शनिवार, 11 जुलाई 2020

100 सालः सबसे बड़ा आर्थिक संकट

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने भारतीय स्टेट बैंक के बैंकिंग एंड इकोनॉमिक्स कॉन्क्लेव में कहा कि कोरोना वायरस पिछले 100 साल का सबसे बड़ा स्वास्थ्य एवं आर्थिक संकट है। दास ने कहा कि, ‘कोविड-19 पिछले 100 साल का सबसे बड़ा आर्थिक एवं स्वास्थ्य से जुड़ा संकट है। कोरोना की वजह से उत्पादन, नौकरियों एवं स्वास्थ्य पर अभूतपूर्व नकारात्मक प्रभाव देखने को मिला है। इस संकट ने मौजूद वैश्विक व्यवस्था, वैश्विक वैल्यू चेन और विश्वभर में लेबर एंड कैपिटल मुवमेंट को प्रभावित किया है।’


अर्थव्यवस्था के लिए केंद्रीय बैंक ने कई तरह के कदम उठाए: आरबीआई
आगे शक्तिकांत दास ने अर्थव्यवस्था के लिए आरबीआई की ओर से उठाए गए कदमों का उल्लेख किया। शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना काल में हमारी वित्तीय व्यवस्था को बचाने के लिए और अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए केंद्रीय बैंक ने कई तरह के कदम उठाए हैं। देश के लिए वित्तीय स्थिरता भी महत्वपूर्ण है। जोखिम को चिह्नित करने के लिए आरबीआई ने अपने निगरानी तंत्र को मजबूत बनाया है। भारतीय अर्थव्यवस्था के सामान्य स्थिति की तरफ लौटने के संकेत दिखने लगे हैं। लॉकडाउन के तहत लागू विभिन्न प्रतिबंधों में ढील दिये जाने के बाद गतिविधियां बढ़ी हैं।


सितंबर 2019 से रेपो रेट में इतनी हुई कटौती 
कोरोना वायरस संकट से पहले सितंबर 2019 से केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट में 135 आधार अंकों की कटौती की थी। उस समय में आर्थिक वृद्धि दर में आई सुस्ती से निपटने के लिए ये कदम उठाए गए थे। उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक आर्थिक वृद्धि आरबीआई की सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इसके बाद एमपीसी ने रेपो रेट में 115 आधार अंकों की और कमी की। इस तरह रेपो रेट में कुल 250 आधार अंकों की कटौती हुई। आगे उन्होंने कहा कि आरबीआई पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी बैंक के लिहाज से समाधान निकालने के लिए सभी हितधारकों से बात कर रहा है।


ये है कॉन्क्लेव की थीम
मालूम हो कि कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए ये कॉन्क्लेव इस बार वर्चुअल आयोजित हुआ है। आरबीआई के अधिकारियों के अनुसार, कोरोना वायरस की वजह से देश में दो महीने से ज्यादा समय तक लॉकडाउन रहा है। इसकी वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचा है। इसलिए इस बार कॉन्क्लेव की थीम बिजनेस और अर्थव्यवस्था पर कोरोना का प्रभाव रखी गई है।              


हंसती-खेलती जिंदगी में आया 1 तूफान

अतुल त्यागी, प्रवीन कुमार


हंसती खेलती जिंदगी में अचानक आया एक ऐसा तूफान जिसने गिन, गिन कर सांसे लेने के लिए कर दिया मजबूर जांच होने के बाद भी नहीं कोई कार्रवाई।


हापुड़। माामला थाना गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र का है। जहां एक सीमा नाम की युवती किसी क्लीनिक पर काम करती थी। लॉक डाउन होने के बाद सीमा की कई महीने की तनख्वाह रुक गई। उसके बाद अचानक उसके पिता की अटैक पड़ने से तबीयत खराब हो जाने पर तनखा लेने के लिए क्लीनिक पर जाना पड़ा, डॉक्टरों के स्टाफ ने मांगी थी तनख्वाह की पार्टी, लेकिन सीमा को नहीं पता था कि आज उसकी जिंदगी में एक ऐसा तूफान आने वाला है कि उसे अपनी पगार की पार्टी इतनी भारी पड़ेगी। जिसका खामियाजा कई महीनों तक चारपाई पर फड़े रहकर भुगतना पड़ेगा सीमा का कहना है उस पार्टी में किसी ने कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ खिला दिया। जिससे सीमा की अचानक तबीयत खराब हो गई और वही गिर पड़ी। कुछ दिन तक तो हॉस्पिटल की मालिक डॉक्टर ने इलाज कराया लेकिन अब हाथ खड़े कर दिए। काफी समय से परिवार की नाजुक स्थिति होने के बावजूद भी परिवार के लोग सीमा का इलाज कराते रहे। लेकिन आज सब कुछ दाव पर लग जाने के बाद सीमा की डॉक्टरनी मदद नहीं कर पा रही है। जिसका खामियाजा सीमा को चारपाई पर पड़े रहकर हंसती खेलती जिंदगी में तूफान आने के बाद भुगतना पड़ रहा है पुलिस को शिकायत करने के बावजूद भी अभी तक न्याय की कोई उम्मीद नहीं है।                


अग्निशमन विभाग ने किया सैनिटाइजर

अतुल त्यागी
कोविड-19 के चलते अग्निशमन विभाग द्वारा शहर में सेनेटाइज अभियान


हापुड़। उत्तर प्रदेश शासन एवं फायर सर्विस लखनऊ के निर्देश अनुसार तथा स्थानीय स्तर पर जिलाधिकारी महोदय के आदेश अनुसार झुग्गी झोपड़ी व शहर में ग्रामीण क्षेत्रों को सैनिटाइज किया जा रहा है। कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए लॉकडाउन के दौरान 10 जुलाई से 13 जुलाई तक बृहद स्तर पर अभियान चलाकर सैनिटाइजेशन करने के संबंध में अग्निशमन विभाग के अधिकारियों को जिलाधिकारी द्वारा आदेश दिए थे की कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए 10 जुलाई की रात्रि 10:00 बजे से 13 जुलाई सुबह 5:00 बजे तक लॉकडाउन के दौरान अग्निशमन विभाग की गाड़ियां और विभाग के कर्मचारी फायर ब्रिगेड की गाड़ियों के द्वारा युद्ध स्तर पर जनपद हापुड़ में कोविड 19 अस्पताल व विभिन्न कॉलोनियों में व बाजारों में सैनिटाइजेशन का कार्य कर रहे हैं । इस क्रम में उत्तर प्रदेश शासन के द्वारा दिए गए निर्देशों का जनपद में अनुपालन करने के संबंध में अग्निशमन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि इस अवधि के दौरान वृहद स्तर पर अभियान संचालित करते हुए अग्निशमन वाहनों से पूरे जनपद में कार्य योजना बनाकर सैनिटाइजेशन का कार्य सुनिश्चित किया गया  ताकि उत्तर प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप सुरक्षा की दृष्टि से सभी जन मान्य को कोरोना वायरस के संक्रामक से हापुड़ के समस्त निवासियों को सुरक्षित किया जा सके।   


भयः हापुड़ में मिलेंं नए 42 संक्रमित

अतुल त्यागी (मेरठ मंडल प्रभारी)
 हापुड। सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद भी शनिवार को लाकडाऊन के पहले दिन ही जिलें में एक साथ 42 मरीज आने से स्वास्थ्य विभाग व लोगों के होश उड़ गए।
कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के बीच प्रदेश सरकार ने हापुड़ सहित प्रदेश में दो दिन का सम्पूर्ण लाकडाऊन कर रखा है। एकाएक शनिवार को आई कोरोना संक्रमित की रिपोर्ट ने स्वास्थ्य विभाग व लोगों की नींद उड़ा दी। शनिवार को एक साथ 42 केस आने से जिलें में कोरोना की संख्या बढ़कर 876 पहुंच गई है। जिलें में लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीजों की संख्या से प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की माथे की चिन्ता बढ़ती जा रही है।
शनिवार को आई रिपोर्ट में
1) बाबूगढ़-19
2) बहादुरगढ- 7
3) पिलखुवा- 3
4) गढ़- 3
5) पन्नापुरी- 1
6) गंगा टावर- 1,
7) धौलाना सपनावत- 2
8) गढ़ीं- 3
9) सिम्भावली- 2 मरीज संक्रमित होने की रिपोर्ट आई है।            


संदिग्ध अवस्था में मिला शव, आशंका

अतुल त्यागी (मेरठ मंडल प्रभारी)
हापुड़। प्रदेश के जनपद हापुड़ में नगर कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत हापुड़ बाईपास पर शुक्रवार दोपहर सड़क के किनारे ट्रैक्टर ट्रॉली के साथ चालक का खून से लथपथ शव मिलने से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। मृतक के परिजनों ने हत्या की आशंका जताई लेकिन जबकि पुलिस घटना को हादसा बन रही है।


आपको बता दें हापुड़ के कोतवाली क्षेत्र में स्थित मीट फैक्ट्री में मृतक काम करता था और शुक्रवार की सुबह मृतक फैक्ट्री के काम से ट्रैक्टर ट्रॉली लेकर बाहर गया था। लेकिन दोपहर 12:00 बजे के करीब मृतक का शव खून से लथपथ मुरादाबाद दिल्ली हाईवे 9 के किनारे एक खेत में पड़ा मिला। परिजनों का कहना है की मृतक को कोई जहरीली चीज खिलाकर हत्या कर दी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम कर भेजते हैं और जांच में जुट गई है।


सर्वे का सच जानने घर-घर गये डीएम

खुर्जा। शनिवार को डीएम रविंद्र कुमार व एसएसपी संतोष कुमार सिंह लाॅकडाउन व सर्वे टीम द्वारा किए जा रहे कार्य की सच्चाई जानने के लिए नगर में पहुंचे। अपने निरीक्षण के दौरान डीएम ने बताया कि कार्य संतोषजनक किया जा रहा है। कुछ कमियां पाई गई हैं जिसके लिए संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा घर-घर जाकर थर्मल स्कैनिंग व बीमारियों की जानकारी के लिए सर्वे कराया जा रहा है। उसकी सच्चाई जानने के लिए डीएम व एसएसपी गांव नगला महीउद्दीनपुर पहुंचे। उन्होनें ग्रामवासियों से स्वास्थ्य विभाग द्वारा कराए गए सर्वे की जानकारी ली तो ग्रामवासियों ने बताया कि सर्वे टीम ने घर-घार जाकर थर्मल स्कैनिंग की है तथा कोविड के बारे में लोगों को बताया है। इस दौरान एसडीएम लवी त्रिपाठी भी मौजूद रहीं।               


डीएम ने लोनी क्षेत्र का निरीक्षण किया

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। लॉकडाउन निरीक्षण को जिलाधिकारी गाजियाबाद अजय शंकर पांडे गाजियाबाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ पहुंचे लोनी। गाजियाबाद में लगाए गए लॉकडाउन के निरीक्षण को लेकर सड़क पर गाजियाबाद के वरिष्ठ अधिकारी लगातार कर रहे हैं निरीक्षण। वही लोनी नगर पालिका क्षेत्र में नगर पालिका करा रही सफाई व सैनिटाइज का कार्य जिलाधिकारी गाजियाबाद शंकर पांडेय ने बताया की शहर व देहात क्षेत्र में सफाई व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। वहीं जिले के बड़े अधिकारी शहर भर में भ्रमण करके जांच कर रहे हैं कि लॉकडाउन की स्थिति किस तरह से बनाई जा रही है और उसका पालन किस तरह किया जा रहा है सभी बड़े अधिकारियों ने थाने लेवल पर अपने-अपने इलाकों को सशक्त करने की और साथ ही इलाकों को लोक डॉन का पालन कराने के लिए शक्ति से आदेशों का पालन करने की हिदायत दी है ।मीडियम अजय शंकर पांडे ने भी गाजियाबाद के लोनी इलाके में लॉक डाउन का जायजा लिया और वही गाजियाबाद के एसएसपी कलानिधि नैथानी हुई शहर के विभिन्न इलाकों में भ्रमण करते नजर आए और लॉक डॉन की स्थिति को पालन कराने के लिए थानेदारों को निर्देश भी दिए।                  


