सोमवार, 29 अगस्त 2022

नालों व सड़कों की साफ-सफाई व्यवस्था का निरीक्षण 

नालों व सड़कों की साफ-सफाई व्यवस्था का निरीक्षण 

हरिशंकर त्रिपाठी 

देवरिया। कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने सोमवार सुबह 7 बजे नगर पालिका अध्यक्ष अलका सिंह के साथ देवरिया शहर के नालों और सड़कों की साफ-सफाई व्यवस्था का औचक निरीक्षण किया। सोमवार सुबह कृषि मंत्री का काफिला सबसे पहले कचहरी चौराहा पहुंचा। उसके बाद देवरिया बस स्टैंड पहुंचकर कृषि मंत्री ने साफ-सफाई की जमीनी हकीकत का निरीक्षण किया। कृषि मंत्री ने भटवलिया चौराहा,रुद्रपुर मोड़ होते हुए हरेकृष्ण द्वार रामनाथ देवरिया चौराहा पुलिस लाइन चौराहा, सिंचाई विभाग चौराहा, मारवाड़ी चौराहा, जलकल रोड, मोतीलाल रोड, कसया ढाला होते हुये भीखमपुर रोड, रागिनी मोड़, गायत्री मन्दिर रोड,सोमनाथ मंदिर रोड, पुरवा चौराहा,को-आपरेटिव चौराहा होते हुए रामलीला मैदान तथा हनुमान मन्दिर चौराहा पहुंच साफ-सफाई व्यवस्था को देखा और इसे और बेहतर करने के लिए ईओ नगर पालिका रोहित सिंह को आवश्यक दिशा निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि सफाईकर्मी नियमित रूप से अपने काम को करें, यह सुनिश्चित किया जाए। सरकार की प्राथमिकता है कि जनता को स्वच्छ परिवेश मिले और उसे जल जमाव की समस्या से न जूझना पड़े। इसके लिए शहर की सड़कों और नालों की साफ-सफाई रोजाना हो और पालिका के सक्षम अधिकारी रोज इसका निरीक्षण करें। इसमें किसी भी प्रकार की प्रकार की लापरवाही क्षम्य नही होगी। इस दौरान भाजपा मीडिया प्रभारी अम्बिकेश पाण्डेय, एडवोकेट अमित कुमार दूबे उपस्थित थे। बालाजी मन्दिर पहुचे कृषि मंत्री देवरिया नगर की साफ-सफाई की व्यवस्था का हाल जानने निकले। कृषि मंत्री निरीक्षण के दौरान बालाजी मन्दिर पहुंच दर्शन-पूजन किया, तत्पश्चात मंदिर के महन्त रामानुजाचार्य से मुलाकात कर विभिन्न विषयों पर चर्चा की।

छात्राओं को जागरूक कर नंबर की जानकारी दी 

छात्राओं को जागरूक कर नंबर की जानकारी दी 


छात्राओं को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक कर हेल्पलाइन नंबर की दी जानकारी

गोपीचंद 

बागपत। सोमवार को सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वावधान में  जोहड़ी गांव स्कूल में जाकर लड़कियों को सैनेट्री पैड्स देकर जागरूक किया गया। लड़कियो को महिला हेल्पलाइन नंबर की जानकारी भी दी। इसी के साथ-साथ शालू गुप्ता ने छात्राओं को बताया, कि वे पीरियडस के समय में अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ स्वच्छता का ख्याल भी रखें। यह सब जानकर लड़कियों ने सेनेटरी पैड के इस्तेमाल के लिए संकल्प लिया ओर रूढ़िवादी सोच को बदलने में साथ देने का वादा किया।

वंदना गुप्ता ने बताया, कि हमारा उद्देश्य छात्राओं को उनके स्वास्थ्य के प्रति उनकी सोच बदलने का है। छात्राएं अपने स्वास्थ्य के प्रति कोई भी लापरवाही ना करें। इस मौके पर अध्यक्ष वंदना गुप्ता, उपाध्यक्ष शालू गुप्ता, रेनू गुप्ता, ममता शर्मा मौजूद रहें।

लोनी के केआर हॉस्पिटल में मिली 'अनियमितता'

लोनी के केआर हॉस्पिटल में मिली 'अनियमितता' 

दीपक राणा

गाजियाबाद। लोनी के खन्ना नगर पुलिस चौकी के पास केआर हॉस्पिटल में संयुक्त टीम के द्वारा छापेमारी की गई। छापेमारी के दौरान प्रशासनिक टीम ने अनियमितता देखी। जानकारी के अनुसार सोमवार को केयर हॉस्पिटल में प्रबंधक-संचालक रविंद्र चौधरी की मौजूदगी में स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा तहसीलदार शिव नरेश सिंह के नेतृत्व में अचानक जांच एवं निरीक्षण किया गया। जांच के दौरान हॉस्पिटल मे अल्ट्रासाउंड मशीन मौजूद थी। लेकिन चिकित्सक मौके पर नहीं पाए गए।

योग्य चिकित्सक की अनुपस्थिति में अल्ट्रासाउंड के द्वारा अल्ट्रासाउंड किए गए। खास बात यह है अल्ट्रासाउंड कक्ष के बाहर चिकित्सक के नाम की नेम प्लेट एवं समय नहीं दर्शाया गया है। वहीं, अल्ट्रासाउंड मशीन के दुरुपयोग को ध्यान में रखते हुए लोनी उप जिला अधिकारी के आदेश अनुसार तहसीलदार एवं नोडल अधिकारी डॉ चरण सिंह व उमेश कुमार गुप्ता  के द्वारा अल्ट्रासाउंड मशीन को सील कर दिया गया है।

