मध्यप्रदेश लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मध्यप्रदेश लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 14 अक्तूबर 2021

बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने तैयारियों का जायजा लिया

मनोज सिंह ठाकुर      

ग्वालियर। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का एक बार फिर दो दिवसीय दौरा पर एमपी आ रहे है। सिंधिया 14-15 अक्टूबर को ग्वालियर दौरे पर रहेंगे। सिंधिया दशहरा और दुर्गा पूजा के कार्यक्रमों में शामिल होंगे। इसके बाद वे टेकनपुर में स्थानीय कार्यक्रम में शामिल होंगे। सिंधिया के दौरे के लिए बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने तैयारियों का जायजा लिया।

वहीं सिंधिया 15 अक्टूबर को कुलदेवी की पूजा करेंगे। सिंधिया राजशाही ड्रेस में शमी वृक्ष’ का पूजन करेंगे। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के डबरा आगमन की तैयारियां लगभग पूरी हो गई है। सिंधिया टेकनपुर में स्थानीय कार्यक्रम में शामिल होने पहुंच रहे हैं। अधिकारियों के साथ बीजेपी के वरिष्ठ नेता टेकनपुर में तैयारियों का जायजा ले चुके है। कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह, जिला पंचायत सीईओ आशीष तिवारी, बीजेपी नेता मोहन सिंह राठौर ने व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

रतलाम: पाइप गोदाम में लगीं आग से मचा हड़कंप

मनोज सिंह ठाकुर       

रतलाम। रतलाम के औद्योगिक थाना क्षेत्र के मोहन नगर विरिया खेड़ी रोड स्थित पेट्रोल पंप के पीछे प्लास्टिक के पाइप गोदाम में गुरुवार सुबह करीब 11 बजे आग लग गई। आग ने कुछ ही देर में विकराल रूप ले लिया और ऊंची लपटें उठने लगीं। आग से क्षेत्र में धुआं ही धुआं हो गया और लोगों में हड़कंप मच गया। पास में पेट्रोल पंप भी लगा हुआ है, आग पेट्रोल पंप तक पहुंचती उसके पहले ही फायर ब्रिगेड की दमकल मौके पर पहुंची और कर्मचारी उस पर काबू पाने की कोशिश कर रहे हैं। मौके पर लोगों की भारी भीड़ लग गई है। आग लगने का कारण पता नहीं चला है।

बात दे गोदाम में बड़ी मात्रा में प्लास्टिक के पाइप रखे हुए थे। आग पर एक घंटे बाद भी काबू नहीं पाया जा सका है। अब तक रतलाम नगर निगम की 3 दमकल, इप्का फैक्टी की तीन दमकल, जावरा, बाजना और आसपास के क्षेत्रों से भी दमकल बुलाई गई है। नगर निगम आयुक्त सोमनाथ झाड़िया ने बताया कि अब तक 15 से अधिक दमकल के माध्यम से आग पर पानी फेंका गया। एसपी गौरव तिवारी, नगर निगम व जिला प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुंच कर कर्मचारियों को आग बुझाने के दिशा निर्देश दे रहे हैं। भारी भीड़ होने के कारण आसपास के मार्गों पर यातायात रोका गया है।

बुधवार, 13 अक्तूबर 2021

एमपी: 13 शिक्षकों को निलंबित करने के निर्देश दिएं

मनोज सिंह ठाकुर     
बड़वानी। मध्यप्रदेश के बड़वानी के जिला कलेक्टर ने आकस्मिक निरीक्षण के दौरान सेंधवा विकासखंड के विद्यालयों से अनुपस्थित पाए गए 13 शिक्षकों को निलंबित करने के निर्देश दिये।
जिला कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा ने बताया कि कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के उपरांत शासन के निर्देश पर विद्यालयों को पुनः आरंभ कराया गया है। जिले से भेजे गए विभागीय अधिकारियों के दल ने सेंधवा विकासखंड के कई विद्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान कुछ विद्यालयों में शिक्षक अनुपस्थित पाए गए तथा कुछ निर्धारित समय के पूर्व ही विद्यालय बंद कर चले गए। उन्होंने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर 13 शिक्षकों को निलंबित करने के निर्देश दिए गए हैं।

