केरल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
केरल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 3 फ़रवरी 2024

दर्शकों ने 'भारत माता की जय' का नारा नहीं लगाया

दर्शकों ने 'भारत माता की जय' का नारा नहीं लगाया

इकबाल अंसारी 
कोझिकोड। केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी ने शनिवार को यहां एक युवा सम्मेलन में दर्शकों के एक वर्ग पर इस बात के लिए नाराजगी जताई कि बार-बार कहने के बावजूद उन्होंने 'भारत माता की जय' का नारा नहीं लगाया। स्पष्ट रूप से अप्रसन्न दिख रही लेखी ने उनसे पूछा कि क्या भारत उनकी मां नहीं है ?

यहां तक कि एक महिला को, जो नारा लगाने को राजी नही थी, उसे केंद्रीय मंत्री ने कार्यक्रम स्थल छोड़ने का सुझाव भी दिया। इस सम्मेलन का आयोजन कुछ दक्षिणपंथी संगठनों द्वारा किया गया था। अपने भाषण का समापन करते हुए, वरिष्ठ भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) नेत्री ने 'भारत माता की जय' का नारा लगाया और दर्शकों से इसे दोहराने के लिए कहा।

चूँकि दर्शकों की प्रतिक्रिया अपेक्षा के अनुरूप नहीं थी, उन्होंने पूछा कि क्या भारत उनका घर नहीं है। केंद्रीय विदेश एवं संस्कृति राज्य मंत्री ने कहा, "क्या भारत सिर्फ मेरी मां है या आपकी भी मां है? मुझे बताओ...मुझे बताओ...क्या इसमें कोई संदेह है? कोई संदेह नहीं?...उत्साह व्यक्त करने की जरूरत है।" उन्होंने नारा दोहराया और कहा कि बाईं ओर के दर्शकों की प्रतिक्रिया अभी भी अच्छी नही है।

दर्शकों में से एक महिला की ओर इशारा करते हुए लेखी ने कहा, "पीली पोशाक वाली महिला खड़ी हो सकती हैं। बगल की तरफ मत देखिए। मैं आपसे इसी तरह बात करने जा रही हूं। मैं आपसे एक सवाल पूछने जा रही हूं। सीधा सवाल। भारत आपकी माता नहीं हैं?... यह रवैया क्यों?” लेखी ने फिर भारत माता की जय के नारे लगाए।

लेकिन महिला अभी भी ऐसे ही खड़ी थी। मंत्री ने यह भी स्पष्ट किया कि जिसे देश पर गर्व नहीं है और जिसे भारत के बारे में बोलना शर्मनाक लगता है, उसे युवा सम्मेलन का हिस्सा बनने की जरूरत नहीं है।

मंगलवार, 19 दिसंबर 2023

केरल में कोरोना का नया वेरिएंट, यूके हुआ सतर्क

केरल में कोरोना का नया वेरिएंट, यूके हुआ सतर्क
श्रीराम मौर्य 
देहरादून। केरल में कोरोना का नया वैरिएंट जेएन.1 मिलने के बाद उत्तराखंड भी सतर्क हो गया है। संदिग्ध लक्षणों वाले व्यक्ति की जांच और निगरानी को लेकर प्रदेश सरकार ने मंगलवार को एसओपी जारी कर एहतियात के तौर पर सभी अस्पतालों को अलर्ट किया हैं। सोमवार को केंद्र सरकार ने केरल में कोरोना का नया मामला सामने आने के बाद सभी राज्यों को जांच और निगरानी बढ़ाने के दिशानिर्देश जारी किए हैं।
केंद्र की गाइडलाइन पर प्रदेश सरकार भी सभी जिलों को कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए दिशानिर्देश जारी कर सकती है। वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के राज्य अधिकारी डॉ. पंकज सिंह ने बताया कि केरल में कोरोना का नया वैरिएंट मिला है। इसे लेकर केंद्र सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। हालांकि प्रदेश में अभी तक कोरोना के नए वैरिएंट से संबंधित कोई मामला नहीं है। एहतियात के तौर पर जिलों को निगरानी और जांच के संबंध में पूर्व की भांति दिशानिर्देश दिए जाएंगे।

