आ गया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजेंद्र सिंह को संयुक्त निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कानपुर मंडल भेजा गया है। उनकी जगह यहां पर बांदा के वरिष्ठ परामर्शदाता जिला चिकित्सालय डॉ विनोद कुमार मुख्य चिकित्साधिकारी चित्रकूट की कुर्सी संभालेंगे। बांदा के वरिष्ठ बालरोग विशेषज्ञ डॉ आरके गुप्ता को मुख्य चिकित्सा अधीक्षक जिला अस्पताल कर्वी बनाया गया है। अभी तक यहां तैनात मौजूदा अधीक्षक डॉ एसएन मिश्रा को वरिष्ठ परामर्शदाता बांदा की जिम्मेदारी दी गई है। मुख्यमंत्री योगी के तेवर निश्चित तौर पर अब बदले नजर आ रहे है़ तथा अपनी कार्यप्रणाली में सख्ती कर उन्होंने संदेश दे दिया है़ कि उन्हीं अधिकारियों कि कद्र होगी जो कार्य अच्छा करेगें ।


पंचायत ने किया अपमानित,लगाई फांसी

पंचायत बैठक कर पिटाई और 50 हजार जुर्माना के बाद अपमानित युवक द्वारा खुदकुशी मामले में 1 दर्जन नामजद आरोपी बनाने के बाद अन्य नाम हटाने पुलिस की निकली बम्फर लाटरी


कोरबा,पाली। जिले के पाली थानांतर्गत ग्राम छिंदपानी निवासी युवक बलराम कश्यप को पिछले दिनों एक महिला से छेड़छाड़ के आरोप में भरी पंचायत लोगों ने बेरहमी से पीटा था और सरपँच सचिव की उपस्थिति में पंचायत ने 50 हजार दंड भी लगाया था।जिसके बाद सार्वजनिक रूप से अपमानित युवक ने अपने घर पर फांसी लगा ली।घटना पश्चात आरोपियों द्वारा अपनी बचाव में मृतक के पीड़ित परिवार पर दबाव डालकर अपनी बेगुनाही का इकरारनामा लिखवा लिया था।और पुलिस को बिना सुचना दिए गुपचुप तरीके से जंगल में लाश का दाह संस्कार किया जा रहा था।मुखबिर के माध्यम से घटना की सुचना पाली पुलिस को मिलने उपरान्त पुलिस मौके पर पहुँची और जलती चीता बुझाकर लगभग 90 फीसदी जल चुके लाश अपने कब्जे में ले लिया।जिसे फारेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया।मामले में मृतक के परिजन से कलमबद्ध किये गए बयान के बाद एक दर्जन ग्रामीणों के खिलाफ नामजद अपराध दर्ज किया गया।जिसमें आधा दर्जन ग्रामीण क्रमशः-कुमारीबाई,राधाबाई,रमेश अगरिया,भारतसिंह,सुरेश अगरिया व पंचायत सचिव राजकुमार कश्यप को गिरफ्तार कर गत 13 सितंबर शुक्रवार को पाली स्थित जेएमएफसी न्यायालय में पेश किया गया जहां से इन्हें जेल भेज दिया गया जबकि आधा दर्जन आरोपी अभी भी फरार है।जिनकी तलाश जारी है।दूसरी और इस घटना की जांच में प्रारंभिक तौर पर ही 40 से अधिक लोगों की संलिप्ता व नाम पुलिस के सामने आया था।लेकिन पुलिस ने महज 12 लोगों को ही आरोपी बनाया।मामले में सूत्र बताते हैं कि उक्त वारदात में संलिप्त अन्य लोगों का नाम हटाने के लिए पुलिस जमकर चंदा बटोरने में लगी हुई हैं जहां ग्रामीण अपना नाम हटवाने के लिए हर संभव प्रयास में लगे हुए हैं और पुलिस के अधिकारी अपने इर्द-गिर्द दलालनुमा घूमने वाले सख्शों के माध्यम से खूब चढ़ावा भी ले रही हैं।जिसमे दो सितारा वाले एक साहब की भूमिका अहम बताई जा रही है।ऐसे में चढ़ावा लिए बिना चले ना काम,पाप मिटावन सीता राम की तर्ज पर लगता है मानो युवक की खुदकुशी के बाद पुलिस की इस मामले में बम्फर लाटरी निकल पड़ी है।


संधू और काला भी कांग्रेस में होंगे शामिल

राणा ओबराय
कांग्रेस का बढ़ता जनाधार,पूर्व मंत्री जसविंद्र संधू के बेटे गगन संधू और शाहबाद से रामकरण काला भी कांग्रेस में होंगे शामिल!
चंडीगढ़। हरियाणा में राजनीतिक हालात बदलते हुए नजर आ रहे हैं। पूर्व सीएम हुड्डा और प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा की जोड़ी ने भाजपा के पसीने लाने शुरू कर दिए हैं। हरियाणा में कांग्रेस को कमजोर बताने वाली भाजपा अब 75 पार का नारा मुश्किल से पार कर सकेगी। क्योंकि आज हरियाणा से बहुत से दिग्गज कांग्रेस का दामन थामेंगे!
मिली जानकारी के अनुसार पेहवा से पूर्व मंत्री जसविंद्र संधू के पुत्र गगन संधू और शाहबाद से मोजूदा विधायक से मात्र 600 वोटों के कम अंतर से हारने वाले रामकरण काला भी कांग्रेस में जाएंगे! इस तरह आज कुरुक्षेत्र से पूर्व मंत्री अशोक अरोड़ा, कलायत से विधायक जय प्रकाश जेपी, शाहबाद से रामकरण काला व पूर्व मंत्री जसविंद्र संधू के पुत्र गगन संधू कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं?


सोना-चांदी में दर्ज की गई गिरावट

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में दोनों कीमती धातुओं में गिरावट और घरेलू स्तर पर डॉलर की तुलना में भारतीय मुद्रा में रही मजबूती के कारण बीते सप्ताह दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 1200 रुपये टूटकर 38370 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा और चांदी 2050 रुपये फीकी पड़कर 46450 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गयी।
लंदन एवं न्यूयॉर्क से मिली जानकारी के अनुसार, विदेशों में सोना हाजिर समीक्षाधीन अवधि में करीब 19 डॉलर की गिरावट के साथ 1,488.45 डॉलर प्रति औंस पर रहा। दिसंबर का अमेरिकी सोना वायदा भी करीब 20 डॉलर टूटकर सप्ताहांत पर 1,486.90 डॉलर प्रति औंस बोला गया।
बाजार विश्लेषकों ने बताया कि अमेरिका तथा चीन के बीच व्यापार युद्ध को लेकर बातचीत पर दोनों पक्षों के सहमत होने से निवेशक पूँजीबाजार की ओर रुख कर रहे हैं। इससे सोने की माँग घटी है और कीमतों में गिरावट देखी गयी। इसके साथ ही घरेलू स्तर पर पिछले सात दिनों में डॉलर की तुलना में रुपया 147 पैसे की मजबूती ले चुका जिससे कीमती धातुओं पर दबाव बना है। आलोच्य सप्ताह के दौरान चाँदी हाजिर 0.65 डॉलर गिरकर 17.42 डॉलर प्रति औंस पर आ गयी।


आईसीआईसीआई ने ग्राहकों को दिया झटका

नई दिल्ली। एक तरफ जहां केंद्र सरकार बैंकिंग नियमों को ग्राहकों की सुविधानुसार आसान बना रही है। वहीं निजी क्षेत्र के बड़े बैंक आईसीआईसीआई ने अपने ग्राहकों को जोर का झटका दिया है। बैंक के जीरो बैलेंस खाताधारकों को 16 अक्टूबर से शाखा से हर कैश विदड्रॉल के लिए 100 रुपये से 125 रुपये का शुल्क देना होगा। अगर ग्राहक बैंक की शाखा में मशीन के जरिये पैसे जमा करते हैं तो इसके लिए भी उन्हें शुल्क अदा करना होगा। आईसीआईसीआई बैंक ने शुक्रवार रात अपने अकाउंट होल्डर्स को जारी एक नोटिस में कहा, हम अपने ग्राहकों को बैंकिंग ट्रांजैक्शंस डिजिटल मोड में करने के लिए उत्साहित करते हैं, जिससे डिजिटल इंडिया इनिशिएटिव को बढ़ावा मिले। 
बता दें कि बैंक ने मोबाइल बैंकिंग या इंटरनेट बैंकिंग के जरिये होने वाले एनईएफटी, आरटीजीएस तथा यूपीआई ट्रांजैक्शंस पर लगने वाले तमाम तरह के शुल्क को खत्म कर दिया है।
आईसीआईसीआई बैंक की शाखाओं से 10,000 रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक के एनईएफटी ट्रांजैक्शन पर 2.25 रुपये से लेकर 24.75 रुपये (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना पड़ता है। वहीं, शाखाओं से दो लाख रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक किए जाने वाले आरटीजीएस ट्रांजैक्शन के लिए 20 रुपये से लेकर 45 रुपये (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना पड़ता है। 
अकाउंट बंद करने की सलाह
बैंक ने अपने जीरो बैलेंस अकाउंट होल्डर्स से अनुरोध किया है कि वे अपने अकाउंट को या तो किसी अन्य बेसिक सेविंग्स अकाउंट में बदल लें या अकाउंट बंद कर दें।


