शुक्रवार, 10 जून 2022

महिला अधिवक्ता पर हमला, गाड़ी में तोड़-फोड़

महिला अधिवक्ता पर हमला, गाड़ी में तोड़-फोड़

राणा ओबरॉय/भानु प्रताप उपाध्याय

शामली/चंडीगढ़। ससुरालियों से विवाद के चलते मदद मांगने पर पीड़ित-पक्ष के साथ में तितरवाड़ा गांव में पहुंची हरियाणा की महिला अधिवक्ता पर हमला कर दिया गया। मारपीट करते हुए उनकी गाड़ी में तोड़-फोड़ की गई। अश्लील हरकत करने का भी आरोप है। हरियाणा के पानीपत जिले के समालखा निवासी महिला अधिवक्ता पर क्षेत्र के गांव तितरवाड़ा में हमला कर दिया गया। बताया जा रहा है कि महिला अधिवक्ता ससुरालियों के साथ चल रहे विवाद को लेकर पीड़ित पक्ष के साथ में गांव में पहुंची थी। इसी दौरान यह घटना हुई।

अधिवक्ता का आरोप है कि दर्जनों लोगों ने गाली-गलौज करते हुए उनके साथ में मारपीट की और उनकी गाड़ी के खिड़की के हैंडल तथा एक लाइट तोड़ दी गई। मारपीट में वह चोटिल हो गई। सूचना पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची, जिसके बाद उन्हें कोतवाली लाया गया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर कार्रवाई शुरू कर दी है।

पत्थरबाजी: बंदूक उठाकर आगे की तरफ बढ़ें, एडीजी

पत्थरबाजी: बंदूक उठाकर आगे की तरफ बढ़ें, एडीजी

बृजेश केसरवानी      
प्रयागराज। जुमे की नमाज के बाद विरोध करने के लिए सड़क पर उतरी पब्लिक की ओर से पत्थरबाजी की गई। हालातों को सुधारने के लिए एडीजी को बंदूक उठाकर आगे की तरफ बढ़ना पड़ा। बवाल होते ही दुकानों के शटर धड़ा-धड़ नीचे गिर गए और लोग अपनी दुकानें बंद कर घरों की तरफ दौड़ पड़े। प्रयागराज में शुक्रवार को जुम्मे की नमाज को सकुशल अदा कराने के लिए पुलिस की ओर से चौतरफा बंदोबस्त किए गए थे। जैसे ही नमाज का समय हुआ तो नमाजी मस्जिदों की तरफ अपने घरों से निकल कर चल दिए। जुमे की नमाज जब खत्म हुई तो लोग विरोध करने के लिए सड़क पर निकल गए। 
खुल्दाबाद थाना क्षेत्र के अटाला इलाके में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पथराव करना शुरू कर दिया। इस दौरान प्रदर्शनकारी लोगों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई। पुलिस ने जब सख्ती दिखाई तो पथराव करने वाले लोग मौके से भाग गए। कुछ देर बाद फिर से पथराव किया गया। पथराव में कई लोगों के चोटिल होने की जानकारी मिल रही हैं।

एडीजी एलओ प्रशांत कुमार का बयान...

पुलिस और प्रशासन के सार्थक प्रयासों के बावजूद कुछ लोगों द्वारा जानबूझ के शांति व्यवस्था भंग करने के प्रयास किए गए। इस संबंध में त्वरित कार्रवाई करते हुए शाम 7:30 बजे तक 109 लोगों की गिरफ़्तारी की जा चुकी है। जिसमें प्रमुख जनपद सहारनपुर, अंबेडकर नगर, फिरोजाबाद, मुरादाबाद और प्रयागराज हैं। ऐसे सभी व्यक्तियों को चिन्हित कर लिया है, जिन्होंने तोड़फोड़ की है। इनके खिलाफ गंभीर धाराओं में अभियोग पंजीकृत कराया गया है। साथ ही जिन भी सरकारी, प्राइवेट संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया है। उसकी वसूली भी की जाएगी और गैंगस्टर एक्ट के तहत इनकी संपत्तियों को भी ज़ब्त किया जाएगा।

पाकिस्तान के पूर्व 'राष्ट्रपति' मुशर्रफ की हालत गंभीर

पाकिस्तान के पूर्व 'राष्ट्रपति' मुशर्रफ की हालत गंभीर

अखिलेश पांडेय/ अकांशु उपाध्याय
इस्लामाबाद/नई दिल्ली/आबुधाबी। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ की हालत गंभीर बनी हुईं है। उनके परिवार से शुक्रवार को बताया कि उन्हें अब वेंटिलेटर सपोर्ट से हटा दिया गया है। उनका रिकवरी करना अब मुश्किल है। परवेज मुशर्रफ के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से उनके परिवार ने जानकारी दी कि वह अब वेंटिलेटर पर नहीं हैं। अपनी बीमारी एमाइलॉयडोसिस के कारण पिछले 3 हफ्ते से अस्पताल में भर्ती हैं। उनकी हालत गंभीर है। उनका रिकवरी कर पाना मुश्किल है। उनके अंग खराब हो रहे हैं, उनके लिए दुआ करें।

देश के आर्मी चीफ का भी संभाला पद...
वह 2001 से 2008 तक पाकिस्तान के राष्ट्रपति रहे थे। इसके अलावा वह देश के आर्मी चीफ भी रहे। भारत के साथ कारगिल की जंग के लिए मुशर्रफ को ही जिम्मेदार ठहराया जाता है। उस समय परवेज मुशर्रफ को लग रहा था कि कारगिल में घुसपैठ करके पाकिस्तान को भारत पर रणनीतिक बढ़त मिल जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया था।
इसके उलट युद्ध में सैकड़ों पाकिस्तानी सैनिकों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। वह इस फैसले के बाद भी लगातार भारत की छवि खराब करने की कोशिश करते रहे। बता दें कि परवेज मुशर्रफ छह साल पहले इलाज के लिए दुबई चले गए थे और उसके बाद कभी अपने देश पाकिस्तान नहीं लौटे। मुशर्रफ को हमेशा यह डर सताता रहा कि अगर वो अपने देश लौटते हैं तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

