सोमवार, 17 जून 2024

ट्रेन ने एक्सप्रेस को मारी टक्कर, 9 की मौत

ट्रेन ने एक्सप्रेस को मारी टक्कर, 9 की मौत

मिनाक्षी लोढी 
कोलकाता। पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में सोमवार सुबह 8:55 बजे एक मालगाड़ी ट्रेन ने कंचनजंगा एक्सप्रेस (13174) को पीछे से टक्कर मार दी। रेलवे ने बताया कि इस हादसे में 9 लोगों की मौत और 41 पैसेंजर घायल हो गए।
हादसे के कुछ घंटे के बाद रेलवे बोर्ड की चेयरमैन और CEO जया वर्मा ने 5 लोगों की मौत और 25 लोगों के घायल होने की पुष्टि की। वहीं, ईस्टर्न रेलवे के CPRO कौशिक मित्रा ने नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर रेलवे के हवाले से बताया कि 2 लोको पायलट और एक गार्ड समेत 8 लोगों की मौत हुई है। इस बीच 15 लोगों की मौत की खबर भी आई।
न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि रेलवे के आंतरिक दस्तावेज में इस बात का खुलासा हुआ है कि ऑटोमेटिक सिग्नल खराब था, इस वजह से मालगाड़ी का ड्राइवर आगे बढ़ गया। रेड सिग्नल काम ही नहीं कर रहे थे। रानीपात्रा के स्टेशन मास्टर ने मालगाड़ी के ड्राइवर को जारी किए दस्तावेज TA 912 में उसे सभी रेड सिग्नल पार करने की मंजूरी थी।
इससे पहले रेलवे बोर्ड की चेयरमैन जया वर्मा सिन्हा के मुताबिक, मालगाड़ी के लोको पायलट ने सिग्नल ओवरशूट किया। जिसके कारण वह कंजनजंगा एक्सप्रेस से टकरा गई। इस हादसे में गार्ड का डिब्बा, जनरल डिब्बा क्षतिग्रस्त हुआ है।

सूत्रों का दावा- जब हादसा हुआ, उसके 3 घंटे पहले से सिग्नल खराब था, 6 पॉइंट्स...

1. रेलवे के एक सूत्र ने बताया कि पश्चिम बंगाल में रानीपात्रा रेलवे स्टेशन और छत्तर हाट जंक्शन के बीच ऑटोमैटिक सिग्नलिंग सिस्टम सुबह 5.50 बजे से ही खराब था। कंचनजंगा एक्सप्रेस सुबह 8:27 बजे रंगापानी स्टेशन से रवाना हुई और सुबह 5:50 बजे सिग्नलिंग सिस्टम में खराबी के कारण रानीपात्रा रेलवे स्टेशन और छत्तर हाट के बीच रुकी रही।

2. जब सिग्नलिंग सिस्टम में खराबी आती है तो स्टेशन मास्टर टीए 912 रिटन अथॉरिटी जारी करता है। यह ड्राइवर को खराबी के कारण सभी रेड सिग्नल पार करने का अधिकार देता है।रानीपात्रा के स्टेशन मास्टर ने कंचनजंगा एक्सप्रेस को टीए 912 जारी किया था। ट्रेन 10 मिनट से यहां रुकी रही। 8:42 बजे रंगापानी से निकली मालगाड़ी कंचनजंगा एक्सप्रेस से भिड़ गई।

3. सूत्रों के मुताबिक, केवल जांच से ही पता चल सकता है कि क्या मालगाड़ी को खराब सिग्नल को तेज गति से पार करने के लिए टीए 912 भी दिया गया था या यह लोको पायलट की गलती थी, जिसने डिफेक्टिव सिग्नल नॉर्म का उल्लंघन किया।

4. यदि दूसरी कंडीशन अप्लाई होती है तो रेलवे के नियम के मुताबिक, ड्राइवर को हर डिफेक्टिव सिग्नल पर एक मिनट के लिए ट्रेन को रोकना चाहिए था। इतना ही नहीं, इस दौरान ट्रेन की स्पीड भी 10 किमी प्रति घंटे की होनी चाहिए थी।

5. हादसे के बाद फिलहाल कंचनजंगा एक्सप्रेस अलुआबारी स्टेशन पर है। यहां फिटनेस टेस्ट के बाद उसे सियालदह के लिए रवाना किया जाएगा। सारे पैसेंजर्स को 12:40 बजे स्पेशल ट्रेन से सियालदह के लिए रवाना किया जा चुका है।

6. रेलवे बोर्ड की अध्यक्ष जया वर्मा सिन्हा ने बताया कि हादसे वाले रूट पर कवच सिस्टम नहीं था। इस पर जल्द ही काम शुरू किया जाएगा। अब तक 1500 किलोमीटर रेलवे ट्रैक पर कवच सिस्टम एक्टिव है। इस साल के आखिरी तक इसे 3 हजार किलोमीटर तक ले जाया जाएगा।

