शुक्रवार, 11 अक्तूबर 2019

घर में पढी नवाज,कर्फ्यू में ढील से शांति रही

राजस्थान के मालपुरा में कफ्र्यू में ढील के दौरान शांति रही। 
लेकिन जुमे की नजाम घरों में ही पढऩी पड़ी। कफ्र्यू नहीं लगता तो हालात बिगड़ते। 

टोंक। राजस्थान के टोंक जिले के मालपुरा कस्बे में कफ्र्यू में दो घंटे की ढील के दौरान शांति रही। 8 अक्टूबर को दशहरे के दिन राम बारात पर पथराव और निर्धारित समय पर रावण दहन नहीं होने के बाद उपजे हालातों को देखते हुए 9 अक्टूबर की तड़के से ही कफ्र्यू लागू कर दिया था। टोंक के जिला कलेक्टर केके शर्मा ने बताया कि 11 अक्टूबर को प्रात: साढ़े आठ से साढ़े दस बजे तक कफ्र्यू में छूट दी गई। लोगों ने दैनिक उपयोग की वस्तुएं खरीदी। दो घंटे की छूट में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। 12 अक्टूबर को कफ्र्यू में छूट की अवधि को और बढ़ाया जा सकता है। जिला प्रशासन हिन्दू और मुस्लिम प्रतिनिधियों से लगातार सम्पर्क बनाए हुए है। 
घरों में ही पढ़ी जुमे की नमाज:
चूंकि कफ्र्यू में छूट की अवधि प्रात: साढ़े  दस बजे ही खत्म हो गई थी, इसलिए मालपुरा के मुस्लिम समुदाय के लोगों ने शुक्रवार को जुमे की नमाज अपने घरों में पढ़ी। नमाज के लिए प्रशासन की ओर से कोई छूट नहीं दी गई। मालपुरा में गत दो दिनों से दैनिक समाचार पत्रों का वितरण भी नहीं हो रहा है। 11 अक्टूबर को ढील के दौरान हॉकरों ने अखबार भी वितरित किए। कफ्र्यू की सख्ती की वजह से दो दिनों तक बच्चों को दूध भी नसीब नहीं हुआ। प्रशासन ने इस बात का ख्याल रखा कि ढील के दौरान लोगों को खाने पीने की सामग्री मांग के अनुरूप मिले। 
...नहीं तो हालात बिगड़ते:
प्रशासन के सूत्रों का मानना है कि 9 अक्टूबर को तड़के यदि कफ्र्यू नहीं लगाया जाता तो मालपुरा के हालात बिगड़ते। असल में राम बारात पर पथराव के बाद रावण दहन का कार्यक्रम भी नहीं हो सका था। प्रशासन चाहता था कि रात को ही रावण दहन हो, इसके लिए विधायक कन्हैयालाल एवं अन्य जनप्रतिनिधियों से सहमति भी लगी गई, लेकिन कुछ लोग अपने वायदे से मुकर गए। हालांकि उपखंड के एक वरिष्ठ अधिकारी को हटाने एवं अन्य मांगों पर सहमति भी हो गई थी। कुछ लोग चाते थे कि 9 अक्टूबर को दिन में रावण दहन हो। ऐसे लोगों का तर्क रहा कि यदि  हिन्दू समुदाय अपने धार्मिक कार्यक्रम दिन के उजाले में नहीं कर सकता तो धार्मिक स्वतंत्रता के क्या मायने हैं? प्रशासन को हालातों का अंदाजा था, इसलिए हर स्थिति में रात को ही रावण दहन की योजना बनाई गई। यदि दिन में रावण दहन के कारण हजारों लोग एकत्रित होते तो विवाद हो सकता था। यही वजह रही कि नगर पालिका के कर्मचारियों और आयोजन समिति के कुछ  लोगों की मदद से आधी रात को ही रावण दहन करवा कर 9 अक्टूबर की तड़के मालपुरा में कफ्र्यू लागू कर दिया गया। यानि कफ्र्यू लगने की सूचना लोगों को सुबह उठने पर लगी। यहां यह उल्लेखनीय है कि टोंक के मौजूदा कलेक्टर केके शर्मा जब अजमेर के अतिरिक्त संभागीय आयुक्त थे, तब भी टोंक में कफ्र्यू लगाने पर ड्यूटी देने आए थे। तब शर्मा को टोंक के हालातों को समझने का अवसर मिला। तब विवाद होने पर काफी नुकसान हुआ था, लेकिन इस बार पुराने अनुभव की वजह से प्रशासन हिंसा रोकने में सफल रहा। प्रशासन ने किसी भी उपद्रवी को वारदात करने का अवसर ही नहीं दिया। 
एस.पी.मित्तल


न खाता न बही,भाजपा जो कहे सो सही

भाजपा में न खाता, न बही, संगठन कहे जो सही। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के संदर्भ में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया की यह टिप्पणी बहुत मायने रखती है। यानि अब भाजपा की राजनीति में राजे अध्याय खत्म। वैसे भी कांग्रेस की मेहरबानी से सरकारी बंगले में बैठीं हैं। 

जयपुर। राजस्थान प्रदेश भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष सतीश पूनिया ने जयपुर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। हालांकि यह कॉन्फ्रेंस प्रदेश में फसलों की खराबी के संबंध में थी, लेकिन पत्रकारों ने राजनीतिक सवाल भी पूछे। एक पत्रकार ने जानना चाहा कि अब पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की क्या राजनीतिक भूमिका रहेगी? क्या अब भाजपा युवाओं को कमान दी जाएगी? यह सवाल इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि पूनिया के पद ग्रहण में 8 अक्टूबर को भी राजे शामिल नहीं हुई थीं तथा पूनिया की नियुक्ति राष्ट्रीय नेतृत्व ने अपने स्तर पर की। गत लोकसभा चुनाव में भी वसुंधरा राजे की प्रभावी भूमिका नहीं थी। राजे के बगैर ही भाजपा ने प्रदेश की सभी 24 सीटों पर जीत हासिल की। सतीश पूनिया भी मंजे हुए राजनेता हैं, इसलिए उन्होंने जो जवाब दिया, उसका अर्थ अब निकाला जा रहा है। पूनिया ने कहा- भाजपा में न खाता, न बही, संगठन कहे जो सही। पूनिया ने कहा कि संगठन पहले वसुंधरा राजे, अरुण चतुर्वेदी और अब मुझे प्रदेशाध्यक्ष बनाया है। कौन प्रदेशाध्यक्ष होगा, यह संगठन तय करता है। कार्यकर्ता की भूमिका भी संगठन ही निर्धारित करता है। पूनिया की इस टिप्पणी से प्रतीत होता है कि भाजपा की राजनीति में वसुंधरा राजे का अध्याय समाप्त हो गया है। 10 माह पहले विधानसभा चुनाव में परिणाम से पहले जिन वसुंधरा राजे के बगैर भाजपा में पत्ता भी नहीं हिलता था, उन्हीं वसुंधरा राजे के बगैर 8 अक्टूबर को सतीश पूनिया ने प्रदेशाध्यक्ष का पद संभाल लिया। राजे ने पूनिया को भेजे पत्र में कहा कि वे धौलपुर में राज निवास में दशहरे के धार्मिक कार्यक्रमों में व्यस्त हैं, इसलिए नहीं आ पा रही हंू। जबकि विधानसभा चुनाव के परिणाम से पहले वसुंधरा राजे के बगैर पद भार संभालने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता था। अब संबठन ने ही तय कर लिया है कि राजे के बगैर ही आगे बढ़ा जाएगा। वसुंधरा के आने या नहीं आने से कोई फर्क पडऩे वाला नहीं है। सब जानते हैं कि विधनसभा चुनाव में मिली हार के बाद वसुंधरा राजे को भाजपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बना दिया गया था, लेकिन दस माह में राजे ने उपाध्यक्ष के तौर भाजपा का कोई कार्यक्रम नहीं किया। 8 अक्टूबर को पूनिया को जो बधाई संदेश भेजा, उस पत्र में भी भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का उल्लेख नहीं है। यानि वसुंधरा राजे स्वयं को भाजपा संगठन से ऊपर समझती हैं। जब अपने लेटर हैड पर राजे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का भी उल्लेख नहीं कर रही हैं तो फिर अमितशाह के नेतृत्व वाले भाजपा संगठन में राजे को अपनी हैसियत का अंदाजा लगा लेना चाहिए। भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व भी जानता है कि मुख्यमंत्री के पद पर रहते हुए वसुंधरा राजे प्रदेशाध्यक्ष के पद को लेकर कितनी जिद की थी। 
कांग्रेस की मेहरबानी पर निर्भर:
वैसे भी इन दिनों वसुंधरा राजे कांग्रेस की मेहरबानी पर निर्भर हैं। राजे को पूर्व मुख्यमंत्री की हैसियत से जयपुर के सिविल लाइन में 13 नम्बर का जो बंगला अलॉट हुआ है उसे खाली करने के आदेश हाईकोर्ट ने दिए हैं। कोर्ट का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री की हैसियत से कोई सरकारी सुविधा नहीं ली जा सकती है। लेकिन हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी राजे ने सरकारी बंगला खाली नहीं किया है, क्योंकि कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अब वसुंधरा राजे पर मेहरबान हैं। हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीएम गहलोत ने कहा कि वसुंधरा राजे भाजपा की वरिष्ठ विधायक हैं, इस नाते 13 नम्बर बंगले में उनकी मौजूदगी को बनाए रखा जाएगा। यानि हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी कांग्रेस सरकार राजे से बंगला खाली नहीं करवाएगी। यह वही बंगला है जिस पर मुख्यमंत्री रहते हुए पूरे पांच वर्ष राजे ने अवैध कब्जा बनाए रखा। जयपुर में सिविल लाइन में सीएम के लिए बंगला संख्या 8 निर्धारित है। लेकिन राजे इस बंगले को कभी अपना निवास नहीं माना। इस बंगले का उपयोग सीएम दफ्तर के तौर पर ही किया। सीएम के पद पर रहते हुए बंगला संख्या 13 को ऐसे तैयार करवाया, जैसे वसुंधरा राजे हमेशा इसी बंगले में रहेंगी। चूंकि राजे सीएम गहलोत की मेहरबानी से सरकारी बंगले में रह रही हैं, इसलिए हाल में राजे ने सीएम के पुत्र वैभव गहलोत को राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष बनवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। राजे के समर्थक भाजपा नेता अमीन पठान ने वैभव गहलोत का खुला समर्थन किया। अब अमीन पठान वैभव गहलोत की कार्यकारिणी में उपाध्यक्ष हैं। राजे जब सीएम थीं, तब पठान को राजस्थान हज कमेटी का अध्यक्ष बनाया और अजमेर स्थित ख्वाजा साहब की दरगाह कमेटी का अध्यक्ष भी बनवा दिया। पठान आज भी दरगाह कमेटी के अध्यक्ष हैं। यानि पठान के दोनों हाथ में लड्डू हैं। भाजपा नेता होने के नाते दरगाह कमेटी के अध्यक्ष है और उधर कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री के बेटे की अध्यक्षता वाले क्रिकेट एसोसिएशन के उपाध्यक्ष भी हैं। भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व दोहरा चरित्र दिखाने वाले प्रदेश के नेताओं पर भी नजर बनाए हुए हैं। बदले हुए हालातों में पठान के खिलाफ दरगाह कमेटी के सदस्यों में बगावत के आसार हैं। 
एस.पी.मित्तल


चीन और भारत की प्रतिबद्धता

कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान को बेवकूफ बनाकर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत पहुंचे। डोनाल्ड ट्रंप की तरह नरेन्द्र मोदी के साथ दिखा रहे हैं दोस्ताना संबंध। 

