सोमवार, 24 मई 2021

कोरोना प्राकृतिक बीमारी, स्वीकारना आसान नहीं

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी क्या प्राकृतिक है या फिर इसे लैब में बनाया गया है ? ये सवाल अभी भी एक बड़ी पहेली है। इन सवालों के बीच कोरोना संकट पर बोलकर दुनिया भर में सुर्खियां बटोरने वाले अमेरिकी एक्सपर्ट डॉ. एंथेनी फाउची ने भी बड़ा बयान दे दिया है। फाउची का कहना है कि कोरोना एक प्राकृतिक बीमारी है। ये स्वीकार करना आसान नहीं है। 

दरअसल, हाल ही में एक इंटरव्यू में जब एंथेनी फाउची से सवाल हुआ कि क्या उन्हें भरोसा है कि कोरोना वायरस प्राकृतिक तरीके से ही आया है? इसपर फाउची ने जवाब दिया कि नहीं, मैं इसपर विश्वास नहीं करूंगा। मुझे लगता है इस बात की जांच होनी बाकी है कि चीन में ऐसा क्या हुआ?जिससे कोरोना वायरस आया। फाउची के मुताबिक, अभी तक जिन्होंने कुछ जांच की है। उनके मुताबिक ये किसी जानवर से आया है और फिर इंसानों में फैला है। लेकिन ये कुछ और भी हो सकता है। अमेरिकी एक्सपर्ट का कहना है कि अभी हमें इसपर जांच की जरूरत है। ताकि हम वायरस के ओरिजन का पता लगा सकें। आपको बता दें कि डॉ. फाउची कोरोना संकट की शुरुआत से ही अमेरिका में इस वायरस के खिलाफ लड़ाई की अगुवाई कर रहे हैं। हालांकि, बीच में डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन के साथ हुए विवाद के बीच वह हटे थे।लेकिन जो बाइडेन प्रशासन ने फिर उन्हें वापस बुलाया। कोरोना के पीछे चीन का हाथ ? बता दें कि कोरोना वायरस को लेकर अभी तक अलग-अलग थ्योरी सामने आ रही हैं। शुरुआत में जहां इस वायरस की वजह एक चमगादड़ को बताया गया।

बाद में लैब में किया गया एक प्रयोग होने का दावा किया गया तो किसी ने इसे एक बायोलिजिकल हथियार के तौर पर माना। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोविड के ओरिजन पर जांच भी बैठाई गई।लेकिन चीन ने उसमें ना के बराबर ही सहयोग किया। हालांकि, अमेरिका समेत दुनिया के कई ताकतवर देश कोविड के पीछे चीन को ही जिम्मेदार मानते हैं।

बड़ौत: डीएम ने ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया

गोपीचंद          
बागपत। माननीय सांसद डॉक्टर सत्यपाल सिंह व जिलाधिकारी राज कमल यादव ने बड़ौत के मेडिसिटी अस्पताल मैं ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया। क्षेत्र संसद डॉक्टर सत्यपाल सिंह ने कहा बागपत जल्दी ऑक्सीजन प्लांट में भी होगा आत्मनिर्भर। उन्होंने कहा कोरोना का संक्रमण अभी गया नहीं है। जनपद के प्रत्येक नागरिक को प्रिकॉशन लेना है। मुंह पर मास्क लगाना है, सोशल डिस्टेंसिंग रखनी है और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रतिदिन
योग ,व्यायाम, प्रणायाम करना आवश्यक है और भोजन में हरी सब्जियों का प्रयोग करना है। उन्होंने कहा पेशेंट दवाइयों से तो ठीक होता ही है। पतन्तु दवाइयों के साथ-साथ उसे हौसला वह आत्मबल भी रखना बेहद जरूरी है और कहा अनावश्यक रूप से कई भी व्यक्ति अपने घर से बाहर ना निकले कोविड-19 लोकडाउन्न कर्फ्यू का अनुपालन करें सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का अनुपालन जीवन सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी है। इसलिए घर में रहें सुरक्षित रहें। आपके स्वास्थ्य के उपचार के लिए जिला प्रशासन के पास बेहतर से बेहतर बड़े से बड़े संसाधन उपलब्ध है। घबराने की जरूरत नहीं है, जिला प्रशासन आपकी सेवा में सदैव तत्पर खड़ा है। उन्होंने जिलाधिकारी राजकमल यादव की कार्यशैली की प्रशंसा करते हुये कहा, जिला अधिकारी के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम व जनपद के अन्य अधिकारीगण जो इस कोविड-19 महामारी में अपना योगदान दे रहे हैं। चाहे साफ स्वच्छता के बारे में हो या चाहे सैनिटाइजेशन अभियान हो चाहे, मेडिसन किट वितरण हो या चाहे टीकाकरण अभियान हो। कंटेंटमेंट क्षेत्र का भृमण हो या टेली मेडिसन की व्यवस्था हो यहां तक कि जनपद में सभी अभियान वृहद स्तर पर चलाए जा रहे हैं। जिससे की कोविड 19 संक्रमण पर नियंत्रण पाया जा सके। 
जनपद में कोविड-19 कमांड कंट्रोल सेंटर में चिकित्सकों की तैनाती कर जनपद के प्रत्येक व्यक्ति को अच्छी राय परामर्श देने के लिए कंट्रोल रूम में 24 घंटे क्रियाशील है। अगर किसी भी जनपद वासी को किसी तरह की कोई समस्या होती है तो वह डॉक्टरों से राय लें। जिसके लिये  कोविड-19 के कंट्रोलरूम के नंबर 0121 -22200 27 पर कॉल कर के परामर्श ले सकते हैं।