फिल्म ‘खुफिया’ को लेकर बेहद उत्साहित हैं, तब्बू

फिल्म ‘खुफिया’ को लेकर बेहद उत्साहित हैं, तब्बू

कविता गर्ग  
मुंबई। फिल्म इंडस्ट्री की दिग्गज अदाकारा तब्बू  इन दिनों अनीस बाजी की फिल्म ‘भूल भुलैया 2 को लेकर वाहवाही बटोर रही हैं। फिल्म में अंजुलिका और मंजुलिका का किरदार निभाकर वह दर्शकों के दिलो-दिमाग पर छाई हुई हैं। अब फिल्म के बाद तब्बू अपनी अपमिंग फिल्म को लेकर बिजी हो गई हैं। उनकी आने वाली फिल्म का नाम ‘खुफिया’ है। इस फिल्म का निर्देशन विशाल भारद्वाज ने किया है। फिल्म के रिलीज होने से पहले तब्बू ने इसे लेकर कई खुलासे किए हैं‌। बता दें, कि अपकमिंग फिल्म ‘खुफिया’ को लेकर तब्बू बेहद उत्साहित हैं। एक इंटरव्यू के दौरान तब्बू ने कहा कि नेटफ्लिक्स की ‘खुफिया’ एक जासूसी फिल्म है। इसमें विशाल भारद्वाज का सिग्नेचर टच है।सच्ची घटनाओं से प्रेरित यह फिल्म अमर भूषण के लोकप्रिय जासूसी उपन्यास ‘एस्केप टू नोव्हेयर’ पर आधारित है। फिल्म में अली फजल वामीका गब्बी  और आशीष विद्यार्थी भी हैं।

विशाल भारद्वाज का है सिग्नेचर टच...
तब्बू ने पीटीआई से बातचीत में आगे कहा, ‘यह फिल्म वास्तव में अच्छी बनी है। यह अपने सिग्नेचर टच के साथ क्लासिक विशाल फिल्म की तरह रोमांचकारी, लेकिन अलग है। हमारे पास एक शानदार कलाकारों की टुकड़ी भी है और उनके साथ काम करने में बहुत मज़ा आया। यह हम सभी के लिए एक निजी फिल्म है क्योंकि हमने इसे चुपचाप दिल्ली में फिर कनाडा में शूट किया.यह एक ऐसी दुनिया है जो, उम्मीद है, आपको पसंद आएगी।
‘खुफिया’ की कहानी में एक रॉ ऑपरेटिव कृष्णा मेहरा की कहानी दिखाई जाएंगी, जिसे एक जासूस और प्रेमी की दोहरी पहचान से जूझते हुए भारत के रक्षा रहस्यों को बेचने वाले का पता लगाने के लिए सौंपा गया है।फिल्म मकबूल (2003) और हैदर (2013) जैसी सफल और प्रशंसित फिल्मों के बाद विशाल और तब्बू के सहयोग को भी चिह्नित करती है।

‘कुट्टी’ में भी दिखेंगी तब्बू...
आपको बता दें ,तब्बू एक और विशाल भारद्वाज प्रोडक्शन, ‘कुट्टी में भी दिखाई देंगी। इस फिल्म के जरिए विशाल भारद्वाज के बेटे आकाश निर्देशन की दुनिया में कदम रखने जा रहे है। ‘कुट्टी’ में नसीरुद्दीन शाह, अर्जुन कपूर, कोंकणा सेन शर्मा, राधिका मदान, कुमुद मिश्रा और शार्दुल भारद्वाज भी हैं।

लोगों की भावनाएं भड़काने की अनुमति नहीं

लोगों की भावनाएं भड़काने की अनुमति नहीं

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी मामलें में दिल्ली पुलिस से तथ्यात्मक रिपोर्ट तलब की है और कहा है कि किसी को भी लोगों की भावनाएं भड़काने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए। आयोग के अध्यक्ष इकबाल सिंह लालपुरा के अनुसार, आयोग की ओर से आठ जून को दिल्ली के पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना को पत्र भेजकर नुपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी गई है।
उन्होंने शुक्रवार को कहा, ‘‘पुलिस से 22 जून तक रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। रिपोर्ट आने के बाद हम आगे कदम उठाएंगे।’’ लालपुरा ने कहा, ‘‘सबको संयम रखना चाहिए। सबको एक दूसरे की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए…किसी को भी लोगों की भावनाएं भड़काने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए।’’ उनका कहना है, ‘‘देश की 135 करोड़ की आबादी है। एकाध प्रतिशत हर समाज में अपराधी किस्म के लोग होते हैं।
ऐसा आज से नहीं है, बल्कि शुरू से है। एक व्यक्ति या 10 व्यक्ति के काम को समूचे देश या पूरे समाज का काम नहीं बोल सकते।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल के खिलाफ अब तक की कार्रवाई से आयोग संतुष्ट है, उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी (भाजपा) ने अपना काम किया। उन्होंने निलंबन और निष्कासन की कार्रवाई की है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।’’ भाजपा ने गत रविवार को अपनी राष्ट्रीय प्रवक्ता नुपुर शर्मा को निलंबित कर दिया था और अपनी दिल्ली इकाई के मीडिया प्रमुख नवीन कुमार जिंदल को निष्कासित कर दिया था। पैगंबर मोहम्मद पर दोनों नेताओं की कथित अपमानजनक टिप्पणी को लेकर कुछ मुस्लिम देशों ने कड़ी आपत्ति जताई है।

छात्रों पर लाठीचार्ज, आप सरकार को घेरा: सिंह

छात्रों पर लाठीचार्ज, आप सरकार को घेरा: सिंह 

अमित शर्मा  
चंडीगढ़। पंजाब विश्वविद्यालय के केंद्रीकरण के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर लाठीचार्ज को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता परगट सिंह ने पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार को घेरते हुए शुक्रवार को मुख्यमंत्री से जानना चाहा कि वह पंजाब के साथ हैं या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ जांलधर छावनी से विधायक परगट सिंह ने लाठीचार्ज का वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया है।
उन्होंने लिखा है कि केंद्र की भारतीय जनता पार्टी नीत सरकार पंजाब विश्वविद्यालय पर कब्जे का प्रयास करने के तहत विश्वविद्यालय का केंद्रीकरण और भगवाकरण करना चाहती है।
यह अफसोसजनक ही है कि पंजाब की आप सरकार ने छात्रों के साथ खड़े रहने के बजाय विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर लाठीचार्ज किया। मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि वह पंजाब के साथ हैं कि वह पंजाब के साथ हैं या मोदी के साथ? इससे पूर्व पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए ट्वीट किया था कि पंजाब पुलिस के छात्रों पर बर्बर लाठीचार्ज ने पंजाब की आप सरकार के क्रूर चेहरे को बेनकाब किया है। उन्होंने कहा कि पंजाब विश्वविद्यालय पंजाब के साथ ही रहे, इसके लिए छात्र शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, जो कि केंद्र, जाहिर है, आप सरकार के समर्थन से छीनना चाहता है।

