बुधवार, 2 सितंबर 2020

भारत-चीन के बीच लगातार बैठक जारी

नई दिल्ली/ बीजिंग। पूर्वी लद्दाख में पेगोंग झील के निकट पिछले सप्ताह के घटनाक्रम के बाद से भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच मुद्दों के समाधान के लिए आज लगातार तीसरे दिन भी बैठक हो रही है। इससे पहले सोमवार और मंगलवार को दोनों पक्षों के बीच ब्रिगेड कमांडर स्तर की वार्ता के बाद आज सुबह दस बजे तीसरे दौर की वार्ता फिर शुरू हुई। चीन के अनुरोध पर चुशूल मोल्डो में हो रही बातचीत में पेगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर गत सप्ताह हुई घटनाक्रम से संबंधित मुद्दों पर बातचीत होगी। इस बातचीत का उद्देश्य ताजा घटनाक्रम के बाद एक बार फिर सीमा पर बने तनाव को कम करना और स्थिति को सामान्य बनाना है।


सूत्रों के अनुसार दोनों पक्षों के बीच पहले दौर की दो वार्ताओं में किसी मुद्दे पर सहमति नहीं बन सकी। इस बीच ताजा घटनाक्रम के मद्देनजर गृह मंत्रालय ने चीन, नेपाल और भूटान से लगती सीमाओं पर तैनात सुरक्षा बलों को पूरी तरह चौकस और सतर्क रहने का आदेश दिया है। भारत तिब्बत सीमा पुलिस को उत्तराखंड, अरूणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख और सिक्किम में जबकि सीमा बल को नेपाल और भूटान सीमा पर सख्त निगरानी रखने को कहा गया है।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, चीफ आफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे और सैन्य संचालन महानिदेशक तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में स्थिति की समीक्षा की और भविष्य की योजना पर चर्चा की। राजनाथ सिंह शंघाई सहयोग संगठन के सदस्य देशों के रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए आज मास्को रवाना हो रहे हैं। इस बैठक में चीन के रक्षा मंत्री भी शामिल होंगे।


इस बीच सेना ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि चीन द्वारा चुमार में घुसपैठ की कोशिश से संबंधित रिपोर्ट सही नहीं हैं। रिपोर्ट में चीन की जिन गतिविधियों का उल्लेख किया गया है वे नियमित गतिविधियों का हिस्सा है जो चीनी सैनिक अपने क्षेत्र में करते हैं और इसे घुसपैठ की कोशिश नहीं माना जा सकता । इस बीच सेना ने इस तरह की बातों को भी एकदम गलत बताया है कि पिछले सप्ताह पेगोंग झील के दक्षिणी किनारे के निकट हुए घटनाक्रम के दौरान चीन के कुछ सैनिकों को हिरासत में ले लिया गया।           


भारत-चीन सीमा पर शांति की उम्मीदः माइक

नई दिल्ली/ बीजिंग। भारत-चीन सीमा पर तनातनी जारी है।इस तनाव को कम करने के लिए कई दौर की बैठकें हो चुकी है। इस बीच अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि हम भारत-चीन सीमा पर स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद कर रहे हैं।


बता दें कि सोमवार को भारतीय थल सेना ने कहा था कि चीनी सेना ने 29 और 30 अगस्त की दरम्यानी रात पैंगोंग झील के दक्षिण तट पर यथा स्थिति में एकतरफा तरीके से बदलाव करने के लिये ‘‘उकसाने वाली सैन्य गतिविधियां’’ की।अभी भी इलाके में स्थिति संवेदनशील बनी हुई है।           


एलएसी पर अमेरिका ने गढ़ाई बारीक नजर

वाशिंगटन डीसी/ बीजिंग। चीन के साथ विवाद पर अमेरिका ने एक बार फिर भारत का साथ दिया है। अमेरिका ने कहा है कि बीजिंग की तरफ से बार-बार होने वाले उकसावे से निपटने एकमात्र तरीका है उसका सामना करना। अमेरिका ने कहा कि वह LAC पर चल रही गतिविधियों पर बारीकी से नजर रखे हुए है।


मेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में कहा कि हमें मुद्दे के शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद है, लेकिन बार-बार उकसावे की बीजिंग आदत से निपटने का एकमात्र तरीका है उसका सामना करना. उन्होंने आगे कहा, ‘विदेशमंत्री माइक पोम्पियो भी कई मौकों पर यह स्पष्ट कर चुके हैं कि बीजिंग राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अत्यधिक आक्रमक नीति अपना रहा है, जो कि परेशान करनी वाली बात है’। प्रवक्ता ने आगे कहा कि ताइवान स्ट्रेट से शिनजियांग, दक्षिण चीन सागर से लेकर हिमालय और साइबर स्पेस से लेकर अंतरराष्ट्रीय संगठनों तक, हम चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का मुकाबला कर रहे हैं, जो अपने ही लोगों को दबाना और पड़ोसियों को धमकाना चाहती है। इन उकसावों को रोकने का एकमात्र तरीका है बीजिंग का सामना करना।           


वैश्विक समूह के साथ आने से किया मना


वाशिंगटन डीसी। अमेरिका ने कहा है कि वह कोवैक्स का इसलिए हिस्सा नहीं होगा क्योंकि इसका सह नेतृत्व विश्व स्वास्थ्य संगठन कर रहा है। तेजी से कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने, उत्पादन करने और समान वितरण के उद्देश्य से तैयार किए गए वैश्विक समूह के साथ आने से अमेरिका ने इनकार कर दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के सह नेतृत्व में ग्लोबल एक्सेस फैसिलिटी तैयार की गई है, ताकि विभिन्न देश कोरोना वैक्सीन को लेकर एक दूसरे के साथ जुड़ सकें और सभी को जल्दी वैक्सीन मिले।



सीमा पर झड़प, कोई सैनिक हताहत नहीं

नई दिल्ली। बीजिंग। चीन ने कहा है कि शनिवार को भारत-चीन सीमा पर हुई झड़प में किसी भारतीय सैनिक की मौत नहीं हुई है। चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स के अनुसार चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, "जहां तक मुझे पता है हाल के भारत-चीन सीमा पर हुई झड़प में किसी भारतीय सैनिक की मौत नहीं हुई है।






अख़बार ने लिखा है कि चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने उन ख़बरों को ख़ारिज कर दिया है जिनमें कहा जा रहा था कि शनिवार को एलएसी के नज़दीक भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प में एक भारतीय सैनिक की मौत हो गई थी।इससे पहले भारत ने कहा था कि चीन ने 29 और 30 अगस्त की रात को पैंगोंग लेक के साउथ बैंक क्षेत्र में भड़काऊ सैन्य हरकत करते हुए यथास्थिति को तोड़ने की कोशिश की थी और इसके अगले दिन भी ऐसी कार्रवाई की जिसे नाकाम कर दिया गया।





भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा था कि जैसा कि भारतीय सेना ने एक दिन पहले बताया था, भारतीय पक्ष ने इन उकसाऊ गतिविधियों का जवाब दिया और एलएसी पर अपने हितों और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए समुचित रक्षात्मक कार्रवाई की।             


24 साल बाद जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट

नई दिल्ली/ बीजिंग। भारत के मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही के जीडीपी के आँकड़े आए, तो अर्थव्यवस्था को लेकर चिंता सच साबित हुई। अप्रैल से जून के बीच विकास दर में 23.9 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई। अर्थव्यवस्था के सभी प्रमुख क्षेत्रों की ग्रोथ निगेटिव रही और कंस्ट्रक्शन, मैन्युफ़ैक्चरिंग सेक्टर का बुरा हाल देखने को मिला। भारत में जीडीपी के इन नए आँकड़ों को क़रीब 24 साल बाद ऐतिहासिक रूप से सबसे बड़ी गिरावट बताया गया है। हालाँकि ये भी ध्यान देने वाली बात है कि जीडीपी के ये आँकड़े कोरोना वायरस को नियंत्रित करने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के शुरुआती महीनों के हैं। लेकिन चिंता की बात ये है कि दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत की जीडीपी में सबसे ज़्यादा गिरावट आई है। कहने का मतलब ये कि महामारी ने सभी देशों की अर्थव्यवस्था को नुक़सान पहुँचाया, लेकिन भारत की हालत कुछ ज़्यादा ख़राब दिख रही है। महामारी से सबसे ज़्यादा प्रभावित अमरीका की स्थिति भारत से कुछ बेहतर है। वहाँ जीडीपी दर -10.6 रही, वहीं जर्मनी की -11.9, इटली की -17.1, फ्रांस की -18.9, ब्रिटेन की -22.1 और स्पेन की जीडीपी भारत के सबसे नज़दीक यानी -22.7 प्रतिशत रही।             


अवैध तमंचे के साथ युवक गिरफ्तार किया

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी
अवैध तंमचें के साथ युवक का वीडियों वायरल


हापुड़। जनपद में युवाओं में अवैध हथियारों के साथ वाट्सएप पर वीडियों व फोटोज वायरल करनें का सिलसिला रुकनें का नाम ही नहीं ले रहा है। जनपद में एक ओर युवक का तंमचें सहित वीड़ियों वायरल हो रहा है।
बुद्धवार को एक अवैध तंमचें के साथ व्हाट्सएप स्टेटस पर तमंचे के साथ वीडियो वायरल हो रही हैं, जो सिम्भावली थाने के माधापुर गाँव के युवक की बताई जा रही है। कुछ दिन पूर्व जनपद में बाबूगढ़ पुलिस ने हथियारो की खेप बरामद की थी।
सिम्भावली थाना प्रभारी महेन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि वायरल फोटो व वीड़ियों से युवक की पहचान की जा रही हैं।                


शिक्षक संघ ने एडीएम को ज्ञापन दिया

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी


 बेसिक शिक्षा विभाग पर आरोप


शासन के आदेशों की धज्जियां उड़ातेे शिक्षक


संक्रमित शिक्षक संघ ने बेसिक शिक्षा विभाग पर शासनादेश का उल्लंघन कर जुलाई माह से ही स्कूल खुलवानें व सम्पूर्ण शिक्षक बुलवानें का आरोप लगाते हुए एडीएम को ज्ञापन दिया।


हापुड़। उत्तर प्रदेश जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ ने एडीएम को दिए ज्ञापन में कहा कि यूपी चीफ सैक्ट्ररी के अनलॉक -4 की जारी गाईडलाईन के बावजूद जुलाई से ही बेसिक शिक्षा अधिकारी स्कूल खुलवाकर व समस्त स्टाफ को बुलवा रहें है। जिस कारण कई शिक्षक संक्रमित हो चुकें हैं, जबकि शासन ने 20 सितम्बर तक स्कूल खुलनें पर रोक लगा रखी हैं।


उन्होंने कहा कि अनलॉक-4 के अनुसार शासन के निर्देशों का पालन करते हुए स्कूल बंद करवाने की मांग की हैं।
एडीएम जयनाथ यादव ने शिक्षकों के प्रतिनिधि मंडल को समुचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। ज्ञापन देने वालों में उम्मेद अली, राजेन्द्र यादव, नीरज चौधरी पीताम्बर स़िह, सतेन्द्र सिसोदिया आदि शामिल थे।               


सिपाही ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

गाजियाबाद डॉयल 112 में तैनात था सिपाही।
घर में सिपाही ने फांसी लगाकर की आत्महत्या
 अतुल त्यागी