सोशल मीडिया पर नहीं डालूंगा तस्वीर

धर्मशाला। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने महेंद्र सिंह धोनी को लेकर हाल ही में डाले गये अपने पोस्ट पर सफाई देते हुये कहा है कि वह आगे से सोशल मीडिया पर कोई भी तस्वीर डालने और लिखने से पहले कई बार सोचेंगे। विराट ने ट्विटर पर धोनी को लेकर गुरूवार को एक तस्वीर डाली थी जो विश्वकप-2016 के आस्ट्रेलिया के खिलाफ एक लीग मैच से जुड़ी थी। इस मैच में दोनों खिलाडिय़ों के बीच साझेदारी की बदौलत भारत ने सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। विराट ने धोनी के साथ अपनी तस्वीर डालने के साथ ही इस मैच की रात को बेहद खास बताया था। 
भारतीय कप्तान के इस ट्वीट के बाद चौतरफा यह चर्चा गरमा गयी थी कि धोनी संन्यास लेने जा रहे हैं। यहां तक कि सोशल मीडिया पर यह भी कहा जाने लगा कि धोनी मुंबई में सात बजे संवाददाता सम्मेलन में अपने संन्यास की घोषणा करेंगे। मामला गरमाता देख भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के चयनकर्ता प्रमुख एमएसके प्रसाद ने इसे खारिज किया। वहीं थोड़े समय बाद यह स्पष्ट हुआ कि धोनी इस दौरान अपने परिवार के साथ अमेरिका में हैं।


विराट ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ रविवार को धर्मशाला में होने वाले तीन मैचों की ट्वंटी 20 सीरीज़ के पहले मैच की पूर्व संध्या पर शनिवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में इस पोस्ट के सवाल पर हंसते हुये कहा, मैंने जब यह पोस्ट डाला तो मेरे ज़हन में कुछ भी नहीं था। मैं तो घर पर बैठा था और मैंने ऐसे ही यह तस्वीर पोस्ट कर दी।
कप्तान ने कहा, मेरे लिये हमेशा से ही विश्वकप का यह मैच खास रहा था और मैं इसके बारे में बताना चाहता था। ऐसे में मैंने यह पोस्ट डाला। लेकिन इस बात के इतनी बड़ी खबर बनने से मुझे सबक मिला है। मैं अब भविष्य में कोई पोस्ट डालने से पहले सोचूंगा। मैं जैसा सोचता हूं दुनिया वैसा नहीं सोचती है।


पहलवानों ने शुरुआत में ही किया निराश

रोमन। भारत के लिए विश्व चैम्पियनशिप में शुरूआती दिन निराशाजनक रहा, ग्रीको रोमन में भाग ले रहे सभी चारों पहलवान एक भी राउंड जीते बिना ही बाहर हो गए। गैर-ओलंपिक वर्ग में भाग ले रहे एशियाई चैम्पियनशिप के रजत पदकधारी हरप्रीत सिंह (82 किग्रा), सागर (63 किग्रा) और मंजीत (55 किग्रा) अपने मुकाबलों के दौरान एक भी अंक नहीं जुटा सके। केवल योगेश (72 किग्रा) ने ही अमेरिकी प्रतिद्वंद्वी रेमंड एंथोनी बंकर तृतीय को चुनौती दी लेकिन वह 5-6 से हार गए। अगर भारतीय पहलवानों के खिलाफ मुकाबले जीतने वाला पहलवान खिताबी भिड़ंत तक पहुंचता है, तो उन्हें कांस्य पदक के लिए रेपेशाज दौर में खेलने का मौका मिल सकता है। हरप्रीत सिंह को 82 किग्रा में चेक गणराज्य के पेट्र नोवाक ने 5-0 से पराजित किया।


वहीं मंजीत का प्री क्वार्टरफाइनल में प्रतिद्वंद्वी काफी मजबूत था और उन्होंने काफी प्रयास किया, लेकिन तकनीकी श्रेष्ठता के कारण हार गए। अजरबेजान के मौजूदा विश्व चैम्पियन एलदानीज अजीली ने आसानी से उन्हें पस्त कर दिया। सागर 63 किग्रा में केवल दो मिनट के लिए ही मैट पर टिक सके और अपने क्वालीफिकेशन दौर में स्थानी पहलवान अलमात केबिसपायेव से तकनीकी श्रेष्ठता से हार गए।


टीम फैसले पर बोर्ड का रुख कठोर

कोलंबो। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड द्वार पाक जा कर सीरीज खेलने का फैसला उस पर भारी पड़ रह रहा है। बोर्ड के फैसला के बावजूद टीम के दस खिलाड़डियों ने वहां जाने से इन्कार कर दिया था। इस पर बोर्ड ने भी कठोर रूख अपनाया था।


इन सबको नजरअंदाज करते हुए श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने अपनी निर्बल टीम की घोषणा करके अपनी मंशा जाहिर कर दी। अब श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड को चेतावनी मिली है कि पाक दौरे पर जाने वाली इस टीम पर भी आतंकवादी हमला होने कि सम्भावना है व अब इसके बाद बोर्ड इस दौर को रद कर सकता है। बोर्ड ने बोला कि श्रीलंका के पीएम ऑफिस ने हमें सलाह दी है कि वह इस दौरे पर फिर से विचार करे क्योंकि उन्हें जानकारी मिली है कि टीम पर हमला होने कि सम्भावना है। खिलाडि़यों की सुरक्षा को देखते हुए इस दौरे पर विचार करना होगा। इससे पहले श्रीलंका ने पाक के उन दावों को भी खारिज कर दिया था जिसमें बोला था कि हिंदुस्तान के कारण ही श्रीलंकाई खिलाडि़यों ने पाक दौरे पर जाने से मना कर दिया। श्रीलंका के खेल मंत्री हरिन फर्नाडो ने बोला कि 10 खिलाडि़यों ने 2009 की घटना के आधार पर पाक दौरा करने से मना कर दिया। इस मामले पर राजनीती भी प्रारम्भ हो गई है। पाक के मंत्री फवाद हुसैन चौधरी के आरोप लगाया कि श्रीलंका के खिलाडि़यों ने हिंदुस्तान के कारण ऐसा किया है। बता दें कि 2009 मेंश्रीलंका टीम पर पाक में आतंकी हमला हुआ था। जिसमें कई खिलाड़ी घायल हो गए थे।


अर्नाल्ड का भारतीय फैंस को तोहफा

मशहूर हॉलीवुड एक्टर अर्नाल्ड श्वार्जेनेगर जल्द ही अपने भारतीय फैंस के लिए तोहफा लेकर आ रहे हैं। दरअसल वो अब फिल्मी पर्दे पर हिंदी, तमिल, तेलुगू और कन्नड़ बोलते नजर आएंगे। भारत में हॉलीवुड की डब फिल्मों की कामयाबी को देखते हुए अर्नाल्ड की अगली फिल्म भी पांच भारतीय भाषाओं में रिलीज होने जा रही है।


उनकी फिल्म टर्मिनेटर का ट्रेलर भी रिलीज हो चुका है. एक्टर अर्नाल्ड श्वार्जेनेगर ने फिल्म के ट्रेलर को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर भी शेयर किया है। साथ ही फिल्म से जुड़ी अन्य जानकारी भी वे सोशल मीडिया पर शेयर करते रहते हैं।बता दें टर्मिनेटर सीरीज की अब कुल पांच फिल्में रिलीज हो चुकी हैं। मशहूर निर्माता निर्देशक जेम्स कैमरॉन इसकी शुरूआत की, लेकिन दो फिल्मों के बाद वो इस फ्रेंचाइजी से अलग हो गए थे।अब इस सीरीज की जो फिल्म रिलीज होने जा रही है, यानि टर्मिनेटर- डार्क फेट, उसकी कहानी वहीं से शुरू होगी जहां इस सीरीज की पहली दो फिल्मों के बाद कहानी पहुंची थी।


आयुष्मान की ड्रीमगर्ल ने तोड़े कई रिकॉर्ड

मुंबई। आयुष्मान खुराना और नुसरत भरुचा स्टारर फिल्म ड्रीमगर्ल को सिनेमाघरों में धमाकेदार ओपनिंग मिली। ​फिल्म ने पहले दिन 10.5 करोड़ की कमाई की है। फिल्म ड्रीम गर्ल की ओपनिंग डे की कमाई ने कई बड़ी फिल्मों के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। यह फिल्म आयुष्मान के कॅरियर की सबसे बड़ी ओपनर फिल्म है। इस फिल्म से आयुष्मान ने अपनी ही फिल्मों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने सोशल मीडिया पर फिल्म ड्रीम गर्ल का ओपनिंग डे कलेक्शन शेयर किया है। साथ ही तरण आर्दश ने आयुष्मान की अन्य फिल्मों के पहले दिन का कलेक्शन शेयर किया और बताया कि ड्रीम गर्ल ने पहले 10.5 करोड़ की कमाई की जो आयुष्मान की अब तक फिल्मों में सबसे ज्यादा है।