दूध की कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती हैं, कंपनियां

दूध की कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती हैं, कंपनियां

अकांशु उपाध्याय       
नई दिल्ली। देश में महंगाई का असर अब दूध की कीमतों पर भी दिखेगा। डेयरी कंपनियां जल्द ही कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती हैं। हाल ही में ग्लोबल स्किम्ड मिल्क पाउडर के साथ-साथ मवेशियों के चारे की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के विशेषज्ञों ने शुक्रवार को बताया कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में ही कीमतें बढ़ सकती हैं।
जानकारों का कहना है, “हमारे कवरेज के तहत सभी डेयरी कंपनियां 5% से 8% तक कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती हैं। दूध की बढ़ती कीमतें चिंता का विषय है। हम उम्मीद करते हैं कि सभी डेयरी कंपनियां वित्त वर्ष की पहली छमाही में कीमतों में और बढ़ोतरी करेंगी।
विश्लेषकों ने कहा कि पिछले कुछ सालों में घरों के साथ-साथ होटल और रेस्तरां जैसे चैनल खुलने से दूध की मांग काफी तेजी से बढ़ी है। इसकी वजह से दूध की कीमतों में तेजी आई है। उन्होंने कहा कि पशुओं के चारे की कीमतों में वृद्धि और गर्मी की वजह से कम हुए दूध के उत्पादन ने भी कीमतों पर प्रभाव डाला है।नतीजतन, थोक दूध की कीमतों में साल-दर-साल वृद्धि जारी है। उदाहरण के लिए, थोक दूध की कीमतों में जून में अखिल भारतीय स्तर पर 5.8% की वृद्धि हुई थी। दक्षिण भारत में दूध की कीमतें साल-दर-साल 3.4% ऊपर हैं।
रोजमर्रा के सामानों की ऊंची कीमतों के कारण लोगों को महंगाई का सामना करना पड़ रहा है। कंपनियों को भी कच्चे माल की बढ़ी हुई लागत का सामना करना पड़ रहा है। उदाहरण के लिए, ग्लोबल स्किम्ड मिल्क पाउडर की कीमतों में पिछले 12 महीनों में लगातार वृद्धि हुई है, जो साल-दर-साल 26.3% और जून में महीने-दर-महीने 3% बढ़ी है। विशेषज्ञों का मानना है कि निर्यात के आकर्षक अवसर भारतीय दूध उद्योग में मांग-आपूर्ति के समीकरण को बिगाड़ सकते हैं।

लौकी का जूस बनाने की रेसिपी, जानिए

लौकी का जूस बनाने की रेसिपी, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय     
लौकी के बारे में तो हम सभी जानते हैं, इसे इंग्लिस में बोतल गॉर्ड कहते हैं, और ये सब्जियों के तौर पर इस्तेमाल होती है। काफी लोगों को ये सब्जी बहुत पसंद आती है। आपको ये जानकर हैरानी होगी की खाली पेट इसके जूस के सेवन से आप कोलेस्ट्रॉल को सिर्फ 90 दिनों में अलविदा कर सकते हैं। 
हम में से कई लोग ऐसे भी हैं। जिन्हें लौकी की सब्जी पसंद नहीं आती, लेकिन अगर इसके फायदों के बारे में जानेंगे तो हर कोई इसे डेली डाइट में शामिल करना चाहेगा। लौकी को खाने से आप कई तरह की बीमारियों से राहत पा सकते हैं। आपको बता दें कि इसमें कई तरह के प्रोटीन, विटामिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं‌। खास तौर से इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम और जिंक भरपूर मात्रा में मिलते है। ये न्यूट्रिएंट्स शरीर की कई जरूरतों को पूरा करते हैं। इसके अलावा लौकी का जूस किसी औषधि से कम नहीं है।

लौकी का जूस बनाने की विधि...
इसके लिए एक लौकी लें और उसका छिलका उतारकर बीजों को अच्छी तरह से अलग कर लें। फिर 15-20 पुदीने की पत्तियां भी शामिल करें, अब एक चम्मच जीरा, 2-3 चम्मच नींबू का रस और स्वादानुसार नमक मिला लें, आपके जूस का रॉ मटेरियल तैयार है। आखिर में इन सभी चीजों को मिक्सर में ब्लेंड कर लें और थोड़ा सा पानी मिला लें, आपके कोलेस्ट्रॉल को जड़ से खत्म करने वाला जूस तैयार हो चुका है। 

सुबह उठते ही इस जूस का खली पेट सेवन करें और 90 दिनों तक लगातार ऐसा करते रहें, और साथ ही बाकी डाइट पर भी कंट्रोल करें।जो लोग नियमित रूप से शराब और सिगरेट का सेवन करते है, वो अपने आप को दिन पर दिन खोखला करते जा रहे हैं, और देखा जाए तो लीवर और दिल, ये दोनों ही हमारे शरीर के अहम अंग है। जब हम शराब और ऑयली चीजों का रोजाना सेवन करते है और अगर सिगरेट भी भरपूर पीते है, तो इससे हमारे लिवर में सूजन होने लगती है। साथ ही सांस लेने में भी परेशानियां पेश आती हैं। लेकिन आपको बता दें ऐसे में लौकी का जूस आपके लिए एनर्जी ड्रिंक का काम करता है। तो मुख्य रूप से शराब और सिगरेट पीना बंद करें और लौकी का सेवन डेली खली पेट करें, इससे कुछ ही दिनों आप में शरीर में बदलाव महसूस करेंगे, क्योंकि बैड कोलेस्ट्रॉल कम हो चुका होगा। 