एयर इंडिया ने 180 ट्रेनी क्रू को निकाला

नई दिल्ली। कोरोना महामारी का एविएशन सेक्टर पर सबसे बुरा असर हुआ है। इस सेक्टर में अब तक हजारों की नौकरी जा चुकी है। हजारों की नौकरी पर तलवार लटक रही है क्योंकि अभी रिवाइवल की संभावना नहीं दिख रही है। संकट की इस घड़ी में एयर इंडिया ने 180 ट्रेनी केबिन क्रू को जॉब देने से मना कर दिया। ट्रेनिंग कोर्स पूरा होने के बाद एयरलाइन की तरफ से इन्हें जॉब मिलने वाली थी।ताजा जानकारी के मुताबिक, एयर इंडिया ने उन 50 पायलट के रिक्वेस्ट को भी खारिज कर दिया है जो फिलहाल नोटिस पीरियड सर्व कर रहे हैं। एयर इंडिया ने पिछले दिनों 50 पायलट को जबर्दस्ती रिजाइन करने को कहा था।


इन पायलट की तरफ से एयरलाइन मैनेजमेंट को फैसला बदलने की अपील की गई, जिसे मैनेजमेंट ने खारिज कर दिया है।एयर इंडिया लंबे समय से केबिन क्रू की कमी से जूझ रही है। ऐसे में नवंबर 2019 को एयरलाइन ने 174 ट्रेनी केबिन क्रू को कंडिशनल जॉब ऑफर किया गया। पहले इन्हें ट्रेनिंग दी जा रही थी। ट्रेनिंग समाप्त होते ही ये काम पर रख लिए जाते, लेकिन कोरोना ने इनके सपनों को इंडस्ट्री में घुसने से पहले तोड़ दिया।हालांकि एयर इंडिया ने यह जरूर कहा है कि आपके नामों की लिस्ट हमारे साथ रहेगी। आने वाले समय में अगर एयरलाइन हायरिंग करती है तो आपको वरीयता दी जाएगी।             


 


हिमाचल में 25 फ़ीसदी बढ़ा किराया

शिमला। हिमाचल प्रदेश में बस किराया 25 फीसदी तक बढ़ाया जा सकता है। इस बाबत अभी तक किसी तरह की कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं हुई है,लेकिन कहा जा रहा है कि कैबिनेट ने इस पर चर्चा की है। हालांकि, नीजिि बस ऑपरेटर कई दिनों से बसों का किराया 50 फीसदी बढ़ाने की मांग कर रहे थे। तब बसों में 60 फीसदी सवारियों को बिठाने की व्यवस्था सरकार ने की थी। बस ऑपरेटर बसों का खर्चा पूरा ना होने की दुहाई देकर बसें नहीं चलाने पर अड़े थे, इसके बाद जयराम सरकार ने बसों में 100 फीसदी सवारियां बिठाने को मंजूरी दे दी थी।बावजूद इसके निजी बस ऑपरेटर किराया बढ़ाए जाने की मांग कर रहे थे। अब प्रदेश सरकार ने उसे भी 25 फीसदी तक बढ़ाने पर चर्चा शुरु कर दी है। परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा है कि इस बाबत अगली कैबिनेट में निर्णय लिया जा सकता है।              


जौनपुर: एक्टिव-138 संक्रमित-660

जनपद में दस प्रवासियों समेत शुक्रवार को कोरोना के 16 नए पॉजिटिव केस मिले हैं। पीड़ितों मेें लॉक डाउन के दौरान पैदा दो माह की बच्ची और तीन वर्षीय उसकी बहन भी शामिल हैं। इनके अलावा चार अन्य परिवारों के भी आठ लोग संक्रमित पाए गए हैं। जिले में कुल पॉजिटिव केस की संख्या अब 660 हो गई है। इसमें एक्टिव केस 138 हैं।











 
 

जौनपुर। जलालपुर के नाहरपट्टी धराव गांव में ट्रेन से 30 जून को एक परिवार मुंबई से आया था। सभी होम क्वारंटीन में थे। तीन जुलाई को सभी का सैंपल लिया गया था। इसमें दो माह की बच्ची और तीन वर्षीय उसकी बहन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बच्चियों के पिता मुंबई में वायरिंग का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि छोटी बच्ची का जन्म लॉक डाउन के दौरान ही मुंबई के एक अस्पताल में हुआ था। अस्पताल में कई दिनों तक उनका आना-जाना है। ऐसे में संभव है कि वहीं से संक्रमण हुआ हो। वैसे परिवार के सदस्यों में कोरोना का कोई लक्षण नहीं है। बच्चों के साथ उनके माता-पिता को भी कोविड-19 अस्पताल में रखा जाएगा। इसी ब्लाक के जगापुर गांव निवासी एक व्यक्ति मुंबई में गैराज चलाता था। तीन जुलाई को वह कार से परिवार के साथ आया था। बयालसी इंटर कॉलेज में पूरे परिवार का सैंपल लिया गया था। इसमें एक तीन वर्षीय बच्ची और सात वर्ष के बालक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 

बरसठी के चकमलाई गांव में कोलकाता से एक जुलाई को आए अधेड़, खुटहन के मेडा गांव में पांच जुलाई को मुंबई से आए युवक, बरसठी के भोपतपुरा मगरा गांव में मुंबई से आई युवती भी कोरोना पॉजिटिव मिली हैं। इनके अलावा डोभी के मंदूपुर गांव में मुंबई से आए युवक और रैंडम जांच में सैंपल देने वाले एक अन्य युवक की रिपोर्ट भी पॉजिटिव है। बरसठी के महमूदपुर पट्टी में मुंबई से कार में दो जुलाई को आई किशोरी (14) और उसके भाई (18), मड़ियाहूं के गौहर बेलवा निवासी युवक भी पॉजिटिव पाया गया है। बरसठी के रसूलहा परियत निवासी दंपती के परिवार के दो जुलाई को एक बच्ची कोरोना संक्रमित मिली थी। इसके बाद परिवार के अन्य सदस्यों ंका सैंपल लिया गया था। दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव है। केराकत के नालापार में दो जुलाई को एक युवक की अज्ञात बीमारी से मौत हुई थी। कोरोना का संदेह जताने पर परिवार व पासपड़ोस के लोगों का सैंपल लिया गया था। मृतक का भतीजा और पड़ोस की युवती की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। जिलाधिकारी  दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि शुक्रवार को 621 सैंपल के रिजल्ट आए। इसमें 16 पॉजिटिव हैं। सभी मरीजों को कोविड-19 अस्पताल में भर्ती कराने और उनके गांवों में सैनिटाइजेशन कराने के निर्देश दिए गए हैं। 362 नए लोगों के भी सैंपल भी लिए गए। अब तक कुल 16083 लोगों के नमूने लिए जा चुके हैं। इसमें 14555 की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है। अब 1528 नमूनों के रिजल्ट आने शेष हैं।              

मिली इंसान जैसे मुंह वाली मछली

कविता गर्ग


मलेशिया। सोशल मीडिया पर एक मछली की तस्वीरें तेजी से वायरल हो रही है। ये तस्वीरें इतना हैरान कर देने वाली है कि इसे देखकर आप भी अपनी आंखों पर यकीन नहीं कर पाएंगे। तस्वीर में दिख रही मछली की शक्ल हू-ब-हू इंसानी चेहरे से मेल खाती दिख रही है। ऐसे में यह फोटो अब लोगों के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है कि एक मछली का चेहरा इंसानों जैसा कैसे हो सकता है। वहीं कुछ लोग इस तस्वीर की वास्तविकता पर भी सवाल उठा रहे हैं ।


तस्वीर में दिख रही मछली मलेशिया की टृइगर फिश बताई जा रही है। जहां के लोगों ने नदी में इस अनोखी मछली को देखा, जिसका चेहरा बिलकुल इंसान की तरह दिखाई दे रहा था। लोगों ने जैसे ही इस इंसानी चेहरे वाली मछली को देखा, झट से इसे अपने कैमरे में कैद कर लिया और सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया, जिसके बाद से ही तस्वीरें इंटरनेट तहलका मचा रही है। वहीं तस्वीर देखने के बाद कई लोग हैरान है कि आखिर मछली का चेहरा इंसान जैसा कैसे दिख सकता है।


चीन से भी आ चुका है वीडियो


इससे पहले दक्षिण चीन के एक मिलाओ गांव में महिला पर्यटक को मनुष्य के चेहरे जैसी दिखने वाली मछली देखी थी। जिसकी वीडियो उन्होंने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म “वीबो’ पर साझा किया था। 15 सेकंड के वीडियो में मछली झील के किनारे की तरफ आती है और अपना मुंह पानी से ऊपर निकालती । इस मछली का चेहरा भी इंसान के जैसा चेहरा है। मछली के मुंह पर दो काले निशान हैं, जो दो आंखों की तरह दिख रहे हैं। दो लकीरें चेहरे पर नाक का स्वरूप दे रही है। एक लकीर मुंह के नीचे भी दिखाई दे रही है। वीडियों में महिला कहती सुनाई दे रही है, मछली एक परी में बदल गई है।                


सफाई कर्मी को पीटा, चौकी गेट पर कूड़ा

लाकडाउन मे नाली की सफाई कर रहे कर्मचारी को दारोगा ने पीटा         


आक्रोशित सफाईकर्मियों ने पुलिसचौकी गेट पर फेका कूड़ा
हाटा, कुशीनगर। स्थानीय नगर मे नाली की सफाई कर रहे,एक सफाई कर्मचारी को हाटा कोतवाली मे तैनात एक उपनिरीक्षक ने लाकडाउन मे बाहर निकलने के आरोप मे शनिवार की सुबह  पिटाई कर दी। जिससे नगरपालिका मे तैनात कर्मचारी आक्रोशित हो गये। पीड़ित कर्मचारी मनीष कुमार 25 वर्ष निवासी पटनी को लैकर कर्मचारी गण सीएचसी पर पहुचे और डाक्टरी कराने के बाद आरोपी उपनिरीक्षक जितेन्द्र राय के विरुद्घ मुकदमा पंजीकृत करने की मांग.को लैकर तहरीर प्रभारी निरीक्षक हरेन्द्र मिश्र को सौपा। आक्रोशित सफाईकर्मियों ने एक ट्राली कूड़े को पुलिसचौकी हाटा के गेट पर लेजाकर फेक दिया। चौकी इंचार्ज हाटा जितेन्द्र राय पर मुकदमा दर्ज करने व उनके तबादले की मांग को लेकर सभी कर्मचारी नगरपालिका कार्यालय पर धरने पर बैठ गये। नपाध्यक्ष मोहनवर्मा,अधिशासी अधिकारी अजयकुमार सिंह,कोतवाल हरेन्द्र मिश्र आदि ने जिलाधिकारी व पुलिसअधीक्षक से वार्ता कर आरोपी उपनिरीक्षक के तबादले का भरोसा दिया। तब जाकर सफाईकर्मी मान सके। इस दौरान अशोक सिंह,योगेन्द्र मणि,अजय राव आदि मौजूद रहे।                


दिल्ली यूनिवर्सिटी के सभी एग्जाम रद्द

रवि चौहान


नई दिल्ली। कोरोना के चलते दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए सरकार के अंतर्गत आने वाले सभी विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं रद्द करने की घोषणा की है। मनीष सिसोदिया ने बताया कि इसमें अंतिम वर्ष की परीक्षाएं भी शामिल हैं। छात्रों को डिग्री उनके पूर्व वर्ष के नंबरों के आधार पर प्रदान की जाएगी।