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत पहुंच गए हैं। जिनपिंग की अधिकारिक कार्यक्रम देश की राजधानी दिल्ली में रखने के बजाए तमिलनाडू के महाबलीपुरम में रखा गया है। जिनपिंग 11 अक्टूबर को दोहपर चेन्नई हवाई अड्डे पर उतरे और फिर होटल में थोड़ी देर विश्राम करने के बाद भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने के लिए महाबलीपुरम पहुंचे। भारत आने से पहले जिनपिंग ने चीन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद चीन के राजदूत ने कहा कि चीन सरकार भारत के कश्मीर में हो रही गतिविधियों पर नजर बनाए हुए हैं। चीन के राजदूत ने जिस अंदाज में बयान दिया उससे एक बार तो ऐसा लगा कि चीन अब पाकिस्तान के साथ खड़ा है। लेकिन कूटनीति को समझने वाले बताते हैं कि कश्मीर के मुद्दे पर चीन ने भी वो ही रणनीति अपनाई है जो अमरीका ने अपनाई थी। पीएम मोदी के अमरीका पहुंचने से पहले इमरान खान ने अमरीका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की थी, तब ट्रंप ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दोहराया था कि कश्मीर के मुद्दे पर अमरीका भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करने को तैयार है। सब जानते हैं कि इमरान खान के साथ दिए गए इस बयान के बाद जब नरेन्द्र मोदी अमरीका पहुंचे तो इन्हीं डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और उन्होंने इस्लामिक आतंकवाद का मुद्दा उठा कर पाकिस्तान को ही कठघरे में खड़ा कर दिया। चीन के राजदूत ने भले ही कश्मीर पर प्रतिकूल टिप्पणी की हो, लेकिन चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत दौरे में नरेन्द्र मोदी के साथ दोस्ताना संबंधों का प्रदर्शन कर रहे हैं। हो सकता है कि दो दिवसीय यात्रा में मुस्लिम आतंकवाद का मुद्दा उठा कर चीन भी पाकिस्तान को जोरदार झटका दे। असल में  जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। दो माह की अवधि में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कई बार भारत पर परमाणु हमला करने की धमकी दे चुके हैं। पाकिस्तान कोई गलत कदम न उठाए इसके लिए अमरीका और चीन पाकिस्तान पर नियंत्रण किए हुए हैं। कूटनीति के तहत ही डोनाल्ड ट्रंप और शी जिनपिंग कश्मीर मुद्दे पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं। यह सारी कार्यवाही पाकिस्तान को बेवकूफ बनाने के लिए है। इमरान खान पहले ही कह चुके हैं कि कश्मीर मुद्दे पर अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को समर्थन नहीं मिल रहा है। इमरान खान का यह भी कहना है कि भारत बहुत बड़ा बाजार है और विकसित देशों को अपना माल भारत में बेचने की चिंता है। यह सही है कि अमरीका और चीन जैसे देश बड़ी मात्रा में अपने उत्पाद भारत में बेचते हैं। चीन के उत्पाद तो भारत के घर घर में काम आ रहे हैं। चूंकि चीनी उत्पाद सस्ते होते हैं, इसलिए भारत में लगातार मांग बढ़ रही है। जहां तक कश्मीर का सवाल है तो अब पाकिस्तान का खेल खत्म हो चुका है। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद कश्मीर का मुद्दा स्वत: ही समाप्त हो गया है। जम्मू कश्मीर के अस्सी प्रतिशत क्षेत्र में जनजीवन सामान्य है। बीस प्रतिशत क्षेत्र में धारा 144 के अंतर्गत जो पाबंदियां लगा रखी है उन्हें भी धीरे धीरे हटाया जा रहा है। दस अक्टूबर को ही जम्मू कश्मीर की सरकार ने देशी विदेशी पर्यटकों के लिए छूट दे दी है। अनुच्छेद 370 को हटाने के समय पर्यटकों के कश्मीर आने पर पाबंदी लगाई थी। अब जब पर्यटकों के कश्मीर आने पर पाबंदी को हटा दिया गया है तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तेजी से कश्मीर घाटी में भी हालात सुधर रहे हैं। चीन के राष्ट्रपति के भारत दौरे से पहले अमरीका ने चीन के उइगर मुसलमानों की समस्या को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठा दिया है। अमरीका का आरोप है कि चीन अपने देश में उइगर मुसलमानों पर अत्याचार कर रहा है।
एस.पी.मित्तल


ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस से पकड़ा 5 करोड का सोना

झाड़सुगुड़ा। सेंट्रल एक्साइज और कस्टम विभाग की संयुक्त रेट में 5 करोड़ का सोना ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस से पकड़ा गया है। इस पूरी कार्रवाई में आरपीएफ की टीम भी उनके साथ थी। इस मामले में 2 लोगों को पकड़ा गया है। दोनों आरोपियों से पूछताछ जारी हैं।


सेंट्रल एक्साइज एवं कस्टम विभाग को इस बात की खबर मिली थी कि ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस से 2 लोगों के द्वारा करोड़ों का सोना ले जाया जा रहा है। जिस पर आरपीएफ की मदद से आज ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस में राजगांगपुर से झारसुगुड़ा के बीच चेकिंग शुरू की गई। इसी बीच B3 एसी कोच में दो युवकों पर टीम को शक हुआ। पूछताछ और तलाशी के बाद उनके पास से सोने के 110 बिस्किट बरामद हुए जिनकी कीमत बाजार भाव से करीब 5 करोड रुपए के आसपास होगी।


एक युवक का नाम डी यादव उम्र 32 वर्ष एवं दूसरे युवक का नाम राहुल आर्यन उम्र 31 वर्ष है। वे सोने को कोलकाता से मुंबई ले जाने वाले थे कि बीच रास्ते में ही छापेमारी में पकड़े गए। दोनों आरोपियों को झारसुगड़ा स्टेशन पर उतार लिया गया है और आगे की पूछताछ की जा रही है।


किसान कर्ज माफी पर सरकार को घेरा

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने केंद्र की मोदी सरकार पर तंज कसते हुए सवालिया लहजे में पूछा कि सरकार किसके लिए 76000 करोड़ रुपये का कर्ज माफ कर रही है जबकि गरीब किसान परेशान हैं और उन्हें जेल में डाला जा रहा है।
गांधी ने ट्वीट कर कहा,किसानों को जेल में डाला जा रहा है। अर्थव्यवस्था खस्ताहाल है, लोगों को नौकरी से निकाला जा रहा है। मुंबई में पंजाब एवं महाराष्ट्र सहकारी (पीएमसी) बैंक से जुड़े लोग चीख रहे हैं। उन्होंने पूछा,लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार किसके लिए रेड कार्पेट बिछाते हुए 76,000 करोड़ के कर्ज माफ कर रही है? कौन ले गया ये पैसा?
प्रियंका ने आरटीआई के हवाले से एक न्यूज चैनल की उस रिपोर्ट को भी साझा किया जिसमें कहा गया है कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने 220 लोगों पर बकाया 76000 करोड़ से अधिक के कर्जे को राइट ऑफ (ठंडे बस्ते में डालना) कर दिया। आम तौर पर जिस कर्ज को बैंक वसूल नहीं कर पाता है उसे राइट ऑफ कर दिया जाता है।


पाक ने तोड़ा सीजफायर,1 जवान घायल

राजौरी। पाक अपनी नापाक हरकतों से बाज आने का नाम नहीं ले रहा है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे से पहले बौखलाए पाक ने राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में सीजफायर का उल्लंघन किया जिसमें एक भारतीय जवान घायल हो गया है। पाक लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। अब राजौरी में हुए सीजफायर का भारतीय सेना मुंहतोड़ जवाब दे रही है। पाकिस्तान की तरफ से तोड़े गए सीजफायर में एक जवान घायल हो गया है। इससे पहले भी पाकिस्तान कई बार सीजफायर तोड़ चुका है।
गुरुवार को भी पाकिस्तान ने पुंछ में सीजफायर तोड़ा था। पुंछ जिले के बालाकोट सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से फायरिंग की गई थी। इसके साथ ही पाकिस्तान की ओर से मोर्टार भी दागे गए थे। वहीं आज से दो दिन के लिए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत दौरे पर आ रहे हैं। हालांकि पाकिस्तान और चीन के बीच अच्छे संबंधों के बावजूद पाक ने सीजफायर का उल्लंघन किया।
बता दें जिनपिंग पीएम मोदी और नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी के आमंत्रण पर भारत और नेपाल के दौरे पर आ रहे हैं। जिपनिंग के साथ आने वाले प्रतिनिधिमंडल में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) राजीनितक ब्यूरो के सदस्य डिंग शुएजियांग, सीपीसी सेंट्रल समिति सचिवालय के सदस्य यांग जेइची, विदेश मंत्री वांग यी तथा अन्य लोग शामिल हैं।


झारखंड में दो करोड़ 26 लाख से ज्यादा वोटर

रांची। झारखंड में पांचवी विधानसभा के गठन की कवायद शुरू हो चुकी है। राज्य की 81 विधानसभा सीटों में से ज्यादा से ज्यादा सीटों पर कैसे जीत दर्ज की जा सके इसके लिए तमाम राजनीतिक पार्टियां चुनावी गणित में जुटी हुई हैं। 2014 के झारखंड विधानसभा चुनाव के वक्त पुरूष और महिला वोटरों की कुल संख्या दो करोड़ आठ लाख बावन हजार आठ सौ आठ थी। इनमें से एक करोड़ 36 लाख 33 हजार 186 लोगों ने वोट डाले थे।


इस बार दो करोड़ 26 लाख से ज्यादा वोटरों के नाम मतदाता सूची में दर्ज हुए हैं। 2014 के चुनाव के मुकाबले इस बार वोटरों की संख्या 18 लाख ज्यादा है। चुनाव के वक्त लोग यह जानना चाहते हैं कि झारखंड के किस विधानसभा क्षेत्र में वोटरों की संख्या सबसे ज्यादा और कहां सबसे कम है। बताते चलें कि झारखंड में सबसे ज्यादा वोटर बोकारो विधानसभा क्षेत्र में हैं। 2014 में यहां वोटरों की कुल संख्या 4 लाख 92 हजार 853 थी,जबकि कोल्हान के जगन्नाथपुर विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम यानी 1 लाख 59 हजार 777 वोटर है।


हिरण का एक शिकारी गिरफ्तार, 8 फरार

जगदलपुर। माचकोट वन परिक्षेत्र में दो नर हिरण के शिकार का मामला सामने आया है। रेंजर विनय चक्रवर्ती ने बताया कि कुरंदी के सुलियागुड़ा में दो नर हिरण का शिकार हुआ है। हिरण शिकार के मुख्य आरोपी प्रभुनाथ के मक्के के खेत में हिरण आए हुए थे । यहां पहले से लगाए गए फंदे में वे फंस गए।


इसके बाद सिर और पैर छोड़कर उनका मांस 10 आरोपियों ने आपस में बांट लिया। गांव के ही निवासी जयराम की बाड़ी में सिर, पैर व अन्य अवशेष छिपा रखे थे, जिसे वन अमले ने बरामद कर जयराम व अन्य एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं बाकी के 8 आरोपियों की तलाश की जा रही है। वन अमले के अनुसार उन्हें इलाके के चौकीदार से दो दिन पहले इलाके में करंट लगाकर वन्य जीवों के शिकार की योजना बनाए जाने की सूचना मिली थी।


टेस्ट क्रिकेट में विराट का 26 वां शतक

पुणे। विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट में एक और सेंचुरी जड़ दी है। भारतीय कप्तान ने शुक्रवार को साउथ अफ्रीका के खिलाफ पुणे में खेले जा रहे सीरीज के दूसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन यह उपलब्धि हासिल की। यह टेस्ट क्रिकेट में उनकी 26वीं सेंचुरी है।
भारतीय टीम ने दूसरे दिन अपने खेल की शुरुआत तीन विकेट पर 273 रनों से की। कोहली पहले दिन 63 रन बनाकर नाबाद लौटे थे। दूसरे दिन वर्नन फिलैंडर की गेंद पर चौका लगाकर उन्होंने अपनी सेंचुरी पूरी कर ली। कोहली ने अपने 81वें टेस्ट मैच की 138वीं पारी में अपनी 26वीं टेस्ट सेंचुरी लगाई।


सचिन से पीछे
कोहली टेस्ट क्रिकेट में भारत की ओर से सबसे कम पारियों में 26 शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में दूसरे पायदान पर आ गए हैं। भारत की ओर से सचिन तेंडुलकर ने 136 पारियों में यह मुकाम हासिल किया था वहीं सुनील गावसकर ने 144 पारियों में 26 टेस्ट सेंचुरी लगाई थीं।


सबसे आगे ब्रैडमैन
सबसे कम पारियों में 26 टेस्ट शतक लगाने की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया के सर डॉन ब्रैडमैन इस लिस्ट में चोटी पर हैं। ब्रैडमैन ने 69 पारियों में यह 26 शतक लगाए थे। ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ 121 पारियों में 26 शतक लगाए थे। स्मिथ ने हाल ही में एशेज स्रीज में यह मुकाम हासिल किया था। दुनिया के नंबर वन टेस्ट बल्लेबाज स्मिथ ने एशेज में 774 रन बनाए थे।