ऑलआउट हुआ नेपाल, बांग्लादेश ने जीत दर्ज की

ऑलआउट हुआ नेपाल, बांग्लादेश ने जीत दर्ज की

अखिलेश पांडेय 
किंग्सटाउन। नेपाल की टीम 107 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 85 रनों पर ऑलआउट हो गई। टी-20 वर्ल्ड कप 2024 का 37वां मुकाबला 17 जून को बांग्लादेश और नेपाल के बीच अर्नोस वेले स्टेडियम, किंग्सटाउन में खेला गया।
नेपाल के कप्तान रोहित पौडेल ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया था। बांग्लादेश पहले बैटिंग करते हुए 19.3 ओवरों में 106 रनों पर ऑलआउट हो गई थी। इसके जवाब में लक्ष्य का पीछा करते हुए नेपाल की टीम 19.2 ओवरों में 85 रनों पर ऑलआउट हो गई और बांग्लादेश ने 21 रनों से जीत दर्ज की। इस जीत के साथ टीम सुपर-8 में पहुंच गई है।
नेपाल के खिलाफ बांग्लादेश को पहला झटका पहले ओवर की पहली ही गेंद पर लगा था। तंजीद हसन गोल्डन डक पर पवेलियन लौट गए थे। जिसके बाद कप्तान नजमुल हुसैन शान्तो (4), लिटन दास (10), तौहीद हर्दोय (9) भी पावरप्ले के अंदर विकेट गंवा बैठे। महमुदुल्लाह और शाकिब अल हसन से टीम को बड़ी उम्मीदें थी, लेकिन ये खिलाड़ी भी कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए।
पारी के 9वें ओवर में महमुदुल्लाह (13) गुलशन झा के हाथों रन आउट हो गए। जिसके बाद 12वें ओवर में नेपाल के कप्तान ने शाकिब अल हसन (17) को LBW आउट कर टीम को छठा झटका दिया। शाकिब अल हसन के आउट होने के बाद टीम की सारी उम्मीदें फिर खत्म हो गई थी।
बांग्लादेश पूरे 20 ओवर खेले बिना 106 रनों पर ऑलआउट हो गई। नेपाल के लिए संदीप लामिछाने ने कमाल का स्पेल डाला, उन्होंने 4 ओवर में 17 रन देकर दो विकेट चटकाए। सोमपाल कामी, दीपेंद्र सिंह ऐरी और कप्तान रोहित पौडेल के नाम भी 2-2 विकेट शामिल रहा।

तंजीम हसन साकिब ने नेपाल के खिलाफ लिए 4 विकेट

बांग्लादेश के खिलाफ 107 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी नेपाल की टीम को काफी ज्यादा खराब शुरुआत मिली थी। टीम ने 26 के स्कोर पर 5 विकेट गंवा दिए थे। कुशाल भुर्टेल (4), अनिल कुमार (0), रोहित पौडेल (1), आसिफ शेख (17) और संदीप जोरा (1) सस्ते में पवेलियन लौट गए थे। जिसके बाद फिर कुशाल मल्ला और दीपेंद्र सिंह ऐरी के बीच छठे विकेट के लिए 52 रनों की साझेदारी हुई।
कुशाल मल्ला 17वें ओवर में मुस्तफिजुर रहमान के खिलाफ विकेट गंवा बैठे। मल्ला ने 40 गेंदों में एक चौके और इतने ही छक्के की मदद से 27 रनों की पारी खेली। मुस्तफिजुर रहमान ने फिर 19वें ओवर की आखिरी गेंद पर दीपेंद्र सिंह ऐरी (25) को आउट कर टीम की जीत पक्की कर दी।
तंजीम हसन शाकिब ने 4 ओवर में मात्र 7 रन देकर 4 विकेट चटकाए, उनके स्पैल का दो ओवर मेडन भी रहा है। मुस्तफिजुर रहमान ने 4 ओवर में 7 रन देकर तीन विकेट लिए। वहीं तस्कीन अहमद और शाकिब अल हसन के नाम भी 1-1 विकेट शामिल रहा।

स्वास्थ्य: पोषक तत्वों से भरपूर है 'सब्जा के बीज'

स्वास्थ्य: पोषक तत्वों से भरपूर है 'सब्जा के बीज' 

सरस्वती उपाध्याय 
शायद ही कोई घर हो, जहां तुलसी का पौधा न लगा हो और इसके गुणों को न जानता हो। सब्जा बीज तुलसी की ही एक प्रजाति का पौधा होता है, जिसे स्वीट बेसिल कहा जाता है।
सब्जा सीड्स का इस्तेमाल कई बीमारियों से बचाव करने के लिए किया जाता है। सब्जा के बीज पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें प्रोटीन, विटामिन,फाइबर औमेगा और फैटी एशिड पाया जाता है। इसका सेवन करने से शरीर को ठंंडक पहुंचती है और गर्मी कम लगती है।
सब्जा के बीज का सेवन करने से मोटापा कम होता है। इसका सेवन करने से पेट अधिक समय तक भरा रहता है। फैट बर्न होता है। साथ ही जिन लोगो को गैस की दिक्कत होती है, उनके लिए भी फायदेमंद होता है। पेट को ठंडा रखता है। एक कप दूध के साथ इसका सेवन करने से पेट में जलन, एसिडिटी, अपत गैस व अन्य पेट की समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
डायबिटीज के मरीजों के लिए सब्जा सीड्स फायदेमंद होती है। इसका सेवन करने से शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है। इसके अलावा इसका सेवन करने से माइग्रेन, थकान, टेंशन, सिरदर्द आदि में राहत मिलती है। इसके अलावा सब्जा सीड्स का सेवन करने से इम्यूनिटी बेहतर होती है।