मेरठ। में 2 दिन में 2 सिपाही कर चुके सुसाइड, पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा कंकरखेड़ा थाने के तेज विहार का मामला। जानकारी के मुताबिक, मूल रूप से मुजफ्फरनगर जनपद के हरसोली गांव का निवासी विपुल बालियान यूपी पुलिस में कांस्टेबल था।
विपुल पिछले काफी समय से अपनी पत्नी अंजलि और डेढ़ वर्षीय पुत्र रूद्र के साथ मेरठ के कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र में रोहटा रोड स्थित तेज विहार कॉलोनी में रह रहा था। इन दिनों विपुल गाजियाबाद में डायल 112 की गाड़ी पर तैनात था। विपुल का अपनी पत्नी अंजलि से पिछले काफी समय से विवाद चल रहा था। जिसके चलते कुछ महीने पहले अंजलि अपने बच्चे सहित अपने मायके में चली गई। विपुल की मां अमरेश के मुताबिक, मंगलवार की रात विपुल ड्यूटी से वापस लौटा था। बुधवार की सुबह काफी देर तक उसके कमरे का दरवाजा न खुलने पर बदहवास मां ने घटना की जानकारी थाना पुलिस को दी। जानकारी के बाद पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़ा तो विपुल का शव चुन्नी के सहारे पंखे से झूल रहा था। घटना के बाद परिवार के लोगों में कोहराम मच गया। कंकरखेड़ा थाना प्रभारी विजेंद्र सिंह राणा ने बताया कि मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। खुदकुशी के पीछे प्रथम दृष्टया पारिवारिक कलह की बात सामने आई है।                               


आरटीओ के नाम पर चल रहा है गोरखधंधा

जनपद शामली में आरटीओ के नाम पर चल रहा है गोरखधंधा भानु प्रताप उपाध्याय


शामली। जनपद शामली में आरटीओ को बदनाम करने के लिए कुछ अपराधिक किस्म के लोग उनकी लोकेशन को चेक करते रहते हैं। सहायक आरटीओ राजेंद्र कुमार श्रीवास्तव पीटीओ शामली ने बताया कि मैंने शासन स्तर पर इसकी शिकायत की है कि मेरी लोकेशन मेरे घर से ही फ्लैश की जाती है। कुछ अपराधी किस्म के लोग मेरे आवास के आसपास देखे गए जिसकी शिकायत मैंने शासन प्रशासन अधिकारियों को अवगत करा चुका हूं कि मेरी लोकेशन ट्रेस की जाती है और वह घर से चलते ही अवगत करा दिया जाता है कि मैं उस क्षेत्र में हूं या नहीं उससे वाहन चालकों को अवगत करा दिया जाता है। जिससे मैं बहुत ही तनाव में आ चुका हूं। डीएम व एसपी शामली ने आश्वासन दिया है। जल्द ही उन लोगों की धरपकड़ के लिए अभियान चलाया जाएगा। आरटीओ लोकेशन एक दूसरे को आदान प्रदान करने वाले कुछ दबंग व्यक्ति एंट्री के नाम पर लाखों रुपए की अवैध वसूली करते हैं। आरटीओ शामली से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने इसे नकारते हुए कहा कि ऐसे लोगों पर बहुत जल्द कानूनी कार्रवाई कराई जाएगी उन्होंने लोगों से आह्वान किया है। ऐसे लोगों को चिन्हित कर आरटीओ ऑफिस पर बताया जाए। जिससे उनके खिलाफ उचित कार्रवाई कराई जा सके ऐसे अपराधी किस्म के लोग आरटीओ ऑफिस को बदनाम करते हैं।


शामली में साप्ताहिक बाजारों से हटी रोक

भानु प्रताप उपाध्याय


शामली।  उत्तर प्रदेश शासन के पत्र संख्या-2023/2020/सीएक्स-3, गृह (गोपन) अनुभाग-3, दिनांक 01 सितम्बर, 2020 के अन्तर्गत कोविड-19 महामारी तथा संचारी रोगों की रोकथाम हेतु प्रदेश में प्रत्येक शनिवार की रात्रि 12.00 बजे से रविवार रात्रि 12.00 बजे तक कतिपय प्रतिबन्ध लागू किये गये है।
       शासन के उक्त पत्र दिनांक 01-09-2020 में लागू किये गये प्रतिबन्धों के अनुक्रम में जसजीत कौर जिला अधिकारी, शामली द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 के अन्तर्गत पूर्व निर्गत आदेश संख्या-664/न्यायिक सहायक, दिनांक 31-08-2020 के बिन्दु संख्या-11 को निरस्त करते हुए निम्न बिन्दुओं को समाविष्ट किया गया।
1-समस्त शहरी व ग्रामीण हाट, बाजार, गल्ला मण्डी, व्यवसायिक प्रतिष्ठान इत्यादि बन्द रहेंगे। शेष दिवसों में इन सभी की खुलने की अवधि प्रातः 09.00 बजे से सांय 09.00 बजे तक रहेगी। सप्ताह के अन्य दिनों में होने वाली साप्ताहिक बन्दी भी रविवार को ही रखी जाएगी। रविवार के दिन को जो साप्ताहिक बाजार लगाए जाते है, उन्हें सोमवार से शनिवार के मध्य किसी भी दिन लगाया जा सकता है। समस्त धार्मिक स्थल इस अवधि में सोशल डिस्टेसिंग एवं अन्य स्वास्थ्य संबंधी प्रतिबन्धों का पालन सुनिश्चित करते हुए अवधि में खुले रह सकते हैं।
2-इस अवधि में प्रदेश के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में स्थित समस्त औद्योगिक कारखानें जिनमें ITतथा Ites प्ज्मै ;प्ज् म्दंइसमक ैमतअपबमद्ध से जुडे उद्योग भी सम्मिलित हैं चलते रहेंगे। इनमें सोशल डिस्टेसिंग एवं अन्य स्वास्थ्य संबंधी प्रतिबन्धों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करते हुए सभी औद्योगिक इकाइयों में कोविड हेल्प-डेस्क भी अनिवार्यतः स्थापित की जाएंगी।
3-इस अवधि में समस्त आवश्यक सेवाएं यथा-स्वास्थ्य एवं चिकित्सकीय सेवाएं आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति पूर्व की भांति खुले रहेंगे और इन सेवाओं में कार्यरत व्यक्तियों, कोरोना वाॅरियर, स्वच्छता-कर्मी व डोर-स्टेप डिलेवरी से जुडे व्यक्तियो के आने जाने पर कोई प्रतिबन्ध नही होगा।
4-रेलवे तथा राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों का आवागमन पूर्व की भांति यथावत जारी रहेगा। रेलों से आने जाने वाले यात्रियों के आवागमन हेतु यथावश्क बसों की व्यवस्था उतर प्रदेश राज्य सडक परिवहन निगम द्वारा की जायेगी।
5-अन्र्तराष्टीय(प्दजमतदंजपवदंस) एवं घरेलू (क्वउमेजपब) हवाई सेवा यथावत जारी रहेंगी। हवाई अड्डो से अपने गंतव्य स्थल को जाने वाले व्यक्तियों/यात्रियों के आवागमन पर कोई प्रतिबन्ध नही रहेगा।
6-मालवाहक वहानों के आवागमन पर कोई प्रतिबन्ध नही रहेगा। राष्ट्रीय एवं राज्यमार्गो पर परिवहन जारी रहेगा एवं इनके किनारे स्थित पेट्रोल पम्प एवं ढाबे पूर्ववत खुले रहेगें।
7-इस अवधि में जिला-प्रशासन द्वारा सफई एवं स्वच्छता(ैंदपजप्रंजपवद) व स्वच्छ पेयजल आपूर्ति हेतु वृहद अभियान चलाया जायेगा। इसमें शामिल सभी अधिकारी/कर्मचारी इस प्रतिबन्धों से मुक्त रहेंगे और इनसे सम्बन्धित कार्यालय भी खुले रहेंगे।
8-स्वास्थ विभाग द्वारा कोविड-19/संचारी रोग सर्विलांस टीम के माध्यम से प्रत्येक घर में रहने वाले सभी सदस्यों की व्यापक मेडिकल स्क्रीनिंग व सर्विलांस का अभियान चलाया जा रहा है जो यथावत चलता रहेगा एंव इनसे सम्बन्धित कार्यालय भी खुले रहेगें। इन कार्यो में लगे हुए समस्त कोरोना वाॅरियर, अधिकारी/कर्मचारियों को उनके पहचान पत्र के आधार पर आने जाने पर कोई प्रतिबन्ध नही होगा।
9-इस अवधि में आवश्यक सेवाओं से संबंधित कार्यालय एवं इन प्रतिबन्धों से मुक्त सेवाओं से संबंधित अधिकारी/कर्मचारी का पहचान पत्र ही ड्यूटी पास माना जाएगा और उनकी आवाजाही को रोका नहीं जाएगा।
10- इस अवधि मे सभी वृहद निमार्ण कार्य यथा एक्सप्रेस-वे, बडे पुल एंव सडकें, लोक निमार्ण विभाग के बडे निर्माण, सरकारी भवन तथा निजी प्रोजेक्ट जारी रहेगें।
11-प्रत्येक सार्वजनिक स्थल यथा अस्पताल, मेडिकल काॅलेज, औद्योगिक, प्रतिष्ठान, चैराहों आदि पर जिला प्रशासन एंव पुलिस एंव नगर निकायों द्वारा पब्लिक एडेªस सिस्टम (च्। ैलेजमउ) द्वारा कोविड-19 व संचारी रोगों से बचाओं के सम्बन्ध में जागरूकता कार्यक्रम व्यापक रूप से चलाया जायेगा।
12- प्रत्येक जनपद में मजिस्टेेªट व पुलिस अधिकारियों द्वारा संयुक्त भ्रमण किया जाएगा। पुलिस टीमो/यू0पी0 112 द्वारा पेट्रोलिंग द्वारा उपरोक्त व्यवस्था का कडाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।
13-सब्जी व फलों की सभी मण्डियां व दुकानें यथावत् खुली रहेंगी।
यह आदेश जनपद, शामली के सम्पूर्ण क्षेत्र मंे दिनांक 02 सितम्बर, 2020 से 30 सितम्बर, 2020 तक, जब तक इससे पूर्व इसे निरस्त नहीं कर दिया जाता है, प्रभावी रहेगा। आदेश में वर्णित प्रतिबन्धों की अवहेलना/उल्लघंन करने पर किसी व्यक्ति के विरूद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम, 2005 की धारा 51 से 60 तथा भारतीय दण्ड विधान की धारा-188 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध होगा।               


हॉटसिटी के नागरिक आत्महत्याओं से दहले

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। इंदिरापुरम इलाके में पिछले 24 घंटे के दौरान दो आत्महत्याओ से निवासियों का दिल दहल गया है। हालांकि दोनों मामलों में पुलिस जांच में जुट गई है लेकिन, इस बात में कोई शक नहीं कि 6 महीनों के लॉकडाउन और आर्थिक मंदी के कारण अवसाद (depression) के मामलों में काफी वृद्धि हुई है।  लॉकडाउन के शुरुआती दौर में कुछ आशा नज़र आ रही थी किन्तु बढ़ते कर्जे और घटती आमदनी के बीच गाज़ियाबाद के अधिकांश निवासियों को भविष्य अंधकारमय नज़र आ रहा है।  शायद यही कारण है कि जनपद में आत्महत्या, परिवार के सदस्यों में मनमुटाव और पारिवारिक हिंसा के मामले बढ़ रहे हैं।



