उत्तर प्रदेश लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उत्तर प्रदेश लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 18 जुलाई 2024

गंगा में डूबा आधा गुरुद्वारा, बाढ़ का खतरा

गंगा में डूबा आधा गुरुद्वारा, बाढ़ का खतरा 

संदीप मिश्र 
कानपुर। मानसूनी बारिश लगातार अपना कहर बरपाते हुए लोगों को जान और माल का नुकसान पहुंचाने में लगी है। गंगा के तट पर बना गुरुद्वारा आधा पानी में डूब गया है। बाढ़ से हो रही तबाही ऐसे हालातों में है, जब राज्य के 63 शहरों में बारिश की एक बूंद भी नहीं गिरी है। 
बृहस्पतिवार को कानपुर में पूरी तरह से उफान पर आई गंगा में सरसैया घाट स्थित गुरुद्वारा आधे से ज्यादा पानी में डूब गया है। गंगा का जल स्तर लगातार तेजी के साथ ऊपर की तरफ बढ़ रहा है। सरसैया घाट स्थित गुरुद्वारा और घाट को पूरी तरह से जलमग्न कर चुका बाढ़ का पानी अब किसी भी समय लोगों के घरों के भीतर घुसकर अपना डेरा जमा सकता है। 
हालांकि, पुलिस और प्रशासन की ओर से लोगों को बाढ़ से बचाने के लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं, लेकिन पानी के आगे उनका कोई इंतजाम मूर्त रूप नहीं ले रहा है। उधर लखनऊ में दोपहर के आसमान में छाये बादलों ने कुछ इलाकों में बरसना शुरू कर दिया है। हालात ऐसे हैं कि बारिश के बाद भी भीषण उमस की स्थिति बनी हुई है।

रविवार, 14 जुलाई 2024

बाढ़ के पानी से लखनऊ-दिल्ली हाईवे क्षतिग्रस्त

बाढ़ के पानी से लखनऊ-दिल्ली हाईवे क्षतिग्रस्त 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। लगातार हो रही बारिश से उत्पन्न हुए बाढ़ के हालात बुरी तरह से खराब हो गए हैं। पहाड़ों में लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से उफान पर आई नदियों ने बाढ़ से चारों तरफ तबाही मचा दी है। बाढ़ के पानी से लखनऊ-दिल्ली हाईवे क्षतिग्रस्त हो गया है। साइड जमीन में धंस जाने से हाईवे का एक हिस्सा बंद हो गया है। बारिश के पानी में सड़क पर आधी डूबी बस में सवार यात्री 2 घंटे तक फंसे रहे। 
रविवार को भी बारिश और बाढ़ से हाल बेहाल हो रहे हैं। हिमालय पर लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से नदिया उफान खाते हुए इधर-उधर अपना डेरा तलाश रही है। शाहजहांपुर में बाढ़ का पानी लखनऊ दिल्ली हाईवे पर पहुंच जाने से सड़क कट गई है। गर्रा नदी का पानी हाईवे पर पहुंचने से सड़क का एक हिस्सा बंद हो गया था। तीसरे दिन पानी कम होने पर आवागमन शुरू हो सका है। उधर, इटावा में मूसलाधार बारिश के पानी में सवारियां लेकर जा रही रोडवेज बस आधी डूब गई है। तकरीबन 2 घंटे तक बस के साथ फंसे यात्रियों को बाद में बस को रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया है।

शनिवार, 13 जुलाई 2024

मथुरा: हाईवे के डिवाइडर पर बच्चे को दिया जन्म

मथुरा: हाईवे के डिवाइडर पर बच्चे को दिया जन्म 

संदीप मिश्र 
मथुरा। मथुरा में हाईवे के बीच डिवाइडर पर एक डॉक्टर द्वारा प्रसव कराने का मामला सामने आया है। खुले में प्रसव के दौरान महिला की चीख को सुन एक निजी अस्पताल के कर्मचारी मौके पर पहुंचे और कपड़ों, चादरों से प्रसूता को चारों ओर से ढक लिया। खुले में मार्ग पर प्रसव होता देख राहगीर स्वास्थ्य विभाग की अव्यवस्थाओं को कोसते नजर आए। घटना का वीडियो वायरल होने पर स्वास्थ्य विभाग की निंदा हो रही है।
शुक्रवार को 2 मिनट 55 सेकंड का एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ। इसमें राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच एक महिला डॉक्टर को प्रसव कराते हुए दिखाया गया। वीडियो मथुरा के पुराने एआरटीओ कार्यालय के समीप कुंतल अस्पताल के सामने का बताया जा रहा है। जहां पर सिजेरियन प्रसव के लिए एक डाक्टर प्रसूता को लेकर अस्पताल पहुंची। यहां पर अस्पताल स्टाफ ने सिजेरियन प्रसव से इनकार करते हुए सामान्य प्रसव होने की बात कही।
महिला चिकित्सक प्रसूता को अपने क्लीनिक के लिए वापस लाने लगी। तभी आगरा-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच में प्रसूता को प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। वह एक कदम भी आगे नहीं चल सकी और बीच डिवाइडर पर ही बैठ गई। महिला चिकित्सक ने डिवाइडर पर ही खुले में उसका प्रसव करा दिया। इसी दौरान एक व्यक्ति ने खुले में हो रहे प्रसव का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया।
सीएमओ डॉ. अजय कुमार वर्मा ने बताया कि वीडियो वायरल होने पर वह खुद और उनके साथ डॉ. अशोक अग्रवाल हाईवे स्थित कुंतल अस्पताल गए थे। वहां जांच में पता चला कि एक रजिस्टर्ड आयुर्वेदिक डॉ. यामिनी के पास प्रसूता को लेकर उसके परिजन पहुंचे। डॉक्टर प्रसूता को लेकर कुंतल अस्पताल लेकर आईं। अस्पताल के डॉक्टर प्रसव के लिए कह रहे थे, लेकिन महिला ने सहयोग नहीं किया। इस कारण डॉक्टर प्रसूता को लेकर लौट रही थी कि तभी अचानक प्रसूता को बीच में ही प्रसव कराना पड़ा। जच्चा बच्चा दोनों सकुशल हैं।