दिल्ली उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ये भी बताया कि सभी विश्वविद्यालयों को फाइनल परीक्षा रद्द कर छात्रों के मूल्यांकन का कोई पैमाना तैयार कर डिग्री जल्द से जल्द देने के लिए कहा गया है। कोरोना की वजह से परीक्षा लेना और डिग्री न देना अन्याय होगा। ये निर्णय राज्य विश्वविद्यालय के लिए लिया गया है। शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार को भी पत्र लिखकर उनके सभी विश्वविद्यालयों में परीक्षा रद्द करने का निवेदन किया है


किन-किन यूनिवर्सिटी में नहीं होंगे एग्जाम, डीयू का क्या है स्टेटस
दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले विश्वविद्यालय हैं- आईपी यूनिवर्सिटी, आंबेडकर यूनिवर्सिटी, डीटीयू व अन्य इन सभी में परीक्षाएं नहीं होंगी। हालांकि बात अगर दिल्ली विश्वविद्यालय की करें तो इसके अंतर्गत आने वाले दिल्ली सरकार के कॉलेजों के बारे में फैसला केंद्र सरकार को लेना है।


मालूम हो कि डीयू के 12 ऐसे विश्वविद्यालय हैं जिन्हें दिल्ली सरकार 100 प्रतिशत फंड करती है और 16 ऐसे विद्यालय हैं जिन्हें दिल्ली सरकार 5 प्रतिशत फंड करती है। हालांकि डीयू केंद्रीय विश्वविद्यालय है ऐसे में इन सभी के लिए केंद्र को ही फैसला लेना है। दिल्ली सरकार मानती है कि जो सेमेस्टर पढ़ाया ही नहीं उसकी परीक्षा लेना सही नहीं है। इसके साथ ही सिसोदिया पहले भी कह चुके हैं कि यह कोरोना काल है और ये बड़े फैसले लेने का वक्त है। ऐसे में हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता हर जान को बचाने की है।             


राजस्थान में भाजपा की खरीद-फरोख्त

जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस के लगभग दो दर्जन विधायकों ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) राज्य की अशोक गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रच रही है। कांग्रेस के इन विधायकों ने शुक्रवार देर रात जारी एक संयुक्त बयान में यह आरोप लगाया। यह बयान विधानसभा में मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी और उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी के हस्ताक्षरों से जारी किया गया है।


संयुक्त बयान में कांग्रेस विधायकों ने आरोप लगाया गया है कि बीजेपी खरीद फरोख्त और अन्य भ्रष्ट हथकंडों के माध्यम से राज्य की जनहितकारी कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश रच रही है। इन विधायकों ने इसे भाजपा का कथित अलोकतांत्रिक और भ्रष्ट आचरण करार दिया है।


बयान में कहा गया है,  हमारे पास स्पष्ट जानकारी है कि भाजपा के शीर्षस्थ लोग इस षडयंत्र में शामिल हैं जो कांग्रेस के विधायकों और समर्थित विधायकों और अन्य से संपर्क कर उन्हें तरह तरह के प्रलोभन देकर गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। 


बयान में कांग्रेस विधायकों के हवाले से यह भी कहा गया है,राज्य में कांग्रेस और उसे समर्थन देने वाले सभी विधायक इस तरह के प्रयासों को सफल नहीं होने देंगे। संयुक्त बयान में 24 विधायकों के नाम दिए गए हैं जिनमें लाखन सिंह, जोगेंद्र सिंह अवाना, मुकेश भाकर, इंद्रा मीणा, वेद प्रकाश सोलंकी, संदीप यादव आदि शामिल हैं।


गौरतलब है कि यह बयान ऐसे समय में जारी किया गया है जबकि राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल एसओजी ने राज्य में विधायकों की खरीद फरोख्त और निर्वाचित सरकार को अस्थिर करने के आरोपों में शुक्रवार को एक मामला दर्ज किया है।


जून में राज्य से हुए राज्यसभा की तीन सीटों के चुनाव से पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस ने कुछ विधायकों को प्रलोभन दिए जाने का आरोप लगाया था। पार्टी की ओर से इसकी शिकायत विशेष कार्यबल (एसओजी) को की गयी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा था कि राज्य में विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा है और करोड़ों रुपये की नकदी जयपुर स्थानांतरित हो रही है।


राज्य विधानसभा में कुल 200 विधायकों में से कांग्रेस के पास 107 विधायक और भाजपा के पास 72 विधायक हैं। राज्य के 13 में से 12 निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी कांग्रेस को है।               


पिता-पुत्र को रोंंदने के बाद पलटा ट्रक

*साइकिल सवार पिता-पुत्र को रौंदने के बाद पलटा ट्रक चालक खलासी भी घायल*


कोखराज थाना क्षेत्र के ककोढ़ा गांव की घटना


कोखराज/कौशाम्बी। इलाहाबाद से कानपुर की ओर जा रहा है। एक ट्रक चालक जैसे ही कोखराज थाना क्षेत्र के ककोढ़ा गांव के पहुंचा सड़क पार कर रहे साइकिल सवार पिता-पुत्र को देखकर हड़बड़ाहट में उसने साइकिल सवार पिता-पुत्र को रौंद दिया। जिससे पिता पुत्र दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए पिता पुत्र को रौंदने के बाद ट्रक चालक ने नियंत्रण खो दिया और हड़बड़ाहट में निर्माणाधीन पुल में ट्रक पलट गई। 


ट्रक पलट जाने के बाद ट्रक चालक खलासी भी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं पिता पुत्र के घायल होने की बात गांव के लोगों को जैसे ही इस हादसे जानकारी हुई। ग्रामीणों ने सड़क जाम कर दिया सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर सड़क से हटवाया है। पिता पुत्र के साथ खलासी और चालाक की गंभीर अवस्था में इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


जानकारी के मुताबिक कोखराज थाना क्षेत्र के ककोढ़ा गांव निवासी बृजलाल उम्र 40 वर्ष पुत्र राम धन अपने बेटे सोनू को साइकिल से लेकर खेतों की ओर जा रहे थे। जैसे ही वह राष्ट्रीय राजमार्ग में गांव के बाहर ककोढ़ा चौराहा पार करने लगे कि इलाहाबाद से कानपुर को जा रहे ट्रक चालक ने साइकिल सवार पिता पुत्र को रौंदा। जिससे पिता पुत्र दोनों को गंभीर चोटें आई हैं घायल अवस्था में बृजलाल और उसके बेटे सोनू को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे के बाद ट्रक पलट जाने से चालक और खलासी भी घायल हो गए हैं। जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। समाचार लिखे जाने तक ट्रक चालक खलासी का नाम पता नहीं मालूम हो सका है।


अजीत कुशवाहा 


लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया

लाक डाउन का पालन करते दिखाई दिए सचवारा चौराहा के सभी दुकान दार


म्योहर कौशाम्बी। जैसा कि हम आप लोगों को बता देना चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश सरकार ने 10 जुलाई रात 10:00 बजे से 13 जुलाई सुबह 5:00 बजे तक पूरे उत्तर प्रदेश में लॉक डाउन की घोषणा की है जिसके चलते पूरे उत्तर प्रदेश में सभी लोगों को लॉकडाउन के नियमों का पालन करना होगा और करोना जैसी खतरनाक बीमारी से निजात पाने के लिए सभी लोग अपने अपने घर में रहे और लोगों से 1 मीटर की दूरी बना कर रखे तभी हम सब इस बीमारी से निजात पा सकेंगे। करारी थाना क्षेत्र के सचवारा चौराहा पर सभी दुकानदार लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए दिखाई दिए जिसमें सभी दुकानदार अपनी अपनी दुकाने बंद कर के रखे हुए हैं और लोगों को भी लॉकडाउन पालन करने को कह रहे हैं की आप लोग भी लॉकडाउन में अपने अपने घरों से न निकले ।


 वहीं अरका  चौकी इंचार्ज प्रमोद कुमार राय व उनके सभी सिपाही चौराहे का भ्रमण करते हुए सभी लोगों को लॉकडाउन के नियमों का पालन करने को कहा और कहा कि यदि आप लोग लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं करेंगे या फिर लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करेंगे तो आप लोगों के खिलाफ  सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी तथा अरका चौकी इंचार्ज अपने सिपाहियों के साथ गश्त करते हुए सचवारा चौराहा से चौराहे से ग्रामीण इलाकों में भ्रमण करते हुए जैसे अरका महावीरपुर, मालीपुर महाराजगंज, बरई बंधवा ,बंधवा कल्यान, इब्राहिमपुर, पवारा ,पवैया इस तरह से अपने चौकी क्षेत्र के सभी ग्रामीण इलाकों में भ्रमण करते हुए लोगों को लॉकडाउन के बारे में बताया ।


और लॉकडाउन के नियमों का पालन करने को कहा सभी ग्रामीणों से गुजारिश की कि आप लोग अपने घरों से बाहर ना निकले। जब आपको जरूरत हो तभी अपने घरों से बाहर निकले अन्यथा बिना काम के अपने घरों से बाहर ना निकले यदि बिना काम के कोई भी व्यक्ति बाहर पाया जाता है तो उसके खिलाफ बड़ी सी कड़ी कार्यवाही की जाएगी और मास्क का प्रयोग करें। आप लोग आपस में एक दूसरे से 1 मीटर की दूरी बना कर रहे और सैनिटाइजर का उपयोग करते रहें जिससे कोरोना जैसी बीमारी से निजात पाया जा सके।


 क्योंकि जब आप खुद सुरक्षित रहेंगे तभी आपके साथ आपका परिवार सुरक्षित रहेगा और जब आपका परिवार सुरक्षित रहेगे तो आपके गांव के लोग सुरक्षित रहेंगे। मेरा यही सभी ग्रामीणों से निवेदन है कि आप लोग धैर्य बनाकर अपने अपने घरों में रहे और सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन बखूबी अपने घर में रहकर करें।


सुशील दिवाकर 


यूपी पुलिस के चरित्र का असली चेहरा

सिपाही ने दरोगा के साथ अपनी सिपाही पत्नी को रंगेहाथ पकड़ा, मामला पहुंचा थाने तो यह हुआ फैसला


लखनऊ/आगरा। यूपी के आगरा में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जहां एक सिपाही कानपुर से जब घर लौटा तो घर पर पत्नी के साथ दरोगा को देखकर हक्का बक्का रह गया। फिर क्या था दरोगा और सिपाही के बीच जमकर मारपीट हो गई। वहीं सिपाही ने अपनी पत्नी के साथ दरोगा के अवैध संबंध का आरोप लगाया है। तो वहीं पत्नी का कहना है कि दरोगा के साथ उसके पारिवारिक संबंध है, कुछ पैसे उससे लिये थे, जिसे लेने के लिए वह यहां आया हुआ था। सिपाही की पत्नी भी सिपाही है। हालांकि इस संबंध में कोई मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है। शाहगंज इंस्पेक्टर का कहना है कि दोनों के परिजनों को बुलाया गया है।


कानपुर एसएसपी ऑफिस पर तैनात सिपाही की शादी जनवरी में हुई थी। उसकी पत्नी भी सिपाही है, जो करहल की निवासी है। सिपाही पत्नी की तैनाती औरैया में था, लेकिन मार्च में उसने अपना स्थानांतरण आगरा में करा लिया। आगरा पुलिस लाइन में सिपाही के पत्नी की तैनाती है। 


सिपाही का आरोप है कि उसकी पत्नी उससे सीधे मुंह बात नहीं करती थी। दहेज के मुकदमे में फंसाने की धमकी देती थी। उसने छानबीन की तो पता चला कि औरैया में तैनात एक दरोगा से पत्नी के प्रेम संबंध हैं। उसने ठान लिया कि दोनों को रंगे हाथ पकड़ेगा। 
उसने अपने स्तर से जांच किया तो छानबीन में पता चला कि दरोगा का स्थानांतरण मेरठ जोन हुआ है। वह ज्वाइनिंग टाइम काट रहा है।


