गुरुवार, 4 फ़रवरी 2021

सावधान: कुवैत ने विदेशी लोगों पर लगाया प्रतिबंध

कुवैत सिटी। कोविड -19 के प्रसार को रोकने के लिए एक नया प्रयास कर रहा है। जिसके तहत वह दो सप्ताह की अवधि के लिए देश में दूसरे देशों के निवासियों के प्रवेश को रोक देगा। एक सरकारी प्रवक्ता ने यहां इसकी घोषणा की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार शाम को कुवैत सरकार की बैठक के बाद सरकारी प्रवक्ता तारेक अल-मेजरेम ने इस बारे में घोषणा की। कुवैत में करीब 9 लाख 60 हजार भारतीय रहते हैं। माना जा रहा है कि इस यात्रा बैन का उनपर असर पड़ेगा। बैठक सार्वजनिक स्वास्थ्य की स्थिति और नवीनतम घटनाओं पर चर्चा करने के लिए आयोजित की गई थी। दो सप्ताह का प्रतिबंध 7 फरवरी से शुरू होगा। इसके अलावा, सरकार ने सभी व्यावसायिक गतिविधियों को रात 8 बजे से सुबह 5 बजे तक निलंबित करने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि दवाई कंपनियों और किराने की दुकानों को छोड़कर यह समय अवधि लागू है। उन्होंने कहा कि स्पोर्ट्स क्लब, जिम, सैलून और स्पा सेंटर में सभी गतिविधियों को भी फिलहाल रोक दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस दौरान राष्ट्रीय दिवस सहित सभी उत्सव गतिविधियों को प्रतिबंधित किया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कुवैत में कोरोना के मामलों की संख्या बढ़कर 167,410 हो गई है। जबकि इस महामारी से यहां 961 लोगों की मौत हुई है। इससे पहले सऊदी अरब ने भारत-पाकिस्‍तान समेत 20 देशों को बड़ा झटका दिया है। सऊदी अरब की सरकार ने मंगलवार को इन देशों से लोगों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया। सऊदी अरब ने कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए यह प्रतिबंध लगाया है। हालांकि इस यात्रा प्रतिबंध में राजनयिकों, सऊदी नागरिकों, डॉक्‍टरों और उनके परिवार को छूट दी गई है। सऊदी अरब के इस प्रतिबंध से कई भारतीय प्रभावित हो सकते हैं जो सऊदी अरब में काम करते हैं। सऊदी सरकार ने कहा क‍ि यह प्रतिबंध अल्‍पकालिक है और बुधवार रात 9 बजे से यह यात्रा प्रतिबंध लागू होगा। यह प्रतिबंध पड़ोसी म‍िस्र, यूएई, लेबनान, जर्मनी, ब्रिटेन, आयरलैंड, इटली, अमेरिका आदि शामिल हैं। इस यात्रा प्रतिबंध में कहा कि सऊदी अरब सरकार यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेगी कि इन देशों के साथ सप्‍लाइ चेन बनी रहे और जहाजों का आना-जाना जारी रहे।

मुखिया कुख्यात हक्कानी नेटवर्क के साथ संबंध

वाशिंगटन डीसी। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस की ओर से जारी एक रिपोर्ट में बताया गया है कि आतंकवादी संगठन आईएसआईएल-के का नया नेता शिहाब अल-मुहाजिर भारत, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, मालदीव, पाकिस्तान और श्रीलंका में आतंकवादी गतिविधियों के अभियानों का प्रमुख है और बताया जाता है कि उसका जुड़ाव पहले कुख्यात हक्कानी नेटवर्क के साथ रहा है।

इस्लामिक स्टेट इन इराक एंड द लेवांत- खोरासान (आईएसआईएल-के) को लेकर महासचिव की 12वीं रिपोर्ट में बताया गया है कि आईएसआईएल-के के पास अफगानिस्तान के विभिन्न प्रांतों में 1,000 से 2,200 लड़ाके हैं। यह संगठन आईएसआईएस (इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया) और दइश के नाम से भी जाना जाता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएसआईएल-के अफगानिस्तान के नंगरहार और कुनार समेत अन्य प्रांतों में हमले जारी रखे हुए है। रिपोर्ट में कहा गया कि आईएसआईएल-के को इन प्रांतों के बड़े इलाकों पर कब्जा करने की कोशिश में चुनौतियां तो मिल रही हैं लेकिन इस संगठन ने यहां कई हमलों की जम्मेदारी ली है।

संगठन ने मई में काबुल के प्रसूति अस्पताल, अगस्त में जलालाबाद शहर के जेल पर हमले, नवंबर में काबुल विश्वविद्यालय पर हमले और दिसंबर में नंगरहार प्रांत में एक महिला पत्रकार की हत्या समेत कई हमलों की जिम्मेदारी ली है। रिपोर्ट में कहा गया कि आईएसआईएल-के के पास अभी अफगानिस्तान के कई प्रांतों में 1,000-2,200 के बीच लड़ाके होने का आकलन किया गया है और संगठन द्वारा काबुल और अन्य प्रांतों की राजधानियों में हमले करने की आशंका है।

शिहाब अल-मुहाजिर को जून 2020 में इस समूह का नया नेता बनाया गया और वह कथित तौर पर अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भारत, मालदीव, पाकिस्तान, श्रीलंका, मध्य एशिया के देशों में आतंकी अभियानों का नेतृत्व करता है। ऐसा कहा गया है कि इससे पहले वह हक्कानी नेटवर्क से जुड़ा था। वाशिंगटन के ‘इंस्टीट्यूट फॉर द स्टडी ऑफ वॉर के अनुसार हक्कानी नेटवर्क को पाकिस्तान के सुरक्षा प्रतिष्ठानों में से कुछ लोगों का समर्थन हासिल है और यह अफगानिस्तान में लंबे समय से आतंकवादी संगठन के रूप में काम करता रहा है।

आतंकवादियों के चंगुल से छुड़ाए अपने सैनिक

इस्लामाबाद/ तेहरान। पाकिस्तान पर एक और सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया है। इस बार ईरान ने पाकिस्तान के अंदर घुसकर आतंकियों को मारा है और अपने दो सैनिकों को मुक्त करा लिया। इसके साथ ही ईरान तीसरा देश बन गया है। जिसने पाकिस्तान की सीमा के अंदर जाकर आतंकियों को मारा है। इससे पहले अमेरिका और भारत ने ऐसा किया है। सर्जिकल स्ट्राइक को मंगलवार रात अंजाम दिया गया। सूत्रों ने बताया कि इस ऑपरेशन में कई पाकिस्तानी सैनिक भी मारे गए हैं, जो आतंकवादियों को कवर फायर दे रहे थे।ईरान की रेवोल्यूशनरी गार्ड्स (IRGC) ने खुफिया जानकारी के आधार पर पाकिस्तान के काफी अंदर जाकर ऑपरेशन को अंजाम दिया है। इसमें उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे से अपने दो सैनिकों को भी छुड़ा लिया है। IRGC से जुड़े सूत्रों ने बताया कि ईरान के सैनिकों ने पाकिस्तान के अवैध रूप से कब्जाए गए बलोचिस्तान में घुसकर जैश अल-अदल के कब्जे से अपने सैनिकों को मुक्त कराया है।  रेवोल्यूशनरी गार्ड्स की ओर से जारी आधिकारिक बयान में भी इसकी पुष्टि कर दी गई है और कहा गया है कि खुफिया जानकारी के आधार पर पाकिस्तान के अंदर जाकर अपने सैनिकों को आजाद करा लिया है। बयान में कहा गया है, ”आतंकी समूह की ओर से अगवा किए गए दो बॉर्डर गार्ड्स को मुक्त कराने के लिए मंगलवार को सफलतापूर्वक इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया है।” जैश उल-अदल या जैश अल-अदल एक सलाफी जिहादी आतंकी संगठन है जो मुख्यतौर पर दक्षिणी-पूर्वी ईरान में सक्रिय है। यह आतंकवादी संगठन ईरान में नागरिक और सैन्य ठिकानों पर कई हमले कर चुका है। बलूचिस्तान में निर्दोष लोगों के नरसंहार के लिए इस आतंकी संगठन को पाकिस्तानी सेना से पूरा समर्थन मिलता है। IRGC के सूत्रों ने बताया कि मुक्त कराए गए ईरानी बॉर्डर गार्ड्स के जवानों को 2018 में अगवा किया गया था और पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी समूह ने पाकिस्तान में तब से बंधक बना रखा था। अब सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए उन्हें छुड़ा लिया गया है।

विकास खण्ड स्तर पर शिविर का आयोजन: डीएम

दिव्यांग जन को उनके आवश्यकता के अनुसार निःशुल्क कृत्रिम अंग/सहायक उपकरण प्रदान करने के उद्देश्य से विकास खण्ड स्तर पर शिविर का आयोजन- जिलाधिकारी
संदीप मिश्र   
बरेली। जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने बताया है कि दिव्यांग जन को मुख्य धारा से जोड़ने के लिए दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा संचालित योजनाओं/कार्यक्रमों को प्रचार-प्रसार एवं दिव्यांग जन को उनके आवश्यकता के अनुसार निःशुल्क कृत्रिम अंग/सहायक उपकरण प्रदान करने के उद्देश्य से विकास खण्ड स्तर पर दिनांक 9 फरवरी से 12 फरवरी 2021 तक वृहद चिन्हांकन/वितरण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि दिनांक 9 फरवरी 2021 को विकास खण्ड खलीलाबाद, बघौली, सेमरियांवा, नगर पालिका खलीलाबाद, नगर पंचायत मगहर के दिव्यांगजन कमरा न0-33 संयुक्त जिला चिकित्सालय संत कबीर नग में, दिनांक 10 फरवरी 2021 को विकास खण्ड मेंहदावल, बेलहर कला, सांथा के दिव्यांगजन विकास खण्ड परिसर मेंहदावल में, दिनांक 11 फरवरी 2021 को विकास खण्ड हैंसर बाजार, नाथनगर, पौली, नगर पंचायत हरिहरपुर के दिव्यांग जन विकास खण्ड परिसर नाथनगर में तथा दिनांक 12 फरवरी 2021 को उक्त कैम्पों से छूटे दिव्यांगजनों हेतु विकास भवन परिसर खलीलाबाद में उपस्थित होकर योजना का लाभ ले सकते है।
कृत्रिम अंग/सहायक उपकरण योजनान्तर्गत दिव्यांगजनों को उनकी आवश्यकता के अनुसार सहायक उपकरण जैस-ट्राई साइकिल, व्हीलचेयर, बैशाखी, श्रवण यंत्र, वाकर, अंध छड़ी, बनवटी अंग कैलीपर्स, कृत्रिम हाथ पैर आदि का चिन्हांकन किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि आवेदक को उक्त शिविर में मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा निर्गत दिव्यांगता प्रमाण पत्र (40 प्रतिशत से अधिक), आधार कार्ड, जनप्रतिनिधि/सक्षम अधिकारी से निर्गत आय  प्रमाण पत्र ( ग्रामीण क्षेत्र के लिए रू0 46080 वार्षिक तथा शहरी क्षेत्र के लिए रू0 56460 वार्षिक), जाति प्रमाण पत्र, दो पासपोर्ट साइज के फोटो शिविर में लाना अनिवार्य होगा।

यूपी में कब शुरू होगी कक्षा 6 से 8 तक की पढ़ाई ?