शुक्रवार, 12 जुलाई 2024

यूपी: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की

यूपी: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। सरकारी पेट्रोलियम कंपनियों की ओर डीजल-पेट्रोल का इस्तेमाल करते हुए सड़क पर गाड़ी दौड़ाने वालों को महंगाई का झटका देते हुए उत्तर प्रदेश में डीजल एवं पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी कर दी है। जिसके चलते वाहन चलाने के लिए अब लोगों को अपनी जेब ढीली करनी पड़ेंगी। 
शुक्रवार को देश की पेट्रोलियम कंपनियों की ओर से डीजल-पेट्रोल की नई कीमत जारी करते हुए उत्तर प्रदेश में डीजल एवं पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी का ऐलान किया है। उत्तर प्रदेश के अलावा कई अन्य राज्यों में भी डीजल पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी की गई है। जबकि, देश के कई अन्य राज्यों में डीजल पेट्रोल की कीमतों में की गई कमी से लोगों को राहत मिली है। उत्तर प्रदेश में पेट्रोल की कीमतों को 23 पैसे बढ़ाकर महंगा कर दिया गया है। डीजल की कीमतों में 26 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है। जिसके चलते अब डीजल के लिए लोगों को 87 रुपए 79 पैसे प्रति लीटर के दाम चुकाने पड़ेंगे। 
चेन्नई में भी पेट्रोल की कीमत 10 पैसे बढ़ाकर ₹100 रुपए 85 पैसे हो गई है। जबकि, डीजल की कीमतों में नो पैसे का इजाफा किए जाने से अब डीजल की कीमत 92 रुपये 43 पैसे प्रति लीटर हो गई है।

गुरुवार, 11 जुलाई 2024

अभ्यर्थियों ने सीएम के आवास पर प्रदर्शन किया

अभ्यर्थियों ने सीएम के आवास पर प्रदर्शन किया 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। परीक्षा का अंतिम परिणाम जारी करने की मांग को लेकर जूनियर इंजीनियर भर्ती के अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर प्रदर्शन किया। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस ने सीएम आवास पर प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों को बसों में लादकर इको गार्डन के लिए रवाना कर दिया। बृहस्पतिवार को वर्ष 2018 में आयोजित की गई जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा के अंतिम परिणाम को जारी करने को लेकर राजधानी पहुंचे अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के सामने नारेबाजी करते हुए जोरदार प्रदर्शन किया। 
इस दौरान अभ्यर्थियों ने बताया है कि उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की ओर से वर्ष 2018 में निकाली गई जूनियर इंजीनियर की भर्ती 6 साल बाद भी अधूरी पड़ी हुई है। क्योंकि, उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की ओर से भर्ती परीक्षा का अंतिम परिणाम अभी तक जारी नहीं किया गया है। अभ्यर्थी अंतिम परिणाम जारी करने के लिए पिछले 9 महीने से लगातार आयोग एवं मुख्यमंत्री के जनता दरबार में चक्कर लगा रहे हैं। लेकिन, अभ्यर्थियों की इस मांग को अभी तक पूरा नहीं किया गया है। मुख्यमंत्री के आवास पर मौजूद पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों की धर-पकड़ करते हुए उन्हें बसों में लादकर इको गार्डन के लिए रवाना कर दिया है।

मंगलवार, 9 जुलाई 2024

आपस में टकराई दो बाइक, 4 लोगों की मौत

आपस में टकराई दो बाइक, 4 लोगों की मौत 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। तेज रफ्तार से दौड़ रही दो बाइक आपस में जब टकराई, तो इस दुर्घटना में चार लोगों की दुखद मौत हो गई। गौरतलब है, कि यूपी के महोबा जिले के थाना श्रीनगर इलाके के गांव ननौरा रोड पर दो बाईक में आपस में जबरदस्त तरीके से भिड़ गई। जिसमें ललतेश और राज की जलने के कारण मौत हो गई, तो चंद्रभान और सुनील ने गंभीर चोट आने के कारण इस एक्सीडेंट में दम तोड़ दिया। 
बताया जाता है, कि मरने वाला ललतेश मध्य प्रदेश का रहने वाला था तथा जिले के ग्राम मुरार में अपनी बहन के यहां आया हुआ था। मंगलवार शाम को वह अपने 7 साल के भांजे देवेंद्र, 10 साल के राज और 20 वर्षीय बहन केसर के साथ अपने मामा के यहां शादी में शामिल होने के लिए निकला था। दूसरी तरफ बाजा बजाने का काम करने वाले चंद्रभान और सुनील भी मोटरसाइकिल पर सवार होकर निकल रहे थे। इसी बीच दोनों की जबरदस्त भिड़ंत हो गई और इस एक्सीडेंट में चार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