ग्रामीणों को टीकाकरण के लिए प्रेरित किया: एसडीएम

कौशाम्बी। सिराथू तहसील के उपजिलाधिकारी प्रखर उत्तम तहसीलदार के साथ भ्रमण पर निकले हैं और उन्होंने ग्रामीणों को कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रेरित किया है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण पूरी तरह से सुरक्षित है और इससे कोरोना महामारी से बचा जा सकता है। उप जिलाधिकारी सिराथू ने तहसीलदार सिराथू के साथ कोविड-19 के दृष्टिगत ग्राम सौरई बुजुर्ग ग्राम का भ्रमण किया गया व ग्राम के लोगों को कोविड-19 टीकाकरण के लिए जागरूक किया गया।
सौरई बुजुर्ग के साथ ही साथ ग्राम मोहम्मदपुर वारी व ग्राम रामसहाय पुर में भी उप जिलाधिकारी ने तहसीलदार के साथ भ्रमण करके टीकाकरण हेतु ग्राम वासियों को प्रेरित किया।
इसके उपरांत उप जिलाधिकारी सिराथू ने निगरानी समिति की बैठक करके कोविड-19 व टीकाकरण के संबंध में अधीनस्थों से जानकारी ली। उन्होंने बैठक में कहां कि गांव-गांव टीकाकरण कराया जाए। बैठक के दौरान उन्होंने टीकाकरण कराने के लिए अधीनस्थों को आवश्यक निर्देश दिए।
सन्तलाल मौर्य 

विधायक कमल ने साधुओं को किया भोजन वितरण

अतुल त्यागी                   
हापुड़। कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगे लॉकडाउन के दौरान एक तरफ जहां गरीब और बेसहारा लोगों पर रोजी रोटी का संकट मंडरा रहा है तो वही जनप्रतिनिधि उनकी सेवा करने में जुटे हैं।
मामला गढ़मुक्तेश्वर के गढ़ गंगा बृजघाट का है। जहां गढ़मुक्तेश्वर के विधायक कमल मलिक अपने कुछ साथियों के साथ गंगा किनारे पहुंचे। वहां पहुंचकर उन्होंने भूखे गरीब बेसहारा और साधु लोगों को अपने हाथों से भोजन वितरण किया।
गरीब बेसहारा लोगों ने बड़े ही शांति पूर्वक तरीक़े से भोजन ग्रहण किया वही साधु और गरीब बेसहारा लोग विधायक कमल मलिक और उनके साथियों को दुआ देते हुए धन्यवाद दे रहे है।

स्पूतनिक-वी कोरोना टीके के उत्पादन की घोषणा

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। रूस के निवेश कोष रसियन डारेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) और भारत की दवा कंपनी पैनेसिया बायोटेक ने सोमवार को भारत में स्पूतनिक-वी कोरोना वायरस टीके का उत्पादन शुरू करने की घोषणा की। पैनेसिया बायोटेक के हिमाचल प्रदेश के बद्दी कारखाने में तैयार की गई कोविड-19 के स्पूतनिक-वी टीके की पहली खेप रूस के गामालेया केन्द्र भेजा जायेगा जहां इसकी गुणवत्ता की जांच परख होगी।

आरडीआईएफ और पैनेसिया बायोटेक ने एक संयुक्त बयान जारी कर कहा कि पूर्ण स्तर पर उत्पादन इन गर्मियों में ही शुरु होने की उम्मीद है। बयान में कहा गया है कि अप्रैल में आरडीआईएफ और पैनेशिया ने स्पुतनिक-वी टीके की सालाना 10 करोड़ खुराक का उत्पादन करने पर सहमति जताई थी।

आरडीआईएफ के मुख्य कार्यकारी किरिल्ल डमित्रिव ने कहा कि पैनेशिया बायोटेक के साथ मिलकर भारत में उत्पादन की शुरुआत देश को महामारी से लड़ने में मदद की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि स्पुतनिक-वी टीके का उत्पादन शुरू होने से भारत को कोरोना वायरस महामारी के संकटपूर्ण दौर से निकालने के सरकार के प्रयासों को समर्थन मिलेगा। बाद में टीके का दूसरे देशों को निर्यात भी किया जा सकेगा ताकि दुनिया के अन्य देशों में भी महामारी के प्रसार को रोका जा सके।

टीके के उत्पादन की शुरुआत पर पैनेशिया बायोटेक के प्रबंध निदेशक राजेश जैन ने कहा कि स्पुतिनक-वी का उत्पादन शुरू होना एक महत्वपूर्ण कदम है। आरडीआईएफ के साथ मिलकर हम उम्मीद करते हैं देश के लोग फिर से सामान्य स्थिति महसूस कर सकें साथ ही दुनिया के देशों में भी स्थिति सामान्य करने में मदद मिलेगी। स्पुतनिक वी को भारत में 12 अप्रैल 2021 को आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति के साथ पंजीकृत किया गया। इसके साथ ही कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये 14 मई से टीकाकरण अभियान में इसका इस्तेमाल भी शुरू कर दिया गया।

फैबीफ्लू की खरीद-वितरण करने के बारे में पूछताछ

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) को कोविड-19 दवाओं की जमाखोरी की जांच करने और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद गौतम गंभीर से इतनी बड़ी मात्रा में कोरोना उपचार की दवा फैबीफ्लू की खरीद और वितरण करने के बारे में पूछताछ करने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति विपिन सिंह और न्यायमूर्ति जसमीत सांघी की खंडपीठ पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर और आम आदमी पार्टी विधायक प्रीति तोमर और प्रवीण कुमार के खिलाफ महामारी के दौरान कथित तौर पर दवाओं की जमाखोरी के आरोपों को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई कर रही है।
खंडपीठ ने कहा, “ गंभीर की मंशा भले ही सही रही हो, लेकिन आपूर्ति कम होने पर उन्होंने थोक में दवाएं खरीदकर कहीं न कहीं नुकसान पहुंचाया है।” पीठ ने कहा, “ चाहे जो भी जांच हो रही हो, दवा नियंत्रक को इसकी जांच करने दीजिए, गंभीर एक राष्ट्रीय खिलाड़ी रह चुके हैं।

हमें यकीन है कि उनकी मंशा अच्छी थी लेकिन उन्हाेंने जिस रास्ते को चुना, उससे अहित हुआ है, भले ही यह गैरइरादतन हुआ हो।” उन्होंने कहा, “ कानून को अपना काम करना चाहिए, इसी से ऐसे हालात से निपटा जा सकता है। हम गंभीर, प्रीति तोमर और प्रवीण कुमार की ही बात कर रहे हैं। ” न्यायालय ने दवा नियंत्रक को एक सप्ताह के अंदर स्थिति रिपोर्ट देने को कहा है।

