सोमवार, 29 नवंबर 2021

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की
राजकुमार             
कौशाम्बी। जिलाधिकारी सुजीत कुमार द्वारा सम्राट उदयन सभागार में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ मतदेय स्थलों के सम्भाजन उपरान्त संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की।  
बैठक में बताया गया कि मंझनपुर विधानसभा क्षेत्र के एक मतदेय स्थल तथा चायल विधानसभा क्षेत्र के एक मतदान केन्द्र के तीन मतदेय स्थलों के भवन में संशोधन के लिए प्रस्ताव उपलब्ध कराए गए हैं। विचार-विमर्श उपरान्त मंझनपुर विधानसभा क्षेत्र के 289-उच्च प्राथमिक विद्यालय मझियारी चक ऐलई रोशन के स्थान पर 289-पंचायत भवन मझियारी चक ऐेलई रोशन किया गया है। 
इसी प्रकार चायल विधानसभा क्षेत्र के 27-प्राथमिक विद्यालय मारूफपुर पूर्वी भाग के स्थान पर 27-पंचायत भवन मारूखपुर कक्ष संख्या-01 एवं 28-प्राथमिक विद्यालय मारूफपुर पश्चिम भाग के स्थान पर 28-पंचायत भवन मारूफपुर कक्ष संख्या-02 तथा 100 पंचायत भवन सैयद सरांवा के स्थान पर 100 प्राथमिक विद्यालय सैयद सरांवा किया गया है।

व्यापक फर्टिलिटी क्लिनिक का उद्घाटन: यूपी
अश्वनी उपाध्याय          गाजियाबाद। सीड्स ऑफ इनोसेंस, उत्तर भारत की आईवीएफ और सरोगेसी सेंटरों की अग्रणी श्रृंखला ने अत्याधुनिक उपचार और क्लीनिकल सुविधाओं के साथ अपनी तरह के पहले व्यापक फर्टिलिटी क्लिनिक का उद्घाटन किया। इस क्लीनिक में न केवल आईवीएफ बल्कि मेडिकल जेनेटिक्स और फेटल मेडिसिन की शाखा भी शामिल है। यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, नेहरू नगर में आरंभ किया गया यह क्लीनिक, दिल्ली-एनसीआर और उत्तर प्रदेश में अपनी तरह का पहला आईवीएफ केंद्र होगा जिसमें एक एकीकृत आनुवंशिक परीक्षण और भ्रूण चिकित्सा विभाग होगा।

आपको बता दें कि यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, नेहरू नगर, गाजियाबाद में संचालित यह फर्टिलिटी केंद्र, प्रमुख चिकित्सा सुविधा, विश्व स्तरीय इनफ्रास्ट्रक्चर और अनुभवी भ्रूण चिकित्सा विशेषज्ञों सहित चिकित्सकों की एक बेहतर  टीम के साथ संचालित है। यह केंद्र यशोदा अस्पताल उस टीम की दूरदर्शी सोच का परिणाम है।जिसमें डॉ गौरी अग्रवाल के नेतृत्व में कई प्रसिद्ध आईवीएफ विशेषज्ञ शामिल है। जो सीड्स ऑफ इनोसेंस की  सह-संस्थापक भी हैं। सीड्स ऑफ इनोसेंस 8 भारतीय राज्यों में 14 आईवीएफ और सरोगेसी केंद्रों का मालिक है और संचालित करता है। 

2017 में एक इन-हाउस आनुवंशिक परीक्षण प्रयोगशाला रखने वाला देश का पहला आईवीएफ केंद्र भी था, जो एक प्रमुख आईवीएफ विशेषज्ञ और निदेशक और सह-संस्थापक था। सीड्स ऑफ इनोसेंस, गाजियाबाद के नवनिर्मित केंद्र के साथ-साथ भ्रूण चिकित्सा और चिकित्सा आनुवंशिकी में उत्कृष्टता केंद्र का उद्घाटन मुख्य अतिथि श्री ब्रजेश पाठक, माननीय कानून और न्याय मंत्री,  और ग्रामीण इंजीनियरिंग सेवा, उत्तर प्रदेश और अतिथियों  द्वारा किया गया। माननीय श्री अतुल गर्ग, राज्य मंत्री, चिकित्सा और स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, मातृ एवं बाल कल्याण विभाग, उत्तर प्रदेश ने डॉ. दिनेश अरोड़ा, अध्यक्ष, यशोदा ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स दिल्ली एनसीआर, की उपस्थिति में केंद्र का उद्घाटन किया। डॉ. शशि अरोड़ा, ग्रुप डायरेक्टर, यशोदा ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल्स दिल्ली एनसीआर, डॉ. रजत अरोड़ा, ग्रुप डायरेक्टर, यशोदा ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल्स दिल्ली एनसीआर, और डॉ. गौरी अग्रवाल, डायरेक्टर और को-फ़ाउंडर, सीड्स ऑफ़ इनोसेंस एंड जेनेस्ट्रीज़ डायग्नोस्टिक सेंटर ने समारोह में आए अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

सीड्स ऑफ इनोसेंस, गाजियाबाद को चिकित्सा बुनियादी ढांचे और सुविधाओं के अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करते हुए विकसित किया गया है, और सहायक प्रजनन तकनीकों, बांझपन के उपचार, उच्च जोखिम वाले गर्भधारण के प्रबंधन और आनुवंशिक निदान में विशेषज्ञता है। आईवीएफ केंद्र उत्तर प्रदेश में पहली और एकमात्र चिकित्सा सुविधा होगी जो भ्रूण चिकित्सा के एक समर्पित विभाग के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय हॉल मार्क चिकित्सा प्रौद्योगिकी जैसे प्रीमियम ई 10 अल्ट्रासाउंड उपकरण से लैस होगी जो प्रस्तुत करते समय बेहतर छवि स्पष्टता और रंग के साथ जटिल मामलों को हल करने में मदद करती है। 