शांति-अकीदत के साथ संपन्न हुई, जुमे की नमाज

शांति-अकीदत के साथ संपन्न हुई, जुमे की नमाज 

भानु प्रताप उपाध्याय  
मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर की मस्जिदों में शुक्रवार को जुमे की नमाज शांति और अकीदत के साथ संपन्न हो गई। किसी हंगामे की आशंका के चलते पुलिस प्रशासन अलर्ट रहा। नमाज संपन्न होने के बाद नमाजी धीरे धीरे अपने घरों की और चले गए। एसएसपी अभिषेक यादव फोर्स के साथ धार्मिक स्थल व आसपास के क्षेत्रों में भ्रमण करते रहे। शहर की फक्करशाह, हौज वाली, मस्जिद कुम्हारान, मस्जिद आसिया तथा सादात हास्टल में हजारों अकीदतमंदों में जुमे की नमाज शांति के साथ अदा की।
शहर की खालापार फक्करशाह मस्जिद के बाहर जुमे की नमाज के मद्देनजर तैनात सिटी मजिस्ट्रेट अनूप कुमार एवं सीओ सिटी कुलदीप सिंह तथा समाजसेवी दिलशाद पहलवान एवं पुलिस फोर्स।
शहर की खालापार फक्करशाह मस्जिद के बाहर जुमे की नमाज के मद्देनजर तैनात सिटी मजिस्ट्रेट अनूप कुमार एवं सीओ सिटी कुलदीप सिंह तथा समाजसेवी दिलशाद पहलवान एवं पुलिस फोर्स।
गत शुक्रवार को कानपुर में जुमे की नमाज के बाद बवाल हुआ था। नुपुर शर्मा के पैगंबर की शान में की गई गुस्ताखी के बाद मुस्लिम समाज आक्रोश में आ गया था। जिसकी परिणति गत सप्ताह कानपुर में जुमे की नमाज के बाद देखने को मिली थी। इस बार जुमे की नमाज से पहले ही जिला पुलिस तथा प्रशासन ने सतर्कता दिखाते हुए फ्लैग मार्च किया था। गुरुवार को एसएसपी अभिषेक यादव के निर्देशन में पुलिस ने दंगे का माक ड्रिल करते हुए इसे सामान्य रिहर्सल करार दिया था। साथ ही किसी भी जमावड़े या गलत हरकत पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी थी। शुक्रवार को नगर तथा देहात की सभी मस्जिदों के आसपास फोर्स तैनात रहा। जुमे की नमाज शांति पूर्ण माहाैल में संपन्न हुई।
शुक्रवार को जुमे की नमाज के दौरान मुस्लिम समाज ने कौम और मुल्क की सलामती के लिए दुआ की। इस दौरान नमाज के बाद खुतबे में पेश इमाम ने सभी से आपसी माेहब्बत के साथ जिंदगी गुजारने एवं राष्ट्र सेवा में जुटे रहने का आह्वान किया। कौम के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की गई। पैगंबर की सुन्नत पर अमल करते हुए मौहब्बत का पैगाम समाज में देने की बात कही।

आपत्तिजनक टिप्पणियों के विरोध में बंद का आयोजन

आपत्तिजनक टिप्पणियों के विरोध में बंद का आयोजन

इकबाल अंसारी    
श्रीनगर। केन्द्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दो प्रवक्ताओं की ओर से पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियों के विरोध में शुक्रवार को बंद का आयोजन किया गया। इन टिप्पणियों से इस्लामी जगत में भी आक्रोश व्याप्त गया है। एहतियात के तौर पर श्रीनगर के कुछ हिस्सों में व्यवस्था बनाए रखने के लिए मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया गया है। अधिकारियों और प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि श्रीनगर के सिटी सेंटर और पुराने शहर में दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे।
कुछ दोपहिया वाहनों के अलावा कुछ कैब और ऑटो-रिक्शा मुख्य सिविल लाइंस क्षेत्र तथा बाहरी इलाकों के अलावा अन्य सड़कों पर चले। सड़कों पर सामान्य हलचल नदारद थी। कश्मीर घाटी इलाके में हालांकि किसी भी समूह ने आज बंद का आह्वान नहीं किया। ऐतिहासिक जामिया मस्जिद के प्रबंध निकाय के अनुसार, अधिकारियों ने मस्जिद में जुमे की सामूहिक नमाज़ की अनुमति नहीं देने का फैसला किया।

शेयर बाजार में भारी गिरावट, कारोबार की शुरुआत

शेयर बाजार में भारी गिरावट, कारोबार की शुरुआत 

कविता गर्ग  

मुंबई। शेयर बाजार में शुक्रवार को भारी गिरावट के साथ कारोबार की शुरुआत हुई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स 560.03 अंक गिरकर 54,760.25 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 194.15 अंकों के दबाव 16,283.95 अंक पर खुला। लाल निशान के साथ खुले शेयर बाजार में मिडकैप और स्मॉलकैप में भी गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का मिडकैप 106.70 अंकों की गिरावट के साथ 22,528.35 अंक पर और स्मॉलकैप 100.36 अंक उतरकर 25,938.91 अंकों पर खुला।

बता दें कि बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स गुरुवार को 427.79 अंक की छलांग लगाकर 55 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 55,320.28 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 121.85 अंक उछलकर 16,478.10 अंक पर पहुंच गया था।


भारत: 24 घंटे में कोरोना के 7,584 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 7,584 नए मामलें 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। देश में कोरोना के नए मामलों में एक बार फिर डराने लगे है। नए मामलों में लगातार इजाफा देखने को मिला है। लगातार दूसरे दिन सात हजार से ज्यादा मामलें सामने आए हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि बीते 24 घंटे में कोरोना के 7,584 नए मामलें मिले हैं। इसके अलावा बीते 24 घंटे में मृतकों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। कोरोना के कारण इस अवधि में 24 लोगों की मौत हुई है। जबकि गुरुवार को 9 लोगों की मौत हुई थी।

36 हजार के पार हुए एक्टिव केस...
कोरोना के नए मामलों के मुकाबले रिकवर होने वाले लोगों की संख्या लगातार कम है। इस वजह से सक्रिय मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। देश में कोरोना से 3,791 मरीज ठीक हुए हैं। इसके साथ ही कोरोना के एक्टिव मामले बढ़कर अब 36,267 हो गए हैं। मंत्रालय ने बताया कि अब तक कुल 4 करोड़ 26 लाख 44 हजार 092 लोग कोरोना से रिकवर हो चुके हैं जबकि 5 लाख 24 हजार 747 लोगों की मौत हो चुकी है।

एक बार फिर सरकार ने किसानों के साथ धोखाधड़ी की

एक बार फिर सरकार ने किसानों के साथ धोखाधड़ी की

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। अखिल भारतीय किसान सभा ने आरोप लगाया है कि खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में मामूली बढ़ोतरी करके मोदी सरकार ने एक बार फिर किसानों के साथ धोखाधड़ी की है तथा एमएसपी के जरिए वादा किए गए उत्पादन लागत से अधिक रिटर्न को लेकर भ्रामक दावे कियें हैं। किसान सभा ने कहा है कि खरीफ 2022-23 के लिए घोषित एमएसपी में चावल, मक्का, अरहर, उड़द और मूंगफली के लिए एमएसपी में सिर्फ 7 फीसदी और बाजरा के लिए सिर्फ 8 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। अधिकांश फसलों में यह वृद्धि अर्थव्यवस्था में सामान्य मुद्रास्फीति को मुश्किल से ही कवर करती है। शुक्रवार को यहां जारी एक बयान में अ. भा. किसान सभा के अध्यक्ष अशोक ढवले तथा महासचिव हन्नान मोल्ला ने कहा है कि एमएसपी में ये मामूली वृद्धि तब की गई है, जब ईंधन और अन्य आदानों की उच्च कीमतों और उर्वरकों की आपूर्ति में भारी कमी और कीमतों में वृद्धि के कारण उत्पादन लागत में तेजी से वृद्धि हुई है। पिछले सीजन में भी, आपूर्ति की कमी के कारण किसानों को उर्वरकों की कालाबाजारी का बड़े पैमाने पर सामना करना पड़ा था। बेलारूस और रूस के खिलाफ अमेरिका और यूरोपीय संघ द्वारा प्रतिबंधों के कारण हाल के महीनों में स्थिति और खराब हो गई है।