गुरुवार, 7 दिसंबर 2023

अपने कर्तव्यों का निर्वहन नहीं कर रहे राज्यपाल

अपने कर्तव्यों का निर्वहन नहीं कर रहे राज्यपाल 

इकबाल अंसारी 
कोच्चि। केरल सरकार और राज्यपाल के बीच जारी जुबानी जंग बृहस्पतिवार को उस समय और तेज हो गई, जब मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने आरोप लगाया कि राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान अपने कर्तव्यों का निर्वहन नहीं कर रहे हैं। विजयन ने एक दिन पहले खान द्वारा दिए गए कुछ बयानों के बारे में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए यह टिप्पणी की।
उन्होंने कहा कि अगर राज्यपाल ‘‘संघ परिवार का अनुसरण करने वाले’’ हैं तो उन्हें इस बात से कोई समस्या नहीं है। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया, ‘‘लेकिन, राज्यपाल को राज्यपाल के रूप में कार्य करना होगा। वह वर्तमान में राज्यपाल के कर्तव्यों का निर्वहन नहीं कर रहे हैं।’’ राज्यपाल ने बुधवार को कहा था कि वह राज्य सरकार की सलाह के लिए तैयार हैं, ‘‘लेकिन इसके दबाव में नहीं आएंगे।’’
खान ने राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की नियुक्ति के संदर्भ में यह बात कही थी। राज्यपाल ने यह भी कहा था कि अगर राज्य सरकार किसी विधेयक या अध्यादेश के संबंध में तत्काल कार्रवाई चाहती है तो उसे राजभवन आना चाहिए और उन्हें (खान) स्पष्टीकरण देना चाहिए।
उन्होंने विजयन से यह सुनिश्चित करने के लिए भी कहा कि माकपा के सदस्य और समर्थक पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को ‘आजाद कश्मीर’ कहने से बचें और ‘‘अलगाववाद और क्षेत्रवाद की आग न भड़काएं।’’
खान ने सरकार द्वारा उनकी मंजूरी के लिए भेजे गए दो अध्यादेशों पर हस्ताक्षर नहीं करने के बारे में मीडिया रिपोर्ट के जवाब में ये टिप्पणियां कीं। अध्यादेश के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर राज्यपाल को उनसे कुछ कहना है तो उन्हें मीडिया के माध्यम से नहीं बल्कि सीधे बात करनी चाहिए।

रविवार, 26 नवंबर 2023

रॉकेट के प्रक्षेपण से पहले उल्टी गिनती शुरू की

रॉकेट के प्रक्षेपण से पहले उल्टी गिनती शुरू की

इकबाल अंसारी 
तिरुवनंतपुरम। भारत के पहले ‘ध्वनि रॉकेट’ प्रक्षेपण के समय उल्टी गिनती करने वाले वैज्ञानिक प्रमोद पुरुषोत्तम काले ने 60 साल बाद शनिवार को एक अन्य रॉकेट के प्रक्षेपण से पहले उल्टी गिनती शुरू कर इतिहास दोहराया।
छह दशक पहले केरल में तिरुवनंतपुरम के पास थुम्बा स्थित अस्थायी इक्वेटोरियल प्रक्षेपण स्थल से एक रॉकेट को प्रक्षेपित करने के मौके पर युवा वैज्ञानिक प्रमोद पुरुषोत्तम काले ने आत्मविश्वास के साथ 20 सेकंड की उल्टी गिनती (काउंटडाउन) शुरू की थी, तब देश का अंतरिक्ष कार्यक्रम अपने शुरुआती चरण में था।
लेकिन शनिवार को इतिहास ने खुद को दोहराया जब विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में 80 वर्ष से अधिक उम्र के काले ने एक बार फिर रॉकेट प्रक्षेपण के लिए उल्टी गिनती का मार्गदर्शन करने के लिए माइक्रोफोन उठाया। काले महान वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के समर्पित शिष्य रहे हैं। नये रॉकेट का प्रक्षेपण उसी स्थान से किया गया जहां से 21 नवंबर, 1963 को भारत के पहले ‘ध्वनि रॉकेट’ को प्रक्षेपित किया गया था।
काले ने कहा कि याद रखने वाली सबसे अहम बात यह है कि देश के पहले ‘ध्वनि रॉकेट’ का प्रक्षेपण सूर्यास्त के बाद देर शाम को किया गया था और खुद वह उलटी गिनती कर रहे थे। प्रसन्नचित काले ने उन दिनों को याद करते हुए कहा, ‘‘मैंने घड़ी विकसित कर ली थी, लेकिन वह घड़ी ऊपर की गिनती कर रही थी, नीचे की नहीं। इसलिए उन्होंने मुझसे उलटी गिनती करने के लिए कहा था।’’
इस प्रक्षेपण से देश में अंतरिक्ष क्षेत्र में विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ और 1969 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की स्थापना हुई। विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) के निदेशक रहे अहमदाबाद निवासी काले ने कहा कि उन्होंने कुछ और समय तक रॉकेट प्रक्षेपण के लिए उल्टी गिनती करना जारी रखा, क्योंकि उस समय प्रक्षेपण का समय बहुत महत्वपूर्ण था।
पुराने दिनों को याद करते हुए काले ने कहा कि विक्रम साराभाई द्वारा तैयार शुरुआती बैच में से केवल एपीजे अब्दुल कलाम ही एक ‘एरोनॉटिकल इंजीनियर’ थे। उन्होंने कहा कि साराभाई ने इस बैच का गठन किया और जनवरी 1963 में इसके सदस्यों को रॉकेट उत्पादन, प्रक्षेपण और रॉकेट इंस्ट्रूमेंटेशन में प्रशिक्षण के लिए भेजा।
काले का मानना ​​है कि गगनयान के जरिए इसरो जल्द ही अपने मुख्य मिशन को पूरा करेगा और अंतरिक्ष स्टेशन बनाने में सफल होगा। इसरो के साथ दशकों की सेवा के बाद काले वीएसएससी के निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए। उन्होंने वीएसएससी से ही अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में अपनी यात्रा शुरू की थी।