जानिए यूपी में कब से शुरू होगी कक्षा 6 से 8 तक की पढ़ाई , सीएम योगी ने जारी किए निर्देश
हरिओम उपाध्याय   
लखनऊ। उत्तर प्रदेश कैरियरताज़ा राष्ट्रीय शिक्षा देश में कोरोना संक्रमण को लेकर हालात अब नियंत्रण में है। इसके कारण, अब ज्यादातर ने स्कूल खोलने का फैसला किया है। कई राज्यों ने पहले ही कक्षा 10 से 12 तक के स्कूल खोले दिए थे। कोरोना का असर राज्य में कम होते देख उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूल खोलने का निर्देश भी नए सिरे से जारी कर दिया है।
सीएम योगी ने दिए निर्देश...
यूपी के योगी सरकार स्कूलों को पुराने ढर्रे पर लाने स्टूडेंट की ऑफलाइन शिक्षा की तैयारी में जुट गई है।मंगलवार को अपने सरकारी आवास पर सीएम योगी ने कोविड अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा में 10 दिन में कक्षा 6 से 12 तक के स्कूल खोलने की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। सीएम ने मंगलवार को इन कक्षाओं के संचालन के लिए अधिकारियों को आंकलन करने की जिम्मेदारी सौंपी है। सीएम योगी अपने सरकारी आवास पर अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री का रुख देखकर माना जा रहा है कि 12 फरवरी से उत्तर प्रदेश में सभी स्कूल खुल जाएंगे।
नवंबर से शुरू हुईं थी, क्लास 9 से 12 तक की कक्षाएं
गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के कारण 15 मार्च 2020 से प्रदेश में परिषदीय स्कूलों में कक्षाओं का संचालन नहीं हो रहा है। कक्षा 9 से 12 तक का संचालन नवंबर 2020 से शुरू हो गया था।
हर स्थिति के आंकलन के बाद हो कक्षाओं का संचालन-योगी...
सीएम योगी ने निर्देश दिया कि सभी जगह की स्थिति का पूरी तरह से आंकलन होने के बाद ही इन कक्षाओं का संचालन शुरू किया जाए। हर जिले में कोविड के हालातों का ध्यान रखते हुए पढ़ाई शुरू कराई जाए। इसी के साथ ही कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस सिस्टम को सक्रिय रखा जाए। 
अभिभावकों और बच्चों ने जताई खुशी...
सीएम योगी के स्कूल खुलने के निर्देश के बाद अभिभावकों का कहना है कि ऑनलाइन पढ़ाई में बच्चों पर मेंटल प्रेशर बढ़ गया है। बच्चे के लगातार स्क्रीन के सामने बैठे रहने के कारण उनकी भूख और प्यास पर भी असर पड़ा है। वहीं पढ़ाई में भी अपडेटेड कंटेंट न मिलने से बच्चों का बेस कमजोर हो रहा है। जिससे आगामी कक्षाओं में प्रमोट होने पर भी उनका बेस कहीं ना कहीं कमजोर रह जाएगा। स्कूल खुलने की खबर से बच्चों में काफी उत्साह है। इस मामले पर बच्चों का कहना है। कि ऑनलाइन कॉन्सेप्ट उनको अच्छी तरह से समझ नहीं आते हैं। स्कूल में पहुंचकर टीचरों से अपने डाउट क्लियर करने में आसानी रहती थी। बच्चों का कहना है। कि ऑनलाइन पढ़ाई में एग्जाम के दौरान कई समस्याएं आती हैं। 
अभी तीन घंटे के लिए ही संचालित की जाएंगी कक्षाएं
सभी बोर्ड के स्कूलों में 6 से आठ तक की क्लासेज अभी तीन घंटे के लिए ही संचालित की जाएंगी। सभी स्कूलों में सुबह दस बजे से 1 बजे तक क्लास लगाई जाएंगी।इसे लेकर सभी स्कूलों को तैयारियां करने को कहा गया है। बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अभिभावकों की ओर से लिखित अनुमति भी ली जाएगी माना जा रहा है कि सीएम के निर्देश के बाद जल्दी ही छोटी क्लास के स्टूडेंट भी स्कूल जा सकेंगे। हालांकि इसके लिए सरकार को बड़ी तैयारी करनी पड़ेगी।

अधिकारी पंकज को डीआईजी के पद पर प्रोन्नति दी

नई दिल्ली। प्रांतीय पुलिस सेवा के अधिकारी पंकज कुमार को रिटायरमेंट से 12 घंटे पहले डीआईजी के पद पर प्रोन्नति दे दी गई। पंकज के खिलाफ बस्ती के एक मामले में विभागीय जांच के आदेश दिए गए थे। इस मामले में विभागीय कार्रवाई भी चल रही थी।
सूत्रों ने बताया कि रिटायरमेंट के एक दिन पहले विभागीय कार्रवाई को समाप्त कर दिया गया और उसके बाद प्रमोशन की कार्रवाई शुरू कर दी गई। आननफानन विभागीय प्रोन्नति समिति की बैठक बुलाई गई और पंकज के प्रमोशन पर मुहर लगाई गई।
2007 बैच के आईपीएस पंकज प्रांतीय पुलिस सेवा के अधिकारी थे। बस्ती में 8 अक्तूबर को बीजेपी नेता कबीर तिवारी की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में सरकार ने एसपी पंकज कुमार को बस्ती से हटाते हुए विभागीय कार्रवाई के निर्देश दिए थे।
विभागीय कार्रवाई के चलते पिछले साल हुई विभागीय प्रोन्नति समिति की बैठक में पंकज के नाम की चर्चा नहीं की गई थी। लेकिन रिटायरमेंट के ठीक पहले 31 जनवरी को पंकज की विभागीय कार्रवाई को समाप्त कर दिया गया और उन्हें प्रमोशन देकर रिटायर किया गया।

पीलीभीत: 2 बाइकों की भिड़ंत में 3 की मौत, 3 घायल

गजरौला(पीलीभीत)। दो बाइकों में आमने-सामने जोरदार भिड़ंत में एक बच्चे सहित तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। कस्बा पूरनपुर के मोहल्ला कायस्थान निवासी 30 वर्षीय रविन्द्र सक्सेना पुत्र अशोक कुमार सक्सेना मोहल्ले के ही 18 वर्षीय ओम शर्मा पुत्र वीरेंद्र शर्मा के साथ अपनी बुआ रूद्रपुर निवासी मुन्नी देवी के यहां गया था। बुआ के घर से वह रूद्रपुर के ग्राम लालपुर पहुंचा। लालपुर में उसके चाचा प्रदीप रहते हैं। चचेरे भाई सात वर्षीय शरद ने साथ चलने की जिद की तो उसे भी बाइक पर बैठाकर पूरनपुर रवाना हुआ।

तेज रफ्तार बाइक सवार ने डाकिया को मारी टक्कर

 कौशाम्बी। चरवा थाना क्षेत्र के चौरा डीह गांव के पास बाइक सवार ने डाकिया को टक्कर मार दी है। इससे डाकिया घायल हो गया है। घायल अवस्था में उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबिक पूरामुफ्ती थाना क्षेत्र के मादपुर गांव निवासी सुरेश कुमार पांडेय पुत्र कपिल कुमार पांडेय डाकघर चायल में डाकिया के पद पर तैनात हैं। उन्हें डाक वितरण के लिए जलालपुर शाना क्षेत्र मिला है। वह मंगलवार को साइकिल से जलालपुर शाना गांव गये थे।शाम को चायल लौटते समय चौराडीह गांव के समीप सामने से आ रहे तेज रफ्तार बाइक सवार ने उसे टक्कर मार दिया। हादसे में साइकिल सवार डाकिया सड़क पर गिरकर घायल हो गया। टक्कर मारने के बाद मौका पाकर बाइक सवार वहां से फरार हो गया। वहां मौजूद लोगों ने घायल को उठाकर इलाज के लिए पास के अस्पताल में भर्ती कराया।
विजय कुमार 

ऐतिहासिक परियोजना का निर्माण कार्य शुरू हुआ

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को सेंट्रल विस्टा एवेन्यू परियोजना का भूमि पूजन किया और इसके साथ ही इस ऐतिहासिक परियोजना का निर्माण कार्य शुरू हो गया। इंडिया गेट पर आयोजित किये इस भूमि पूजन समारोह में आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा, केंद्रीय निर्माण विभाग के महानिदेशक और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। सेंट्रल विस्टा एवेन्यू उत्तर और दक्षिण ब्लॉक से इंडिया गेट है। जिनमें राजपथ, इसके आसपास के लॉन और नालियां (केनाल), पेड़ की कतारें, विजय चौक और इंडिया गेट प्लाजा सहित एक तीन किलोमीटर लंबा खंड है। यह मूल रूप से ब्रिटिश राज के दौरान वायसराय हाउस के लिए एक भव्य जुलूस मार्ग के रूप में बनाया गया था।

जनक्रांति के 100 वर्ष पूरे होने पर बोले अखिलेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने चौरी चौरा जनक्रांति के 100 वर्ष पूरे होने पर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए आरोप लगाया कि भाजपा का स्वतंत्रता आंदोलन से कोई संबंध नहीं रहा है और वे दिखावटी चर्चा करते हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानियों के स्तुतिगान से उनका सम्मान नहीं होता है, बल्कि पूरी श्रद्धा से उनके विचारों को आत्मसात करना होता है। प्रतिबद्धताएं एवं प्राथमिकताएं तय करने के साथ ही उन पर पूरी निष्ठा से मन, वचन, कर्म से समर्पण करना होता है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार द्वारा लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं को कमजोर करना स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को नकारना है। अखिलेश यादव ने यहां जारी एक बयान में कहा कि चौरी चौरा घटना से भाजपा को सबक लेना चाहिए। आज देश का किसान आंदोलित है, वह ठंड में कई साथियों को खोने के बाद भी खेती बचाने के लिए आंदोलनरत है। उन्होंने कहा कि जो बात किसान कह रहे हैं। भाजपा सरकार उन्हें सुनना नहीं चाहती है। तीन कृषि कानूनों की वापसी की वाजिब मांग को लेकर आंदोलित किसानों के प्रति सरकार के रवैये से ज्यादा उम्मीद नहीं है। सरकार को संविधान का सम्मान करना चाहिए। लोकतंत्र में किसानों के साथ न्याय सर्वोपरि स्थान रखता है। सपा नेता ने आरोप लगाया कि किसानों के प्रति क्रूरता और जनता के आक्रोश से भाजपा में भी असंतोष पनप रहा है। बयान में कहा गया कि समाजवादी सरकार के समय शहीदों के सम्मान में चौरी चौरा होते हुए गोरखपुर-देवरिया की चार लेन सड़क बनाकर शहीदों की स्मृति को स्थायित्व दिया गया था।

महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष नाना पटोले प्रदेश कांग्रेस के अगले प्रमुख होंगे। लिहाजा उन्होंने बृहस्पतिवार को पद से इस्तीफा दे दिया। विधानसभा सूत्रों ने बताया कि पटोले ने विधानसभा के उपाध्यक्ष नरहरि झीरवाल को अपना इस्तीफा सौंपा। पटोले भंडारा जिले की सकोली सीट से विधायक हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि वह प्रदेश प्रमुख के तौर पर राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट का स्थान लेंगे। महाराष्ट्र में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है। थोराट की अगुवाई में कांग्रेस के मंत्रियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने हाल में दिल्ली में पार्टी नेतृत्व से मुलाकात की थी। महाराष्ट्र विधानसभा का बजट सत्र एक मार्च से शुरू होगा।

हर संभव मदद देने का दिया आस्वाशन: त्रिपाठी

 बृजेश केसरवानी   
प्रयागराज। जनपद थाना सरायइनायत क्षेत्र शिवा शीतगृह के कांदी रोड सहसो में गुरुवार को गुरुवार को जीवननिधि आई क्लीन एण्ड रिसर्ज सेन्टर के सहयोग से नेत्र शिविर का आयोजन किया गया। इस आयोजन में पुलिस उप महानिरीक्षक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी मुख्य अतिथि के  रूप शामिल हुए इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला गंगापार के जिला अध्यक्ष अश्वनी द्विवेदी ने की। नेत्र शिविर के आयोजन में शामिल होने पहुँचे डीआईजी वरिष्ठ पुलिस कप्तान प्रयागराज सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी का सर्वप्रथम आयोजको द्वारा गणेश भगवान की प्रतिमा भेट की गयी और उनका स्वागत अभिन्नदन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रयागराज डीआईजी ने सम्बन्धित अपने विचार रखे और सम्बन्धित हर संभव मदत देने का आस्वाशन दिया। इस मौके पर स्थानीय थाने की पुलिस क्षेत्रीय संभ्रांत अन्य लोग उपस्थित रहे।