अलीगढ़ में अपनी पत्नी और बच्चों के साथ नहीं है। उसे शक हुआ। वह गुरुवार को आगरा आ गया। यहां आने के बाद उसे यह नहीं पता था कि उसकी पत्नी कहां रहती है। उसने पुलिस लाइन में छानबीन की।


पता चला कि वह शाहगंज क्षेत्र में किसी गेटबंद कॉलोनी में रहती है। शुक्रवार की सुबह परेड होती है। वह उसमें जरूर आएगी। वह सुबह पुलिस लाइन पहुंच गया। परेड ग्राउंड के पास छिप गया। 
परेड खत्म होने के बाद पत्नी अपने घर जाने लगी। उसका पीछा किया। शाहगंज क्षेत्र स्थित कॉलोनी में पहुंच गया। पत्नी घर में चली गई। उसने आस-पास के लोगों से जानकारी की।


पता चला कि घर में कोई आया हुआ है। अक्सर आता है। उसने 112 नंबर पर पुलिस को फोन किया। पुलिस आ गई। पुलिस की मौजूदगी में उसने कमरे का दरवाजा खटखटाया। पत्नी का दोस्त घर में ही मिला। अंडरवियर और बनियान पहने हुआ था। उसे देखकर पत्नी के चेहरे की हवाइयां उड़ गईं। गालियां देने लगीं। सिपाही का आरोप है कि दरोगा ने भी उसके साथ मारपीट कर दी। पुलिस दोनों पक्षों को थाने ले आई।


इंस्पेक्टर शाहगंज ने बताया कि महिला सिपाही और उसके पति के परिजनों को बुलाया है। यह पारिवारिक विवाद है। इस मामले में मुकदमा कोई नहीं बनता। दरोगा को हिरासत में नहीं लिया गया है। मौके पर विवाद की स्थिति थी इसलिए पुलिस उसे थाने ले आई थी।              


दिल्ली-गाजियाबाद, नोएडा बॉर्डर सील

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। दिल्ली-गाजियाबाद और दिल्ली-नोएडा के बॉर्डर 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक सील हो गए हैं। दिल्ली से अप्सरा बॉर्डर, आनंद विहार, गाजीपुर, कालिंदी कुंज, मयूर विहार, सभापुर, लोनी, सीमापुरी समेत प्रत्येक बॉर्डर पर आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। इन बॉर्डरों पर 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक केवल आवश्यक सेवाओं में लगे लोग व वाहनों को आवाजाही की अनुमति रहेगी। इसके अलावा वह लोग और वाहन जिनके पास अनुमति पास है आवाजाही कर सकेंगे। दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक यूपी से आवाजाही करने वाले लोगों व वाहनों की बॉर्डर पर जांच की जाएगी। केवल आवश्यक सेवाओं में लगे वाहनों व लोगों को आने-जाने की अनुमति होगी।            


यूपी में कांग्रेस लाने की उठाई मांग

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने उत्तरप्रदेश में जंगल राज स्थापित होने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि ‘उत्तरप्रदेश’ बचाने के लिए कांग्रेस को लाना आवश्यक है। दिग्विजय सिंह ने ट्वीट में लिखा है ‘जब से उत्तरप्रदेश से कांग्रेस सत्ता से बाहर हुई है, पूरे प्रदेश में जंगल राज स्थापित हो गया है। अपराधियों और राजतंत्र ने साझेदारी में मिलकर प्रदेश को लूटा है। यदि विकास दुबे का एनकाउंटर नहीं होता तो राज खुलते। अब वही साझेदारी पनपती रहेगी। प्रियंका जी व कांग्रेस लाओ और उत्तरप्रदेश बचाओ।       


संदिग्धों की घर-घर होगी जांचः योगी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घर-घर मेडिकल स्क्रीनिंग में संदिग्धों का सैम्पल लेकर टेस्ट कराने के निर्देश देते हुए कहा कि जांच के पश्चात अस्वस्थ मिले लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। योग मुख्यमंत्री शनिवार को यहां अपने सरकारी आवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा की।उन्हाेंने कहा कि घर-घर जाकर मेडिकल स्क्रीनिंग में संदिग्धों का सैम्पल लेकर टेस्ट लेकर अस्वस्थ मिले मरीजों की समुचित उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव ही इस रोग का उपचार है। इसलिए मास्क का उपयोग तथा सोशल डिस्टेंसिंग अत्यन्त महत्वपूर्ण है। उन्होंने लोगों को कोविड-19 के बचाव के सम्बन्ध में निरन्तर जागरूक किए जाने के निर्देश देेते हुए कहा कि इसके लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम, पोस्टर-बैनर के साथ-साथ प्रिंट व इलेक्ट्राॅनिक मीडिया का उपयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग क्षमता में निरन्तर वृद्धि की जाय। आर0टी0पी0सीआर0 विधि से 30 हजार टेस्ट प्रतिदिन, रैपिड एन्टीजन टेस्ट के माध्यम से 15 हजार से 20 हजार टेस्ट प्रतिदिन तथा ट्रूनैट मशीन के द्वारा दो हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या में बढ़ोत्तरी की जाय। बिना लक्षण वाले कोविड संक्रमित मरीजों को एल-1 कोविड चिकित्सालय में उपचारित किया जा सकता है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि कानपुर नगर, झांसी व मथुरा में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने झांसी में विशेष सचिव स्तर के नोडल अधिकारी तथा स्वास्थ्य विभाग एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी संक्रमण को नियंत्रित करने की प्रभावी रणनीति तैयार करने के निर्देश दिये।


उन्होंने कहा कि संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए ट्रेन व हवाई जहाज से आने वाले यात्रियों की मेडिकल स्क्रीनिंग की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। पुलिस व पीएसी कार्मिकों को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाय। स्वच्छता को जीवनचर्या का अंग बनाए जाने पर बल देते हुए योगी ने कहा कि साफ-सफाई अनेक बीमारियों से लोगों सुरक्षित रखती है। स्वच्छता के कार्यों में जनसहभागिता की बड़ी भूमिका है। उन्होंने ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में सेनिटाइजेशन, फाॅगिंग एवं स्वच्छता की प्रभावी कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिए।                    


श्रीराम 'निर्भयपुत्र'


चित्रकूटः अमावस्य मेले पर लगी रोक

चित्रकूट। रविवार को धर्मनगरी चित्रकूट मे लगने वाले अमावस्या मेले पर रोक लगा दी गई है। श्रद्धालुओं से अपील की गई है कि वह अमावस्या पर घरों में ही पूजा अर्चना करें, चित्रकूट न आएं। प्रशासन एवं साधु-संतों ने अमावस्या मेला को दृष्टिगत बैठक मे अमावस्या मेले पर रोक लगाने का फैसला लिया है। श्रध्दालुओं से अपने घरों में रहकर पूजा-पाठ करने की अपील की है।



रविवार यानि 21 जून को पड़ने वाली अमावस्या मेला को दृष्टिगत रखते हुए धर्म नगरी चित्रकूट के के समस्त साधु-संतों द्वारा जनता से अपील गयी कि कोरोना महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सभी अपने घरों में ही रहकर पूजा करें। सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखते हुए अपना कार्य करें। जिससे कोरोना जैसी महामारी से स्वयं बचे एवं दूसरों को भी प्रेरित करें। प्रशासन द्वारा रामघाट में साधु-संतो के साथ अमावस्या मेला को दृष्टिगत रखते हुए गोष्ठी की एवं जनता से शासन द्वारा निर्गत आदेश-निर्देशों का पालन करने की अपील की गयी। यूपी और एमपी दोनों प्रशासन ने अमावस्या मेला पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। संतों ने बताया कि अमावस्या पर सूर्य ग्रहण भी पड़ रहा है जिससे भीड़ और बढ़ सकती है। अधितकारियों ने कहा कि इतनी भीड़ के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन संभव नहीं है। कोरोना का खतरा भी बढ सकता है। बैठक मे तय किया गया कि अमावस्या मेला पर प्रतिबंध लगा दिया जाए।


मनोज सिंह ठाकुर



बरेली सर्विलांस अधिकारी भी संक्रमित

बरेली। बरेली में कोरोना संक्रमण की रोकथाम की कमान संभाल रहे स्वास्थ्य विभाग के जिला सर्विलांस अधिकारी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. विनीत कुमार शुक्ला ने शनिवार को बताया कि जिला सर्विलांस अधिकारी एवं अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रंजन गौतम की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है।


 बरेली के कोविड एल-2 अस्पताल में शनिवार को 52 वर्षीय कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत हो गई। वह डोरा रोड का निवासी था। शुक्रवार रात ही संक्रमित व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां हांलत गभीर होने पर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।           


रोगों को नियंत्रित करना हमारी जिम्मेदारी

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि “कोविड-19 के साथ संचारी रोगों को नियंत्रित करना भी हमारी जिम्मेदारी है।” मुख्यमंत्री ने शनिवार को अपने सरकारी आवास पर जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कोविड-19 की जांच के लिए नई मंडलीय प्रयोगशालाओं का लोकार्पण भी किया।


उन्होंने कहा, “आज के दौर में हम लोग बड़ी चुनौती झेल रहे हैं। कोविड-19 संक्रमण के साथ ही बरसात के मौसम में संचारी रोगों के बढ़ने की भी संभावना है। कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार पर अंकुश लगाने के साथ हमको अब बरसात जनित यानी संचारी रोगों को भी रोकना है।” उन्होंने कहा, “प्रदेश में गंभीर रोगियों के लिए 250 एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस संचालित हो रही हैं, जिनके जरिए मई, 2020 तक 2 लाख से अधिक रोगियों को समय पर इलाज मिल पाया।” योगी ने कहा, “प्रदेश में शिशु मृत्युदर को नियंत्रित करने के लिए 1,820 न्यू बर्न केयर कॉर्नर, 180 न्यू बर्न स्टेब्लाइजेशन यूनिट, 82 सिक न्यू बर्न यूनिट की स्थापना की गई है। पिछले कुछ समय से प्रदेश में अनेक कार्यक्रम प्रारंभ हुए हैं, ताकि शिशु व मातृ मृत्युदर को नियंत्रित किया जा सके। इस ²ष्टि से केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा अनेक कार्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है, जिनमें जननी सुरक्षा योजना, जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम, प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, यह सभी कार्यक्रम व्यापक पैमाने पर संचालित हो रहे हैं।” मुख्यमंत्री ने कहा, “पिछले तीन वर्षो में बहुत से प्रयास किए गए हैं ताकि व्यापक जागरूकता के माध्यम से प्रत्येक नागरिक के मन में यह भाव जागृत कर सकें कि जनसंख्या स्थिरीकरण के माध्यम से प्रत्येक नागरिक को स्वस्थ व सु²ढ़ परिवार की ओर अग्रसर किया जा सकता है।” उन्होंने आगे कहा, “कोविड-19 के कारण ही हमने प्रदेश में तीन दिन के लिए फिर से पाबंदी लागू की है। इसके लिए भी हमने 11 व 12 जुलाई का समय लिया, इसमें महीने के दूसरे शनिवार और रविवार को अवकाश रहता है। हम बिना अपने काम को प्रभावित किए इन दोनों दिन का समय सेनेटाइजेशन तथा बचाव के अन्य तरीके अपनाने में करेंगे।” योगी ने कहा, “प्रदेश में हमने 18 मंडल में कोविड-19 की सुविधा प्रदान की है। भविष्य में हम हर जनपद में ट्रनेट मशीन लगाकर जनपद-वार कोविड का परीक्षण करेंगे।” उन्होंने लखनऊ के बलरामपुर अस्पताल की वायरोलॉजी लैब का ऑनलाइन उद्घाटन भी किया।           