ड्रीम गर्ल (2019)- 10.5 करोड़, बधाई हो (2018)- 7.35 करोड़, आर्टिकल 15 (2019)- 5.02 करोड़, शुभ मंगल सावधान (2017)- 2.71 करोड़, अंधाधुन (2018)- 2.70 करोड़, बरेली की बर्फी (2017)- 2.42 करोड़।


बता दें कि फिल्म ड्रीम गर्ल में आयुष्मान खुराना एक ऐसे लड़के का किरदार निभा रहे हैं, जो लड़कियों की आवाज में दूसरे पुरुषों से बात करता है। आयुष्मान पैसों की तंगी के चलते अपने टैलेंट का इस्तेमाल करता है और कॉल सेंटर में 'पूजा' बनकर काम करने लगता है। राज शांडिल्य के निर्देशन में बनीं यह फिल्म दर्शकों को बहुत पसंद आ रही है।


ट्रंप ने की ओसामा के बेटे की मौत की पुष्टि

पूर्व अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन के बेटे और अलकायदा के नए उत्तराधिकारी हमजा बिन लादेन की मौत हो गई है। उसकी मौत की पुष्टि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने की है।


यह खबर समाचार एजेंसी एएफपी ने दी है। हालांकि, ऐसा पहली बार नहीं है जब हमजा बिन लादेन की मौत की खबर सामने आई है। इससे पहले,मीडिया रिपोर्ट पिछले महीने भीदावा किया गया था कि अमेरिका ने खुफिया जानकारी प्राप्त की है कि ओसामा बिन लादेन का बेटा मर चुका है।
इसी साल मार्च महीने में अमेरिका ने हमजा बिन लादेन का पता बताने वाले को 10 लाख डॉलर पुरस्कार देने का ऐलान किया था।अमेरिका ने कहा कि हमजा अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए उस पर हमले की साजिश रच रहा है।इसी को देखते हुए इतने बड़े पुरस्कार का ऐलान किया गया।वहीं संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने हमजा बिन लादेन का नाम अपनी प्रतिबंध सूची में डाल दिया था।संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और अमेरिका की ओर से हमजा को लेकर कड़े फैसले लेने के बाद सऊदी अरब ने भी हमजा की नागरिकता रद्द कर दी थी।


पाक में अनुच्छेद 149(4) पर बवाल

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले कराची पर अनुच्छेद 149(4) लागू करने के केंद्रीय क़ानून मंत्री के बयान के बाद पूरे सिंध प्रांत से विरोध के स्वर उभरने लगे हैं।


विपक्षी नेताओं, लेखकों, बुद्धिजीवियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस बयान को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ साजिश क़रार दिया है और क़ेंद्रीय क़ानून एवं न्याय मंत्री फ़रोग़ नसीम के इस्तीफ़े की मांग की है।अनुच्छेद 149(4) लागू होने से कराची केंद्र शासित इलाक़ा हो जाएगा।हाल ही में दिए गए एक साक्षात्कार में क़ानून मंत्री नसीम ने कहा था कि 14 सितंबर को अपने दौरे में प्रधानमंत्री इमरान ख़ान कराची को संघीय सरकार के नियंत्रण में लाने की घोषणा कर सकते हैं।केंद्र में सत्तारूढ़ इमरान ख़ान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ (पीटीआई) और सिंध में सत्तारूढ़ पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के बीच तीखी नोक झोंक शुरू हो गई है।जैसे ही ये ख़बर अख़बारों और न्यूज़ चैनलों में आई, सोशल मीडिया पर इस फैसले के ख़िलाफ़ हैशटैग ट्रेंड करने लगा।


क्या कहा था क़ानून मंत्री ने?केंद्रीय क़ानून मंत्री डॉ फ़रोग़ नसीम ने गुरुवार को एक स्थानीय टीवी चैनल से बातचीत में कहा, “कराची को केंद्र सरकार के अधीन करने के लिए अनुच्छेद 149 (4) को लागू करने का सही वक़्त आ गया है।उन्होंने कहा कि वो जल्द ही इस योजना को कराची स्ट्रैटिजिक कमिटी के सामने रखेंगे।उन्होंने कहा, “ये मेरी निजी राय है और प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की ओर से बनाई गई कराची स्ट्रैटिजिक कमिटी के सामने ये प्रस्ताव रखूंगा।“अगर मेरे विचार से कमिटी सहमत होगी तो इस प्रस्ताव को प्रधानमंत्री और कैबिनेट के सामने रखा जाएगा. इसके बाद ये उनकी मर्ज़ी पर निर्भर करता है कि वो कराची में ये अनुच्छेद लागू करते हैं या नहीं।डॉ नसीम ने कहा कि कराची के लोग अपने शहर के गवाह हैं और इसे एक विशाल कचरे के ढेर में बदलता हुआ देख रहे हैं। वहां कचरा, बिजली की कमी और मख्खियों के अलावा कुछ नहीं है. विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने संसद में बयान देकर किया खंडन।हालांकि शुक्रवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने नेशनल असेंबली में देकर ऐसी किसी योजना से इनकार किया है।उन्होंने आश्वासन दिया कि पीपीपी के शासन वाले राज्य को केंद्र सरकार नहीं छेड़ेगी।उन्होंने कहा, “सरकार का ये नीतिगत फ़ैसला है कि स्वायत्तता पर कोई आंच नहीं आने देंगे। राज्य की स्वायत्तता बरक़रार रहेगी।महमूद क़ुरैशी ने ये भी कहा कि क़ानून मंत्री के बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है और उनकी ऐसी कोई मंशा नहीं थी।उन्होंने कहा कि पीपीपी के संवैधानिक दायरे में छेड़छाड़ करने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। हालांकि उन्होंने पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो ज़रदारी के एक दिन पहले दिए गए बयान पर अफ़सोस जताया जिसमें उन्होंने सिंध देश और पख़्तुनख़िस्तान का ज़िक्र किया था। क़ुरैशी ने कहा कि एक बड़ी राजनीतिक पार्टी के नेता को ऐसी राजनीति नहीं करनी चाहिए।


क़ुरैशी ने कहा,“मैं बिलावल साहब से कहना चाहूंगा कि आप अभी अपना सियासी सफ़र शुरू कर रहे हैं। ऐसे में किसी बहकावे में या जज़्बात में आकर अलग सिंधु देश या अलग पख़्तूनिस्तान की बात करना मुनासिब नहीं है। जो पार्टी एकता की बात करती रही है, पाकिस्तान की बात करती रही है, उसके मौजूदा चेयरमैन इस क़िस्म की बातें कर रहे हैं। पख़्तूनिस्तान की बात करने वाले पिट गए और सिंधु देश की बात करने वाले पिट जाएंगे इंशा अल्लाह।


पैनल की कई समितियो से मनमोहन बाहर

नई दिल्ली। हाल ही में बने नए संसदीय पैनल में कांग्रेस को महत्वपूर्ण वित्त और बाहरी मामलों की समितियों की अध्यक्षता से हाथ धोना पड़ा है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समितियों से बाहर हो गए हैं, जबकि राहुल गांधी को विदेश मंत्रालय के पैनल से डिफेंस में शिफ्ट कर दिया गया है। कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री और प्रसिद्ध अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह, जो कि पिछली लोकसभा में वित्त पैनल के सदस्य थे। उन्होंने किसी भी स्थायी समिति के अध्यक्ष का पद छोड़ दिया है।


हालांकि राज्यसभा के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि राज्यसभा के सभापति ने मनमोहन सिंह के लिए एक स्लॉट छोड़ा है। कांग्रेस के नाम सुझाने पर उन्हें वहां जगह दी जाएगी। पूर्व पीएम मनमोहन को उनके पंसद के पैनल में शामिल किया जाएगा। कांग्रेस नेता राहुल गांधी को विदेश मामलों की संसदीय स्थायी समिति से रक्षा मामलों की समिति में शिफ्ट कर दिया गया है। जबकि कांग्रेस की अध्यक्ष और रायरबरेली से सांसद सोनिया गांधी किसी भी पैनल में पहले की तरह नहीं रहेंगी।
बीजेपी के जयंत सिन्हा सभी महत्वपूर्ण वित्त पैनल का नेतृत्व करेंगे। पीपी चौधरी कांग्रेस नेता शशि थरूर की जगह विदेश मंत्रालय की समिति के चैयरमेन होंगे। राधा मोहन सिंह रेलवे समिति की अध्यक्षता करेंगे और जुअल ओराम रक्षा पैनल का नेतृत्व करेंगे। देर शाम लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने बहुप्रतीक्षित विभाग-संबंधित स्थायी समितियों के पुनर्गठन की घोषणा की। स्थायी समितियों की भूमिका उनके संबंधित मंत्रालयों के कामकाज की समीक्षा करना और उस पर गहन मंत्रणा करने के बाद प्रासंगिक मुद्दों या बिलों पर रिपोर्ट प्रस्तुत करना है।


आजम निर्दोष ,न्यायपालिका पर विश्वास

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी के सत्ता में आने पर सांसद आजम खां के खिलाफ दर्ज सभी मामले वापस ले लिये जाएंगे। अखिलेश ने रामपुर में संवाददाताओं से कहा, ”समाजवादी सरकार के सत्ता में आने पर सांसद एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां के खिलाफ दर्ज सभी केस वापस ले लिए जाएंगे।”