24 घंटों में दो आत्महत्या


एंजल जुपिटर सोसायटी में रहने वाले एक बुजुर्ग सोसाइटी की 13वीं मंजिल से गिर गए, जिससे बुजुर्ग की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस की शुरुआती जांच में इसे सुसाइड का मामला माना जा रहा है। वहीं शाम को इंदिरापुरम के वैभव खंड की जीसी ग्रैंड सोसायटी में महिला की लाश घर में फंदे से लटकी हुई मिली। बताया जा रहा है कि महिला ने आत्महत्या की है। मृतक महिला के मायके वालों ने आरोप लगाया है कि महिला का पति शराब पीकर महिला के साथ मारपीट करता था।


मृतक महिला के परिजनों ने लगाए आरोप


मृतक महिला के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि महिला का पति उस पर शक करता था, इसलिए पूरे घर में उसने कैमरे लगा रखे थे। महिला लगातार डिप्रेशन में रहती थी और कई बार उसने परिवार वालों को भी आपबीती बताई थी। हर बार परिवार वालों ने घर बचाने की कोशिश की थी लेकिन महिला इस तरह का कदम उठा लेगी यह परिवार वालों ने भी नहीं सोचा था।


दोनों मामलों में पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार पुलिस का कहना है कि दोनों मामलों में सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है। दोनों मामलों में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही वजह साफ हो पाएगी।                 


7 सितंबर से मिल सकेगी मेट्रो की सेवा

अश्वनी उपाध्याय


नई दिल्ली/गाजियाबाद। राजधानी दिल्ली में आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) की विशेष बैठक में दिल्ली मेट्रो रेल सेवाओं को फिर से शुरू करने का फैसला लिया गया है।  इसके साथ ही केंद्र सरकार द्वारा जारी अनलॉक 4 के दिशा निर्देशों को भी लागू करने का निर्णय लिया गया है।  बैठक के दौरान उपराज्यपाल अनिल बैजल ने राजधानी में मेट्रो सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री केजरीवाल के सुझाव को मंजूरी दी।


आपको बता दें कि 3 मार्च से चल रहे लॉकडाउन से ही दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) का परिचालन बंद है। गृह मंत्रालय (MHA) द्वारा अनलॉक 4 में मेट्रो सेवाओं की अनुमति देने के बाद दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) ने घोषणा की कि वह 7 सितंबर से अपनी सेवाओं को कैलिब्रेटेड तरीके से फिर से शुरू करेगा। डीएमआरसी ने कहा कि मेट्रो के कामकाज और आम जनता द्वारा इसके उपयोग पर विस्तृत विवरण साझा किया जाएगा, जब अगले कुछ दिनों में आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा महानगरों पर विस्तृत मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) जारी की जाएगी।


केजरीवाल ने एमएचए के फैसले का स्वागत किया और कहा कि मेट्रो यात्रा के दौरान यात्रियों द्वारा लाॅकडाउन के नियमो का पालन हो। सुनिश्चित किया जाये कि सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे, प्रवेश द्वार पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाए। कोई टोकन नहीं हो, यात्रा के लिए जारी किए गए स्मार्ट कार्ड और भुगतान के अन्य डिजिटल तरीकों का उपयोग किया जाए।


डीडीएमए की बैठक में उपराज्यपाल अनिल बैजल के अलावा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत और अन्य अधिकारी मौजूद थे।                     


बढ़ी अराजकता को लेकर 'आप' का प्रदर्शन

प्रदेश में बढ़ रही अराजकता को लेकर आम आदमी पार्टी का जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन


अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। राज्यसभा सांसद एवं उत्तरप्रदेश प्रदेश के प्रभारी  संजय सिंह  के आह्वान पर उत्तर प्रदेश मे दिन प्रतिदिन हो रही आपराधिक घटनाओं के विरुद्ध आम आदमी पार्टी गाजियाबाद जिला इकाई की ओर से जिला मुख्यालय पर जमकर नारे बाजी व विरोध प्रदर्शन किया गया।
  योगी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे जिलाध्यक्ष चेतन त्यागी ने कहा कि उत्तरप्रदेश में अपराधियों के हौंसले इतने बुलंद हो चुके है कि दिन दहाड़े लूट हत्या डकैती व बलात्कर जैसे घिनोने अपराध हो रहे है। बी जे पी सरकार पूरी तरह से उत्तरप्रदेश में विफल सरकार हो चुकी है। पुलिस की निष्क्रियता इतनी बढ़ गयी है कि बिना रसूख वाले लोगो के थानों में मुकदमे तक दर्ज नही होते है।


ज़िला उपाध्यक्ष भावना बिष्ट ने कहा कि प्रदेश जिस तरह से अपराधीकरण के चुंगल में है उससे भय व अराजकता का माहौल बन गया है। महिलाओं के साथ दिन प्रतिदिन कही न कही दुराचार की घटनाएं बढ़ रही है। योगी सरकार अफसरों पर नकेल नही डाल रही है ।प्रदेश प्रवक्ता तरुणिमा श्रीवास्तव ने कहा कि समूचा यू पी अपराध की राजधानी बन चुका है। बहिन बेटियों का अकेले निकलना दूभर हो गया है। बी जे पी का बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नारा केवल जुमला बन कर रह गया है। जिला प्रवक्ता व मिडिया प्रभारी अधिवक्ता मनोज त्यागी ने कहा कि हमारे जनपद ग़ाज़ियाबाद से कारोबारी विक्रम त्यागी महीनो से गायब है जिसका पुलिस आजक पता नही लगा पायी वही एक विक्रम पत्रकार की हत्या इसी जनपद में हो जाती है । प्रदेश सरकार अपराधो को नियंत्रित करने में असहाय प्रतीत हो रही है।
विरोध प्रदर्शन के उपरांत सभी कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी कार्यालय में एक ज्ञापन भेट किया। इस अवसर पर उपस्थित प्रदेश सचिव नवाब सोंनी, मुकेश प्रजापति, विजय शर्मा भावना बिष्ट,कल्पना वर्मा,अक्षय आर्य, प्रियंका सिंह गगन, जतिन शर्मा,एस पी सिसोदिया,नथू प्रधान, दिलशाद खान,शुभा सक्सेना,ममता सक्सेना,वीणा श्रीवास्तव ,उमंग खरखोदिया,आदि थे।                   


अयोध्याः राम मंदिर का नक्शा हुआ पास

13000 वर्ग मीटर के ढंके हुए हिस्से में बनेगा राम मंदिर,अयोध्या में राम मंदिर का नक्शा हुआ पास।


अयोध्या। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारी शुरू हो चुकी है, जिसके तहत मंदिर का नक्सा पास कर दिया गया है, अयोध्या विकास प्राधिकरण बोर्ड की आज अहम बैठक हुई है, इस बैठक में सर्वसम्मति के साथ राम मंदिर का नक्शा पास हो गया है, बैठक में 274110 वर्ग मीटर ओपन एरिया का नक्शा और लगभग 13000 वर्ग मीटर कवर्ड एरिया का नक्शा पास हुआ है, यहां 13000 वर्ग मीटर कवर्ड एरिया में राम मंदिर बनेगा, इसके डेवलपमेंट शुल्क को लेकर कैलकुलेशन जारी है जो जल्द ही फाइनल कर दिया जायेगा |
मंदिर ट्रस्ट को विकास शुल्क के साथ-साथ अनुरक्षण शुल्क पर्यवेक्षण व लेबर सेस भीदेना होगा, लगभग 5 करोड़ रुपए विकास शुल्क व अन्य शुल्क आने की उम्मीद है, हालांकि अभी यह सब कैलकुलेशन्स किए जा रहे हैं, जिनपर अंतिम मुहर लगनी बाकि है, आपको बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में लगने वाले पत्थरों को लेकर भी कार्ययोजना तैयार कर ली गई है, बताया गया कि तांबे की पत्तियों के उपयोग से पत्थरों को जोड़ा जाएगा, ट्रस्ट के महासचिव ने बताया है कि मंदिर के निर्माण में लगभग 10 हजार तांबे की छड़ों का इस्तेमाल किया जाएगा, उन्होंने कहा कि जो लोग मंदिर निर्माण में मदद करना चाहते हैं तो वह तांबा दान कर सकते हैं।               


एक से ज्यादा बैंक खाते बढ़ाएंगे समस्या

अब एक से ज्यादा बैंक अकाउंट खोलना पड़ सकता है भारी, जाने क्यों ?
 अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। अगर आपने बिना किसी कारण कई बैंकों में खाते खोल रखें हैं तो ये खबर आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हो सकती है।क्योंकि आप ऐसा करके इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रडार पर आ सकते हैं।
अगर आपने बिना किसी कारण कई बैंकों में खाते खोल रखें हैं तो अब आप इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रडार पर आ सकते है। अगर आप कोई खाता यूज नहीं कर रहे हैं तो उसे बंद करवा दें।नहीं तो, हो सकता है कि आप इसी वजह से इनकम टैक्स विभाग के रडार पर आ जाएं। आइए आपको बताते हैं कि क्यों इनकम टैक्स डिपार्टमेंट कर रहा है ऐसे खातों की पड़ताल..
आयकर विभाग समझता है कि आपने ढेरों बैंक अकाउंट इसलिए खोल रखे हैं ताकि वह काले धन को सफेद बनाने का जरिया बने।
मल्टीप्ल अकाउंट से काले धन को सफेद बनाने में मिलती है मदद: भारत में अभी तक ऐसा कोई कानून नहीं बना है, जो किसी व्यक्ति को कई बैंक में खाता खोलने से रोके। लेकिन, जब बात आयकर विभाग की सक्रियता की आती है तो फिर ऐसे लोगों को परेशानी हो सकती है। आयकर विभाग के सोचने का तरीका अलग है। वह सोचता है कि किसी ने बिना कारण कई बैंकों में अकाउंट खोला है तो वह कहीं डमी अकाउंट तो नहीं है. वह अकाउंट किसी शेल या फर्जी कंपनी से तो नहीं जुड़ा है. उससे काले धन को सफेद बनाने में मदद तो नहीं मिल रही है।
बैंक दे रहे हैं आयकर विभाग को जानकारी: वित्त मंत्रालय के अधिकारी बताते हैं कि अब बैंकों से नियमित रूप से सूचना आयकर विभाग को मिल रही है. कौन व्यक्ति बड़ी मात्रा में रुपये की निकासी या जमा कर रहा है, इस बारे में बैंक तुरंत आयकर विभाग को बताता है। यही नहीं, एक ही पैन नंबर पर कितने बैंक खाते खुले हैं, इसकी भी जानकारी अब एक क्लिक में ली जा सकती है।
एक ही व्यक्ति के कई शहर में अकाउंट खोलता है तो बनता है संदेह: यदि किसी व्यक्ति ने अलग-अलग शहरों में कई बैंक खाते खुलवा रखे हैं, तो भी वह संदेह का पात्र है. आज से कई साल पहले, जबकि बैंकों में सेंट्रलाइज्ड बैंकिंग सिस्टम नहीं था, तब ऐसा होता था।कई शहरों में काम करने वाले कारोबारी ऐसा करते थे, क्योंकि उस समय दूसरे शहर के बैंक का चेक क्लियर होने में वक्त लगता था. अब तो सीबीएस सिस्टम में पलक झपकते ही पैसा ट्रांसफर हो जाता है।ऐसे में यदि कोई व्यक्ति अलग-अलग शहर में खाता खोलता है तो जाहिर है कि कुछ दूसरा ही उद्देश्य है।
आयकर विभाग ने ईटी  को बताया है कि इस तरह के मामले सामने आते ही रहते हैं। कुछ समय पहले ही गाजियाबाद में एक व्यक्ति पकड़ में आया था, जिसने एक निजी बैंक और एक सरकारी बैंक में 80 से भी ज्यादा खाते खोल रखे थे. आयकर विभाग को संदेह था कि उसने इन खातों के सहारे करीब 380 करोड़ रुपये के बराबर काले धन को सफेद कर दिया है। इसी तरह, नोटबंदी में दिल्ली में एक ऐसा व्यक्ति पकड़ में आया था जो कि कश्मीरी गेट के मोटर पार्ट्स मार्केट में झल्ली ढोता था और उसके 20 से ज्यादा बैंक खाते थे। दिलचस्प बात यह है कि उस व्यक्ति का कोई ठिकाना भी नहीं था। वह रात में जब बाजार बंद हो जाता था, तब किसी दुकान के सामने पटरी पर ही बिस्तर बिछा कर सो जाता था। लेकिन नोटबंदी के दौरान उनके खाते में लाखों रुपये की रकम अपने खाते में जमा की थी।                  