उन्होंने कहा है कि खाद्य तेल और दाल जैसी वस्तुओं के लिए भारत आयात पर निर्भर है, जिनकी वैश्विक कीमतें बहुत अधिक बढ़ गई है। ऐसी स्थिति में हमारी सरकार को अपने किसानों को लाभकारी मूल्य देकर आयात-निर्भरता कम करनी चाहिए, लेकिन वह ठीक इसके उल्टा चल रही है और विकसित देशों के किसानों को बहुत अधिक कीमत का भुगतान करने के लिए तैयार है। इस प्रकार सरकार हमारे देश के किसानों के साथ ही भेदभाव कर रही है।किसान सभा नेताओं ने कहा है कि केंद्र सरकार ने खरीफ 2022-23 के लिए उत्पादन लागत का आकलन सी-2 लागत के बजाय ए-2 लागत पर किया है, जिसमें किसानों के स्वयं के संसाधनों की लागत शामिल नहीं होती है। यह किसानों के साथ धोखा है, क्योंकि ए-2 लागत पर आधारित एमएसपी उत्पादन की कुल लागत को भी पूरी तरह से कवर नहीं करता है। उन्होंने कहा कि चूंकि देश के अधिकांश हिस्सों में कोई सरकारी खरीद नहीं है, इसलिए किसानों का केवल एक छोटा सा हिस्सा ही इस मामूली एमएसपी का लाभ उठा पाएगा।

किसान सभा ने मांग की है कि सरकार स्वामीनाथन आयोग के सी2+50% के फार्मूले को गंभीरता से लागू करें, ताकि किसानों को उत्पादन की कुल लागत के 50 प्रतिशत रिटर्न का भुगतान किया जा सके ; दलहन, तिलहन और बाजरा के लिए सार्वजनिक खरीद की व्यवस्था की जाए, ताकि किसानों को इन फसलों को और अधिक उगाने के लिए प्रोत्साहित करके दालों और तिलहन के लिए भारत की आयात-निर्भरता को कम किया जा सके तथा सार्वजनिक वितरण प्रणाली में खाद्य तेल और दालों को शामिल किया जाये, जिससे खाद्य मुद्रास्फीति को कम करने और देश की खाद्य सुरक्षा को मजबूत करने में मदद मिलेगी। किसान सभा ने देश भर के किसानों का आह्वान किया है कि वे मोदी सरकार द्वारा एमएसपी पर किये जा रहे धोखाधड़ी का विरोध करें और अपनी फसलों के लिए लाभकारी एमएसपी के वैधानिक अधिकार की मांग के लिए एक बार फिर से एकजुट होकर विरोध कार्यवाहियां आयोजित करें।

तेलांगना प्रमुख कुमार के खिलाफ मामला दर्ज हुआ

तेलांगना प्रमुख कुमार के खिलाफ मामला दर्ज हुआ 

इकबाल अंसारी  

हैदराबाद।  हैदराबाद में पुलिस ने भारतीय जनता पार्टी के एक नेता को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, भाजपा के तेलांगना प्रमुख बंडी संजय कुमार के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है। आरोप है कि उन्होंने अपमानजनक टिप्पणियों के जरिए राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की आलोचना की थी। तेलंगाना राष्ट्र समिति की सोशल मीडिया विंग ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। पार्टी का कहना था कि भाजपा नेताओं ने सीएम पर झूठे आरोप लगाकर सरकारी योजनाओं को बदनाम किया है। रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा नेता ने सीएम को 'शराबी और धोखेबाज' कहा था। उनके खिलाफ हयातनगर पुलिस स्टेशन में आईपीसी की 114, 504 समेत कई धाराओं में मामला दर्ज किया है। 

आरोप है कि तेलांगना स्थापना दिवस के मद्देनजर 2 जून को कुमार की अगुवाई में आयोजित कार्यक्रम का आयोजन किया और मंच का दुरुपयोग किया। रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस का कहना है कि मंच पर हुई स्किट (नाटक) में एक ऐसे व्यक्ति का अपमान किया, जो संवैधआनिक पद पर है और लोकतांत्रिक तरीके से राज्य के लोगों की तरफ से चुना गया है। लिखित शिकायत के आधार पर बंडी संजय कुमार, जित्ता बालकृष्ण रेड्डी, रानी रुद्रम, बोदू येलाना, दारुवु येलाना और उनकी टीम के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।पुलिस ने कहा कि आरोपी ने अपमानजनक टिप्पणियों, व्यक्तिगत हमलों का इस्तेमाल किया। साथ ही यह भी बताया कि राज्य के सीएम को शराबी और धोखेबाज आदि की तरह दिखाया गया।

पॉप सिंगर स्पीयर्स ने 28 साल के मंगेतर सैम से शादी की

पॉप सिंगर स्पीयर्स ने 28 साल के मंगेतर सैम से शादी की

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 
लंदन। हॉलीवुड की पॉप सिंगर ब्रिटनी स्पीयर्स ने अपने 28 साल के मंगेतर सैम असगारी से शादी कर ली है। कपल ने कैलिफोर्निया के लॉस एंजलिस में एक इंटिमेट सेरेमनी में शादी की। अभी इस सेरेमनी के फोटोज सोशल मीडिया पर नहीं आए हैं, लेकिन शादी से जुड़ा ड्रामा जरूर लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच रहा है। बताया जा रहा है कि ब्रिटनी स्पीयर्स के एक्स हसबैंड जेसन एलेग्जेंडर ने उनकी शादी में जबरदस्ती घुसने की कोशिश की थी। महफिल, किसी ने कहा हॉट तो कोई बोला- उफ रिपोर्ट्स के मुताबिक, जेसन एलेग्जेंडर ने ब्रिटनी और सैम की शादी में जबरदस्ती घुसने की थी। वह शादी की प्रॉपर्टी में घुस में आए थे और एक सिक्योरिटी गार्ड से बचकर निकल गए थे। बताया यह भी जा रहा है कि ब्रिटनी की शादी में अपनी घुसपैठ को जेसन ने इंस्टाग्राम पर लाइव स्ट्रीम किया था। वीडियो में उन्हें कहते सुना जा सकता है कि 'ब्रिटनी कहां है।' इसके अलावा उन्होंने कहा था, 'मैं बताता हूं इस वाहियात शादी में क्या हो रहा है। बतौर गेस्ट किया आमंत्रित एंटरटेनमेंट वेबसाइट टीएमजेड के मुताबिक, पुलिस को मौके पर बुलाया गया था। इस मामले में वेंतूरा काउंटी शेरिफ के ऑफिस ने बताया है कि अफसरों को किसी के घुसपैठ करने की खबरें मिली थीं। इसके बाद उन्हें पता चला कि जेसन एलेग्जेंडर के खिलाफ किसी और मामले में एक वारंट भी निकला हुआ है।ऐसे में उन्हें अरेस्ट कर लिया गया
 ब्रिटनी स्पीयर्स लंबे समय से अपनी कंजर्वेटरशिप को लेकर चर्चा में बनी हुई थीं। लगभग सात महीने पहले ही उनकी कंजर्वेटरशिप का अंत हुआ है।ब्रिटनी और उनके मंगेतर सैम ने सोशल मीडिया पर सितम्बर 2021 में अपनी सगाई का ऐलान किया था। हालांकि दोनों ने शादी की डेट नहीं बताई थी। अप्रैल 2022 में ब्रिटनी ने ऐलान किया था कि वह प्रेग्नेंट हैं। हालांकि एक महीने बाद ही उनका मिसकैरिज हो गया था। सैम असगारी से पहले ब्रिटनी स्पीयर्स ने दो बार शादी की थी। ब्रिटनी ने 2004 में अमेरिकन सिंगर Kevin Federline से शादी की थी। यह शादी साल 2007 में खत्म हो गई थी। इस शादी से उनके दो बेटे  हैं। 2004 में ही कुछ समय के लिए ब्रिटनी और जेसन एलेग्जेंडर की भी शादी हुई थी, जो ज्यादा समय नहीं चली थी।

कांग्रेस के एमएलसी का कार्यकाल 6 को समाप्त होगा

कांग्रेस के एमएलसी का कार्यकाल 6 को समाप्त होगा

संदीप मिश्र
लखनऊ। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की विधान परिषद के इतिहास में छ: जुलाई के बाद पहली बार ऐसा होगा, जब प्रदेश के उच्च सदन में राष्ट्रीय राजनीतिक दल कांग्रेस की मौजूदगी समाप्त हाे जाएंगी। प्रदेश में सियासी फलक पर लगातार सिमट रही देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस का 100 सदस्यों वाली विधान परिषद में फिलहाल मात्र एक विधायक है। कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह का कार्यकाल आगामी छ: जुलाई को समाप्त होगा।
गौरतलब है कि उप्र विधान मंडल के पिछले 72 साल के इतिहास में इस समय कांग्रेस की दोनों सदनों में सदस्य संख्या अपने न्यूनतम स्तर पर पहुंच गयी है। हाल ही में संपन्न हुए विधान सभा चुनाव में कांग्रेस के सिर्फ दो उम्मीदवार विधायक बन सके।
विधान सभा में दो सदस्यों के बलबूते कांग्रेस के लिये विधान परिषद की 13 सीटों पर हो रहे चुनाव में अपना उम्मीदवार जिता पाना मुमकिन नहीं है। गौरतलब है कि उप्र में विधान सभा की कुल सदस्य संख्या 403 को देखते हुए विधान परिषद की एक सीट पाने के लिये 32 विधायकों के समर्थन की दरकार है।
कांग्रेस, चुनाव दर चुनाव दोनों सदनों में हाशिये पर सिमट रही है। विधान सभा के 2012 में हुए चुनाव में कांग्रेस के 28 विधायक थे, जो 2017 में घटकर 07 रह गये और 2022 में यह संख्या 02 पर सिमट गयी। ऐसे में उप्र विधान मंडल का उच्च सदन अगले महीने कांग्रेस मुक्त हो जायेगा।
इसे कांग्रेस के लिये त्रासदपूर्ण स्थिति करार देते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री सत्यदेव त्रिपाठी ने इस स्थिति के लिये पूरी तरह से शीर्ष नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया है। त्रिपाठी ने यूनीवार्ता से कहा, “एमएलसी बनने के लिये कम से कम 32 विधायकों का समर्थन जरूरी है। स्पष्ट है कि उच्च सदन में अब हमारा कोई सदस्य नहीं होगा। इससे पहले 72 साल ऐसा कभी नहीं हुआ। विधान मंडल ही नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश में कांग्रेस की इस जर्जर हालत के लिये पार्टी हाईकमान ही जिम्मेदार है।
वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व नौकरशाह पीएल पूनिया ने हालांकि भरोसा जताया है कि जल्द ही इस स्थिति में बदलाव होगा और कांग्रेस की एक बार फिर वापसी होगी। पूनिया ने कहा कि पिछले तीन चुनाव में 28 से 02 पर पहुंचने के सच को नकारा नहीं जा सकता है, लेकिन अब कानपुर हिंसा सहित अन्य तमाम मामलों के बाद लोगों को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के तिलिस्म की हकीकत का पता चल रहा है।
पूर्व राज्य सभा सदस्य पूनिया ने कहा कि लोगों के मन में भाजपा के प्रति व्याप्त भ्रम टूटा है और इसके साथ ही जनता कांग्रेस की ओर उम्मीद भरी नजरों से देख रही है। पूनिया ने कहा कि भाजपा भी दो सीट से आज शिखर तक पहुंची है, इसी प्रकार दो सीट पर पहुंच चुकी कांग्रेस भी जल्द वापसी करेगी। उन्होंने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का उदाहरण देते हुए कहा कि क्षेत्रीय दलों का भविष्य क्षणिक होता है। ऐसे में राष्ट्रीय दल के रूप में अब लोग कांग्रेस को ही विकल्प मान रहे हैं।
उत्तर प्रदेश की राजनीति का दशकों से विश्लेषण कर रहे वरिष्ठ पत्रकार राजीव श्रीवास्तव ने पूनिया की दलीलों को नकारते हुए कांग्रेस की इस दुर्गति के लिये राजनीति में उसकी प्रयोगधर्मिता को जिम्मेदार ठहराया। श्रीवास्तव ने कहा कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में 1989 से ही प्रयोगधर्मी बनी हुयी है। दुर्भाग्यवश कांग्रेस की ‘कॉस्मेटिक पॉलिटिक्स’ का हर प्रयोग नाकाम रहा। इसमें मायानगरी के चेहरे राज बब्बर को प्रदेश अध्यक्ष बनाने से लेकर निर्मल खत्री और जमीन से जुड़े नेता की पहचान वाले अजय कुमार लल्लू तक, सभी प्रयोग विफल रहे।
उन्होंने दलील दी कि कांग्रेस के तीन दशक से अधिक समय के प्रयोगधर्मी कालखंड में पूरी पार्टी खेमों में बंट गयी। इसके इतर सोनिया गांधी, राहुल गांधी और अब प्रियंका गांधी इस खेमेबाजी के जंजाल से कांग्रेस को मुक्त नहीं कर पाये, नतीजतन प्रदेश का विधान मंडल ही ‘कांग्रेस मुक्त’ होने लगा है।
कांग्रेस के लिये भविष्य की किसी उम्मीद के सवाल पर श्रीवास्तव ने कहा कि देश और प्रदेश में आज भी कांग्रेस के चाहने वालों की कमी नहीं है, कमी उस नेतृत्च की है जो इन्हें पार्टी केडर के रूप में खड़ा करने की क्षमता से युक्त हो। उन्होंने आगाह किया कि मौजूदा नेतृत्व जब तक ‘कॉस्मेटिक पॉलिटिक्स’ कर जनेऊ पहनने से लेकर नवरात्रि के व्रत करने और दुर्गा सप्तशती का पाठ करके लोगों को रिझाने की कोशिश करेगा तब तक, कांग्रेस फर्श पर ही रहेगी।
गौरतलब है कि आगामी 20 जून को विधान परिषद की 13 सीटों के लिये द्विवार्षिक चुनाव हो रहा है। विधान मंडल में कांग्रेस जैसी ही हालत बसपा की भी है। पिछले 15 साल में अर्श से फर्श तक का सफर तय करने वाली बसपा का विधान परिषद में आगामी 06 जुलाई के बाद मात्र एक सदस्य बचेगा। बसपा के तीन एमएलसी दिनेश चंद्रा, अतर सिंह राव और सुरेश कुमार कश्यप का कार्यकाल 06 जुलाई को पूरा हो जायेगा। इसके बाद बसपा के एक मात्र सदस्य भीमराव अंबेडकर रह जायेंगे। साल 2007 में विधान सभा के 206 सदस्यों वाली बसपा के 2012 में 80 और 2017 में 19 विधायक ही जीत पाने के बाद अब पार्टी का मात्र एक नुमांइदा ही निचले सदन में बचा है। ऐसे मेें बसपा के पास भी अगले पांच साल तक विधान परिषद में अपने सदस्यों की संख्या में इजाफा करने का कोई विकल्प नहीं है।
ज्ञात हो कि उप्र के उच्च सदन की 100 में से 66 सीटें इस समय भाजपा के पास हैं, जो कि 20 जून को विधान परिषद चुनाव के बाद बढ़कर 73 पर पहुंचना तय है। इसी प्रकार सपा के अभी 11 एमएलसी हैं, इनमें से 05 सदस्य 06 जुलाई को सेवानिवृत्त होंगे और 20 जून के चुनाव में 04 सदस्य निर्वाचित होने पर पार्टी की कुल सदस्य संख्या 10 होने की संभावना है।

कानून व्यवस्था से खिलवाड़, सख्ती बरती जाएं

कानून व्यवस्था से खिलवाड़, सख्ती बरती जाएं 

संदीप मिश्र  
गोरखपुर। उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कानून व्यवस्था से खिलवाड़ करने वालों के साथ सख्ती बरती जाएं। योगी ने गुरुवार को यहां गोरखनाथ मंदिर में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक में शुक्रवार को जुमे की नमाज के दृष्टिगत सुरक्षा व्यवस्था सख्त रखने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मस्जिदों के सामने सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए जायें। किसी प्रकार की समस्या नहीं होनी चाहिये।  मुख्यमंत्री ने गरीब कल्याण मेला की तैयारियों की भी समीक्षा की। 
अधिकारियों ने बताया कि कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। लाभार्थियों को बुलाने की भी व्यवस्था की गई है। इस दौरान मुख्यमंत्री को बताया गया कि रामगढ़ताल-तरकुलानी रेग्युलेटर नाला की ड्रेजिंग का काम पूरा कर लिया गया है। मुख्यमंत्री ने देवरिया बाईपास पर जीडीए द्वारा बनवाए जाने वाले नाले के विषय में भी जानकारी ली। उन्हें बताया गया कि नाले का निर्माण पूरा हो गया है। अफसरों से मांगा संपत्ति का ब्यौरा मुख्यमंत्री ने आयुष विश्वविद्यालय एवं सैनिक स्कूल के काम की प्रगति की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्य समय से पूरा किया जाये और गुणवत्ता का ध्यान रखा जाये। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि नियमित रूप से निर्माण कार्य की निगरानी करते रहें। मुख्यमंत्री ने सड़क सुरक्षा को लेकर किए जा रहे उपायों के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने चौराहों को अतिक्रमण मुक्त बनाने, चौराहों को चौड़ा करने का निर्देश दिया। 
उन्होंने का कि मंत्रीसमूह का दौरा शुरू हुआ है। मंडल के सभी जिलों में मंत्रियों का निरीक्षण कराया जाये और उन्हें सारी प्रगति से अवगत कराया जाये। मंत्री जिलों में कानून व्यवस्था, विकास कार्यों एवं सड़क सुरक्षा को लेकर बैठक भी करेंगे। बैठक के दौरान एडीजी जोन अखिल कुमार ने गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा को लेकर बनाई गई कार्ययोजना से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। इस दौरान मंडलायुक्त रवि कुमार एनजी, डीआइजी जे रविन्दर गौड़, जिलाधिकारी कृष्णा करुणेश और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

फतेही का नया गाना 'डर्टी लिटिल सीक्रेट' रिलीज

फतेही का नया गाना 'डर्टी लिटिल सीक्रेट' रिलीज 

कविता गर्ग  
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री नोरा फतेही का नया गाना 'डर्टी लिटिल सीक्रेट' रिलीज हो गया है। नोरा फतेही फिल्मों में अभिनय करने के अलावा डांस की वजह से भी काफी चर्चा में रहती हैं। नोरा फतेही ने अब इंटरनेशनल सिंगर के साथ अपने डांस का दम दिखाया है। नोरा फतेही के नए गाने का नाम 'डर्टी लिटिल सीक्रेट' है। इस गाने में नोरा फतेही न केवल डांस कर रही हैं, बल्कि अपनी शानदार आवाज में गाना भी गा रही हैं।नोरा फतेही के इस म्यूजिक वीडियो सॉन्ग में यूके के कलाकार जैक नाईट नजर आ रहे हैं। नोरा फतेही ने 'डर्टी लिटिल सीक्रेट' गाने को निर्देशित और प्रोड्यूस भी किया है। 
फोरेंसिक का ट्रेलर रिलीज नोरा फतेही ने कहा, "एक कलाकार के रूप में, मैं लगातार एनवेलप को पुश करती हुं और अपने लिए बार रेज करती हूं। डर्टी लिटिल सीक्रेट' वास्तव में मेरे दिल के बहुत करीब है और एक ऐसा ट्रैक है जिसने मुझे कैमरे के पीछे और उसके सामने अपने जुनून को आगे बढ़ाने में मदद की। यह फियरी, फियर्स, बॉल्सी और एक ऐसा ट्रैक है जिससे मैं निजी रूप से एक दर्शक के रूप में इससे जुड़ी हूं।

राज्यसभा की 4 सीटों के लिए मतदान प्रारंभ हुआ

राज्यसभा की 4 सीटों के लिए मतदान प्रारंभ हुआ

नरेश राघानी
जयपुर। राजस्थान से राज्यसभा की चार सीटों के लिए मतदान शुक्रवार सुबह नौ बजे शुरू हो गया। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य विधानसभा परिसर में मतदान शाम चार बजे तक चलेगा और उसके बाद वोटों की गिनती की जाएगी। राजस्थान के 200 विधायक चार सीटों के लिए मतदान करेंगे। सूत्रों के मुताबिक, भाजपा और कांग्रेस के विधायक अपने-अपने होटलों से बसों के जरिये विधानसभा पहुंचे।
राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने तीन सीटों के लिए मुकुल वासनिक, प्रमोद तिवारी और रणदीप सुरजेवाला को मैदान में उतारा है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पूर्व मंत्री घनश्याम तिवाड़ी को अपना आधिकारिक उम्मीदवार बनाया है, जबकि वह मीडिया कारोबारी सुभाष चंद्रा का भी समर्थन कर रही है। संख्या बल के हिसाब से राजस्थान की 200 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस अपने 108 विधायकों के साथ दो सीटें और भाजपा 71 विधायकों के साथ एक सीट आराम से जीत सकती है।
इसके बाद कांग्रेस के पास 26 और भाजपा के पास 30 अधिशेष वोट होंगे। कांग्रेस को अपने तीसरे प्रत्याशी को जिताने के लिए 15 और वोट (कुल 41) चाहिए। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि निर्दलीय और भारतीय ट्राइबल पार्टी के विधायकों को मिलाकर उनके पास कुल 126 विधायकों का समर्थन है। वहीं, भाजपा के 30 अधिशेष और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) के तीन सदस्यों के मत के साथ निर्दलीय चंद्रा के पास कुल 33 वोट हैं। चंद्रा को राज्यसभा सदस्य निर्वाचित होने के लिए 41 मत चाहिए। यानी वह जीत से आठ मत दूर हैं।

2 दशक में गुजरात का विकास, गर्व की बात हैं

2 दशक में गुजरात का विकास, गर्व की बात हैं 

नरेश राघानी  
अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को विपक्षी कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि जो लोग लंबे समय तक देश की सत्ता में रहे, उन्होंने कभी आदिवासी इलाकों के विकास में रुचि नहीं दिखाई। क्योंकि, इसके लिए कठिन परिश्रम की जरूरत होती है। मोदी ने कहा कि उन्होंने विकास कार्यों की शुरुआत वोट हासिल करने या चुनाव जीतने के लिए नहीं की है, बल्कि वह लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार चाहते हैं।
प्रधानमंत्री मोदी ने रैली में मौजूद लोगों से पूछा कि क्या उन्हें कोरोना वायरस से बचाव के लिए टीके की खुराक मुफ्त में मिली है या नहीं ? इस पर लोगों ने ‘हां’ में जवाब दिया। मोदी ने कहा कि गत दो दशक में गुजरात का तेजी से विकास, राज्य के लिए गर्व की बात है।
नवसारी जिले के अदिवासी बहुत इलाके खुदवेल में 3,050 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास कार्यक्रम के बाद ‘गुजरात गौरव अभियान रैली’ को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘जिन्होंने लंबे समय तक देश पर शासन किया, उन्होंने कभी आदिवासी इलाकों के विकास में रुचि नहीं ली। क्योंकि इसके लिए कठिन परिश्रम की जरूरत होती है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पहले टीकाकरण जैसे अभियानों के वन क्षेत्रों में, जहां आदिवासी रहते हैं, पहुंचने में महीनों लग जाते थे। लेकिन, अब उनके इलाकों में भी शहरी इलाकों के साथ-साथ ये लागू होते हैं। 

साल का 'आखिरी बड़ा मंगल' 14 जून को हैं

साल का 'आखिरी बड़ा मंगल' 14 जून को हैं 

सरस्वती उपाध्याय  
ज्येष्ठ मास का बड़ा मंगल हनुमान की पूजा के लिए खास माना जाता है। इस साल का आखिरी बड़ा मंगल 14 जून को है। बता दें कि हिंदू मान्यता के अनुसार ज्येष्ठ माह का प्रत्येक मंगलवार बड़ा मंगल होता है। बड़ा मंगल को हनुमान की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन हनुमान की पूजा करने से उनकी विशेष कृपा प्राप्त होती है।
कहा जाता है कि जो भक्त ज्येष्ठ मास में हनुमान जी की विधिवत पूजा उपासना करता है, उन्हें विशेष लाभ प्राप्त होता है। साथ ही उनकी पूजा से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ माह का अंतिम मंगल 14 जून को है। इस दिन हनुमान भक्त बड़े धूम-धाम से उनकी पूजा करेंगे। लोगों में लड्डू, पुड़ी, हलुवा, चना एवं शरबत आदि का वितरण किया जाएगा।

बड़े मंगल पर करें ये उपाय...
कहा जाता है कि बड़ा मंगल को मसूर की दाल को बहते जल में प्रवाहित करने से भक्तों पर हनुमान जी की कृपा अति शीघ्र होती है। इससे भक्तों के जीवन चल रही सारी समस्या से मुक्ति मिल जाती है। घर परिवार में शांति और खुशहाली का माहौल कायम रहता है।
बड़े मंगलवार के दिन हनुमान को गुड़ से बना हुआ पुआ का भोग लगाना चाहिए। इससे भक्तों की हर इच्छा पूरी होती है. बड़े मंगल को जरुरतमंदों की मदद करने से घर में बरकत रहती है। बड़े मंगल के दिन जरूरतमंद और गरीब लोगों को जल और सर्बत पिलाने से हनुमान की कृपा बनी रहती है।
बड़े मंगल को मीठे पान का भोग लगाना उत्तम माना गया है। ऐसा करने से नौकरी और बिजनेस से जुड़ी सारी समस्या का समाधान हो जाता है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-245, (वर्ष-05)
2. शनिवार, जून 11, 2022
3. शक-1944, ज्येष्ठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि-एकादशी/द्वादशी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 33 डी.सै., अधिकतम-44+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। नगर निगम चुनाव की मतगणना के नतीजों पर अपनी खुशी जताते हुए...