स्पीकर समेत 3 नेताओं का पार्टी से इस्तीफा, ऐलान 

स्पीकर समेत 3 नेताओं का पार्टी से इस्तीफा, ऐलान 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। केंद्र सरकार में मंत्री रहने के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे गुलाम नबी आजाद के कांग्रेस को छोड़कर जाने के बाद नेताओं के भीतर कांग्रेस से इस्तीफा देकर बाहर जाने की होड लग गई है। कांग्रेस के कई और नेताओं ने अपनी पार्टी को अलविदा कहते हुए हाथ का साथ छोड़ दिया है। कश्मीर के पूर्व डिप्टी स्पीकर समेत कांग्रेस के तीन नेताओं ने गुलाम नबी आजाद के समर्थन में पार्टी से इस्तीफा देने का ऐलान किया है। सोमवार को जम्मू कश्मीर में कांग्रेस के तीन और नेताओं ने पार्टी को अलविदा कहते हुए कांग्रेस का हाथ छोड़ दिया है। पूर्व डिप्टी स्पीकर गुलाम हैदर मलिक समेत कांग्रेस के तीन और नेताओं ने गुलाम नबी आजाद के समर्थन में खुलकर सामने आते हुए कांग्रेस से इस्तीफा देकर बाहर जाने का ऐलान किया है। गुलाम नबी आजाद के करीबी सहयोगी एवं पूर्व मंत्री रहे जीएम सरूरी, विधायक मलिक एवं पूर्व एमएलसी सुभाष गुप्ता ने पार्टी के आलाकमान को अपने अलग-अलग इस्तीफे भेजे हैं।

उधर बताया जा रहा है कि पूर्व डिप्टी सीएम ताराचंद, पूर्व मंत्री अब्दुल मजीद वानी, मनोहर लाल शर्मा और घरूराम तथा पूर्व विधायक बलवान सिंह ने भी राजधानी दिल्ली में गुलाम नबी आजाद से मुलाकात की है और वह मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद गुलाम नबी आजाद के प्रति अपनी वफादारी का ऐलान कर सकते हैं।

मामलों को सूचीबद्ध करने हेतु नया तंत्र विकसित होगा

मामलों को सूचीबद्ध करने हेतु नया तंत्र विकसित होगा

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) उदय उमेश ललित ने सोमवार को कहा कि मामलों को सूचीबद्ध करने के लिए एक नया तंत्र जल्द ही विकसित किया जाएगा। न्यायमूर्ति ललित ने वकीलों से यह भी कहा कि वे अपने मामलों की त्वरित सुनवाई के लिए रजिस्ट्रार के समक्ष मेंशनिंग (उल्लेख) करें, न कि सीजेआई के अदालत कक्ष में। सीजेआई ने कहा कि हमारे पास बृहस्पतिवार तक एक नया तंत्र होगा। तब तक, हम इसे चैंबर में देखेंगे और यदि आवश्यक हुआ तो हम इसे सूचीबद्ध करेंगे। मामले की मेंशनिंग के लिए, हम रजिस्ट्रार के सामने उल्लेख करने की मूल प्रथा पर वापस जाएंगे।

प्रधान न्यायाधीश की यह टिप्पणी उस वक्त आई जब सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ के समक्ष मामलों का उल्लेख करने के तंत्र के बारे में जानना चाहा। सीजेआई की अध्यक्षता वाली पीठ ने जैसे ही आज की कार्यवाही शुरू की, मेहता ने न्यायमूर्ति ललित का स्वागत किया और उन्हें सरकार की ओर से पूर्ण समर्थन मिलने का आश्वासन दिया। वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने भी पूरे बार की ओर से सीजेआई को शुभकामनाएं दीं। शीर्ष अदालत के समक्ष आज 60 जनहित याचिकाओं सहित 900 याचिकाएं सूचीबद्ध की गयी थीं, जिनमें विद्यालयों में हिजाब पहनकर आने की मनाही संबंधी कर्नाटक उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपील भी शामिल हैं। उच्च न्यायालय ने कहा था कि महिलाओं का हिजाब पहनना इस्लाम में धार्मिक परम्परा का एक अनिवार्य हिस्सा नहीं है। न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट के साथ पीठ की अध्यक्षता कर रहे सीजेआई ललित ने 62 याचिकाओं पर सुनवाई की, जिनमें से 10 जनहित याचिकाएं थीं।

न्यायालय के वरिष्ठतम न्यायाधीश उदय उमेश ललित ने शनिवार को भारत के 49वें प्रधान न्यायाधीश के रूप में शपथ ली थी। बतौर सीजेआई, न्यायमूर्ति ललित का कार्यकाल महज 74 दिनों का ही होगा और 65 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर वह आठ नवंबर को सेवानिवृत्त हो जाएंगे। न्यायमूर्ति ललित के बाद दूसरे सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश डी. वाई. चंद्रचूड़ नये सीजेआई बन सकते हैं। न्यायमूर्ति ललित भारत के छठे प्रधान न्यायाधीश होंगे, जिनका कार्यकाल 100 दिनों से कम होगा। बतौर सीजेआई न्यायमूर्ति कमल नारायण सिंह का कार्यकाल सबसे छोटा महज 18 दिनों का था।

उन्होंने 25 नवंबर, 1991 और 12 दिसंबर, 1991 के बीच बतौर सीजेआई अपनी सेवा दी थी। न्यायमूर्ति एस. राजेन्द्र बाबू (दो मई से 31 मई, 2004 तक) 30 दिन, न्यायमूर्ति जे. सी. शाह (17 दिसम्बर, 1970 से 21 जनवरी, 1971 तक) 36 दिन सीजेआई पद पर रहे थे। न्यायमूर्ति जी बी पटनायक का कार्यकाल 41 दिन (आठ नवम्बर से 18 दिसम्बर 2002 तक) और न्यायमूर्ति एल एम शर्मा का कार्यकाल 86 दिन (नवम्बर 1992 से 11 फरवरी 1993 तक) रहा।

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले बुरी तरह गिरा 'रुपया'

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले बुरी तरह गिरा 'रुपया' 