छात्राओं एवं उपस्थित सभी लोगों को दिलाई शपथ

 बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह 2021 के अन्तर्गत गुरूवार को एनसीसी कैडेट/एनएसएस एवं यातायात पुलिस एवं छात्र-छात्राओं के सहयोग से सुभाष चैराहा सिविल लाइंस प्रयागराज में पैदल यात्रियों को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री केपी सिंह पुलिस महानिरीक्षक प्रयागराज जोन ने सड़क सुरक्षा सम्बन्धी नियमों की जानकारी दी एवं सड़क सुरक्षा सम्बन्धी एनसीसी/एनएसएस के छात्र-छात्राओं एवं उपस्थित सभी लोगों को शपथ दिलाई। सभी छात्र-छात्राओं को सड़क सुरक्षा नियमों को पालन करने एवं घर के सदस्यों, आसपास रहने वाले लोगों को सड़क सुरक्षा सम्बन्धी जानकारी देने के लिए कहा। श्री राजेश कुमार मौर्य आरटीओ प्रयागराज ने सीट बेल्ट लगाकर ही चार पहिया वाहन चालक वाहन चलाये एवं दो पहिया वाहन चालक हेलमेट पहन कर ही वाहन चलाने पर जोर दिया। श्री आर के सिंह आरटीओ प्रवर्तन प्रयागराज ने सड़क दुर्घटना को कम करने के लिए युवाओं को सड़क सुरक्षा के पालन करने एवं उनके द्वारा सड़क सुरक्षा सम्बन्धी जानकारी प्रचारित करने की अपील की। इस अवसर पर श्री सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी डीआईजीध्एस एस पी प्रयागराज, श्री अखिलेश भदौरिया एसपी यातायात पुलिस, श्री शियाराम वर्मा, एआरटीओ प्रशासन, सुश्री अलका शुक्ला एआरटीओ प्रवर्तन प्रथम, श्री भूपेश कुमार गुप्ता जी एआरटीओ प्रवर्तन द्वितीय, श्री सुरेश कुमार मौर्य एआरटीओ प्रवर्तन तृतीय, सीओ सिविल लाइंस, श्री सुरेन्द्र सिंह यात्रीकर अधिकारी, आटो युनियन के अध्यक्ष श्री विनोद चन्द्र दुबे, सुश्री मन्जू सिंह इलाहाबाद विश्वविद्यालय की एनएसएस संयोजक, एनसीसी के अधिकारी, कैडेट, एनएसएस के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया।

नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचीं पेट्रोल-डीजल की कीमत

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें बृहस्पतिवार को नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गईं। हाल के समय में वाहन ईंधन कीमतों में सबसे बड़ी वृद्धि की गई है। पेट्रोलियम विपणन कंपनियों ने कहा है कि सरकार करों में कटौती के जरिये उपभोक्ताओं के बोझ को कम कर सकती है। सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम विपणन कंपनियों की मूल्य अधिसूचना के अनुसार करीब एक सप्ताह के अंतराल के बाद पेट्रोल और डीजल दोनों ईंधनों के दाम 35-35 पैसे प्रति लीटर बढ़ाए गए हैं। इस बढ़ोत्तरी के बाद दिल्ली में पेट्रोल 86.65 रुपये प्रति लीटर के नए उच्चस्तर पर पहुंच गया है। वहीं मुंबई में पेट्रोल 93.20 रुपये प्रति लीटर की नयी ऊंचाई पर पहुंच गया है। इसी तरह दिल्ली में डीजल 76.83 रुपये प्रति लीटर हो गया है। मुंबई यह 83.67 रुपये प्रति लीटर के अपने सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंच गया है। देश की तीसरी सबसे बड़ी पेट्रोलियम विपणन कंपनी हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (एचपीसीएल) के प्रमुख मुकेश कुमार सुराना ने कहा कि पिछले दो-तीन दिन में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम अचानक बढ़कर 59 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गए हैं। मांग और आपूर्ति में अंतर की अवधारणा के अलावा सऊदी अरब द्वारा उत्पादन में कटौती की वजह से कीमतों में तेजी आई है। वाहन ईंधन के खुदरा दाम उत्पादन की बेंचमार्क लागत के ऊपर केंद्र और राज्यों के कर के अलावा डीलर का कमीशन जोड़कर निकाले जाते हैं। मुकेश कुमार सुराना ने कहा, ”पेट्रोल पंप पर वाहन ईंधन के खुदरा दाम का सिर्फ 25 से 30 प्रतिशत अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क लागत पर निर्भर करता है। शेष केंद्र और राज्यों का कर होता है।’ उन्होंने कहा, ”हमारे पास बेंचमार्क लागत में बढ़ोत्तरी का बोझ ग्राहकों पर डालने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।” सरकार के पास इसके लिए कराधान है। उन्होंने कहा कि मार्जिन काफी कम है। ”सरकार इस बात का जवाब दे सकती है कि कीमतों को कैसे रोका जाए।” पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को राज्यसभा में एक लिखित जवाब में कहा था कि दिल्ली में पेट्रोल के दाम में केंद्र सरकार के उत्पाद शुल्क का हिस्सा 32.98 रुपये है। वहीं इसमें राज्य सरकार के बिक्री कर या मूल्य वर्धित कर (वैट) का हिस्सा 19.55 रुपये है।

प्रयागराज: 6 गोवंशों के साथ 2 पशु तस्कर गिरफ्तार

 बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। थाना सरायइनायत की पुलिस नेगश्त दौरान मुखबीर की खास सुचना पर घेराबंदी कर 6 राशि (गाय) गोवंश पिकअप में लदे कब्जे में लेते हुए दो पशु तस्करों को गिरफ्तार किया है। डीआईजी एसएसपी प्रयागराज सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के निर्देश पर पशु तस्करी करने वाले गिरोह के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान में मामूर थाना सरायइनायत की पुलिस ने दो पशु तस्करो को गिरफ्तार कर लिया। बीते कुछ दिनों से थाना क्षेत्र में पशु तस्करों की सक्रीय होने की मुखबिर से सुचना मिल रही थी। जिसके बाद प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार द्विवेदी ने मामले को लेकर कड़े निर्देश जारी किये आज दरोगा भीष्म नारायण सिंह अन्य पुलिस के साथ गश्त पर थे। तभी गुलाब ढाबा के पीछे बागीचा बभनकुइया से समय करीब डेढ़ बजे एक पिकअप महिंद्रा में 06 राशि गौवंश लदी दो लोगो को मौके से पकड़ा। पकड़े गए अभियुक्तो की पहचान संजय यादव पुत्र पारस नाथ यादव निवासी सेमरी थरवई व विकास सिंह पुत्र गिरजाशंकर निवासी थानापुर थरवई के रूप में हुई। पुलिस द्वारा दोनों के खिलाफ सम्बन्धित मामला दर्ज कर आगे की विधिक कार्यवाही की गयी।

संघ: पूर्व अध्यक्ष एवं वर्तमान संरक्षक हुए सेवानिवृत्त

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। राजकीय मुद्रणालय श्रमिक संघ के तत्वधान में प्रयागराज के पूर्व अध्यक्ष एवं वर्तमान संरक्षक कैलाश चंद यादव, जोकि 31 जनवरी 2021 को सेवानिवृत्त हो गए। जिस के उपलक्ष में श्रमिक हितकारी संघ द्वारा आज वेलफेयर सेंट्रल हॉल सिम हितकारी केंद्र प्रयागराज में 12:00 बजे विदाई एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि अनुपम, इलाहाबाद महापौर अभिलाषा गुप्ता, शहर उत्तरी विधायक हर्षवर्धन वाजपेई, भारतीय जनता पार्टी महानगर जिला अध्यक्ष गणेश केसरवानी एवं पूर्व महानगर अध्यक्ष अवधेश गुप्ता आदि लोग थे। राजकीय मुद्रणालय श्रमिक संघ के सभी कर्मचारी ने सेवानिवृत्त हो रहे। कैलाश चंद यादव को माला पहनाकर एवं स्मृति चिन्ह देकर उनकी विदाई की। कार्यक्रम को भव्य तरीके से आयोजन किया गया जिसमें भक्ति गानों पर आर्केस्ट्रा एवं रंगारंग कार्यक्रम और भोजन आदि की व्यवस्था की गई। वहां मौजूद सभी कर्मचारियों ने पहली बार हुए कर्मचारी विदाई समारोह की सराहना की। विदाई समारोह में संरक्षक कैलाश चंद यादव अध्यक्ष विनोद कुमार शुक्ला महामंत्री रवि कांत कोषाध्यक्ष राम रतन सिंह ने कार्यभार संभाला।

संघ ने ग्यारह सूत्रिय मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा

अतुल त्यागी
हापुड़। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षणेत्तर संघ के पदधिकारियों ने ग्यारह सूत्रिय मांग को लेकर जिला विद्यालय निरीक्षक निशा अस्थाना को ज्ञापन सोपा। संगठन के प्रदेश संयुक्त मंत्री मोहित राघव ने बताया कि शिक्षक एवं शिक्षणेत्तरो कर्मचारियों का वेतन बजट होने के उपरांत समय से नही किया जाना। प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह मे भुगतान किया जाये। और बताया कि हमारी ग्यारह सूत्रिय मांगों को जल्द पूरा नही किया गया तो संघर्ष की रूपरेखा तैयार की जाएगीऔर शासन को भी इन समस्याओं से अवगत कराया जाएगा। ज्ञापन सौपने वालो मे नीतिन तोमर, विपिन कुमार आर्य, वीरपाल सिंह, कमल सिंह, अंकित शर्मा, देवकुमार गर्ग,  गौरव शर्मा, शिवकुमार राणा, राहुल कुमार, धर्म सिंह, दीपचंद, राजबहादुर, अनुज कुमार, विनित कुमार, गोविंद सिंह आदि उपस्थित रहे।

हापुड़ः चौरी-चौरा कार्यक्रम का शुभारंभ किया

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार
हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड में देश की आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले अमर शहीद स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम किया तो, वही एन एस एस एनसीसी सिविल डिफेंस स्कूल स्काउट गाइड एवं समाजसेवी संस्थाओं द्वारा निकाली जाने वाली प्रभात फेरी शहीद स्तंभ पर पहुंचने पर जहां वंदे मातरम एवं देश भक्ति के गीत गुंजायमान हो गए। वही चोरी चोरा समारोह में मुख्य अतिथि प्रदेश के मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री सन्दीप सिंह की उपस्थिति एवं जिला प्रशासन के देख रेख में देश व प्रदेश की सरकार के आदेश व निर्देश पर आयोजित किया समारोह में जनपद के प्रभारी मंत्री सन्दीप सिंह ने सदर विधायक विजयपाल आढ़ती,नगरपालिका परिषद चैयरमैन प्रफुल सारस्वत जिलाधिकारी अदिति सिंह,मुख्यविकास अधिकारी उदय सिंह एवं जनपद के विभिन्न आलाधिकारियों की उपस्थिति में अतरपुरा चौपला स्थित शहीद स्तम्भ पर पुष्पमाला एवं दीप प्रज्वल्लन के साथ कार्यक्रम का शुभारम्भ किया और  शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया। जिसके बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सम्बोधन के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शहीदों को नमन करते हुए चोरी चोरा कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। जिसके अंतर्गत देश के प्रधानमंत्री द्वारा डाक विभाग द्वारा जारी किए गए एक डाक टिकट जिसका मूल्य 5 रुपये का है, बटन दबाकर शुभारम्भ किया।

6 साल में वायुसेना को मिलेंगे सभी 83 एलसीए तेजस

अकांशु उपाध्याय    

नई दिल्ली। हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के सीएमडी आर माधवन ने कहा है, कि लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एलसीए) मार्क एमके-1ए के लिए दक्षिण पूर्व एशिया और मध्य पूर्व के देशों ने दिलचस्पी दिखाई है और जल्द ही एक अनुबंध होने की उम्मीद है। भारत से हुए अनुबंध के अनुसार हमें आज से 36 महीने बाद एलसीए तेजस की डिलीवरी शुरू करनी है। पहली डिलीवरी मार्च, 2024 में 2 विमानों से शुरू की जाएगी।जिन्हें 16 तक आगे बढ़ाया जाएगा। एचएएल सभी 83 तेजस 6 साल में भारतीय वायुसेना को सौंप देगा।एचएएल प्रमुख माधवन ने गुरुवार को एयरो इंडिया-2021 के दौरान प्रेस वार्ता में कहा कि लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एलसीए) मार्क एमके-1ए के लिए दक्षिण पूर्व एशिया और मध्य पूर्व के देशों ने दिलचस्पी दिखाई है और जल्द ही एक अनुबंध होने की उम्मीद है। एचएएल प्रमुख ने यह भी स्पष्ट किया कि 114 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए वायुसेना की योजना एलसीए वेरिएंट से अलग है। दोनों में कोई टकराव नहीं है, इसलिए दोनों परियोजनाएं स्वतंत्र रूप से जारी रहेंगी।एचएएल प्रमुख ने तेजस लड़ाकू विमानों की निर्यात कीमत और लागत के बारे में एक सवाल के जवाब में कहा कि 83 तेजस लड़ाकू विमानों की अनुबंध लागत लगभग 48 हजार करोड़ रुपये है, अगर सभी तरह के टैक्स और विदेशी मुद्रा में वृद्धि घटा दी जाए तो यह डील 36 हजार करोड़ रुपये के आसपास आ जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि कुछ लोग तेजस एमके-1ए के एक विमान की कीमत 48 हजार करोड़ रुपये के आधार पर कर रहे हैं। जो पूरी तरह गलत है। दरअसल 83 एलसीए के लिए कुल ऑर्डर की लागत लगभग 25,150 करोड़ रुपये है।

