शुक्रवार, 26 जुलाई 2019

15 साल बाद बांध पर चली चादर

सीकर के बाद अलवर जिले में कई जगह लगातार बारिश, नदी-नाले उफान पर, 15 साल बाद बांधों पर चली चादर


अलवर ! राजस्थान मे मानसून ने दस्तक दे दी है। सीकर में लगातार बारिश के बाद अलर्ट जारी कर दिया है। अब अलवर जिले के ग्रामीण व सरिस्का क्षेत्र में तेज बारिश के बाद नदी-नाले उफान पर है। थानागाजी में सुबह 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक पांच घंटे लगातार तेज बारिश आई। जिससे यह क्षेत्र पूरी तरह से जलमग्न हो गया। स्थानीय लोगों के अनुसार थानागाजी क्षेत्र में 15 साल बाद ऐसी बारिश आई है। आखिरी बार ऐसी बारिश वर्ष 2004 में आई थी। थानागाजी में स्कूल में पानी भर गया, इसके अलावा सडक़ किेनारे दुकानों में भी बारिश का पानी घुस गया है। थानागाजी के अलावा सकट क्षेत्र में भी तेज बारिश के चलते पानी बहने लगा। सकट में एनिकेट पर चादर चलने लगी। जिले में कई साल बाद ऐसी चादर ऐखी गई है। स्थानीय लोग चादर में नहाने पहुंच गए।


भाजपा का मुंगेरीलाल के सपने देखना

भोपाल ! वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी पर आरोप लगाया है कि पार्टी पिछले छह महीने से मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को गिराने की कोशिश कर ही है! ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि बीजेपी इस प्रयास में सफल नहीं होगी! कांग्रेस नेता ने कहा कि बीजेपी का एमपी में सरकार गिराने का सपना मुंगेरीलाल के हसीन सपने देखने जैसे है! ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस की मध्यप्रदेश सरकार सुदृढ़ और मजबूत है और हम पूरे पांच साल सरकार चलाएंगे!


कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के एक दर्जन से अधिक विधायकों के इस्तीफे और गोवा में 10 कांग्रेस विधायकों के पार्टी छोड़ने पर कांग्रेस नेता ने कहा कि बीजेपी पीछे के दरवाजे से सत्ता में आना चाहती है. कांग्रेस नेता ने कहा, ''जहां तक कर्नाटक की बात है, गोवा की बात है, ये कोई नई बात नहीं है! बीजेपी की सीधी सोच है कि जहां-जहां उन्हें सामने के दरवाजे से प्रवेश न मिले, वहां पीछे के दरवाजे से प्रवेश हो.!' कांग्रेस नेता ने कहा, ''बीजेपी का एक ही लक्ष्य है, 'सरकार बनाओ, मौज करो'! बीजेपी को जनता से लेना-देना नहीं है!


कांग्रेस नेता सिंधिया ने कहा कि बीजेपी पिछले छह महीने से मध्यप्रदेश की चुनी हुई सरकार को गिराने की कोशिश में है ! उन्होंने कहा, ''जहां तक मध्यप्रदेश की बात है यह मुंगेरीलाल के हसीन सपने देखने जैसा ही होगा! एमपी में पार्टी के विधायकों को बीजेपी की बात में नहीं आने के लिए पार्टी ने कोई मैसेज विधायकों को दिया है के सवाल पर कांग्रेस नेता ने कहा, ''विधायकों को इंटरनल मैसेज देने की कोई जरूरत नहीं है! हमारे विधायकों को जनता ने चुना है और विधायक अपनी जवाबदेही अच्छी तरह से समझते हैं!'' सिंधिया ने कहा, ”विधायक चाहे बीजेपी के हों या कांग्रेस के, मैं मानता हूं कि जो विधायक चुना जाता है वह परिपक्व है और अपनी जिम्मेदारी को अच्छी तरह से समझता है!”


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा, ''लोकतंत्र में हमें खरीद-फरोख्त को समाप्त करना है और सिद्धांत के आधार पर जनसेवा का काम करना है' सिंधिया ने कहा, ''बीजेपी के लोग जरूर कोशिश करेंगे! मुझे इतना विश्वास है कि कांग्रेस के विधायक और जो पार्टी (बीएसपी, एसपी और निर्दलीय) हमें साथ दे रहे हैं, वे भी हमारे साथ चट्टान की तरह खड़े हैं और वे लाख कोशिश कर लें, लेकिन कांग्रेस की सरकार सुदृढ़ है, मजबूत है! हम पूरे पांच साल सरकार चलाएंगे!''


बता दें कि मध्यप्रदेश में कुल 230 विधानसभा सीटें हैं, इनमें से 114 कांग्रेस के कब्जे में हैं, जबकि 108 बीजेपी, दो बीएसपी, एक एसपी और चार निर्दलीय विधायक हैं! एक सीट वर्तमान में खाली है. कम संख्या में बहुमत होने के कारण बीजेपी प्रदेश सरकार पर कभी भी गिरने का तंज कसती रहती है! वहीं, कांग्रेस कहती है कि हमारी सरकार पूरे पांच साल चलेगी! कांग्रेस में वंशवाद पर पूछे गये सवाल पर सिंधिया ने कहा कि जब पत्रकार का बेटा पत्रकार, व्यापारी का बेटा व्यापारी, वकील का बेटा वकील, डॉक्टर का बेटा डॉक्टर बन सकता है, तो नेता का बेटा नेता क्यों नहीं बन सकता है! क्या कांग्रेस भी बीजेपी की तर्ज पर 70 साल की आयु से ऊपर के सांसदों और विधायकों को मंत्री नहीं बनाएगी, इसपर उन्होंने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा, ''मैं पीएम मोदी नहीं हूं! इस देश की जनता को जवान और बूढ़ों में मत बांटो!''


शहर में चला सघन चैकिंग अभियान

 


पुलिस अधीक्षक कौशाम्बी के कुशल निर्देशन में पूरामुफ्ती पुलिस ने चेकिंग के दौरान   4500/रू0 का वसूला समन शुल्क।


कौशांबी ! पूरामुफ्ती थाना क्षेत्र के सैयदसरावां मोड़ पर पुलिस अधीक्षक कौशाम्बी प्रदीप कुमार गुप्ता के कुशल निर्देशन में पूरामुफ्ती पुलिस ने सघन चेकिंग अभियान के तहत दो पहिया व चार पहिया वाहनों से 4500/-रू0 का समन शुल्क वसूला साथ ही दो पहिया व चार पहिया वाहन चालकों को सक्त हिदायत दी गई कि हेलमेट व सीट बेल्ट लगाकर वाहन चलायें।
आपको बता दें कि पुलिस अधीक्षक कौशाम्बी प्रदीप कुमार गुप्ता के कुशल निर्देशन में पूरामुफ्ती पुलिस  व पी•ए•सी•पुलिस बल के  जवानों द्वारा सैयदसरावां मोड़ पर सघन चेकिंग अभियान चलाया गया, जिसमें सघन चेकिंग अभियान के तहत 4500/रू0 का समन शुल्क वसूला गया, व यातायात संबंधित वाहन चालकों को जागरूक किया गया।चेकिंग के दौरान उपनिरीक्षक अरूण कुमार मौर्य, उपनिरीक्षक प्रमेश यादव, कां0 प्रदीप कुमार, एवं पी• ए• सी• पुलिस बल मौजूद रही,वहीं भारी पुलिस बल मौजूद देख वाहन चालकों में अफरा तफरी जैसा माहौल रहा।


                  रिपोर्ट,  राजेश कुमार 


कार्यकर्ता-सम्मेलन का आयोजन किया

संवाददाता-विवेक चौबे


गढ़वा ! समाजसेवी सह विश्रामपुर विधानसभा क्षेत्र से भावी प्रत्याशी-नरेश सिंह ने कांडी प्रखंड के लिए कार्यकर्त्ता सम्मेलन सह मिलन समारोह का आयोजन किया। यह आयोजन समाजसेवी के मोरबे स्थित पैतृक आवास पर किया गया।आयोजित समारोह की अध्यक्षता-मुरली धर मिश्र ने की। सर्वप्रथम समाज के कई सामान्य लोगों के द्वारा संयुक्त रुप से भारत माता की तस्वीर पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलन कर समारोह का उद्घाटन किया गया। इनमें नंदकिशोर राम, महादेव राम, रघुनंदन राम, गोपाल चंद्रवंशी, अक्षयवर चंद्रवंशी, मुरलीधर मिश्र, रामजन्म पाण्डेय, श्यामाचरण तिवारी व नरेश सिंह आदि के नाम शामिल है। इस मौके पर समाजसेवी नरेश सिंह ने कहा कि उन्होंने समाजसेवा का संकल्प लिया है। उसी के अनुरुप चार वर्षों से जन कल्याण के लिए मिशन जन कल्याण‎ अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने अपनी निजी कमाई का 20 - 25 फीसदी खर्च करने का व्रत लिया है। साथ ही कहा कि आपने सेवा का मौका दिया तो सरकारी निधि सौ प्रतिशत जनता का ही होगा। उनको इसका पैसे भर भी लोभ नहीं है। उन्होंने लोगों से कहा कि वे इस योग्य लगें तो उन्हें मौका दें। मौके पर मौजूद हजारों लोगों ने बार-बार हाथ उठाकर नरेश सिंह को चुनने का कसम लिया।   विषय प्रवेश कराते हुए प्रियरंजन सिन्हा ने अपने संबोधन में कहा कि स्वतंत्र भारत के 72 वर्ष व गणतंत्र भारत के 69 वर्षों के इतिहास में जितना विकास नहीं हो सका उससे अधिक की बानगी कुछ ही वर्षों में नरेश सिंह ने उनके उपार्जन के 20 प्रतिशत खर्च करके दिखा दिया। उर्न्होंने कहा कि आज भी यहां का किसान खून पसीने एक करने के बाद भी रोने के लिए मजबूर है। पानी के बिना बेहद उपजाऊ जमीन बंजर होती जा रही है। उन्होंने कहा कि हाल ही में अरहर, मक्का, तिल के पौधे व धान के बिचड़े झुलस गए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष विश्रामपुर विधान सभा क्षेत्र के गरीबों के बेटों की खतरनाक परिस्थिति‎ में सुदूर प्रदेशों के प्लांट में मजदूरी करते उनकी मौत हो जाती है। कहा कि नरेश सिंह ने निजी स्तर पर 10 डैमों का निर्माण कराकर 30 से 40 हजार एकड़ प्यासे खेतों की सिंचाई‎ सुनिश्चित‎ कर दी है। करीब सात सौ किमी सड़कों का निर्माण व जीर्णोद्धार कराया। दर्जनों खेल मैदान, मंदिर, मदरसा व कब्रिस्तानों का निर्माण कराया। गरीब असहाय की बिटिया की शादी व गरीबों का श्राद्ध, हजारों‎ गरीबों को कंबल, आपदा पीड़ितों को सहयोग व समस्याग्रस्त गांवों व शहर में पीने का पानी मुहैया कराकर समाजसेवा का कीर्तिमान बनाया है। और तारीफ की बात है कि यह सब कुछ निजी स्तर पर किया। जिससे किसानों के खेत में पानी पहुंचा कर सिंचाई की व्यवस्था उपलब्ध करायी गयी।  सतबहिनी झरना तीर्थ, सेमौरा खेल मैदान व पतिला कब्रिस्तान को उदाहरण के रुप में ले सकते हैं। विकास का साक्ष्य व जीता जागता उदाहरण है। ऐसे सैकड़ों विकास कार्य विस के सातों प्रखंड में किए गए हैं। इस दौरान समाजसेवी द्वारा किए गए कार्यों को मौके पर प्रोजेक्टर के माध्यम से दिखाया जा रहा था। इस दौरान समारोह को कांडी पंचायत से वीरेंद्र सिंह, पतरिया से गोपाल चंद्रवंशी, गाड़ा खुर्द से अमरेंद्र विश्वकर्मा, खरौंधा चंद्रदीप पासवान, पतिला से विनय यादव, सरकोनी से पंकज गुप्ता, घटहुआं कला से नंदलाल गुप्ता, लमारी कला से अक्षयवर विश्वकर्मा व गुड्डू पासवान, चटनियां से दिलीप पांडेय, खुटहेरिया से मुरलीधर मिश्र व राम नरेश मिश्र व शिवपुर हरिनारायण पांडेय व विश्रामपुर से विजय ओझा ने सभा को संबोधित किया।