पॉन्टिंग की बराबरी
कप्तान के रूप में यह विराट कोहली का 19वां टेस्ट शतक है। वह ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज कप्तान रिकी पॉन्टिंग के बराबर पहुंच गए हैं। पॉन्टिंग ने 77 टेस्ट मैचों में 19 शतक लगाए थे जबकि कोहली ने सिर्फ 50वें टेस्ट में ही यह उपलब्धि हासिल कर ली। टेस्ट क्रिकेट में कप्तान के रूप में सबसे ज्यादा शतक साउथ अफ्रीका के ग्रीम स्मिथ ने लगाए हैं। स्मिथ ने 109 टेस्ट मैचों में 25 शतक लगाए थे।


भारत मजबूत
भारत इस मैच में काफी मजबूत स्थिति में पहुंच गया है। कोहली की सेंचुरी और अजिंक्य रहाणे की हाफ सेंचुरी की मदद से दूसरे दिन लंच तक भारत ने तीन विकेट के नुकसान पर 356 रन बना लिए हैं। भारत ने पहले सेशन में साउथ अफ्रीका गेंदबाजों के हाथ कोई कामयाबी नहीं लगने दी। इन दोनों के बीच 158 रनों की पार्टनरशिप हो चुकी है। यह साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत की ओर से चौथे विकेट के बाद सबसे बड़ी साझेदारी है। इससे पहले राहुल द्रविड़ और सौरभ गांगुली ने 1996-97 में जोहांसबर्ग में 145 रनों की साझेदारी की थी।


कोहली के लिए यह शतक


यह विराट कोहली के टेस्ट करियर का 26वां शतक है।
कप्तान के रूप में यह उनके बल्ले से निकला 19वां शतक है।
पिछली 11 पारियों में यह उनका पहला शतक है।
साउथ अफ्रीका के खिलाफ घरेलू धरती पर कोहली का पहला शतक।
वर्ष 2019 में विराट कोहली का पहला टेस्ट शतक


कुपोषण संकट से निपटने के प्रयास जारी

नई दिल्ली। केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने गुरुवार को नई दिल्ली में भारत की पोषण चुनौतियों पर 5वीं राष्ट्रीय परिषद की बैठक की अध्यक्षता की। 
महिला और बाल विकास मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि भारत में कुपोषण के संकट से निपटने के लिए मानवीय समाधान विकसित करने की आवश्यकता है और इसके लिए पोषण में निवेश के आर्थिक लाभों को उजागर और प्रचारित किया जाना चाहिए।महिला और बाल विकास मंत्री ने विश्व बैंक की वैश्विक पोषण रिपोर्ट 2018 का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि भारत को कुपोषण के मामलें में वार्षिक रूप से कम से कम 10 बिलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ता है। यह नुकसान उत्पादकता, बिमारी और मृत्यु से जुड़ा है और गंभीर रूप से मानव विकास तथा बाल मृत्यु दर में कमी करने में बाधक है। उन्होंने कहा कि पोषण सभी नागरिकों के जीवन के लिए एक अभ्यास है और इसे महिलाओं और बच्चों तक सीमित नहीं रखा जाना चाहिए।


स्मृति जुबिन ईरानी ने बताया कि उनका मंत्रालय बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन तथा दीनदयाल शोध संस्थान के साथ एक पोषण मानचित्र विकसित कर रहा है जिसमें देश के विभिन्न क्षेत्रों की फसलों और खाद्योन्नों को दिखाया जाएगा, क्योंकि कुपोषण संकट का समाधान क्षेत्रीय फसल को प्रोत्साहित करने और प्रोटीन समृद्ध स्थानीय खाद्य पदार्थ को अपनाने में है। उन्होंने सुझाव दिया कि पोषण अभियान के अनाम नायकों को मान्यता देने के लिए स्वास्थ्य और पोषण मानकों पर राज्यों की रैंकिंग की प्रणाली विकसित की जा सकती है और इसके लिए नीति आयोग राज्यों के लिए ढांचा विकसित कर सकता है ताकि जिलों की रैंकिंग की जा सके। उन्होंने कहा कि रैंकिंग प्रक्रिया में नागरिकों और सिविल सोसाइटी को शामिल किया जा सकता है।
परिषद की बैठक में राज्यों द्वारा पोषण अभियान लागू करने के बारे में महिला और बाल विकास मंत्रालय, नीति आयोग तथा स्वास्थ्य तथा परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा प्रेजेंटेशन दिए गए। बैठक में आकांक्षी जिलों और पिछड़े हुए राज्यों की चुनौतियों पर विस्तृत विचार-विमर्श किया गया। क्षमता सृजन और स्वास्थ्य कर्मियों की गुणवत्ता में सुधार के बारे में युद्ध स्तर पर काम करना होगा ताकि सभी आंगनवाड़ीकर्मी स्मार्टफोन और अन्य यंत्रों के उपयोग में प्रशिक्षित हो सके और सफलता पूर्वक डैशबोर्ड पर डाटा अपलोड कर सकें। बैठक में राज्यों की नवाचारी योजनाओं और कार्यक्रमों को साझा किया गया।


यह निर्णय लिया गया कि इस वर्ष सितंबर में मनाए गए पोषण माह के दौरान राज्यों के श्रेष्ठ व्यवहारों तथा नवाचार योजनाओं का प्रलेखन किया जाए। 
भारत की पोषण चुनौतियों पर 5 वीं राष्ट्रीय परिषद में महिला और बाल विकास सचिव रवीन्द्र पंवार, नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार, उत्तर प्रदेश की महिला और बाल विकास मंत्री स्वाति सिंह, राजस्थान की महिला और बाल विकास मंत्री ममता भूपेश और अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, कृषि, पेयजल और स्वच्छता, ग्रामीण विकास, जनजातीय मामले, पंचायती राज, उपभोक्ता मामले और खाद्य, वित्त, मानव संसाधन विकास, आवास और शहरी कार्य, सूचना और प्रसारण और पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों उपस्थित थे। बैठक में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद, राष्ट्रीय पोषण संस्थान, भारतीय सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण, टाटा ट्रस्ट, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया।


अयोध्या में मनाई जाएगी 'भव्य दिवाली'

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए मुंबई आये उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 4 जगहों पर चुनावी रैलियों को संबोधित किया। उन्होंने महाराष्ट्र में बीजेपी सरकार के विकास कार्य गिनाने के साथ ही कहा कि बीजेपी के लिए देशहित पहले है। वहीं उन्होंने कहा कि श्रीराम की नगरी की दिवाली भव्य होगी। दुनिया अयोध्या की दिवाली देखती है। राम मंदिर का नाम लिए बिना उन्होंने कहा सुप्रीम कोर्ट पर उन्हें पूरा भरोसा है। रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने यह भी कहा कि फाइटर प्लेन राफेल भारत आ रहा है. इसे लेकर कांग्रेस फिर परेशान है। बीजेपी जो कहती है उसे एक-एक कर पूरा करती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म कर खुशहाली का रास्ता खोला है। वहीं एक बार फिर कांग्रेस पर हमलावर होते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस को तीन तलाक में वोट बैंक नजर आता था, जिससे पिछले 70 साल से इस कुप्रथा को खत्म करने के लिए कोई कानून नहीं बनाया गया। तीन तलाक की कुप्रथा से मुस्लिम महिलाएं पीड़ित थीं, उनका उत्पीड़न हो रहा था। उन्होंने कहा कि तीन तलाक पर बीजेपी ने करारा वार किया और कानून बनाया। इस कुप्रथा को खत्म करने लिए पूरा देश प्रधानमंत्री मोदी को बधाई दे रहा है, लेकिन कांग्रेस इसका विरोध कर रही है। इससे कांग्रेस की मानसिकता उजागर हो जाती है।


जेल में दाल रोटी के पीछे हंगामा

गोरखपुर। जेल में बवाल मामले में पुलिस महानिदेशक, जेल आनंद कुमार ने कहा है कि गोरखपुर जेल में स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। उन्होंने बताया कि कैदियों ने मांग पत्र लिखकर भेजा है। कैदियों की तरफ से जेल प्रशासन और पुलिस को लेकर शिकायतें की हैं। डीजी जेल ने कहा कि मिली शिकायतों की जांच कराकर उचित कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही महानिदेशक जेल ने कहा कि यूपी की जेलों में देश के 25 प्रतिशत बंदी हैं। यूपी की जेलों में क्षमता से ज्यादा बंदी हैं। जेलों की व्यवस्था में सुधार लाने की कवायद जारी है।
कैदी की पिटाई के बाद शुरू हुआ हंगामा 
बता दें गोरखपुर जिला जेल में शुक्रवार सुबह कैदियों ने जबरदस्त बवाल कर दियाा। पूछताछ के दौरान एक कैदी की पिटाई करने का आरोप लगाते हुए कैदियों ने जेल में जमकर हंगामा किया। सूत्रों के मुताबिक डिप्टी जेलर समेत 4 सिपाहियों की बुरी तरह से पिटाई की गई। घटना की सूचना मिलते ही डीएम-एसएसपी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए हैं। हालात नियंत्रण से बाहर बताए जा रहे हैं, जेल के अंदर ईंट पत्थर भी चल रहे हैं।
हंगामे के पीछे रोटी-दाल की समस्या
हंगामे के पीछे कैदियों ने जेल में रोटी-दाल की समस्या भी बताई जा रही है। वहीं कैदियों ने जिला प्रशासन को मांग पत्र भी सौंपा है। एडीएम रजनीश श्रीवास्तव ने बताया कि जेल बंदियों की समस्या दूर करने का आश्वासन दिया गया है। वहीं पुलिस द्वारा कैदियों की पिटाई की बात का एडीएम सिटी रजनीश श्रीवास्तव ने खंडन किया है। कैदियों के हमले कोई भी नहीं हुआ है। हालांकि जेल में बंद कैदी लामबंद होकर नारेबाजी भी कर रहे हैंं। वहीं मौके पर एहतियतन फायर ब्रिगेड और कई थाने की पुलिस फोर्स को बुला लिया गया हैै।
स्थिति काबू में, 9 थानों की पुलिस जेल के अंदर मौजूद
जेल में बवाल के बाद अभी भी स्थिति काबू में हैै। मौके पर 9 थानों की पुलिस जेल के अंदर मौजूद है। फिलहाल इस मामले में अभी जेल और प्रशासनिक अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैंं। वहीं एसएसपी सुनील गुप्ता भी मौके पर पहुंचे हैं। एसएसपी के मुताबिक घटना के कारणों का पता लगाया जा रहा हैै। साथ ही कैंदियों से बातचीत कर मामला शांत कराया जा रहा है।


मृतकों के परिवार को दो लाख की सहायता

बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में शुक्रवार सुबह हुए दर्दनाक हादसे में हुए सात लोगों के मौत पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने दुख जताया है। दरअसल, एक तेज रफ्तार बस ने नरौरा गंगा घाट के किनारे सड़क पर सो रहे, तीर्थ यात्रियों को रौंद दिया। इस हादसे में 7 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। सीएम योगी ने जिलाधिकारी प्रत्येक मृतकों के परिजन को 2-2 लाख रुपए की राहत राशि वितरित करने के निर्देश दिए हैं।
इसके साथ ही उन्होंने ये आदेश दिया है कि आरोपी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई हो। सीएम ने मृतकों के परिजन के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्माओं की शांति की कामना की है।बताया जा रहा है सभी श्रद्धालु वैष्णो देवी से दर्शन के बाद गंगा स्नान के लिए हाथरस से नरौरा घाट जा रहे थे। रास्ते में ही ये लोग अपनी बस से उतर कर आराम करने के लिए सड़क के किनारे सो गए थे। हादसे के बाद बस ड्राइवर मौके से फरार हो है।


बस खड़ी होने के बाद उसमे से सात लोग जिनमें तीन महिलाएं और चार बच्चे उतरकर बस के आगे जाकर सो गए। इस बीच दूसरी बस भी वहां पहुंची। अंधेरा होने की वजह से वह जमीन सो रहे लोगों को देख नहीं सकी और उन्हें कुचल दििया। इस हादसे में सभी की मौत हो गई, चालक की गिरफ्तारी की कोशिश की जा रही है।