उन्होंने कहा, ”इस सम्बंध में प्रदेश की राज्यपाल से और जरूरत होने पर लोकतंत्र के जिम्मेदार से भी मुलाकात करूंगा। उन्हें प्रशासन द्वारा किए जा रहे अत्याचार की जानकारी दूंगा। रामपुर से सभी एफआईआर की प्रति ले जाकर पूरी रिपोर्ट तैयार की जायेगी।”
अखिलेश ने कहा कि हमें न्यायपालिका पर भरोसा है और विश्वास है कि वहां से न्याय मिलेगा। ऐसे ही तमाम मुकदमे एक बार मुलायम सिंह यादव पर भी दर्ज हुए थे, तब न्यायालय ने मदद की थी। सपा की ओर से जारी एक बयान में अखिलेश के हवाले से कहा गया कि प्रशासन जितना अन्याय करेगा, लोगों का सरकार पर उतना ही विश्वास कम होगा। वैसे भी आज जनता का भरोसा प्रशासन और सरकार से उठता ही जा रहा है।अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं, महिलाओं के साथ भी अन्याय हुआ है। परिवार के सदस्यों को अपमानित करने के लिए उन्हें थाने तक ले जाया गया। सपा अध्यक्ष ने कहा कि सपा के वरिष्ठ नेता आजम खां ने एक बेहतरीन जौहर अली विश्वविद्यालय की स्थापना की। उन्होंने जो सपना देखा उसको जमीन पर उतारा।


उन्होंने आने वाली नई पीढ़ी के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए यह संस्थान बनाया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार बदले की भावना से काम करती है। वह जानबूझ कर असली मुद्दों से भटकाने के लिए काम कर रही है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा देश को डर और नफरत के रास्ते पर ले जा रही है। पहले सहारनपुर में बाबा साहब की मूर्ति तोड़ी। आज जालौन में गांधी जी की प्रतिमा तोड़ दी। मंहगाई, बेरोजगारी और किसानों की समस्या से ध्यान बंटाने के लिए विपक्षी नेताओं को परेशान किया जा रहा है। उन्होंने जौहर अली विश्वविद्यालय, उर्दू गेट और रामपुर पब्लिक स्कूल इंटरनेशनल का भी दौरा किया। वह आजम खां के निवास पर भी गए, उनके परिवार के सदस्यों से मिले तथा उन्हें समाजवादी पार्टी के पूर्ण समर्थन एवं सहयोग का भरोसा दिलाया।


गुटका-बीड़ी बेचने के लिए लाइसेंस जरूरी

योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू बेचना दुकानदारों को पड़ेगा भारी, लेना होगा लाइसेंस


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने अब तंबाकू उत्पाद बेचने पर बड़ा फैसला किया है। अगर कोई दुकानदार गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू यूपी में बेचना चाहता है तो उसके लिए भी दुकानदारों को सबसे पहले लाइसेंस बनवाना होगा। अब यूपी में गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू बेचने के लिए दुकानदारों को नगर निगम को लाइसेंस शुल्क भी देना होगा। गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू के बेचने के मामले को लेकर नगर निगम सदन ने लाइसेंस उप समिति के समक्ष भेजा था। उसके बाद उप समिति में शामिल पार्षद रामकृष्ण यादव, ममता चौधरी, दिलीप श्रीवास्तव, सै. यावर हुसैन रेशू के अलावा अपर नगर आयुक्त अमित कुमार व अन्य ने तीन चरणों में बैठक की। इस बैठक में तंबाकू उत्पाद के व्यापारियों को भी बुलाया गया और आई आपत्तियों का भी निस्तारित किया गया।पर्यावरण अभियंता पंकज भूषण का कहना है कि बिना लाइसेंस के कोई भी दुकानदार गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू का उत्पाद नहीं बेच पाएगा। जनरल मर्चेट, किराना दुकान, गुमटी पर भी गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू उत्पाद की बिक्री नहीं होगी। शिक्षण संस्थाओं की सौ गज की दूरी पर तंबाकू उत्पाद की दुकान पाई जाती है तो उन दुकानदारों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यहां तक कि उन पर भारी भरकम जुर्माना भी लगाया जा सकता है।


अगर आप लाइसेंस नहीं बनवाते हैं तो आपसे गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू उत्पाद के नियमों का उल्लंघन करने पर दुकानदारों से 2000 जुर्माना बसूला जाएगा और सारी सामग्री जब्त कर ली जाएगी। अगर वह दुकानदार दूसरी बार भी पकड़ा जाता है तो उसकों 5000 का जुर्माना भरना होगा और तीसरी बार में पांच हजार जुर्माना, सामग्री जब्त और कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में मुख्य कर निर्धारण अधिकारी अशोक कुमार सिंह का कहना है कि उप समिति की रिपोर्ट को नगर निगम सदन के समक्ष रखा जाएगा।


गुटका, बीड़ी, सिगरेट तम्बाकू के लाइसेंस के लिए पंजीकरण शुल्क


अगर फेरी नीति का लाइसेंस लेना चाहते हैं तो आपको इसके लिए लाइसेंस पंजीकरण शुल्क के रूप में 7200 रुपए देने होंगे और नवीनीकरण शुल्क भी 7200 रुपए देना होगा। अस्थाई दुकानों से वार्षिक पंजीकरण प्रतिवर्ष 200 रुपए और नवीनीकरण स्थाई दुकानों से वार्षिक पंजीकरण प्रतिवर्ष 1000 रुपए लिया जाएगा और नवीनीकरण के लिए 200 रुपए लिए जाएंगे। वहीं थोक दुकानदारों के लिए पंजीकरण शुल्क 5000 रुपए और नवीनीकरण के लिए 5000 रुपए पंजीकरण शुल्क रखी गई है।


पाक से प्याज खरीदेगी मोदी सरकार

नई दिल्ली। भारत सरकार पड़ोसी देशों से प्याज का आयात करने जा रही है। यह आयात पाकिस्तान, चीन, बांग्लादेश, अफगानिस्तान जैसे प्याज उत्पादक देशों से किया जाएगा। 6 सितंबर, 2019 को देश की सार्वजनिक क्षेत्र की ट्रेंडिंग बॉडी MMTC Ltd.  की ओर से जारी टेंडर के मुताबिक सरकार 2000 मीट्रिन टन प्याज का आयात करेगी।


सरकार का यह कदम प्याज की कमी को पूरा करने और बढ़ती कीमतों के बीच घरेलू आपूर्ति को संतुलित करने के लिए उठाया गया है।बीजेपी यह कभी नहीं भूल सकती कि प्याज के दाम बढ़ने की वजह से एक बार उसे सरकार गंवानी पड़ी थी। वर्तमान में मालेगांव और लासलगांव के 14 थोक मार्केट में प्याज की कमी है। आज शुक्रवार को प्याज मार्केट में सबसे अच्छी क्वालिटी के प्याज का दाम 2930 रुपये प्रति क्विंटल पर खुला। कुछ दिन पहले सबसे अच्छी क्वालिटी के प्याज का थोक भाव 2700 और साधारण क्वालिटी के प्याज का दाम 1400 रुपये प्रति क्विंटल था। विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार की MMTC 2000 मीट्रिक टन प्याज आयात करने के लिए ओपेन टेंडर निकाल रही है। यह प्याज की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए है। विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि इससे प्याज उत्पादक किसानों का कोई नुकसान नहीं होगा। क्योंकि भारत में रोज प्याज की खपत को देखते हुए यह आयात बेहद कम है।


केवल कागज चेक करने को न रोका जाए

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पुलिस उपमहानिरीक्षक यातायात राजेश मोदक ने जिले के सभी पुलिस कप्तानों को निर्देश दिये हैं कि केवल कागजात चेक करने के लिए वाहनों को न रोका जाये। उन्होंने प्रदेश के सभी पुलिस कप्तानों को परिपत्र जारी करके कहा है कि मोटर व्हीकिल (अमेण्डमेंट) बिल एक सितम्बर से पूरे भारत में लागू कर दिया गया है। इस अधिनियम के लागू होने के बाद काफी शिकायतें मिल रही है कि वाहन चेकिंग के नाम पर लोगों को प्रताड़ित किया जा रहा है।
बड़े वाहनों की चेकिंग पर भी ध्यान दिया जाये


ऐसी शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए सभी जिलों के पुलिस कप्तानों को निर्देश दिये हैं कि केवल वाहनों के कागजात चेक करने के लिए वाहनों को न रोका जाय। बल्कि बिना हेलमेट, सीट बेल्ट व यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों को ही रोका जाये। इसके अलावा जो व्यक्ति यातायात नियमों का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है तो उसके वाहनों के कागजात चेक किये जाएं। दो पहिया वाहनों की चेकिंग के साथ ही चार पहिया वाहनों विशेष रुप से एसयूवी आदि बड़े वाहनों की चेकिंग पर भी ध्यान दिया जाये। उन्होंने निर्देशित किया कि यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के विरुद्ध प्रवर्तन की कार्रवाई समान, निष्पक्ष एवं पारदर्शी रूप से की जाय।


सरकारी योजनाओं का असली चेहरा

बीमार पति के मृत्यु पश्चात निर्धन पत्नी के पास अंतिम संस्कार के लिए भी नही थे पैसे,चार दोस्तों ने मिलकर सहयोग करके पेश की मानवता की मिसाल