इंग्लैंड ने आयरलैंड को 38 रन पर समेटा

इंग्लैंड ने आयरलैंड को 38 रन पर समेटा, दर्ज की विशाल जीत


 लॉड्‍॔स ! इग्‍लैंड और आयरलैंड के बीच लॉर्ड्स में खेले गए मैच का नाटकीय ढंग से अंत हुआ। मैच की पहली पारी में 85 रन पर सिमटने वाली इंग्लैंड की टीम ने चौथी पारी में आयरलैंड को कुल 38 रन पर समेटते हुए ये मैच 143 रनों से जीत लिया। इंग्लैंड के शीर्ष तेज गेंदबाज क्रिस वोक्स ने इस पारी में 6 विकेट लिए जबकि स्टुअर्ट ब्रॉड ने 4 विकेट चटकाए।इस मैच का पहला दिन बेहद दिलचस्प रहा था। वनडे विश्व कप जीतने वाली इंग्लिश टीम पहली पारी में कुल 85 रन पर सिमट गई थी। आयरलैंड के तेज गेंदबाज टिम मुर्ताघ (5 विकेट) के कहर के सामने इंग्लिश टीम कुल 24 ओवर तक ही टिक सकी थी। इसके बाद आयरलैंड की टीम बल्लेबाजी करने उतरी और वे 207 रन पर ऑलआउट हो गए। यानी पहले ही दिन तीसरी पारी शुरू हो गई थी। इंग्लैंड की टीम ने नाइटवॉचमैन जैक लीच को बल्लेबाजी करने उतार दिया था।


दूसरे दिन 11वें नंबर के बल्लेबाज जैक लीच ने ओपनिंग करते हुए 92 रनों की शानदार पारी खेल डाली। उनकी इस ऐतिहासिक पारी के साथ ही इंग्लैंड ने जबरदस्त संघर्ष करते हुए इस मैच की तीसरी पारी में 303 रनों का स्कोर खड़ा कर दिया। इस दौरान जेसन रॉय ने अपने पहले टेस्ट में पहला अर्धशतक जड़ा। उन्होंने 72 रनों की पारी खेली। इसके साथ ही इंग्लैंड ने आयरलैंड के सामने 182 रनों का लक्ष्य रखा।


मैच का तीसरा दिन (शुक्रवार) शुरू हुआ और आयरलैंड की टीम एक ऐतिहासिक जीत के इरादे से मैदान पर उतरी लेकिन हुआ ठीक उल्टा ही। इंग्लैंड के दो गेंदबाजों- क्रिस वोक्स और स्टुअर्ट ब्रॉड ने आयरलैंड की पूरी पारी को 15.4 ओवर में 38 रन पर ही समेट दिया। आलम ये रहा कि उनका सिर्फ एक बल्लेबाज (मैकुलम- 11 रन) ही दहाई के आंकड़े तक पहुंच सका जबकि तीन खिलाड़ी शून्य पर आउट हो गए। क्रिस वोक्स ने 7.4 ओवर में कुल 17 रन देते हुए 6 विकेट झटके जबकि ब्रॉड ने 8 ओवर में 19 रन देते हुए 4 विकेट हासिल किए।


चौथी बार कर्नाटक के सीएम बने येदियुरप्पा

चौथी बार कर्नाटक के सीएम बने बी एस येदिुरप्पा, राज्यपाल वजुभाई वाला ने दिलाई शपथ


बेंगलुरु ! कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने बी एस येदियुरप्पा को सीएम पद की शपथ दिलाई। इस तरह बी एस येदियुरप्पा चौथी बार कर्नाटक के सीएम बने। इससे पहले उन्होंने तीन बार कर्नाटक की कमान संभाली थी। लेकिन तीनों बार वो अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सके। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने राज्यपाल से मुलाकात कर राज्य में नई सरकार बनाने का दावा पेश किया था।


बाघिन को लाठी-डंडों से पीटकर मार डाला

यूपी में बाघिन की हुई मॉब लिंचिंग, ग्रामीणों ने लाठी से पीट- पीटकर मार डाला


पीलीभीत ! यूपी में बाघिन को लोगों के समूह ने कथित तौर पर लाठी- डंडे से पीट- पीटकर मौत के घाट उतार दिया। रिपोर्ट के मुताबिक, घटना पीलीभीत के मतैना गांव की है। जानकारी के अनुसार, बाघिन ने फील्ड में काम कर रहे एक शख्स पर हमला कर दिया था। इसके बाद बाघिन ने अन्य लोगों पर भी हमला करने की कोशिश की।रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार को खेत में काम कर रहे लोगों पर बाघिन ने हमला कर दिया। हालांकि कुछ लोग भाग भी गए, लेकिन उसके बावजूद भी बाघिन के हमला करने से 9 लोग घायल हो गए थे।


जिला अधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने कहा,'हमें जानकारी मिली है कि बाघिन ने कुछ लोगों पर हमला किया था, जिसमें कई लोग घायल हो गए थे। बाद में, लोगों ने बाघिन को पीट- पीटकर मार डाला। हमने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा है। हमें कुछ वीडियो भी मिले हैं जिसमें कई लोग बाघिन पर हमला कर रहे हैं। हम एफआईआर दर्ज करेंगे। जानकारी के अनुसार, वन विभाग ने एफआईआर दर्ज कराई है। एफआईआर में आरोपियों के खिलाफ पशु क्रूरता निवारण अधिनियम 1960 के तहत मामला दर्ज किया गया है।


समस्याओं के प्रति नेता-अधिकारियों की उदारता

गाजियाबाद,लोनी! नगर पालिका में अधिकारी व कर्मचारी नहीं मानते उपजिलाधिकारी लोनी के आदेश!


मामला इस प्रकार है कि वार्ड नंबर 50 में कुछ लोग अपनी गलियों को बनाने हेतु तहसील लोनी पर आए और अपने सभासद की काली करतूतों को बताते हुए अपनी गलियों को बनाने की मांग की उपजिलाधिकारी लोनी ने प्रार्थना पत्र लेकर लोनी ईओ को आवश्यक कार्रवाई करने के आदेश जारी किए! प्रार्थना पत्र लेकर फरियाद कर्ता नगर पालिका के अधिकारियों से मिलने गये, तो पंकज गुप्ता नामक व्यक्ति मिला और उक्त व्यक्ति को उपजिलाधिकारी के आदेश का प्रार्थना पत्र दिया! उक्त व्यक्ति ने फरियादियों से कहा कि ऐसे आदेश रोज सैकड़ो आते है! जाओ आपका काम नही होगा! अब काम क्या था? काम था गली के निर्माण को लेकर वार्ड 50 के लोग उपजिलाधिकारी लोनी से मिले थे! सभासद ने निर्माण आदि के नाम पर 25000 हजार भी डकार लिये थे! न तो 25000 हजार ही मिले ओर न ही गली बनी ! उक्त गली में पानी भरा खड़ा है निकलने को कोई रास्ता नही है! गली वालो का जीवन पूरी तरह से तहस नहस हो चुका है! लोनी में चेयरमैन तो है नही जो किसी की कोई समस्या सुने! उसे तो बस केवल अखबार में अपनी छपाई चाहिये! ये फरियादी उपजिलाधिकारी ,ईओ लोनी ,चैयरमैन लोनी ,विधायक लोनी सब से अपनी फ़रयाद को लेकर मिले! लेकिन कुछ नही मिला ,मिला तो बस आश्वासन ओर लताड़! आपको ये भी बता दे कि ये फरयादी 2017 से अपनी फ़रयाद लगतार करते चले आ रहे है! लेकिन आज तक कुछ नही हुआ! लोनी में 600 करोड़ के कार्य  भी हो गए !इन फरियादियों का कार्य फिर भी नही हुआ ! एक विकास पुरुष है जिन्होंने विकास की नदियों बहा रखी है!लेकिन वो नदी इन फरियादियों की गली से हो कर आज तक नही बही है! आज भी फरियादियों को उस विकास की बहती नदी का इंतजार है! !उक्त फरियादियों ने ये बताया कि नगर पालिका के कर्मचारियों व सभासद ने उनके वार्ड में बनी 5 गलियों में हमारी एक छोड़, ओर हमारी गली को कागजो में बनी हुई दिखा कर हमारी गली का पैसा हड़प कर गए! क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों द्वारा सोशल मीडिया पर  बड़े बड़े दावे करते है लेकिन हकीकत कुछ और है!


राष्ट्र भक्तों का जवाब (संपादकीय)


अब अवार्ड वापसी गैंग को राष्ट्रभक्त फिल्मी हस्तियों का करार जवाब। 
पूछा कश्मीर और पश्चिम बंगाल में जब हिन्दुओं की हत्या और जेएनयू में भारत तेरे टुकड़े होंगे के नारे लगे तब आवाज क्यों नहीं उठाई।

राष्ट्रभक्त माने जाने वाली 61 फिल्मी हस्तियों का एक पत्र सार्वजनिक हुआ है यह पत्र उन 49 फिल्मी हस्तियों के नाम है जिन्होंने दो दिन पहले देश में मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं पर चिंता प्रकट की और देश में असहिष्णुता का माहौल बताया। फिल्म जगत से जुड़े राष्ट्र भक्त प्रसून्न जोशी, मधुर भंडारकार, कंगना राणावत, सोनल मानसी, पंडित विश्वमोहन भट्ट, विवेक अग्निहौत्री आदि ने सवाल उठाया कि जब कश्मीर घाटी में हिन्दुओं को पीट पीट कर भगाया जा रहा था? जब पश्चिम बंगाल में चुन चुन कर हिन्दुओं की हत्या की जा रही थी, जब दिल्ली के जेएनयू में भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशा अल्लाह इंशा अल्लाह के नारे लग रहे थे तब देश में असहिष्णुता का माहौल नजर क्यों नहीं आया? पत्र में कहा गया कि कुछ लोग राजनीतिक स्वार्थ की वजह से देश को बदनाम कर रहे हैं। जबकि अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भारत का सम्मान बढ़ा है। पत्र में कहा गया कि फिल्मी हस्तियों और बुद्धिजीवियों को नजरिया एक साथ होना चाहिए। उन्हें किसी राजनीतिक दल का हथियार नहीं बनना चाहिए। पत्र में ऐसे अनेक मुद्दे उठाए गए हैं जिनका जवाब 49 फिल्मी हस्तियों से मांगा गया है।
एस.पी.मित्तल


बांध में कब आएगा बरसात का पानी


हे भगवान!
बीसलपुर बांध में कब आएगा बरसात का पानी?
बांध को भरने वाली बनास, खारी और डाई नदियां अभी भी सूखी। 