अकांशु उपाध्याय/सुनील श्रीवास्तव 

नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया एक बार फिर से बुरी तरह गिर गया है। शुरुआती कारोबार में 31 पैसे टूटा रुपया अभी तक सबसे निचले स्तर पर फिसल गया है। शुरुआती कारोबार में भारतीय रुपया 80.15 रुपए पर बाजार में कारोबार करता हुआ दिखाई दिया है। सोमवार को भारतीय रुपए में एक बार फिर से बडी गिरावट आ गई है। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले शुरुआती कारोबार में 31 पैसे टूटा रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। शुरुआती कारोबार में भारतीय रूपया 80.15 पर कारोबार करता हुआ दिखाई दिया।

माना जा रहा है कि ग्लोबल मार्केट में अमेरिकी मुद्रा की मजबूत होती स्थिति और कच्चे तेल की कीमतों में लगातार तेजी बने रहने की वजह से रुपए में यह गिरावट दर्ज की गई है। यदि अंतर बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार की बात करें तो उसमें रुपया डॉलर के मुकाबले 80.10 पैसे पर खुला और बाद में इसमें और गिरावट आ गई। जिसके चलते रुपया 80.15 पैसे पर पहुंच गया। जहां पिछले हफ्ते की क्लोजिंग के मुकाबले आज 31 पैसे की कमजोरी दर्ज की गई है। यदि शुक्रवार की बात करें तो पिछले कारोबारी हफ्ते में रुपया डालर के मुकाबले 79.84 पैसे पर बंद हुआ था।

आर्थिक रूप से कमजोर तबकों का ख्याल, अनुरोध  

आर्थिक रूप से कमजोर तबकों का ख्याल, अनुरोध  

अखिलेश पांडेय 

कोलंबो। गंभीर आर्थिक संकट में फंसे श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने ने दौरे पर आई अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) की टीम से कर्ज के बोझ से दबे अपने देश के आर्थिक रूप से कमजोर तबकों का ख्याल रखने का अनुरोध किया है। गुणवर्धने ने श्रीलंका के दौर पर आई मुद्राकोष की टीम से मुलाकात के दौरान यह अनुरोध किया कि आर्थिक रूप से कमजोर समूहों के हितों का ध्यान रखा जाए ताकि वे जरूरी चीजों के लिए दूसरों पर निर्भर न रहें।

विदेशी मुद्रा के अभाव में जरूरी सामान की खरीद भी नहीं कर पाने वाले श्रीलंका को राहत पैकेज देने पर चर्चा के लिए आईएमएफ की टीम इस समय श्रीलंका के दौरे पर है। इसी क्रम में इस टीम के सदस्यों ने प्रधानमंत्री कार्यालय में गुणवर्द्धने से मिलकर चर्चा की। रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने आईएमएफ की टीम को अपने देश की आर्थिक चुनौतियों से अवगत कराने के साथ सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों की जानकारी भी दी। आईएमएफ की इस टीम के प्रमुख पीटर ब्रेयर ने कहा कि उनकी टीम सरकार के अलावा विपक्ष एवं अन्य समूहों के साथ चर्चा करेगी और वाशिंगटन स्थित अपने मुख्यालय को जमानी हालात के बारे में रिपोर्ट भेजेगी।

कांग्रेस के लिए दवा की जरूरत, डॉक्टर कंपाउंडर है

कांग्रेस के लिए दवा की जरूरत, डॉक्टर कंपाउंडर है 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस छोड़ने के बाद गुलाम नबी आजाद ने सोमवार को चुप्पी तोड़ी। उन्होंने मीडिया से बातचीत की। आपका रिमोट कंट्रोल भाजपा के हाथ में है के सवाल पर कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके वरिष्ठ नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद ने कहा कि घर वालों ने घर छोड़ने पर मजबूर किया और जहां घर वालों को लगे कि यह आदमी नहीं चाहिए तो अकलमंदी खुद घर छोड़ने में है…जो शख्स अपनी स्पीच खत्म करने के बाद भरी सदन में उनसे (PM से) गले मिले, तो वे मिले हैं या मैं मिला हूं? पहले वे (जयराम रमेश) अपना DNA चेक करवाएं कि कहां के हैं और किस पार्टी से हैं, वह देखें कि उनका DNA किस-किस पार्टी में रहा है। बाहर के लोगों को कांग्रेस का अता-पता नहीं है। चापलूसी और ट्विट कर जिन्हें पद मिले अगर वे आरोप लगाएं तो हमें दुख होता है।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं कांग्रेस के लिए दुआ ही कर सकता हूं, लेकिन कांग्रेस मेरी दुआ से ठीक नहीं होगी, उसके लिए दवा चाहिए। अभी उसका डॉक्टर कंपाउंडर है। अभी कांग्रेस को स्पेशलिस्ट की जरूरत है। राहुल गांधी पर हमला बोल कर कांग्रेस छोड़ने वाले गुलाम नबी आजाद ने एक बार फिर से तेवर दिखाए हैं। यही नहीं इस बार उन्होंने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी पर ही हमला बोल दिया है।