सोमवार, 8 जुलाई 2024

13 कॉलेजों को मान्यता देने से इनकार किया

13 कॉलेजों को मान्यता देने से इनकार किया 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। प्रदेश के सभी 13 मेडिकल कॉलेजों को नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) ने मान्यता देने से इनकार कर दिया है। इसकी वजह कॉलेजों में चिकित्सा शिक्षकों एवं अन्य संसाधनों की कमी है। यह चिकित्सा शिक्षा विभाग के लिए जबरदस्त झटका है। क्योंकि, इन कॉलेजों को मान्यता मिलती तो प्रदेश में एक साथ एमबीबीएस की 1300 सीटें बढ़ जातीं। अभी यहां सरकारी क्षेत्र की एमबीबीएस की 3828 और निजी क्षेत्र की 5450 सीटों हैं।
प्रदेश में हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोलने की योजना है। इसके तहत करीब सालभर पहले 13 स्वशासी राज्य मेडिकल कॉलेज बनकर तैयार हुए। इन कॉलेजों की मान्यता के लिए एनएमसी में आवेदन किया गया। एनएमसी की टीम ने 24 जून को स्थलीय निरीक्षण कर कमियां गिनाईं। फिर इसे दूर करे के लिए सप्ताह-भर बाद वर्चुअल बैठक हुई। कुछ कमियां दूर की गईं, लेकिन संकाय सदस्यों (फैकल्टी )की कमी की वजह से प्रदेश के सभी 13 कॉलेजों को मान्यता देने से इनकार कर दिया है। अब संबंधित कॉलेजों के प्रधानाचार्य को नए सिरे से अपील करने का निर्देश दिया गया है।
स्वशासी राज्य मेडिकल कॉलेज कुशीनगर, कौशांबी, सुल्तानपुर, कानपुर देहात, ललितपुर, पीलीभीत, ओरैया, सोनभद्र, बुलन्दशहर, गोंडा, बिजनौर, चंदौली और लखीमपुर खीरी जिले में बने हैं। सत्र 2024-25 में इन कॉलेजों को एमबीबीएस पाठ्यक्रम शुरू करने की तैयारी थी। सभी मेडिकल कॉलेज कमियां दूर कर एनएमसी में अपील कर सकते हैं। अपील के लिए 15 दिन का समय है। ज्यादातर मेडिकल में भर्ती प्रक्रिया चल रही है, लेकिन जहां 50 फीसदी से ज्यादा पद खाली हैं वे निर्धारित समय में भर पाएंगे, इस पर संशय है।
एनएमसी की ओर से कॉलेजों को भेजे गए पत्र में बताया गया है कि फैकल्टी के कहां कितने फीसदी पद खाली हैं। इसके तहत कुशीनगर में 85.7 फीसदी, गोंडा में 84.70 फीसदी, सोनभद्र में 74 फीसदी, कौशाांबी में 72.79 फीसदी, कानपुर देहात में 76.50 फीसदी, चंदौली में 65 फीसदी, ललितपुर में 64.70 फीसदी , औरैया में 68 फीसदी, बुलंदशहर में 48 फीसदी, सुल्तानपुर में 47 फीसदी पद खाली हैं। यही स्थिति अन्य मेडिकल कॉलेजों का भी है। कई कॉलेजों में सीटी स्कैन मशीन, ब्लड सेपरेशन यूनिट आदि भी नहीं हैं।
चिकित्सा शिक्षा विभाग के सूत्रों की मानें, तो एनएमसी की ओर से वर्ष 2023 में एमबीबीएस की 100 सीट पर पहले वर्ष के लिए 50 फैकल्टी की अनिवार्यता की गई थी। इसके बाद साल दर साल फैकल्टी बढ़ाने का विकल्प था, लेकिन अब इसमें बदलाव कर दिया गया है। पहले साल में फैकल्टी की अनिवार्यता 50 से बढ़ाकर 85 कर दी गई है। प्रदेश में चिकित्सा शिक्षा को बढावा देने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। कोशिश थी कि प्रदेश में 1300 सीटें बढ़ जाएं। एनएमसी ने निरीक्षण के बाद मान्यता नहीं दी है। जिन कमियों की वजह से मान्यता रूकी है, उसे दूर किया जा रहा है। दोबारा अपील की जाएगी।

बुधवार, 26 जून 2024

पहली बारिश में ही टपकने लगी 'राम मंदिर' की छत

पहली बारिश में ही टपकने लगी 'राम मंदिर' की छत

संदीप मिश्र 
अयोध्या। श्रीराम मंदिर के उद्घाटन के 6 महीने में ही छत टपकने लगी है। मानसून की पहली बारिश में छत टपकने से गर्भगृह के सामने जलभराव हो गया। जिससे पुजारियों और श्रद्धालुओं को परेशानी हुई। रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने मानसून की पहली बरसात में पानी के रिसाव होने पर राम जन्मभूमि राम मंदिर के भव्य निर्माण करने वाले संस्था के इंजीनियरों पर सवाल खड़ा कर दिया है।
आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि देश के बड़े-बड़े इंजीनियर राम मंदिर का निर्माण कर रहे हैं। 22 जनवरी को राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा भी हो गई है। लेकिन यह किसी को ज्ञान नहीं रहा कि जब पानी बरसेगा तो उसके छत से पानी टपकेगा। इसके पहले भी बरसात होती थी, लेकिन कभी भी इस तरह के हालात नहीं हुए है, जैसा इस बार हुआ है। इस बार जैसा पानी आंगन में गिरा, वह बहुत आश्चर्यजनक रहा। जब ऐसे-ऐसे इंजीनियर विश्व प्रसिद्ध मंदिर बना रहे हो और बारिश का पानी अंदर जाए तो आश्चर्यजनक है।
सत्येंद्र दास ने कहा कि इंजीनियर लोग किस प्रकार की व्यवस्था किए हैं, जिसके कारण पानी भर रहा है, यह बहुत ही निराशाजनक है। उन्होंने कहा कि इस बार के बरसात में गर्भगृह के ठीक सामने पुजारी के स्थान पर और वीवीआईपी दर्शन करने वाले स्थान पर भर गया था। जब सुबह पुजारी और श्रद्धालु पहुंचे तो पानी भरा था। काफी मशक्कत के बाद पानी बाहर निकाला गया। इसके बाद राम लला की आरती हो सकी।
बता दें कि शनिवार देर रात दो से पांच बजे तक बारिश हुई थी। जिसके बाद गर्भगृह के सामने मंडप में चार इंच पानी भर गया था। जिसकी वजह से रविवार सुबह चार बजे की आरती टार्च की रोशनी में करनी पड़ी।