तार की चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी 'मोर' की मृत्यु

तार की चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी 'मोर' की मृत्यु 

हाईटेंशन विद्युत तार के चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी मोर की मृत्यु

कौशाम्बी। नगर पंचायत चरवा वार्ड नं 15 शहीद चंद्र मणि नगर, मजरा हड़हाई में 11 हजार हाईटेंशन विद्युत तार की चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी 'मोर' की मृत्यु हो गई। जिसकी सूचना मिलने पर मोर पक्षी को सासम्मन अन्तिम संस्कार हेतु नगर पंचायत चरवा के अध्यक्ष जग नारायण पासी व वार्ड के सभासद, धर्मेन्द्र कुमार, मनीष कुमार, प्रवीन कुमार, अशोक कुमार, आदि लोगो के द्वारा अंत्येष्टि स्थल पहुँच कर अंतिम संस्कार किया गया।  तपन बढ़ जाने के बाद मानव के साथ-साथ पशु पक्षी भी बेहाल है। शासन प्रशासन के बार-बार निर्देश के बावजूद तालाब में पानी नहीं भराया गया, जिससे प्यासे पशु-पक्षी पानी के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं।
रजनीश कुमार

पीएम मोदी ने 'ट्रेन हादसे' पर शोक जताया

पीएम मोदी ने 'ट्रेन हादसे' पर शोक जताया 

मिनाक्षी लोढी
कोलकाता। पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में सोमवार सुबह बड़ा ट्रेन हादसा हुआ। यहां रंगापानी स्टेशन के पास कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन में मालगाड़ी ने पीछे से टक्कर मार दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हादसे पर शोक जताया है।
उन्होंने सोशल मीडिया हैंडल एक्स पर ट्वीट कर लिखा है कि पश्चिम बंगाल में हुई रेल दुर्घटना दुखद है। जिन लोगों ने अपने प्रियजनों को खो दिया, उनके प्रति संवेदना है। पीएम मोदी ने प्रार्थना की है कि घायल लोग जल्द से जल्द ठीक हो जाएं। उन्होंने साथ ही ये भी बताया है कि उन्होंने घटना को लेकर अधिकारियों से बात की और स्थिति का जायजा लिया है।  पीएम ने मुआवजे की भी घोषणा की है। रेल दुर्घटना में प्रत्येक मृतक के परिजनों को पीएमएनआरएफ से 2 लाख रुपये दिए जाएंगे‌। वहीं, घायलों को 50,000 रुपये दिए जाएंगे। उन्होंने बताया है कि प्रभावित लोगों की मदद के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। 

9 लोगों की मौत, 41 घायल

टक्कर कितनी जोरदार थी इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन की पीछे की तीन बोगियां बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गईं। एक बोगी तो दूसरी बोगी के ऊपर आकर हवा में लटक गई। वहीं, दूसरी बोगी ट्रैक पर पलटी दिखाई दी‌। अधिकारियों ने बताया कि हादसे में सबसे ज्यादा नुकसान इन्हीं तीनों बोगियों को पहुंचा है। हादसे में 9 लोगों की मौत हो गई है, वहीं 41 यात्रियों के घायल होने की सूचना है। मृतकों की संख्या दोहरे अंक में जाने की प्रबल आशंका है‌। मौके पर तत्काल बचाव टीम पहुंची है। रेस्क्यू जारी है।

बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा ?

इस हादसे पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, दार्जिलिंग जिले के फांसीदेवा से एक दुखद रेल दुर्घटना के बारे में जानकारी मिली। स्तब्ध हूं। हालांकि पूरी जानकारी का इंतजार है, कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन में एक मालगाड़ी टकरा गई है। बचाव दल और मेडिकल सहायता के लिए टीमें घटनास्थल पर भेजी गई हैं। डीएम और एसपी को भी मौके पर भेजा गया है। युद्धस्तर पर रेस्क्यू जारी है।