उन्होंने सोमवार को कहा कि अब तो कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक की अध्यक्षता ही विदेश से हो रही है। यदि ऐसा ही था तो फिर बैठक करके जा सकते थे। कांग्रेस कैसे खड़ी होगी, जब अध्यक्ष के पास ही टाइम नहीं है। जो मेरी टाइमिंग की बात करते हैं, उन लोगों के पास कांग्रेस के लिए टाइम ही कहां है। बता दें कि सोनिया गांधी इलाज के उद्देश्य से विदेश में हैं। उनके साथ ही राहुल गांधी और प्रियंका गांधी भी विदेश गए हैं। गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस को लेकर कहा कि घर गिर रहा है और अब खंभे भी गिर रहे हैं। उसमें दबकर मरने से अच्छा है कि बाहर निकल जाएं। जिन लोगों को सती होना है, वे वहां रहें। राज्यसभा सीटों को लेकर भी गुलाम नबी आजाद ने हमला बोला और कहा कि कुछ लोग अजेंडा सेट करने के लिए उच्च सदन गए हैं।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैंने जब सोनिया गांधी को पार्टी में सुधार के लिए चिट्ठी लिखी थी तो मैं 6 दिनों तक सो नहीं पाया था। मैंने जिस पार्टी को खून देकर खड़ा किया था, उसके लिए ऐसा करना चिंता की बात थी। कांग्रेस के नए नेताओं को लेकर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि आज जो हैं वो तो कहीं की ईंट और कहीं का रोड़ा हैं। वे आज लोग हम जैसे कांग्रेसियों को पर सवाल उठा रहे हैं। इन प्रवक्ताओं को हमारे बारे में भी कुछ मालूम नहीं है। गांधी और नेहरू के इतिहास के बारे में क्या जानेंगे।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि इंदिरा गांधी और संजय गांधी के करीबी होने को लेकर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं 30 साल से सोनिया गांधी की जैसी इज्जत करता था, उतनी ही है। आजाद ने कहा कि हमने एक लंबे अरसे तक राहुल गांधी को सफल नेता बनाने का प्रयास किया, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। 137 सालों के इतिहास में पहली बार कांग्रेस वर्किंग कमेटी की अध्यक्षता विदेश से हो रही है। यदि ऐसा ही था तो फिर बैठक करके जा सकते थे। कांग्रेस कैसे खड़ी होगी, जब अध्यक्ष के पास ही टाइम नहीं है। जो मेरी टाइमिंग की बात करते हैं, उन लोगों के पास कांग्रेस के लिए टाइम ही कहां है।

पीएम मोदी की जमकर तारीफ...
इस मौके पर गुलाम नबी आजाद ने पीएम नरेंद्र मोदी की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि मैं समझता था कि मोदी जी क्रूड आदमी हैं। उन्होंने शादी नहीं की और बच्चे नहीं हैं तो उन्हें किसी की परवाह नहीं होगी। लेकिन उन्होंने इंसानियत दिखाई है। जब गुजरातियों की एक बस पर कश्मीर में हमला हुआ था तो लोगों के चिथड़े उड़ गए थे। उस दौरान मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का फोन आया था और मैं चिल्ला रहा था। भावुक था और फूट-फूटकर रो रहा था। इसी बात पर पीएम नरेंद्र मोदी ने संसद में बात की थी। उनके कहने का यह मतलब नहीं था कि गुलाम नबी आजाद के जाने के बाद उनका खाना कैसे हजम होगा।

'मथुरा जन्मभूमि केस' में वीडियोग्राफी कराने का आदेश 

'मथुरा जन्मभूमि केस' में वीडियोग्राफी कराने का आदेश 

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज/मथुरा। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को बड़ा आदेश दिया। कोर्ट ने मथुरा जन्मभूमि केस में वीडियोग्राफी कराने का आदेश दिया है। ये आदेश जस्टिस पीयूष अग्रवाल की बेंच ने दिया है। कोर्ट ने चार महीने में वीडियोग्राफी कराने का निर्देश दिया है।वीडियोग्राफी कराकर सर्वे रिपोर्ट पेश करने का भी निर्देश दिया गया है। बता दें कि इससे पहले वाराणसी में ज्ञानवापी केस में भी कोर्ट के आदेश के बाद वीडियोग्राफी हुई थी।

एक वरिष्ठ अधिवक्ता को कमिश्नर और दो अधिवक्ता को सहायक कमिश्नर के रूप में नियुक्त किया जाएगा। इस सर्वे कमीशन में वादी और प्रतिवादी के साथ सक्षम अधिकारी शामिल होंगे। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मथुरा जिला न्यायालय को शाही ईदगाह मस्जिद के विवादित परिसर का वैज्ञानिक सर्वेक्षण कराने की मांग में दाखिल प्रार्थना पत्र पर चार महीने में सुनवाई पूरी कर उसे निस्तारित करने का निर्देश दिया है।

कहा गया कि सालभर से अधिक समय बीतने के बावजूद इस प्रार्थना पत्र पर सुनवाई पूरी नहीं हो सकी है। वाद मित्र मनीष यादव ने सुनवाई जल्द पूरी करने की मांग में पिछले दिनों इलाहाबाद हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की। अर्जी में हाईकोर्ट से इस मामले में हस्तक्षेप करने की प्रार्थना की गई थी। अर्जी पर हाईकोर्ट ने अधीनस्थ अदालत से आख्या मांगी थी। सोमवार को हाईकोर्ट ने अर्जी को निस्तारित करते हुए मथुरा जिला न्यायालय को मनीष यादव के प्रार्थना पत्र पर चार महीने में सुनवाई पूरी करते हुए उसे निस्तारित करने का निर्देश दिया है।

सीएम ने विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश किया 

सीएम ने विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सोमवार को दिल्ली विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश किया। आप विधायक आतिशी मार्लेना ने कहा कि बीजेपी किसी तरह से अरविंद केजरीवाल की सरकार गिराना चाहती है। उनकी साजिश दिल्ली में नाकाम रही है। दिल्ली की जनता भी जानना चाहती है कि जो सरकार दिल्ली में है क्या वह स्थिर है क्या वह सरकार बनी हुई है। इसे लेकर विश्वास प्रस्ताव लाया जा रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया है कि बीजेपी ने पिछले 5-7 साल में दूसरी पार्टियों के 277 विधायक खरीदे हैं। केजरीवाल ने कहा, “कई जगहों पर तो इन्होंने (बीजेपी) एक-एक विधायक को ₹50-₹50 करोड़ दिए हैं…लेकिन दिल्ली में ये ₹20-₹20 करोड़ दे रहे थे…वही मान लें तो…277 विधायकों के…₹5,540 करोड़ हो गए…इसलिए पेट्रोल-डीज़ल महंगा हो रहा है।”