10 रूपये में 'मोदी इडली' के 4 पीस मिलेंगे

अब बाजार में मिलेगी ‘मोदी इडली’, सिर्फ 10 रुपये में मिलेंगे चार पीस।
 हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। दक्षिण भारत के प्रमुख व्यंजनों का जब भी जिक्र होता है तो उसमें इडली की बात सबसे ज्यादा होती है। वहीं, अब इडली खाने वालों और पीएम मोदी के प्रशंसकों के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। दरअसल, तमिलनाडु के सलेम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर जनता के लिए ‘मोदी इडली’ बेचने की तैयारी हो रही है। चार पीस इडली के लिए आपको 10 रुपये चुकाने होंगे।
‘मोदी इडली’ नाम से व्यंजन को लाने की तैयारी भाजपा प्रचार प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष महेश ने की है। इसके तहत प्रचार के लिए शहर के अलग-अलग हिस्सों में ‘मोदी इडली’ के पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टरों में बाईं तरफ पीएम मोदी और दाईं ओर महेश की तस्वीर है।
पोस्टर में लिखा है कि महेश प्रस्तुत करते हैं मोदी इडली। 10 रुपये में 4 पीस, वो भी सांभर के साथ। इसे मॉडल किचन में बनाया जाएगा। जिससे ये स्वाद के साथ-साथ आपको स्वस्थ भी रखेगा।
भाजपा तमिलनाडु के मीडिया सचिव आर बालासुब्रमण्यम ने कहा कि इडली बेचने के लिए शुरू में 22 दुकानें खोलने की योजना है। इसकी सफलता के आधार पर आउटलेट की संख्या आगे बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा, परियोजना के लिए मशीनरी पहले ही आ चुकी है, जो प्रति दिन 40,000 इडली बनाने का काम करेगी और अगले सप्ताह से काम शुरू होने की उम्मीद है।                   


गोवा सीएम को कोरोना संक्रमण ने जकड़ा

सीएम को हुआ कोरोना: एक और मुख्यमंत्री कोरोना पॉजिटिव।
 गोवा। मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। उन्होंने खुद इसकी जानकारी दी है। वो होम आइसोलेशन में रहेंगे और इस दौरान अपना काम घर से करते रहेंगे।
सीएम प्रमोद सावंत ने ट्वीट करके कहा, ‘सभी को सूचित करना चाहता हूं कि मैं कोरोना पॉजिटिव पाया गया हूं।मैं असिम्टोमेटिक हूं और इसलिए होम क्वारनटीन हूं। मैं घर से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना जारी रखूंगा। जो लोग मेरे संपर्क में आए हैं, उन्हें आवश्यक सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है।
भारत में कोरोना वायरस से संक्रमण के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं और अब ये आंकड़ा साढ़े 37 लाख के पार चला गया है।देश में पिछले 24 घंटों में 78,357 नए मामले सामने आए हैं।वहीं 1,045 लोगों की जान चली गई है।देश में अब कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 37 लाख 69 हजार हो गई है। इनमें से 66,333 लोगों की मौत हो चुकी है। एक्टिव केस की संख्या 8 लाख हो गई और 29 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब तीन गुना अधिक है।               


शिवसेना नेता की गोली मारकर हत्या

शिवसेना नेता की गोली मारकर हत्या…पत्नी और बेटी घायल…समर्थकों में भारी आक्रोश
 
इंदौर। मध्य प्रदेश में शिवसेना के पूर्व प्रदेश प्रमुख रमेश साहू की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। वहीं रमेश साहू की पत्नी और बेटी को आरोपियों ने चोट पहुंचाई है। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। जिसके बाद मामले में पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।
मध्य प्रदेश शिवसेना के पूर्व  प्रमुख रहे रमेश साहू की इंदौर के पास उमरी खेड़ा में गोली मारकर हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया।रमेश साहू उमरी खेड़ा में साईं राम ढाबा संचालित करते थे। रमेश साहू की अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या की है। वहीं बीच बचाव करने आई मृतक की पत्नी और बेटी को भी आरोपियों ने चोट पहुंचाई है। जिसमें वो घायल हो गईं।
हालांकि घटनास्थल से कोई सामान या पैसा चोरी नहीं किया गया है। आरोपियों ने केवल हत्या की वारदात को ही अंजाम दिया है। जिसके चलते पुलिस घटना के पीछे पुरानी रंजिश की आशंका जता रही है। वहीं घटना के बाद रमेश साहू के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।
बता दें कि मध्य प्रदेश में करीब 10 साल से अधिक समय तक रमेश साहू प्रदेश शिवसेना प्रमुख रहे हैं।ताजा मामले में अज्ञात बदमाश खंडवा रोड़ स्थित शिवसेना के पूर्व प्रदेश प्रमुख रमेश साहू के ढाबे पर पहुंचे और उन्होंने शिवसेना के पूर्व प्रदेश प्रमुख की हत्या को अंजाम दे दिया।                       


बढ़ा सीमा तनाव, सेना को किया सतर्क

भारत-चीन तनाव: भारतीय सेना हर मोर्चे पर सतर्क


अब इस जगह हलचल हुई तेज


दिल्ली से भेजी गईं अतिरिक्त फोर्स।
 अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर हालात सामान्य नहीं हैं। ऐसे में चीन की चालाकी को जवाब देने के लिए सेना हर मोर्चे पर सतर्क है। लद्दाख में जारी तनाव के बीच अन्य सीमाओं पर भी हलचल बढ़ गई है। गृह मंत्रालय की ओर से भारत-चीन, भारत-नेपाल और भारत-भूटान पर सुरक्षाबलों को सतर्क रहने को कहा गया है।
सूत्रों के अनुसार, आइटीबीपी  और एसएसबी  को अलर्ट पर रखा गया है।इसके तहत उत्तराखंड, अरुणाचल, हिमाचल, लद्दाख और सिक्किम बॉर्डर पर आइटीबीपी  की निगरानी को और भी मजबूत किया गया है।
उत्तराखंड के कालापानी इलाके में जहां पर भारत-चीन-नेपाल तीनों देशों का मेल है वहां भी सतर्कता बढ़ गई है। एसएसबी की 30 कंपनी यानी 3000 जवानों को भारत-नेपाल बॉर्डर पर भेजा गया।इससे पहले इन कंपनियों की तैनाती कश्मीर और दिल्ली में थी।
सूत्रों की मानें तो मंगलवार को गृह मंत्रालय में बॉर्डर मैनेजमेंट के सेक्रेटरी और आइटीबीपी ,एसएसबी के अधिकारियों के साथ बैठक हुई थी। इस बैठक के बाद चीन ,नेपाल, भूटान सहित दूसरे बॉर्डर पर सतर्कता बढ़ाने के निर्देश दिये गए हैं।
आपको बता दें कि लद्दाख बॉर्डर पर चीन ने बीते तीन दिनों में घुसपैठ की कोशिश की है। इस दौरान हाथापाई की स्थिति भी आई लेकिन भारतीय सेना के जवानों ने चीन की हर कोशिश को नाकाम कर दिया।इससे पहले भी कई बार चीन लद्दाख सीमा के अलावा अरुणाचल और उत्तराखंड में हलचल करते आया है, ऐसे में भारत पहले से ज्यादा सतर्क है।
अगर लद्दाख सीमा की बात करें तो भारत ने वहां पर अपने जवानों की संख्या को बढ़ा दिया है। साथ ही बॉर्डर से सटे क्षेत्र में अब टैंक की तैनाती भी है, दोनों देशों के टैंक आमने-सामने हैं और फायरिंग रेंज में मौजूद हैं। ताजा विवाद को निपटाने के लिए ब्रिगेड कमांडर लेवल की बातचीत हो रही है लेकिन चीन के पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए उसपर भरोसा नहीं किया जा सकता है।इस वजह से हर तरह की सतर्कता बरती जा रही है।                            


प्रसारण पर रोक लगाने से एचसी का इनकार

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने नेटफ्लिक्स की फिल्म ” गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल” के प्रसारण पर रोक लगाने से बुधवार को इनकार कर दिया। केंद्र की तरफ से भारतीय वायुसेना की गलत छवि पेश करने के आधार पर फिल्म का प्रसारण रोकने का आग्रह किया गया था। न्यायाधीश राजीव शकधर ने फिल्म के प्रसारण पर रोक लगाने से इंकार करते हुए केंद्र से सवाल किया कि ”ओवर द टॉप” (ओटीटी) मंच पर फिल्म के प्रदर्शन से पहले वह मामला न्यायालय के समक्ष क्यों नहीं लाई। न्यायाधीश शकधर ने कहा अब कोई आदेश पारित नहीं किया जा सकता क्योंकि फिल्म प्रदर्शित हो चुकी है। फिल्म 12 अगस्त को ही ओटीटी प्लेटफाॅर्म पर प्रदर्शित हो चुकी है।


केंद्र की तरफ से दायर याचिका में कहा गया था कि फिल्म भारतीय वायु सेना की गलत छवि पेश कर रही है। अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल संजय जैन ने सरकार की तरफ से दलील रखते हुए कहा कि फिल्म से भारतीय वायु सेना की छवि धूमिल हो रही है। फिल्म में बल मैं लैंगिक भेदभाव होने के संबंध में दिखाया गया है, जिसमें कोई सच्चाई नहीं है।न्यायाधीश शकधर ने केन्द्र की याचिका पर ”धर्मा प्रोडक्शन प्राइवेट लिमिटेड” और नेटफ्लिक्स से जबाव मांगा है। न्यायालय ने यह भी कहा कि पूर्व फ्लाइट लेफ्टिनेंट गुंजन सक्सेना को भी मामले में एक पक्ष बनाना चाहिए और उन्हें नोटिस जारी कर उनसे भी जवाब मांगा है।         


बाहर से आने वालों को 7 दिन क्वारंटाइन

देहरादून। कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने नई गाइडलाइन के साथ ही संक्रमण के लिहाज से हाई लोड वाले देश के 33 जिलों की संशोधित सूची जारी की है। यहाँ से आने वाले व्यक्तियों को 7 दिन के संस्थागत क्वारन्टाईन तथा 7 दिन के होम क्वारन्टाईन में रहना होगा, अगर आप भी नीचे दिए गए लिस्ट मैं अंकित शहरों से आ रहे हैं तो आपको 7 दिन का संस्थागत और 7 दिन का होम क्वॉरेंटाइन रहना होगा।


बोर्ड ने अख्तर को दी बड़ी जिम्मेदारी

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रोफेसर एसएम अख्तर को दी बड़ी जिम्मेदारी