 जयपुर! राजस्थान के अधिकांश जिलों में वर्षा का दौर जारी रहा है। राजधानी जयपुर में तो भारी वर्षा से जलभराव और यातायात जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई, लेकिन जयपुर सहित तीन जिलों की प्यास बुझाने वाले बीसलपुर बांध में अभी भी पानी नहीं आया है। जयपुर, अजमेर, टोंक और दौसा जिलों के लोगों को बीसलपुर बांध से पेयजल की सप्लाई होती है। बीसलपुर बांध में बनास, डाई और खारी नदियों का पानी आता है। हालांकि ये नदियां वर्ष भर बहने वाली नहीं है, लेकिन जब चित्तौड़ और भीलवाड़ा जिलों में बरसात होती हैं तो इन तीनों ही नदियों में पानी बहने लगता है। खारी और डाई नदी बनास नदी में आकर मिलती हैं, इसलिए टोंक जिले में बनास नदी को पहाड़ों के बीच रोक बीसलपुर में बांध बनाया गया है। बरसात के जानकार लोगों का कहना है कि पिछले दो दिन में जितनी बरसात जयपुर में हुई है, उतनी बरसात यदि बीसलपुर बांध के भराव क्षेत्रों में हो जाती है तो बांध में एक वर्ष का पानी आ जाता और पेयजल की किल्लत समाप्त हो जाती। इसे इन्द्र देवता का मूड ही कहा जाएगा कि जयपुर में तो झमाझम हो रही है, लेकिन जयपुर के लोगों की प्यास बुझाने वाला बीसलपुर बांध सूखा पड़ा है। जहां तक अजमेर जिले के लोगों का सवाल है तो किसी को भी चिंता नहीं है। इसे दुर्भाग्यपूर्ण ही कहा जाएगा कि बरसात के मौसम में तीन चार दिन में एक बार पेयजल की सप्लाई हो रही है। इन्द्र देवता तो जयपुर की तरह अजमेर पर मेहरबान भी नहीं है। अजमेर में अभी तक अच्छी बरसात नहीं हुई है, इसलिए लोगों को गर्मी और उमस का सामना करना पड़ रहा है। सरकार को उम्मीद है कि बीसलपुर बांध के भराव क्षेत्र में अच्छी बरसात होगी और जल्द ही पेयजल की समस्या समाप्त हो जाएगी। इसलिए चार जिलों के लोगों के लिए सरकार ने अभी तक भी आपात योजना नहीं बनाई है। असल में गत वर्ष भी बरसात में बीसलपुर बांध पूरा नहीं भर पाया था। बांध की भराव क्षमता 315.50 मीटर है, लेकिन बांध में 312 मीटर तक ही पानी आया है, इसलिए इस वर्ष अजमेर में सबसे ज्यादा पेयजल किल्लत हुई। यदि इस बार बांध में पानी कम आता है तो भारी संकट खड़ा होगा।
एस.पी.मित्तल


आजम के खिलाफ सदन,की निंदा


आजम खान की दिलेरी से देश के हालातों का अंदाजा लगाया जा सकता है। 
असहिष्णुता होने का दावा करने वाली फिल्मी हस्तियां अब क्या कहेंगी?
लोकसभा में हंगामा। महिला सांसदों ने की निंदा। 
कांग्रेस और ओबैसी ने नहीं की निंदा।

नई दिल्ली ! समाजवादी पार्टी के सांसद और यूपी में अखिलेश सरकार में सबसे ताकतवर मंत्री रहे आजम खान की दिलेरी से देश के हालातों का अंदाजा लगाया जा सकता है। एक ओर 49 फिल्मी हस्तियां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर देश में असहिष्णुता होने पर चिंता जता रही है तो वहीं 25 जुलाई को भरी संसद में आजम खान एक महिला सांसद के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं। वह भी तब जब महिला सांसद रमादेवी लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी पर बैंठी थीं। यानि आजम खान ने इस बात की परवाह ही नहीं की कि रमादेवी अध्यक्ष की कुर्सी पर बैंठी हैं। जब रमादेवी ने माफी मांगने के निर्देश दिए तो आजम खान गुस्से में संसद का बहिष्कार कर चले गए। देखा जाए तो आजम ने संसद का भी सम्मान नहीं किया। आजम खान यह दिलेरी तब दिखा रहे हैं जब यूपी के रामपुर में जौहर यूनिवर्सिटी की जमीन का मुद्दा सुर्खियों में है। मुस्लिम किसानों ने ही आजम पर खेती की जमीन हड़पने के गंभीर आरोप लगे हैं। अब आजम खान पर 27 एफआईआर दर्ज हो चुकी है और यूपी सरकार ने आजम को भू-माफिया घोषित कर दिया है। एसडीएम कोर्ट ने भी आजम पर 3 करोड़ 27 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। आजम पर यूपी के नगरीय विकास मंत्री थे तब यूनिवर्सिटी परिसर में सरकार का गेस्ट हाउस बनवा लिया। अब इस गेस्ट हाउस पर आजम का कब्जा है। चारों तरफ से घिरे होने के बाद भी संसद में आजम खान सभापति की कुर्सी पर बैंठी रमादेवी के लिए अभद्र भाषा बोल रहे हैं और फिर भी फिल्मी हस्तियों को देश में असहिष्णुता नजर आ रही है। देश में कोई डर और भय होता तो आजम खान इस तरह की दिलेरी नहीं दिखा पाते। देश के लिए गंभीर और चिंता की बात तो यह है कि आजम खान और उनके परिवार के सदस्य जनप्रतिनिधि हैं। आजम स्वयं रामपुर से सांसद हैं तथा बेटा विधायक है और पत्नी राज्यसभा की सदस्य। असल में आजम को भी पता है कि इन्हीं तौर तरीकों से चुनाव में जीत मिलती है। लोकसभा के चुनाव में आजम ने अपनी प्रतिद्वंदी और भाजपा की उम्मीदवार जया प्रदा को लेकर अश्लील टिप्पणी की थी। लेकिन फिर भी रामपुर के लोगों ने आजम को सांसद बना दिया। अब आजम का कहना है कि जौहर यूनिवर्सिटी तो ट्रस्ट की है। जबकि आजम इस ट्रस्ट के आजीवन अध्यक्ष हैं और परिवार के चार सदस्य ट्रस्टी हैं। यानि अरबों की जौहर यूनिवर्सिटी आजम  के परिवार की निजी सम्पत्ति है। जो लोग देश का माहौल खराब करने के लिए असहिष्णुता होने की बात करते हैं, असल में वे आजम खान जैसों की हौंसला अफजाई करते हैं। आजम खान के ताजा बयानों की फिल्मी हस्तियों ने कोई निंदा नहीं की है। 
लोकसभा में हंगामा:
आजम खान के बयान पर 26 जुलाई को लोकसभा में जोरदार हंगामा हुआ। भाजपा और अन्य राजनीतिक दलों के सांसद चाहते थे कि आजम खान को सदन से निलंबित किया जाए। भाजपा की महिला सांसदों के साथ साथ एनसीपी की सुप्रिया सूले, टीएमसी की नुसरत जहां, डीएमके की कनीमोझी, अपना दल की अनुप्रिया पटेल, अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत रवि राणा आदि ने भी आजम खान के बयान की निंदा की। केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि यह एक महिला सांसद का विषय नहीं है, बल्कि पूरे सदन की गरिमा का सवाल है। यदि हम सब ऐसी घटनाओं पर चुप रहे तो देश हमें कभी भी माफ नहीं करेगा। आजम खान की टिप्पणी से पूरा देश शर्मसार हुआ है। विधि एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मांग की कि आजम खान को निलंबित किया जावे। सभी सांसदों के विचार सुनने के बाद लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि वे इस संबंध में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से विचार करने के बाद कोई निर्णय देंगे। उन्होंने सदन की भावनाओं को समझ लिया है। 
कांग्रेस और ओबैसी:
लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि कांग्रेस भी महिलाओं के सम्मान की पक्षधर है, लेकिन इस मामले में कोई निर्णय लेने से पहले आजम खान का पक्ष भी सुनना चाहिए। इस पर सदन की महिला सांसदों ने कड़ा एतराज किया। थोड़ी देर बाद चौधरी ने कांग्रेस का फिर से पक्ष रखा और कहा कि पूर्व में श्रीमती सोनिया गांधी के लिए भी टिप्पणियां हुई है। सदन को सभी महिलाओं के हितों का ध्यान रखना चाहिए। लेकिन कांग्रेस ने आजम खान के बयान की निंदा नहीं की। इसी प्रकार एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओबैसी ने कहा कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री एमजे अकबर को लेकर जो कमेटी गठित हुई थी, उसकी रिपोर्ट सदन में रखी जानी चाहिए। कांग्रेस और औबेसी की तरह ही आम आदमी पार्टी की ओर से कहा गया कि आजम खान ने तो भाजपा सांसद रमादेवी को अपनी बहन कहा था।
एस.पी.मित्तल


कार-बस की टक्कर 7 लोगों की मौत

पीलीभीत में कार-बस की टक्कर, 7 लोगों की मौत


पीलीभीत ! उत्तर प्रदेश मेें पीलीभीत जिले के जहानाबाद क्षेत्र में तेज रफ्तार उत्तराखण्ड रोड़वेज की बस और कार के बीच हुई टक्कर में सात लोगों की मृत्यु हो गई और एक बच्चा घायल है।


पुलिस सूत्रों ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बरेली-पीलीभीत राष्ट्रीय राजमार्ग पर खगड़िया पुल के पास आज करीब दो बजे कार और टकरपुर डिपो की बस की आमने-सामने टक्कर हो गई। हादसा इतना भीषण था कि छह लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गई। हादसे में घायल दो बच्चों में से एक ने कुछ देर बाद दम तोड़ दिया। मृतकों में दो बच्चे, दो महिलाएं एवं तीन पुरुष हैं।उन्होंने बताया शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। कार सवार सभी लोग अलीगढ़ के छर्रा इलाके के रहने वाले हैं और बालक का मुडंन कराकर वापस लौट रहे थे। उन्होंने बताया कि हादसे के बाद वाहनों की लम्बी कतार लग गई। बारिश के कारण जाम हटाने में परेशानी हो रही है।


5 को आजीवन कारावास,50 हजार जुर्माना

अदालत ने पांच आरोपियों को सुनाई आजीवन कारावास और 50-50 हजार के जुर्माने की सजा


बागपत !  उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद में चार साल पहले हुई प्रियंका की हत्या में पांच अभियुक्तों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई। प्रियंका के पति और ससुर को दोष मुक्त कर दिया गया। एडीजे स्पेशल एससी,एसटी एक्ट आबिद शमीम की कोर्ट में फैसला सुनाया गया।


एडीजीसी अनुज ढाका ने बताया कि बड़ौत के कमला नगर मोहल्ले में 26 नवंबर 2015 को प्रियंका पत्नी संजीव निवासी तितरौदा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसका पति से विवाद चल रहा था। वह अपने मायके कमला नगर मोहल्ले में भाई के पास रह रही थी। महिला की भाभी मीनू पत्नी राजीव निवासी कमला नगर बड़ौत ने प्रियंका के पति संजय, ससुर होराम, देवर सुनील, बंटी उर्फ दीपक, गौरव, अमित निवासी तितरौदा, पति के बहनोई रोहित और मोहित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।वहीं पुलिस ने विवेचना में बहनोई रोहित का नाम मुकदमे से निकाल दिया था। शेष सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। यह मुकदमा एडीजे स्पेशल एससी,एसटी एक्ट आबिद समीम की कोर्ट में चल रहा था।


पीली साड़ी वाली अफसर ने मचाया धमाल

पीली साड़ी' वाली पोलिंग अफसर ने अब टीक-टाक पर नीली साड़ी में मचाया धमाल,


लखनऊ ! लोकसभा चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर एक 'पीली साड़ी' वाली महिला अधिकारी की तस्वीरें वायरल हुई थीं!रातों-रात यह महिला पोलिंग अफसर फेसबुक से लेकर वाट्सएप पर हर जगह छा गई थी! एक बार फिर इस महिला का एक डांस वीडियो सोशल मीडिया पर धमाल मचाए हुए है!चुनाव ड्यूटी के दौरान 'पिली साड़ी' वाली महिला अफसर के नाम से मशहूर हुई लखनऊ की रीना द्विवेदी का यह टिक टोक वीडियो इन दिनों फेसबुक पर खूब शेयर हो रहा है! रीना द्विवेदी ने इस बात कि पुष्टि की है कि यह वीडियो उन्हीं का है!


बागपत:अपराधियों में है पुलिस की दहशत

एनकाउंटर के डर से 25 हजार के इनामी बदमाश हवा सिंह ने एसपी ऑफिस पहुंचकर किया सरेंडर


एसपी बागपत शैलेश कुमार पांडेय ने कहा बदमाशों में है पुलिस की दहशत


हाल हि में थानाप्रभारी खेकड़ा अजय शर्मा ने एनकाउंटर के दौरान इनामी बदमाश को किया था ढेर


तस्लीम बेनकाब


बागपत। भाजपा की योगी सरकार बनने के बाद से अपराधियों में दहशत का माहौल बन गया है! यूपी पुलिस अपराधियों और इनामी बदमाशों को पागल कुत्ते की तरह ढूंढ रही है! जिसका खौफ अपराधियों और बदमाशों में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है ! जिसके परिणाम स्वरूप बागपत जिले के 25000 के इनामी बदमाश हवा सिंह ने एसएसपी ऑफिस पहुंचकर खुद को पुलिस के हवाले किया! गत सप्ताह बागपत पुलिस ने 25000 के एक इनामी बदमाश को मुठभेड़ के दौरान मार गिराया था! जिससे अपराधियों को यह संदेश मिला है यदि अपराध से नाता रखोगे तो काल का ग्रास बनना पड़ेगा! यदि काल से भी बच गये तो पूरा जीवन लगंडा ही रहना पड़ेगा! इसीलिए बागपत पुलिस से बदमाश ज्यादा को खाए हुए हैं!कोतवाली बडौत इलाके के बावली गांव 5 जून को हुए प्रवीण हत्याकांड का है मुख्य आरोपी! एसपी बागपत शैलेश कुमार पांडेय ने कहा बदमाशों में है पुलिस की दहशत!


विपक्षी दलों के 17 सांसदों की चिन्‍ता

नई दिल्ली ! विपक्षी दलों के 17 सांसदों ने चिंता व्यक्त करते हुए राज्यसभा के सभापति एम, वैंकेया नायडू को खत लिखा है। सभी विपक्षी सांसदों ने सरकार द्वारा जल्दबाजी में संसद की स्थायी और सेलेक्ट कमेटियों की बिना समीक्षा के कानून पारित किए जाने पर चिंता जाहिर की है।राज्य सभा चेयरमैन को पत्र लिखकर चिंता जाहिर करने वालों में समाजवादी पार्टी, डीएमके, सीपीएम, एनसीपी, आरजेडी, बीएसपी, टीडीपी सहित अन्य राजनीतिक दलों के सांसद शामिल हैं।


निगम कर्मचारी ने मांगी 50 हजार रुपये घूस

निर्माण के एवज में निगमकर्मी ने माँगा 50 हजार का घूस


पूर्णिया ! भ्रष्ट्राचार के समंदर में गोता लगाते पूर्णिया नगर निगम के टैक्स दरोगा पर भी अवैध रूप से पैसा माँगने का आरोप लगा है। यह पैसा निगम क्षेत्र में मकान बनाने के एवज में माँगा गया है।
इस बाबत मधुबनी कोरटबारी निवासी मो जावेद आलम ने नगर आयुक्त, जिलाधिकारी,आरक्षी अधीक्षक एवं निगरानी अन्वेषक ब्यूरो को पत्र लिखकर शिकायत की है। पीड़ित जावेद आलम ने बताया कि वे अपने घर का निर्माण कार्य कर रहे थे! तभी नगर निगम क्षेत्र का टैक्स दरोगा जगदीश प्रसाद सिंह आया और निर्माण कार्य रोकने को कहा। टैक्स दरोगा ने यह दलील दी कि जमीन मापी होने के बाद निर्माण होगा, क्योंकि निगम के जमीन में भी घर बनाया जा रहा है।
घर वालो द्वारा इनकार करने के बाद 50 हजार देकर मामले को रफा दफा करने की बात करने लगे। मकान मालिक द्वारा पैसा नहीं देने पर देख लेने की धमकी भी दी गई।
ऐसा नहीं है कि यह निगम के लिए पहला मामला है। ऐसे सैकड़ो आरोप निगम पर पहले भी लग चुके है, मगर आजतक किसी भी कर्मी पर करवाई नही हुई है। नगर क्षेत्र में धरल्ले से मक्का मकान बनाया जा रहा है, मगर जानबूझकर निगमकर्मी उसे नहीं रोकते। जब काफी पैसा लगाने के बाद आधा घर बन जाता है तो उस क्षेत्र के निगमकर्मी काम रोकने के लिए आ धमकते है। जबकि नियम है कि अवैध रूप से निर्माण करने वालो को नोटिस कर जुर्माना वसूलने का। मगर खुद मौके पर पहुँचकर मकान तोड़ने का धोष दिखाकर लाखों ऐंठ लेते है और सरकार के राजस्व का चूना लगा देते है। समाजसेवी मो शकील का कहना है कि जिस जगदीश प्रसाद सिंह पर यह आरोप लगा है उसका खुद का घर करोड़ो का है। जितना तनख्वा नहीं है उससे ज्यादा का घर कहाँ से आया। वहीं पीड़ित ने बताया कि वे निगमकर्मी के संपति की जाँच के लिए निगरानी अन्वेषक ब्यूरो को भी पत्र लिखा है।


लखीमपुर-सीतापुर ट्रैक पर 10 से दौडेगी ट्रेने

सीतापुर-लखीमपुर ट्रैक पर 10 से दौड़ेंगी ट्रेनें


लखीमपुर । सीतापुर-लखीमपुर ट्रैक पर अब जल्द ट्रेनें दौड़ेंगी। केंद्रीय रेल राज्यमंत्री 10 अगस्त को लखीमपुर रेलवे स्टेशन से ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। इसके बाद से यात्रियों को इस रूट पर ट्रेन से यात्रा करने की सुविधा मिल जाएगी।सीतापुर जिले में दो रेलवे ट्रैक हैं। इनमें पूर्वोत्तर और उत्तर रेलवे शामिल हैं। पहले दोनों ट्रैक मीटरगेज थे। उत्तर रेलवे ट्रैक को पहले ही मीटरगेज से ब्रॉडगेज में तब्दील किया जा चुका है। उसके बाद से ऐशबाग वाया सीतापुर - लखीमपुर-मैलानी-पीलीभीत ट्रैक के आमान परिवर्तन की मांग की जा रही थी।


जनता की मांग पर रेल मंत्रालय ने इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दी। पहले चरण में लखनऊ से सीतापुर के बीच मई और दूसरे चरण में सीतापुर से मैलानी तक अक्तूबर 2016 में रेल यातायात पर ब्रेक लगा दिया गया था।इसके बाद लखनऊ (ऐशबाग) से पीलीभीत के बीच 207 किमी. बिछाई गई मीटर गेज की लाइनों को ब्रॉडगेज में बदलने की जिम्मेदारी रेलवे ने रेल विकास निगम (आरवीएनएल) को सौंपी थी।दो चरणों में आमान परिवर्तन का काम शुरू भी कर दिया गया। पहले चरण में ऐशबाग से सीतापुर के बीच 80 किलोमीटर रेलखंड का आमान परिवर्तन करीब 350 करोड़ की लागत से शुरू हुआ।इसके बाद सीतापुर से मैलानी के बीच 67 किलोमीटर रेलखंड के आमान परिवर्तन का काम करीब 211 करोड़ से शुरू किया गया। लखनऊ से सीतापुर के बीच काम पूरा होने पर जनवरी 2019 में बड़ी लाइन की ट्रेनों का संचालन शुरू किया जा चुका है। जबकि सीतापुर से लखीमपुर तक रेल संचालन शुरू नहीं किया जा सका है।मार्च 2019 में सीतापुर-लखीमपुर रेलवे ट्रैक का सीआरएस किया गया। सीआरएस के एक माह बाद तक जब रेल संचालन चालू नहीं कराया जा सका तो चार जून को पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य अभियंता एसके पांडेय, महाप्रबंधक सिग्नल श्रीकांत सिंह तथा महाप्रबंधक परिचालन एके सिंह ने यहां पहुंचकर ट्रैक की गुणवत्ता परखी।जून के अंत तक रेल संचालन शुरू करने का दावा किया मगर रेल नहीं दौड़ाई जा सकी। जून के अंतिम सप्ताह में दोबारा रेलवे के अफसरों ने ट्रैक व स्टेशनों का निरीक्षण कर जुलाई अंतिम व अगस्त पहले पखवारा में इस रूट पर ट्रेन दौड़ाने के संकेत दिए थे, तब से यहां की रेल मुसाफिर रेल संचालन शुरू होने की राह ताक रहे थे।
रेलवे बोर्ड ने सीतापुर-लखीमपुर रूट पर ट्रेनों का संचालन शुरू करने की तारीख तय कर दी है। दस अगस्त को ट्रेन का संचालन शुरू किया जाएगा। उद्घाटन समारोह लखीमपुर में होगा। केंद्रीय राज्यमंत्री सुरेश सी अंगड़ी लखीमपुर रेलवे स्टेशन पर हरी झंडी दिखाकर ट्रेन को सीतापुर के लिए दौड़ाएंगे। रेलवे प्रशासन ने उद्घाटन समारोह की तैयारियां शुरू कर दी हैं। डीआरएम आज तैयारियों का लेंगी जायजा
पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल की प्रबंधक विजय लक्ष्मी कौशिक शुक्रवार को दौरे पर आएंगी। यहां से लखीमपुर तक ट्रैक का निरीक्षण करेंगी। वहां उद्घाटन समारोह की तैयारियों का भी जायजा लेंगी। लखीमपुर सीतापुर ट्रैक पर 10 से दूरी की ट्रेनें


सांप ने 2 छात्रों को काटा,दोनों की मृत्यु

संतोष गुप्ता


जशपुर। जिले के बगीचा विकासखंड स्‍थित शासकीय प्राथमिक स्कूल टटकेला में एक विषैला सांप निकल कर क्लास रूम में घुस गया!  क्लास रूम में जहरीले सर्प ने 2 छात्रों को काट लिया! दोनों छात्र कक्षा 3 में पढ़ते थे! क्लास रूम में अफरा-तफरी मच जाने से सांप ने घबराकर 2 छात्रों को काट लिया! सर्पदंश की वजह से कुछ ही देर में विष का असर शरीर में फैलने लगा जिसके कारण तीसरी कक्षा की दो छात्राओं के मुह से छाग निकलने लगा! सांप इतना विषैला था किआनन-फानन में ही एक छात्रा की मौके पर मौत हो गई! तो वहीं दूसरी छात्रा को बगीचा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ईलाज के लिये पहुंचाया गया! जहां पर जाँच के बाद बेहतर उपचार के लिए अंबिकापुर जिला अस्पताल रिफर किया गया! हलाकि छात्रा को अंबिकापुर ले जाते समय उसने भी रास्ते में ही दम तोड़ दिया !