दिल्ली सीएम ने कहा कि लोगों ने पूछा कि विश्वास प्रस्ताव की क्या ज़रूरत है, मैंने कहा विश्वास प्रस्ताव से हम दिखाना चाहते हैं कि AAP का एक-एक विधायक और कार्यकर्ता कट्टर ईमानदार हैं। मध्य प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, कर्नाटक में ऑपरेशन लोटस सफल रहा लेकिन दिल्ली में आकर वह टायं-टायं फिस हो गया। इन्होंने (BJP) हमारे विधायक खरीदने की पूरी कोशिश की। विश्वास प्रस्ताव से हम साबित करेंगे कि एक भी विधायक नहीं बिका। वहीं, दिल्ली विधानसभा में सोमवार को विश्वास मत प्रस्ताव पर चर्चा से पहले भाजपा के विधायकों ने जोरदार हंगामा किया। इस दौरान विधायक बेल में आ गए और मनीष सिसोदिया के इस्तीफे की मांग करने लगे। विधायकों के हंगामे को देखते हुए डिप्टी स्पीकर राखी बिरला ने भाजपा विधायकों को पूरे दिन के लिए मार्शल आउट करने का निर्देश दे दिया। प्रस्ताव पेश करते हुए केजरीवाल ने कहा कि विपक्ष के नेता ड्रामेबाजी में विश्वास करते हैं। विश्वास मत पर चर्चा के बाद वोटिंग भी होगी।

शुक्रवार 26 अगस्त को दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र में भी जमकर हंगामा हुआ था। सेशन के दौरान सदन की कार्रवाई रिकॉर्ड करने के कारण BJP के विधायकों को मार्शल के तहत बाहर कर दिया गया था। हालांकि दिल्ली विधानसभा में आम आदमी पार्टी के 62 विधायक हैं, जबकि भाजपा के केवल आठ। इसके चलते विश्वास प्रस्ताव आसानी से पारित हो जाने की संभावना है।

भाजपा ने दिल्ली सरकार पर 'घोटाले' का आरोप लगाया

भाजपा ने दिल्ली सरकार पर 'घोटाले' का आरोप लगाया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी की सरकार पर बीजेपी ने सोमवार को जमकर निशाना साधा हैं। भाजपा ने शिक्षा के क्षेत्र में दिल्ली सरकार पर कथित घोटाले का आरोप लगाया है। दिल्ली स्थित बीजेपी हेडक्वार्टर में एक प्रेस वार्ता के दौरान बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी सरकार, मनीष सिसोदिया (दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री) को विश्व का सबसे बेहतरीन शिक्षा मंत्री बताती है लेकिन ये सरकार बच्चों के भविष्य के साथ खेल रही है। बीजेपी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल सरकार ने टॉयलेट को क्लासरूम बता दिया। भाजपा ने आरोप लगाया कि एक अनुमान के मुताबिक 326 करोड़ से लागत बढ़ाई गयी।  टेंडर की कीमत से 53% ज्यादा था।  6133 क्लास रूम की जगह 4027 क्लास रूम बनें। क्या ये काला धन केजरीवाल की तिजोरी में आया?

गौरव भाटिया ने कहा- जब बार-बार कठिन प्रश्न बीजेपी पूछती है, तो दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल कहते थे कि विश्व के सबसे बढ़िया शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया हैं। उन्होंने कहा- हम लोग आपके समक्ष इससे पहले बड़ी प्रमुखता से जो अरविंद केजरीवाल की ‘पाप सरकार’ है उसका आबकारी घोटाला सामने रखते आए हैं। इससे पहले दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन जिनको कट्टर ईमानदार का सर्टिफिकेट केजरीवाल ने दिया था, वो तीन महीने से जेल में हैं, अभी तक मंत्री पद से हटाए नहीं गए हैं।

भाजपा ने कहा- 500  स्कूल बनवाने का वादा किया था वह स्कूल तो नहीं बने। बीजेपी ने सीवीसी की रिपोर्ट के हवाले से आरोप लगाया कि स्कूलों में 2400 कमरों की जरूरत थी लेकिन उसको बढ़ा कर 7180 किया गया। इसके साथ ही लागत को बढ़ाया गया जिससे की मुनाफाखोरी की जा सके। बीजेपी ने प्रेस वार्ता में सवाल किया कि  ढाई साल पहले ये रिपोर्ट सीवीसी ने भेजी थी पर उस पर क्या संज्ञान लिया, लिया तो क्या कारवाई की?

लड़कियों-लड़कों का साथ बैठना ‘संस्कृति के विरुद्ध’ 

लड़कियों-लड़कों का साथ बैठना ‘संस्कृति के विरुद्ध’ 

इकबाल अंसारी 

कोच्चि। केरल में संख्या की दृष्टि से मजबूत हिंदू एझावा समुदाय के नेता वेल्लापल्ली नतेसन ने कहा है कि लड़कियों और लड़कों का कक्षाओं में एक साथ बैठना ‘भारतीय संस्कृति के खिलाफ’ है और यह ‘अराजकता’ पैदा करता है। लड़कियों और लड़कों दोनों के लिए सह-शिक्षा वाले स्कूलों में दोनों लिंग के विद्यार्थियों को एक साथ पढ़ाया जाता है। इन स्कूलों में समान यूनिफॉर्म की केरल में वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) नीत सरकार की लिंग तटस्थ नीति पर रविवार को यहां मीडियाकर्मियों के सवालों का जवाब देते हुए नतेसन ने ये बातें कहीं।

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के बेहद करीबी माने जाने वाले नतेसन ने कहा, ‘‘हम श्री नारायण धर्म परिपालन योगम (एसएनडीपी), कक्षाओं में लड़कियों और लड़कों के एक साथ बैठने के पक्ष में नहीं हैं. हमारी अपनी संस्कृति है। हम अमेरिका या इंग्लैंड में नहीं रह रहे हैं।’’ एसएनडीपी महासचिव ने कहा, ‘‘हमारी संस्कृति लड़कों और लड़कियों द्वारा एक दूसरे को गले लगाने और साथ बैठने को स्वीकार नहीं करती है। आप ईसाई और मुस्लिम शैक्षणिक संस्थानों में ऐसा होते नहीं देखते हैं।’’ हालांकि, उन्होंने कहा कि नायर सर्विस सोसाइटी (एनएसएस) और एसएनडीपी द्वारा प्रबंधित शिक्षण संस्थानों में ऐसी चीजें हो रही हैं। एनएसएस और एसएनडीपी राज्य में दो प्रमुख हिंदू जाति संगठन हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह का व्यवहार ‘‘अराजकता पैदा करता है’’ और आप इसे हिंदू संगठनों द्वारा प्रबंधित कॉलेजों में देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह एक कारण है कि ऐसे संस्थानों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से अच्छे ग्रेड या वित्त पोषण नहीं मिलता है।

