शुक्रवार, 1 अप्रैल 2022

2 अप्रैल को 2 दिवसीय काशी यात्रा पर आएंंगे सीएम

अप्रैल को 2 दिवसीय काशी यात्रा पर आएंंगे सीएम            

संदीप मिश्र               

वाराणसी। लगातार दूसरी बार मुख्यमंत्री बनें योगी आदित्यनाथ, पहली बार दो दिवसीय काशी यात्रा पर 2 अप्रैल को आएंगे। सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम करेंगे एवं अगले दिन नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा की अगवानी करेंगे। प्रोटोकाल के मुताबिक मुख्यमंत्री शनिवार को शाम लगभग साढ़े पांच बजे के करीब पुलिस लाइन हेलीपैड पर उतरेंगे। इसके बाद कार से सीधे सर्किट हाउस आएंगे। रात्रि विश्राम के बाद अगले दिन रविवार को सुबह बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचेंगे। नेपाल के पीएम की अगवानी करेंगे। नेपाल के पीएम का आगमन बाबतपुर एयरपोर्ट पर सुबह लगभग नौ बजे के करीब होगा। नई दिल्ली से वह यहां आ रहे हैं।

नेपाल के पीएम के साथ ही मुख्यमंत्री बाबतपुर एयरपोर्ट से वाया कार से सुबह लगभग दस बजे कालभैरव मंदिर पहुंचकर दर्शन पूजन करेंगे। इसके बाद श्रीकाशी विश्वनाथ धाम व नेपाली मंदिर यानी श्री समराजेश्वर पशुपतिनाथ महादेव मंदिर में मत्था टेकेंगे। दर्शन-पूजन के बाद नेपाल के पीएम के साथ मुख्यमंत्री होटल ताज गंगेज आएंगे और लगभग दो घंटे यानी दोपहर 12 से दो बजे तक रहेंगे। इस दौरान होटल में नेपाल के पीएम के साथ बैठक, लंच निर्धारित है। इसके बाद नेपाल के पीएम व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कार से बाबतपुर एयरपोर्ट जाएंगे। नेपाल के पीएम दोपहर तीन बजे नई दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे तो वहीं मुख्यमंत्री राजकीय हेलीकाप्टर से लखनऊ के लिए प्रस्थान करेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिवसीय काशी यात्रा पर शनिवार को शाम यहां पहुंचेंगे। मुख्यमंत्री बड़ी परियोजनाओं की प्रगति की जमीनी पड़ताल भी कर सकते हैं। चर्चा है कि मुख्यमंत्री फुलवरिया फोरलेन के फ्लाईओवर व खिड़किया घाट का निरीक्षण करेंगे। निरीक्षण की उम्मीद शनिवार को देरशाम जताई जा रही है क्योंकि अगले दिन मुख्यमंत्री नेपाल के प्रधानमंत्री के साथ अधिक समय गुजारेंगे। मुख्यमंत्री की अधिकारियों के साथ बैठक निर्धारित नहीं है लेकिन तैयारी पूरी रखी गई है। इसके साथ ही सभी विभागाध्यक्षों ने अपने पटल के कर्मियों से प्रगति रिपोर्ट तलब किया है। वहीं, सभी को पूरी तरह अपडेट रहने को भी कहा है। जिलाधिकारी की ओर से तीस अप्रैल को ही सभी विभागों को निर्देशित कर दिया था कि आगामी दौरे में मुख्यमंत्री की ओर से कार्यालय की जांच की जा सकती है। इसलिए समय से कार्यालय आएं और साफ-सफाई का मुकम्मल इंतजाम रखें। पब्लिक की समस्याएं प्राथमिकता से सुनें, मौके पर निस्तारण करें।


गाजियाबाद एसएसपी का चार्ज, डीआईजी को सौंपा

गाजियाबाद एसएसपी का चार्ज, डीआईजी को सौंपा     

अश्वनी उपाध्याय               

गाज़ियाबाद। जिलें में बढ़ते अपराधों की स्थायी समस्या का अस्थाई समाधान करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद एसएसपी का चार्ज डीआईजी एलआर कुमार को सौंप दिया हैं। एल आर कुमार फिलहाल डीआईजी सतर्कता (लखनऊ) के पद पर भी कार्यरत हैं। पुलिस महानिरीक्षक, कानून एवं व्यवस्था संजीव गुप्ता ने आदेश जारी करते हुए एल आर कुमार को तत्काल पदभार संभालने का निर्देश दिया है।
डीआईजी सतर्कता लख़नऊ एल आर कुमार को अस्थायी रूप से गाजियाबाद जिले की कानून व्यवस्था और अपराध नियंत्रण के लिए नियुक्त किया गया है। गाजियाबाद में अपराधों पर लगाम लगाने के लिए जिम्मेदारी दी गई है। हालांकि अभी एलआर कुमार की तैनाती अस्थाई तौर पर हुई है। वहीं, दूसरी ओर आईजी प्रवीण कुमार ने गाजियाबाद का दौरा करेंगे, वे विभिन्‍न थानों पर निरीक्षण करेंगे। योगी सरकार के इस तरह के कदम से सरकार की मंशा साफ हो जाती है कि वो काम में लापरवाही और भ्रष्‍टाचार बिल्‍कुल बर्दाश्‍त नहीं करेगी।

विद्यालय के नए सत्र की शुरुआत, सुंदरकांड का पाठ

विद्यालय के नए सत्र की शुरुआत, सुंदरकांड का पाठ     

बृजेश केसरवानी        
प्रयागराज। रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कॉलेज राजापुर, प्रयागराज में चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रमी संवत 2079 भारतीय नव वर्ष की पूर्व संध्या एवं विद्यालय के नए सत्र के प्रारंभ होने के अवसर पर सामूहिक संगीतमय सुंदरकांड का सस्वर पाठ किया गया। पाठ के प्रारंभ में विद्यालय के प्रधानाचार्य बांके बिहारी पांडे ने विधिवत पूजन अर्चन किया तथा पूरे सत्र विद्यालय एवं पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं तथा अध्यापक- अध्यापिकाओ के प्रगति की कामना करते हुए ईश्वर से प्रार्थना की। 
उसके तत्पश्चात विद्यालय के संगीताचार्य मनोज गुप्ता एवं समस्त अध्यापक तथा अध्यापिकाओ एवं छात्र छात्राओं ने मिलकर के संगीतमय सुंदरकांड का पाठ किया। सुंदरकांड की समाप्ति के पश्चात संगीताचार्य मनोज गुप्ता ने कई भजन भी प्रस्तुत किए। इस अवसर पर प्रधानाचार्य बांके बिहारी पांडे ने भारतीय नववर्ष के बारे में छात्र-छात्राओं एवं आए हुए अभिभावकों को इसकी विधिवत जानकारी देते हुए सब से आह्वान किया कि आप सभी भारतीय नववर्ष का स्वागत करें और आसपास में रहने वाले सभी परिवारों को प्रेरित भी करें, कि भारतीय नववर्ष का धूमधाम से स्वागत करें। पाठ का समापन आरती एवं सभी को प्रसाद देकर के किया गया। सुंदरकांड के पाठ का संयोजन आचार्य सत्यप्रकाश पांडे ने किया। इस अवसर पर विद्यालय के समस्त अध्यापक एवं अध्यापिकाए उपस्थित रहे‌।

पार्टी नेता की अगुवाई में सम्पन्न हुईं मासिक बैठक

पार्टी नेता की अगुवाई में सम्पन्न हुईं मासिक बैठक     

सुशील केसरवानी         
कौशाम्बी। समर्थ किसान पार्टी की मासिक बैठक पार्टी के जिला कार्यालय मंझनपुर में पार्टी नेता अजय सोनी की अगुवाई में सम्पन्न हुई। इस दौरान बढ़ती महंगाई और जन समस्यायों को लेकर चर्चा हुई। इस अवसर पर कार्यकर्ताओं से वार्ता करते हुए अजय सोनी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कुछ बड़े उद्योगपतियों को भारी आर्थिक फायदा पहुंचाने के नियत से आवश्यक वस्तुओं में महंगाई दर बढ़ाई जा रही है। आगे कहा कि डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस के दामों में लगातार वृद्धि से महंगाई दर रोज बढ़ रही है और गरीबों का जीना हराम है। लोगों को दो जून के निवाले के लिए भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।
जबकि देश के कुछ चुनिंदा उद्योगपतियों को भारी आर्थिक फायदा हो रहा है। इससे देश में अमीरों एवं गरीबों के बीच भारी अंतर पैदा हो रहा है। इसी के साथ अजय सोनी ने कहा कि बढ़ती महंगाई के लिए पूरी तरह से केंद्र सरकार जिम्मेदार है और इसका हिसाब आने वाले लोकसभा चुनाव में देश की जनता करेगी।
इसी के साथ बैठक में मौजूद पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष प्रेमचन्द्र केसरवानी ने बताया कि ग्राम भीटी मजरा पूरब शरीरा में सिंचाई की नाली ध्वस्त हो गई है। जिसके चलते सैकड़ों बीघा जमीन असिंचित पड़ी है। इसी तरह ग्राम घोसरा एवं ग्राम भीटी मजरा पूरब शरीरा में काफी दिनों से बिजली की आपूर्ति ठप्प है और लोग अंधेरे में रहने को मजबूर हैं। 
आगे कहा कि इन समस्यायों के समाधान के लिए कई कई बार प्रशासन को लिखकर दिया गया लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। इससे उक्त गांवों की तमाम जनता नाराज है। मासिक बैठक में तीरथ लाल मौर्य, संजीत सरोज, सुरजीत वर्मा, फूलचंद्र लोधी, परिहार लोधी, राजू कोटार्य आदि मौजूद रहे।

खुशियां, 1 अप्रैल को मनाया जाता है 'फूल्स डे'

खुशियां, 1 अप्रैल को मनाया जाता है 'फूल्स डे'        