सोमवार, 13 नवंबर 2023

सरकार की ‘फिजूलखर्ची और विलासिता’ जिम्मेदार

सरकार की ‘फिजूलखर्ची और विलासिता’ जिम्मेदार 

इकबाल अंसारी 
तिरुवनंतपुरम। केंद्र सरकार ने सोमवार को आरोप लगाया कि केरल के आर्थिक संकट के लिए उसकी (केंद्र की) नीति नहीं, बल्कि स्थानीय वाममोर्चा सरकार की ‘फिजूलखर्ची और विलासिता’ जिम्मेदार है। केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने सवाल किया कि क्या केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ‘‘मूर्ख हैं या इस मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने के लिए मूर्ख बनने का नाटक कर रहे हैं।’’
मुरलीधरन ने दावा किया कि मुख्यमंत्री और राज्य के वित्त मंत्री के एन बालागोपाल केंद्र द्वारा नहीं दी गयी धनराशि के विभिन्न आंकड़ो का हमेशा हवाला देते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आप केरल के मुख्यमंत्री हैं। या तो आपको मूर्ख नहीं बनना चाहिए या आपको मूर्ख बनने का नाटक नहीं करना चाहिए एवं लोगों को गुमराह नहीं करना चाहिए। केरल के मुख्यमंत्री को देश के कानूनों का ज्ञान होना चाहिए। उन्हें राज्य की वित्तीय दशा का भी पता होना चाहिए।’’
मुरलीधरन के बयान से एक दिन पहले बालागोपाल ने केंद्र पर केरल एवं अन्य विपक्षी शासित राज्यों के साथ आर्थिक मामलों में भेदभाव का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि केरल इस संबंध में कानूनी उपाय पर विचार करेगी। बालागोपाल ने रविवार को कोल्लम में पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि भाजपा शासित केंद्र सरकार वित्तीय मामलों में राजस्थान एवं छत्तीसगढ़ समेत विपक्षी शासित राज्यों के साथ ‘बहुत भेदभाव’ कर रही है।
उन्होंने कहा, ‘‘ उनमें सबसे अधिक भेदभाव केरल के साथ हो रहा है। हम केंद्र की हरकतों के विरूद्ध कानूनी उपायों पर गौर कर रहे हैं।’’ वाममोर्चा सरकार पर पलटवार करते हुए मुरलीधरन ने दावा किया कि केरल को कल्याणकारी पेंशन में केंद्र के हिस्से समेत जो विभिन्न आवंटन और अनुदान केंद्र से मिलने थे, वे उसे पहले ही दिये जा चुके हैं।
उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि यदि राज्य वित्तीय संकट में था, तो उसने कल्याणकारी पेंशन की अगली किस्त के लिए अनुरोध क्यों नहीं किया। उन्होंने यह भी कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से वेतन सुधार के तहत करीब 750 करोड़ रुपये जैसे कुछ अनुदान राज्य प्रशासन के कुप्रबंधन के चलते नहीं दिये गये।
विदेश राज्यमंत्री ने दावा किया कि कुछ मामलों में अनुदान या फंड के अनुरोध समय से नहीं भेजे गये या अनिवार्य दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि पूंजीगत निवेश के लिए 1925 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता राज्य को नहीं दी गयी क्योंकि उसने अनिवार्य अनुपालन रिपोर्ट अबतक जमा नहीं की है।
उन्होंने दावा किया कि नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट के अनुसार राज्य 7000 करोड़ रुपये की कर वसूली नहीं कर पाया। बालागोपाल ने दावा किया था कि कर संग्रहण राज्य में प्रभावी तरीके से की जा रही है।
मुरलीधरन ने कहा कि हर बार जब कोई कथित फिजूलखर्ची और विलासिता व्यय एवं भारी खर्च से केरलीयम समारोह के आयोजन को लेकर प्रश्न उठाता है ते वाममोर्चा उसके लिए केंद्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराता है। उन्होंने कहा, ‘‘यदि राज्य अपनी फिजूलखर्ची बंद कर देता है और उपयुक्त वित्तीय प्रबंधन करता है तो केरल की आर्थिक स्थिति सुधरेगी।’’

सोमवार, 9 अक्तूबर 2023

निपाह वायरस: केरल में 6 मरीज मिलें, 2 की मौत

निपाह वायरस: केरल में 6 मरीज मिलें, 2 की मौत 

इकबाल अंसारी 
तिरुवनंतपुरम। कोविड की तरह निपाह वायरस भी एक से दूसरे को संक्रमित कर सकता है। केरल में छ: मरीज मिलने और दो मरीजों की मौत के बाद देश के कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है। उत्तराखंड में भी स्वास्थ्य विभाग की ओर से अस्पतालों में अलर्ट जारी किया है।
इसके लक्षण दिखने पर मरीजों को क्वारंटीन किया जाएगा। फिलहाल जिले में निपाह वायरस की जांच सुविधा नहीं है। अगर मरीज में लक्षण मिलते हैं तो जांच के लिए सैंपल ऋषिकेश एम्स भेजा जाएगा।
सीएमओ डॉ. संजय जैन ने बताया कि निपाह वायरस के मामले उत्तराखंड में अबतक सामने नहीं आए हैं, लेकिन अगर किसी भी मरीज में निपाह वायरस जैसे लक्षण दिखते हैं तो जांच के लिए ऋषिकेश एम्स भेजा जाएगा। दून मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायलॉजी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. दीपक जुयाल ने बताया कि भारत में 2001 से अबतक निपाह वायरस छह बार आ चुका है। केरल में 2018 के बाद यह चौथी बार आया है।
यह चमगादड़ या सुअर से फैलता है। इसकी अबतक कोई दवा या वैक्सीन नहीं बनी है। लक्षण के आधार पर ही इलाज होता है। उमस और गर्मी वाले इलाकों में यह वायरस अधिक तेजी से फैलता है। ठंडे इलाकों में इसका प्रभाव कम रहता है। दून अस्पताल में अगर ऐसा कोई मरीज आता है और जांच की जरूरत पड़ी तो किट मंगाकर जांच की जाएगी।