सोमवार, 11 अक्तूबर 2021

गृहमंत्री नरोत्तम ने कांग्रेस के मौन व्रत पर हमला किया

मनोज सिंह ठाकुर      
भोपाल। मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के मौन व्रत को लेकर उन पर हमला करते हुए आज कहा कि उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर देशभर में उनका यह मौन व्रत सिर्फ और सिर्फ राजनीतिक पाखंड है। 
मिश्रा ने यहां मीडिया से चर्चा में कहा कि उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना पर सियासी ड्रामा करने वाली कांग्रेस और गांधी परिवार कश्मीर घाटी में हो रही नृशंस हत्याओं पर आखिर क्यों मौन हैं। गृह मंत्री ने कहा कि प्रदेश में धार्मिक स्थानों पर वीडियो बनाकर धार्मिक भावनाओं से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
उन्होंने कहा कि उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर परिसर में महिला के वीडियो बनाने की घटना पर उज्जैन पुलिस अधीक्षक को महिला के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। मिश्रा ने कहा कि चुनाव में जब कांग्रेस हराने लगती है।
तब वह चुनाव आयोग, ईवीएम से लेकर प्रशासन और भाजपा पर तरह-तरह के आरोप लगाने लगती है। उन्होंने कहा मध्यप्रदेश में हो रहे उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के आरोप यह बता रहे हैं कि कांग्रेस को अब अपनी हार दिखाई देने लगी है।

शनिवार, 9 अक्तूबर 2021

कच्चे मकान पर गिरा ट्राला, चार लोगों की मौंत हुईं

मनोज सिंह ठाकुर      
दमोह। मध्यप्रदेश के दमोह जिले में गिट्टी से भरा एक ट्राला पलटकर सड़क किनारे बने कच्चे मकान के उपर गिरने से दो भाई बहन सहित चार लोगों की मौत हो गई।
पुलिस सूत्रों ने आज बताया कि बटियागढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम आजनी टपरिया गांव में गिट्टी से भरा हुआ ट्राला कल देररात अनियंत्रित होकर सड़क किनारे कच्चे मकान के उपर पलटकर गया। इस घटना में मकान के अंदर सो रहे आकाश (18), मनीषा (16), ओमकार, नेहा एवं हरिराम अहिरवाल की मृत्यु हो गयी। इस हादसे के बाद सभी लोगों को अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इसके साथ ही ट्राला पर सवार एक अन्य युवक पुरुषोत्तम साहू की मौत हो गयी। शेष घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनका इलाज चल रहा है।
पुलिस सूत्रो के अनुसार इस घटना की खबर गांव में फैलने पर सैकड़ों की तादाद में लोग राहत एवं बचाव करने दौड़े और मकान के ऊपर से फैली गिट्टी को हटाना शुरू कर दिया। रात्रि में ही ग्रामीणों की मदद से आकाश, मनीषा, ओमकार, नेहा एवं हरिराम जिला अस्पताल लाया गया। जहां पर इलाज के दौरान भाई-बहन आकाश व मनीषा अहिरवार एवं ओंकार की मौत हो गयी। घटना में घायल हरी राम अहिरवार एवं नेहा अहिरवार का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक डीआर तेनीवार घटनास्थल पर पहुंच गये।

शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2021

जातिगत आधार पर कर्मचारियों की गणना पूरी हुईं

मनोज सिंह ठाकुर            
भोपाल। केंद्र सरकार भले ही जातिगत जनगणना कराने से कतरा रही है, लेकिन मध्यप्रदेश में जातिगत आधार पर कर्मचारियों की गणना पूरी हो गई है। दरअसल नौकरियों में अन्य पिछड़ा वर्ग कोटा 14 से बढ़ाकर 27 फीसदी करने का मामला अभी हाईकोर्ट में हैं। जिन याचिकाओं पर रोक लगी है उन्हें छोड़कर बाकी में 27 फीसदी आरक्षण की प्रक्रिया सरकार ने शुरू कर दी है। सरकार अब यह जानना चाह रही है कि शासकीय कार्यालयों में OBC वर्ग के कितने कर्मचारी कार्यरत हैं और कितने पद अभी खाली हैं।
इसके लिए बाकायदा सभी कर्मचारियों की गिनती कराई गई है। इसमें पता चला है कि प्रदेश में सितंबर 2021 की स्थिति में कुल 3,19,144 कर्मचारी कार्यरत हैं, जिनमें से ओबीसी के 42055 हैं। जबकि, 2018 की गणना के हिसाब से प्रदेश में 4,52,139 पद स्वीकृत थे, जिन पर नियमित कर्मचारी कार्यरत थे। यानी अभी प्रदेश में 1,32,995 पद खाली हैं।
ओबीसी में अभी 66 जातियां, कतार अभी और लंबी होगी।
मध्यप्रदेश में केंद्रीय सूची के अनुसार ओबीसी में 66 जातियां हैं, जिनकी उपजातियों की संख्या करीब 175 है। हाल ही में राज्य सरकारों को ओबीसी वर्ग में शामिल जातियों की संख्या बढ़ाने के अधिकार दिए हैं। इसके बाद अन्य जातियों को भी पिछड़ा वर्ग में शामिल किए जाने की कवायद की जा रही है। प्रदेश में ओबीसी का 14 प्रतिशत से आरक्षण बढ़ाकर 27 प्रतिशत कर दिया गया है। राज्य सरकार द्वारा 2 सितंबर को ओबीसी के लिए 27 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने को कोर्ट में चुनौती दी गई है, जिस पर आगामी 25 अक्टूबर को सुनवाई होना है।