सचिवालय कर्मचारी छठी मंजिल से कूदा

राणा ओबराय
पंजाब सचिवालय चण्डीगढ़ के कर्मचारी ने छटी मंजिल से कूद कर दी जान
चंडीगढ़। पंजाब सचिवालय में शुक्रवार को उस वक्त हड़कंप मच गया, जब फाइनेंशियल कमिश्नर ऑफिस के रिकॉर्ड ब्रांच के सुपरवाइजर ने बिल्डिंग की 6वीं मंजिल से नीचे की ओर छलांग लगा दी|घटनाक्रम की सूचना फौरन पुलिस को दी गई. जिसके बाद सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने सुपरवाइजर को लहूलुहान हालत में सेक्टर-16 के अस्पताल में पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने सुपरवाइजर को मृत करार दिया|मृतक की पहचान परमजीत सिंह के तौर पर हुई है।मौके पर पहुंची सेक्टर-3 थाना की पुलिस ने परमजीत सिंह के शव को मॉर्चरी में रखवा दिया है और आगे की बनती कार्रवाई को अंजाम दे रही है। जानकारी के मुताबिक, मृतक परमजीत सिंह सेक्टर 23 के मकान नंबर 2252 सरकारी निवास में अपने परिवार के साथ रहता था|शुक्रवार को सुबह करीब 11 बजे सेक्टर-1 स्थित सेक्रेटेरिएट बिल्डिंग की छठी मंजिल से कूद गया।


मृतक परमजीत सिंह के पास से सुसाइड नोट हुआ बरामद


सुसाइड नोट के अनुसार, वह कुछ समय से बीमार चल रहा था, जिसके चलते वह परेशान रहता था। परमजीत सिंह ने अपनी मौत का खुद को जिम्मेदार ठहराया है।परमजीत सिंह ने अपने अधिकारियो से मांग की है कि उसकी पेंशन का सारा पैसा उसके परिजनों को दे दिया जाए।


मोदी ने राजनीति के मायने बदले:योगी

मुबई। मोदी जी के विकास-सुशासन पर जनता ने मुहर लगाई और उन्हें दोबारा मौका दिया। उन्होंने कहा कि मुंबई को दहलाने वाला दाऊद इब्राहिम आज मारा-मारा फिर रहा है और उसे शरण देने वाला पाकिस्तान पूरी दुनिया के सामने गिड़गिड़ा रहा है।
गुरुवार को कुलाबा विधानसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार राहुल नार्वेकर और मुंबा देवी से शिवसेना के पांडुरंग सकपाल को वोट देने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री योदी ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र में काम किया है। इससे पहले कांग्रेस-राकांपा की सरकारों ने राज्य को 15 साल तक लूटा है। उन्होंने कहा कि वे राष्ट्रवाद की मुहिम को नई ऊंचाई तक पहुंचाने में सहयोग की अपील करने यहां आए हैं।
पहले देश की राजनीति में जातिवाद, क्षेत्रवाद हावी रहता था, लेकिन उन्होंने राजनीति को विकास और प्रशासन से जोड़ा। मोदी के नेतृत्व में देश एक दिन जरूर विश्वशक्ति बनेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए देशहित सर्वोपरि है। मुख्यमंत्री से पहले उम्मीदवार राहुल नार्वेकर, पूर्व विधायक राज पुरोहित, संजय उपाध्याय, आकाश राजपुरोहित व अन्य लोगों ने संबोधित किया।


कांग्रेस अध्यक्ष की साधारण यात्रा ने चौकाया

गोरखपुर। धरना-प्रदर्शन, आंदोलनों और सादगी से कांग्रेस हाईकमान की पसंद बने तमकुहीराज के विधायक अजय कुमार लल्लू ने शुक्रवार सुबह रोडवेज की साधारण बस पकड़कर समर्थकों को एक बार फिर चौंका दिया। प्रदेश अध्यक्ष का कार्यभार ग्रहण करने लखनऊ जा रहे लल्लू की यात्रा में उनके साथ पार्टी के पांच अन्य कार्यकर्ता भी गए हैं। लल्लू ने सुबह पांच बजे गोरखपुर रेलवे बस अड्डे से लखनऊ की बस पकड़ी। इसके बाद कुछ कांग्रेसी नेताओं ने बस में यात्रा की उनकी तस्वीर ट्वीट करके लल्लू की सादगी की तारीफ की। इस बारे में लल्लू ने कहा कि वह एक आम आदमी हैं। पहले भी बस से यात्रा करते रहे हैं। आम आदमी की समस्याओं को उठाना उनका काम है इसलिए आम आदमी जिन सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं वह भी उन्हीं सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं। लल्लू के साथ इस यात्रा में अमित, मनोज सिंह, शर्मा यादव, रामायण कुशवाहा और प्रदीप कोरी शामिल हैं।


सपा सरकार करेगी फर्जी एनकाउंटर की जांच

झांसी। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादवल ने कहा कि पार्टी गरीबों को न्याय दिलाने के लिए साइकिल यात्रा निकालेगी। ये साइकिल यात्रा वह विधानसभा उपचुनाव के बाद निकालेंगे। इस साइिकल यात्रा की वह खुद कमान संभालेंगे।पुष्पेंद्र एनकाउंटर केस पर अखिलेश यादव ने कहा कि पुष्पेंद्र यादव का फेंक इनकाउंटर हुआ। नौजवान की झांसी पुलिस ने हत्या की। देश की सेवा करने वाले मृतक के भाई को मुल्जिम बनाया गया। प्रदेश सरकार इस मामले में इंसाफ करे।इतना ही नहीं अखिलेश ने कहा कि अगर 2022 में सपा सरकार बनी तो पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर कांड की दोबारा जांच होगी। जांच कराकर एनकाउंटर कांड के दोषी अफसरों, पुलिस कर्मियों को जेल भेजा जाएगा। अखिलेश ने कहा कि मेरी भाजपा सरकार और उनके अफसरों को धमकी और चेतावनी भी है।अखिलेश ने कहा कि यूपी की जनता को यूपी सरकार ने शौचालय में उलझा दिया है। इस दौरान अखिलेश ने डिफेंस कॉरीडोर पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि देश के बाहर से ही जब सबकुछ आ जायेगा तो देश मे क्या बनेगा?


 


दूध के मूल्य को लेकर दूधिया की हड़ताल

शिवपुरी। शिवपुरी जिले में कुछ दूधियों द्वारा एकाएक दाम वृद्धि को लेकर गुरुवार से शुरू की गई हड़ताल का शुक्रवार को दूसरे दिन भी जारी रही। दो दिन से जनता दूध को लेकर परेशान हो रही है लेकिन जिला प्रशासन में बैठे कलेक्टर, एसडीएम सहित अन्य अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे। ऐसा लग रहा है कि जिला प्रशासन में बैठे अफसरों की भी इस हड़ताल को मौन स्वीकृति है। इधर दो दिन से जनता परेशान हो रही है लेकिन इस जनता की कोई सुध लेने वाला कोई नहीं। आक्रोशित जनता के कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि जिला प्रशासन में बैठे लोगों को आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत इस मामले में कार्रवाई करना चाहिए। जो दूधिए जिले की सीमा पर दूसरे दूध बेचने वाले व दुकानदारों को दूध बेचने से रोक रहे हैं उन पर कानून कड़ी कार्रवाई की जाना चाहिए। क्योंकि दूध की किल्लत से जनता परेशान है और इस तरह से मनमानी नहीं होना चाहिए।
जनता पर बोझ बढ़ाने बना रहे हैं दबाव-
ग्रामीण क्षेत्र के दूधिए मनमानी कर एक बार फिर से जनता पर बोझ और उसे लूटने की तैयारी में है। जबकि पिछले साल ही इन दूधियों ने तीन से चार रुपए की वृद्धि एक हड़ताल के जरिए करवाई थी। इस साल अच्छी बारिश के बाद भूसे और चारे के दाम कम हुए हैं ऐसे में यह दूधिए दूध का पैसा क्यों बढ़वाना चाहते हैं। कई जानकारों ने बताया कि हड़ताल का डर दिखाकर जनता से यह लूट हर साल हो रही है।
पिछले बार भी इसी तरह हड़ताल कर बढ़ावाए थे दाम-
जनता ने बताया है कि इस मनमानी पर रोक लगाना जरूरी है। शिवपुरी में पिछले दो साल में शिवपुरी में दूध के दामों में 10 से 12 रुपए तक की वृद्धि हो चुकी है। शिवपुरी में ही ऐसा क्यों हो रहा है। बताया जा रहा है कि एक संगठित रैकेट इस काम में सक्रिय है और दूधियों का बहाना बनाकर के दूध के रेट हर साल बढ़ाए जाते हैँ इसके बाद फुटकर विक्रेता व डेयरी संचालक भी अपना कमीशन बढ़ा देते हैं। इस बढ़े हुए दामों की मार जनता पर पड़ती है।


प्रेमिका से बेवफाई अपराध नहीं:एचसी

नई दिल्ली। हाई कोर्ट ने कहा है कि शारीरिक संबंधों के बावजूद प्रेमिका से बेवफाई चाहे जितनी खराब बात लगे, लेकिन यह अपराध नहीं है । अदालत ने कहा कि यौन सहमति पर 'न का मतलब न' से आगे बढ़कर, अब 'हां का मतलब हां' तक व्यापक रूप से माननीय है । अदालत ने रेप के आरोपों का सामना कर रहे एक व्यक्ति को बरी करते हुए ये फैसला सुनाया ।


दरअसल एक महिला ने अपने प्रेमी के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था। उसने अपनी शिकायत में कहा कि उसके प्रेमी ने शादी का वादा करके उसके साथ बेवफाई की औऱ शारीरिक संबंध बनाए। अदालत ने कहा, प्रेमी से बेवफाई भले ही लोगों को खराब बात लगे लेकिन भारतीय दंड संहिता के तहत दंडनीय अपराध नहीं है।


जस्टिस विभु भाखरू ने कहा कि जहां तक यौन संबंध बनाने के लिए सहमति का सवाल है, 1990 के दशक में शुरू हुए अभियान 'न मतलब न', में एक वैश्विक स्वीकार्य नियम निहित है । मौखिक 'न' इस बात का साफ संकेत है कि यौन संबंध के लिए सहमति नहीं दी गई है । यौन संबंध स्थापित करने के लिए जबतक एक सकारात्मक, सचेत और स्वैच्छिक सहमति नहीं है, यह अपराध होगा । कोर्ट ने कहा कि महिला का दावा है कि उसकी सहमति अपनी मर्जी से नहीं थी बल्कि यह शादी के वादे के लालच के बाद हासिल की गई थी, इस मामले में साबित नहीं हुआ । कोर्ट ने कहा कि पहली बार रेप के कथित आरोप के तीन महीने बाद, महिला 2016 में आरोपी के साथ अपनी मर्जी से होटल में जाती दिखी और इस बात में कोई दम नजर नहीं आता कि उसे शादी के वादे का लालच दिया गया था ।


काठमांडू जा रही बस पलटी 11 की मौत

नई दिल्ली। शुक्रवार सुबह माता वैष्णो देवी के दर्शन कर लौट रहे सात लोग अपनी जान से हाथ धो बैठे थे। वहीं दूसरी ओर नेपाल के सिंधुपालचौक जिले में एक बस हादसे का शिकार ही गयी। इस हादसे में 11 यात्रियों की मौत हो गई। जबकि कई लोग घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के अनुसार, हेलम्बू यातायात की बस भोट सिया से काठमांडू जा रही थी। बस बेकाबू होकर पलट गई। हादसे में 11 लोगों की मौत हो गई। जबकि 30 से ज्यादा यात्री घायल हो गए। बस में 50 से अधिक यात्री सवार थे। डीएसपी माधव काफले के अनुसार, मृतकों और घायलों की संख्या अभी बढ़ सकती है। बचाव कार्य में सुरक्षाकर्मी लगे हुए हैं। एंबुलेंस और हेलीकॉप्टर से बचाव कार्य किया जा रहा है।


पूर्व उपमुख्यमंत्री के घर से 5 करोड़ बरामद

बेंगलुरु। आयकर विभाग ने कर्नाटक के पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और अन्य के खिलाफ मारे गए छापों के दौरान करीब पांच करोड़ रुपये नकद बरामद किए हैं। आयकर विभाग से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि बृहस्पतिवार से शुरू की गई छापेमारी करीब 25 स्थानों पर अभी भी जारी है।