उन्होंने कहा कि 18 साल से कम उम्र के या कॉलेजों में जो युवा छात्र-छात्राएं हैं उन्हें साथ नहीं बैठना चाहिए या एक दूसरे को गले नहीं लगाना चाहिए क्योंकि वे अब भी पढ़ रहे हैं। नतेसन ने कहा कि जब बच्चे बड़े हो जाते हैं और परिपक्व हो जाते हैं, तो वे जो चाहें कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों का एक साथ बैठना और एक-दूसरे को गले लगाना भारत में ठीक नहीं है।नतेसन ने यह भी कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एलडीएफ सरकार खुद को एक धर्मनिरपेक्ष सरकार कहने के बावजूद धार्मिक दबाव के आगे झुक रही है और अपने कुछ फैसलों पर देर तक टिकती नहीं है। उन्होंने कहा कि इससे समाज में गलत संदेश जाता है। वह हाल में राज्य सरकार द्वारा की गई उस घोषणा का जिक्र कर रहे थे जिसमें कहा गया था कि सरकार यह तय नहीं करने जा रही है कि बच्चों को कौन सा यूनिफॉर्म पहनना चाहिए या उन्हें मिश्रित स्कूलों में जाना चाहिए या नहीं। राज्य सरकार को उसकी लिंग तटस्थ शिक्षा नीति को लेकर विभिन्न मुस्लिम संगठनों की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

1,220.76 अंक गिरकर 57,613.11 पर सेंसेक्स 

1,220.76 अंक गिरकर 57,613.11 पर सेंसेक्स 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय शेयर बाजार में सोमवार को इतनी भारी गिरावट के साथ कारोबार की शुरुआत हुई है। ग्लोबल मार्केट में आई भारी गिरावट से घरेलू शेयर बाजार में कोहराम मच गया है। सोमवार को सेंसेक्‍स और निफ्टी भारी गिरावट पर खुले। इस दौरान प्रमुख शेयर सूचकांक लगभग दो प्रतिशत तक टूट गए। बीएसई सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 1,220.76 अंक गिरकर 57,613.11 पर आ गया। इसके सभी 30 शेयर लाल निशान में थे। एनएसई निफ्टी 355 अंक गिरकर 17,203.90 पर था। दोनों सूचकांक दो फीसदी से अधिक गिरे।

इस दौरान टेक महिंद्रा, इंफोसिस, एचसीएल टेक्नोलॉजीज, विप्रो, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, टाटा स्टील और पावर ग्रिड गिरने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे। अन्य एशियाई बाजारों में सोल, तोक्यो, शंघाई और हांगकांग भी लाल निशान में कारोबार कर रहे थे। अमेरिकी शेयर बाजार शुक्रवार को गिरावट के साथ बंद हुए थे। शुक्रवार को सेंसेक्स 59.15 अंक या 0.10 फीसदी चढ़कर 58,833.87 पर, जबकि निफ्टी 36.45 अंक या 0.21 प्रतिशत बढ़कर 17,558.90 पर बंद हुआ था। इसबीच ब्रेंट क्रूड 0.86 फीसदी चढ़कर 101.9 प्रति बैरल के भाव पर पहुंच गया। शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने शुक्रवार को 51.12 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।

कैसी हुई बाजार की ओपनिंग...
बीएसई का 30 शेयरों वाला इंडेक्स सेंसेक्स 1,466 अंक यानी 2.49 फीसदी की भारीभरकम गिरावट के साथ 57,367 पर खुला है। एनएसई का 50 शेयरों वाला इंडेक्स निफ्टी 370 अंक यानी 2.11 फीसदी की तेज गिरावट के साथ 17,188.65 पर खुला है और इस तरह 17200 के भी नीचे फिसल गया है।

सेंसेक्स और निफ्टी का हाल...
निफ्टी के 50 में से 50 शेयर गिरावट के लाल निशान के साथ कारोबार कर रहे हैं। सेंसेक्स के 30 में 30 शेयर गिरावट दिखा रहे हैं और बीएसई के सभी सेक्टर भी लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं। बैंक निफ्टी 823 अंकों यानी 2।13 फीसदी टूटकर 38154 के लेवल पर कारोबार कर रहा है। निफ्टी आईटी इंडेक्स में तो 4।20 फीसदी की जबरदस्त गिरावट देखी जा रही है।

मनी लॉन्ड्रिंग, चित्रा की जमानत याचिका खारिज की

मनी लॉन्ड्रिंग, चित्रा की जमानत याचिका खारिज की 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामलें में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की पूर्व प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी चित्रा रामकृष्ण की जमानत याचिका सोमवार को खारिज कर दी। यह मामला अवैध तरीके से फोन टैप करने तथा एनएसई के कर्मचारियों की जासूसी कराए जाने से जुड़ा हुआ है। विशेष न्यायाधीश सुनैना शर्मा ने जमानत देने से इनकार किया और कहा कि इस चरण पर जमानत नहीं दी जा सकती। मामले की सुनवाई के दौरान प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने जमानत याचिका का यह कहते हुए विरोध किया था कि मामले की जांच चल रही है और वह (चित्रा) ‘‘प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष’’ रूप से अपराध में लिप्त हैं।