कोरबा(कटघोरा)। वर्तमान परिवेश में जहां गरीबी व विपन्नता आने पर लोग अपनों से किनारा कर लेते है तथा अपने ही अपनों का साथ छोड़ देते है।आज उसी परिवेश में चार दोस्तों ने मिलकर ना सिर्फ निर्धन परिवार में मुखिया के मृत्यु पश्चात विधिवत अंतिम संस्कार कराया बल्कि सहयोग राशि भी देकर समाज में मानवता की मिसाल पेश किया।


उक्त वाक्या है जिले के नगर पालिका कटघोरा का जहाँ वार्ड क्रमाक 08 शास्त्रीय नगर में ऋषि चक्रधारी का गरीब परिवार निवासरत है।स्व.ऋषि चक्रधारी 48 वर्ष घर का एकमात्र कमाऊ मुखिया था।जिसके कंधे पर घर चलाने की पूरी जिम्मेदारी थी।दो पुत्रियों एवं एक पुत्र में बड़ी पुत्री का विवाह 5 वर्ष पहले बिलासपुर में किया गया था।पत्नी सरोज चक्रधारी 44 वर्ष मंझला पुत्र आकाश 21 व छोटी पुत्री नेहा 15 वर्ष के साथ चार सदस्यीय यह परिवार हंसी ख़ुशी जीवन व्यतीत कर रहा था।इसी बीच हँसते खेलते इस परिवार पर एकाएक विपदा की ऐसी काली साया आन पड़ी कि दो सदस्य को खोने के साथ ही परिवार निर्धन हो गया।घर का मुखिया किडनी की गंभीर बीमारी के चपेट मे आ गया और गत 5 माह पहले बिस्तर पकड़ लिया।अनेकों जगह इलाज और महंगे उपचार की वजह से इनकी आर्थिक स्थिति काफी खराब हो चली।ऐसे में पत्नी व पुत्र मिलकर दूसरों के यहां कामकाज कर मुखिया के ईलाज के साथ घर चलाने की जिम्मेदारी का जैसे-तैसे निर्वह कर रहे थे।इस दौरान अचानक घर के एकमात्र पुत्र ने 10 अगस्त 2019 को गरीबी व लाचारी से तंग आकर घर पर ही फांसी लगाकर अपनी इहलीला समाप्त कर ली।इससे परिवार पर दुखों का पहाड़ और गिर पड़ा।किडनी की भयंकर बीमारी और ऊपर से एकमात्र पुत्र के मौत से पिता भी काफी हताश व टूट गया और इसी बीच बीते 14 सितंबर को पिता की भी मृत्यु हो गई।एक के बाद एक दुखों का सैलाब आने से परिवार पहले से ही आर्थिक रूप से निर्धन हो गया था।अब मुखिया के मृत्यु पश्चात उसकी पत्नी के पास अंतिम संस्कार करने के लिए भी पैसे नही रह गए थे।मामले की जानकारी स्थानीय निवासी एवं क्षेत्रीय पत्रकार नवीन गोयल को हुई और उन्होंने अपने तीन दोस्त पवन अग्रवाल,डॉ.अनिल प्रताप व संजय अग्रवाल के साथ मिलकर पीड़िता के घर पहुँचे और रोते बिलखते परिजन को ढांढस बंधाया तथा राशि एकत्र कर स्व. ऋषि चक्रधारी का स्थानीय मुक्तिधाम में विधिवत अंतिम दाह संस्कार कराया गया।तथा मृतक की पत्नी सरोज चक्रधारी को चार हजार नगद सहयोग राशि भी प्रदान की गई एवं आगे दशकर्म,तेरहवी कार्यक्रम में भी शोकसंतप्त परिवार का यथासम्भव सहयोग करने की बात चारो दोस्तों ने कही।इस तरह चार दोस्तों द्वारा मिलकर मानवता की जो मिसाल पेश की गई वह सराहनीय है।


निर्धन व दुखी परिवार को आर्थिक सहयोग की नितांत आवश्यकता
आर्थिक रूप से निर्धन एवं माह भर में पुत्र व पति के मृत्यु से बेहद शोकित परिवार अब असहाय हो गया है।टूटेफूटे जर्जर कच्चे मकान में निवासरत शोकाकुल परिवार (माँ-पुत्री) को आर्थिक सहयोग देने की दिशा में समाजसेवी संगठन एवं संस्था इस ओर ध्यानाकर्षित कर शोकसंतप्त की ओर मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाए ताकि दुखी परिजन को आर्थिक सहयोग स्वरूप ढांढस मिल सके।और उनके हालात में कुछ सुधार हो सके।यही अपेक्षा है।


मुठभेड़ में दो नक्सली ढेर,विस्फोटक बरामद

राजनांदगांव/गढ़चिरौली। छत्तीसगढ़ राज्य के सीमा से सटे महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में आज सुऱक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। जहां जवानों ने मुठभेड़ में दो नक्सलियों को मार गिराया है। मुठभेड़ गढ़चिरौली के ग्यारापट्टी गांव के समीप की है। बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों पर नक्सलियों ने छिपकर वार किया था। मुंहतोड़ जवाब में दो नक्सली ढेर हो गए। वहीं, कुछ अन्य नक्सलियों के मौजूद होने की आशंका में इलाके की घेराबंदी कर सुरक्षाबल सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं।
जिसके बाद में जांच टीम ने पाया था कि गढ़चिरौली के नक्सल हमले में 30 किलो औद्योगिक श्रेणी का विस्फ ोटक और जिलेटिन छड़ों का इस्तेमाल किया गया था। नक्सलियों ने जवानों को जाल में फंसाकर आईईडी ब्लास्ट के जरिए उनके वाहन को उड़ाया था।


डायरिया का प्रकोप 2 लोगों की मौत

बलरामपुर। जिले के वाड्रफनगर ब्लाक में डायरिया से 3 लोगों की मौत हो गई। जिसमें 1 बच्ची और 2 महिला शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग की सतर्कता के बाद भी मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। आज तीन लोगों की मौत के बाद जिला प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। डॉक्टरों की माने तो यहां अभी भी लोग कुएं का गंदा पानी पी रहे है। जिसकी वजह से डायरिया लगातार फैल रहा है।
पिछले 1 सप्ताह में डायरिया से ये चौथी मौत है। जब पहली मौत हुई थी तक स्वास्थ्य विभाग का अमला पूरी तरह से मुस्तैद हो गया था। वाड्रफनगर ब्लाक के कई गांवों में जगह-जगह कैंप लगाकर मरीजों का इलाज किया जा रहा है। फिर भी मौतों का आंकड़ा बढऩा बेहद चिंताजनक है।
मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को पूरी तरह से स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है।


कुत्ते की मौत, डॉक्टर पर एफआइआर

हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्‍यमंत्री के चंद्रशेखर राव के आधिकारिक बंगले में रहने वाले एक पालतू कुत्‍ते हस्‍की की बीमारी के बाद मौत हो गई। कुत्‍ते की मौत के बाद पुलिस ने पशु चिकित्‍सकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। बंजारा हिल्‍स पुलिस अब इस मामले की जांच कर रही है और आरोपों के सही पाए जाने पर डॉक्‍टरों को 5 साल तक की जेल हो सकती है।
बताया जा रहा है कि पुलिस ने एनिमल केयर क्लिनिक के डॉक्‍टर लक्ष्‍मी और डॉक्‍टर रंजीत पर आईपीसी की धारा 429 और 11 के तहत एफआईआर दर्ज की है। 11 महीने का पालतू कुत्‍ता हस्‍की बुधवार शाम तक अच्‍छे से था। शाम के बाद अचानक हस्‍की बीमार पड़ गया। सीएम के बंगले के कर्मचारियों ने हस्‍की के बीमार होने की सूचना उसके डॉक्‍टर रंजीत को दी।


सीएम आवास में 9 पालतू कुत्‍ते


डॉक्‍टर रंजीत ने अपनी जांच में पाया कि हस्‍की को 101 डिग्री बुखार है। उन्‍होंने हस्‍की को दवा दी और बाद कुत्‍ते को एनिमल केयर क्लिनिक में शिफ्ट कर दिया गया। बाद में क्लिनिक में हस्‍की की मौत हो गई। सीएम आवास में नौ पालतू कुत्‍ते हैं और आसिफ अली खान उनके केयरटेकर हैं। उधर, इस संबंध में डॉक्‍टरों से संपर्क नहीं किया जा सका है। अस्‍पताल के कर्मचारियों का कहना है कि डॉक्‍टर लक्ष्‍मी शहर से बाहर हैं और डॉक्‍टर रंजीत हॉस्पिटल नहीं आए हैं और बात नहीं करना चाहते हैं।


उधर, विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने सीएम की आलोचना की है और कहा कि हैदराबाद तथा तेलंगाना के अन्‍य हिस्‍सों में डेंगू पर ध्‍यान नहीं दिया जा रहा है। कांग्रेस नेता और सांसद ए रेवंथ रेड्डी ने सवाल किया, 'स्‍वर्णिम तेलंगाना के लोग प्रगति भवन के कुत्‍ते की तरह ही महत्‍व नहीं रखते हैं? कांग्रेस के प्रवक्‍ता श्रवण दसोजू ने कहा कि क्‍या लोगों का जीवन पालतू कुत्‍ते की तरह से महत्‍वपूर्ण नहीं है।