सरस्वती उपाध्याय 
दुनिया भर में हर साल 1 अप्रैल को 'अप्रैल फूल्स डे' के रूप में मनाया जाता है। यह दिन हंसी, चुटकुलों और खुशियों को समर्पित दिन के तौर पर मनाया जाता है। आमतौर पर इस दिन लोग एक-दूसरे की टांग खींचते हैं और शरारतें करते हैं। लोग अपने प्रियजनों या दोस्तों को सर्प्राइज करने के लिए तरह-तरह का आइडिया लगाते हैं और फिर आखिर में बताते हैं कि आप अप्रैल फूल बन चुके हैं, यह पूरा मामला नकली था। लेकिन क्या आप जानते हैं इस दिन की शुरुआत कैसे और क्यों हुई थी, आइए जानते हैं।
अप्रैल फूल डे का इतिहास...
1 अप्रैल को हम अप्रैल फूल के रूप में क्यों मनाते हैं, इसपर कई तरह की कहानियां बताई जाती हैं, लेकिन कोई ठोस सबूत नहीं है। इतिहासकारों के बीच कुछ सबसे प्रचलित कहानियों में से एक जूलियन कैलेंडर है। कुछ इतिहासकार बताते हैं कि अप्रैल फूल का इतिहास आज से करीब 440 साल पुराना है। जब 1582 में फ्रांस ने जूनियन कैलेंडर को छोड़कर ग्रेगोरियन कैलेंडर अपनाया था। जूलियन कैलेंडर में नया साल 1 अप्रैल को शुरू होता था। जबकि ग्रेगोरियन कैलेंडर में यह 1 जनवरी हो गया। कहा जाता है कि कैलेंडर बदलने के बाद भी कई लोग 1 अप्रैल को ही नया साल मना रहे थे। उनका सेलिब्रेशन मार्च के अंतिम सप्ताह से ही शुरू होता और 1 अप्रैल तक चलता था। इसी से वे मजाक का पात्र बन गए और उन्हें अप्रैल फूल कहा जाने लगा।

2 अप्रैल से प्रारंभ होगा 'रमजान' का महीना

2 अप्रैल से प्रारंभ होगा 'रमजान' का महीना     

सरस्वती उपाध्याय                   
मुस्लिम कैलेंडर के नौवें महीने को रमजान कहा जाता है। रमजान का महीना मुस्लिम समुदाय के लिए सबसे पाक महीना माना जाता है। इस महीने में खुदा की इबादत की जाती है और रोजा रखा जाता है। इस साल रमजान का महीना 2 अप्रैल, 2022 से शुरू होगा और 1 मई तक चलेगा। हालांकि, इस महीने की शुरुआत और समापन चांद की स्थिति पर निर्भर करता है। यदि 2 अप्रैल 2022,  शनिवार को चांद दिख जाता है, तो रविवार यानी 3 अप्रैल को पहला रोजा रखा जाएगा। 

ऐसे शुरू हुई रोजा रखने की परंपरा... 
रोजा का मतलब है उपवास‌। रमजान में रोजेदार (रोजा रखने वाले) सुबह सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक के बीच कुछ भी खाते-पीते नहीं है। इस दौरान उन्‍हें ध्‍यान रखना होता है कि उनके कारण किसी को कोई नुकसान न पहुंचे। उनका मन शुद्ध रहे और वे ज्‍यादा से ज्‍यादा समय अल्‍लाह की इबादत में लगाएं।
इस्लाम में रोजा रखने की परंपरा दूसरी हिजरी में शुरू हुई है। माना जाता है कि जब मुहम्मद साहब मक्के से हिजरत (प्रवासन) कर मदीना पहुंचे तो उसके एक साल बाद मुसलमानों को रोजा रखने का हुक्म आया था। लिहाजा दूसरी हिजरी से रोजा रखने की परंपरा इस्लाम में शुरू हुई।

इन लोगों को होती है रोजा रखने से छूट...
इस्लाम धर्म के मुताबिक हर वयस्‍क व्‍यक्ति को रोजा रखना चाहिए। रोजा रखने की छूट केवल उन लोगों को है, जो बीमार हैं, किसी यात्रा पर हैं, प्रेग्‍नेंट महिलाएं, बच्‍चे और ऐसी महिलाएं जिनका मासिक धर्म चल रहा है। इन वयस्‍कों के जितने रोजे छूट जाते हैं, उन्‍हें उतने रोजे रमजान खत्‍म होने के बाद रखने होते हैं। वहीं, जो लोग बीमारी की स्थिति में भी रोजे रखते हैं, उन्‍हें जांच के लिए खून देने या फिर इंजेक्शन लगवाने की छूट होती है। हालांकि, रोजे के दौरान दवाई खाने की मनाही की गई है, ऐसे में उन्‍हीं लोगों को रोजा रखना चाहिए, जो सहरी और इफ्तार के समय दवा ले सकते हैं।

इसलिए खजूर खाकर खोलते हैं रोजा...
वहीं, रोजा आमतौर पर खजूर खाकर खोला जाता है। ऐसा माना जाता है कि खजूर पैगंबर हजरत मोहम्मद का पसंदीदा फल था। वे खजूर खाकर रोजा खोलते थे। इसलिए आज भी लोग खजूर खाकर रोजा खोलते हैं। इसके अलावा खजूर तुरंत एनर्जी देने वाला फल है। साथ ही बाद में खाई जाने वाली चीजों को डाइजेस्‍ट करने में भी मदद करता है। इसके साथ-साथ खजूर में ढेर सारा फाइबर और कई न्‍यूट्रिएंट्स होते हैं, जो हमारे शरीर को स्‍वस्‍थ रखने के लिए बहुत जरूरी होते हैं।

26,794 दिव्यांगजनों को पोर्टल पर पंजीकृत किया

26,794 दिव्यांगजनों को पोर्टल पर पंजीकृत किया    

इकबाल अंसारी            
रांची। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सभी दिव्यांगजनों को पेंशन से आच्छादित करने की परिकल्पना यथार्थ में बदल रही है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद पूरे राज्य में आयोजित विशेष अभियान का प्रतिफल है कि इस अभियान के जरिए अब तक  26,794 दिव्यांगजनों को चिन्हित कर जांच के बाद उन्हें यूडीआईडी पोर्टल पर पंजीकृत किया गया। इसमें सर्वाधिक रांची के 5069, पाकुड़ के 5117 और हजारीबाग के 2635  दिव्यांगजन को विशेष अभियान के तहत शिविर में लाभांवित हुए। 
इस विशेष अभियान के दौरान अब तक दिव्यांगजनों को प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने हेतु सबसे अधिक दिव्यांगजनों की जांच 5140  पाकुड़ में किए  गए। इसके बाद गुमला में 4563 और हजारीबाग में 3012  दिव्यांगजनों की जांच किया गया। 
साथ ही, शिविर के माध्यम से यूडीआईडी पोर्टल पर लम्बित आवेदनों के सत्यापन की संख्या 13807 एवं विभागीय मार्ग निर्देशिका के तहत जिला स्तर पर दिव्यांगता प्रमाण पत्र रखने वाले दिव्यांगजनों से  ऑफलाइन माध्यम से एकत्र आवेदनों की संख्या 95278 थी। 
राज्य सरकार द्वारा आयोजित आपके अधिकार - आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के जरिए 18699 दिव्यांग पेंशन के आवेदन निष्पादित किए गए। सबसे अधिक 2295 पलामू, देवघर के 2192 एवं गिरिडीह के 1486 आवेदन निष्पादित हुए। सर्वजन पेंशन योजना  लागू होने के बाद   स्वामी विवेकानंद निःशक्त स्वावलंबन प्रोत्साहन योजना अंतर्गत  24162 दिव्यांग पेंशन स्वीकृत किया जा चुका है।

यूक्रेन ने रूस के भीतर घुसकर एयर स्ट्राइक किया

यूक्रेन ने रूस के भीतर घुसकर एयर स्ट्राइक किया   

अखिलेश पांडेय              
कीव/मास्को। यूक्रेन एवं रूस के बीच चल रही लड़ाई अब थमने की बजाए लगातार तेज होती जा रही है। अभी तक रूस के हमलों की मार झेल रहे यूक्रेन ने अब रूस के भीतर घुसकर एयर स्ट्राइक करते हुए पलटवार किया है। रूस का आरोप है कि यूक्रेन ने उसकी सीमा में 25 मील अंदर आकर तेल डिपो पर हमला किया है।
शुक्रवार को यूक्रेन के साथ जंग लड़ रहे रूस ने आरोप लगाया है कि यूक्रेन के सैनिकों ने उसकी सीमा के भीतर घुसकर आयल डिपो पर हमला किया है। रूसी अधिकारी ने कहा है कि यूक्रेन के 2 हेलीकॉप्टरों के माध्यम से यह हमला किया गया है। रूस ने कहा है कि यूक्रेन के दो हेलीकॉप्टर बेलगोरोद शहर में घुस आए और उन्होंने राकेट के माध्यम से तेल डिपो पर अटैक किया। 
अगर रूस का दावा यदि सही है तो दूसरे विश्व युद्ध के बाद यह ऐसा पहला मौका है जब रूस में किसी अन्य देश की ओर से एयर स्ट्राइक की है। यूक्रेन द्वारा जिस तेल डिपो पर अटैक किया गया है उसका संचालन रूस की सरकारी कंपनी करती है।
इस हमले में कंपनी के 2 कर्मचारी घायल हुए हैं, इसके अलावा आसपास के काफी लोगों को वहां से निकाला गया है जिससे कि जानमाल के नुकसान को कम किया जा सके। इतना ही नहीं रूस की ओर से इस हमले का वीडियो सोशल मीडिया पर भी शेयर किया गया है।