धूमधाम से मनाया जा रहा है 'बकरीद' का पर्व

धूमधाम से मनाया जा रहा है 'बकरीद' का पर्व 

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। त्याग और बलिदान का त्योहार ईद-उल-अजहा (बकरीद) सोमवार को जिले में धूमधाम से मनाया जा रहा है। निर्धारित समय पर ईदगाहों पर बकरीद की नमाज अदा की गई। सुरक्षा व्यवस्था की चाक चौबंद व्यवस्था रही। शहर के लेकर देहात इलाकों में नए परिधानों में मुस्लिम समुदाय के लोगों नमाज अदा कर खुदा से अमन, चैन और खुशहाली की दुआ मांगी। शासन की गाइड लाइन के अनुरूप सड़कों पर नमाज अदा नहीं की गई। पुराने शहर में नमाज के बाद कुछ देर के लिए जाम की स्थिति उत्पन्न हुई थी, लेकिन बड़ी संख्या में पुलिस और फोर्स ने यातायात व्यवस्था को दुरुस्त बनाए रखने के लिए लगे रहे।
सुबह से तैयार होने के बाद मुस्लिम समुदाय के लोग ईदगाहों में पहुंचे और नमाज अदा की। उसके बाद एक दूसरे से गले मिलकर ईद उल अजहा त्योहार की बधाई दी। इस दौरान बच्चे, युवा और बुजुर्गों में खासा उत्साह दिखा। वहीं, शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में सुरक्षा व्यवस्था का भी पुख्ता इंतजाम रहा है। डीसीपी, एसीपी समेत तमाम अधिकारी मयफोर्स चक्रमण करते देखे गए। 
इस्लामिक माह जिलहिज्जा की 10वीं यानी सोमवार को ईद-ए- कुरबां पर खुदा की बारगाह में विशेष नमाज अदा की गई। अकीदत और ऐहतेराम के साथ पर्व मनाने के लिए सभी इतजाम किए गए थे। हज़रत इब्राहीम की सुन्नत पर अमल करते हुए दुम्बों और बकरों की कुर्बानी दी गई।
उम्मुल बनीन सोसायटी के महासचिव सैय्यद मोहम्मद अस्करी के मुताबिक़ चौक जामा मस्जिद ,शिया जामा मस्जिद चक ज़ीरो रोड ,ईदगाह ,मस्जिद शाह वसीउल्ला रौशन बाग़ ,मस्जिद ए खदीजा करैली ,मस्जिद क़ाज़ी साहब बख्शी बाज़ार ,मस्जिद खानकाह दायरा शाह अजमल सहित शहर की सभी छोटी बड़ी मस्जिदों में तय समय पर ईद-उल-ज़ुहा की विशेष नमाज़ इमामों की क़यादत में अदा कराई गई। मस्जिद अय्यूब अंसारी करैली 60 फिट रोड में सबसे पहले सुबहा छह बजे तो आखरी नमाज़ 10 बजे दायरा शाह अजमल की खानकाह मस्जिद में और 10:30 बजे चक ज़ीरो रोड शिया जामा मस्जिद में अदा की गई।
गंगा जमुनी की तहजीब संगम नगरी प्रयागराज में आपसी भाईचारा का सौहार्द देखने को मिला। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के पूर्वी उत्तर प्रदेश सह संयोजक फरीद सबरी के नेतृत्व में ईद उल अजहा के मौके पर गौशाला त्रिपोलिया चक रोजा पर हिन्दू भाइयों की आस्था की प्रतीक गौ माता की सेवा कर मुल्क मदरे हिंदुस्तान को एक संदेश दिया कि हमें एक दूसरे की आस्था का सम्मान करना चाहिए। आपसी भाईचारा बनाए रखना चाहिए। इस मौके पर वकील अहमद शकील सलमानी मोहम्मद मामून गुलाबश बानो आदि लोगों उपस्थित हैं। 
बकरीद यानी ईद-उल-अज़हा का पर्व हजरत इब्राहिम के देखे ख्वाब की तामील को अमली जामा पहनाते अकीदत व एहतेराम के साथ मनाया गया। उम्मुल बनीन सोसायटी के महासचिव सैय्यद मोहम्मद अस्करी के अनुसार प्रातः 6 बजे से 10 :30 बजे तक ईदगाह सहित शहर भर की मस्जिदों इबादतगाहों और घरों में ईद उल अज़हा की खास नमाज़ ओलमा की क़यादत में अदा की गई। मस्जिदों में रिज्क सेहत बरकत आपस में यकजहती सभी धर्मों का आदर करने के साथ मुल्क ए हिन्द को हमेशा कामयाबी और कामरानी के साथ आगे बढ़ते रहने की दुआ मांगी गई।
मस्जिद काजी साहब बख्शी बाज़ार में बकरीद पर बाद नमाज मौलाना सैय्यद जव्वादुल हैदर रिजवी ने बकरीद की फज़ीलत बयान की। कहा कि हजरत इब्राहिम को तीन मर्तबा ख्वाब में अल्लाह ने अपने बेटे को राहें खुदा में क़ुरबान करने का हुक्म दिया तो उस ख्वाब को उन्होंने अपनी बीवी और बेटे हज़रत इस्माइल को बताया। बीवी और बेटे की रजामंदी के बाद हजरत इब्राहिम मेना की पहाड़ी पर बेटे को राहें खुदा में क़ुरबान करने को ले कर गए।
रास्ते में तीन शख्स ने अलग अलग तरीकों से उन्हें इस काम से रोकने की कोशिश की, लेकिन दोनों ने उनको नकारते हुए यही कहा कि तुम शैतान हो। आज काबे में हज के बाद उन्हीं तीन शैतानों पर हाजी कंकड़ी मारते हैं। जब तक इस रस्म की अदायगी नहीं होती तब तक हज मुकम्मल नहीं होता। हजरत इब्राहिम ने जब खुदा के हुक्म से बेटे इस्माइल के गर्दन पर छूरी फेरनी चाही तो अल्लाह की तरफ से गैब से उस जगहा पर दुम्बा ज़िबहा पाया।
आंक की पट्टी खोली तो देखा दुम्बा क़ुरबान हो चुका था। बेटे हजरत इस्माइल बग़ल में सही सलामत खड़े मुस्कुरा रहे हैं। इसी सुन्नत को अमल में लाते हुए दुनिया भर में मुसलमान आज के दिन दुम्बों व बकरों की क़ुरबानी देते हैं। इस तहरीक से लोगों को चाहिए कि आज से अहद ले कि सिर्फ जानवर ही नहीं अना हसद गुस्सा तकब्बुर गुमराही को भी क़ुरबान कर अच्छे और सच्चे मोमिन बन जाएं, ताकि अल्लाह हमारी क़ुरबानी को क़ुबूल करें।
सामाजिक संस्था फात्मा वेलफेयर सोसायटी की ओर से बकरीद के मौके पर घर-घर जाकर जरूरतमंदों को खाद्य सामाग्री बांटी, साथ ही बच्चों को चॉकलेट आदि दिए। डॉ. नाज़ फात्मा की ओर से दरियाबाद, करैली, बख्शी बाज़ार, रसूलपुर, अटाला आदि इलाकों में गरीब व तंगी से जुझते लोगों को पहले चिन्हित किया फिर बकरीद पर उनके घर पहुंच कर रोजमर्रा की चीजें आटा, दाल, चावल, सरसों तेल और मसाले आदि दिए। घर के छोटे बच्चों को वस्त्र व चाकलेट भी दिए।