बुधवार, 6 अक्तूबर 2021

पीएम मोदी करेंगे ‘स्वामित्य योजना’ की शुरुआत

मनोज सिंह ठाकुर       
भोपाल। ग्रामीण इलाकों में संपत्ति के स्वामित्व से संबंधित महत्वाकांक्षी ‘स्वामित्य योजना’ की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे। मोदी मध्यप्रदेश के तीन जिलों के हितग्राहियों के साथ संवाद भी करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हरदा जिले में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद रहकर वहीं से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कार्यक्रम में जुड़ेंगे।
राज्य के 19 जिलों के 3 हजार ग्रामों में एक लाख 71 हजार हितग्राहियों को ‘अधिकार अभिलेख’ का वितरण स्वामित्व योजना के माध्यम से किया जाएगा।  मोदी इस दौरान सीहोर, हरदा और डिंडोरी जिलों के योजना से संबंधित हितग्राहियों से संवाद करेंगे। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार राज्य में 17 सितंबर से 7 अक्टूबर तक चलाए जा रहे जनकल्याण और सुराज अभियान के तहत स्वामित्व योजना की शुरूआत की जा रही है।
योजना को जिन 9 राज्यों में प्रायोगिक आधार पर लागू किया गया है, उनमें मध्यप्रदेश भी शामिल है। मध्यप्रदेश में स्वामित्व योजना का क्रियान्वयन तीन चरणों में 10-10 जिलों को शामिल कर क्रमबद्ध रूप से प्रारंभ किया गया है। योजना में सर्वे ऑफ इंडिया की सहायता से ग्रामों में बसाहट क्षेत्र पर ड्रोन के माध्यम से नक्शे का निर्माण तथा डोर-टू-डोर सर्वे कर अधिकार अभिलेखों का निर्माण किया जा रहा है। अभी तक मध्यप्रदेश के 42 जिलों में सर्वेक्षण की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है, जिसके तहत 24 ड्रोन 24 जिलों में कार्य रह रहे हैं।

इनमें से 6500 ग्रामों में ड्रोन कार्य पूर्ण किया जा चुका है। हितग्राहियों को योजना का अधिक से अधिक लाभ प्रदान करने के लिए सर्वे के नियमों को वर्तमान आवश्यकता के अनुसार सरल बनाया गया है। इस प्रक्रिया को राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिली और अन्य राज्यों ने इसे अपने यहां लागू करने के लिए प्रक्रिया का अवलोकन किया है। इस योजना के तहत ग्राम की आबादी भूमि में अपना मकान बनाकर रहने वाले ग्रामवासियों को अपने घर का मालिकाना हक मिल सकेगा।
आबादी भूमि के कागजात मिल जाने से कानून का सहारा मिलने लगेगा। मनमर्जी से घर बनाने और अतिक्रमण की समस्या से निजात मिलेगी। इसके अलावा सम्पत्ति का रिकार्ड हो जाने से बैंक लोन लिया जा सकेगा। भूमि संबंधी विवाद भी नियंत्रित होंगे। जमीन एवं भवन के नामांतरण एवं बंटवारे आसानी से हो सकेंगे। सरकारी भवन भी योजनाबद्ध तरीके से निर्मित किये जा सकेंगे। गाँव में आबादी की भूमि को लेकर भ्रम की स्थिति खत्म होगी।

एमपी सरकार ने 404 लंबे हाईवे को मंजूरी दी

मनोज सिंह ठाकुर     
भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने 404 लंबे हाईवे को मंजूरी दी है। इसके निर्माण के लिये शासकीय भूमि व निजी भूमि की चेंज करने की अनुमति भी मिल गई है। बताया जा रहा है। इस निर्माण में जिससे जमीन ली जायेगी, उसे दोगुना कीमत अदा की जायेगी।
मध्य प्रदेश सरकार ने 404 किलोमीटर लंबे हाईवे को मंजूरी दी है। यह हाईवे राजस्थान, मध्यप्रदेश और यूपी से जोड़ेगा। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि हाईवे एनएचएआई द्वारा तैयार किया जायेगा। कलोमीटर लंबे अटल प्रगति पथ के निर्माण के लिए निजी भूमि की शासकीय भूमि से अदला-बदली की मंजूरी भी मिल गई है। बताया जा रहा है कि अधिग्रहीत संपत्तियों का दोगुना मूल्य उसके मालिकों को दिया जाएगा।
भारत सरकार द्वारा अटल प्रगति पथ को भारतमाला परियोजना में शामिल किया गया है। परियोजना के अंतर्गत फोर लेन सड़क निर्माण के लिए प्रदेश की तरफ से मुफ्त जमीन मुहैया कराई जानी है। परियोजना के लिए भूमि हस्तांतरित करने का काम इस वर्ष के अंतिम माह दिसंबर तक पूरा किया जाना है।