चीन से 6000 ऑक्सीजन सिलेंडर का आयात किया

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार ने चीन से 6000 ऑक्सीजन सिलेंडरों का आयात किया है जिन्हें तीन डिपो में रखा जाएगा और कोरोना वायरस की तीसरी लहर की स्थिति में उपयोग किया जाएगा। केजरीवाल ने यह भी कहा कि दूसरी लहर धीरे धीरे खत्म हो रही है और दिल्ली सरकार ने संभावित तीसरी लहर की तैयारी शुरू कर दी है।
उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ” करीब 6000 सिलेंडर चीन से विमान से मंगाये गये हैं जिनमें से हमें 4400 मिल गये हैं। बाकी 1600 सिलेंडर दो से तीन दिनों में पहुंच जायेंगे।” मुख्यमंत्री ने विदेश मंत्रालय एवं बीजिंग में भारतीय दूतावास को ऑक्सीजन सिलेंडरों के आयात में सहायता पहुंचाने को लेकर धन्यवाद दिया।केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार सिलेंडरों का भंडारण करने के लिए तीन डिपो तैयार कर रही है और ये सिलेंडर जरूरतमंद लोगों को दिये जा सकते हैं तथा अस्पतालों में अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड तैयार करने में उपयोग में लाये जा सकते हैं। उन्होंने कहा, ” कोविड-19 की तीसरी लहर की स्थिति में इन 6000 सिलेंडरों को 3000 ऑक्सीजन बेड तैयार करने में उपयोग में लाये जा सकते हैं। शायद यह, महामारी के आने के बाद से भारत में लाया गया सबसे बड़ा खेप है।”

उन्होंने कहा कि एचसीएल और गिव इंडिया फाउंडेशन ने इस नेक कार्य के लिए दान दिया। मुख्यमंत्री ने कहा, ” इसके अलावा, हम बड़े पैमाने पर ऑक्सीजन सांद्रक खरीद रहे हैं। ऑक्सीजन सांद्रक बैंक जरूरतमंद लोगों को देने के लिए सभी जिलों में स्थापित किये गये हैं। हम ऑक्सीजन टैंक खरीदने में भी लगे हैं और हम ऑक्सीजन भंडार जगह भी तैयार कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, ” इस लहर के दौरान जो भी समस्याएं हमारे सम्मुख आयीं, उनका निदान किया जा रहा है।” केजरीवाल ने कहा कि संक्रमण के मामले अप्रैल के सर्वाधिक 28000 से घटकर करीब 1500 रह गये हैं और संक्रमण दर करीब 2.5 फीसद तक गिर गयी हैं जो अप्रैल के आखिर सप्ताह में 36 फीसद तक चली गयी थी। उन्होंने कहा, ” ऐसा लगता है कि यह लहर अब घट रही है लेकिन हमारे प्रयासों में कोई शिथिलता नहीं रही। हमने पहले से ही अगली लहर के लिए तैयारी शुरू कर दी है।”

दिल्ली: एक दिन में संक्रमण के सबसे कम मामले

रवि चौहान  
नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 1,550 नए मामले सामने आए, जो 27 मार्च के बाद एक दिन में संक्रमण के सबसे कम मामले हैं। इस दौरान 207 मरीजों की मौत हो गयी तथा यहां संक्रमण दर 2.52 फीसद रही। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने रविवार को एक बुलेटिन जारी कर इस बात की जानकारी दी।
दिल्ली में सोमवार को लगातार दूसरे दिन संक्रमण के नये मामले 2000 के नीचे तथा 27 मार्च से सबसे कम रहे। शहर में 27 मार्च को कोविड-19 के 1,558 नए मामले सामने आए थे । नवीनतम स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार 207 और मरीजों की जान चले के बाद यहां अबतक 23,409 मरीज अपनी जान गंवा चुके हैं। रविवार को कोविड-19 के 1,649 नए मामले सामने आए थे जबकि 189 मरीजों की मौत हुई थी।
उस दिन संक्रमण दर घटकर 2.42 फीसद तक आ गयी थी। शहर में बुधवार को कोविड-19 के 3,846 नए मामले सामने आए थे जबकि 235 मरीजों की मौत हुई थी, बृहस्पतिवार को 3231 नये मामले सामने आये थे और 233 मरीजों ने जान गंवायी थी तथा शुक्रवार को 3009 नये मामले सामने आये थे जबकि 252 मरीजों ने दम तोड़ दिया था। शनिवार को नये मामले घटकर 2260 रह गये थे।

योगी के कड़े तेवर, कोरोना सेंटरों का निरीक्षण किया

सुनील श्रीवास्तव   
आजमगढ़। कोविड के संक्रमण से निबटने को लेकर अपने प्रदेश व्यापी दौरे के क्रम में आजमगढ़ जनपद में करीब 2 बजे पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ फ़ौरन एक्शन में दिखाई दिए। सबसे पहले पुलिस लाइन से सीधे राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में इंटीग्रेटेड कोविड कंट्रोल कमांड सेंटर पहुंच कर व्यवस्था की जानकारी लिए। यहां पर पीड़ित लोगों से बातचीत व उनको सलाह देने के बारे में तैनात कर्मचारियों से पूछा। जीजीआईसी से सीधे उनका काफ़िला आजमगढ़ शहर से सटे भंवरनाथ देवखरी व बिजौरा गांव पहुंचा। बिजौरा में कंटेनमेंट जोन का निरीक्षण किया। वहां बैंक के कर्मचारी पीड़ित परिवार से उन्होंने कोविड से निबटने को की जा रही सरकारी व्यवस्था की जानकारी ली। 
वही देवखरी स्थित गांधी गुरुकुल इंटर कॉलेज में उन्होंने नवनिर्वाचित प्रधान व एएनएम से भी पूछताछ की। प्रधान से उन्होंने निगरानी समिति के बारे में पूछा और सरकारी सहयोग को लेकर भी बात की। सैनिटाइजेशन व जागरूकता अभियान को लेकर भी पूछताछ की। वही नवनिर्वाचित प्रधान रूपेश सिंह को चुनाव जीतने पर बधाई देने के साथ ही शपथ ग्रहण के बारे में भी बात की। इसके अलावा एएनएम अर्चना सिंह से उन्होंने गांव में सर्वे, घरों में कोविड की जांच व दवा वितरण के बारे में पूछा जिसका अर्चना सिंह ने जवाब दिया। 
खास बात यह रही कि जैसे ही मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर पुलिस लाइन के मैदान में उतरा वहां पर उनका जनपद के अधिकारियों के साथ ही भाजपा नेताओं ने स्वागत किया मुख्यमंत्री ने भाजपा नेताओं को जागरूक करने, का वैक्सीनेशन कराने, सरकारी राशन गरीबों में वितरित कराने व कोविड-19 से निपटने को लेकर पूरी तरीके से सक्रिय हो जाने को कहा। मुख्यमंत्री आजमगढ़ जिला मुख्यालय से करीब 25 किलोमीटर दूर चक्रपानपुर में स्थित राजकीय मेडिकल कॉलेज व सुपर फैसिलिटी अस्पताल में बने कोविड व नॉन कोविड वार्ड की व्यवस्था की जानकारी को लेने हेलीकॉप्टर से वहां रवाना हो गए। मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा व्यवस्था की गई थी और भारी फोर्स तैनात थी इसके बाद भी जैसे ही मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर मैदान पर उतरा उस दौरान एक गाय आ गई जिससे सुरक्षा की चूक को लेकर अधिकारियों में हड़कंप मच गया।

थाने में बंद गाड़ियों की नीलामी का आदेश जारी

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। कोतवाली लोनी में बड़ी संख्या में कबाड़ के तौर पर रखी हुई गाड़ियां, जो वापस सड़कों पर दौड़ने की राह लंबे समय से ताक रही हैं। अधिकांश मामलों के निपट जाने के बाद भी पीड़ित अपनी गाड़ियां थाने से नहीं छुड़वाने आए। कई गाड़ियां दुर्घटना वाली हैं तो कई गाड़ियां अवैध कारोबार करने वालों से जब्त की गई हैं। इन जब्त किए गए वाहनों की वजह से थाना पूरी तरह अव्यवस्थित दिखता है। इतना ही नहीं, जैसे ही कोई थानों में दाखिल होता है ये धूल खा रहे वाहन ही सबसे पहले आगन्तुकों का स्वागत करते हैं। इस माह में इन वाहनों की मुक्ति अब थानों से होने जा रही है।
थाने में भी वाहन वर्षों से खड़े हैं। तस्करी, चोरी, डकैती सहित अन्य अपराधों में आरोपितों से जब्त वाहन ले जाए नहीं जा रहे। ऐसे में लंबे समय से अधिकारी इन वाहनों को नीलाम करने की तैयारी कर रहे थे। अब पुलिस के आला अधिकारियों ने इन गाड़ियों की नीलामी को हरी झंडी दे दी है। आप चाहें तो निलामी की इस प्रक्रिया में शामिल होकर वाहन खरीद सकते हैं। इस महीने यह गाड़ियां अपने नए मालिक के पास पहुंच जाएंगी और एक बार फिर सड़कों पर दौड़ती हुई मिलेंगी। नीलामी की प्रक्रिया में भाग लेने के लिए इस महीने की 27 तारीख बृहस्पतिवार के दिन थाना कोतवाली लोनी में दोपहर 12:00 बजे से पहले पहुंच कर भाग ले सकते हैं। खास बात है कि इन वाहनों के लिए एक निश्चित शासकीय बोली होगी, इसके ऊपर जो अधिक बोली लगाएगा उसे वाहन दिए जाएंगे। नीलामी के पूर्व एक निश्चित राशि भी जमा करना होगी।

गाजियाबाद: कैंप लगाकर कर रहे कोविड-19 की जांच

जिला प्रशासन के निर्देश पर गांव में कैंप लगाकर स्वास्थ्य विभाग की टीम कर रही है, गांववासियों का कोविड-19 की जांच
गाजियाबाद। कोरोना को लेकर जिलाधिकारी गाजियाबाद अजय शंकर पांडे के नेतृत्व में निरंतर स्तर पर बड़ी कार्रवाई की जा रही है। पंचायत विभाग की ओर से विभिन्न स्थानों पर किया गया सैनिटाइजेशन का कार्य वृहद स्तर पर मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप किया जा रहा है। गांवों में सैनिटाइजेशन साफ सफाई का कार्य भी कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के उद्देश्य जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे के नेतृत्व में विभागीय अधिकारियों द्वारा विविन स्थल पर कार्रवाई सुनिश्चित किया जा रहा है। इसी कड़ी में आज पंचायत विभाग के माध्यम से विभिन्न स्थानों पर सैनिटाइजेशन साफ सफाई अभियान चलाया जा रहा है । इसी कड़ी में गांव में कैंप लगाकर गांव वासियों के लिए कोरोना की जांच का कार्य चलाया जा रहा है इसके लिए गांव वासियों को पहले से ही स्पीकर के माध्यम से जानकारी दी गई कि एक निर्धारित स्थान पर स्वास्थ्य विभाग की टीम आ रही है, जोकि कोरोना की जांच करेगी। आपको बता दें कि आज भीकनपुर गांव में गांव वासियों का जिला प्रशासन की ओर से कोरोनावायरस की जांच कराई गई। यह जानकारी जिला पंचायत राज अधिकारी अनिल त्रिपाठी द्वारा दी गई है उनके द्वारा यह भी बताया गया कि गांव बड़का आरिफपुर मुरादनगर, डासना, मसूरी, शाहपुरना मोर्टा में बृहद स्तर पर सैनिटाइजेशन, साफ सफाई आदि का कार्य किया गया। और भविष्य में इसी प्रकार का कार्य वृहद स्तर पर किया जाएगा।
 राहुल शर्मा

25 व 26 को नवनिर्वाचित प्रधान-सदस्य शपथ लेंगे

भानु प्रताप उपाध्याय  

मुजफ्फरनगर । उत्तर प्रदेश में नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों एवं ग्राम पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण की तैयारियां कर ली गई है। 25 मई मंगलवार और 26 मई बुधवार को शपथ ग्रहण कराई जाएगी । सभी ग्राम पंचायतों की 27 मई को पहली बैठक होगी शपथ ग्रहण वर्चुअल माध्यम से ग्राम प्रधानों को कराई जाएगी ग्राम पंचायत सचिव इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ शपथ ग्रहण के लिए लैपटॉप की व्यवस्था करेंगे।

सोमवार को पंचायत राज विभाग द्वारा नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों एवं ग्राम पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। शपथ ग्रहण 25 एवं 26 मई को आयोजित किए जाएंगे । जबकि सभी ग्राम पंचायत को की पहली बैठक 26 मई को आहूत की गई है । ग्राम प्रधानों को वर्चुअल माध्यम से पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई जाएगी इसके लिए ग्राम पंचायत सचिव को इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ लैपटॉप की व्यवस्था करनी होगी।