नान-घोटाले में कई दिग्गजों का नाम

रायपुर। नान घोटाले के मुख्य आरोपी शिवशंकर भट्ट ने प्रेसवार्ता करते हुए बताया कि 9 लाख 35 हजार क्विंटल धान था फिर भी मुझ पर दबाव था 10 लख क्विंटल चावल ज्यादा ले। 2014 में ऐसी क्या स्थिति बनी की नान पर दबाव बनाया गया। उन्होंने अपने बयान में कहा कि राशन दुकानों में जगह नही थी फिर भी हम पर दबाव बनाया गया। रातो रात सारे गोदाम में राशन भरा गया ये नान का घोटाल नही राशन घोटाला है। भट्ट ने कहा इस मामले में राशन कार्ड फर्जी बनाने वाले, फूड इंस्पेक्टर, राशन दुकान पर कार्यवाही क्यों नही की गयी। अगर 12 हजार दुकानो का मुआयना आज भी किया जाए तो 400 करोड़ का माल मिल जाएगा। भट्ट बे बताया कि राशन घोटाले को छुपाने के लिए नान पर छापा मारा गया। उन्होंने यह भी आरोप लगया कि मुझे जानबुझकर जेल में रखा गया क्योंकि मैं बाहर आता तो सरे राज खुल जाते। उन्होंने कहा मै मानहानि का केस करूंगा। जमानत पर रिहा होने के बाद से ही मैं मीडिया के पास आने की सोच रहा था लेकिन कुछ कारणों से आ नहीं सका। उन्होंने कहा कि फर्जी राशनकार्ड मामले मे विपक्ष के हमले के बाद सारा मामला उजागर हुआ। शिवशंकर भट्ट ने बयान में आगे बताया कि भाजपा कार्यालय में चुनाव के वक्त 5 करोड़ रुपए का टारगेट पुन्नूलाल मोहिले और लीलाराम भोजवानी को दिया गया था। नान घोटाले में शामिल लोगो के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि इस पुरे घोटाले में चिंतामणि चंद्राकर, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, वीणा सिंह, खाद्य मंत्री, नान के चेयरमेन शामिल है। सभी दोषियो के खिलाफ जांच और कार्यवाही होनी चाहिए। भट्ट ने बताया कि साजिश के तहत मुझे 1करोड़ 60 लाख रुपए देकर मुकेश गुप्ता एवं उनके अन्य साथियो ने फंसाया। शिवशंकर भट्ट ने एसपी से सुरक्षा की मांग की है।


पाक नहीं सुधरा तो हो जाएंगे टुकड़े

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कश्मीर के मुद्दे पर एक बार फिर पाकिस्तान को खरी-खरी सुनाई है। उन्होंने कहा कि कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान को हर मंच पर नाकामी ही मिली क्योंकि दुनिया उस पर यकीन ही नहीं करती है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सूरत में आयोजित एक कार्यक्रम में पाकिस्तान पर शनिवार को जमकर हमला बोला और कहा कि पाकिस्तान ने अगर आतंकवाद का साथ देना नहीं छोड़ा तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द करने के भारत के फैसले को हजम नहीं कर पा रहा। वह इस मुद्दे को लेकर वह संयुक्त राष्ट्र तक गया और उन्हें गुमराह करने की कोशिश की लेकिन उसे कुछ हासिल नहीं हुआ। वहीं पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की स्थिति की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि आजादी के बाद भारत के अल्पसंख्यकों की आबादी बढ़ी लेकिन पाकिस्तान में सिखों, बौद्धों और अन्य के मानवाधिकार हनन के मामले बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि भारत के अल्पसंख्यक सुरक्षित थे, सुरक्षित हैं और सुरक्षित ही रहेंगे। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत लोगों को धर्म या जाति के आधार पर नहीं बांटता है। अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान द्वारा कश्मीर के मुद्दे को बार-बार उठाए जाने पर सिंह ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय पाकिस्तान के कथन पर यकीन करने का इच्छुक नहीं है। इसके अलावा पाकिस्तान को आगाह करते हुए उन्होंने कहा कि उसे आतंकवाद को रोकना होगा नहीं तो कोई भी उसके टुकड़े होने से नहीं रोक सकता।


पूर्व सीएम को ले गई एसआईटी टीम

रायपुर। बहुचर्चित नान घोटाले में ईओडब्लू ने आज एकाउंट आफिसर चिंतामणि चंद्राकर को गिरफ्तार कर लिया। खबर है, ईओडब्लू ने कल दुर्ग से उन्हें हिरासत में लिया था। अभी राजधानी के किसी गुप्त ठिकाने में चिंतामणि से पूछताछ की जा रही है। संकेत हैं, शाम तक ईओडब्लू इसका खुलासा करेगा।
36 हजार करोड़ का नान घोटाला जब उजागर हुआ था, चिंतामणि नान के रायपुर आफिस में एकाउंट आफिसर थे। नान की चर्चित लाल डायरी में चिंतामणि का नाम कोड वर्ड में कई जगह सीएम साहब लिखा हुआ था। सीएम साहब को इस डेट में इतना पैसा दिया गया तो इस तारीख को इतना। नान के मुख्य आरोपी शिवशंकर भट्ट ने दो रोज पहिले जो शपथ पत्र दिया, उसमें भी चिंतामणि का जिक्र था।
नान मामले की एसआइटी गठित होने के बाद ईओडब्लू की टीम ने सबसे पहले चिंतामणि के ठिकानों पर दबिश देकर बड़े पैमाने पर अवैध संपति का पर्दाफाश किया था। रायपुर, दुर्ग, कांकेर से लेकर बंगलोर तक में चिंतामणि के नाम से प्लाट और मकान मिले थे।
हालांकि, मामला हाईप्रोफाइल होने की वजह से एसआइटी के अधिकारी इस चिंतामणि की गिरफ्तारी की पुष्टि करने से बच रहे हैं। मगर सीनियर आफिसर ने यह जरूर माना कि चिंतामणि को दुर्ग से रायपुर लाया गया है। और, उससे पूछताछ चल रही है। बताते हैं, एसआइटी के अफसर आज सुबह छह बजे चिंतामणि के दुर्ग स्थित घर पहुंचे थे। दरवाजा खटखटाने पर पहले तो चिंतामणि ने दरवाजा नहीं खोला। मगर बाद में जब काफी शोर होने लगा तो चिंतामणि की पत्नी ने दरवाजा खोला। चिंतामणि का लेकर एसआइटी रायपुर के लिए निकल आई।


नान घोटाले में शिवशंकर भट्ट ने शपथ पत्र देकर पूर्व सीएम रमन सिंह, खाद्य मंत्री पुन्नूलाल मोहले, नान के पूर्व एमडी और रिटायर आईएफएस अधिकारी कौशलेंद्र सिंह का नाम लेते हुए उन्हें नान कांड का मुख्य षडयंत्रकारी बताया था।


होम लोन पर मिलेगी 3:50 लाख की छूट

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार ने सुस्त पड़े रियल एस्टेट में जान फूंकने के लिए कई कदम उठाए हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को घर खरीदारों को 1.5 लाख रुपए की होम लोन के ब्याज पर अतिरिक्त छूट देने का एलान किया है। इसके तहत शहरों में 45 लाख तक का घर खरीदने पर लोगों को छूट मिलेगी। इसके तहत लोग अब होम लोन पर कुल 3.5 लाख रुपये की छूट पा सकेंगे। हालांकि इसका फायदा केवल उन्हीं लोगों को मिलेगा जो 31 मार्च 2020 तक घर खरीदेंगे।


इसके अलावा सरकार गांवों में 1.95 करोड़ घर 2022 तक प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के तहत बनाकर के देगी। इन घरों में शौचालय, बिजली और एलपीजी कनेक्शन दिया जाएगा। हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों और नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों की सहायता करने के लिए सरकार अपनी तरफ से मदद देगी। वहीं लोग कम ब्याज पर घर, गाड़ी और व्हाईट गुड्स खरीद सकेंगे। इसके अलावा नेशनल हाउसिंग बोर्ड से हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों को 20,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सहायता दी जाएगी। क्रेडिट गांरटी योजना के तहत इन कंपनियों को एक लाख करोड़ की अतिरिक्त मदद बैंकों से दी जाएगी।


व्यापार-व्यवसाय अच्छा रहेगा: मिथुन

राशिफल


मेष-लाभ के अवसर अचानक बनेंगे। भाग्य का साथ मिलेगा। पुराने किए गए प्रयासों का लाभ अब मिल सकता है। सामाजिक कार्य करने की प्रेरणा प्राप्त होगी। मान-सम्मान मिलेगा। यश बढ़ेगा। आय में वृद्धि के योग हैं। चोट व रोग की तरफ से सावधानी रखें। भय रहेगा।


वृष-फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। चिंता रहेगी। घर में मेहमानों का आवागमन रहेगा। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड में लाभ होगा। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। जल्दबाजी न करें।


मिथुन-लेन-देन में जल्दबाजी तथा कार्य करते समय लापरवाही न करें। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। सट्टे व लॉटरी से दूर रहें। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा!