 

कविता र्गग

100 साल का सबसे गंभीर संकटः दास

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांता दास ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस (कोविड-19) पिछले 100 साल का सबसे गंभीर आर्थिक और स्वास्थ्य संकट लेकर आया है और इसका नौकरियों तथा उत्पादन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।


शक्तिकांता दास ने यहां भारतीय स्टेट बैंक की ओर से ‘कोविड-19 का कारोबार और अर्थव्यवस्था पर प्रभाव’ विषय पर आयोजित वर्चुअल सम्मेलन में कहा कि कोरोना का पूरी दुनिया में उत्पादन क्षमता, नौकरियों तथा लोगों के स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर पड़ा है। इसने माैजूदा वैश्विक व्यवस्था, वैश्विक वैल्यू चेन, श्रम और पूंजी के प्रवाह को प्रभावित किया है। इसका वैश्विक आबादी के एक बड़े हिस्से की सामाजिक-आर्थिक स्थिति पर नकारात्मक असर रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी संभवत: हमारी आर्थिक और वित्तीय प्रणाली की सुदृढ़ता और लचीलेपन की सबसे बड़ी परीक्षा है। इस माैजूदा संकट से अपनी वित्तीय प्रणाली की रक्षा और अर्थव्यवस्था को मदद देने के लिए आरबीआई ने कई ऐतिहासिक कदम उठाये हैं। कोरोना संकट के दौरान आरबीआई के नीतिगत फैसलों की सफलता भले ही कुछ समय बाद पता चले लेकिन वह अब तक सफल प्रतीत हो रहे हैं।



अमित शर्मा             


राहुल ने पीएम मोदी पर कसा 'तंज'

नई दिल्ली। राहुल गांधी ने शनिवार को रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र परियोजना को एशिया की सबसे बड़ी परियोजना बताने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा। उन्होंने सिर्फ एक शब्द लिखा- ‘असत्याग्रही'।


प्रधानमंत्री के एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए राहुल गांधी ने लिखा, “असत्याग्रही।” प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश के रीवा में 750 मेगावाट की सौर ऊर्जा परियोजना का वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए उद्घाटन करते हुए कहा, “आज रीवा ने वास्तव में इतिहास रच दिया है। रीवा को नर्मदा नदी और सफेद बाघ के नाम से जाना जाता है, अब इसमें एशिया की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा परियोजना का नाम भी शामिल हो गया है।”          

काशीपुर में 3 दिनों तक पूर्ण लॉकडाउन

काशीपुर। काशीपुर में लगातार मिल रहे कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों को देखते हुए प्रशासन द्वारा कड़े कदम उठाए गए हैं। ऐतिहातन के तौर पर जिनमें काशीपुर में शनिवार सुबह 10:00 बजे से लेकर 13 तारीख रात 12:00 बजे तक पूर्ण लॉक बंदी कर दी गई है। सिर्फ आवश्यक सेवाएं हेतु छूट दी गई है।


करोना के बढ़ते मामले को देखकर उप जिलाधिकारी काशीपुर गौरव कुमार द्वारा काशीपुर में आज 10:00 सुबह बजे से 13 जुलाई 12:00 रात बजे तक पूर्ण रूप से लोग डाउन रहेगा सभी को अपने घरों में रहने की सलाह दी गई है। प्रशासन द्वारा बढ़ते करोना के मरीजों की संख्या को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। काशीपुर की जनता ने इस फैसले का स्वागत किया है।          


मनोज सिंह ठाकुर


नदी का जलस्तर बढ़ा, बाढ़ की स्थिति

कुशीनगर। कुशीनगर खड्डा गंडक नारायणी नदी भैंसहां में जल स्तर बढ़ने से नदी उस पार दियारा क्षेत्र शिवपुर हरिहरपुर मरचहवां नारायणपुर सहित आधा दर्जन गांवो में बनी हुई है। बाढ़ की स्थिति बताते चलें कि बीती रात गंडक बैराज बाल्मीकि नगर से 270400 क्र्यू सेक पानी डिस्चार्ज किया गया जिसकी वजह से नारायणी नदी का जलस्तर बढ़ गया और नदी उस पार दियारा क्षेत्र के सहित आधा दर्जन गांव जलमग्न हो गया।

शिवपुर चौकी के अन्दर पानी घुसने की वजह से वहाँ तैनात पुलिस कर्मियों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों में जलस्तर बढ़ने से भय की स्थिति बनी हुई है लगातार नेपाल की पहाड़ियों पर मूसलधार बारिश हो रही है जिसके कारण नारायणी नदी का जलस्तर बढ़ता जा रहा है।              

राजू


सभी लोगों से माफी मांगते हैंः मेयर पार्क

सियोल। दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल के दिवंगत मेयर पार्क वोन-सून द्वारा छोड़ी गई वसीयत में कहा गया है कि वह सभी लोगों से माफी मांगते हैं। उन्होंने अपने शव का दाह संस्कार करने को कहा है। पार्क का शव उनके लापता होने के कुछ घंटों बाद शुक्रवार तड़के मिला था। पुलिस ने उनकी तलाश में व्यापक अभियान चलाया था। उन्होंने बताया कि घटनास्थल से कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला है लेकिन उन्होंने मौत की वजह का खुलासा करने से इनकार कर दिया. सियोल शहर की सरकार ने शुक्रवार को पार्क की वसीयत का खुलासा किया जो उन्होंने बताया कि उन्हें उनके घर से मिली।


टीवी पर दिखाई इस वसीयत में कहा गया है, ‘मैं सभी लोगों से माफी मांगता हूं। मैं हर उस व्यक्ति का शुक्रिया अदा करता हूं जो मेरी जिंदगी में मेरे साथ रहा। मैं अपने परिवार से माफी मांगता हूं क्योंकि मैंने उन्हें केवल दर्द दिया। कृपया मेरे शव का दाह संस्कार किया जाए और उसकी राख मेरे माता-पिता की कब्रों के चारों ओर बिखेर दी जाए। पार्क की बेटी ने बृहस्पतिवार दोपहर को पुलिस को फोन कर कहा कि उनके पिता ने घर से निकलने से पहले सुबह ‘वसीयत जैसा’ मौखिक संदेश दिया था। अधिकारियों ने पार्क का पता लगाने के लिए करीब 600 पुलिसकर्मियों और दमकल अधिकारियों, ड्रोन तथा खोजी कुत्तों को लगाया था। राष्ट्रपति मून जेइ-इन की उदारवादी डेमोक्रेटिक पार्टी के सदस्य पार्क (64) को 2022 के चुनावों में राष्ट्रपति पद का संभावित उम्मीदवार माना जा रहा था।                            


फारूख खान


'पीएम केयर्स फंड' की जांच नहीं होगी

हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। लोक लेखा समिति (PAC) कोरोना वायरस को लेकर सरकार द्वारा उठाए कदमों और इस संकट से निपटने के लिए बनाए गए नए पीएम केयर्स फंड (PM CARES) की जांच नहीं करेगी। समिति बैठक में इस मामले में सभी सदस्यों की सर्वसम्मति बनाने में नाकाम रही। लोक लेखा समिति, सबसे अहम संसदीय समितियों में से एक है। यह ऑडिटर जनरल की ओर से पेश रिपोर्टों की जांच-पड़ताल करती है। पीएसी 2जी स्पेक्ट्रम जैसे अहम मामले की जांच कर चुकी है।


लोक लेखा समिति के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने सदस्यों से देश के बारे में सोचने और अपनी अंतरात्मा से काम करने और इस महत्वपूर्ण विषय पर आम सहमति बनाने की अपील की थी। चौधरी लोकसभा में कांग्रेस के नेता हैं. सूत्रों के मुताबिक, पीएसी में बैठक में शामिल बीजेपी सदस्य स्पष्ट तौर पर कोरोना संकट के सरकारी प्रबंधन के जांच-पड़ताल के अधीर रंजन चौधरी के प्रस्ताव को रोक दिया। बैठक में पीएसी में शामिल बीजेपी के सभी सदस्य मौजूद थे।


बैठक में शामिल शख्स ने एनडीटीवी को बताया कि बीजू जनता दल के नेता भृतहरि महतानी से बीजेपी को सबसे ज्यादा समर्थन मिला है। प्रस्ताव के समर्थन में विपक्ष के संख्या बल था. डीएमके नेता टीआर बालू उन कुछ लोगों में से थे, जिन्होंने विपक्ष के प्रस्ताव का समर्थन किया। कुछ विपक्षी नेताओं का दावा है कि बीजेपी कोरोना महामारी और उससे निपटने के लिए उठाए गए कदमों की जांच से इसलिए बचना चाहती है कि इससे पीएम केयर्स फंड पर करीब नजर रखी जा सकती है। पीएम केयर्स फंड कैग के अधीन नहीं आता है। संसदीय समिति की बैठक में बीजेपी की अगुवाई कर रहे वरिष्ठ नेता भूपेंद्र यादव ने पीएम केयर्स फंड की जांच पड़ताल के प्रस्ताव को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि पीएम केयर्स की फंडिंग संसद द्वारा स्वीकृत नहीं है और इस वजह से लोक लेखा समिति इस मामले की जांच नहीं कर सकती है।


'मैदान' की रिलीज डेट हुई फिक्स

मनोज सिंह ठाकुर


मुंबई। बॉलिवुड स्टार अजय देवगन की फिल्मों का फैन्स बेसब्री से इंतजार करते हैं। अजय की पिछली फिल्म तान्हाजी: द अनसंग वॉरियर ने बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा दिया था और लोगों को यह फिल्म काफी पसंद आई थी। अब फैन्स उनकी अगली फिल्म का इंतजार कर रहे हैं। अजय इस समय फिल्म मैदान में काम कर रहे हैं जो एक स्पोर्ट्स बायॉपिक है। अब इस फिल्म की रिलीज डेट आ गई है।


अजय देवगन फिल्म मैदान में भारत के सबसे सफल और मशहूर फुटबॉल कोच सैयद अब्दुल रहीम का किरदार निभाने जा रहे हैं। यह फिल्म अगले साल यानी 2021 में 13 अगस्त को रिलीज होने जा रही है। यह हफ्ता भारत के इंडिपेंडेंस डे वाला वीक होगा और निश्चित तौर पर यह हफ्ता इस फिल्म के लिए सबसे बेहतर हो सकता है। फिल्म में अजय के अलावा प्रियमणि, गजराज राव और रुद्रनिल घोष मुख्य भूमिकाओं में हैं।


मैदान का डायरेक्शन नैशनल अवॉर्ड जीत चुके डायरेक्टर अमित रविंद्रनाथ शर्मा कर रहे हैं। मैदान से पहले ही अजय की फिल्म भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया जल्द ही ऑनलाइन रिलीज होने जा रही है। भारत-पाकिस्तान के 1971 के युद्ध पर बनी इस फिल्म में अजय देवगन स्च्ॉड्रन लीडर विजय कार्णिक के किरदार में दिखेंगेय़ यह फिल्म 29 जून को रिलीज हुई।             


अनचाही चर्बी घटाएं, योग आजमाएं

मनोज सिंह ठाकुर


शरीर में खोई हुई एनर्जी को वापस पाने और पेट व जांघों के फैट को कम करने के लिए उष्ट्रासन या कैमल पोज को करने की विधि और उसके फायदे बता रहे हैं। अगर आप हमेशा सुस्त महसूस करते हैं और आपको लगता है जैसे कि शरीर में एनर्जी ही नहीं है तो इसके लिए आपको अपनी दिनचर्या में योग को शामिल करने की जरूरत है। थकान बहुत-सी शारीरिक परिस्थियों जैसे तनाव, खराब खान-पान, आलस और ठीक से नींद न आने की वजह से होती है।