अद्वितीय भ्रूण हृदय उपकरण और विशेष जांच।  केंद्र भ्रूण के लिए उच्च अंत आनुवंशिक निदान परीक्षण प्रदान करता है जैसे कि प्रीइम्प्लांटेशन जेनेटिक स्क्रीनिंग (पीजीएस) और प्रीइम्प्लांटेशन जेनेटिक डायग्नोसिस (पीजीडी) आनुवंशिक विसंगतियों को खत्म करने के लिए या डाउन सिंड्रोम और भ्रूण में अन्य क्रोमोसोमल विकारों जैसे वंशानुगत आनुवंशिक रोगों को खत्म करने के लिए। सीड्स ऑफ इनोसेंस, बांझपन के क्षेत्र में प्रतिष्ठित और विशेषज्ञ सेवाएं प्रदान करता है, आईयूआई जैसी कृत्रिम गर्भाधान प्रक्रियाओं से लेकर नवीनतम आईवीएफ तकनीक तक, केंद्र सस्ती कीमतों पर सर्वोत्तम सुविधाएं प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करेगा।

सीड्स ऑफ इनोसेंस की निदेशक और सह-संस्थापक डॉ. गौरी अग्रवाल ने इस संस्थान के बारे में बताते हुए कहा, “पिछले 5 वर्षों में यह एक शानदार यात्रा तय की  है।  हालाँकि, चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में चिकित्सा की दुनिया में कई प्रगति हो रही है जिससे हमारे देश को बहुत लाभ हो सकता है।  लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए आज हम आईवीएफ को संदेह की दृष्टि से नहीं देख सकते हैं और एक व्यापक बहु-विषयक दृष्टिकोण पर ध्यान देना चाहिए। 

इस प्रकार, हम आनुवंशिक परीक्षण के अलावा दुनिया का सबसे स्थापित उन्नत भ्रूण कल्याण कार्यक्रम लेकर आए हैं। उन्होंने बताया कि यह सुविधा भ्रूण डॉपलर स्कैन और गैर-तनाव परीक्षण, भ्रूण इकोकार्डियोग्राफी जैसी विशिष्ट अल्ट्रासाउंड सेवाएं प्रदान करेगी, और अन्य जो आनुवंशिक असामान्यताओं और भ्रूण में विक्षिप्त रक्त प्रवाह और भ्रूण के प्रतिबंधित विकास जैसी सामान्य समस्याओं के जोखिम को समाप्त करने में मदद करती हैं। सीड्स ऑफ इनोसेंस प्रजनन संबंधी चिंताओं, आईवीएफ और सरोगेसी के लिए एक प्रमुख चिकित्सा सुविधा है और उच्च जोखिम वाले गर्भधारण के विशेषज्ञ से निपटने के लिए जाना जाता है। नया केंद्र गर्भधारण से पहले की योजना, गर्भावस्था प्रबंधन (प्राथमिक या परामर्शी) और प्रसव सहित कई तरह की सेवाएं भी प्रदान करेगा ताकि चिकित्सा शर्तों वाले जोड़ों को पितृत्व की खुशी का अनुभव करने की अनुमति मिल सके। 

सामूहिक विवाह समारोह आयोजित, राहत

संदीप मिश्र           कुशीनगर। उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा संचालित कन्या विवाह सहायता योजना के अंतर्गत सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन जनपद कुशीनगर के बुद्धा पार्क रवींद्र नगर धूस पडरौना में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा वर वधू को आशीर्वाद देते हुये लोगो को संबोधित करते हुये कन्यादान को महादान बताते कहा कि सामूहिक विवाह योजना एक सामाजिक क्रांति, आंदोलन व अभियान है। ऐसे आयोजनों से बाल विवाह और दहेज जैसी कुप्रथाओं पर अंकुश लगता है। 

यही नहीं इससे ष्गांव की बेटी सबकी बेटीष् का भाव भी जुड़ता है। यहां अपना-पराया का भाव समाप्त दिख रहा है। सबका साथ, सबका विकास,सबका विश्वास और सबका प्रयास का भाव नजर आ रहा है। उन्होनें कहा कि बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने जो संविधान दिया। उसमें सभी के लिए समान अधिकार की बात है। केंद्र और प्रदेश सरकार उसी समान अधिकार के तहत योजनाओं का लाभ बिना भेदभाव समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचा रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रमिक ही राष्ट्र का निर्माता है। उसके पुरुषार्थ में राष्ट्र की नींव है। नींव जितनी मजबूत होगी, देश उतना ही मजबूत होगा। उन्होंने बताया कि सरकार श्रमिकों दो लाख रुपये सामाजिक सुरक्षा की गारंटी दे रही है। श्रमिकों को पांच लाख रुपये स्वास्थ्य बीमा का कवर दिया जा रहा है। 

साथ ही उनके बच्चों की शिक्षा के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त अटल आवासीय विद्यालयों की स्थापना की जा रही है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं के बारे मे जानकारी देते हुये कहा कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाए गए हैं। हर घर शौचालय बनाए गए, निशुल्क बिजली व रसोई गैस के कनेक्शन दिए गए हैं। आयुष्मान योजना व मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत पांच लाख रुपये तक इलाज की मुफ्त सुविधा मिल रही है। केंद्र व प्रदेश सरकार सभी कल्याणकारी योजनाओं को व्यवस्थित रूप से आगे बढ़ा रही हैं।

 मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में 43 लाख गरीबों के आवास बनाए गए हैं। 2.61 करोड़ के व्यक्तिगत शौचालय बनवाए गए हैं। 1.40 करोड़ गरीबों को निशुल्क बिजली कनेक्शन, 1.56 करोड़ को निशुल्क रसोई गैस कनेक्शन, 90 लाख को निराश्रित महिला,दिव्यांगजन पेंशन योजनाओं का लाभ मिला है। 2.54करोड़ किसान पीएम किसान सम्मान निधि से लाभान्वित हुए हैं।

मुुख्यमंत्री जी ने कहा है कि दुनिया के कई देशों में कोरोना संक्रमण फिर तेजी से बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में देश और प्रदेश ने कोरोना पर सफल नियंत्रण पा लिया है। फिर भी दुनिया मे संक्रमण के नए दौर को लेकर हमें सतर्कता पर जरूर ध्यान रखना होगा। दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी के मंत्र का अनुसरण करने के साथ ही जिन लोगों ने अब तक वैक्सीन नहीं लगवाई है। उन्हें वैक्सीन लगवाने को प्रेरित करें।

मुख्यमंत्री ने इस बात पर प्रसन्नता जताई कि यहां विवाह बंधन में बंधे सभी वर-वधू ने पहले से मास्क लगा रखे हैं। कहा कि कोरोना के चलते कई देशों में जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। लेकिन पीएम मोदी के नेतृत्व में देश और उत्तर प्रदेश में कोरोना के सफल प्रबंधन की मिसाल पूरी दुनिया ने देखी। लॉकडाउन में उत्तर प्रदेश ऐसा पहला राज्य था जिसने गरीबों, श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता दिया। 54 लाख श्रमिकों को इसका लाभ मिला। सरकार ने मुफ्त में खाद्यान्न वितरण भी प्रारम्भ किया जो अनवरत जारी है। इस दौरान मुख्यमंत्री ने उपस्थित जनसमूह से कोविड वैक्सीन लगवाने के बारे में पूछा। सबके हाथ उठाने पर उन्होंने कहा कि आपके आसपास जो लोग भी बचे हों उन्हें वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करें।उन्होने बताया कि देश में 125 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है उत्तर प्रदेश में भी 16 करोड़ लोगों को वैक्सीन लग चुकी है।

इस समारोह में गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर व महराजगंज जनपद के कुल 2503 जोड़े विवाह के पावन बंधन में बंधे। नवयुगलों में 2243, हिन्दू, 138 मुस्लिम व 122 बौद्ध शामिल रहे। मुख्यमंत्री जी ने सभी नव दम्पतियों को आशीर्वाद देते हुए मुख्यमंत्री ने उनके सुखमय जीवन की कामना की। इस अवसर पर उन्होंने मंच से तीन मुस्लिम नव दम्पतियों समेत 11 युगलों को प्रमाण पत्र और पुष्पगुच्छ भेंट किया। प्रमाण पत्र देने के दौरान मुख्यमंत्री जी ने जोड़ों से आत्मीय संवाद भी किया। समारोह में मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने श्रमिकों के लिए चलाई जा रही हैं 18 योजनाओं का जिक्र किया। 

उन्होनें कहा कि बहुत पारदर्शी तरीके से इनका लाभ श्रमिकों को मिल रहा है। श्री मौर्य ने कहा कि श्रमिक काम के लिए आज यहां तो कल वहां होता है, ऐसेमें उनके बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए हर मंडल मुख्यालय पर अटल आवासीय विद्यालयों की स्थापना की जा रही है। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष सावित्री जायसवाल, विधायकगण रजनीकांत मणि (कुशीनगर), पवन केडिया (हाटा), जटाशंकर त्रिपाठी (खड्डा), गंगा सिंह कुशवाहा (फाजिलनगर), राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के उपाध्यक्ष लालबाबू सिंह वाल्मीकि, राज्य गोसेवा आयोग के उपाध्यक्ष जसवंत सिंह श्अतुलश्, बीज विकास निगम के उपाध्यक्ष राजेश्वर सिंह, यूपी स्टेट एग्रो इंडस्ट्रियल कॉर्पोरेशन के उपाध्यक्ष जगदीश मिश्र, देवरिया-कसया सहकारी बैंक के चेयरमैन लल्लन मिश्र, नगर पालिका पडरौना के विनय जायसवाल, हाटा के चेयरमैन मोहन वर्मा, ब्लॉक प्रमुख शशांक दूबे, विंध्यवासिनी श्रीवास्तव, ब्लॉक प्रमुख प्रतिनधि सुधीर राव, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रेमचंद मिश्र आदि उपस्थित रहे।

हल्द्वानी: कोरोना के 6 नए मामलें सामने आए

हल्द्वानी: कोरोना के 6 नए मामलें सामने आए

पंकज कपूर          हल्द्वानी। उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना ने फिर टेंशन बढ़ा दी है। हल्द्वानी में आज कोविड-19 के 6 नए मामले सामने आए हैं। जबकि कोविड से एक मरीज की मौत हो गई है। कोरोना का संक्रमण बढ़ते देख प्रशासन अलर्ट हो गया है और उच्च अधिकारियों ने सैम्पलिंग में तेजी लाने के निर्देश जारी किए हैं। जिसको देखते हुए सिटी मजिस्ट्रेट हल्द्वानी ने एमबीपीजी ग्राउंड में लगी नुमाइश में सैम्पलिंग करवाई, कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए भीड़भाड़ वाली जगहों, शॉपिंग मॉल में भी कोविड सैम्पलिंग करवाई जायेगी। कोरोना के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने आम जनता से सतर्कता बरतने की अपील की है। कोरोना का संक्रमण ज्यादा ना बड़े इसको देखते हुए मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर भी प्रशासन सख्त रुख अपना रहा है।

बता दें कि एमबी इंटर कालेज मैदान के सामने इन दिनों नुमाइश चल रही है। इस नुमाइश को लेकर प्रशासन ने वहां पर लोगों की जांच करवाई तो सात लोग कोरोना पाॅजिटिव पाये गए हैं। जिसमें एक कोरोना पाॅजिटव मरीज की मौत भी हो गई।जिसके बाद प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। इधर सिटी मजिस्ट्रेट ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अधिक से अधिक सैंपलिंग कराने के आदेश जारी कर दिए हैं।

एसएस संधु ने उड्डयन विभाग की समीक्षा की

पंकज कपूर          देहरादून। मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधु ने सोमवार को सचिवालय में पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग की समीक्षा की। मुख्य सचिव ने अधिकारियों को पर्यटकों की सुविधा के लिए एक गाइडेंस ऐप तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐप को यूजर फ्रेंडली होना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्टेट में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए हर संभव कदम उठाए जाएं।

मुख्य सचिव ने कहा कि उद्योगों को आसानी से भूमि उपलब्ध हो इसके लिए लैंड बैंक तैयार किया जाना चाहिए। पर्यटन विभाग को लैंड बैंक तैयार करने के लिए एक सेपरेट सेल बनाए जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इस सेल का कार्य प्रदेश भर में लैंड बैंक चिन्हित करना हो। इससे पर्यटन से जुड़े उद्योगों को स्थापित करने में भी काफी आसानी होगी। मुख्य सचिव ने एडवेंचर टूरिज्म के अंतर्गत बंजी जंपिंग, ट्रैकिंग, पैराग्लाइडिंग आदि पर विशेष फोकस करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन सभी कार्यों को करने के लिए टाइम लाइन सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि बंजी जंपिंग एवं पैराग्लाइडिंग के लिए उपयुक्त स्थानों की तलाश किए जाने के लिए स्टडी कराई जाए, ताकि इनके लिए नई जगहों को चिन्हित किया जा सके।

मुख्य सचिव ने पर्यटकों की सुरक्षा के लिए विशेष ध्यान दिए जाने की बात कही। इसके साथ ही, हेल्पलाइन नंबर का अधिक से अधिक प्रचार किया जाए। एक ऐसा सिस्टम भी तैयार किया जाए कि उत्तराखंड में प्रवेश करते ही “वेलकम टू उत्तराखण्ड“ का संदेश राज्य में प्रवेश करने वाले लोगों को मिले और इसमें साथ साथ टूरिज्म संबंधित जानकारियों वाला ऐप डाउनलोड करने का लिंक भी उपलब्ध कराया जाना चाहिए, जिसमें उत्तराखण्ड में पर्यटन से सम्बन्धित सभी जानकारियां उपलब्ध हों। मुख्य सचिव ने माउंटेनियरिंग के लिए ट्रैकिंग डिवाइस को अनिवार्य किए जाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इससे लापता माउंटेनियर आदि को ढूंढने के आसानी होगी। साथ ही माउंटेनियरिंग और ट्रैकिंग आदि के लिए ली जाने वाले शुल्क को भी कम किया जाए ताकि अधिक से अधिक माउंटेनियरिंग और ट्रैकिंग दलों को प्रोत्साहित किया जा सके। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा।

प्रदेश की कानून व्यवस्था के मुद्दे पर बैठक: सीएम

मनोज सिंह ठाकुर           भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कमिश्नर्स और कलेक्टर्स के साथ प्रदेश की कानून व्यवस्था के मुद्दे पर बैठक की। इस दौरान सीएम शिवराज का जोर साइबर क्राइम की रोकथाम और उसके बढ़ते खतरे पर रहा। सीएम ने अधिकारियों को साइबर सुरक्षा को लेकर कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं। सीएम शिवराज ने कहा कि साइबर सुरक्षा के मुद्दे पर हमें प्रो एक्टिव रहना चाहिए।

बैठक के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि साइबर सुरक्षा और साइबर अपराधों पर रोक महत्वपूर्ण हो गई है। हम साइबर अपराध रोकने में पीछे ना रहें, इसकी पूरी तैयारी की जाए। सीएम ने डीजीपी से साइबर सुरक्षा के मुद्दे पर रोडमैप बनाकर देने और इसे लेकर प्रो एक्टिव रहने के निर्देश दिए।

परमबीर के खिलाफ गैर जमानती वारंट रद्द किया

परमबीर के खिलाफ गैर जमानती वारंट रद्द किया
कविता गर्ग         
मुंबई। मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह सोमवार को महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रहे चांदीवाल आयोग के सामने पेश हुए। पूछताछ के बाद चांदीवाल कमीशन ने परमबीर सिंह के खिलाफ जारी की गई गैर जमानती वारंट को रद्द कर दिया है। 
आयोग ने परमबीर सिंह पर जुर्माना लगाते हुए आदेश दिया है कि वह मुख्यमंत्री राहत कोष में 15,000 रुपये जमा कराएं। तत्कालीन गृह मंत्री और राकांपा नेता अनिल देशमुख के खिलाफ परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच के  इस साल मार्च में एक सदस्यीय आयोग का गठन किया गया था। पैनल ने इससे पहले सिंह पर कई मौकों पर पेश होने में विफल रहने के लिए जुर्माना लगाया था और उनके खिलाफ जमानती वारंट भी जारी किया था। गौरतलब है कि परमबीर सिंह को एंटीलिया बम कांड के बाद मार्च में मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से स्थानांतरित कर दिया गया था। स्थानांतरित होने के बाद परमबीर ने देशमुख पर आरोप लगाते हुए कहा था कि देशमुख पुलिस अधिकारियों से शहर में बार और रेस्तरां से 100 करोड़ रुपये प्रति माह इकट्ठा करने के लिए कहा था।
एक अदालत ने परमबीर को फरार घोषित कर दिया था
वसूली मामले में जब कई दिनों तक परमबीर सिंह नजर नहीं आए तो यहां की एक अदालत ने उन्हें फरार घोषित कर दिया था। अदालत के आदेश के बाद जुहू स्थित उनके फ्लैट के बाहर एक नोटिस चिपका दिया गया है।

छत्तीसगढ़: गांजा बेचते 2 तस्करों को गिरफ्तार किया 
दुष्यंत टीकम       
रायपुर। छत्तीसगढ़ के गोलबाजार थाना इलाके में गांजा बेचते दो तस्करों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मामले में जानकारी देते हुए गोलबाजार थाना प्रभारी सुदर्शन ध्रुव ने बताया कि मुखबिरों से सूचना मिली थी कि मोती बाग यूनियन क्लब के पास व्यक्ति तस्कर हासिम शेख और उसका एक साथी खड़े होकर गांजा बेचने के लिए ग्राहक ढूंढ रहे है। पुलिस ने तत्काल पेट्रोलिंग टीम भेजकर दोनों तस्करों को गिरफ्तार किया। 
पुलिस ने दोनों तस्करों के खिलाफ आईपीसी के नार्कोटिक्स एक्ट की धारा 20 बी के तहत अपराध पंजीबद्ध किया। दोनों तस्करों के पास से पुलिस ने 3 किलो गांजा बरामद किया है।

मुंबई: फिल्म 'अंतिम: द फाइनल ट्रूथ' रिलीज हुईं

मुंबई: फिल्म 'अंतिम: द फाइनल ट्रूथ' रिलीज हुईं
कविता गर्ग      
मुंबई। बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान फिल्म 'अंतिम: द फाइनल ट्रूथ' में पुलिस ऑफिसर का किरदार निभाने को लेकर नर्वस थे। सलमान खान और आयुष शर्मा की फिल्म 'अंतिम: द फाइनल ट्रूथ' रिलीज हो गयी है। महेश मांजरेकर के निर्देशन में बनी इस फिल्म में सलमान और आयुष बिल्कुल अलग अंदाज में नजर आ रहे हैं। सलमान खान ने कहा है कि वह फिल्म 'अंतिम' में एक पुलिस अधिकारी का रोल करते हुए काफी नर्वस थे। 
सलमान का कहना है कि उन्होंने पहले जो पुलिसवालों के किरदार निभाए थे, वे काफी अलग थे और 'अंतिम' का किरदार बिल्कुल अलग था। यह किरदार काफी छोटा लेकिन काफी दमदार है। महेश के मन में भी इस किरदार को लेकर अपनी सोच थी। लेकिन जब मैंने इसे निभाना शुरू किया तो मुझे बहुत डर लगा कि यार मैं कर नहीं पा रहा हूं। जब मैंने आयुष को अपना किरदार निभाते देखा तो मुझे विश्वास आया कि मैं भी अपना किरदार निभा सकता हूं।आयुष का किरदार पावरफुल है लेकिन उसमें गुस्सा बहुत है। मेरा किरदार स्माइल करता है।मुझे इस किरदार को निभाने में बहुत मजा आया। यह फिल्म 'सलमान खान फिल्म्स' द्वारा प्रस्तुत और सलमा खान द्वारा निर्मित है।

फिल्म 'तड़फ' का दूसरा ट्रेलर रिलीज़ किया

कविता गर्ग         मुबंई। बॉलीवुड "तड़प" अब अपनी रिलीज के करीब पहुंच गई है और ऐसे में, फिल्म के प्रशंसक बेहद उत्साहित हैं। फिल्म के पहले ट्रेलर ने फैंस के बीच काफी चर्चा बटोरी थी और इसके बाद फ़िल्म से 4 गाने रिलीज किये गए हैं। जिन्हें फैंस का प्यार मिल रहा है। तुमसे भी ज्यादा, तेरे सिवा जग में, तू जो मेरा हो गया है और होए इश्क ना के बाद फिल्म का अब दूसरा ट्रेलर रिलीज़ कर दिया गया है। अहान शेट्टी और तारा सुतारिया अभिनीत 'तड़प' का दूसरा ट्रेलर उस गहन फिल्म पर करीब से नज़र डालता है जिसका हमसे वादा किया गया था। ट्रेलर रॉ और रियल एक्शन मूव्स से भरा हुआ है और इस रॉ, रियल और रहस्यमय ट्रेलर के जरिये फिल्म को करीब से रूबरू करवाया गया है। जिसमें अहान ने खुद एक्शन सीन्स परफॉर्म किये हैं। कुछ मनोरंजक डायलॉग भी हैं जैसे 'सांप को दूध सिर्फ नाग पंचमी के दिन पिलाया जाता है बाकी के दिन घर में घुसने पर कुचल ही देते है' और 'बेटी ने प्यार की तड़प सुनी थी अब बाप प्यार की तड़प झेलेगा। ट्रेलर में हाई ऑक्टेन एक्शन सीन्स और एक प्यारी प्रेम कहानी को भी करीब से दिखाया गया है, जिसने शुरुआत से ही प्रशंसकों को प्रत्याशित कर रखा है। अहान की डेब्यू परफॉर्मेंस मनोरंजक और दमदार लग रही है और उनके चेहरे के भाव बिल्कुल परफ़ेक्ट हैं, फिल्म की रिलीज़ से पहले ही उनकी भूमिका ने उनकी फैन फॉलोइंग में इज़ाफ़ा कर दिया है।

अहान शेट्टी और तारा सुतारिया अभिनीत, फॉक्स स्टार स्टूडियोज द्वारा प्रस्तुत और सह-निर्मित, साजिद नाडियाडवाला द्वारा निर्मित, रजत अरोड़ा द्वारा लिखित व मिलन लुथरिया द्वारा निर्देशित नाडियाडवाला ग्रैंडसन एंटरटेनमेंट प्रोडक्शन 'तड़प' 3 दिसंबर 2021 में सिनेमाघरों में रिलीज होगी।