कार की ट्रक से टक्कर हुईं, कई पुलिसों की मौंत

मनोज सिंह ठाकुर         
भोपाल। मध्यप्रदेश में आरोपियों की अरेस्टिंग के लिये जा रहे पुलिस टीम की कार की ट्रक से टक्कर हो गई। इस दौरान कार में सवार व ड्राइवर सभी पुलिस वालों की मौत हो गई।
मिली जानकारी के अनुसार चोरी के एक मामले में पुलिस टीम आरोपियों की अरेस्टिंग के लिये मुरैना जा रही थी। पुलिस टीम की ग्वालियर में दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से सभी पुलिसकर्मियों एवं ड्राइवर की मृत्यु हो गई है। पुलिस टीम में उप निरीक्षक मनीष कुमार चौकी प्रभारी बेसवा, आरक्षी पवन कुमार, आरक्षी रामकुमार व मुख्य आरक्षी सुनील कुमार शामिल थे।

रविवार, 3 अक्तूबर 2021

1530 से 1550 रुपये प्रति किलोग्राम खुला तेल

मनोज सिंह ठाकुर       
इंदौर। सप्ताहांत खाद्य तेलों में खरीदी कमी से भाव गिरावट लिए रहे। कारोबार में मूंगफली तेल तथा सोयाबीन रिफाइंड घटकर बिका। तिलहनों में लिवाली बताई गई, इससे सरसों महंगी बिकी।
कारोबार की शुरूआत में मूंगफली तेल 1530 से 1550 रुपये प्रति किलोग्राम खुला। जो शनिवार को 1520 से 1540 रुपये होकर थमा। सोयाबीन रिफाइंड 1335 से 1340 रुपये पर खुलकर अंतिम दिन 1330 से 1335 रुपये प्रति 10 किलोग्राम बिका। पाम तेल 1290 से 1295 रुपये खुलकर 1295 से 1300 रुपये होकर बंद हुआ।
तिलहन जिन्सों में घटबढ़ हुई। सप्ताहांत सरसों ऊंची बिकी। कपास्या खली में भाव मजबूती लिए बताए गए।

बुधवार, 29 सितंबर 2021

गृहमंत्री नरोत्तम ने विपक्षी दल कांग्रेस पर तंज किया

मनोज सिंह ठाकुर         
भोपाल। मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने आज मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस पर तंज करते हुए कहा कि पंजाब के साथ साथ पूरी कांग्रेस में ‘राहुल कॉमेडी नाइट’ चल रही है। नरोत्तम मिश्रा ने यहां मीडिया से चर्चा में कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं से नहीं, गुटों से मिलकर बनी है।
उन्होंने कहा कि पंजाब के साथ-साथ पूरी कांग्रेस में ‘राहुल कॉमेडी नाइट’ चल रही है। प्रदेश में होने वाली उपचुनावों को लेकर गृह मंत्री ने कहा कि प्रदेश की जनता कांग्रेस को अच्छी तरह समझ चुकी है। उपचुनाव में कांग्रेस ‌हारने वाली है, यह साफ दिखाई दे रहा है।
उन्होंने कहा कि वैसे भी जब ‘सेनापति’ ही नहीं है तो ‘सेना’ की चर्चा ही क्यों की जाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास न तो नीति है,‌ न नीयत है और न नेता है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि आज जगह-जगह से कांग्रेस टूट रही है और टूटी हुई कांग्रेस को जोड़ने के लिए टुकड़े-टुकड़े गैंग वालों को लाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के हश्र को देखकर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के दर्द को अच्छी तरह से समझा जा सकता है।