तो इसमें योग आसन उष्ट्रासन या कैमल पोज आदि के जरिए हम एनर्जी को बढ़ा सकते हैं, स्पाइन में लचीलापन बेहतर कर सकते हैं, स्ट्रेस को कम कर सकते हैं, पाचन क्रिया को बेहतर कर सकते हैं और पेट व जांघों को टोन कर सकते हैं। उष्ट्रासन पूरी फ्रंट बॉडी को खोलता है जो कि पूरे शरीर के लिए बहुत ज्यादा ताकतवर साबित होता है। अगर आप थकान महसूस करते हैं तो इस योग आसन का रोजाना अभ्यास करके एनर्जी को वापस पा सकते हैं और पूरे जीवन को अच्छे से जी सकते हैं।
उष्ट्रासन कैसे करें:



  • अपने योग मैट पर अपने घुटने टेक कर बैठें।

  • हाथों को अपने कूल्हों पर रखें।

  • यह ध्यान रहे कि आपके घुटने आपके कंधों की कतार में होने चाहिए।

  • पीछे की ओर झुक जाएं और अपने हाथों को पीछे ले जाकर अपनी एड़ी को पकड़ लीजिए।

  • इसी के साथ, अपनी गर्दन को झुकाएं और अपनी कमर के हिस्से को धक्का देने के लिए अपनी गर्दन और सिर को पीछे ले जाएं।

  • कुछ सांस लेने तक इसी आसन में बने रहिए।

  • सांस छोडि़ए, धीरे-धीरे अपने हाथों को एडिय़ों से अलग कीजिए और उन्हें कूल्हों की ओर वापस ले जाएं और वापस शुरुआती मुद्रा में आ जाएं।

  • कुछ देर रुकिए और फिर से उसी प्रक्रिया को दोहराइए। जब तक आपको आराम मिलता है तो आप इसे कई बार कर सकते हैं।
    उष्ट्रासन करने के फायदे:

  • यह शरीर को पूरा खोलता है और स्ट्रेच करता है।

  • यह पेट को टोन करता है और फैट कम करने में मदद करता है।

  • यह पाचन में सुधार करता है और कब्ज खत्म करता है।

  • यह थायराइड हेल्थ में सुधार करता है और अंत:स्रावी ग्रंथियों को उत्तेजित करता है।

  • इससे कमर और कंधा मजबूत होता है और कमर के निचले हिस्से में दर्द खत्म होता है।

  • इससे आर्म्स मजबूत होती हैं और जांघों से फैट खत्म होता है।

  • इससे स्पाइन को आराम मिलता है, जिससे स्ट्रेस और घबराहट खत्म होती है।

  • इससे स्पाइन में लचीलापन आता है और मुद्रा ठीक होती है।

  • इससे कशेरुक ढीला होता है।

  • यह पूरे स्वास्थ्य के लिए एक बेहतरीन योग आसान है।

  • अपने शरीर में एनर्जी को बेहतर करने के लिए, फिटनेस और पूरे स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए इस योग को अपनी जीवन शैली में शामिल कर सकते हैं।
    सावधानी: अगर आपको हाई या लो ब्लड प्रेशर, गर्दन या कमर की चोट आदि परेशानी हैं तो इसे करने से बचिए। इस योग आसन को किसी प्रशिक्षित योग गुरु की देखरेख में करना बेहतर है।             


सोनिया ने अध्यक्षों की वर्चुअल बैठक की

नई दिल्ली। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने देश के ज्वलंत मुद्दों पर चर्चा के लिए शनिवार को पार्टी के लोकसभा सदस्यों की बैठक बुलाई है। कांग्रेस Congress)  सूत्रों न बताया कि चीन सीमा के ताजा हालात और कोरोना के कारण चरमराई अर्थव्यवस्था बैठक के मुद्दे हो सकते हैं। इन मुद्दों को लेकर सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है।


यह बैठक ऐसे समय में बुलाई गई है, जब सरकार ने राजीव गांधी फाउंडेशन की फंडिंग की जांच के लिए अंतर-मंत्रालयी जांच समिति गठित की है। पार्टी ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और आरोपों का खंडन किया है। पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पूछा, “क्या मोदी सरकार इसकी जांच कराएगी कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) को विदेशी स्रोतों सहित किन-किन स्रोतों, लोगों, संगठनों और सरकारों से चंदा मिले हैं?”              


डिजिटल संभल को एससी ने मान्यता दी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (Covid-19) संक्रमण के बीच अब कोर्ट के नोटिस और समन वॉट्सऐप, ई-मेल, फैक्स और इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप के जरिए भेजे जा सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट (SC) ने शुक्रवार को इसकी मंजूरी दे दी है। शीर्ष कोर्ट ने कहा कि हमारे ध्यान में लाया गया कि नोटिस, समन आदि के लिए पोस्ट ऑफिस जाना संभव नहीं है। इन्हें वॉट्सऐप, ई-मेल, फैक्स और इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप के जरिए भी भेजा जा सकता है।


जस्टिस एएस बोपन्ना और आर सुभाष रेड्डी की पीठ ने कहा कि दो ब्लू टिक का मतलब ये मान लिया जाएगा कि रिसीवर ने नोटिस देख लिया है। ये आदेश कोविड-19 की वजह से हाईकोर्ट और ट्रिब्यूनल कोर्ट में याचिका दायर करने की समय-सीमा बढ़ाए जाने के मामले की सुनवाई के दौरान आया। मई में सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों को कोर्ट के समय के बाद भी ई-फाइलिंग की अनुमति दी थी। नई तकनीकि की जरूरत को बताते हुए मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने तब कहा था कि हमें वर्तमान स्थित को समझते हुए अपने मानसिकता को बदलना होगा। हमें नई और पुरानी व्यवस्थाओं में सामंजस्य बनाना होगा।


चीफ जस्टिस ने ये भी कहा था कि आने वाले समय में महत्वपूर्ण मामलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का रोल काफी अहम हो सकता है। अगर एआई का उपयोग किया जाता, तो अयोध्या मामले का फैसला बिना देरी के किया जा सकता था। सुप्रीम कोर्ट के जज लॉकडाउन के दौरान अपने घरों से ही वाडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई कर रहे थे। मई से कोर्ट रूम में दोबारा सुनवाई शुरू हुई।               


प्रारंभ हुआ शिव का मधुश्रावणी व्रत

रायपुर। मिथिला संस्कृति का पर्व मधुश्रावणी व्रत शुक्रवार से प्रारंभ हो गया है। मैथिल संस्कृति के अनुसार शादी के पहले साल के सावन माह में नवविवाहिताएं मधुश्रावणी का व्रत करती हैं। मैथिल समाज की नवविवाहितों के घर यह पर्व विधि-विधान से होता है। पर्व के दौरान महिलाएं सुबह गंगा में स्नान करने के बाद पूजन आरंभ करती है। इस पर्व में मिट्टी की मूर्तियां, विषहरा, शिव-पार्वती बनाया जाता है। नवविवाहिताएं बिना नमक के 14 दिन भोजन ग्रहण करती है। यह पूजा लगातार 14 दिनों तक चलते हुए श्रावण मास के शुक्लपक्ष की तृतीया तिथि को विशेष पूजा-अर्चना के साथ व्रत की समाप्ति होती है। इन दिनों नवविवाहिता व्रत रखकर गणेश, चनाई, मिट्टी और गोबर से बने विषहारा एवं गौरी-शंकर का विशेष पूजा कर महिला पुरोहिताईन से कथा सुनती है। इस व्रत में माैना, पंचमी, गौरी, पृथ्वी, महादेव, गंगा कथा, बिहुला कथा सहित 14 कथा का श्रवण किया जाता है। प्रतिदिन संध्या काल में महिलाएं आरती सुहाग के गीत, कोहबर गीत, गाकर भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न की जाती है।


माता पार्वती ने किया था मधुश्रावणी का व्रत :


ऐसी मान्यता है कि माता पार्वती सबसे प्रथम मधुश्रावणी का व्रत किया था। इसलिए पार्वती व शिव की कथा सुनी जाती है। वहीं ससुराल से आए पूजन सामग्री दूध, लावा व अन्य सामग्री के साथ नाग देवता व विषहरी की भी पूजा की जाती है। शादी के प्रथम वर्ष इस त्याेहार का अपने-आप में विशेष महत्व है, जिसकी अनुभूति नवविवाहिता कर सकती हैं।            


भारत में 2,83,407 सक्रिय संक्रमित

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस महामारी का संकट भारत में हर दिन बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 27,114 नए मामले सामने आए हैं और 519 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 8,20,916 हो गई है, जिनमें से 2,83,407 सक्रिय मामले हैं, 5,15,386 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 22,123 लोगों की मौत हो चुकी है।               


घुसपैठ करते आतंकियों को मार गिराया















 









कश्मीर। भारतीय सुरक्षाबलों ने जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकियों और घुसपैठियों के खिलाफ अभियान तेज कर रखा है। इसी कड़ी में सेना ने पाक घुसपैठियों की भारत के सीमा में दाखिल होने की एक और कोशिश को आज नाकाम कर दिया। साथ ही दो पाकिस्तानी घुसपैठियों को मार गिराया गया है। सेना ने कश्मीर के नौगाम सेक्टर में शनिवार सुबह एलओसी पर संदिग्ध मूवमेंट देखी। जिसके बाद सेना तेजी से हरकत में आई और बारामुला के नौगाम सेक्टर के एलओसी पर आतंकियों के लिए घात लगाकर बैठ गई। पाकिस्तानी आतंकी जैसे ही भारतीय सीमा में दाखिल हुए तो सेना की कार्रवाई में दोनों आतंकी मारे गए। मारे गए आतंकियों के पास से दो एके-47 और लड़ाई में इस्तेमाल होने वाले गोला बारूद बरामद हुए हैं। सेना के सतर्कता की वजह से पाकिस्तानी आतंकियों के नापाक मंसूबे कामयाब नही हो पाए।


इससे पहले, एक जुलाई को जम्मू कश्मीर के राजौरी के केरी इलाके में सुरक्षाबलों को घुसपैठ की खबर मिली थी। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे आतंकी को मार गिराया गया। यह आतंकी सुबह तकरीबन 5.55 पर घुसपैठ की कोशिश कर रहा था। जानकारी है कि आतंकी 400 मीटर एलओसी के भारतीय इलाके में आ गया था, तभी सेना ने उसपर फायर किया था।
















सैनिटाइजर का अधिक उपयोग खतरनाक

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के इस दौर में फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजर हमारी नॉर्मल जिंदगी के हिस्से बन गए हैं। डॉक्टर्स लोगों को सलाह देते हैं कि जितना हो सके आप साबुन और पानी से अपने हाथ धोएं। अगर आपके पास हाथ धोने की कोई सुविधा नहीं हो, उसी हालात में आप सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। सैनिटाइजर का उपयोग पिछले छह महीनों से हमारी जिंदगी में बढ़ गया है, इसलिए हमें इस बात से सावधान रहने की आवश्यकता है कि हम क्या उपयोग कर रहे हैं, ताकि यह हमारे लिए हानिकारक न हो। हम आपको बताते हैं कि कैसे हैंड सैनिटाइजर आपके स्वास्थ्य को कई तरीकों से प्रभावित कर सकता है। सैनिटाइजर में कम से कम 60 प्रतिशत अल्कोहल का होना जरूरी है, लेकिन कुछ सैनिटाइज़र ऐसे हैं, जिनमें अल्कोहल नहीं, बल्कि ट्रिक्लोसन होता है। ट्रिक्लोसन एक शक्तिशाली जीवाणुरोधी पदार्थ है, जिसका उपयोग कीटनाशकों में किया जाता है। इसे आपकी स्किन आसानी से ऑब्जर्व कर लेती है। ये आपके थायरॉयड फंगशन, लीवर और मसल्स को प्रभावित कर सकता है।