ईडी ने कहा, ‘‘एनएसई के शीर्ष अधिकारियों ने पीरियॉडिक स्टडी ऑफ साइबर वल्नरबिलिटीज के आड में आईएसईसी सर्विसेज प्राइवेट के पक्ष में समझौते अथवा कार्यादेश जारी किए और कानून के तहत अनिवार्य संबद्ध प्राधिकार से अनुमति लिए बगैर एक अवैध मशीन लगाकर अपने कर्मचारियों के फोन कॉल बीच में सुने….. ।’’ ईडी ने कहा कि एनएसई के कर्मचारियों की कोई मंजूरी नहीं ली गई।

पत्रकार की जमानत याचिका पर सरकार से जवाब मांगा 

पत्रकार की जमानत याचिका पर सरकार से जवाब मांगा 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने केरल के पत्रकार सिद्दिकी कप्पन की जमानत याचिका पर उत्तर प्रदेश सरकार से सोमवार को जवाब देने को कहा। कप्पन को अक्टूबर 2020 में हाथरस में कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद वहां जाते वक्त रास्ते में गिरफ्तार कर लिया गया था। प्रधान न्यायाधीश उदय उमेश ललित एवं न्यायमूर्ति एस रवीन्द्र भट्ट की पीठ ने याचिका पर अंतिम सुनवाई के लिए नौ सितंबर की तारीख निर्धारित की है।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने इस माह की शुरुआत में कप्पन की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। उनके खिलाफ हाथरस मामले में गैर कानूनी गतिविधि (निषेध) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) से कथित तौर पर संबंध रखने वाले चार लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और यूएपीए के विभिन्न प्रावधानों के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी।पीएफआई पर नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ देश भर में हुए प्रदर्शनों को धन देने के आरोप हैं। पुलिस ने पूर्व में दावा किया था कि आरोपी हाथरस में कानून व्यवस्था को बाधित करने की कोशिश कर रहे थे।

मैं चुनौती देती हूं, मुझे गिरफ्तार करें: बनर्जी 

मैं चुनौती देती हूं, मुझे गिरफ्तार करें: बनर्जी 

मिनाक्षी लोढी 

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने सोमवार को एक रैली में कहा कि, ‘मैं उन्हें चुनौती देती हूं कि मुझे गिरफ्तार करें। मैं जेल से लड़ूंगी और जीतूंगी’।उन्होंने कहा कि “भारतीय जनता पार्टी (BJP) जवाब दे कि निर्वाचित सरकारों को गिराने के लिए उसके पास पैसा कहां से आ रहा है। बीजेपी चुनी हुई राज्य सरकारों को गिराने के लिए काले धन और केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है।” ममता बनर्जी ने आगे कहा कि, “बीजेपी के नेता बेटी बचाओ की बात करते हैं, लेकिन उनकी सरकार ने बिलकिस बानो मामले में शामिल लोगों को छोड़ दिया। वे टीएमसी और हमें चोर कह रहे हैं। घोटाला हुआ है और वामपंथियों ने किया है। नौकरियों के बदले पैसे लेने की उनकी संस्कृति रही है।”

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि, “ये मामला विचाराधीन है। अदालत में ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे साबित हो कि हम भ्रष्ट हैं। फिर भी मीडिया ट्रायल चल रहा है और वे हमें चोर कह रहे हैं। ये सब साजिश है। मैं उन्हें चुनौती देती हूं कि मुझे गिरफ्तार करें। मैं जेल से लड़ूंगी और जीतूंगी। आप मुझे वश में नहीं कर सकते। अगर मैं सत्ता में नहीं होती और कुर्सी पर नहीं होती तो मैं महिलाओं से उनकी जुबान काटने के लिए कहती।” उन्होंने कहा कि, “उन्होंने हमारा पैसा रोक दिया है। उन्होंने लोगों का पैसा रोका है। बीजेपी उनके पैसे का इस्तेमाल कर उन्हें ही बाहर करने में लगी है। उन्होंने हमारे पीछे केंद्रीय एजेंसियों को लगा दिया है। एजेंसियों ने उद्योगपतियों के घरों पर छापेमारी की है। पैसे की उगाही कर उन्हें देश के बाहर पार्क करने में लगे हुए हैं। वे कह रहे हैं कि ममता बनर्जी परिवार ने पैसा और संपत्ति बनाई है। मैं उनसे कहती हूं कि इस मामले को भारत के बाहर अंतरराष्ट्रीय अदालत में आजमाएं। वे कह रहे हैं मेरा परिवार, मैं और मेरी मां हैं।”

ममता बनर्जी ने कहा कि, “महाराष्ट्र सरकार को तोड़ने के लिए आपने कितना पैसा खर्च किया है। ये पैसा कहां से आया? आपने झारखंड के विधायकों को पैसे की पेशकश की है। आप झारखंड सरकार को तोड़ना चाहते थे। मैंने इसे रोक दिया है। अरविंद केजरीवाल का कहना है कि उनके विधायकों को पैसे की पेशकश की गई है। बंगाल में उन्होंने हमारे पीछे एजेंसियों को लगा दिया है।” मुख्यमंत्री ने कहा कि, “वेदांता गांव में क्या हो रहा है? क्या वह सिर्फ मंथन है या किसी सरकार को तोड़ने वाला मंथन है? क्या आप केवल राजनीति पर चर्चा कर रहे हैं या और भी बहुत कुछ हो रहा है।” इसके साथ ही ममता बनर्जी ने बिलकिस बानो के समर्थन में कोलकाता में दो दिवसीय धरने का ऐलान किया है। धरने का नेतृत्व टीएमसी की दो महिला मंत्री करेंगी। उन्होंने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट से हस्तक्षेप की मांग की और कहा कि दोषियों के वापस जेल भेजा जाए।

बेरोजगारी और महंगाई, मोदी सरकार के दो भाई

बेरोजगारी और महंगाई, मोदी सरकार के दो भाई 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सोमवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए दावा किया कि जनता महंगाई और बेरोजगारी से परेशान हैं, लेकिन सरकार पूरी तरह मौन है। पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने यह दावा भी किया कि बेरोजगारी और महंगाई, नरेंद्र मोदी सरकार के दो भाई हैं। कांग्रेस ने चार सितंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रस्तावित ‘महंगाई पर हल्ला बोल’ रैली से पहले, सोमवार को देश के 22 शहरों में संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया।