हो सकती है मौत
डॉ. दीपक ने बताया कि इस वायरस से दिमाग में सूजन आने पर मरीज की मौत भी हो सकती है। हालांकि, यह वायरस एक से दूसरे में तभी फैलता है जब नजदीक कॉन्टैक्ट हो। फिलहाल सरकार की ओर से लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है।

लक्षण
बुखार, सिर दर्द, कफ, गले में खराश, उल्टी, सांस लेने में दिक्कत, निमोनिया और दिमाग में सूजन।

उपचार
मरीज का इलाज लक्षण के आधार पर होता है।
मरीज को अन्य लोगों से अलग 21 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाता है।
अन्य लोगों को संक्रमित के संपर्क में आने से मना किया जाता है।
मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी होता है।

रविवार, 24 सितंबर 2023

हाथी के हमले में वन विभाग का एक पहरेदार घायल

हाथी के हमले में वन विभाग का एक पहरेदार घायल 

इकबाल अंसारी 
तिरुवनंतपुरम। इडुक्की जिले के मरयूर के कोसावुचोला में एक जंगली हाथी के हमले में केरल वन विभाग का एक पहरेदार घायल हो गया। यह घटना शनिवार देर रात की है। घायल वन पहरेदार की पहचान सी. मणि के रूप में की गई है, जो केरल के वन्नाथुराई वन प्रभाग में एक सुरक्षा पहरेदार है। 
वन विभाग के अधिकारियों ने आईएएनएस को बताया कि जंगली हाथी के हमले में मणि के दोनों पैर टूट गए हैं। वन विभाग के सूत्रों ने खुलासा किया कि जब जंगली हाथी ने मणि पर हमला किया तो वह आधिकारिक ड्यूटी पर थे। हाथी के हमले में घायल मणि को इलाज के लिए आदिमाली तालुक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। केरल के इडुक्की जिले के चिन्नाकनाल में एक जंगली हाथी अरीकोम्बन ने चावल के लिए लोगों के घरों और दुकानों पर हमला कर दिया था। हाथी को ट्रैंकुलाइज़ करने और फिर उसे पकड़ने के बाद तमिलनाडु के वन क्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया गया।

शुक्रवार, 11 अगस्त 2023

बेवफाई के शक में पत्नी की पीट-पीट कर हत्या की

बेवफाई के शक में पत्नी की पीट-पीट कर हत्या की  

इकबाल अंसारी 

त्रिशूर। केरल में 56 वर्षीय एक व्यक्ति ने बेवफाई के शक में शुक्रवार को अपनी पत्नी की कथित तौर पर पीट-पीट कर हत्या कर दी। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि आरोपी की पहचान उन्नीकृष्णन के रूप में हुई है और वह कुछ समय से विदेश में काम कर रहा था। उसने बताया कि देश लौटने के तीन दिन बाद उसने कथित तौर पर घटना को अंजाम दिया।

पुलिस ने बताया कि अपनी 46 वर्षीय पत्नी की हत्या करने के बाद आरोपी ने शुक्रवार तड़के विय्यूर पुलिस थाने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ''वह विदेश में था और आठ अगस्त को केरल पहुंचा।''

उन्होंने बताया कि आरोपी ने अपराध कबूल कर लिया है। पुलिस ने बताया कि आरोपी को अपनी पत्नी की गतिविधियों पर संदेह था और उसने उस पर बेवफाई का आरोप लगाकर उसके साथ मारपीट की थी।

बुधवार, 21 जून 2023

बहन से दुष्कर्म किया, 135 साल की सजा 

बहन से दुष्कर्म किया, 135 साल की सजा 

सुनील श्रीवास्तव 

तिरुवनंतपुरम। केरल की एक अदालत ने सोमवार को एक व्यक्ति को दो साल पहले अपनी नाबालिग चचेरी बहन से बार-बार बलात्कार करने और उसे गर्भवती करने के जुर्म में कुल 135 साल कैद की सजा सुनाई। लोक प्रासीक्यूटर रघु ने कहा कि हरिपद फास्ट ट्रैक विशेष अदालत के न्यायाधीश साजी कुमार ने 24 वर्षीय बलात्कार के दोषी को कुल 135 साल की सजा सुनाई। यह सजा पॉक्सो एक्ट के तहत दी गई है।

अदालत ने फैसला सुनाते हुए दोषी युवक पर 5।1 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को पीड़िता को चार लाख रुपये मुआवजा देने का निर्देश दिया। घटना के वक्त पीड़िता की उम्र 15 साल थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार आरोपी पीड़िता के पिता के बड़े भाई का बेटा था और वह उसे अपने स्कूल ले जाता था और घर वापस उसकी नानी के पास लाता था। 

अभियोजक ने कहा कि इसका फायदा उठाते हुए, युवक ने पीड़िता के नहाने के दौरान उसका वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगा। फिर बार-बार दुष्कर्म किया जिससे वह गर्भवती हो गई। वकील ने बताया कि पीड़िता ने एक बच्चे को भी जन्म दिया है, जो बाल कल्याण समिति की निगरानी में है।

गुरुवार, 12 जनवरी 2023

'बर्ड फ्लू' फैलने की वजह से 1,800 मुर्गियों की मौंत 

'बर्ड फ्लू' फैलने की वजह से 1,800 मुर्गियों की मौंत 

इकबाल अंसारी 

तिरुवनंतपुरम। केरल के कोझिकोड जिले में एक सरकारी मुर्गी पालन केन्द्र में बर्ड फ्लू फैलने की वजह से, कम से कम 1,800 मुर्गियों की संक्रमण से मौंत हो गई है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बर्ड फ्लू के वायरस के एच5एन1 स्वरूप की मौजूदगी उस मुर्गी पालन केन्द्र की मुर्गियों में पाई गई। जिसका संचालन जिला पंचायत करता है। अधिकारी ने बताया कि केरल की पशुपालन मंत्री जे चिंचू रानी ने इस संबंध में केंद्र के दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल के अनुरूप रोकथाम के उपाय करने के निर्देश दिए हैं। सरकार की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि प्रारंभिक जांच में बर्ड फ्लू फैलने के संकेत हैं।

नमूनों को सटीक जांच के लिए मध्य प्रदेश के भोपाल स्थित प्रयोगशाला में भेजा गया है। मुर्गी पालन केन्द्र में 5000 से अधिक मुर्गियां थीं और उनमें से अब तक संक्रमण के चलते 1800 मुर्गियों की मौत हो चुकी है। बयान के अनुसार, जिला अधिकारियों के तत्वावधान में विभिन्न सरकारी विभागों के समन्वय के साथ मुर्गियों को मारा जाएगा तथा बीमारी की रोकथाम के लिए अन्य प्रयास किए जाएंगे।

मंगलवार, 1 नवंबर 2022

सेतु को प्रतिष्ठित ‘एजुथाचन पुरस्कार’ के लिए चुना

सेतु को प्रतिष्ठित ‘एजुथाचन पुरस्कार’ के लिए चुना

इकबाल अंसारी 

तिरूवनंतपुरम/कोट्टायम। प्रसिद्ध मलयालम कथा लेखक सेतु को इस वर्ष केरल सरकार के प्रतिष्ठित ‘एजुथाचन पुरस्कार’ के लिए चुना गया है। मलयालम भाषा और साहित्य में उनके समग्र योगदान को देखते हुए उन्हें इस सम्मान के लिये चुना गया है। मंगलवार को यहां पुरस्कार की घोषणा करते हुए राज्य के संस्कृति मंत्री वी एन वसावन ने कहा कि एक लेखक के तौर पर सेतु का अनुभव आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा।

मंत्री ने कहा कि उन्होंने आंदोलनों और चलन की परिभाषाओं से परे हटकर साहित्य के आधुनिकीकरण पर ध्यान केंद्रित किया। पेशे से एक बैंकर 80 वर्षीय सेतु की प्रसिद्ध कृतियों में ‘पांडवपुरम’ और ‘अत्यालंगल’ (उपन्यास) और ‘पेटीस्वपनंगल’ और ‘सेतुविंते कथकल’ (लघु कहानी) शामिल हैं। सेतु उपन्यास और लघु कहानी दोनों के लिए केंद्र साहित्य अकादमी पुरस्कार और केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। राज्य सरकार के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान एजुथाचन पुरस्कार के तहत पांच लाख रुपये और प्रशस्ति-पत्र प्रदान किया जाता है।

मंगलवार, 11 अक्तूबर 2022

मंहगाई व संसाधनों की कमी के कारण बढ़ रही बीमारी

मंहगाई व संसाधनों की कमी के कारण बढ़ रही बीमारी

इकबाल अंसारी 

तिरुवनंतपुरम। एक सर्वेक्षण में खुलासा हुआ है कि केरल में बढ़ती मंहगाई और संसाधनों की कमी के कारण लोगों की मानसिक बीमारी बढ़ती जा रही है। मनश्चिकित्सा और व्यवहार चिकित्सा सहयोगी सलाहकार डॉ. मिगिता डिक्रूज़ ने बताया कि 2021 में प्रकाशित एक अध्ययन में राष्ट्रीय और राज्य स्तर के जनसंख्या सर्वेक्षणों के आंकड़ों को एकत्रित किया, जिसमें 2002 में एक लाख लोगों का सर्वेक्षण किया गया जिसमें 272 लोग मानसिक तौर पर बीमार थे और जब 2018 में दोबारा से एक लाख लोगों का सर्वेक्षण किया गया, तब चार सौ लोग मानसिक रोग से ग्रस्ति पाये गये।

उन्होंने बताया कि विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की इस साल की थीम ‘मेक मेंटल हेल्थ एंड वेलबीइंग फॉर ऑल ए ग्लोबल प्रायोरिटी’ है, जो सामाजिक अलगाव, बीमारी तथा मृत्यु का भय और कोविड-19 से जुड़ी तनावपूर्ण सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियों को दर्शाता है। लैंसेट में एक अध्ययन के अनुसार, दुनिया भर में प्रमुख अवसाद विकार के प्रसार में 27.6 प्रतिशत और चिंता विकारों में 25.6 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। डॉ डिक्रूज ने कहा कि एर्नाकुलम जिले में 2021 में किए गए एक अन्य अध्ययन में लॉक डाउन के दौरान 640 प्रतिभागियों के मानसिक स्वास्थ्य की जांच की गई, जिसमें 56.9 प्रतिशत अवसादग्रस्तता के लक्षण पाए गए।