बेंगलुरु में सिद्धार्थ मेडिकल कॉलेज के परिसर में आयकर अधिकारी छापेमारी कर रहे हैं। यह मेडिकल कॉलेज जी परमेस्वर से संबंधित ट्रस्ट द्वारा चलाया जाता है। इसके अलावा जी परमेश्वर के भाई के बेटे के घर पर भी छापा पड़ा है। इस छापेमारी के तहत, आयकर विभाग के 300 से ज्यादा अधिकारी कर्नाटक में कांग्रेस के दो प्रमुख नेताओं से जुड़े परिसरों में दाखिल हुए हैं। इन नेताओं में पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और पूर्व सांसद आर एल जालप्पा के बेटे जे राजेंद्र शामिल हैं।


नशे में तीन को उतारा मौत के घाट

आरोपी ने शराब के नशे में मामूली बात पर विवाद कर तीनों की कर डाली जघन्य हत्या


रायपुर। थाना उरला क्षेत्रांतर्गत सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम बाना उरला में तीन व्यक्तियों की जलकर मौत हो गई। सूचना पर थाना उरला की टीम द्वारा मौके पर जाकर घटना स्थल एवं शव का निरीक्षण किया गया। टीम द्वारा शव का निरीक्षण करने पर पाया गया कि किसी अज्ञात आरोपी द्वारा मृतिका श्रीमति दुलौरिन बाई निषाद, सोनू निषाद एवं संजय निषाद के सिर में किसी ठोस वस्तु से मारकर गंभीर चोट पहुँचाकर हत्या करना एवं साक्ष्य छिपाने की नियत से तीनों के शव का जला देना प्रतीत हो रहा था। जिस पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध थाना उरला में अपराध क्रमांक 462/19 धारा 302, 201 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया।
हत्या कर शव का जलाने जैसे गंभीर मामले को पुलिस उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय आरिफ एच शेख द्वारा गंभीरता से लिया जाकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध  पंकज चंद्रा, नगर पुलिस अधीक्षक उरला अभिषेक माहेश्वरी एवं थाना प्रभारी उरला को अज्ञात आरोपी की पतासाजी कर गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। जिस पर नगर पुलिस अधीक्षक उरला द्वारा थाना उरला की एक विशेष टीम का गठन कर घटना स्थल का पुनः बारिकी से निरीक्षण किया जाकर हत्या के सभी प्रमुख बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुये अज्ञात आरोपी की पता साजी प्रारंभ किया गया। घटना के संबंध में मृतक के रिश्तेदारों एवं घटना स्थल के आसपास के लोगों से विस्तृत पूछताछ करने के साथ ही तकनीकी विश्लेषण एवं आसपास लगे सी.सी.टी.व्ही. फूटजों का अवलोकन किया। अज्ञात आरोपी की पहचान सुनिश्चित करने के प्रयास किये जा रहे थे। इसी दौरान टीम को जानकारी प्राप्त हुई कि चन्द्रकान्त निषाद निवासी पाटन जिला दुर्ग जो रिश्ते में मृतिका दुलौरिन बाई का दामाद है तथा हमेशा इसके घर आना जाना लगा रहता है एवं घटना दिनांक को भी चन्द्रकान्त निषाद उपस्थित था। टीम द्वारा चन्द्रकान्त निषाद से घटना के संबंध में पूछताछ करने पर वह गोल मोल जवाब देने लगा जिस पर टीम द्वारा उसे संदेह के दायरे में रखकर चन्द्रकान्त निषाद के विरूद्ध साक्ष्य एकत्रित किया गया तथा चन्द्रकान्त निषाद के विरूद्ध साक्ष्य प्राप्त होने पर उसे पकड़कर पूछताछ करने पर उसके द्वारा किसी भी प्रकार से अपराध में अपनी संलिप्तता नहीं होना बताते हुये लगातार अपना बयान बदलकर टीम को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा था। जिस पर टीम द्वारा कड़ाई से पूछताछ करने पर अंततः चन्द्रकान्त निषाद अपने झूठ के सामने टिक न सका और उक्त तीनों की हत्या कर शव में मिट्टी तेल डालकर आग लगाकर जलाना स्वीकार किया गया। पूछताछ में आरोपी चन्द्रकान्त निषाद ने बताया कि दिनांक घटना को वह मृतिका दुलौरीन बाई के साथ बैठकर शराब का सेवन किया तथा मृतिका किसी व्यक्ति से बात करती थी जिसे आरोपी द्वारा बात करने से मना किया गया जिस पर दोनों के मध्य विवाद हुआ एवं आरोपी ने मौका पाकर लकड़ी के पटिया से मृतिका के सिर पर ताबडतोड़ वार कर चोट पहुंचाकर हत्या कर दिया तथा मृतिका के पुत्र सोनू निषाद एवं संजय निषाद के सिर पर भी उसी लकड़ी के पटिया से मारकर गंभीर चोट पहुंचाकर हत्या कर दिया एवं साक्ष्य छिपाने की नियत से तीनों के शव पर मिट्टी तेल डालकर आग लगाकर जला दिया। घटना कारित करने के पश्चात आरोपी चन्द्रकान्त निषाद रात में ही ग्राम मुरा थाना पाटन जिला दुर्ग अपनी नानी सास के घर गया एवं गांव में नाचा का कार्यक्रम देखा तथा रात के लगभग 03ः00 बजे आरोपी ग्राम मुरा से वापस रायपुर आ गया एवं स्वयं अपराध से बचने हेतु कहानी बनाकर ग्राम बाना के अपने अन्य रिश्तेदारों को बताया कि दुलौरीन बाई, सोनू निषाद एवं संजय निषाद जलकर मृत हालत में पड़े है। आरोपी चन्द्रकांत निषाद स्वयं घटना की सूचना थाना जाकर दर्ज कराया था। आरोपी चन्द्राकांत निषाद की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त लकड़ी का पटिया, ज्यूपीटर वाहन एवं खनू लगा कपड़ा जप्त किया गया है। आरोपी को गिरफ्तार कर उसके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही किया गया।


घोटाले में पूर्व पाक प्रधानमंत्री गिरफ्तार

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने पाक के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले पाकिस्तान के राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने चौधरी शुगर मिल घोटाला मामले में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था।डॉन न्यूज के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि एनएबी के अध्यक्ष ने मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किया और लाहौर ब्यूरो की एक टीम शुक्रवार को कोट लखपत जेल में उनसे मिलेगी और उनकी फिजिकल रिमांड के लिए उन्हें जवाबदेही अदालत में ले जाएगी।


शरीफ अल-अजीजिया मिल्स भ्रष्टाचार मामले में सात साल जेल की सजा काट रहे हैं। एनएबी ने पहले से ही चौधरी शुगर मिल मामले में उनकी बेटी मरियम नवाज और भतीजे यूसुफ अब्बास को गिरफ्तार कर लिया है।
ये दोनों 23 अक्टूबर तक न्यायिक रिमांड पर हैं। एनएबी ने मुख्य रूप से मरियम पर चीनी मिलों के शेयरों की बिक्री/खरीद की आड़ में मनी लॉ्ड्रिरंग में शामिल होने का आरोप लगाया है।इसने कहा कि वह 2008 में मिलों की सबसे बड़ी शेयरधारक बन गईं, जिनके पास 1.2 करोड़ से अधिक के शेयर थे और उनकी संपत्ति उनकी आय से अधिक नहीं पाई गई थी।


भारत के अमीर लोगों की नई सूची

मुंबई। भारत के सबसे अमीर लोगों की नई सूची सामने आ गई है। फोर्ब्स ने भारत के टॉप 100 सबसे अमीर लोगों की सूची जारी कर दी है, जिसमें पिछले कुछ सालों की तरह इस साल भी टॉप पर रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी बरकरार हैं। लगातार 12वें साल मुकेश अंबानी फोर्ब्स इंडिया की सबसे अमीर भारतीय टॉप 100 की सूची में टॉप पर काबिज हैं। करीब 4 मिलियन अमेरिकी डॉलर की बढ़ोतरी के साथ मुकेश अंबानी 51.4 बिलियन की कुल संपत्ति के साथ टॉप पर बरकरार हैं। वहीं गौतम अडानी ने 8 अंकों की बड़ी छलांग लगाई है और इस सूची में दूसरा स्थान हासिल किया है। इसके अलावा उदय कोटक ने पहली बार टॉप 5 में जगह बनाई है। इस्पात निर्माता कंपनी आर्सेलर के मालिक लक्ष्मी मित्तल फोर्ब्स की इस लिस्ट में काफी नीचे आ गए हैं। पिछले साल इस लिस्ट में तीसरे स्थान पर रहने वाले लक्ष्मी मित्तल 6 पायदान खिसकर 9वें नंबर पर आ गए हैं। फोर्ब्स इंडिया के मुताबिक, स्टील की मांग और उसकी कीमतों में गिरावट की वजह से ऐसा हुआ है। वहीं टॉप टेन में इस बार अजीम प्रेमजी भी नहीं हैं। तो चलिए देखते हैं सबसे अमीर 100 लोगों की पूरी लिस्ट।


भारत के 10 सबसे अमीर शख्स


teligram
मुकेश अंबानी:      51.4 बिलियन
गौतम अडानी:     15 .7 बिलयन
हिन्दुजा ब्रदर्स:    15.6 बिलियन
पी मिस्त्री:         15 बिलियन
उदय कोटक:    14.8 बिलियन
शिव नाडर:       14.4 बिलियन
राधाकृष्णन दमानी:   14.3 बिलियन
गोदरेज फैमिली:   12 बिलियन
लक्ष्मी मित्तल:   10.5 बिलियन
कुमार बिरला:   9.6 बिलियन


विवादित जमीन सौंप देनी चाहिए

नई दिल्ली। आयोध्या मामले में चल रहे विवाद और सुनवाई के बीच अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर) जमीर उद्दीन शाह का बड़ा बयान आया है। लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर) जमीर उद्दीन शाह ने गुरुवार को कहा कि मुस्लिमों को अयोध्या में विवादित जमीन राम मंदिर के लिए हिन्दू भाइयों को सौंप देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक सौहार्द सुनिश्चित करने के लिए अयोध्या में विवादित भूमि को 'सद्भावना संकेत' के रूप में राम मंदिर निर्माण के लिए हिंदुओं को सौंप देनी चाहिए। जमीर उद्दीन शाह ने कहा कि अगर मुस्लिमों के पक्ष में भी सुप्रीम कोर्ट का फैसला आता भी है तो देश में शांति कामय करने के लिए मुसलमानों को हिंदू भाइयों को जमीन सौंपनी चाहिए। इसका एक समाधान होना चाहिए नहीं तो हम लड़ते रह जाएंगे। मैं अदालत के बाहर निपटारे का पुरजोर समर्थन करता हूं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को स्पष्ट फैसला देना चाहिए। इसे पंचायती नहीं होना चाहिए। अगर सुप्रीम कोर्ट मुस्लिमों के पक्ष में फैसला दे भी देता है तो क्या मस्जिद बनाना संभव होगा? मैं मानता हूं कि यह कतई मुमकीन नहीं होगा।


शाह गुरुवार को लखनऊ में एक सत्र में शामिल हुए थे, इंडियन मुस्लिम फॉर पीस' नाम के एक संगठन ने गुरुवार को गोमतीनगर स्थित एक होटल में बैठक की थी। इसमें प्रस्ताव पारित किया गया कि करोड़ों हिन्दुओं की आस्था को देखते हुए विवादित जमीन राम मंदिर निर्माण के लिए दे दी जाए। बैठक में कुल चार प्रस्ताव पारित हुए, जिन्हें बाबरी मस्जिद के पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड के जरिए सुप्रीम कोर्ट की मध्यस्थता कमेटी को भेजा जाएगा। यह बैठक अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति ले.जनरल जमीरुद्दीन शाह की अध्यक्षता में हुई। बाद में प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मुसलमान सुप्रीम कोर्ट से मुकदमा जीत भी गए तो वहां पर मस्जिद नहीं बना पाएंगे। क्योंकि अदालतें लोगों के जज्बात से बड़ी नहीं होती हैं। वतन में भाईचारा बनाए रखने और अमन के लिए जमीन उपहार के तौर पर हिन्दू भाइयों को दे देनी चाहिए।


करोड़ों दिलों पर राज करते है अमिताभ

मुंबई। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन का आज 77वां जन्मदिन मना रहे है। महानायक का जन्म 11 अक्टूबर 1942 को प्रयागराज ( उत्तर प्रदेश ) में हुआ था। अमिताभ बच्चन कई दशकों से पर्दे पर अपने दमदार अभिनय से अमिताभ करोड़ों लोगों के दिल में बसे हुए हैं। पर्दे पर अलग-अलग किरदार को जीवंत बना देने वाले अमिताभ के असल जीवन की कहानी भी किसी सुपरहिट फिल्म की स्क्रिप्ट से कम नहीं है। बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन बीते 5 दशकों से फिल्म इंडस्ट्री में अपना दबदबा बनाए हुआ हैं। साल 1969 में फिल्म 'सात हिन्दुस्तानी' से अपने करियर की शुरुआत की। हालांकि ऐसा नहीं है कि अमिताभ बच्चन ने अपनी पहली ही फिल्म से कोई ऐसा कमाल कर दिया हो। अपने शुरुआती दौर में उन्हें एक या दो नहीं बल्कि 12 फ्लॉप फिल्मों का सामना करना पड़ा था। लेकिन इसके बाद जब अमिताभ की हिट फिल्मों का सिलसिला शुरू हुआ तो उन्होंने एक अलग ही रिकॉर्ड बना दिया। अमिताभ बच्चन के बाद इस इंडस्ट्री में कई सुपरस्टार आए और गए। बॉक्स ऑफिस पर एक के बाद के न जाने कितने ही रिकॉर्ड बने और टूटे लेकिन अमिताभ बच्चन की फिल्मों ने जो रिकॉर्ड बनाए वो कोई भी स्टार नहीं तोड़ पाया।


शुरुआती करियर में कई फ्लॉप फिल्में देने के बाद 1973 में 'जंजीर' फिल्म की सफलता ने अमिताभ बच्चन की ही नहीं हिंदी सिनेमा की भी तस्वीर बदल दी। उसके बाद तो करीब अगले 4 सालों में ही 1977 तक अमिताभ बच्चन ने 'अभिमान', 'नमक हराम', 'कसौटी', 'मजबूर', 'दीवार', 'शोले', 'चुपके-चुपके', 'मिली', 'कभी-कभी', 'दो अनजाने', 'हेरा-फेरी', 'अदालत', 'खून पसीना', 'परवरिश' और 'अमर अकबर एंथनी' जैसी 15 शानदार फ़िल्में देकर सफलता और लोकप्रियता का नया इतिहास लिख दिया।


इसके बाद 1978 में एक वह दौर आया जब अमिताभ बच्चन ने एक महीने में ही लगातार चार सुपरहिट फिल्में दीं। अमिताभ ने इस वक्त एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया जो अभी तक कोई भी दूसरा हीरो नहीं बना पाया है। ये 4 हफ्ते थे 21 अप्रैल से 12 मई 1978 तक के इस दौरान मुंबई में पहले 21 अप्रैल को अमिताभ बच्चन की 'कसमे वादे' रिलीज हुई. उसके अगले हफ्ते 28 अप्रैल को 'बेशर्म' रिलीज हुई। फिर 5 मई को 'त्रिशूल' लगी तो उसके बाद 12 मई को 'डॉन' रिलीज़ हुई. सबसे बड़ी बात ये है कि ये चारों फिल्में हिट रहीं।


रक्षा मंत्री के पक्ष में आया पाकिस्तान

नई दिल्ली। एक तरफ जहां पकिस्तान के प्रधानमंत्री धारा 370 हटने के बाद से बौखलाए हुए और सभी देशो से मदद मांगने की कोशिश कर रहे है तो वहीं पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर ने गुरुवार को 'राफेल शस्त्र पूजा' को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि 'राफेल पूजा में कुछ भी गलत नहीं है क्योंकि यह धर्म के अनुसार है।' गौरतलब है कि दशहरे के दिन जब फ्रांस में रक्षा मंत्री को राफेल लड़ाकू विमान सौंपा जा रहा था, उस समय राजनाथ सिंह ने उसकी पूजा की थी। क्योंकि दशहरे के दिन शस्त्रों की पूजा की जाती है। जिसके बाद से ही विपक्ष ने उनपर निशाना साध रहा है। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर ने गुरुवार को ट्वीट किया कि 'राफेल पूजा में कुछ भी गलत नहीं हैं क्योंकि यह धर्म के अनुसार है। कृपया, याद रखें यह अकेली मशीन नहीं जो मायने रखती है असल में उस मशीन को संभालने वाले व्यक्ति की क्षमता, जुनून और संकल्प मायने रखता है। हमें हमारे पीएएफ शहीदों पर गर्व हैं।'


पाकिस्तान की तरफ से यह बयान उस समय आया है जब दोनों दक्षिण एशियाई मुल्कों के बीच तनाव अपने चरम पर हैं। भारत द्वारा जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे पर की गई कार्रवाई को लेकर पाकिस्तान में रोष का माहौल है। राजनाथ सिंह ने आठ अक्तूबर को फ्रांसीसी बंदरगाह शहर बोर्डोक्स में 36 फ्रांसीसी निर्मित राफेल लड़ाकू जेट में से पहला राफेल लड़ाकू जेट प्राप्त किया था और विजयादशमी के शुभ अवसर पर 'शस्त्र पूजा' की। उन्होंने राफेल विमान को 'ओम' से अलंकृत किया और उसपर फूलों, नारियल और नींबू को बुरी नजर से बचाने के लिए रख दिया। इस आयोजन के बाद, सिंह ने पूजा को लेकर सोशल मीडिया पर और कांग्रेस पार्टी से भी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने राजनाथ सिंह की शस्त्र पूजा को 'तमाशा' बताया था। कांग्रेस नेता उदित राज ने भी आपत्ति जताते हुए कहा कि भारत में 'अंधविश्वास' जिस दिन समाप्त हो जाएगा, देश अपने खुदके फाइटर जेट बनाना शुरू कर देगा।


भाजपा विधायक को सुनाई सजा

नई दिल्ली। किसी नेता और विधायक के खिलाफ अगर कहीं मुकदमा चल रह हो तो कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन अगर किसी नेता या विधायक सजा मिल जाये तो ये बड़ी बात हो सकती है। हम बात कर रहे गुजरात के भाजपा विधायक शशिकांत पांड्या की जिनको 21 साल पुराने मामले में कोर्ट ने सजा सुनाई है। भाजपा विधायक को बनासकांठा जिले की एक अदालत ने तीन माह जेल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही उन पर 500 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। विधायक को यह सजा 21 साल पहले सरकारी कामकाज में बाधा डालने के मामले में सुनाई गई है। अदालत ने उन्हें जमानत दे दी है ताकि वह ऊपरी अदालत में अपील दाखिल कर सकें। पांड्या के खिलाफ साल 1998 में डीसा नगरपालिका के कर्मचारियों को उनके कामकाज में अवरोध पैदा करने के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। हालांकि कोर्ट ने सबूतों के अभाव में संदेह का लाभ देते हुए उन्हें तीन मामलों में बरी कर दिया।


वैष्णो देवी से लौट रहे 7 की मौत

नई दिल्ली। नरोरा में गांधी घाट पर श्मशान घाट के रास्ते के किनारे सो रही चार महिलाओं और तीन बच्चियों की एक यात्री बस की चपेट में आने से मौत हो गई। सभी लोग वैष्णो देवी के दर्शन कर लौट रहे थे। रात्रि में करीब ढाई बजे बस गांधी घाट पर आकर रुकी। सुबह गंगास्नान कर वापस लौटने के इरादे से सभी यात्री इधर-उधर सो गए जबकि मृतक सभी सातों श्मशान घाट के रास्ते के किनारे सड़क पर चटाई डाल कर लेट गए थे। एसडीएम संजय कुमार, सीओ विक्रम सिंह व नरोरा आसपास थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई है। परिजनों के आने का इंतजार किया जा रहा है। मृतकों में सभी रिश्तेदार बताए जा रहे हैं।


भाजपा मंडल अध्यक्ष का चुनाव नियत

आकाशुं उपाध्याय


गाजियाबाद। भारतीय जनता पार्टी जिला गाजियाबाद के जिला अध्यक्ष बसंत त्यागी एवं जिला महामंत्री दिनेश सिंघल द्वारा संयुक्त बयान जारी कर आप सभी को सार्वजनिक सूचना के अनुसार अवगत कराया जाता है कि जिला गाजियाबाद में मोदीनगर विधानसभा के सभी मंडलों, लोनी विधानसभा के सभी मंडलों एवं डासना व जलालाबाद मंडल में आगामी 13 अक्टूबर को पार्टी के संगठनात्मक चुनाव संपन्न कराए जाएंगे। जिसमें पार्टी द्वारा आगामी कार्यकाल के लिए सभी मंडलों के मंडल अध्यक्ष चुने जाएंगे। 


इस चुनावी प्रक्रिया में प्रातः 11:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक नामांकन पत्र जमा होंगे तथा 2:00 बजे से 3:00 बजे तक नामांकन वापस लिया जा सकेगा। 
सभी मंडलों के मंडल चुनाव अधिकारी व मंडल सहचुनाव अधिकारी अपने-अपने मंडलों के नियत स्थान पर इस चुनावी प्रक्रिया को संपन्न कराएंगे।


लाभ की संभावनाएं बन रही है:मिथुन

राशिफल


मेष-राशि के जातकों के लिए शुक्रवार का दिन शानदार रहेगा। भावनात्मक रिश्तों से जुड़ें मामलों में शुभ समाचार मिलने की उम्मीद है। आप जो भी फैसला करेंगे आज पूरे होंगे और साझेदारी के कार्य निर्बाध संपन्न होंगे।


वृषभ-राशि के जातकों के लिए आज का दिन थकान भरा रहेगा। जल्दबाजी में किसी भी फैसले से बचें। प्रियजनों के लिए समय निकालने की कोशिश करेंगे।


मिथुन-राशि के जातकों के लिए आज का दिन शुभ रहेगा। कारोबार के सिलसिले में की गई यात्रा लाभदायक रहेगी। परिवार के साथ अच्छा समय बीतेगा। धन लाभ की संभावनाएं भी बन रही हैं।


कर्क-राशि के जातकों के लिए आज का दिन शुभ रहेगा, खासतौर पर छात्रों के लिए दिन शानदार रहेगा। परीक्षा के परिणाम आशा के अनुरूप आएंगे। पारिवारिक जीवन सुचारु रहेगा। नौकरीपेशा जातकों को कार्यस्थल पर सम्मान मिलेगा।


सिंह-राशि के जातकों के लिए आज दिन सामान्य रहेगा। नौकरी में हालात सुधरेंगे। किसी पुराने दोस्त से मुलाकात हो सकती है। इसके साथ ही धन लाख की संभावनाएं भी है।


कन्या-राशि के जातकों का दिन परेशानी भरा रहेगा। काम पूरे करने में विफल मिलेगी। कारोबार में किसी तरह की हानि हो सकती है। वित्तीय बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।


तुला-राशि के जातकों के लिए आज का दिन शुभ रहेगा। कार्यस्थल पर बड़े अधिकारी से प्रोत्साहन मिलेगा। सहकर्मी और सहयोगी आपकी बातों को आसानी से समझेंगे। पुराने धन की प्राप्ती के योग बन रहे हैं।


मकर-राशि के जातकों के लिए आज का दिन भागदौड़ वाला रहेगा। सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर रहेंगे। पैसे कमाने के नए जरिए बनेंगे। कारोबार में लाभ होने की संभावना है।


धनु-राशि के जातकों के लिए आज का दिन शुभ रहेगा। कार्यक्षेत्र में सहकर्मियों के बीच प्रसिद्ध होंगे। जीवनसाथी की सेहत प्रभावित हो सकती है। कारोबार में स्थिति मजबूत होगी।


मकर- राशि के जातकों के लिए का दिन सामान्य रहेगा। आज आपके किए गए सभी कार्य आसानी से पूरे हो जाएंगे। बुरे कार्यों का परिणाम अच्छा नहीं मिलेगा। धन का व्यय अधिक होगा।


कुंभ-कुंभ राशि के जातकों के लिए दिन शुभ रहेगा।आत्मविश्वास को फिर हासिल करेंगे। आर्थिक मामले सुधार होगा। प्रेम संबंध मजबूत होंगे। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा।


मीन-मीन राशि के जातकों के लिए आज का दिन शुभ रहेगा। समाज में मान-सम्मान में इजाफा होगा। शत्रुओं पर विजय मिलेगी। परिवार के साथ अच्छा समय बीतेगा. धन प्राप्ती के योग बन रहे हैं।


'मानद नागरिकता' की प्रक्रिया

कुछ देश उन लोगों को "मानद नागरिकता" प्रदान करते हैं, जिन्हें विशेष रूप से सराहनीय या प्रशंसनीय माना जाता है।


राष्ट्रपति की मंजूरी और संयुक्त राज्य कांग्रेस अधिनियम के द्वारा, मानद नागरिकता केवल सात व्यक्तियों को दी गयी है।


कनाडा की मानद नागरिकता के लिए संसद के सर्वसम्मति से अनुमोदन की आवश्यकता होती है। गिने चुने लोग जिन्हें कनाडा की मानद नागरिकता दी गयी है, वे हैं 1985 में राउल वालेन्बर्ग पोस्थुमोसली, 2001 में नेल्सन मंडेला, 14 वें दलाई लामा, 2006 में तेनजिन ग्यात्सो, 2007 में ऑंग सेन सू क्यी और 2009 में प्रिंस करीम आगा खान।


2002 में दक्षिण कोरिया ने डच फुटबॉल (सॉकर) कोच गूस हिडिंक को मानद नागरिकता दी जिन्होंने सफलतापूर्वक और अप्रत्याशित रूप से राष्ट्रीय टीम को 2002 फीफा विश्व कप में पहुंचा दिया. 2006 में एक ब्लैक कोरियन अमेरिकी फुटबॉल खिलाडी हिनेस वार्ड को भी मानद नागरिकता से सम्मानित किया गया, क्योंकि उन्होंने हाफ-कोरियंस के खिलाफ कोरिया में भेदभाव को कम करने का प्रयास किया था।


अमेरिकी अभिनेत्री एंजेलिना जोली को 2005 में उनके मानवतावादी प्रयासों के लिए कम्बोडिया की मानद नागरिकता से सम्मानित किया गया।


क्रिकेटर मैथ्यू हेडन और हर्शल गिब्स को 2007 क्रिकेट विश्व कप में उनकी रिकॉर्ड तोड़ पारी के लिए 2007 में सेंट किट्स और नेविस की मानद नागरिकता से सम्मानित किया गया।


जर्मनी में मानद नागरिकता शहरों, कस्बों और कभी कभी संघीय राज्यों के द्वारा प्रदान की जाती है। मानद नागरिकता व्यक्ति की मृत्यु के साथ समाप्त हो जाती है, या असाधारण मामलों में, इसे शहर, कस्बे या राज्य की संसद या परिषद के द्वारा वापस ले लिया जाता है। युद्ध के अपराधियों के मामले में, ऐसे सभी सम्मान 12 अक्टूबर 1946 को "जर्मनी की मित्र नियंत्रण परिषद के अनुच्छेद VIII, खंड II, अक्षर i" के द्वारा ले लिए गए। कुछ मामलों में, मानद नागरिकता को 1989/90 को GDR के पतन के बाद पूर्व GDR सदस्यों जैसे एरिच होनेकर से ले लिया गया।[कृपया उद्धरण जोड़ें]


आयरलैंड में, "मानद नागरिकता" वास्तव में एक पूर्ण क़ानूनी नागरिकता है जिसमें आयरलैंड में रहने और मतदान करने का अधिकार शामिल होता है।


क्यूबा के संविधान के अध्याय II अनुच्छेद 29 पैराग्राफ 'e) के अनुसार जन्म से क्यूबा के वे नागरिक विदेशी हैं, जिन्होंने अपने असाधारण गुणों के से क्यूबा के संघर्ष में जीत हासिल की, उन्हें जनस के द्वारा क्यूबा के नागरिक माना जाता है।चे ग्वेरा को क्यूबा क्रांति में भाग लेने के लिए फिदेल कास्त्रो के द्वारा क्यूबा के मानद नागरिक का सम्मान दिया गया, बाद में ग्वेरा ने उन्हें प्रख्यात विदाई भी दी।


ऐतिहासिक दृष्टि से अधिकांश राज्य नागरिकता को अपनी आबादी तक ही सीमित रकहते हैं, इसके द्वारा वे नागरिक वर्ग को राजनैतिक अधिकार देते हैं, जिन्हें आबादी के अन्य वर्गों से बेहतर माना जाता है, लेकिन वे एक दूसरे के सामान होते हैं। सीमित नागरिकता का एक उदाहरण एथेंस है जहां गुलाम, महिलाएं और आवासी विदेशियों (जो मेटिक कहलाते हैं) को राजनैतिक अधिकारों से वंचित रखा जाता है। रोमन गणराज्य एक अन्य उदाहरण प्रस्तुत करता है (देखें रोमन नागरिकता) और हाल ही में, पोलिश-लिथुनियन राष्ट्रमंडल के अभिजात वर्ग में कुछ ऐसी ही विशेषताएं पायी गयी।


हाथीपांव में पैर सूजना जरूरी नहीं

श्लीपद या फीलपाँव या 'हाथीपाँव' (Elephantiasis) के रोगी के पाँव फूलकर हाथी के पाँव के समान मोटे हो जाते हैं। परंतु यह आवश्यक नहीं कि पाँव ही सदा फूले; कभी हाथ, कभी अंडकोष, कभी स्तन आदि विभिन्न अवयव भी फूल जाते हैं। रोग के बहुत से मामलों में कोई लक्षण होता तथापि, कुछ मामलों में हाथों, पैरों या गुप्‍तांगों में काफी अधिक सूजन हो जाती है। त्‍वचा भी मोटी हो सकती है और दर्द हो सकता है। शरीर में परिवर्तनों के कारण प्रभावित व्‍यक्त्‍िा को सामाजिक और आर्थिक समस्‍याएं हो सकती हैं।


फीलपाँव का रोगी जिसका अण्डकोष फूल गया है।
कारण और निदान:-संक्रमित मच्‍छर के काटने से इसके कीड़े फैलते है। जब मनुष्‍य बच्‍चा होता है तो आम तौर पर संक्रमण आरंभ हो जाता है। तीन प्रकार के कीड़े होते है जिनके कारण बीमारी फैलती है: Wuchereria bancrofti, Brugia malayi, और Brugia timori. Wuchereria bancrofti यह सबसे सामान्‍य है। यह कीड़ा lymphatic system को नुकसान पहुंचाता है। रात के समय एकत्रित किए गए खून को, एक प्रकार के सूक्ष्‍मदर्शी के द्वारा देखने पर इस बीमारी का पता चलता है। खून को thick smear के रूप में और Giemsa के साथ दाग के रूप में होना चाहिए।. बीमारी के विरूद्ध एंटीबाडियों हेतु खून की जांच भी की जा सकती है। यह शोथ न्यूनाधिक होता रहता है, परंतु जब ये कृमि अंदर ही अंदर मर जाते हैं, तब लसीकावाहिनियों का मार्ग सदा के लिए बंद हो जाता है और उस स्थान की त्वचा मोटी तथा कड़ी हो जाती है। लसीका वाहिनियों के मार्ग बंद हो जाने से यदि अंग फूल जाएँ, तो कोई भी औषध ऐसी नहीं है जो अवरुद्ध लसीकामार्ग को खोल सके। कभी कभी किसी किसी रोगी में शल्यकर्म द्वारा लसीकावाहिनी का नया मार्ग बनाया जा सकता है। इस रोग के समस्त लक्षण फाइलेरिया के उग्र प्रकोप के समान होते हैं।


रोकथाम और उपचार:-जिस समूह में यह बीमारी हो, उस संपूर्ण समूह की उपचार के द्वारा वार्षिक आधार पर रोकथाम करके बीमारी से पूरी तरह छुटकारा पाया जा सकता है। इसमें लगभग छ: वर्ष लग लगते है। प्रयोग की गई दवाओं में albendazole के साथ ivermectin या albendazole के साथ diethylcarbamazine शामिल है।. दवाईयां बड़े कीड़ों को नहीं मारती परंतु कीड़ों के स्‍वयं मर जाने तक बीमारी को आगे फैलने से रोकती है। मच्छरों के काटने से बचाव के प्रयासों के साथ साथ मच्‍छरों की संख्‍या को कम करने और बेडनेट के प्रयोग की सिफारिश भी की जाती है।


मिरिस्टिका देता है जायफल-जावित्री

मिरिस्टिका नामक वृक्ष से जायफल तथा जावित्री प्राप्त होती है। मिरिस्टका की अनेक जातियाँ हैं परंतु व्यापारिक जायफल अधिकांश मिरिस्टिका फ्रैग्रैंस से ही प्राप्त होता है। मिरिस्टिका प्रजाति की लगभग ८० जातियाँ हैं, जो भारत, आस्ट्रेलिया तथा प्रशंत महासागर के द्वीपों में उपलब्ध हैं। यह पृथग्लिंगी (डायोशियस, dioecious) वृक्ष है। इसके पुष्प छोटे, गुच्छेदार तथा कक्षस्थ (एक्सिलरी, axillary) होते हैं।


मिरिस्टिका वृक्ष के बीज को जायफल कहते हैं। यह बीज चारों ओर से बीजोपांग (aril) द्वारा ढँका रहता है। यही बीजोपांग व्यापारिक महत्व का पदार्थ जावित्री है। इस वृक्ष का फल छोटी नाशपाती के रूप का १ इंच से डेढ़ इंच तक लंबा, हल्के लाल या पीले रंग का गूदेदा होता है। परिपक्व होने पर फल दो खंडों में फट जाता है और भीतर सिंदूरी रंग का बीजोपांग या जावित्री दिखाई देने लगती है। जावित्री के भीतर गुठली होती है, जिसके काष्ठवत् खोल को तोड़ने पर भीतर जायफल (nutmeg) प्राप्त होता है। जायफल तथा जावित्री व्यापार के लिये मुख्यत: पूर्वी ईस्ट इंडीज से प्राप्त होता हैं।


जायफल का वृक्ष समुद्रतट से ४००-५०० फुट तक की ऊँचाई पर उष्णकटिबंध की गरम तथा नम घाटियों में पैदा होता है। इसकी सफलता के लिये जल-निकास-युक्त गहरी तथा उर्वरा दूमट मिट्टी उपयुक्त है। इसके वृक्ष ६-७ वर्ष की आयु प्राप्त होने पर फूलते-फलते हैं। फूल लगने के पहले नर या मादा वृक्ष का पहचाना कठिन होता है। ग्रैनाडा (वेस्ट इंडीज) में साधारणत: नर तथा मादावृक्ष ३ : १ के अनुपात में पाए जाते हैं जमैका के वनस्पति उद्यान में जायफल के छोटे पौधों पर मादावृक्ष की टहनी कलम करके मादा वृक्ष की संख्यावृद्धि में सफलता प्राप्त की गई है।


रेडियोएक्टिव पोलोनियम

पोलोनियम की खोज


पोलोनियम को शुरुआत में 'रेडियम एफ' नाम दिया गया था और इसकी खोज मशहूर वैज्ञानिक और नोबल पुरस्कार विजेता दंपति मैरी क्यूरी और उनके पति पियरे क्यूरी ने सन् 1898 में की थी। मैरी क्यूरी मूलतः पोलैंड की निवासी थीं और जब पोलोनियम की खोज हुई थी तो उस समय पोलैंड, रूस, पुरुशियाई, और आस्ट्रिया के कब्ज़े में था। इसलिए मैरी क्यूरी ने सोचा कि अगर इस तत्व का नाम उनके देश पोलैंड के नाम पर रख दिया जाएगा तो शायद दुनिया का ध्यान पोलैंड की गुलामी की ओर जाएगा। इस कारण इस नए खोजे गए तत्व का नाम 'रेडियम एफ' से बदलकर पोलैंड के सम्मान में 'पोलोनियम' रखा और प्रथम विश्व युद्ध के बाद सन् 1918 में पोलैंड एक आजाद देश बन गया। 


इस तत्व की खोज तब हुई, जब क्यूरी दंपति पिचब्लेंड (खोदने पर मिली पथरीली सामग्री) की रेडियोएक्टिविटी (रेडियोधर्मिता) पर शोध कर रहे थे। उन्होंने पाया कि पिचब्लेंड में से दोनों रेडियोएक्टिव पदार्थ यानी यूरेनियम और थोरियम, अलग करने के बावजूद भी पिचब्लेंड, यूरेनियम और थोरियम से ज्यादा रेडियोएक्टिव था। इस नतीजे ने क्यूरी दंपति को और रेडियोएक्टिव तत्वों की खोज करने के लिए प्रेरित किया और इन्होंने पिचब्लेंड से पहले पोलोनियम और इसके कुछ वर्ष बाद रेडियम पृथक किया।


