गुरुवार, 10 मार्च 2022

यूपी: पूर्ण बहुमत हासिल किया, पीएम ने दी बधाई

यूपी: पूर्ण बहुमत हासिल किया, पीएम ने दी बधाई   
अकाशुं उपाध्याय/हरिओम उपाध्याय/बृजेश केसरवानी/संदीप मिश्र
    
नई दिल्ली/लखनऊ। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव में भाजपा ने पंजाब को छोड़कर बाकी चार राज्यों में प्रचंड जीत हासिल की है। गोवा में भाजपा ने 40 सीटों में से 18 सीट हासिल कर ली है, कांग्रेस को 12 सीटों पर संतोष करना पड़ा, 10 सीटों पर अन्य जीत हासिल करने में सफल रहें। वही, मणिपुर की कुल 60 सीटों में से भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 7 और अन्य ने 22 सीटों पर जीत हासिल की।
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा ने पुनः पूर्ण बहुमत हासिल करने में सफलता प्राप्त कर ली है। साथ ही प्रदेश में पिछले 35 वर्षों से प्रत्येक पंचवर्षीय योजना के बाद दल एवं मुख्यमंत्री परिवर्तन होता रहा है। किंतु विधानसभा चुनाव 2022 में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में यह मिथक टूट गया है। योगी आदित्यनाथ पुनः प्रदेश की सरकार की कमान संभालेंगे। प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों में से भाजपा को 269 सपा गठबंधन 124 व 10 सीटों पर अन्य के द्वारा जीत हासिल की गई। 
देखें प्रदेश की लिस्ट...
आगरा कैंट- जीएस धर्मेश (भाजपा)
आगरा नॉर्थ- पुरोषोत्तम खंडेलवाल (भाजपा)
आगरा ग्रामीण- बेबी रानी मौर्य (भाजपा)
आगरा साउथ- योगेंद्र उपाध्याय (भाजपा)
अजगरा- त्रिभुवन राम (भाजपा)
अकबरपुर- राम अचल राजभर (सपा)
अकबरपुर रानिया- प्रतिभा शुक्ला (भाजपा)
अलापुर- त्रिभुवन दत्त (सपा)
अलीगंज- सत्यपाल राठौड (भाजपा)
अलीगढ़- जफर आलम (सपा)
इलाहाबाद नार्थ- हर्षवर्धन बाजपेयी (भाजपा)
इलाहाबाद साउथ- नंद गोपाल नंदी (भाजपा)
इलाहाबाद वेस्ट- सिद्धार्थ नाथ सिंह (भाजपा)
अमनपुर- हरीओम (भाजपा)
अमेठी- महाराजा प्रजापति (सपा)
अमृतपुर- सुशील शाक्य (भाजपा)
अमरोहा- महबूब अली (सपा)
अनूपशहर- संजय शर्मा (भाजपा)
ओनला- धर्मपाल सिंह (भाजपा)
आर्यनगर- सुरेश अवस्थी (भाजपा)
असमोली- पिंकी सिंह (सपा)
अतरौली- संदीप सिंह (भाजपा)
अतरौलिया- डॉ संगम (सपा)
ओरई- अंजनी (सपा)
ओरैया- गुडिया कथेरिया (भाजपा)
अयाह शाह- विवके गुप्ता (भाजपा)
अयोध्या- वेद प्रकाश (भाजपा)
आजमगढ़- दुर्गा प्रसाद (सपा)
बाबागंज- विनोद कुमार (जेडीएल)
बाबेरू- विशंभर सिंह यादव (सपा)
बबीना- राजीव सिंह (भाजपा)
बछरावन- श्याम सुंदर (सपा)
बदायूं- महेशचंद्र गुप्ता (भाजपा)
बदलापुर- रमेशचंद मिश्रा (भाजपा)
बागपत- योगेश धामा (भाजपा)
बाह- रानी पक्षालिखा (भाजपा)
बहेडी- अताउरर्हमान (सपा)
बहराइच- यासर शाह (सपा)
बेरिया-जय प्रकाश अंचल (सपा)
बख्शी का तालाब- योगेश शुक्ला (भाजपा)
बालामऊ- रामपाल वर्मा (भाजपा)
बलदेव- पूरण प्रकाश (भाजपा)
बलहा- सरोज सोनकर (भाजपा)
बलियानगर- दयाशंकर सिंह (भाजपा)
बलरामपुर- पलटूराम (भाजपा)
बांदा- प्रकाश द्विवेदी (भाजपा)
बांगरमऊ- श्रीकांत कटियार (भाजपा)
बंशडीह- केतकी सिंह (भाजपा)
बंशगांव- विमलेश पासवान (भाजपा)
बंशी- जय प्रताप सिंह (भाजपा)
बारा- वाचस्पति (अपना दल एस)
बाराबंकी- धर्मराज यादव (सपा)
बरौली- जयवीर सिंह (भाजपा)
बड़ौत- जयवीर (राष्ट्रीय लोकदल)
बरेली- अरुण कुमार (भाजपा)
बरेली कैंट- संजीव अग्रवाल (भाजपा)
बरहाज- दीपक कुमार (भाजपा)
बरहापुर- कपिल कुमार (सपा)
बरखेड़ा- जयद्रथ (भाजपा)
बस्ती सदर- दयाराम चौधरी (भाजपा)
बेहट- उमर अली खान (सपा)
बेलथारा रोड- हंसू राम (सुहेलदेव समाज पार्टी)
भदौही- रविंद्र नाथ त्रिपाठी (भाजपा)
भगवंतनगर- आशुतोष शुक्ला (भाजपा)
भरथाना- राघवेंद्र कुमार (सपा)
भटपर रानी- सभाकुंवर (भाजपा)
भिंगा- इंद्रानी देवी (सपा)
भोगनीपुर- राकेश सचान (भाजपा)
भोजीपुरा- साजिल इस्लाम (सपा)
भोजपुर- नागेंद्र सिंह (भाजपा)
भनगांव- रामनरेश (भाजपा)
बिधुना- रेख वर्मा (सपा)
बिजनौर-सुचि (भाजपा)
बिकापुर- अमित सिंह (भाजपा)
बिलारी- फहीम इरफान (सपा)
बिलासपुर-अमरजीत सिंह (सपा)
बिलग्राम-मल्लानवन- आशीष कुमा सिंह (भाजपा)
बिल्हौर- मोहित सोनकर (भाजपा)
बिल्सी- हरीशचंद्र (भाजपा)
बिंदकी- जय कुमार सिंह (अपना दल एस)
बिलासपुर- विवेक कुमार (भाजपा)
बिसौली- कुशाग्र सागर (भाजपा)
बिसवान- निर्मल वर्मा (भाजपा)
बिथारी चैनपुर- राघवेंद्र शर्मा (भाजपा)
बिठूर- अभिजीत सिंह (भाजपा)
बुढ़ाना- राजपाल बालियान (राष्ट्रीय लोकदल)
बुलंदशहर- प्रदीप कुमार चौधरी (भाजपा)
कैम्पियारगंज- फतेह बहादुर (भाजपा)
छैल- पूजा पाल (सपा)
चकिया- कैलाश (भाजपा)
चमराऊ- नसीर अहमद (सपा)
चंदौसी- गुलाब देवी (भाजपा)
चांदपुर- स्वामी ओमवेश (सपा)
चरखारी- ब्रजभूषण राजपूत (भाजपा)
चरथावल- पंकज मलिक (सपा)
चौरीचौरा- श्रवण कुमार (भाजपा)
छानबे- राहुल प्रकाश (अपना दल एस)
छपरौली-अजय कुमार (राष्ट्रीय लोकद)
छर्रा- रावेंद्र पाल (भाजपा)
छाता- लक्ष्मी नारायण (भाजपा)
छिबरामऊ- अर्चना पांडे (भाजपा)
चिल्लूपर- राजेश त्रिपाठी (भाजपा)
चित्रकूट- अनिल कुमार (सपा)
चुनार- अनुराग सिंह (भाजपा)
कर्नलगंज- अजय (भाजपा)
दादरौल- मानवेंद्र सिंह (भाजपा)
दादरी- तेजपाल नागर (भाजपा)
दरियाबाद- सतीशचंद्र (भाजपा)
दातागंज- राजीव सिंह (भाजपा)
डिबाई-चंद्रपाल सिंह (भाजपा)
देवबंद- ब्रजेश (भाजपा)
देवरिया- शलभ मणि (भाजपा)
धामपुर- नईम हसन (सपा)
धनौरा- राजीव कुमार (भाजपा)
धनघाट- गणेशचंद (भाजपा)
धौरहरा- विनोद सोनकर (भाजपा)
धोलाना- धर्मेंश सिंह (भाजपा)
दिबियापुर- लखन सिंह (भाजपा)
दीदारगंज- कमलकांत (सपा)
डूमरियागंज- सादिया (सपा)
दुद्धी- रामदुलार (भाजपा)
एटा- विपिन कुमार (भाजपा)
इटावा- सरिता (भाजपा)
एत्मादपुर- धर्मपाल सिंह (भाजपा)
फरीदपुर- श्याम बिहारी (भाजपा)
फर्रुखाबाद- मनोज सुनील (भाजपा)
फतेहाबाद- छोटे लाल (भाजपा)
फतेहपुर- चंद्र प्रकाश (सपा)
फतेहपुर सीकरी- बाबूलाल (भाजपा)
फाजिलनगर- सुरेंद्र कुशवाहा (भाजपा)
फिरोजाबाद- मनीष असिजा (भाजपा)
गैंसरी- शैलेश कुमार (भाजपा)
गंगोह- कीरत सिंह (भाजपा)
गरौठा- जवाहर लाल (भाजपा)
गढ़मुक्तेश्वर- हरेंद्र सिंह (भाजपा)
गौरा- प्रभात कुमार (भाजपा)
गौरीगंज- राकेश प्रतार (सपा)
घाटमपुर- सरोज (अपना दल एस)
गाजियाबाद- अतुल गर्ग (भाजपा)
गाजीपुर- संगीता बलवंत (भाजपा)
घोरावल- अनिल मौर्या (भाजपा)
घोसी- दारा सिंह (सपा)