हर सवाल का जवाब देने को तैयार सरकार: संसद

हर सवाल का जवाब देने को तैयार सरकार: संसद

अकांशु उपाध्याय        नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि संसद के शीतकालीन सत्र में देश हित में चर्चा हो और राष्ट्र की प्रगति के लिए रास्ते खोजे जाएं। उन्होंने कहा कि सरकार हर सवाल का जवाब देने को तैयार है, बशर्ते सदन में चर्चा हो। संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है। सत्र की शुरूआत से पहले संसद भवन परिसर में मीडिया को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘संसद में सवाल भी हों और शांति भी हो। हम चाहते हैं संसद में सरकार के खिलाफ, सरकार की नीतियों के खिलाफ जितनी आवाज प्रखर होनी चाहिए वह हो, लेकिन संसद की गरिमा व अध्यक्ष की गरिमा। इन सब दिशाओं में हम वह आचरण करें, जो आने वाले दिनों में युवा पीढ़ी के काम आए।’’उन्होंने कहा कि सरकार हर विषय पर चर्चा करने के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा, ‘‘सरकार खुली चर्चा करने के लिए तैयार है। सरकार हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार है।’’
प्रधानमंत्री ने कहा कि संसद का यह सत्र और आगे आने वाले सत्र भी आजादी के दीवानों की भावनाओं के प्रति समर्पित हों।
उन्होंने कहा, ‘‘आजादी के अमृत महोत्सव की जो भावना है, उसी भावना के अनुरूप संसद में देश हित में चर्चा हो। देश की प्रगति के लिए रास्ते खोजे जाएं, नए उपाय खोजे जाएं।’’ उन्होंने कहा कि इसके लिए यह सत्र विचारों की समृद्धि वाला हो और प्रभाव पैदा करने वाला, सकारात्मक निर्णय वाला बने।

उन्होंने कहा कि भविष्य में संसद की कार्यवाही का आकलन हो तो उसे, उसमें किसने कितना अच्छा योगदान दिया, उस तराजू पर तौला जाए ना कि इस तराजू पर तौला जाए कि किसने संसद सत्र को कितना बाधित किया।
गौरतलब है कि इस साल संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक निर्धारित किया गया है।

निर्वाचित नये सदस्यों से शपथ ग्रहण का आग्रह

अकांशु उपाध्याय         नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन लोकसभा में दो नये सदस्यों ने निचले सदन की सदस्यता की शपथ ली। जिसमें हिमाचल प्रदेश में मंडी सीट से प्रतिभा सिंह और मध्य प्रदेश में खंडवा सीट से ज्ञानेश्वर पाटिल शामिल हैं।सदन की कार्यवाही शुरू होने पर अध्यक्ष ओम बिरला ने हाल में हुए उपचुनाव में निर्वाचित इन नये सदस्यों से शपथ ग्रहण आग्रह किया। इसके बाद प्रतिभा सिंह और ज्ञानेश्वर पाटिल ने सदस्यता की शपथ ग्रहण की। गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह ने कांग्रेस पार्टी से मंडी लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में जीत दर्ज की थी। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में मंडी सीट से भाजपा के रामस्वरूप शर्मा निर्वाचित हुए थे जिनके कथित तौर पर खुदकुशी करने के बाद इस सीट पर उपचुनाव हुआ।

मध्य प्रदेश की खंडवा लोकसभा सीट से 2019 में निर्वाचित हुए नंदकुमार सिंह चौहान के निधन के कारण इस सीट पर उपचुनाव हुआ। जिसमें भाजपा के ज्ञानेश्वर पाटिल ने जीत दर्ज की।

सोनिया गांधी की अगुवाई में सांसदों की बैठक हुईं

अकांशु उपाध्याय          नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में पार्टी के सांसदों ने सोमवार को किसानों के मुद्दों को लेकर संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया। संसद भवन परिसर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन से पहले, कांग्रेस सांसदों की सोनिया गांधी की अगुवाई में बैठक हुई। जिसमें तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने संबंधी विधेयक और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर रणनीति पर चर्चा की गई।

कांग्रेस सांसदों ने संसद भवन परिसर में प्रदर्शन के दौरान सरकार विरोधी नारे भी लगाए। इस मौके पर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद थे। कांग्रेस सांसदों ने तीनों कानूनों को तत्काल निरस्त करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी देने की मांग की।
उधर, राहुल गांधी ने तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने संबंधी विधेयक को संसद में पेश किए जाने से पहले कहा कि आज संसद में अन्नदाता के नाम का सूरज उगाना है। राहुल ने ट्वीट किया, ‘‘आज संसद में अन्नदाता के नाम का सूरज उगाना है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आज सड़कों पर हमारे अन्नदाताओं द्वारा किए संघर्ष की जीत की गूंज संसद में होगी। आज एक बार फिर किसान आंदोलन में शहीद हुए 700 किसानों की, लखीमपुर के किसानों की शहादत को याद करने का दिन है। आज जब संसद में तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएंगे तब पूरा देश एक साथ ‘जय किसान’ बोलेगा और अन्नदाताओं को नमन करेगा।

गौरतलब है कि संसद का शीतकालीन सत्र आज से शुरू होने जा रहा है और आज ही कृषि कानून निरसन विधेयक-2021 को लोकसभा में विचार किये जाने और पारित करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है।

कांग्रेस नेता मनीष का अधीर पर पलटवार: राजनीति

अकांशु उपाध्याय         नई दिल्ली। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपनी आलोचना किये जाने के कुछ दिनों बाद रविवार को पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी पर पलटवार किया और चीन की कथित घुसपैठ पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पर निशाना साधने वाले अपने ट्वीट के ‘स्क्रीनशॉट’ (तस्वीरें) साझा किये। लोकसभा में कांग्रेस के नेता चौधरी ने 26 नवंबर 2008 के मुंबई हमलों से संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) शासन के निपटने के तौर तरीकों की आलोचना करने को लेकर पिछले हफ्ते तिवारी पर प्रहार करते हुए कहा था कि पूर्व केंद्रीय मंत्री ने यह मुद्दा उस वक्त नहीं उठाया, जब वह (संप्रग) सरकार का हिस्सा थे। पर पलटवार करते हुए तिवारी ने ट्वीट किया कि प्रिय अधीर दादा, उम्मीद करता हूं कि माननीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जी को संबोधित ट्वीट के स्क्रीनशॉट आपकी चिंताओं और आलोचना को भी दूर कर देंगे।