वल्लभ ने यहां संवाददाताओं से कहा, मोदी सरकार के दो भाई बेरोजगारी और महंगाई हैं। लोग बेतहाशा महंगाई से परेशान है। 20 से 24 वर्ष आयुवर्ग के 42 प्रतिशत लोग बेरोजगार हैं। मोदी सरकार मौन है। उनका कहना है, सीएमआईई (सेंटर फॉर मानिटरिंग ऑफ इंडियन इकॉनोमी) के आंकड़ों के अनुसार, बेरोजगारी दर 8 प्रतिशत बनी हुई है, जबकि ग्रामीण क्षेत्र में तो बेरोजगारी दर शहरी क्षेत्रों से भी अधिक है। मगर मोदी सरकार को इन सबसे कहां फर्क पड़ता है ? मोदी सरकार ‘बांटो और राज करो’ तथा ईडी और सीबीआई के दुरुपयोग में लगी हुई है। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने ‘‘महंगाई पर हल्ला बोल रैली” का पोस्टर और मिस कॉल नंबर 9625777907 भी जारी किया।

गणपति उत्सव के लिए 316.40 करोड़ रुपये का बीमा 

गणपति उत्सव के लिए 316.40 करोड़ रुपये का बीमा 

कविता गर्ग 

मुंबई। मुंबई के सर्वाधिक संपन्न गणेश मंडलों में से एक जीएसबी सेवा मंडल ने आगामी गणपति उत्सव के लिए 316.40 करोड़ रुपये का बीमा करवाया है। मुंबई के किंग्स सर्कल में स्थित जीएसबी सेवा मंडल के अध्यक्ष विजय कामथ ने बताया कि बुधवार से शुरू होने वाले 10 दिवसीय उत्सव के लिए सभी सार्वजनिक देनदारियों और मंडल में आने वाले प्रत्येक भक्त को बीमा के तहत कवर किया गया है। मंडल के एक प्रतिनिधि ने दावा किया कि यह किसी मंडल द्वारा लिया गया सबसे अधिक रकम का बीमा है।

अधिकारी के अनुसार, 316.4 करोड़ रुपये के बीमा में सोने, चांदी तथा अन्य मूल्यवान वस्तुओं के लिए 31.97 करोड़ रुपये का कवर और पंडाल, स्वयंसेवकों, पुजारियों, रसोइयों, जूतों के ‘स्टाल’ पर काम करने वाले कर्मचारियों, पार्किंग के कर्मचारियों तथा सुरक्षा कर्मियों का 263 करोड़ रुपये का व्यक्तिगत बीमा कवर शामिल है। जीएसबी सेवा मंडल इस साल अपना 68वां गणपति उत्सव मना रहा है।

अंबानी ने कंपनी की 45वीं बैठक को संबोधित किया

अंबानी ने कंपनी की 45वीं बैठक को संबोधित किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने सोमवार को अपनी सालाना आम बैठक आयोजित की है। कंपनी की 45वीं सलाना आम बैठक को मुकेश अंबानी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया। इसमें जियो 5G को पेश किया गया। आरआईएल के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने सभी शेयरधारकों, सहयोगियों, अधिकारियों और पार्टनर्स का स्वागत किया और कहा कि ये मौका बहुत खास है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले साल ये एजीएम फिजिकल फॉर्म में हो सकेगी।

मुकेश अंबानी ने (Reliance AGM 2022) कहा कि रिलायंस जियो के 5जी स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल फिक्स्ड ब्रॉडबैंड सर्विस के लिए किया जाएगा। टेलीकॉम इंडस्ट्री को रिलायंस जियो नई ऊंचाई पर ले जाएगा। जियो के 5जी के बाद देश में जियो 5जी सबसे बड़ा नेटवर्क होगा। इस दीवाली यानी नवंबर 2022 तक दिल्ली-मुंबई में 5जी सेवा दे दी जाएगी। इस साल के दिसंबर तक कंपनी हर शहर में Jio 5G लॉन्च कर देगी।

उन्होंने कहा कि Broadband स्पीड होगी पहले से फ़ास्ट होगी। Jio 5G फिक्स्ड ब्रॉडबैंड लाइन का ऐलान। कंपनी ने कहा है कि कम कीमत पर 5G ब्रॉडबैंड सर्विस दी जाएगी। इसके साथ ही कनेक्टेड सल्यूशन भी दिया जाएगा। कंपनी ने कहा है कि इसके जरिए 100 मिलियन घरों को कनेक्ट किया जा सकेगा। उन्होंने आगे कहा कि ये दुनिया का सबसे एडवांस 5G टेक्नोलॉजी होगी। ये SA टेक्नोलॉजी पर बेस्ड होगी। Jio ने कहा है कि कंपनी लेटेस्ट वर्जन 5G सर्विस ले कर आएगी जो स्टैंडअलोन होगा। अंबानी ने कहा है कि दूसरी कंपनियाँ पुराने सल्यूशन को यूज करके 5G लॉन्च करेंगी, जबकि Jio स्टैंडअलोन 5G सर्विस का इस्तेमाल करेगा। कंपनी अपनी वायर और वायरलेस सर्विस यूज करके पूरे देश में 5G डिप्लॉय करेगी। कंपनी प्राइवेट इंटरप्राइजेज के लिए यूनिक सर्विस भी देगी।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-325, (वर्ष-05)

2. मंगलवार, अगस्त 30, 2022

3. शक-1944, भाद्रपद, शुक्ल-पक्ष, तिथि-तीज, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 05:51, सूर्यास्त: 06:56। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 29 डी.सै., अधिकतम-36+ डी.सै.। उत्तरभारत में बरसात की संभावना। 

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक कासहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27,प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

 (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...