खाने से पहले हाथों पर सैनिटाइजर काइस्तेमाल नहीं करें हममें से कई लोग ऐसे भी हैं, जो कुछ भी खाने से पहले सेनिटाइजर का इस्तेमाल करते हैं। आपको पता हैं हैंड सैनिटाइज़र में बहुत सारे रसायन होते हैं जिनका सेवन करने से आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। खासकर छोटे बच्चों के इम्यून पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।


खुशबू वाला हैंड सैनिटाइजर न खरीदें


 जिन सैनिटाइजर में सेंट का इस्तेमाल किया जाता है, वो उतने ही अधिक विषाक्त पदार्थों और रसायनों से भरे होते हैं। सिंथेटिक सुगंध में हानिकारक तत्व होते हैं, जो अंतःस्रावी अवरोधक होते हैं और आनुवंशिक विकास को बदल सकते हैं।


आग लगा सकता है सैनिटाइजर


हैंड सैनिटाइजर के इस्तेमाल से कई जलने की घटनाएं सामने आई हैं। हैंड सैनिटाइज़र में मौजूद अल्कोहल इसे अधिक ज्वलनशील बनाता है। यदि आप अपने हाथों पर सैनिटाइज़र लगाते हैं और आग के पास जाते हैं, तो यह जलने का कारण हो सकता है।


अपने मास्क को हैंड सैनिटाइजर से साफ न करें


हममें से कई लोग यही सोचते हैं कि मास्क को सैनिटाइजर से साफ करने से कीटाणुरहित हो जाएगा तो वो गलत सोचते है। ऐसा करने से मास्क में सैनिटाइज़र का वाष्प फंस सकता है और जब आप मास्क पहनते हैं तो ये मितली और उल्टी का कारण बन सकते हैं।             


सेनीटाइज के बाद घर में रखें सामग्री

सिंगरौली। कलेक्टर श्री राजीव रंजन मीना के द्वारा जिले के आम नागरिको को इस आषय की हिदायत दी गई है कि कोरोना वायर के संक्रमण के प्रभाव को रोकने के लिए बाहर से लाई जाने वाली संमग्रियो को पहले सेनेटाईज इसके बाद ही घर मे रखे। उन्होने कहा कि कोरोना महामारी का संकट अभी टला नही है जरूरत पड़ने पर ही घर के बाहर निकलने घर से निकलते समय मास्क लगाना न भूले। कलेक्टर ने कहा कि अपने हाथो के बार बार धोते रहे खासकर बाहर से आने पर पहले हाथो को सेनेटाईज करे इसके बाद ही घर मे प्रवेष करे। उन्होने बताया कि जिले महामारी से बचाव हेतु लोगो को बीच जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। आम जन अभियान के दौरान बिमारी के बाचव के लिए जो सावधानिया बताई जा रही उनका हर हाल मे अनुसरण करें।


 कलेक्टर ने कहा कि बारिस के मौसम मे उत्पन्न होने वाली बिमारियो से अपना बचाव करे। उन्होने कहा कि सर्दी,खासी तथा बुखार की अवस्था मे तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र या आगनवाड़ी केन्द्र पर संम्पर्क करे ताकि बिमारी का उचित उपचार  किया जा सके।उन्होने कहा बारिस के मौसम मे  बच्चो की अच्छी तरह से देखभाल करे उनके दस्त प्रबंधन के लिए आगनवाड़ी केन्द्रो पर ओआरएस तथा जिंक की गोली आईएफए सिरप, पैरासीटामाल की गोली उपलब्ध है बच्चो के चोट लगने पर चोट के उपचार  के लिए मलहम पट्टी एवं डिटाल उपलंब्ध है समस्या होने पर तत्काल अपने क्षेत्र के आगनवाड़ी कार्यकर्ता से संम्पर्क करे।कलेक्टर ने आम नागरिको से आग्रह करते हुये कहा कि बर्षा जनित बिमारियो से बचने के लिए अपने आस पास की जगहो मे साफ सफाई रखे अपने आस पास कचरा तथा गदां पानी एकठ्ठा न होने दे पीने वाले पाली को साफ बर्तन मे ढककर रखे सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करे।                


साजिश का आरोप, 2 भाजपा नेता अरेस्ट

जयपुर। राजस्थान में सीएम अशोक गहलोत की सरकार को कथित रूप से गिराने की कोशिशों के मामले में बीजेपी नेताओं का नाम सामने आया है। राजस्थान पुलिस ने इस मामले में दो बीजेपी नेताओं को देर रात हिरासत में लिया था। पूछताछ के बाद राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया है।


रिपोर्ट के मुताबिक, राजस्थान में विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में ब्यावर के दो भाजपा नेताओं का नाम सामने आया है। इन नेताओं के नाम हैं भरत मालानी और अशोक सिंह. इन्हें ब्यावर उदयपुर से स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने गिरफ्तार किया है। राजस्थान SOG के मुताबिक मालानी की कॉल रिकॉर्डिंग से पता चला है कि विधायकों को खरीदने की कोशिश जा रही है।


इस खुलासे के बाद एसओजी ने भरत मालानी को हिरासत में ले लिया है, बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। फिलहाल जयपुर में उनसे पूछताछ हो रही है। भरत मालानी राजस्थान बीजेपी में कई पदों पर जिम्मेदारी निभा चुके हैं।


बता दें कि राजस्थान में सरकार गिराने की कोशिशों को लेकर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने केस दर्ज किया है। एफआईआर के मुताबिक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप को कुछ फोन नंबरों की रिकॉर्डिंग के दौरान पता चला कि अशोक गहलोत सरकार को गिराने की साजिश चल रही है। एफआईआर के अनुसार, ऐसी बात फैलाई जा रही है कि राजस्थान में सीएम और डिप्टी सीएम में झगड़ा चल रहा है। ऐसी स्थिति में कुछ ताकतें निर्दलीय और कांग्रेस के विधायकों को तोड़कर इस सरकार को गिराना चाहते हैं।


एफआईआर में आरोप है कि बीजेपी नेता विधायकों को धन का प्रलोभन देकर अपने पाले में करने की कोशिश कर रहे हैं। राजस्थान का स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप इस मामले की जांच कर रहा है।


खादी की कोख में पल रहा था 'विकास'

खादी की कोख में पल रहा था विकास
उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर पहुचे विकास ने किया था सरेंडर स्वांग सजाकर कर दिया गया एनकाउंटर
8 पुलिस कर्मियों को मौत के घाट उताने का था विकास पर आरोप
प्रदेश की पुलिस को चकमा देकर एमपी पहुचा था विकास यूपी पुलिस की हो रही थी भारी किरकिरी
पिछले दिनों एनकाउंटर में मारे गए अमर दुबे की मात्र 9 दिनों पहले हुई थी शादी घर से उठा कर किया गया था एनकाउंटर
विकास के एनकाउंटर पर उठ रहें हैं सवाल एसटीएफ की कार्यवाही पर जताया जा रहा है बड़ा संदेह


महोबा,(रितुराज राजावत)। खाकी की कोख से जन्म लेने वाले विकास का अंत हो चुका है । उज्जैन से वापिस लाते हुए एसटीएफ कमिर्यो से होने वाली सीधी मुठभेड़ में विकास दुबे को मौत के घाट उतारा जा चुका है ।इस पूरे वाकये पर योगी सरकार की जमकर वाह वाही हो रही है तो वहीं प्रयासरत यूपी पुलिस को अपनी पीठ थपथपाने का स्वर्णिम अवसर प्राप्त हो गया है। वास्तविक विकास से अछूती जनता के समछ कुख्यात बदमाश माने जाने वाले विकास को मौत की नींद सुलाने का ढिढोंरा जोर शोर के साथ पीटा जा रहा है। न्यायपालिका को ठेंगें पर रखकर पुलिस और एसटीएफ कर्मियों द्वारा जिस प्रकार से इस एनकाउंटर की रूप रेखा बताई जा रही है वो न सिर्फ दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि हास्यपद भी मानी जा रही है। सूबे में योगी सरकार को आए तीन वर्ष से अधिक वख्त गुजर गया है। इस पूरे कार्यकाल के दौरान उत्तर प्रदेश में अपराध का ग्राफ कम होने की जगह अपने चरम पर जा पहुचा है। इसी बीच सरकार में तीन वर्ष गुजारने के बाद एकाएक योगी आदित्यनाथ के राज में एनकाउंटर के दौर की सुरूआत हो गई है। कानपुर कांड के बाद चिर निद्रा से जागी सरकार में खाकी द्वारा चुन चुन कर अपराधियों को मौत के घाट उतारा जाने लगा है फिर चाहे तरीका जायज हो या फिर नाजायज। न्यायव्यवस्था का माखौल उड़ाते हुए विकास दुबे के एनाकाउंटर को एक उदाहरण के रूप में लिया जा सकता है। जिस व्यक्ति के पैर में स्टील की राॅड पड़ी थी वो कई किलोमीटर तक दौड़कर भागा जैसे बयान देने वाले बुद्धिजीवियों के शिक्षा स्तर पर संदेह व्यक्त करना कदाचित अनुचित नही कहा जा सकता है। इस पूरे प्रकरण में एक अकेला अपराधी या यूं कहें की समर्पणकर्ता का पूरी एसटीएफ कर्मियों पर भारी पड़ते हुए बंदूक छीनकर भाग जाना जैसे धूर्ततापूर्ण तथ्यों की प्रमाणिक्ता देते सुरक्षा कर्मियों को सवालों के कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। अपने आप में ये भी अकाट्य सत्य है की विकास को पकड़ने में उत्तर प्रदेश की पुलिस साफ तौर पर नाकारा और नाकामयाब साबित हुई है अगर एैसा नही था तो विकास मध्यप्रदेश के उज्जैन नगरी के महाकालेश्वर मंदिर तक आखिर पहुचा कैसे। ऐसे न जाने कितने सवाल हैं जिनका जवाब शायद ही किसी के पास होगा लेकिन इन सब में सबसे बड़ा सवाल ये है की विकास को अपने गर्भ में पालने वाले वो कोख किन राजनैतिक रसूखदारों की थी जिन्होनें एक आम आदमी को अपराधी बना डाला । इस प्रकरण के दौरान जो सबसे आश्चर्यजनक वाकया हुआ वो था सन्देह के घेरे में आए तिवारी जी पर लाइन हाजिर जैसी छोटी कार्यवाही करके उनपर विशेष कृपा का बनाया जाना । न तो कोई दंडात्मक कार्यवाही तिवारी जी पर की गई है और न ही उन्हें पदमुक्त किया गया हैं । जांच की जा रही जैसे की पूर्व में की जाती रही है और थोड़े दिनों बाद थाने की शोभा बढ़ाने के लिए उन्हें फिर से किसी थाने पर विराजमान कर दिया जाएगा जैसे की पूर्व में अन्य चहेतों को किया जाता रहा है ।             


सवालों के कटघरे में योगी सरकार

अकांशु उपाध्याय 


लखनऊ। विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद सोशल मीडिया में लाखों सवालों की झड़ी लग गई है। अपने-अपने हिसाब से लोग पुलिस, उत्तर प्रदेश सरकार और बीजेपी-कांग्रेस से सवाल कर रही है। कई लोग मजेदार मीम्स बनाकर भी सोशल मीडिया में वायरल कर रहे है। कुछ लोग इस एनकाउंटर को सही बता रहे है तो कुछ इसे गलत। कुछ इसे जाति-धर्म से भी जोड़कर सवाल पूछ रहे है और कई सवालों का जवाब जानना चाह रहे है। इसे लेकर विस्तृत रिपोर्ट तैयार की गई है, जिसमें ग्राउंड रिपोर्टिगं के हालात को देखते हुए कई जायज सवाल उठाए है, जिसके जवाब का इंतजार पूरे देश को है।






 






  1. दिनभर चार्टर्ड प्लेन की खबरें थीं, फिर सड़क के रास्ते कैसे ले जाया गया?


