शुक्रवार, 22 अप्रैल 2022

22 अप्रैल को मनाया जाता हैं 'विश्व पृथ्वी दिवस'

22 अप्रैल को मनाया जाता हैं 'विश्व पृथ्वी दिवस'   

सरस्वती उपाध्याय            

'वर्ल्ड अर्थ डे' यानी, विश्व पृथ्वी दिवस हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाता है। ये दिन एक मौका होता है, जब करोड़ों लोग मिलकर पृथ्वी से जुड़ी पर्यावरण की चुनौतियों जैसे कि, क्लाइमेट चेंज। ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण और जैवविविधता संरक्षण के लिए प्रयास करने में और जागरुक हों और इसमें तेजी लाएं। इस दिन को इंटरनेशनल मदर अर्थ डे के रूप में भी जाना जाता है।इसे मनाने का मकसद यही है कि लोग पृथ्वी के महत्‍व को समझें और पर्यावरण को बेहतर बनाए रखने के प्रति जागरूक हों। यही वजह है कि इस दिन पर्यावरण संरक्षण और पृथ्वी को बचाने का संकल्प लिया जाता है।

विश्व पृथ्वी दिवस के दिन पेड़ लगाकर, सड़क के किनारे कचरा उठाकर, लोगों को टिकाऊ जीवन जीने के तरीके अपनाने के लिए प्रेरित करने जैसे विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके सेलिब्रेट किया जाता है। इसके अलावा बच्चों में जागरूकता फैलाने के लिए इस दिन स्कूलों और विभिन्न समाजिक संस्थाओं द्वारा कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

यह है 'वर्ल्ड अर्थ डे' का इतिहास...

विश्व पृथ्वी दिवस पहली बार साल 1970 में मनाया गया था। तब से लेकर आज तक इसे हर साल 22 अप्रैल को 192 देशों में सेलिब्रेट किया जाता है। दरअसल, साल 1960 दशक में विकास कार्यों के चलते पेड़ों की बड़ी मात्रा में कटाई की गई थी, जिससे पर्यावरण को काफी नुकसान हुआ। इसी को देखते हुए अमेरिकी सेनिटर ने साल 1969 में लोगों को जागरुक करने के लिए वॉशिंगटन में एक सम्मेलन की घोषणा की। जिसमें स्कूल के कई बच्चे शामिल हुए। इस दौरान बच्चों समेत वहां के लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक किया गया। इसके बाद से ही इस दिन को विश्वभर में 'वर्ल्ड अर्थ डे' के रूप में मनाया जाने लगा।


कोई आए या जाए, कांग्रेस को फर्क नहीं पड़ता

कोई आए या जाए, कांग्रेस को फर्क नहीं पड़ता    

मनोज सिंह ठाकुर            

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रशांत किशोर की पार्टी में संभावित एंट्री को लेकर बड़ा बयान दिया है। कमलनाथ ने कहा है कि कोई आए या जाए, कांग्रेस को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। मध्य प्रदेश में पार्टी किसी पर भी निर्भर नहीं है। राजनीतिक विश्लेषक प्रशांक किशोर के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर लगातार खबरे आ रही हैं। कहा जा रहा है कि प्रशांत किशोर को पार्टी में शामिल करने को लेकर सोनिया गांधी की हरी झंडी मिल गई है। वहीं इसके साथ ही पीके की कांग्रेस में एंट्री को लेकर बयानबाजी का दौर भी शुरू हो गया है। 

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रशांत किशोर की पार्टी में संभावित एंट्री को लेकर  बड़ा बयान दिया है। कमलनाथ ने कहा है कि कोई आए या जाए, कांग्रेस को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। मध्य प्रदेश में पार्टी किसी पर भी निर्भर नहीं है। भाजपा के नरोत्तम मिश्रा द्वारा किशोर के कांग्रेस में शामिल होने और कांग्रेस सांसद नेता कमलनाथ को ‘सबक देने’ की संभावना पर टिप्पणी करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी मध्य प्रदेश में किसी पर ‘निर्भर’ नहीं है। कमलनाथ ने कहा कि प्रशांत किशोर आए या न आए, हम तैयार हैं और मध्य प्रदेश में कांग्रेस किसी पर निर्भर नहीं हैं। बता दें कि मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा था कि अगर किशोर कांग्रेस में आए, तो कमलनाथ को ‘आराम’ दिया जाएगा। कमलनाथ ने जनता से नहीं सीखा तो अब किशोर उन्हें पढ़ाएंगे। 

2024 के चुनावों से पहले किशोर के कांग्रेस में शामिल होने और उसमें सुधार करने के दावों पर विपक्षी दलों ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। इससे पहले, आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस पर निशाना साधा था, इसे “मृत घोड़ा” कहा था, जब किशोर ने सोनिया गांधी की अध्यक्षता में भव्य पुरानी पार्टी की बैठक में भाग लिया था। आप के नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य और पार्टी प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कांग्रेस की बैठक में किशोर की भागीदारी पर टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर पीटीआई समाचार एजेंसी से कहा, “मरे हुए घोड़े को कोड़े मारने का कोई मतलब नहीं है। कांग्रेस एक मरा हुआ घोड़ा है।”

जल्द होगा ट्रैक्टर-बुलडोजर का मुकाबला: टिकैत

जल्द होगा ट्रैक्टर-बुलडोजर का मुकाबला: टिकैत    

भानु प्रताप उपाध्याय           

मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बुलडोजर द्वारा की जा रही कार्रवाई पर बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा कि जिस तरह से एक धर्म विशेष को टारगेट किया जा रहा है, उससे इंटरनेशनल स्तर पर एक गलत मैसेज जा रहा है।इसके साथ टिकैत ने सरकार को तीन महीने के अंदर किसानों को 10 साल पुराने ट्रैक्‍टर बंद करने के आदेश पर भी घेरा है। उन्‍होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी में 10 साल पुराने लोग हैं पहले वो सरेंडर देंं। इसके साथ कहा कि अभी तो एक ही बुलडोजर चला है, लेकिन दिल्ली में 4 लाख ट्रैक्टर चले थे और लोग घबरा गए थे।

इसके साथ टिकैत ने कहा कि सरकार 10 साल पुराने ट्रैक्टरों को बंद करने की बात कह रही है। लेकिन बहुत जल्द ही ट्रैक्टर सड़कों पर आएंगे और बुलडोजर का मुकाबला होगा। दरअसल, शुक्रवार को भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत किसानों की समस्याओं को लेकर जिला कलेक्ट्रेट में जिलाधिकारी से मिलने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि बकाया ऋण के रूप में कुछ किसानों को डिफाल्टर घोषित करते हुए उनकी जमीन की नीलामी के बैंकों द्वारा नोटिस भेजे गये हैं। राकेश टिकैत ने डीएम चंद्रभूषण सिंह से आग्रह किया कि किसानों की समस्या को समझते हुए बैंकों से कार्रवाई रोकने के साथ ही समझौते के आधार पर मामले को निपटने के आदेश करें।

जहांगीरपुरी मामले पर कही ये बात...

इस दौरान जब राकेश टिकैत की दिल्ली जहांगीरपुरी हिंसा में धर्म विशेष के लोगों को टारगेट किए जाने की बात पूछी तो उन्‍होंने कहा कि धर्म विशेष को टारगेट किया जा रहा है और इसका इंटरनेशनल स्तर पर एक गलत मैसेज जा रहा है। साथ ही कहा कि सभी लोग बाहर से आए हुए हैं। हम भी तो जर्मनी से आए हैं। साथ ही कहा कि अब तो कोर्ट कचहरी में कहीं के भी कागज बनवा लो। मुजफ्फरनगर की कचहरी में तो आप कहीं पर भी पहचान पत्र और आधार कार्ड बनवा लो। इस तरह की घटनाओं से देश का विकास रुकता है, तो आपस में नफरत फैलती है। इन चीजों को छोड़कर सभी को अपने काम पर ध्यान देना चाहिए। बुलडोजर तो उन अधिकारियों पर चलना चाहिए। जिनके समय में अतिक्रमण हुआ है। फिलहाल, संविधान अलमारी में बंद है।

300 साल पुराने शिव मंदिर को जमींदोज किया

300 साल पुराने शिव मंदिर को जमींदोज किया   

नरेश राघानी             
अलवर। राजस्थान में अलवर जिले के राजगढ़ में 300 साल पुराने शिव मंदिर को बुलडोजर से जमींदोज कर दिया गया। शिवालय पर जूते पहनकर चढ़ने और मूर्तियों पर कटर मशीन चलाने से हिंदूवादी संगठन भड़क गए हैं। इसके विरोध में नगर पालिका के ईओ, एसडीएम और राजगढ़ विधायक के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज करवाने के लिए तहरीर दी गई है। लेकिन अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है।

इसको लेकर बीजेपी भी कांग्रेस की गहलोत सरकार पर हमलावर है। बीजेपी नेशनल आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय ने कहा है कि हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना ही कांग्रेस का सेक्युलरिज्म है। मालवीय ने अपने ट्वीट में लिखा, ''राजस्थान के अलवर में विकास के नाम पर तोड़ा गया 300 साल पुराना शिव मंदिर करौली और जहांगीरपुरी पर आंसू बहाना और हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना- यही है कांग्रेस का सेक्युलरिज्म।'' इसके बाद एक और ट्वीट में मालवीय ने कहा, ''18 अप्रैल को राजस्थान के राजगढ़ कस्बे में बिना नोटिस प्रशासन ने 85 हिंदुओं के पक्के मकानों और दुकानों पर बुलडोजर चला दिया।''

अमृत महोत्सव के तहत स्वास्थ्य मेले का आयोजन

अमृत महोत्सव के तहत स्वास्थ्य मेले का आयोजन  

भानु प्रताप उपाध्याय             

मुजफ्फरनगर। आज़ादी के अमृत महोत्सव के तहत स्वास्थ्य विभाग द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) बघरा, बुढ़ाना में स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन केंद्रीय मंत्री डॉ. संजीव बालियान ने किया। शाहपुर व चरथावल में जिला पंचायत अध्यक्ष डॉ. वीरपाल निर्वाल ने मेले का उद्घाटन किया। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोविड टीकाकरण, नियमित टीकाकरण, खून की जाँच, मलेरिया की जाँच, सामान्य औषधि, आयुष्मान कार्ड, आभा आईडी कार्ड, परिवार नियोजन की सुविधा निशुल्क उपलब्ध करायी गयी। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग, शिक्षा विभाग, कृषि विभाग आदि के द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के बारे में प्रदर्शनी लगाकर जानकारी दी गयी।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री डॉ. संजीव बालियान ने कहा प्रदेश सरकार द्वारा स्वास्थ्य संबंधित कई योजनाएं चलायी जा रही हैं, जिससे ग्रामीण क्षेत्र के लोगों अच्छा इलाज मिल रहा है। मेले में कोई भी व्यक्ति चिकित्सक से परामर्श कर दवा ले सकता है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने बताया, मेले के दौरान स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग की ओर से चलाई जा रही योजनाओं व कार्यक्रमों के प्रति जागरूकता बढ़ाने पर जोर दिया गया। मेले में सामान्य चिकित्सा, मातृ स्वास्थ्य, बाल स्वास्थ्य, टीकाकरण, परिवार नियोजन परामर्श, मोतियाबिंद की जांच, कान, नाक एवं गले, दांतों की जांच, त्वचा की जांच, पोषण के लिए परामर्श, एड्स नियंत्रण के लिए परामर्श, कुष्ठ नियंत्रण, टीबी नियंत्रण, मलेरिया की जांच सुविधा उपलब्ध रही। हजारों लोगों ने स्वास्थ्य मेले का लाभ लिया।

खालिद के भाषण को अप्रिय व उकसाने वाला बताया

खालिद के भाषण को अप्रिय व उकसाने वाला बताया    

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली दंगों से संबंधित षड्यंत्र मामलें के आरोपी उमर खालिद की एक याचिका की शुक्रवार को सुनवाई करते हुए नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) विरोधी आंदोलन के दौरान दिये गए उसके भाषण को अप्रिय और उकसाने वाला बताया। न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल और रजनीश भटनागर की खंडपीठ ने उमर खालिद के 17 मार्च 2020 के भाषण के एक विशेष वाक्य को संज्ञान में लेते हुए कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर इस तरह का भाषण देना दुनिया के किसी भी कोने में स्वीकार्य नहीं होगा। दिल्ली पुलिस ने उमर खालिद(34) को सितंबर 2020 में गिरफ्तार कर उन पर उसे गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) की धाराएं लगाई थीं। पुलिस ने आरोप लगाया कि दिल्ली दंगे एक "पूर्व नियोजित, गहरी साजिश का हिस्सा थे जो उमर खालिद और अन्य लोगों द्वारा रची गई थी।"

उमर खालिद ने निचली अदालत के उस आदेश को चुनौती देते हुए उच्च न्यायालय का रुख किया, जिसमें उसे जमानत नहीं दी गई थी। निचली अदालत ने पिछले महीने यह कहते हुए जमानत देने से इनकार कर दिया था कि उसके खिलाफ यूएपीए "प्रथम दृष्टया" सही था।उच्च न्यायालय की खंडपीठ ने उसके कृत्यों की समग्रता से जांच करते हुए कहा कि यह पता लगाना महत्वपूर्ण है कि दिल्ली की अदालत ने उसे जमानत देने से क्यों इनकार कर दिया, और उसके भाषण को उसके सामने रखने के लिए कहा। उमर खालिद सीएए-विरोधी प्रदर्शन के एक व्हाट्सऐप ग्रूप का हिस्सा था।

उमर खालिद के बचाव में उसके वकील ने कहा कि जिस अपराध के लिए उनके मुवक्किल को दोषी ठहराया जा रहा है, उस घटना के समय वह दिल्ली में मौजूद भी नहीं था।उन्होंने कहा, "पूरी दिल्ली में सारी हिंसा की लगभग 750 प्राथमिकियां दर्ज की गयीं। अचानक छह मार्च की यह ताजा प्राथमिकी आती है और उस प्राथमिकी में उमर खालिद का नाम आता है। उसमें जमानती अपराध थे। उस प्राथमिकी में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था।"अदालत ने पूछा, "आरोप पत्र दायर किया गया है? तो कौन सी धाराएं हैं जिनके साथ आप पर आरोप लगाया गया है?" वकील ने जवाब दिया कि आरोप तय नहीं किए गए हैं। जब फिर से आरोपों के बारे में सवाल किया गया, तो वकील ने कहा, "अफवाह ,माई लॉर्ड।"

उमर खालिद के वकील ने बताया कि सिर्फ एक भाषण था। पुलिस उस भाषण के लिए अनुरोध करने वाले टीवी चैनलों के पास गई। चैनलों ने उन्हें बताया कि उन्हें यह एक राजनेता से मिला है। यह भाषण अमरावती में दिया गया था। उन्होंने कहा, "इसके अलावा कोई और भाषण नहीं था। भाषण हिंदी में है। विशेष अदालत ने यह निष्कर्ष तक नहीं दिया कि यह भाषण भड़काऊ है।"इसके बाद खंडपीठ ने भाषण के मजमून की मांग की जिसे हिन्दी में अदालत के सामने पढ़ा गया।
उमर खालिद ने अपने भाषण में अमरावती को अपना घर बताते हुए कहा था कि उसे इस 'घर वापसी' से कोई समस्या नहीं है, लेकिन उसे दूसरे 'घर वापसी' से समस्या है। उसके वकील ने मजमून पढ़कर बताया कि अपने भाषण में उमर खालिद ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान आरएसएस और हिंदू महासभा के ब्रिटिश सरकार के साथ कथित संबंधों का जिक्र किया था और शाहीन बाग में उन सभी महिलाओं को धन्यवाद दिया था जो उनके खिलाफ दुष्प्रचार के बावजूद प्रदर्शन पर बैठी थीं। वकील ने भाषण का अशं पढ़ा। जिसमें लिखा था, "आतंक के उस दौर में, अगर किसी ने बाहर निकलने की हिम्मत की, तो वह शाहीन बाग की महिलाएं थीं। उन्होंने शाहीन बाग को बदनाम करने की कोशिश की, लेकिन शाहीन बाग को चुप नहीं कराया जा सका।”
खंड पीठ ने यहां बात रोकते हुए कहा, "इन अभिव्यक्तियों का इस्तेमाल किया जा रहा है, क्या आपको नहीं लगता कि यह लोगों को उत्तेजित करती हैं? आपको नहीं लगता कि 'जब आपके पूर्वज अंग्रेजी की दलाली कर रहे थे' भड़काऊ भाषा है?" अदालत ने कहा, "इससे यह आभास होता है कि केवल एक समुदाय अंग्रेजों के खिलाफ लड़ रहा था। क्या गांधीजी ने कभी ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया था? क्या भगत सिंह ने कभी इसका इस्तेमाल किया था? क्या गांधीजी ने हमसे यही कहा था? हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के साथ कोई समस्या नहीं है। लेकिन यह भाषा क्या है? क्या स्वतंत्र भाषण इन बयानों को बढ़ा सकता है? क्या यह 153 ए और 153 बी के प्रावधानों के साथ मेल खाता है?"
न्यायालय ने कहा, "हमें आश्चर्य नहीं है कि प्राथमिकी भाषण के इस हिस्से पर आधारित है। प्रथम दृष्टया यह स्वीकार्य नहीं है। यह लोकतंत्र और स्वतंत्र भाषण संसार के किसी भी कोने में स्वीकार्य नहीं है।अदालत ने सुनवाई की अगली तारीख 27 अप्रैल को मुकर्रर करते हुए कहा, "अगली तारीख पर, कृपया हमें इस मुद्दे पर भारतीय न्यायशास्त्र बतायें।"