सोमवार, 27 सितंबर 2021

एमपी: 10 वर्षीय छात्र की मौंत, गुत्थी सुलझाईं

मनोज सिंह ठाकुर     
ग्वालियर। ग्वालियर के बड़ागांव खुरैरी में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। करीब एक माह पहले जहर से हुई 10 साल के छात्र की मौत की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। पुलिस की जांच में सामने आया है कि मासूम बच्चे को उसकी ही सौतेली मां  ने खाने में जहर दिया था। इसके बाद बच्चे की हालत बिगड़ी और अस्पताल में तड़पते हुए उसने दम तोड़ दिया।
ग्वालियर के बड़ागांव खुरैरी में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है।  करीब एक माह पहले जहर से हुई 10 साल के छात्र की मौत की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। पुलिस की जांच में सामने आया है कि मासूम बच्चे को उसकी ही सौतेली मां  ने खाने में जहर दिया था। इसके बाद बच्चे की हालत बिगड़ी और अस्पताल में तड़पते हुए उसने दम तोड़ दिया।
हत्या को एक घटना का रूप दिया गया था, लेकिन डॉक्टर की रिपोर्ट और पुलिस की सही दिशा में जांच से पूरा मामला खुल गया है। पुलिस को बच्चे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आज मिलेगी। सौतेली मां ने पुलिस के सामने जहर देना कुबूल कर लिया है। जहर की पुड़ियां भी बरामद हो गई है।
पुलिस के अनुसार उपनगर मुरार के बड़ागांव खुरैरी निवासी राजू मिर्धा के 10 साल का बेटे नितिन मिर्धा की 24 अगस्त को खाना खाने के बाद अचानक तबीयत खराब हो गई। वह बार-बार उल्टी कर रहा था। गंभीर हालत में उसे अस्पताल में भर्ती किया गया।  जहां उसने उपचार के दौरान तड़पते हुए दम तोड़ दिया। डॉक्टर ने बच्चे के शरीर में गहरा जहर होने की पुष्टि की थी।
जब पुलिस ने बच्चे की मौत पर मर्ग कायम कर उनके परिजन से पूछताछ शुरू की तो कुछ बयान निकलकर सामने आए। इसके बाद पता लगा कि मृतक नितिन को उसकी पहली मां की मौत के बाद एफडी के 18 लाख रुपए मिले थे। पिता ने नितिन के नाम से एफडी कर दिया था। जूली उसमें से कुछ रुपये मांग रही थी, लेकिन पति ने देने से मना कर दिया था। 
राजू की दूसरी पत्नी और नितिन की सौतेली मां जूली ने आशंका जताई थी कि नितिन ने खाने में कुछ जहरीला पदार्थ खा लिया है। पर डॉक्टरों का कहना था कि ऐसा जहर नहीं है जो आमतौर पर खाने में आया हो. यह बहुत तेज जहर है। इसके बाद पुलिस ने शव को निगरानी में लेकर पोस्टमार्टम कराया था। मामले में पुलिस ने पड़ताल शुरू की तो बार-बार संदेह की सुई मृतक की सौतेली मां जूली पर ही आ रही थी।
पुलिस के अनुसार 18 लाख में से एक पैसा न मिलने के कारण उसे सौतेला बेटा अखर रहा था। घटना वाले दिन उसने उसे प्यार से खाना खिलाया और उसमें जहर मिला दिया। उसकी योजना उसकी मौत को एक हादसा या खुदकुशी दिखाने की थी। जब पुलिस ने सौतेली मां को थाने लाकर कड़ाई के साथ पूछताछ की तो उसने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है। 

रविवार, 26 सितंबर 2021

जोरदार बारिश होने से क्षेत्र का मौसम सुहाना हुआ

मनोज सिंह ठाकुर      
नीमच। शहर में रविवार को रूक-रूककर बारिश का दौर जारी है। शहर सहित जिलेभर के आसमान में रविवार सुबह से ही बादलों की मौजूदगी दिखाई दी। कुछ देर धूप निकलने के बाद सुबह करीब 11 बजे जोरदार बारिश का क्रम शुरू हुआ जो कुछ देर तक चला। इसके बाद दोपहर करीब 12ः30 बजे बादलों ने फिर से डेरा जमाया और जोरदार बारिश का क्रम शुरू हुआ। जोरदार बारिश होने से क्षेत्र का मौसम सुहाना हो गया। 
गत वर्ष की तुलना में 14 इंच अधिक बारिश रिकॉर्ड- नीमच जिले में चालू वर्षा काल में अब 40 इंच से अधिक बारिश रिकॉर्ड की जा चुकी है। जबकि गत वर्ष इस अवधि तक महज 26 इंच बारिश रिकॉर्ड की गई थी। जिले की औसत बारिश का आंकड़ा 32.5 इंच है। जिले में औसत बारिश से 8.5 इंच अधिक बारिश हो चुकी है। जिले सहित आसपास के क्षेत्रों में हुई झमाझम बारिश से सभी बांध व जलाशय पूर्ण क्षमता से भर चुके हैं। बांध व जलाशयों में पानी की जोरदार आवक होने से किसानों ने भी राहत की सांस ली है। किसानों की मानें तो आगामी सीजन की फसल लेने में पानी का उपयोग किया जाएगा।   
संबंधित खबरे।