गुरुवार, 13 जून 2024

यूपी के सभी जिलों के लिए अलर्ट जारी किया

यूपी के सभी जिलों के लिए अलर्ट जारी किया 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। यूपी में भीषण गर्मी का सितम जारी है। इस दौरान मौसम विभाग ने यूपी के सभी जिलों के लिए मौसम का अलर्ट जारी किया है। IMD ने बांदा, चित्रकूट, कौशांबी, प्रयागराज, फतेहपुर के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।
मौसम विभाग ने कानपुर देहात, कानपुर के इलाकों में भीषण लू का रेड अलर्ट जारी किया है। इसके साथ ही गर्म हवा, भीषण लू के साथ तापमान ज्यादा रहने के आसार जताए हैं। 
IMD ने रायबरेली, अमेठी, अयोध्या, मथुरा, आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, इटावा, औरैया, जालौन,प्रतापगढ़,मिर्जापुर,वाराणसी,संत रविदासनगर,श्रावस्ती, बहराइच, उन्नाव, लखनऊ, बाराबंकी, जौनपुर,गोरखपुर,संतकबीरनगर, बस्ती, गोंडा के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। 
IMD के मुताबिक हमीरपुर, महोबा, झांसी, ललितपुर में ताप लहर चलने के आसार हैं। 
मौसम विभाग ने मऊ, बलिया, देवरिया, कुशीनगर, महाराजगंज सिद्धार्थ नगर, बलरामपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर,हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, सुल्तानपुर, अंबेडकर नगर, शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, हाथरस, कासगंज, बिजनौर,अमरोहा, मुरादाबाद, शाहजहांपुर, सोनभद्र, चंदौली, गाजीपुर, आजमगढ़ में यलो अलर्ट जारी किया है।

शनिवार, 11 मई 2024

कार्डधारकों को 2 किलो गेहूं व 3 किलो चावल मिलेंगे

कार्डधारकों को 2 किलो गेहूं व 3 किलो चावल मिलेंगे 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। फ्री वितरण की डेट आ गई है। इस माह राशन का निःशुल्क वितरण 14 मई से 29 मई के बीच होगा। लखनऊ के डीएसओ विजय प्रताप सिंह ने बताया कि पात्र गृहस्थी कार्डधारकों को प्रति यूनिट दो किलो गेहूं व तीन किलो चावल (कुल पांच किलो) मिलेंगे। वहीं अंत्योदय कार्डधारको 14 किग्रा गेहूं और 21 किलो चावल (कुल 35 किलो) का निःशुल्क वितरण किया जाएगा। कार्डधारकों को पोर्टेबिलिटी की सुविधा भी उपलब्ध रहेगी। आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से राशन नहीं पाने वाले कार्डधारक वितरण के अंतिम दिन 29 मई को मोबाइल ओटीपी वेरीफिकेशन के जरिए निःशुल्क राशन प्राप्त कर सकेंगे।
उन्होंने बताया कि यूनिटों पर सभी कार्डधारकों को वितरण 14 मई से 29 मई तक राशन दुकानों पर वितरित किया जायेगा। वितरण की आखिरी तिथि पर आधार प्रमाणिक के माध्यम से खाद्यान्न वस्तुओं को प्राप्त न कर पाने वाले उपभोक्ताओं को मोबाइल ओटीपी वेरिफिकेशन के माध्यम से वितरण संपन्न किया जायेगा। उन्होंने बताया कि राशन की दुकानों पर खाद्यान्न वितरण में किसी तरह की दिक्कत न हो, इसके लिए व्यवस्था की गई है।
उन्होंने बताया कि उचित दर विक्रेताओं को सूचित किया गया है कि छह या छह से अधिक यूनिट वाले राशनकार्ड व 60 वर्ष से अधिक आयु वाले उन व्यक्तियों जिनका नाम आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड की सूची में आया हो, उनका आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए बारकोड को चस्पा कराकर प्रचार प्रसार करें।

बुधवार, 1 मई 2024

पेड़ से टकराई अनियंत्रित गाड़ी, 3 की मौत, 7 घायल

पेड़ से टकराई अनियंत्रित गाड़ी, 3 की मौत, 7 घायल 

संदीप मिश्र 
पीलीभीत। शादी समारोह में शामिल होने के लिए जा रहे लोगों की गाड़ी अनियंत्रित होने के बाद सड़क किनारे खड़े पेड़ से टकरा गई। इस हादसे में तीन महिलाओं की मौत हो गई है। गंभीर रूप से घायल हुए सात अन्य लोगों को ट्रीटमेंट के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बुधवार को पूरनपुर कोतवाली क्षेत्र के घनारा घाट के नजदीक हुए हादसे में उत्तराखंड के शक्ति फार्म इलाके में रहने वाले कुछ लोग गाड़ी में सवार होकर शादी समारोह में शामिल होने के लिए जा रहे थे।  10 लोगों को लेकर सड़क पर फर्राटा भरते हुए दौड़ रही कार जब पीलीभीत के पास घनारा घाट रोड पर पहुंची तो अचानक ड्राइवर गाड़ी के ऊपर से अपना नियंत्रण खो बैठा। परिणाम स्वरुप अनियंत्रित हुई गाड़ी सड़क किनारे खड़े पेड़ से टकरा गई। हादसा होते ही मौके पर बुरी तरह से चीख पुकार मच गई। कार में फंसे लोगों की चीख पुकार को सुनकर मौके की तरफ दौड़े लोगों ने पुलिस को हादसे से अवगत कराते हुए गाड़ी में फंसे लोगों को बाहर निकलना शुरू कर दिया। इसी बीच भी मौके पर पहुंच गई और उसने स्थानीय लोगों की सहायता से गाड़ी से निकाले गए लोगों को अस्पताल भिजवाया। जहां चिकित्सकों ने तीन महिलाओं को मृत घोषित कर दिया है। बाकी बचे सात लोगों का अस्पताल में ट्रीटमेंट चल रहा है। पुलिस ने तीनों महिलाओं के शो कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए हैं। हादसे की जानकारी मिलते ही एसडीएम पूरनपुर, नायब तहसीलदार और पुलिस उपाधीक्षक प्रतीक दहिया ने मौके पर पहुंचकर घायलों का हाल-चाल जाना और उन्हें अस्पताल भिजवाया।

गुरुवार, 25 अप्रैल 2024

8 जिलों में स्कूल-कॉलेज व अन्य संस्थान बंद रहेंगे

8 जिलों में स्कूल-कॉलेज व अन्य संस्थान बंद रहेंगे

संदीप मिश्र 
लखनऊ। आज यूपी के 8 जिलों में स्कूल-कॉलेज व अन्य संस्थान बंद रहेंगे। साथ ही 12 अन्य राज्यों में भी स्कूलों में छुट्टी रहेगी।
चुनाव आयोग 26 अप्रैल को लोकसभा चुनाव 2024 के दूसरे चरण को आयोजित कराने के लिए पूरी तरह तैयार है। इस चरण में 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 88 लोकसभा सीटों पर मतदान होंगे। चुनाव के दिन के कारण, यानी आज मथुरा, नोएडा, गाजियाबाद, अलीगढ़ और देश भर के 88 लोकसभा सीटें वाले क्षेत्रों में सभी स्कूल-कॉलेज, यूनिवर्सिटी और संस्थान बंद रहेंगे। इसका कारण है कि चुनाव के दिन स्कूलों और संस्थानों को मतदान केंद्रों के रूप में व्यवस्थित कर दिया जाता है।
इस साल, वोटिंग 7 चरणों में होनी है, जो करीबन 3 महीनों में आयोजित की जाएगी। देश में पहले चरण का चुनाव 19 अप्रैल को हुआ, इस दिन अरुणाचल, असम, नागालैंड, मणिपुर, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र समेत 21 राज्यों की 102 सीटों पर चुनाव हो चुके हैं। अब दूसरे चरण के तहत 13 राज्यों की 88 सीटों पर कल मतदान होगा। बता दें कि इससे पहले 89 सीटों पर वोटिंग होनी थी, पर मध्य प्रदेश की बैतूल सीट पर बीएसपी के उम्मीदवार की मौत हो गई, इस कारण इलेक्शन कमीशन ने यहां चुनाव को बढ़ा कर 7 मई कर दिया।

बुधवार, 24 अप्रैल 2024

यूपी: गर्मी के चलते स्कूलों का समय बदला

यूपी: गर्मी के चलते स्कूलों का समय बदला 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। यूपी में गर्मी के चलते स्कूलों का समय बदल गया है। कक्षा एक से लेकर आठ तक के स्कूलों में यह फैसला लागू किया जाएगा।
प्रदेश में कक्षा एक से आठ के परिषदीय व मान्यता प्राप्त विद्यालयों का समय बदल दिया गया है। इसके अनुसार सभी विद्यालय सुबह 7.30 बजे से दोपहर एक बजे तक चलेंगे। बेसिक शिक्षा विभाग के विशेष सचिव यतींद्र कुमार ने बेसिक शिक्षा निदेशक को भेजे पत्र में इसका अनुपालन सुनिश्चित कराने को कहा है।
अभी विद्यालयों का समय सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे तक का है। भीषण गर्मी को देखते हुए शिक्षक व अभिभावक विद्यालयों का समय बदलने की मांग कर रहे थे। पूर्व में कुछ जिलों में बीएसए ने अपने स्तर से इसमें बदलाव भी किया था। किंतु, उसे निरस्त कर दिया गया था। दोपहर में विद्यालयों का समय एक घंटा कम होने से बच्चों को काफी राहत मिलेगी।

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

25 अप्रैल से पहले रिजल्ट जारी करेगा 'यूपी बोर्ड'

25 अप्रैल से पहले रिजल्ट जारी करेगा 'यूपी बोर्ड' 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्र बेसब्री से रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं। इस साल 55 लाख से ज्यादा छात्रों ने यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा दी थी। छात्रों इंतजार जल्दी ही खत्म होने जा रहा है। यूपी बोर्ड इस बार 25 अप्रैल से पहले रिजल्ट जारी कर सकता है।
रिजल्ट जारी होने पर छात्र बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से अपना परिणाम देख सकेंगे। रिजल्ट की तारीख यूपी बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ला के द्वारा जारी की जाएगी।

रविवार, 31 मार्च 2024

'एनपीएस' का विरोध दर्ज कराएंगे शिक्षक-कर्मचारी

'एनपीएस' का विरोध दर्ज कराएंगे शिक्षक-कर्मचारी 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। आज प्रदेश भर के शिक्षक-कर्मचारी अपने कार्यस्थल पर काली पट्टी बांधकर न्यू पेंशन स्कीम (एनपीएस) का विरोध दर्ज कराएंगे। अटेवा के प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार बन्धु ने कहा कि उत्तर प्रदेश में एक अप्रैल 2005 से नई पेंशन योजना लागू कर पुरानी पेंशन योजना को समाप्त कर दिया गया था। अटेवा हर साल एक अप्रैल को एनपीएस का विरोध दर्ज कराकर सरकार से पुरानी पेंशन बहाली की मांग करता आ रहा है।
उन्होंने कहा कि एनपीएस की सच्चाई सामने आने लगी है किसी को 500 किसी को 1200 तो किसी को 1800 रुपए पेंशन के रूप में मिल रही है। इससे न तो उसका और न उसके परिवार का भरण पोषण हो रहा है। इसीलिए एनपीएस को लेकर लोगों में आक्रोश है। अटेवा के प्रदेश महामंत्री डॉ. नीरजपति त्रिपाठी ने कहा कि नई पेंशन योजना से सरकारी कर्मचारियों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। सेवानिवृत्त होने के बाद सरकारी कर्मचारी दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। यही वजह है कि कल पूरे प्रदेश का शिक्षक कर्मचारी काली पट्टी बंद करके एनपीएस के विरुद्ध अपना विरोध दर्ज कराएगा।

मुख्तार के जनाजे के दौरान पुलिस से धक्का-मुक्की

मुख्तार के जनाजे के दौरान पुलिस से धक्का-मुक्की
शैलेंद्र श्रीवास्तव
गाजीपुर। मुख्तार अंसारी के जनाजे के दौरान पुलिस द्वारा व्यवस्था बनाने के लिए की गई बेरिकेडिंग को तोड़ने और इस दौरान पुलिस के साथ धक्का मुक्की करते हुए नारेबाजी करने के मामले को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने कहा है कि पूरे मामले की वीडियो ग्राफी कराई गई है। जनाजे के दौरान नारेबाजी करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। मुख्तार अंसारी के पार्थिव शरीर को मिट्टी देने को लेकर मुख्तार के भाई अफजाल और जिलाधिकारी के बीच तीखी नोंक झोंक भी हुई है।
शनिवार को जिस समय मुख्तार अंसारी के शव को गाजीपुर के काली बाग कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक करने के लिए ले जाया जा रहा था तो इस दौरान मुख्तार को अंतिम विदाई देने के लिए भारी भीड़ उमड़ पड़ी। कब्रिस्तान में हर कोई मुख्तार को मिट्टी देना चाहता था। जबकि प्रशासन की कोशिश केवल मुख्तार के परिवार जनों एवं खास रिश्तेदारों को कब्रिस्तान के अंदर जाने देने की थी। इस दौरान कुछ समर्थकों को मिट्टी देने से रोके जाने पर मुख्तार के भाई एवं सांसद अफजाल अंसारी की जिलाधिकारी आर्यका अखौरी के साथ तीखी नोंक झोंक हुई। सांसद अफजाल अंसारी ने जिलाधिकारी से कहा कि यह आपकी कृपा नहीं है कि आप इस बात को तय करेंगे कि अमुक व्यक्ति ही मुख्तार को मिट्टी देंगे। 
इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि मैं डीएम हूं, आपने परमिशन नहीं ली है। हम कानूनी कार्यवाही करेंगे। इस पर सांसद अफजाल अंसारी ने कहा आप चाहे कुछ भी हैं मिट्टी देने के लिए या अपने धार्मिक प्रयोजन के लिए किसी परमिशन की जरूरत नहीं है। जिलाधिकारी ने अफजल अंसारी को याद दिलाया कि गाजीपुर में धारा 144 लागू की गई है। इस पर सांसद अफजाल अंसारी ने कहा कि धारा 144 में भी अंतिम संस्कार के लिए परमिशन नहीं लेनी होती है। जिलाधिकारी ने कहा है कि जिन लोगों ने नारेबाजी की है, उन सब की वीडियो ग्राफी की गई है। उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

बालू खनन के लिए मोड़ दिया नदी का धारा प्रवाह

बालू खनन के लिए मोड़ दिया नदी का धारा प्रवाह
सुरेन्द्र सिंह कुशवाह
चित्रकूट। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अवैध खनन नियंत्रण के कितने भी दावे कर ले लेकिन चित्रकूट जिले में सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं ।ऐसा इसलिए क्योंकि जिले के बागै नदी को दबंग बालू माफिया अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए दिन-रात पोकलैंड और बड़ी-बड़ी जेसीबी मशीनों से अवैध बालू खनन कर नदी का सीना छलनी किया जा रहे हैं ,यह सब बागै नदी के धौरहरा घाट में धडल्ले से किया जा रहा है, वहीं बागै नदी के धौरहरा घाट में बालू माफिया नदी के बीच में घुसकर अवैध ओवरलोडिंग कर रहे हैं साथ ही बड़ी-बड़ी भारी भरकम मशीन नदी के बीचो-बीच धारा में जाकर धारा को परिवर्तित कर बीच धारा से बालू निकल रहे हैं,माफिया पूर्ण रूप से सक्रिय होकर एनजीटी के नियमों को ताक पर रखकर दिन-रात बेखौफ होकर बालू निकाल रहे हैं ।चित्रकूट जिले के बागै नदी के धौरहरा घाट से अवैध तरीके से भारी भरकम मशीन लगाकर बालू निकाली जा रही हैं ,बताया जा रहा है की बालू निकालते कहीं और से हैं और पर परमिट कहीं और का दिया जा रहा है ।इसी तर्ज पर सीमा से बढ़कर नदी के बीच धारा से आगे बढ़कर अवैध बालू खनन किया जा रहा है तथा अवैध बालू खनन का पूरा काम प्रशासन की नजरों के सामने हो रहा है जिससे यह सिद्ध होता है कि खनन विभाग स्थानीय पुलिस प्रशासन , राजस्व विभाग का बालू माफियाओं के साथ साठ - गांठ है। गांव वासियों के अनुसार सीमा से बाहर जाकर अवैध बालू खनन किया जा रहा है नदी की धारा प्रवाह को अवरुद्ध कर बागै नदी से बालू भारी भरकम मशीनों को बीच धारा में लगाकर निकाली जा रही है ।बालू माफियाओं के इस प्रकार के अवैध खनन से जलीय जीव जंतुओं को भी भारी नुकसान हो रहा है और वर्तमान में बागै नदी के जलीय जीव जंतु निरंतर दम तोड़ रहे हैं स्थानीय लोगों के अनुसार मालिकों व कर्मचारियों द्वारा इस समय पूरे क्षेत्र में नदी की धारा में सक्रिय होकर अवैध बालू खनन का कार्य जोर शोर से किया जा रहा है ।वही आपको बता दें खनन से चित्रकूट जिले के राजस्व विभाग का अच्छा खासा लाभ होता है लेकिन इस प्रकार के बालू माफिया और प्रशासन के भ्रष्ट अधिकारियों की मिली भगत से राज्य सरकार को राजस्व को भारी क्षति हो रही है ।इस खबर के प्रकाशन के बाद देखने वाली बात यह होगी कि क्या बुलडोजर बाबा का बुलडोजर इन बालू माफियाओं के भ्रष्ट रवयो पर चलेगा या फिर बालू माफियाओं का बुलडोजर बागै नदी के सीने को छलनी करता रहेगा । जिला प्रशासन अपना - अपना नाक बचाने के लिए कई का बार खनन माफियाओं पर छोटा-मोटा जुर्माना लगाकर खाना पूर्ति कर देती है ।इन्हें उत्तर प्रदेश के मुखिया बुलडोजर वाले बाबा का तनिक भी भय नहीं है।

गुरुवार, 28 मार्च 2024

25 लाख रुपए तक का लोन दे रही है सरकार

25 लाख रुपए तक का लोन दे रही है सरकार 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश में बेरोजगारी को कम करने के लिए लगातार कई तरह की योजनाओं को चला रही है। जिसकी सहायता से युवा खुद का एक व्यापार शुरू कर लाभ उठा सकते हैं। राज्य सरकार ने एक ऐसी ही योजना के माध्यम से प्रदेश के शिक्षित और बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के लिए यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना की शुरूआत की है। 
इस योजना का मुख्य उद्देश्य शिक्षित युवाओं के लिए रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देना है। जिसके जरिए खुद का व्यवसाय या स्टार्टअप शुरू करने के लिए सरकार बेरोजगार युवाओं को आर्थिक मदद देने के लिए कम ब्याज दर पर बैंक से लोन मुहैया करने में मदद करती है। इस योजना में सरकार कम ब्याज दर पर 25 लाख रुपए तक का लोन दे रही है। इस योजना के तहत 2023 से अब तक जिले में कुल 109 युवाओं को रोजगार शुरू करने के लिए 12.22 करोड़ की धनराशि वितरित की गई। जिसमें 89 पुरुषों और 20 महिलाओं को लाभ मिला है। 

योजना की रूपरेखा
उघोग क्षेत्र हेतु रुपए 25.00 लाख तक।
सेवा क्षेत्र हेतु रुपए 10.00 लाख तक।
सब्सिडी 25 प्रतिशत प्रत्येक क्षेत्र हेतु।
उघोग क्षेत्र हेतु अधिकतम सब्सिडी रुपए 6.25 लाख।
सेवा क्षेत्र हेतु अधिकतम सब्सिडी रुपए 2.50 लाख।

योग्यता अनिवार्य
अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश का मूल निवासी हो।
आयु 18 से 40 वर्ष के मध्य हो। 
हाईस्कूल उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।
किसी भी वित्तीय संस्थान से डिफाल्टर न हो।
आवेदक अथवा उसके परिवार के किसी व्यक्ति ने राज्य/ केन्द्र सरकार की समान प्रकृति की योजनान्तर्गत सब्सिडी का लाभ नहीं लिया हो।

आवेदन की प्रक्रिया 
आवेदक ऑनलाइन पोर्टल msme.up.gov.in पर आवेदन कर सकते हैं। आवेदक को नवीनतम कलर फोटो, आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, हाईस्कूल की मार्कशीट अथवा प्रमाणपत्र, बैंक पासबुक, प्रोजेक्ट रिपोर्ट तथा कार्यस्थल निजी होने का प्रमाण पत्र अथवा 7 वर्ष की किरायेदारी का अंनुबंध पत्र आदि संलग्न करना होगा।

चयन प्रक्रिया
चयन समिति के चयनोपरान्त 7 दिन के अंदर आवेदन पत्र सम्बन्धित बैंको को प्रेषण।
रिजर्व बैंक के नियमानुसार कोलेट्रल गारण्टी अपलब्ध करानी होगी।
औपचारिकताएं पूर्ण होने पर सम्बन्धित बैंक से 1 माह के अंदर ऋण स्वीकृति किये जाने का प्राविधान।
ऋण स्वीकृति के उपरांत 6 दिन का प्रशिक्षण कराया जाएगा।
प्रशिक्षणोपरांत 1 माह के अंदर ऋण वितरण बैंक द्वारा किया जाएगा।
ऋण वितरण उपरान्त बैंक उपायुक्त उद्योग से सब्सिडी क्लेम करेगी।

शुक्रवार, 15 मार्च 2024

अयोध्या को 411 परियोजनाओं की सौगात दी

अयोध्या को 411 परियोजनाओं की सौगात दी

संदीप मिश्र 
अयोध्या। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या को 1,090 करोड़ रुपये की 411 विकास परियोजनाओं की सौगात दी। इस दौरान उन्होंने सपा-कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या के राजकीय इंटर कॉलेज में आयोजित विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए सपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सपा और कांग्रेस न आस्था का सम्मान करते हैं, न आजीविका की व्यवस्था कर सकते हैं। न तो गरीब को अन्न दे सकते हैं, न आवास, न दवाई, न पढ़ाई की व्यवस्था ही कर सकते हैं। न तो बेटियों और व्यापारियों को सुरक्षा ही दे सकते हैं। ऐसे में हमें भी इन्हें सिर पर बोझा बनाकर ढोने के लिए मजबूर नहीं होना चाहिए, इस बोझ को उतारकर देश से बाहर फेंक देना चाहिए। मुख्यमंत्री ने इस दौरान ₹1,090 करोड़ की 411 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस अवसर पर सीएम योगी विराट किसान मेला एवं कृषि प्रदर्शनी के समापन समारोह में भी शामिल हुए। साथ ही विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र एवं चयन पत्र वितरित किया।
अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि 22 जनवरी से लेकर 10 मार्च तक 1 करोड़ श्रद्धालुओं ने प्रभु श्रीरामलला के दर्शन किये हैं। ये प्रभु की ही कृपा है कि चहुंओर शांति और सौहार्दपूर्ण तरीके से सुगम एवं सुरक्षित दर्शन-पूजन का कार्यक्रम चल रहा है। यही नहीं अयोध्या वासियों ने भी आतिथि सेवा का अनुपम उदाहरण प्रस्तुत किया है। उन्होंने कहा कि आज अयोध्या का नाम पूरी दुनिया में गूंज रहा है। कुछ लोग कहा करते थे कि यहां परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा, अब तो 1 करोड़ से अधिक श्रद्धालु श्रीरामलला के नव्य-भव्य-दिव्य मंदिर में दर्शन कर चुके हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या को दुनिया की सबसे सुंदरतम नगरी के रूप में स्थापित किया जा रहा है। उन्होंने जनता से पूछा कि क्या सपा या कांग्रेस की सरकार होती तो एयरपोर्ट, 4 लेन, 6 लेन सड़कें बन पातीं, क्या प्रदेश में सुरक्षित माहौल बन पाता ? क्या आज अगर पूरी दुनिया अयोध्या आने के लिए उतावली दिख रही है, तो क्या सपा और कांग्रेस के कारण? मुख्यमंत्री ने कहा कि आप सभी को अपना जन्म और जीवन धन्य मानना चाहिए। अयोध्या 32 हजार करोड़ से अधिक के कार्यों से विकास के नये मार्ग पर बढ़ रही है। यहां नई उड़ान सेवाएं शुरू हो रही हैं, नये होटल, रेस्टोरेंट खुल रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि दीपोत्सव को कुछ लोग औपचारिकता कहते थे, मगर हमने तब कहा था कि ये अयोध्या में भगवान श्रीराम के आगमन के पहले की तैयारी है। उन्होंने अयोध्या के सांसद लल्लू सिंह की प्रशंसा करते हुए अयोध्यावासियों ने से उनके लिए वोट की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि राम पथ, भक्ति पथ और धर्म पथ के साथ ही यहां मल्टीलेवल पार्किंग की किसी ने भी कल्पना भी नहीं की थी। हम सूर्य वंश की इस राजधानी को सोलर सिटी के रूप में डेवलप कर रहे हैं। यहां 40 मेगावाट के पैनल लगाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री का संकल्प 2047 तक भारत को विकसित देश बनाने का है। इसके लिए विकसित यूपी और विकसित यूपी के लिए भी विकसित अयोध्या का निर्माण करना होगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि बहुत जल्द सरकार फैमिली आईडी शुरू कर रही है, जिससे छूटे हुए लोगों को योजनाओं का लाभ देने में आसानी होगी। यही रामराज्य है। उन्होंने कहा कि प्रभु अपना सारा काम कराते हैं, माध्यम कोई न कोई बन ही जाता है। इस अवसर पर सांसद लल्लू सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष रोली सिंह, महापौर गिरीश पति त्रिपाठी, विधायक वेद प्रकाश गुप्ता, रामचंद्र यादव, डॉ. अमित सिंह चौहान सहित बीजेपी के पदाधिकारीगण मौजूद रहे।
मुख्यमंत्री ने बिगिनियापुर एवं हंसराजपुर समगढ़ा के मध्य गोमती नदी के बिगिनियापुर घाट पर सेतु, पहुंच मार्ग, सुरक्षात्मक कार्य, 40 मेगावाट का सोलर पावर प्रोजेक्ट, ग्रामसभा-साहसीपुर से तिवारीपुर होते हुए धारूपुर संपर्क मार्ग, दर्शननगर-रसूलाबाद-ऐमीघाट मार्ग के किमी 1 से 13 तक नवीनीकरण, महराजगंज, हैदरगंज, रुदौली एवं रौनाही थाने में हॉस्टल, बैरक एवं विवेचना कक्ष, कस्तूरबा गांधी विद्यालय, सोहावल में 100 बेड का छात्रावास, बिल्हर घाट-ऐमी घाट-तारुन-गोसाईगंज मार्ग का किमी 1 से 12 तक नवीनीकरण, जलालपुर रामपुर भगन-तारुन अहिरौली मार्ग का नवीनीकरण, 60 ग्राम पंचायतों में ग्रामीण पेयजल परियोजना, मां कामाख्या नगर पंचायत कार्यालय भवन, मां कामाख्या, भरतकुंड-भदरसा, कुमारगंज, गोसाईगंज एवं रुदौली नगर पंचायत में एम.आर.एफ. सेंटर का लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने सरयू नदी जलापूर्ति स्रोत से वाटर ट्रीटमेंट प्लांट परियोजना का फेज-1, अमृत-2.0 के अंतर्गत नगर पालिका परिषद रुदौली पेयजल पुनर्गठन परियोजना, 12,000 वर्गफीट पर पुलिस प्रशासनिक भवन/कंट्रोल रूम, श्री रामकथा पार्क में नवीन पर्यटक आवास गृह, रायबरेली-अयोध्या मार्ग नाका हाईवे से नाका चुंगी तक 4 लेन चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण, भक्तिपथ से श्रीराम जन्मभूमि पथ तक वाया हनुमान गढ़ी मार्ग, 40 मेगावाट का सोलर पावर प्रोजेक्ट, राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय में नर्सिंग कॉलेज का शिलान्यास किया।

मंगलवार, 12 मार्च 2024

दस बस स्टेशनों के कार्य का शिलान्यास किया

दस बस स्टेशनों के कार्य का शिलान्यास किया

संदीप मिश्र 
लखनऊ। परिवहन निगम ने मंगलवार को 3067 करोड़ रुपए की लागत से दस बस स्टेशनों के नव निर्माण और पुनर्निर्माण के कार्य का शिलान्यास किया। अब यात्रियों को और सुरक्षित व सुलभ रोडवेज की बसें मिल सकेंगी।
उत्तर प्रदेश के प्रत्येक नागरिक को परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश परिवहन निगम द्वारा संचालित बसों को और सुलभ व सुरक्षित बना दिया है। इसके तहत योगी सरकार ने मंगलवार को निगम मुख्यालय स्थित कमांड कंट्रोल सेंटर का उद्घाटन किया।
इस कमांड कंट्रोल सेंटर के माध्यम से बसों की लाइव ट्रैकिंग, आपात स्थिति में रियलटाइम लोकेशन पर तत्काल सहायता समेत पैनिक बटन के अलर्ट जैसी सुविधाएं मिलेंगी। इससे निगम की बसों को और अधिक सुरक्षित बनाने में मदद मिलेगी। मंगलवार को निगम द्वारा 3067 करोड़ रुपए की लागत से दस बस स्टेशनों के नव निर्माण और पुनर्निर्माण के कार्य का शिलान्यास किया गया, जबकि 1048 करोड़ की लागत से बने कमांड एंड कंट्रोल सेंटर और तीन अन्य बस स्टेशन का लोकार्पण भी किया गया।
परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दयाशंकर सिंह ने निगम मुख्यालय के सभागार कक्ष में इन सभी परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया। उन्होंने बताया कि कंट्रोल एंड कमांड सेंटर की स्थापना से मुख्यालय में परिवहन निगम की बसों की लाइव ट्रैकिंग उपलब्ध रहेगी। किसी आकस्मिक स्थिति में वास्तविक लोकेशन उपलब्ध रहने से तत्काल सहायता पहुंचाना संभव हो सकेगा। यात्रा के दौरान किसी अप्रिय स्थिति में यात्री द्वारा वाहन में स्थापित पैनिक बटन प्रेस करने पर निगम मुख्यालय स्थित कमांड कंट्रोल सेंटर एवं संबंधित क्षेत्रीय कंट्रोल रूम में पैनिक अलर्ट प्रदर्शित होगा।

'भाजपा' ने दस साल में महंगाई, बेरोजगारी बढ़ाई

'भाजपा' ने दस साल में महंगाई, बेरोजगारी बढ़ाई संदीप मिश्र  लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार न...