गाज़ियाबाद में पांचवें चरण का टीकाकरण सम्पन्न

अश्वनी उपाध्याय 

 गाजियाबाद। यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी गाजियाबाद में पांचवे चरण के कोविड टीकाकरण का आयोजन आज 4 फरवरी 2021 को प्रातः 9:00 बजे से लेकर शाम 5:00 बजे तक किया गया। अस्पताल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉक्टर पी एन अरोड़ा व डायरेक्टर उपासना अरोड़ा ने भी आज टीका लगवाया। टीका लगने के बाद डॉक्टर पी एन अरोड़ा ने कहा के अवसाद के 1 वर्ष काटने के बाद अब जबकि कोविड-19 का टीका उपलब्ध है और लगाया जा रहा है। यह बहुत ही सुखद अनुभव है। समाज के लोगों के लिए संदेश देते हुए श्री अरोड़ा ने कहा कि सब को टीका लगवाना चाहिए और टीके से डरना नहीं चाहिए यह सुरक्षित है और हमारे उज्जवल भविष्य और सामाजिक एवं आर्थिक मजबूती का एक बड़ा कारण बनने वाला है।इस अवसर पर उपासना अरोड़ा ने कहा कि उन्हें टीका लगवाने के बाद अच्छा महसूस हो रहा है और उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हुई है। उन्होंने सभी से अपील करते हुए कहा की मैसेज आने पर टीका जरूर लगवाएं और टीका लगने के बाद भी यह ध्यान रखें कि मास्क लगाना जरूरी है और 2 गज की दूरी भी जरूरी है। आपको बता दें कि यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी गाजियाबाद के लगभग 80% डॉक्टरों एवं स्टाफ को टीका लगाया जा चुका है। डॉक्टर अरोड़ा एवं उपासना अरोड़ा ने आज के दिन को विशेष बताया और समाज एवं मरीजों के प्रति अपने उत्तरदायित्व एवं प्रतिबद्धता को आज के दिन पुनर्स्मरण किया। उन्होंने कहा कि अब काफी डॉक्टरों एवं स्टाफ  के टीका लगने के बाद हम सब दोबारा पूरी शक्ति एवं ऊर्जा के साथ मरीजों की सेवा में जुटे रहेंगे।


लोहा विक्रेता मंडल के स्थापना दिवस का आयोजन

अश्वनी उपाध्याय       

गाजियाबाद। लोहा विक्रेता मंडल की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी की डॉ.अतुल कुमार जैन की अध्यक्षता में एक सभा संपन्न हुई। जिसमें लोहामंडी क्षेत्र के विकास के लिए और व्यापारियों के हित से संबंधित काफी महत्वपूर्ण विषयों पर विस्तृत रूप से चर्चा हुई। काफी संख्या में पदाधिकारी और सदस्यों ने भाग लिया और अपने बहुमूल्य सुझाव देकर समस्याओं के निराकरण हेतु सहमति बनाने में अपने विचार रखें। बैठक में मुख्य रूप से लोहा मंडल में ट्रैफिक जाम, ट्रैक्टर ट्रॉली संचालन, लोहा मंडी स्थित गेट्स और सुरक्षा के विषय में भी चर्चा हुई। गाजियाबाद लोहा विक्रेता मंडल के स्थापना दिवस और शपथ समारोह के आयोजन के विषय में भी सभी ने अपने विचार रखे। आगामी वर्ष के लिए विभिन्न गतिविधियों, आयोजनों पर भी चर्चा की गई लोहा मंडी क्षेत्र में जगह- जगह कूड़े के ढेर और गंदगी तथा प्रकाश व्यवस्था और मुर्गा मंडी के कारण भी गंदगी की ओर सदस्यों ने ध्यान आकर्षित किया। नए सदस्यों के आवेदन पर भी विचार विमर्श करके उनकी सदस्यता पर अनुमोदन किया गया। प्रारंभ में डॉ.अतुल कुमार जैन ने सभी सदस्यों का स्वागत किया और सभी को अपने-अपने विचार एजेंडा के अनुसार रखने के लिए आमंत्रित किया। महामंत्री राजकुमार अग्रवाल ने सभी का धन्यवाद किया। उपस्थित सदस्यों ने सीजीएसटी और जीएसटी के संबंध में आने वाली समस्याओं के विषय में भी प्रश्न किए कि यदि विक्रेता अपनी रिटर्न समय पर फाइल नहीं करता या उसके द्वारा किया गया क्रय ठीक नहीं है तो क्रेता के ऊपर कोई भी पेनल्टी नहीं लगनी चाहिए। इस पर अध्यक्ष डॉ. अतुल कुमार जैन ने आश्वासन दिया कि संबंधित अधिकारियों से इस विषय में वार्ता शीघ्र की जाएगी। कार्यकारिणी की बैठक में भूपेंद्र बंसल, इंद्र मोहन कुमार, अमरीश जैन, अविनाश चंद्र, दीपक सिंघल, राधेश्याम सिंघल, सुशील जैन, सतीश बंसल, महेश कुमार गुप्ता, सुधीर जैन, अनिल कुमार, सुरेश चंद गुप्ता, मोहनलाल अग्रवाल, प्रदीप बंसल, संजय मित्तल, राजीव गुप्ता, संजय गोयल, विजय कुमार गुप्ता, गौरव मिगलानी, गिरीश मेहंदीरत्ता, विकास जैन, वीरेश मित्तल, राजीव अग्रवाल, सतीश चंद बंसल, विनीत अग्रवाल, प्रवीण गुप्ता, सौरभ गोयल और संजय गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

राहुल के खिलाफ अयोध्या में दायर हुई याचिका

अकांशु उपाध्याय 

 नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी के लिए उत्तर प्रदेश से बुरी खबर सामने आई है। अयोध्या जिले के एडीजे-प्रथम कोर्ट ने उन्हें राफेल मामले को लेकर नोटिस जारी किया है। राहुल गाँधी को 26 मार्च को अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया गया है। यह निर्देश वकील मुरलीधर चतुर्वेदी की दायर याचिका के तहत दी गई है, जिसमें उन्होंने राहुल गाँधी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपशब्द कहने के आरोप लगाए है। जानकारी के मुताबिक, राहुल गाँधी कुछ समय पहले राफेल को लेकर लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर थे। इस दौरान उन्होंने लड़ाकू विमान से संबंधित दस्तावेज को स्कैम बताया था। वकील ने याचिका में जिक्र किया है कि राहुल गाँधी ने ना सिर्फ कागज को फर्जी बताया, बल्कि पीएम के लिए ‘चौकीदार चोर’ शब्द का इस्तेमाल भी किया था। बता दें कि राफेल मामले को लेकर राहुल गाँधी पर ये पहला केस नहीं है। इससे पहले उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दाखिल की जा चुकी है। उन पर कोर्ट की अवमानना का आरोप लगा था। तब राहुल गाँधी ने हलफनामा दायर करके सुप्रीम कोर्ट से माफी मांग लीं थी। उन्होंने हलफनामे में लिखा था कि उन्होंने जानबूझकर ऐसा नहीं किया। उनसे गलती हो गई। इसके लिए वह माफी चाहते हैं। गौरतलब है कि राहुल गांधी राफेल डील को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर लगातार हमलावर रहे हैं। वो नोटबंदी पर भी सरकार को घेरने से पीछे नहीं रहे। इस दौरान भी उन्होंने केंद्र सरकार पर भ्रष्टाचार और पीएम मोदी को चौकीदार चोर कहकर संबोधित भी किया। हाल ही में उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मोदी सरकार पर हमला किया और कहा कि चीन भारत में प्रवेश करता है और हमारी जमीन हड़प लेता है। आप उन्हें क्या संदेश देते हैं? कि हम अपने रक्षा व्यय में वृद्धि नहीं करेंगे। आपने इसे 3000-4000 करोड़ रुपए बढ़ा दिया। आपने क्या संदेश दिया? आप भारत में प्रवेश कर सकते हैं और जो चाहें कर सकते हैं, हम अपने रक्षा बलों का समर्थन नहीं करेंगे।

गाज़ियाबाद: रेहड़ी पटरी वालों को रखने होंगे कूड़ेदान

अश्वनी उपाध्याय

 गाजियाबाद। शहर में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए बुधवार से नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के सुपरवाइजर को भी चालान काटने और जुर्माना वसूलने का अधिकार दिया गया है। पहले नगर स्वास्थ्य अधिकारी और सफाई निरीक्षकों के पास ही यह अधिकार था। इसके साथ ही सभी रेहड़ी पटरी वालों को कूड़ेदान भी साथ रखने के लिए निर्देश दिए गए हैं, जिससे की गंदगी न हो। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बुधवार को समीक्षा बैठक में बाजारों और सड़कों की सफाई व्यवस्था के बारे में जानकारी की। इस दौरान उन्होंने बताया कि कविनगर जोन में सुबह निरीक्षण के दौरान उनको गंदगी नजर आई। रेहड़ी-पटरी वालों की दुकान के बाहर ही दोने फेंके हुए मिले। नगर आयुक्त ने निर्देश दिए हैं कि सभी दुकानदारों, रेहड़ी-पटरी वालों को दुकानों के बाहर कूड़ादान रखने के लिए जागरूक किया जाए। गंदगी फैलाने वालों का चालान अब नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश कुमार, सफाई निरीक्षक के अलावा सभी जोन के स्वास्थ्य विभाग के सुपरवाइजर को भी दिया गया है।

गाजियाबाद में स्कूल खोलने की तैयारियां शुरू

अश्वनी उपाध्याय

 गाजियाबाद। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद गाज़ियाबाद जिले में सभी स्कूल खोलने के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। सैनिजाइजेशन की सुविधा और सीटिग प्लान को लेकर विद्यालयों में व्यवस्थाएं की जा रही हैं। शिक्षकों का कहना है कि अभी शासन प्रशासन स्कूल खोलने को लेकर कोई पत्र तो नहीं मिला है, लेकिन उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री ने दस दिन में स्कूल खोलने को लेकर तैयारी पूरी करने के निर्देश दिए थे। इसी के आधार पर विभाग से तैयारी के निर्देश दिए हैं। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के महानगर महामंत्री लईक अहमद ने बताया कि स्कूल में सैनिटाइजेशन, सीटिग प्लान आदि को लेकर तैयारियां की जा रही हैं। अभी कोई आदेश नहीं हुए, लेकिन जल्दी ही स्कूल खुलवाए जाने की उम्मीद है। विभागीय अधिकारियों ने भी अपने स्तर से तैयारी करने के ही निर्देश दिए हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ में सभी जिलों के विद्यालयों खोलने के लिए दस दिन में तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिए थे। स्कूल खुलने के बाद कोरोना से बचाव का पूरा ध्यान रहेगा। इसके अलावा स्कूल खोलने को लेकर शासन का जो भी आदेश और गाइडलाइन होगी। बेसिक शिक्षा अधिकारी बृजभूषण चौधरी ने कहा कि शिक्षकों को अपने स्तर से ही स्कूल खोलने को लेकर तैयारियां करने के निर्देश दिए हैं। अभी स्कूल खोलने को लेकर कोई आदेश नहीं है। उसका विद्यालय में पालन कराया जाएगा। जिला विद्यालय निरीक्षक रवि दत्त शर्मा का कहना है कि अभी स्कूल खोलने को लेकर शासन से कोई आदेश नहीं है। शासन की ओर से जो भी आदेश और गाइडलाइन होगी उसका विद्यालयों में पालन कराया जाएगा।


उत्तराखंड में कक्षा 6 से 11 तक पढ़ाई की शुरुआत

पंकज कपूर 
 देहरादून। लंबे अंतराल के बाद अब उत्तराखण्ड शासन ने स्कूल खोलने को लेकर आदेश जारी कर दिया है। जारी आदेश के मुताबिक 8 फरवरी से कक्षा 6 से 11 तक के बच्चे को भौतिक रुप से पढ़ाई शुरु हो सकेगी। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने आदेश जारी कर इस बात की सूचना दी है। पूर्व में प्रदेश सरकार द्वारा दसवीं व बाहरवीं के बच्चों को भौतिक रुप से पढ़ाई का आदेश जारी हुआ था, जिसके बाद अब 6 से 11 कक्षा तक के बच्चों को भी स्कूलों में भौतिक रुप से पढ़ाई करने की अनुमति मिल गई है। जारी आदेश में मुख्य सचिव ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिलाधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है, वहीं अब फिर जिलाधिकारियों से अपेक्षा की जाती है कि विद्यालयों में सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के को पालन कराना सुनिश्चित करेंगे।