अधीर चौधरी ने कहा था कि 26/11 हमलों (मुंबई हमलों) के बजाय तिवारी को चीन पर और भारत की सीमा पर उसकी हालिया गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। चौधरी पर पलटवार करते हुए तिवारी ने ट्वीट किया कि प्रिय अधीअधीर ने रक्षा मंत्री सिंह को संबोधित अपने ट्वीट के स्क्रीनशॉट के साथ दिन में किये गये ट्वीट में कहा कि चीन की लगातार घुसपैठ और उन्हें राजग/भाजपा सरकार का जवाब मेरी पुस्तक का एक अहम हिस्सा है।

मुंबई आतंकी हमलों के बाद संप्रग सरकार के प्रभावी कार्रवाई नहीं करने की बात कहने के लिए उनकी पुस्तक का सिंह द्वारा हवाला दिये जाने पर मीडिया में आई एक खबर को टैग करते हुए तिवारी ने ट्वीट किया कि माननीय राजनाथ जी, आपकी पार्टी में ट्रोल हैं, इसे मैं समझ सकता हूं लेकिन आपके रक्षा मंत्री होने के नाते मैं आपसे मेरी पुस्तक गंभीरता से पढ़ने का अनुरोध करना चाहूंगा, बशर्ते कि आप गंभीरता से सोचते हों कि सर्जिकल स्ट्राइक या बालाकोट हमले ने पाकिस्तान के बर्ताव में कोई ठोस बदलाव लाया है।

भारत-न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट, 5वें दिन खेल जारी

भारत-न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट, 5वें दिन खेल जारी    

नई दिल्ली/ वेलिंग्टन। भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में पहले टेस्ट के 5वें दिन का खेल जारी है। न्यूजीलैंड को कानपुर टेस्ट जीतने के लिए टीम इंडिया ने 284 रनों का लक्ष्य दिया है। टारगेट का पीछा करते हुए एनजे का स्कोर 7 विकेट के नुकसान पर 142 रन है। रचिन रवींद्र और जेमीसन क्रीज पर हैं।

76वें ओवर की आखिरी गेंद पर टॉम ब्लंडल के खिलाफ एलबीडब्ल्यू की अपील की गई। लेकिन अंपायर ने आउट नहीं दिया। कप्तान रहाणे और अश्विन ने लंबी बातचीत के बाद रिव्यू लिया और रीप्ले में नजर आया कि गेंद लेग स्टंप मिस कर रही थी। ब्लंडल नॉटआउट रहे। मगर अश्विन ने इसके बाद अपने अगले ही ओवर में ब्लंडल (2) को बोल्ड कर टीम इंडिया को 7वीं सफलता दिलाई।

टी-ब्रेक के बाद पहले ही ओवर में अक्षर पटेल ने हेनरी निकोल्स (1) को एलबीडब्ल्यू कर कीवी टीम को 5वां झटका पहुंचाया। हालांकि निकोल्स ने डीआरएस लिया। लेकिन रीप्ले में नजर आया कि गेंद मिडिल-ऑफ स्टंप को हिट कर रही थी और हेनरी आउट हुए। टीम अभी इस झटके से उबर भी नहीं थी कि जडेजा ने केन विलियम्सन (24) को एलबीडब्ल्यू आउट कर एनजे की कमर तोड़कर रख दी।


आयुर्वेद: भूख बढ़ाने के घरेलू नुस्खे, जानिए

कई बार हम तनाव में होते हैं और चिंता या अवसाद की वजह से भूख नहीं लगती। यह एक सामान्‍य सी समस्‍या है। लेकिन अगर आपको कई दिनों से भूख नहीं लग रही और आप कमजोरी महसूस करने लगे हैं तो भूख ना लगने की ये समस्‍या आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। मेड इंडिया के मुताबिक, ऐसे में अगर खाना देखते ही आपको नहीं खाने का मन करता है तो आप कुछ घरेलू उपायों की मदद लेकर अपनी इस समस्‍या को ठीक कर सकते हैं। आयुर्वेद में कई ऐसे उपाय हैं। जिनकी मदद से पेट की समस्‍या और भूख को बढाने का इलाज बरसों से किया जा रहा है। खास बात ये है कि ये पूरी तरह नेचुरल हैं और कैमिकल फ्री हैं। ऐसे में यहां हम आपको कुछ घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय बता रहे हैं जिन्‍हें आजमाकर आप अपनी भूख को बढा सकते हैं।

भूख बढाने के लिए घरेलू नुस्‍खे।

1.नींबू पानी पिएं: नींबू पानी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। अगर आप को भूख नहीं लग रही है तो आप सुबह खाली पेट नींबू पानी का सेवन करें। नींबू पानी पीने से भूख बढती है और डीहाइड्रेशन भी नहीं होता है।

2.अजवायन खाएं: अगर अपच या भूख न लगने की समस्या है तो आप अजवायन का सेवन कर सकते हैं।भूख ना लगने पर दिन में एक या दो बार इसका सेवन जरूर करें।

3.त्रिफला चूर्ण: आप रात को सोने से पहले दूध गर्म करें और इसमें एक चम्‍मच त्रिफला चूर्ण मिलाकर गर्मागर्म पिएं। धीरे-धीरे आपकी भूख वापस आ जाएगी।

4.काली मिर्च का उपयोग: एक चम्मच गुड़ पाउडर और आधा चम्मच पिसी हुई काली मिर्च को एक साथ मिलाएं और इसका सेवन करें। कुछ दिनों तक नियमित रूप से इसका सेवन करने से आपकी भूख वापस आ जाएगी।