अगले 4-5 साल के दौरान 1 लाख लोगों को रोजगार

अगले 4-5 साल के दौरान 1 लाख लोगों को रोजगार  

अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शुक्रवार को कहा कि ड्रोन सेवा क्षेत्र में अपार संभावनाएं है और यह क्षेत्र अगले चार-पांच साल के दौरान लगभग एक लाख लोगों को रोजगार देगा। सिंधिया ने इंडो-अमेरिकन चैंबर ऑफ कॉमर्स (आईएसीसी) के एक कार्यक्रम में कहा, हमने ड्रोन क्षेत्र के लिए उत्पादन से जुड़ी एक योजना शुरू की है। जिसमे 60 करोड़ रुपये के कारोबार वाले ड्रोन विनिर्माण उद्योग को अगले तीन वर्षों में 120 करोड़ रुपये का प्रोत्साहन दिया जाएगा।

सिंधिया ने कहा, ड्रोन क्षेत्र में तेजी से विस्तार हो रहा है और इसके विनिर्माण में लगभग 5,000 करोड़ रुपये के निवेश की हम उम्मीद कर रहे हैं। ड्रोन सेवा क्षेत्र में हम अगले चार से पांच साल में 1,00,000 नौकरियों सृजित होने की उम्मीद कर रहे हैं। इस क्षेत्र में अपार संभावनाएं है।

शरीर को ताकतवर बनाने में बेहद कारगर हैं 'कंटोला'

शरीर को ताकतवर बनाने में बेहद कारगर हैं 'कंटोला'  

सरस्वती उपाध्याय            
आयुर्वेद में कंटोला को औषधि माना जाता है। इसके सेवन से कई बीमारियों में लाभ होता है और शरीर को ताकतवर बनाने में बेहद कारगर हैं। इसमें प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स, विटानिंस, कैल्शियम, मैग्नेशियम, पोटैशियम, सोडियम, कॉपर और जिंक समेत सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं। आप इसे सब्जी या अचार के तौर पर खा सकते हैं।
आजकल की भागदौड़ भरी और बदलती जीवनशैली में स्वस्थ रहने के लिए खानपान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। आज के इस लेख में हम आपको एक ऐसी सब्जी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके सेवन से आपके शरीर को सभी जरूरी पोषक तत्व मिल सकते हैं। इस सब्जी का नाम है कंटोला। इसे काकरोल, ककोड़ा, मीठा करेला और पपोरा आदि नामों से भी जाना जाता है। आयुर्वेद में इस सब्जी को औषधि माना जाता है। इसके सेवन से कई बीमारियों में लाभ होता है और शरीर ताकतवर बनता है। इसमें प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स, विटानिंस, कैल्शियम, मैग्नेशियम, पोटैशियम, सोडियम, कॉपर और जिंक समेत सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं। आप इसे सब्जी या अचार के तौर पर खा सकते हैं। आज के इस लेख में हम आपको कंटोला खाने के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

पेट की बीमारियों से छुटकारा...

कंटोला खाने से पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है। इससे गैस कब्ज और अपच जैसी समस्याएं दूर होती हैं। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाने में भी मदद करते हैं।

वेट लॉस में मददगार...

कंटोला में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और आयरन होता है‌।उस केस में कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है। कंटोला की सब्जी खाने से वजन घटाने में मदद मिलती है।

ब्लड प्रेशर नियंत्रित करे...

बीपी के मरीजों के लिए भी कंटोला का सेवन बेहद फायदेमंद होता है। इसमें मेमोरडीसन और फाइबर की भरपूर मात्रा मौजूद होती है। जिससे ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

कैंसर से बचाव...

कंटोला के सेवन से कैंसर से बचाव होता है। इसमें ल्यूटेन जैसे कैंसर रोधी तत्व पाए जाते हैं। जो कैंसर से बचाव करने में मदद करते हैं।

आँखों के लिए फायदेमंद...

कंटोला का सेवन करने से आंखों को भी लाभ होता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन-ए पाया जाता है। जिससे आंखों की रोशनी बढ़ती है। इसके अलावा, कंटोला को खाने से आंखों में जलन, धुंधलापन और खुजली की समस्या से भी निजात मिलता है।

त्वचा के लिए लाभकारी...

कंटोला का सेवन हमारी त्वचा के लिए भी लाभकारी है। इसमें बीटा कैरोटीन और ल्यूटेन जैसे तत्व मौजूद होते हैं को बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं।

मुठभेड़: 2 आतंकी ढेर, 1 जवान शहीद हुआ

मुठभेड़: 2 आतंकी ढेर, 1 जवान शहीद हुआ  

इकबाल अंसारी
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच जारी मुठभेड़ में शुक्रवार को दो आतंकी ढेर हो गए‌।इस मुठभेड़ में एक सुरक्षाबलों का एक जवान भी शहीद हो गया और चार घायल हुए हैं। जम्मू जोन के एडीजीपी मुकेश सिंह ने समाचार एजेंसी से कहा है कि हुई मुठभेड़ में कुल दो आतंकवादी मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि हमने घेराबंदी कर इलाका खाली करा दिया है। मुठभेड़ जारी है। ऐसा लग रहा है कि आतंकी घर में छिपे हुए हैं।
बताया जा रहा है कि विजयपुर के पल्ली गांव में प्रधानमंत्री के दौरे से ठीक पहले सुरक्षा एजेंसियों द्वारा पकड़े गए संदिग्धों के तार देश विरोधी गतिविधियों से जुड़े हैं। 
23 जनवरी 2021 को बार्डर आउट पोस्ट पानसर में मिली टनल मामले में देश विरोधी गतिविधियों के तहत दर्ज एफआईआर में दोनों के नाम शामिल कर लिए गए हैं। एफआईआर संख्या 8/2021 के तहत आईपीसी की धारा 120 बी,122,121 ए और 16/18/38 यूएलए(पी) के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है।
अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे इलाकों में कुछ लोगों की संदिग्ध मूवमेंट के भी लगातार इनुपट मिल रहे थे जिसके बाद पुलिस, सीआरपीएफ और एसओजी ने आईबी से सटे गांव लच्छीपुर, ग्याल बंड, महेशे चक, मंडाला में तलाशी अभियान चलाया। दबिश के दौरान पांच लोगों को संदिग्ध मूवमेंट में पकड़ा गया, जिसमें से तीन को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया जबकि दो को जांच के लिए जम्मू भेज दिया गया। वीरवार को सुबह दोनों को वापिस राजबाग थाने लाया गया, जिसके बाद उनके खिलाफ देश द्रोह सहित आधा दर्जन मामलों में एफआईआर दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी गई है।

पीएम जगन्नाथ के साथ राज्यपाल-सीएम की बैठक

पीएम जगन्नाथ के साथ राज्यपाल-सीएम की बैठक  

संदीप मिश्र         
वाराणसी। मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ तीन दिवसीय यात्रा पर शुक्रवार को वाराणसी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बैठक कर रहे हैं। होटल ताज गैंगेज में शुक्रवार को करीब दस बजे यह बैठक शुरू हो गई। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ एक दिन पूर्व ही वाराणसी आ गए थे। वहीं, मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद संग राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल ने भी होटल पहुंचकर मुलाकात की। 
इस दौरान दोनों देशों के आधिकारिक प्रतिनिधि भी मौजूद रहे। वहीं सुबह 11.30 बजे बैठक समाप्‍त हो गई तो सीएम योगी आदित्‍यनाथ और पीएम प्रविंद जगन्‍नाथ बाबतपुर एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी ताज होटल पहुंचे और मारीशस के पीएम के साथ मुलाकात की। इस दौरान भारत और मारीशस के झंडों को ताज होटल और आसपास के क्षेत्रों में लगाया गया है। भारत और मारीशस के संबंधों की थीम पर साज सज्‍जा के साथ ही पारंपरिक तरीके से कलाकारों द्वारा सांस्‍कृतिक कार्यक्रम प्रस्‍तुत कर मारीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्‍नाथ का स्‍वागत किया गया। 
वाराणसी में राज्‍यपाल और मुख्‍यमंत्री संग बैठक के बाद प्रविंद जगन्‍नाथ तीन दिवसीय वाराणसी दौरे के बाद यहां से रवाना हो जाएंगे। प्रशासनिक सूत्रों के मुताबिक बैठक का विषय शासन स्‍तर से स्पष्ट नहीं किया गया है, लेकिन सांस्कृतिक सहयोग और व्यापारिक- औद्योगिक गतिविधियों संग दोनों देशों के अलावा वाराणसी से पर्यटन को बढ़ावा देने के मुद्दों पर बातचीत केंद्रित हो सकती है। मारीशस के पीएम संग राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल ने भी मुलकात की और दोनों देशों के संबंधों पर विमर्श किया। इसके बाद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उनके साथ बैठक कर दोनों देशों के साथ ही उत्‍तर प्रदेश संग मारीशस के संबंधों को लेकर मंथन करने के साथ व्‍यापारिक व पर्यटन के साथ सांस्‍कृतिक संबंधों को और मजबूत करने की संभावनाओं की पड़ताल की।