यातायात व्यवस्था के संबंध में गोष्ठी की गई

यातायात व्यवस्था के संबंध में गोष्ठी की गई 

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। ज्येष्ठ माह का आखिरी बड़ा मंगलवार एवं ईद-उल-अजहा (बकरीद) के दूसरे दिन के दृष्टिगत पुलिस आयुक्त द्वारा सोमवार को पुलिस लाइन्स स्थित त्रिवेणी सभागार में यातायात व्यवस्था के संबंध में गोष्ठी की गई।
गोष्ठी में जनपद प्रयागराज शहर में हो रहे वृह्द निर्माण कार्यों विशेष कर जीटी जवाहर से हर्षवर्धन चौराहा तक बन रहे फ्लाई ओवर के दृष्टिगत सम्बन्धित मार्गों के सकरे हो जाने से शहर के विभिन्न स्थानों पर उत्पन्न हो रहे यातायात के दबाव को कम किये जाने के लिए वैकल्पिक मार्गों के संबंध में विस्तृत चर्चा की गई। यातायात पुलिस के सम्बन्धित अधिकारियों को निर्माण कार्य करने वाली कार्यदायी संस्थाओं एवं सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर सुगम यातायात सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। सम्बन्धित थाना प्रभारियों को भी यातायात सुगम बनाएं रखने के लिए आदेशित किया गया। जनपद में सुगम यातायात व्यवस्था बनाए रखने के दृष्टिगत सर्वसम्बन्धित को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए।
इस गोष्ठी में अपर पुलिस आयुक्त, पुलिस उपायुक्त नगर, पुलिस उपायुक्त गंगानगर, पुलिस उपायुक्त यमुनानगर, पुलिस उपायुक्त यातायात, अपर पुलिस उपायुक्त यमुनानगर, अपर पुलिस उपायुक्त यातायात, अपर पुलिस उपायुक्त अपराध, नगर क्षेत्र के समस्त सहायक पुलिस आयुक्त, सहायक पुलिस आयुक्त करछना/थरवई एवं यातायात निरीक्षक/यातायात उपनिरीक्षक उपस्थित रहे।

मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख की सहायता

मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख की सहायता 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी में हुए ट्रेन हादसे में मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। इसकी घोषणा रेल मंत्री ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स के जरिए दी है।
उन्होंने सोमवार को एक्स पर लिखा, ''पीड़ितों को बढ़ी हुई अनुग्रह राशि प्रदान की जाएगी।  मृत्यु की स्थिति में 10 लाख रुपये और गंभीर रूप से चोटिल को 2.5 लाख रुपये और मामूली रूप से घायलों को 50,000 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।''
इससे पहले रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने हादसे पर दुख जताते हुए एक्स पर लिखा कि रेलवे के "एनएफआर जोन में दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ है। बचाव कार्य युद्धस्तर पर जारी है। रेलवे, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ पूरे तालमेल के साथ काम कर रहे हैं। घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है।"
वहीं, कंचनजंगा एक्सप्रेस हादसे पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने मृतकों के परिवार वालों को 2 लाख रुपये और घायलों की 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया। प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक्स पर लिखा, ''प्रधानमंत्री मोदी ने घोषणा की है कि पश्चिम बंगाल में रेल दुर्घटना में मारे गए प्रत्येक व्यक्ति के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2 लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी। घायलों को 50,000 रुपये दिए जाएंगे।''
इससे पहले राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह समेत तमाम नेताओं ने कंचनजंगा एक्सप्रेस हादसे पर दुख जाहिर किया। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने रेल हादसे पर दुख जताते हुए लिखा, ''पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में हुए रेल हादसे में लोगों की मौत की खबर बेहद दुखद है। मेरी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करती हूं।'
पीएम मोदी ने एक्स पर लिखा, "पश्चिम बंगाल में रेल दुर्घटना दुखद है। जिन लोगों ने अपने प्रियजनों को खो दिया है, उनके प्रति मेरी संवेदना है। मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल लोग जल्द से जल्द ठीक हो जाएं। अधिकारियों से बात की और स्थिति का जायजा लिया। प्रभावितों की सहायता के लिए बचाव अभियान जारी है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव भी दुर्घटनास्थल पर जा रहे हैं।''
गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा, ''पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी में हुआ रेल हादसा बहुत दुखद है। इस दुर्भाग्यपूर्ण हादसे में जिन लोगों ने अपने परिजनों को खोया है, उनके प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।''
बता दें कि पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में सोमवार को बड़ा रेल हादसा हो गया। न्यू जलपाईगुड़ी के रंगापानी स्टेशन के पास कंचनजंगा एक्सप्रेस पर पीछे से आ रही मालगाड़ी ने टक्कर मार दी। इस हादसे में 9 लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई यात्रियों के घायल होने की भी खबर है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-241, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. मंगलवार, जून 18, 2024

3. शक-1945, ज्येष्ठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि-द्वादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 06:03, सूर्यास्त: 06:43।

5. न्‍यूनतम तापमान- 45 डी.सै., अधिकतम- 29+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

18 जून को रखा जाएगा 'निर्जला एकादशी' व्रत

18 जून को रखा जाएगा 'निर्जला एकादशी' व्रत 

सरस्वती उपाध्याय 
जगत के पालनहार भगवान विष्णु को एकादशी तिथि समर्पित है। हर महीने के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि पर श्री हरि और मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना करने का विधान है। साथ ही सभी पापों की मुक्ति के लिए व्रत भी किया जाता है। ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को निर्जला एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस बार निर्जला एकादशी की डेट को लेकर लोग अधिक कन्फ्यूज हो रहे हैं। कुछ लोग निर्जला एकादशी 17 जून की बता रहे हैं, तो वहीं कुछ लोग निर्जला एकादशी 18 जून को मनाने की बात कह रहे हैं। आइए, इस लेख में हम आपको बताएंगे कि निर्जला एकादशी व्रत किस दिन किया जाएगा ? पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ माह के शुक्ल-पक्ष की एकादशी तिथि का प्रारंभ 17 जून को सुबह 04 बजकर 43 मिनट से होगा। वहीं, इसका समापन 18 जून को सुबह 06 बजकर 24 मिनट पर होगा। सनातन धर्म में उदया तिथि का अधिक महत्व है। ऐसे में निर्जला एकादशी व्रत 18 जून को रखा जाएगा।

इस समय करें व्रत का पारण...

निर्जला एकादशी व्रत का पारण 19 जून को सुबह 05 बजकर 23 मिनट से लेकर 07 बजकर 28 मिनट तक कर सकते हैं।

'निर्जला एकादशी' पूजा-विधि...

निर्जला एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठें और दिन की शुरुआत श्री हरि के ध्यान से करें। इसके बाद स्नान कर पीले वस्त्र धारण करें। अब मंदिर की सफाई कर गंगाजल का छिड़काव कर शुद्ध करें। चौकी पर साफ कपड़ा बिछाकर भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की प्रतिमा विराजमान करें। अब उन्हें पीले रंग के फूल और गोपी चंदन अर्पित करें। मां लक्ष्मी को श्रृंगार की चीजें चढ़ाएं। देशी घी का दीपक जलाकर आरती करें। इस समय विष्णु चालीसा का पाठ करें। साथ ही विष्णु स्तोत्र का पाठ और मंत्र का जाप करें। अंत में प्रभु को केला और मिठाई समेत आदि चीजों का भोग लगाएं। अगले दिन पूजा-पाठ कर व्रत खोलें।

'ऑस्ट्रेलिया' ने स्कॉटलैंड को 5 विकेट से हराया

'ऑस्ट्रेलिया' ने स्कॉटलैंड को 5 विकेट से हराया 

अखिलेश पांडेय 
कैस्टरीज। टी-20 वर्ल्ड कप में रविवार 16 जून को ऑस्ट्रेलिया और स्कॉटलैंड के बीच एक बेहद अहम मुकाबला खेला गया। ऑस्ट्रेलिया ने स्कॉटलैंड को पांच विकेट से हरा दिया। सेंट लूसिया में हुए इस मैच में इंग्लैंड की किस्मत दांव पर लगी थी, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया की जीत पर ही उसकी सुपर-8 की क्वालिफिकेशन निर्भर थी।
19 जून से सुपर-8 राउंड शुरू हो जाएगा, इसके पहले अपने आखिरी ग्रुप स्टेज के मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया की टीम पर बड़ा दाग लगा गया। टीम के प्रदर्शन ने सभी को हैरान कर दिया। ऑस्ट्रेलिया की टीम ने फील्डिंग के दौरान 6 कैच छोड़ दिए।

