शनिवार, 1 अक्तूबर 2022

प्रेरणा: 2 अक्टूबर को मनाई जाएगी 'गांधी जयंती'

प्रेरणा: 2 अक्टूबर को मनाई जाएगी 'गांधी जयंती'

सरस्वती उपाध्याय 

महात्मा गांधी भारत ही नहीं विश्व की धरोहर हैं। लोग आज भी उनसे प्रेरणा लेते हैं। इसीलिए भारत सहित दुनिया के बहुत से देशों में 2 अक्टूबर को गांधी जयंती मनाई जाती है। 2 अक्टूबर 1869 में गुजरात के पोरबंदर में मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म हुआ था। देश की आजादी के लिए अंग्रेजों से लड़ाई में गांधी जी ने अहिंसा को अपना सबसे बड़ा हथियार बनाया था। अंततः अंग्रेजों को भारत छोड़ना पड़ा तथा 15 अगस्त 1947 को भारत अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हुआ था। दक्षिण अफ्रीका में भी बापू ने ब्रिटिश सत्ता को झुकाया था। जिसकी बदौलत देश-दुनिया में उन्हें महात्मा गांधी के नाम से जाना गया। एक अन्य मत के अनुसार स्वामी श्रद्धानन्द ने 1915 मे महात्मा की उपाधि दी थी। तीसरा मत ये है कि गुरु रविंद्रनाथ टैगोर ने महात्मा की उपाधि प्रदान की थी। नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने 6 जुलाई 1944 को रंगून रेडियो से गांधी जी के नाम जारी प्रसारण में उन्हें राष्ट्रपिता कहकर सम्बोधित करते हुए आजाद हिन्द फौज के सैनिकों के लिए उनका आशीर्वाद और शुभकामनाएं मांगीं थीं। देश की आजादी के बाद उन्होंने कोई भी सरकारी पद लेने से इनकार कर दिया था। इसलिए देशवासियों ने उन्हें राष्ट्रपिता का दर्जा दिया। महात्मा गांधी भारत में सबसे अधिक सम्मानित व लोकप्रिय नेता हैं। देश में किसी भी दल की सरकार हो, सभी महात्मा गांधी के प्रति पूरा सम्मान प्रकट करती है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जनप्रियता के ही कारण आज देश के सभी सरकारी कार्यालयों में उनकी तस्वीर लगी होती है, जो हर एक को शांति व अहिंसा के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देती है।

देश की संसद में भी महात्मा गांधी की विशाल प्रतिमा स्थापित है। जिसके समक्ष बैठकर विभिन्न दलों के सांसद अहिंसात्मक तरीके से सरकारों के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन करते रहते हैं। भारत जैसे विशाल देश में जहां नेताजी सुभाष चंद्र बोस, बाल गंगाधर तिलक, शहीद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद जैसे विचारधारा के क्रांतिकारियों के रहते महात्मा गांधी ने शांति के पथ पर चलकर अंग्रेजों से देश की आजादी के लिए संघर्ष करने के लिए पूरे देश को एकजुट किया, जो उनके करिश्माई व्यक्तित्व के कारण ही संभव हो पाया था। देश की आजादी के लिए महात्मा गांधी ने अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था। उन्होंने अपनी पारंपरिक पोशाक को भी त्याग कर शरीर पर सिर्फ एक धोती, हाथ में एक लाठी और चश्मा पहनकर आजादी के संघर्ष में अपना योगदान देने के लिए देश की जनता को जगाने अकेले ही निकल पड़े थे।

देखते ही देखते पूरे देश के लोग उनके साथ जुड़ते गए। अंततः उन्होंने अपने ही तरीके से ब्रिटिश हुकूमत को भारत छोड़कर जाने को मजबूर किया। आज महात्मा गांधी एक प्रेरणा एक प्रतीक बन चुके हैं। उनका बताया शांति का मार्ग आज पूरी दुनिया को अच्छा लग रहा है। बड़े-बड़े देशों के राष्ट्राध्यक्ष उनके बताए मार्ग का अनुसरण कर रहे हैं। उनके सिद्धांतों पर चलने का प्रयास करते हैं। देश दुनिया से आने वाला हर बड़ा नेता दिल्ली में राजघाट स्थित उनकी समाधि पर जाकर उनको श्रद्धांजलि देना नहीं भूलता है। देश में महात्मा गांधी ही एकमात्र ऐसे नेता है जिनके पूरी दुनिया में लाखों-करोड़ों चाहने वाले मौजूद है। दुनिया में जब भी कहीं युद्ध की बात आती है तो लोग अक्सर महात्मा गांधी को याद करते हैं और उनके बताए सिद्धांतों पर चलकर युद्ध को टालने का प्रयास करते हैं। इसीलिए पूरी दुनिया महात्मा गांधी को शांति का पुजारी मानती है। 

प्रति वर्ष 2 अक्टूबर को उनका जन्म दिन भारत में गांधी जयंती के रूप में और पूरे विश्व में अन्तरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के नाम से मनाया जाता है। पूरी दुनिया को शांति का सन्देश देने वाले महात्मा गाँधी को कभी भी शांति का नोबेल पुरस्कार प्राप्त नहीं हुआ। हालांकि उनको 1937 से 1948 के बीच पांच बार नोबेल पुरस्कार के लिये मनोनीत किया गया था। दशकों उपरांत नोबेल समिति ने सार्वजानिक रूप से स्वीकार किया कि उन्हें अपनी इस भूल पर खेद है और यह स्वीकार किया कि पुरस्कार न देने की वजह विभाजित राष्ट्रीय विचार थे। महात्मा गांधी को यह पुरस्कार 1948 में दिया जाना था परन्तु उनकी हत्या के कारण इसे रोक देना पड़ा था। उस साल दो नए राष्ट्र भारत और पाकिस्तान में युद्ध छिड़ जाना भी एक जटिल कारण था। महात्मा गांधी भारत एवं भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनीतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। राजनीतिक और सामाजिक प्रगति की प्राप्ति हेतु अपने अहिंसक विरोध के सिद्धांत के लिए उन्हें अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त हुई। महात्मा गांधी ने जिस प्रकार सत्याग्रह, शांति व अहिंसा के रास्तों पर चलते हुए अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया था, उसका कोई दूसरा उदाहरण विश्व इतिहास में देखने को नहीं मिलता। 

तभी तो संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी वर्ष 2007 से गांधी जयंती को 'विश्व अहिंसा दिवस' के रूप में मनाए जाने की घोषणा की है। गांधी जी के बारे में प्रख्यात वैज्ञानिक आइंस्टीन ने कहा था कि हजार साल बाद आने वाली नस्लें इस बात पर मुश्किल से विश्वास करेंगी कि हाड़-मांस से बना ऐसा कोई इंसान भी धरती पर कभी आया था। विश्व पटल पर महात्मा गांधी सिर्फ एक नाम नहीं अपितु शांति और अहिंसा का प्रतीक हैं। ऐसे महान व्यक्तित्व के धनी महात्मा गांधी की 30 जनवरी, 1948 को नई दिल्ली के बिड़ला भवन में नाथूराम गोडसे द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गांधी जी एक निष्काम कर्मयोगी थे। 

उन्होंने सदैव लोगों को सद्मार्ग पर चलने हेतु प्रेरित किया। उनका मत था बुरा मत सुनो, बुरा मत कहो तथा बुरा मत देखो। गांधी जी समाज में फैली छुआछूत के कट्टर विरोधी थे। गांधी जी सच्चे अर्थों में युगपुरुष थे। सत्य और अहिंसा का जो पाठ उन्होंने सिखाया वह पूरे विश्व के लिए अनुकरणीय है। उनके महान कृत्यों के कारण आज भी पूरा विश्व उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करता है। आजादी के लिए चलाए जा रहे संघर्ष काल मे महात्मा गांधी की जितनी बड़ी आवश्यकता और उपयोगिता थी वह आज भी कम नहीं हुयी है। यह इसलिए कि आज भी राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय स्तर पर बहुत सी ऐसी समस्याएं हैं जिनका समाधान अस्त्र-शस्त्र से नहीं, अपितु बातचीत से ही सम्भव हो सकता है।

संस्थान के तत्वधान में बैठक का आयोजन: बागपत 

संस्थान के तत्वधान में बैठक का आयोजन: बागपत 


सामाजिक सहभागिता हेतु "हमारा आजाद नगर मौहल्ला कमेटी बड़ौत" का किया गठन

गोपीचंद 

बागपत। कल्याण भारती सेवा संस्थान के तत्वधान में एक बैठक का आयोजन संस्थान के कार्यालय आजाद नगर बड़ौत पर किया गया। बैठक में संस्थान के प्रबंध निदेशक गोपी चन्द सैनी ने हमारा आजाद नगर मौहल्ला कमेटी बड़ौत का गठन किया। कमेटी का प्रभारी कल्याण भारती सेवा संस्थान का निदेशक मण्डल निश्चित किया गया और अध्यक्ष पद के लिए बैठक में उपस्थित सभी सदस्यगणों की सर्वसम्मति से श्री सतेन्द्र उज्ज्वल को न्युक्त किया गया, और महासचिव मा. राजीव कुमार, सचिव श्री नरेंद्र कुमार, संगठन मंत्री श्री सुशील कुमार शर्मा, प्रचार मंत्री श्री लोकेंद्र को न्युक्त किया गया, और महामंत्री वह मीडिया प्रभारी का दायित्व कोई योग्य व्यक्ति मिलने तक सर्व सम्मति से गोपी सैनी को दिया गया।  

कमेटी के संरक्षक के रूप में और कमेटी के संरक्षक के रूप में मा. सहंरपाल, श्री राजकुमार रुहेला, श्री रामकिशन कश्यप को संरक्षक के साथ कोषाध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया।हमारा आजाद नगर मौहल्ला कमेटी बड़ौत मौहल्ले की सभी सामाजिक वह धार्मिक अन्य व्यवस्थाओं में अपनी भागेदारी सुनिश्चित करेगी।

पाकिस्तान के ट्विटर हैंडल पर भारत में रोक

पाकिस्तान के ट्विटर हैंडल पर भारत में रोक

अकांशु उपाध्याय/अखिलेश पांडेय 

नई दिल्ली/इस्लामाबाद। ट्विटर ने पाकिस्तान सरकार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भारत में रोक लगा दी है। ट्विटर के मुताबिक, उसने सरकार की कानूनी मांग के बाद यह कार्रवाई की है। इससे पहले जुलाई, 2022 में ट्विटर ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन), तुर्किये, ईरान व मिस्त्र स्थित पाकिस्तान के दूतावासों के आधाकारिक अकाउंट्स पर भारत में प्रतिबंध लगाया था। भारत में पाकिस्तान सरकार के ट्विटर अकाउंट को 25 दिन के भीतर दूसरी बार बंद कर दिया गया है। इससे पहले सात सितंबर को भी पाकिस्तान सरकार के ट्विटर अकाउंट पर रोक लगा दी गई थी।

बता दें कि पाकिस्तान सरकार का ट्विटर हैंडल @GovtofPakistan नाम से है। फिलहाल इसपर भारत में रोक लगा दी गई है। मतलब इसपर लिखी जा रही चीजें फिलहाल भारत में नहीं देखी जा सकतीं। भारत, अमेरिका समेत कई देशों में ऐसे कानून हैं जो ट्वीट्स या ट्विटर अकाउंट की सामग्री पर लागू हो सकते हैं। अगर ट्विटर को किसी देश या संस्थान से कानूनी अनुरोध प्राप्त होता है, तो समय-समय पर किसी विशेष देश में कुछ सामग्री तक पहुंच को रोक दिया जाता है।

दिव्यांगों को बसों में निशुल्क यात्रा सुविधा मुहैया, कार्ड 

दिव्यांगों को बसों में निशुल्क यात्रा सुविधा मुहैया, कार्ड 

संदीप मिश्र 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसों में दिव्यांगों के लिए निशुल्क यात्रा के फर्जी पास बनवाने वालों पर नकेल कसने के लिए विभाग अब दिव्यांगों को स्मार्ट यात्रा कार्ड देगा। सूत्रों ने शनिवार को बताया कि दिव्यांगों को परिवहन निगम की बसों में निशुल्क यात्रा सुविधा मुहैया कराने के लिए स्मार्ट कार्ड दिया जाएगा। इसका मकसद रोडवेज बसों में फर्जी प्रमाण-पत्र के सहारे मुफ्त में सफर करने वालों पर नकेल कसना है।

एक अधिकारी ने बताया कि इस पहल के तहत परिवहन निगम पहले चरण में प्रदेश के 11 लाख दिव्यांग यात्रियों को निशुल्क स्मार्ट कार्ड देगा। परिवहन निगम ने दिव्यांग निदेशालय से पूरे प्रदेश में पंजीकृत दिव्यांग जनों का ब्योरा मांगा है। दिव्यांग निदेशालय में पंजीकृत दिव्यांगजनों को ही स्मार्ट बस यात्रा कार्ड मिलेगा।

'आईबीसी' की चमक फीकी नहीं पड़नी चाहिए 

'आईबीसी' की चमक फीकी नहीं पड़नी चाहिए 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा, कि कर्ज के बोझ तले दबी कंपनियों के लिए लाए गए ऋणशोधन अक्षमता एवं दिवाला संहिता (आईबीसी) की चमक फीकी नहीं पड़नी चाहिए। कर्ज समाधान प्रक्रिया के नियामक संस्थान भारतीय ऋणशोधन अक्षमता एवं दिवाला बोर्ड (आईबीबीआई) के छठें वार्षिक दिवस के अवसर पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम में सीतारमण ने आईबीसी कानून के बीते छह वर्ष और आगे की राह के बारे में बात की। यह कानून वर्ष 2016 में लागू किया गया था।

सीतारमण ने कहा, हम इस राह में उभरने वाले तनाव के संकेतों को नजरंदाज नहीं कर सकते हैं। आईबीसी कानून के ही तहत आईबीबीआई का गठन किया गया था। इस मौके पर वित्त मंत्री ने मौजूदा आर्थिक हालात का जिक्र करते हुए कहा कि देश आर्थिक गतिविधियों में मजबूती के दौर में हैं। उन्होंने मुद्रास्फीति के उच्च स्तर पर बने रहने के मुद्दे पर कहा कि अब भी यह स्तर संभाले जाने लायक है। इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण के अध्यक्ष सेवानिवृत्त न्यायाधीश रामलिंगम सुधाकर और भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के अध्यक्ष अशोक कुमार गुप्ता भी मौजूद थे। आईबीबीआई के मुताबिक इस वर्ष जून तक 1,934 कॉरपोरेट देनदारों को आईबीसी कानून के तहत राहत मुहैया कराई गई है।

'गांधी' जयंती पर 6 स्वच्छता पुरस्कार प्रदान: राष्ट्रपति

'गांधी' जयंती पर 6 स्वच्छता पुरस्कार प्रदान: राष्ट्रपति 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू रविवार को महात्मा गांधी की जयंती पर आयोजित ‘स्वच्छ भारत दिवस’ समारोह में छ: स्वच्छता पुरस्कार प्रदान करेंगी। आधिकारिक बयान के मुताबिक ये पुरस्कार- स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण (एसएसजी) 2022, स्वच्छता ही सेवा 2022, सुजलम 1.0 और 2.0, जल जीवन मिशन (जेजेएम) कार्यात्मक आकलन, हर घर जल प्रमाणीकरण और स्टार्टअप ग्रैंड चलैंज हैं। फिलहाल केंद्र सरकार के दो अहम कार्यक्रमों -स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण (एसबीएम-जी) और जल जीवन मिशन (जेजेएम),का क्रियान्वयन किया जा रहा है।

एसबीएम-जी की शुरुआत दो अक्टूबर, 2014 को की गई थी जिसका मकसद खुले में शौच पर पाबंदी लगाना था। इसके पांच साल बाद देश के सभी गांव खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिये गये। इसके बाद एसबीएम-जी 2.0 की शुरुआत वर्ष 2020 में गांवों में खुले में शौच से मुक्ति के स्तर को बरकरार रखने और ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता के स्तर को बढ़ाने के लिए की गई।

खड़गे और थरूर के नामांकन-पत्र वैध पाए गए 

खड़गे और थरूर के नामांकन-पत्र वैध पाए गए 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन पत्रों की जांच के आखिरी दिन शनिवार को दो उम्मीदवार मलिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर के नामांकन-पत्र वैध पाए गए हैं और अब चुनाव में ये दोनों उम्मीदवार रह गये है। कांग्रेस चुनाव विभाग के प्रभारी मधुसूदन मिस्त्री ने शनिवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि नामांकन-पत्रों की जांच का काम पूरा हो गया है। जांच के दौरान झारखंड के एन त्रिपाठी का फार्म प्रस्तावकों जे हस्ताक्षर नहीं मिलने तथा अन्य कारणों से निरस्त हुआ है।

उन्होंने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए निर्वाचन विभाग को कुल 20 फॉर्म प्राप्त हुए है जिनमें से हस्ताक्षर के मिलान नहीं होने तथा हस्ताक्षर रिपीट होने जैसे अन्य कुछ कारणों से चार फॉर्म खारिज किये गये है। मिस्त्री ने बताया कि अब दो ही उम्मीदवार खड़गे और थरूर चुनाव मैदान में रह गए हैं। आठ अक्टूबर तक नाम वापस लिए जा सकते हैं और नाम वापस नहीं लेने की स्थिति में 17 अक्टूबर को मतदान कराया जाएगा।

इंदौर को लगातार छठी बार सबसे स्वच्छ शहर चुना 

इंदौर को लगातार छठी बार सबसे स्वच्छ शहर चुना 

अकांशु उपाध्याय/मनोज सिंह ठाकुर 

नई दिल्ली/भोपाल। केंद्र के वार्षिक सर्वेक्षण में इंदौर को लगातार छठी बार सबसे स्वच्छ शहर चुना गया। जबकि, सूरत और नवी मुंबई ने क्रमश: दूसरा तथा तीसरा स्थान हासिल किया। सर्वेक्षण के परिणामों की घोषणा शनिवार को की गई। ‘स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2022’ में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों की श्रेणी में मध्य प्रदेश ने पहला स्थान हासिल किया है, इसके बाद छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र का स्थान है। इंदौर और सूरत ने इस साल बड़े शहरों की श्रेणी में अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा, जबकि विजयवाड़ा ने अपना तीसरा स्थान गंवा दिया और यह स्थान नवी मुंबई को मिला। सर्वेक्षण के परिणामों के अनुसार, 100 से कम शहरी स्थानीय निकायों वाले राज्यों में त्रिपुरा ने शीर्ष स्थान हासिल किया है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शनिवार को यहां एक कार्यक्रम में विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए।

इस मौके पर केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी और अन्य भी मौजूद थे। एक लाख से कम आबादी वाले शहरों की श्रेणी में महाराष्ट्र का पंचगनी पहले स्थान पर रहा। इसके बाद छत्तीसगढ़ का पाटन (एनपी) और महाराष्ट्र का करहड़ रहा। एक लाख से अधिक आबादी की श्रेणी में हरिद्वार गंगा के किनारे बसा सबसे स्वच्छ शहर रहा। इसके बाद वाराणसी और ऋषिकेश रहे।

सर्वेक्षण के परिणामों के अनुसार, एक लाख से कम आबादी वाले गंगा के किनारे बसे शहरों में बिजनौर पहले स्थान पर रहा। इसके बाद क्रमशः कन्नौज और गढ़मुक्तेश्वर का स्थान रहा। सर्वेक्षण में, महाराष्ट्र के देवलाली को देश का सबसे स्वच्छ छावनी बोर्ड चुना गया। स्वच्छ सर्वेक्षण का सातवां संस्करण स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) की प्रगति का अध्ययन करने और विभिन्न स्वच्छता मानकों के आधार पर शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) को रैंक देने के लिए आयोजित किया गया था।

कर्मचारियों के साथ मुआवजा पैकेज पर बातचीत पूरी 

कर्मचारियों के साथ मुआवजा पैकेज पर बातचीत पूरी 

अकांशु उपाध्याय/विमलेश यादव 

नई दिल्ली/चेन्नई। अमेरिकी कार विनिर्माता फोर्ड की भारतीय इकाई ने चेन्नई से सटे अपने कारखाने के कर्मचारियों के साथ मुआवजा पैकेज पर बातचीत पूरी हो जाने की शनिवार को घोषणा की। फोर्ड इंडिया ने एक साल पहले ही अपनी पुनर्गठन प्रक्रिया के तहत भारतीय बाजार से अपना कारोबार समेटने का ऐलान किया था। कंपनी ने एक बयान में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि उसके कायाकल्प अधिकारी बालसुंदरम राधाकृष्णन ने 2,592 कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठन चेन्नई फोर्ड कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों को नया मुआवजा समझौता सौंप दिया है। राधाकृष्णन ने कहा, ‘‘शुक्रवार को फोर्ड प्रबंधन और कर्मचारी संगठन के बीच मुआवजा समाधान समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। यह एक मील का पत्थर है और इसमें सभी पक्षों की जीत हुई है।’’

इस समझौते के तहत कंपनी 14 अक्टूबर को नौकरी से अलग होने वाले कर्मचारियों को पूर्व-निर्धारित राशि के अलावा एक महीने का सकल वेतन भी देगी। इस तरह फोर्ड कारखाने के हरेक कर्मचारी को अब कंपनी से निकलने पर औसतन करीब 62 महीने का वेतन मिलेगा। कंपनी में नौकरी का अंतिम दिन 30 सितंबर माना जाएगा। चेन्नई से 45 किलोमीटर दूर स्थित मरइमलाई कारखाने से आखिरी कार का उत्पादन जुलाई में हुआ था। फोर्ड ने सितंबर 2021 में गुजरात के सानंद और तमिलनाडु के मरइमलाई संयंत्रों में वाहन उत्पादन बंद करने की घोषणा की थी।

पुलिसकर्मियों का वेतन बढ़ाने का आदेश जारी होगा 

पुलिसकर्मियों का वेतन बढ़ाने का आदेश जारी होगा 

कविता गर्ग 

मुंबई/नागपुर। महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को कहा कि नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली में तैनात पुलिसकर्मियों का वेतन बढ़ाने का आदेश दो दिन में जारी कर दिया जाएगा। फडणवीस के पास राज्य का गृह विभाग भी है और वह पूर्वी महाराष्ट्र के इस जिले के प्रभारी मंत्री भी हैं।

दिन में उन्होंने जिला योजना समिति की गडचिरोली शहर में बैठक की। फडणवीस ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि जिले में तैनात पुलिस कर्मियों के वेतन में डेढ़ गुना की वृद्धि करने का फैसला लंबित था। उन्होंने कहा कि अब फैसला ले लिया गया है और सोमवार को इससे संबंधित आदेश जारी किया जाएगा।

मैच: टीम इंडिया ने श्रीलंका को 41 रनों से हराया 

मैच: टीम इंडिया ने श्रीलंका को 41 रनों से हराया 

मोमीन मलिक 

नई दिल्ली। महिला एशिया कप 2022 में भारतीय महिला  टीम ने जीत के साथ आगाज किया है। अपने पहले मैच में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 41 रनों से हरा दिया। सिलहट में खेले गए इस मैच में भारतीय महिला टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए  20 ओवर में 150 रन बनाए थे। इसके जवाब में श्रीलंकाई टीम 18.2 ओवर में सिर्फ 109 रनों पर ऑल आउट हो गई। भारत की ओर से स्मृति मंधाना और शेफाली वर्मा का बल्ला कुछ खास कमाल नहीं कर पाया। मंधाना सात बॉल पर छह रन बनाकर आउट हुईं। वहीं, शेफाली वर्मा के बल्ले से 11 बॉल में 10 रन निकले।  भारतीय टीम के लिए पहले जेमिमा रोड्रिग्स ने 76 रनों की शानदार पारी खेली। जेमिमा रोड्रिग्स ने 53 गेंद की पारी में 11 चौके और एक छक्का लगाया। उन्होंने कप्तान हरमनप्रीत कौर (30 गेंद में 33 रन) के साथ 92 रन की साझेदारी निभाई।

गेंदबाजी में दयालन हेमलता, दीप्ति शर्मा और पूजा वस्त्राकर ने कमाल कर दिया। हेमलता ने तीन विकेट चटकाए। वहीं दीप्ति और पूजा को दो-दो सफलता मिलीं। राधा यादव को भी एक सफलता मिली।  श्रीलंका की ओर से सबसे ज्यादा तीन विकेट ओशादी राणासिंघे ने झटके। वहीं, सुगंधिका कुमारी और चमारी अटापट्टू के खाते में 1-1 विकेट आएं।

दोनों टीमें इस प्रकार…

भारत: शेफाली वर्मा, स्मृति मंधाना, जेमिमा रोड्रिगेज, हरमनप्रीत कौर (कप्तान), दयालन हेमलता, दीप्ति शर्मा, स्नेह राणा, ऋचा घोष (विकेटकीपर), पूजा वस्त्राकर, राधा यादव, रेणुका सिंह।

श्रीलंका: हसीनी परेरा, चमारी अट्टापट्टू (कप्तान), हर्षिता मडवी, अनुष्का संजीवनी (विकेटकीपर), निलाक्षी डी सिल्वा, कविशा दिलहारी, मालशा शेहानी, ओशादी रणसिंघे, सुगंधिका कुमारी, इनोका रणवीरा, अचिनी कुलसुरिया।

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव का मजाक उड़ाया

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव का मजाक उड़ाया 

कविता गर्ग 

मुंबई/ठाणे केंद्रीय मंत्री और महाराष्ट्र के भिवंडी से लोकसभा सदस्य कपिल पाटिल ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव का मजाक उड़ाते हुए शनिवार को कहा कि उस पार्टी में किसी का नियंत्रण नहीं है। कल्याण में उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ऐसे समय में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का नेतृत्व कर रहे हैं, जब उनकी पार्टी ‘टुकड़ों में टूट रही है’। केंद्रीय पंचायती राज राज्य मंत्री ने दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में अध्यक्ष का चुनाव बिना किसी विवाद के अनुशासित तरीके से होता है।

उन्होंने दावा किया, ‘कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में हर उम्मीदवार दूसरों को पछाड़ने की कोशिश कर रहा है। हर दिन, हमें उम्मीदवारों के रूप में नये नाम सुनने को मिलते हैं। कांग्रेस में किसी का नियंत्रण नहीं है।’ गौरतलब है कि झारखंड के पूर्व मंत्री के एन त्रिपाठी का कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन पत्र शनिवार को खारिज कर दिया गया, जिससे अब मुकाबला पार्टी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर के बीच होने की उम्मीद है।

नवरात्रि का सातवां दिन मां 'कालरात्रि' को समर्पित 

नवरात्रि का सातवां दिन मां 'कालरात्रि' को समर्पित 

सरस्वती उपाध्याय 

शारदीय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है। 02 अक्टूबर को शारदीय नवरात्रि की सप्तमी तिथि है। नवरात्रि में सातवें दिन महासप्तमी पड़ती है। इस दिन मां दुर्गा की सातवीं स्वरूप मां कालरात्रि की पूजा-अर्चना की जाती है। सदैव शुभ फल देने के कारण इनको शुभंकरी भी कहा जाता है। मां कालरात्रि दुष्टों का विनाश करने के लिए जानी जाती हैं, इसलिए इनका नाम कालरात्रि है। मां दुर्गा की सातवीं स्वरूप मां कालरात्रि तीन नेत्रों वाली देवी हैं। कहा जाता है, जो भी भक्त नवरात्रि के सांतवें दिन विधि-विधान से मां कालरात्रि की पूजा करता है, उसके सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। मां कालरात्रि की पूजा से भय और रोगों का नाश होता है। साथ ही भूत प्रेत, अकाल मृत्यु ,रोग, शोक आदि सभी प्रकार की परेशानियों से छुटकारा मिलता है। ऐसे में आइए जानते हैं मां कालरात्रि की पूजा पूजा की तिथि, शुभ मुहूर्त और मंत्र... 

मां कालरात्रि का स्वरूप...

कह जाता है कि मां दुर्गा को कालरात्रि का रूप शुम्भ, निशुम्भ और रक्तबीज को मारने के लिए लेना पड़ा था। देवी कालरात्रि का शरीर अंधकार की तरह काला है। इनके श्वास से आग निकलती है। मां के बाल बड़े और बिखरे हुए हैं। गले में पड़ी माला बिजली की तरह चमकती रहती है। मां के तीन नेत्र ब्रह्मांड की तरह विशाल व गोल हैं। मां के चार हाथ हैं, जिनमें एक हाथ में खडग अर्थात तलवार, दूसरे में लौह अस्त्र, तीसरे हाथ अभय मुद्रा में है और चौथा वरमुद्रा में है।

पूजा-विधि...

सप्तमी तिथि के दिन ब्रह्म मुहूर्त में प्रातः स्नान करने के बाद पूजा आरंभ करनी चाहिए। स्नान के बाद माता के सामने घी का दीपक जलाएं। उन्हें लाल रंग के फूल अर्पित करें। मां कालरात्रि की पूजा में मिष्ठान, पंच मेवा, पांच प्रकार के फल, अक्षत, धूप, गंध, पुष्प और गुड़ नैवेद्य आदि का अर्पण किया जाता है। 


मंत्र...

ऊं ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै ऊं कालरात्रि दैव्ये नम: .

ॐ कालरात्र्यै नम:

ॐ फट् शत्रून साघय घातय ॐ

ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं दुर्गति नाशिन्यै महामायायै स्वाहा।


ध्यान मंत्र...

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता, लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।

वामपादोल्ल सल्लोहलता कण्टक भूषणा, वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

प्रत्येक नागरिक का ‘स्वास्थ्य प्रोफाइल' तैयार होगा

प्रत्येक नागरिक का ‘स्वास्थ्य प्रोफाइल' तैयार होगा

इकबाल अंसारी 

वारंगल/हैदराबाद तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने शनिवार को कहा कि राज्य के प्रत्येक नागरिक का ‘स्वास्थ्य प्रोफाइल’ जल्द ही तैयार किया जाएगा और सिरसिला और मुलुगू विधानसभा क्षेत्रों में प्रायोगिक आधार पर शुरू की गई पहल पहले ही समाप्त हो चुकी है। जहां प्रतिमा कैंसर अस्पताल और एक मेडिकल कॉलेज के उद्घाटन के बाद उन्होंने कहा कि उनकी सरकार द्वारा परिकल्पित सभी मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के बाद तेलंगाना में दस हजार से अधिक सीट होंगी। उन्होंने कहा कि राज्य के 33 जिलों में से प्रत्येक में कम से कम एक कॉलेज बनाने का लक्ष्य है।

तेलंगाना सीएम राव ने कहा कि हमने तेलंगाना का ‘स्वास्थ्य प्रोफाइल’ बनाने का एक बड़ा प्रयास किया है। प्रायोगिक आधार पर हमने सिरसिला निर्वाचन क्षेत्र और मुलुगू निर्वाचन क्षेत्र में यह अभियान चलाया था और 100 प्रतिशत ‘स्वास्थ्य प्रोफाइल’ तैयार की है।’’ उन्होंने कहा कि एक बार राज्य स्तर पर परियोजना पूरी हो जाने के बाद, किसी भी नागरिक की स्वास्थ्य प्रोफाइल तक पहुंच बस एक ‘क्लिक’ करने से हो जायेगी।

उन्होंने कहा कि राज्य में एमबीबीएस सीटों की संख्या 2014 में 2,800 थी जो बढ़कर 6,800 हो गई है। राव ने कहा कि 2014 में राज्य के गठन के समय राज्य में केवल पांच सरकारी मेडिकल कॉलेज थे और यह संख्या अब 17 हो गई है। उन्होंने कहा कि हालांकि केंद्र ने राज्य को कोई मेडिकल कॉलेज आवंटित नहीं किया है, लेकिन हम सभी 33 जिलों में मेडिकल कॉलेज स्थापित करने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं।

राजनीति: सीएम गहलोत ने 'पीएम' पर कटाक्ष किया

राजनीति: सीएम गहलोत ने 'पीएम' पर कटाक्ष किया 

नरेश राघानी 
जयपुर। राजस्थान के आबू रोड में जनता को घुटनों के बल झुककर प्रणाम करने के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने शनि‍वार को कहा कि मोदी उनसे अधिक विनम्र दिखना चाहते हैं। गहलोत ने कहा कि इस तरह प्रणाम करने के बजाय प्रधानमंत्री मोदी को देशवासियों को भाईचारे एवं मोहब्‍बत का संदेश देना चाहिए। इसके साथ ही गहलोत ने कहा कि कांग्रेस आज भी देश में मजबूत विपक्ष देने की स्थिति में है।

प्रधानमंत्री शुक्रवार देर रात आबू रोड आए और उन्‍होंने वहां मौजूद जनता को माइक के बिना ही संबोधित किया और घुटनों के बल झुक कर तीन बार प्रणाम किया। इस बारे में पूछे जाने पर गहलोत ने बीकानेर में संवाददाताओं से कहा, ‘उनको मालूम है कि अशोक गहलोत की छवि राजस्‍थान में बेहद विनम्र व्‍यक्ति की है… सरल, सरलता की है, जो बचपन से मेरी छवि रही है। तो मोदी जी इसका मुकाबला कैसे करेंगे…वे मुझसे अधिक हंबल (विनम्र) दिखना चाहते हैं।’

गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी विनम्र रहें लेकिन देशवासियों को भाईचारे का, प्‍यार मोहब्‍बत का संदेश दें और यह कहें कि मैं देश में किसी भी कीमत पर हिंसा बर्दाश्‍त नहीं करूंगा। गहलोत ने कहा, ‘यह संदेश तो वह दे नहीं रहे, मेरी सलाह तो मान नहीं रहे। और तीन बार दंडवत करके क्‍या बताना चाहते हो । हमें पता है कि आप देश के प्रधानमंत्री हैं आपका मान सम्‍मान है। अगर कल वे यह अपील करते तो मैं उनको टेलीफोन कर बधाई देता कि प्रधानमंत्रीजी आपने बहुत अच्‍छा किया। परंतु उन्‍होंने केवल दंडवत किया। दंडवत क्यों किया। सिर्फ यह बताने के लिए कि अशोक गहलोत हंबल है तो मैं भी हूं ।’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से भाजपा व उसके साथी हिल गए हैं और उनके पास इसकी आलोचना करने का कोई मुद्दा नहीं बचा है।’ यात्रा के कर्नाटक पहुंचने का जिक्र करते हुए गहलोत ने कहा, ‘भारत जोड़ो यात्रा में अगर दो सवा दो लाख लोग इकट्ठा हो रहे हैं तो उसे हम क्‍या कहेंगे पूरी भाजपा और इसके साथी लोग हिल गए हैं बेचैन हो रहे हैं इन्‍होंने यात्रा की शुरुआत में चार पांच दिन पहले तो राहुल गांधी पर हमला किया अब इनके पास कोई मुद्दा है ही नहीं, क्‍या तो हमला करें और क्‍या वह सोशल मीडिया पर डालें। उनकी हालत ऐसी हो रही है।’ गहलोत ने कहा कि भाजपा के लोगों ने सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए राहुल गांधी की छवि को नुकसान पहुंचाया था और अब सच्‍चाई सामने आ गई है। इसलिए राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से देश की तमाम वे शक्तियां बहुत खुश हैं जो चाहती थीं कि देश में तानाशाही का शासन नहीं हो, एक पार्टी का शासन नहीं हो और प्रतिपक्ष मजबूत हो।

कांग्रेस अध्‍यक्ष के चुनाव का जिक्र करते हुए गहलोत ने कहा कि इधर हमारे चुनाव चल रहे हैं कांग्रेस पार्टी है। ये चुनाव भी अपने आप में संदेश हैं देश को। (भाजपा में) कब राजनाथ सिंह, कब अमित शाह व कब (जेपी) नड्डा अध्‍यक्ष बन गए किसी को नहीं मालूम लेकिन अब कांग्रेस में बाकायदा लोकतांत्रिक तरीके से चुनाव हो रहे हैं। इन चुनाव ने भी पूरे देशवासियों को एक संदेश दिया है। गहलोत ने कहा कि कांग्रेस आज भी एक मजबूत विपक्ष के रूप में खड़ी होने की स्थिति में है। यह माहौल बना है जो आगे बढ़ता जाएगा। गहलोत ने शनिवार को बीकानेर, हनुमानगढ, श्रीगंगानगर में जिला स्तरीय राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेल स्पर्धाओं का अवलोकन किया और लोगों संबोधित किया।

शख्स को देखने के बाद झाड़ियों में छिपा शेर, वायरल

शख्स को देखने के बाद झाड़ियों में छिपा शेर, वायरल 

शेर के बार में लोगों की ये धारणा है कि ये देखते ही बस उन पर हमला कर देते हैं। लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो कई बार इस धारणा को गलत साबित करते हैं। उन वीडियो में जानवरों को इंसानों की मौजूदगी में उन्हें अनदेखा करते हुए भी देखा जा सकता है और इसी तरह प्रकृति काम करती है। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें शेर एक शख्स को देखने के बाद झाड़ियों में छिप जाता है।

बता दें IFS अधिकारी सुशांत नंदा  द्वारा ट्विटर पर शेयर की गई क्लिप में एक पहाड़ी शेर को दिन के उजाले में एक घर के पास छिपा हुआ दिखाया गया है। एक डोरबेल कैमरे में कैद हुए फुटेज में दिखाया गया है कि जानवर रास्ते में टहलते हुए एक शख्स को देखने के बाद जल्दी से झाड़ियों के पीछे छिप जाता है। वह धैर्यपूर्वक इंतजार करता है जब तक कि शख्स वहां से चला नहीं जाता। उन्होंने कैप्शन में लिखा है, जंगली जानवर अधिकांश स्थितियों में मनुष्यों के साथ संघर्ष से बचेंगे। धमकी देने पर ही वे प्रतिक्रिया करते हैं।

एक पहाड़ी शेर का दिलचस्प वीडियो जो संघर्ष से बचने के लिए पूरी तरह से छिपने के बाद धावक को देख रहा है। बता दें वीडियो को 50 हजार से ज्यादा बार देखा जा चुका है और वीडियो पर ढेरों कमेंट्स भी आ रहे हैं। शेर का सब्र देख लोग हैरान रह गए हैं। कई लोगों ने लिखा कि कैसे क्लिप में मानव-पशु सामंजस्य दिखाई दे रहा था।

मोबाइल कांग्रेस में 5जी सेवाओं का उद्घाटन किया

मोबाइल कांग्रेस में 5जी सेवाओं का उद्घाटन किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को प्रगति मैदान में हो रहे भारत में एशिया के सबसे बड़े टेक्नोलॉजी प्रदर्शनी इंडिया मोबाइल कांग्रेस में 5जी सेवाओं का उद्घाटन किया। इस मौके पर केंद्रीय संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव भी मौजूद रहे। इंडिया मोबाइल कांग्रेस अक्टूबर1-4 तक चलेगा। लॉन्च के बाद लोगों का 5G सेवाओं का इंतजार खत्म हो गया। दो बड़ी मोबाइल कंपनियों ने देश में 5G सर्विसेस की शुरुआत की है। एयरटेल ने वाराणसी और जियो ने अहमदाबाद के एक गांव से 5G की शुरुआत की। इस दौरान उत्तर प्रदेश और गुजरात के मुख्यमंत्री मौजूद रहे। गौरतलब है, अगस्त में भारत की पहली 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के लिए कुल ₹1.50 लाख करोड़ की बोलियां मिली थीं। इवेंट में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, उनके बेटे आकाश अंबानी, भारती-एयरटेल के MD सुनील मित्तल और VI मोबाइल सर्विसेस के प्रमुख कुमार मंगलम बिरला भी शामिल थे।

BSNL के 5G पर क्या बोले मंत्री अश्विनी वैष्णव ?

केंद्रीय संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि 5G सेवाओं से कई क्षेत्रों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, लॉजिस्टिक्स, बैंकिंग में मूलभूत परिवर्तन आएगा और नई संभावना पैदा होंगी। डिजिटल क्षमताएं को बीच में रखकर उसके चारों तरफ नई सेवाएं बनेंगी। देश के कोने-कोने में अगले कुछ महीनों में 5G सेवा उपलब्ध होनी शुरू होगी। अगले 6 महीने में कम से कम 200 से अधिक शहरों में इसके साथ-साथ कई कस्बों और गांवों में भी 5G सेवा शुरू होगी। कोशिश रहेगी कि अगले 2 वर्षों में देश के 80-90% इलाकों में 5G सेवा उपलब्ध हो। BSNL भी अगले वर्ष 15 अगस्त के आसपास भारत में निर्मित 5G सेवा शुरू करेगा। 5G से स्वास्थ्य, कृषि, शिक्षा क्षेत्र को सबसे ज्यादा फायदा होगा।

अब बात रिलायंस जियो के बारे में...

अरबपति कारोबारी मुकेश अंबानी ने शनिवार को घोषणा की कि उनकी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो अगले साल दिसंबर तक पूरे देश में 5जी सेवाओं की शुरुआत कर देगी। जियो इस महीने के अंत तक 5जी सेवाएं शुरू करने की तैयारी करने की कवायद में जुटी है। इंडिया मोबाइल कांग्रेस-2022 के कार्यक्रम में अंबानी ने कहा कि जियो 5जी की वहनीय सेवाएं शुरू करेगी और दिसंबर 2023 तक देश के हर कोने में ये सेवाएं उपलब्ध करा दी जाएंगी।

5G है क्या ?

आसान शब्दों में समझें तो 5G सबसे आधुनिक स्तर का नेटवर्क है, जिसके अंतर्गत इंटरनेट स्पीड सबसे तेज होगी। इसकी विश्वसनीयता ज्यादा होगी और इसमें पहले से ज्यादा नेटवर्क को संभालने की क्षमता होगी। इसके अलावा इसकी मौजूदगी का क्षेत्र ज्यादा होगा और एक्सपीरियंस भी यूजर फ्रेंडली होगा। 5G की सबसे खास बात यह है कि यह निचली फ्रीक्वेंसी के बैंड से लेकर हाई बैंड तक की वेव्स में काम करेगा। यानी इसका नेटवर्क ज्यादा व्यापक और हाई-स्पीड होगा।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-357, (वर्ष-05)

2. रविवार, अक्टूबर 2, 2022

3. शक-1944, आश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि-सप्तमी, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 06:20, सूर्यास्त: 06:25। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम-35+ डी.सै., उत्तर भारत में भारी बरसात की संभावना है।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

 (सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...