महिलाओं के रिलेशनशिप के लिए एक गलत दृष्टिकोण

महिलाओं के रिलेशनशिप के लिए एक गलत दृष्टिकोण  

कविता गर्ग           

मुंबई।‌‌ बॉलीवुड अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा का मानना है कि भारत में महिलाओं के रिलेशनशिप के लिए एक गलत दृष्टिकोण है। लोग किसी महिला के लिए कम उम्र के पुरुष को डेट करना अक्सर अपवित्र मानतें हैं। अदाकारा ने भी कहा कि जब कोई महिला अपने से कम उम्र के लड़के को डेट करती हैं तो उसे ‘डेस्पेरेट’ ‘मौक़ापरस्त’ और ‘बुड्ढी’ कहा जाता है। बता दें कि मलाइका अरोड़ा बॉलीवुड की बिंदास अदाकारा में गिनी जाती हैं। उनका स्टाइल और उनका हाजिर जवाबी वाला अंदाज लोगों को काफी पसंद है। वह हमेशा से एक निडर शख्सियत रही हैं, जिन्होंने ट्रोलिंग और बेवजह आलोचना के बावजूद अपना सिर ऊंचा रखा है।को अक्सर उनके फैशन सेंस और अपने से छोटे एक्टर अर्जुन कपूर को डेट करने के लिए ट्रोल किया जाता है।

बता दें कि मलाइका तलाकशुदा हैं और वह एक बेटे की मां भी हैं। मलाइका अरोड़ा की शादी अरबाज खान से हुई थी। हालांकि शादी के 19 साल बाद कपल ने तलाक लेने का फैसला किया था। इसके बाद मलाइका अरोड़ा और अर्जुन कपूर के रिश्ते की चर्चाएं शुरू हो गई थीं। मलाइका-अरबाज से एक बेटा भी है।

‘हेलो’ के साथ बातचीत में मलाइका ने अपनी पर्सनल लाइफ पर बात करते हुए कई सवालों का बिंदास जवाब दिया। अदाकारा ने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि हमारे देश में महिला संबंधों के लिए एक गलत दृष्टिकोण हैै। रिपोर्ट के अनुसार, मलाइका ने कहा, “ब्रेकअप या तलाक के बाद महिलाओं का जीवन होना बहुत जरूरी है। हमारे देश में महिला संबंधों के लिए एक गलत धारणा बनी हुई है। किसी महिला के लिए कम उम्र के पुरुष को डेट करना अक्सर अपवित्र माना जाता हैै। ने आगे कहा कि तलाक के बाद महिलाओं के जीवन में ये जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि वह एक मजबूत महिला हैं और अब बदलाव आ रहा है। उन्होंने कहा, “मैं यह सुनिश्चित करने के लिए खुद पर काम करती हूं कि मैं हर दिन मजबूत, फिट और खुश हूं।

जैसा कि सब जानते हैं कि मलाइका अपने बॉयफ्रेंड अर्जुन कपूर से उम्र में बड़ी हैं। ऐसे में जब उनसे एक बार पूछा गया कि क्या दोनों के बीच उम्र का फासला उनके रिश्ते को अलग बनाता है। इस बॉलीवुड ब्यूटी क्वीन ने कहा था कि इससे उन्हें और अर्जुन को कोई फर्क नहीं पड़ा, लेकिन समाज पूरी तरह से अलग मामला है।मलाइका कहती हैं, “दुर्भाग्य से, हम ऐसे समाज में रहते हैं जो समय के साथ प्रगति करने से इंकार कर देता है। छोटी लड़की के साथ रोमांस करने वाले एक बड़े आदमी की हर जगह प्रशंसा होती है, लेकिन जब महिला बड़ी हो जाती है, तो उसे ‘डेस्पेरेट’ ‘मौक़ापरस्त’ और ‘बुड्ढी’ कहा जाता है। ऐसा सोचने वाले लोगों के लिए मेरे पास बस एक ही लाइन है, टेक ए फ्लाइंग।

परीक्षा: 23 से प्रारंभ होगा कॉपियों का मूल्यांकन

परीक्षा: 23 से प्रारंभ होगा कॉपियों का मूल्यांकन    

संदीप मिश्र       

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UPMSP) द्वारा हर साल कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। इस साल यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षा कुछ देरी के साथ 24 मार्च 2022 से शुरू होकर 13 अप्रैल 2022 तक चली थी। यूपी बोर्ड रिजल्ट से जुड़े सभी अपडेट्स upmsp.edu.in पर चेक करते रहें। यूपी बोर्ड प्रैक्टिकल परीक्षा 2022 शुरू हो चुकी है। इस साल प्रैक्टिकल परीक्षाओं को दो चरणों में थ्योरी एग्जाम के सेंटर पर ही आयोजित किया जा रहा है। वहीं, यूपी बोर्ड परीक्षा 2022 की कॉपियों का मूल्यांकन प्रोसेस कल यानी 23 अप्रैल, 2022 से शुरू हो जाएगा।

इसके लिए बोर्ड ने कई गाइडलाइंस जारी की हैं। सभी शिक्षकों को इनका अनिवार्य रूप से पालन करना होगा‌। यूपी बोर्ड रिजल्ट (UP Board Results 2022) मई 2022 में upmsp.edu.in पर अपलोड किया जाएगा।

यूपी बोर्ड माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार, यूपी बोर्ड परीक्षा 2022 में शामिल हुए स्टूडेंट्स को एक्सट्रा मार्क्स मिलेंगे। पॉइंट्स में समझिए पूरा मामला।
1- बोर्ड परीक्षा में कुछ सवाल गलत थे, जिनके बदले में परीक्षार्थी को पूरे अंक दिए जाएंगे।
2- इस साल अच्छी हैंडराइटिंग के लिए भी स्टूडेंट्स को एक्सट्रा मार्क्स दिए जाने की बात सामने आई है।
3- यूपी बोर्ड परीक्षा की कॉपियों को स्टेप प्रोसेस में जांचा जाएगा। अगर 5 नंबर के सवाल में किसी छात्र ने दो स्टेप्स भी सही लिखे हैं तो उसे दो नंबर दिए जाएंगे।

आरक्षण का मुद्दा, भाजपा सरकार पर निशाना

आरक्षण का मुद्दा, भाजपा सरकार पर निशाना   

संदीप मिश्र         
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव  ने आरक्षण के मुद्दे पर भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए शुक्रवार को एक ट्वीट किया। अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा ‘ भाजपा की आरक्षण विरोधी सोच और नीति का स्वयं भंडाफोड़ करते हैं ये सरकारी तथ्य। अधिकतम आरक्षित पद रिक्त- विभिन्न विभागों में पदोन्नति में आरक्षण के आंकड़ों का अपर्याप्त संकलन,
ग्रुप ए से सी तक आरक्षित पदों में भी निर्धारित से कम नियुक्ति, उच्च पदों पर नाममात्र का प्रतिनिधित्व।
इससे पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा और आरएसएस पहले सबको धर्म के आधार पर भड़काते हैं। 
बहुसंख्यक समाज की भावनाओं के साथ खेलते हैं। बड़ी मुश्किल से भारत एक लोकतांत्रिक और पंथनिरपेक्ष, समाजवादी देश बन पाया है। संविधान में सबको एक समान नागरिक अधिकार दिए गए हैं। भाजपा इस सामाजिक तानाबाना को तोड़ने में लगी है। हिन्दू-मुस्लिम की गंगा-जमुनी तहजीब को भाजपा खण्डित करने का प्रयास कर रही है।
उन्होंने कहा कि अपनी एकाधिकारी सत्ता के लिए लालायित भाजपा सरकार छलबल और सत्ता की ताकत से विपक्ष की विरोध और असहमति की आवाजों को भी दबाना चाहती है। मीडिया को अपने साथ करने के लिए चौथे स्तम्भ पर भी दबाव बनाया जाता है। भाजपाई आईटी सेल अफवाहें फैलाकर नफरत की चिंगारी को हवा देने का काम करती है। अखिलेश यादव ने कहा कि अयोध्या के बीकापुर में पत्रकार पर लाठी डंडों से हमलाकर उसे गम्भीर रूप से घायल कर दिया गया।
मिर्जापुर में मिड-डे-मील का सच दिखाने पर जेल में डाल दिया गया। लखीमपुर खीरी के बहुचर्चित काण्ड में भी एक पत्रकार की मौत हुई थी। बलिया में पत्रकार की हाईस्कूल, इंटर बोर्ड की परीक्षा का एक प्रश्नपत्र लीक होने की खबर देने पर गिरफ्तारी की गई। चंदौली में एक पत्रकार को धरने पर बैठना पड़ा। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि स्पष्ट है कि भाजपा राज का यही चरित्र है कि वह अपने विराधी को फूटी आंखो नहीं देखना चाहती है।