गुरुवार, 23 सितंबर 2021

मध्यप्रदेश: खाद्य तेलों में मांग से सुधार दर्ज किया

मनोज सिंह ठाकुर      
इंदौर। सियागंज किराना बाजार में शक्कर में मांग से मजबूत रही। तेलों में मांग से भाव तेजी लिए बताए गए। आज सोयाबीन रिफाइंड ऊंचा बिका। दलहन में मांग सुस्ती से घटबढ़ हुई। आज चना महंगा तो उड़द घटकर बिकी। दालों में मंदा रहा। चावल में कामकाज सामान्य बताया गया।शक्कर में मांग से मजबूती दर्ज की गई। आज शक्कर में कामकाज 3750 से 3800 रुपये के स्तर पर चला। शक्कर में 8 गाड़ी आवक हुई। खोपरा गोला दिसावरी बढ़त से ऊंचा बिका। खोपरा बूरा तथा साबूदाना में पूछपरख रही।
खाद्य तेलों में मांग से सुधार दर्ज किया गया। आज सोयाबीन रिफाइंड तथा पाम तेल में तेजी हुई। तिलहन में खरीदी बनी रही। इससे भाव ऊपर-नीचे हुए।
अनाज मंडी में दलहनो के भाव में घटबढ़ हुई। आज चना कांटा महंगा तथा उड़द सस्ती बिकी। दालों में लिवाली सुस्ती से गिरावट दर्ज की गई। चना दाल में 50-100 रुपये बढ़ गए। चावल में कामकाज सुधार लिए बताया गया।

मंगलवार, 21 सितंबर 2021

एमपी: 1 और पर्यटन स्थल पर्यटकों की पसंद बना

मनोज सिंह ठाकुर           
मंडला। मंडला में प्रसिद्ध कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के साथ अब एक और पर्यटन स्थल पर्यटकों की पसंद बन चुका है। ये है अजगर दादर यानि अजगरों का पूरा गांव या कहें पूरी एक बस्ती। यहां हजारों की तादाद में अजगर हैं। अजगरों की ये बस्ती कान्हा के बफर जोन से लगे अंजनिया वन परिक्षेत्र के ककैया गांव में है। 1926 में आई बाढ़ में ये जगह पोली हो गई थी। बस तब से जीव जन्तुओं ने यहां अपना डेरा जमा लिया। 2014-15 में वन विभाग के प्रयास से ये लोगों की नजर में आयी। हजारों अजगरों को यहां एक साथ रेंगते देखा जा सकता है न गांव वाले इन्हें परेशान करते हैं और न ही गांव वालों को कभी इन्होंने काटा।
अजगर दादर मंडला जिले का दूसरा प्रमुख पर्यटन स्थल बन गया है। दुनिया में प्रसिद्ध कान्हा राष्ट्रीय उद्यान बाघों के कारण वन्य प्राणि प्रेमियों और पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा है। अब इस अजगर दादर भी पर्यटकों में काफी उत्सुकता पैदा कर रहा है।
पर्यटक हमेशा नई और खतरनाक रोमांचक चीजें देखने के शौकीन होते हैं। इसलिए मंडला की ओर कूच करते हैं। लेकिन पर्यटकों को यहां एक ऐसे रोमांच का अनुभव होता है जिसे देखते ही सिट्टी पिट्टी गुम हो जाती है। यहां अजगरों को खुले आम आराम फरमाते देखा जा सकता है और भी एक दो नहीं बल्कि झुंड के झुंड।एक ही जगह पर आपको इतने तरह के अजगर दिख जाएंगे जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते। छोटे से छोटे और बड़े से बड़े इतनी लंबाई कि कभी आपने सोचा भी ना होगा। ये अजगर दादर करीब 2 एकड़ में एरिया में फैला हुआ है। यहां बड़ी संख्या में छोटे-बड़े अजगर पाए जाते हैं। इस स्थान को अजगर दादर कहा जाने लगा है।
अजगर कोल्ड ब्लडेड होते हैं। इस स्थान पर ठंड के मौसम में बड़ी संख्या में अजगर धूप सेंकते हुए दिख जाते हैं। गांव वाले इन्हें परेशान नहीं करते और न ही इन्होंने कभी गांव वालों को डसा। यहां अजगर और इंसानों के बीच अजीब रिश्ता है। गांव वाले इन अजगरों की सुरक्षा को लेकर बेहद संवेदनशील हैं।बताया जाता है कि 1926 में यहां भीषण बाढ़ आयी थी और ये स्थान पोला हो गया था. बस तभी से यहां तरह तरह के जीव जंतु रहने लगे। इन्हीं पोले स्थानों को अजगरों ने भी अपना निवास बना लिया। यह स्थान 2014-2015 के आस -पास वन विभाग के प्रयासों से लोगों की नजर में आया है। कान्हा नेशनल पार्क की तरह धीरे धीरे इस जगह के बारे में ख्याति फैल रही है और पर्यटकों की संख्या बढ़ती जा रही है।