कर्क-शारीरिक कष्ट से कार्य में बाधा उत्पन्न हो सकती है। वाणी पर नियंत्रण रखें। कुसंगति से हानि होगी। स्वास्थ्य पर खर्च होगा। आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्यापार ठीक चलेगा।


सिंह-सुख के साधन जुटेंगे। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय में वृद्धि होगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। पारिवारिक चिंता रहेगी। प्रतिद्वंद्विता बढ़ेगी। सावधान रहें।


कन्या-लाभ में वृद्धि होगी। नए कार्यकारी अनुबंध हो सकते हैं। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। समाजसेवा करने की प्रेरणा प्राप्त होगी। मान-सम्मान मिलेगा। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा। निवेश शुभ रहेगा। जोखिम न लें।


तुला-दुष्टजनों को पहचानना आवश्यक है। उनसे दूर रहने के प्रयास करें। किसी धार्मिक आयोजन में सम्मिलित होने का अवसर प्राप्त हो सकता है। सत्संग का लाभ प्राप्त होगा। कोर्ट-कचहरी व सरकारी कार्यालयों में काम अनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे।


वृश्चिक-कोई पुराना रोग उभर सकता है। वाहन व मशीनरी इत्यादि के प्रयोग में लापरवाही न करें। शारीरिक हानि की आशंका प्रबल है। दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करें। विवाद की आशंका है। शत्रु सामना नहीं कर पाएंगे। लाभ होगा। नौकरी में तनाव रहेगा।


धनु-किसी व्यक्ति के व्यवहार से स्वाभिमान को चोट पहुंच सकती है। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। आय में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। नौकरी में अधीनस्थों का सहयोग प्राप्त होगा। उत्साह व प्रसन्नता बने रहेंगे!


मकर-पारिवारिक सुख-शांति बनी रहेगी। प्रेम-प्रसंग अनुकूल रहेंगे। भागदौड़ रहेगी। लाभ में कमी हो सकती है। स्थायी संपत्ति की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। कारोबार अच्छा चलेगा। रोजगार में वृद्धि होगी। कोई बड़ी समस्या उत्पन्न हो सकती है। लापरवाही न करें।


कुंभ-किसी मनोरंजक आनंददायी यात्रा की योजना बनेगी। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। रचनात्मक कार्यों में रुचि जागृत होगी। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। घर-बाहर जीवन सुखमय व्यतीत होगा।


मीन-कानूनी अड़चन का सामना करना पड़ सकता है। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। विवाद हो सकता है। दु:खद समाचार की प्राप्ति संभव है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। पुराना रोग परेशानी का कारण बन सकता है। व्यापार-व्यवसाय से लाभ होगा।


काला नमक की विशेषताएं

काला नमक (बंगला : बिट लबन (বিট লবণ); नेपाली: बिरे नुन ; काला नमक ; गुजराती: સંચળ संचल)


भारतीय उपमहाद्वीप में निर्मित और भारतीय भोजन में बड़े पैमाने पर प्रयोग किया जाने वाला खाद्य नमक है। काले नमक का प्रयोग चाट, चटनी, रायता और कई अन्य भारतीय व्यंजनों में किया जाता है। भारतीय चाट मसाला, अपनी खुशबू और स्वाद के लिए काले नमक पर निर्भर करता है।


काले नमक में मुख्यतः सोडियम क्लोराइड होता है। इसके अतिरिरिक्त इसमें सोडियम सल्फेट, आइरन सल्फाइड, हाइड्रोजन सल्फाइड आदि की कुछ मात्रा भी मिश्रित होती है। सोडियम क्लोराइड के कारण ही यह नमकीन स्वाद देता है, आइरन सल्फाइड के कारण इसका गहरा बैंगनी रंग दिखता है और सभी सल्फर लवण इसके विशिष्ट स्वाद और गंध के लिये जिम्मेदार हैं। इनमें से हाइड्रोजन सल्फाइड मुख्यत: इसके गंध का कारण है।


कुछ स्रोतों में काला नमक बनाने की निम्नलिखित विधि बतायी गयी है-काला नमक को बनाने के लिए नमकीन पानी में हरड़ के बीज डाल कर उबाला जाता है, उबलने के बाद पानी तो भाप बन कर उड़ जाता है और शेष बचता है क्रिस्टलीय नमक, जिसका रंग काला होता है इसलिए इसका नाम काला नमक है। जब इसे पीसा जाता है तब इसका पाउडर गुलाबी हो जाता है। रासायनिक रूप से, काला नमक सोडियम सल्फाइड होता है जिसमे कुछ मात्रा मे, खनिज लवण भी होते हैं। इसका उत्पादन सोडियम थाओसल्फेट के निर्माण के दौरान एक बायप्रोडक्ट के तौर पर भी होता है।


उपयोग 
काले नमक को आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धिति में एक ठंडी तासीर का मसाला माना जाता है और इसका प्रयोग एक रेचक और पाचन सहायक के रूप में किया जाता है। यह भी माना जाता है कि यह पेट की गैस (उदर वायु) और पेट की जलन में राहत प्रदान करता है। इसे कभी कभी उच्च रक्तचाप या कम नमक का आहार लेने वाले व्यक्ति भी प्रयोग करते हैं क्योंकि यह माना जाता है कि इसमे आम नमक की तुलना में कम सोडियम होता है और यह रक्त में सोडियम की मात्रा में वृद्धि नहीं करता है। हरड़ के बीजों को आयुर्वेदिक चिकित्सा में कामोत्तेजक माना जाता और यह रक्तचाप को कम करने और जलन में मदद करता है। इस आशय का कारण हरड़ के बीजों का सल्फ्यूरस यौगिक हैं जो निर्माण प्रक्रिया के दौरान काला नमक का हिस्सा बन जाते हैं।काले नमक को इसके अंडे जैसे स्वाद के चलते शाकाहारी लोगों द्वारा पसन्द किया जाता है, उदाहरण के लिए, इसका इस्तेमाल मसाला टोफू को अंडा सलाद जैसा स्वाद देने के लिए किया जाता है।


जैविक और मनोवैज्ञानिक परिवर्तन

बाल विकास (या बच्चे का विकास), मनुष्य के जन्म से लेकर किशोरावस्था के अंत तक उनमें होने वाले जैविक और मनोवैज्ञानिक परिवर्तनों को कहते हैं, जब वे धीरे-धीरे निर्भरता से और अधिक स्वायत्तता की ओर बढ़ते हैं। चूंकि ये विकासात्मक परिवर्तन काफी हद तक जन्म से पहले के जीवन के दौरान आनुवंशिक कारकों और घटनाओं से प्रभावित हो सकते हैं इसलिए आनुवंशिकी और जन्म पूर्व विकास को आम तौर पर बच्चे के विकास के अध्ययन के हिस्से के रूप में शामिल किया जाता है। संबंधित शब्दों में जीवनकाल के दौरान होने वाले विकास को सन्दर्भित करने वाला विकासात्मक मनोविज्ञान और बच्चे की देखभाल से संबंधित चिकित्सा की शाखा बालरोगविज्ञान (पीडीऐट्रिक्स) शामिल हैं। विकासात्मक परिवर्तन, परिपक्वता के नाम से जानी जाने वाली आनुवंशिक रूप से नियंत्रित प्रक्रियाओं के परिणामस्वरूप या पर्यावरणीय कारकों और शिक्षण के परिणामस्वरूप हो सकता है लेकिन आम तौर पर ज्यादातर परिवर्तनों में दोनों के बीच का पारस्परिक संबंध शामिल होता है।


(बच्चे के विकास की अवधि के बारे में तरह-तरह की परिभाषाएँ दी जाती हैं क्योंकि प्रत्येक अवधि के शुरू और अंत के बारे में निरंतर व्यक्तिगत मतभेद रहा है।)बाल विकास में विकासात्मक अवधियों की रूपरेखा।कुछ आयु-संबंधी विकास अवधियों और निर्दिष्ट अंतरालों के उदाहरण इस प्रकार हैं: नवजात (उम्र 0 से 1 महीना); शिशु (उम्र 1 महीना से 1 वर्ष); नन्हा बच्चा (उम्र 1 से 3 वर्ष); प्रीस्कूली बच्चा (उम्र 4 से 6 वर्ष); स्कूली बच्चा (उम्र 6 से 13 वर्ष); किशोर-किशोरी (उम्र 13 से 20 वर्ष) हालाँकि, ज़ीरो टू थ्री और वर्ल्ड एसोसिएशन फॉर इन्फैन्ट मेंटल हेल्थ जैसे संगठन शिशु शब्द का इस्तेमाल एक व्यापक श्रेणी के रूप में करते हैं जिसमें जन्म से तीन वर्ष तक की उम्र के बच्चे शामिल होते हैं; यह एक तार्किक निर्णय है क्योंकि शिशु शब्द की लैटिन व्युत्पत्ति उन बच्चों को सन्दर्भित करती है जो बोल नहीं पाते हैं।