सीएम ने नवीन कार्यालय भवन का लोकार्पण किया

सीएम ने नवीन कार्यालय भवन का लोकार्पण किया   

दुष्यंत टीकम         
रायपुर। जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र के नवीन कार्यालय भवन का मुख्यमंत्री ने लोकार्पण किया। इस दौरान कार्यक्रम में उद्योगपतियों की मांग पर सीएम ने दुर्ग में भी रायपुर की तरह होलसेल कॉरिडोर बनाने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने दुर्ग कलेक्टर को इसके लिए जमीन चिन्हांकन के निर्देश दिए। कार्यक्रम में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ.शिवकुमार डहरिया और राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष अरूण वोरा सहित अनेक जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे।
श्री बघेल ने कहा कि दुर्ग औद्योगिक जिला है, लेकिन देश मे औद्योगिक केंद्र की पहचान भिलाई से है। बीएसपी की स्थापना के बाद यहां उद्योगों की शुरुआत हुई। दुर्ग के निर्माण में यहां के उद्योगों की बड़ी भूमिका है। बीच के दौर में निजीकरण का दौर चला और श्रमिकों की मांग घटी। तकनीक का असर पड़ा है। बीएसपी प्रदेश के उद्योगों के लिए रीढ़ की तरह है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि दुर्ग जिला सब्जी और फल का भी हब रहा है। यहां के किसान ऐसी क्रॉप भी उगा रहे हैं जिनकी मांग विदेशों में भी है। उद्योगपतियों के साथ बैठकों के बाद हमने उद्योग नीति बनाई, जिसमें सभी राज्यों की अच्छी नीतियों का समावेश रहा। कोरोना काल मे लगातार मै उद्योग संगठनों से मिलता रहा, उनकी समस्याएं जानी और इसका निराकरण किया। हमने प्रदेश के उन क्षेत्रों में भी उद्योग प्रसार की नीति अपनाई जहां पर उद्योग कम थे। मैंने फाइनल ड्राफ्ट बनने के बाद भी उद्योगपतियों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि इस नीति में एनपीए नहीं होगा।
श्री बघेल ने कहा कि जब उद्योग की बात आती है तो रोजगार के उद्देश्य से इसकी मांग होती है लेकिन कई बार स्थानीय स्तर पर विरोध भी होता है। हमने स्थानीय लोगों से कहा कि स्थानीय स्तर पर रोजगार हो तो आपको पलायन की जरूरत नहीं पड़ेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना काल के दौरान ऐसे स्थल के लोगों से बात हुई जहाँ काफी संख्या में श्रमिकों को वापस लाया गया था। हमने उन्हें बताया कि स्थानीय स्तर पर उद्योग के कार्य हो सकें, इसके लिए हमने ऑरेंज एरिया चिन्हांकित किये। चैम्बर के अधिकारियों से बस्तर में बैठक ली। उन्हें बताया कि जब आप उद्योग लगाएं तो स्थानीय स्तर पर सर्वे कर उद्योग की जरूरत की मुताबिक लोगों का कौशल उन्नयन करें, जब लोगों को उद्योगों में रोजगार के अवसर दिखेंगे, तो वे लोग उद्योगों का समर्थन करेंगे क्योंकि अब उनके लिए आपके पास रोजगार की संभावना है।
मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन के दौरान मिलर्स के लिए किए गए कार्यों को भी रेखांकित किया। मिलिंग के चार्ज को बढ़ा दिया गया। संग्रहण केंद्रों में नाममात्र का धान रह गया है। हमने ग्रामीण क्षेत्रों में गौठान को भी ग्रामीण उद्योग के रूप में बदला है और रूरल इंडस्ट्रियल पार्क के रूप में इसे विकसित करने की दिशा में काम कर रहे हैं। आप अपने व्यावसाय और उद्योग की जरूरत के मुताबिक यहां काम करने वाले स्व सहायता समूहों से उत्पाद बनवा सकते हैं। आपके उद्योगों के लिए इन रूरल पार्क से काफी मदद मिल सकती है। आप लोग विजनरी हैं, सरकार की पूरी सहायता आपके साथ हैं। आप आगे बढ़े, प्रदेश का औद्योगिक परिदृश्य शानदार रूप से उन्नत होगा।
मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से हुई अपनी चर्चा का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ऊर्जा परिदृश्य में काफी संभावना है। हमने कहा कि धान से एथेनॉल बनाने की अनुमति मिलने पर इस उद्योग के लिए बड़ा काम हो सकता है। किसान उन्मुखी नीतियों का लाभ बाजार को मिला है और शहरी अर्थव्यवस्था भी इससे लाभान्वित हुई है। कोर सेक्टर और इससे बाहर हम सबको अवसर देंगे। हमारे उद्योगपति ही हमारे उद्योग के ब्रांड एम्बेसडर हैं। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान उद्योगपतियों से सीधी बातचीत की।

गूगल ने अपनी प्ले स्टोर पॉलिसी को अपडेट किया

गूगल ने अपनी प्ले स्टोर पॉलिसी को अपडेट किया   

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। एंड्रॉयड फोन पर कॉल रिकॉर्डिंग जल्द ही बंद होने वाली है। लेकिन ये पूरी तरह से नहीं होगी। गूगल (Google) ने हाल ही में अपनी प्ले स्टोर पॉलिसी को अपडेट किया है। जिसमें कई बदलाव किए गए है। गूगल प्ले-स्टोर पर फ्री में कई सारे कॉल रिकॉर्डिंग वाले एप्स उपलब्ध हैं, लेकिन पिछले कुछ महीनों से गूगल ने कॉल रिकॉर्डिंग शुरू होते ही यूजर्स को अलर्ट देना शुरू कर दिया है और अब खबर है कि कंपनी इसे पूरी तरह से बंद करने जा रही है। इसकी शुरुआत 11 मई 2022 से होगी।
इसके बावजूद यदि आपके फोन में कॉल रिकॉर्डिंग की सुविधा है तो आप आराम से कॉल रिकॉर्ड कर सकेंगे, लेकिन किसी दूसरे एप के जरिए कॉल रिकॉर्ड नहीं कर पाएंगे। एक रेडिट यूजर के दावे के मुताबिक गूगल जल्द एक अपडेट जारी करेगा। जिसके बाद एंड्रॉयड फोन में कॉल रिकॉर्डिंग बंद हो जाएगी। बता दें कि आईफोन में कॉल रिकॉर्डिंग की सुविधा पहले से ही नहीं है। गूगल की नई पॉलिसी 11 मई से प्रभावी होगी। जिसके बाद एंड्रॉयड फोन पर थर्ड पार्टी कॉल रिकॉर्डिंग बंद हो जाएगी।
यह पहली बार नहीं है, जब गूगल ने कॉल रिकॉर्डिंग को बंद करने की कोशिश की है। इससे पहले एंड्रॉयड 10 के साथ गूगल ने अपने फोन से कॉल रिकॉर्डिंग का फीचर हटा दिया था। गूगल का कहना है कि यूजर्स की प्राइवेसी और सिक्योरिटी के लिहाज से फोन में कॉल रिकॉर्डिंग का होना ठीक नहीं है।

चार्ज करने पर 85 किलोमीटर तक चलेगा स्कूटर

चार्ज करने पर 85 किलोमीटर तक चलेगा स्कूटर    

अकांशु उपाध्याय        
नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के कारण कार से यात्रा करना मुश्किल हो गया है। ऐसे में लोग इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर रुख कर रहे हैं। इलेक्ट्रिक वाहनों की स्पीड को लेकर लोगों के मन में कई तरह की दुविधाएं रहती हैं।
इन दुविधाओं को दूर करने के लिए हम आपको तीन सुपरफास्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर के बारे में बताते हैं, जो 78- 115 किमी प्रति घंटे तक की शानदार गति प्रदान करते हैं। आइए जानते हैं उनकी खासियतें।
एथर 450X एक ऐसा स्कूटर है, जिसकी कीमत 1 किमी की यात्रा के लिए केवल 35 पैसे है। इसकी स्पीड की बात करें तो 90 kmph की बेहतरीन स्पीड मिलेगी। वहीं, आप इसे दिल्ली एक्स-शोरूम 1,32,426 रुपये में खरीद सकते हैं। यह एक बार चार्ज करने पर 85 किलोमीटर तक चलेगा।
TVS iQube की टॉप स्पीड 78 kmph होगी। इसकी एक्स शोरूम कीमत 1,00,777 रखी गई है। यह बिना फुल चार्ज किए आराम से 75 किलोमीटर तक का सफर तय करेगी। इस इलेक्ट्रिक स्कूटर में 2.5 kWh की बैटरी है। वहीं, 1 किमी चलने में 30 पैसे का खर्च आता है।
Ola S1 Pro भारतीय बाजार में सबसे तेज गति वाले स्कूटरों में से एक है। इसकी एक्स शोरूम कीमत 1,10,149 रुपये रखी गई है. यह स्कूटर 115 किमी प्रति घंटे की टॉप स्पीड प्रदान करता है। इसमें 3.97 kWh की बैटरी दी गई है। महज 25 पैसे प्रति किलोमीटर की रफ्तार से चलने वाला यह स्कूटर एक बार फुल चार्ज करने पर 135 तक चलता है।