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया और संगीत का उपयोग करना अकेलेपन का बहुत कारण है। कोविड-19 महामारी के दौरान लोगों की मानसिक स्वास्थ्य आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक मनोसामाजिक सहायता कार्यक्रम ‘ओट्टाक्कल्ला ओप्पमुंडु’ को बच्चों के लिए बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने राज्य़ के लोगों को मानसिक अवसाद से बचाने के लिए वर्षभर में एक दिन का स्मरणोत्सव की आवश्यकता पर जोर दिया।

रविवार, 4 सितंबर 2022

समारोह: विवाह बंधन में बंधे, मेयर व विधायक 

समारोह: विवाह बंधन में बंधे, मेयर व विधायक 

इकबाल अंसारी 

तिरुवनंतपुरम। तिरुवनंतपुरम नगर निगम में देश की सबसे कम उम्र की मेयर आर्य राजेंद्रन और केरल विधानसभा के सबसे कम उम्र के विधायक सचिन देव रविवार को सुबह 11 बजे मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के मुख्यालय एकेजी सेंटर में आयोजित एक साधारण समारोह में विवाह बंधन में बंध गए। शादी समारोह में केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन उनके परिवार के सदस्यों और माकपा के राज्य सचिव एमवी गोविंदन सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं ने भाग लिया। आर्य 21 साल की उम्र में मेयर बनीं तब वह तिरुवनंतपुरम के ऑल सेंट्स कॉलेज में पढ़ रही थीं। माकपा कोझीकोड जिला समिति के सदस्य सचिन देव विधायक, कोझीकोड के नेल्लीकोड के मूल निवासी हैं।

28 वर्षीय सचिन देव जहां स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) के राज्य सचिव हैं, वहीं आर्य इसकी राज्य समिति के सदस्य हैं। ये दोनों ‘बालासंगम’ और एसएफआई की गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं। दानों ने पिछले फरवरी में अपनी शादी की योजना की घोषणा की। सगाई समारोह भी छह मार्च को एकेजी सेंटर में आयोजित किया गया था। जोड़े ने मेहमानों से शादी समारोह के लिए कोई उपहार नहीं लाने का भी अनुरोध किया था। दोनों ने कहा कि जो लोग कुछ प्रस्तुतियां देना चाहते हैं, वे इसे वृद्धाश्रम या निगम या मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में योगदान कर सकते हैं।

रविवार, 31 जुलाई 2022

वरिष्ठ पत्रकार व प्रधान संपादक गोपीकृष्णन का निधन

वरिष्ठ पत्रकार व प्रधान संपादक गोपीकृष्णन का निधन

विमलेश यादव 

कोट्टयम। वरिष्ठ पत्रकार एवं मलयालम दैनिक अखबार ‘मेट्रो वार्ता’ के प्रधान संपादक आर. गोपीकृष्णन का रविवार को निधन हो गया। वह 65 वर्ष के थे। उनके पारिवारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। उनके परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। वह पिछले कुछ वक्त से अस्वस्थ थे। उन्होंने दोपहर करीब एक बजकर 15 मिनट पर अंतिम सांस ली।

दैनिक अखबार दीपिका से अपने करियर की शुरुआत करने वाले गोपीकृष्णन ने कोट्टयम और नयी दिल्ली में मंगलम के डिप्टी एडिटर के तौर पर काम किया। बाद में उन्होंने केरल कौमुदी दैनिक अखबार के डिप्टी एडिटर की जिम्मेदारी भी संभाली। वह जाने-माने लेखक भी थे। उन्होंने नई दिल्ली में एक सहकर्मी पत्रकार के साथ मिलकर डैन ब्राउन के मशहूर उपन्यास ‘दा विंची कोड’ का मलयालम भाषा में अनुवाद भी किया था। उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ सोमवार को कोट्टयम में किया जाएगा।

रविवार, 6 मार्च 2022

केरल इकाई के प्रमुख पनक्कड़ का निधन हुआ

केरल इकाई के प्रमुख पनक्कड़ का निधन हुआ    

इकबाल अंसारी      

तिरूवनंतपुरम। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) की केरल इकाई के प्रमुख पनक्कड़ सैय्यद हैदर अली शिहाब थंगल का रविवार को यहां एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। उनके परिवार के सूत्रों ने यह जानकारी दी। वह 74 साल के थे। थंगल का यहां पास में अंगमाली के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। वह कई बीमारियों से पीड़ित थे। आईयूएमएल के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया कि उनका दोपहर 12 बजे के कुछ देर बाद इंतकाल हो गया। उनकी मय्यत (पार्थिव देह) को उनके गृहनगर ले जाने का इंतज़ाम किया जा रहा है।