5.ग्रीन टी का उपयोग: ग्रीन टी पीने से भूख तो लगती ही है। इम्‍यूनिटी भी स्‍ट्रॉन्‍ग होता है। ऐसे में आप चाय की बजाय ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं।

6.अदरक का उपयोग: अगर आप दस दिनों तक रोज अदरक का रस निकालकर इसमें चुटकीभर सेंधा नमक मिलाकर खाने से एक घंटा पहले खाएं तो आपकी भूख में सुधार होगा।

ओमीक्रोन वेरिएंट के दूसरे मामलें की पुष्टि हुईं

ओमीक्रोन वेरिएंट के दूसरे मामलें की पुष्टि हुईं

सुनील श्रीवास्तव          जेरूशलम। इजरायल में कोरोना वायरस के ओमीक्रोन वेरिएंट के दूसरे मामले की पुष्टि हुई है। कान टीवी न्यूज ने यह जानकारी दी है। कान टीवी ने रविवार को अपनी रिपोर्ट में बताया कि महिला का टीकाकरण हो चुका है और वह दक्षिण अफ्रीका से लौटी है। इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा किए गए परीक्षण में वह पॉजिटिव पाई गई है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इजरायल सेना की होम फ्रंट कमांड यूनिट ने मरीज के करीबी संपर्कों का पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी है। जबकि स्वास्थ्य मंत्रालय अन्य लौटने वाले यात्रियों के परीक्षण रिर्पोट की प्रतीक्षा कर रहा है।उल्लेखनीय है कि मंत्रालय ने शुक्रवार को इजरायल में ओमीक्रोन के पहले मामले की सूचना दी थी। जिसके बाद शनिवार की रात से इजरायल की सरकार ने ओमीक्रोन वेरिएंट के प्रसार पर रोक लगाने के लिए विदेशी नागरिकों के देश में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था। कनाडा के ओंटारियो प्रांत की सरकार ने कोरोना वायरस स्ट्रेन ओमीक्रोन के दो मामलों की पुष्टि की है।

उप प्रधानमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री क्रिस्टीन इलियट तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ किरन मूर ने रविवार को एक बयान में कहा, “आज,ओंटारियो प्रांत ने ओटावा में कोविड-19 के ओमीक्रोन वेरिएंट के दो मामलों की पुष्टि हुई है। दोनों में से एक हाल ही में नाइजीरिया की यात्रा करने वाले व्यक्तियों में था। ओटावा पब्लिक हेल्थ मामले और संपर्क प्रबंधन का इन मामलों को देख रहा है और मरीज आईसोलेशन में हैं।”बयान के अनुसार, कनाडा आने वाले सभी यात्रियों का कोविड-19 परीक्षण किया जाएगा चाहे वे कहीं से भी आ रहे हों। कनाडा ने शुक्रवार को दक्षिणी अफ्रीकी देशों के कुछ देशों से कनाडा की यात्रा करने वाले विदेशी नागरिकों पर प्रतिबंध लगा दिया था। ओंटारियो सरकार ने कहा कि ओमीक्रोन वेरिएंट के खिलाफ सबसे अच्छा बचाव इसे हमारी सीमा पर रोक रहा है।

वैज्ञानिकों ने कोरोना के नए स्वरूप की पहचान की

अखिलेश पांडेय           एम्सटर्डम। दक्षिण अफ्रीकी वैज्ञानिकों ने कोविड-19 के एक नये स्वरूप की पहचान की और उसे देश के सबसे ज्यादा आबादी वाले प्रांत, गोतेंग में हाल में संक्रमण के मामले बढ़ने के लिए जिम्मेदार ठहराया है। यह अस्पष्ट है कि नया स्वरूप पहली बार कहां सामने आया, लेकिन दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने हाल के दिनों में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को इसे लेकर सतर्क किया और अब इसके मामले ऑस्ट्रेलिया, इज़राइल, नीदरलैंड सहित कई देशों में भी सामने आ रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने शुक्रवार को, इसे ‘‘चिंताजनक स्वरूप’’ बताया और इसे ‘ओमीक्रोन’ नाम दिया। दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री जो फाहला ने कहा कि यह स्वरूप पिछले कुछ दिनों में संक्रमण के मामलों में हुई ‘‘बेतहाशा वृद्धि’’ के लिए जिम्मेदार है।

देश में हाल के हफ्तों में हर दिन करीब 200 नये मामले सामने आने के बाद, दक्षिण अफ्रीका में शनिवार को 3,200 से अधिक नये मामले सामने आए। इनमें से अधिकांश गोतेंग में सामने आए। संक्रमण के मामलों में अचानक वृद्धि को समझा पाने में संघर्ष कर रहे वैज्ञानिकों ने वायरस के नमूनों का अध्ययन किया और नये स्वरूप की खोज की। अब, ‘क्वाजुलु-नताल रिसर्च इनोवेशन एवं सीक्वेंसिंग प्लेटफॉर्म’ की निदेशक तुलिया डी ओलिवेरा के मुताबिक गोतेंग में 90 प्रतिशत से अधिक मामले इसी स्वरूप के हैं।

डेटा का आकलन करने के लिए विशेषज्ञों के एक समूह को बुलाने के बाद, डब्ल्यूएचओ ने कहा कि अन्य प्रकारों की तुलना में “प्रारंभिक साक्ष्य इस स्वरूप से पुन: संक्रमण के बढ़ते जोखिम का सुझाव देते हैं।” इसका मतलब है कि जो लोग संक्रमण से उबर चुके हैं, वे भी इसकी चपेट में आ सकते हैं। समझा जाता है कि इस नये स्वरूप में कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन में सबसे ज्यादा, करीब 30 बार परिवर्तन हुए हैं जिससे इसके आसानी से लोगों में फैलने की आशंका है।

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की राजकुमार              कौशाम्बी। जिलाधिकारी सुजीत कुमार द्वारा सम्राट उदयन सभागार में राजनैतिक...