शनिवार, 18 सितंबर 2021

एमपी: पूर्व सीएम उमा ने शराबबंदी की मांग उठाईं

मनोज सिंह ठाकुर          

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी भाजपा की वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने आज फिर शराबबंदी की मांग उठाते हुए कहा कि इस संबंध में वह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भारतीय जनता पार्टी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा को 15 जनवरी तक समय दे रही हैं। सुश्री भारती ने यहां अपने निवास पर पत्रकारों से चर्चा में कहा कि वे पहले से ही शराबबंदी की बात उठाती आ रही हैं। अब वे 15 जनवरी तक का समय चौहान और शर्मा को दे रही हैं और उन्हें इस समय में कुछ करना चाहिए, अन्यथा इसके बाद वे स्वयं सड़कों पर उतरेंगी।

सुश्री भारती ने यह भी कहा कि इसके पहले राज्य में शराबबंदी के पक्ष में जनजागरुकता अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने चौहान और शर्मा की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में ही यह कार्य होना चाहिए। शराबबंदी होने की स्थिति में राज्य को लगभग दस हजार करोड़ रुपए के राजस्व हानि संबंधी सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इसका विकल्प भी उनके पास है, लेकिन वह यह मीडिया के समक्ष नहीं बता सकती हैं। इस संबंध में वे चौहान और शर्मा को ही बताएंगी। सुश्री भारती ने साथ ही यह भी कहा कि बुंदेलखंड अंचल के बड़ा मलहरा क्षेत्र में हीरा खदानें जंगल को नुकसान पहुंचाए बगैर वहां के युवाओं को ही दी जाना चाहिए।

इस बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने सुश्री भारती के बयान के बाद ट्वीट के जरिए कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि सुश्री भारती ने इसके पहले इस वर्ष दो फरवरी को भी घोषणा की थी कि आठ मार्च को महिला दिवस से वे नशामुक्ति अभियान प्रारंभ करेंगी। लेकिन अभियान चला ही नहीं और घोषणा गायब हो गयी।

सलूजा ने कहा कि सुश्री भारती को शिवराज सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरना चाहिए और कांग्रेस उनके साथ रहेगी। उन्होंने कहा कि राज्य में शराब माफियाओं के हौंसले बुलंद हैं। प्रदेश में जहरीली शराब से 70 से अधिक मौत हो चुकी हैं। सुश्री भारती को शराबबंदी को लेकर अपनी घोषणा पर कायम रहना चाहिए और उन्हें सड़कों पर आना चाहिए। यह घोषणा भी पहले की तरह नहीं होना चाहिए।

यहां यह रोचक है कि अपनी ही दल की सरकार से इस तरह की मांग सुश्री भारती ने भोपाल में पत्रकारों के समक्ष की, जबकि केंद्रीय गृह मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता अमित शाह जबलपुर की यात्रा पर हैं और चौहान तथा श्री शर्मा समेत सभी नेता भी जबलपुर में हैं।

एमपी: परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर लगाईं आग

मनोज सिंह ठाकुर      
भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले के एक गांव में 25 वर्षीय युवक पर कथित तौर पर प्रेम प्रसंग के चलते युवती के परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी, जिससे उसकी मौत हो गई। सागर जिले के पुलिस अधीक्षक अतुल सिंह ने शनिवार को बताया कि यह घटना बृहस्पतिवार देर रात सागर के नरयावली थाना क्षेत्र अंतर्गत सेमरा लहरिया गांव में हुई और इस संबंध में महिला के परिवार के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है।
उन्होंने कहा कि इस घटना में युवती (23) भी झुलस गई है। सिंह ने बताया कि इस युवती ने दावा किया कि युवक उस पर मिट्टी का तेल डालकर उसे जलाने का प्रयास कर रहा था, लेकिन आग युवक को ही आग लग गई। युवती का दावा है कि उसके परिवार के सदस्यों ने उन दोनों को बचाने का प्रयास किया।
सिंह ने बताया कि शुक्रवार को सागर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान युवक की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि युवक ने अपने मृत्यु पूर्व बयान में कहा कि बृहस्पतिवार रात को युवती ने उसे फोन कर बुलाया था। फिर युवती के चार परिजन ने उसके ऊपर मिट्टी का तेल डालकर उसे आग लगा दी। उन्होंने कहा कि बाद में जब युवक के परिवार के सदस्यों को घटना की जानकारी मिली तो वे उसे अस्पताल लेकर पहुंचे।
सिंह ने कहा कि चारों आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है और आगे की जांच की जा रही है। मृतक के परिजन ने युवती के परिवार के मकान को गिराने की मांग को लेकर शुक्रवार शाम सागर-बीना मार्ग पर चक्काजाम किया। बाद में मध्य प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह के समझाने-बुझाने के बाद उन्होंने विरोध प्रदर्शन समाप्त कर दिया।
 