प्रदेश के मंत्री वी शिनकुट्टी और एस चेरियन ने आईयूएमएल नेता के निधन पर दुख जताया। चेरियन ने अपने संदेश में कहा, “राज्य की राजनीति की एक वरिष्ठ शख्सियत के तौर पर उनके हर किसी से करीबी रिश्ते थे और वह सभी का सम्मान करते थे। थंगल का निधन केरल की सामाजिक-सांस्कृतिक जीवन के लिए बड़ा नुकसान है।

मंगलवार, 12 अक्तूबर 2021

अक्षरों के नामों पर 51 देवियों का मंदिर बनाया गया

तिरुवनंतपुरम। केरल में मलयालम वर्णमाला के 51 अक्षरों के नामों पर आधारित 51 देवियों का मंदिर बनाया गया है। जिसे नवरात्र में प्राणप्रतिष्ठा के उपरांत जनता के दर्शन के लिए खोला जाएगा। तिरुवनंतपुरम जिले के विझिन्जम के निकट पूर्णामिकावु मंदिर के लिए इन 51 देवियों की प्रतिमाएं तमिलनाडु के तंजावुर के निकट मइलाडी गांव में उकेरा गया है। जो मूर्तिकला के प्रसिद्ध दूसरा सबसे बड़ा स्थान है।
नवरात्र की पूर्व संध्या पर इन प्रतिमाओं को तिरुवनंतपुरम लाया गया। पूर्णामिकावु मंदिर केवल पूर्णिमा के दिन खुलता है। देवी प्रतिमाओं की स्थापना एवं प्राणप्रतिष्ठा की योजना प्रमुख मंदिरों के मुख्य पुरोहितों द्वारा निर्धारित की गयी है जिनमें श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के पुरोहित पुष्पांजलि स्वामीयार, मित्रन नंबूदरी, मल्लियूर शंकरन नंबूदरी एवं जाने माने संगीतज्ञ कैथाप्राम दामोदरन नंबूदरी शामिल हैं।
इसकी जानकारी देते हुए मंदिर के न्यासी एम. एस. भुवनचंद्रन ने भाषा कोई भी हो, वेदों के अनुसार अक्षरों में विशेष शक्ति होती है। अक्षरों की इन्हीं शक्तियों को अनुभव करके ऋग्वेद, शिव संहिता, देवी भागवत, हरिनाम कीर्तनम् एवं आदिशंकर की रचनाओं में प्रत्येक मलयालम अक्षर की देवियों की पहचान की गयी। देवियों की अंतिम पहचान निर्धारित करने से पहले दशक भर तक शोध एवं विचार मंथन किया गया।

ऐसे प्रमाण मौजूद हैं जिनमें बताया गया है कि प्राचीन काल में वैज्ञानिक एवं ऋषियों ने अक्षरों एवं शब्दों की शक्ति को पहचाना था और भावी पीढ़ी के कल्याण के लिए उसे दर्ज भी किया था। श्री भुवनचंद्रन के अनुसार पहली चुनौती यह थी कि इस पूरे ज्ञान को वैज्ञानिक रीति से कूटबद्ध किया जाये और प्रतिमाओं के स्वरूप का निर्धारण किया जाये। उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों के आधुनिक शिक्षा केन्द्रों एवं सुविख्यात विश्वविद्यालयों में भी मंत्रों की शक्ति का अध्ययन एवं विश्लेषण किया गया है।

मंगलवार, 5 अक्तूबर 2021

पीवी बालचंद्रन ने पार्टी को छोड़कर आरोप लगाया

तिरुवनंतपुरम। केरल के वायनाड में कांग्रेस को एक और झटका लगा जब जिला कांग्रेस कमेटी (डीसीसी) के पूर्व अध्यक्ष पीवी बालचंद्रन ने मंगलवार को पार्टी छोड़ दी और आरोप लगाया कि सबसे पुरानी पार्टी देश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उभार को रोकने में नाकाम रही है। वायनाड से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लोकसभा सदस्य हैं।
केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) की कार्यकारी समिति के सदस्य बालचंद्रन ने पार्टी के साथ अपने 52 साल के लंबे संबंध को खत्म करते हुए कहा कि बहुसंख्यक और अल्पसंख्यक दोनों समुदाय कांग्रेस से दूर जा रहे हैं और लोग उस पार्टी के साथ खड़े नहीं होंगे जिसने अपनी दिशा खो दी है। उन्होंने कांग्रेस के राज्य नेतृत्व की कार्यशैली की भी आलोचना की और आरोप लगाया कि वे लोगों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर स्पष्ट राजनीतिक रुख अपनाने में सक्षम नहीं हैं।
संवाददाता सम्मेलन में बालचंद्रन ने कहा कि पार्टी छोड़ने का उनका फैसला इस अहसास पर आधारित है कि पार्टी अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भावना के अनुरूप काम नहीं कर पाएगी। ‍वायनाड में कांग्रेस से कई नेताओं ने इस्तीफा दिया है और अब इनमें बालचंद्रन का नाम भी शुमार हो गया है।
पूर्व विधायक केसी रोसाकुट्टी, केपीसीसी सचिव एम एस विश्वनाथन और डीसीसी महासचिव अनिल कुमार ने इस साल अप्रैल में हुए विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी छोड़ दी थी। बालचंद्रन का पार्टी छोड़ने का फैसला कांग्रेस के मौजूदा नेतृत्व के लिए एक झटका है, जो केपीसीसी प्रमुख के सुधाकरन और विधानसभा में विपक्ष के नेता वीडी सतीशन के कामकाज की शैली के विरोध में केपी अनिल कुमार और पीएस प्रशांत जैसे प्रमुख नेताओं के इस्तीफे से हिला हुआ है।