यूपी में पंचायत चुनावों की तारीखें हुई घोषित

हरिओम उपाध्याय
 लखनऊ। यूपी में पंचायत चुनावों का इंतजार कर रहे प्रत्याशियों के इम्तिहान की तारीखों की घोषणा हाई कोर्ट ने कर दी है। देश के ग्रामीण हिस्सों के लिए लगभग किसी त्योहार से कम नहीं माने जाने वाले प्रधानी के चुनावों को पूर्ण कराने के लिए कोर्ट ने 30 अप्रैल तक का वक्त दिया है।वहीं जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराने हेतु 15 मई तक का वक्त तय किया गया है। एक याचिका की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने ये फैसला सुनाया। कोर्ट ने यह आदेश राज्य निर्वाचन आयोग के रवैये पर नाराजगी जताते हुए विजय उपाध्याय की याचिका पर सुनाया। हाई कोर्ट ने स्पष्ट किया कि सरकार यूपी में पंचायत चुनाव 17 अप्रैल तक करा ले। कोर्ट ने कहा कि आरक्षण निर्धारण के बाद 30 अप्रैल तक हर हाल में पंचायतों का गठन करते हुए ग्राम प्रधानी का चुनाव करा लें। वहीं ब्लॉक प्रमुख का चुनाव कराने के लिए कोर्ट ने सरकार को 15 मई तक का वक्त दिया है।

भारतीय क्रिकेट टीम में उठा किसान आंदोलन का मुद्दा

चेन्नई। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को कहा कि नये कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के मौजूदा प्रदर्शन का मसला टीम बैठक में उठा। जिसमें सभी ने अपने विचार रखे कि उन्हें क्या करना है। इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट से पूर्व आनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में कोहली ने इस संक्षिप्त बातचीत का ब्यौरा नहीं दिया। उन्होंने कहा ,” देश में चल रहे सभी मसलों की तरह हमने टीम बैठक में इस पर भी बात की । सभी ने अपनी राय रखी कि उन्हें क्या करना है। उन्होंने कहा ,” इतना ही है। इसके बारे में संक्षेप में बात हुई जिसके बाद टीम और मैच को लेकर रणनीति पर बात की।” बुधवार को कोहली , सचिन तेंदुलकर, कोच रवि शास्त्री समेत कई भारतीय क्रिकेट सितारों ने किसानों के प्रदर्शन पर अमेरिकी पॉप स्टार रिहाना समेत कुछ अंतरराष्ट्रीय हस्तियों के सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने के बाद देश में एकजुटता बनाये रखने की अपील की थी।


हरियाणा के विधायकों ने राजभवन पैदल कूच किया

राज्‍यपाल से मुलाकात का समय न मिला ताे हरियाणा के कांग्रेस विधायकों ने किया राजभवन पैदल कूच

चंडीगढ़। हरियाणा के कांग्रेस विधायकों ने राज्‍यपाल सत्‍यदेव नारायण आर्य से मिलने का समय नहींं दिए जाने बाद राजभवन की ओर पैदल कूच किया। कांग्रेस विधायकों का नेतृत्‍व पूर्व मुख्‍यमंत्री और विधायक दल के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किया। कांग्रेस तीन कृषि कानूनों के विरोध कर रही है। हुड्डा केंद्रीय कृषि कानूनों से पैदा हालात और किसान आंदोलन के बारे में चर्चा के लिए हरियाणा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग कर रही है। इस बारे में कांग्रेस के विधायक राज्‍यपाल से मिलना चाहते हैं।
हरियाणा के कांग्रेस विधायकों ने राज्‍यपाल से मिलने का समय मांगा था। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा था। कि यदि राज्‍यपाल ने आज सुबह 11 बजे तक मिलने के लिए समय नहीं दिया तो कांग्रेस के विधायक राजभवन की ओर पैदल कूच करेंगे। राज्‍यपाल द्वारा मिलने के लिए समय नहीं दिए जाने के बाद कांग्रेस विधायकों ने पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्‍व में हरियाणा एमएलए हॉस्‍टल से राजभवन की ओर पैदल कूच किया।
पैदल कूच के दौरान कांग्रेस विधायकों ने हाथों में नारे लिखे तख्तियां ले रखी थीं। इन तख्तियों पर किसानों और उनके आंदोलन के समर्थन में नारे लिखे थे। कांग्रेस विधायक इस दौरान नारेबाजी कर रहे थे। और तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग कर रहे थे। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि कांग्रेस किसानों के आंदोलन का समर्थन करती है।और तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की मांग करती है।
हुड्डा ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की फसलाेंके लिए न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य की गारंटी का कानून बनाए। इसके साथ ही सरकार अन्‍नदाता किसानों की आवाज सुने और तीनों केंद्रीय कृषि कानूनाें को रद करे। उन्‍होंने मांग की कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले हरियाणा के किसानों के परिवारों को हरियाणा सरकार मुआवजा दे और एक सदस्‍य को नौकरी दे। कांग्रेस की सरकार बनी तो ऐसे किसानों के परिवारों से एक व्‍यक्ति को नौकरी दी जाएगी।

गाजीपुर पहुंचे 15 विपक्षी नेताओं को पुलिस ने रोका

किसान आंदोलन लाईव गााजीपुर पहुंचे 15 विपक्षी नेताओं को पुलिस ने रोका, सड़क से कीलें हटाने पर सफाई- इन्हें दूसरी जगह लगाएंगे
अंकित गोस्वामी
गाजियाबाद। कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का आज 71वां दिन है। इस बीच गाजीपुर बॉर्डर पर हलचल आज फिर बढ़ गई। शिरोमणि अकाली दल की सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल समेत 10 विपक्षी दलों के 15 नेता आज किसानों से मिलने गाजीपुर पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। विपक्षी नेता बार-बार गुजारिश करते रहे कि उन्हें किसानों से मिलने दिया जाए, लेकिन पुलिस नहीं मानी। आखिर उन्हें बिना मिले ही लौटना पड़ा सुरक्षाबलों ने रोका तो टीमसी नेता सौगत रॉय बस स्टॉप पर बैठ गए। विपक्षी नेताओं का कहना है। कि किसानों से मिलने से रोकने के मामले को लोकसभा स्पीकर के नोटिस में लाएंगे।
पुलिस ने सड़क से कीलें हटाईं, फिर सफाई दी
पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए कुछ दिन पहले कई लेयर की बैरिकेडिंग करने के साथ ही सड़कों पर कीलें भी लगा दी थीं। इस पर किसान नेताओं और विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा था। लेकिन, गुरुवार को इन कीलों को हटाने के फोटो और वीडियो सामने आए। इसके बाद पुलिस ने सफाई दी कि कीलों को एक जगह से हटाकर दूसरी जगह लगाया जाएगा। साथ ही कहा कि बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था में कोई बदलाव नहीं होगा।फोटो गाजीपुर बॉर्डर पर सड़क से कीलें हटाते वर्कर की है। ये तस्वीरें सामने आने के बाद ही पुलिस ने सफाई दी कि सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए कीलें दूसरी जगह लगाई जाएंगी।
अमेरिका ने कृषि कानूनों की तारीफ की
एक तरफ देश में कृषि कानूनों पर बवाल मचा है। उधर अमेरिका ने भारत के कृषि कानूनों की तारीफ की है। उसका कहना है। कि इन सुधारों से भारतीय बाजार मजबूत होगा और निजी निवेश भी बढ़ेगा। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यह भी कहा 'अमेरिका किसी भी शांतिपूर्ण आंदोलन का समर्थन करता है। यह लोकतंत्र की पहचान है। अगर कोई मतभेद है। तो उसे बातचीत के जरिए सुलझाना चाहिए। भारत के सुप्रीम कोर्ट ने भी यही कहा है।
किसान नेता बोले- अब मंत्रियों से बात नहीं करेंगे, पीएम आगे आएं
दिल्ली की सीमाओं पर 2 महीने से प्रदर्शन कर रहे किसान अपना आंदोलन तेज करने की स्ट्रैटजी में जुटे हैं। इसी सिलसिले में हरियाणा के जींद जिले के कंडेला गांव में बुधवार को किसान महापंचायत हुई। इसमें भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि अब कृषि मंत्री या फिर किसी और मंत्री से बातचीत नहीं करेंगे। अब प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को बातचीत के लिए आगे आना होगा।
'जब राजा डरता है। तो किलेबंदी का सहारा लेता है।
टिकैत ने आगे कहा, 'अभी तो किसान कानूनों की वापसी की मांग कर रहे हैं। जब गद्दी वापसी की मांग करेंगे तब सरकार क्या करेगी? जब कोई राजा डरता है। तो किले बंदी का सहारा लेता है। ठीक ऐसा ही हो रहा है। बॉर्डर पर जो कीलबंदी की गई है। ऐसे तो दुश्मन के लिए भी नहीं की जाती है। लेकिन किसान डरेगा नहीं। किसान इसके ऊपर लेटेंगे और उसे पार करके जाएंगे।
सरकार द्वारा बातचीत के लिए किसानों की कमेटी के सदस्यों की संख्या कम करने से भी टिकैत ने साफ इंकार कर दिया। उन्होंने कहा, कभी भी बीच लड़ाई में घोड़े नहीं बदले जाते। जो कमेटी के सदस्य हैं। वहीं रहेंगे।
महापंचायत में 5 प्रस्ताव पास
1. तीनों कृषि कानूनों को सरकार वापस ले
2. MSP का कानून बनाए
3. स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू करे
4. पकड़े गए लोगों और जब्त किए गए ट्रैक्टर छोड़े जाएं
5. किसानों का कर्ज माफ हो
केजरीवाल ने दिल्ली पुलिस से 576 बसें वापस मांगीं
केजरीवाल सरकार ने दिल्ली पुलिस की ड्यूटी में भेजी गईं 576 डीटीसी बसों को डिपो में तुरंत लौटाने का निर्देश दिया है। ये बसें किसान आंदोलन में सुरक्षाबलों की आवाजाही में लगी हैं। दिल्ली परिवहन विभाग ने डीटीसी को ये निर्देश भी दिए हैं कि बिना सरकार की इजाजत के दिल्ली पुलिस को बसें नहीं दें।
किसानों पर सेलेब्रिटी आमने-सामने...
किसान आंदोलन के समर्थन में पिछले 24 घंटे में कई विदेशी हस्तियां सामने आईं। क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने सोशल मीडिया पर लिखा कि वे भारत में किसानों के आंदोलन के साथ हैं। वहीं पॉप सिंगर रिहाना ने लिखा कि आखिर हम किसान आंदोलन के बारे में चर्चा क्यों नहीं कर रहे हैं। इन पर भारतीय सेलेब्रिटीज ने पलटवार भी किया। रिहाना को जवाब देते हुए कंगना रनोट ने लिखा बैठ जाओ मूर्ख। हम तुम लोगों की तरह अपना देश नहीं बेच रहे। कोई भी इस मुद्दे पर इसलिए बात नहीं कर रहा क्योंकि हिंसा फैला रहे लोग किसान नहीं आतंकी हैं।

शुरू हुई लोकल ट्रेन, सिर झुकाकर किया सजदा

मनोज सिंह ठाकुर 

मुंबई। मुंबई की लोकल ट्रेनों में अब आम आदमी भी सफर करने लगे हैं। आम मुंबईकर को 10 महीने बाद यह मौका मिला है। पहले दिन ही लाखों यात्रियों ने लोकल से सफर किया। लोकल में सफर की छूट से आम आदमियों को बस के थकाऊ सफर से मुक्ति तो मिली है।10 महीने बाद पहली बार आम मुम्बईकर को लोकल ट्रेन से सफर करने की इजाजत मिली है इसी दौरान मुंबई लोकल में महीनों बाद सफर करने वाले एक शख्श की फोटो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल रही है जिसे देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि लोग मुंबई लोकल सेवा शुरु होने पर किस कदर खुश हो रहे हैं। बता दें, सोशल मीडिया पर वायरल इस फोटो में देख सकते हैं कि कैसे एक शख्स ट्रेन में चढ़ने से पहले ट्रेन के दरवाजे पर अपना सिर झुकाते हुए दे रहा है इससे साफ पता चल रहा है कि मुंबई की जमता कि कितनी बेसब्री से इस दिन का इंतजार थी कि जब मुंबई लोकल दोबारा पटरी पर दौड़ने लगे।