सीएम की अगुवाई वाली सरकार को विफल करार

सीएम की अगुवाई वाली सरकार को विफल करार   

अविनाश श्रीवास्तव               
समस्तीपुर। बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने प्रदेश में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई वाली सरकार को सभी मोर्चों पर विफल करार दिया और कहा कि कुमार के 17 वर्षों के शासनकाल में बिहार एक फिसड्डी राज्य बन गया है। तेजस्वी ने शुक्रवार को समस्तीपुर जिले के मोहनपुर में स्थानीय निकाय के चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) उम्मीदवार रोमा भारती के पक्ष में आयोजित जनप्रतिनिधि सम्मेलन के अवसर पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि बिहार में कथित डबल इंजन की सरकार में शिक्षा, पलायन एवं बेरोजगारी की समस्या चरम पर है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में विधि व्यवस्था की हालत लगातार खराब हो रही है। हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार व्याप्त है। यह डबल इंजन नहीं बल्कि ट्रबल इंजन की सरकार है। तेजस्वी यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बिहार की जनता एवं जनप्रतिनिधियों की चिंता नहीं है। तेजस्वी को केवल अपनी कुर्सी बचाए रखने की चिंता है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार में अफसरशाही चरम पर है जिस कारण चुने हुए जनप्रतिनिधियों को जो मान-सम्मान मिलना चाहिए वह नहीं मिल रहा है।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून पूरी तरह विफल हो चुका है। शराबबंदी पर बार-बार कानून में बदलाव करना यह दर्शाता है कि यह कानून पूरी तरह विफल है। उन्होंने दावा किया कि बिहार में स्थानीय निकाय के हो रहे विधान परिषद् के चुनाव में राजद-महागठबंधन प्रदेश के सभी चौबीस सीट पर जीत दर्ज करेगी।
इस अवसर पर राजद के प्रधान महासचिव सह विधायक आलोक कुमार मेहता, माकपा विधायक दल के नेता अजय कुमार, राजद विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहिन, रणविजय साहू, राजद की पूर्व विधायक व एमएलसी उम्मीदवार रोमा भारती, राजद की प्रदेश प्रवक्ता ऐज्या यादव, पूर्व विधायक अशोक प्रसाद वर्मा, राजद के प्रदेश महासचिव प्रेमप्रकाश शर्मा एवं राजद जिलाध्यक्ष राजेंद्र सहनी समेत महागठबंधन के अन्य नेता उपस्थित थे।

गौतमबुद्ध नगर में 1 से 30 अप्रैल तक धारा-144 लागू

गौतमबुद्ध नगर में 1 से 30 अप्रैल तक धारा-144 लागू  

विजय भाटी                 
गौतमबुद्ध नगर। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने जिले में 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक धारा-144 लागू करने का फैसला लिया है। नोएडा पुलिस ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। पुलिस के अनुसार, रमजान, नवरात्र, राम नवमी, आंबेडकर जयंती के अलावा यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं और विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) चुनाव को ध्यान में रखते हुए जिले में शांति व्यवस्था और सौहार्द कायम रखने के लिए 30 अप्रैल तक धारा 144 लगाने का निर्णय लिया गया है।
पुलिस द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार, इस माह रमजान माह प्रारंभ, चैत्र नवरात्र, राम नवमी, आंबेडकर जयंती, गुड फ्राईडे, हनुमान जयंती, ईस्टर पर्व मनाए जाएंगे। इस दौरान कोई भी व्यक्ति सार्वजनिक स्थान पर धरना-प्रदर्शन नहीं करेगा, ना ही किसी अन्य व्यक्ति को इसके लिए प्रेरित करेगा।

भ्रष्टाचार से संबंधित मामलें की जांच, याचिका खारिज

भ्रष्टाचार से संबंधित मामलें की जांच, याचिका खारिज    

कविता गर्ग                            

मुंबई। महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार से संबंधित एक मामलें की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से लेकर अदालत की निगरानी वाली विशेष जांच दल को सौंपने की मांग संबंधी राज्य सरकार की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी। न्यायाधीश एस.के. कौल और न्यायमूर्ति एम.एम. सुंदरेश की पीठ ने बम्बई हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली महाराष्ट्र सरकार की याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया। इससे पहले उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार की याचिका खारिज कर दी थी।

महाराष्ट्र सरकार ने शीर्ष अदालत के समक्ष दलील देते हुए कहा कि सीबीआई के निदेशक सुबोध कुमार जायसवाल महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक रह चुके हैं। उनके कार्यकाल के दौरान देशमुख पर पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण और नियुक्ति में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं। ऐसे में जायसवाल भले ही आरोपी न हो, लेकिन उनकी भूमिका एक गवाह के रूप में होने की पूरी संभावनाएं हैं। इस मामले में सीबीआई जांच की निष्पक्षता पर संदेह है। शीर्ष अदालत पीठ ने संबंधित पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कहा कि हम इस याचिका पर विचार नहीं करेंगे। इससे पहले राज्य सरकार की याचिका उच्च न्यायालय ने खारिज कर दी थी। सरकार ने इस फैसले के खिलाफ शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था। गौरतलब है कि देशमुख पर स्थानांतरण एवं नियुक्ति को लेकर रिश्वत लेने के आरोप सामने आने के बाद हाई कोर्ट के आदेश पर 24 अप्रैल 2021 को सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की थी।

आवारा पशुओं के भटकने पर रोक, विधेयक पारित

आवारा पशुओं के भटकने पर रोक, विधेयक पारित

इकबाल अंसारी           

गांधीनगर। गुजरात के शहरी क्षेत्रों में सड़कों और सार्वजनिक स्थानों पर आवारा पशुओं के भटकने पर रोक लगाने के उद्देश्य से, राज्य विधानसभा ने शुक्रवार को एक विधेयक पारित किया। इससे पशुपालकों का शहरों तथा नगरों में ऐसे जानवरों को रखने के लिए लाइसेंस प्राप्त करना और मवेशियों पर टैग लगाना अनिवार्य हो गया है और ऐसा न करने पर उन्हें कारावास की सजा भी हो सकती है।गुजरात विधानसभा में बृहस्पतिवार को शाम करीब छह बजे इस विधेयक पर बहस शुरू हुई थी, जो सात घंटे तक चली। बहस के बाद देर रात सदन में विधेयक को पारित किया गया।

विपक्षी दल कांग्रेस ने ‘गुजरात मवेशी नियंत्रण (पालना और आवाजाही) शहरी क्षेत्र में विधेयक’ का जोरदार विरोध किया और इस तरह का ‘‘काला कानून’’ लाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत सरकार के खिलाफ राज्यव्यापी आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी। शहरी विकास राज्य मंत्री विनोद मोरडिया ने विधेयक पेश करते हुए कहा कि शहरी क्षेत्रों में गाय, भैंस, बैल और बकरियों जैसे मवेशियों को रखने की प्रथा शहरवासियों के लिए परेशानी का सबब बन रही है, क्योंकि पशुपालक अपने जानवरों को इधर-उधर सड़कों तथा सार्वजनिक स्थानों पर घूमने के लिए छोड़ देते हैं।

मोरडिया ने कहा कि इस कानून के तहत, पशुपालकों को अपने मवेशियों को शहरी क्षेत्रों में रखने के लिए एक सक्षम प्राधिकारी से लाइसेंस प्राप्त करने की आवश्यकता होगी, जिसमें आठ शहर अहमदाबाद, राजकोट, सूरत, वडोदरा, गांधीनगर, जूनागढ़, भावनगर तथा जमानगर और 156 नगर शामिल हैं। लाइसेंस के बिना किसी भी व्यक्ति को मवेशी रखने की अनुमति नहीं होगी। मंत्री ने कहा कि लाइसेंस प्राप्त करने के 15 दिनों के भीतर, मालिक को अपने मवेशियों को चिह्नित करवाना (टैग लगाना)होगा और मवेशियों को सड़कों या शहर के किसी अन्य स्थान पर जाने से रोकना होगा।

ऐसा ना करने पर उन्हें एक साल तक की जेल की सजा या 10,000 रुपये का जुर्माना या फिर दोनों का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने बताया कि चिह्नित मवेशियों के पकड़े जाने पर, मालिक को पहली बार 5,000 रुपये, दूसरी बार 10,000 रुपये और तीसरी पर उस पर 15,000 रुपये का जुर्माना लगाने के साथ-साथ उसके खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की जाएगी। वहीं, बिना चिह्नित मवेशियों के पकड़े जाने पर अधिकारियों द्वारा उन्हें स्थायी पशु ‘शेड’ में स्थानांतरित कर दिया जाएगा और 50,000 रुपये का जुर्माना वसूलने के बाद ही वापस किया जाएगा।