रविवार, 19 सितंबर 2021

केरल: 4 अक्टूबर से कॉलेजों की कक्षाएं होगीं शुरू

तिरुवनंतपुरम। केरल में आगामी चार अक्टूबर से कॉलेजों की कक्षाएं फिर से शुरू होंगी। सरकारी आदेश के मुताबिक व्यावसायिक काॅलेजों समेत सभी काॅलेज की कक्षाएं उच्च शिक्षा विभाग की ओर से जारी दिशा-निर्देशों के तहत शुरू होंगी। कॉलेज प्रबंधन यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी छात्रों और कर्मचारियों ने कक्षाओं में अपनी उपस्थिति से दो सप्ताह पहले कोविड-19 वैक्सीन की कम से कम एक डोज ले ली हो अथवा कम से कम एक महीने पहले कोविड जांच करवा चुके हों।
इस बीच राज्य सरकार ने एक नवंबर से प्रदेश में स्कूलों को फिर से खोलने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में शनिवार को कोविड समीक्षा बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया। बैठक में कोरोना महामारी के मद्देनजर राज्य में स्कूलों को फिर से खोलने के लिए सभी ऐहतियाती कदम उठाने के भी निर्देश दिये गये।


रविवार, 12 सितंबर 2021

टीवी धारावाहिक की अभिनेत्री को गिरफ्तार किया

तिरुवनंतपुरम। केरल में एक पारंपरिक नौका में जूते पहनकर चढ़ने के बाद मंदिर के रीति-रिवाजों का उल्लंघन करने के आरोप में जांच का सामना कर रही मलयालम टीवी धारावाहिक की एक अभिनेत्री को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी ये जाने के बाद अभिनेत्री का बयान दर्ज किया गया है। पुलिस ने इसकी जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि अभिनेत्री निमिषा और कथित तौर पर तस्वीरें खींचने में उनकी मदद वाले दोस्त का बयान दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि उन्हें थाने में जमानत देकर रिहा कर दिया गया। पुलिस ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा, ''पहले हमने मामला दर्ज किया था। आज हमने उन्हें थाने बुलाकर गिरफ्तार किया। बयान दर्ज किये जाने के बाद थाने में जमानत देकर रिहा कर दिया।''
अभिनेत्री निमिषा ने इससे पहले बुधवार को फोन और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए अज्ञात लोगों द्वारा गाली-गलौज और धमकी देने की शिकायत की थी।मलयालम धारावाहिकों की अभिनेत्री पर आरोप है कि उन्होंने एक धार्मिक कार्यक्रम में चप्पल पहनकर नौका पर सवार होने और मंदिर के रीति रिवाजों का उल्लंघन किया है। हालांकि, इस मामले में हंगामा मचने के बाद अभिनेत्री की तरफ से सफाई भी दी गई थी। अभिनेत्री ने कहा था कि जब मुझे पता चला कि मैंने जो किया वह रीति रिवाजों तथा परंपराओं के विरुद्ध है, तो मैंने उसी समय सोशल मीडिया पर साझा की गई कार्यक्रम से जुड़ी तस्वीरों को तुरंत हटा लिया।अभिनेत्री ने यह भी कहा था कि मुझे नहीं पता था कि पल्लीयोदम (रस्मी सर्प नौका) पर पैर रखना गलत है और यह केवल मंदिर परंपराओं के लिए है। लेकिन तब से मुझे अज्ञात लोगों से धमकियां मिल रही हैं।

रविवार, 29 अगस्त 2021

रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाने का फैसला किया: सरकार

तिरुवनंतपुरम। केरल में कोविड-19 संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों के मद्देजनर राज्य सरकार ने सोमवार रात 2200 बजे से सुबह 0600 बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने शनिवार शाम यहां संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए नयी पाबंदियों की जानकारी दी। इससे पहले, सरकार ने ओणम त्योहार और स्वतंत्रता दिवस के बाद कोरोना संक्रमण के मामलों की बढ़ती संख्या और मौतों से कोई राहत नहीं मिलने के बाद हर रविवार को 'ट्रिपल लॉकडाउन' के समान सख्त उपाय करने का फैसला किया था।

कोरोना की वर्तमान स्थिति की समीक्षा के लिए 24 अगस्त को आयोजित एक उच्च स्तरीय बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया। पिछले दो रविवारों से स्वतंत्रता दिवस और ओणम त्योहार के कारण कोई लॉकडाउन लागू नहीं था। इन दिनों, केरल में प्रतिदिन 30,000 से अधिक सकारात्मक मामले सामने आ रहे हैं।

गौरतलब है कि केरल में पिछले एक सप्ताह में देश में कोराेना के नये मामलों के लगभग 60 प्रतिशत और कुल सक्रिय मामलों के 50 प्रतिशत से अधिक मामले सामने आये हैं। इसके मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केरल सरकार से उच्च सकारात्मकता वाले क्षेत्रों में रात्रि कर्फ्यू लगाने की संभावना तलाशने का आग्रह किया था।

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें  संदीप मिश्र  लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा कि बीएएलएल...