ट्विटर का एक्शन, एक्ट्रेस कंगना को दिया झटका

ट्विटर का एक्शन, एक्ट्रेस कंगना रनौत को दिया ये बड़ा झटका
मनोज सिंह ठाकुर 
मुंबई। कंगना रनौत के खिलाफ ट्विटर ने एक बड़ी कार्रवाई की है। ट्विटर ने अभिनेत्री कंगना रानौत के कई ट्वीट्स डिलीट कर दिए हैं। दरअसल किसान आंदोलन को लेकर पिछले कई दिनों से कंगना सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। इस दौरान उन्होंने किसान आंदोलन का समर्थन करने वाले स्टार्स पर भी जमकर निशाना साधा. इंटरनेशनल पॉप स्टार रिहाना ने पिछले साल केंद्र सरकार द्वारा पेश किए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ भारत की राजधानी (दिल्ली) की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को अपना समर्थन दिया और पूछा कि लोग इसके बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं। रिहाना ने ट्विटर पर अपनी बात रखी तो अब बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने उन्हें करारा जवाब दिया है।
32 वर्षीय पॉप स्टार रिहाना ने दिल्ली के पड़ोसी राज्य हरियाणा के कई जिलों में इंटरनेट बंद होने पर एक न्यूज वेबसाइट की खबर को शेयर करते हुए किसानों का पक्ष लिया है। रिहाना ने लिखा, 'हम इस बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं।' इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में फार्मर पोस्ट को भी दर्ज किया है। रिहाना की ये बात बॉलीवुड 'क्वीन' कंगना रनौत को रास नहीं आई और उन्होंने इस ट्वीट का जवाब काफी तीखे अंदाज में दिया है। कंगना हमेशा से ही कृषि कानून के पक्ष में नजर आईं हैं। अब उन्होंने रिहाना को 'मूर्ख' कहा और कहा कि प्रदर्शनकारी किसान नहीं थे। लेकिन 'आतंकवादी जो भारत को विभाजित करने की कोशिश कर रहे हैं।
कंगना ने जवाब देते हुए लिखा, 'कोई भी इसके बारे में बात नहीं कर रहा है। क्योंकि वे किसान नहीं हैं। वे आतंकवादी हैं ।जो भारत को विभाजित करने की कोशिश कर रहे हैं। ताकि चीन हमारे कमजोर टूटे हुए राष्ट्र पर कब्जा कर सके और इसे संयुक्त राज्य अमेरिका की तरह चीनी उपनिवेश बना सके आप मूर्ख बन बैठें, आप जैसे हमारे देश को नहीं बेच रहे हैं। याद दिला दें कि प्रियंका चोपड़ा जोनास और दिलजीत दोसांझ जैसे अन्य लोग पहले ट्विटर पर किसानों के समर्थन में सामने आए थे। जिसके बाद दोनों की कंगना से ट्विटर पर बहस भी देखने को मिली थी। बता दें कि रिहाना के ट्विटर पर दस करोड़ फॉलोवर हैं। और उनके इस ट्वीट को एक घंटे में हजारों लोगों ने रीट्वीट किया। बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने रिहाना के ट्वीट की प्रशंसा की है।

एकट्रेस राखी ने पैसों के लिए किया अपना सौदा

बिग बोस: 14 शो में अबतक का सबसे बड़ा खुलासा, राखी सावंत ने बताया पैसों के लिए किया अपना सौदा
मनोज सिंह ठाकुर  
मुंबई। भारत का सबसे चर्चित शो बिग बॉस 14 में जब से राखी सावंत शो का हिस्सा बनी है। तब से आये दिन राखी खूब सुर्खिया बटोर रही है। चाहे अपने बिंदास अंदाज़ से हो, या बेबाक बयानों से राखी ने शो का मनोरंजन बरक़रार रखा है। वही हाल ही में लेटेस्ट एपिसोड में राखी सावंत ने अपने बारे में कई अहम खुला
उन्होंने बताया कि वह मुंबई की एक चाल में रहती थीं। और बहुत ही गरीब थे। उनकी मां की तबीयत अक्सर खराब रहती थी। उन्होंने अभिषेक अवस्थी से ब्रेकअप के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि भले ही अभिषेक ने उन्हें धोखा दिया हो। वह उन्हें माफ भी कर देगी। जिसके बाद राखी सावंत  ने राहुल वैद्य के सामने खुलासा किया कि जब वह छोटी थी। तब उनकी मां को पहला हर्ट अटैक आया था। उन्होंने बताया कि मां के इलाज के लिए कैसे उन्होंने पैसे का इंतेजाम किया। राखी ने बताया कि एक दोस्त ने पैसे देने के बदले उनका यौन शोषण किया। उन्होंने कहा कि एक कार में उनका यौन शोषण हुआ। राखी ये सब बोलते-बोलते रोने लगी। वही राहुल वैद्य ने इस पर दुख जताया.उन्होंने राखी  को दिलासा दिया कि वह उनकी भलाई चाहते हैं। राखी सावत  ने रोते-रोते कहा कि इस यौन शोषण की घटना को मैंने अपनी मां को नहीं बताया। वहीं राहुल ने कहा कि जब आप पॉपुलर हुईं तो, तो उसके खिलाफ एक्शन लेना चाहिए था। इस पर राखी ने कहा कि उनके पास सबूत नहीं था, तो कैसे उसकी शिकायत करतीं।
इतना ही नहीं राखी सावंत ने खुलासा किया कि उनके पति रितेश एक शादीशुदा शख्स है। और उसका एक बच्चा भी है। वह कहती हैं। कि रितेश ने उन्हें 5-6 बार तलाक देने की धमकी भी दी है। ये बोलते-बोलते राखी रो पड़ती हैं। रााहुल इस पर दुख जताते हैं। और उन्हें दिलासा देते हैं। इसके बाद बिग बॉस 14 दोनों को कन्फेशन रूम में बुलाते हैं और दोनों के बीच हुई बातों को घर में किसी को भी बताने से मना किया।

मेरठ: पुलिस ने दिल्ली से छात्रा को किया बरामद

मेरठ। देश आए दिन धर्मपरिवर्तन को लेकर माहौल गरमाता ही जा रहा है। आपको बता दें की मेरठ के शास्त्री नगर में एक धर्मांतरण का मामला सामने आया है। जहां एक व्यापारी की बेटी को कोचिंग में पढ़ाने वाले अमान ने प्रेम जाल में फंसाया और फिर धर्मांतरण कराने के लिए उसको दिल्ली भी ले गया। जहां दिल्ली जामा मस्जिद में छात्रा का धर्मांतरण होना था। सब कुछ होने से पहले पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया और उसकी निशानदेही पर छात्रा को भी बरामद कर लिया। शास्त्री नगर निवासी एक व्यापारी की बेटी कोचिंग सेंटर में पढ़ने जाती थी। जहां पर कोचिंग में पढ़ाने वाले अमान ने छात्रा को प्रेम जाल में फंसा लिया और फिर उसे अपने एक दोस्त के साथ दिल्ली भेज दिया था। इस मामले को लेकर मंगलवार को हिंदू संगठन और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने नौचंदी थाने में हंगामा किया था। नौचंदी पुलिस ने तुरंत मुकदमा दर्ज किया और आरोपी अमान को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की निशानदेही पर रात में ही नौचंदी पुलिस ने छात्रा को दिल्ली से बरामद कर लिया। पुलिस के अनुसार छात्रा ने बताया कि अमान उसका दिल्ली जामा मस्जिद में धर्मांतरण कराना चाहता था।

नाबालिग का दुष्कर्म कर पत्थरों से कुचला, अरेस्ट

कोरबा। वर्ष 2021 की शुरुआत से ही प्रदेश में अपराध के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। कहीं हत्या-लूट तो कहीं दुष्कर्म। ताजा मामला कोरबा का हैं जहां 16 साल की नाबालिग के साथ गैंगरेप कर पत्थरों से कुचल दिया।पुलिस के अनुसार, बरपानी गांव का रहने वाला मृतक परिवार मुख्य आरोपी संतराम मझवार के घर पर पिछले साल जुलाई से पशुओं को चराने का काम कर रहा था।वहीं, 29 जनवरी के दिन मोटर साइकिल से आरोपी मझवार किशोरी, उसके पिता और उनकी पोती को उनके गांव छोड़ने के लिए जा रहा था। कोरइ गांव पहुंचकर मझवार ने शराब पी ली और उसके साथ अन्य आरोपी भी आ गए। इसके बाद सभी आरोपी जबरदस्ती तीनों को गढुपरोदा के पास जंगल में ले गए और मझवार और अन्य आरोपियों ने कथित तौर पर किशोरी के साथ गैंगरेप किया। इसके बाद तीनों को पत्थरों और डंडे से मार-मारकर जंगल से फरार हो गए।

भारत-इंग्लैंड के बीच खेला जाएगा पहला टेस्ट मैच

मलाइका की तस्वीरों ने मीडिया पर मचाया धमाल

मुंबई। बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा के ग्लैमरस अंदाज ने लोगों का दिल जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। मलाइका अरोड़ा ने अपने डांस के साथ-साथ अपने स्टाइल से भी फैंस का खूब दिल...मलाइका अरोड़ा की हाल ही में तस्वीरें भी खूब वायरल हो रही हैं।जिसमें वह अर्पिता मेहता द्वारा डिजाइन किये गए आउटफिट में पोज करती हुई दिखाई दे रही हैं। मलाइका अरोड़ा की फोटो में उनका पोज और स्टाइल दोनों ही देखने लायक हैं। एक्ट्रेस ने इन तस्वीरों को अपने इंस्टाग्राम एकाउंट से शेयर किया है। मलाइका अरोड़ा की इन तस्वीरों को अभी तक पांच लाख से भी ज्यादा बार लाइक किया जा चुका है, साथ ही सोशल मीडिया यूजर के साथ बॉलीवुड कलाकार भी इस पर जमकर कमेंट कर रहे हैं। एक्ट्रेस की इन तस्वीरों पर कमेंट करते हुए सोहेल खान की पत्नी सीमा खान ने कहा, “ओएमजी…” तो वहीं एक्टर चंकी पांडे की पत्नी भावना पांडे ने फायर इमोजी के जरिए अपना रिएक्शन दिया. इसके अलावा फैंस भी मलाइका अरोड़ा की इन तस्वीरों पर कमेंट करते नहीं थक रहे हैं।

सोनें-चांदी के दामों में फिर आईं भारी गिरावट

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। सोने-चांदी के भाव में आज भी गिरावट देखने को मिली है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर गुरुवार को फरवरी की फ्यूचर ट्रेड 350 रुपये की गिरावट के साथ सोना 47,400 रुपये पर ट्रेड कर रही थी। इसके अलावा चांदी की मार्च की फ्यूचर ट्रेड 836.00 रुपये की गिरावट के साथ 67,729.00 रुपये पर कारोबार कर रही थी। पुलिस महानिरीक्षक आर॰ पी॰ साय ने पत्थलगांव थाने पहुंच कर थाना की व्यवस्था को देखा तथा सभी रजिस्टर का अवलोकन किया। बंदी गृह, सस्त्रागार, डायजेस्ट मिलान, ड्यूटी रजिस्टर चेक करने के दौरान थाना प्रभारी व समस्त स्टॉफ की जमकर ली क्लास और स्पष्ट निर्देश दिए की थाना में आने वाले किसी भी फरियादी की समस्या का तत्काल प्रभाव से सकरात्मक हल करना पुलिस का काम है। साथ ही उन्होंने कहा कि क्षेत्र में किसी भी प्रकार के अवैध नशीले पदार्थों  जसे , जुआ, सट्टा, व शराब , गांजा के कारोबार करने वाले के ऊपर कड़ी कार्यवाही करने को कहा। पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि अगर ऐसे मादक पदार्थों के कारोबार की सूचना मेरे संज्ञान में मिली तो सीधे थाना प्रभारी और बीट प्रभारी के ऊपर कार्यवाही की जाएगी।पुलिस महानिरीक्षक ने कड़े रुख अपनाते हुए कहा  की किसी भी प्रकार का अवैध वसूली, बेवजह किसी आम जनता को परेशान करने वाले को बख्सा नहीं जायेगा, जिससे कि पुलिस की छवि धुमिल हो।से आने वाले व्यक्तियों का समय समय पर चेकिंग कर उस पर निगरानी रखी जाए। सरगुजा आईजी आर पी साय पत्थलगांव विधायक रामपुकार सिंहनिवास जाकर विधायक के स्वास्थ्य का हालचाल जाना एवं सौजन्य से मुलाकात की।

महिलाएँ ब्रा पहनते समय रखें खास ध्यान, परेशानी

महिलाएं आमतौर पर ब्रा को लेकर काफी लापरवाही बरतती हैं। रॉन्ग साइज, गलत तरीके से पहनना और भी कई तरीकों से अपनी हेल्थ को नुकसान पहुंचाने का काम करती हैं। जिसके चलते उन्हें सीने, पीठ और गर्दन दर्द जैसी कई तरीके की परेशानियां होती हैं। जानिए नुकसान: ब्रा आपके ब्रेस्ट को सपोर्ट करती है। अगर बहुत ज्यादा टाइट फिटिंग की ब्रा पहनती हैं तो इससे लंग्स में खून का दौरा अवरुद्ध हो सकता है जिससे सीने से जुड़ी कई सारी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।कई बार ज्यादा फिटेड ब्रा पहनने से उसकी स्ट्रैप से रैशेज हो जाते हैं। जिससे खुजली या जलन हो सकती है। लबें समय तक इस तरह की ब्रा पहनने ये रैशेज फंगल इंफेक्शन में बदल जाते हैं। गलत साइज की ब्रा पहनने से देखा गया है कि महिलाओं के बैठने का तरीका बदल जाता है। गलत ब्रा पहनने से बैठते समय गर्दन झुक जाती है जिससे कई सारी समस्याएं हो सकती है।खराब फिटिंग वाली ब्रा पहनने से स्तनों को सपोर्ट नहीं मिलता है जिसकी वजह से गर्दन और पीठ पर दबाव पड़ता है। इससे सिर में गर्दन से होकर जाने वाला खून बाधित होती है जो बाद में सिरदर्द की तरह सामने आता है।कई बार बेकार फिटिंग की अंडरवॉयर ब्रा पहनने से अस्थि पिंजर पर दबाव पड़ता है। सीने के इस भाग पर दबाव पड़ने से सांस लेने में तकलीफ की शिकायत हो सकती है।ज्यादा टाइट ब्रा पहनने से डायाफ्रम पर दबाव पड़ता है जिससे पाचन खराब हो सकता है।

खाना खाने के बाद मीठा खाना क्यों हैं जरूरी ?