ऑस्ट्रेलिया ने बनाया शर्मनाक रिकॉर्ड

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान मिचेल मार्श ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का फैसला किया। इस दौरान खिलाड़ियों ने ऐसे-ऐसे कैच टपका दिए, जिसे देखकर हर कोई हैरान था। कमेंटेटर्स को भी कैच छूटने पर यकीन नहीं हो रहा था। हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जॉश हेजलवुड ने कहा था कि इंग्लैंड को बाहर करने के लिए उनकी टीम स्कॉटलैंड से हारने के बारे में सोच सकती है। ऐसे में टीम के खिलाड़ियों को कैच छोड़ता देखकर फैंस को शक होने लगा था कि वो जान-बूझकर कैच छोड़ रहे हैं। फील्डिंग के दौरान ऑस्ट्रेलिया ने कुल 6 कैच छोड़कर एक शर्मनाक रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। अब टी-20 वर्ल्ड कप के एक मैच में ऑस्ट्रेलिया सबसे ज्यादा कैच छोड़ने वाली टीम बन गई है।
स्कॉटलैंड के बल्लेबाजों ने मौके को भुनाया और बोर्ड पर 180 रन लगा दिए। ब्रैंडन मैकमुलन ने ताबड़तोड़ पारी खेली और 34 गेंद में 60 रन ठोक दिए। वहीं कप्तान रिची बेरिंग्टन ने 31 गेंद में 42 रन बनाए।

स्टोयनिस ने बचाया मैच

स्कॉटलैंड ने बल्लेबाजी के बाद गेंदबाजी भी अच्छी की। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के 3 विकेट 60 रन पर ही गिरा दिए थे और रनों पर भी अंकुश लगाए रखा था। ऑस्ट्रेलिया की टीम 13 ओवर में केवल 92 रन ही बना सकी थी, यानी टीम को 7 ओवर में लगभग 13 की इकोनॉमी से 89 रन बनाने थे। इसके बाद ट्रेविस हेड ने 14वें ओवर में टीम लगातार 3 छक्के लगाकर टीम को मोमेंटम दिया, लेकिन वो आउट हो गए। इसके मार्कस स्टोयनिस ने कमान संभाली और 29 गेंद में 59 रन की तूफानी पारी से ऑस्ट्रेलिया को जीत की तरफ ले गए। उनकी शानदार पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

आज मनाया जाएगा 'ईद-उल-अजहा' का पर्व

आज मनाया जाएगा 'ईद-उल-अजहा' का पर्व 

सरस्वती उपाध्याय 
इस्लाम धर्म में ईद उल अजहा दूसरा सबसे बड़ा त्योहार माना जाता है। ईद-उल-अजहा के दिन बकरे की कुर्बानी दी जाती है। ईद उल अजहा को बकरीद, बकरा ईद अथवा ईद-उल-बकरा के नाम से भी जाना जाता है। इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक, इस बार बकरा ईद 17 जून यानी आज मनाई जाएगी।
इस्लामिक कैलेंडर में 12 महीने होते हैं और इसका धुल्ल हिज इसका अंतिम महीना होता है। इस महीने की दसवीं तारीख को ईद उल अजहा या बकरीद का त्योहार मनाया जाता है, जो कि रमजान का महीना खत्म होने के 70 दिन बाद आता है।

आखिर कहां से शुरू हुई कुर्बानी की प्रथा ?

बकरा ईद को वैश्विक स्तर बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस्लाम में कुर्बानी का बहुत बड़ा महत्व बताया गया है। कुरान के अनुसार कहा जाता है कि एक बार अल्लाह ने हजरत इब्राहिम की परीक्षा लेनी चाही। उन्होंने हजरत इब्राहिम को हुक्म दिया कि वह अपनी सबसे प्यारी चीज को उन्हें कुर्बान कर दें। हजरत इब्राहिम को उनके बेटे हजरत ईस्माइल सबसे ज्यादा प्यारे थे। अल्लाह के हुक्म के बाद हजरत इब्राहिम ने ये बात अपने बेटे हजरत ईस्माइल को बताई। 
बता दें, हजरत इब्राहिम को 80 साल की उम्र में औलाद नसीब हुई थी। जिसके बाद उनके लिए अपने बेटे की कुर्बानी देना बेहद मुश्किल काम था। लेकिन हजरत इब्राहिम ने अल्लाह के हुक्म और बेटे की मुहब्बत में से अल्लाह के हुक्म को चुनते हुए बेटे की कुर्बानी देने का फैसला किया। हजरत इब्राहिम ने अल्लाह का नाम लेते हुए अपने बेटे के गले पर छुरी चला दी।
लेकिन, जब उन्होंने अपनी आंख खोली तो देखा कि उनका बेटा बगल में जिंदा खड़ा है और उसकी जगह बकरे जैसी शक्ल का जानवर कटा हुआ लेटा हुआ है। जिसके बाद अल्लाह की राह में कुर्बानी देने की शुरुआत हुई।