तैयार करेंगे अयोध्या मस्जिद का डिजाइन


जानें कैसी होगी इमारत।


 अयोध्या/नई दिल्ली। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद अयोध्या में बनने वाली मस्जिद का डिजाइन तैयार करने का जिम्मा जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रोफेसर एस एम अख्तर को सौंपा गया है।अख्तर ने कहा कि पूरा परिसर ‘‘भारत के लोकाचार और इस्लाम की भावना को एक साथ लाएगा।”
अख्तर ने कहा कि उन्हें हाल ही में परिसर का डिजाइन तैयार करने का काम दिया गया था जिसमें भारत-इस्लामी शोध केंद्र, एक पुस्तकालय और एक अस्पताल भी होगा।उन्होंने कहा कि वह बहुत जल्द ही परियोजना पर काम शुरू कर देंगे।उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘ यह किसी एक मस्जिद का डिजाइन तैयार करने का सवाल नहीं है। सरकार की दी गई भूमि पर परिसर तैयार होगा। इस परिसर का उद्देश्य मानवता की सेवा करना होगा।इसका मूल उद्देश्य भारत के लोकाचार और इस्लाम की भावना को एक साथ लाना होगा।’
उन्होंने कहा, “इस्लाम या किसी अन्य धर्म का दर्शन मानवता की सेवा है और यह प्राथमिक उद्देश्य होगा। प्रयास किया जाएगा कि समाज की सेवा के लिए सभी को एक साथ लाया जाए।’’
अयोध्या में पांच एकड़ भूखंड पर मस्जिद के निर्माण के लिए उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की गठित ट्रस्ट ‘इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन’ काम की देखरेख करेगा।उत्तर प्रदेश सरकार ने उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर मस्जिद के निर्माण के लिए अयोध्या के धन्नीपुर गांव में पांच एकड़ भूखंड आवंटित किया है।
डिजाइन में आर्किटेक्ट स्टूडेंट्स का भी लेंगे सहयोग।
जामिया मिलिया इस्लामिया में आर्किटेक्ट विभाग के प्रमुख अख्तर ने कहा, “1,000 से अधिक आर्किटेक्ट मेरे छात्र रहे हैं और वे दुनिया भर में फैले हुए हैं।वे मेरे साथ सहयोग कर सकते हैं। इस परियोजना पर काम करने का विकल्प मेरे वर्तमान छात्रों के लिए भी खुला रहेगा क्योंकि यह उनके लिए सीखने का अनुभव होगा।
अख्तर ने विश्वविद्यालय के कंप्यूटर केद्र, उसके अस्पताल और यहां तक कि वास्तुकला भवन का भी डिजाइन तैयार किया है। उन्होंने स्थानीय क्षेत्र की योजनाओं के सिलसिले में दिल्ली सरकार के साथ भी काम किया है।                 


दिल्लीः दो दोस्तों को उतारा मौत के घाट

डबल मर्डर: दोस्त ने ही दो साथियों को बेरहमी से उतारा मौत के घाट


हत्या की वजह ने सबको किया हैरान।
 नई दिल्ली। पश्चिमी दिल्ली से सनसनीखेज मामला सामने आया है।जहां एक शख्स ने अपने दो साथियों की गला रेतकर हत्या कर दी।जब हत्या की वजह सामने आई तो सभी हैरान रह गए। आरोपी ने साथियों द्वारा महज कमरे का किराया मांगने से नाराज होकर उनकी निर्मम हत्या कर दी।जिसके बाद आरोपी को पुलिस ने चंद घंटों के अंदर ही गिरफ्तार कर लिया।
ये मामला पश्चिमी दिल्ली के ख्याला रघुवीर नगर इलाके का है।डबल मर्डर की गुत्थी सुलझाते हुए ख्याला थाना पुलिस ने मृतकों के तीसरे साथी को हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया है।आरोपी का नाम शाकिर है जिसकी उम्र 23 साल है।आरोपी शाकिर दोनों मृतक के साथ किराए के डी-17 रघुवीर नगर के मकान में रहता था। पुलिस ने इस आरोपी को उत्तर प्रदेश के गांव अमरोहा से गिरफ्तार किया है।
पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि मृतक अमीर हसन और आजम अली के साथ वह भी लहसुन का व्यापार करता था।जिसमें अमीर की उम्र 48 साल थी और आजम अली की 45 साल। वह उन्हीं के साथ रघुवीर नगर के डी-17 मकान में रहता था। जहां वह  4 महीने पहले लॉकडाउन के दौरान अपने गांव चला गया था और गांव में उसके पास पैसे भी खत्म हो गए थे।ऐसे में वह 15 दिन पहले ही दिल्ली वापस आया।
दिल्ली वापस आने पर अमीर हसन और आजम अली ने उसे भी कमरे का किराया देने के लिए कहा लेकिन  शाकिर ने किराया देने से साफ इनकार कर दिया।इसके चलते दोनों के बीच में काफी झड़प और गाली-गलौज भी हुई।नाराज शाकिर ने दोनों को रास्ते से हटाने की प्लानिंग कर डाली।
प्लानिंग के तहत शनिवार देर रात शाकिर ने अमीर हसन और आजम अली के ऊपर हमला कर दिया जब वह दोनों गहरी नींद में सो रहे थे। शाकिर ने चाकू और मीट काटने वाले चाकू से दोनों की गला रेतकर निर्मम हत्या कर दी और मौके से फरार हो गया।इसके बाद रविवार को इस मामले की सूचना पुलिस को दी गई। मामले की सूचना मिलते ही पुलिस ने जांच शुरू कर दी।छानबीन में पुलिस को हत्या का शक मृतकों के तीसरे साथी पर गया।
पुलिस ने बिना देरी किए आरोपी की तलाश शुरू की और शाकिर के गांव अमरोहा पहुंच गई। जहां पर आरोपी शाकिर को गिरफ्तार कर लिया गया।डीसीपी दीपक प्रोहित का कहना है कि फिलहाल आरोपी शाकिर अब तक पुलिस की गिरफ्त में है। वहीं, आरोपी के पास से वारदात में इस्तेमाल किया गया चाकू भी बरामद कर लिया गया है।                     


यूपी में हिस्ट्रीशीटर को गोली मारकर हत्या

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पीजीआई थानाक्षेत्र में बुधवार को एक हिस्ट्रीशीटर दुर्गेश की गोली मारकर हत्या कर दी गई। हत्या का मुख्य आरोपी मनीष यादव गिरफ्तार कर लिया गया है। लखनऊ डीसीपी चारु निगम ने बताया कि लखनऊ पीजीआई थाना क्षेत्र में वृंदावन कॉलोनी में दुर्गेश और उसका भाई साथ में रहते थे। यह गोरखपुर के पूर्वा थाने का हिस्ट्रीशीटर है। दुर्गेश सुबह अपने भाई से मिलने आया था। इस दौरान उससे मिलने मनीष यादव और पलक के साथ कई लोग आए। इन लोगों की आपस में किसी बात को लेकर कहा सुनी हुई। इनकी आपसी झड़प के बाद कुछ लोगों ने इनकी हत्या कर दी। पूरे मामले की जांच की जा रही है। जल्द खुालासा किया जाएगा।


पुलिस ने बताया कि दुर्गेश कोई प्रॉपर्टी डीलर नहीं है। उसके घर में जांच के दौरान स्टांप पेपर, मोहर और ज्वाइनिंग लेटर का मिलना इस बात का सबूत है कि वह जालसाजी का काम करता था।


पत्यक्षदर्शियों के अनुसार, दो स्कॉर्पियों कार से महिला समेत लगभग आधा दर्जन लोग दुर्गेश से मिलने पहुंचे। इस दौरान रुपयों के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ। सभी ने दुर्गेश को पीटना शुरू कर दिया। इसी बीच उसे गोली मार दी। उसे गंभीर हालात में ट्रामा सेंटर ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस मामले की छानबीन में लगी है। पुलिस ने मुख्य आरोपी मनीष यादव को गिरफ्तार कर लिया है।


किरायेदार ने बताया कि दो स्कॉर्पियों कार से महिला समेत पांच-छह लोग दुर्गेश को खोजते हुए आए। पहले उसके कमरे में किसी बात पर विवाद हुआ। उसके बाद सब लोग बाहर आ गए। इसी दौरान कहासुनी के बाद एक ने दुर्गेश के पेट में गोली मार दी।           


मिट्टी की खुदाई में निकले 'चांदी के सिक्के'

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में सफीपुर ग्राम पंचायत नन्हकऊ में पंचायत भवन निर्माण के लिए नींव की खुदाई के दौरान मिट्टी के बर्तन में सन 1862 के चांदी व तांबे के सिक्के निकले।

सूचना पर पुलिस ने सिक्कों को कब्जे में लेकर एसडीएम कार्यालय पहुंचाया। बाद में सिक्कों को सील करके डीएम कार्यालय भेज दिया गया। ग्रामीणों के अनुसार दशकों पहले किसी ने यहां सिक्के छिपाए होंगे।



तहसील क्षेत्र के नन्हकऊ गांव में ग्राम पंचायत द्वारा सचिवालय का निर्माण कराने के लिए खुदाई कराई जा रही है। मंगलवार को मजदूर नींव खोद रहे थे तभी अचानक फावड़ा मिट्टी के बर्तन से टकराया।


तेज आवाज होने पर मजदूरों ने तुरंत हाथ से मिट्टी हटाई तो अंदर एक मिट्टी के बर्तन में चांदी व तांबे के सिक्के मिले। थाना आसीवन प्रभारी राजेश ने मौके पर पहुंच सिक्के अपने कब्जे में लेकर एसडीएम कार्यालय पहुंचाया।


एसडीएम राजेंद्र कुमार ने बताया कि चांदी के 17 सिक्के सन 1862 से लेकर 1919 तक के निकले हैं। साथ ही 287 सिक्के तांबे के हैं। तांबे के पुराने होने के कारण सन का पता नहीं चल पा रहा है। इसे सील कर जिलाधिकारी कार्यालय भेजा जा रहा है। वहां से पुरातत्व विभाग को भेजा जाएगा।           





डीएम ने भवन का औचक निरीक्षण किया


तनवीर खान 


उन्नाव। जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने 1 सितम्बर को पूर्वान्ह सवा दस बजे विकास भवन के कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया। जिसमें उन्होंने आवश्यक व्यवस्थाओं का जायेजा लिया। जिलाधिकारी ने विकास भवन में स्थापित कोविड हैल्प डेस्क की स्थापना प्रमुख द्वार पर की गई है निरीक्षण के दौरान इस हैल्प डेस्क पर कोई कर्मचारी उपस्थित नही पाया गया और पल्सआक्सीमीटर भी उपलब्ध नही था, जिसपर उन्होने नाराजगी व्यक्त की। जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति को निर्देशित किया कि सम्बन्धित कर्मी का इस समबन्ध में स्पष्टीकरण प्राप्त कर समुचित कार्यवाही सुनिश्चत करें कि  कोविड हैल्प डेस्क पर ड्यूटी पर लगाये गये कर्मचारी प्रत्येक दशा में उपस्थित रहे तथा कार्यालय आने वाले प्रत्येक व्यक्तियों की थर्मल स्कैनर, पल्स आक्सीमीटर से जांच अवश्य की जाये।


निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी, परियोजन निदेशक डी0आर0डी0ए0, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, परियोजना अधिकारी डूडा, ए0आर0 कोआपरेटिव अनुपस्थित पाये गये। उन्होंने उक्त अधिकारियों का 01 सितम्बर 2020 का वेतन रोकते हुये स्पष्टीकरण के निर्देश दिये। परियोजनाधिकारी डूडा के कार्यालय के समस्त कर्मी (चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी गीता देवी को छोड़कर) निरीक्षण के समय उपस्थित नही पाये गये। मुख्य विकास अधिकारी समस्त अनुपस्थित कर्मचारियों का 1 सितम्बर 2020 का वेतन रोकते हुये स्पष्टीकरण प्राप्त कर जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करें।ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के निरीक्षण के दौरान अधिशाषी अभियन्ता उपस्थित मिले। कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना की गयी है। हेल्प डेस्क पर  पल्स आक्सीमीटर उपलब्ध नही मिला। निर्देशित किया गया तत्काल व्यवस्था कराकर पल्स आक्सीमीटर उपलब्ध नही मिला। निर्देशित किया गया तत्कान व्यवस्था कराकर पल्स आक्सीमीटर रखा जाये। जिला कृषि अधिकारी कार्यालय निरीक्षण के दौरान कार्यालय में अत्यन्त गन्दगी देखने को मिली। कार्यालय के प्रवेश द्वार पर कूड़ा देखने को मिला। उन्होने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि यह स्थिति नितान्त आपत्तिजनक है। उन्होने निर्देशित किया कूड़ा हेतु डस्टबिन रखवाकर समय से समुचित निस्तारण किया जाये। स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत गत बनाये गये वाररूम का निरीक्षण किया गया। जिसमें साफ-सफाई का अभाव पाया गया । उपस्थित कर्मचारी भी काफी पास-पास बैठे मिले। निर्देशित किया गया कि सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन सुनिश्चित करते हुय विभागीय कार्यो का सम्पादन किया जाय तथा कार्यालय की साफ-सफाई कराई जाये।              



गोलाबारी में सैन्य अधिकारी हुए शहीद

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तान द्वारा किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन में बुधवार को एक जूनियर कमीशंड आर्मी ऑफिसर (जेसीओ) शहीद हो गए।


पुलिस सूत्रों ने बताया कि तारकुंडी सेक्टर में एक अग्रिम चौकी पर तैनात जेसीओ पाकिस्तानी गोलीबारी में घायल हो गए और बाद में उन्होंने दम तोड़ दिया। पाकिस्तान 2020 की शुरुआत से ही नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करता आ रहा है। 2,720 से अधिक संघर्ष विराम उल्लंघन में 27 नागरिक मारे गए हैं और 100 अन्य घायल हुए हैं।           

मृतक संख्या-66, 333, संक्रमित-37,69,524

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण की विकराल होती स्थिति के बीच पिछले 24 घंटाें में 78 हजार से अधिक नए मामले सामने आए हैं और संक्रमणमुक्त होने वालों की संख्या अपेक्षाकृत कम रहने से सक्रिय मामले 15 हजार से ज्यादा बढ़ गए हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोरोना के 62,026 मरीज स्वस्थ हुए हैं जिससे संक्रमणमुक्त होने वालों की संख्या 29,019,09 हो गयी है। इस दौरान कोरोना संक्रमण के 78,357 नये मामलों के साथ संक्रमितों का आंकड़ा 37,69,524 हो गया। स्वस्थ होने वालों की तुलना में संक्रमण के नये मामले अधिक होने से सक्रिय मामले 15,286 बढ़कर 8,01,282 हो गये हैं।


देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 1,045 लोगों की मौत से मरने वालों की संख्या 66,333 हो गयी है। देश में सक्रिय मामले 21.26 प्रतिशत और रोगमुक्त होने वालों की दर 76.98 प्रतिशत है जबकि मृतकों की दर 1.76 प्रतिशत है। कोरोना से सबसे गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र में सक्रिय मामलों की संख्या 4,467 बढ़कर 1,98,866 हो गयी तथा 320 लोगों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा 24,903 हो गया। इस दौरान 10,978 लोग संक्रमणमुक्त हुए जिससे स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 5,84,537 हो गयी। देश में सर्वाधिक सक्रिय मामले इसी राज्य में हैं।


दक्षिणी राज्यों में आंध्र प्रदेश में इस दौरान मरीजाें की संख्या 934 बढ़ने से सक्रिय मामले 1,01,210 हो गये। राज्य में अब तक 4,053 लोगों की मौत हुई है, वहीं कुल 3,39,876 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं। कर्नाटक में पिछले 24 घंटों के दौरान मरीजों की संख्या में 3,764 की वृद्धि हुई है और यहां अब 91,018 सक्रिय मामले हैं। राज्य में मरने वालों का आंकड़ा 5,837 पर पहुंच गया है तथा अब तक 2,54,626 लोग स्वस्थ हुए हैं।               


डीएम ने सुनी कई फरियादियों की समस्याएं


बृजेश गोंड


मीरजापुर। कलेक्ट्रेट सभागर में आयुक्त विन्ध्याचल मण्डल प्रीति शुक्ला के कोविड-19 बैठक लेने के बाद शासन के निर्देशानुसार जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल ने आज कलेक्ट्रेट कार्यालय में पूर्वाहन 11 बजे से जनता दर्शन के दौरान आये हुये फरियादियों के समस्याओं को सुना तथा निस्तारण हेतु सम्बंधित अधिकारियों को उनके दूरभाष पर वार्ता कर निस्तारण हेतु निर्देशित किया। उन्होंने यह भी कहा कि भेजे गये प्रार्थना पत्रों को निर्धारित समय सीमा के अन्दर गुणवत्तापूर्ण ढंग से निस्तारित कर सम्बंधित फरियादी के मोबाइल नम्बर पर फोन कर अवगत कराया जाये। जनता दर्शन के दौरान कलेक्ट्रेट जिलाधिकारी कक्ष में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुये फरियादियों के बैठने के लिये कुर्सियों को भी निर्धारित दूरी पर लगायी गयी। जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट में स्थापित हेल्प डेस्क पर उपस्थित कर्मचारियों को निर्देशित किया कि कलेक्ट्रेट में आने वाले सभी व्यक्तियों को थर्मल स्केनिंग किया जाए। जनता दर्शन के दौरान आये हुये लोगों में जमीन विवाद जमीनों की पैमाइश निःशुल्क राशन, प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण की मांग आदि से सम्बंधित प्रार्थना दिये गये जिलसे जिलाधिकारी द्वारा निस्तारण का आश्वान देते हुये सम्बंधित अधिकारियों को निस्तारण के लिये भेजा गया।                   



बाढ़ से निपटने के लिए 'प्रशासन' मुस्तैद


बृजेश गोंड


मीरजापुर। जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल ने गंगा के बढते जल स्तर को देखते हुये बताया कि सम्भावित बाढ से निपटने के लिये जिला प्रशासन की पूरी तैयारियां की गयी है। उन्होंने बताया कि गंगा में खतरे का निशान 77 दशमलव 08 मीटर है जब कि अभी गंगा का जल स्तर 72 मीटर पर है, खतरे के निशान से 05 मीटर नीचे है जिलाधिकारी ने बताया कि गंगा का जल स्तर पर कल तक एक से0मी0 प्रति घंटे बढ रहा था बीच में घटने भी लगा था परन्तु आज प्राप्त जानकारी के अनुसार जल स्तर 03 सेंटीमीटर प्रतिघंटा बढ़ रहा है। उन्होंने बताया कि बाढ़ से निपटने के लिये जनपद के विभिन्न स्थानों पर कुल 37 बाढ़ चौकिया बनायी गयी है जिनमें से 24 चुनार तहसील तथा 13 सदर तहसील अन्तर्गत है. ये बाढ़ चौकियां रात- दिन 24 घंटे कार्यरत रहेगी। इन चौकियों पर स्वास्थ्य विभाग, राजस्व, पुलिस तथा पशु चिकित्साधिकारी कार्यालय के कर्मचारियों की तैनाती की गयी है। बाझ प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को सुरक्षित स्थान पर रहने के लिये जगह का भी चिन्हांकन कर लिया गया है। शासन के निर्देशानुसार 15 बाढ़ प्रभावित लोगों को 15 दिन के लिये किट देने की व्यस्वस्था कर ली गयी है। बाढ से निपटने के लिये पर्याप्त नाव की व्यवस्था की भी कर ली गयी है। सम्बंधित उप जिलाधिकारी को यह निर्देशित किया गया है कि बाढ़ के दौरान जहां पर नाव चलाने के लिये प्रतिबन्धित किया गया है उस पर निगरानी रखे। जिलाधिकारी ने कहा कि किसी भी स्थिति से निपटने के लिये सभी तैयारियां पूर्ण रूप से कर ली गयी है।             



किशोरी ने युवक पर लगाया दुष्कर्म का आरोप

संस्कार सिंह


मीरजापुर। देहात कोतवाली इलाके के एक गांव में अपने ननिहाल आयी किशोरी के साथ बद नियति से खींचने की शिकायत की गई हैं । मड़िहान थाना राजगढ़ चौकी क्षेत्र की निवासिनी किशोरी देहात कोतवाली क्षेत्र स्थित ननिहाल में गयी थी। सोमवार की देर शाम नानी के साथ जा रही थी। आरोप है कि सुनसान देख पड़ोसी युवक हरकत करने लगा। विरोध करने पर दुष्कर्म की नीयत से जबरन खिंचने का प्रयास किया। चीखने चिल्लाने व नानी के विरोध करने पर आरोपी युवक छोड़कर भाग गया। पीड़िता की नानी आरोपी युवक के घर उलाहना देने गयी तो परिजन अपशब्द कहते हुए मारपीट पर आमादा हो गए । नानी के सिर का बाल खींचकर भगाने लगे। नामजद शिकायत के बाद हरकत में आयी गुरुसंडी चौकी की पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। मनबढ़ युवक के खिलाफ कार्यवायी की मांग को लेकर पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई है।           


सड़क हादसे में 5 युवकों की हुई मौत

वारंगल। तेलंगाना के दामेरा मंडल जिले में बुधवार तड़के एक कार के लॉरी से टकरा जाने के कारण पांच युवकों की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि जिस वक्त हादसा हुआ उस वक्त पांच युवक कार में बैठकर वारंगल से मुलुगु जा रहे थे। पांचों युवक वारंगल जिले के पोचम्मा मैदान के रहने वाले थे। इनकी पहचान राकेश, चंदू, रोहित, सबीर और पवन के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच जारी है।                 


यूपीः 9 साल की बच्ची से किया रेप, हत्या

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में लापता हुई नौ साल की बच्ची मृत मिली है। अधिकारियों ने कहा है कि पोस्टमार्टम की जांच में पुष्टि हुई है कि बच्ची की हत्या करने से पहले उसके साथ दुष्कर्म किया गया था। बच्ची सोमवार की शाम को लापता हो गई थी। मंगलवार को उसका शव मथुरा के देहरुआ गांव के बाहर मिला था। मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।


मथुरा के एसएसपी गुरावत ग्रोवर ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पीड़ित के प्राइवेट पार्ट में चोटें और ब्लड क्लॉट्स मिले हैं। मौत का कारण गले को दबाना बताया गया है। पुलिस के मुताबिक, लड़की रात 8 बजे के आसपास अपनी ही जितनी उम्र की एक अन्य लड़की के साथ पास की दुकान से कुछ सामान खरीदने गई थी, लेकिन वापसी में केवल दूसरी लड़की अकेले अपने घर लौट आई थी।

जब पीड़िता लगभग 10 बजे तक नहीं लौटी तो उसके पिता ने उसे खोजना शुरू किया। जब लड़की नहीं मिली तो उसने करीब आधी रात को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने आईपीसी की धारा 363 के तहत एक एफआईआर दर्ज की थी, जिसे लड़की का शव मिलने के बाद आईपीसी की धारा 302, 376 और पॉक्सो अधिनियम के तहत बदल दिया गया था।


पूछताछ करने पर पीड़ित लड़की के साथ दुकान गई लड़की ने मंगलवार को खुलासा किया कि उसके चाचा बनवारी (38) दोनों को अपनी बाइक पर अपने साथ ले गए थे। वापसी में उन्होंने उसे घर छोड़ा लेकिन पीड़िता को वह अपने साथ ले गया।             


मोदी शासन में बर्बाद हो गया है देश 'भारत'

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने देश को बर्बाद कर दिया है और उसकी गलत नीतियों के करण हम हर मोर्चे पर कमजोर साबित हो रहे हैं। राहुल गांधी ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, “देश आज मोदी निर्मित तबाही की चपेट में है। देश में आज जीडीपी -23.9 फीसदी की ऐतिहासिक गिरावट है। आज 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। बारह करोड़ नौकरियां चली गयी। राज्यों को उनके हिस्से के जीएसटी का बकाया नहीं दिया जा रहा है।’


उन्होंने ताज़ा घटनाओं को लेकर भी सरकार पर हमला किया और कहा, “हमारे यहां आज दुनिया में सबसे ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित हो रहे हैं और सबसे ज्यादा लोग मर रहे हैं। हमारी सीमा पर बाहरी ताकतें आक्रामक बनी हुई हैं।”             


1रुपये जुर्माना, सोलह आने ठीक ?