शपथ ग्रहण के बाद हस्ताक्षर युक्त शपथ पत्रों की जांच करके ग्राम प्रधानों के शपथ पत्र जिला पंचायत राज अधिकारी के पास और ग्राम पंचायत सदस्यों के शपथ पत्र खंड विकास अधिकारी को सुरक्षित रखने के लिए सौंप दिए जाएंगे । राज्य के सभी जिला अधिकारियों को जारी निर्देशों में शपथ पत्र का प्रारूप भी जारी कर दिया गया है। पंचायत भवन या सामुदायिक केंद्र अथवा स्कूल या खुले स्थान पर 27 मई को नवगठित ग्राम पंचायतों की पहली बैठक कराई इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा।

पंचायती राज विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने इस बाबत सभी जिला अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं । शासन की ओर से जारी किए गए निर्देशों में कहा गया है की जिलाधिकारी की ओर से नामित अधिकारी नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों और ग्राम पंचायत सदस्यों को ग्राम पंचायत वार शपथ ग्रहण करवाएंगे । जब की पहली बैठक में कोरोना संक्रमण से उपजे हालातों पर विचार विमर्श कर सुझाव दिए जाने को प्राथमिकता दी जाएगी ग्राम पंचायतों की पहली बैठक में ही ग्राम पंचायतों की छह समितियां भी गठित करने होंगे।

सरकार को टीकाकरण की कोई परवाह नहीं: राहुल

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान में कथित तौर पर कमी आने को लेकर सोमवार को चिंता जताई और आरोप लगाया कि केंद्र सरकार को टीकाकरण की कोई परवाह नहीं है। उन्होने रोजाना होने वाले टीकाकरण की संख्या में कथित गिरावट का ग्राफ साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘टीकाकरण महामारी पर नियंत्रण करने की कुंजी है, लेकिन ऐसा लगता है कि सरकार इसकी परवाह नहीं करती।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने दिल्ली समेत कुछ राज्यों में 18 से 44 साल के बीच के आयुवर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण रुक जाने का हवाला देते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट कर कहा, दिल्ली और तेलंगाना के बाद महाराष्ट्र ने टीकों की कमी का हवाला देते हुए 18 से 44 आयु वर्ग के टीकाकरण को निलंबित कर दिया है। फिर भी, केंद्रीय गृह मंत्री या गृह मंत्रालय ने टीकों की किसी भी कमी से इनकार किया है।’’
पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने कहा, ‘‘खबरों के मुताबिक, ऐसा प्रतीत होता है कि भारत के दर्जनों जिलों में व्यावहारिक रूप से कोई टीकाकरण नहीं है, लेकिन जिलेवार आंकड़े प्रकाशित नहीं होते हैं। सरकार के इनकार और बेरुखी के शिकार वे लोग हैं जो अपने टीकाकरण की बारी का इंतजार कर रहे हैं।’

जम्मू कश्मीर: ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया

इकबाल अंसारी  

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार को ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) को महामारी घोषित कर दिया। इस संबंध में केंद्र शासित प्रदेश के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग ने महामारी बीमारी अधिनियम, 1897 की धारा दो के तहत अधिसूचना जारी की।इससे कुछ दिन पहले ही केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को ब्लैक फंगस को अधिसूचित बीमारी घोषित करने का निर्देश दिया था।

अधिसूचना के अनुसार सभी सरकारी और निजी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों को इस बीमारी की जांच, पहचान और इलाज के संबंध में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद और जम्मू-कश्मीर सरकार की ओर से जारी दिर्शानिर्देशों का पालन करना होगा। केंद्र शासित प्रदेश में शुक्रवार को ब्लैक फंगस की वजह से मौत का पहला मामला दर्ज किया गया।

1 जून तक लाॅकडाउन जारी रखने का निर्णय लिया

अविनाश श्रीवास्तव  
पटना। बिहार सरकार ने कोरोना वैश्विक महामारी को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन को एक जून तक बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप (सीएमजी) की बैठक के तुरंत बाद खुद सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए 5 मई 2021 से तीन सप्ताह के लिए लाॅकडाउन लगाया गया था। आज फिर से सहयोगी मंत्रीगण एवं पदाधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा की गई। नीतीश कुमार ने कहा कि लाॅकडाउन का अच्छा प्रभाव पड़ा है और कोरोना संक्रमण में कमी दिख रही है। इसलिए बिहार में 25 मई के आगे एक सप्ताह के लिए अर्थात 1 जून, 2021 तक लाॅकडाउन जारी रखने का निर्णय लिया गया है।

महामारी से मौत, मुआवजे पर केंद्र से जवाब मांगा

अकांशु उपाध्याय   नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिवार को चार लाख रुपये अनुग्रह राशि दिए जाने का अनुरोध करने वाली याचिका पर केन्द्र से सोमवार को जवाब मांगा। न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एमआर शाह की अवकाशकालीन पीठ ने केन्द्र को कोविड-19 से मरने वाले लोगों के मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के दिशा-निर्देशों की जानकारी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

पीठ ने कह कि इसके लिये समान नीति अपनाई जाए। शीर्ष अदालत दो अलग-अलग याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी। इन याचिकाओं में केन्द्र तथा राज्यों को 2005 के आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत संक्रमण के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिवार को चार लाख रुपये अनुग्रह राशि देने और मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के लिए समान नीति अपनाने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है।

पीठ ने कहा कि जब तक कोई आधिकारिक दस्तावेज या मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के लिए एक समान नीति नहीं होगी, जिसमें कहा गया हो कि मृत्यु का कारण कोविड था, तब तक मृतक के परिवार वाले किसी भी योजना के तहत, अगर ऐसी कोई है, मुआवजे का दावा नहीं कर पाएंगे। पीठ ने केन्द्र को अपना रुख स्पष्ट करने का निर्देश देते हुए मामले की आगे की सुनवाई के लिये 11 जून की तारीख तय की।

हादसा: डबल डेकर बस पलटीं, 6 गंभीर 29 घायल

शैलेंद्र श्रीवास्तव   
कन्नौज। उत्तरप्रदेश के कन्नौज में रविवार देर रात एक बड़ा सड़क हादसा हो गया। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर तेज रफ्तार डबल डेकर बस पलट गई जिसमें करीब 29 लोग घायल हो गए। एक की मौत हो गई और 6 की हालत गंभीर बनी हुई है। गंभीर रूप से घायलों को कानपुर रैफर किया गया है।
जानकारी के अनुसार, रविवार देर रात बंगाल से गुड़गांव जा रही डबल डेकर बस अपना नियंत्रण खो बेठी और तेज रफ्तार होने की वजह से पलट गई। वहीं दूसरी ओर पीछे से आ रही तेज रफ्तार फॉर्च्यूनर कार बस से टकरा गई जिसमें कार सवार 1 व्यक्ति की मौत हो गई और 29 लोग घायल हो गए। बता दें कि घायलों में 6 लोगों की हालत काफी गंभीर है जिन्हें इलाज के लिए कानपुर रैफर किया है। साथ ही बाकी सभी घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

155-165 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी

अकांशु उपाध्याय   

भुवनेश्वर/कोलकाता/लखनऊ। बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान ‘यास’ में बदल गया है और इसके अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान में बदलने के बाद 26 मई को ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों से गुजरने का अनुमान है। मौसम विभाग ने सोमवार को यह जानकारी दी। कोलकाता के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के उप निदेशक संजीब बंदोपाध्याय ने बताया कि ‘यास’ के 26 मई की दोपहर को पारादीप और सागर द्वीपों के बीच होते हुए ओडिशा-पश्चिम बंगाल तटों से गुजरने का अनुमान है।

यह एक बहुत ही भीषण चक्रवाती तूफान होगा। जिसमें 155-165 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। मौसम विभाग के मुताबिक सोमवार की सुबह यह दबाव का क्षेत्र ओडिशा के पारादीप तथा पश्चिम बंगाल के दीघा के बीच था और इसके उत्तर-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने तथा मंगलवार तक अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान में बदलने का अनुमान है। विभाग के अनुसार बुधवार सुबह तक ‘यास’ अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान में बदल सकता है।

एक अधिकारी ने बताया कि चक्रवात पर नजर रखने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य सचिवालय नबन्ना में नियंत्रण कक्ष खोले हैं। उन्होंने बताया कि तटीय जिलों पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, दक्षिण तथा उत्तर 24 परगना, हावड़ा तथा हुगली में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। यहां कुछेक स्थानों पर 25 मई से भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक 26 मई को झारग्राम, पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, दक्षिण तथा उत्तर 24 परगना, हावड़ा तथा हुगली और कोलकाता में जयादातर जगहों पर हल्का से मध्यम और एक या दो स्थानों पर भारी से ले कर अत्यधिक भारी बारिश होने का अनुमान है।

ओडिशा सरकार ने बचाव दलों को तैनात किया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश सरकार संवेदनशील इलाकों से लोगों को निकालने की योजना बना रही है। विशेष राहत आयुक्त पीके जेना ने बताया कि ओडिशा सरकार ने राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल और दमकल सेवा कर्मियों को तैनात किया है।

उसका अनुमान है कि बालासोर तथा भद्रक जिलों में चक्रवात का बहुत अधिक असर हो सकता है। मौसम विभाग के महानिदेशक डॉ. मृत्युंजय महापात्र ने बताया, ”ओडिशा के चार तटीय जिले बालासोर, भद्रक, केंद्रपाड़ा तथा जगतसिंहपुर इस चक्रवात से सर्वाधिक प्रभावित हो सकते हैं।” उन्होंने बताया कि 120-165 प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं और ओडिशा में भारी बारिश होगी। जेना ने बताया कि निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाएगा। इसके लिए जिला प्रशासन को योजना बनाने को कहा गया है।


लखनऊ। चक्रवाती तूफान ‘ताऊ ते’ के बाद अब बंगाल की खाड़ी से उठ रहे तूफ़ान ‘यास’ को लेकर मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक चक्रवाती तूफान यास का असर उत्तर प्रदेश में 28 से 30 मई  तक रहेगा। इस दौरान उत्तर प्रदेश के लखनऊ, बाराबंकी, गोंडा, गोरखपुर, आजमगढ़, बनारस सीतापुर, हरदोई आदि में जिलों में तेज हवाओं के साथ बारिश की संभावना व्यक्त की गई है।

किसानों का नया फरमान, राजनीतिक खेमे में हलचल

जींद। हरियाणा में कृषि कानूनों को रद्द करवाने के लिए किसान संगठन सरकार के विरोध में आए दिन नए फैंसले और रणनीति बनाते रहते हैं। लेकिन इसी बीच जींद जिले के खटकड़ टोल प्लाजा पर सैकड़ों किसानों की मौजूदगी में एक अनोखा फरमान जारी कर अजब-गजब निर्णय लिया गया, जिसमें कहा गया कि जो भी लोग बीजेपी-जेजेपी से संबंध रखेंगे उनके घर में अपनी बेटी या बेटे की शादी नहीं करेंगे।
किसान नेता सतबीर पहलवान और आजाद पालवां ने संयुक्त रूप से कहा कि इस सरकार को हम कलंकित समझते हैं, जिसके चलते हमने ये फैसला लिया है कि बीजेपी और जेजेपी के साथ समर्थकों के साथ रिश्ता नहीं करेंगे। जिस तरह किसी व्यक्ति का गांव में हुक्का पानी बंद हो तो लोग उनके साथ रिश्ता नहीं करते। उसी तरह किसान भी बीजेपी और जेजेपी के साथ कोई रिश्ता नहीं करेंगे। ना छोरी ब्याहेंगे और न छोरे को ब्याहेंगे। इनके साथ आना-जाना तो तोड़ ही रखा है, अब आगे से इनके साथ रिश्तेदारी भी नहीं बनाएंगे।
बता दें कि इससे पहले किसानों ने बीजेपी और जेजेपी नेताओं का गांवों और शहरों में घुसने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। वैसे तो प्रतिबंध के बाद नेता आते नहीं अगर कोई आ भी जाता है तो उन्हें काले झंडे दिखाए जाते हैं। उनका सामाजिक और राजनीतिक बहिष्कार तो किया ही गया है, अब इनके साथ रिश्ते ना करने का भी फरमान किसानों द्वारा सुना दिया गया है।

हिसार: किसानों का प्रदर्शन, सकते में आया प्रशासन

राणा ओबरॉय   
चंडीगढ़। हिसार में आज किसान प्रदर्शन करेंगे। आयुक्त कार्यालय पर किए जाने वाले प्रदर्शन को लेकर किसानों ने सभी तैयारियां कर ली हैं। वहीं, किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन भी सतर्क है। किसानों के प्रदर्शन को लेकर प्रशासन ने रैपिड एक्शन फोर्स, हरियाणा आर्म्ड पुलिस के अलावा सात जिलों की पुलिस को हिसार में बुलाया है। जिले में करीब चार हजार से अधिक पुलिस जवान बुलाए गए हैं। जिला प्रशासन ने 26 ड्यूटी मजिस्ट्रेट तैनात किए हैं। सात जिलों के खुफिया विभाग के कर्मियों को हिसार में लगाया गया है।किसानों की मीटिंग, टोल प्लाजा पर लिए जा रहे फैसलों और पंचायतों के बारे में पूरी रिपोर्ट प्रशासन को भेजी जा रही है। 
प्रदर्शन को लेकर जिले भर से किसान शहर के क्रांतिमान पार्क में एकत्रित होंगे और वहां से जुलूस के रूप में आयुक्त कार्यालय की ओर जाएंगे और घेराव करेंगे। उधर, जिला प्रशासन की तरफ से किसानों को बातचीत का निमंत्रण दिया गया है। मगर किसान नेताओं का कहना है कि वे तहसीलदार आदि से बातचीत नहीं करेंगे। अगर खुद आयुक्त उन्हें बुलाएं तो वे बातचीत के लिए तैयार हैं।

अनियंत्रित ट्रैक्टर ने मारी टक्कर, 3 की मौत 1 घायल

अनिल कुमार  
एटा। जिले के सहवार रोड पर हुई एक सड़क दुर्घटना में दो महिलाओं समेत तीन की मौत हो गयी तथा एक युवक घायल हो गया।बताया जा रहा है कि दो बाइकों पर सवार लोग मिरहची थाना क्षेत्र के कुसाडी गांव में एक शादी समारोह में जा रहे थे।घटना अनियंत्रित ट्रैक्टर के धक्का मारने के कारण हुआ है जहां दोनों बाइकों के लोग चपेट में आ गये।बताया कि हादसे में कस्तूरी देवी,चन्द्रावती और कमलेश की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि प्रेम कुमार नामक युवक गम्भीर रूप से घायल हो गया,युवक को इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।घटना के बाद मृतकों के परिवार में कोहराम मच गया।मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेंजा।

कम लक्षण वालों की चिकित्सा उनके घर पर होगी

राणा ओबरॉय  
चंडीगढ़। प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। इसी दौरान हरियाणा सरकार ने कोविड मरीजों के लिए एक संजीवनी परियोजना शुरू की है। इस परियोजना की शुरूआत मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा की है। बता दें कि परियोजना में कोविड-19 के हल्के से मध्यम लक्षणों वाले मरीजों की देखभाल तुरंत उनके घर पर ही की जाएगी। इससे उन्हें इलाज के लिए घर से नहीं निकलना होगा और न ही अस्पताल जाना पड़ेगा। सरकार के प्रवक्ता ने यह जानकारी दी है। इससे अस्पतालों पर दबाव भी कम होगा।

वहीं संजीवनी परियोजना’ उन ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा देखभाल का विस्तार करेगी, जहां वायरस की दूसरी लहर के फैलने और इस बीमारी के इलाज के बारे में जागरूकता कम है। सरकार का मानना है कि समुचित देखभाल से 90 प्रतिशत से अधिक रोगियों का घर पर ही इलाज किया जा सकता है।

परीक्षा करा कर एक माह में परीक्षा परिणाम: यूपी

हरिओम उपाध्याय   

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के बीच स्कूल कॉलेज से लेकर परीक्षा भी पूरी तरह प्रभावित हुई है। ऐसे में उन बच्चों का भविष्य भी अधर में लटक गया था जो अपनी बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी कर रहे थे और परीक्षा बेहद नजदीक थी। मगर बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच सरकार को लॉकडाउन की घोषणा करनी पड़ी और परीक्षाएं स्थगित करनी पड़ी।

बोर्ड परीक्षाओं को लेकर उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा ने कहां है कि यूपी की बोर्ड परीक्षा की तैयारियां पूरी है। भारत सरकार द्वारा जिस तिथि से परीक्षा कराए जाने के संबंध में सुझाव प्राप्त होंगे उसी तिथि से परीक्षा करा कर एक माह के अंदर परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया जाएगा। वहीं यूपी में हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा के संबंध में मुख्यमंत्री खुद निर्णय लेंगे। जल्द ही मुख्यमंत्री के साथ बैठक कर उत्तर प्रदेश की दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं के संबंध में निर्णय लिया जाएगा।

उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा का कहना है कि यूपी की बोर्ड परीक्षाएं संपादित करने में किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं आएगी। वही बोर्ड परीक्षा देने वाले 18 वर्ष से ऊपर के विद्यार्थियों के टीकाकरण के लिए भी अभियान चलाने के निर्देश दिए गए हैं। सीबीएसई बोर्ड की बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अध्यक्षता की थी। जिसमें सभी राज्यों के शिक्षा मंत्रियों ने अपने अपने सुझाव भी दिए थे। बैठक में तय हुआ कि जैसे ही कोरोना संक्रमण कम होगा सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा कराई जाएगी।

दिल्ली: बिना राशन कार्ड भी गरीबों को मिलेगा राशन

हरिओम उपाध्याय  

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर को थामने के लिए लगाए गए लाॅकडाउन की वजह से रोजाना कमाकर खाने वाले गरीब लोगों को भूखे पेट ना सोना पड़े। इसलिए सरकार ने राजधानी में ऐसे लोगों को भी राशन देने का फैसला लिया था। जिनके पास अभी तक राशन कार्ड नहीं है। ऐसे लोगों के लिए इस सप्ताह पंजीकरण शुरू कर दिए जाएंगे। इसके लिए दिल्ली सरकार की वेबसाइट पर लिंक दिया जाएगा। कुछ सरकारी तकनीकी मंजूरी मिलने के बाद पंजीकरण आरंभ कर दिए जाएंगे।

सोमवार को दिल्ली सरकार की ओर से कहा गया है कि गरीबी की रेखा के तहत राशन पाने के लिए किसी भी तरह के आय प्रमाण पत्र अथवा गरीबी रेखा का प्रमाण पत्र दिखाने की जरूरत नहीं होगी। खाद्यान्न प्राप्त करने के लिए सिर्फ ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा। इसके बाद लाभार्थी को एक ई-कूपन मिलेगा। जिसे दिखाने मात्र से ही संबंधित को राशन दे दिया जाएगा। सरकार की ओर से कहा गया है कि पंजीकरण कराने के बाद जो भी व्यक्ति यह ई-कूपन प्राप्त करेगा। उसे राशन दे दिया जाएगा। सरकार की मुफ्त खाद्यान्न योजना के तहत संबंधित व्यक्ति को 4 किलो गेहूं और 1 किलो चावल प्रति व्यक्ति के हिसाब से मिलेगा। दिये जाने वाले खाद्यान्न के बदले कोई पैसा नहीं लिया जाएगा। गौरतलब है कि 3 दिन पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गरीबों को मुफ्त खाद्यान्न दिए जाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि राजधानी दिल्ली में 17.50 राशन कार्ड से लगभग 7200000 लोगों को हर महीने राशन प्राप्त होता है। परंतु दिल्ली में ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो बाहर से आकर रोजी रोटी कमा रहे हैं। रोजाना कमाकर खाने वाले लोगों की आमदनी पर गहरा असर पड़ा है। राशन कार्ड धारकों को भी राशन देने के लिए इसी सप्ताह पंजीकरण के लिए आवेदन लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

गोवा: दसवीं बोर्ड परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया

रमेश पाल   

पणजी। कोरोना संक्रमण के बीच अधर में लटकी परीक्षाओं को लेकर गोवा सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। गोवा सरकार ने कोरोना संकट के बीच कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षा को रद्द करने का फैसला ले लिया है। जबकि 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर 25 मई के बाद फैसला लिया।

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने इस संबंध में जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि गोवा सरकार ने covid-19 के प्रकोप को देखते हुए राज्य में 10वीं की बोर्ड परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया है। छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट करने के संबंध में जानकारी गोवा बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एंड हायर सेकेंडरी एजुकेशन एजुकेशन द्वारा ऑफिशल वेबसाइट पर जल्दी दी जाएगी। अगले दो दिनों में 12वीं की बोर्ड परीक्षा को लेकर भी फैसला होने जा रहा है।

इस तरह मिलेंगे नंबर:-अब जब सरकार ने दसवीं के छात्रों को प्रमोट करने का और परीक्षाएं रद्द करने का फैसला ले लिया है, तो सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर दसवीं के छात्रों को किस आधार पर मार्क्स दिए जाएंगे? इसको लेकर गोवा माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय शिक्षा बोर्ड एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक में 10वीं परीक्षाओं के मूल्यांकन पर भी चर्चा होगी। जिसमें इंटरनल एसेसमेंट परीक्षाओं के आधार पर दसवीं के मार्क्स देने पर फैसला हुआ है। इसके अलावा जो छात्र एक या दो विषय में फेल होंगे उन्हें इन परीक्षाओं को फिर से देने का अवसर दिया जाएगा। जिसकी सूचना 15 दिन पहले छात्रों को दे दी जाएगी।

प्रशासन से संबंधित काम सांसद-विधायक से कराएं

संदीप मिश्र  

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भाजपा कार्यकर्ताओं की अफसरशाही कतई नहीं सुन रही है। जिससे पुलिस और प्रशासन के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ताओं का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। उपेक्षा के हालात यहां तक पहुंच चुके हैं कि भाजपा कार्यालय पर अब एक नोटिस चस्पा कर दिया गया है। जिस पर साफतौर से लिखा गया है कि वह प्रशासन और पुलिस से संबंधित काम अपने क्षेत्रीय सांसद और विधायक से ही कराएं। 

दरअसल सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश के बहराइच स्थित कार्यालय पर लगा नोटिस इन दिनों जमकर वायरल हो रहा है। जिसमें भाजपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की उपेक्षा के भाव और निराशा साफ साफ दिखाई दे रही है। भाजपा दफ्तर पर लगाए गए नोटिस के ऊपर लिखा गया है कि सभी कार्यकर्ताओं को सूचित किया जाता है कि वह प्रशासन एवं पुलिस से संबंधित किसी भी काम के लिए अपने क्षेत्रीय सांसद और विधायक से संपर्क करें। क्योंकि संगठन मौजूदा प्रशासन व पुलिस से आपकी किसी भी प्रकार की समस्या का निस्तारण कराने में सक्षम नहीं है। नोटिस वायरल होने के बाद पार्टी में हड़कंप मच गया है। भाजपा कार्यालय पर नोटिस चस्पा का साफ साफ मंतव्य यह है कि उत्तर प्रदेश में इन दिनों पुलिस और प्रशासन स्तर पर अफसरशाही पूरी तरह से हावी है। जिसके चलते किसी भी काम के लिए पुलिस और प्रशासन के पास जाने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं के कोई भी काम नहीं हो पा रहे हैं।

हालांकि अफसरशाही की तरफ से उन्हें दिलासा जरूर दी जा रही है। मगर उनकी बात को धुंए में उड़ाया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार से लेकर उत्तर प्रदेश के कानून मंत्री बृजेश पाठक व दर्जनों सांसद तथा विधायक कोरोना संक्रमण काल और इससे पहले भी कई बार सार्वजनिक तौर पर कह चुके हैं कि निरंकुश हो चुके अधिकारी ना तो उनके फोन उठाते हैं और ना ही उनके कहने पर किसी का कोई काम करते हैं। इससे भाजपा कार्यकर्ता स्वयं को असहाय और उपेक्षित महसूस कर रहे हैं।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1. अंक-282 (साल-02)
2. मंगलवार, मई 25, 2021
3. शक-1984, बैसाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- चतुर्दशी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:56, सूर्यास्त 07:08।
5. न्‍यूनतम तापमान -14 डी.सै., अधिकतम-35+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

यूके: केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया

पंकज कपूर       देहरादून। मुख्य सचिव डॉ एस.एस. संधू ने शुक्रवार को भगवान केदारनाथ के दर्शन कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की। इस अवसर पर मुख्...