तिलहन का रकबा दस प्रतिशत कम

इंदौर । सोयाबीन उत्पादक क्षेत्रों में सुस्त मॉनसून के बीच, केंद्र सरकार के एक संस्थान ने अनुमान जताया कि देश में इस तिलहन फसल का रकबा 10 प्रतिशत गिरकर तकरीबन 100 लाख हेक्टेयर रह सकता है। इंदौर के भारतीय सोयाबीन अनुसन्धान संस्थान (आईआईएसआर) के निदेशक वीएस भाटिया ने बताया ‎कि मौजूदा हालात के मद्देनजर हमें लगता है कि देश में खरीफ के इस मौसम के दौरान सोयाबीन का रकबा 100 लाख हेक्टेयर रह सकता है। गौरतलब है कि आईआईएसआर निदेशक ने सात जुलाई को अपने पिछले अनुमान में कहा था कि मौजूदा खरीफ सत्र में सोयाबीन का राष्ट्रीय रकबा 110 लाख हेक्टेयर रह सकता है। वर्ष 2018 के खरीफ सत्र में भी देश में लगभग इतने ही क्षेत्र में सोयाबीन बोया गया था। बहरहाल, मॉनसून की सुस्त चाल के कारण आईआईएसआर निदेशक को अपना पिछला अनुमान संशोधित करना पड़ा है। भाटिया ने बताया ‎कि सबसे बड़े सोयाबीन उत्पादक मध्यप्रदेश में मॉनसून पहले तो देरी से आया। इसके बाद सूबे में सोयाबीन की खेती वाले प्रमुख इलाकों में मॉनसूनी बारिश में कमी दर्ज की गई। इसका सीधा असर सोयाबीन बुआई पर पड़ा है। मध्यप्रदेश के कुछ सोयाबीन उत्पादक हिस्सों में हालांकि पिछले दो दिन में मॉनसूनी बारिश का दौर फिर शुरू हुआ है। लेकिन सूबे के कई हिस्सों में वर्षा की लम्बी खेंच से किसान चिंतित हैं। इन इलाकों में अगर जल्द ही अच्छी बारिश नहीं हुई, तो सोयाबीन फसल की पैदावार पर असर पड़ सकता है।


आदित्यनाथ ने शहीदो को दी श्रद्धांजलि

लखनऊ। शहीद स्मारक पर आज सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कारगिल विजय दिवस की 20 वीं वर्षगांठ पर कारगिल में बलिदान हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी। योगी आदित्यनाथ ने कहा कारगिल विजय बड़ा मूल्य देकर पाई है !हमारे कई वीर सैनिक इस लड़ाई में बलि की वेदी पर बलिदान हो गए! उन्होंने राष्ट्र को सर्वोपरि मानते हुए उस पथ पर अपने प्राणों की आहुति दे दी! राष्‍ट्र को गौरवशाली विजय प्रदान की! ऐसे अमर वीर सपूतों को हम बार-बार नमन करते हैं! देश के प्रति बलिदान होने वाले सभी सैनिकों का बार बार धन्यवाद है! इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, महापौर संयुक्ता भाटिया व अन्य मौजूद थे।


सेक्स रैकेट का सरगना निकला दिव्यांग

लखनऊ:सेक्स रैकेट का सरगना निकला दिव्यांग भिखारी, नशे की लत लगा किशोरियों से करवाता था जिस्मफरोशी


लखनऊ ! राजधानी लखनऊ से ऐसे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है जिसमें दूसरे प्रदेश से लाई गई लड़कियों को नशे की लत लगाकर जिस्मफरोशी के धंधे में धकेला जाता था! इस सेक्स रैकेट का सरगना एक भिखारी निकला! गुरुवार को पुलिस ने दिव्यांग भिखारी विजय बद्री उर्फ़ बंगाली को गिरफ्तार कर लिया!


दरअसल मामले का खुलासा तब हुआ जब गुरुवार सुबह विजय के चंगुल से भागकर दो किशोरियां बादशाहनगर स्टेशन पहुंची! उनके साथ दो किशोर भी थे! उसी दौरान गश्त पर निकले आरपीएफ दरोगा की नजर उन पर पड़ी! दो किशोरों के साथ किशोरियों को देखकर जब दरोगा वंश बहादुर ने उन्हें रोका तो दो किशोर भाग निकले! जिसके बाद किशोरियों ने विजय के सारे राज उगल दिए! आरपीएफ चौकी इंचार्ज वंश बहादुर की तहरीर पर केस दर्ज कर आरोपित विजय को गिरफ्तार कर लिया गया!


अवैध शराब के खिलाफ चलाया अभियान

अवैध शराब को लेकर डीएम बीएन सिंह के निर्देश पर आबकारी विभाग के अधिकारी गण एक्शन में, बड़ी कार्रवाई करते हुए अवैध शराब बरामद मुकदमा किया गया दर्ज 


गौतमबुध नगर ! जनपद में अवैध शराब की बिक्री पर अंकुश लगाने तथा कच्ची शराब पर प्रतिबंध लगाने के उद्देश्य से जिलाधिकारी बीएन सिंह के निर्देशन में आबकारी विभाग के अधिकारियों द्वारा निरंतर रूप से सघन चेकिंग अभियान संचालित किया जा रहा है। इस क्रम में विगत दिवस देर रात आबकारी विभाग की टीम द्वारा सेक्टर 51 होशियारपुर ने एक घर की तलाशी के दौरान 10 पेटी इंपैक्ट हरियाणा मार्का अवैध शराब बरामद की गई। संबंधित के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। इसके अलावा रूट चेकिंग के दौरान कालिंदी कुंज पोस्ट पर दो पहिया वाहन up16 बीएच 18 61 से 3 पेटी अवैध शराब हरियाणा मार्केट बरामद किया गया संबंधित के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत थाना सेक्टर 39 में अभियोग पंजीकृत कराया गया। यह जानकारी जिला आबकारी अधिकारी राकेश बहादुर सिंह के द्वारा दी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि यह अभियान जनपद में निरंतर रूप से इसी प्रकार आगे भी संचालित रहेगा और अवैध शराब का कारोबार करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


विकास के नाम पर धन का दुरुपयोग

विकास कार्य के नाम पर शासकीय राशि का दुरुपयोग,बिना आवश्यकता वाले समतल स्थान पर कराया जा रहा पुलिया निर्माण,अधिकारी मौन


कोरबा,कोरबी ! पंचायतों का विकास ग्रामीणों के हाथ की कल्पना कर निर्मित किये गए पंचायतीराज अब जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों के लिए जेबें भरने का जरिया बन गया है।जहाँ यह भी नही देखा जाता कि कौन सी विकास योजनाएं ग्रामीणों के लिए सुविधापूर्ण तथा लाभदायक होगी।कुछ इसी प्रकार का मामला सामने आया है जिसमे बिना औचित्य वाले समतल स्थान पर पुलिया का निर्माण कराकर शासन की राशि का दुरुपयोग किया जा रहा है और संबंधित अधिकारी-कर्मचारी राशि दुरुपयोग रोकने के बजाए मौन धारण किये बैठे है।मामला है जिले के पोड़ी उपरोड़ा जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत कोरबी का।जहाँ 6 लाख की स्वीकृति से पुलिया का निर्माण कार्य कराया जा रहा है।लेकिन जिस स्थान पर पुलिया निर्माण का कोई औचित्य ही नही है।उस समतल मार्ग को खोदकर लाखों का पुलिया निर्माण की आड़ में शासकीय धन का दुरुपयोग किया जा रहा है।जबकि वह मार्ग समतल व बारहमासी आवागमन के लिए सुगम रहता है।किन्तु निजी हित साधने के चक्कर मे अधिकारी के मौन सहमति पर इस कार्य को अंजाम दिया जा रहा है।नियमतः पंचायतों में होने वाले निर्माण कार्य पर स्थल निरीक्षण व मूल्यांकन का जिम्मा उप अभियंता की होती है।जबकि जनपद के मुख्यकार्यपालन अधिकारी एवं आरईएस के एसडीओ के देखरेख में निर्माण कार्य पूर्ण होने उपरांत सीसी जारी किया जाना होता है।किन्तु ऐसा कुछ भी नही हो रहा है।और नियम विरुद्ध मनमाने कार्य कराया जा रहा है।इस संबंध पर ग्रामीण कार्तिकराम का कहना है कि सरपंच-सचिव की मनमानी चरम पर है।जहाँ पुलिया की आवश्यकता है उन नालो में आजतक महज ढ़ोल पाईप भी नही लगाया गया।और जहाँ ग्रामीणों को कोई लाभ नही है वहाँ लाखों का पुलिया बनवाया जा रहा है।इसी प्रकार अनेकों वार्ड जहाँ सीसी रोड की नितांत आवश्यकता है।उन वार्डों में बारिश के दिनों पर कीचड़ में चलना पड़ता है।सरपंच-सचिव द्वारा इस दिशा पर आजतक ध्यान नही दिया गया।और जहां एक प्रतिशत लाभ नही वहाँ पुलिया निर्माण कराया जा रहा।इसी प्रकार संजय कुमार का कहना है कि सरपंच-सचिव ग्रामीणों की नही सुनते और अपनी मनमानी करते रहते है।जो कार्य जनहितैषी होते है वह नही कराया जाता।तथा जो कार्य जेबें भरने लायक हो उसे प्राथमिकता दी जाती है।जिसके कारण ग्रामीण इनके रवैये से त्रस्त है।


पंचायतीराज गाँवों में लागू करते वक्त तत्कालीन मध्यप्रदेश सरकार की सोच थी कि ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाले निर्माण कार्यों से गाँव के श्रमिक वर्ग के साथ-साथ ग्रामवासियों को फायदा हो।मगर बीते कुछ वर्षों में पंचायती राज में भ्रष्टाचार इतना बढ़ा है कि ग्रामीणों के लाभ हेतु आने वाली विकास राशि पर सरपंच-सचिव के साथ-साथ संबंधित अधिकारी-कर्मचारी मिलकर ऐश करते है।इसका प्रत्यक्ष उदाहरण यह है कि गत पंचायत चुनाव में चुने गए कई जनप्रतिनिधि महज एक वर्ष में ही आलीशान बंगले व चारपहिया,छःपहिया वाहन के मालिक बन गए है।और उनका स्तर सुधर गया लेकिन पंचायत का स्तर अब भी नही सुधर पाया है।जिससे लगता है कि पंचायती राज का मूल मुद्दा अब ग्रामीणों के लिए नही रह गया।तथा कुछ खास लोगों के लिए जेबें भरने का कारोबार बन गया है।संबंधित अधिकारी भी इससे अनजान नही है।मगर बंदरबांट के हिस्से में शामिल ऐसे अधिकारी मूक बने रहकर तमाशबीन बन जाते है।मामले पर प्रतिक्रिया जानने संबंधित उप अभियंता अवधेश कुमार से उनके मोबाइल क्रमांक 7049849290 व 6261657912 पर सम्पर्क करने का प्रयास किया गया।लेकिन संपर्क नही हो पाया।जिसके कारण उनकी प्रतिक्रिया नही मिल पायी।फिलहाल कराए जा रहे उक्त कार्य की आवेदनमय शिकायत कोरबी निवासी ग्रामीण राहुल कुमार रात्रे द्वारा 18 जुलाई 2019 को जिला पंचायत सीईओ से की गई है।देखना है मामले पर किस प्रकार की कार्यवाही की जाती है!


छठे विशाल कावड़ महोत्सव का शुभारंभ

छठवां विशाल कावड़ महोत्सव का शुभारंभ


गाजियाबाद ! युग परिवर्तन सेवा समिति के तत्वाधान में छठवां विशाल कावड़ महोत्सव का शुभारंभ विशेष अतिथि महापौर आशा शर्मा अतिथि हनुमान मंगलम परिवार  ट्रस्ट के संस्थापक बी के शर्मा हनुमान ने संयुक्त रूप से नारियल तोड़कर वैदिक मंत्रोचार कर किया! इस अवसर पर आचार्य योगेश दत्त गोड, पूर्व विधायक नरेंद्र सिंह सिसोदिया, देवेंद्र हितकारी,डॉ जय प्रकाश मिश्रा, भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल खेड़ा, राष्ट्रीय लोक दल के वरिष्ठ नेता ऑडी त्यागी, राजीव राज त्यागी, आशा चौधरी, साक्षी नारंग,सोनू शर्मा, अमित सारस्वत, युग परिवर्तन सेवा समिति के अध्यक्ष सुनील त्यागी, मांगेराम त्यागी वरिष्ठ उपाध्यक्ष, छोटेलाल कनौजिया महामंत्री, प्रदीप चौधरी सह कोषाध्यक्ष ने संयुक्त रूप से सभी अतिथियों का अंग वस्त्र फूल मालाओं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया!


पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया

वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का लिया संकल्प


अलवर,गोविंदगढ़! कस्बे के सीमावर्ती गांव भैंसडावत में स्थित राधा कृष्ण मंदिर पर पंचवटी परिवार एवं ग्रामीणों ने वृक्षारोपण किया जिसमें पारस-पीपल, शीशम, नीम, कनेर एवं फूलदार पौधे लगाए गए! सभी वृक्ष मित्रों ने पौधों को जीवित एवं सुरक्षित रखने का संकल्प लिया! पंचवटी परिवार के संयोजक श्री प्रभुदयाल गोयल ने बताया कि पंचवटी परिवार द्वारा क्षेत्र में पर्यावरण को सुरक्षित एवं संतुलित बनाए रखने के लिए हजारों की संख्या में वृक्षारोपण किया जा रहा है जिसमें काफी पौध है जीवित रहकर पेड़ बन चुके हैं, लगातार हो रही वृक्षों की कटाई के चलते पृथ्वी का संतुलन बिगड़ गया है जिसे संतुलित करने के लिए सभी को इस मुहिम का हिस्सा बनकर अधिक से अधिक संख्या में पेड़ लगाने चाहिए!


योगेन्द्र द्विवेदी ने बताया कि वृक्ष हमारे जीवन का आधार है वृक्षों के  बिना पृथ्वी पर जीवन जीना असंभव है! आज वृक्षारोपण किया गया है वह ग्रामीणों एवं हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए एक बहुत बड़ा अनमोल तोहफा है! इस अभियान का आने वाले समय में दूरगामी परिणाम देखने को मिलेगा साथ ही सभी से निवेदन किया कि व्यक्ति अपने जीवन में कम से कम एक पौधा अवश्य लगाएं! वृक्षारोपण मे योगेंद्र दिवेदी, रिंकू सैनी, सुनील, साजिद, योगेश, हनुमत, देवेंद्र, बबलू, राजेश, कपिल, मनजीत, , सन्दीप, हैमंत, लोकेश, सोनू, महावीर, रवि, मोनू, अशोक, राजेन्द्र, सतीश, दीपक, कैलाश, राहुल, मानसिंह मुकेश एवं सभी ग्रामीण उपस्थित रहे सभी ने अधिक से अधिक पेड़ लगाकर उन्हें सुरक्षित रखें पर्यावरण के संरक्षण करने की शपथ ग्रहण की!मंदिर के पुजारी श्री रामसहाय सतवादिया ने बताया कि जैसा कि हम सभी जानते है कि पर्यावरण के बिना रहना असंभव है और इसे बचाने के लिए पेड़ बहुत ही आवश्यक है और पेड़ की प्राप्ति के लिए हमें अभी से जुट जाने की जरूरत है तब जाकर कहीं कुछ समय पश्चात हमें छोटे-छोटे पौधे विशाल वृक्ष के रूप में दिखाई देंगें।


संवाददाता योगेन्द्र द्विवेदी


मुख्यमंत्री सहित तीन को पेश होने का आदेश

केजरीवाल सहित 3 नेताओं को सम्मन


नई दिल्ली ! भाजपा दिल्ली प्रदेश के वरिष्ठ नेता, वाईस चेयरमैन एनडीएमसी एवं पूर्व विधायक करण सिंह तंवर ने आज एक संवाददाता सम्ममेलन में बताया कि उनके द्वारा दिनांक 16 मई 2016 में हुए एनडीएमसी के लॉ ऑफिसर स्व0 एम.एम.खान हत्याकाण्ड के मामले में दायर मानहानि की शिकायत याचिका पर दिल्ली की अदालत ने मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पांडेय, दिल्ली छावनी क्षेत्र के विधायक सुरेन्द्र सिंह एवं ओखला से विधायक अमानतुल्लाखान को समन जारी कर इन सभी को 7 अगस्त को न्यायालय में पेश होने का आदेश  दिया है।  


तवँर ने आगे कहा कि यह अत्यन्त दुःखद व शर्मनाक बात है कि मुख्यमंत्री के संवैधानिक पद पर बैठे अरविन्द केजरीवाल ने अपनी राजनीति नाकामियों की ओर से जनता का ध्यान हटाने के उद्देष्य से तँवर के साथ जघन्य अपराध जैसा कुकर्म किया है। उन्होंने तॅंवर की 46 वर्षों की बेदाग, भ्रष्टाचार विरोधी व नर सेवा नारायण सेवा की राजनीतिक छवि को धूमिल करने के लिए एनडीएमसी के पूर्व सम्पदा अधिकारी स्व0 श्री एम एम खान की लगभग दो वर्ष पूर्व हुए हत्याकांड में  तॅंवर की संलिप्तता होने की बात कह दी। जबकि दिल्ली पुलिस द्वारा इस हत्याकांड में षड्यंत्रकारियों को 48 घंटों के भीतर जेल की सींखचों में डाल दिया गया था। साथ ही तॅंवर को इस पूरे प्रकरण में दिल्ली पुलिस द्वारा क्लीन चिट भी दे दी गई थी। फिर भी केजरीवाल, दिलीप पांडेय और इनके दोनों विधायक बाज नहीं आये और अपनी कुत्सीत मनोवृत्ति के अनुसार अपना भोंपू चालू रखे रहे। तॅंवर के खिलाफ धरने प्रदर्षन व कैंडल मार्च तक निकाले गए।


 तँवर ने  कहा कि अपनी धार्मिक प्रवृत्ति और चौबीसों घंटे जनता की सेवा में उपलब्ध रहने तथा उनकी जन छवि की ओर से जनता का ध्यान हटाने के लिए इन नेताओं ने इस तरह का षड्यंत्र रचा। जबकि सब जानते हैं कि अपनी निजि जिन्दगी में वे एक चींटी भी नहीं मार सकते। ऐसे व्यक्ति का हत्या जैसे जघन्य अपराध में नाम घसीटना उसकी हत्या करने जैसा ही अपराध है। वही अपराध केजरीवाल और उनके साथियों ने किया। इसीलिए उन्हें विवष होकर कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा था और कोर्ट ने अब केजरीवाल, दिलीप पांडेय, विधायक सुरेन्द्र सिंह तथा विधायक अमानुतुल्लाह खान को इसी केस में 7 अगस्त को तलब किया है। उन्होंने मानहानि से जुड़े इस निर्णय को एक बार फिर असत्य पर सत्य की विजय का नाम दिया है।  


अंत में  तँवर ने बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को झूठ बोलने में महारत हासिल है तथा झूठ बोलना उनका फैषन बन चुका है। इसी प्रकार के अनेकों झूठ इन्हें विभिन्न न्यायालयों के कठघरे में खड़ा कर चुका है जिसके लिये यह कई बार माफी भी मांग चुके हैं। यही नहीं अपने बच्चों तक की झूठी कसमें खाना इनकी आदतों में शुमार हो गया है। एक ऐसी ही झूठी साजिष इन्होंने इस एम एम खान हत्याकांड में रची और इस बार भी इन्हें मुंह की खानी पड़ी है। अगर अब भी मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनके नेता झूठ बोलने से बाज नहीं आये तो माननीय न्यायालय के साथ साथ दिल्ली की जनता भी उन्हें माफ नहीं करेगी। इसलिये मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को इस पूरे मामले में माफी मांगते हुए ,नैतिक आधार पर अपने संवैधानिक पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।


मंडी-शुल्क चोरी के खिलाफ कार्रवाई

बुलंदशहर ! जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार के निर्देश पर जनपद में मण्डी शुल्क की चोरी की सूचना पर रात 10 बजे मण्डी समिति अनूपशहर रोड पर 9 गाड़ियों को शुल्क की चोरी किये जाने पर जब्त किया गया। चोरी पर 5 लाख 34 हजार 856 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया और सभी वाहनों को मण्डी समिति के सुपुर्दगी में दे दिया गया। रात्रि के समय अनूपशहर रोड पर नगर मजिस्ट्रेट विवेक कुमार मिश्र, सीओ सिटी रवीन्द्र कुमार के संयुक्त अभियान के अन्तर्गत गाड़ियों को पकड़कर निरीक्षण किये जाने पर मण्डी शुल्क अदा किये जाने का कोई भी अभिलेख न पाये जाने पर संबंधित के विरूद्ध कार्रवाई करते हुए जुर्माना आरोपित किया गया। पकड़ी गई गाड़ियों में 2 गेहूं, 1 मक्का और 6 गाड़ियों में आलू पाया गया। जिलाधिकारी ने इस प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए सचिव मण्डी समिति से स्पष्टीकरण मांगा है। उन्होंने जनपद के समस्त मण्डी समिति के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मण्डी शुल्क की किसी भी दशा में चोरी नहीं होने दी जायेगी और अधिकारियों द्वारा निरन्तर अभियान संचालित रहेगा। उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि यदि अभियान के अन्तर्गत मण्डी शुल्क की चोरी होते पायी गई तो उस क्षेत्र के मण्डी सचिव सहित अन्य कर्मचारियो की जवाबदेही निर्धारित करते हुए कार्रवाई की जायेगी।


यौन शोषण मामले में विधायक ने किया सरेंडर

यौन शोषण मामला: झाविमो विधायक प्रदीप यादव ने किया सरेंडर, भेजे गए जेल


देवघर। अपनी ही पार्टी की एक नेत्री के साथ यौन उत्पीडऩ के आरोपित पोड़ैयाहाट से झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) के विधायक प्रदीप यादव ने गुरुवार को प्रभारी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सह अनुमंडलीय न्यायिक दंडाधिकारी कमल रंजन की अदालत में सरेंडर कर दिया। उनके अधिवक्ता ने जमानत याचिका तत्काल दाखिल की। अभियोजन व बचाव पक्ष की बहस सुनने के बाद अदालत ने याचिका को खारिज कर प्रदीप को न्यायिक हिरासत में भेज दिया!


मालूम हो कि विधायक पर महिला नेत्री ने 3 मई 2019 को यौन उत्पीडऩ सहित कई संगीन आरोप लगा देवघर महिला थाने में कांड संख्या 13/19 के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई थी। पुलिस ने धारा 354 ए, 354 बी, 354 डी, 376 /511 के तहत मुकदमा दर्ज किया था। 14 मई 2019 को उनके अधिवक्ता रामदेव यादव ने प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की।


18 मई 2019 को यह मामला जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम मोहम्मद नसीरुद्दीन की अदालत में सुनवाई के लिए स्थानांतरित किया गया। इस दौरान मिली पांच तारीखों पर दोनों पक्षों ने बहस की। इसके बाद कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी थी। अब जमानत याचिका प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में दाखिल होगी। इधर, विधायक के सरेंडर करने की सूचना से कचहरी परिसर में उनके समर्थकों की भीड़ जुट गई!


कारगिल शहीद दिवस : पूजा के योग्य पथ

 पूजे न गए शहीद तो यह पंथ कौन अपनाएगा


तोपों के मुंह से कौन छातियां अड़ाएगा



रांची। कारगिल युद्ध के बीस वर्ष पूरे हो गए। 26 जुलाई 1999 को जब इस युद्ध में भारत को विजय मिली, तो पूरे देश में हर्ष का माहौल था। अपनी जान का बलिदान देकर देश का झंडा बुलंद करने वाले शहीदों में कई झारखंड के भी थे। शहीदों के शव उनके घर तक सम्मानपूर्वक पहुंच जाएं इसका जिम्मा जिन्हें दिया गया था उनमें एक नाम मेदिनीनगर निवासी कर्नल संजय सिंह का था। बीस साल गुजर गए युद्ध के लेकिन आज भी वह दिन याद कर कर्नल सिंह भावुक हो जाते हैं।उन दिनों को याद करते हुए कर्नल ने बताया कि सेना में पांच वर्ष की सर्विस पूरी करने के बाद मैं दिल्ली की एक यूनिट में पोस्टेड था। तब दस चुनिंदे कैप्टन को लॉजिस्टिक मैनेजमेंट स्किल के आधार पर भारतीय सेना ने इंडियन ऑयल कारपोरेशन मुंबई में छह महीने का ऑफिसर्स पेट्रोलियम मैनेजमेंट में दक्षता के लिए भेजा था, जिसमें मैं भी एक था। कोर्स समाप्त होने में तकरीबन पंद्रह दिन बचे थे तभी कैप्टन अमरजीत वासदेव ने टी ब्रेक में चाय की चुस्की लेते हुए कहा, लगता है हम सभी को जल्द ही यूनिट जाना होगा। पाक बॉर्डर पर कुछ टेंशन का माहौल है। आज कमांडर का फोन आया था। तभी टीवी पर रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नाडिस का बयान आ रहा था कि कुछ मुट्ठी भर घुसपैठिये हमारी पोस्ट में घुस गए हैं हम इन्हें एक सप्ताह में भगा देंगे।


 भागे-भागे पहुंचे अपनी यूनिट :शाम हुई और हमारे ऑफिसर्स मेस में चीफ इंस्ट्रक्टर कर्नल दीपक कपूर सभी को बुलाकर बोले, टूमॉरो मॉर्निंग यू आर गोइंग बैक टू योर यूनिट। दूसरे दिन सुबह जिसको जैसी सुविधा हुई हवाई जहाज या ट्रेन पकड़कर हमलोग अपनी यूनिट पहुंचे। मेरी यूनिट दिल्ली में थी, आने केसाथ हमारे कमाडर ब्रिगेडियर पीके मेहता ने मुझे बताया कि कल सुबह की स्पेशल फ्लाइट से मुझे लेह जाना है। युद्ध की स्थिति बन चुकी थी। अल सुबह जब पालम एयरपोर्ट पहुंचा तो शारीरिक रूप से स्वस्थ्य सभी पदाधिकारी कारगिल में अपनी यूनिटों में जाने को बेताब दिखे। तकरीबन एक बजे हम लेह पहुंचे। हमें वहा पर कारगिल के पास द्रास नामक सेना मुख्यालय में पहुंचना था, जहा पर आगे का दायित्व दिया जाना था। शहीदों के पार्थिव शरीर तेजी से आना प्रारंभ हो चुका था।


बड़ी चुनौती थी शहीदों को शवों को परिजनों तक पहुंचाना भारतीय सेना को शहीदों के पार्थिव शरीरों को उनके परिजनों तक पहुंचाना एक बहुत बड़ी चुनौती बन चुकी थी। उन्हें एक ऐसे पदाधिकारी की तलाश थी जो दिल्ली में पोस्टेड रहा हो और शहीद के परिजनों तक उनके पार्थिव शरीर को सैनिक सम्मान के साथ भिजवा सके। सेना मुख्यालय से मेरी ड्यूटी दिल्ली में लगा दी गई। वहां मुझे कारगिल से दिल्ली पहुंचने वाले शहीदों के पार्थिव शरीर को उनके परिजनों तक पूरे सम्मान के साथ भिजवाने की व्यवस्था करनी थी। हर दिन पूरे भारत वर्ष के हर राज्य, हर भाषा, हर धर्म के शहीद के पार्थिव शरीर देखकर रहा नहीं गया।अपने कमांडर ब्रिगेडियर मेहता को कहा, मुझे तत्काल युद्धभूमि में भेजिए। मैं अपने वीर सपूतों की शहादत का बदला लेना चाहता हूं। उन्होंने जवाब दिया- पूजे न गए शहीद तो यह पंथ कौन अपनाएगा तोपों के मुंह से कौन अकड़ अपनी छातियां अड़ाएगा चूमेगा फंदे कौन गोलियां कौन वक्ष पर खाएगा अपने हाथों अपना मस्तक फिर कौन आगे बढ़ाएगा। कहा, आपको जो काम सौंपा गया है वह बहुत महत्वपूर्ण है। अपने काम में पूरी तन्मयता से जुट गया। ज्यों ज्यों कारगिल विजय दिवस नजदीक आने लगता है तिरंगे में लिपटे शहीदों के पार्थिव शरीर आंखों के सामने घूमने लगते हैं। आंखें नम होकर बंद हो जाती हैं, श्रद्धा भाव से खुद ब खुद हाथ सैल्यूट करने को उठ जाते हैं।


बिल्‍व वृक्ष एवं पत्तों से जुड़ी कुछ रोचक बातें

कुछ मुख्य बातें बिल्व वृक्ष की


संवाददाता-विवेक चौबे


गढ़वा ! हिन्दू धर्म में आज भी पूजन-अर्चना का एक बड़ा महत्व है।सभी देवों के देव महादेव,जिनका नाम मात्र सुनने से दुःख,दरिद्रता,पाप,लोभ समाप्त हो जाता है।हिन्दू धर्म में प्राचीन काल से हीं विधि-विधान व पवित्रता से पूजन-अर्चना करना व कराना पंडित(ब्राह्मण) का ही कार्य है।ब्राह्मणों के अध्यन व उनके कार्य शैली के अनुसार महादेव को प्रसन्न करने के कई तरीके हैं।अलग-अलग वर प्राप्त करने के अलग-अलग विधि हैं।विधि के अनुसार शुद्धता पूर्वक हृदय से पूजन-अर्चना करने से शीघ्र वर की प्राप्ति होती है व महादेव शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं।महादेव को कई नामों से जाना जाता है।जैसे- शिव,शंकर,भोले,महादेव,त्रिनेत्र धारी आदि।


काल की "दशा व दिशा" बदलने की क्षमता,जिस देव में हो,वे हैं "महादेव'


यकीन नहीं तो निम्न विधि के अनुसार पूजन-अर्चना करके आजमाएं! ध्यान रहे पूजा के दौरान मन भटके नहीं।मन तो चंचल होता ही है,उसे वश में करके ही पूजा करें।विल्वपत्र का भी एक अलग ही महत्व है,जानें खाश बात!


भगवान शंकर को बेलपत्र,जिसे संस्कृत में बिल्वपत्र भी कहते हैं,वह अति प्रिय है।ऐसा माना जाता है की बेलपत्र व जल चढाने से भगवान शंकर का मस्तिष्क शीतल हो जाता है।यह भी मान्यता है की शिवलिंग पर बेलपत्र चढाने से सभी पाप धूल जाते हैं।


बिल्व वृक्ष के आसपास सांप नहीं आते,अगर किसी की शव यात्रा बिल्व वृक्ष की छाया से होकर गुजरे तो उसका मोक्ष हो जाता है,वायुमंडल में व्याप्त अशुध्दियों को सोखने की क्षमता सबसे ज्यादा बिल्व वृक्ष में होती है,चार पांच छः या सात पत्तो वाले बिल्व पत्रक पाने वाला परम भाग्यशाली व शिव को अर्पण करने से अनंत गुणा फल मिलता है,बेल वृक्ष को काटने से वंश का नाश होता है व बेल वृक्ष लगाने से वंश की वृद्धि होती है,सुबह-शाम बेल वृक्ष के दर्शन मात्र से पापो का नाश हो जाता है,बेल वृक्ष को सींचने से पितर तृप्त होते है,बेल वृक्ष व सफ़ेद आक् को जोड़े से लगाने पर अटूट लक्ष्मी की प्राप्ति होती है।


बेल पत्र और ताम्र धातु के एक विशेष प्रयोग से ऋषि मुनि स्वर्ण धातु का उत्पादन करते थे


आपको बता दें की जीवन में सिर्फ एक बार और वो भी यदि भूल से भी शिव लिंग पर बेल पत्र चढ़ा दिया हो तो भी उसके सारे पाप मुक्त हो जाते है,बेल वृक्ष का रोपण, पोषण व संवर्धन करने से महादेव से साक्षात्कार करने का अवश्य लाभ मिलता है।


बिल्व पत्र का पेड़ जरूर लगाये


बिल्व पत्र के लिए पेड़ को क्षति न पहुचाएं


शिव जी की पूजा में ध्यान रखने योग्य बातें


शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव को कौन-सी चीज़ चढाने से
मिलता है "क्या फल"


किसी भी देवी-देवता का पूजन करते वक़्त उनको अनेक चीज़ें अर्पित की जाती है। प्रायः भगवान को अर्पित की जाने वाली हर चीज़ का फल अलग-अलग होता है। 


शिव पुराण में इस बात का वर्णन
मिलता है की भगवान शिव को अर्पित करने वाली अलग-अलग चीज़ों का क्या फल होता है।आप भी जानिए,क्या फल मिलता है ?भगवान शिव को चावल चढ़ाने से धन की प्राप्ति होती है,तिल चढ़ाने से पापों का नाश हो जाता है,जौ अर्पित करने से सुख में वृद्धि होती है,गेहूं चढ़ाने से संतान वृद्धि होती है,यह सभी अन्न भगवान को अर्पण करने के बाद गरीबों में वितरीत कर देना चाहिए।


शिव पुराण के अनुसार


जानिए भगवान शिव को कौन-सा रस (द्रव्य) चढ़ाने से उसका क्या फल मिलता है ? ज्वर (बुखार) होने पर भगवान शिव को जलधारा चढ़ाने से शीघ्र लाभ मिलता है,सुख व संतान की वृद्धि के लिए भी जलधारा द्वारा शिव की पूजा उत्तम बताई गई है,नपुंसक व्यक्ति अगर शुद्ध घी से भगवान शिव का अभिषेक करे व ब्राह्मणों को भोजन कराए तथा सोमवार का व्रत करे तो उसकी समस्या का निदान संभव है,तेज दिमाग के लिए शक्कर मिश्रित दूध भगवान शिव को चढ़ाएं,सुगंधित तेल से भगवान शिव का अभिषेक करने पर समृद्धि में वृद्धि होती है,शिवलिंग पर ईख (गन्ना) का रस चढ़ाया जाए तो सभी आनंदों की प्राप्ति होती है,शिव को गंगाजल चढ़ाने से भोग व मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है,मधु (शहद) से भगवान शिव का अभिषेक करने से राजयक्ष्मा (टीबी) रोग में आराम मिलता है।


शिव पुराण के अनुसार


जानिए भगवान शिव को कौन-सा फूल चढ़ाया जाए तथा उसका क्या फल मिलता है! लाल व सफेद आंकड़े के फूल से भगवान शिव का पूजन करने पर,भोग व मोक्ष की प्राप्ति होती है,चमेली के फूल से पूजन करने पर वाहन सुख मिलता है,अलसी के फूलों से शिव का पूजन करने से मनुष्य भगवान विष्णु को प्रिय होता है,शमी पत्रों (पत्तों) से पूजन करने पर मोक्ष प्राप्त होता है,बेला के फूल से पूजन करने पर सुंदर व सुशील पत्नी मिलती है,जूही के फूल से शिव का पूजन करें तो घर में कभी अन्न की कमी नहीं होती,कनेर के फूलों से शिव पूजन करने से नए वस्त्र मिलते हैं,हरसिंगार के फूलों से पूजन करने पर सुख-सम्पत्ति में वृद्धि होती है,धतूरे के फूल से पूजन करने पर भगवान शंकर सुयोग्य पुत्र प्रदान करते हैं, जो कुल का नाम रोशन करता है,लाल डंठलवाला धतूरा पूजन में शुभ माना गया है,दूर्वा से पूजन करने पर आयु बढ़ती है। 


मन में नए विचार आएंगे:कुंभ

जीवन सुखमय व्यतीत होगा। समाजसेवा करने का अवसर प्राप्त होगा। मेह‍नत का फल प्राप्त होगा। नए काम मिलेंगे। समय की अनुकूलता का लाभ लें। भरपूर प्रयास करें। मान-सम्मान मिलेगा। स्वास्थ्य अच्‍छा रहेगा। कारोबार में वृद्धि होगी।


वृष:भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। शुभ सूचना प्राप्त होगी। आय में वृद्धि होगी। जीवन सुखमय व्यतीत होगा। आवश्यक वस्तुएं संभालकर रखें। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें।


मिथुन:किसी बड़ी समस्या का हल किसी बाहरी व्यक्ति के सहयोग से होगा। जीवनसाथी का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में चैन रहेगा। बेचैनी रहेगी। किसी भी तरह की बहस में हिस्सा न लें। चोट व रोग से बचें। निवेश शुभ रहेगा।


कर्क:चोट व दुर्घटना से शारीरिक हानि की आशंका है। विवाद को बढ़ावा न दें। जल्दबाजी से लिए गए निर्णय पछतावे का कारण बन सकते हैं। लेन-देन में धोखा खा सकते हैं। आय में निश्चितता रहेगी। शत्रु परास्त होंगे। नौकरी में अधिकारी अधिक अपेक्षा करेंगे!