बहस का विषय इस समय यह है कि वकील प्रशांत भूषण अगर अपने आपको वास्तव में ही निर्दोष मानते हैं तो उन्हें बजाय एक रुपए का जुर्माना भरने के क्या तीन महीने का कारावास नहीं स्वीकार कर लेना चाहिए था ? सवाल बहुत ही वाजिब है। पूछा ही जाना चाहिए। प्रशांत भूषण ने भी अपनी अंतरात्मा से पूछकर ही तय किया होगा कि जुर्माना भरना ठीक होगा या जेल जाना ! प्रशांत भूषण के ट्वीटर अकाउंट पर सत्रह लाख फ़ालोअर्स के मुक़ाबले एक सौ सत्तर लाख से अधिक फ़ालोअर्स की हैसियत रखने वाले ‘चरित्र’ अभिनेता अनुपम खेर ने भी अपना सवाल ट्वीटर पर ही उठाया है :’एक रुपया दाम बंदे का ! और वह भी उसने अपने वकील से लिया !! जय हो !! ’। निश्चित ही लाखों लोग अब इसी तरह के सवाल प्रशांत भूषण से पूछते ही रहेंगे और उनका जीवन भर पीछा भी नहीं छोड़ेंगे। वे अगर चाहते तो जुर्माने या सजा पर कोई अंतिम फ़ैसला लेने से पहले पंद्रह सितम्बर तक की अवधि ख़त्म होने तक की प्रतीक्षा कर सकते थे पर उन्होंने ऐसा नहीं किया। हो सकता है वे न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा के सेवा निवृत होने के पूर्व ही प्रकरण को समाप्त करना चाह रहे हों !


मैंने अपने हाल ही के एक आलेख (‘प्रशांत भूषण को सजा मिलनी ही चाहिए और वे उसे स्वीकार भी करें’) में गांधी जी से सम्बंधित जिस प्रसंग का उदाहरण दिया था उसे ताज़ा संदर्भ में दोहरा रहा हूँ। वर्ष 1922 में अंग्रेजों के ख़िलाफ़ अपने समाचार पत्र “यंग इंडिया ‘ में लेखन के आरोप में (तब ट्वीटर की कोई सुविधा नहीं थी) गांधी जी को अहमदाबाद स्थित उनके साबरमती आश्रम से गिरफ़्तार करने के बाद छह वर्ष की सजा हुई थी। गांधी जी तब आज के प्रशांत भूषण से ग्यारह वर्ष कम उम्र के थे। कहने की ज़रूरत नहीं कि वे तब तक एक बहुत बड़े वकील भी बन चुके थे। हम इस कठिन समय में न तो प्रशांत भूषण से गांधी जी जैसा महात्मा बन जाने या किसी अनुपम खेर से प्रशांत भूषण जैसा व्यक्ति बन जाने की उम्मीद कर सकते हैं।गांधी जी पर आरोप था कि वे विधि के द्वारा स्थापित सरकार के ख़िलाफ़ घृणा उत्पन्न करने अथवा असंतोष फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। अब इसी आरोप को प्रशांत भूषण के ख़िलाफ़ उनके द्वारा की गई सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना के संदर्भ में भी पढ़ सकते हैं। गांधी जी ने अपने ऊपर लगे आरोपों और अंग्रेज जज द्वारा दी गई छह वर्ष की सजा को प्रसन्नतापूर्वक स्वीकार कर लिया था।


प्रशांत भूषण को अगर सजा सिर्फ़ इतने तक सीमित रहती कि या तो वे एक रुपए का जुर्माना भरें या तीन महीने की जेल काटें तो निश्चित रूप से वे कारावास को प्राथमिकता देना चाहते। पर अदालत ने (क़ानून की व्याख्या और बार कौंसिल ऑफ इंडिया का हवाला देते हुए )जैसा कि कहा है प्रशांत भूषण अगर जुर्माना नहीं भरते हैं तो उन्हें तीन महीने की जेल के साथ ही तीन वर्ष के लिए वकालत करने पर प्रतिबंध भी भुगतना पड़ेगा। बातचीत का यहाँ मुद्दा यह है कि अंग्रेज जज एन. ब्रूफफ़ील्ड अगर गांधी जी की सजा के साथ यह भी जोड़ देते कि वे सजा के छह वर्षों तक सरकार के ख़िलाफ़ किसी भी प्रकार का लेखन कार्य भी नहीं करेंगे तो फिर महात्मा क्या करते ?


क्या यह न्यायसंगत नहीं होगा कि प्रशांत भूषण द्वारा एक रुपए का जुर्माना भरकर मुक्त होने के मुद्दे को करोड़ों लोगों की ओर से जनहित के मामलों में सुप्रीम कोर्ट में वकालत करने से तीन वर्षों के लिए वंचित हो जाने की पीड़ा भुगतने से बच जाने के रूप में लिया जाए ? अनुपम खेर या उनके जैसे तमाम लोग इस मर्म को इसलिए नहीं समझ पाएँगे कि प्रशांत भूषण किसी फ़िल्मी अदालत में ‘अपने निर्देशकों’ द्वारा पढ़ाई गई स्क्रिप्ट नहीं बोलते। और न ही जनहित से जुड़ी किसी कहानी में भी स्क्रिप्ट की माँग के अनुसार नायक और खलनायक दोनों की ही भूमिकाएँ स्वीकार करने को तैयार बैठे रहते हैं।


प्रशांत भूषण का पूरे विवाद से सम्मानपूर्वक बाहर निकलना इसलिए ज़रूरी था कि नागरिकों की ज़िंदगी और उनके अधिकारों से जुड़े कई बड़े काम सुप्रीम कोर्ट से बाहर भी उनकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। बिना किसी अपराध के जेलों में बंद लोगों को इस समय उनकी क़ानूनी सहायता और सांत्वना की सख़्त ज़रूरत है, जो कि ट्वीटर हैंडल पर उनके ख़िलाफ़ ट्रोल करने वाले कभी प्रदान नहीं कर सकते।साथ ही इसलिए भी ज़रूरी था कि अब प्रशांत भूषण उन तमाम लोगों का अदालतों में बचाव कर सकेंगे, जो अपने सत्ता-विरोधी आलोचनात्मक ट्वीट्स या लेखन के कारण अवमाननाओं के आरोप झेल सकते हैं।


जिस तरह की परिस्थितियाँ इस समय देश में है उसमें तीन साल तक एक ईमानदार वकील के मुँह पर ताला लग जाना यथा-स्थितिवाद विरोधी कई निर्दोष लोगों के लिए लम्बी सज़ाओं का इंतज़ाम कर सकता था। किन्ही दो-चार लोगों के आत्मीय सहारे के बिना तो केवल वे ही सुरक्षित रह सकते हैं, जो शासन-प्रशासन की ख़िदमत में हर वक्त हाज़िर रहते हैं।प्रशांत भूषण को अगर जुर्माने और सजा के बीच फ़ैसला करते वक्त अपनी अंतरात्मा के साथ किंचित समझौता करना पड़ा हो तो भी उन्होंने करोड़ों लोगों की आत्माओं को अब और ज़्यादा आज़ादी के साथ साँस लेने की स्वतंत्रता तो उपलब्ध करा ही दी है।क्या हमारे लिए इतनी उपलब्धि भी पर्याप्त नहीं?                  


सरकार ने केंद्र से मांगे ₹2,241 करोड़

हल्द्वानी। मानो या न मानो उत्तराखंड राज्य भारी अर्थसंकट से गुजर रहा है। हालात यह हैं कि डबल इंजन की सरकार होने की वजह से राज्य केंद्र से खुलकर अपनी बकाया राशि की मांग भी नहीं कर पा रहा है। सरकारी आंकड़े के अनुसार जीएसटी से राज्य सरकार को 2,241 करोड़ की क्षतिपूर्ति केंद्र से होनी चाहिए जो वर्तमान में लंबित है। हालांकि राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से मांग की है कि इस क्षतिपूर्ति को जल्द से जल्द से रिलीज किया जाए। आश्चर्य की बात यह है कि केंद्र सरकार यह क्षतिपूर्ति राज्य को लोन के रूप में देगी।                   


न्यूज पोर्टल को यूपी सरकार ने दी मान्यता

लखनऊ। उप्र सरकार द्वारा सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए वेब समाचार पोर्टल को मान्यता देते हुए सरकारी विज्ञापन भी जारी करने के आदेश दिए हैं। जिसमें सरकार द्वारा उ.प्र. सूचना विभाग के माध्यम से पोर्टल संचालकों से आवेदन मांगे गए हैं।


सूचना एवं जनसंपर्क विभाग उप्र द्वारा वेब समाचार पोर्टलों को मान्यता देते हुए वेब मीडिया विज्ञापन सूची हेतु आवेदन पत्र का प्रपत्र जारी किया गया है। सूचना विभाग के अनुसार समाचार पोर्टल के रजिस्टेªशन में वही पोर्टल संचालक आवेदन कर सकते हैं। जिनके वेब समाचार पोर्टल पर प्रतिमाह 50 हजार से अधिक हिट्स होते हैं। वेब पोर्टल दो साल से लगातार चल रहा हो। वेबसाइट का नाम एवं आईपी एडेªस न बदला गया हो। पोर्टल के संपादक-मालिक आपराधिक प्रवृत्ति के न हों।


वेब पोर्टल पर प्रतिमाह 50 हजार से अधिक यूजर्स होने चाहिए। वेब पोर्टल संचालकों को प्रतिमाह सूचना विभाग को पोर्टल से संबंधित हिट्स एवं यूजर्स की आधिकारिक जानकारी देनी होगी। विज्ञापन की दरें पोर्टल के बीते छह के प्रदर्शन के आधार पर तय होंगी। इसमें हिट्स और यूजर्स की संख्या अहम भूमिका निभाएगी। इसमें सरकार द्वारा वेब पोर्टल को केवल डिस्पले विज्ञापन ही जारी किए जाएंगे। सूचना विभाग द्वारा यह भी स्पष्ट किया गया कि यदि वेब समाचार पोर्टल द्वारा किसी भी अन्य गलत तरीके से यदि हिट्स और यूजर्स बढ़ाए जाते हैं तो उसकी विज्ञापन की मान्यता रद्द कर दी जाएगी। इसके साथ ही पोर्टल मान्यता के लिए स्वामी-संपादक को 100 रूपए के शपथ पत्र पर आवेदन करना होगा।


 

प्रेमी ने नाबालिक को बुलाया , गैंगरेप

कोटद्वार। उत्तराखंड की नाबालिग लड़की से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। कोटद्वार की रहने वाली नाबालिग लड़की से उत्तर प्रदेश में गैंगरेप करने वाले आरोपियों को पुलिस ने यूपी के बिजनौर जनपद से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक आरोपी युवक बिजनौर जनपद थाना क्षेत्र के नगीना समस्तीपुर के रहने वाले हैं। आरोपियों में से एक युवक को नाबालिग का प्रेमी बताया जा रहा है जिससे युवती की लंबे समय से बातचीत चल रही थी।
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक घटना 28 अगस्त की है। कहा जा रहा है कि नाबालिग का प्रेमी बताए जाने वाले युवक ने पहले नाबालिग को बहला फुसलाकर कोटद्वार से नगीना बुलाया।

फिर नगीना में एक गन्ने के खेत में ले जाकर शारीरिक शोषण किया। इस दौरान युवती और उसके प्रेमी को कुछ युवकों ने गन्ने के खेत में पकड़ लिया। फिर तीन युवकों ने भी युवती का बलात्कार कर डाला।               

संवेदना का उत्तम दृष्टांत 'कहानी'

*आज का प्रेरक प्रसङ्ग*


         !! संवेदनशीलता !!