बच्चों के इष्टतम विकास को समाज के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है और इसलिए बच्चों के सामाजिक, संज्ञानात्मक, भावनात्मक और शैक्षिक विकास को समझना जरूरी है। इस क्षेत्र में बढ़ते शोध और रुचि के परिणामस्वरूप नए सिद्धांतों और रणनीतियों का निर्माण हुआ है और इसके साथ ही साथ स्कूल सिस्टम के अंदर बच्चे के विकास को बढ़ावा देने वाले अभ्यास को विशेष महत्व भी दिया जाने लगा है। इसके अलावा कुछ सिद्धांत बच्चे के विकास की रचना करने वाली अवस्थाओं के एक अनुक्रम का वर्णन करने की भी चेष्टा करते हैं।


राष्ट्र की महानता (कर्तव्यवाद)

गतांक से...
 परंतु वायुमंडल में अशुद्ध शब्दों का मिलान हो रहा है। उसके पश्चात भी मैं अपने यजमान का यह वाक्‌ उच्चारण करता रहता हूं। हे यजमान, तेरे जीवन का सौभाग्य अखंड बना रहे। यह जो काल चल रहा है। वाममार्ग का काल चल रहा है। यहां उल्टे मार्ग पर जाने वाला समाज है। जब यह एकांत स्थली में विद्यमान होता है तो वह मांस और सुरा पान की ही चर्चा करता है। यह अपनी कृतियों की चर्चा करता है । परंतु मानवता की चर्चा इस के द्वार से नष्ट होती जा रही है। मैंने बहुत पुरातन काल में अपने पूज्य पाद गुरुदेव को यह वर्णन कराया था कि यह ऐसा विचित्र एक कर्म है जो सृष्टि के प्रारंभ से चला रहा है। सृष्टि के प्रारंभ से यह यज्ञ कर्म चला आ रहा है। सुगंधित होना चाहता है। वह किसी भी स्त्री-पुरुष पर रहता है, किसी भी रूप में रहता है। उसके हृदय में एक आकांक्षा है कि मैं सुगंधित हो जाऊं। सुगंधी की भी नाना अग्नियों का चयन करता रहता है । परंतु जब मैं यह विचारता हूं कि यह नाना प्रकार की जो अग्नि है। वह अपने में निहित हो करके हमें विचित्र बना सकती है। यदि हम उनको जानने का प्रयास करें। परंतु देखो जब यहां ब्रह्म-जगत में महाभारत के काल के पश्चात की वार्ता है। पूज्‍यपाद गुरुदेव तो इन वाक्यों को इतने विस्तृत रूप से जानते नहीं। परंतु मैं इनको परिचय कराता रहता हूं। हमारा यह परिचय रहता है कि महाभारत के काल के पश्चात यहां नाना प्रकार के विचार और वाम मार्ग संप्रदाय का यहां एक उधरवा में रूप धारण किया गया। उस वाम मार्ग में देखो यह और मेरी प्यारी माताओं का तिरस्कार प्रारंभ किया। दोनों का तिरस्कार जब महाभारत के काल के पश्चात हुआ। नाना प्रकार के मत मत-मतातंरो में यह समाज, यह मानव समाज का बंटवारा बन गया। नाना मत-मतंरो का सबसे प्रथम बौद्ध काल में यह कहा गया। जब बोदॄ का काल आया कि मैं ऐसे वेद को स्वीकार नहीं करता। जिस में हिंसा हो, उसका परिणाम यह हुआ कि वाम मार्ग का विस्‍तार हुआ,वह बौद्ध काल के मानव ने यह नहीं विचारा न महात्मा बुध में यह विचार आया कि इस वेद का अध्ययन तो करना चाहिए। जब एक-एक वेद के मंत्रों के जो भी अर्थ है, वैज्ञानिक अर्थ है, मानव के व्यवहारिक अर्थ है। उसको न मानना ही एक बुदॄ समाज का ह्रास हो गया। बुद्ध समाज में बौद्धिक ऋषियों ने उन्होंने भी मांस का आहार प्रारंभ किया। उसका परिणाम यह हुआ कि यहां नाना प्रकार की रूढ़ियों का प्रादुर्भाव हुआ। महात्मा बुध के कार्यकाल के पश्चात नाना प्रकार की रूढियां बनी और वह वाम मार्क का समाज था। उसने वेदों की अवहेलना की, यज्ञो में मांस की आहुतियां प्रदान करने लगे। तो यज्ञ का तिरस्कार हो गया। वैदिक साहित्य का ह्रास हो गया जब विचारा तो हम यहां जैन काल में भी ऐसा हुआ। उन्होंने कहा कि मैं तपस्या को प्रथम स्वीकार करता हूं। वेद के एक अंग को अपनाया है तपस्या का अंग। परंतु देखो सर्वांग अंग वह प्राणी होता है जो यज्ञ जो सुगंधी और विचार सुगंधी और इसका संबंध करके परिणत होता है। तो वह सर्वत्र, पूर्ण, देखो वह एक समिधा के रूप में उसका जीवन बन जाता है। जब मैं यह भी जानता हूं कि कितना तिरस्कार हुआ है? मेरी पुत्रियों को यहां, देवियों का तिरस्कार हुआ। तो देखो यहां दूरी तम, देखो संतान का जन्म होना आरंभ हुआ। परंतु देखो, उनके जन्म के पश्चात वैदिक सिद्धांतों की अवहेलना करने वाला समाज बन गया। जब मैंने विचारा की अश्व तम ब्रह्म महात्मा बुध का परिणाम यह बना कि बौद्ध काल के जानने वालों का राष्ट्र हुआ। महात्मा महावीर के मानने वालों का राष्ट्र हुआ। तो यहां जितना वैदिक साहित्य था वह कुछ को त्याग करके अग्नि के मुख में परिणित कर दिया था कि ऐसे वैदिक साहित्य को हम स्वीकार नहीं करें। इसमें हिंसा है। परंतु उन भोले प्राणियों ने अध्ययन नहीं किया। उसका अध्ययन कर लेते तो यह अज्ञानता या यज्ञ का तिरस्कार नहीं हो सकता था। यज्ञ का तिरस्कार जब होता है जब अज्ञान की प्रतिभा का जन्म होता है। अपनी सुगंधी को नष्ट कर देता है। इसी प्रकार जब देखो यहां वैदिक काल समाप्त हुआ तो इसमें इतनी हीनता को जैन और देखो बौद्ध समाज ने, इस समाज को इतना निर्दयी और ऋणी बना दिया कि उसमें ऐसी निर्लज्जता आ गई। कुरीतियां बन गई। वीरता का देखो स्थान समाप्त हो गया। उसका परिणाम यह हुआ कि नाना प्रकार के देखो या यमनो का कॉल आ गया। यमन के काल में यहां यमन आए। दूसरे राष्ट्रों से आए। परंतु देखो उन्होंने आकर के यहां वैदिकता को नष्ट करना प्रारंभ किया और प्यारी माताओं के श्रृंगार का हनन करने का प्रयास किया। नाना प्रकार के मंत्रों में नाना प्रकार की रूढ़ियों में यह समाज परिणत हो गया। यह संसार पृथ्वी का प्राणी नाना प्रकार की रूढ़ियों में महाभारत के काल के बाद हुआ है। महाभारत के पूर्व का काल साहित्य यह नहीं कहता कि यहां रूढिया जाती या नाना प्रकार के मंत्र वाला समाज था। कोई मंत्र नहीं था मुझे वह काल स्‍मरण है। मेरे पूज्य गुरुदेव के चरणों में रहा हूं। मैंने उस काल को भी दृष्टिपात किया है। उस काल में सर्वमेघ का यज्ञ करने वाले राजा अपने राष्ट्र में यह घोषणा करते रहते थे कि देखो यहां प्रत्येक प्राणी को याज्ञिक बनना चाहिए। प्रत्येक ग्रह में वेद महिमा होनी चाहिए। चाहे किसी का गृह हो,वेद की ध्‍वनि होनी चाहिए। तो वेदवेता होने वाला समाज बन जाएगा। राजाओं के पूर्व के काल में यह घोषणा होती रही है। महाराजा अश्वपति ने तो अपने राष्ट्र में यह घोषणा कराई थी कि मेरे राष्ट्र में प्रत्येक प्राणी याज्ञिक होना चाहिए। याज्ञिक होना यज्ञ में केवल अग्नि में ही आहुति देना नहीं है। यज्ञ का अभिप्राय यह है कि यज्ञ में आहुति होनी चाहिए। परंतु सदाचार और शिष्टाचार भी होना चाहिए। सदाचार और शिष्टाचार की वेदी वाला जो राष्ट्र होता है जो अपने राष्ट्र में वेद के प्रकाश को पनपाता रहता है। परंतु देखो, ऐसा जो विचित्र राष्ट्र है वही तो समाज को महान बना सकता है। जो राजा स्वत: यज्ञ में परिणत होने वाला हो, अपने गृह को सुगंधित बनाने वाला हो, वही तो महान बनेगा।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

दैनिक यूनिवर्सल एक्सप्रेस


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


september 16, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1.अंक-44 (साल-01)
2. रविवार,16सितबंर 2019
3.शक-1941,अश्‍विन, कृष्‍णपक्ष,तिथि दूज,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 6:10,सूर्यास्त 6:10
5.न्‍यूनतम तापमान -26 डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, उमस बनी रहेगी बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


गोपनीय रिपोर्ट के लीक होने के खिलाफ अपील की

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। गूगल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) द्वारा उसके खिलाफ की गई जांच की गोपनीय ...