गोला- अरविंद गिरी (भाजपा)
गोंडा- प्रतीक भूषण (भाजपा)
गोपालपुर- नफीस अहमद (सपा)
गोपामऊ- स्याम प्रकाश (भाजपा)
गोरखपुर ग्रामीण- बिपिन सिंह (भाजपा)
गोरखपुर शहरी- आदित्यनाथ योगी (भाजपा)
गोशैनगंज- अभय सिंह (सपा)
गोवर्धन- मेघश्याम (भाजपा)
गोविंदनगर- सुरेंद्र मिठानी (भाजपा)
गुन्नौर-रामखिलाडी सिंह (भाजपा)
ज्ञानपुर- विपुल दुबे (निषाद पार्टी)
हैदरगढ़- दिनेश रावत (भाजपा)
हमीरपुर- मनोज कुमार (भाजपा)
हंडिया- हकीम लाल (सपा)
हापुड़- विजय पाल (भाजपा)
हरचंदपुर- राहुल राजपूत (सपा)
हरदोई- नितिन (भाजपा)
हरगांव- सुरेश राही (भाजपा)
हरैया- अजय सिंह (भाजपा)
हसनपुर- महेंद्र (भाजपा)
हस्तिनापुर- दिनेश (भाजपा)
हाटा – मोहन (भाजपा)
हाथरस- अंजुला सिंह (भाजपा)
हुसैनगंज- उषा मौर्य (सपा)
इगलास-राजकुमार (भाजपा)
इसौली- ओम प्रकाश (भाजपा)
इटवा- माता प्रयाद पांडेय (सपा)
जदीशपुर- सुरेश कुमार (भाजपा)
जहानाबाद- राजेंद्र सिंह (भाजपा)
जखानियां- बेदी (सुभाषपा)
जलालाबाद- हरी प्रकाश (भाजपा)
जलालपुर- राकेश पांडे (सपा)
जलेसर- रंजीत सुमन (सपा)
जंगीपुर- वीरेंद्र यादव (सपा)
जसराना- सचिन यादव (सपा)
जसवंतनगर- शिवपाल यादव (सपा)
जौनपुर- अरशद खान (सपा)
जेवर- धीरेंद्र सिंह (भाजपा)
झांसी- रवि शर्मा (भाजपा)
कादीपुर- राजेश कुमार (भाजपा)
कैमगंज- सुरभि (अपना दल एस)
कैराना- नाहिद हसन (सपा)
कैसरगंज- आनंद कुमार (सपा)
कालपी-छोटे सिंह (निषाद पार्टी)
कल्याणपुर- नीलिमा कटियार (भाजपा)
कन्नौज- असीम अरुण (भाजपा)
कानपुर कैंट- मौहम्मद हसन (सपा)
कांठ- कमाल अख्तर (सपा)
कपिलवस्तु- श्यामधानी राही (भाजपा)
कप्तानगंज- कविंद्र चौधरी (सपा)
कराछना- पीयूष रंजन (भाजपा)
करहल- अखिलेश यादव (सपा)
कासगंज- देवेंद्र सिंह (भाजपा)
कस्ता- सौरभ सिंह (भाजपा)
कटेहारी- लालजी वर्मा (सपा)
कटरा- राजेश यादव (सपा)
कटरा बाजार- बवन सिंह (भाजपा)
काराकट- तूफानी सरोज (सपा)
खड्डा- विवेद पांडे (निषाद)
खागा- कृष्णा पासवान (भाजपा)
खैर- अनूप सिंह (भाजपा)
खिजानी- श्रीराम चौहान (भाजपा)
खलीलाबाद- दिग्विजय नारायण (सपा)
खतौली- विक्रम सिंह (भाजपा)
खेरागढ़- भगवान सिंह (भाजपा)
खुर्जा- मीनाक्षी सिंह (भाजपा)
किदवई नगर- महेश त्रिवेदी (भाजपा)
किशनी- ब्रजेश कठारिया (सपा)
किठौर- शाहिद मंजूर (सपा)
कोइल- अनिल पराशर (भाजपा)
कोरांव- राजमनी (भाजपा)
कुण्डा- रघुराज प्रतार सिंह (जेडीएल)
कुंदरकी- जियाउरर्हमान (सपा)
कुरसी- सकेंद्र प्रताप (भाजपा)
कुशीनगर- पानचंद पाठक (भाजपा)
लहरपुर- अनिल वर्मा (भाजपा)
लखीमपुर- उत्कर्ष वर्मा (सपा)
लालगंज- बेचई (सपा)
ललितपुर- रामरतन (भाजपा)
लंभुआ- सीताराम वर्मा (भाजपा)
लोनी-नंदकिशोर (भाजपा)
लखनऊ कैंट- ब्रजेश पाठक(भाजपा)
लखनऊ सेंट्रल- रविदास (सपा)
लखनऊ पूर्व- आशुतोष टंडन (भाजपा)
लखनऊ उत्तर- पूजा शुक्ला (सपा)
लखनऊ पश्चिम- अंजनी कुमार (भाजपा)
मछलीशहर- डॉ रागिनी (सपा)
मधुआगढ़- मूल चंद्र (भाजपा)
मधुबन- राम बिलास (भाजपा)
महादेव- दूधराम (सुभासपा)
महाराजगंज- जय मंगल (भाजपा)
महाराजपुर- सतीश महाना (भाजपा)
महासी- सुरेशस्वर सिंह (भाजपा)
महमूदाबाद- आशा मौर्या (भाजपा)
महोबा- राकेश कुमार (भाजपा)
महोली- शशांक त्रिवेदी (भाजपा
मैनपुरी- जयवीर सिंह (भाजपा)
मझवां- विनोद कुमार (निषाद)
मल्हानी- लकी यादव (सपा)
मलिहाबाद-जयदेवी (भाजपा)
मानिकपुर- अवीनाश चंद्र (अपना दल एस)
मंझनपुर- इंद्रजीत सरोज (सपा)
मनकपुर- रामापति शास्त्री (भाजपा)
मांट- राजेश चौधरी (भाजपा)
मरहारा- वीरेंद्र सिंह (भाजपा)
मरिहन- रमाशंकर (भाजपा)
मरियाहू- सुषमा पटेल (सपा)
माटेरा- मारिया (सपा)
मथुरा- श्रीकांत शर्मा (भाजपा
मऊ- अब्बास अंसारी (सुभासपा)
मौरानीपुर- रश्मि आर्य (अपना दल एस)
मीरापुर- चंदन चौहान (राष्ट्रीय लोकदल)
मीरगंज- डीसी वर्मा (भाजपा)
मेरठ- रफीक अंसारी (सपा
मेरठ कैंट- अमित अग्रवाल (भाजपा)
मेरठ दक्षिण- सोमेंद्र सिंह (भाजपा)
मेघनगर- पूजा (सपा)
महनौन- विनय कुमार (भाजपा)
महरोनी- मनोहर लाल (भाजपा)
मेजा- संदीप सिंह (सपा)
मेंहदावल- अनिल कुमार (निषाद)
मिल्कीपुर-अवधेश प्रसाद (सपा)
मिर्जापुर- पटनाकर मिश्रा (भाजपा)
मिश्रिख-रामकृष्ण (भाजपा)
​​मोदीनगर-मंजू शिवाच (भाजपा)
मोहम्मदाबाद- सुहेब अंसारी (सपा)
मोहम्मदी- लोकेंद्र प्रताप (भाजपा)
मोहन- ब्रजेश कुमार (भाजपा)
मोहनलालगंज- अमरेश कुमार (भाजपा)
मुरादाबाद नगर- यूसुफ अंसारी (सपा)
मुरादाबाद ग्रामीण- नासिर (सपा)
मुबारिकपुर- अखिलेश (सपा)
मुगलसराय- रमेश जायसवाल (भाजपा)
मोहम्मदाबाद गोहना- राजेंद्र कुमार (सपा)
मुंगरा बादशाहपुर- अजय शंकर (भाजपा)
मुरादनगर- अजित पाल त्यागी (भाजपा)
मुजफ्फरनगर (सदर)- कपिल देव (भाजपा)
नगीना- मनोज पारस (सपा)
नजीबाबाद- तसलीम अहमद (सपा)
नकुड- मुकेश चौधरी (भाजपा)
नानपारा- रामविलास (अपना दल एस)
नारायणी- ओमानी वर्मा (भाजपा)
नौगवां सादात- समरपाल सिंह (सपा)
नौतनवा- ऋषि (निषाद)
नवाबगंज- एमपी आर्य (भाजपा)
नेहटौर- ओम कुमार (भाजपा)
निघासन-शशांक वर्मा (भाजपा)
निजामाबाद- आलम बदी (सपा)
नोएडा- पंकज सिंह (भाजपा)
नूरपुर- राम अवतार सिंह (सपा)
ओबरा- संजीव कुमार (भाजपा)
उरई- गौरी शंकर (भाजपा)
पडरौना- मनीष कुमार (भाजपा)
पलिया- हरवेंद्र कुमार (भाजपा)
पनियारा- ज्ञानेंद्र सिंह (भाजपा)
पथरदेव- सूर्य प्रताप (भाजपा)
पटियाली- नादिरा सुल्तान
पट्टी- राम सिंह (सपा)
पयागपुर- सुभाष त्रिपाठी (भाजपा)
फाफामऊ-गुरुप्रसाद मौर्य (भाजपा)
फरेंदा- वीरेंद्र चौधरी (कांग्रेस)
फेफना- संग्राम सिंह (सपा)
फूलपुर पवई- रमाकांत (सपा)
फूलपुर- मुज्तबा सिद्दीकी (सपा)
पीलीभीत- संजय सिंह (भाजपा)
पिंडरा- अवधेश कुमार (भाजपा)
पिपराइच- महेंद्र पाल सिंह
पवयन- चेतराम (भाजपा)
प्रतापगढ़-राजेंद्र कुमार (भाजपा)
प्रतापपुर- विजामा यादव (सपा)
पूरनपुर- बाबूराम (भाजपा)
पुरकाजी- अनिल कुमार (राष्ट्रीय लोकदल)
पुरवा- अनिल कुमार (भाजपा)
रायबरेली- अदिति सिंह (भाजपा)
राम नगर- फरीद महफूज (सपा)
रामकोला- विनय प्रकाश (भाजपा)
रामपुर- आजम खान (सपा)
रामपुर कारखाना- सुरेंद्र चौरसिया (भाजपा)
रामपुर खास- अराधना मिश्रा (कांग्रेस)
रामपुर मनिहारन- देवेंद्र कुमार (भाजपा)
रानीगंज- राकेश कुमार (सपा)
रसडा- उमाशंकर सिंह (बसपा)
रसूलाबाद- पूनम शकवार (भाजपा)
रथ- मनीषा (भाजपा)
रॉबर्ट्सगंज- भूपेश चौबे (भाजपा)
रोहनिया- सुनील पटेल (अपना दल एस)
रुदौली- रामचंद्र (भाजपा)

पंजाब: आप 92, कॉन्ग्रेस 19, गठबंधन 5 सीटें

पंजाब: आप 92, कॉन्ग्रेस 19, गठबंधन 5 सीटें
अमित शर्मा   
चंडीगढ़। आखिरकार, पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 की मतगणना में आम आदमी पार्टी बहुमत मिल गया है। पार्टी ने अब तक 91 सीटें जीत ली हैं और वह एक पर आगे है। आप के सीएम फेस भगवंत मान संगरूर की धूरी सीट से जीत गए हैं। कपूरथला में कांग्रेस के राणा गुरजीत सिंह जीत गए हैं। उनके पुत्र भी निर्दलीय उम्‍मीदवार के तौर पर जीत गए हैं। पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्‍नी भदौड़ में हार गए हैं। अमृतसर पूर्वी से नवजोत सिंह सिद्धू भी हार गए हैं। 
पंजाब विधाानसभा चुनाव की मतगणना में अब तक(शाम सात बजे तक) 116 सीटों के नतीजे घोषित हुए हैं। इसमें से आम आदमी पार्टी को 92 सीटों पर जीत मिली है और एक सीट पर वह आगे चल रही है। कांग्रेस को 19 सीटों पर कामयाबी मिली है। शिअद बसपा गठबंंधन को 5 सीटें मिली हैं।

भाजपा 48, कांग्रेस 18, 2-2 निर्दलीय-बसपा: यूके

भाजपा 48, कांग्रेस 18, 2-2 निर्दलीय व बसपा: यूके

कृष्णा रावत डोभाल  

देहरादून। आखिरकार 10 मार्च का दिन उत्तराखंड में नई सरकार का परिदृश्य लेकर आया है, जनता ने अपने नुमाइंदे अगले 5 साल के लिए विधानसभा में भेज दिए हैं , बस अब इंतजार है नई सरकार के गठन का, जिस की कवायद आने वाले कुछ दिनों में पूरी हो जाएगी ऐसे में सबकी उत्सुकता बनी रहती है कि उत्तराखंड की किस सीट से कौन जीता। देखें उत्तराखंड की 70 सीटों का हाल, आपका वोट आपकी सरकार। भाजपा के खाते में 48 सीटें आई है कांग्रेस को कुल 18 सीटें मिली है, चार अन्य को मिली है।

देखिए पूरी लिस्ट

अल्मोड़ा- कैलाश शर्मा (बीजेपी)

रानीपुर- आदेश चौहान (बीजेपी)

बद्रीनाथ- राजेंद्र सिंह भंडारी (cong)

बागेश्वर – चंदन राम दास ( बीजेपी)

बाजपुर- यशपाल आर्य (cong)

भगवानपुर- ममता राकेश (cong)

भीमताल- राम सिंह खेरा (बीजेपी)

चकराता- प्रीतम सिंह (cong)

चंपावत – कैलाश चंद्र (बीजेपी)

चौबत्तखाल- सतपाल महाराज (बीजेपी)

देहरादून कैंट- सविता कपूर(बीजेपी)

देवप्रयाग- विनोद कंडारी (बीजेपी)

धनोल्टी- प्रीतम सिंह पंवार (बीजेपी)

धरमपुर- विनोद चमोली (बीजेपी)

धारचूला- हरीश सिंह धामी ( cong)

डोईवाला- बृज भूषण गैरोला (बीजेपी)

डीडीहाट- बिशन सिंह चुफाल (बीजेपी)

द्वाराहाट – मदन सिंह बिष्ट (cong)

गदरपुर- अरविंद पांडे (बीजेपी)

गंगोलीहाट – फकीर राम (बीजेपी)

गंगोत्री – सुरेश सिंह चौहान (बीजेपी)

घनसाली- शक्ति लाल शाह (बीजेपी)

हल्द्वानी – सुमित हृदेश (cong)

हरिद्वार – मदन कौशिक (बीजेपी)

हरिद्वार ग्रामीण – अनुपमा रावत (cong)

जागेश्वर- मोहन सिंह (बीजेपी)

जसपुर – आदेश सिंह चौहान (cong)

झबरेड़ा – वीरेंद्र कुमार (cong)

ज्वालापुर- रवि बहादुर (cong)

कालाढूंगी – बंशीधर भगत (cong)

कपकोट- सुरेश गढ़िया (बीजेपी)

कर्णप्रयाग – अनिल नौटियाल (बीजेपी)

काशीपुर- त्रिलोक सिंह चीमा ( बीजेपी)

केदारनाथ- शैला रानी रावत (बीजेपी)

खानपुर- उमेश शर्मा (निर्दलीय)

खटीमा- भुवन चंद्र कापडी (cong)

किच्छा- तिलक राज बेहड़ (cong)

कोटद्वार- रितु खंडूरी (bjp)

लक्सर- शहजाद (bsp)

लाल कुआं- मोहन सिंह बिष्ट (bjp)

लैंसडाउन- दिलीप रावत (bjp)

लोहाघाट- खुशाल सिंह (cong)

मंगलौर – सरवत करीमअंसारी (bsp)

मसूरी- गणेश जोशी (bjp)

नैनीताल – सरिता आर्या (bjp)

नानकमत्ता- गोपाल सिंह राणा (cong)

नरेंद्र नगर – सुबोध उनियाल (bjp)

पौड़ी – राजकुमार पोरी (bjp)

पिरान कलियर – फुरकान अहमद (cong)

पिथौरागढ़ – मयूख महर (cong)

प्रताप नगर – विक्रम सिंह नेगी (cong)

पुरोला – दुर्गेश्वर लाल (bjp)

रायपुर- उमेश शर्मा काऊ (bjp)

राजपुर रोड – खजान दास (bjp)

रामनगर- दीवान सिंह बिष्ट (bjp)

रानीखेत- प्रमोद नैनवाल (bjp)

ऋषिकेश- प्रेमचंद्र अग्रवाल (बीजेपी)

रुड़की – प्रदीप बत्रा (बीजेपी)

रुद्रप्रयाग- भरत सिंह चौधरी (बीजेपी)

रुद्रपुर- शिव अरोड़ा (बीजेपी)

सहसपुर- सहदेव सिंह पुंडीर (बीजेपी)

सल्ट- महेश जीना (बीजेपी)

सितारगंज – सौरभ बहुगुणा (बीजेपी)

सोमेश्वर- रेखा आर्य (बीजेपी)

श्रीनगर – धन सिंह रावत (बीजेपी)

टिहरी – किशोर उपाध्याय (बीजेपी)

थराली- भोपाल राम टम्टा(बीजेपी)

विकास नगर- मुन्ना सिंह चौहान (बीजेपी)

यम्केश्वर- रेनू बिष्ट (बीजेपी)

यमुनोत्री- संजय डोभाल ( निर्दलीय)

वहीं इन नतीजों में भाजपा के पाले में 47 सीटें, कांग्रेस 19 सीटों पर सिमटी। साथ ही दो सीटों पर निर्दलीय और दो पर बसपा कब्जा जमाने में कामयाब हुई।

सच्चा सपूत और देशभक्त है संयोजक केजरीवाल

सच्चा सपूत और देशभक्त है संयोजक केजरीवाल     

अमित शर्मा       
चंडीगढ़। पंजाब में आम आदमी पार्टी की प्रचंड जीत पर पार्टी के राष्‍ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमने ईमानदार राजनीति की शुरूआत की। लोगों के काम की शुरुआत की है। यह इतना आसान नहीं है। यह सारे मिलकर हम लोगों को रोकना चाहते हैं। पंजाब में कितने बड़े-बड़े षड्यंत्र हुए और आप के खिलाफ इकट्ठे हो गए। अंत में यह बोले कि केजरीवाल आतंकवादी है।
राष्‍ट्रीय संयोजक ने कहा कि इन नतीजों के जरिए जनता ने बोल दिया कि केजरीवाल आतंकवादी नहीं है, बल्कि देश का सच्चा सपूत और देशभक्त है।
केजरीवाल ने कहा कि पंजाब में यह बहुत बड़ा इंकलाब है। पंजाब में बड़ी-बड़ी कुर्सियां हिल गईं। सुखबीर सिंह बादल, कैप्टन अमरिंदर सिंह, चरणजीत सिंह चन्नी, प्रकाश सिंह बादल, नवजोत सिंह सिद्धू, बिक्रम सिंह मजीठिया हार गए। यह बहुत बड़ा इंकलाब है।
दिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि पूरे देश में इस बात को स्वीकारा जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल का काम करने का जो मॉडल है, वह अब राष्ट्रीय हो गया है। पंजाब के लोगों ने वोट नहीं दिया है, बल्कि मौका दिया है अरविंद केजरीवाल को। लोगों को अब विकल्प मिल गया है।

उल्लेखित मामलों पर चालान प्रस्तुत एवं कार्रवाई

उल्लेखित मामलों पर चालान प्रस्तुत एवं कार्रवाई     

दुष्यंत टीकम      
रायपुर। विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि बहुत सी घटनाओं का जवाब नहीं आया है। स्थगन प्रस्ताव को ग्राह्य कर चर्चा कराई जाए। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू स्थगन पर जवाब देते हुए कहा कि उल्लेखित मामलों पर चालान प्रस्तुत किया जा चुका है, और कार्रवाई जारी है। यह कहना सही नहीं कि अपराधियों को संरक्षण मिल रहा है। सरकार की ओर से सभी मामलों में त्वरित कार्रवाई की गई है।
बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि अवैध कार्य करने वालों के द्वारा जनप्रतिनिधि पर कार्रवाई कराई जा रही। अवैध कार्यों के कारण प्रदेश बर्बाद हो रहा है। छत्तीसगढ़ ऐसा नहीं था, आज किस ओर जा रहा है।‌ आज पुलिस का मॉरल गिरा दिया गया है। क्राइम ब्यूरो के अनुसार, प्रदेश हत्या के मामले में तीसरे स्थान पर, बुजुर्गों के अपराधिक मामले में दूसरे स्थान पर, अपहरण के मामले में सातवें स्थान पर है। छत्तीसगढ़ आज अपराध का गढ़ बन गया है। विधायक अजय चंद्राकर ने कहा कि 5 हजार प्रकरण से ज्यादा ऑनलाइन ठगी के हैं। सड़क दुर्घटना की सरकार को कोई चिंता नहीं है। आत्महत्या के प्रकरण प्रदेश में बढ़े हैं।
विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा कि प्रदेश में अपराधियों को संरक्षण मिल रहा है। अपराधियों का मनोबल बढ़ा है। जेसीसीजे विधायक धर्मजीत सिंह ने कहा कि प्रदेश में नशे का व्यापार पनपा है। ड्रग्स पेडलर और सप्लायर की बड़ी संख्या है। रेत माफियाओं पर कार्रवाई नहीं हो रही। नेताप्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने कहा कि पूरे प्रदेश में अराजकता की स्थिति है। अधिकांश अपराधों में पुलिस भी संरक्षण दे रही। पुलिसिंग मॉरल भी कम हुआ हैं।

मशहूर शायर मुनव्वर की तबीयत खराब, इलाज जारी

मशहूर शायर मुनव्वर की तबीयत खराब, इलाज जारी   

संदीप मिश्र    
लखनऊ। मशहूर शायर मुनव्वर राना की तबीयत खराब हो गई है। उन्होंने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत होने पर उत्तर प्रदेश छोड़कर चले जाने का ऐलान किया था। यूपी चुनाव के नतीजों से पहले ही मुनव्वर राना बीमार पड़ गए हैं। रुझानों में जब यूपी में भाजपा की सरकार बनती दिख रही है।
जानकारी के अनुसार, उनकी तीन दिन से तबीयत खराब है और वह घर पर ही रहकर अपना इलाज करवा रहे हैं। रुझानों में चूंकि यूपी में भाजपा की सरकार बनती दिख रही है, ऐसे में सवाल उठता है कि क्या मुनव्वर राना अपने वादे पर कायम रहेंगे। बीते दिनों उन्होंने सार्वजनिक तौर पर बयान दिया था कि अगर राज्य में दोबारा भाजपा की सरकार बनी तो वह उत्तर प्रदेश छोड़ देंगे। कि पांच साल में तो हम बच गए, मगर अगले पांच साल में योगी आ गए तो हम जिंदा नहीं बचेंगे। मरना तो वैसे ही है, लेकिन बेमौत नहीं मरना चाहता।बीजेपी के नेता पलायन करने वाले को पश्चिम यूपी में तलाश रहे है, मगर मैं यहां बैठा हूं पलायन करने के लिए, मुझसे कोई नहीं मिल रहा।मैं इसी देश में मरूंगा, वो लोग और थे जो करांची चले गए। उन्होंने भाजपा की जीत पर यूपी छोड़ने की घोषणा की थी।

कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले मंत्री ने प्रतिक्रिया दी

कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले मंत्र्री ने प्रतिक्रिया दी   

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी का सूपड़ा साफ होता दिखाई दे रहा है। कांग्रेस पार्टी के शर्मनाक प्रदर्शन को लेकर हाल की में कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन से साफ है। अब वह राष्ट्रीय पार्टी नहीं रही बल्कि एक क्षेत्री पार्टी होने की दिशा में बढ़ रही है। चुनाव परिणामों को लेकर उन्होंने कहा कि यह परिवर्तनकारी परिणाम हैं। लगभग 46 साल तक कांग्रेस में रहे अश्विनी कुमार ने कहा कि गांधी परिवार अब पार्टी के लिए चुनाव नहीं जीत रहा है। उन्होंने कहा कि इन चुनावों से साफ है कि गांधी परिवार का नेतृत्व अब कांग्रेस के लिए कुछ नहीं कर रहा है। वे अब मजबूत नहीं रहे। पार्टी छोड़ने के बाद भी खुद को सोनिया गांधी का वफादार बताते हुए उन्होंने कहा कि अब पार्टी के फैसलों पर सोनिया गांधी की मुहर नहीं लगती। उन्होंने बिना किसी का नाम लिए बगैर कहा कि सोनियां गांधी के जो नियंत्रण में हैं उन्हें लंबे समय तक राष्ट्रीय विकल्प के रूप में स्वीकार नहीं किया जा सकता है। अश्विनी कुमार ने कहा कि लेकिन में अभी भी आशावादी हूं। क्योंकि जैसे पानी अपना रास्ता ढूंढता है, लोग भी अपने नेताओं को ढूंढते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब में कांग्रेस आम आदमी पार्टी से हार गई। इसके अलावा गोवा, उत्तराखंड और मणिपुर में माना जा रहा था कि यदि वह सत्ता में वापसी नहीं कर पाई तो कम से कम जबरदस्त टक्कर जरूर देगी।

उन्होंने कहा, ‘मैं अपनी पीठ नहीं थपथपना चाहता लेकिन मैंने यह कह दिया था कि आप पंजाब में आने वाली सुनामी है। हम सभी जानते थे कि यह 75 से ज्यादा सीटें जीतेगी, लेकिन किसी ने ऐसा कहने की हिम्मत नहीं की क्योंकि यह मूर्खतापूर्ण लग रहा था। अश्विनी कुमार ने आगे कहा, ‘मैं कांग्रेस पार्टी की दुर्दशा से खुश नहीं हूं। लेकिन भविष्य में इसकी राजनीतिक प्रासंगिकता नगण्य रहेगी। कांग्रेस पार्टी का योगदान नगण्य होने जा रहा है। देश में उभर रहे राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए कांग्रेस पार्टी एक क्षेत्रीय पार्टी बनी रहेगी।’ उन्होंने कहा कि पंजाब के परिणाण राजनीतिक परिदृश्य को बदलने जा रहे हैं। पंजाब में आप ने जो प्रदर्शन किया है वह काबिलेतारीफ है। केजलीवाल ने दिल्ली में जो काम किया उसकी वजह से उन्हें वोट मिले।

रिजल्ट: सीजी पीएससी ने सिलेक्शन लिस्ट जारी की

रिजल्ट: सीजी पीएससी ने सिलेक्शन लिस्ट जारी की  

दुष्यंत टीकम  
रायपुर। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग के स्टेट सर्विस एग्जाम 2021 के रिजल्ट आ चुके हैं। प्री के इन नतीजों में 2548 कैंडिडेट्स ने कामयाबी हासिल की है। 13 फरवरी को इसके लिए रिटर्न एग्जाम हुए थे। ये परीक्षा 171 पदों के लिए हुई थी।
सीजी-पीएससी ने मंगलवार को सिलेक्शन लिस्ट जारी की है। इसमें 2548 अभ्यर्थियों के रोल नंबर शामिल किए गए हैं। सिर्फ इन्हीं चुने हुए कैंडिडेट्स को अब मेंस एग्जाम देने का मौका मिलेगा। इससे पहले अभ्यर्थियों को ऑनलाइन आवेदन करना अनिवार्य है। आवेदन की तारीखों का एलान जल्द किया जाएगा। फिलहाल प्री एग्जाम के परिणाम आयोग की अधिकृत वेबसाइट पर जारी (अपलोड) कर दिए गए हैं।

यूक्रेन पर 'जैविक हथियारों' से हमला करेगा रूस

यूक्रेन पर 'जैविक हथियारों' से हमला करेगा रूस  

अखिलेश पांडेय  

वॉशिंगटन डीसी/कीव/मास्को। रूस और यूक्रेन के बीच लगातार जंग जारी है। रूस जहां यूक्रेन में जैविक हथियार होने का दावा कर रहा है। वहीं, इसी बीच अमेरिका ने भी दावा किया है कि रूस जंग जीतने के लिए यूक्रेन पर केमिकल या जैविक हथियारों से हमला कर सकता है। दोनों पड़ोसी देशों के बीच बृहस्पतिवार को जंग का 15वां दिन है। दोनों देशों के बीच हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। युद्ध रोकने के तमाम प्रयास भी नाकाम साबित होते जा रहे हैं। इसी बीच अमेरिका ने रूस द्वारा जैविक या केमिकल हथियारों से हमला करने की बात कही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इसको लेकर व्हाइट हाउस ने एक बयान जारी किया है। इसमें कहा गया है कि रूस पर नजर रखनी चाहिए। वह यूक्रेन पर केमिकल या जैविक हथियारों के इस्तेमाल की तैयारी कर रहा है। व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकी कादावा है कि हमारे पास इसको लेकर चिंतित होने की अहम वजह है।उन्होंने कहा कि रूस इस तरह का काम पहले भी करता आया है। हमें यूक्रेन में कथित अमेरिकी जैविक हथियार लैब और केमिकल हथियारों के विकास के बारे में रूस के झूठे दावों पर ध्यान देना चाहिए। चीन के अधिकारी भी इस तरह के दावों का समर्थन कर रहे हैं। यह एक सुनियोजित साजिश है।

हीं, रूस ने भी दावा किया है कि उसने यू्क्रेन में ऐसे जैविक हथियारों को खोज निकाला है, जो अमेरिका की निगरानी में यहां रखे गए हैं। रूस ने कहा है कि इन जैविक हथियारों का मकसद केवल सैन्य के तौर पर करना है। वहीं, प्रवक्ता साकी ने कहा कि अमेरिका ‘केमिकल वेपन कंवेशन एंड बॉयोलॉजिकल वेपंस कंवेशन’ के नियमों का पूरी तरह से पालन करता है। इस तरह के हथियार ना तो तैयार करता है और नहीं अपने पास रखता है। वहीं, दोनों देशों के बीच जारी जंग से यूक्रेन में हालात खराब होते जा रहे हैं। पिछले 2 सप्ताह के दौरान करीब 20 लाख लोगों ने देश छोड़ दिया है। यूक्रेन छोड़ने वाले लोगों में आधे बच्चे हैं और हर नए दिन के साथ यह पलायन द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यूरोप का सबसे बड़ा शरणार्थी संकट बनता जा रहा है। रूसी सेना से घिरे यूक्रेन के शहरों में मानवीय स्थिति और अधिक विकट हो गई है। वहां अभी तक वहां कोई मानवीय मदद नहीं पहुंच पाई है। यूक्रेनी सेना के एक अधिकारी ने कहा कि देश को ‘हवाई रक्षा प्रणाली’ की काफी जरूरत है‌।


रूस के लिए बुरी खबर, लगे कुल 5581 प्रतिबंध

रूस के लिए बुरी खबर, लगे कुल 5581 प्रतिबंध 

अखिलेश पांडेय   

मॉस्को/कीव। यूक्रेन और रूस के बीच कल रहे युद्ध के बीच में पुतिन के लिए बुरी खबर है। फिलहाल रूस दुनिया में सबसे ज्यादा प्रतिबंधों का सामना करने वाला देश बन गया है। अब तक रूस पर कुल 5581 प्रतिबंध लग चुके हैं। इनमें से अधिकतर प्रतिबंध 22 फरवरी के बाद लगे हैं। वहीं इससे पहले रूस पर 2754 प्रतिबंध लगे हुए थेे। जारी हुए डाटा के मुताबिक रूस पर यूक्रेन युद्ध की वजह से लगे प्रतिबंधों से पहले ईरान सबसे ज्यादा प्रतिबंध झेलने वाला देश था। बता दें कि अभी तक ईरान पर 3616 प्रतिबंध लगे हुए हैं।

रूस पर 22 फरवरी के बाद लगे 2827 नए प्रतिबंधों में 2461 प्रतिबंध रूस के नागरिकों पर हैं, जिसमें राष्ट्रपति पुतिन, उनका मंत्रिमंडल और सैन्य अफसर शामिल हैं। वहीं 366 नए प्रतिबंध रूस की कंपनियों पर लगाएं गए हैं जिसमे रूस की एयरलाइन पर लगे प्रतिबंध भी शामिल हैं। डाटा के मुताबिक अब तक 300 से ज्यादा विदेशी कंपनियों ने या तो पूरी तरह से या आंशिक तौर पर रूस में अपना कामकाज बंद कर दिया है।

पत्नी की पिटाई के बाद आंख पर चाकू से हमला

पत्नी की पिटाई के बाद आंख पर चाकू से हमला

दुष्यंत टीकम  

रायपुर। छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में एक युवक ने अपनी पत्नी की जमकर पिटाई कर दी। इतनी ही नहीं उसने चाकू से उसके आंख पर भी हमला कर दिया। जिससे वह बुरी तरह घायल हो गई। बताया जा रहा है कि युवक किसी पुराने झगड़े को लेकर नाराज था। फिर कहा-सुनी हुई तो उसने इस वारदात को अंजाम दिया है। अब महिला की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है। मामला कापू थाना क्षेत्र का है। 04 मार्च को कलावती मांझी शाम के वक्त घर पर अकेली थी। इसी वक्त उसका पति हरियर मांझी (40) शराब पीकर घर आया था। घर आने के बाद कलावती ने उसे खाना खाने के लिए कहा था, तब हरियर ने महिला से विवाद करना शुरू कर दिया था। विवाद के बाद उसने पहले तो लाठी-ंडंडे से महिला को पीटा था। फिर चाकू निकालकर उसके आंख में मार दिया था। इसके चलते महिला बुरी तरह घायल हो गई थी।घायल होने के बाद महिला ने अपना इलाज करवाया था। इसके कुछ दिन बाद उसने पूरे मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई। तब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म भी कबूल किया है। महिला ने बताया कि उसका पति शराब पीकर आए दिन झगड़ा करता रहता था। कुछ पहले भी झगड़ा हुआ था। इसी वजह से उसने पूरी वारदात को अंजाम दिया था।

श्रीनगर के लिए नई उड़ान शुरू करने की घोषणा

श्रीनगर के लिए नई उड़ान शुरू करने की घोषणा  
इकबाल अंसारी
श्रीनगर। कोरोना संक्रमण का प्रभाव कम होते ही अब नए-नए शहरों के लिए उड़ानें शुरू हो रही है। इंडिगो एयरलाइंस ने 27 मार्च से रायपुर से श्रीनगर के लिए नई उड़ान शुरू करने की घोषणा की है। यह फ्लाइट व्हाया दिल्ली होकर श्रीनगर जाएगी। इस फ्लाइट के शुरू होने से आम यात्रियों के साथ ही व्यापार-उद्योग जगत को भी फायदा पहुंचेगा। कोरोना संक्रमण कम होते ही अब रायपुर विमानतल से आने-जाने वाले हवाई यात्रियों की संख्या में भी बढ़ोतरी हो रही है। इसके साथ ही उड़ानों की आवाजाही में भी बढ़ोतरी हुई है।

ट्रैवल्स कारोबारी कीर्ति व्यास ने बताया कि फ्लाइट क्रमांक 6ई0204 श्रीनगर से सुबह 9:35 बजे उड़ान भरेगी और दोपहर 1:45 बजे रायपुर पहुंचेगी। इसके बाद फ्लाइट क्रमांक 6ई6081 रायपुर से दोपहर 2:20 बजे उड़ान भरेगी और शाम 6:25 बजे श्रीनगर पहुंचेगी। यह फ्लाइट वाया दिल्ली होकर उड़ान भरेगी।
व्यापारिक संगठनों की ओर से लगातार रायपुर से जयपुर और वाराणसी के लिए भी उड़ान शुरू करने की मांग की जा रही है। बताया जा रहा है कि इसके लिए विमानन कंपनियों को प्रस्ताव भी भेजा गया है। व्यापारिक संगठन कैट का कहना है कि वाराणसी व जयपुर उड़ान शुरू होने से छत्तीसगढ़ में व्यापार-उद्योग को और बढ़ावा मिलेगा। साथ ही आम यात्रियों को भी फायदा मिलेगा।

वित्तीय वर्ष 2021-22 में 11 महीने में ही रायपुर से आने-जाने वाले हवाई यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इन 11 महीनों में रायपुर विमानतल से 12 लाख से अधिक हवाई यात्रियों की आवाजाही हुई है। इसके साथ ही उड़ानों की आवाजाही में भी बढ़ोतरी हुई है। आने वाले दिनों में हवाई यात्रियों की आवाजाही में और बढ़ोतरी हो गई है। कोरोना प्रभाव के कारण इस वर्ष जनवरी फरवरी में हवाई यात्रियों की संख्या घटी है।

सोने और चांदी के भाव में भारी गिरावट दर्ज की

सोने और चांदी के भाव में भारी गिरावट दर्ज की
अखिलेश पांडेय 
कीव/मास्को। रूस और यूक्रेन के बीच रहे युद्ध के बीच सोने और चांदी के रेट में गुरुवार को बड़ी ग‍िरावट देखी गई। गुरुवार सुबह 8 बजे से पांच राज्‍यों के चुनावी नतीजें आ रहे हैं। रुझान के आधार बीजेपी एक बार फ‍िर से सबसे बड़े राज्‍य में वापसी करती द‍िख रही है। गुरुवार को आई बड़ी ग‍िरावट के बाद सोना ऑल टाइम हाई से करीब 4 हजार रुपये और चांदी ऑल टाइम हाई से करीब 7 हजार रुपये कम पर चल रही है। सोने और चांदी के रेट जारी करने वाली वेबसाइट के अनुसार 24 कैरेट वाला सोना 911 रुपये सस्ता होकर 52230 रुपये प्रति 10 ग्राम पर चल रहा है। वहीं चांदी के भाव 1997 रुपये प्रत‍ि क‍िलो ग‍िरकर 68873 रुपये पर चल रही है। www.ibjarates.com पर सुबह और शाम के समय सोने और चांदी के भाव जारी क‍िए जाते हैं। इस वेबसाइट की तरफ से जारी रेट पर 3 प्रत‍िशत जीएसटी अलग से जोड़ना होता है।

गुरुवार को 995 प्‍यारोट‍ि यानी 22 कैरेट वाले सोने का भाव 52021 रुपये प्रत‍ि 10 ग्राम पर रहा। इसी तरह 20 कैरेट सोना 47843, 18 कैरेट सोना 39173 रुपये और 14 कैरेट 30555 रुपये प्रत‍ि ग्राम पर देखा गया।
अगर आप सोना या चांदी खरीदने का मन बना रहे हैं तो जरूरी है क‍ि आप एक बार भाव जरूर चेक कर लें। रेट पता लगाने के ल‍िए आपको कही जाने की जरूरत नहीं है। आप घर बैठकर ही आसानी से पता लगा सकते हैं। इसके लिए आपको मोबाइल नंबर 8955664433 पर मिस्ड कॉल करनी होगी। इसके बाद आपके फोन पर मैसेज आ जाएगा, जिसमें आप लेटेस्ट रेट्स चेक कर सकते हैं।

आरोप लगने के बाद कपिल के खिलाफ ट्रेंड शुरू

आरोप लगने के बाद कपिल के खिलाफ ट्रेंड शुरू 
कविता गर्ग  
मुंबई। मशहूर डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री ने हाल ही में कपिल शर्मा पर गंभीर आरोप लगाए थे‌। डायरेक्टर ने दावा किया था कि कपिल ने उनकी फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को प्रमोट करने से मना कर दिया है क्योंकि उसमें कोई कमर्शियल स्टारकास्ट नहीं है। इन आरोपों के बाद सोशल मीडिया पर कपिल के खिलाफ ट्रेंड शुरू हो गया था। हालांकि, अब कपिल शर्मा ने इन अरोपों पर अपनी चुप्पी तोड़ी है और करारा जवाब दिया है।
 दरअसल, एक यूजर ने कपिल शर्मा से पूछा, ‘कश्मीर फाइल्स को प्रमोट करने से क्यों घबरा गए कपिल। किस बात का डर था, जो विवेक अग्निहोत्री और उनकी फिल्म की सुप्रतिष्ठित स्टारकास्ट को अपने शो पर आने का न्योता नहीं दिया।  इस ट्वीट पर कपिल ने जवाब देते हुए कहा कि ये बात यह सच नहीं है‌। उन्होंने ये भी कहा कि कभी भी एकतरफा कहानी पर भरोसा नहीं करना चाहिए। 
कपिल शर्मा ने जवाब देते हुए लिखा, ‘यह सच नहीं है राठौड़ साहब, आपने पूछा इसलिए बता दिया। बाकी जिन्होंने सच मान ही लिया है, उन्हें एक्सप्लेनेशन देने का क्या फायदा। एक अनुभवी सोशल मीडिया यूजर होने के नाते आपको सुझाव दे रहा हूं। आज के सोशल मीडिया की दुनिया में कभी भी एकतरफा कहानी पर विश्वास मत कीजिएगा।  धन्यवाद।

कुछ समय पहले एक यूजर ने ट्विटर पर विवेक अग्निहोत्री  को टैग करते हुए पूछा था, ‘विवेक सर, इस फिल्म को कपिल शर्मा के शो में प्रमोट करने की जरूरत है। आपने सबका सहयोग किया है। प्लीज इस फिल्म को भी प्रमोट करें‌। हम सब मिथुन दा अनुपम खेर को एक साथ देखना चाहते हैं। धन्यवाद!’ इस ट्वीट पर विवेक  ने जबाव देते हुए लिखा, ‘मैं ये फैसला नहीं ले सकता कि कपिल शर्मा शो में किसे बुलाना चाहिए। ये पूरी तरह से कपिल शर्मा और उनके मेकर्स पर डिपेंड करता है। जहां तक बॉलीवुड की बात है तो एक बार मिस्टर बच्चन ने गांधी परिवार के लिए कहा था- वो राजा हैं हम रंक’।

इससे पहले भी विवेक  ने एक ट्वीट कर बताया था कि वह खुद कपिल शर्मा  के शो के बहुत बड़े फैन हैं लेकिन उन्हें शो में बुलाने से मना कर दिया गया है। उन्होंने लिखा, ‘मैं भी उनका फैन हूं, लेकिन फैक्ट ये है कि उन्होंने हमें अपने शो पर बुलाने से मना कर दिया गया।

अलग: चर्चा का विषय बना हुआ है 5 पैर का मेमना

चर्चा का विषय बना हुआ है 5 पैर का मेमना
सुनील श्रीवास्तव 
लंदन। ब्रिटेन के एक फार्म में अविश्वसनीय रूप से रेयर डिसऑर्डर के साथ पैदा हुआ एक भेड़ का बच्चा प्रमुख आकर्षण बन गया है। यहां तक कि भेड़ के बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल भी हो गई है। नॉर्थम्बरलैंड के मोरपेथ में व्हाइटहाउस फार्म के मालिक ने कहा कि नवजात भेड़ को देखकर वे चकित रह गए क्योंकि उसका पांचवां पैर उसके शरीर से चिपका हुआ था। फार्म के सह-मालिक हीदर होगार्टी ने कहा कि मेमने का जन्म 22 फरवरी को हुआ था। आश्चर्य और खुश होने वाली बात है कि यह अभी भी अच्छी स्थिति में है। होगार्टी ने क्रॉनिकल लाइव को बताया, ‘यह असामान्य है, लेकिन जानवरों में कुछ अलग होता है। दुनियाभर में कई जगह ऐसे जानवर पैदा होते हैं, लेकिन बेहद कम ही बार ऐसा होता है, जब वह जिंदा रह पाते हैं‌। यह जन्म विशेष है क्योंकि पांच पैरों वाले मेमना अत्यंत दुर्लभ हैं, जो हर साल लगभग एक लाख जानवरों में होते हैं।

होगार्टी को उम्मीद है कि मेमने का जीवन सामान्य होगा लेकिन उनका मानना है कि भविष्य में अतिरिक्त अंग को हटाने की आवश्यकता हो सकती है। होगार्टी ने कहा, ‘हम सोचते हैं कि जब तक यह एक सामान्य जीवन जीने वाला है, हम इसे बस रखेंगे। हम बस इस पर एक मिनट में नजर रख रहे हैं, इसलिए इसे पैर निकालना पड़ सकता है।  मैनचेस्टर इवनिंग न्यूज के अनुसार, पांच पैरों के साथ मेमना का जन्म लगभग एक दशक बाद हुआ। पिछले वाले को क्विंटो कहा जाता था। होगार्टी ने कहा, ‘हमारे पास एक मेमना नौ साल पहले था लेकिन उसका पैर उसके पेट के केंद्र में था, जबकि यह कंधे से बाहर आता है और जमीन तक नहीं पहुंचता। जब नया मेमना पैदा हुआ था तो मैं सोच रहा था कि यह क्विंटो का पुनर्जन्म है‌। वह पैदा हुई थी अप्रैल फूल्स डे पर और लोगों ने सोचा कि हमने इसे एक मजाक के रूप में अटैच कर दिया है।

साहस, हथेली पर जहरीले सांप को पानी पिलाया

साहस, हथेली पर जहरीले सांप को पानी पिलाया
कविता देवी   
गर्मी शुरू हो रही है। इस मौसम में पानी को अमृत माना जाता है। जब मनुष्य को प्यास लगती है तो कैसे भी अपनी प्यास बुझा लेता है, लेकिन मूक पशु-पक्षी और जानवर गर्मी में प्यास से तड़पते रहते हैं। कुछ लोग गर्मी में अपने घर के बाहर और छतों पर पशु-पक्षियों के लिए पानी रखते हैं। सोशल मीडिया पर एक हैरान कर देने वाला वीडियो सामने आया है। इस वीडियो को देखकर आपका दिल खुश हो जाएगा।
प्यास से तड़प रहा था सांप!
वायरल वीडियो एक सांप से जुड़ा है, जो गर्मी में प्यास से तड़प रहा होता है। इस दौरान एक शख्स अपनी हथेली में पानी लेकर सांप की प्यास बुझाता दिख रहा है। वीडियो देखकर सोशल मीडिया यूजर्स दंग रह गए हैं। लोगों को अपनी आंखों पर भरोसा नहीं हो रहा है कि सांप ऐसे पानी पी सकता है। वीडियो जिसने भी देखा उसे अपनी आंखों पर भरोसा नहीं हुआ।
वीडियो में देखा जा सकता है कि एक सांप पेड़ पर लटके हुए प्यास से तड़प रहा था। भीषण गर्मी में सांप को पीने के लिए कहीं पानी नहीं मिलता है। इसी बीच एक शख्स वहां आता है और बोतल से अपने हथेली में पानी डालकर सांप को पिलाने लगता है। सबसे हैरान करने वाली बात अब होती है। जैसे ही शख्स हथेली में बोतल से पानी डालता है, वैसे ही सांप भी गट-गटकर पानी पीने लगता है‌। सांप को ऐसा पानी पीते देखना काफी हैरान करने वाला है। देखें हैरान करने वाला वीडियो।
49 सेकंड के इस वीडियो को IFS ऑफिसर सुशांत नंदा ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से शेयर किया है। वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने कैप्शन में लिखा, ‘गर्मी आ रही है। आपकी कुछ बूंदे किसी की जान बचा सकती है। अपने बगीचे में एक कंटेनर में कुछ पानी छोड़ दें क्योंकि यह कई जानवरों के लिए जीवन और मृत्यु के बीच एक विकल्प हो सकता है। पोस्ट को अब तक हजारों लोगों ने लाइक किया है।

जूसर से चिलचिलाती धूप से राहत मिल सकेगी

जूसर से चिलचिलाती धूप से राहत मिल सकेगी  
सरस्वती उपाध्याय   
गर्मियों की शुरुआत हो चुकी है। ऐसे में, हम आपके लिए 500 रुपये से कम की एक ऐसी डिवाइस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप जहां चाहें वहां चुटकियों में गर्मी से राहत पा सकेंगे गर्मियों के मौसम की शुरुआत हो चुकी है और इस बबात का ख्याल भी परेशान कर देता है कि चिलचिलाती धूप से राहत कैसे मिल सकेगी। अगर आपके दिमाग में भी ये ख्याल आता है तो हमारे पास आपके लिए एक 500 रुपये के एक ऐसे डिवाइस की जानकारी है, जिससे आप कहीं भी, कभी भी गर्मी से छुटकारा पा सकते हैं‌। आइए इसके बारे में जानते हैं’।
हम आज हूक्चालेंगे प्लास्टिक हैंड उसब जूसर की बात कर रहे हैं, जिसकी मदद से आप जब चाहें तब चुटकियों में जूस बना सकते हैं। 999 रुपये की कीमत वाले इस जूसर को फ्लिपकार्ट पर 50% के डिस्काउंट पर बेचा जा रहा है। डिस्काउंट के बाद इस पोर्टेबल जूसर की कीमत 499 रुपये हो गई है।
आपको बता दें कि  हूक्चालेंगे प्लास्टिक हैंड उस जूसर को खरीदते समय आप एक बैंक ऑफर के तहत एडिश्नल छूट पा सकते हैं। इस जूसर को खरीदते समय अगर आप फ्लिपकार्ट एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आपको 5% का अनलिमिटेड कैशबैक मिलेगा। जिससे जूसर की कीमत 499 रुपये से कम होकर 474 रुपये हो जाएगी। हूक्चालेंगे प्लास्टिक हैंड उसब जूसर एक नहीं बल्कि कई सारे फायदों के साथ आता है। इस पोर्टेबल प्लास्टिक जूसर में स्टेनलेस स्टील के छह ब्लेड्स, एलईडी इन्डिकेटर, ऑन/ऑफ बटन, इन-बिल्टी स्ट्रेनर और चार्जिंग के लिए माइक्रो यूएसबी पोर्ट मिलता है। इस जूसर में 2,200mAh की बैटरी दी गई है और इसे आप पावर बैंक, कार, लैपटॉप या चार्जिंग अडैप्टर, किसी से भी चार्ज कर सकते हैं। इस जूसर को डिशवॉशर में भी धोया जा सकता है। इससे आप न केवल जूस और प्रोटीन शेक बना सकते हैं, बल्कि इससे आप बच्चों का खाना, स्मूदी और फेशियल के लिए पेस्ट भी बना सकते हैं।

एलियन के प्यार में पागल महिला, कई बार मिलीं

एलियन के प्यार में पागल महिला, कई बार मिलीं
अखिलेश पांडेय 
वाशिंगटन डीसी। एलियंस को लेकर दुनियाभर में तरह-तरह के दावे किए जाते हैं। वैज्ञानिक कई दशकों से इस सवाल का जवाब खोजने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या एलियंस का अस्तित्व है।  इस बीच एक महिला ने जो दावा किया है, उसने सबको हैरत में डाल दिया है। महिला का दावा है कि वह कई बार एलियन्स से मिल चुकी है। सिर्फ यही नहीं बल्कि एलियन उसे अपनी पर्सनल तस्वीरें भी भेजते हैं।
लॉकडाउन में पहली बार एलियन से मिली महिला।
‘द मिरर’ की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका के मिसौरी प्रांत में रहने वाली 29 साल की महिला लिली नोवा ने दावा किया है कि वह एक बार नहीं बल्कि कई बार एलियन से मुलाकात कर चुकी हैं‌। उनका कहना है कि एलियन हॉलीवुड फिल्म अवतार में नजर आने वाले जीव की तरह दिखते हैं। महिला ने बताया कि सबसे पहले वह एलियन से साल 2020 में कोरोना के कारण दुनियाभर में लगाए गए लॉकडाउन के समय मिली थी।  लॉकडाउन में पहली बार उन्होंने एलियन को देखा था। महिला ने बताया कि वह एक बार रात के टाइम हवा लेने घर से बाहर गई थी। वह खुले आसमान के नीचे टहल रही थी, तभी उसको पड़ोस में तेज रोशनी दिखाई दी। पहले तो महिला को लगा कि  यह कोई एयरक्राफ्ट होगा, लेकिन उन्होंने जब ध्यान से देखा तो उनके होश उड़ गए। महिला ने बताया कि यह एक यूएफओ था। महिला ने बताया कि एलियन अपनी तस्वीरें टेलीपैथी के माध्यम से उसे भेजते हैं। वह अपनी तस्वीरें उसे इसलिए भेजते हैं, क्योंकि जब वह पहली बार एलियन से मिली थीं तो काफी डर गई थीं। 
इसलिए एलियन अपनी तस्वीरें भेज रहे हैं, जिससे उनका डर दूर हो जाए। हल्के नीले रंग की स्किन वाली ‘लड़की’ से मुलाकात। लिली के अनुसार, इस घटना के कुछ महीनों बाद वह एक बार फिर एलियन से मिलीं। अब तो वह हर रोज ही एलियन से मिलती हैं। महिला ने एक और हैरान करने वाला दावा किया। महिला का कहना है कि वह दूसरे ग्रहों पर रहने वाले कई तरह के जीवों से भी मिल चुकी है। दूसरे ग्रह के जीव एलियन की तरह ही हैं। पहली बार उन्होंने हल्के नीले रंग की स्किन वाली एक लड़की को देखा था। वह लड़की बहुत खूबसूरत थी। हालांकि, उसके सिर पर बाल नहीं थे। महिला ने बताया कि वह एलियन के प्यार में पागल हो चुकी हैं।

गर्मी में मौसमी बीमारियों के अटैक से करें बचाव

गर्मी में मौसमी बीमारियों के अटैक से करें बचाव  

हरिओम उपाध्याय   

जैसे-जैसे मौसम बदलता है बीमारियां भी अपना रूप बदलने लगती हैं और मौसम के बदलने के साथ ही अपने पैर पसारने लगती हैं‌। ऐसी ही कुछ बीमारियां होती हैं, जो गर्मियों में लोगों पर ज्यादा तेजी से अटैक करती हैं। वैसे तो ये बीमारियां काफी सामान्य होती हैं, लेकिन अगर समय पर सही इलाज न किया जाए तो यह काफी घातक भी साबित हो सकती हैं। हालांकि इन बीमारियों का घर में भी इलाज संभव है, लेकिन बस जरूरत है सही जानकारी की। तो आइए, आपको बताते हैं कुछ ऐसी बीमारियों के बारे में जो गर्मियों में लोगों पर ज्यादा तेजी से अटैक करती हैं और इनसे बचने के कुछ घरेलू उपायों  के बारे में।हीट स्ट्रोक या कहें लू, गर्मियों की सबसे कॉमन बीमारी है, जो शरीर में पानी की कमी की वजह से इसे अपनी चपेट में ले लेती है। वैसे तो गर्मियों में लू लगना काफी कॉमन माना जाता है, लेकिन अगर सही समय पर इलाज न किया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकती है‌‌। हीट स्ट्रोक में फूड प्वॉइजनिंग, बुखार, पेट दर्द और उल्टी आने की समस्याएं होने लगती हैं, ऐसे में  जरूरी है इसका उचित इलाज।

हीट स्ट्रोक से बचने का सबसे आसान तरीका है खान-पान का ध्यान रखना‌। जी हां, गर्मियों के दौरान शरीर में पानी की कमी इसे कमजोर बना देता है‌। ऐसे में बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए जरूरी है कि गर्मियों के दौरान आप बॉडी को हाईड्रेट रखें। इसके लिए आप ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं और हरी सब्जियों, सलाद और फलों का सेवन जरूर करें। इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होगी, जिससे लू का खतरा भी कम हो जाएगा।

एसिडिटी गर्मियों में होने वाली सबसे बड़ी समस्या है और यात्रा के दौरान अगर एसिडिटी की प्रॉब्लम हो जाए तब तो बस लगता है जान ही निकल गई। एसिडिटी में सीने में जलन और दर्द, उल्टी जैसा महसूस होना जैसी और भी समस्याएं होने लगती हैं। ऐसे में जब यह तकलीफ बार-बार होने लगती है तो यह गंभीर समस्या का रूप ले लेती है और कई बार तो यह लोगों को हॉस्पिटल तक पहुंचा देती है। ऐसे में जरूरी है कि इससे बचने के लिए पहले से ही सतर्क हो जाएं और खान पान पर कंट्रोल करें।

एसिडिटी से बचने का सबसे आसान तरीका है तले-भुने और मसालेदार खाने को बाय-बाय कह दें, क्योंकि यह एसिडिटी की सबसे बड़ी वजह होती है। इसके साथ ही खाने का समय  निर्धारित कर लें और रोजाना उसी समय पर खाना खाएं। इसके अलावा मुलेठी का चूर्ण या काढ़ा बनाकर उसका सेवन करनें। इससे एसिडिटी में फायदा होता है।गर्मियों के मौसम में बच्चे हों या बड़े उनमें पीलिया का खतरा बढ़ जाता है। पीलिया को हेपेटाइटिस ए भी कहा जाता है। पीलिया होने का सबसे बड़ा कारण है दूषित पानी और दूषित खाना। पीलिया में रोगी की आंखे व नाखून पीले हो जाते हैं और पेशाब भी पीले रंग की होती है। सही इलाज न मिलने पर यह काफी  गंभीर रूप ले सकता है, इसलिए जरूरी है इसकी जद में आने से पहले  ही सावधान हो जाएं।

पीलिया हो जाने पर दूषित खाना खाने से बचें। इसके अलावा तला-भुना खाना बिल्कुल भी न खाएं, हो सके तो सिर्फ उबला हुआ हल्का खाना ही खाएं और उबला हुआ या छना हुआ ही पानी पीएं।गर्मियों  की शुरुआत मतलब चेचक की दस्तक। चेचक के होने से शरीर में लाल दाग पड़ जाते हैं।  इसके साथ ही सिरदर्द, बुखार और गले में खराश भी  चेचक के ही लक्षण हैं, चेचक में खांसी या जुखाम होना भी आम बात  है, जिससे आस-पास के लोगों में भी यह संक्रमण होने की आशंका बढ़ जाती है। ऐसे में सावधानी ही इसका सबसे पहला इलाज है।बच्चों और युवाओं को इस बीमारी का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। चेचक से बचने के लिए वैसे तो टीके लगाए जाते हैं, जो इससे बचाव का सबसे  सही तरीका माना जाता है, लेकिन इसके अलावा कुछ सावधानियों के जरिए भी चेचक से बचा जा सकता है। जैसे बाहर से घर आने पर अपने हाथों को धोएं और चेचक से पीड़ित को अलग कमरे में रखें।

'एयरटेल' ने शानदार ऑफर जारी किया, अवसर

'एयरटेल' ने शानदार ऑफर जारी किया, अवसर   

दुष्यंत टीकम   

रायपुर। प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी एयरटेल ने एक शानदार ऑफर जारी किया है‌। जिससे सभी एयरटेल यूजर्स अपने बिजली के बिल पर डिस्काउंट के साथ-साथ और भी कई सारे आकर्षक फायदे पा सकते हैं। आइए इस ऑफर के बारे में सब कुछ जानते हैं। सभी टेलीकॉम कंपनियां अपने यूजर्स को कम कीमत में ज्यादा और आकर्षक बेनिफिट्स देना चाहती हैं। प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी एयरटेल की भी यही कोशिश रहती है कि वो अपने ग्राहकों को आकर्षक प्लान्स और एडिश्नल बेनिफिट्स दे सके। हाल ही में, एयरटेल ने एक ऐसा शानदार मौका जारी किया है‌। जिसकी मदद से आप अपने बिजली के बिल, गैस के बिल, स्विगी-जोमैटो के बिल्स, आदि पर भारी छूट पा सकते हैं‌। आइए इसके बारे में और जानते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ऐप्पल ने हाल ही में एक्सिस बैंक से हाथ मिला लिया है। दोनों संस्थानों ने मिलकर एक नया को-ब्रांडेड क्रेडिट कार्ड, ‘एयरटेल एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड’ लॉन्च किया है‌। उस क्रेडिट कार्ड को इस्तेमाल करके एयरटेल के सभी यूजर्स को जबरदस्त बेनिफिट्स दिए जा रहे हैं। आपको बता दें कि अगर आप एयरटेल एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं और एयरटेल थैंक्स ऐप के जरिए बिजली, पानी या गैस के बिल का भुगतान करते हैं, तो आपको पूरे 10% का कैशबैक मिलेगा। साथ ही, अन्य सभी खर्चों पर 1% का कैशबैक मिलेगा। साथ ही, इस कार्ड को बिग्बस्केट,  ज़ोमतो और स्विग्ग्यपर इस्तेमाल करने पर भी आपको 10% का कैशबैक मिल जाएगा। अगर आप एयरटेल का कोई भी डीटीएच, रिचार्ज या फाइबर प्लान लेते हैं, तो आपको 25% का कैशबैक मिलेगा।

अगर आप एक एयरटेल यूजर हैं और ऑनलाइन शॉपिंग का शौक रखते हैं, तो आपके लिए एयरटेल एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड यूज करना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। जैसे ही आपके लिए ये कार्ड जारी होगा, आपको ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म अमेजन  का एक फ्री वाउचर दिया जाएगा। 500 रुपये की कीमत वाले इस वाउचर को आप 30 दिनों के अंदर-अंदर इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप सोच रहे हैं कि इस एयरटेल एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड के लिए आप कैसे अप्लाइ कर सकते हैं, तो हम आपको बता दें कि ऐसा करने के लिए आपको एयरटेल का ग्राहक होना जरूरी है। अगर आप एक एयरटेल यूजर हैं, तो आप एयरटेल थैंक्स ऐप के जरिए इस कार्ड के लिए अप्लाइ कर सकते हैं।

वनडे: झूलन ने फुलस्टन के रिकॉर्ड की बराबरी की

वनडे: झूलन ने फुलस्टन के रिकॉर्ड की बराबरी की  

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारतीय पेसर झूलन गोस्वामी ने इतिहास रच दिया है। झूलन महिला वनडे विश्व कप में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाली गेंदबाज बन गई हैं। झूलन ने ऑस्ट्रेलिया की लिन फुलस्टन के रिकॉर्ड की बराबरी की है। 
महिला विश्व कप में सबसे ज्यादा 39 विकेट लेने का रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया की लिन फुलस्टन के पास है। भारतीय गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने उनके रिकॉर्ड की बराबरी की है। 2022 विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच के दौरान केटी मार्टिन को आउट कर उन्होंने यह मुकाम पाया है। झूलन ने इस मैच में 41 रन देकर 1 विकेट लिया। 12 मार्च को वेस्टइंडीज के खिलाफ मुकाबले में 1 विकेट और लेते ही वो महिला वर्ल्ड कप में सबसे अधिक विकेट लेने वाली गेंदबाज बन जाएंगी।
ऑस्ट्रेलिया की लिन फुलस्टन ने 1982 से 1988 के बीच वर्ल्ड कप के 20 मैच में कुल 39 विकेट लिए थे। विश्व कप में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में झूलन के अलावा केरोल होजेस (37), क्लेयर टेलर (36) और कैथरिन फिट्जपैट्रिक (33) भी शामिल हैं।

भाजपा प्रत्याशी ने 81,338 वोट से जीत हासिल की

भाजपा प्रत्याशी ने 81,338 वोट से जीत हासिल की     

संदीप मिश्र        

पीलीभीत। बरखेड़ा विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी प्रवक्तानंद ने 81 हजार, 338 वोट से जीत हासिल की है। जयद्रथ उर्फ प्रवक्तानंद ने एक लाख 51 हजार 498 वोट हासिल किए। जबकि सपा प्रत्याशी हेमराम वर्मा को 69,660 वोट मिले। प्रवक्तानंद ने बहुमत से जीत प्राप्त की है। बरखेड़ा में चारो ओर जश्न का माहौल है। 

कार्यकर्ता एक दूसरे को लड्डू खिलाकर मुंह मीठा करते हुए नजर आ रहे हैं। बात करें अगर अन्य पार्टियों की तो बसपा प्रत्याशी मोहन स्वरूप को 9321 वोट मिले हैं। वहीं कांग्रेस प्रत्याशी हरप्रीत सिंह चब्बा को 2635 वोटों से आगे नहीं बढ़ पाए। बरखेड़ा विधानसभा उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण विधानसभा सीट है, जहां 2017 में भी भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी।

'विजय जुलूस' निकालने पर लगे प्रतिबंध को हटाया

'विजय जुलूस' निकालने पर लगे प्रतिबंध को हटाया      

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की मतगणना के बाद विजय जुलूस निकालने पर लगे प्रतिबंध को बृहस्पतिवार को हटा दिया। आयोग ने एक बयान में कहा कि जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं, वहां कोविड-19 महामारी की मौजूदा स्थिति को देखते हुए यह फैसला किया गया है कि मतगणना के दौरान और बाद में विजय जुलूस निकालने से संबंधित दिशानिर्देशों में राहत दी जाए और विजय जुलूस निकालने पर लगा प्रतिबंध पूरी तरह हटा लिया जाए।

उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर के विधानसभा चुनावों के कार्यक्रम की घोषणा करते हुए निर्वाचन आयोग ने विजय जुलूस निकालने समेत चुनाव से जुड़े कई पहलुओं पर पाबंदी लगाई थी। बयान में कहा गया है, कोविड से जुड़े हालात में सुधार होने के मद्देनजर निर्वाचन आयोग।

स्टाफ कार ड्राइवर के पदों पर भर्ती, आवेदन किए

स्टाफ कार ड्राइवर के पदों पर भर्ती, 

आवेदन





 किए        




अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। भारतीय डाक विभाग में नौकरी पाने का शानदार मौका है। डाक विभाग ने स्टाफ कार ड्राइवर के पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। इसके तहत, कुल 29 पदों पर नियुक्तियां की जाएंगी। ऐसे में जो भी उम्मीदवार इस पद के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर पूरा नोटिफिकेशन चेक कर सकते हैं।
भारतीय डाक विभाग के अनुसार, इन पदों पर ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया फिलहाल चल रही है। अभ्यर्थी 15 मार्च, 2022 तक अप्लाई कर सकते हैं। उम्मीदवार ध्यान दें कि लास्ट डेट बीतने के बाद कोई एप्लीकेशन फॉर्म स्वीकार नहीं किया जाएगा, इसलिए इस बात का ध्यान रखें। वहीं कुल वैकेंसी में यूआर में 15, एससी 3 और ओबीसी कैटेगिरी में 08 में पदों पर नियुक्ति की जाएंगी। इसके अलावा ईडब्ल्यूएस कैटेगिरी में 3 पदों पर भर्ती की जाएंगी।
उम्मीदवारों के पास हल्के और भारी मोटर वाहनों के लिए वैध ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए। इसके बाद, मोटर मैकेनिज्म की नॉलेज होना चाहिए। इसके अलावा, कम से कम तीन साल के लिए हल्के और भारी मोटर वाहन चलाने का अनुभव होना चाहिए। वहीं उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या संस्थान से 10वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए।
जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, स्टाफ कार ड्राइवर के पदों पर आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को इच्छुक और योग्य उम्मीदवार अपने आवेदन को मोटे कागज के लिफाफे के उचित आकार में स्पष्ट रूप से "दिल्ली में स्टाफ कार ड्राइवर (सीधी भर्ती) के पद के लिए आवेदन" के रूप में स्पष्ट रूप से स्पीड पोस्ट / रजिस्टर पोस्ट के माध्यम से भेज सकते हैं। अभ्यर्थियों को द सीनियर मैनेजर, मेल मोटर सर्विस, सी-121, नारायणा इंडस्ट्रियल एरिया फेज-I, नारायणा, नई दिल्ली -110028 पर भेजना होगा। वहीं इस भर्ती से जुड़ी ज्यादा जानकारी के लिए उम्मीदवारों को ऑफिशियल वेबसाइट पर विजिट करना होगा।


सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम 

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम  हरिशंकर त्रिपाठी  देवरिया। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में दशहरा, ईद...