सिंह:फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। कर्ज लेना पड़ सकता है। अपेक्षित कार्यों में विलंब होगा। चिंता तथा तनाव रहेंगे। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। आय में निश्चितता रहेगी। नौकरी में अधिकारी अधिक की अपेक्षा करेंगे। वाणी में हल्के शब्दों का प्रयोग न करें।


कन्या:डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। ऐश्वर्य के साधनों पर व्यय होगा। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। समय की अनुकूलता का लाभ लें। भरपूर प्रयास करें। जल्दबाजी न करें। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। शुभ समय।


तुला:कोई पहले बनाई गई योजना फलीभूत होगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। दूसरों की सहायता कर पाएंगे। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। भाग्य का साथ रहेगा। कार्यसिद्धि से प्रसन्नता रहेगी। नए काम मिलेंगे। विरोधी सक्रिय रहेंगे। धनार्जन होगा।


वृश्चि:रोजगार प्राप्ति के लिए किसी विशिष्ट व्यक्ति का सहयोग लेना पड़ सकता है। सफलता प्राप्त होगी। यात्रा लाभदायक रहेगी। कोई बड़ा काम सहज ही होगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। व्यस्तता के चलते थकान व कमजोरी रह सकती है। समय का लाभ लें।


धनु:व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल लाभ देगी। लाभ के अवसर हाथ आए आएंगे। राजकीय सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय में उन्नति होगी। अध्यात्म में रुचि रहेगी। किसी साधु-संत का आशीर्वाद मिल सकता है। पारिवारिक चिंता बनी रहेगी। जोखिम न लें।


मकर:उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। प्रतिद्वंद्वी रास्ता छोड़ देंगे। स्थायी संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। कारोबार में वृद्धि होगी। समय की अनुकूलता का लाभ लें। भरपूर प्रयास करें। मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। प्रसन्नता रहेगी।


कुंभ:पार्टी व पिकनिक का कार्यक्रम बन सकता है। मनपसंद व्यंजनों का आनंद प्राप्त होगा। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। किसी प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। मन में नए विचार आएंगे। विवेक से कार्य करें। कुसंगति से बचें। व्यापार अच्छा चलेगा।


मीन:पुराना रोग उभर सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। दौड़धूप अधिक होगी। बुरी सूचना मिल सकती है। दूसरों की बातों में न आएं। जीवनसाथी और मित्रों के सहयोग से बाधा दूर होगी। आवश्यक वस्तु गुम हो सकती है। जल्दबाजी बिलकुल न करें।


सूरजमुखी का प्राकृतिक प्रभाव

यह फूल अमरीका का देशज है पर रूस, अमरीका, ब्रिटेन, मिस्र, डेनमार्क, स्वीडन और भारत आदि अनेक देशों में आज उगाया जाता है। इसका नाम सूरजमुखी इस कारण पड़ा कि यह सूर्य और ओर झुकता रहता है, हालाँकि प्राय: सभी पेड़ पौधे सूर्य प्रकाश के लिए सूर्य की ओर कुछ न कुछ झुकते हैं। सूरजमुखी का सूर्य की ओर झुकना आँखों से देखा जा सकता है। बागों में उगाए जाने वाले सूरजमुखी की उपर्युक्त प्रथम दो जातियाँ ही हैं। इसके पेड़ 1 मी. से 5 मी. तक ऊँचे होते हैं। इनके डंठल बड़े तुनुक होते हैं, हवा के झोंके से टूट जा सकते हैं अत: इनमें टेक लगाने की आवश्यकता पड़ सकती है। इसकी पत्तियाँ 7 सेमी से 30 सेमी लंबी होती है। कुछ सूरजमुखी एकवर्षी होते हैं और कुछ बहुवर्षी ; कुछ बड़े कद के होते हैं और कुछ छोटे कद के।


इसके पीले फूल बाग के फूलों में सबसे बड़े होते हैं। सिर 7 सेमी से 15 सेमी चौड़े और कर्षण से उगाने पर 30 सेमी या इससे भी चौड़े हो सकते हैं। ये शोभा के लिए बागं में उगाए जाते हैं। अच्छे कर्षण और खाद से भिन्न-भिन्न रंग, कांति और आभा के फूल प्राप्त हो सकते हैं। फूल की पंखुड़ियाँ पीले रंग की होतीं हैं और मध्य में भूरे, पीत या नीलोहित या किसी किसी वर्णसंकर पौधे में काला चक्र रहता है। चक्र में ही चिपटे काले बीज रहते हैं। बीज से उत्कृष्ट कोटि का खाद्य तेल प्राप्त होता है और खली मुर्गी को खिलाई जाती है। सूरजमुखी के पेड़ में रितुआ रोग भी कभी-कभी लग जाता है जिससे पत्तियों के पिछले भाग में पीतभूरे रंग के चकत्ते पड़ जाते हैं। इससे रक्षा के लिए गंधक की धूल छिड़की जा सकती है।


पीने योग्य पानी (निष्कर्ष)

पीने का पानी या पीने योग्य पानी, समुचित रूप से उच्च गुणवत्ता वाला पानी होता है जिसका तत्काल या दीर्घकालिक नुकसान के न्यूनतम खतरे के साथ सेवन या उपयोग किया जा सकता है। अधिकांश विकसित देशों में घरों, व्यवसायों और उद्योगों में जिस पानी की आपूर्ति की जाती है वह पूरी तरह से पीने के पानी के स्तर का होता है, लेकिन वास्तविकता में इसके एक बहुत ही छोटे अनुपात का उपयोग सेवन या खाद्य सामग्री तैयार करने में किया जाता है।


दुनिया के ज्यादातर बड़े हिस्सों में पीने योग्य पानी तक लोगों की पहुंच अपर्याप्त होती है और वे बीमारी के कारकों, रोगाणुओं या विषैले तत्वों के अस्वीकार्य स्तर या मिले हुए ठोस पदार्थों से संदूषित स्रोतों का इस्तेमाल करते हैं। इस तरह का पानी पीने योग्य नहीं होता है और पीने या भोजन तैयार करने में इस तरह के पानी का उपयोग बड़े पैमाने पर त्वरित और दीर्घकालिक बीमारियों का कारण बनता है, साथ ही कई देशों में यह मौत और विपत्ति का एक प्रमुख कारण है। विकासशील देशों में जलजनित रोगों को कम करना सार्वजनिक स्वास्थ्य का एक प्रमुख लक्ष्य है।


सामान्य जल आपूर्ति नेटवर्क पीने योग्य पानी नल से उपलब्ध कराते हैं, चाहे इसका उपयोग पीने के लिए या कपड़े धोने के लिए या जमीन की सिंचाई के लिए किया जाना हो. इसके बिल्कुल विपरित चीन के शहरों में पीने का पानी वैकल्पिक रूप से एक अलग नल के द्वारा (अक्सर आसुत जल के रूप में), या अन्यथा नियमित नल के पानी के रूप में उपलब्ध कराया जाता है जिसे उबालने की जरूरत होती है।


संपूर्ण फल प्राप्ति का माध्यम (आस्‍था)

अब मैं तुम्हें संपूर्ण फल की प्राप्ति के लिए शिव पुराण के श्रवण की विधि बताता हूं!पहले किसी ज्योतिषी को बुलाकर दान-मान से संतुष्ट करके अपने सहयोगी लोगों के साथ बैठकर बिना किसी विघ्न-बाधा के कथा की समाप्त होने के उद्देश्य से शुभ मुहूर्त का अनुसंधान कराएं! प्रयतन पूर्वक देश-देश में, स्थान-स्थान पर यह संदेश भेजें कि हमारे यहां शिव महापुराण की कथा होने वाली है! अपने कल्याण की इच्छा रखने वाले लोगों को उसे सुनने के लिए अवश्य पधारिए! कुछ लोग भगवान श्री हरि की कथा से बहुत दूर पड़ गए! कितने ही स्त्री-शूद्र आदि भगवान शंकर की कथा कीर्तन से वंचित रहते हैं! उन सब को भी सूचना हो जाए, ऐसा प्रबंध करना चाहिए! देश-देश में जो भगवान शिव के भक्तों तथा शिव कथा के कीर्तन और उनके लिए उत्सुक हो! उन सब को आदर पूर्वक आमंत्रण भेजना चाहिए! आए हुए लोगों का सब प्रकार से आदर-सत्कार करना चाहिए! शिव मंदिर में, वनप्रांत में अथवा घर में शिव पुराण की कथा सुनने के लिए उत्तम स्थान का निर्माण करना चाहिए! केले के खंभों से सुशोभित पूजा का मंडप तैयार कराया जाए! फल-पुष्प आदि से अलंकृत करें !ध्‍वजा-पताका लगा दे ,भगवान शिव के प्रति सत्कार से उत्तम भक्ति करनी चाहिए! वही सब तरह से आनंद का विधान करने वाले है! परमात्मा भगवान शंकर के लिए दिव्‍य योगासन का निर्माण करना चाहिए तथा कथावाचक के लिए भी एक ऐसा ही आसन होना चाहिए! श्रदालुओ के लिए भी यथा योग्य स्थानों की व्यवस्था करनी चाहिए !अन्य लोगों के लिए साधारण स्थान रखना चाहिए! जिसके मुख से निकले शब्‍द देहधारियों के लिए कामधेनु के समान अभिष्‍ट फल देने वाली होती है! उस पुराण वक्ता विद्वान के प्रति तुच्‍छ बुद्धि कभी नहीं करनी चाहिए! संसार में जन्म तथा गुणों के कारण कई गुरू होते हैं ! परंतु उनमें पुराणों का ज्ञाता हीपरम विद्वान माना गया है! पुराण वेता पवित्र घृणा पर विजय पाने वाला साधु और दयालु होना चाहिए ! ऐसा प्रवचन कुशल विद्वान कथा को कहे! सूर्य उदय से आरंभ करके साढे तीन पहर तक उत्तम बुद्धि वाले विद्वान पुरुष को शिवपुराण की कथा संवाद रीति से बाचनी चाहिए !मध्‍यकाल में दो घड़ी तक कथा बंद रखनी चाहिए! जिससे कथा कीर्तन से अवकाश पाकर लोग मल-मूत्र का त्‍याग कर सके ! जो वक्ता और श्रोता अनेक प्रकार के कर्मों में भटक रहे हो, काम के वश में हो,विकारों से युक्त हो, स्त्री में आसक्‍ती रखते हो और पाखंड पूर्ण बात कहते हो!वह पुन्‍य के  भागी नहीं होते! आलौकिक चिंता तथा गृह एवं पुत्र की चिंता को छोड़कर कथा में मन लगाए रहते हैं! उन सद्बुद्धि को पुरुषोत्तम फल की प्राप्ति होती है!


एमपी: परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर लगाईं आग

मनोज सिंह ठाकुर       भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले के एक गांव में 25 वर्षीय युवक पर कथित तौर पर प्रेम प्रसंग के चलते युवती के परिजन ने मि...