अल्फा एवं बीटा विकिरण


अल्फा विकिरण एक उच्च आयनीकृत कणों का विकिरण होता है, जिसकी भेदने की क्षमता सबसे कम होती है। अल्फा कणों में दो प्रोटोन और दो न्यूट्रॉन होते हैं, जो हीलियम के नाभिक जैसे कण में आपस में जुड़े होते हैं, इसलिए इन्हें He2+ लिखा जाता है। परमाणु की परमाणविक संख्या 2 के अनुसार कम हो जाती है क्योंकि परमाणु से 2 प्रोटोन निकल जाते हैं और नए तत्व का निर्माण होता है, उदाहरण के लिए अल्फा विघटन के कारण रेडियम, रोडोन गैस बन जाता है। अल्फा कणों की गति ज्यादा नहीं होती बल्कि सभी सामान्य प्रकार के विकरण में सबसे कम होती है क्योंकि इनका द्रव्यमान ज्यादा होता है यानी ज्यादा ऊर्जा अपने चार्ज (आवेश) और बड़े द्रव्यमान के कारण इन्हें एक पतला टिशू पेपर या फिर मानव शरीर की बाह्य त्वचा भी आसानी से अवशोषित कर सकते हैं। इसीलिए अल्फा उत्सर्जकों का फेफड़ों या शरीर में अवशोषित होना या खाने के साथ शरीर में जाना काफी खतरनाक होता है। बीटा विकिरण में इलेक्ट्रॉन होते हैं, जो एल्यूमीनियम प्लेट से रोके जा सकते हैं। गामा विकिरण और अंदर तक भेद सकते हैं। बीटा कण, पोटैशियम-40 जैसे कुछ रेडियोएक्टिव नाभिक से उत्सर्जित होते हैं जो उच्च ऊर्जा, उच्च गति वाले इलेक्ट्रॉन या पोजीट्रॉन होते हैं। 


कितना है पोलोनियम?


पोलोनियम प्रकृति में पाया जाने वाला एक दुर्लभ एवं अत्यधिक रेडियोएक्टिव (रेडियोधर्मी) रासायनिक तत्व है जो Po के चिन्ह द्वारा दर्शाया जाता है और इसकी परमाणु संख्या 34 है। पोलोनियम की विरलता का पता इसी से लगाया जा सकता है कि यूरेनियम अयस्क के प्रति मीट्रिक टन में इसकी मात्रा करीब 100 ग्राम होती है। प्रकृति में जितनी रेडियम की मात्रा होती है, उसकी लगभग 0.2 प्रतिशत मात्रा पोलोनियम की होती है। 


किसी भी ज्ञात तत्व में सर्वाधिक आइसोटोप यानी समस्थानिक, पोलोनियम के हैं और पोलोनियम के सभी आइसोटोप रेडियोएक्टिव हैं। पोलोनियम के 25 ज्ञात आइसोटोप हैं। इनमें 210Po यानी पोलोनियम 210, सबसे ज्यादा उपलब्ध है। 


पोलोनियम 210 की हाफ लाइफ यानी अर्ध आयु (वह अवधि, जिसमें तत्व अपनी रेडियोधर्मिता की आधी क्षमता खो देता है), लगभग 138 दिनों की होती है। इसी तरह, पोलोनियम 209 (209Po) की अर्ध आयु 103 वर्ष तथा पोलोनियम 208 (208Po) की अर्ध आयु 2.9 वर्षों की होती है। पोलोनियम 209 और 208 को सीसे (Pb) या बिस्मथ (Bi) पर अल्फा, प्रोटॉन या ड्यूट्रॉन की साइक्लोट्रॉन में बारिश द्वारा भी बनाया जा सकता है। साइक्लोट्रॉन एक ऐसा उपकरण है जो परमाणविक कणों की गति बढ़ा सकता है यानी साइक्लोट्रॉन के उपयोग द्वारा बिस्मथ पर प्रोटॉन की बारिश करवा कर ज्यादा आयु वाले पोलोनियम के आइसोटोप बनाए जा सकते हैं। 


1934 में अमेरिका में किए गए एक प्रयोग से यह सामने आया कि जब प्राकृतिक बिस्मथ (209Bi) पर न्यूट्रॉन की बारिश की जाती है तो 210Bi यानी बिस्मथ 210 बन जाता है, जो बीटा क्षय के कारण 210Po यानी पोलोनियम 210 में परिवर्तित हो जाता है। इस विधि द्वारा भी 'न्यूक्लियर रिएक्टरों' में पाए जाने वाले न्यूट्रॉन प्रवाह से भी कुछ मि.ग्रा. मात्रा में ही पोलोनियम तैयार किया जाने लगा है। हर वर्ष करीब 100 ग्राम पोलोनियम का उत्पादन किया जाता है, जिस कारण बहुत ही दुर्लभ तत्वों में इसकी गिनती होती है।


सबसे पुरानी भित्तिचित्र कला

भित्तिचित्र कला (Mural) सबसे पुरानी चित्रकला है। प्रागैतिहासिक युग के ऐतिहासिक रिकॉर्ड में पहले मिट्टी के बर्तन बनाये जाते थे, लेकिन कुछ समय बाद लोगों ने मिट्टी का प्रयोग दीवरों पर चित्र बनाने के लिये करने लगे। भित्तिचित्र कला में दीवारों पर ज्यामितिक आकार, कलापूर्ण अभिप्राय, पारंपरिक आकल्पन, सहज बनावट और अनुकरणमूलक सरल आकृतियों में निहित स्वच्छंद आकल्पन, उन्मुक्त आवेग और रेखिक ऊर्जा, अनूठी ताजगी और चाक्षुष सौंदर्य सृष्टि करती है।


परिचय:-भित्तिचित्रण ज्यादातर अब छत्तीसगढ़ के जिलों में देखने को मिलता है। उदाहरण के लिए सरगुजा, तहसील अंबिकापुर के अंतर्गत आने वाले गांव पुहपुटरा, लखनपुर, केनापारा आदि में लोक एवं आदिवासी जातियों द्वारा अभ्यास की जाने वाली ऐसी लोक कला है जो गांव की औरतों के द्वारा वहां की कच्ची मिट्टी से बनी झोपड़ियों की दीवारों पर गोबर, चाक मिट्टी, गोबर आदि को मिलाकर की जाती है। घर की दीवारें मूर्तियों, जालियों, विविध आकल्पनों और भिति के कलात्मक रूप से सुसज्जित की जाती है। जातिय विश्वासों के अनुरुप उनके सृजनलोक में प्रकृति, पशु पक्षी, मनुष्य और देवी देवताओं की सहजत अनोपचारिक उपस्थिति और समरस भागीदार होते है। दीवारों पर बनाई इन कलाकृतियों में पास पड़ोस का अति परिचित ससांर अपने सामाजिक विश्वासों की ओर बद्धमूल संस्कारों की अकुंठित, सरल और आडम्बरहीन अभिव्यक्ति है। सुदूर आदिवासीय क्षेत्रों में जहाँ कि सजावट आदि के साधन अपर्याप्त होते थे, लोग वहाँ प्रचलित विभिन्न त्योहारों व धार्मिक अवसरों के समय अपने घरों की सज्जा हेतु दीवारों में कच्ची मिट्टी द्चारा पेड़-पौधों, पशु-पक्षियों आदि के आकृतियां बनाकर व उनमें बहुत ही मनोरम रंगों से रंगकर अपने घरों को सजाते हैं।


संकल्पमयी संसार की विशेषता

गतांक से...
 मेरे प्यारे, राम ने जब इस प्रकार उपदेश दिया अथवा राष्ट्र के ऊपर यह कहां की, कर्मवेताओं तुम राष्ट्र कृतियों को मुझे प्रदान कर रहे हो! मेरा अंतरात्मा यह कहता है कि राजा के राष्ट्र में विवेक की और वेद को जानने वाले पुरुष होने चाहिए! निवेदक कहते हैं जिस राजा के राष्ट्र में वेदों का उद् गीत गाया जाता है और वेदों का उच्चारण करने वाले पक्षी गण भी होते हैं! उस राजा का राष्ट्र होता है जिस राज्य के राष्ट्र में हिंसा नाम की कोई वस्तु नहीं होती! क्योंकि हिंसा होती है या स्वार्थपरता होती है या स्वार्थ नहीं हुआ करता! वहां हिंसा भी नहीं होती तो ऐसा में मानव जाता है! अहिंसा में राजा है अहिंसा में पड़ जाए अहिंसा में विद्यालय है! स्वतंत्र होकर के ब्रह्मचारी को मन करता रहता है मेरे प्यारे विचार विनिमय आता रहता है मैं व्याख्याता नहीं हूं! देखो राम ने जो कर्म वेताओं को उपदेश दिया कर्मवेता उसे कहा जाता‌ है कर्मवेताओअपने राष्ट्र को उन्नत बनाने के लिए सदैव तत्पर हो जाओ। जिससे मैं अपनी आभा में रत हो जाऊं। राम उपदेश देकर मोन हो गए और यह काल की वैदिक कर्मकांड पर की एक ग्रह में सुगंधी आना। क्योंकि राजा का राष्ट्र जब बनता है। जब प्रत्येक प्रकार को सुगँधी आने लगती है। मेरे प्यारे जैसे यजमान यज्ञशाला में विद्यमान हो करके हूत कर रहा है। वह अग्निवेश वादे रहा है और ग्रह में वायुमंडल पवित्र बन रहा है और ग्रह पवित्रता को धारण कर रहा है। यजमान कहता है। हे प्रभु, मेरा राष्ट्र का में परिणत होना चाहिए। मेरे यहां सुगंधी होनी चाहिए। सुगंधी में परिणत हो रहा है मेरे प्यारे यह सुगंधी भी दो प्रकार की होती है। जो मैंने पुरातन काल में भी यह सुना कि एक वह जो सा कल्य से आती है। अग्नि को विभाजन कर रही है। अब नहीं मानो देवता कहलाती है और द्वित याग्निक है। जो ग्रह में सुगंध आती है मानो अग्नि प्रदीप्त हुई और सुगंध आने लगी बेटा प्रातः कालीन प्रत्येक मेरी प्यारी माता और पुत्र जयंत ब्रह्मचारी जन द्वारा प्रत्येक ग्रह में जब वेद का उद् गीत गाया जाता है और वेद के उस गीत गाने के पश्चात प्रत्येक ग्रह से मानो ध्वनि आ रही है। प्रातः कालीन यज्ञ हो रहा है वेद मंत्रों का प्राण की आहुति दी जा रही है। मानव पवमान की ओर से दी गई और वही हूत बनकर के हमारे अंतरण को पवित्र बना रही है। मानव राष्ट्र को उन्नत बना रही है देखो ब्रह्मा जगत की सुगंधित होना चाहिए। चाहे राष्ट्रवाद की वेदी हो चाहे यह आंतरिक वेद मंत्रों की प्रतिभा और उसे राजा का राष्ट्र सुगंधित हो जाए। मेरे प्यारे देखो, भगवान राम ने यही कहा कि मेरा राष्ट्र जो अयोध्या है यह विष्णु राष्ट्र की स्थापना करें और प्रत्येक ग्रह में सुगंधी होनी चाहिए। बेटा सुगंधी जब साले की होती है तो प्रत्येक मानव के हृदय में सुगंधी विचारों की भी होती है। जब मानवीय जगत में विचार पवित्र हो जाते हैं तो वहीं विचार ध्वनित हो करके एक दूसरे प्राणी को स्पर्श करते रहते हैं। बेटा देखो मैंने तुम्हें कहीं काल में वर्णन करते हुए कहा था कि जब मानव के विचारों की सुगंधित यह प्राणी मात्र हो जाता है। तो विचारों में परिणत हो करके हम परमपिता परमात्मा की भक्ति में खो जाते हैं।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


हिंदी दैनिक


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


October 12, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-69 (साल-01)
2. शनिवार,12 अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,शुक्‍लपक्ष,तिथि- चतुर्दशी,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:16,सूर्यास्त 06:05
5. न्‍यूनतम तापमान -21 डी.सै.,अधिकतम-32+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


नए सीएम भूपेन्द्र के मंत्रिमंडल गठन में साबित हुआ

अकांशु उपाध्याय     नई दिल्ली। भाजपा कहती है कि यह अनुशासनात्मक पार्टी है तो गुजरात में नये मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल के मंत्रिमंडल गठन में...