सोमवार, 20 अप्रैल 2020

559 लोगों की मौत, 17656 संक्रमित

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मामलों की संख्या बढ़कर 17,656 हो गई है और इस महामारी की चपेट में आकर 559 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी।


इनमें से कोविड-19 के कुल 14,255 सक्रिय मामलें हैं और 2841 लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं और इन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है। एक व्यक्ति अन्य देश चला गया है और 559 लोगों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, महाराष्ट्र इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बना हुआ है। यहां 4203 लोग इस महामारी से संक्रमित हैं। इसके बाद दिल्ली में कुल 2003 और गुजरात में कुल 1851 मामले सामने आए हैं।


 


ऑस्ट्रियाः वायरस के दौरान पूरी हो तैयारी

कैनबरा। ऑस्ट्रिया ने कहा कि वह चाहता है कि यूरोपीय संघ राज्य सहायता पर अपने नियमों को निलंबित कर दे, ताकि वियना ब्रसेल्स की अनुमति के बिना कोरोनोवायरस महामारी के दौरान कंपनियों को तैयार कर सके।


ऑस्ट्रिया ब्लोक के भीतर स्व-वर्णित 'फ्रुगल' में से एक है, यूरोपीय संघ के बजट में शुद्ध योगदानकर्ताओं ने अंततः म्यूचुअल ऋण, या 'यूरो बॉन्ड' के विचार का विरोध करते हुए, प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों के लिए बचाव पैकेज का समर्थन किया। इसे निधि दें। अब रूढ़िवादी-नेतृत्व वाले ऑस्ट्रिया का कहना है कि बदले में देशों को कंपनियों को अनुचित लाभ देने से रोकने के उद्देश्य से राज्य सहायता नियमों को निलंबित करना चाहिए, ताकि वह अपनी अर्थव्यवस्था को बनाए रखने पर पिछले साल के आर्थिक उत्पादन का लगभग दसवां हिस्सा खर्च करने की अपनी योजना को स्वतंत्र रूप से लागू कर सके।


अमेरिकाः वायरस ने की 40585 की मौत

वाशिंगटन। कोरोना वायरस ने दुनियाभर में सबसे अधिक अमेरिका को प्रभावित किया है। अमेरिका में कोरोना से मरने वालों की संख्या 40  हजार के पार पहुंच गई। इसके अलावा साढ़े सात लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं। जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के आंकड़ों के अनुसार, अमेरिका में अभी तक 40,585 लोगों की मौत हुई है जिनमें से आधे मामले न्यूयॉर्क से हैं। 


वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत समेत 10 अन्य देशों में कोविड-19 की जितनी जांच हुई है उससे कहीं अधिक जांच उनके देश ने की है। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका कोरोना वायरस बीमारी के खिलाफ अपनी जंग में लगातार प्रगति कर रहा है और देश ने अब तक 41.8 लाख लोगों का परीक्षण किया है।  उन्होंने कहा, 'यह विश्व के किसी देश के मुकाबले रिकॉर्ड है।


बांग्लादेशः स्थिति बिगड़ने पर खतरा

सीमा सुरक्षा बल ने आशंका व्यक्त की है कि कोरोना प्रभावित बांग्लादेशी भारत-बांग्लादेश सीम से भारत में प्रवेश कर सकते हैं। कोरोना से बांग्लादेश में स्थिति बिगड़ रही है। इसलिए आशंका है कि संक्रमित लोग बांग्लादेश से सीमा पार कर मेघालय में प्रवेश कर सकते हैं।


राजीब कुमार


शिलांग/ ढाका। मेघालय सीमा सुरक्षा बल ने आशंका व्यक्त की है कि कोरोना प्रभावित बांग्लादेशी भारत-बांग्लादेश सीमा से भारत में प्रवेश कर सकते हैं। सीसुब के मेघालय फ्रंटियर के डीआईजी और जनसंपर्क अधिकारी यू के नायक ने कहा कि कोरोना बांग्लादेश में स्थिति बिगड़ रही है। इसलिए आशंका है कि संक्रमित लोग बांग्लादेश से सीमा पार कर मेघालय में प्रवेश कर सकते हैं। इससे राज्य में कोरोना का संक्रमण बढ़ सकता है। कई विक्षिप्त कर चुके थे प्रवेशः शिलांग टेक्सटाइल मर्चेंट एसोसिएशन के सहयोग से सीसुब सीमा के गांवों में लॉकडाउन के दौरान राहत सामग्री का वितरण कर रहा है। इस दौरान ही नायक ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से मानसिक रुप से विक्षिप्त कई लोग सीमा पार कर आ चुके थे। इस स्थिति से निपटने के लिए गांववालों को जागरुक किया गया है। सीसुब कैसे स्थिति पर नजर रख रहा है, यह पूछे जाने पर नायक ने कहा कि सीसुब राज्य प्रशासन से लगातार संपर्क बनाए हुए है। उन्होंने कहा कि सीमा सुरक्षा बल ने सीमाई इलाकों की जिम्मेवारी ली है और वह प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रहा है। सीसुब लोगों सीमा पर रह रहे लोगों के बीच कोरोना को लेकर जागरुकता भी फैला रहा है। एक डाक्टर की हो चुकी है मौत, 11 संक्रमितः मालूम हो कि मेघालय के साथ बांग्लादेश की 443 किमी सीमा लगती है। मेघालय में कोरोना का पहला मरीज एक डाक्टर सामने आया था। उसकी मौत हो चुकी है जबकि अब मेघालय में कोरोना के 11 मामले हैं। फिलहाल स्थिति को देखते हुए शिलांग और आस-पास के इलाकों में 26 अप्रैल तक कफ्र्यू लगा दिया गया है। पॉजिटिव मामले मिलने के बाद मेघालय ने कोविड-19 की टेस्टिंग बढ़ाकर डबल कर दी है। खुद मुख्यमंत्री कोनराड संग्मा ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रविवार को 7500 रेपिड टेस्ट किट मिले हैं। रविवार को मेघालय में कोरोना का कोई नया मामला सामने नहीं आया। रविवार को 766 लोगों के नमूनों की जांच की गई। इसमें से कोई पॉजिटिव नहीं मिला।


1,760 नाविको में 1,046 संक्रमित

पेरिस। फ्रांस के सैन्य नेतृत्व से प्राप्त आंकड़ों से पता चलता है कि देश के प्रमुख विमानवाहक पोत पर सवार आधे से अधिक नाविक कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए। यह जहाज भूमध्य सागर, उत्तर सागर और अटलांटिक महासागर से गुजरा है।

नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि 'चार्ल्स डे गॉल' पर सवार 1,760 नाविकों में से 1,046 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं। फ्रांस के नौसेना प्रमुख एडमिरल क्रिस्टोफ प्राजुक ने पोत पर अधिक संख्या में नाविकों की मौजूदगी को इस इस वायरस के तेजी से फैलने का कारण बताया है।
उन्होंने शनिवार शाम यूरोप-1 रेडियो कहा कि वायरस से बचाव के उपायों का ठीक से पालन नहीं किया गया जिस कारण हम इस महामारी की शुरुआत में ही पता लगाकर उसे नियंत्रित नहीं कर पाए। पिछले सप्ताह टूलॉन लौटने के बाद से पोत को संक्रमणमुक्त करने की एक लंबी प्रक्रिया चलाई जा रही है।


फ्रांसः पानी मे भी वायरस, सप्लाई रोकी

नई दिल्ली/ पेरिस। डॉक्टर और वैज्ञानिक बार-बार आगाह कर रहे हैं कि नोवल कोरोना वायरस के बारे में अभी सबकुछ पता नहीं चल सका है। वैज्ञानिकों का सारा ध्यान तो इलाज करने, इलाज के लिए दवा खोजने और संक्रमण रोकने के लिए वैक्सीन की तलाश में लगा हुआ है। लेकिन, इस बीच कोरोना वायरस के बारे में लगभग रोजाना कोई न कोई नई बात सामने आ जाती है। पहले वैज्ञानिकों ने बताया कि यह जानलेवा वायरस घंटों तक हवा में भी जिंदा रह सकता है और इसलिए डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को ज्यादा एहतियात बरतने की सलाह दी गई है। लेकिन, अब जो जानकारी सामने आई है, वह तो और भी हिला देने वाली है। फ्रांस में इस वायरस को पानी के अंदर भी मौजूद पाया गया है। हालांकि, अभी पानी के जिस सैंपल में यह वायरस पाया गया, वह पीने का पानी नहीं था, लेकिन सवाल उठता है कि अगर किसी एक जगह कोरोना वायरस पानी में अपनी पैठ बना सकता है तो क्या वह दूसरी जगह भी पानी को संक्रमित नहीं कर सकता?


जर्मन ने चीन को भेजा 149 यूरो का बिल

अकाशुं उपाध्याय 


नई दिल्ली/बर्लिन। कोरोना वायरस महामारी स्वास्थ्य संकट के साथ ही अब वैश्विक गतिरोध की वजह बनता जा रहा है। दुनिया के तमाम देश वायरस के पीछे चीन की साजिश बता रहे हैं। अमेरिका ने खुलेआम धमकी तक दे डाली है और अब जर्मनी ने तो चीन से भारी-भरकम हर्जाना भी मांग लिया है। यानी कोरोना के जनक माने जाने वाले चीन के पीछे दुनिया पड़ गई है।
अमेरिका के अलावा कई यूरोपीय देशों की तरह जर्मनी भी चीन को ही कोरोना वायरस फैलने के लिये जिम्मेदार मान रहा है। जर्मनी में अब तक करीब डेढ़ लाख कोरोना केस आ चुके हैं और यहां 4500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना प्रभावित देशों में अमेरिका, इटली, स्पेन और फ्रांस के बाद जर्मनी पांचवें नंबर पर है। यानी जर्मनी में भी कोरोना ने भारी तबाही मचाई है। इस तबाही से गुस्साए जर्मनी ने चीन से हिसाब चुकता करने के लिये कहा है।


इटली में मौत के आंकड़ों में आई कमी

रोम। इटली में नोवेल कोरोना वायरस से रोज मरने वालों की आधिकारिक संख्या रविवार को 433 तक घट गई। यह एक सप्ताह में रोज होने वाली मौतों का सबसे छोटा आंकड़ा है। फरवरी में इटली में कोरोना वायरस संकट की शुरुआत हुई थी। इसके बाद से सिविल प्रोटेक्शन सर्विसेज द्वारा दर्ज की गई मौतों की कुल संख्या 23,660 है। कोविड-19 से मौतों की यह संख्या अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है।
 
इटली में रविवार का हुई मौतों का आंकड़ा एक महीने में दूसरा सबसे छोटा आंकड़ा है। नए वायरस संक्रमण 3047 हुए जो कि संक्रमण में वृद्धि का सिर्फ 1.7 प्रतिशत है। वायरस संक्रमण दर को इटली सरकार करीब से देख रही है। सरकार इस बात पर विचार कर रही है कि मार्च मध्य से पहले लगाए गए लॉकडाउन से देश को कैसे बाहर निकाला जाए। वर्तमान में जारी प्रतिबंध 4 मई को हटाए जाने का कोशिशें की जा रही हैं। सरकार यह निर्धारित करने की कोशिश कर रही है कि कौन-कौन से व्यवसायों को फिर से शुरू करने की अनुमति दी जा सकती है। और लोगों को घरों से बाहर जाने दिया जा सकता है या नहीं।


राष्ट्रपति भवन के 20 कर्मचारी संक्रमित

अफगानिस्तान में कोरोना के 933 पॉजिटिव केसअफगानिस्तान में ईरान से लौटे हैं 2 लाख लोग


काबुल। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति भवन में काम करने वाले 20 कर्मचारियों में कोरोना वायरस के संक्रमण की खबर है।समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक, राष्ट्रपति भवन के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर यह जानकारी दी है. अधिकारी ने खबर की पुष्टि इसलिए नहीं की क्योंकि वह इसके लिए अधिकृत नहीं है।


अभी यह साफ नहीं है कि इन स्टाफ के संपर्क में राष्ट्रपति अशरफ गनी आए हैं या नहीं। अभी यह भी स्पष्ट नहीं है कि उन्होंने कोई जांच कराई है या नहीं। अफगानी राष्ट्रपति भवन ने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अशरफ गनी फिलहाल सेल्फ आइसोलेशन में हैं।हालांकि हर दिन वे कुछ सीनियर अधिकारियों के साथ बैठक करते हैं। बता दें, गनी की उम्र 70 साल है और वे पूर्व में कैंसर का इलाज करा कर ठीक हो चुके हैं। लिहाजा वे कोरोना के अति जोखिम वाली श्रेणी में हैं।


हिमाचल को 400 करोड़ की चपत लगी

जगत सिंह


शिमला। हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में कोरोना के चलते लगाए गए लाकडाउन से सरकार को 400 करोड़ रुपये की चपत लग गई है।


उन्होंने बताया कि लाकडाउन के कारण प्रदेश को राजस्व से मिलने वाले 450 करोड़ में से यह राशि 40-50करोड़ तक ही सिमट गई है शिमला में आयोजित एक प्रेस वार्ता में उन्होंने कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमो की विस्तृत जानकारी प्रदान की उन्होंने कहा कि अन्य राज्यो की तुलना में हमारे प्रदेश में कोरोना की स्तिथि संतोषजनक है कोरोना के चलते समय समय पर सरकार ने महत्वपूर्ण फैसले लिए है मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल में कहीं भी कोई व्यक्ति राशन से वंचित न रहे इसके के लिए प्रतिदिन प्रातः 10 बजे मॉनिटरिंग करते है


उत्तराखंड में आवागमन पर मिलेगी छूट

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोविड-19 के दृष्टिगत सभी जिलाधिकारियों को जनपद की परिस्थिति के अनुकूल आम आदमी की समस्याओं के समाधान में मानवीय व व्यावहारिक दृष्टिकोण अपनाने पर ध्यान देने को कहा है। उन्होंने कहा कि शादी विवाह में दूल्हा और दुल्हन दोनों के पक्षों की व्यावहारिकता देखें। ऐसे प्रकरण अंतर्जनपदीय भी हो सकते हैं। विवाह के लिए केन्द्र सरकार के सामाजिक दूरी व अन्य निर्देशों का अनुपालन करते हुए अनुमति प्रदान की जाए। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए हैं कि जो लोग अपनी रिश्तेदारी आदि वजह से लॉक डाउन में फंस गए हैं उनका स्वास्थ्य परीक्षण करते हुए ग्रीन कैटेगरी के जनपदों में जाने की अनुमति प्रदान की जाए। यही नहीं जिन लोगों को क्वॉरेंटाइन में रखे हुए 14 दिन पूरे हो गए हैं उन्हें 15 वें दिन स्वास्थ्य परीक्षण के बाद यथा स्थान भेजने की व्यवस्था कर दी जाए।


सोमवार को मुख्यमंत्री आवास में शासन के उच्चाधिकारियों के साथ सभी जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 के दृष्टिगत इससे संबंधित बचाव एवं राहत कार्यों की समीक्षा एवं भारत सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुपालन के संबंध में व्यापक चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने निर्देश दिए कि काश्तकारों के व्यापक हित में आम व लींची के सीजन के दृष्टिगत इसे क्रय करने हेतु आने वाले ठेकेदारों को भी आवश्यक चिकित्सा सुरक्षा जांच के बाद आवागमन की सुविधा प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि मटर की खेती करने वाले किसानों के हित में फ्रोजन मटर की प्रोसेसिंग करने वाले उद्योगों को भी प्रोत्साहित किया जाए। मुख्यमंत्री ने गर्मी व सर्दी के मौसम में प्रदेश के सीमांत जनपदों उत्तरकाशी, चमोली व पिथौरागढ़ में माइग्रेट होने वाले लोगों के आवागमन, पशुओं को चारा-पानी, गर्मी के दृष्टिगत पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉक डाउन के कारण प्रदेश में हजारों लोगों ने रिवर्स माइग्रेशन किया है, लॉक डाउन के बाद भी इनकी संख्या और बढ़ सकती है इसके लिए एक प्रोफॉर्मा तैयार किया गया है जिसमें उनकी दक्षता आदि का पूरा विवरण तैयार किया जाना है। इसके लिए 30 हजार आवेदन भेजे जा चुके हैं। यह प्रक्रिया भविष्य की योजना तैयार करने में मददगार हो सकेगी। जिला अधिकारी अपने जनपदों में इसका भी ध्यान रखें।


मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों से मुख्यमंत्री राहत कोष में योगदान के लिए अधिक से अधिक लोगों को प्रोत्साहित करने की भी अपेक्षा की। इस धनराशि से जनकल्याण के कार्यों में बड़ी मदद मिल सकती है। उन्होंने जिलाधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि जो भी निर्देश राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 के दृष्टिगत राहत एवं बचाव कार्यों के संबंध में जारी किए जा रहे हैं उनका पालन गंभीरता के साथ सुनिश्चित किया जाए। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने सभी जिलाधिकारियों से जनपद में मेडिकल स्टाफ की तैनाती के साथ ही उनके प्रशिक्षण पर ध्यान देने को कहा ताकि भविष्य की चुनौतियों का सामना करने में मदद मिल सके। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के निर्देशों के अनुरूप कृषि व खेती से संबंधित कार्यों को सुचारू रूप से संचालन की व्यवस्था की जाए। माइग्रेट लेबरों के हित में उद्योगों से समन्वय कर उनकी आवश्यकता के दृष्टिगत उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि माइग्रेट कैम्पों में नियमित रूप से हेल्थ चेकिंग व उनके मनोबल को बढ़ाने के भी प्रयास किए जाएं।


उन्होंने कहा कि आवश्यक सामान लेकर जाने वाले ट्रक ड्राइवरों को कतिपय जनपदों में 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन किए जाने की बात भी सामने आ रही है, ऐसे ड्राइवरों के स्वास्थ्य की जांच कर उन्हें जाने दिया जाए। उन्होंने वितरित की जा रही सामग्री की एकाउंटिंग पर भी ध्यान देने को कहा।मुख्य सचिव ने सभी जिलाधिकारियों को कोविड-19 के दृष्टिगत वन विभाग के जिन कर्मचारियों की तैनाती की गई है उन्हें वनाग्नि के बचाव आदि कार्यों के दृष्टिगत कार्यमुक्त कर दें, इनके स्थान पर पीआरडी स्वयं सेवकों की तैनाती की जाए । अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा कि भारत सरकार के निर्देशों के अनुरूप राष्ट्रीय राजमार्ग, चारधाम सड़क परियोजना, कुंभ मेले से संबंधित कार्य, पुलों, नाबार्ड, लोनिवि, राज्य योजना व जिला योजना से संबंधित 75 प्रतिशत प्रगति वाले निर्माण कार्य किए जाने हैं, इसका परिचालन मानकों के अनुरूप किया जाना है। उन्होंने निर्माण कार्यों के मजदूरों को आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ ही इसका साप्ताहिक अनुश्रवण किए जाने तथा कार्य स्थल पर अथॉरिटी इंजीनियर, जे.ई. की तैनाती सुनिश्चित करने को कहा, इसकी व्यवस्था बनाने की जिम्मेदारी इनकी रहेगी।


इस अवसर पर प्रमुख सचिव उद्योग श्रीमती मनीषा पंवार, सचिव स्वास्थ्य नितेश झा, सचिव वित्त अमित नेगी, सचिव शहरी विकास शैलेश बगोली, सचिव पेयजल अरविंद ह्यांकी, सचिव कृषि आर मीनाक्षी सुंदरम, सचिव खाद्य सुशील कुमार एवं पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी ने उनके स्तर पर की जाने वाली व्यवस्थाओं पर जिलाधिकारियों से चर्चा की। जिलाधिकारियों ने अपनी समस्याओं से भी मुख्यमंत्री को अवगत कराया।


जयपुर में 35 लाख की अवैध शराब

जयपुर में 35 लाख की अवैध शराब जब्त


आवश्यक सामान की सप्लाई की आड़ में तस्करी का खेल
जयपुर। राजस्थान में लॉकडाउन के दौरान भी शराब माफियाओं का तस्करी का खेल जारी है। लॉकडाउन के दौरान मालवाहक वाहनों को पुलिस नाकों पर नहीं रोके जाने के आदेश का फायदा उठाते हुए शराब माफिया तस्करी में जुटे हैं। शराब तस्करी करने वाली ऐसी एक अंतरराज्यीय गैंग के खिलाफ जयपुर ग्रामीण पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की हैं।पुलिस ने गैंग का खुलासा करते हुए उनके कब्जे से करीब 35 लाख रुपए की अवैध शराब बरामद की है।


ट्रक से शराब पिकअप में लोड की जा रही थी शराबः ग्रामीण  एसपी शंकर दत्त शर्मा के अनुसार पुलिस ने चंदवाजी थाना इलाके में करीब 35 लाख रुपए की अवैध शराब बरामद की है। यह अवैध शराब में ट्रक और पिकअप में भरी हुई थी। ट्रक से शराब पिकअप में लोड की जा रही थी. पुलिस ने शराब को जब्त करने के साथ ही 1  शराब तस्कर को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने पिकअप में सब्जियों के नीचे छिपाये गए अवैध शराब के 50 कार्टन ट्रक में भरे 873 कार्टन बरामद किए हैं। पुलिस ने मौके से शराब तस्कर रामजीलाल जाट (40) को गिरफ्तार किया है। वह जयपुर जिले के नेवटा थाना इलाके का रहने वाला है। बेहद शातिराना अंदाज में कर रहे थे तस्करीः एसपी शर्मा ने बताया कि लॉकडाउन में आवश्यक सामान जैसे खाद्य सामग्री, दूध, सब्जी, मेडिकल आदि का परिवहन करने वाले मालवाहक वाहनों को नहीं रोकने का आदेश हैं।शराब तस्कर इसी बात का फायदा उठाते हुए एक ट्रक पर एसेंशियल सर्विस का पर्चा चिपका कर शराब तस्करी कर रहे थे। इन्होंने इसके लिए सेनेटाइजर के रॉ-मटेरियल की सप्लाई के लिए पंजाब के अंबाला जिला मजिस्ट्रेट की स्वीकृति-पत्र बनवा रखा था। इसकी आड़ में ये छत्तीसगढ़ में बेची जाने वाली शराब को तस्करी के जरिये राजस्थान के अलग-अलग क्षेत्रों में सप्लाई करने की फिराक में थे। पिकअप में भी सहायक पुलिस आयुक्त चौमू से सब्जी सप्लाई करने का स्वीकृति का पत्र मिला है। शराब की कार्टन को सब्जी के खाली कैरेट से ढककर छुपाया गया था।


क्वॉरेंटाइन सेंटर पर कर्मचारियों की जांच

अतुल त्यागी
भूपेंद्र (सिम्भावली रिपोट)
स्वास्थ्य विभाग टीम ने सिंभावली क्वॉरेंटाइन सेंटर पर तैनात कर्मचारियों की रैपिड आरटीडी किट से की जांच


हापुड़। गढ़मुक्तेश्वर के सिंभावली में आर एस के इंटर कॉलेज को बनाए गए क्वॉरेंटाइन सेंटर पर क्वॉरेंटाइन में रखें गए लोगों की देखरेख में तैनात कर्मचारी आर आई मनोज लेखपाल योगेंद्र रामकिशोर देवव्रत रघुवीर सिंह सचिव शैलेश गौड भोवापुर मस्तान नगर जितेंद्र सिंह बक्सर सरदार कुंवर सिंह पूर्व प्रधान बक्सर एसआई अशोक कुमार वर्मा सुभाष चंद्र कृष्णपाल मलिक ब्रह्मपाल सिंह नंद लाल सरोज महिला कांस्टेबल चंचल प्रियम चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी कुंवर पाल माधव सिंह संग्राम सिंह धर्म सिंह सुखपाल सिंह सहित 50 कर्मचारियों के स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा रैपिड आरडी किट से रक्त नमूने लेकर किया गया परीक्षण जिसमें सभी कर्मचारी नेगेटिव पाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ली राहत की सांस।


संदिग्धः वृद्ध महिला की जलकर मौत


अतुल त्यागी
भूपेंद्र (सिम्भावली रिपोट)


वृद्ध महिला की संदिग्ध परिस्थिति में जलकर मौत


गढ़मुक्तेश्वर/सिंभावली। जनपद हापुड़ में वृद्ध महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत ने बढ़ाया पुलिस का तनाव। थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले हरोड़ा मोड़ पर 55 वर्षीय वृद्ध महिला राम नंदी पत्नी सतवीर सिंह की संदिग्ध परिस्थिति में जलकर हुई मौत से परिवार में मचा हड़कंप।


विदित रहे कि हरोड़ा मोड़ पर रहने वाले सतवीर सिंह की पत्नी राम नंदी 55 वर्ष कि उस समय संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई जब परिवार के सभी लोग खेत पर गेहूं की फसल की कटाई करने गए हुए थे घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे परिजनों ने आनन-फानन अस्पताल पहुंचाया जहां राम नंदी ने उपचार शुरू होने से पूर्व ही दम तोड़ दिया घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे थाना अध्यक्ष महेंद्र कुमार त्रिपाठी के द्वारा पंचनामा भरकर शव को परिजनों के सुपुर्द किया।


हापुड़ में एसडीएम ने संभाली कमान

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार 


लॉक डाउन का पालन कराने हेतु सदर उपजिलाधिकारी ने संभाली नगर की कमान


मीनाक्षी रोड,चंडी रोड पक्का बाग गढ रोड का किया दौरा


हापुड। हापुड़ नगर में लॉक डाउन का पालन कराने हेतु सदर उपजिलाधिकारी सत्य प्रकाश शर्मा ने खुद कमान सँभाली   उनके द्वारा आज नवी करीम, मीनाक्षी रोड़,चंडी रोड,पक्का बाग गढ़ रोड आदि स्थानों का दौरा किया। शासन द्वारा पहले से सील इलाकों को आज बैरिकेडिंग लगाकर बंद कर दिया गया। चंडी मंदिर के आसपास खरीदारी करने के लिए जो लोग घर से निकले उनको आज पैदल ही बाजार पहुंचना पड़ा साथ ही साथ दुकानदारों को भी समान ना फैलाने की हिदायत दी गई और कहा गया कि सभी सोशल डिस्टेंस का सही प्रकार से  पालन  करे  जो भीड़ देखने को मिलती थी वह बहुत कम थी। बिना किसी उद्देश्य के कुछ युवा मोटरसाइकिल,स्कूटर अन्य व्हीकलो को लेकर बाजार में घूमते नजर आते थे लेकिन आज ऐसा नहीं था। हापुड़ के नवी करीम, गांधी गंज, सत्तीवाडा, मेरठ गेट पुलिस चौकी आदि स्थानों को पूरी तरह सील किया गया। नगर पालिका वार्ड नंबर 10 के सभासद नरेश भाटी ने अपील की कि शहर के सभी लोग हौसला बना कर रखें व सामाजिक दूरी का पालन करते रहें लाँकडाउन के आदेश का पालन हम सबको करना है। उपनिरीक्षक मेरठ गेट पुलिस चौकी प्रभारी शुभम चौधरी भी उपस्थित रहे।


अमेरिका-ईरान में हुई मुठभेड़, लगे आरोप

तेहरान। ईरानी सेना रिवोल्यूशनरी गार्ड ने रविवार को स्वीकार किया कि पिछले हफ्ते अरब की खाड़ी में अमेरिकी युद्धपोतों के साथ उसकी मुठभेड़ हुई थी। उसने आरोप लगाया कि अमेरिकी बलों ने ही घटना की शुरुआत की थी।


बता दें कि अमेरिकी नौसेना ने बुधवार की घटना का एक वीडियो जारी किया था, जिसमें कुवैत के पास उत्तरी अरब की खाड़ी में ईरान की छोटी नौकाएं तेज गति से अमेरिकी युद्धपोतों की तरफ आ रही थीं। ईरानी सेना ने कहा, 'हमारी सेना अभ्यास कर रही थी और हमें अमेरिका की तरफ से गैर पेशेवर उकसावे वाली कार्रवाई और चेतावनी का सामना करना पड़ा।' हालांकि, ईरानी सेना ने अपने आरोपों के समर्थन में कोई वीडियो अथवा सुबूत जारी नहीं किया। उसने अमेरिकी बलों पर छह और सात अप्रैल को ईरान के युद्धपोतों को रोके जाने का आरोप लगाया। वहीं, बहरीन आधारित अमेरिकी नौसेना के पांचवे बेड़े के प्रवक्ता पेटे पगानो ने कहा कि नौसेना बुधवार को हुई घटना के अपने बयान पर कायम है। दूसरी तरफ, रविवार को ईरान के विदेश मंत्री मुहम्मद जावेद जरीफ ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना करते हुए ट्वीट किया कि ईरान विश्र्व के सबसे बुरे प्रकोप के बावजूद जल्द ही वेंटीलेटर का निर्यात करेगा। उन्होंने कहा, 'आपको बस दूसरे देशों के मामलों में दखल देना बंद करना होगा, खासकर मेरे और मेरा विश्र्वास कीजिए, हम किसी अमेरिकी राजनेता से सलाह नहीं लेते।


प्रयागराज में किया पुलिस का सम्मान

प्रयागराज थाना कीडगंज अंतर्गत किया गया पुलिसकर्मियों का सम्मान


प्रयागराज। थाना कीडगंज क्षेत्र चौखंडी नई बस्ती पुलिस चौकी अंतर्गत मोहल्ले वासियों ने थाना अध्यक्ष शिशुपाल शर्मा व नई बस्ती चौकी इंचार्ज रणजीत सिंह चौकी इंचार्ज राजबहादुर साहनी एवं ज्ञानेंद्र कुमार और तमाम पुलिसकर्मियों का स्वागत सपा नेता महेश निषाद के नेतृत्व में किया गया और पूरे चौखंडी क्षेत्र में सभी लोग अपने छतों से पुष्प वर्षा करते हुए पुलिसकर्मियों का सम्मान किया। जिसमें मुख्य रूप से प्रवीण गुप्ता मोनू द्विवेदी रमाकांत माली डब्बू यादव रुपेश निषाद संजय निषाद भाइयों पंडा विरेंद्र गुप्ता राकेश गुप्ता, भैया लाल निषाद, सुनील निषाद, रूपेश निषाद, शुभम द्विवेदी, निशू यादव,  सिंटू यादव, संजय निषाद, गोलू सुरेंद्र, बबलू  निषाद, नन्हे अग्रवाल, कमलेश जायसवाल, सुनील सिंह मनीष दिवेदी और महिलाओं  मे उषा देवी राधा देवी ममता, गीता केसरवानी, साक्षी द्विवेदी, अनुराधा उमा, नैंसी द्विवेदी ने भी छतों पर चढ़कर पुष्प वर्षा करते हुए पुलिसकर्मियों का हौसला अफजाई के लिए फूलों की वर्षा की और मोहल्ले में के तमाम वरिष्ठ नागरिक गण मौजूद थे।


बृजेश केसरवानी


जांच टीम ने मौके पर पाई गड़बड़ी

मो शारीक ने एसडीएम से की शिकायत 


प्रयागराज। नैनी के कई इलाकों से गरीबों की गुहार आ रही थी कि उनको कोटेदार राशन मुहैया नहीं करा रहे थे इसमें चकदोंदी कर्बला अरैल नैनी बाजार महेवा इंदलपुर चाका ददरी विभिन्न इलाकों से जरूरतमंद लोगों ने फोन किया एवं हेमा कर मुझे सूचित किया जिसके बाद मैंने  कोटेदारों से बात की लेकिन निराशाजनक उत्तर मिलने पर मैंने इसकी सूचना तत्काल प्रभाव से एसडीएम से और खाद विभाग से किया जिसमें अधिकारियों ने मुझे अवगत कराया कि आज ही इस विषय में हम कार्रवाई पर निकलेंगे और कल पूरी टीम कार्रवाई के लिए निकली और मौके पर उन्होंने पाया कि कई गड़बड़ियां थी तत्काल प्रभाव से एक्शन ले कर के उन्होंने जनता को राहत की सास दिया विगत 2 दिनों से इस विषय पर मैं आवाज उठा रहा था क्योंकि जरूरतमंद लोग बहुत ही ज्यादा परेशान थे और जैसा कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि राशन कार्ड ना होने पर भी उक्त राशन दिया जाए इसलिए मैं यह अनुरोध कर रहा हूं कि मुख्यमंत्री जी की बातों को लागू करते हुए जो भी जरूरतमंद लोग हैं। उनको राशन कोटेदार उपलब्ध कराएं।


रिपोर्ट- बृजेश केसरवानी


जिम्मेदारी निभा रहे 'बसपा कार्यकर्ता'

अतुल त्यागी


लाॅकडाउन में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे बसपा कार्यकर्ता


13 दिनों से प्रतिदिन  लोगों तक पहुंचा रहे खाना


हापुड। लाॅकडाउन में सामाजिक  जिम्मेदारी निभाते हुए बसपा कार्यकर्ता पिछले 13 दिनों से  शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में 500  असहाय लोगों को भोजन की व्यवस्था करा रहे हैं। देशभर में चल रहे लाॅकडाउन की आपातकालीन स्थिति में शासन प्रशासन के साथ-साथ सामाजिक और राजनीतिक दल भी जरूरतमंद लोगों की मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। इसी क्रम में पिछले 13 दिनों से जनपद इकाई बसपा के कार्यकर्ता शहर व ग्रामीण क्षेत्रों के आसपास असहाय जरूरतमंदों लोगों को प्रतिदिन खाना पहुंचा रहे हैं। विधानसभा अध्यक्ष योगेंद्र कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि बसपा राष्ट्रीय अध्यक्ष बहन कुमारी मायावती जी के निर्देशनुसार व माननीय जिलाध्यक्ष डा ऐ के कर्दम जी के नेतृत्व में बसपा के कार्यकर्ता जरूरतमंदों लोगों की हर प्रकार से मदद कर रहे हैं। साथ ही सभी को सामाजिक दूरी बनाकर लाॅकडाउन का शत प्रतिशत पालन करने की अपील कर रहे हैं।


भ्रम में न रहे छात्र, परीक्षाएं होंगी

अभय प्रताप सिंह डिग्री कॉलेज के चीफ प्रॉक्टर का दावा


वार्षिक परीक्षाए होगीं छात्र तैयारी करते रहें


फतेहपुर। अभय प्रताप सिंह डिग्री कॉलेज कुंवरपुर रोड बिंदकी के चीफ प्रॉक्टर विनय कुमार शुक्ला ने कहा है कि छात्र इस अफवाह पर ध्यान ना दें कि परीक्षाएं नहीं होगी  प्रो० राजेंद्र सिंह (रज्जू भैया) विश्वविद्यालय प्रयाग राज से संबद्ध महाविद्यालयों में परीक्षाएं होंगी और इसके लिए छात्रों को तैयारी जारी रखनी चाहिये।


उन्होंने एक प्रेस नोट में कहा है की ऐसी अफवाहों से छात्र प्रभावित हो रहे हैं कि कोविड-19 महामारी के चलते अब महाविद्यालय की परीक्षाएं नहीं होगी यह सोचना गलत है। परीक्षाएं अग्रिम आदेश तक के लिए स्थगित हुई है। ताजा निर्देश मिलते ही परीक्षाएं संपन्न कराई जाएंगी, बिना परीक्षा प्रोन्नति नहीं दी जाएगी। छात्रों को चाहिए कि वह लॉक डाउन के दौरान घर पर ही परीक्षाओं के लिए अपनी तैयारी अनवरत जारी रखें।


संदिग्ध को लेकर खाक छानती रही टीमें

कोरोना संदिग्ध को लेकर दिनभर खाक छानती रही मेडिकल एवं पुलिस टीम


फतेहपुर। कोरोना के बढ़ते दायरे को लेकर शासन एवं प्रशासन की नींद उड़ गई है, शाशन अलर्ट मोड़ पर है। शासन की मंशा है कि किसी भी प्रकार से इसका संक्रमण और अधिक लोगों में न फैलने पाए और जो लोग संक्रमित हैं। वह जल्दी स्वस्थ होकर अपने परिवार में जाएं इसी को लेकर जिले में कई टीमों को लगाया गया है। जहां भी कोरोना के संदिग्ध की कोई खबर टीम को मिलती है, तो कोई कोताही न करके टीम तुरंत मौके पर पुलिस प्रशासन को लेकर पहुंच रही है। इसी क्रम में आज टीम ने पुलिस प्रशासन के साथ जहानाबाद के ड्योढी मोड़ के सामने स्थित एक मकान में पहुंची स्वास्थ्य टीम के अचानक पहुंच जाने से लोगों के कान खड़े हो गए स्वास्थ्य टीम के पहुंचने का कारण कानपुर से आई महिला ताहिरा खातून पत्नी इलियास वार्ड नंबर 14 बाकरगंज काजी टोला थे। जिनको स्वास्थ्य टीम ने चेक करने के बाद संदिग्ध पाया क्योंकि उनको तेज बुखार के साथ साथ सांस फूलने की शिकायत भी थी हालांकि की घरवालों के अनुसार उनका इलाज कानपुर के एक डॉक्टर के वहां से पिछले काफी समय से चल रहा है। स्वास्थ्य टीम ने एहतियात के तौर पर उनको सैंपल लेने के उद्देश्य क्वॉरेंटाइन सेंटर भेज दिया है। उसके बाद टीम बकेवर थाना अंतर्गत कश्मीरी पुर पहुंची जहां पर एक मदरसे का निरीक्षण किया गया और हर एक बच्चे को चेक किया गया परंतु कोई भी शक के दायरे में नहीं आया वडोदरा से आए पिंटू पुत्र हरिशंकर कोरी उर्फ करियल कोरी एवं शैलेंद्र पुत्र बदलू प्रजापति जो कि 18 अप्रैल को बड़ोदरा से लौटकर अपने घर आए हैं टीम ने उनकी भी जांच की और उन्हें परिवार से 14 दिन तक अलग रहने की हिदायत दी है।


युवती ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

घर के अंदर युवती ने फांसी लगाकर की आत्महत्या


पुलिस के अनुसार महिला मानसिक रूप से अस्वस्थ रहती थी


पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा की जा रही जांच


फतेहपुर। घर के अंदर युवती ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली परिजनों को जानकारी हुई तो हड़कंप मच गया। सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है पुलिस के अनुसार युवती मानसिक रूप से अस्वस्थ रहती थी फिर भी पूरे मामले की जांच की जा रही है।


जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के शंकर नगर गांव में सीमा देवी उम्र 23 वर्ष पुत्री राजाराम ने घर के अंदर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली परिजनों को जानकारी हुई तो हड़कंप मच गया परिजन रो-रोकर बेहाल हो रहे थे उधर सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है इस संबंध में खजुवा चौकी इंचार्ज भगवान भगत सिंह ने कहा कि युवती द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने की जानकारी मिली थी मौके पर पहुंचकर शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। युवती मानसिक रूप से अस्वस्थ रहती थी फिर भी पूरे मामले की जांच की जा रही है।


मदद के लिए अफगान ने शुक्रिया कहा

काबुल। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में मदद को लेकर अफगानिस्तान ने भारत को शुक्रिया कहा है। भारत ने दवा से लेकर गेहूं तक अफगानिस्तान भेजा है। अफगानिस्तान के धन्यवाद पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा है कि जैसे हम लंबे समय से एक साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ रहे हैं उसी तरह कोविड-19 के खिलाफ भी एक साथ जंग लड़ेंगे।अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने सोमवार को ट्वीट किया, 'अफगानिस्तान के लोगों के लिए 5 लाख हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट, 1 लाख पैरासिटामोल टैबलेट और 75 हजार मीट्रिक टन गेहूं के लिए मेरे दोस्त पीएम नरेंद्र मोदी और भारत का शुक्रिया। 5000 मीट्रिक टन गेहूं एक दो दिन में अफगानिस्तान पहुंच जाएगा।'


पीएम मोदी ने क्या कहा? पीएम नरेंद्र मोदी ने करीब एक घंटे बाद ही इसका जवाब देते हुए लिखा, 'भारत और अफगानिस्तान की दोस्ती स्पेशल है और यह इतिहास, भूगोल और सांस्कृतिक रिश्तों पर आधारित है। लंबे समय तक हम आतंकवाद के खिलाफ साथ लड़ते रहे हैं और अब इसी तरह कोविड-19 का मुकाबला करेंगे।' गौरतलब है कि अफगानिस्तान क्षेत्र में कोरोना वायरस से सर्वाधिक प्रभावित देशों में शामिल है, जहां संक्रमण के 82,000 से अधिक मामले हैं और 5 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। भारत 55 से अधिक देशोंको कोरोना मरीजों के इलाज में कारगर साबित हो रही एंटी मेलेरिया दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का निर्यात कर चुका है। भारत ने श्रीलंका, बांग्लादेश, मालदीव जैसे पड़ोसी राज्यों के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन आदि को भी दवा भेजी है। वर्षों से युद्धग्रस्त रहे अफगानिस्तान को भारत ने गेहूं भेजकर भी मदद की है। तालिबान और पाकिस्तान पोषित आतंकवाद से पीड़ित रहे अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण में भारत ने अहम भूमिका निभाई है। कई मौकों पर भारत अफगानिस्तान की मुश्किलों में उसके साथ खड़ा रहा है। भारत और अफगानिस्तान दोनों ही पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से पीड़ित रहे हैं।


वायरस पर नियंत्रण करने का दावा

तेहरान। ईरान ने देश में कोरोना वायरस संक्रमण के काबू कर लेने का दावा करते हुए। परिवहन के लिए राजमार्ग और मुख्य दुकानें खोल दी। गौरतलब है कि ईरान विश्व में कोरोना वायरस से सभसे अधिक प्रभावित देशों में से एक है। तेहरान के ऐतिहासिक ग्रैंड बाजार की दुकानों से ले कर आलीशान मॉलों को खोल दिया गया। वैसे सरकार ने इन्हें बंद करने का समय शाम छह बजे सीमित कर दिया है। फिलहाल रेस्तरां, जिम और कई अन्य स्थान बंद हैं।


टैक्सी ड्राइवर प्लास्टिक के पर्दे ग्राहकों की सीट से अपनी सीट अलग कर और मास्क पहनकर गाड़ियां चला रहे हैं। प्रशासन ने लॉकडाउन में प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था का हवाला देते हुए अपने इस कदम की हिमायत की है। वहीं, देश में अब तक कोरोना वायरस से 5209 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि कुल 83,505 मरीज कोविड-19 से संक्रमित हैं और 59,273 रोगियों को इस वायरस से ठीक किया जा चुका है।


वायरसः निपटने की कार्य- योजना तैयार

केरल के सैकड़ों छात्र वुहान में विभिन्न प्रोफेशनल कोर्स में पढ़ाई करते थे और डर था कि वे घर लौटेंगे तो वायरस का प्रकोप भी साथ ला सकते हैं।


तिरुवंतपुरम। राज्य केरल में निपाह वायरस के प्रकोप के दौरान मोर्चा संभाल चुकीं, जिंदादिल स्वास्थ्य मंत्री को नॉवेल कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने की कार्य-योजना तैयार करनी थी। उसी दिन वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के तीन छात्र अलप्पुझा, त्रिशूर और कासरगोड के अपने घर लौटे थे और घर में ही क्वारंटीन में थे। इनमें से एक भारत का पेशेंट जीरो (पहला मरीज) कहलाया तो राज्य पूरी तरह हरकत में आ गया। तिरुवनंतपुरम के सरकारी अस्पताल के परिसर में एक कंट्रोल रूम बनाया जा चुका था. संक्रमण का फैलाव रोकने के लिए राज्य का प्रशासन रणनीति तैयार कर चुका था मगर चिंता की वजह कोई एक तो थी नहीं। केरल देश के दूसर राज्यों के मुकाबले दुनिया से कुछ अलग तरह से जुड़ा हुआ है। यहां के आप्रवासियों की आबादी 25 लाख है और चार अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों से हर साल करीब 1.7 करोड़ यात्री आवाजाही करते हैं। प्रति वर्ग किलोमीटर 819 जनसंख्या घनत्व के साथ यह देश में आठवां सबसे अधिक आबादी घनत्व वाला राज्य है। लेकिन उसके पास दो ट्रंप कार्ड भी हैं—एक, विश्वस्तरीय स्वास्थ्य व्यवस्था और दूसरा, 2018 में घातक निपाह वायरस के प्रकोप पर काबू पाने का अनुभव।


पीड़ितों के धीरज ने जवाब दिया

जोहान्सबर्ग। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के कारण मरीजों और मौत के आंकड़ों में दिनोंदिन तेजी आ रही है, तो वहीं दूसरी तरफ लोगों की बेबसी, गरीबी और पेट की भूख उन्हें सड़कों पर उतरने को मजबूर कर रही है। ऐसी ही कहानी अफ्रीका महाद्वीप के अधिकतर देशों में देखने को मिल रही है जहां खाने की कमी को लेकर दंगे भड़क गए हैं और स्थिति को कंट्रोल करने के लिए अब सेना को तैनात किया जा रहा है।
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो केपटाउन में प्रदर्शन जारी है तो वहीं लेसोथो में सेना की तैनाती की जा रही है जबकि नाईजीरिया सरकार के शीर्ष स्टाफ की मौत हो गई है। लोग खाने के लिए पुलिस और अन्य लोगों पर हमला कर रहे हैं, दुकानों को लूट रहे हैं। खाने के लिए सड़कों पर बड़ी तादाद में लोग जुट रहे हैं। कई जगह दंगे और लोगों के बीच मारपीट की खबरें सामने आ गई हैं।


नाईजीरिया में हालात सामान्य होते नहीं दिख रहे हैं। पुलिस को रबर बुलेट और आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ रहा है। बता दें कि अफ्रीका के 54 देशों में अभी तक कोरोना के 52 मौत के मामले सामने आए हैं जबकि 20 हजार के करीब लोग इसकी चपेट में हैं। उधर, दुनिया में 165,058 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई है और 24,06,905 लोग इससे संक्रमित हैं।


एक दिन में 399 लोगों की मौत

मेड्रिड। स्पेन में बीते 24 घंटों के दौरान कोविड-19 से कुल 399 लोगों की मौत हुई, जबकि इससे एक दिन पहले मरने वालों की संख्या 410 थी। सरकार ने सोमवार (20 अप्रैल) को यह जानकारी दी। ताजा आंकड़े यह भी दिखाते हैं कि स्पेन में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों की संख्या करीब 200,210 तक हो गई है। इस वायरस की वजह से देश में 20,852 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। अमेरिका और इटली के बाद कोविड-19 से सबसे ज्यादा मौत के मामले में स्पेन दुनिया में तीसरे नंबर पर है।


वहीं, समाज के हर तबके को प्रभावित करने वाले कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों में कुछ देश की सरकारें छूट दे रही हैं जबकि अधिकतर देश धीरे-धीरे कदम उठा रहे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का भी कहना है कि ऐसा कोई भी कदम धीरे-धीरे ही उठाया जाना चाहिए क्योंकि थोड़ी सी भी लापरवाही एक बढ़ी चूक साबित हो सकती हैं।


निर्दयी मां ने शिशु को सड़क पर फेंका

जन्म लेते ही नवजात को सड़क पर फेंका


कड़ा कोतवाली के सौराई बुजुर्ग गांव के बाहर मृत अवस्था मे लावारिस मिला नवजात शिशु


कौशाम्बी। वर्तमान में मानवीय संवेदनाये शून्य होती नजर आ रही है एक निर्दयी माँ 9 माह तक अपने पेट मे अपने बच्चे को पालती है और पैदा होते ही उसे मारने के लिए यहाँ-वहाँ  सड़को पर फेक देती है। इससे साफ जाहिर होता है कि मानवीय संवेदनाये लगभग शून्य होती नजर आ रही है ऐसा ही एक ताजा मामला कोतवाली कड़ा धाम क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम सौरई बुजुर्ग गांव का है। जहाँ नवजात की लाश सड़क किनारे मिली है। जानकारी जे मुताबिक सौराई बुजुर्ग गांव के टुल्लू की आड़ार हनुमान मंदिर के पास का मामला सामने आया है। जहाँ रोड के समीप एक अज्ञात मृत नवजात शिशु लावारिश अवस्था मे पड़ा मिला वही जब सुबह स्थानीय लोगो को मामले की भनक पड़ी तो देखने के लिए मौके पर ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी वही इसकी जानकारी कड़ा धाम कोतवाली पुलिस को मिली तो पुलिस ने नवजात के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


ज्ञानू सोनी


हत्याओं को मजहबी रंग ना देंः उद्धव

मुंबई/पालघर। महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या मामले में महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि गलतफहमी में साधुओं पर हमला हुआ। इस घटना को मजहबी रंग देने की कोशिश न करें। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले पर मेरी गृहमंत्री अमित शाह से बातचीत हुई है। ठाकरे ने आश्वासन दिया है कि दोषियों को बख्सा नहीं जाएगा।


मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले को मजहबी रंग देने की कोशिश न करें। हम दोषियों को नहीं छोड़ेंगे। कुछ लोग इसे हिंदू-मुस्लिम रूप देना चाहते हैं। ये मजहब की बात नहीं है। 2 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है


मालदीव के राष्ट्रपति ने फोन पर चर्चा की

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज मालदीव के राष्ट्रपति श्री इब्राहिम मोहम्मद सोलिह के साथ टेलीफोन पर बातचीत की।    
दोनों राजनेताओं ने अपने-अपने देशों में ‘कोविड-19’ के संक्रमण की मौजूदा स्थिति के बारे में एक-दूसरे को अपडेट किया। दोनों राजनेताओं ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि सार्क देशों के बीच समन्वय के लिए जिन-जिन तौर-तरीकों पर सहमति जताई गई है उन्‍हें सक्रियतापूर्वक लागू किया जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी को यह जानकर अत्‍यंत प्रसन्‍नता हुई कि मालदीव में पहले तैनात किए गए भारतीय चिकित्सा दल और फि‍र बाद में भारत द्वारा उपहार में दी गई आवश्यक दवाओं ने द्वीप में संक्रमण के फैलाव को नियंत्रित करने में उल्‍लेखनीय योगदान दिया था।
पर्यटन पर निर्भर अर्थव्यवस्था जैसे कि मालदीव में महामारी से उत्‍पन्‍न विशेष चुनौतियों का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने मालदीव के राष्ट्रपति को कोविड-19 के स्वास्थ्य और आर्थिक खतरों या प्रभावों को कम करने के लिए भारत की ओर से निरंतर सहयोग देने का आश्वासन दिया। दोनों राजनेताओं ने इस पर सहमति व्यक्त की कि उनके अधिकारी वर्तमान स्वास्थ्य संकट से उत्पन्न मुद्दों के साथ-साथ द्विपक्षीय सहयोग के अन्य पहलुओं को भी ध्‍यान में रखते हुए निरंतर आपसी संपर्क में रहेंगे।


संघ ने सफाई कर्मियों का सम्मान किया

सीमा गुप्ता


गाजियाबाद। नोवल कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन में सेवा दे रहे कोरोना वॉरियर्स पर पुष्प वर्षा कर हर की सम्मान कर रहा हैं। इसी क्रम में जनपद गाजियाबाद में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने सफाई कर्मचारियों पर पुष्प वर्षा कर उनका मनोबल बढ़ाने का सराहनीय कार्य किया हैं। साथ ही सभी सफाई कर्मचारियों को तोलिया भेट कर उन्हे सम्मानित किया। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह जिला संघचालक राकेश गुप्ता ने कहा कि ऐसी संकट की घड़ी में देश की जनता के लिए 3 ही यंग है, सफाई कर्मचारी, मेडिकल स्टाफ और पुलिस प्रशासन जोकि हमारी सुरक्षा के लिए दिन रात काम करे हैं। इसी लिए आरएसएस ने सफाई कर्मचारियों का सम्मान किया हैं


गाजियाबादः ग्रीन जोन में बदले 2 हॉटस्पॉट

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। दिल्ली से सटे गाजियाबाद में बनाए गए 16 हॉटस्पॉट में से राजनगर एक्सटेंशन के केडीपी सवाना सोसायटी और गिरीनार अपार्टमेंट कौशांबी को हॉटस्पॉट की श्रेणी से बाहर कर दिया गया, जबकि एक जनपद में एक हॉटस्पॉट नया बनाया गया हैं। गाजियाबाद के मुख्य चिकित्साधिकारी के मुताबिक पिछले 28 दिन से इन हॉटस्पॉट में कोई भी कोरोना पॉजिटिव नहीं मिलने की वजह से यह इलाके ग्रीन जोन में आ गए, इसलिए इन्हे हॉटस्पॉट की श्रेणी से बाहर कर दिया गया हैं। उन्होने बताया कि अभी वर्तमान में पूरे जनपद में कुल 15 हॉटस्पॉट हैं।


गोवा के बाद मणिपुर भी वायरस मुक्त

नई दिल्ली। इस समय जहां देश कोरोना के खिलाफ युद्धस्तर पर लड़ाई लड़ रहा है ऐसे में दो राज्यों से राहत भरी खबर आई है। गोवा के बाद अब मणिपुर कोरोना संक्रमण से मुक्त हो गया है। मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने यह जानकारी ट्वीट करके दी। उन्होंने कहा कि ‘मुझे यह बताते हुए काफी खुशी हो रही है कि अब मणिपुर कोरोना से मुक्त हो गया है। सभी मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं और उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है राज्य में वायरस का कोई नया मामला भी सामने नहीं आया है।’ राज्य में कोरोना संक्रमण की चपेट में थे दो लोग मणिपुर में कोरोना संक्रमण के दो मामले सामने आए थे। दोनों की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद राज्य कोरोना से मुक्त हो गया है। राज्य की पहली संक्रमित मरीज 23 साल की महिला थी, जो ब्रिटेन से लौटी थी। वहीं 65 साल का दूसरा मरीज दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शामिल होने के बाद वायरस की चपेट में आया था।


संक्रमण से मुक्त होने वाला पहला राज्य बना गोवा
गोवा में कोरोना वायरस से संक्रमित सभी सात मरीज ठीक हो चुके हैं और सभी को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने रविवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि इसके साथ अब गोवा में कोरोना का कोई सक्रिय मरीज नहीं है मतलब गोवा कोरोना से मुक्त हो गया है। राणे ने कहा कि सातों मामलों में अंतिम मरीज तीन अप्रैल को सामने आया था। सभी का इलाज किया गया और रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।
राणे ने ट्वीट कर कहा था, हमें यह घोषणा करते हुए गर्व का अनुभव हो रहा है कि गोवा में अब कोरोना वायरस संक्रमण को सक्रिय मामलों की संख्या शून्य हो गई है।’ उन्होंने कहा कि ‘अब जबकि राज्य में कोरोना का एक भी एक्टिव मामला नहीं है, यह हमारी जिम्मेदारी है कि लॉक डाउन का पालन करते रहें, सामाजिक दूरी बनाए रखें, जांच की दायरा बढ़ाएं और केंद्र व राज्य सरकार द्वारी जारी दिशा-निर्देशों का पालन करें। ‘राणे ने चिकित्सकों को धन्यवाद कहा कि उन्होंने ऐसे समय में आगे आकर राज्य में कोरोना के प्रसार को रोकने में सफलता पाई।


हरियाणा का जींद हुआ कोरोना मुक्त

राणा ओबराय

हरियाणा का जिला जींद हुआ कोरोना मुक्त, प्रशासन औऱ लोगो मे खुशी की लहर!
जींद। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज व जींद प्रशासन की अपील पर जींद जिला वासियो ने जिस तरह के संयम से काम लिया है। वह काबिले तारीफ है। इसी संयम के कारण आज हरियाणा का जींद ज़िला कोरोना मुक्त हो गया है! जिला जींद के सीएमओ ने बताया कि जिले के सरकारी संस्थान मे पहले की तरह अब आंख नाक कान व अन्य  स्पेशलिस्ट सर्जनों के द्वारा भी जांच शुरू हो जाएगी।


जालंधर में आंधी-बारिश, गिरा तापमान

जालंधर। शहर में सोमवार सुबह से आसमान में छाए बादल रहे छा रहे। वहीं, बाद दोपहर गरज के साथ छाई काली घटा के बीच बारिश शुरू हो गई। तीन दिनों के भीतर शहर में सुहावने मौसम के साथ अधिकतम तापमान में छह डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि मौसम विभाग द्वारा पहले से ही सोमवार को दिनभर बादल छाए रहने तथा बूंदाबांदी की संभावना जताई गई थी। उधर, बेमौसमी बारिश के चलते किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें साफ देखी जा रही है।


पिछले सप्ताह लगातार खिली धूप के बीच तापमान में लगातार हो रहे इजाफे के साथ अधिकतम तापमान 36 डिग्री का आंकड़ा छू गया था। इसी तरह न्यूनतम तापमान भी 24 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। सोमवार को सुबह से आसमान में छाए बादल तथा बाद दोपहर गरज के साथ शुरू हुई हल्की बूंदाबांदी के चलते मौसम में करवट ले ली। उधर खेतों में फसल की कटाई कर रहे किसानों के लिए यह बारिश किसी मुसीबत से कम नहीं है। इसी तरह मंडी में गेहूं लेकर पहुंच रहे किसानों की परेशानी भी बढ़ गई है। सोमवार को अधिकतमॉ तापमान लुढ़ककर 30 व न्यूनतम 18 डिग्री सेल्सियस रह गया है, जिससे शहरवासियों ने एक बार फिर से ठिठुरन महसूस की।


फर्जी पत्रकारों के खिलाफ होगी कार्रवाई

फर्ज़ी पत्रकारों के खिलाफ पूरे देश में होगी एफआईआर
नई दिल्ली। भारत में सूचना प्रसारण मंत्रालय जाली पत्रकारों एवं फर्ज़ी चैनलों पर शिकंजा कसने को तैयार है जो लोग वगैर आर.एन.आई के अखबार या चैनल चला रहे हैं उन पर सख्त से सख्त कार्रवाई होगी। 
सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि देश भर में जितने भी लोग प्रेस आई○डी○कार्ड लेकर घुम रहे हैं या फर्ज़ी चैनल चला रहे हैं ऐसे लोगों की तत्काल जांच शुरू होगी। इस मामले में दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति पर त्वरित कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार कर लिया जाएगा। आगे मंत्री जी ने कहा कि कुछ दोषी लोगों के कारण अच्छे, सच्चे एवं ईमानदार पत्रकारों के छवि खराब हो रही है, एवं उनके कार्य करने में बाधा उत्पन्न हो रही है । आगे जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि पूरे देश में कुछ पैसा लेकर जाली प्रेस आई○डी○ बांटने एवं जाली पत्रकार नियुक्ति करने तथा प्रेस के नाम पर ब्लैकमेलिंग करने का धंधा चल रहा है। जिसपर अंकुश लगाना अति आवश्यक है । इस संबंध में सभी राज्यों के प्रेस सूचना मंत्रालय को निर्देश जारी कर दिया गया है । आगे उन्होंने बताया कि जो अखबार/पत्रिका भारत सरकार के आर○एन○आई○ द्वारा रजिस्टर्ड हो या जो टीवी/रेडियो सूचना प्रसारण मंत्रालय से रजिस्टर्ड हो उसी के द्वारा पत्रकार/संवाददाता की नियुक्ति हो सकती है व केवल उसका सम्पादक ही प्रेस कार्ड जारी कर सकता है । जब न्यूज पोर्टल के बारे में पत्रकारों ने पूछा तो उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि इन्टरनेट पर चल रहे न्यूज पोर्टल के रजिस्ट्रेशन का प्रावधान सूचना प्रसारण मंत्रालय में नहीं है एवं कोई भी न्यूज पोर्टल एवं केबल (डिस ) टीवी पर चल रहे समाचार चैनल किसी भी तरह के पत्रकार की नियुक्ति नहीं कर सकता है। और न ही प्रेस आई○डी○ जारी कर सकता है यदि कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो वह अवैध है एवं उसके विरुद्ध कार्रवाई होनी सुनिश्चित है।


 "अगर कोई वगैर RNI के पोर्टल या अखबार चलाते मिला तो उस पर उचित कार्रवाई की जाएगी और ऐसे व्यक्ति को हरगिज़ माफ नहीं किया जायेगा।" --प्रकाश जावड़ेकर
सूचना एवं प्रसारणमंत्री भारत सरकार


दारुणः हृदय विदारक इमोशनल डिस्टेंस

सीना चीर देने वाली इमोशनल डिस्टेंसिंग: कोरोना वीर का शव पत्नी के सामने, फिर भी दर्शन तस्वीर में
नफीस अहमद जाफरी
इंदौर। कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या के लिहाज से रविवार को थोड़ी राहत मिली और संख्या 7 ही रही। मगर दुखद घटनाक्रम 4 मरीजों की मौत का रहा। इनमें जूनी इंदौर टीआई देवेंद्र कुमार चंद्रवंशी की मृत्यु भी शामिल है। उनके अलावा साकेत बिलगैया (42), राजेश चंदेरिया (47) और कुंवर लाड़ी बाई (46) की मौत हुई। इसके साथ ही शहर में मौतों का आंकड़ा 52 पर पहुंच गया है और संक्रमित मरीजों की संख्या 897 है। ड्यूटी के दौरान संक्रमण का शिकार हुए जूनी इंदौर टीआई देवेंद्र कुमार चंद्रवंशी की शनिवार-रविवार दरमियानी रात अरबिंदो हॉस्पिटल में मौत हो गई। रात 11.30 उन्हें सांस लेने में परेशानी हुई। देर रात 2.50 बजे तक डॉक्टरों ने उन्हें बचाने की कोशिश की मगर आखिरकार 3 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।


राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार


कोरोना संक्रमण के बाद उन्हें फेफड़ों में निमोनिया संक्रमण हो गया था, जो मौत का मुख्य कारण रहा। वे 19 दिन से अस्पताल में इस गंभीर बीमारी से लड़ रहे थे। दोपहर 12.30 बजे रामबाग मुक्तिधाम पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। मुख्यमंत्री ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए परिवार को सरकार 50 लाख रु. मुआवजा और पत्नी को नौकरी देने की घोषणा की है। आईजी विवेक शर्मा ने कहा कि अब किसी पुलिसकर्मी में काेरोना के लक्षण मिले तो 24 घंटे के भीतर उसकी अनिवार्य जांच की जाएगी।     


डॉ. भंडारी ने कहा- उनकी 2 रिपोर्ट निगेटिव ही आई थी
चंद्रवंशी को 31 मार्च को संक्रमण के लक्षण मिलने पर अस्पताल में भर्ती किया था। उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा था। डॉ. विनोद भंडारी के मुताबिक, 13 अप्रैल को उनकी पहली रिपोर्ट पॉजिटिव आई, लेकिन 16 व 17 अप्रैल को ली गई रिपोर्ट निगेटिव रही। रविवार को उन्हें डिस्चार्ज करने वाले थे, लेकिन शनिवार रात उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी और उनका हार्ट रेट 140 से 150 के बीच पहुंच गया और उन्होंने दम तोड़ दिया। उनकी मृत्यु पल्मोनरी एम्बोलिज्म के कारण हुई।


देवेंद्र को श्रद्धांजलि देने के तीन तरीके : उन्होंने कोरोना से लड़ते जान गंवाई है, इसलिए...


1. लक्षण हो तो छिपाएं नहीं, खुद आगे आएं, बताएं। 
2. देवेंद्र जैसे शहर के हर वॉरियर को 2 चीजें दें- सहयोग और सम्मान।


3. लॉकडाउन के दौरान घर में ही रहें। 


3 टीआई, 1 एएसपी सहित 10 पुलिसकर्मी संक्रमित; देखिए ड्यूटी से बढ़कर क्या-क्या कर रहे ये वीर


1. जरूरतमंदों को भोजन व राशन बांटना। अभी भी अनेक जगहों पर यह काम क्षेत्र के थानों से संचालित हो रहा है। 
2. दिनभर  की ड्यटी के बाद रात्रि गश्त। कई अफसरों को इसके बाद सुबह 4 बजे से प्रभात गश्त करनी होती है। 
3. कंटेनमेंट क्षेत्र को सील करना, लोगों को मेडिकल के लिए भेजना, आवश्यक वस्तुओं की स्थिति देखना।
4. संक्रमित हुए लोगों को क्वारेंटाइन करवाना या पॉजीटिव को अस्पताल के लिए भेजना। 
5. अस्पताल से भाग रहे संक्रमितों और संदिग्ध मरीजों को पकड़ना हॉस्पिटलाइज भी करवाने का काम।
6. कोरोना से हुई मौतों के बाद अक्सर शव का बिना किट पहने पोस्टमॉर्टम करवाने की भी स्थिति देखी गई।


7. कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों से निपटना, थाने लाना। इनमें कोई भी मरीज के सम्पर्क में आया हो सकता है।


कोरोनाः 24 घंटे में विश्व में 6463 मौत

अमेरिका। दुनिया में कोरोनावायरस से अब तक 24 लाख 6 हजार 868 लोग संक्रमित हैं। एक लाख 65 हजार 56 की मौत हो चुकी है। वहीं, छह लाख 17 हजार चार ठीक भी हुए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने रविवार को घोषणा की कि दुनियाभर में 24 घंटे में 81 हजार 153 मामलों की पुष्टि हुई है। साथ ही 6,463 लोग मारे गए हैं। शनिवार की तुलना में रविवार को कम केस मिले। पिछले दिनों के मुकाबले चार हजार कम मरीज मिले और 247 कम मौतें दर्ज की गई।


डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, यूरोप में 11 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। वहीं यहां मौतों का आंकड़ा भी एक लाख से ज्यादा हो गया है। एक दिन पहले डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडहॉनम गेब्रेयेसियस ने जी20 के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने दुनिया के बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों को कोरोना से संघर्ष कर रहे गरीब देशों की मदद करने की अपील की।


अमेरिका: 24 घंटे में 1,997 लोगों की जान गई


अमेरिका में 24 घंटे में 1,997 लोगों की जान गई है। इसके साथ ही यहां मौतों का आंकड़ा 41 हजार के पार हो गया है। यहां अब तक संक्रमण के सात लाख 63 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। उधर, न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने कहा कि यहां 24 घंटे में 507 लोगों की मौत हुई है। एक दिन पहले यहां 778 जान गई थी। राज्य में अब तक 18 हजार 298 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में भी मरीजों की संख्या कम हो रही है। अगर डेटा ऐसा ही रहा और संक्रमण के मामलों में कमी आती रही तो कहा जा सकता है कि स्थिति पहले से बेहतर हो रही है।


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने रविवार को कहा कि देश में अब तक 41.8 लाख नागरिकों का टेस्ट किया जा चुका है। यह आंकड़ा किसी भी देश से ज्यादा है।
बीबीसी के मुताबिक, अमेरिका में सोमवार को कच्चे तेल की कीमत 15 डॉलर प्रति बैरल से नीचे गिर गई। दो दशक में यह कच्चे तेल की कीमतों में सबस बड़ी गिरावट है। इसकी वजह तेल की मांग कम होना है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट में भी तेल के दाम में 4.1% की गिरावट देखी गई।
सोमवार को टेक्सास और वर्मोंट जैसे राज्यों में कुछ बिजनेस खोले जा सकते हैं। हालांकि, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाता रहेगा।
क्यूमो ने कहा- अमेरिका में न्यूयॉर्क सबसे ज्यादा प्रभावित। महामारी का प्रकोप यहां कम हुआ है, लेकिन अभी भी सावधानी बरतनी होगी। अभी केवल आधा रास्ता ही तय हुआ है। संक्रमण न कम हुआ है और न ही बढ़ रहा है।
न्यूयॉर्क के बाद सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूजर्सी में 4202, मिशिगन में 2391 और मैसाचुसेट्स में 1706 लोगों की मौत हो चुकी है। केवल न्यूयॉर्क में दो लाख 47 हजार 215 लोग संक्रमित हैं।
ब्राजील: लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन


ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो ने रविवार को ब्रासीलिया में लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों का मनोबल बढ़ाया। उन्हें संबोधित करते हुए देशभर के गवर्नरों द्वारा लगाए गए बिजनेस शटडाउन और क्वारैंटाइन गाइडलाइन को खत्म करने की मांग की। इस दौरान उन्होंने मिलिट्री रूल लाने और सुप्रीम कोर्ट को बंद करने की भी मांग की। सरकार में शामिल कई नेता बोलसोनारो के इस कदम की आलोचना कर रहे हैं। उनका कहना है कि महामारी के प्रसार को रोकने के लिए प्रतिबंध लगाना जरूरी है। बोलसोनारो ने कुछ दिनों पहले लॉकडाउन का समर्थन करने के लिए अपने ही स्वास्थ्य मंत्री हो हटा दिया था। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, ब्राजील में रविवार तक


38 हजार 654 संक्रमित मिले, जबकि 2,462 लोगों की मौत हो चुकी है।
इजराइल: प्रधानमंत्री नेतन्याहू के विरोध में रैली
जकार्ता पोस्ट के मुताबिक, मास्क पहनकर, दो गज की दूरी बनाकर और हाथों में काला झंडा लेकर रविवार को हजारों इजराइलियों ने देश में लगे सख्त प्रतिबंधों को लेकर प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी एक-दूसरे से दूरी बनाकर और मास्क पहनकर प्रदर्शन कर सकते हैं। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने ‘सेव द डेमोक्रेसी’ के बैनर तले गैंट्ज की ब्लू एंड व्हाइट पार्टी से भ्रष्टाचार के आरोपों वाले प्रमुख के नेतृत्व वाले गठबंधन में शामिल नहीं होने का आह्वान किया। नेतन्याहू भ्रष्टाचार के तीन मामलों में आरोपी हैं। हालांकि, वे इससे इनकार करते रहे हैं। देश में एक साल में तीन चुनाव हो चुके हैं, इसके बाद भी सरकार नहीं बन पाई है। वे गठबंधन सरकार बनाने के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी बेनी गैंट्ज के साथ सत्ता-साझेदारी के सौदे पर बातचीत कर रहे हैं। देश में अब तक संक्रमण के 13 हजार 491 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 172 लोगों की मौत हो चुकी है।


एसएचओ-एसआई को दुकान में बंद किया

कारोबारी ने एसएचओ, एसआई समेत दो कांस्टेबलों को दुकान में किया बंद, भारी संख्या में एसडीएम के साथ पहुंची फोर्स


प्रशांत कुमार


सोनभद्र। रामगढ़ कस्बे में बिना पास किराना दुकान खोलकर पौने आठ बजे बिक्री कर रहे एक दुकानदार ने मौके पर पहुंचे पन्नूगंज थाने के प्रभारी निरीक्षक महेंद्र पांडेय समेत चार पुलिस कर्मियों को दुकान में बंद कर दिया। उसने घटना को तब अंजाम दिया जब एसएचओ मोबाइल से खुली दुकान का वीडियो बनाते हुए दुकान में जा घुसे।


इस वाकये से कस्बे में व थाना कर्मियों में हड़कंप मच गया। आनन फानन मौके पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स पहुच गई। आधे घंटे से अधिक का समय व्यतीत होने के बावजूद प्रभारी निरीक्षक मुक्त नहीं हो सके तो कई थाने की फोर्स के साथ एसडीएम यमुना धर चौहान और सदर क्षेत्रधिकारी मौके पर पहुंचे। हालांकि इन अधिकारियों के पहुंचने से थोड़ा पहले दुकानदार की बेटी ने शटर खोल कर सभी को मुक्त कर दिया। मौके पर पुलिस फोर्स ने दुकान को घेर लिया। इस दौरान लगभग 40 मिनट तक शटर में पुलिस कर्मी बंद रहे। मौके पर राबर्टसगज व रायपुर पुलिस ने भी डेरा डाल दिया है। एसडीएम सहित सभी अधिकारी पन्नूगंज थाने में मौजूद रहे। क्षेत्राधिकारी के मुताबिक दुकानदार के खिलाफ विधिक कार्रवाई के लिए लिखा पढ़ी की जा रही है। इस मामले में कोई भी लापरवाही क्षम्य नही हैए कारोबारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं दुकान में कैद पुलिस कर्मी भी इस घटना से काफी दहशत में नजर आए।


हरियाणा के इंस्पेक्टर ने की खुदकुशी

रेवाड़ी। हरियाणा पुलिस के इंस्पेक्टर ने खुदकुशी कर ली है। मृतक इंस्पेक्टर सत्येंद्र कुमार फिलहाल गुरुग्राम में तैनात थे, लेकिन अब उन्होंने अपने घर पर ही खुदकुशी कर ली है।जानकारी के मुताबिक सत्येंद्र कुमार साल 2008 में स्पोर्ट्स कोटे से भर्ती हुए थे। उन्होंने रेवाड़ी समेत कई जगहों पर अपनी सेवाएं दी थी। हरियाणा के रेवाड़ी जिले में हरियाणा पुलिस के एक इंस्पेक्टर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। कालका रोड स्थित एक सोसायटी में रह रहे सतेंद्र सिंह ने शनिवार की रात को फांसी लगा कर जान दे दी। इंस्पेक्टर द्वारा आत्महत्या करने के कारणों का अभी पता नहीं लग पाया है। रविवार की सुबह शव कमरे में फंदे पर लटका हुआ मिला। सतेंद्र सिंह वर्तमान में गुरुग्राम में ट्रैफिक में तैनात थे।


पुलिस ने बताया कि इंस्पेक्टर सतेंद्र सिंह रात को करीब 11 बजे ड्यूटी से वापस घर आए थे। वह कालाका चौक स्थित एक्साइज सोसायटी में किराए के फ्लैट में रह रहे थे। रात को खाना खाने के बाद वह सो गए थे। सुबह उनका शव बगल कमरे में फांसी पर लटका हुआ मिला। सूचना के बाद माडल टाउन थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने घटनास्थल का भी बारिकी से निरीक्षण किया। प्राथमिक जांच में इंस्पेक्टर द्वारा आत्महत्या करने के कारणों का पता नहीं लग पाया है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम कराने के लिए नागरिक अस्पताल में भेज दिया है। फ्लैट में सतेंद्र अपनी पत्नी, बेटा व बेटी के साथ रहते थे। वह मूल रूप से महेंद्रगढ़ के रहने वाले थे। और वर्ष 2008 में सब इंस्पेक्टर के पद पर पुलिस में भर्ती हुए थे। वह कुछ समय के लिए धारूहेड़ा थाना एसएचओ भी रहे थे। वर्तमान में उनकी ड्यूटी गुरुग्राम ट्रेफिक पुलिस में थी। सत्येंद्र सिंह गुरुग्राम में ट्रैफिक कंट्रोल शाखा के प्रभारी थे। शनिवार को भी उन्होंने ड्यूटी की थी। रात में किसी जरूरी कार्य से अपने घर गए थे।


क्वॉरेंटाइन सेंटर पर संदिग्धों का हंगामा

पडरयनुरा। कर्नाटक के पडरयानुरा में ब्रुहत बेंगलुरु महानगर पालिका के आधिकारियों और जनता के बीच विवाद का मामला सामने आया है। यह झड़प अधिकारियों द्वारा कोरोना संक्रमितों को क्वारंटाइन सेंटर ले जाने के कारण शुरू हुआ था। इसके बाद पुलिस घटना स्थल पर पहुंची औक स्थिति को काबू में किया। पुलिस ने इस मामलें में 52 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कुछ लोग कोविड-19 से संक्रमितों के संपर्क में थे, इसलिए इन्हें क्वारंटाइन सेंटर ले जाया जा रहा था। तभी लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। एडिशनल पुलिस कमीश्नर सोमेंदु मुखर्जी ने बताया कि मामले पर जेजे नगर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। 


बता दें कि कर्नाटक में कोरोना वायरस से और दो लोगों की मौत हो गई। संक्रमण के छह नए मामले सामने आए। इसके साथ ही संक्रमितों की कुल संख्या 390 हो गई। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी। स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि राज्य में कोरोना से और 2 मौतें हुई हैं, 6 नए मामले पाए गए, संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 390 हो गई। उन्होंने बताया कि कर्नाटक में कोराना से अब तक 16 लोगों की मौत हुई है और 111 मरीज इलाज के बाद पूरी तरह ठीक हो गए हैं। जिन जिलों में संक्रमितों की संख्या अधिक है, वे हैं- बगलकोटे, बेल्लारी, बेलागावी, बीदर और मंड्या। पिछले 24 घंटों के दौरान मैसूरू में एक फार्मास्यूटिकल कंपनी के कर्मी की कोराना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई।


56 जिलो में खुलेंगे उद्योग 19 संवेदनशील

 उत्तर प्रदेश के 56 जिलों में खुलेंगे उद्योग, 19 संवेदनशील जिलों में फिलहाल छूट नहीं


लखनऊ। केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन में छूट को लेकर जारी की गई गाइडलाइंस के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को सभी जिलों के डीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने राज्य के 19 अति संवेदनशील जिलों में 20 अप्रैल से लॉकडाउन में ढील देने के निर्णय की जिम्मेदारी संबंधित जिलाधिकारियों के विवेक पर छोड़ दी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिलाधिकारियों से कहा कि वे लॉकडाउन को लेकर जो भी फैसला करें उससे शासन को अवगत कराते रहें। संवेदनशील जिलों के डीएम लेंगे लॉकडाउन पर फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ यूपी के सभी जिलाधिकारियों की चर्चा में यह फैसला लिया गया कि कोरोना संक्रमण के लिहाज से राज्य के 19 अति संवेदनशील जिलों में लॉकडाउन में ढील देने का निर्णय वहां के जिलाधिकारी करेंगे इन जिलों के हॉट स्पॉट एरिए में लॉकडाउन में किसी भी तरह की छूट नहीं दी जाएगी. ऐसे अति संवेदनशील जिलों में आगरा, लखनऊ, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, मेरठ, कानपुर, मुरादाबाद, वाराणसी, शामली, बागपत, बुलंदशहर, बस्ती, हापुड़, फिरोजाबाद, सहारनपुर, बिजनौर, रामपुर, अमरोहा और सीतापुर शामिल हैं।


4000 वकीलों का मदद हेतु आवेदन

राणा ओबराय

4 हजार वकीलों ने पंजाब & हरियाणा बार काँसिल में आर्थिक सहायता लेने हेतु किया आवेदन ;- विजेंदर अहलावत

चंडीगढ़। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी का असर कारोबारियों के साथ साथ अब वकीलों पर भी पड़ने लगा है। पंजाब एंड हरियाणा बार काउंसिल के पूर्व चेयरमैन एवं सदस्य विजेंद्र अहलावत ने राष्ट्रीय खोज एवं भारतीय न्यूज़ के संपादक राणा ओबराय से फोन पर हुई बातचीत में बताया कि पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट के लगभग 4 हजार वकीलों ने 16 अप्रैल तक आर्थिक सहायता लेने हेतु आवेदन भेजे है। उन्होंने बताया बार काउंसिल पहले यह सुनिश्चित करेगी कि आवेदन करने वाले वकील की आय का कोई अन्य साधन तो नहीं है। उसके बाद उनको कम से कम पांच हजार की आर्थिक सहायता दी जाएगी। अहलावत ने बताया ऐसे संकट के समय में बार एसोसिएशन ने वकीलों की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है। कुछ शर्तों के साथ बार एसोसिएशन ने वकीलों को पांच हजार रुपये प्रतिमाह देने का फैसला लिया है। ताकि किसी वकील को कोई समस्या न हो। उन्होंने बताया कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते हाईकोर्ट सहित पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ की अदालतों में अब सिर्फ अर्जेन्ट केसों पर ही सुनवाई हो रही है ऐसे में कई युवा वकील एव अन्य वकील आर्थिक संकट में आ गए हैं। अब ऐसे जरूरतमंद वकीलों की मदद के लिए बार काउन्सिल ऑफ़ पंजाब एंड हरियाणा आगे आई है। विजेन्दर अहलावत ने बताया कि पंजाब एंड हरियाणा बार कौंसिल ने एक आपात बैठक बुला ऐसे जरूरतमंद वकीलों को आर्थिक सहायता दिए जाने के लिए कोवीड-19 रिलीफ फंड बनाया है, जिस फंड से मौजूदा हालत में आर्थिक संकट का सामना कर रहे जरूरतमंद वकीलों को मदद दी जा सकेगी। उन्होंने ने बताया कि इस फंड में तत्काल प्रभाव से बार कौंसिल के 25 सदस्यों के साथ पंजाब, हरियाणा के दोनों एडवोकेट जनरल ने 25- 25 हजार रुपये जमा करवाये है। अहलावत ने बताया कि फंड बनाए जाने के कुछ समय बाद ही सेंकडो एडवोकेट्स ने इस फंड के लिए अपना आर्थिक योगदान भी दे दिया है।


कोटेदार खा रहे हैं गरीबों का राशन

ग्रामीणों का आरोप कोटेदार खा रहा हमारा राशन


वाराणासी/रोहनिया। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना महामारी से बचाव के लिए लॉकडाउन लगाया गया और सरकार द्वारा सभी जिलों के जिलाधिकारी को कड़े शब्दों में निर्देश दिया गया है कि कोई व्यक्ति राशन और भोजन से वंचित न रहे। तो वही प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र बनारस के रोहनिया आराजी लाइन अंतर्गत ग्राम देउरा के क्षेत्र पंचायत सदस्य अशोक वर्मा और ग्रामीणों का आरोप है, कि कोटेदार गीता देवी द्वारा ग्रामीणों का जबरदस्त शोषण हो रहा है और राशन में घटतौली की शिकायत है,और यूनिट के अनुसार राशन भी नही मिल रहा,आपको बताते चले हाल ही में सरकार द्वारा सभी सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों पर ग्रामीणों में बिस्कुट वितरण के लिए आया था। लेकिन कोटेदार द्वारा गांव के किसी व्यक्ति में बिस्कुट का वितरण नहीं किया गया। जिसे नाराज ग्रामीणों ने सरकारी कॉपरेटिव पर एकजुट होकर कोटेदार मुर्दाबाद का नारा लगाकर मांग कि है ऐसे भ्रष्ट कोटेदार का दुकान सरकार तत्काल निरस्त किया जाना चाहिए। इस क्रम में सप्लाई स्पेक्टर अनूप कुमार ने बताया कि राशन सभी को मिल रहा है और ग्रामीणों की यूनिट,घटतौलि,मूल्य से अधिक पैसा लेकर राशन देने जैसी संबंधित समस्याओं का मेरे द्वारा जांच किया जाएगा। गलत पाए जाने पर कोटेदार के ऊपर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।


झोपड़ी मे आग, 2 बहने जलकर राख

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक दिल दहला देने वाला हादसा सामने आया है। कानपुर के घाटमपुर कोतवाली के गोपालपुर गांव में रविवार सुबह चूल्हे की चिंगारी से झोपड़ी में आग लगने से चपेट में आए मासूम भाई-बहन की मौत हो गई, जबकि दो और जुड़वां बहनें गंभीर रूप से झुलस गईं। दोनों को हैलट में भर्ती कराया गया है। गांव निवासी मजदूर संतराम संखवार के परिवार में पत्नी राधा और पांच बच्चे हैं। सबसे बड़ा बेटा कृष्णा (8) घाटमपुर स्थित ननिहाल में रहता है। रविवार सुबह संतराम अपनी पत्नी राधा के साथ मजदूरी खेत में फसल काटने गया था।


घर में जुड़वां बेटियां सीता और गीता (5), बेटा गोपाल (3) और छोटी बेटी रीता (डेढ़ वर्ष) थी। ग्रामीणों के मुताबिक सुबह करीब 9:30 बजे संतराम के घर से आग की लपटें उठती दिखीं। शोर मचाने पर आसपास के लोग दौड़े और आग पर काबू पाया। हादसे में झुलसे चारों बच्चों को पूरी तरह से जल चुकी झोपड़ी से बाहर निकाला गया। इसमें गोपाल की मौत हो चुकी थी। बाकी तीनों बच्चों को सीएचसी लाया गया। डॉक्टरों ने तीनों को हैलट रेफर कर दिया। हैलट पहुंचने से पहले ही रीता ने भी दम तोड़ दिया। युवकों ने दिखाया साहस झोपड़ी के पूरी तरह से लपटों से घिरने के बाद भी गांव के कुछ युवकों ने साहस दिखाया। युवक अपनी जान की परवाह किए बगैर झोपड़ी में घुस गए और तीनों बच्चियों को बाहर निकाला। हालांकि गोपाल बुरी तरह से लपटों में घिर चुका था, इस कारण उसकी मौके पर ही मौत हो गई। सीता और गीता का इलाज चल रहा है। सीओ घाटमपुर रवि कुमार सिंह ने बताया कि बच्चों की मां राधा ने सुबह चूल्हे पर खाना बनाया था। चूल्हे की आग पूरी तरह नहीं बुझाई और खेतों पर काम करने चली गई। इसके बाद चूल्हे की चिंगारी से झोपड़ी में आग लग गई।


प्रार्थना करने वाले 14 पहुंचे हवालात

हरदोई। उत्तर प्रदेश के हरादोई में एक अनोखा मामला सामने आया है। यहां कोरोना वायरस से बचने के लिए कुछ लोग एकत्र हुए थे। पुलिस को जब इसकी सूचना मिली तो एकत्र लोगों को जेल की हवा खानी पड़ी। हरदोई शहर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम शंकरबक्शपुरवा में कोरोना वायरस को भगाने के लिए प्रार्थना करने को एकत्र होना लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गया।
सूचना मिलने पर पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई और छह लोगों को हिरासत में ले लिया। छह लोगों को नामजद करते हुए आठ महिलाओं सहित 14 लोगों के विरुद्ध लॉकडाउन के उल्लंघन की रिपोर्ट दर्ज की गई है। शहर कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत राधानगर पुलिस चौकी के प्रभारी श्यामू कनौजिया को कुछ ग्रामीणों ने सूचना दी कि ग्राम शंकरबक्शपुरवा में गुड्डू पुत्र मेहीलाल के घर में भीड़ एकत्र है। इस सूचना पर चौकी प्रभारी सिपाही विजेंद्र यादव और होमगार्ड ब्रजकिशोर मिश्रा के साथ शंकरबक्शपुरवा पहुंच गए। पुलिस के मुताबिक गुड्डू के घर पर कई महिलाओं सहित लगभग 20 लोग बैठे थे और आपस में बातचीत कर रहे थे। पुलिस टीम को देखकर कुछ लोग मौके से भाग गए। पूछताछ करने पर गुड्डू व मौजूद मिले अन्य लोगों ने पुलिस को बताया कि कोरोना जैसी बीमारी न फैलने के संबंध में बातचीत करते हुए भगवान से इस बीमारी को खत्म करने की प्रार्थना कर रहे थे। पूरे मामले में पुलिस ने गुड्डू, मनोज कुमार पुत्र आशाराम, रजनीकांत पुत्र राजेश कुमार, राममिलन पुत्र चेतराम, बलवंत पुत्र सुरजनलाल, अंकुल पुत्र रामविलास के अलावा आठ अज्ञात महिलाओं के विरुद्ध लॉकडाउन का उल्लंघन करने की रिपोर्ट दर्ज की है।


अंतिम-यात्रा में शामिल नहीं होंगे योगी

लखनऊ/दिल्ली। यूपी के सीएम और भाजपा के दिग्गज नेता योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का लंबी बीमारी के बाद दिल्ली स्थित एम्स में निधन हो गया।
अब कोरोना से लड़ाई में डटे योगी ने अपने परिवार को खत लिखा है। इसमें उन्होंने लिखा कि एक बेटा अपने पिता के अंतिम संस्कार में क्यों नहीं जा रहा है। योगी ने कहा कि कोरोना से लड़ाई बहुत जरूरी है। इसलिए वे पहले इससे निपटेंगे।
इतना ही नहीं एक जिम्मेदार नागरिक का फर्ज निभाते हुए योगी ने घरवालों से अपील की कि अंतिम संस्कार में कम से कम लोग शामिल हों। सीएम योगी का कर्तव्यबोध कितना अडिग है यह समझने के लिए ये पत्र काफी है। पत्र के वायरल होने के बाद लोग उनकी जमकर तारीफ कर रहे हैं।


बिना सैलरी, कर्मचारी छुट्टी पर भेजें

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण पूरे देश में लॉकडाउन लागू है। ऐसे में रेल, बस, हवाई सेवा पूरी तरह निलंबित है। अब लॉकडाउन और मौजूदा स्थिति में निजी विमानन कंपनियों स्पाइसजेट और गोएयर ने अपने कई कर्मचारियों को बिना वेतन छुट्टी पर भेजने का फैसला किया है। हाल ही में एयर डेक्कन ने अपने सभी कर्मचारियों को बिना सैलरी के छुट्टी पर भेज दिया तो अब गो एयर(Go Air) ने भी अपने कर्मचारियों को बिना सैलरी के 3 मई तक के लिए छुट्टी पर जाने का निर्देश दे दिया है। कोरोना वायरस की वजह से जारी लॉकडाउन के कारण एयरलाइन्स की हालत खराब है। 25 मार्च के बाद से सभी एयरलाइंस सर्विसेज बाधित है। विमान कंपनियों को करोड़ों का नुकसान हो रहा है। कंपनियों की कमाई तो बंद है, लेकिन कर्मचारियों की सैलरी, मेंटेनेंस आदि के खर्च हो रहे हैं। ऐसे में कर्मचारियों पर लगातार बोझ बढ़ रहा है। कंपनियां इस बोझ को कम करने के लिए कर्मचारियों की 3 मई तक के लिए छुट्टी पर भेज दिया है। गो एयर ने अपने सभी तीन मई तक बिना वेतन के अवकाश पर भेजने का फैसला किया है।


गो एयर के बाद स्पाइसजेट ने भी कर्मचारियों की सैलरी काटने का फैसला किया। स्पाइसजेट ने कहा है कि कर्मचारियों को उतनी ही सैलरी मिलेगी, जितने दिन स्टॉफ ने काम किया है। कर्मचारियों की सैलरी में कटौती कर एयरलाइंस अपने नुकसान के बोझ को कम करने की कोशिश में जुटी है। इससे पहले एयर डेक्कन ने भी अपने सभी कर्मचारियों को अनिश्चितकालिन समय के लिए बिना सैलरी छुट्टी पर जाने का निर्देश दे दिया है। 
बिना सैलरी के छुट्टी पर भेजा
गो एयर ने अपने कर्मचारियों को ईमेल के जरिए सूचित करते हुए लिखा कि लॉकडाउन 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। ऐसे में हम बाध्य होकर आपसे आग्रह करते हैं कि आप तीन मई तक बिना वेतन के अवकाश पर रहें। एयरलाइंस कंपनियों ने टिकटों की बुकिंग फिलहाल बंद कर रखी है। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट कर सभी एयरलाइन्स से कहा कि वे अभी टिकट बुकिंग की सुविधा बंद करें। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इस बारे में अंतिम फैसला लेगी।
राष्ट्रव्यापी बंद की वजह से एयरलाइंस की वाणिज्यिक उड़ानें 25 मार्च से बंद हैं। पहले राष्ट्रव्यापी बंद 14 अप्रैल तक था, जिसके बढ़ाकर तीन मई कर दिया गया।
गौरतलब है कि देशव्यापी लॉकडाउन के कारण घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगी हुई है। हालांका माना जा रहा था कि घरेलू उड़ानों की शुरुआत 4 मई से हो सकती है, पर फिलहाल डीजीसीए ने कंपनियों को बुकिंग करने से रोक दिया। इसी तरह चर्चाएं थी अंतरराष्ट्रीय उड़ाने 1 जून से शुरू हो सकती है, हालांकि पहले स्थिति की आकलन किया जाएगा और फिर कोई फैसला किया जाएगा।


प्रियंका को जान से मारने की मिली धमकी

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को यूपी में एक महिला ने जान से मारने की धमकी दी है। जिसके बाद पुलिस प्रशासन के होश उड़ गए। पुलिस ने आननफानन में मुकदमा दर्ज कर धमकी देने वाली की गिरफ्तारी के प्रयास शुरु कर दिये हैं।
पुलिस ने धमकी देने के मामले में एफआईआर दर्ज की है। दरअसल, प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार को मजदूरों और कामगारों क़ो सरकार द्वारा मदद करने की अपील की थी और उनको घर सुरक्षित पहुंचाने की सलाह भी सरकार को दी। इससे गुस्साई एक महिला ने ट्विटर पर प्रियंका को जान से मारने की धमकी दे दी। इसके बाद एक कांग्रेस कार्यकर्ता ने बस्ती कोतवाली में शिकायत दर्ज करवाई है।
ट्विटर पर आरती पांडेय नाम की महिला ने ट्विटर अकाउंट से प्रियंका को जान से मारने की धमकी दी है। यूपी कांग्रेस ने आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के मुख्यमंत्री को कोरोना वायरस महामारी से संबंधित कई सलाह दी हैं। जिनसे ये महिला खासी खफा है। इसके बाद बस्ती की आरती पांडेय नाम की महिला ने अपने ट्विटर हैंडल @आरती पांडेय यूपी51 से कमेंट करते हुए कांग्रेस महासचिव को गोली मार देने की धमकी दे डाली।


महाराष्ट्र में संक्रमितो का आंकड़ा-4000

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस का कहर जारी है। दिन प्रतिदिन देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। कोविड-19 का प्रकोप थमनें का नाम नहीं ले रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 1553 नए मामले सामने आए हैं और 36 लोगों की मौत हुई है। वहीं कोरोना वायरस 'कोविड-19' संक्रमितों के मामलों में महाराष्ट्र में आंकड़ा 4000 के पार हो गया जबकि दिल्ली में 2000 से अधिक लोग इस बीमारी के चपेट में आ गए हैं। महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात, राजस्थान, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना वायरस का प्रकोप देश के 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैल चुका है। कोरोना से सबसे गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र में संक्रमितों की संख्या में एक दिन में 552 की वृद्धि दर्ज की गई और कुल आंकड़े चार हजार को पार कर 4203 हो गए। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में 12 और लोगों की मौत के बाद इस महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 223 हो गई है। राज्य में 507 संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं संक्रमितों की संख्या के मामले में दूसरे स्थान पर देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली है जहां पिछले 24 घंटों में 110 नए मामले दर्ज किए जाने के कारण अब तक कुल 2003 लोग इस महामारी से संक्रमित हुए हैं और इस दौरान तीन और लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 45 हो गई है। राजधानी में कुल 72 मरीजों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।


जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से घबराया 'चीन'

बीजिंग। जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से चीन घबरा गया है। यही वजह है कि जी-7 देशों की बैठक के तुरंत बाद चीन ने जिनपिंग के ड्रीम प्रोजे...