एक पोस्टमैन ने एक घर के दरवाजे पर दस्तक देते हुए कहा,”चिट्ठी ले लीजिये।” अंदर से एक बालिका की आवाज आई,”आ रही हूँ।” लेकिन तीन-चार मिनट तक कोई न आया तो पोस्टमैन ने फिर कहा,”अरे भाई! मकान में कोई है क्या,अपनी चिट्ठी ले लो।” लड़की की फिर आवाज आई,”पोस्टमैन साहब,दरवाजे के नीचे से चिट्ठी अंदर डाल दीजिए,मैं आ रही हूँ।” पोस्टमैन ने कहा,”नहीं,मैं खड़ा हूँ,रजिस्टर्ड चिट्ठी है,पावती पर तुम्हारे साइन चाहिये।” करीबन छह-सात मिनट बाद दरवाजा खुला। 


पोस्टमैन इस देरी के लिए झल्लाया हुआ तो था ही और उस पर चिल्लाने वाला था लेकिन दरवाजा खुलते ही वह चौंक गया, सामने एक अपाहिज कन्या जिसके पांव नहीं थे,सामने थी। पोस्टमैन चुपचाप पत्र देकर और उसके साइन लेकर चला गया। हफ़्ते, दो हफ़्ते में जब कभी उस लड़की के लिए डाक आती, पोस्टमैन एक आवाज देता और जब तक वह कन्या न आती तब तक खड़ा रहता। एक दिन कन्या ने पोस्टमैन को नंगे पाँव देखा। 


दीपावली नजदीक आ रही थी। उसने सोचा पोस्टमैन को क्या ईनाम दूँ। एक दिन जब पोस्टमैन डाक देकर चला गया,तब उस लड़की ने, जहां मिट्टी में पोस्टमैन के पाँव के निशान बने थे, उन पर काग़ज़ रख कर उन पाँवों का चित्र उतार लिया। अगले दिन उसने अपने यहाँ काम करने वाली बाई से उस नाप के जूते मंगवा लिये। दीपावली आई और उसके अगले दिन पोस्टमैन ने गली के सब लोगों से तो ईनाम माँगा और सोचा कि अब इस बिटिया से क्या इनाम लेना? 


पर गली में आया हूँ तो उससे मिल ही लूँ। उसने दरवाजा खटखटाया। अंदर से आवाज आई,”कौन?” पोस्टमैन,उत्तर मिला। बालिका हाथ में एक गिफ्ट पैक लेकर आई और कहा,”अंकल,मेरी तरफ से दीपावली पर आपको यह भेंट है।” पोस्टमैन ने कहा,”तुम तो मेरे लिए बेटी के समान हो,तुमसे मैं गिफ्ट कैसे लूँ?” कन्या ने आग्रह किया कि मेरी इस गिफ्ट के लिए मना नहीं करें।” ठीक है कहते हुए पोस्टमैन ने पैकेट ले लिया। बालिका ने कहा,”अंकल इस पैकेट को घर ले जाकर खोलना।


घर जाकर जब उसने पैकेट खोला तो विस्मित रह गया,क्योंकि उसमें एक जोड़ी जूते थे।उसकी आँखें भर आई। अगले दिन वह ऑफिस पहुंचा और पोस्टमास्टर से फरियाद की कि उसका तबादला फ़ौरन कर दिया जाए। पोस्टमास्टर ने कारण पूछा, तो पोस्टमैन ने वे जूते टेबल पर रखते हुए सारी कहानी सुनाई और भीगी आँखों और रुंधे कंठ से कहा,”आज के बाद मैं उस गली में नहीं जा सकूँगा। उस अपाहिज बच्ची ने तो मेरे नंगे पाँवों को तो जूते दे दिये पर मैं उसे पाँव कैसे दे पाऊँगा?”


शिक्षाः संवेदनशीलता का यह श्रेष्ठ दृष्टांत है। संवेदनशीलता… यानि,दूसरों के दुःख-दर्द को समझना,अनुभव करना और उसके दुःख-दर्द में भागीदारी करना,उसमें सम्मलित होना। यह ऐसा मानवीय गुण है जिसके बिना इंसान अधूरा है। ईश्वर से प्रार्थना है कि वह हमें संवेदनशीलता रूपी आभूषण प्रदान करें।


दुनिया-भर में कोरोना का कहर जारी

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है. दुनिया के 200 देशों में फैल चुके कोरोना वायरस 'कोविड 19' का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। दुनियाभर में अबतक कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2.58 करोड़ तक पहुंच गया है। पिछले 24 घंटों में दुनिया में 2 लाख 57 हजार नए मामले सामने आए हैं और 5 हजार 846 लोगों की जान चली गई है। दुनियाभर में अबतक 2 करोड़ 58 लाख 89 हजार लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इसमें से 8 लाख 60 हजार 270 लोगों ने अपनी जान गंवाई है तो वहीं 1 करोड़ 81 लाख लोग ठीक भी हुए हैं। पूरी दुनिया में 68 लाख 58 हजार एक्टिव केस हैं यानी कि फिलहाल इतने लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है।             


पेट्रोल-डीजल के तेजी से बढ़ रहे है रेट

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। पेट्रोल की कीमत में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। यह पिछले 2 हफ्ते में 1.65 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है। तेल कंपनियों ने सभी शहरों में पेट्रोल के दाम में इजाफा किया है। हालांकि डीजल के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है और वह पिछले एक महीने से स्थिर है। बुधवार (2 सितंबर) को दिल्ली में पेट्रोल 82.08 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है, वहीं मुंबई में 88.73 रुपये प्रति लीटर, चेन्नई में 85.04 रुपये प्रति लीटर और कोलकाता में 83.57 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है।


डीजल की बात की जाए तो दिल्ली में डीजल 73.56 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। मुंबई में डीजल 80.11, कोलकाता में डीजल 77.06 रुपये और चेन्नई में डीजल 78.86 रुपये बिक रहा है।


अन्य प्रमुख शहरों में पेट्रोल की कीमत (02 सितंबर, 2020)


आगरा- 82.06 रुपये/लीटर
अहमदाबाद- 79.46 रुपये/लीटर
इलाहाबाद- 82.32 रुपये/लीटर
औरंगाबाद- 89.89 रुपये/लीटर
बेंगलुरु- 84.75 रुपये/लीटर
भोपाल- 89.75 रुपये/लीटर
भुवनेश्वर- 82.64 रुपये/लीटर
चंडीगढ़- 78.96 रुपये/लीटर


अन्य प्रमुख शहरों में डीजल की कीमत (02 सितंबर, 2020)


आगरा- 73.51 रुपये/लीटर
अहमदाबाद- 79.11 रुपये/लीटर
प्रयागराज- 73.86 रुपये/लीटर
औरंगाबाद- 81.28 रुपये/लीटर
बेंगलुरु- 77.88 रुपये/लीटर
भोपाल- 81.26 रुपये/लीटर
भुवनेश्वर- 80.03 रुपये/लीटर
चंडीगढ़- 73.21 रुपये/लीटर


पेट्रोल की कीमत 2018 में पहुंची थी सबसे ऊपर


तेल कंपनियां पूरे देश में समान रूप से दाम बढ़ाती हैं लेकिन राज्यों में इन दोनों ईंधनों पर अलग अलग दर से बिक्री कर अथवा मूल्य वर्धित कर (वैट) लगने से खुदरा दाम अलग अलग होते हैं।             


जनपद में होम आइसोलेशन की अनुमति दी

अल्मोड़ा। कोविड—19 से संक्रमित रोगियों को अब अल्मोड़ा जिले में भी होम आइसोलेशन की सुविधा मिलेगी। बशर्ते रोगी लक्षणरहित हो और घर में होम आइसोलेशन की शर्तो के अनुसार सुविधा हो। यह बात जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने कही है। जिला अधिकारी ने मंगलवार को स्वास्थ्य महकमे की बैठक लेते हुए यह बात कही। उन्होंने जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोत्तरी को देखते हुए स्वास्थ्य महकमे को सावधान किया है और पहले से अधिक सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।
बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि शासन द्वारा जारी दिशा—निर्देशों के अनुसार होम आइसोलेशन के लिए कोविड—19 से संक्रमित रोगी को चिकित्सक की अनुमति लेना जरूरी है। उपचार प्रदान करने वाले चिकित्सक द्वारा होम आइसोलेशन के लिए पात्र व्यक्ति को लक्षणरहित रोगी के रूप मे चिन्हित किया होना चाहिए। इसके अलावा घर में रोगी की 24 घंटे देखभाल करने वाला तीमारदार उपलब्ध हो। रोगी के निवास पर स्वयं को आइसोलेट करने एवं परिजनों को कोरेन्टीन करने की सुविधा हो। घर मे रोगी के लिए एक अलग से शौचालय युक्त कक्ष होना भी अनिवार्य है। तभी होम आइसोलेशन की सुविधा दी जा सकती है। जिलाधिकारी ने बताया कि होम आइसोलेट व्यक्ति को आइसोलेशन अवधि के दौरान चिकित्सालय से सम्पर्क बनाये रखना होगा और 60 साल से अधिक उम्र के रोगी, किसी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति, गर्भवती महिला, 10 साल से कम उम्र के बच्चे, एचआईवी ग्रसित, अंग प्रत्यारोपित किया व्यक्ति तथा कैंसर का उपचार करा रहा रहे कमजोर व्यक्तियों को होम आइसोलेशन की अनुमति नहीं दी जायेगी।
उन्होंने यह भी बताया कि अगर कोई कोरोना पाॅजिटिव व्यक्ति स्वंय के खर्चे पर होटल में आइसोलेट होना चाहता है, तो उसे होटल में आइसोलशन की अनुमति दी जाएगी बशर्ते उसे गाईडलाइन का पूर्ण पालन करना होगा। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि कान्टेक्ट ट्रैसिंग पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है और सैंपलिग को और बढाकर संक्रमण को रोका जा सकता है।           


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण




यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)









 सितंबर 3, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-20 (साल-02)
2  बृहस्पतिवार, अगस्त 3, 2020
3. शक-1943, अश्विन, कृृष्ण-पक्ष, श्राद्ध पक्ष, तिथि- प्रतिपदा, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:28, सूर्यास्त 07:10


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275                                


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                                       







जेडीयू को भी मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए

अविनाश श्रीवास्तव    पटना। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार और उसमें जनता दल यूनाइटेड के शामिल होने की अटकलों के बीच जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिं...