रविवार, 27 फ़रवरी 2022

यूपी: 12 जिलें, 61 सीट, 53.98 प्रतिशत मतदान

यूपी: 12 जिलें, 61 सीट, 53.98 प्रतिशत मतदान    

संदीप मिश्र        

लखनऊ। उत्तर प्रदेश चुनाव के पांचवें चरण का मतदान खत्म हो चुका है। सुबह 7 बजे से शुरू मतदान शाम 6 बजे समाप्त हो गया। यूपी चुनाव 2022 के पांचवें में 12 जिलों की 61 विधानसभा सीटों पर मतदान हुआ। जबकि, 61 सीटों पर 692 उम्मीदवार मैदान में है। इस चरण में जिन बड़े चेहरों की किस्मत दांव पर है। उनमें यूपी सरकार के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, योगी सरकार में मंत्री मोती सिंह, नंद गोपाल गुप्ता नंदी, सिद्धार्थ नाथ सिंह, रमापति शास्त्री, चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय की किस्मत दांव पर है। 
कांग्रेस की आराधना मिश्रा मोना और जनसत्ता दल के अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के साथ ही अपना दल (कमेरावादी) की अध्यक्ष कृष्णा पटेल की किस्मत का फैसला होना है।यूपी चुनाव के पांचवे चरण में शाम 5 बजे तक 53.98% मतदान हुआ है। फिलहाल, हर जगह शांतिपूर्ण चुनाव की खबर है। कहीं से कोई भी अप्रिय घटना सामने नहीं आई है।

रूस को 'संयुक्त एनएससी' से बाहर कर देना चाहिए

रूस को 'संयुक्त एनएससी' से बाहर कर देना चाहिए    

अखिलेश पांडेय       
वाशिंगटन डीसी। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि उनके देश पर आक्रमण के चलते रूस को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से बाहर कर दिया जाना चाहिए। जेलेंस्की ने रविवार को एक वीडियो संदेश में कहा कि यूक्रेन पर रूस का आक्रमण नरसंहार की दिशा में उठा गया कदम है। उन्होंने कहा, ”रूस ने बुराई का रास्ता चुना है और दुनिया को उसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से बाहर कर देना चाहिए।” 
रूस सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से एक है, जिसके चलते उसके पास प्रस्तावों को वीटो करने की शक्ति है। जेलेंस्की ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय युद्ध अपराध अधिकरण को यूक्रेन के शहरों पर रूस के हमलों की जांच करनी चाहिए। उन्होंने रूसी आक्रमण को ”राज्य प्रायोजित आतंकवाद” करार दिया। उन्होंने रूस के इन दावों को झूठा बताया कि वह आम आबादी वाले इलाकों को निशाना नहीं बना रहा।

छठवें चरण के लिए विपक्षी दलों ने पूरी ताकत झोंकी

छठवें चरण के लिए विपक्षी दलों ने पूरी ताकत झोंकी   

संदीप मिश्र        

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के छठवें चरण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृहनगर गोरखपुर में विपक्षी दलों ने पूरी ताकत झोंक दी है। यहां तीन मार्च को मतदान होगा। सीएम योगी पहली बार यहां से विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं। मुख्यमंत्री के गढ़ में रविवार को आल इंडिया मजलिस-ए- इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने अपनी पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में जनसभा को सम्बोधित करते हुए हुये कहा " मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री एवं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, राम-श्याम की जोडी हैं। इनका मकसद प्रदेश को जाति, धर्म और नफरत की राजनीति में झोंककर अपना हित साधते रहना है। हम गरीब, मजलूम अरौर अनुसूचितों के हक की लडायी लड रहे हैं।"

उन्होंने कहा "यह फैसले की घडी है। गलत फैसले पर पांच साल पछताना होगा, इसलिए मतदान करते समय आने वाली पीढियों का ध्यान में रखे और मजबूत उत्तर प्रदेश तथा मजबूत भारत के लिए मतदान करें।" दूसरी तरफ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का रोड-शा शुरू हुआ जो स्थानीय सूरज कुंड से प्रस्थान कर विभिन्न मोहल्लों से होता हुआ सर्किट हाउस पर जाकर समाप्त हुआ। इस अवसर पर अखिलेश ने कहा कि पूरे प्रदेश में परिवर्तन की लहर चल रही है। उन्होने कहा कि जब नौजवान शिक्षक भर्ती के लिए लखनऊ में अपने हक की मांग कर रहे थे तो पुलिस उन पर डन्डे बरसा रही थी।उन्होंने कहा कि उस पीडा को याद रखियेगा और आगामी तीन मार्च को मतदान के दिन बटन दबाकर जवाब दिजिएगा। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मौजूद लोगों से सवाल भी किया कि किसानों की आय कहां दोगुनी हो गयी। सरकारी भर्तियां तीन साल से बन्द पडी हैं, लोगों को कौन सा रोजगार मिला ?

पुतिन को फेडरेशन के अध्यक्ष पद से निलंबित किया

पुतिन को फेडरेशन के अध्यक्ष पद से निलंबित किया     

सुनील श्रीवास्तव         

कीव/मास्को। रूस-यूक्रेन के बीच जारी जंग के बीच रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को एक बड़ा झटका लगा है। रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद लगातार दुनिया के कई देश और अंतर्राष्ट्रीय संगठन रूस के खिलाफ होते जा रहे हैं। इसी बीच इंटरनेशनल जूडो फेडरेशन ने व्लादिमीर पुतिन को फेडरेशन के अध्यक्ष पद से निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही इस संस्था के एंबेसेडर भी थे। जूडो फेडरेशन ने बयान जारी कर पुतिन को दोनों पदों से सस्पेंड कर दिया है। यह फैसला फेडरेशन के द्वारा पुतिन के यूक्रेन के खिलाफ जंग छेड़ने के विरोध में लिया गया है। इस युध्द के कारण अब पुतिन जुडो फेडरेशन के सदस्य भी नही रह पाएंगे।

यह बहुत कम लोग जानते हैं कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन जुडो में ब्लैक बेल्ट हैं। व्लादिमीर पुतिन राजनिति के अलावा खेल में भी दिलचस्पी रखते है। 69 साल की उम्र में भी कमाल की फिटनेस रखने वाले पुतिन जूडो, बॉक्सिंग, फुटबॉल, घुड़सवारी, डाइविंग, हॉकी और बैडमिंटन जैसे खेलों का जबरदस्त शौक रखते है। यूक्रेन के खिलाफ युद्ध छेड़ने के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन खेल जगत से बाहर हो गए हैं उन्हें और उनके देश को एक और नया झटका मिला। पहले चैम्पियंस लीग के फाइनल की मेजबानी रूस से छीन ली गई, अब इंटरनेशनल जूडो फेडरेशन ने एक तगड़ा झटका दिया है।

यूके: कोरोना संक्रमितों की संख्या-982 तक पहुंचीं

यूके: कोरोना संक्रमितों की संख्या-982 तक पहुंचीं    

पंकज कपूर         
देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना लगातार कमजोर पड़ता जा रहा है। रविवार को राज्य में पिछले दो माह में सबसे कम, केवल 3,262 लोगों की जांचों के साथ पिछले दो माह में सबसे कम मात्र 66 नए मामले आए हैं। जबकि 25 संक्रमित हुए, एक संक्रमित की मौत भी। इसके साथ संक्रमितों की संख्या कुछ बढ़कर 982 व मौतों की संख्या 262 हो गई है।
स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, रविवार को देहरादून जिले में सर्वाधिक 31, चमोली में 9, हरिद्वार में 8, उत्तरकाशी में 5, रुद्रप्रयाग में 3, पिथौरागढ़ में 2, टिहरी व नैनीताल में 1-1 नए संक्रमित आए। जबकि दून मेडिकल कॉलेज में एक संक्रमित की मौत हुई।

भारी सुरक्षा के बीच 'मत' का प्रयोग कर रहें मतदाता

भारी सुरक्षा के बीच 'मत' का प्रयोग कर रहें मतदाता    

सियाराम सिंह        
कौशाम्बी। मंझनपुर विधानसभा क्षेत्र के बभनपूरा पोलिंग बूथ पर मतदाता भारी सुरक्षा के बीच अपने मत का प्रयोग कर रहें हैं। उनके बीच गजब का उत्साह देखने को मिल रहा है। 
पीठासीन अधिकारी का कहना है कि मतदान सुबह से ही मतदान कर्मियों के द्वारा निर्धारित समय से प्रारम्भ कर दिया गया था। मतदान भारी सुरक्षा के बीच कोरोना गाइडलाइन एवं निर्वाचन गाइड लाइन का पालन करते हुए शांतिपूर्वक सम्पन्न कराया जा रहा है। जिसमें किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना न हो, इसके लिए भारी पुलिस बल के जवान मुस्तैद हैं।

महायुद्ध: यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के साथ बर्बरता

महायुद्ध: यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के साथ बर्बरता  


अखिलेश पांडेय         

नई दिल्ली/कीव/मास्को। रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे महायुद्ध को लेकर यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के साथ यूक्रेन की पुलिस बर्बरता पर उतर आई है। रोमानिया बॉर्डर पर भारतीय छात्रों की बुरी तरह पिटाई की जा रही है। यही नहीं, विरोध करने पर डंडे भी बरसाए जा रहे हैं। यूक्रेन में फसीं एक छात्रा ने यूक्रेन पुलिस की बर्बरता की वीडियो उपलब्ध कराया है। वहीं दूसरी तरफ, एक मेडिकल छात्रा ने अपनी आपबीती भी परिजनों को सुनाई है। 

जिसकी ऑडियो वायरल हो रही है। वायरल ऑडियो में हिंदुस्तान की मेडिकल छात्रा उनके साथ हो रहे जुल्म की दासता बयां करते हुए यूक्रेन पुलिस का बर्बर चेहरा सामने ला रही है। यूक्रेन में फंसे एमबीबीएस छात्रों को लेकर उत्तराखंड में उनके परिजन काफी चिंतित हैं। यूक्रेन के ईवानों शहर से रोमानिया बॉर्डर पहुंचे भारतीय छात्रों के साथ नाइजीरिया और साउथ अफ्रीका के छात्रों ने हाथापाई कर आंखों में मिर्च स्प्रे कर दिया। जिससे मची भगदड़ में कई बच्चों के फोन और अन्य सामान छूट जाने से कई छात्राओं के चोटिल होने से परिजन चिंतित हैं।

इंसान के शरीर के लिए महत्वपूर्ण हैं 'विटामिन-सी'

इंसान के शरीर के लिए महत्वपूर्ण हैं 'विटामिन-सी'    

सरस्वती उपाध्याय       

शरीर को स्वस्थ रखने में पोषक तत्वों की संतुलित मात्रा अहम भूमिका निभाती है। इन्हीं पोषक तत्वों में से एक है विटामिन- सी। विटामिन- सी एक तरह का एंटी-ऑक्सीडेंट है, जो शरीर को मुक्त कणों से बचाने से लेकर रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में काफी मदद कर सकता है। इसी कारण विटामिन-सी इंसान के शरीर के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। आइए जानते हैं कि विटामिन- सी की कमी को दूर करने में कौन से खाद्य पदार्थों का सेवन मदद कर सकता है।

नींबू: नींबू विटामिन- सी का सबसे बेहतरीन स्त्रोत है, इसलिए अगर आपके शरीर में विटामिन- सी की कमी है तो अपनी डाइट में किसी भी तरह से नींबू को शामिल करें। इससे आपको कई तरह के अन्य स्वास्थ्य लाभ भी मिल सकते हैं। उदाहरण के लिए स्कर्वी से सुरक्षा (विटामिन- सी की कमी से होने वाली समस्या) और रक्तचाप का नियंत्रित रहना आदि। बता दें कि 100 ग्राम नींबू में लगभग 41.4 मिलीग्राम विटामिन- सी पाय जाता है।

थाइम: थाइम एक तरह की हर्ब है, जिसका इस्तेमाल न सिर्फ खाने में बल्कि ब्लड प्रेशर को बेहतर तरीके से संचालित करने, रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने, बेहतर ब्लड सर्कुलेशन और हृदय को स्वस्थ रखने के लिए किया जा सकता है। इसका मुख्य कारण यह है कि थाइम विटामिन- सी समेत कैल्शियम, आयरन, फाइबर और मैग्नीशियम जैसे जरूरी पोषक तत्वों से समृ्द्ध होती है। बता दें कि 100 ग्राम थाइम में लगभग 160.1 मिलीग्राम विटामिन- सी मौजूद होता है।

स्ट्रॉबेरी: स्ट्रॉबेरी विटामिन- सी के साथ-साथ एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भी समृद्ध होती है, जो आपको कई प्रकार के संक्रमण और बीमारियों से बचा सकते हैं। इसी के साथ स्ट्रॉबेरी का सेवन शरीर को कैंसर, स्ट्रोक, हृदय रोग और मधुमेह जैसी कई गंभीर बीमारियों से बचाकर रखने में भी सक्षम है। अगर आप अपनी डाइट में 100 ग्राम स्ट्रॉबेरी शामिल करते हैं तो इससे आपको लगभग 58.8 मिलीग्राम विटामिन- सी मिल सकता है।

ब्रोकली: ब्रोकली फूलगोभी की तरह दिखने वाली हरे रंग की पौष्टिक सब्जी होती है। ब्रोकली में विटामिन- सी के साथ-साथ प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, जिंक, पोटेशियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। 100 ग्राम ब्रोकली में लगभग 91.8 मिलीग्राम विटामिन- सी मौजूद होता है। ब्रोकली के फायदों की बात की जाए तो इसका सेवन कई तरह से शरीर को सुरक्षा प्रदान करने में सहयोगी है।वैसे तो मेडिकल शॉप पर आपको कई तरह विटामिन- सी के सप्लीमेंट्स मिल जाएंगे, लेकिन बिना डॉक्टरी की सलाह के उनका सेवन न करें क्योंकि डॉक्टर आपकी उम्र और शारीरिक क्षमता को ध्यान में रखते हुए आपको सही सप्लीमेंट्स देंगे, जो आपके लिए प्रभावी होंगे।

सभी भारतीयों को वापस लाने के लिए हस्तक्षेप, मांग

सभी भारतीयों को वापस लाने के लिए हस्तक्षेप, मांग  

इकबाल अंसारी      
तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भेजकर यूक्रेन के युद्ध प्रभावित शहरों में फंसे सभी भारतीयों को वापस लाने के लिए तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की। पत्र में विजयन ने कहा कि कुछ भारतीयों ने भोजन और पानी की कमी के कारण कीव, खार्किव और सुमी जैसे पूर्वी शहरों में बंकरों में शरण ले रखी है। उन्होंने भारतीयों को निकालने के लिए मोल्दोविया के रास्ते एक निकासी मार्ग खोलने की भी मांग की।

विजयन ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के सामने इन मुद्दों को उठाया है। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, जयशंकर ने रविवार को विजयन को यूक्रेन में फंसे सैकड़ों मलयाली छात्रों को बचाने के लिए जरूरी कदम उठाने का भरोसा दिलाया। विजयन द्वारा भेजे गए पत्र में उन छात्रों का भी जिक्र किया गया है, जो भीषण ठंड में पैदल चलकर पोलैंड पहुंचे थे और जिनके खिलाफ सेना का इस्तेमाल किया जा रहा था। उन्होंने केंद्र से इस मुद्दे को हल करने के लिए यूक्रेनी भाषी अधिकारियों को वहां भेजने का आग्रह किया।

आईजेएफ ने 'यूक्रेन में चल रहे युद्ध' का हवाला दिया

आईजेएफ ने 'यूक्रेन में चल रहे युद्ध' का हवाला दिया    

सुनील श्रीवास्तव            

कीव/मास्को। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने विश्व खेलों में अपना सबसे वरिष्ठ आधिकारिक पद अस्थायी रूप से खो दिया है। अंतरराष्ट्रीय जूडो महासंघ (आईजेएफ) ने रविवार को पुतिन के मानद अध्यक्ष के दर्जे को निलंबित करने के लिए ”यूक्रेन में चल रहे युद्ध” का हवाला दिया। रूसी राष्ट्रपति जूडो खेल में दिलचस्पी रखते हैं और उन्होंने 2012 के लंदन ओलंपिक में इस खेल में भाग लिया था।

ओलंपिक खेल निकायों में जूडो महासंघ द्वारा यूक्रेन पर रूस के आक्रमण का वर्णन करने के लिए ”युद्ध” शब्द का इस्तेमाल किया जाना दुर्लभ घटना है। खेल जगत से जुड़े अन्य संगठनों ने ”संघर्ष में वृद्धि” जैसे शब्दों-वाक्यों का इस्तेमाल किया है। पुतिन के करीबी माने जाने वाले आर्कडे रोटेनबर्ग आईजेएफ की कार्यकारी समिति में विकास प्रबंधक के पद पर बने हुए हैं।


देश में 'हिजाब' पहनने पर कोई पाबंदी नहीं: नकवी

देश में 'हिजाब' पहनने पर कोई पाबंदी नहीं: नकवी    

इकबाल अंसारी         

हैदराबाद। कर्नाटक में हिजाब को लेकर पैदा विवाद के बीच केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को कहा कि देश में हिजाब पहनने पर कोई पाबंदी नहीं है और लोगों को यह समझने की ज़रूरत है कि संवैधानिक अधिकार और कर्तव्य समान रूप से अहम हैं। नकवी ने यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि, मामला अदालत में है। भारत में हिजाब (पहनने) पर कोई प्रतिबंध नहीं है। यह स्पष्ट है।उन्होंने कहा कि, बेशक, कुछ संस्थानों का अपना अनुशासन, वर्दी संहिता और वर्दी होती है। जब हम संविधान के अधिकारों की बात करते हैं तो हमें संवैधानिक कर्तव्यों की भी बात करनी पड़ती है। उन्होंने इस बारे में विस्तार से बात नहीं की। इससे पहले, नकवी, केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी और तेलंगाना के गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने यहां 37वें “हुनर हाट” का उद्घाटन किया।

नकवी ने कहा कि “हुनर हाट” कारीगरों और शिल्पकारों को “सशक्त बनाने का एक कुशल प्रयास” है और इसने पिछले सात वर्षों में लगभग आठ लाख कारीगरों और शिल्पकारों को रोजगार के मौके प्रदान किए हैं। उन्होंने कहा कि “हुनर हाट” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के “आत्मनिर्भर भारत” और “वोकल फॉर लोकल” अभियान का “विश्वसनीय ब्रांड” बन गया है। नकवी ने कहा कि इस पहल ने देश के दूर-दराज के क्षेत्रों के लाखों परिवारों में ऊर्जा और उत्साह का संचार किया है, जो पारंपरिक कला और शिल्प कौशल में लगे हुए हैं।

समारोह को संबोधित करते हुए, किशन रेड्डी ने कहा कि “हुनर हाट” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान को मजबूत कर रहा है। उन्होंने कहा कि “हुनर हाट” देश की पारंपरिक कला, कौशल और गौरवशाली विरासत के संरक्षण और प्रचार का एक प्रभावी मंच है।हिजाब विवाद तब शुरू हुआ था जब पिछले साल दिसंबर में कर्नाटक के तटीय जिला मुख्यालय उडुपी में प्री-यूनिवर्सिटी महिला कॉलेज में कथित तौर पर हिजाब पहने होने के कारण छह छात्राओं को प्रवेश नहीं दिया गया, क्योंकि यह वर्दी के खिलाफ था। इसके बाद छात्राओं ने उच्च न्यायालय का रुख किया जिसने पिछले हफ्ते सुनवाई पूरी कर ली है और जल्द ही फैसला सुना सकती है।

3 महीने बाद फिर आएगी 'कोरोना' की चौथी लहर

3 महीने बाद फिर आएगी 'कोरोना' की चौथी लहर     

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। देश भर में कोरोना के मामले अब बेहद कम होने लगे है। इसे देखते हुए सभी राज्यों को पूरी तरह अनलॉक भी कर दिया गया है। लेकिन सोचने वाली बात यह है कि क्या सच में कोरोना पूरी तरह से ख़त्म हो गया है या कोरोना एक बार फिर चौथी लहार के रूप में आ सकता है। दरअसल, वैज्ञानिकों की एक शोध रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना की चौथी लहर तीन महीने बाद फिर आएगी। बता दें आईआईटी कानपुर के विशेषज्ञों ने यह दावा किया है कि भारत में कोरोना की चौथी लहर 22 जून के आसपास आ आएगी और यह 24 अक्टूबर तक चलेगी।

आपको बता दें इससे पहले आईआईटी के शोधकर्ताओं ने कोरोना की लहर से जुड़ीं जो भी भविष्यवाणियां की थीं वे लगभग सही निकल चुकी हैं। आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने बताया है कि इस बार चौथी लहर 4 महीने तक चलेगी। ओमिक्रॉन के बाद चौथी लहर कितनी खतरनाक होगी यह नए वैरियंट और कितने लोगों को वैक्सीन और बूस्टर डोज लग चुकी हैं, इन पर निर्भर करेगा। कोरोना के केसेज कम होने के साथ तीसरी लहर हल्की पड़ती जा रही है। अब आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं ने अगली लहर के समय का कैलकुलेशन लगाया है। एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कोविड की चौथी लहर 22 जून के आसपास आएगी और यह 24 अक्टूबर तक चलेगी। 

प्रयागराज: 5वें चरण में 12 सीटों पर वोटिंग, विस्फोट

प्रयागराज: 5वें चरण में 12 सीटों पर वोटिंग, विस्फोट   

बृजेश केसरवानी      
प्रयागराज। यूपी चुनाव के पांचवें चरण में प्रयागराज के करेली में 12 सीटों पर वोटिंग हो रही है। इसी बीच बम धमाके में एक की मौत हो गई, दूसरा युवक गंभीर रूप से घायल है। दरअसल, पोलिंग बूथ से 10 मीटर की दूरी पर बम विस्‍फोट होने से हड़कंप मच गया है। इसमें दो लोग घायल हए हैं। इसमें एक व्‍यक्ति की मौत हुई तो एक घायल हुआ है। वहीं, इस घटना के बाद पुलिस के आला अधिकारी समेत काफी फोर्स मौके पर पहुंच गया है। यह पूरा मामला प्रयागराज के करेली थाना क्षेत्र का है।
गौसिया स्कूल के पास एक युवक साइकिल से जा रहा था। इसी दौरान उसके झोले में रखा बम तेज आवाज के साथ फट गया। इससे युवक के चिथड़े उड़ गए। हादसे में एक युवक गंभीर रूप से घायल भी हो गया है। घटना स्थल से कुछ ही दूरी पर मतदान केंद्र है, जहां पर बड़ी संख्या में लोग वोट देने के लिए जुटे थे। घटना के बाद मौके पर पुलिस पहुंच गई।

केंद्रीय मंत्री व विधायक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

केंद्रीय मंत्री व विधायक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज     

कविता गर्ग        

मुंबई। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व मैनेजर दिशा सालियान के माता-पिता की शिकायत के बाद केंद्रीय मंत्री नारायण राणे और उनके विधायक बेटे नितेश राणे के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में नारायण राणे ने अपने आरोपों को दोहराया था कि सालियान के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की गई थी। महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष रूपाली चाकणकर ने इस मामले में बयान देते हुए कहा कि ऑटोप्सी रिपोर्ट के अनुसार, दिशा के साथ दुष्कर्म नहीं किया गया था और वह गर्भवती भी नहीं थी। चाकणकर ने कहा कि दिशा सलियन के माता-पिता को केंद्रीय मंत्री नारायण राणे, विधायक नितेश राणे और इस संबंध में दिशा की मौत के बारे में झूठी और मानहानिकारक जानकारी देने के लिए सभी संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

चाकणकर ने ट्विटर के माध्यम से अपील करते हुए कहा कि सालियान की मौत के मामले में सोशल मीडिया पर बनाए गए लाखों फर्जी खातों को बंद किया जाना चाहिए और उसके बारे में गलत जानकारी को तुरंत हटाया जाना चाहिए। रूपाली चाकणकर ने एक और मांग करते हुए कहा कि दिशा के माता-पिता को सुरक्षा प्रदान की जाए क्योंकि उनकी जान को खतरा है। 28 वर्षीय दिशा सालियान ने आठ जून, 2020 को उपनगरीय मलाड में एक ऊंची इमारत से कूदकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी, इससे छह दिन पहले 34 वर्षीय सुशांत राजपूत उपनगरीय बांद्रा में अपने अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे।

'डिजिटल सदस्यता' अभियान में तेजी लाने के निर्देश

'डिजिटल सदस्यता' अभियान में तेजी लाने के निर्देश   

दुष्यंत टीकम     

रायपुर। कांग्रेस का डिजिटल सदस्यता अभियान की गति तेज हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम, सह प्रभारी चंदन यादव की अगुवाई में कांग्रेस 10 लाख नए सदस्य बनाने का लक्ष्य लेकर चल रही है। बता दें कि अब तक 7 लाख सदस्य बनाए जा चुके हैं। कांग्रेस का फोकस अब डिजिटल सदस्यता अभियान पर है। सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को डिजिटल सदस्यता अभियान में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं। रायपुर में भी आज डिजिटल तरीके से सदस्यता अभियान में तेजी लाने के निर्देश कार्यकर्ताओं को दिए गए। अभियान को आगे बढ़ाने वॉलेंटियर्स की नियुक्ति भी की गई। कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम, प्रभारी सचिव चंदन यादव, संचार विभाग अध्यक्ष सुशील शुक्ला समेत रायपुर ज़िले के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

यूक्रेन का दावा, 4,300 रूसी सैनिक मारे गए

यूक्रेन का दावा, 4,300 रूसी सैनिक मारे गए     

सुनील श्रीवास्तव              
कीव/मास्को। यूक्रेन पर लगातार चौथे दिन भी रूस का हमला जारी है। इसी बीच यूक्रेन ने दावा किया है कि अब तक लड़ाई में लगभग 4,300 रूसी सैनिक मारे गए हैं। साथ ही लगभग 146 टैंक, 27 विमान और 26 हेलीकॉप्टर को तबाह कर दिया गया है। इसके पहले रूस ने बेलारूस में यूक्रेन को बातचीत करने का ऑफर दिया। इस ऑफर को यूक्रेन ने ठुकरा दिया है। यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा- हम रूस के साथ बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन बेलारूस में नहीं।
रूस की सेना तेजी से यूक्रेन की राजधानी कीव पर हमला कर रही है। यह हमले का चौथा दिन है। यूक्रेन के राष्ट्रपति ने भी इस बात को लेकर चिंता जताई है कि जल्द ही रूस राजधानी कीव पर कब्जा कर सकता है। राष्ट्रपति जेलेंस्की को अमेरिका ने यूक्रेन छोड़ने का प्रस्ताव दिया था लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया और कहा कि वह रूस के खिलाफ डटे रहेंगे। अमेरिकी एजेंसी ने सैटलाइट तस्वीरें शेयर करते हुए दावा किया है कि यूक्रेन में काफी हद तक रूस ने कब्जा कर लिया है। संयुक्त राष्ट्र ने पुष्टि की है कि रूस के हमले में यूक्रेन में करीब 240 आम नागरिक मारे गए हैं। वहीं यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए भारत ऑपरेशन गंगा चला रहा है।

7 साल के उच्चस्तर पर पहुंचीं कच्चे तेल की कीमतें

7 साल के उच्चस्तर पर पहुंचीं कच्चे तेल की कीमतें    

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। भारत का कच्चे तेल का आयात बिल चालू वित्त वर्ष 2021-22 में 100 अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर सकता है। यह पिछले वित्त वर्ष में कच्चे तेल के आयात पर हुए खर्च का लगभग दोगुना होगा। इसकी वजह है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें सात साल के उच्चस्तर पर पहुंच गई हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय के पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (पीपीएसी) के आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष 2021-22 के पहले 10 माह (अप्रैल-जनवरी) में भारत ने कच्चे तेल के आयात पर 94.3 अरब डॉलर खर्च किए हैं।

अकेले जनवरी में कच्चे तेल के आयात पर 11.6 अरब डॉलर खर्च हुए हैं। पिछले साल जनवरी में भारत ने कच्चे तेल के आयात पर 7.7 अरब डॉलर खर्च किए थे। फरवरी में कच्चे तेल की कीमतें 100 डॉलर प्रति बैरल को पार कर गईं। ऐसे में अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष के अंत तक भारत का तेल आयात बिल दोगुना होकर 110 से 115 अरब डॉलर पर पहुंच जाएगा। भारत अपने कच्चे तेल की 85 प्रतिशत जरूरत को आयात से पूरा करता हूं। आयातित कच्चे तेल को तेल रिफाइनरियों में वाहनों और अन्य प्रयोगकर्ताओं के लिए पेट्रोल और डीजल जैसे मूल्यवर्धित उत्पादों में बदला जाता है। भारत के पास अतिरिक्त शोधन क्षमता है और यह कुछ पेट्रोलियम उत्पादों का निर्यात करता है लेकिन रसोई गैस यानी एलपीजी का उत्पादन यहां कम है, जिसे सऊदी अरब जैसे देशों से आयात किया जाता है। वित्त वर्ष 2021-22 के पहले 10 माह अप्रैल-जनवरी में पेट्रोलियम उत्पादों का आयात 3.36 करोड़ टन या 19.9 अरब डॉलर रहा है। दूसरी ओर 33.4 अरब डॉलर के 5.11 करोड़ टन पेट्रोलियम उत्पादों का निर्यात किया गया।

भारत ने पिछले 2020-21 के वित्त वर्ष में 19.65 करोड़ टन कच्चे तेल के आयात पर 62.2 अरब डॉलर खर्च किए थे। उस समय कोविड-19 महामारी की वजह से वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें नीचे आई थीं। चालू वित्त वर्ष में भारत पहले ही 17.59 करोड़ टन कच्चे तेल का आयात कर चुका है। महामारी से पहले वित्त वर्ष 2019-20 दुनिया के तीसरे सबसे बड़े ऊर्जा आयातक और उपभोक्ता देश भारत ने 22.7 करोड़ टन कच्चे तेल के आयात पर 101.4 अरब डॉलर खर्च किए थे।

मकसद का ‘पूर्ण अभाव’ आरोपी के पक्ष में जाता हैं

मकसद का ‘पूर्ण अभाव’ आरोपी के पक्ष में जाता हैं     

अकांशु उपाध्याय         

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 1997 के एक हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा पाने वाले एक व्यक्ति को बरी करते हुए कहा है कि मकसद का ‘पूर्ण अभाव’ होना निश्चित रूप से आरोपी के पक्ष में जाता है। न्यायमूर्ति यू यू ललित, न्यायमूर्ति एस आर भट और न्यायमूर्ति पी एस नरसिम्हा की पीठ ने साथ ही यह टिप्पणी भी की कि इसका अर्थ यह नहीं है कि मकसद के अभाव में अभियोजन के मामले को खारिज कर दिया जाना चाहिए।

पीठ ने 2014 में छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय द्वारा सुनाए गए आदेश को खारिज कर दिया। मामले में दोषी ठहराने और उम्रकैद की सजा सुनाने के निचली अदालत के आदेश को आरोपी ने उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी, लेकिन उसकी याचिका को खारिज कर दिया गया था। उच्च न्यायालय के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी गई थी। पीठ ने 25 फरवरी के अपने आदेश में कहा कि ‘ऐसा नहीं है कि केवल (आरोपी का) मकसद एक अहम कड़ी होता है, जिसे अभियोजन को साबित करना होता है।

उसके अभाव में अभियोजन का मामला खारिज नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसके साथ ही मकसद का पूर्ण अभाव मामले को नया रूप देता है और इसकी अनुपस्थिति निश्चित ही आरोपी के पक्ष में जाती है।’ अभियोजन के अनुसार, एक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसका बेटा 13 जनवरी, 1997 के बाद से लापता है, जिसके आधार पर मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद, 17 जनवरी, 1997 को एक तालाब से व्यक्ति के बेटे का शव मिला था और मामले को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302(हत्या) के रूप में बदल दिया गया था। शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा कि याचिकाकर्ता नंदू सिंह को मामले में गिरफ्तार किया गया था और ऐसा बताया गया है कि उसके बयान के आधार पर कई साक्ष्य सामने आए। याचिकाकर्ता के वकील ने शीर्ष अदालत से कहा था कि यह मामला परिस्थितिजन्य सबूतों पर आधारित है, और अभियोजन ने हत्या के पीछे नंदू सिंह का कोई मकसद नहीं बताया है।

32 विद्यार्थियों को वापस लाने के लिए बस की व्यवस्था

32 विद्यार्थियों को वापस लाने के लिए बस की व्यवस्था 

इकबाल अंसारी       

अहमदाबाद। यूक्रेन से एक विशेष विमान के जरिये रविवार को दिल्ली पहुंचे। गुजरात के 32 विद्यार्थियों को वापस लाने के लिए राज्य सरकार ने एक बस की व्यवस्था की है। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने यह जानकारी दी। भारत ने रूसी सेना के अभियान के बीच यूक्रेन में फंसे हुए अपने नागरिकों को निकालने की शुरुआत शनिवार को की थी। एयर इंडिया की पहली उड़ान रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से 219 लोगों को लेकर उसी दिन शाम को मुंबई पहुंची थी।

अधिकारियों ने बताया कि एयर इंडिया की दूसरी उड़ान 250 लोगों को लेकर रविवार को दिल्ली हवाईअड्डे पर उतरी थी। मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक, यूक्रेन में फंसे गुजरात के 32 विद्यार्थी निकासी उड़ान से रविवार को सुरक्षित नई दिल्ली पहुंच गए हैं और उन्हें राज्य वापस लाया जा रहा है। कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा कि, इन विद्यार्थियों को नई दिल्ली में गुजरात की आवासीय आयुक्त आरती कंवर के मार्गदर्शन में गुजरात भवन ले जाया गया। वहां से उन्हें सड़क परिवहन विभाग की वॉल्वो बस के जरिये गुजरात लाया जा रहा है।

बयान के मुताबिक, राज्य सरकार ने इससे पहले शनिवार को यूक्रेन से मुंबई पहुंचे गुजरात के 44 विद्यार्थियों को लाने के लिए दो बसों की व्यवस्था की थी। मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि रविवार दोपहर को एक और विशेष विमान नई दिल्ली पहुंचा है, जिसमें भी गुजरात के कुछ छात्र मौजूद हैं।

‘राष्ट्र एक संपूर्ण दृष्टिकोण’ पर सत्र की अगुआई करेंगे

‘राष्ट्र एक संपूर्ण दृष्टिकोण’ पर सत्र की अगुआई करेंगे   

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के सोमवार को होने वाले बजट-पश्चात वेबिनार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगे। डीपीआईआईटी ने रविवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि इस वेबिनार का मकसद आर्थिक वृद्धि को रफ्तार देने के लिए तालमेल स्थापित करना है। बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री सभी भागीदारों को गति शक्ति के दृष्टिकोण और बजट के साथ इसके अभिसरण पर संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद भागीदार पांच सत्रों में भाग लेंगे। जिनमें देश के लॉजिस्टिक्स क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा होगी। डीपीआईआईटी के सचिव अनुराग जैन ‘राष्ट्र एक संपूर्ण दृष्टिकोण’ पर सत्र की अगुआई करेंगे।

बयान में कहा गया है कि यह सत्र गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान पोर्टल पर केंद्रित होगा। इसमें सड़क परिवहन एवं राजमार्ग सचिव गिरिधर अरमाने, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री राजेश अग्रवाल और नीति आयोग के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अमिताभ कांत भी भाग लेंगे। पीएम गतिशक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान एक एकीकृत योजना है, जो लोगों, वस्तुओं और सेवाओं की निर्बाध आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए ‘अंतर’ को पाटने का काम करेगी।

बेलारूस में रूस के साथ बात नहीं करेंगे जेलेंस्की

बेलारूस में रूस के साथ बात नहीं करेंगे जेलेंस्की     
सुनील श्रीवास्तव    
कीव/मास्को। रूस-यूक्रेन युद्ध रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे तनाव के चौथे दिन, रूसी और यूक्रेन दोनों वार्ता के लिए तैयार हैं। लेकिन, वे अभी भी एक ही पृष्ठ पर नहीं हैं। यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा कि वह बेलारूस में रूस के साथ बात नहीं करेंगे।
यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने रविवार को बेलारूस में क्रेमलिन की वार्ता की पेशकश को खारिज कर दिया, यह कहते हुए कि देश रूसी आक्रमण के लिए एक मंच था, एजेंसियों ने रिपोर्ट किया। हालाँकि, ज़ेलेंस्की ने अन्य स्थानों पर बातचीत के दरवाजे खुले छोड़ दिए। रूस ने बेलारूस के गोमेल शहर में यूक्रेन के अधिकारियों के साथ बातचीत करने की पेशकश की थी।
इस बीच, बेलारूसी नेता अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने कीव से रूस के साथ बैठकर बातचीत करने का आह्वान किया ताकि यूक्रेन अपना राज्य का दर्जा न खोए, रूस की एजेंसी ने बताया। एक वीडियो संदेश में, ज़ेलेंस्की ने वैकल्पिक स्थानों के रूप में वारसॉ, ब्रातिस्लावा, इस्तांबुल, बुडापेस्ट या बाकू का नाम दिया।
विकास तब आता है जब रूसी सैनिकों ने यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खार्किवम में प्रवेश किया, जिससे यूक्रेन और रूसी सैनिकों के बीच सड़क पर लड़ाई हुई। ज़ेलेंस्की ने कहा कि रूसी सेना लोगों को चोट पहुँचाने के लिए जानबूझकर रिहायशी इलाकों पर हमला कर रही है।
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा युद्ध के आह्वान के लिए रूस द्वारा मना किए जाने के तुरंत बाद, लेकिन एक विशेष सैन्य अभियान, रूस यूक्रेन को महसूस कर रहा है कि रूस बात करने के लिए तैयार है। क्रेमलिन ने पहले कहा था कि पुतिन बेलारूस में एक प्रतिनिधिमंडल भेजने के लिए तैयार हैं, जिसने यूक्रेनी संकट पर शांति वार्ता के दौर की मेजबानी की थी।
यूक्रेन के अब तक इनकार का उपयोग रूस द्वारा यूक्रेन पर अपने अभियान को मजबूत करने के लिए किया गया है, क्रेमलिन ने कीव पर रूस की जैतून शाखा को ठुकराकर संघर्ष को लंबा करने का आरोप लगाया है।
पूर्वी यूरोप के भूमि से घिरे देश ने यूक्रेन और रूस के बीच पिछली बातचीत की। लेकिन बेलारूस पर यूक्रेन पर रूस के हमले में शामिल होने का आरोप लगाया गया है और रूस का पक्ष लेने के लिए बेलारूस पर प्रतिबंध भी लगाए गए हैं।

अपने रिलेशनश‍िप को लेकर चर्चा में रहती हैं यूलिया

अपने रिलेशनश‍िप को लेकर चर्चा में रहती हैं यूलिया    

सुनील श्रीवास्तव    

कीव/मास्को। सलमान खान की गर्लफ्रेंड यूल‍िया वंतूर एक्टर संग अपने रिलेशनश‍िप को लेकर चर्चा में रहती हैं। यूल‍िया यूक्रेन के पड़ोसी देश रोमान‍िया की हैं। यूल‍िया और सलमान लंबे अरसे से एक-दूसरे के साथ रिश्ते में हैं। हालांकि, दोनों में से एक ने भी इस रिश्ते पर मुहर नहीं लगाई है, लेकिन पार्टीज और डिनर पर दोनों साथ ही स्पॉट होते हैं। सलमान की ही तरह यूलिया भी सोशल मीडिया पर कुछ खास एक्टिव नहीं रहती हैं। फिर भी एक्ट्रेस, मॉडल और सिंगर कई बार अपनी राय लेटेस्ट मुद्दों पर रखती नजर आई हैं।

इस समय रूस और यूक्रेन के बीच जंग छिड़ी हुई है। ऐसे में यूलिया ने सोशल मीडिया पर यूक्रेन को सपोर्ट करते हुए एक पोस्ट शेयर की है। इस पोस्ट में एक रूसी व्यक्ति बोर्ड पकड़े खड़ा नजर आ रहा है।  इस बोर्ड पर लिखा है, "मैं रूसी व्यक्ति हूं और मैं इसके लिए आपसे माफी मांगता हूं। फोटो में यही शख्स एक दूसरी महिला को गले लगाता भी नजर आ रहा है।
यूलिया ने लिखा, "एक खराब इंसान और पुत‍िन जैसे तानाशाह, युद्ध अपराधी रूस का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। रूसी लोगों को दोष ना दें।
जानकारी के लिए बता दें कि यूक्रेन का हाल पहले से खराब होता नजर आ रहा है। हालांकि, नीदरलैंड यूक्रेन की मदद के लिए आगे आया है। नीदरलैंड ने युद्ध का सामना कर रहे यूक्रेन को अपने हवाई क्षेत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एयर डिफेंस रॉकेट्स देने का ऐलान किया है। नीदरलैंड सरकार की ओर से शनिवार को देश की संसद में इस बात की जानकारी दी गई है।
रूस यूक्रेन जंग में क्लेम और काउंटर क्लेम किए जा रहे हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा है कि तीन दिनों के युद्ध में उनके 137 हीरोज ने जान गंवाई है। यूक्रेन की सेना का दावा है कि उन्होंने 1000 से ज्यादा रूसी सैनिकों को मार गिराया है। वहीं, रूसी रक्षा मंत्रालय का दावा है कि उन्होंने यूक्रेन के 200 से अध‍िक सैन्य ठिकानों को नष्ट कर दिया है।

महायुद्ध: रूसी बमबारी से ग्रीस के 10 लोगों की मौंत

महायुद्ध: रूसी बमबारी से ग्रीस के 10 लोगों की मौंत   

अखिलेश पांडेय       

कीव/ मास्को। यूक्रेन-रूस के बीच छिड़ी जंग अब कई जान ले रही है। इसमें न सिर्फ यूक्रेन के नागरिक मारे जा रहे हैं, बल्कि ग्रीस के नागरिक भी इसका शिकार हुए हैं। बता दें कि यूक्रेनी शहर मारियुपोल के पास रूसी बमबारी से ग्रीस के 10 लोगों की मौत हो गई। जबकि 6 लोग घायल हो गए। एजेंसी के मुताबिक ग्रीस ने रूस के राजदूत को तलब कर लिया है। ग्रीस के प्रधान मंत्री क्यारीकोस मित्सोटाकिस ने एक ट्वीट में कहा कि हमारे 10 निर्दोष लोग नागरिक मारियुपोल के पास हुए रूसी हवाई हमलों में मारे गए हैं। 

अब इस बमबारी के बंद कर देना चाहिए। ग्रीस के विदेश मंत्रालय ने कहा कि बमबारी सरताना और बुगास गांवों के बाहरी इलाके में हुई और इसमें एक बच्चा भी घायल हुआ है।

जनहित याचिका में सुनवाई, 4 सप्ताह के लिए बढ़ाईं

जनहित याचिका में सुनवाई, 4 सप्ताह के लिए बढ़ाईं    

दुष्यंत टीकम        
बिलासपुुुर। नगर निगम से प्राप्त अनुमति से ज्यादा निर्माण करने पर दायर जनहित याचिका में कोर्ट ने सुनवाई चार सप्ताह के लिए बढ़ा दिया है। नगर निगम रायपुर में धरम सिंह तलरेजा और जवाहर सिंह तलरेजा ने निगम से प्राप्त अनुमति से अधिक निर्माण किया है। जिस पर दायर याचिका में कोर्ट ने दोनों पक्षों का जवाब सुनने के बाद अगली सुनवाई मार्च के अंतिम सप्ताह में होगी। जानकारी अनुसार, स्टेशन रोड में जवाहर तलरेजा और धरम सिंह तलरेजा ने अनुमति से ज्यादा निर्माण कराया। प्रथम तल की अनुमति लेकर द्वितीय और तृतीत तल का निर्माण करा दिया। 
निर्माण के दौरान निगम ने नोटिस जारी कर निर्माण रोकने कहा। निर्माणकर्ता ने निगम के नोटिस को अनदेखा तीन मंजिला भवन बना दिया। आदेशों की अवहेलना पर नगर निगम प्रशासन ने अतिरिक्त निर्माण तोड़ने का नोटिस जारी किया तो निर्माणकर्ता धरम सिंह तलरेजा और जवाहर तलरेजा ने अतिरिक्त निर्माण स्वयं से हटाने संबंधी शपथ पत्र दिया पर ना तो निर्माण हटा और ना ही अधिकारियो ने ध्यान दिया। शिकायतों के बाद निगम प्रशासन से कार्यवाही नहीं होने पर जनहित याचिका दाखिल कर नगर निगम अधिनियम 307 अंतर्गत अतिरिक्त निर्माण हटाने की मांग की गई है।नगर निगम प्रशासन द्वारा समय रहते कार्यवाही नहीं की गई उलटे अवैध निर्माणकर्ता को सरंक्षण दिया गया। बताते है कि अवैध निर्माण को वैध करने  चेक से लाखो रुपये का भुगतान निगम प्रशासन को किया गया है। निर्माण में नियमो का उल्लंघन करने पर साल 2014 में नॉएडा में दिग्गज रियल स्टेट कंपनी सुपरटेक के 40 मंजिला दो ट्वीन टॉवर को गिराने का आदेश दिया था। जिस पर कंपनी संचालक ने उच्च न्यायालय के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दिया था।
जहा कोर्ट हाईकोर्ट के आदेश को बिना पलटे दोनों टावरो को गिराने का आदेश दिया था। उच्चतम न्यायालय का फैसला ऐसे निर्माण कार्यो पर नजीर साबित हुआ है।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 10,273 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 10,273 नए मामलें    

अकांशु उपाध्याय        

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस महामारी के मामलों में अब लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 10 हजार 273 नए मामलें सामने आए हैं और 243 लोगों की मौत हो गई। कल 11 हजार 499 मामले दर्ज किए गए थे। यानी कल की तुलना में आज मामले घटे हैं। जानिए देश में कोरोना की ताजा स्थिति क्या है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब एक्टिव मामलों की संख्या घटकर 1 लाख 11 हजार 472 हो गई है। वहीं, इस महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 5 लाख 13 हजार 724 हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक, अभी तक 4 करोड़ 22 लाख 90 हजार 921 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं।

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण मुहिम के तहत अभी तक कोरोना वायरस रोधी टीकों की करीब 177 करोड़ से खुराक दी जा चुकी हैं। कल 24 लाख 5 हजार 49 डोज़ दी गईं, जिसके बाद अबतक वैक्सीन की 177 करोड़ 44 लाख 8 हजार 129 डोज़ दी जा चुकी हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, स्वास्थ्यकर्मियों, कोरोना योद्धाओं और 60 साल से ज्यादा आयु वाले अन्य बीमारियों से ग्रस्त लोगों को 1.99 करोड़ से ज्यादा (1,99,77,476) एहतियाती टीके लगाए गए हैं। देश में कोविड रोधी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 से शुरू हुआ और पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया। वहीं, कोरोना योद्धाओं के लिए टीकाकरण अभियान दो फरवरी से शुरू हुआ था।

कार ड्राइवर के पदों पर निकाली भर्तियां, आवेदन

कार ड्राइवर के पदों पर निकाली भर्तियां, आवेदन     
अकांशु उपाध्याय       
नई दिल्ली। भारतीय डाक विभाग ने स्टाफ कार ड्राइवर के पदों पर भर्तियां निकाली हैं। अभ्यर्थी 15 मार्च 2022 तक आवेदन पूरा कर सकते हैं। अगर आप 10वीं पास हैं और सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो आपके लिए बढ़िया मौका है। बता दें कि भारतीय डाक विभाग ने हाल ही में स्टाफ कार ड्राइवर के कुल 29 रिक्त पदों पर भर्तियों के लिए आवेदन मांगे हैं। जिसके लिए आवेदन की आखिरी तारीख 15 मार्च 2022 है।इस पदों पर आवेदन करने के लिए न्यूनतम दसवीं पास होना जरूरी है।अधिक जानकारी के लिए भर्ती के लिए जारी की गई आधिकारिक अधिसूचना को अवश्य देख लें। वहीं, अगर आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो अपनी तैयारी को बेहतर बनाने के लिए सफलता डॉट कॉम पर चल रहे कई खास बैच और फ्री कोर्सेस की मदद ले सकते हैं। हांपर लगभग सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाले करेंट अफेयर्स विषय के लिए भी कई फ्री क्लासेस चलाई जा रही हैं।डाक विभाग की इस भर्ती में आवेदन करने के लिए इच्छुक उम्मीदवारों की न्यूनतम उम्र कम से कम 18 वर्ष और अधिक से अधिक 27 वर्ष होनी चाहिए। हालांकि, जहां अधिकतम उम्र कीसीमा में अन्यपिछड़ा वर्ग को तीन वर्ष वहीं, एससी व एसटी वर्ग के अभ्यर्थियों को 5 वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी।

कितनी दी जाएगी सैलरीभारतीय डाक विभाग में स्टाफ कार ड्राइवर के पदों पर अंतिम रूप से सफल होने वाले कैंडिडेट्स को 19,000 से लेकर 63,200 रुपए प्रतिमाह का वेतन दिया जाता है। इसके अलावाकेन्द्रीय कर्मचारियों को मिलने वाले अन्य भत्तों का भी लाभ समय-समय पर मिलता रहता है। अगर आप सरकारी नौकरी का सपना देख रहे हैं और उसके लिए सालों से मेहनत कर रहे हैं तो आप एक बार सफलता डॉट कॉम द्वारा चलाए जा रहे कोर्सेस का हिस्सा जरूर बनें।

सफलताद्वारा इस वक्त रेलवे की विभिन्न परीक्षाओं के साथ ही SSC, यूपी लेखपाल व अन्य कई प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए खास कोर्स चलाए जा रहे हैं जिनकी मदद से कई अभ्यर्थियों ने पहलीबार में ही अपनी प्रतियोगी परीक्षा को शानदार अंकों से पास किया है।आप भी इन कोर्सेस की मदद से अपनी बाकी की तैयारी और कंप्लीट रिवीजन कर सकते हैं तो देर किस बात की तुरंतकोर्स में एडमिशन लें और सरकारी नौकरी के अपने सपने को साकार करें। आप सफलता ऐप डाउनलोड कर भी सफलता से जुड़ सकते हैं और साथ ही फ्री मॉक-टेस्ट, ई-बुक्स, करेंट अफेयर्सका भी लाभ उठा सकते हैं।

दिल्ली: जरूरी दवा निशुल्क मुहैय्या कराने की मांग

दिल्ली: जरूरी दवा निशुल्क मुहैय्या कराने की मांग   

अकांशु उपाध्याय    

नई दिल्ली। किडनी प्रत्यारोपण के बाद मरीज जीवन भर नि:शुल्क जरूरी और जीवन रक्षक दवा पाने का हकदार है या नही, इस बारे में दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार से जवाब मांगा है। कोर्ट ने किडनी प्रत्यारोपण के बाद जरूरी दवा का खर्च उठा पाने में असमर्थ दो मरीजों की ओर से दाखिल याचिका पर विचार करते हुए यह आदेश दिया है। मरीजों ने प्रत्यारोपण के बाद प्रयोग होने वाली जरूरी दवा निशुल्क मुहैय्या कराने की मांग की है। जस्टिस वी. कामेश्वर राव ने दिल्ली सरकार को चार सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। सरकार की ओर से अतिरिक्त स्थायी वकील गौतम नारायण ने नोटिस स्वीकार करते हुए कहा कि इस बारे में जवाबी हलफनामा दाखिल करेंगे। हाई कोर्ट ने सुरेंद्र कुमार और राज कुमार सिंह की ओर से दाखिल याचिका पर यह आदेश दिया है।

साथ ही बेंच ने मामले की अगली सुनवाई 31 मार्च को तय की है।मरीजों की ओर से वकील अशोक अग्रवाल ने कोर्ट को बताया कि उनके एक मुवक्किल का 2016 में और दूसरे का 2017 में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) किडनी का प्रत्यारोपण हुआ। इसके बाद करीब दो साल तक एम्स ने मरीजों को सभी जरूरी दवाई मुहैय्या कराई, लेकिन पिछले करीब एक साल से अधिक समय से यह बंद कर दिया है। अग्रवाल ने कहा कि दोनों मरीज अत्यंत गरीब होने के साथ जीवन बचाने के लिए जरूरी जीवन रक्षक दवा का खर्च उठाने में असमर्थ है। याचिका में कहा गया है कि एम्स के डॉक्टर ने याचिकाकर्ता राज कुमार सिंह को सेलसेप्ट और सुरेंद्र कुमार को सेलसेप्ट के अलावा टेक्रोग्राफ दवा जीवनभर खाने का सुझाव दिया है। ऐसे में सरकार को निशुल्क दवाइयां मुहैय्या कराने का आदेश दिया जाए। अग्रवाल ने जीवन जीने के अधिकारों का हवाला देते हुए कहा है कि सरकार की जिम्मेदारी है कि वे नागरिकों की जीवन की रक्षा करे।

कोर्ट के आदेश पर दिल्ली सरकार ने राज कुमार सिंह और सुरेंद्र कुमार के प्रत्यारोपण पर हुए खर्च का भुगतान किया। याचिकाकर्ता ने कहा है कि दवाइयों पर हर माह 10 हजार रुपये से अधिक का खर्च आ रहा है और उनके मुवक्किल की आर्थिक स्थिति इतनी खराब है कि वे इसका वहन करने में असमर्थ हैं।

यूक्रेनी राष्ट्रपति ने फोन पर पीएम मोदी से बात की

यूक्रेनी राष्ट्रपति ने फोन पर पीएम मोदी से बात की      

सुनील श्रीवास्तव      

मास्को/कीव/नई दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच चल रही भीषण लड़ाई के बीच यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से फोन पर बात की है। यूक्रेन के राष्ट्रपति ने खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी है। इस बातचीत में उन्‍होंने पीएम मोदी को यूक्रेन की ओर से रूसी हमले और यूकेनी सैनिकों की जवाबी कार्रवाई के बारे में अवगत कराया है। राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से यूएनएससी में यूक्रेन का समर्थन करने और हमलावरों को रोकने के लिए साथ देने की गुजारिश की है। वहीं प्रधानमंत्री कार्यालय यानी पीएमओ की ओर से साझा की गई जानकारी के मुताबिक यूक्रेन के राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री मोदी को यूक्रेन में जारी संघर्ष की स्थिति के बारे में विस्तार से जानकारी दी। प्रधानमंत्री मोदी ने इस लड़ाई के चलते जान-माल के भारी नुकसान पर गहरी पीड़ा व्यक्त की। पीएम मोदी हिंसा की समाप्ति और बातचीत के लिए अपने आह्वान को दोहराया। साथ ही शांति प्रयासों में हर संभव मदद करने की इच्छा जताई।

पीएमओ ने बताया कि इस बातचीत में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने यूक्रेन में फंसे छात्रों सहित भारतीय नागरिकों की सुरक्षा के लिए गहरी चिंता से भी यूक्रेन के राष्ट्रपति को अवगत कराया। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारतीय नागरिकों को तेजी से सुरक्षित निकालने के लिए यूक्रेन के अधिकारियों द्वारा सुविधा प्रदान करने की मांग भी की।दरअसल भारत ने दोनों देशों के बीच जारी संघर्ष और रूस के खिलाफ पश्चिमी मुल्‍कों की लामबंदी पर तटस्‍थ रुख अपनाए हुए है। भारत ने रूस के हमले की निंदा करने वाले और यूक्रेन से बिना शर्त रूसी सैनिकों को वापस बुलाने की मांग वाले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव पर हुए मतदान से बायकाट किया। भारत का कहना है कि दोनों देशों के बीच मतभेदों को दूर करने के लिए बातचीत ही एकमात्र विकल्‍प है। चिंता यह है कि मौजूदा गतिरोध को हल करने के लिए कूटनीति का रास्ता नहीं अपनाया जा रहा है।

बता दें कि शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में हुए मतदान में उक्‍त प्रस्ताव के पक्ष में 11 मत पड़े। भारत, चीन और संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई ने मतदान से दूर बनाए रखी। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने मतदान पर अपना पक्ष रखते हुए कहा कि भारत मौजूदा घटनाक्रम पर बेहद चिंतित है। हमारी अपील है कि हिंसा और शत्रुता को रोकने की दिशा में तुरंत प्रयास किए जाने चाहिए। हालांकि रूस के वीटो के चलते यह प्रस्ताव सुरक्षा परिषद में पारित नहीं हो सका।

बीजेपी के साथ गठबंधन, खबरों को खारिज किया

बीजेपी के साथ गठबंधन, खबरों को खारिज किया      

संदीप मिश्र               

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी के साथ गठबंधन को लेकर चल रही खबरों को खारिज कर दिया है। इससे बीजेपी की बी टीम होने की अटकलों पर विराम लग गया है। बता दें कि पिछले दिनों केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बीएसपी की तारीफ की थी, जिसने बाद मीडिया में बीएसपी को भाजपा की बी टीम बताया जा रहा था। बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि बसपा अगर भाजपा की बी टीम थी, तो फिर सपा और कांग्रेस ने पार्टी के साथ मिलकर चुनाव क्यों लड़ा था ? बस्ती जिले के पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि पश्चिमी यूपी से चुनाव की शुरुआत हुई है और जब से वहां के बारे में बसपा के दलितों व मुसलमानों की स्थिति को लेकर गृह मंत्री ने जो कुछ कहा है, उसके बाद से मीडिया और विरोधी पार्टियों ने फिर से राग अलपना शुरू कर दिया है कि बसपा, भाजपा की बी टीम है।

उन्होंने कहा कि इसमें रत्ती भर भी सच्चाई नहीं है। बसपा, भाजपा की बी टीम होती, तो फिर सपा ने यूपी में एक बार विधानसभा और दूसरी बार लोकसभा का चुनाव बसपा के साथ मिलकर क्यों लड़ा था। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक टीवी चैनल को दिए गये साक्षात्कार में कहा था कि मायावती की जमीन पर अपनी पकड़ तो है, मगर यह सीट में कितना बदलेगी, यह उन्हें मालूम नहीं है। शाह ने यह भी कहा था कि जाटव और मुस्लिम वोट बड़ी मात्रा में मायावती के साथ ही जाएगा। शाह के इस साक्षात्कार के बाद मीडिया में यह अटकल लगने लगी थी कि जरूरत पड़ने पर बसपा भाजपा के साथ गठबंधन कर सकती है। बसपा की प्रासंगिकता बरकरार रहने संबंधी शाह के बयान के बारे में पूछे जाने पर मायावती ने कहा कि यह उनकी महानता है कि वह सच को स्वीकार कर रहे हैं। मैं उनसे यह भी कहना चाहती हूं कि उत्तर प्रदेश में बसपा को न सिर्फ दलितों और मुसलमानों बल्कि अन्य पिछड़ा वर्ग तथा अगड़ी जातियों के भी वोट मिल रहे हैं। बसपा प्रमुख ने अपने जनसभा को संबोधित करते हुये सपा सरंक्षक मुलायम सिंह यादव को भाजपा का मददगार करार दिया। 

उन्होंने आरोप लगाया कि 2003 में जब वह सरकार से हट गई थीं, तो भाजपा के सहयोग से मुलायम सिंह यादव राज्य में सत्ता आये थे। उन्होंने कल्याण सिंह को गले लगाया था। यह सब जनता कैसे भूल सकती है। कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने भी विधान सभा का चुनाव एक बार बसपा के साथ मिलकर क्यों लड़ा था और केंद्र में भी अपनी सरकार के लिए कई बार बसपा का समर्थन क्यों लिया था। इस बारे में मीडिया और कांग्रेस को भी जनता को बताना चाहिए। उन्होंने कहा कि बसपा को भाजपा की बी टीम बताना घिनौनी राजनीति को दर्शाता है। यूपी की मुख्यमंत्री रह चुकी मायावती ने आरोप लगाया कि सपा सरकार में गुंडों, माफियाओं, लूट-खसोट और अपराध करने वालों का ही राज रहा है। सपा सरकार में प्रदेश में हमेशा तनाव की स्थिति बनी रही है। उन्होंने जोर देकर कहा कि विकास के कार्य भी सपा सरकार में एक विशेष क्षेत्र और एक विशेष वर्ग के लिए ही किया गया है।

बिट्रेन: एंड्रिया ने अपने लुक का राज शेयर किया

बिट्रेन: एंड्रिया ने अपने लुक का राज शेयर किया     

अखिलेश पांडेय    
लंदन। आज के समय में लोग काफी ज्यादा फिटनेस कॉन्शियस हो गए हैं। लोग अपनी वर्कआउट रूटीन को लेकर काफी सजग हो गए हैं। खासकर लॉकडाउन में घर बैठे लोगों में मोटापे की समस्या काफी ज्यादा बढ़ गई। ऐसे में जैसे ही लॉकडाउन खुला, लोग जिम की तरफ भागे। ऐसे में फिटनेस कोच की डिमांड भी काफी ज्यादा बढ़ गई। हाल ही में लंदन बेस्ड फिटनेस कोच एंड्रिया सनशाइन ने जब लोगों के साथ अपनी असली उम्र शेयर की तो किसी को यकीन नहीं हो पाया। एंड्रिया की असली उम्र 53 साल है, जबकि वो दिखती मात्र 25 साल की है। एंड्रिया ने अपने लुक का राज भी लोगों के साथ शेयर किया।

इस बेहद फिट दादी मां को जिम से प्यार है।वो हर दिन आठ घटे वर्कआउट करती है। उसे एक्सरसाइज करने की ऐसी सनक चढ़ी कि उसने फिटनेस कोच बनने का ही फैसला कर लिया। वो काम के दौरान दूसरों को सिखाते हुए भी वर्कआउट करती रहती है। अगर किसी दिन उसका मूड अच्छा नहीं होता तो वो सिर्फ तीन घंटे एक्सरसाइज करती है। लोगों को जब पता चला कि उसकी असली उम्र 25 नहीं बल्कि 53 है, तो किसी को यकीन नहीं हुआ। एंड्रिया ने बताया कि अपने लुक के कारण उसे कई लड़के प्रपोज करते हैं। लेकिन सभी उससे आधी उम्र के होते हैं। जब वो बताती है कि उसके दो पोते-पोतियां हैं, तो किसी को यकीन नहीं होता। एंड्रिया सिंगल है और उसे अपनी लाइफ से काफी प्यार है। वो अपनी पूरी जिंदगी जिम में बिता सकती है। एंड्रिया को जिम में लड़कों द्वारा आकर उसे प्रपोज करना बेहद इरिटेट करता है। उसने बताया कि वो समझती है कि मर्दों को खुद से बड़ी और इतनी फिट महिला आकर्षित करती होगी। लेकिन अब वो इससे परेशान हो चुकी है।

अपनी इस बॉडी के लिए एंड्रिया काफी स्ट्रिक्ट वर्कआउट और डाइट मेंटेन करती है। एंड्रिया हर दिन वर्कआउट करती है और अपनी इस बॉडी के लिए हेल्दी डाइट लेती है। उसके खाने में ब्रोकली और प्रोटीन जरूर होता है। इसके अलावा एक दिन में एंड्रिया 35 सौ कैलोरीज ले लेती है। उसने दूसरी महिलाओ को भी अपनी हेल्थ पर ध्यान देने की अपील की।

विश्व के कई देशों ने रूस के खिलाफ प्रदर्शन किया

विश्व के कई देशों ने रूस के खिलाफ प्रदर्शन किया    

अखिलेश पांडेय       

कीव/ मास्को। यूक्रेन और रुस के बीच जारी जंग में दुनियाभर के कई देशों ने रूस के खिलाफ प्रदर्शन किया। कई देशों के आम नागरिक रुस के खिलाफ सड़कों पर उतर आए। उन्होंने रुसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जोरदार प्रदर्शन किया।इस दौरान उनके हाथों में तख्तियां थी। जिन पर लिखा था कि पुतिन गो बैग,इस प्रदर्शन में महिलाएं, युवा और बच्चे भी शामिल थे।यह प्रदर्शन लंदन, इजरायल, अमेरिका, यूक्रेन सहित अन्य देशों में हुआ। वही यूक्रेन में सेना भर्ती के लिए यूक्रेन के आम नागरिकों में भारी उत्साह दिखाई दिया। यूक्रेन के लोगों ने सैना में भर्ती के लिए भारी भीड़ उमड़ पड़ी है। वही यूक्रेन के सांसदों ने भी जंग में शामिल होने का बीड़ा उठाया है। इसके अलावा इंडिया एयरलाइंस के एक विमान से यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को भारत वापसी लाने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। 

इंडियन एयरलाइंस का एक विमान भारी संख्या में यूक्रेन में फंसे छात्रों को लेकर भारत वापसी लाने की तैयारी कर चुका है।इन छात्रों ने विमान में बैठकर भारत माता की जय,वातेमतरम जैसे नारे लगाए। वही यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडाइमिर जेलेस्को ने रुस से बातचीत करने का न्योता दिया है। उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि यूक्रेन रुस से बातचीत करने को तैयार हैं। वही यूक्रेन की मीडिया के खबरों के मुताबिक दावा किया गया है कि यूक्रेन की सेना ने रुस के चार विमानों को मार गिराया है। वही करीब ढाई सौ भारतीय को लेकर इंडिया एयरलाइंस का एक विमान दिल्ली एयरपोर्ट पहुंच गया है। जिसके बाद इन छात्रों के परिजनों ने राहत की सांस ली है। वही माना जा रहा है कि यह युद्ध लम्बा चलने वाला है।


राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा का ट्विटर अकाउंट हैक किया

राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा का ट्विटर अकाउंट हैक किया     

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का ट्विटर अकाउंट रविवार को हैक किया गया। हैकर्स ने रविवार को उनका अकाउंट हैक करते हुए एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में लिखा था, ‘सॉरी मेरा, अकाउंट हैक हो गया। यहां रूस को दान करने के लिए क्योंकि उन्हें मदद की जरूरत है’। हैकर्स ने बाद में प्रोफाइल का नाम बदलकर 'आईसीजी ओडबल्यूूूएनएस इंडिया' भी कर दिया। हालांकि अब ट्वीट डिलीट कर दिया गया है।

हालांकि अब उनका ट्विटर अकाउंट बहाल हो गया है। जेपी नड्डा की ओर से कहा गया है कि हम सही कारण का पता लगाने के लिए ट्विटर से बात कर रहे हैं। इससे पहले जेपी नड्डा की ओर से यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर ट्वीट किया गया था।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-142, (वर्ष-05)
2. सोमवार, फरवरी 28, 2022
3. शक-1984, फाल्गुन, कृष्ण-पक्ष, तिथि-त्रियोदशी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 12 डी.सै., अधिकतम-22+ डी सै.। बर्फबारी, उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न    सुशील केसरवानी         कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी शशिकान्त त्रिपाठी की अध्यक्षता में उद...