ऐसे मनाएं ईद-उल-अजहा या बकरीद 

दुनिया भर में मुस्लिम लोग इस दिन को बहुत श्रद्धा के साथ मनाते हैं। इस दिन सबसे पहले सुबह नहाकर करके अल्लाह को नमाज अदा करें। उसके बाद साफ और पारंपरिक कपड़े पहनें। फिर परिवार के बड़े लोग नमाज अदा करने के लिए मस्जिद जाएं और कुर्बानी की सभी रस्में अदा करने के बाद अल्लाह के प्रति अपना आभार व्यक्त करें। फिर अपने प्रियजनों और रिश्तेदारों को शुभकामनाएं दें। उसके बाद जरूरतमंदों को भोजन और नए कपड़े दें। बुजुर्ग लोग अपने छोटों को ईदी दें, जो इस त्योहार की सबसे महत्वपूर्ण रस्मों में से एक मानी जाती है।

पीएम को कोसना छोड़, भूमिका निभाएं खरगे

पीएम को कोसना छोड़, भूमिका निभाएं खरगे

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे पीएम मोदी को कोसना छोड़, विपक्ष की भूमिका निभाएं। आठवले ने कहा कि एनडीए के पास स्पष्ट बहुमत है।
हमने 292 लोकसभा सीटें जीती हैं।
आठवले ने कहा कि जब यूपीए सत्ता में थी, तो भाजपा ने यह नहीं कहा कि कांग्रेस के पास शासन करने का जनादेश नहीं है, भले ही पार्टी के पास अपने दम पर बहुमत नहीं था।

खरगे के बयान के बाद आठवले ने किया पलटवार

आठवले का बयान तब आया है, जब खरगे ने शुक्रवार को कहा था कि एनडीए सरकार गलती से बन गई और पीएम मोदी के पास जनादेश नहीं था। यह अल्पमत सरकार है। यह कभी भी गिर सकती है।

हम देश को मजबूत करने की दिशा में सहयोग करेंगे- खरगे

उन्होंने कहा कि हम चाहेंगे कि ये चलता रहे। ये देश के लिए अच्छा हो, हम मिल कर देश को मजबूत करने के लिए काम करें। लेकिन हमारे प्रधानमंत्री को जो कुछ अच्छा चल रहा है उसे चलने नहीं देने की आदत है। लेकिन हम देश को मजबूत करने की दिशा में सहयोग करेंगे।

जापानी समकक्ष फुमियो के साथ बैठक की: पीएम

जापानी समकक्ष फुमियो के साथ बैठक की: पीएम 

अखिलेश पांडेय 
रोम। भारत में बुलेट ट्रेन की स्थिति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने जापानी समकक्ष फुमियो किशिदा के साथ द्विपक्षीय बैठक की, जिसमें उन्होंने पुष्टि की कि उनके तीसरे कार्यकाल में जापान के साथ संबंधों को प्राथमिकता मिलती रहेगी।
पीएमओ ने बयान जारी कर बताया कि भारत और जापान कई प्रमुख क्षेत्रों में सहयोग कर रहे हैं, जिसमें ऐतिहासिक मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल परियोजना भी शामिल है, जो भारत में गतिशीलता के अगले चरण की शुरुआत करेगी। जबकि बुलेट ट्रेन परियोजना में पांच साल की देरी होने की सूचना है।

जापानी अधिकारियों ने दिया था संकेत

जापानी अधिकारियों ने इस साल की शुरुआत में कहा था कि सभी खंडों पर काम शुरू हो गया है और वे प्रगति से संतुष्ट हैं। जापान के अनुसार, परियोजना को लेकर सभी अनिश्चितताएं दूर हो गई हैं। प्रधान मंत्री मोदी और किशिदा ने भारत-जापान औद्योगिक प्रतिस्पर्धात्मकता साझेदारी के बारे में भी बात की, जिसका लक्ष्य 2022-2027 की अवधि में भारत में 5 ट्रिलियन येन का जापानी निवेश और हमारे विनिर्माण सहयोग के परिवर्तन का लक्ष्य है।
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारत-जापान विशेष रणनीतिक और वैश्विक साझेदारी अपने 10वें वर्ष में है और उन्होंने संबंधों में हुई प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने नए और उभरते क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करते हुए सहयोग को और गहरा करने के तरीकों पर चर्चा की। सरकार ने कहा, “बैठक ने कुछ चल रही सहयोग पहलों की समीक्षा करने का अवसर प्रदान किया।”

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-240, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. सोमवार, जून 17, 2024

3. शक-1945, ज्येष्ठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 06:03, सूर्यास्त: 06:43।

5. न्‍यूनतम तापमान- 43 डी.सै., अधिकतम- 25+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...