दिल्ली: कोविड-19 संबंधी दिशा-निर्देश जारी कियें

दिल्ली: कोविड-19 संबंधी दिशा-निर्देश जारी कियें  

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को स्कूलों के लिए कोविड-19 संबंधी दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि छात्रों तथा कर्मचारियों को बिना थर्मल स्कैनिंग के स्कूल परिसर में प्रवेश करने नहीं दिया जाए। इसमें यह भी कहा गया है कि अभिभावकों को सलाह दी जानी चाहिए कि वे बच्चों के कोरोना वायरस संक्रमित पाए जाने पर उन्हें स्कूल न भेजें।
सरकार ने कहा, छात्रों को भोजन और स्टेशनरी का सामान साझा करने से बचने का निर्देश दिया जाए। राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कुछ दिनों में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि देखी गयी है। दिल्ली में बृहस्पतिवार को संक्रमण के 965 नए मामले आए। बुधवार को कोरोना वायरस के 1,009, मंगलवार को 632 और सोमवार को 501 मामले आए थे।

एयरटेल ने 4 पोस्टपैड प्लान्स में बदलाव किया

एयरटेल ने 4 पोस्टपैड प्लान्स में बदलाव किया    

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। एयरटेल अपने ग्राहकों के लिए अनलिमिटेड कॉलिंग, डाटा और ओटीटी प्‍लेटफॉर्म का फायदा देता है। कंपनी कम से लेकर अधिक वैधता वाले प्‍लान की पेशकश करती है। अब एयरटेल ने अपने पोस्‍टपैड ग्राहकों को झटका दिया है। कंपनी एयरटेल ने चार पोस्टपैड प्लान्स में बदलाव किया है। जिसके तहत 1 साल के लिए दिया जाने वाला फ्री Amazon Prime Video सब्‍सक्रिप्‍शन की वैधता अब सिर्फ 6 महीने कर दी गई है। वहीं, इसमें मिलने वाला डेटा, कॉलिंग और अन्‍य सुविधाएं पहले की तरह ही रहेंगी। इसके अलावा इस प्‍लान में इन प्‍लान्‍स में एक साल के लिए Disney + Hotstar का सब्‍सक्रिप्‍शन भी दिया जा रहा है। आइए जानते है, ये कौन-कौन से हैं प्‍लान और इनके फायदे।
6 महीने के लिए प्राइम वीडियो का सब्‍सक्रिप्‍शन
एयरटे इस प्‍लान में अनलिमिटेड कॉलिंग ऑफर करता है। 
साथ ही इसमें ग्राहकों 75GB डाटा दिया जाता है, जिसे 200GB तक रोलओभर किया जा सकता है। साथ ही 100 SMS हर दिन और 6 महीने के लिए प्राइम वीडियो का सब्‍सक्रिप्‍शन दिया जा रहा है। इसके अलावा एक साल के लिए Disney + Hotstar, शॉ अकाडमिक लाइफटाइम एक्‍सेस और Wynk प्रीमियम के साथ और भी बहुत कुछ दिया जाता है।
999 रुपये का प्‍लान।
इस प्‍लान में भी संशोधन किया गया है। जिसमें अनलिमिटेड कॉलिंग के साथ ही 150GB तक मंथली डेटा दिया जाता है, जिसे 200GB रोलओभर किया जा सकता है। इसके अलावा इसमें 100SMS, Prime सब्‍सक्रिप्‍शन 6 महीने के लिए दिया जा रहा है।
इस प्‍लान में भी छह महीने के लिए प्राइम वीडियो का मेंमरशिप दिया जा रहा है। इस प्‍लान के तहत ग्राहकों को 150GB तक की मंथली डेटा, जिसे 200GB तक रोलओभर किया जा सकता है। इसके साथ ही अनलिमिटेड कॉलिंग, 100 एसएमएस की सुविधा हर दिन और 1 साल के लिए डिज्‍नी प्‍लस हॉटस्‍टार सब्‍सक्रिप्‍शन दिया जाता है।एयरटेन ने 1599 रुपये वाले रिचार्ज प्‍लान में भी संशोधन किया है, इसके तहत ग्राहकों को 250GB डाटा और 200जीबी तक रोलओभर डाटा दिया जाता है। वहीं बाकी सभी प्‍लान की सुविधाओं के साथ ही इसमें भी 6 महीने तक प्राइम वीडियो का सब्‍सक्रिप्‍शन और अन्‍य लाभ दिया जाता है।
संशोधन 1 अप्रैल से लागू
बता दें कि यह संशोधन 1 अप्रैल से लागू है। इसका मतलब है कि जिन उपयोगकर्ताओं ने 1 अप्रैल से पहले योजना ली है और प्राइम मेंबरशिप के लिए साइन इन किया है, उन्हें एक साल तक सब्सक्रिप्शन मिलता रहेगा। जबकि अभी के यूजर्स के लिए प्राइम वीडियो की सदस्यता की वैधता को घटाकर छह महीने कर दिया गया है। यह अपडेट पोस्टपेड योजनाओं तक ही सीमित है और एयरटेल अपने ब्रॉडबैंड ग्राहकों के लिए कोई विशेष बदलाव नहीं लाया है।

ज्योतिष: 30 अप्रैल को लगेगा पहला 'सूर्य ग्रहण'

ज्योतिष: 30 अप्रैल को लगेगा पहला 'सूर्य ग्रहण' 

सरस्वती उपाध्याय        

हिन्दू पंचांग के अनुसार सूर्य ग्रहण का बहुत महत्व है। ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं करने चाहिए और ऐसे में भगवान की पूजा भी नहीं की जाती है। सूर्य ग्रहण से संबंधित यह तो एक धार्मिक मान्यता है। लेकिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी सूर्य ग्रहण एक महत्वपूर्ण और अनोखी खगोलीय घटना है।  ग्रहण की घटना धार्मिक और वैज्ञानिक नजरिए से बहुत ही खास मानी जाती है। धार्मिक पहलु से ग्रहण की घटना को शुभ नहीं माना जाता है, जबकि वैज्ञानिक नजरिए से यह एक खगोलीय घटना मात्र है। हिंदू पंचांग के अनुसार 30 अप्रैल, 2022 को पहला सूर्य ग्रहण लगेगा। 
इस सूर्य ग्रहण से राशि चक्र की कुछ राशियों को जहां अशुभ फल प्राप्त होगा, वहीं कुछ ऐसी राशियां हैं।जिसके लिए यह ग्रहण धनलाभ लेकर आएगा। आइए जानते हैं शनिश्चरि अमावस्या पर लगने वाला यह ग्रहण राशियों पर क्या प्रभाव लेकर आएगा ?

मेष राशि: शनिश्चरि अमावस्या के साथ साल का पहला सूर्यग्रहण मेष राशि में लगेगा। इसलिए मेष राशि के जातकों को विशेष ध्यान रखने की जरूरत होगी। ग्रहण के प्रभाव के कारण मेष राशि वालों का भाग्य साथ नहीं देगा और उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना होगा। इस राशि के जातकों की सूर्य ग्रहण के प्रभाव से धन हानि हो सकती है। इस दिन लेन-देन करने से बचें।

वृषभ राशि: वृषभ राशि के जातकों पर ग्रहण का शुभ प्रभाव पड़ेगा। कार्यों में आ रही बाधाएं खत्म होंगी। आर्थिक स्थिति में सुधार देखने को मिलेगा। धन लाभ के कई मौके आपको प्राप्त होंगे। पैतृक संपत्ति से लाभ की संभावना दिखाई दे रही है।

मिथुन राशि: मिथुन राशि के जातकों के यह ग्रहण थोड़ी समस्या लेकर आ सकता है। ग्रहण के दौरान यदि घर से निकलना है तो बहुत संभलकर निकलें, वरना नुकसान हो सकता है। यदि संभव हो तो इस दिन घर पर रहें या कम से कम भीड़-भाड़ वाली जगहों पर न जाएं।

कर्क राशि: कर्क राशि के जातकों के लिए यह सूर्य ग्रहण किसी वरदान से कम नहीं है। योजानाओं में आपको सफलताएं प्राप्त होंगी। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। यात्रा में आपको अच्छा खासा लाभ मिलेगा। धन लाभ होगा। शादीशुदा लोगों का दांपत्य जीवन खुशहाल होगा।

सिंह राशि: सिंह राशि के जातकों के लिए भी सूर्य ग्रहण अच्छा है। सिंह राशि के जातकों को कार्यक्षेत्र में न सिर्फ आर्थिक तरक्की मिलेगी। बल्कि पदोन्नति होने की भी संभावना है। इस दौरान सिंह राशि के जातक आय स्रोत बढ़ाने के साथ साथ निवेश पर भी ध्यान केंद्रित करेंगे। इन ग्रहण के दौरान कार्यसंबंधी मामलों को लेकर सिंह राशि के जातक यात्रा भी कर सकते हैं।

कन्या राशि: कन्या राशि के जातकों के लिए साल का पहला सूर्य ग्रहण अच्छा नहीं रहेगा। बच्चों के करियर को लेकर आप चिंतित रह सकते हैं। मेहनत का पूरा फल नहीं मिलेगा। किसी को पैसे उधार न दें। गर्म-सर्द के कारण खांसी और जुकाम की शिकायत रहेगी। करियर में बदलाव करने से बचें।

तुला राशि: तुला राशि के जातकों के लिए ग्रहण का प्रभाव भाग्य में वृद्धि का संकेत दे रहा है। नौकरी में बेहतर अवसरों की प्राप्ति होगी। व्यापार में मुनाफा प्राप्त होने का संकेत है। निवेश से आपको अच्छा लाभ मिल सकता है। लेकिन स्वास्थ्य को लेकर थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत है।

वृश्चिक राशि: वृश्चिक राशि वालों के करियर के लिए समय ठीक नहीं रहेगा। नौकरी-बिजनेस में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। किसी परिचित से धोखा मिलने की भी संभावना है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत होने की वजह से मन अंशात रह सकता है। आराम से यह समय निकालने का प्रयास करें।

धनु राशि: धनु राशि के जातकों के लिए यह सूर्यग्रहण किस वरदान से कम नहीं है। लाभ के मौके मिलने आरंभ हो जाएंगे। समय अनुकूल रहेगा। सरकारी कार्यों में आपको सफलताएं प्राप्त होंगी। भाग्य का भरपूर साथ आपको मिलेगा। आर्थिक स्थिति में पहले की तुलना में प्रगति देखने को मिलेगा।

मकर राशि: मकर राशि के जातकों को सूर्य ग्रहण के दौरान सावधान रहना होगा। सेहत के मामले में विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कोई पुराना रोग है तो उसे गंभीरता से लें। लक्ष्य को पाने में दिक्कत आ सकती है। कर्ज की स्थिति बन सकती है। धन की कमी से महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित हो सकता है।

कुंभ राशि: कुंभ राशि वालों के लिए सूर्य ग्रहण शुभ माना जा रहा है। उन्हें इस दौरान अचानक धन लाभ हो सकता है। लेकिन पारिवारिक विवाद होने की संभावना है। जल्दबाजी से बचें।

मीन राशि: मीन राशि वालों के लिए यह सूर्य ग्रहण काफी शुभ रहेगा। धन लाभ की संभावना है। निवेश में भी लाभ मिल सकता है। शत्रुओं पर विजय मिलेगी। मान-सम्मान में वृद्धि होगी।

नौकरियां तलाश रहे युवाओं के लिए शानदार मौका

नौकरियां तलाश रहे युवाओं के लिए शानदार मौका   

अकांशु उपाध्याय           
नई दिल्ली। बैंकिंग सेक्टर समेत विभिन्न विभागों में सरकारी नौकरियां तलाश रहे युवाओं के लिए शानदार मौका है। बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल रिजर्व फोर्स (CRPF), कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड, उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग और बिहार लोक सेवा आयोग जैसे विभिन्न संस्थानों द्वारा करीब 40 हजार रिक्त पदों को भरने के लिए भर्ती विज्ञापन जारी किए गए हैं।
योग्य उम्मीदवारों से टीचर, टेक्निकल असिस्टेंट, सहायक अभियोजन अधिकारी, इकोनॉमिस्ट, स्टैटिसियन, रिस्क मैनेजर, क्रेडिट एनालिस्ट, क्रेडिट ऑफिसर्स, टेक एनालिस्ट, आईटी ऑफिसर-डाटा सेंटर, मैनेजर, सीनियर मैनेजर और डिप्टी कमांडेंट पदों के लिए आवेदन मांगे गए हैं।
बैंक ऑफ इंडिया ने ऑफिसर कैटेगरी के विभिन्नपदों पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे हैं। जिसमें नियमित एवं कॉन्ट्रैक्ट दोनों आधार पर भर्ती की जाएगी। पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 26 अप्रैल 2022 से शुरू होगी एवं 10 मई 2022 को आवेदन की लास्ट डेट रहेगी। नोटिस के अनुसार बैंक ऑफ इंडिया में कुल 696 रिक्त पद हैं। यह भर्ती कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर होगी।
यूपीपीएससी एपीओ भर्ती 2022
उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) ने सहायक अभियोजन अधिकारी के 44 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किया है। सहायक अभियोजन अधिकारी भर्ती परीक्षा के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो गई है‌। उम्मीदवार यूपीपीएससी की वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं‌।
इच्छुक उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन 21 मई तक कर सकते हैं। नोटिस के अनुसार परीक्षा फीस जमा करने की लास्ट डेट 17 मई 2022 है। सहायक अभियोजन अधिकारी पद के लिए शैक्षिक योग्यता की बात करें तो उम्मीदवारों को कम से कम एलएलबी किया होना चाहिए। यूपी में सहायक अभियोजन अधिकारी की निकली भर्ती, एलएलबी पास के लिए सरकारी नौकरी का मौका।
सीआरपीएफ डिप्टी कमांडेंट भर्ती 2022
सीआरपीएफ ने डिप्टी कमांडेंट (डीसी) के पदों को भरने के लिए आवेदन मांगे हैं। इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार जो इन पदों के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे CRPF की आधिकारिक वेबसाइट crpf.gov.in पर जाकर अप्लाई कर सकते हैं। इन पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो गई है।
कोंकण रेलवे ने सीनियर टेक्निकल असिस्टेंट सिविल और जूनियर टेक्निकल असिस्टेंट सिविल के पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किए हैं। नोटिस के अनुसार कोंकण रेलवे में सीनियर टेक्निकल असिस्टेंट सिविल और जूनियर टेक्निकल असिस्टेंट सिविल के पदों पर योग्य उम्मीदवारों का सेलेक्शन वॉक इन इंटरव्यू के माध्यम से किया जाएगा। वॉक इन इंटरव्यू का आयोजन 10 से 13 मई 2022 तक किया जाएगा।
बिहार लोक सेवा आयोग ने हेडमास्टर के 40506 रिक्त पदों को भरने के लिए आवेदन मांगा है। इस भर्ती के लिए आवेदन की आखिरी तारीख पहले 22 अप्रैल थी। लेकिन अब आवेदन की लास्ट डेट बढ़ाकर 2 मई कर दी गई है। हेडमास्टर पद के लिए योग्य उम्मीदवार बीपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट onlinebpsc.bihar.gov.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

सोने के भाव में उछाल, चांदी में गिरावट दर्ज

सोने के भाव में उछाल, चांदी में गिरावट दर्ज   

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। आईएसओ द्वारा सोने की शुद्धता पहचानने के लिए हॉल मार्क दिए जाते हैं‌। 24 कैरेट सोने के आभूषण पर 999, 23 कैरेट पर 958, 22 कैरेट पर 916, 21 कैरेट पर 875 और 18 कैरेट पर 750 लिखा होता है। ज्यादातार सोना 22 कैरेट में बिकता है, वहीं कुछ लोग 18 कैरेट का इस्तेमाल भी करते हैं। कैरेट 24 से ज्यादा नहीं होता, और जितना ज्यादा कैरेट होगा, सोना उतना ही शुद्ध कहलाता है‌। रोजाना सोने की दरें लगातार बढ़-घट रही हैं। शुक्रवार यानी, 22 अप्रैल को देश में सोने के भाव में उछाल देखा गया है। 
बता दें, कि सिल्वर की दरों में लखनऊ में भी हल्की गिरावट आई है। शुक्रवार को एक किलो चांदी का रेट 67,400 है। वहीं, ये दाम बृहस्पतिवार को 68,300 था।चांदी के दाम में 900 रुपये प्रति किलो की गिरावट दर्ज की गई।
देश में 22 कैरेट 10 ग्राम सोने का भाव 49,300 है, जो बीते दिन 49,150 था। यानी 150 रुपये प्रति 10 ग्राम की बढ़त दर्ज की गई है। वहीं, लखनऊ में इसकी कीमत 49,450 बताई जा रही है, जो कि बीते दिन 49,300 थी, यानि प्रति 10 ग्राम 150 रुपये बढ़े हैं।
वहीं, देश में 24 कैरेट सोना में 10 ग्राम का भाव शुक्रवार को 53,780 रुपये है। बीते दिन यह भाव 53,620 रुपये था। यानी 160 रुपये प्रति 10 ग्राम की बढ़ोतरी। वहीं, लखनऊ में आज का रेट 53,930 है। जबकि बृहस्पतिवार को सोने का भाव 53,770 था। जानकारी के लिए बता दें, उपरोक्त सोने की दरें सांकेतिक हैं और इसमें जीएसटी, टीसीएस और अन्य शुल्क शामिल नहीं हैं। सटीक दरों के लिए अपने स्थानीय जौहरी से संपर्क करें।

अवैध निकासी के मामलेें में लालू को जमानत दीं

अवैध निकासी के मामलेें में लालू को जमानत दीं   

इकबाल अंसारी  
रांची। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से जुड़ी बड़ी खबर सामने आ रही है। लालू प्रसाद यादव को रांची हाई कोर्ट ने चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में जमानत दे दी है। रांची हाईकोर्ट के न्यायाधीश अपरेश कुमार सिंह की अदालत ने लालू यादव को जमानत दीं है। लालू यादव को डोरंडा ट्रेजरी से अवैध निकासी के मामलेें में जमानत दे दीं गई है। आपको बता दें कि लालू यादव के खिलाफ चारा घोटाले से जुड़े कई मामले चल रहे हैं। डोरंडा ट्रेजरी से अवैध निकासी के मामले में लालू यादव को सजा सुनाई गई थी इसके बाद से लालू यादव जेल में थे। 
रांची हाई कोर्ट ने लालू यादव को आधी से ज्यादा सजा काट लेने के आधार पर जमानत दीं है। लालू यादव के वकीलों की तरफ से उनकी सेहत का हवाला देते हुए रांची हाई कोर्ट में यह कहा गया था कि उनको जो सजा दीं गई है। 
उसकी आधी मियाद आरजेडी सुप्रीमो ने पूरी कर ली है। अब लालू यादव को जमानत मिलने के बाद रांची से लेकर पटना तक में खुशी की लहर दौड़ गई है। 
लालू यादव को जमानत देते हुए कोर्ट ने कई शर्ते भी रखी है हालांकि अभी जमानत के पूरे आदेश का इंतजार हो रहा है। आज पटना में राबड़ी देवी के 10 सर्कुलर आवास पर इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया है। लालू यादव को जमानत मिलने के बाद इफ्तार पार्टी का रंग खूब चढ़ने वाला है। अब लालू यादव को कोर्ट से फैसले की कॉपी मिलने के बाद जब जेल से बाहर आने की प्रक्रिया शुरू होगी। लालू यादव फिलहाल दिल्ली एम्स में अपना इलाज करा रहे हैं।

'ओएएस' ने रूस की स्थिति को निलंबित किया

'ओएएस' ने रूस की स्थिति को निलंबित किया    

सुनील श्रीवास्तव 
वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी राज्यों के संगठन (ओएएस) ने 25-0 से मतदान कर संगठन में स्थायी पर्यवेक्षक के रूप में रूस की स्थिति को निलंबित कर दिया है। ओएएस में सेंट लूसिया की राजदूत एलिजाबेथ डेरियस-क्लार्क ने वोट के बाद घोषणा की।
डेरियस-क्लार्क ने कहा, "स्थायी परिषद एतद्द्वारा अमेरिकी राज्यों के संगठन के स्थायी पर्यवेक्षक के रूप में रूसी संघ की स्थिति के निलंबन के प्रस्ताव को मंजूर करती है।"
प्रस्ताव के पक्ष में 25 मत पड़े जबकि किसी ने भी इसका विरोध नहीं किया। आठ देशों ने मतदान नहीं किया और एक देश (निकारागुआ) मतदान में अनुपस्थित रहा।
मतविभाजन के बाद अमेरिका में रूसी राजदूत अनातोली एंटोनोव ने कहा कि उन्हें बैठक में ओएएस दस्तावेज़ पर मतदान से पहले या बाद में बोलने का अवसर नहीं दिया गया था।
प्रकाशन के समय, एंटोनोव को बोलने की अनुमति क्यों नहीं दी गई, इस बारे में टिप्पणी के अनुरोध पर स्पुतनिक को ओएएस से प्रतिक्रिया नहीं मिली।
एंटोनोव ने ओएएस के फैसले की निंदा करते हुए इसे एक गंभीर गलती बताया है।

राष्ट्रपति ने 22 अप्रैल को 'पृथ्वी दिवस' घोषित किया

राष्ट्रपति ने 22 अप्रैल को 'पृथ्वी दिवस' घोषित किया    

अखिलेश पांडेय        
वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक उद्घोषणा जारी करते हुए 22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस घोषित किया और अमेरिकियों को उन कार्यों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया, जो जलवायु परिवर्तन को कम करने में मदद करेंगे।
पहली बार 1970 में आयोजित किया गया पृथ्वी दिवस एक वार्षिक कार्यक्रम है। जिसका उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण का समर्थन करना है। रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को पृथ्वी दिवस कार्यक्रम 190 से अधिक देशों में आयोजित होने की उम्मीद है, जिसमें 100 करोड़ लोग शामिल होंगे।
राष्ट्रपति बाइडन ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आक्रामक तरीके से काम नहीं करने के हानिकारक प्रभावों पर चर्चा की। उन्होंने 2020 में बाढ़, बवंडर, जंगल की आग और सूखे जैसे चरम मौसम के साथ-साथ जलवायु आपदाओं के कारण हुए नुकसान को दर्शाने वाले आँकड़ों का हवाला दिया। जिसमें अमेरिकी समुदायों का लगभग 145 अरब डॉलर का नुकसान हुआ और सैकड़ों अमेरिकियों की जानें भी गयीं।
बाइडन ने कहा, "पर्यावरणीय अन्याय अश्वेत समुदायों, कम आय वाले समुदायों और आदिवासी व स्वदेशी समुदायों को नुकसान पहुंचा रहा है।
बाइडन ने कहा कि अमेरिका और दुनिया भर में वन्यजीव प्रजातियों की एक अनगिनत संख्या विलुप्त होने की कगार पर है।

तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कियें

तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कियें    

अकांशु उपाध्याय           
नई दिल्ली। सरकारी तेल कंपनियों ने शुक्रवार को पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कर दियें हैं। तेल की कीमतों में आज भी कोई बदलाव नहीं हुआ है। पेट्रोल-डीजल के रेट्स स्थिर बने हुए हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 105.41 रुपये, डीजल 96.67 रुपये में बिक रहा है। IOCL द्वारा अपडेट किए गए लेटेस्ट दामों के अनुसार, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में एक लीटर पेट्रोल 120.51 रुपये, एक लीटर डीजल 104.77 रुपये में बिक रहा है। वहीं, कोलकाता में पेट्रोल की कीमत 115.12 रुपये पर बनी हुई है, जबकि डीजल 99.83 रुपये में मिल रहा है। 
लीटर पेट्रोल 110.85 रुपये में और एक लीटर डीजल 100.94 रुपये में बिक रहा है। मालूम हो कि पेट्रोल-डीजल के रेट्स में पिछले महीने 22 मार्च से बढ़ोतरी होने लगी थी, जोकि छह अप्रैल तक चली थी। इसके बाद सात अप्रैल से अब तक पेट्रोल-डीजल के रेट्स में कोई बदलाव नहीं आया है। यूपी के विभिन्न शहरों में पेट्रोल-डीजल के रेट्स की बात करें तो राजधानी लखनऊ में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 105.25 रुपये और एक लीटर डीजल 96.83 रुपये में बिक रहा है। वहीं, दिल्ली से सटे नोएडा में पेट्रोल 105.47 रुपये प्रति लीटर और डीजल 97.03 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। वहीं, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पेट्रोल की कीमत 118.14 रुपये प्रति लीटर और 101.16 रुपये प्रति लीटर डीजल की बिक्री हो रही है। आप एक SMS के जरिए रोज अपने शहर में पेट्रोल-डीजल की कीमत जान सकते हैं। इसके लिए इंडियन ऑयल (IOCL) के ग्राहकों को RSP कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। 
अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल (Crude Oil) की कीमत के आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमत प्रतिदिन अपडेट की जाती है। ऑयल मार्केटिंग कंपनियां कीमतों की समीक्षा के बाद रोज पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) के दाम तय करती हैं। इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम तेल कंपनियां हर दिन सुबह विभिन्न शहरों की पेट्रोल और डीजल की कीमतों की जानकारी अपडेट करती हैं।

सेहत के लिए बेहद उपयोगी हैं कच्चा 'पपीता'

सेहत के लिए बेहद उपयोगी हैं कच्चा 'पपीता'   

सरस्वती उपाध्याय            
कहा जाता है कि पका हुआ पपीता सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है, वहीं कच्चे पपीता भी काफी उपयोगी है। लोग अक्सर कच्चे पपीता छोड़कर पका हुआ पपीता ही खाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कच्चा पपीता भी पेट के रोगों को ठीक करता है। इसके अलावा जोड़ों की समस्याओं में भी कच्चा पपीते का यूज किया जाता है। वजन कम करने में भी आप कच्चे पपीते का उपयोग कर सकते हैं।
बता दें कि कच्चे पपीते में पपैन नाम का पदार्थ होता है, जो आपकी बॉडी के लिए अच्छा होता है। कच्चा पपीता अगर सही मात्रा में खाएं, तो ये पाचन के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। तो चलिए जानते हैं कि इसके अलावा कच्चे पपीते के क्या फायदे हैं ?
सुबह के समय फलों का सेवन काफी अच्छा होता है। इसलिए पपीते का सेवन भी सुबह के समय करने से ज्यादा लाभ मिलता है। पपीता आपके पेट के लिए एक उपयोगी फल है। कोशिश करें कि खाली पेट आप कच्चे पपीते का सेवन करें। कई लोग कच्चे पपीते की सब्जी बनाकर भी सेवन करते हैं।
कच्चे पपीते में मौजूद विटामिन और अन्य पोषक तत्व आपकी त्वचा को हेल्दी बनाते हैं। इसके सेवन से शरीर की किसी भी घाव या जख्म को भरने की क्षमता बढ़ जाती है। तो ऐसे लोग जिन्हें कच्चा पपीता नहीं पसंद, वह इसको अपनी पसंद बना सकते हैं।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-196, (वर्ष-05)
2. शनिवार, अप्रैल 23, 2022
3. शक-1984, वैशाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि-सप्तमी/अष्टमी, विक्रमी सवंत-2078‌।  
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 24 डी.सै., अधिकतम-39+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम 

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम  हरिशंकर त्रिपाठी  देवरिया। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में दशहरा, ईद...