आप सबसे पहले नमकीन खाना जैसे- चपाती, दाल, सब्जी या चावल आदि खाते हैं और उसके बाद ही कुछ मीठा खाते हैं। पूर्वजों का भी यही मानना है कि भोजन की शुरुआत हमेशा मसालेदार खाने से करनी चाहिए और मीठा खाकर समाप्त करना चाहिए। क्या आप जानते हैं कि खाने के बाद मीठा खाने से क्या होता है? लेकिन आपने कभी सोचा है कि खाने की शुरुआत में सबसे पहले मीठा क्यों नहीं खाना चाहिए या पहले मसालेदार चीजें ही क्यों खाने चाहिए? जाहिर है यह एक ऐसा सवाल है, जिसका जवाब सभी लोग जानना चाहेंगे। वास्तव में कई लोग ऐसा मानते हैं कि यह सालों से चली आ रही एक परंपरा है। लेकिन आपको बता दें कि इसके पीछे वैज्ञानिक तथ्य थे। जब आप स्पाइसी फूड खाते हैं, तो आपका शरीर पाचक रस और एसिड जारी करता है, जो पाचन प्रक्रिया को बढ़ाते हैं। स्पाइसी फूड्स खाने से यह भी सुनिश्चित होता है कि आपका पाचन सही तरह हो रहा है। दूसरी ओर मीठी चीजों में कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा अधिक होती है, जिससे पाचन धीमा हो सकता है। इसके अलावा मीठे का सेवन एमिनो एसिड ट्रिप्टोफैन के अवशोषण को बढ़ाता है। ट्रिप्टोफैन को सेरोटोनिन लेवल बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर है, जो खुशी की भावना से जुड़ा है यानि मीठा खाने से आपको खुशी होती है। यही कारण है कि आप भोजन करने के बाद मीठा खाते हैं।हालांकि वाइट शुगर से बनने वाली मीठी चीजों को हेल्दी नहीं माना जाता है। चीनी से तैयार चीजों का लंबे समय तक सेवन करने से आपको मोटापे और अन्य स्वास्थ्य जटिलताओं का खतरा हो सकता है। इसके बजाय आपको गुड़ या ब्राउन शुगर से तैयार चीजें ही खानी चाहिए। वास्तव में आर्गेनिक गुड़ आपके लिए सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है।

आंदोलन पर यूएस व विदेश मंत्रालय ने की टिप्पणी

किसान आंदोलन पर अब यूएस विदेश मंत्रालय की आई टिप्पणी, कही ये बड़ी बात
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। किसान आंदोलन  पर अब अंतरराष्ट्रीय समुदाय से लगातार टिप्पणियां आ रही हैं। पॉप सिंगीर रिहाना ने भी किसानों के समर्थन में ट्वीट कर सुर्ख़ियों में रहीं। अब अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से भी इस मुद्दे पर बुधवार को एक बयान दिया गया है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि शांतिपूर्ण आंदोलन किसी भी फलते-फूलते लोकतंत्र की पहचान हैं। यह भी कहा गया कि मंत्रालय ऐसे कदमों का स्वागत करता है। जिससे किसानों के लिए भारत के बाजारों की कुशलता बढ़े और निजी क्षेत्रों की ओर से निवेश आए।
अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से इस बारे में संकेत दिया गया कि बाइडेना प्रशासन, कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए लाए गए भारत सरकार के कदमों के समर्थन में है। मंत्रालय की प्रवक्ता ने कहा, ‘सामान्य तौर पर, हम ऐसे कदमों का स्वागत करते हैं। जिससे भारत के बाजारों की कार्यक्षमता बढ़ेगी और क्षेत्र में प्राइवेट सेक्टर का निवेश बढ़ेगा। भारत में चल रहे किसान आंदोलन पर सवाल पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका दोनों पक्षों के बीच बातचीत से समाधान निकाले जाने को बढ़ावा देता है। प्रवक्ता ने कहा हम मानते हैं। कि शांतिपूर्ण आंदोलन किसी भी लोकतंत्र की पहचान है। और ध्यान दीजिए कि भारत के सुप्रीम कोर्ट ने भी यही कहा है।
इस बीच, कई अमेरिकी सांसद किसान आंदोलन के समर्थन में आए हैं। सांसद हेली स्टीवन्स ने कहा कि ‘भारत में कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ एक्शन लिए जाने की खबरों से चिंतित हू। एक बयान जारी कर उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार से, किसानों के साथ बातचीत कर मामला सुलझाने की अपील की। उन्होंने यह भी कहा कि हालात पर नजर रख रही हैं।
एक अन्य सांसद इलहान ओमर ने भी किसानों को अपना समर्थन दिया। उन्होंने एक ट्वीट कर कहा, ‘भारत को अपने मूलभूत लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा करनी होगी। सूचना की बेरोक-टोक आवाजाही की अनुमति दी जाए, इंटरनेट एक्सेस को फिर से शुरू किया जाए और इस आंदोलन को कवर करने के लिए हिरासत में लिए गए सभी पत्रकारों को रिहा किया जाए। 
इसके पहले उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की भतीजी, मीना हैरिस ने भी कहा था। कि भारत के लोकतंत्र पर हमला किया जा रहा है।

एलईडी वैन का ग्रामीणों ने किया जोरदार स्वागत

काशीपुर। केजरीवाल अभियान के तहत एलइडी वैन के पहुंचने पर ग्रामीणों ने जोरदार स्वागत किया इस दौरान बड़ी तादाद में लोगों ने आम आदमी पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण की। बता दें कि विधानसभा क्षेत्र के गांव गोपी पुरा में पहले ही दिन पहुंची आम आदमी पार्टी की एलईडी लगी वैन को देख उत्साहित ग्राम वासियों ने ‘उत्तराखंड में भी केजरीवाल अभियान को सहर्ष स्वीकारा और देखते ही देखते जिस तरह से दर्जनों ग्रामीणों ने आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर आपकी झोली को लबालब भर दिया।

उसे देखकर प्रदेश उपाध्यक्ष एवं राज्य आंदोलनकारी दीपक बाली सहित तमाम पदाधिकारी व कार्यकर्ता खुशी से झूम उठे । किसी को भी उम्मीद नहीं थी। कि पहले ही दिन उन्हें ग्रामीणों का इतना शानदार स्नेह और समर्थन मिलेगा । ग्रामीणों ने साफ कहा कि उनका राष्ट्रीय राजनीतिक दलों से मोहभंग हो चुका है। और अब वें आप पार्टी में विश्वास व्यक्त करते हैं। ग्रामीण एल ई डी पर उत्तराखंड के बदहाल स्कूलों वअस्पतालों की दुर्दशा के सामने दिल्ली के भव्य स्कूलों वअस्पतालों की तस्वीर देखकर दंग रह गए। वैन टीम में शामिल

राज्यसभा का नजारा, दिग्विजय के तीखे कटाक्ष

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। राज्यसभा में गुरुवार को उस वक्त दिलचस्प नजारा दिखा जब मध्यप्रदेश के दिग्गज कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुए वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर तीखे कटाक्ष किये और सिंधिया उसे चुपचाप सुनकर रह गये। राष्ट्रपति अभिभाषण पर चर्चा के दौरान सिंधिया ने अपना करीब आधे घंटे का भाषण समाप्त किया तो सभापति एम़ वेंकैया नायडू ने कांग्रेस के दिग्विजय सिंह का नाम पुकारा। इस पर सदन में कई सदस्यों के चेहरे पर अर्थपूर्ण मुस्कान तैर गयी और किसी-किसी की हंसी भी छूट गयी। इस पर नायडू ने सफाई दी कि उन्होंने सूची में क्रम के आधार पर ही दिग्विजय सिंह का नाम पुकारा है, अन्य कोई बात नहीं है। दिग्विजय सिंह ने राष्ट्रपति अभिभाषण पर अपनी बात रखने के पूर्व कहा कि वह सिंधिया को शानदार भाषण के लिए बधाई देना चाहते हैं। वह (सिंधिया) जितने असरदार ढंग से संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (सप्रंग) का पक्ष रखते रहे हैं, उतने ही प्रभावशाली ढंग से उन्होंने आज भाजपा सरकार का पक्ष भी रखा है। उन्होंने कहा कि उनका आशीर्वाद सदैव सिंधिया के साथ था, है और रहेगा। कांग्रेस नेता के इस बयान पर विपक्ष की बेंच की तरफ से ठहाके सुनाई दिये। सिंधिया ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त की।

महासागर क्षेत्र में उच्चस्तर पर सहयोग की जरूरत

 बेंगलुरू। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बृहस्पतिवार कहा कि हिन्द महासागर क्षेत्र की मौजूदा चुनौतियों को देखते हुए इससे लगते देशों द्वारा सुरक्षा, शांति तथा समदिघ का माहौल सुनिश्चित करने के लिए अर्थव्यवस्था, व्यापार, नौसेना तथा समुद्री क्षेत्र में उच्च स्तर पर सहयोग किये जाने की जरूरत है। राजनाथ सिंह ने गुरूवार को एयरो इंडिया के दौरान आयोजित हिंद महासागर देशों के रक्षा मंत्रियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि हिन्द महासागर सब देशों की साझा संपत्ति है और लेकिन मौजूदा समय में इसमें समुद्री डकैती, नशीले पदार्थो तथा लोगों की तस्करी, मानवीय आपदा बड़ी चुनौती हैं।उन्होंने कहा कि एकजुट होकर तथा समुद्री क्षेत्र में सहयोग बढ़ाकर हम इन चुनौतियों का सामना कर सकते हैं क्योंकि आज किसी एक देश का खतरा कल दूसरे देश के लिए भी खतरा बन कर सामने आ सकता है। दक्षिण चीन सागर में चीन के प्रभुत्व बढ़ाने की कोशिशों का परोक्ष रूप से जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हमने दुनिया के कुछ समुद्री क्षे़त्रों में परस्पर टकराव वाले विभिन्न दावों का नकरात्मक असर देखा है। इसलिए हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हिन्द महासागर क्षेत्र में शांति बनी रही और सभी देश इस साझा संपत्ति का फायदा उठाये। भारत के इन देशों के साथ ऐतिहासिक और सांस्कतिक संबंध रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत हिन्द महासागर के देशों को मिसाइल प्रणाली, हल्के लड़ाकू विमान तथा हेलिकाॅप्टर, युद्धपोत, गश्ती नौका, तोप प्रणाली, टैंक, राडार, सैन्य वाहन, इलेक्ट्रानिक वारफेयर प्रणाली और अन्य हथियार प्रणाली देने को तैयार है जिससे कि तमाम तरह की चुनौतियों से निपट सकें। राजनाथ सिंह ने कहा कि हिन्द महासागर सबकी साझा संपत्ति तथा अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए जीवन रेखा की तरह है क्योंकि दुनिया का एक तिहायी कार्गो इस क्षेत्र से गुजरता है। सभी देशों को मौजूदा तथा भविष्य की समुद्री चुनौतियों तथा खतरों को देखते हुए उच्च स्तर पर सहयोग तथा तालमेल करने की जरूरत है क्योंकि यही समय की मांग भी है।