भारतीय सेना ने पोकरण में एयरबॉर्न एक्सरसाइज की

भारतीय सेना ने पोकरण में एयरबॉर्न एक्सरसाइज की  

अकांशु उपाध्याय/नरेश राघानी            
नई दिल्ली/जयपुर। भारतीय सेना ने 1 अप्रैल, 2022 को राजस्थान के पोकरण में एयरबॉर्न एक्सरसाइज की है। इस दौरान भारतीय सेना के जवानों ने यह बताया कि वो कैसे कम समय में तैयारी करके दुश्मन की सीमा में घुसकर उनके अड्डों को बर्बाद कर सकते हैं। विमान से कूदकर सीधे दुश्मन के घर में घुसकर उनकी नापाक हरकतों को रोक सकते हैं।
भारतीय सेना के एडिशनल डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ पब्लिक इन्फॉर्मेशन ने ट्वीट करके यह जानकारी दी। ट्वीट में लिखा गया है कि भारतीय सेना ने पोकरण में एयरबॉर्न एक्सरसाइज की है। जिसमें उसने अपनी त्वरित प्रतिक्रिया क्षमता  को दर्शाया। इस अभ्यास के दौरान कॉम्बैट फ्री-फॉल जंप यानी आसमान से सीधी छलांग लगाई गई। काफी दूर फ्री-फॉल करने के बाद पैराशूट खोला गया।
इस युद्धाभ्यास के दौरान गाइडेड प्रेसिशन एरियल डिलिवरी सिस्टम (GPADS) का प्रदर्शन भी किया गया है। यानी ऐसी तकनीक से सैन्य वाहनों को तय जगह पर गिराना, जहां उसकी सबसे ज्यादा जरूरत हो। इसके अलावा दुश्मन से घिरने के बावजूद किस तरह से उनपर फतह हासिल करनी है, वह तय करना। युद्धाभ्यास के दौरान भारतीय सैनिकों ने अदम्य साहस, फुर्ती, तीव्रता और तकनीकी कौशल प्रदर्शित किया।
इससे कुछ दिन पहले ही भारत की पूर्वी सीमा के पास यानी चीन की सीमा के पास भी रैपिड रेसपॉन्स कैपेबिलिटीज वाला एयरबॉर्न एक्सरसाइज किया गया था। यह सिलिगुड़ी कॉरीडोर में हुआ था। सिलिगुड़ी कॉरीडोर उत्तर-पूर्व की सीमा से सटा हुआ इलाका है। यहां से तिब्बत पर आसानी से नजर रखी जा सकती है।
सिलिगुड़ी कॉरिडोर से नेपाल, भूटान, बांग्लादेश और चीन चारों स्थानों पर सीधी नजर रखी जाती है। यहीं पर भारत-तिब्बत-भूटान ट्राई-जंक्शन के पास साल 2016 में चीन ने डोकलाम विवाद खड़ा किया था। 24 से 25 मार्च के बीच हुए इस एयरबॉर्न एक्सरसाइज में 600 पैराट्रूपर्स ने भाग लिया था।
उस समय भारतीय सेना ने कहा था कि इसका मकसद फ्री-फॉल तकनीक पर महारत हासिल करना। घुसपैठ करना। निगरानी करना। टारगेट प्रैक्टिस। जरूरी सामानों को कब्जे में करना। यह सब सैनिकों को इसलिए कराया जाता है ताकि आतंकी अड्डों और दुश्मन के इलाकों में चुपचाप घुसकर उन्हें पूरी तरह से नष्ट किया जा सके। साथ ही युद्ध के समय सही जानकारी पीछे से आने वाले सैनिकों को मिल सके।
पिछली साल भारतीय सेना ने 14 हजार फीट की ऊंचाई पर लद्दाख में एयरबॉर्न एक्सरसाइज किया था। मई 2020 के बाद से भारतीय सेना ने चीन सीमा के पास सैनिकों, हथियारों की संख्या बढ़ा दी है। 15 राउंड बातचीत के बाद भी अब तक लद्दाख के पास की सीमा को लेकर किसी तरह का समाधान नहीं निकला है। बस दोनों तरफ से एक शांति बरकरार है। दोनों देशों की तरफ से कोई भी सेना और हथियार कम करने के पक्ष में नहीं दिख रहा है।
चीन के साथ गलवान, गोगरा, पैंगॉन्ग सो, पीपी 15 के पास वाले हॉट स्प्रिंग एरिया में अब भी तनाव का माहौल बना रहता है। चीन लगातार पाकिस्तान को कई मामलों में सपोर्ट करता है। इसलिए पूर्वी इलाके के पास हवाई युद्धाभ्यास करने के बाद भारतीय सेना के जवानों ने पश्चिमी सीमा की तरफ भी एयरबॉर्न एक्सरसाइज की। ताकि दोनों तरफ से पड़ोसी मुल्क इस बात का ख्याल रखें कि भारतीय सेना कमजोर नहीं है।
 भारतीय सेना के एडिशनल डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ पब्लिक इन्फॉर्मेशन ने ट्वीट करके दोनों ही एयरबॉर्न एक्सरसाइज की सूचना जनता को दी थी। दोनों ही ट्वीट्स पर लोगों ने काफी ज्यादा लाइक्स भेजे। पोकरण वाला ट्वीट खबर लिखे जाने तक 170 बार रीट्वीट किया जा चुका था। 1082 लाइक्स मिल चुके थे। जबकि, सिलिगुड़ी एयरबॉर्न एक्ससाइज को 3993 लाइक्स मिले थे। इसके अलावा 695 रीट्वीटस किए गए थे।

महंगाई, अबकी बार बढ़े कमर्शियल सिलेंडर के दाम

महंगाई, अबकी बार बढ़े कमर्शियल सिलेंडर के दाम   

संदीप मिश्र               
लखनऊ। शुक्रवार को नए वित्तीय वर्ष, यानी 1 अप्रैल 2022 से लोगों को महंगाई का बड़ा झटका लगा है। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के साथ ही देशभर में कमर्शियल एलपीजी गैस सिलेंडर 250 रुपये महंगा हो गया। 19 किलो वाला कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर आज से दिल्ली में 2253 रुपये का मिलेगा। वहीं, नेशनल हाईवे (NHAI) पर टोल टैक्स को भी बढ़ा दिया है। आज से टोल टैक्स में करीब 10 से 12 प्रतिशत की बढ़त की गई है, बढ़ती महंगाई पर विपक्षी पार्टियां लगातार सरकार पर हमलावर हैं।
यूपी में विपक्षीय समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार सुबह अपने एक ट्वीट में लिखा, “दिन पर दिन बढ़ रही महंगाई की मार, अबकी बार बढ़े कमर्शियल सिलेंडर के दाम। आज से कमर्शियल एलपीजी गैस सिलेंडर एक झटके में ₹250 हुआ महंगा, 2253 रुपए हुई कीमत,महंगाई कम कर जनता को राहत देने के बजाय, रोज महंगाई बम फोड़ रही है, डबल इंजन भाजपा  सरकार।
एक अन्य ट्वीट में समाजवादी मीडिया सेल ने लिखा, “व्यवसायिक सिलेंडर की मूल्यवृद्धि उन गरीब कमजोर और छात्रों, नौकरी, रोजगार, मजदूरी करने वाले लोगों के साथ भाजपा सरकार का अन्याय है जो घर से बाहर रहते हैं या किन्हीं कारणों वश घर पर भोजन नहीं खा पाते। अब ठेले ,खोमचे ,रेस्टोरेंट पर खाने के दाम बढ़ेंगे जिससे आम आदमी पर बोझ बढ़ेगा।
राहत की बात ये है कि आज पेट्रोल-डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया गया है।लेकिन पिछले 10 दिनों में 9 बार ईंधन के दाम बढ़ाए जा चुके हैं। 22 मार्च से पेट्रोल-डीजल की कीमत बढ़नी शुरू हुई थी, इस दौरान 24 मार्च को दाम स्थिर रहे थे लेकिन इसके बाद से रोज तेल की कीमत बढ़ाई जा रही थी।चलिए जानते हैं दिल्ली-यूपी सहित अन्य राज्यों में आज पेट्रोल-डीजल कितना महंगा हुआ है।

विकास ने नए प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभाला

विकास ने नए प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभाला

अकांशु उपाध्याय                   

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे यातायात सेवा के 1988 बैच के अधिकारी विकास कुमार ने शुक्रवार को दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) के नए प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभाल लिया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। दिल्ली सरकार ने बुधवार को मंगू सिंह के स्थान पर कुमार की नियुक्ति की थी।

मंगू सिंह को 25 साल की सेवा के बाद भावभीनी विदाई दी गई। सिंह, एक जनवरी 2012 से डीएमआरसी के प्रबंध निदेशक थे और बृहस्पतिवार को उनका कार्यकाल समाप्त हो गया। ई. श्रीधरन और मंगू सिंह के बाद कुमार डीएमआरसी के तीसरे प्रबंध निदेशक हैं। दिल्ली सरकार की ओर से जारी एक आदेश के अनुसार वह पांच साल तक इस पद पर रहेंगे। डीएमआरसी के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा कि विकास कुमार ने दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के प्रबंध निदेशक के तौर पर आज कार्यभार संभाला। डीएमआरसी की ओर से बृहस्पतिवार को जारी बयान में कहा गया था कि डीएमआरसी में निदेशक (परिचालन) के पद पर काम कर चुके कुमार के पास रेल-आधारित शहरी परिवहन परियोजनाओं में काम करने का तीन दशक का अनुभव है। इससे पहले उन्होंने भारतीय रेल में कई पदों पर सेवाएं दी।

26 अप्रैल से प्रारंभ होगी '10वीं-12वीं कक्षा टर्म 2'

26 अप्रैल से प्रारंभ होगी '10वीं-12वीं कक्षा टर्म 2' 

अकांशु उपाध्याय                 
नई दिल्ली। टर्म 1 वेटेज पर सीबीएसई का बड़ा फैसल। टर्म 1 में 30% और टर्म 2 के लिए 70% वेटेज।सीबीएसई 10वीं-12वीं कक्षा टर्म 2 परीक्षा 26 अप्रैल से शुरू हो रही है। अंतिम परीक्षा परिणाम इसके बाद घोषित होगा। संभव है कि टर्म 1 का 30% वेटेज और टर्म 2 के 70% वेटेज देकर फाइनल रिजल्‍ट जारी किया जाएगा। इस बार केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, सीबीएसई ने 10वीं, 12वीं बोर्ड टर्म 1 रिजल्‍ट 2021 आधिकारिक वेबसाइट cbse.gov.in या cbseresults.nic.in पर जारी करने के बदले संबंधित स्कूलों को सीबीएसई शिक्षा मेल आईडी पर भेजा है। परीक्षा परिणाम सामने आने के बाद टर्म 1 के स्‍कोर को लेकर छात्र और अभिभावक परेशान हैं। टर्म 1 रिजल्ट और टर्म 2 के वेटेज को लेकर रोज नई मांगें सामने आ रही हैं। सीबीएसई टर्म 1 और टर्म 2 रिजल्‍ट के वेटेज के बारे में यहां विस्तार से जाने।
सीबीएसई 10वीं, 12वीं बोर्ड परीक्षा टर्म 1 रिजल्ट घोषित होने के 15 दिनों बाद भी टर्म 1 और टर्म 2 का स्कोर वेटेज स्‍पष्‍ट नहीं है। छात्रों ने सीबीएसई टर्म 2 परीक्षा 2022 की तुलना में टर्म 1 रिजल्ट को कम करने की अपेक्षा रखी है। छात्र-अभिभावक और संबंधित स्‍कूल टर्म 1 और टर्म 2 के लिए 30:70 वेटेज की मांग कर रहे हैं।
सीबीएसई की आधिकारिक सूचना में बोर्ड ने कहा है कि कि अभी छात्रों को स्कोर कार्ड, उत्तीर्ण प्रमाणपत्र नहीं दिया गया है। अंतिम मार्कशीट टर्म 2 रिजल्ट के बाद जारी किया जाएगा। फाइनल रिजल्ट पर स्‍पष्‍ट रूप से कुछ नहीं कहा गया है। ऐसे में छात्र टर्म 1 और टर्म 2 परीक्षाओं के लिए 50:50 यानी समान वेटेज देने को लेकर सशंकित हैं।
सीबीएसई रिजल्‍ट 2022 में टर्म 1, टर्म 2 के वेटेज पर पहले बोर्ड ने संकेत दिया है कि दोनों टर्म्स का वेटेज बराबर रखा सकता है। हालांकि, अभी यह तय नहीं है। अंतिम फैसला अनिश्चित है। बहुत हद तक यह संभव है कि टर्म 1 और टर्म 2 के लिए फाइनल रिजल्ट में 30:70 वेटेज दिया जाए। बोर्ड ने कहा है कि टर्म 1 और टर्म 2 का वेटेज टर्म 2 रिजल्‍ट की घोषणा के समय ही तय किया जाएगा। माना जा रहा है कि टर्म 2 अंकों को अधिक वेटेज और टर्म 1 को कम वेटेज दिया सकता है। सीबीएसई रिजल्‍ट 2022 के समय टर्म 1 और टर्म 2 के अंकों को मॉडरेट किया जाएगा। टॉपर्स, मेरिट लिस्ट, पास और फेल वाला अंतिम परिणाम टर्म 2 रिजल्ट के बाद तय किए जाएंगे।
जो छात्र टर्म 1 में शामिल नहीं हुए हैं, उनको टर्म 2 के प्रदर्शन के अनुसार अंक दिया जाएगा। सीबीएसई कक्षा 10, 12 रिजल्ट 2022 की केवल 1 मार्कशीट ही जारी करेगा। बहरहाल, 10वीं, 12वीं टर्म 2 परीक्षा 26 अप्रैल 2022 से शुरू हो रही है। टर्म 2 परीक्षा डेटशीट जारी कर दी गई है। दैनिक जागरण सभी छात्रों को टर्म 2 परीक्षा के लिए ढेरों शुभकामनाएं देता है।

प्राचार्य की अध्यक्षता में छात्राओं का 'विदाई समारोह'

प्राचार्य की अध्यक्षता में छात्राओं का 'विदाई समारोह' 

संदीप मिश्र           
मुजफ्फरनगर। जैन कन्या पाठशाला स्नातककोर महाविद्यालय मुजफ्फरनगर में प्राचार्य डॉक्टर सीमा जैन की अध्यक्षता में विज्ञान विभाग बीएससी संकाय में तृतीय वर्ष की छात्राओं का विदाई समारोह बड़े ही उत्साह के साथ आयोजित किया गया। सर्वप्रथम महाविद्यालय प्राचार्य डॉक्टर सीमा जैन ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में बीएससी प्रथम और द्वितीय वर्ष की छात्राओं ने तृतीय वर्ष की छात्राओं को स्मृति के रूप में विभिन्न प्रकार के गिफ्ट भेंट किए सांस्कृतिक कार्यक्रमों में विभिन्न लोकगीत पाश्चात्य गीत नृत्य प्रस्तुत कर सभी का सहयोग लिया विदाई समारोह में मिस फेयरवेल प्रतियोगिता भी आयोजित की गई।
अंत में प्राचार्य डॉक्टर सीमा जैन ने संबोधित करते हुए कहा कि आप सभी को यहां से आगे जाकर महाविद्यालय का नाम रोशन करना है और वहां विद्यालय की मधुर स्मृतियों को अपने साथ हमेशा ईश्वर नई ऊंचाइयों को प्राप्त करना चाहिए 
कार्यक्रम को सफल बनाने में समस्त स्टाफ यासमीन आयशा सुल्तान सेवा जमाल रमा मेडियन कोमल निधि वे छात्राएं शायद अतनु सुमैया पुजवा प्रिंसी सरस्वती रितिका आदि का सहयोग रहा।

पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी, खुलासा

पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी, खुलासा   

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश का खुलासा हुआ है। ईमेल की जांच एनआईए को दे दी गई है। खुफिया सूत्रों के हवाले से प्रधानमंत्री मोदी को जान से मारने की धमकी देने का अजीबोगरीब मामला सामने आया है। नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी को धमकी भरा ई-मेल मिला है।
ईमेल करने वाले ने कहा है कि वो आत्महत्या कर रहा है, जिससे इस साजिश का पर्दाफाश ना हो सके। प्रधानमंत्री मोदी को मारने के लिए तैयार हैं। इनके पास 20 स्लीपर सेल मौजूद हैं। कुल 20 किलो RDX है।
मेल के मुताबिक, हमले की योजना तैयार हो चुकी है। मेल में कहा गया है कि मेल लिखने वाले के कई आतंकियों से संबंध हैं। नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी ने धमकी भरा ई-मेल खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों को भी भेजा है। जिस मेल आईडी से मेल आया है उसकी जांच जारी है। ईमेल नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी की मुंबई ब्रांच को आया है।
बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी की हत्या की साजिश रचने का खुलासा होने के बाद सुरक्षाबलों को अलर्ट कर दिया गया है। ईमेल भेजने वाले का पता लगाया जा रहा है।

इलेक्ट्रिक कार व बाइक की मांग और बिक्री में बढ़ोतरी

इलेक्ट्रिक कार व बाइक की मांग और बिक्री में बढ़ोतरी  

अकांशु उपाध्याय            
नई दिल्ली। भारतीय दोपहिया वाहन बाजार में जब भी सबसे ज्यादा माइलेज देने वाली मोटरसाइकिल की चर्चा होती है, तो एक नाम जिसके बिना यह चर्चा अधूरी रह जाएगी, वह है (हीरो स्प्लेंडर)। इस बाइक की कीमत और मेंटेनेंस का खर्च इतना कम है कि यह आम आदमी के बजट में फिट हो जाती है। लेकिन पिछले कुछ हफ्तों से पेट्रोल के दाम इतने ज्यादा बढ़ गए हैं कि आम आदमी बाइक को घर से बाहर निकालने से पहले कई बार सोचता है। लेकिन यह खबर आपको उत्साहित कर सकती है। भारत में इलेक्ट्रिक कार और बाइक की मांग और बिक्री में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। इस कारण इस सेगमेंट में कई वाहन निर्माता कंपनियों के साथ ही नए स्टार्टअप भी शामिल हो गए हैं। इसमें कुछ स्टार्टअप ऐसे हैं, जो पांरपरिक ईंधन से चलने वाले वाहनों को इलेक्ट्रिक में बदलने के लिए कन्वर्जन किट पेश कर रहे हैं।
इस किट का इस्तेमाल कर आप अपनी पुरानी कार या बाइक को इलेक्ट्रिक कार या इलेक्ट्रिक बाइक में तब्दील कर सकते हैं। यूं तो हीरो स्प्लेंडर माइलेज के लिए ही जानी जाती है, लेकिन बाजार में आई एक नई इलेक्ट्रिक कन्वर्जन किट को लगाने के बाद कंपनी के दावे अनुसार आपकी बचत और बढ़ जाएगी।
GoGoA1 एक भारतीय स्टार्टअप कंपनी है, जिसने भारत में बेहद लोकप्रिय बाइक Hero Splendor के लिए एक इलेक्ट्रिक कन्वर्जन किट तैयार की है। यह स्टार्टअप महाराष्ट्र के ठाणे जिले में स्थित है। जो ग्राहक नई हीरो स्प्लेंडर खरीदने वाले हैं या उनके पास पुरानी स्प्लेंडर बाइक है और वे पेट्रोल के खर्च से बचना चाहते हैं, तो उनके पास अब यह विकल्प है कि वह अपनी बाइक में इलेक्ट्रिक किट लगाकर पैसों की बचत कर सकते हैं। इस इलेक्ट्रिक किट के इस्तेमाल की RTO से मंजूरी भी मिल गई है।
इस ईवी कन्वर्जन किट में मोटर और बैटरी पैक शामिल हैं। इन्हें अलग-अलग कीमतों में लॉन्च किया गया है। कंपनी द्वारा लॉन्च आरटीओ अप्रूव्ड 17 इंच 2000W ब्रशलेस हब मोटर की कीमत 35,000 रुपये है। इसके अलावा, 72V 40ah क्षमता के बैटरी पैक की कीमत 50,000 रुपये है, जिसे आपको अलग से खरीदना होगा।
हालांकि, बाइक में इलेक्ट्रिक कन्वर्जन किट लगाने का खर्च और भी होगा। आपको एक 72V 10amp चार्जर भी खरीदना होगा, जिसके लिए 15,606 रुपये का भुगतान करना होगा। इस पर 18 फीसदी जीएसटी भी देना होगा, जो कुल 16,309 रुपये होता है। इस तरह आपको पूरी किट के लिए कुल 1,06,915 रुपये चुकाने होंगे। ग्राहक कंपनी की वेबसाइट के जरिए इसकी ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं।
हीरो स्प्लेंडर इलेक्ट्रिक की कीमत इलेक्ट्रिक किट के साथ अच्छी खासी पड़ जाएगी। हालांकि यह एक वन टाइम इन्वेस्टमेंट की तरह होगी, जिससे बाइक को बाद में चलाते रहने का खर्च कम हो जाएगा। इस इलेक्ट्रिक किट के साथ 3 साल की वारंटी दी जा रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, GoGoA1 का दावा है कि इस इलेक्ट्रिक किट को लगाने के बाद एक बार बैटरी फुल चार्ज करने पर हीरो स्प्लेंडर बाइक 151 किलोमीटर तक की दूरी तय कर सकेगी। इस किट में 2000W ब्रशलेस हब मोटर लगाया गया है और बैटरी पैक की क्षमता 72V 40ah है।
भारतीय दोपहिया वाहन बाजार में मौजूद समय में बड़े वाहन निर्माताओं ने अपने लोक्रप्रिय बाइक्स के इलेक्ट्रिक वर्जन को लॉन्च नहीं किया है। ऐसे में लोगों के सामने स्टार्टअप कंपनी GoGoA1 ने आकर्षक विकल्प पेश किया है। लेकिन यह एक महंगा सौदा लगता है। क्योंकि इस किट की कीमत के अलावा स्प्लेंडर बाइक को खरीदने की कीमत भी अलग से अदा करनी होगी। भारतीय बाजार में Revolt Electric Bikes के साथ ही कई इलेक्ट्रिक स्कूटर की बिक्री हो रही है।
Revolt RV400 इलेक्ट्रिक बाइक काफी पॉपुलर है। Revolt RV400 इलेक्ट्रिक बाइक सिंगल चार्ज में 150 किमी ड्राइविंग रेंज देती है और इसकी टॉप स्पीड 85 किलोमीटर प्रति घंटा है। इस बाइक में कई स्मार्ट कनेक्टिविटी फीचर्स मिलते हैं, जो युवाओं को अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं। राज्यों से मिलने वाली सब्सिडी के बाद इसकी कीमत काफी कम हो जाती है। इसके अलावा आने वाले समय में हीरो, बजाज और यामाहा, होंडा समेत कई कंपनियां अपनी इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल लॉन्च करेंगी।

दिव्यांग बच्चों के माता-पिता को टैक्स छूट का लाभ

दिव्यांग बच्चों के माता-पिता को टैक्स छूट का लाभ   

अकांशु उपाध्याय               
नई दिल्ली। एक अप्रैल से नया वित्तीय वर्ष शुरू हो जाएगा। बजट में टैक्स नियमों में बदलाव की वजह से आपके निवेश पर भी इसका असर होगा। इसमें क्रिप्टोकरंसी से लेकर पीएफ योगदान पर लगने वाले टैक्स भी शामिल हैं। साथ ही दिव्यांग बच्चों के माता-पिता को भी टैक्स छूट का लाभ मिलेगा। 
देश में क्रिप्टो पर कर व्यवस्था एक अप्रैल से शुरू होने वाले वित्तीय वर्ष में धीरे-धीरे लागू होगी। इससे होने वाला कमाई पर 30 फीसदी टैक्स का नियम वित्तीय वर्ष की शुरुआत में प्रभावी हो जाएगा। जबकि एक फीसदी टीडीएस से संबंधित प्रावधान एक जुलाई से लागू होगा। बजट में क्रिप्टो परिसंपत्तियों पर आयकर लगाने के संबंध में स्पष्टता लाई गई है। टीडीएस की सीमा निर्दिष्ट व्यक्तियों के लिए प्रति वर्ष ₹50 हजार रुपये होगी, जिसमें ऐसे व्यक्ति/एचयूएफ शामिल हैं जिन्हें आयकर अधिनियम के तहत अपने खातों का ऑडिट कराना आवश्यक है।
सरकार ने क्रिप्टो में निवेश पर हुए नुकसान की भरपाई का विकल्प नहीं दिया है। यदि एक क्रिप्टो में आपको फायदा होता है और दूसरे में आपको नुकसान होता है तो शेयरों की तरह इसमें आपको भरपाई का लाभ नहीं मिलेगा। उदाहरण के लिए, यदि आप बिटकॉइन पर ₹एक हजार का लाभ कमाते हैं और एथेरियम पर ₹700 का नुकसान उठाते हैं, तो आपको ₹एक हजार पर कर देना होगा, न कि ₹300 के अपने शुद्ध लाभ पर। इसके अलावा आप शेयर, म्यूचुअल फंड या रियल एस्टेट में नुकसान की भरपाई का लाभ क्रिप्टो पर नहीं उठा सकते हैं।
आयकर विभाग ने आईटीआर में नई सुविधा दी है। इसके तहत एक नया प्रावधान डाला गया है जो करदाताओं को आयकर रिटर्न में की गई त्रुटियों या गलतियों के लिए एक अद्यतन (अपडेटेड) रिटर्न दाखिल करने की अनुमति देता है। करदाता अब प्रासंगिक निर्धारण वर्ष के अंत से दो साल के भीतर एक अपडेटेड रिटर्न दाखिल कर सकते हैं।
राज्य सरकार के कर्मचारी अब नियोक्ता द्वारा अपने मूल वेतन और महंगाई भत्ते के 14 फीसदी तक एनपीएस योगदान के लिए धारा 80सीसीडी (2) के तहत कटौती का दावा कर सकेंगे। यह केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए उपलब्ध कटौती के अनुरूप है। अभी राज्य सरकार के कमर्चारी 12 फीसदी तक के लिए दावा कर सकते हैं।
 (सीबीडीटी) ने एक अप्रैल से आयकर (25वां संशोधन) नियम 2021 को लागू करने का फैसला किया है। इसके तहत ईपीएफ में सालाना 2.50 लाख रुपये तक के निवेश पर ही टैक्स छूट का दावा कर सकते हैं। इसके अधिक निवेश होने पर उसकी ब्याज आय पर टैक्स लगेगा।
जून 2021 की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, उन व्यक्तियों को कर में छूट प्रदान की गई है, जिन्हें कोविड चिकित्सा उपचार के लिए धन प्राप्त हुआ है। इसी तरह, कोविड के कारण किसी व्यक्ति की मृत्यु पर परिवार के सदस्यों द्वारा प्राप्त 10 लाख रुपये तक की राशि पर टैक्स छूट होगी। यह छूट तभी मिलेगी जब परिवार के सदस्यों को ऐसा भुगतान मृत्यु की तारीख से 12 महीने के भीतर प्राप्त होता है। हालांकि, यह संशोधन एक अप्रैल, 2020 से पूर्व प्रभाव से लागू होगा।
आयकर नियमों में एक बड़ा बदलाव विकलांग व्यक्ति के माता-पिता को दिए जाने वाले टैक्स छूट को लेकर है। दिव्यांग के माता-पिता या अभिभावक ऐसे व्यक्ति के लिए बीमा पॉलिसी पर टैक्स छूट का फायदा ले सकते हैं।

ई-कॉमर्स साइट 'अमेजॉन' ने सेल की घोषणा की

ई-कॉमर्स साइट 'अमेजॉन' ने सेल की घोषणा की   

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। ई-कॉमर्स साइट अमेजॉन ने सेल की घोषणा कर दी है। 1 अप्रैल से 7 अप्रैल तक चलेगी। इसमें कंपनी 1 रुपये में ग्रोसरी डील्स प्राइम मेंबर्स को दे रही है। कस्टमर्स को जैसे पॉपुलर ब्रांड्स पर भी ऑफर दिया जा रहा है। सेल में कस्मटर्स को SBI Credit Card और Credit EMI के साथ 1 से 3 अप्रैल तक 10 परसेंट का एडिशनल डिस्काउंट दिया जाएगा। जबकि 4 से 7 अप्रैल 2022 तक ICICI Credit Card यूजर्स को ये एडिशनल डिस्काउंट दिया जाएगा। कार्ड डिस्काउंट के लिए मिनिमम ट्रांजैक्शन 2,500 रुपये का होना चाहिए।‌ इसमें 300 रुपये तक का डिस्काउंट दिया जाएगा। इस सेल में 1 रुपये में भी डील दी जा रही है। यूजर्स 500 ग्राम आलू को केवल 1 रुपये में खरीद सकते हैं।
इसके अलावा सेल में आधा किलो प्याज भी केवल 1 रुपये में बेचा जा रहा है। आलू-प्याज के अलावा बासमती चावल पर भी डिस्काउंट दिया जा रहा है। Amazon Fresh पर 5Kg - Daawat रोजाना सुपर बासमती चावल लगभग 335 रुपये में उपलब्ध है। इस सेल में Sunfeast Dark Fantasy Choco Fills और Tata Tea Gold पर भी बंपर डिस्काउंट दिया जा रहा है। सेल में मैगी को भी सस्ते में बेचा जा रहा है। of 12) को Amazon Fresh पर लगभग 138 रुपये में बेचा जा रहा है।
खाने-पीने की चीजों के अलावा हाउसहोल्ड और पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स पर भी डिस्काउंट दिया जा रहा है। इसमें आप बॉडी वॉश, हैंड वॉश, फ्लोर क्लीनर को काफी सस्ते में खरीद सकते हैं। सेल में आम पर भी डिस्काउंट दिया जा रहा है।

800 से अधिक दवाओं की कीमतों में हुईं वृद्धि का मुद्दा

800 से अधिक दवाओं की कीमतों में हुईं वृद्धि का मुद्दा 

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। राज्यसभा में शुक्रवार को कुछ सदस्यों ने 800 से अधिक आवश्यक दवाओं की कीमतों में हुई वृद्धि का मुद्दा उठाया और कहा कि पहले से ही महंगाई की मार से त्रस्त आम जनता पर इससे भारी बोझ पड़ेगा। सदस्यों ने इस मूल्यवृद्धि को वापस लेने की मांग करते हुए कहा कि महंगाई के दर्द की दवा जरूरी हो गई है। उच्च सदन में शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के जॉन ब्रिटास ने कहा कि प्रति दिन पेट्रोल व डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं और इसकी वजह से जनता महंगाई से त्रस्त है।
उन्होंने कहा कि आम आदमी का जीवन कष्टमय हो गया है और आज से 800 से अधिक दवाओं की कीमतों में अप्रत्याशित वृद्धि लागू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि दवाओं की कीमतों में एक साथ इतनी बड़ी वृद्धि कभी नहीं की गई। सरकार को इन कीमतों को वापस लेना चाहिए। ब्रिटास ने कहा कि कोई भी संवेदनशील सरकार होती तो इस स्थिति से बचती लेकिन यह सरकार आम जनता के प्रति असंवेदनशीलता बरत रही है क्योंकि जरूरी दवाओं की कीमतों में सीधे 11 प्रतिशत की वृद्धि कर दी गई है। शिव सेना की प्रियंका चतुर्वेदी ने भी इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि पेट्रोल, डीजल से लेकर भोजन पकाना भी महंगा हो गया है।
उन्होंने कहा कि अब तो महंगाई के दर्द की दवा जरूरी हो गई है। क्योंकि प्रतिदिन महंगाई बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ जीवन का अधिकार हर किसी को है और दवाएं इसका अभिन्न हिस्सा है लेकिन अब लोगों के मौलिक अधिकारों का भी हनन हो रहा है। उन्होंने कहा कि असंवेदनशील सरकार जो हर दिन महंगाई बढ़ा रही है, कम से कम जरूरी दवाओं की कीमतों से जनता को राहत दे। इससे पहले भाजपा के दीपक प्रकाश ने योग को केंद्र सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम में शामिल करने की मांग की और कहा कि इससे बड़ी संख्या में योग शिक्षकों को रोजगार मिल सकता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की वजह से योग की अंतरराष्ट्रीय पहचान मजबूत हुई है और कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भी योग की बहुत बड़ी भूमिका रही।

उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में देश व दुनिया के विभिन्न हिस्सों में योग शिक्षकों का मांग भी बढ़ी है। प्रकाश ने सरकार से योग को और अधिक प्रचारित और प्रसारित करने की मांग की। राष्ट्रीय जनता दल के ए.डी सिंह ने खेती में यूरिया के अत्यधिक इस्तेमाल पर चिंता जताई और सरकार से अनुरोध किया कि वह किसानों के बीच इस बारे में जागरूकता फैलाए। उन्होंने कहा कि यूरिया का 30 प्रतिशत हिस्सा उपयोगी होता है और शेष हिस्सा मिट्टी और पर्यावरण के प्रतिकूल होता है। उन्होंने कहा कि यूरिया के अत्यधिक इस्तेमाल से देश की भावी पीढ़ी पर असर होगा।
भाजपा के ही डी पी वत्स ने बच्चों को आरंभिक शिक्षा के दौरान ही राष्ट्रीय कर्तव्य का बोध कराने के लिए तैयार करने की मांग की। उन्होंने कहा कि मौलिक अधिकारों और नीति निर्देशक तत्वों से पहले स्कूली बच्चों को राष्ट्रीय कर्तव्य का बोध कराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे बच्चों में राष्ट्र प्रथम की भावना विकसित होगी। कांग्रेस के नीरज डांगी ने भारतीय रिजर्व बैंक की पूर्व ऑडिट प्रणाली को बहाल करने की मांग की वहीं बीजू जनता दल के प्रशांत नंदा ने वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित ओड़िसा के इलाकों में रहने वाले लोगों के सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए रेल संपर्क स्थापित करने की मांग की। उन्होंने कहा कि ओड़िसा सरकार ने मलकानगिरी से भद्राचलम और नवरंगपुर से जूनागढ़ के बीच रेललाइन बिछाने का प्रस्ताव दिया है, जिसे स्वीकार किया जाना चाहिए क्षेत्र के लोगों को सामाजिक-आर्थिक विकास हो सके।

मार्च-अप्रेल के महीने में मनाई जाती है 'चैत्र नवरात्रि'

मार्च-अप्रेल के महीने में मनाई जाती है 'चैत्र नवरात्रि'   

सरस्वती उपाध्याय              
चैत्र नवरात्रि हिन्दु धर्म में नवरात्रि का बहुत महत्व है। चैत्र नवरात्रि, चैत्र (मार्च-अप्रेल के महीने) में मनाई जाती है, इसे चैत्र नवरात्रि कहा जाता है। नवरात्रि में दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-आराधना की जाती है। धार्मिक मान्यता यह है कि जो व्यक्ति मां दुर्गा की पूजा आराधना सच्ची श्रद्धा और निष्ठा से करता है, उसे मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है, हालाँकि इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में कहीं नही है।

महत्व...
प्रथम नवरात्रि गर्मियो की शुरूआत में चैत्र मास यानी अप्रैल में आती है और दूसरी नवरात्रि सर्दियों की शुरुआत में यानी अक्टूबर में मनाई जाती है। इस दौरान फसल पकने का समय होता है, वर्षा होने के साथ मौसम में बदलाव होता है। इसलिए शारीरिक और मानसिक संतुलन बनाये रखने के लिए नवरात्रि पर शक्ति की पूजा की जाती है और उपवास रखे जाते हैं। हालाँकि उपवास का भी वर्णन हमारे शास्त्रों में कहीं नही मिलता।

9 देवियों के नाम...
1. शैलपुत्री।
2. ब्रह्मचारिणी‌।
3. चंद्रघंटा।
4. कूष्माण्डा।
5. स्कन्दमाता।
6. कात्यायनी।
7. कालरात्रि।
8. महागौरी।
9. सिद्धिदात्री।

17 जून को रिलीज होगी फिल्म 'निकम्मा': अभिनेत्री

17 जून को रिलीज होगी फिल्म 'निकम्मा': अभिनेत्री   

कविता गर्ग        

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी की आने वाली फिल्म निकम्मा 17 जून को रिलीज होगी। शिल्पा शेट्टी की आने वाली फिल्म निक्कमा की रिलीज डेट अनाउंस हो गई है। निक्कमा 17 जून 2022 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

फिल्म निक्कमा में शिल्पा शेट्टी के अलावा अभिमन्यू दसानी, शर्ली सेतिया नजर आएंगी। निकम्मा को शब्बीर खान ने निर्देशित किया है, वहीं फिल्म को सोनी पिक्चर्स इंडिया ने प्रोड्यूस किया है।

पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं: कंपनी

पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं: कंपनी 

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। देश में तेल विपणन करने वाली कंपनियों ने वित्त वर्ष 2022-23 के पहले दिन पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की है। बीते सात दिनों से लगातार बढ़ रहे ईंधन के दामों में कंपनियों ने शुक्रवार को कोई इजाफा नहीं किया है।
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गुरुवार को पेट्रोल-डीजल के दामों में क्रमशः 80-80 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी की गयी थी। इस वृद्धि के बाद दिल्ली में पेट्रोल 101.81 रुपये प्रति लीटर और डीजल के 93.07 रुपये प्रति लीटर के दाम से बिक रहा है।
मुंबई में पेट्रोल की कीमत 116.72 रुपये प्रति लीटर और डीजल के दाम 100.94 रुपये प्रति लीटर पर है।
रूस के यूक्रेन पर हमला करने के कारण वैश्विक स्तर पर तेल और प्राकृतिक गैस की आपूर्ति बाधित होने की आशंका में इनकी कीमतों में उछाल आया है। पेट्रोल-डीजल की कीमतें 137 दिनों की स्थिरता के बाद बढ़नी शुरू हुई हैं।
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार उतार-चढाव देखने को मिल रहा है। लंदन ब्रेंट क्रूड आज 0.13 प्रतिशत गिरकर 104.57 डॉलर प्रति बैरल पर और अमेरिकी क्रूड 0.33 प्रतिशत की गिरावट के साथ 99.95 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा है।
उल्लेखनीय है कि पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की नित्य प्रतिदिन समीक्षा होती है और उसके आधार पर प्रतिदिन सुबह छह बजे से नयी कीमतें लागू की जाती हैं।

'डिजिटल संपत्ति' से आय पर 30% कर की घोषणा

'डिजिटल संपत्ति' से आय पर 30% कर की घोषणा    

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। भारत के लिए कानून तभी बनाएगा, जब ऐसी एसेट्स को रेगुलेट करने पर ग्लोबल सर्वसम्मति होगी। सरकार, प्रावधानों को विनियमित या कड़ा करने के लिए जल्द ही किसी कानून की योजना नहीं बना रही है, क्योंकि चर्चा निजी है।
कई वर्षों के बाद, प्रधानमंत्री के प्रशासन ने 1 अप्रैल से डिजिटल संपत्ति से आय पर 30% कर की घोषणा की।जिससे व्यापार करना महंगा हो गया और इस तरह के लेनदेन को घुड़दौड़ और लॉटरी जैसी गतिविधियों के बराबर कर दिया गया है। सरकार के रुख को स्पष्ट करने के लिए एक कानून लाने की योजना बनाई थी।
प्रधानमंत्री  ने जनवरी में विश्व आर्थिक मंच को संबोधित करते हुए कहा था कि  पर वैश्विक जस्टीफ़ाइड दृष्टिकोण की आवश्यकता है और यह कि एक राष्ट्रव्यापी कार्रवाई पर्याप्त नहीं होगी।
केंद्रीय बैंक ने खुले तौर पर निजी डिजिटल मुद्राओं के विरोध में आवाज उठाई है, उनकी तुलना पोंजी योजनाओं से की है और कहा है कि वे वित्तीय संप्रभुता के लिए खतरा हैं।

‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम को लेकर कटाक्ष: प्रियंका

‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम को लेकर कटाक्ष: प्रियंका 

अकांशु उपाध्याय           
नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम को लेकर शुक्रवार को कटाक्ष करते हुए कहा कि भाजपा सरकार को उत्तर प्रदेश में ‘पेपर लीक पर चर्चा’ करनी चाहिए। उन्होंने उत्तर प्रदेश में कुछ परीक्षाओं के प्रश्नपत्र लीक होने का हवाला दिया।
कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि भाजपा सरकार को उप्र में ‘पेपर लीक पर चर्चा’ करनी चाहिए। पिछले साल 28 नवंबर को यूपी टीईटी पेपर लीक से लाखों युवाओं को आघात लगा था। कार्रवाई के नाम पर दिखावटी कदमों के अलावा कुछ नहीं हुआ। नतीजतन, एक और पेपर लीक। प्रियंका गांधी ने कहा कि इस बार भी सरकार दिखावटी कदमों के अलावा कुछ और नहीं कर रही है। पेपर लीक की खबर लिखने वाले पत्रकार को जेल भेजा जा रहा है। लेकिन, पेपर लीक करने वाला तंत्र सरकार में पैठ जमाए बैठा है। उस पर न कोई बुलडोजर चलता है, न कोई बदलाव आता है।

छात्रों को परीक्षा के दौरान तनाव न लेने की सलाह दी

छात्रों को परीक्षा के दौरान तनाव न लेने की सलाह दी   

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को छात्रों को परीक्षा के दौरान तनाव न लेने की सलाह दी और कहा कि विद्यार्थियों को यह समझना चाहिए कि यह जीवन का एक सहज हिस्सा है और पूर्ववर्ती परीक्षाओं में भी तो उन्होंने ही सफलता हासिल की है। मोदी ने अभिभावकों व शिक्षकों से यह भी आग्रह किया कि वे अपने अधूरे सपने व अधूरी आकांक्षाएं बच्चों पर न थोपें।
‘परीक्षा पे चर्चा’ के पांचवें संस्करण के दौरान बोर्ड की परीक्षा देने वाले छात्रों से संवाद करते हुए मोदी ने यह भी कहा कि प्रौद्योगिकी कोई अभिशाप नहीं है, इसका प्रभावी तरीके से उपयोग किया जाना चाहिए। संवाद के दौरान प्रधानमंत्री ने छात्रों के सवालों के जवाब भी दिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि वक्त के साथ पढ़ाई में बदलाव आता रहा है और तकनीक के जरिये दुनियाभर में मौजूद ज्ञान की सहज प्राप्ति संभव है, जबकि पहले ज्ञान प्राप्त करने के बहुत सीमित साधन हुआ करते थे।
उन्होंने कहा, ‘‘ऑनलाइन शिक्षा को एक अवसर के रूप में लेना चाहिए और इससे प्राप्त ज्ञान का क्रियान्वयन ऑफलाइन करना चाहिए।’’ इस दौरान उन्होंने छात्रों को परीक्षा को त्योहारों के तौर पर लेने की सलाह दी। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा तो नहीं है कि आप पहली बार परीक्षा दे रहे हैं। आपलोगों ने कई बार परीक्षाएं दी हैं। परीक्षा जीवन का एक सहज हिस्सा है। परीक्षा देते-देते हम ‘एक्ज़ाम प्रूफ’ हो चुके हैं। जो तैयारी की है, उसमें विश्वास के साथ आगे बढ़ना है।
प्रधानमंत्री ने तालकटोरा स्टेडियम में तालियों की गड़गड़ाहट के बीच वहां मौजूद लोगों से कहा, ‘‘यह मेरा पसंदीदा कार्यक्रम है, लेकिन कोविड के कारण मैं आपसे नहीं मिल सका था। इससे मुझे काफी खुशी मिल रही है, क्योंकि मैं लंबे समय के बाद आपसे मिल रहा हूं।’’ मोदी ने कहा, ‘‘घबराया हुआ कौन है? आप या आपके माता-पिता? यहां अधिकतर लोगों के माता-पिता घबराए हुए हैं। अगर हम परीक्षा को त्योहार बना दें तो यह जीवंत बन जाएगा।
प्रधानमंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति का देश के हर वर्ग ने तहे दिल से स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि ज्ञान के भंडार के साथ हुनर भी होना अब जरूरी है और राष्ट्रीय शिक्षा नीति व्यक्तित्व विकास के लिए कई अवसर दे रही है। उन्होंने शिक्षा नीति की बारीकियों को जमीन पर उतारने की बात भी कही। गुजरात के वडोदरा के केनी पटेल ने पूछा कि उचित रिवीज़न और पर्याप्त नींद लेकर कोई भी पाठ्यक्रम कैसे पूरा किया जा सकता।
मोदी ने कहा, ‘‘आप इतने घबराए हुए क्यों हैं। आप पहली बार परीक्षा नहीं देंगे। अब आप आखिरी पड़ाव के करीब बढ़ रहे हैं। आपने पूरा समुद्र पार कर लिया है अब किनारे के पास आकर आपको डूबने का डर है। शिक्षा मंत्रालय के स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग द्वारा पिछले चार वर्षों से ‘परीक्षा पे चर्चा’ का आयोजन किया जा रहा है। पहले तीन बार इसे दिल्ली में एक ‘इंटरैक्टिव टाउन-हॉल’ प्रारूप में आयोजित किया गया था। चौथा संस्करण पिछले साल सात अप्रैल को ऑनलाइन आयोजित किया गया था।

शिक्षण संस्थान संचालित करने की अनुमति, मांग की

शिक्षण संस्थान संचालित करने की अनुमति, मांग की  

इकबाल अंसारी            
शिलोंग। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस की शांता छेत्री ने मेघालय में हिंदू समुदाय को अल्पसंख्यक घोषित करने और उन्हें अपने शिक्षण संस्थान संचालित करने की अनुमति देने की मांग की है। छेत्री ने शुक्रवार को राज्यसभा में यह मामला उठाते हुए कहा कि मेघालय में हिंदू समुदाय अल्पसंख्यक है।
उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय को मेघालय सरकार के लिए आदेश जारी करना चाहिए कि हिंदू समुदाय को राज्य में शिक्षण संस्थान अनुमति चलाने की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि देश के कई हिस्सों में हिंदू समुदाय अल्पसंख्यक है और केंद्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय में इन राज्यों में हिंदू समुदाय को सक्षम समुदाय घोषित करने की इच्छा व्यक्त की है।

250 रुपये महंगा हुआ एलपीजी गैस-सिलेंडर

250 रुपये महंगा हुआ एलपीजी गैस-सिलेंडर    

अकांशु उपाध्याय                 
नई दिल्ली। देश में शुक्रवार से एलपीजी सिलेंडर के नए दाम जारी किए गए है। इस बार एलपीजी गैस-सिलेंडर 250 रुपये महंगा हो गया है। हालांकि, यह वृद्धि कमर्शियल गैस-सिलेंडर के दामों में हुई है। घरेलू गैस सिलेंडर के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई।
बीते दो महीनों में अब तक कुल 346 रुपये की वृद्धि हो चुकी है। वहीं इन वृद्धियों में घरेलू एलपीजी उपभोक्ताओं को राहत मिली हुई है। क्योंकि अभी 10 दिन पहले तक घरेलू एलपीजी सिलेंडर के दाम बढ़े हुए थे, जबकि 22 मार्च को ही कमर्शियल सिलेंडर सस्ता हो गया था।
बता दें कि लंबे अरसे के बाद पेट्रोल-डीजल और एलपीजी उपभोक्ताओं को महंगाई की मार पड़नी शुरू हो गई थी। 
22 मार्च को बिना सब्सिडी वाले घरेलू एलपीजी सिलेंडर में 50 रुपये का इजाफा हुआ था। 19 किलो के कमर्शियल रसोई गैस एलपीजी की कीमत में 250 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी की गई। आज से इसकी कीमत 2253 रुपये होगी। कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर के दामों में बढ़ोतरी के अलावा हवाई ईंधन की कीमतों में भी इजाफा हुआ है। 1 अप्रैल को जेट फ्यूल यानी एटीएफ के दाम 2 फीसदी से बढ़ाकर 1,12,925 किलोलीटर हो गई है। पहले यह 1,10, 666 रुपये किलोलीटर थी। वहीं नई दरें 15 अप्रैल 2022 को लागू होंगी।

श्रीलंका: राष्ट्रपति के निवास में घुसने की कोशिश

श्रीलंका: राष्ट्रपति के निवास में घुसने की कोशिश    

अखिलेश पांडेय             
कोलंबो। सैकड़ों लोगों की भीड़ ने आर्थिक संकट के कारण श्रीलंका के कोलंबो में राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे के निवास में घुसने की कोशिश की। पुलिस ने उन्हें काबू में करने के लिए गोलियां चलाईं, जिसमें 10 लोग घायल हो गए।
बेकाबू महंगाई और आवश्यक वस्तुओं की किल्लत के कारण लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। बेकाबू महंगाई व किल्लत से निपटने के प्रति श्रीलंका सरकार के रवैये को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज होते जा रहे हैं। देश में आजादी के बाद के सबसे खराब हालात बताए जा रहे हैं। कोलंबो में गुरुवार रात हालात बिगड़ने के बाद कर्फ्यू लगाया गया था, हालांकि शुक्रवार सुबह से इसे हटा दिया गया। राष्ट्रपति निवास के आसपास के इलाकों में आगजनी के बाद वाहन का मलबा पड़ा नजर आया।  कोलंबो में उनके आवास पर धावा बोलने की कोशिश की। उन्हें काबू में करने के लिए पुलिस ने पहले आंसू गैस छोड़ी और पानी की बौछारें कीं। प्रदर्शन के वक्त राजपक्षे अपने आवास पर नहीं थे। नारेबाजी करती भीड़ ने राजपक्षे से सत्ता छोड़ने की मांग की। देश में हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं।
श्रीलंका में ईंधन की भारी किल्लत हो गई है। पेट्रोल पंपों पर डीजल नहीं मिलने के कारण सार्वजनिक बसों व अन्य वाहनों की आवाजाही ठप हो गई है। देश के दो तिहाई बसों व वाहनों का संचालन निजी क्षेत्र द्वारा किया जाता है। इनके संचालकों का कहना है कि आज से तो छुटपुट बसें भी नहीं चल सकेंगी।

बरेली: 1 अप्रैल को 38 डिग्री सैल्सियस तापमान दर्ज

बरेली: 1 अप्रैल को 38 डिग्री सैल्सियस तापमान दर्ज    

संदीप मिश्र             
बरेली। अप्रैल का पहला दिन भीषण गर्मी से शुरू हुआ है। सुबह से ही उमस भरे दिन की शुरूआत हुई। एक अप्रैल यानी शुक्रवार को शहर का तापमान 38 डिग्री सैल्सियस तक दर्ज किया गया। हालांकि, इस तापमान में दो दिनों बाद और भी बढ़ोत्तरी होने की संभावना जताई जा रही है। मौसम विभाग की माने तो इस बार पिछले वर्ष की तुलना में गर्मी अधिक होगी।
मौसम विभाग की माने तो इस बार मार्च में ही गर्मी ने लोगों के पसीने छूटा दिए। सुबह से खिलने वाली धूप देर शाम तक रहने की वजह से लोगों के पसीने छूटना लाजिमी है। मगर अब अप्रैल में इस गर्मी के तेवर और भी बढ़ने वाले है। अप्रैल में इस बार 40 डिग्री सेल्सियस तक तापमान जाने की उम्मीद जताई जा रही है। इसका अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि अप्रैल के पहले दिन ही तापमान 38 डिग्री सैल्सियस दर्ज किया गया।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-175, (वर्ष-05)
2. शनिवार, अप्रैल 2, 2022
3. शक-1984, चैत्र, शुक्ल-पक्ष, तिथि-प्रतिपदा, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 23 डी.सै., अधिकतम-38+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...