शुक्रवार, 17 सितंबर 2021

चिकित्सा अधिकारी को प्रभाव से निलंबित किया

मनोज सिंह ठाकुर        
उज्जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन संभागायुक्त ने टीकाकरण महाअभियान के दौरान अनुपस्थित रहने पर एक चिकित्सा अधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।
संभागायुक्त संदीप यादव ने संभाग के देवास जिले के भौरासा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में टीकाकरण महाअभियान के दौरान चिकित्सा अधिकारी डॉ जावेद पटेल को कर्त्तव्य स्थल से अनुपस्थित रहने और शासकीय कार्य के प्रति घोर लापरवाही एवं अनुशासनहीनता बरतने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है।

11 आरोपियों के खिलाफ उम्रकैद की सजा सुनाईं

मनोज सिंह ठाकुर        
भिण्ड। मध्यप्रदेश के भिण्ड जिले की एक अदालत ने एक युवक की गोली मारकर हत्या के मामले में ग्यारह आरोपियों के खिलाफ दोष सिद्ध होने पर उम्रकैद की सजा सुनायी है।
अभियोजन के अनुसार भारौली थाने के गोरम गांव में 27 अगस्त 2011 को युवक सितंबर शर्मा की गोली मारकर हत्या करने के मामले में आरोपियों में छुन्ना शर्मा, बंटू, कुल्लू, सोनू, मिथुन शर्मा, ज्ञान सिंह, रवि यादव, बलवीर यादव, कुल्लू, राजू व मनोज शर्मा को उम्रकैद की सजा सुनायी गयी है।
जिला न्यायालय के चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश अनीस खान ने कल यह सजा सुनायी है।

मंगलवार, 14 सितंबर 2021

एमपी: तीन साथियों को 8.22 कैरेट का हीरा मिला

मनोज सिंह        
भोपाल। मध्यप्रदेश के पन्ना जिले की एक खदान में एक मजदूर और उसके तीन साथियों को 15 साल के इंतजार के बाद 8.22 कैरेट का हीरा मिला है। स्थानीय विशेषज्ञों का कहना है कि हीरे की कीमत 40 लाख रुपये तक हो सकती है और अधिकारियों के अनुसार, ऐसे कच्चे हीरों की नीलामी से होने वाली आय सरकारी रॉयल्टी और करों की कटौती के बाद संबंधित खनिकों को दी जाएगी।
पन्ना कलेक्टर संजय कुमार मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि रतनलाल प्रजापति और उनके सहयोगियों ने जिले के हीरापुर तपरिया इलाके में पट्टे पर दी गई जमीन से 8.22 कैरेट का हीरा निकाला और उसे हीरा कार्यालय में जमा कर दिया। उन्होंने कहा कि हीरे को अन्य रत्नों के साथ 21 सितंबर को नीलामी के लिए रखा जाएगा।
रत्नलाल प्रजापति के सहयोगियों में से एक रघुवीर प्रजापति ने सरकारी कार्यालय में कीमती पत्थर जमा करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने हीरे खोजने के लिए पिछले 15 साल विभिन्न खदानों में उत्खनन में बिताए हैं, लेकिन उन्हें पहली बार सफलता मिली है।
उन्होंने कहा हमने पिछले 15 वर्षों से विभिन्न क्षेत्रों में छोटी खदानें लीज पर लीं, लेकिन एक भी हीरा नहीं मिला। इस साल, हम पिछले छह महीनों से हीरापुर तपरिया में एक पट्टे की जमीन पर खनन कर रहे हैं और 8.22 कैरेट वजन का हीरा पाकर हैरान हैं। खनिक ने कहा कि वह और उसके साथी हीरे की नीलामी से प्राप्त धन का उपयोग अपने बच्चों को बेहतर जीवन और शिक्षा प्रदान करने के लिए करेंगे।

यूके: कोरोना एक्टिव केसों की संख्या-30,927 हुईं

यूके: कोरोना एक्टिव केसों की संख्या-30,927 हुईं पंकज कपूर            देहरादून।  राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना से 7 संक्रमितों की मौत ह...