प्रियंका के काफिले की 4 गाड़ियां आपस में टकराई

प्रियंका गांधी के काफिले की 4 गाड़ियां आपस में टकराई, दिल्ली-लखनऊ हाईवे पर हुआ हादसा
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के मौके पर दिल्ली में किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान जान गंवाने वाले युवक नवरीत सिंह की मौत पर सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी नवरीत सिंह के परिजनों से मिलने रामपुर जा रही हैं। प्रियंका गांधी के अलावा आज राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) नेता जयंत चौधरी भी उनके परिजनों से मिलने पहुंचेंगे। आज नवरीत सिंह का अंतिम अरदास कार्यक्रम है। प्रियंका गांधी इस कार्यक्रम में भाग लेंगी और परिजनों को सांत्वना देंगी।
रामपुर जा रही प्रियंका गांधी वाड्रा के काफिले की गाड़ियां हापुड़ रोड पर आपस में टक्करा गईं। इस हादसे में कोई घायल नहीं हुआ। ट्रैक्टर हादसे के बाद दिल्ली पुलिस की ओर से एक वीडियो जारी किया गया था। जिसमें देखा गया था। कि आईटीओ के पास पुलिस बैरिकेड को तोड़ने की कोशिश में तेज रफ्तार ट्रैक्टर पलट जाता है। इस ट्रैक्टर के नीचे नवरीत सिंह दब जाते हैं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक नवरीत सिंह की मौत दुर्घटना के कारण हुई थी।

अयोध्या: आवंटित 5 एकड़ जमीन पर उठा विवाद

अयोध्या की मस्जिद निर्माण में अड़ंगा- आवंटित 5 एकड़ जमीन पर उठा विवाद, हाईकोर्ट में में चुनौती 08 फरवरी को सुनवाई

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में बुधवार को एक रिट याचिका दाखिल कर अयेाध्या जिले के धन्नीपुर गावं में मस्जिद बनाने के लिए यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को आवंटित कुल 29 एकड़ जमीन में से पांच एकड़ को विवादित बताया गया है। याचिका दिल्ली की दो महिलाओं ने दायर किया है। इस पर 8 फरवरी को सुनवाई संभावित है। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद टाइटल सूट मामले में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 7 नवंबर 2019 को पारित निर्णय के अनुपालन में राज्य सरकार ने केंद्र सरकार की अनुमति से सुन्नी वक्फ बोर्ड केा उक्त जमीन आवंटित किया है।
याचिका दायर कर दोनों महिलाओं ने आवंटित जमीन मे से पांच एकड़ पर अपना हक होने का दावा किया है। साथ ही यह भी कहा है। कि उक्त 5 एकड़ की जमीन के संबंध में बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी के समक्ष एक मुकदमा विचाराधीन है।
दिल्ली की दो महिलाओं रानी कपूरी व रमा रानी ने दाखिल की याचिका
यह याचिका रानी कपूर पंजाबी व रमा रानी पंजाबी की ओर से दाखिल की गई है। याचियों का कहना है। कि बंटवारे के समय उनके माता-पिता पाकिस्तान के पंजाब से आए थे। वे फैजाबाद (अब अयोध्या) जनपद में ही बस गए। बाद में उन्हें नजूल विभाग में ऑक्शनिस्ट के पद पर नौकरी भी मिली। उनके पिता ज्ञान चंद्र पंजाबी को 1560 रुपए में पांच साल के लिए ग्राम धन्नीपुर, परगना मगलसी, तहसील सोहावल, जनपद फैजाबाद में लगभग 28 एकड़ जमीन का पट्टा दिया गया।

4 पुलिसकर्मियों की मौत का आरोप,नक्सली अरेस्ट

एनआईऐ को बड़ी कामयाबी। खूंखार नक्सली गिरफ्तार, 4 पुलिसकर्मियों को उतारा था। मौत के घाट

रांची। केंद्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। एनआईए ने झारखंड के लातेहार में डेढ़ साल पहले एक हमले में 4 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्यारोपी को गिरफ्तार किया है। एनआईए की प्रवक्ता जया रॉय ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी की पहचान मृत्युंजय कुमार सिंह उर्फ सोनू सिंह के रूप में की गई है। मृत्युंजय सीपीआई माओवादी संगठन का सक्रिय सदस्य है। मृत्युंजय का नाम खतरनाक नक्सलियों में लिया जाता है। नवंबर, 2019 को झारखंड के लातेहार में 4 पुलिसकर्मियों की घात लगाकर हत्या कर दी गई थी। गश्त के दौरान पुलिस पार्टी पर हमला किया गया था। चंदवा के लुकईया मोड़ के समीप पुलिस गश्ती की टीम खड़ी थी। इसी दौरान भाकपा माओवादियों के मोटरसाइकिल दस्ते ने वाहन पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। हमले में चार पुलिसकर्मी शहीद हुए थे। जिसके बाद पुलिस स्टेशन चंदवा, जिला लातेहार, झारखंड, में केस दर्ज हुआ था। हालांकि, शुरुआती तफ्तीश में पुलिस ने छह आरोपियों को गिरफ्तार किया, जिनके खिलाफ चार्जशीट भी दायर की गई थी। हमलावरों ने पुलिस पार्टी के हथियार और गोला-बारूद भी लूट लिया था। मामला बेहद संगीन था। लिहाजा मामले की जांच एनआईए को सौंपी गई। एनआईए की प्रवक्ता जया रॉय के मुताबिक, जांच करने के दौरान एनआईए ने लातेहार, लोहरदग्गा और पलामू जिलों के कई जगहों पर तलाशी ली। चंदवा में मृत्युंजय कुमार सिह के ठिकानों में से एक पर तलाशी के दौरान 2.64 करोड़ रुपये की बेहिसाब धनराशि भी बरामद की गई। मृत्युंजय भाकपा माओवादियों का जोनल कमांडर है। उसपर भंडरिया में हत्या, आर्म्स एक्ट, नक्सल कांड सहित कई मामले दर्ज हैं।
मृत्युंजय भुईयां लातेहार जिले के छिपादोहर थाना क्षेत्र के चकलवा टोला नावाडीह का निवासी है। जांच से यह भी पता चला है। कि घटना से एक दिन पहले मृत्युंजय कुमार सिंह उर्फ सोनू सिंह ने भालूजंगा जंगल में भाकपा (माओवादी) के क्षेत्रीय समिति सदस्य रवींद्र गंझू से मुलाकात की थी। और उन्हें हमले के लिए पैसे मुहैया कराए थे। गिरफ्तार आरोपी को एनआईऐ की स्पेशल कोर्ट, रांची में पेश किया गया।

हिमाचल में बर्फबारी के कारण 3 नेशनल हाईवे बंद

श्रीराम मौर्य 
शिमला। हिमाचल प्रदेश में बीते 24 घंटे में भारी हिमपात और बारिश हुई है। बुधवार रात को सूबे के मैदानी इलाकों में जहां झमाझम बारिश हुई है, वहीं शिमला और मनाली सहित ऊंचाई वाले इलाकों में जमकर बर्फबारी हुई है। आलम यह है कि सूबे में तीन नेशनल हाईवे पर यातायात ठप हो गया है। फिलहाल शिमला-नारकंडा-रामपुर हाईवे बर्फबारी के चलते बाधित है। इसके अलावा चौपाल एरिया में खड़की और देहा सड़क मार्ग बाधित है। यहां पर 2 से 4 इंच तक बर्फ गिरी है। वहीं, औट-लूहरी-आनी हाईवे 305 भी जलोड़ी जोत पर भारी हिमपात के चलते बंद है। मनाली लेह हाईवे भी मनाली के नेहरू कुंड से आगे बंद हैं। वहीं, सूबे में करीब 100 से ज्यादा सड़कों पर आवाजाही ठप है। लाहौल घाटी पूरी तरह से सफेद हो गई है।

पिछली सरकारों में वोट बैंक का बहीखाता था बजट

नोएडा में हाईप्रोफाइल सेक्‍स रैकेट का पर्दाफाश हुआ

 विजय भाटी 
 गौतम बुध नगर। दिल्‍ली-एनसीआर के प्रमुख शहर नोएडा में हाईप्रोफाइल सेक्‍स रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। सेक्‍स रैकैट वेव मॉल में चल रहा था। डीसीपी ने बताया कि स्‍पा सेंटर से पकड़ी गईं युवतियों को पुनर्वास केंद्र भेज दिया गया है। गौतमबुद्ध नगर के DCP ने बताया कि ग्राहकों और स्‍पा ऑनर पर PITA के तहत कार्रवाई की जाएगी। वेव मॉल में स्‍पा सेंटर की आड़ में सेक्‍स रैकेट चलाने के भंडाफोड़ होने से लोक सकते में हैं। स्‍पा सेंटर की आड़ में देह व्‍यापार का धंधा चलाने की गुप्‍त सूचना मिलने के बाद पुलिस ने छापा मारकर वहां से युवतियों को छुड़ाया।

एसबीआई ने ग्राहकों को दी सौगात, रजिस्ट्रेशन कराया

अकांशु उपाध्याय

 नई दिल्ली। अगर आप एसबीआई के ग्राहक हैं और अभी तक आपने अपने खाते में नॉमिनी का रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है तो आपको एसबीआई ने बड़ी सौगात दे दी है। एसबीआई ने नॉमिनी रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया है। इसका मतलब ये होगा कि अब ग्राहकों को बैंक नहीं जान। एसबीआई ने ट्वीट कर कहा है कि अगर आपके अकाउंट में नॉमिनी डिटेल्स नहीं है तो घबराने की जरूरत नहीं है। यह काम अब घर बैठे ऑनलाइन कर सकते हैं।  इसके अलावा यह सुविधा हर एसबीआई ब्रांच में भी उपलब्ध है। ट्वीट के मुताबिक, अगर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में आपका सेविंग या करेंट अकाउंट   है, फिक्स्ड या रेकरिंग डिपॉजिट  है तो घर बैठे नॉमिनी को रजिस्टर किया जा सकता है। अगर आप एसबीआई की नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं तो एसबीआई की वेबसाइट पर विजिट करें। इसके बाद रिक्वेस्ट एंड इन्क्वॉयरी विकल्प पर आपको क्लिक करना होगा। उसके बाद आपके सामने कई विकल्प खुल जाएंगे, जिसमें से ऑनलाइन नॉमिनेशन का विकल्प चुनना है। अगर एसबीआई में आपके एक से ज्यादा अकाउंट हैं तो वह डिटेल्स सामने आ जाएगी। सही विकल्प का चयन करने के बाद नॉमिनी की डिटेल्स भरनी है. प्रक्रिया पूरी होने के बाद रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी आएगा। ओटीपी वेरिफिकेशन के बाद नॉमिनी का नाम जुड़ जाएगा।पहले  ऐप पर लॉगिन करना है। होम बटन पर क्लिक कर सर्विस रिक्वेस्ट विकल्प का चयन करना है। सर्विस रिक्वेस्ट पर क्लिक करने पर जो पेज खुलेगा वहां ऑनलाइन नॉमिनेशन का विकल्प दिया गया है। क्लिक करने पर अकाउंट डिटेल सलेक्ट करना है और नॉमिनी की पूरी जानकारी अपडेट करनी है। यहां आपसे नॉमिनी के साथ रिलेशनशिप की भी जानकारी मांगी जाती है। अगर पहले से कोई नॉमिनी है और उसे अपडेट करना है तो सबसे पहले कैंसिल नॉमिनेशन के जरिए वर्तमान नॉमिनी को कैंसिल करना होगा उसके बाद नए नॉमिनी की पूरी जानकारी भरनी होगी।

अगर खाताधारक की किसी वजह से मौत हो जाती है तो उस खाते में जमा राशि पर नॉमिनी का पूरा अधिकार होता है. नॉमिनी के तौर पर जिसका भी रजिस्ट्रेशन होता है उसे पूरी रकम मिल जाती है. नॉमिनी न होने पर खाताधारक का पैसा बैंक में ही रह जाता है। एक अनुमान के मुताबिक बैंकों में करोड़ों रुपये ऐसे खाताधारकों के नाम पर जमा हैं जिनकी मौत हो चुकी है लेकिन उनके खाते में नॉमिनी न होने की वजह से पीड़ित परिवार को रकम नहीं मिल पा रही है।

अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...