पहले चर्चा थी कि विकास को चार्टर्ड प्लेन के जरिए उज्जैन से इंदौर और फिर वहां से यूपी ले जाया जाएगा, लेकिन गुरुवार शाम को अचानक कहा गया कि उसे सड़क के रास्ते ले जाया जाएगा और इसके लिए यूपी एसटीएफ की टीम आ रही है। लेकिन एसटीएफ की टीम आई ही नहीं। शाम को उज्जैन से एमपी पुलिस की टीम विकास को झांसी तक ले गई।



  1. पुलिस के काफिले में कई गाड़ियां थीं, एक्सीडेंट सिर्फ उसी गाड़ी का हुआ जिसमें विकास सवार था?


विकास को जब झांसी में एमपी पुलिस ने यूपी पुलिस के हवाले किया, तब वहां 10 से ज्यादा गाड़ियां तैयार थीं। इसमें से एक गाड़ी में विकास को बैठाया गया। बाकी गाड़ियां आगे-पीछे थीं। मीडिया भी इस काफिले का पीछा कर रहा था। भारी बारिश हो रही थी। इस पूरे काफिले में एक्सीडेंट सिर्फ विकास की गाड़ी का हुआ। पुलिस की बाकी किसी गाड़ी या मीडिया की किसी गाड़ी के साथ हादसा नहीं हुआ।



  1. मीडिया को जानबूझकर रोक दिया गया?

    आरोप है कि काफिले के साथ चल रही मीडिया की गाड़ियों को रोकने के लिए बीच में अचानक चेक पोस्ट लगा दी गई। इस वजह से मीडिया की गाड़ियां पीछे छूट गईं। बाद में खबर आई कि विकास दुबे जिस गाड़ी में था, वह पलट गई और उसका एनकाउंटर हो गया। एनकाउंटर के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस के आला अफसरों ने इस सवाल का जवाब नहीं दिया कि क्या मीडिया को रोकने के लिए ही अचानक चेकिंग शुरू की गई थी?



    1. विकास को हथकड़ी नहीं लगाई थी?


    यह भी बड़ा सवाल है कि जिस पर 60 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हों, जो 8 पुलिसवालों की हत्या का आरोपी हो, उसे गाड़ी में क्या हथकड़ी पहनाकर नहीं बैठाया गया था? उज्जैन के महाकाल मंदिर के निहत्थे गार्ड ने विकास को रोका था। कहा गया था कि गार्ड के साथ हाथापाई भी हुई, लेकिन विकास भाग नहीं सका। उसे पकड़ने वाली उज्जैन पुलिस के पास लाठी तक नहीं थी। वहीं, कानपुर के पास जब पुलिस की गाड़ी पलट गई तो विकास ने कैसे हथियारबंद पुलिस से पिस्टल छीन ली और फायरिंग करने लगा?



    1. कौन-से बड़े खुलासे करने वाला था विकास दुबे?


    इस बारे में पूछे जाने पर यूपी के पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह ने बताया था कि विकास से पूछताछ की जाए तो बड़े-बड़े लोगों के नाम सामने आएंगे। इसमें आईएएस, आईपीएस, नेताओं के नाम सामने आ सकते हैं। विकास का उज्जैन में पकड़ा जाना समझ से बाहर है।


    उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दिलचस्प ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- दरअसल कार नहीं पलटी है, राज खुलने से सरकार पलटने से बचाई गई है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा- जिसका शक था, वही हो गया। विकास दुबे का किन-किन राजनीतिक लोगों, पुलिस अधिकारियों से संपर्क था, अब यह उजागर नहीं हो पाएगा। सभी एनकाउंटर का पैटर्न एक समान क्यों है?


    6. उज्जैन में गिरफ्तारी क्या स्क्रिप्टेड थी?


    विकास दुबे 4 राज्यों से गुजरते हुए 1250 किमी का सफर तय कर उज्जैन कैसे पहुंचा था, यह सस्पेंस बना हुआ है। उज्जैन में उसकी गिरफ्तारी पर भी सवाल उठे। एक दिन पहले यानी बुधवार दोपहर को उज्जैन के महाकाल थाना प्रभारी और चौकी प्रभारी का तबादला हुआ। रात को कलेक्टर आशीष सिंह और एसपी मनोज सिंह महाकाल मंदिर पहुंचे थे। दाेनाें का दावा है कि वे एक बैठक के सिलसिले में गए थे।


    7. उज्जैन पुलिस ने गांधीगिरी दिखाई? गुरुवार सुबह विकास दुबे मंदिर में टहलकर फोटो खिंचवाता रहा। यहां पुलिस की गांधीगिरी दिखाई दी। विकास खुद ही मंदिर से बाहर आया, पुलिसवाले पीछे चलते रहे। मीडिया आया, तब उसे गर्दन पकड़कर दबोचा गया। किसी पुलिसवाले के हाथ में डंडा तक नहीं था। मंदिर के अंदर विकास के फोटो-वीडियो कौन बनाता रहा, ये कोई नहीं जानता। जब विकास को पकड़ा गया तो एक पुलिसवाले को बोलते सुना गया कि शर्माजी मरवाओगे। विकास भी पीछे मुड़कर बार-बार देखता रहा। जैसे किसी को खोज रहा हो।




मैं संभाल लूंगी बंदूक, सब मरेंगेः रिचा

नईदिल्ली कानपुर में विकास दुबे का पोस्टमॉर्टम होने के बाद शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इस मौके पर भैरव घाट पर उसकी पत्नी रिचा दुबे, छोटा बेटा और बहनोई दिनेश तिवारी मौजूद थे। लेकिन घाट पर रिचा मीडियाकर्मियों के सवालों पर भड़क गईं। रि‍चा ने आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल भी क‍िया। मेरे पति को मार कर तुम सबने ठीक नहीं किया। अब मैं खुद चलाऊंगी बंदूक…पति को जिसने मरवाया है, जिसने मारा है…सब मरेंगे। ये शब्द शुक्रवार को भैरवघाट में विकास दुबे के अंतिम संस्कार में पहुंची पत्नी रिचा के हैं। पति की मौत के बाद उसका गुस्सा पुलिस, प्रशासन और मीडिया पर साफ तौर से देखने को मिला।


अंतिम संस्कार के लिए जाते वक्त मीडिया ने उससे अपना पक्ष रखने को कहा। इस बात से वो आक्रोशित हो गई और धमकी दी। वहीं, पुलिस के कहने पर भी विकास के अंतिम संस्कार में उसके माता-पिता ने शामिल होने से इंकार कर दिया। विकास के शव का पोस्टमार्टम कराने के काफी देर बाद तक पुलिस को शव का कोई दावेदार नहीं मिला।


शाम को शिवली से विकास के बहनोई दिनेश तिवारी पोस्टमार्टम वाली जगह पहुंचे और अपनी सुपुर्दगी में शव लिया। यहां से शव को सीधे भैरवघाट स्थित विद्युत शवदाह गृह ले जाया गया। लखनऊ से विकास की पत्नी रिचा, बेटा, मामी व बिकरू से रिश्तेदारी की तीन अन्य महिलाएं पहुंचीं। मीडिया ने रिचा से बिकरू में आठ पुलिस की हत्या के संबंध में सवाल किए तो वह भड़क उठी। जोर-जोर से चिल्ला कर कहा कि तुम सबने मिलकर मेरे पति को मरवा दिया। जिसने जैसा किया है, उसको वैसा ही परिणाम भुगतने तक की धमकी दी। एसपी पूर्वी राजकुमार ने पुलिसकर्मियों को उसे वहां से ले जाने के निर्देश दिए। करीब आधे घंटे में शव का अंतिम संस्कार कराने के बाद रिचा, बेटे व मामी के साथ तीन कारों से लखनऊ रवाना हो गई, जबकि तीन अन्य महिलाएं भी गांव के लिए निकल गईं। गौरतलब है कि विकास दुबे की कल सुबह पुलिस एनकाउंटर में मौत हो गयी। पुलिस का कहना है कि उसे कानपुर लाया जा रहा था, उसी दौरान गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया और वह भागने की कोशिश करने लगा। उसने पुलिस से पिस्तौल भी छीन ली थी और फायरिंग किया था, जिसके बाद जवाबी फायरिंग में वह मारा गया।              


बाढ़-भूस्खलन से 64 लोगों की मौत

असम। असम में शुरुआती दिनों से हो रही लगातार बारिश बाढ़ से हाल-बेहाल है। जन-जीवन बुरी तरह से प्रभावित है। बाढ़ का खतरा अभी बना हुआ है। स्थिति जस की तस बनी हुई, बल्कि एक तरह से और बिगड़ती ही जा रही है। असम के कई जिले में बेहद प्रभावित है।
असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की रिपोर्ट में कहा गया है कि 14 जिलों के 32 राजस्व क्षेत्रों के 3,41,837 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। बाढ़ का पानी उदलगिरी और डिब्रूगढ़ में भी फैल गया है। बाढ़ और भूस्खलन के कारण राज्य भर में अब तक 64 लोगों की मौत हो चुकी है।


अरुणाचल प्रदेश में भूस्खलन


अरुणाचल प्रदेश में भी भारी बारिश के बाद भूस्खलन की कई घटनाएं हुई है. इन घटनाओं में 7 लोगों की मौत हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूस्खलन की घटनाओं में मारे गए लोगों के प्रति दुख जताया। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, मेरी संवेदनाएं हादसे में मारे गए लोगों के परिवारों के साथ हैं. आपदा में प्रभावित लोगों को हर संभव मदद दी जा रही है। वहीं, राज्य के मुख्‍यमंत्री पेमा खांडू ने आपदा प्रभावित क्षेत्र में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की।


मौसम विभाग ने देश के कई राज्यों में भारी बारिश और तूफान की चेतावनी दी है। मौसम विभाग ने कहा है कि अगले 24 घंटे में दिल्ली सहित उत्तर-पूर्व के कई राज्यों में भारी बारिश हो सकती है. चक्रवाती तूफान के भी आसार बन रहे हैं। बारिश अगले से दो से तीन दिनों तक लगातार होने की संभावना है। दूसरी ओर असम में भारी बारिश बाढ़ के हालात बने हुए है। बिहार में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है।
मौसम विभाग के अनुसार उत्तर अरब सागर पर निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इससे असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और झारखंड में तेज मॉनसूनी बारिश के आसार हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश के मध्य भागों, तटीय कर्नाटक, तेलंगाना, विदर्भ और पूर्वी मध्य प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। दक्षिण और पूर्वी राजस्थान, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश में हल्की बारिश की संभावना है।


दिल्ली की बात करे तो दिल्ली में भारी बारिश की चेतावानी दी गई है। वहीं पानीपत, कटिहार, करनाल, कुरुक्षेत्र, सोनीपत, शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, मोदीनगर, बिजनौर, बुलंदशहर, हापुड़, मुरादाबाद, संभल, अमरोहा, नरोरा और गाजियाबाद समेत आस-पास के इलाकों में बारिश की संभावना जताई है। इसके अलावा हरियाणा के नरनौल, बावल, नूह में भी तेज हवा के साथ हल्की बारिश हो सकती है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


 जुलाई 12, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-334 (साल-01)
2. रविवार, जुलाई-12, 2020
3. शक-1943, श्रावण, कृष्ण-पक्ष, तिथि- सप्तमी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:31,सूर्यास्त 07:27।


5. न्‍यूनतम तापमान 26+ डी.सै.,अधिकतम-38+ डी.सै.। बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275



  • (सर्वाधिकार सुरक्षित)                


जेडीयू को भी मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए

अविनाश श्रीवास्तव    पटना। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार और उसमें जनता दल यूनाइटेड के शामिल होने की अटकलों के बीच जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिं...