सोमवार, 28 सितंबर 2020

पर्यटन स्थलों के विकास पर दिया जोर

केंद्रीय मंत्री ने स्वतंत्रता सेनानियों से जुड़े पर्यटन स्थलों के विकास पर दिया जोर।


नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने देश में स्वतंत्रता सेनानियों से जुड़े पर्यटन स्थलों के विकास पर जोर दिया है। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पर्यटन मंत्रालय को सुझाव देते हुए कहा कि वर्ष 2022 में देश आजादी की 75वीं सालगिरह मनाएगा। ऐसे में हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों की वीरता से जुड़े और अधिक पर्यटन स्थलों को विकसित करने के लिए काम करना चाहिए।
पर्यटन राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल के साथ ‘पर्यटन और ग्रामीण विकास’ पर आयोजित एक वर्चुअल मीटिंग में हिस्सा लेते हुए धर्मेंद्र प्रधान ने इस सेक्टर के विकास की असीम संभावनाएं बताईं। उन्होंने पर्यटन मंत्रालय की नई पहल ‘देखो अपना देश’ के लिए मंत्रालय की सराहना करते हुए कहा कि इस पहल से स्थानीय विरासत और पर्यटन स्थलों को बढ़ावा और प्रोत्साहन मिलता है।
उन्होंने भारत की समृद्ध संस्कृति, इतिहास और प्राचीन वास्तु चमत्कारों के बारे में बताया कि इससे पर्यटन उद्योग के विकास के लिए काफी गुंजाइश है। दुनिया को एक वैश्विक गांव बनाने में इंटरनेट की भूमिका के बारे में बात करते हुए प्रधान ने भारत को वैश्विक पर्यटक केंद्र के रूप में मजबूती से स्थापित करने के लिए प्रौद्योगिकी का प्रभावी उपयोग करने की अपील की।
केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पर्यटन उद्योग में रोजगार के नए अवसरों के सृजन और ग्रामीण क्षेत्रों में भी युवाओं के सशक्तीकरण की अभूतपूर्व क्षमता है। देश के हर जिले में लोगों को बताने के लिए ऐतिहासिक कहानियां हैं। इससे जुड़े स्थलों का विकास करने पर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।               


आरबीआई एमपीसी की बैठक में की तब्दीली

आरबीआई एमपीसी की बैठक में तब्दीली, अगली तारीख की घोषणा जल्द।


मनोज सिंह ठाकुर


मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की मंगलवार से होने वाली बैठक में तब्दीली हो गई है और बैठक की अगली तिथि की घोषणा जल्द ही होगी। एमपीसी की बैठक में फेरबदल की जानकारी आरबीआई ने सोमवार को दी। आरबीआई की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, एमपीसी की बैठक, जो 29 सितंबर से लेकर एक अक्टूबर के दौरान होने वाली थी, उसमें फेरबदल हो गया है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि बैठक की अगली तारीख की घोषणा जल्द की जाएगी।                 


एक्टरः सड़क पर प्रेमी की पत्नी ने की पिटाई

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार


हरियाणा की मशहूर एक्टर रेनू चौधरी की बीच सड़क पर प्रेमी की पत्नी के साथ मारपीट की वीडियो वायरल।


हापुड़। मामल जनपद हापुड़ के थाना पिलखुवा क्षेत्र का है। जहां हैरान करने वाली वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल वायरल हो रही है। प्रेमी की पत्नी ने अपने पति के साथ रेनू चौधरी को अय्याशी करते पकड़ा। अनुज चौधरी की पत्नी ने अय्याशी करते हुए देख कर जमकर बीच सड़क पर जमकर किया हंगामा। एक्टर रेनू चौधरी व उसके प्रेमी की पत्नी में जमकर चले बीच सड़क पर लात घुसे,सरे आम मार पिटाई की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल,घण्टो तक चला बीच सड़क पर हाईवोल्टेज ड्रामा। हरियाणा की मशहूर एक्टर रेनू चौधरी ने बनाया था बहु जमीदार का गाना। रेनू चौधरी अपने पति के घर रेलवे रोड भोला पूरी की रहने वाली बताया जा रही है। तहरीर के आधर पर पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुऐ जाँच कर कार्यवाही के करने के निर्देश दिये।               


कोतवाली का गहनता से निरीक्षण, दिए निर्देश

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार


हापुड़ पहुंचे एडीजी जोन कोतवाली का किया गहनता से वार्षिक निरीक्षण दिये दिशानिर्देश ।


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ में पहुंचे एडीजी जोन मेरठ किया वार्षिक निरीक्षण। गढ़मुक्तेश्वर कोतवाली में एडीजी जोन ने किया कोतवाली का निरीक्षण जहाँ पर उन्होंने ने अभिलेख, बैरक पुलिस कोतवाली में साफ-सफाई और शस्त्र हत्यारों समेत सभी का भृमण किया। एडीजी ने सब इंस्पेक्टरों का भी पिस्टल खोलने और चलाने की परीक्षा ली।एसपी हापुड़ संजीव सुमन,एएसपी सर्वेश कुमार मिश्र व पुलिस क्षेत्राधिकारी गढ़मुक्तेश्वर पवन कुमार समेत मौके पर मौजूद, एडीजी के आने की सूचना मिलते ही बलात्कार की पीड़ित महिला, एक माह से लापता किशोरी के परिजन समेत फरियादी भी पहुँचे कोतवाली में एडीजी जोन को सुनाने फरियाद, एडीजी जोन मेरठ ने सुनी कोतवाली में फरियादियों की फरियाद कार्रवाई का दिया आश्वासन।


मृतक संख्या-95,542, संक्रमित-60,74,402

देश में कोरोना के पिछले 24 घंटों में 82 हजार से अधिक नए मामले।


नई दिल्ली। घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के 82 हजार से अधिक नए मामले सामने आने से संक्रमितों का आंकड़ा 60.74 लाख से पार हो गया जबकि 74 हजार से ज्यादा लोग स्वस्थ हुए जिससे कोरोनामुक्त होने वालों की संख्या 50.16 लाख हो गयी।
केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में 82,170 नए मामलों के साथ इसके संक्रमितों की संख्या 60,74,702 हो गयी। इसके साथ ही 74,892 मरीज ठीक हुए हैँ जिसे मिलाकर अब तक 50,16,520 लोग कोरोना की महामारी से निजात पा चुके हैं। इसी अवधि में 1039 संक्रमित अपनी जान गंवा बैठे और इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 95,542 हो गयी है।
कोरोना संक्रमण के नए मामलों में बढ़ोतरी के कारण सक्रिय मामले 6238 बढ़कर 96,2640 हो गये। देश में अभी सक्रिय मामलों का प्रतिशत 15.85 और रोगमुक्त होने वालों की दर 82.58 प्रतिशत है।जबकि मृत्यु दर 1.57 फीसदी रह गयी है।
कोरोना महामारी से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों के दौरान सक्रिय मामले 4111 बढ़कर 2,73,646 हो गये हैं जबकि 380 लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या 35,571 हो गयी है। इस दौरान 13,565 लोग संक्रमणमुक्त हुए जिससे स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 10,30,015 हो गयी
दक्षिणी राज्य कर्नाटक में पिछले 24 घंटों के दौरान मरीजों की संख्या में 2942 की वृद्धि हुई है।और राज्य में अब 1,04,743 सक्रिय मामले हैं। राज्य में मरने वालों का आंकड़ा 8582 पर पहुंच गया है। तथा अब तक 4,62,241 लोग स्वस्थ हुए हैं। आंध्र प्रदेश में इस दौरान मरीजों की संख्या 918 कम होने से सक्रिय मामले 64,876 रह गये। राज्य में अब तक 5708 लोगों की मौत हुई है। वहीं कुल 6,05,090 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं।
आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में इस दौरान 1483 मरीज कम हुए हैं जिससे सक्रिय मामले 55,603 हो गये हैं। तथा इस महामारी से 5594 लोगों की मौत हुई है जबकि 3,25,888 मरीज ठीक हुए हैं।
तमिलनाडु में सक्रिय मामलों की संख्या 46,341 हो गयी है तथा 9313 लोगों की मौत हुई है। वहीं राज्य में अब तक 5,25,154 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं। केरल में सक्रिय मामले 56,786 हो गये तथा 677 लोगों की मौत हुई है जबकि स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 1,17,921 हो गयी है। ओडिशा में सक्रिय मामले 35,006 हो गये हैं। और 797 लोगों की मौत हुई है। जबकि रोगमुक्त लोगों की संख्या 1,73,571 हो गयी है।
राजधानी दिल्ली में इस दौरान सक्रिय मामले 489 कम होने से यह संख्या 29,228 हो गयी है। वहीं संक्रमण के कारण मरने वालों की संख्या 5235 हो गयी है। तथा अब तक 2,36,651 मरीज रोगमुक्त हुए हैं।
तेलंगाना में कोरोना के 29,673 सक्रिय मामले हैं। और 1107 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1,56,431 लोग इस महामारी से ठीक हुए है। पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के 25,723 सक्रिय मामले हैं। तथा 4781 लोगों की मौत हुई है। वहीं अब तक 2,16,921 लोग स्वस्थ हुए हैं।
हल्दूचौड़। गोल्डन टच पार्लर में पुलिस का छापा, दो युवतियों समेत पांच हिरासत में
पंजाब में सक्रिय मामलों की संख्या 18,556 हो गयी है तथा संक्रमण से निजात पाने वालों की संख्या बढ़कर 88,312 हो गयी है। जबकि अब तक 3238 लोगों की मौत हो चुकी है। मध्य प्रदेश में सक्रिय मामलों की संख्या 22,431 है। तथा 97,571 मरीज स्वस्थ हुए हैं। जबकि 2207 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। गुजरात में सक्रिय मामले 16,633 हैं तथा 3416 लोगों की मौत हुई है। और 1,13,008 लोग इस बीमारी से स्वस्थ भी हुए हैं। बिहार में सक्रिय मामले 12,827 हो गये हैं। राज्य में 888 लोगों की मौत हुई है। जबकि 1,64,987 लोग संक्रमणमुक्त भी हुए हैं।
कोरोना महामारी से अब तक राजस्थान में 1441, हरियाणा में 1307, जम्मू-कश्मीर में 1132, छत्तीसगढ़ में 848, झारखंड में 679, असम में 655, उत्तराखंड में 574, पुड्डुचेरी में 513, गोवा में 401, त्रिपुरा में 273, चंडीगढ़ में 147, हिमाचल प्रदेश में 175, मणिपुर में 64, लद्दाख में 58, अंडमान निकोबार द्वीप समूह में 53, मेघालय में 43, सिक्किम में 33, नागालैंड में 16, अरुणाचल प्रदेश में 14 तथा दादर-नागर हवेली एवं दमन-दीव में दो लोगों की मौत हुई है।             


कोई भी व्यक्ति कर सकता है नेत्रदान ?

क्या कोई भी व्यक्ति नेत्रदान कर सकता है। देशभर में ऐसे कई लोग हैं। जो आंख में चोट, फूले व धब्बे की समस्या की वजह से अंधता के शिकार हैं। इन परेशानियों के उपचार में नेत्रदान एक असरदार उपाय साबित हो सकता है। नेत्रदान के लिए लोग जागरूक होकर कई लोगों की जिंदगी में रोशनी ला सकते हैं। 
दृष्टिबाधित बंधु हमारे द्वारा नेत्रदान करने से दृष्टि पा सके, प्रकृति की सुन्दरता, हरितिमा, रंग संयोजन की अद्भुत विविधता निहार सके।
आइये दिनांक 21 सितम्बर से 4 अक्टूबर 2020 तक चलने वाले इस ईश्वरीय अभियान  मे हम सहभागी बने स्वयं नेत्रदान का संकल्प ले और हमारे परिजन, मित्र, अड़ोसी-पड़ोसी सभी को संकल्प लेने के लिए प्रेरित करे। नेत्रदान कौन कर सकता है।
किसी भी उम्र का व्यक्ति जिसका कॉर्निया पूरी तरह से स्वस्थ हो वह नेत्रदान कर सकता है। वैसे 10-50 वर्ष के व्यक्ति की आंखें ज्यादा उपयोगी होती हैं। दुर्घटना, हार्ट अटैक, लकवा, ब्लड प्रेशर डायबिटीज, अस्थमा और मूत्र संबंधी रोग के कारण मौत होने पर आंखों का प्रयोग प्रत्यारोपण के लिए किया जा सकता है।
नेत्रदान कौन नहीं कर सकता।
जिन लोगों की मृत्यु वायरल बैक्टीरियल इंफेक्शन या एड्स की वजह से होती है। उनकी आंखों के कॉर्निया का प्रयोग नेत्रदान के लिए नहीं किया जा सकता है।                      


कांग्रेसियों ने किया सरकार का विरोध

किसानों के सम्मान में कांग्रेसियों ने ग्रामीणों के साथ वर्तमान सरकार का विरोध किया।


सोनभद्र। सोमवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर कांग्रेस जिला महासचिव बद्री सिंह गौड़ एवं कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष सेतराम केशरी (वि०वि०) के नेतृत्व में ब्लाक चोपन के न्याय पंचायत जूगैल के करइली डाड़ में किसान बिल के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं सहित युवा कल्याण समिति के कार्यकर्ता एवं ग्रामीणों के साथ किसानों के सम्मान में वर्तमान सरकार का विरोध जताते हुए प्रदर्शन किया। जहां श्री बद्री सिंह ने कहा कि आयेदिन आदिवासियों एवं किसानों का शोषण किया जा रहा है। जिसके कारण हम सरकार का पुरजोर विरोध करते हैं। वही श्री सेतराम ने कहा कि कांग्रेस पार्टी गरीबों असहायों आदिवासियों एवं किसानों की लड़ाई वर्तमान की भ्रष्ट सरकार से लड़ रही है। और उनका हक दिलाकर रहेगी एवं जनता के बीच रहकर भ्रष्ट सरकार को आईना दिखाने का काम करेगी। इस मौके पर कांग्रेस नेता संतोष सिंह नेताम, संदीप नारायण गुप्ता ,विजय कुमार यादव, कमलेश गुप्ता, विजया गोड़, भागीरथी , बिंदु गोड़ एवं अन्य कांग्रेस जनों सहित दर्जनों ग्रामीण मौजूद रहे।               


डीएम-एसपी ने जाना कैदियों का हाल

जेल पहुच कर डीएम और एसपी ने जाना कैदियो का हाल


तारकेशवर मिश्रा


अमेठी। जिलाधिकारी अरुण कुमार व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने आज जिला कारागार रायबरेली का संयुक्त रूप से निरीक्षण किया गया। जनपद अमेठी में जिला कारागार न होने के कारण तहसील तिलोई के थाना जायस, फुरसतगंज मोहनगंज व शिवरतनगंज के अपराधियों को रायबरेली जेल भेजा जाता है। आपको बता दें कि डीएम व एसपी ने जिला कारागार रायबरेली का आज निरीक्षण किया। जिला कारागार रायबरेली में जनपद अमेठी के 170 अपराधी बंद हैं। जिनमें से 15 अपराधी दोष सिद्ध हैं। व 155 अपराधी न्यायालय में विचाराधीन है। इस दौरान जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा महिला बैरक कारागार चिकित्सालय व अन्य बन्दियों की बैरकों का निरीक्षण किया गया।  डीएम व एसपी ने चिकित्सालय में भर्ती बंदियों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली एवं उनके समुचित उपचार हेतु डॉक्टरों को निर्देश दिए। इसके बाद उन्होंने बैरकों में कैदियों के सामानों एवं बिस्तरों की सघन तलाशी ली गयी। डीएम ने बैरकों में नियमित रूप से साफ-सफाई कराने हेतु अधीक्षक को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि जेल के अन्दर किसी भी तरह के प्रतिबन्धित सामाग्री को अन्दर कदापि न जाने दिया जाये। 
जिला कारागार में जिलाधिकारी ने जनपद अमेठी के कैदियों से बात-चीत कर उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली बन्दियों द्वारा परिवार वालों से मुलाकात करने की समस्या बताई जिस पर जिलाधिकारी ने कैदियों को अवगत कराया कि शासन के निर्देश पर कोविड-19 के दृष्टिगत मुलाकात बंद है। इसके लिए उन्होंने फोन के माध्यम से बंदियों के घरवालों से बात कराने के निर्देश जेल अधीक्षक को दिए। 
जिलाधिकारी ने जिला कारागार में रसोई घर का भी निरीक्षण किया और साफ-सफाई से भोजन बनाये जाने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि प्रतिदिन समस्त बैरकों में बन्दियों की सघन तलाशी करायी जाये यदि किसी बन्दी के पास कोई आपत्तिजनक वस्तुयें बरामद हो । तो तत्काल सम्बन्धित के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही भी सुनिश्चित की जाये। उन्होंने कहा कि बन्दियों के भोजन गुणवत्ता की भी समय पर जांच कराते रहे तथा शौचालय एवं नालियों आदि की समुचित सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये।           


जयंतीः गांधी-भगत के बीच कैसे थे रिश्ते ?

जयंती विशेष: गांधी और भगत सिंह के बीच कैसे थे रिश्ते ? क्या गांधी ने भगत सिंह को बचाने की कोशिश नहीं की?


नई दिल्ली। भगत सिंह बर्थडे, ‘दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त, मेरी मिट्टी से भी ख़ुशबू-ए-वफ़ा आएगी’, आज का दिन लाल चन्द फ़लक के इस शेर को गुनगुनाते हुए आजा़दी के एक ऐसे मतवाले को याद करने का दिन है जिसके लिए आजा़दी ही उसकी दुल्हन थी। आज का दिन ज़मीन-ए-हिन्द की आज़ादी के लिए हंसते हंसते फांसी पर चढ़ जाने वाले उस परवाने को याद करने का दिन है, जिसके ज़ज्बातों से उसकी कलम इस कदर वाकिफ थी कि उसने जब इश्क़ भी लिखना चाहा तो कलम ने इंकलाब लिखा। आज का दिन शहीद-ए-आजम भगत सिंह को याद करने का दिन है। भगत सिंह भारत मां के वही सच्चे सपूत हैं जिन्होंने अपना लहू वतन के नाम किया तो आज हमें आज़ादी का ज़श्न हर साल मनाने का मौका मिलता है।
आज शहीद-ए-आजम भगत सिंह का जन्मदिन है। 28 सितंबर, 1907 को लायलपुर ज़िले के बंगा में (अब पाकिस्तान में) उनका जन्म हुआ था। गुलाम भारत में पैदा हुए भगत सिंह ने बचपन में ही देश को ब्रितानियां हुकूमत से आज़ाद कराने का ख़्वाब देखा। छोटी उम्र से ही उसके लिए संघर्ष किया और फिर देश में स्थापित ब्रिटिश हुकूमत की नींव हिलाकर हंसते-हंसते फांसी का फंदा चूम लिया। वह शहीद हो गए लेकिन अपने पीछे क्रांति और निडरता की वह विचारधारा छोड़ गए जो आज तक युवाओं को प्रभावित करता है। आज भी भगत सिंह की बातें देश के युवाओं के लिए किसी प्रतीक की तरह बने हुए हैं।
हालांकि यह बहस भी साथ-साथ चलती रहती है कि भगत सिंह जिन्होंने महज़ 23 साल की उम्र में अपनी जान देश के लिए दे दी उनको दूसरे स्वतंत्रा सेनानियों की तरह पहली पंक्ति में जगह नहीं मिलती। शिकायत खास तौर पर महात्मा गांधी और जवाहर लाल नेहरू को लेकर रहती है। कहा जाता है कि दो स्वतंत्रता सेनानी इतिहास में ऐसे रहें जिनको जो उचित स्थान मिलना चाहिए था वह नहीं मिला। एक नाम भगत सिंह का होता है तो दूसरा सुभाष चंद्र बोस का। कहा यह भी जाता है कि सुभाष चंद्र बोस और भगत सिंह एक ही विचारधारा के थे, जबकि गांधी और नेहरू उनसे थोड़ा अलग मत रखते थे। महात्मा गांधी तो हिंसा के सख्त खिलाफ थे। आज के दौर में जब नेहरू और गांधी पर कई तरह के इल्ज़ाम लगते हैं तो उनमें से एक यह भी है कि अगर नेहरू और गांधी चाहते तो भगत सिंह राजगुरू और सुखदेव को फांसी से बचाया जा सकता था। वहीं पंडित जवाहर लाल नेहरू पर यह भी इल्ज़ाम लगता है कि उन्होंने अपनी चतुराई से इतिहास के पन्ने में अपने लिए वह जगह बना लिया जो भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस को मिलना चाहिए था।
ऐसे में जब आज हर बात के लिए नेहरू और गांधी को कठघरे में डाला जा रहा है तो यह जानना जरूरी है कि भगत सिंह खुद जवाहर लाल नेहरू और महात्मा गांधी के बारे में किस तरह का विचार रखते थे। साथ ही इस सवाल का जवाब भी तलाशने की कोशिश करेंगे कि क्या वाक़ई महात्मा गांधी ने भगत सिंह को फांसी से बचाने का प्रयास नहीं किया था, जैसा की कई बार इल्जाम लगाया जाता है?
क्या महात्मा गांधी ने भगत सिंह को फांसी से बचाने का प्रयास नहीं किया था?
पूर्ण स्वराज को लेकर गांधी और भगत सिंह के रास्ते बिलकुल अलग थे।गांधी अहिंसा को सबसे बड़ा हथियार मानते थे और उनका कहना था कि “आंख के बदले में आंख पूरे विश्व को अंधा बना देगी”, जबकि भगत सिंह का साफ मानना था कि बहरों को जगाने के लिए धमाके की जरूरत होती है। एक का रास्ता केवल राजनीतिक सत्ता के हस्तांतरण पर केंद्रित था जबकि दूसरे की दृष्टि स्वतंत्र भारत को एक समाजवादी और एक समतावादी समाज में बदलने की थी।
1931 में जब भगत सिंह को फांसी दी गई थी तब तक उनका कद भारत के सभी नेताओं की तुलना में अधिक हो गया था।पंजाब में तो लोग महात्मा गांधी से ज्यादा भगत सिंह को पसंद करते थे। यही वजह है कि भगत सिंह को फांसी मिलने के बाद गांधी जी को भारी विरोध का सामना करना पड़ा।
भगत सिंह की फांसी के तीन दिन बाद, कांग्रेस के कराची अधिवेशन हुआ। उस वक्त देश भर में भगत सिंह की फांसी का विरोध नहीं करने के लिए गांधी के खिलाफ गुस्से का माहौल था। जब गांधी अधिवेशन में शामिल होने के लिए पहुंचे, तो नाराज युवाओं द्वारा काले झंडे दिखाकर उनके खिलाफ नारेबाजी की गई। ”डाउन विद गांधी” लिखा हुआ प्लेकार्ड उन्हें दिखाया गया। यह वह वक्त था जब भगत सिंह युवाओं के प्रतीक बन गए थे।
अब सवाल कि क्या गांधी जी ने भगत सिंह को बचाने का प्रयास नहीं किया। इसका जवाब है बिल्कुल किया था। गांधी और भगत सिंह का आजादी पाने को लेकर रास्ता बेशक अलग रहा हो और इसको लेकर दोनों के बीच मतभेद भी थे, लेकिन अंतिम अवस्था तक आते-आते गांधी को भगत सिंह के प्रति बहुत अधिक सहानुभूति हो चली थी। जब भगत सिंह को तय समय से एक दिन पहले ही फांसी दिए जाने की खबर मिली तो गांधी काफी देर के लिए मौन में चले गए थे।
महात्मा गांधी ने 23 मार्च 1928 को एक निजी पत्र लिखा था और भगत सिंह और उनके साथियों की फांसी पर रोक लगाने की अपील की थी। इस बात का जिक्र माय लाइफ इज माय मैसेज नाम की किताब में है। उन्होंने पत्र में वायसराय इरविन को लिखा था, ”शांति के हित में अंतिम अपील करना आवश्यक है। हालांकि आपने मुझे साफ -साफ बता दिया है कि भगत सिंह और अन्य दो लोगों की मौत की सजा में कोई भी रियायत की आशा न रखूं लेकिन डा सप्रू कल मुझे मिले और उन्होंने बताया कि आप कोई रास्ता निकालने पर विचार कर रहे हैं।”
गांधी जी ने पत्र में आगे लिखा, ” अगर फैसले पर थोड़ी भी विचार की गुंजाइश है तो आपसे प्रार्थना है कि सजा को वापस लिया जाए या विचार करने तक स्थगित कर दिया जाए. गांधी जी ने आगे लिखा, ”अगर मुझे आने की आवश्कता होगी तो आऊंगा। याद रखिए कि दया कभी निष्फल नहीं जाती।”
गांधी जी द्वारा लिखे इस खत से साफ पता चलता है कि आखिरी समय तक उन्होंने भगत सिंह और उनके साथियों की सजा कम करवाने और उन्हें माफी दिलाने का प्रयास किया। भगत सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए गांधी ने 29 मार्च, 1931 को गुजराती नवजीवन में लिखा था- ”वीर भगत सिंह और उनके दो साथी फांसी पर चढ़ गए। उनकी देह को बचाने के बहुतेरे प्रयत्न किए गए, कुछ आशा भी बंधी, पर वह व्यर्थ हुई। भगत सिंह अहिंसा के पुजारी नहीं थे, लेकिन वे हिंसा को भी धर्म नहीं मानते थे। इन वीरों ने मौत के भय को जीता था। इनकी वीरता के लिए इन्हें हजारों नमन हों।”
नेहरू को लेकर भगत सिंह के क्या विचार थे।
भगत सिंह जवाहर लाल नेहरू को लेकर क्या सोचते थे और क्या वह सुभाष चंद्र बोस से प्रभावित थे। इस सवाल का जवाब 1928 में भगत सिंह द्वारा लिखे गए एक पत्र से मिल जाता है। किरती नामक एक पत्र में ‘नए नेताओं के अलग-अलग विचार’ शीर्षक से भगत सिंह ने एक लेख लिखा था। इस लेख में उन्होंने बोस और नेहरू के नजरिये की तुलना की है। भगत सिंह ने अपने इस लेख में जहां एक तरफ नेहरू को अंतरराष्ट्रीय दृष्टि वाला नेता माना तो वहीं सुभाष चंद्र बोस को प्राचीन संस्कृति के पक्षधर के रूप में स्वीकार किया। उन्होंने अपने पत्र में लिखा, ”इन दोनों सज्जनों के विचारों में जमीन-आसमान का अन्तर है।” भगत सिंह सुभाषचन्द्र बोस को एक बहुत भावुक बंगाली मानते थे जो अपनी संस्कृति पर गर्व करता था। इसको सपष्ट करने लिए भगत सिंह ने बोस के भाषण का अपनी लेख में जिक्र किया है।
भगत सिंह ने कहा है जहां एक तऱफ बोस अपने भाषण में कहते थे कि हिन्दुस्तान का दुनिया के नाम एक विशेष सन्देश है। वह दुनिया को आध्यात्मिक शिक्षा देगा। तो वहीं फिर वह लोगों से वापस वेदों की ओर ही लौट चलने का आह्वान करते हैं। आपने अपने पूणा वाले भाषण में उन्होंने ‘राष्ट्रवादिता’ के संबंध में कहा है कि अन्तर्राष्ट्रीयतावादी, राष्ट्रीयतावाद को एक संकीर्ण दायरे वाली विचारधारा बताते हैं, लेकिन यह भूल है। हिन्दुस्तानी राष्ट्रीयता का विचार ऐसा नहीं है।वह न संकीर्ण है, न निजी स्वार्थ से प्रेरित है और न उत्पीड़नकारी है, क्योंकि इसकी जड़ या मूल तो ‘सत्यम् शिवम् सुन्दरम्’ है अर्थात् सच,कल्याणकारी और सुन्दर।
वहीं भगत सिंह ने जवाहर लाल नेहरू जिक्र करते हुए लिखा है, ”पण्डित जवाहरलाल आदि के विचार बोस से बिल्कुल विपरीत हैं.” भगत सिंह ने बताया कि नेहरू कहते हैं — “जिस देश में जाओ वही समझता है कि उसका दुनिया के लिए एक विशेष सन्देश है। इंग्लैंड दुनिया को संस्कृति सिखाने का ठेकेदार बनता है। मैं तो कोई विशेष बात अपने देश के पास नहीं देखता। सुभाष बाबू को उन बातों पर बहुत यकीन है.” जवाहरलाल कहते हैं, ”प्रत्येक नौजवान को विद्रोह करना चाहिए। राजनीतिक क्षेत्र में ही नहीं बल्कि सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक क्षेत्र में भी। मुझे ऐसे व्यक्ति की कोई आवश्यकता नहीं जो आकर कहे कि फलां बात कुरान में लिखी हुई है। कोई बात जो अपनी समझदारी की परख में सही साबित न हो उसे चाहे वेद और कुरान में कितना ही अच्छा क्यों न कहा गया हो, नहीं माननी चाहिए।
भगत सिंह के लेख से साफ है कि वह एक तरफ जहां बोस को पुरातन युग पर विश्वास करने वाला बताते हैं तो वहीं जवाहर लाल नेहरू को परंपराओं से बगावत करने वाले नेता के तौर पर देखते हैं जिनकी अपनी एक अंतरराष्ट्रीय समझ भी है। भगत सिंह का मानना था कि बोस हर चीज की जड़ प्राचीन भारत में देखते हैं और मानते हैं कि भारत का अतीत महान था। दरअसल भगत सिंह यहां बोस से ज्यादा नेहरू को तवज्जो देते हैं। उन्होंने लेख में लिखा है कि पंजाब के युवाओं को बौद्धिक खुराक की शिद्दत से जरूरत है और यह उन्हें सिर्फ नेहरू से मिल सकती है।           


पंजाबी महिला महासभा की बैठक आयोजित

पंजाबी महिला महासभा की बैठक आयोजित हुई- पंजाबी महिला महासभा की नगर अध्यक्ष बहेड़ व प्रदेश अध्यक्ष अरोड़ा द्वारा कार्यक्रम आयोजित ।


किशान गुप्ता


गदरपुर। रविवार को सकैनिया मोड़ स्थिति ड्रीम कैफे में पंजाबी महिला महासभा की एक बैठक आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता पंजाबी महिला महासभा की नगर अध्यक्ष सपना बेहड़ द्वारा की गई, वहीं मुख्य अतिथि के रूप में पहुंची पंजाबी महिला महासभा की प्रदेश अध्यक्ष शिल्पी अरोड़ा के महिलाओं द्वारा पुष्प गुच्छ देकर जोरदार स्वागत किया गया।
 इस दौरान बैठक में आपसी परिचय करते हुए पंजाबी समाज में फैल रही कुरीतियों को रोकने के लिए विचार-विमर्श किया गया, इसके अलावा पंजाबी समाज की महिलाओं की सामाजिक कार्यो में भागीदारी बढ़ाने की बात कही। बैठक को संबोधित करते हुए शिल्पी अरोड़ा द्वारा कहा गया कि महिलाओं को अपने हक के लिए आगे आकर अपने हक की लड़ाई लड़ने की आवश्यकता है।हमारे समाज में अब तक महिलाओं को कमजोर समझा जाता रहा है।जिसकी बजह से उन्हें आगे बढ़ने का मौका नही मिल पाया है समाज की इसी सोच को बदलने की आवश्यकता है, इसी उद्देश्य के चलते पंजाबी महिला महासभा के गठन किया गया है। 
वहीं सपना बेहड़ द्वारा कहा गया कि जल्द ही प्रदेश अध्यक्ष शिल्पी अरोड़ा के निर्देशानुसार पंजाबी महिला महासभा की नगर कार्यकारिणी का गठन कर घोषणा की जाएगी साथ ही उनके द्वारा कहा गया कि पंजाबी महिला महासभा द्वारा पंजाबी समाज को एकजुट करने व मजबूत बनाने का हर सम्भव प्रयास किया जाएगा।
इस दौरान प्रदेश सचिव सिमरन जीत कौर, गुरमीत कौर, कृष्णा वर्मा, सुमित्रा रानी, राधा रानी, नैना बत्रा, मेघना बठला, काजल मल्होत्रा, जसमीत संधू, सोनाली गाबा, इंदु गुम्बर, बबिता छाबड़ा, बीना गुम्बर, अर्चना, संतोष, कंचन सहित दर्जनों महिलाएं उपस्थित रहीं। वहीं उत्तरांचल पंजाबी महासभा के नगर अध्यक्ष किशन लाल सुधा, महामंत्री संजीव झाम, कोषाध्यक्ष किशन लाल अनेजा, युवा अध्यक्ष पारस धवन, युवा कोषाध्यक्ष चिराग मुरादिया, संदीप चावला, कमल अरोरा आदि भी उपस्थित रहे।             


ड्राइवर ने रेड सिग्नल में दौडाई रेलगाड़ी

ट्रेन ड्राइवर ने रेड सिग्नल में दौड़ा दी मालगाड़ी जानिए फिर क्या हुआ।


लखनऊ। बरेली से लखनऊ की ओर मालगाड़ी लेकर जा रहे बरेली जंक्शन के दो लोको पायलट ने काकोरी स्टेशन पर रेड सिग्नल के बावजूद मालगाड़ी को दौड़ा दिया। लापरवाही के आरोप में दोनों लोको पायलट का लखनऊ में मेडिकल हुआ। लखनऊ से दूसरे लोको पायलट भेजकर मालगाड़ी को आगे रवाना कराया गया। वह तो अच्छा हुआ जो मालगाड़ी डिरेलमेंट होने से बच गई। मुरादाबाद डिवीजन ने दोनों लोको पायलट को बुक ऑफ कर दिया है। सोमवार को मंडल ऑफिस तलब किया गया। दोनों पर निलंबन की कार्रवाई हो सकती है।
रेल सूत्रों का कहना है। कि रविवार रात 8:00 बजे श्रमजीवी गुजारने के लिए काकोरी स्टेशन पर सिग्नल दिया गया। मालगाड़ी रोकने के लिए रेड सिग्नल था। मगर बरेली के लोको पायलट ज्ञानचंद और अमित कुमार ने अनदेखी करते हुए मालगाड़ी दौड़ाकर होम सिग्नल पार कर दिया। जबकि मालगाड़ी को रोकने के बाद पॉइंट बनाकर दूसरे ट्रैक से गुजारा जाना था। मगर दोनों लोको पायलट ने रेड सिग्नल के बाद भी अनदेखी करते हुए सिग्नल ओवरशूट कर दिया। काकोरी स्टेशन मास्टर ने सिग्नल ओवरशूट की रेल कंट्रोल को सूचना दी। माल गाड़ी को रुकवाया गया।
लोको पायलट ज्ञान चन्द्र और अमित कुमार का मेडिकल कराया। मलिहाबाद में करीब आधा घंटे तक श्रमजीवी खड़ी रही। उत्तर रेलवे मुरादाबाद रेल मंडल के सीनियर डीओएम ने लोको पायलट ज्ञान चन्द्र और अमित कुमार को बुक ऑफ कर दिया। सोमवार को दोनों को मंडल आफिस तलब किया है। इस तरह की लापरवाही में सीधे निलंबन की कार्रवाई होती है। अगर माल गाड़ी की स्पीड अधिक होती तो लोको पायलट की लापरवाही से बड़ा रेल हादसात्र तक गाड़ी लेकर जानी थी। वहां से स्टॉफ़ चेंज होता।                   


विधेयकों के खिलाफ लाया जाएगा प्रस्ताव

मुख्यमंत्री भूपेश बधेल ने कहा-कृषि विधेयकों के खिलाफ छत्तीसगढ़ विधानसभा में लाया जाएगा प्रस्ताव।


रायपुर। संसद में पारित किए गए तीन कृषि विधेयकों को असंवैधानिक  करार देते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को कहा कि इसका विरोध करते हुए राज्य विधानसभा के अगले सत्र में एक प्रस्ताव लाया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि इन विधेयकों के क्रियान्वयन के खिलाफ जरूरत पड़ने पर कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी।
बघेल ने यह आरोप भी लगाया अनुबंध कृषि के जरिए किसानों की जमीन कॉरपोरेट घरानों को सौंपने की साजिश की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र ने इन विधेयकों को पिछले दरवाजे से ऐसे वक्त में लाया जब देश कोरोना वायरस महामारी से लड़ रहा है। और मीडिया बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की कवरेज (गुत्थी सुलझाने) में व्यस्त है। बघेल ने कहा हम राज्य विधानसभा के अगले सत्र में (कृषि विधेयकों का विरोध करते हुए) एक प्रस्ताव लाएंगे और यदि जरूरत पड़ी तो उन्हें लागू किये जाने के खिलाफ (हम) कानूनी लड़ाई लड़ेंगे।बघेल ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार किसानों के हितों के लिये प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री ने कहा।केंद्र के पास कृषि पर विधान बनाने की शक्ति नहीं है। जो कि राज्य सूची का विषय है। लोकसभा में पारित तीनों कृषि विधेयक असंवैधानिक हैं। और (संविधान के) संघीय ढांचे का उल्लंघन करते हैं।उन्होंने कहा कि विधेयक का मसौदा शांता कुमार समिति की रिपोर्ट के आधार पर तैयार किया जो किसान विरोधी गरीब विरोधी है।और सिर्फ कॉरपोरेट घरानों के (हितों के) लिये है। बता दें  कई राज्यों के किसान इन विधेयकों को संसद द्वारा पारित किए जाने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।
बघेल ने शांता कुमार समिति की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए आशंका जताई कि भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) निकट भविष्य में अपनी प्रासंगिकता खो सकता है। और किसानों को अपनी फसल के लिये न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) नहीं मिलेगा।
संसद ने हाल ही में संपन्न हुए मॉनसून सत्र में कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 तथा आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक को पारित किया है जिसे अभी राष्ट्रपति की मंजूरी नहीं मिली है।


मुख्यमंत्री ने तीनों विधेयकों पर केंद्र पर झूठ बोलने और किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाया। उन्होंने श्रम सुधार विधेयकों को लेकर भी केंद्र की आलोचना करते हुए कहा कि ये श्रमिकों के हित में नहीं हैं।
सुशांत मामले में मीडिया कवरेज के बारे में पूछे जाने पर बघेल ने कहा वहां 50 ग्राम गांजा बरामद हुआ और पूरा देश इसके पीछे पड़ा हुआ है। और हमारे राज्य में पुलिस प्रतिदिन 10 क्विंटल वर्जित वस्तु जब्त कर रही है। लेकिन इसे लेकर कोई चर्चा नहीं हो रही।उन्होंने कहा 50 ग्राम गांजा बरामद करना एनसीबी (स्वापक नियंत्रण ब्यूरो) का काम नहीं है। बल्कि यह थानेदार का काम है।             


कानूनः प्रदर्शन की आग पहुंची 'दिल्ली'

किसान कानून के खिलाफ प्रदर्शन की आग दिल्ली पहुंची, संसद भवन के पास टैक्टर में लगा दी आग।


नई दिल्ली। किसान कानून के खिलाफ प्रदर्शन की आग दिल्ली तक पहुंच गई है। दिल्ली के इंडिया गेट में किसानों ने ट्रैक्टर में आग लगा दी है। पंजाब और हरियाणा के बाद किसानों का प्रदर्शन देश की राजधानी में संसद के बिल्कुल पास तक पहुंच गया है। संसद के करीब इंडिया गेट पर किसानों ने टैक्टर में आग लगा दी. हालांकि प्रदर्शनकारियों को इक्कठा होने नहीं दिया गया।दिल्ली में इंडिया गेट और आस पास के वीआईपी इलाकों में धारा 144 लागू है। और कोरोना वायरस के मद्देनजर लोगों को इकट्ठा होने की इजाजत नहीं है।
पिछले दो हफ्तों से जिन किसान बिलों को लेकर संसद से सड़क तक लड़ाई छिड़ी थी। वो अब कानून बन गए हैं। लेकिन राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद भी बिल को लेकर बवाल थमा नहीं है। पंजाब में किसानों और सियासी दलों का विरोध और तेज हो रहा है।किसान संगठनों ने पंजाब में रेल रोको प्रदर्शन 29 सितंबर तक बढ़ा दिया है। बिल के खिलाफ अकाली दल जगह-जगह रैली कर रहा है।
शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती के मौके पर आज पंजाब में किसानों का आंदोलन और तेज होगा। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भगत सिंह के गांव जाएंगे जहां वो किसान आंदोलन के समर्थन में धरना भी देंगे। बिल को राष्ट्रपति की मंज़ूरी के बाद भी कांग्रेस के तेवर कड़े हैं।
कृषि बिलों को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलना अति दुर्भाग्यपूर्ण
शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने रविवार को कृषि बिलों को राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद इसे निराशाजनक और काफी दुर्भाग्यपूर्ण बताया।इन बिलों का किसान पंजाब में विरोध कर रहे हैं। यहां जारी एक बयान में सुखबीर ने कहा कि यह सच में देश के लिए काला दिन है।क्योंकि राष्ट्रपति ने देश की भावना को दरकिनार कर दिया।             


कृषि बिलों पर देश के लिए काला दिनः सिंह

कृषि बिलों पर राष्ट्रपति ने किए नहस्ताक्षर अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा- देश के लिए काला दिन।


नई दिल्ली। विपक्षी दलों और देश के कई राज्यों के किसानों के भारी विरोध के बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को तीनों कृषि विधेयकों पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के साथ ही ये विधेयक अब कानून बन गए हैं। शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने इसे भारत के लिए काल दिन बताया है।
सुखबीर बादल ने कहा यह वास्तव में भारत के लिए एक काला दिन है। कि राष्ट्रपति ने राष्ट्र के विवेक के रूप में कार्य करने से इनकार कर दिया है। हमें बहुत उम्मीद थी। कि वह इन बिलों को संसद में पुनर्विचार के लिए लौटा देंगे जैसा कि अकाली दल और कुछ अन्य विपक्षी दलों ने मांग की थी।
गौरतलब है। कि इन कृषि विधेयकों का भारी विरोध हो रहा है। खासतौर से पंजाब और हरियाणा के किसान इस बिल के विरोध में सड़कों पर उतरे हुए हैं।वहीं दूसरी तरफ विपक्षी दल भी इन विधेयकों का विरोध कर रहे हैं। यहां तक की एनडीए में शामिल शिरोमणि अकाली दल ने इन बिलो का विरोध  करते हुए पहले सरकार और फिर एनडीए से बाहर जाने का फैसला कर लिया।  बता दें शिरोमणि अकाली दल बीजेपी का सबसे पुराने सहयोगियों में से एक रहा है।
इससे पहले महाराष्ट्र सरकार में राजस्व मंत्री और कांग्रेस नेता बाला साहेब थोराट ने कहा कि महाराष्ट्र में इन कानूनों को लागू नहीं किया जाएगा। थोराटा ने कहा संसद द्वारा पारित बिल किसान विरोधी है। इसलिए हम इसका विरोध कर रहे हैं।महाविकास अघाड़ी भी इसका विरोध करेगी और महाराष्ट्र में इसे लागू नहीं होने देगी। शिवसेना भी हमारे साथ है। हम एक साथ बैठेंगे और एक रणनीति बनाएंगे।               


फायरिंग में 2 की मौत, आरएएफ तैनात

राजस्थान हिंसा। पुलिस फायरिंग में दो की मौत के बाद आरएएफ तैनात।


जयपुर। राजस्थान पुलिस ने सोमवार को पुष्टि की है। कि पिछले चार दिनों में हिंसा की आग में जल रहे डूंगरपुर में हालात को नियंत्रित करने के लिए पुलिस द्वारा की गई फायरिंग में दो लोगों की मौत हो गई है। और अन्य दो घायल हो गए हैं।
पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) भूपेंद्र सिंह ने कहा  पिछले चार दिनों में उदयपुर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर भड़की हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई और दो गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। रविवार रात से अतिरिक्त पुलिस बल और रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती की गई है।
उन्होंने कहा कि पुलिस को स्थिति को नियंत्रित करने और सार्वजनिक संपत्ति और लोगों की जान बचाने के लिए शनिवार को फायरिंग करनी पड़ी जिसमें दो की मौत हो गई और दो घायल हो गए। उन्होंने कहा कि घायल खतरे से बाहर हैं। उन्होंने कहा कि कुल 24 मामले दर्ज किए गए हैं और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की दो कंपनियों और राजस्थान आर्म्ड कांस्टेबुलरी (आरएसी) की छह कंपनियों की तैनाती की गई है।
अधिकारी सभी घटनाक्रमों पर नजर बनाए हुए हैं। पिछले हफ्ते, शिक्षक भर्ती परीक्षा के हजारों अभ्यर्थी सड़कों पर उतर आए और एनएच-8 पर पथराव किया और वाहनों को आग लगा दी। उन्होंने एसटी अभ्यर्थियों द्वारा सामान्य श्रेणी के लिए आरक्षित 1,000 से अधिक रिक्त पदों को भरने की मांग की। गुरुवार शाम से राजमार्ग लगभग 10 किलोमीटर तक अवरुद्ध रहा। हिंसा में कई पुलिस वाहनों को आग लगा दी गई और कई पुलिसकर्मी घायल हो गए।             


कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन

नई दिल्लीः 2020 कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी।


नई दिल्ली। देश भर में किसानों के भारी विरोध के बीच तीनो कृषि बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी मिल गयी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के कृषि बिल को मंजूरी देते ही फिर से देश भर में किसानों का विरोध शुरु हो गया है। कृषि कानून के खिलाफ किसानों ने आज कर्नाटक बंद बुलाया है। दिल्ली के इंडिया गेट में किसानों ने ट्रैक्टर में आग लगा दी है। वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज धरना पर बैठेंगे। कश्मीर में कानून के खिलाफ कांग्रेस ने प्रदर्शन किया। जबकि छत्तीसगढ़ किसान यूनियन पांच अक्टूबर को अपना विरोध दर्ज करेगा।
कर्नाटक में कृषि बिल, भूमि सुधार अध्यादेशों कृषि उपज मंडी समिति (APMC) में संशोधन और श्रम कानूनों के विरोध में आज किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए एक राज्यव्यापी बंद को देखते हुए कालाबुरागी में पुलिस बलों को तैनात किया गया है। बंद के दौरान पूरे राज्य में किसानों ने प्रदर्शन करने की योजना बनायी है। हालांकि राज्य सरकार ने कहा है। कि बंद के दौरान सरकारी दफ्तर खुले रहेंग।आवश्यक सेवाएं जारी रहेगी।
कृषि कानून का विरोध दिल्ली के राजपथ तक पहुंच गया है। पंजाब यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं नें नये कृषि कानूनों का विरोध करते हुए इंडिया गेट के पास ट्रैक्टर में आग लगा दी और विरोध प्रदर्शन करने लगे। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि आज वो खाटकर कला शहीद भगत नगर में तीनों कृषि कानून के खिलाफ धरना पर बैठेंगे।
महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में नये कृषि कानून को लागू नहीं करने का एलान किया है। सरकार का कहना है। कि यह किसान विरोधी कानून है। इसलिए इसे राज्य में लागू नहीं किया जायेगा महा विकास अगाड़ी भी राज्य में इस कानून के लागू होने का विरोध कर रहा है। महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री बाला साबेह थोराट ने कहा कि हम सभी एक साथ बैठकर इसके लिए रणनीति तैयार करेंगे।
जम्मू कश्मीर के सांबा में ऑल जेके किसान संघ द्वारा नये कृषि कानून का विरोध में प्रदर्शन किया गया। कानून का विरोध करते हुए कार्यकर्ताओं ने कहा कि देश के 70 फीसदी लोग खेतीबारी करते हैं। लेकिन सरकार ने मात्र पांच फीसदी लोगों को खुश करने के लिए किसान विरोधी कानून पास किया है।
कृषि कानून के विरोध में छत्तीसगढ किसान यूनियन ने बैठक कि और फैसला किया की आगामी पांच अक्टूबर को कानून के विरोध में यूनियन द्वारा प्रदर्शन किया जायेगा यूनियन ने आरोप लगाया कि इस कानून से पूजीपतियों और उद्योगपतियों को लाभ होगा। यह कानून किसानों के हित में नहीं है।             


यादव के कार्यकर्ताओं पर बरसी लाठियां

लखनऊ। शिवपाल यादव के कार्यकर्ताओं पर बरसीं लाठियां।


लखनऊ। मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने जा रहे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।अपनी पन्द्रह सूत्रिय मांगों को लेकर प्रसपा कार्यकर्ता मुख्यमंत्री आवास घेरने जा रहे थे। पुलिस ने उन्हें रास्ते में रोकने की कोशिश की। इसके बाद पुलिस और कार्यकर्ताओं  में नोकझोंक हो गई। इसके बाद पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर लाठी चार्ज कर दिया। साथ ही पुलिस ने कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया।             


अब दिल के हर मर्ज का होगा इलाज

अब दिल के हर मर्ज का होगा सटीक इलाज मेडिकल साइंस ने पाई ये सफलता।


वाशिंगटन डीसी। वैज्ञानिकों ने स्वस्थ हृदय का बेहद गहन आणविक और कोशिकीय संरचना तैयार करने में कामयाबी पाई है। इससे ज्यादा बेहतर तरीके से हृदय की कार्यप्रणाली समझ में आएगी और यह भी समझ आएगा कि हृदय रोग में क्या जटिलताएं सामने आती हैं। वैज्ञानिकों को उम्मीद है। कि इससे हर दिल की अलग-अलग समस्याओं को समझकर अलग-अलग इलाज किया जा सकेगा।
यह शोध जर्नल नेचर में प्रकाशित हुआ है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल और इंपीरियल कॉलेज ऑफ लंदन समेत कई संस्थानों ने मिलकर हार्ट की यह बेहद गहन मैपिंग की है। इसके लिए हृदय की करीब 50 लाख कोशिकाओं की मैपिंग की गई। इसके जरिये हृदय की अलग-अलग कोशिकाओं  उसे सुरक्षित रखने वाली प्रतिरोधी कोशिकाओं रक्त नलिकाओं के नेटवर्क की संरचनाओं को खंगाला। शोधकर्ता यह भी जान पाए कि हृदय को कार्यशील बनाए रखने के लिए कोशिकाएं कैसे एक-दूसरे तक सूचनाएं पहुंचाती हैं। शोधकर्ताओं की दिल की इन कोशिकाओं की मैपिंग शरीर के सभी कोशिकाओं की संरचना की पहचान कर उनका एटलस तैयार करने की कवायद का हिस्सा है। शोधकर्ताओं का कहना है। कि भविष्य में इससे हार्ट के लिए विशेष थेरेपी या दवा तैयार करने और क्षतिग्रस्त कोशिकाओं की मरम्मत करने में काम आ सकती है। सामान्य जीवनकाल में दो अरब बार धड़कता है। दिल
औसत जीवनकाल में हमारा हृदय करीब दो अरब बार धड़कता है। इस कवायद में यह कोशिकाओं ऊतकों और अंगों तक पोषण और ऑक्सीजन की आपूर्ति करता है। साथ ही कार्बन डाई ऑक्साइड और अवशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालता है। हर दिन हृदय अपने चार चैंबरों के जरिये करीब एक लाख बार स्पंदन करता है। जब इस स्पंदन में गड़बड़ी होती है। तो अलग-अलग तरह के हृदय रोग सामने आते हैं। हर साल एक करोड़ 79 लाख लोग हृदय रोगों के कारण मारे जाते हैं।               


सैमसन ने ध्यान अपनी ओर खींच लिया

जयपुर। राजस्थान रॉयल्स के विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन ने सीजन-13 के महज 2 मैच में ही सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया है, आईपीएल की शुरुआत से पहले भले ही रिषभ पंत जैसे विकेटकीपर बल्लेबाजों पर सबकी नजर थी, और ये युवा खिलाड़ी सुर्खियों में थे, लेकिन जब मैच की शुरुआत हुई तो फिर कुछ और ही पिक्चर देखने को मिल रही है, महज दो मैच में ही संजू सैमसन ने सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया है और ये हो सका है। अच्छी विकेटकीपिंग और शानदार बल्लेबाजी से संजू सैमसन ने आईपीएल सीजन-13 के अपने पहले मैच में चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ भी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की थी और चौके कम और सिक्सर ज्यादा लगाए थे संजू सैमसन ने चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ सीजन के पहले ही मैच में 32 गेंद में 74 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली थी और अपनी इस पारी में सिक्सर तो 9 उड़ाए थे और चौका एक ही लगाया था।                


प्रसिद्ध गीतकार अभिलाष का निधन हुआ

नई दिल्ली। ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’ के रचयिता गीतकार अभिलाष का कल देर रात मुंबई के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह 74 वर्ष के थे। अभिलाष के एक परिवारिक मित्र विजय प्रभाकर नगरकर ने बताया कि अभिलाष ने मार्च में पेट के एक ट्यूमर का ऑपरेशन कराया था। तभी से उनकी तबीयत ठीक नहीं चल रही था। रेगांव पूर्व के शिव धाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनका वास्तविक नाम ओमप्रकाश कटारिया था। उनका जन्म 13 मार्च 1946 को दिल्ली में हुआ। उनके परिवार में एक पुत्र है। पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह ने उन्हें कलाश्री पुरस्कार से सम्मानित किया था। सिने गीतकार


अभिलाष का विश्व प्रसिद्ध गीत ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’ देश के 600 विद्यालयों में प्रार्थना गीत के रूप में गाया जाता है। विश्व की आठ भाषाओं में इस गीत का अनुवाद हो चुका है और इसे प्रार्थना गीत के रूप में गाया जाता है। इस गीत को वर्ष 1985 में फ़िल्म अंकुश के लिए संगीतबद्ध किया था। इस गीत को तकरीबन दो करोड़ माेबाइल फोन धारकों ने अपने कॉलर ट्यून बनाया है। ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’ गीत के अलावा गीतकार अभिलाष के लिखे सांझ भई घर आजा (लता), आज की रात न जा (लता), वो जो ख़त मुहब्बत में (ऊषा), तुम्हारी याद के सागर में (ऊषा), संसार है इक नदिया (मुकेश), तेरे बिन सूना मेरे मन का मंदिर (येसुदास) आदि गीत भी बेहद लोकप्रिय हुए। वह लगभग 40 सालों से फ़िल्म जगत में सक्रिय रहे।           


बेनकाब कांग्रेस, किसानों को कर रही गुमराह

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा कृषि कानूनों के विरोध में इंडिया गेट के पास एक ट्रैक्टर को आग के हवाले करने की घटना को लेकर हमला बोला। जावड़ेकर ने कहा, “कांग्रेस बेनकाब हो गई है और किसानों को गुमराह कर रही है। वे किसानों के नाम पर नाटक और राजनीति कर रही है।” उन्होंने ‘घोषणापत्र में कुछ कहने और सिर्फ इसके विपरीत करने के लिए’ कांग्रेस की खिंचाई की। जावड़ेकर ने ट्वीट भी किया, “कांग्रेस के कार्यकर्ता ट्रक में ट्रैक्टर लाए और इंडिया गेट के पास जलाया। यही है कांग्रेस का नाटक। इसलिए कांग्रेस को लोगों ने सत्ता से बेदखल किया।” कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया और कहा, “कृषि कानून हमारे किसानों के लिए मौत की सजा है। संसद और बाहर उनकी आवाज को कुचल दिया जाता है।” राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा कृषि विधेयकों पर हस्ताक्षर करने और उन्हें कानून बनाने के एक दिन बाद, पंजाब युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को उच्च सुरक्षा वाले इंडिया गेट इलाके में एक ट्रैक्टर को आग के हवाले कर अपना विरोध जताया। दिल्ली पुलिस ने घटना में शामिल पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। क्रांतिकारी भगत सिंह की जयंती पर सुबह लगभग 7.15 बजे विवादास्पद कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए पंजाब युवा कांग्रेस के लगभग 10-15 कार्यकर्ता एक ट्रक से राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने ट्रक से एक ट्रैक्टर को उतारा और उसमें आग लगा दी। आईवाईसी ने एक ट्वीट में भगत सिंह की कही बात को उद्धृत करते हुए कहा, “अगर बहरों को सुनाना है, तो आवाज बहुत तेज होनी चाहिए: भगत सिंह।” ट्वीट में कहा गया, “शहीद भगत सिंह की स्मृति के सम्मान में, पंजाब युवा कांग्रेस ने इंडिया गेट पर एक ट्रैक्टर को जलाकर किसानों के प्रति भाजपा सरकार के उदासीन रवैये का विरोध किया। सोते हुए सरकार को जगाओ। इंकलाब जिंदाबाद।” इसने इस घटना का एक वीडियो भी अटैच किया।               


यूपीः कोरोना नियंत्रण के लिए बनाई रणनीति

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद लखनऊ, कानपुर नगर और मेरठ में कोविड-19 के सम्बन्ध में विशेष रणनीति बनाकर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री सोमवार को यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग और सर्विलांस जितना सुदृढ़ होगा, कोरोना के प्रसार को रोकने में उतनी ही अधिक सफलता मिलेगी। योगी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि माइक्रो कन्टेनमेन्ट जोन, टेस्टिंग और सर्विलांस के सम्बन्ध में निरन्तर फीडबैक लेते हुए उचित कार्रवाई करें। कोविड की रोकथाम के लिए लखनऊ , कानपुर नगर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। पिछले एक सप्ताह में सक्रिय कोरोना के मामलों की संख्या में काफी कमी आई है, यह एक अच्छा संकेत है और ये दर्शाता है कि राज्य सरकार की कोविड-19 के प्रति अपनाई गई रणनीति कारगर रही है। कोविड-19 नियंत्रण सम्बन्धी कार्य सक्रियता के साथ निरन्तर जारी रखें जाएं। उन्होंने फोकस्ड टेस्टिंग किए जाने पर बल देते हुए कहा कि कोविड बेड्स की संख्या में बढ़ोतरी सुनिश्चित की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी त्यौहारों के दृष्टिगत कोविड-19 के सम्बन्ध में पूरी सतर्कता व बचाव के उपाय अपनाते हुए कार्य संचालित किए जाएं। महत्वपूर्ण चौराहों व स्थानों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से कोविड-19 के सम्बन्ध में जागरूकता फैलाने का काम प्रभावी रूप से किया जाए। निगरानी समितियों को कार्यशील रखा जाए। कोविड हेल्प डेस्क सभी अस्पतालों, औद्योगिक इकाइयों, सरकारी कार्यालयों में निरन्तर कार्यशील रहें।           


दिल्लीः 1 अक्टूबर से शुरू होगी हवाई यात्रा

नई दिल्ली। दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक अक्टूबर से टर्मिनल-2 से दोबारा उड़ानें शुरू होंगी। दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (डायल) ने बताया कि एक अक्टूबर से गोएयर की सभी उड़ानें और इंडिगो की ‘2000 सीरीज’ की उड़ानें टी-2 से रवाना होंगी।


छह महीने बाद इस टर्मिनल पर उड़ानों की आवाजाही दोबारा शुरू हो रही है। कोविड-19 के कारण दो महीने बंद रहने के बाद 25 मई को जब देश में घरेलू यात्री उड़ानें दोबारा शुरू हुईं तो उड़ानों की संख्या कम होने की वजह से दिल्ली में सिर्फ एक ही टर्मिनल टी-3 का इस्तेमाल जा रहा था। अब उड़ानों की संख्या बढ़ने के साथ ही कुछ उड़ानों को टी-2 पर स्थानांतरित किया जा रहा है। डायल ने बताया कि 01 अक्टूबर से टी-2 पर 96 जोड़ी उड़ानों का परिचालन होगा। अक्टूबर के अंत तक यह संख्या बढ़ाकर 180 की जायेगी। टर्मिनल पर गोएयर के लिए 11 और इंडिगो के लिए 16 काउंटर होंगे। एक अक्टूबर को पहली उड़ान सुबह 6.25 बजे रवाना होगी। इंडिगो की यह उड़ान दिल्ली से श्रीनगर जायेगी।         


कृषि कानून किसानों की मौत का फरमान

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में संसद में पारित कृषि कानून को लेकर मोदी सरकार पर फिर निशाना साधा और कहा कि उसने यह कानून लाकर किसानों के लिए मौत का फरमान जारी किया है। राहुल गांधी ने सोमवार को ट्वीट किया, “कृषि संबंधी कानून हमारे किसानों के लिए मौत का फरमान हैं। उनकी आवाज संसद और संसद के बाहर दोनों जगह दबाई गयी। यह प्रमाण है कि भारत में लोकतंत्र खत्म हो गया है।”


इसके साथ ही उन्होंने एक अखबार में छपी एक खबर भी पोस्ट की है जिसमें कहा गया है कि राज्यसभा के उपसभापति कहते हैं कि विधेयक को पारित करते समय जब मत विभाजन की मांग की गयी तो विपक्ष अपनी सीटों पर नहीं था लेकिन राज्यसभा टीवी की तस्वीरें कुछ और ही दिखा रही हैं।             


आतंकी हाजा को सुनाई उम्रकैद की सजा

कोच्चि। यहां की एक विशेष एनआईए अदालत ने सोमवार को इस्लामिक स्टेट में भर्ती होने गए सुब्हानी हजा मोइदीन को उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही इराक सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए उस पर 2.10 लाख रुपये का जुमार्ना भी लगाया है। अदालत ने शुक्रवार को मोइदीन पर लगे आरोपों को लेकर उसे दोषी पाया था और सोमवार को सजा सुनाने की बात कही थी।


मोइदीन के खिलाफ अदालत ने जो आरोप लगाए हैं, उनमें आपराधिक साजिशें रचने के अलावा गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) भी शामिल है। बता दें कि मोइदीन को एजेंसी ने अक्टूबर 2016 में गिरफ्तार किया था। मोइदीन ने अदालत में निर्दोष होने की बात कही। साथ ही कहा कि उसने किसी भी आतंकवादी गतिविधियों में हिस्सा नहीं लिया और किसी भी देश के खिलाफ युद्ध नहीं किया है।जबकि मोइदीन पर आरोप है कि उसने 2015 में पेरिस में हुए आतंकवादी हमले के एक आरोपी सालाह अब्देसलाम के साथ हथियारों का प्रशिक्षण प्राप्त किया था। इस हमले में 130 लोग मारे गए थे। हमले को लेकर मोइदीन का बयान लेने के लिए 2018 में फ्रांसीसी पुलिस ने यहां की जेल का दौरा भी किया था।           


गोवा के डीजीपी कोरोना संक्रमित मिलें

पणजी। गोवा के पुलिस महानिदेशक मुकेश कुमार मीणा कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। उनको यहां एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि, गोवा के डीजीपी सोमवार सुबह कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए और उनको मनिपाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मीणा को इसी साल जून में गोवा का डीजीपी बनाया गया था।               


मथुराः जन्मभूमि मामले में 30 को सुनवाई

मथुरा। श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मालिकाना हक मामले को लेकर दाखिल याचिका पर अब 30 सितंबर को सुनवाई होगी। सोमवार को इस याचिका पर सुनवाई होनी थी, लेकिन याचिकाकर्ता अदालत नहीं पहुंचे।


श्रीकृष्ण विराजमान, स्थान श्रीकृष्ण जन्मभूमि और कई लोगों की ओर से पेश किए दावे में कहा गया है कि 1968 में श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ (जो अब श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के नाम से जाना जाता है) और शाही ईदगाह मस्जिद के बीच जमीन को लेकर समझौता हुआ था। इसमें तय हुआ था कि मस्जिद जितनी जमीन में बनी है, बनी रहेगी।सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता हरीशंकर जैन और विष्णु शंकर जैन ने मथुरा की सीनियर सिविल जज छाया शर्मा की अदालत में याचिका दाखिल की है। भगवान श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से दाखिल की गई इस याचिका में न्यायालय से 13.37 एकड़ की जन्मभूमि का मालिकाना हक मांगा गया है।                


जल्दः ब्याज पर ब्याज में छूट पर निर्णय

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। केंद्र ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि मोरेटोरियम के दौरान स्थगित ईएमआई में ब्याज पर ब्याज में छूट को लेकर निर्णय लेने की प्रक्रिया एडवांस स्टेज में है और दो या तीन दिनों के भीतर फैसला आ सकता है। न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को सूचित किया है कि मुद्दे सरकार द्वारा सक्रिय रूप से विचाराधीन हैं, और दो या तीन दिनों के भीतर निर्णय लिए जाने की संभावना है। मेहता ने शीर्ष अदालत के समक्ष कहा कि वह गुरुवार तक हलफनामा सर्कुलेट करने का प्रयास करेंगे और मामले की सुनवाई सोमवार को हो सकती है।         


कश्मीरः मुठभेड़ में घायल युवक ने तोड़ा दम

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के सिरहामा में शुक्रवार को मुठभेड़ स्थल पर एक जिंदा ग्रेनेड के अचानक फटने से घायल हुए एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया। यह जानकारी अधिकारियों ने सोमवार को दी। मिली जानकारी के अनुसार, मुठभेड़ स्थल पर गोलीबारी खत्म होने के बाद वहां गए यासीन अहमद राथर, एक जिंदा ग्रेनेड के अचानक फटने से घायल हो गया था।


अनंतनाग के एसएसपी संदीप चौधरी ने बताया, “आतंकवादियों ने तीन ग्रेनेड दागे थे। दो विस्फोट हुए, जबकि तीसरे को मलबे से बरामद नहीं किया जा सका। घायल व्यक्ति को वह ग्रेनेड मलबे से मिला था और वह उठाते समय फट गया।”                 


गाजियाबाद में मिले 229 नए संक्रमित

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। जिले में 229 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटों की अवधि में गाज़ियाबाद में 117 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई जबकि एक व्यक्ति की मौत हो गई है। गाज़ियाबाद में वर्तमान सक्रिय मरीजों की संख्या 1,861 है। मरने वाले व्यक्ति की उम्र 65 वर्ष थी और वह चिप्याना गाँव के रहने वाले थे।  उन्हें सांस लेने में तकलीफ की शिकायत होने पर 4 दिन पहले एल-3 अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि जिला स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि तकनीकी कारणों से इस मौत को नोएडा के खाते में दर्ज किया जाएगा।


अब देह व्यापार अपराध नहींः हाईकोर्ट

मुंबई। देह व्यापार अब अपराध नहीं क्योंकि कोई भी वयस्क महिला जीवनयापन के लिए अपना पेशा चुन सकती है | मुंबई हाईकोर्ट के इस महत्वपूर्ण फैसले से देश में नई बहस छिड़ गई है | मुंबई हाई कोर्ट ने देह व्यापार में शामिल तीन युवतियों से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए उन्हें सुधारगृह से रिहा करने के आदेश दिए। अदालत ने तीन महिलाओं से जुड़े देह व्यापार के मामले पर सुनवाई करते हुए कहा, किसी भी वयस्क महिला को अपना पेशा चुनने का अधिकार है। अदालत ने कहा कि किसी भी वयस्क महिला को उसकी सहमति के बिना लंबे समय तक सुधारगृह में नहीं रखा जा सकता। मामले की सुनवाई के बाद फैसला देते हुए अदालत ने तीन युवतियों को सुधारगृह से रिहा करने का आदेश दिया | न्यायमूर्ति पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि इममॉरल ट्रैफिकिंग कानून 1956 (अनैतिक व्यापार निवारण अधिनियम) का उद्देश्य देह व्यापार को खत्म करना नहीं है। इस कानून के अंतर्गत ऐसा कोई भी प्रावधान नहीं है जो वेश्यावृत्ति को स्वयं में अपराध मानता हो अथवा देह व्यापार से जुडे़ हुए को दंडित करता हो। इस कानून के तहत सिर्फ व्यवसायिक उद्देश्य के लिए यौन शोषण करने व सार्वजनिक जगह पर अशोभनीय हरकत को दंडित माना गया है।           


जोखिम में जीडीपी, खतरे में लाखों नौकरियां

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना महामारी की चपेट में आने और सरकारी उदासीनता का सामना करते हुए सैंकड़ों टूर ऑपरेटरों ने विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर रविवार को दिल्ली एक ‘विरोध रैली’ निकाली जिसे वो एक अपील रैली कह रहे थे। इन प्रदर्शनकारियों ने इस संकट से निपटने के लिए सरकार से मदद और राहत की मांग की है। इसके लिए दिल्ली में लगभग 150 गाड़ियों में 300 टूर ऑपरेटरों ने वसंत कुंज से लेकर इंडिया गेट तक एक शांतिपूर्ण रैली निकाली, पोस्टरों पर लिखा था- ‘हमने अपने टैक्स का भुगतान किया। हमने अपने कर्मचारियों को भुगतान किया और अब सरकार को हमें ध्यान देने की आवश्यकता है’, ‘10% जीडीपी जोखिम में’ और ‘लाखों नौकरियां खतरे में’ इस दौरान इंडिया गेट पर इस रैली में शामिल हुए दिल्ली बेस्ड ट्रैवल फर्म प्लैनेट इंडिया ट्रेवल्स प्राइवेट लिमिटेड के राजेश मुदगिल ने दिप्रिंट को बताया, ‘हमने एयरलाइनों और रेलवे को जो बहुत सारा पैसा एडवांस दिया था वो अब रिफंड नहीं हो रहा है। ये हमें एक गहरे वित्तीय संकट में धकेल रहा है।’ उन्होंने यह भी कहा कि उनमें से कई लोगों को अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए अपनी ही संपत्ति बेचनी भी पड़ी है। वे बताते हैं ‘अब हम एक लंबे समय तक अपने कर्मचारियों को भुगतान करने में सक्षम नहीं होंगे। अगर हम लोन भी लेते हैं तो उस लोन के ब्याज का भुगतान भी नहीं कर पाएंगे। सरकार को इस व्यवसाय को बनाए रखने में मदद करनी चाहिए।’


गाजियाबादः नशे में चालक ने मारी टक्कर

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। इंदिरापुरम गाज़ियाबाद के अभय खंड क्षेत्र में रविवार रात को कार और मोटर साइकिल के बीच हुई टक्कर में दो युवक घायल हो गए।  साई मंदिर के पास हुई इस दुर्घटना के बाद राहगीरों ने कार चालक को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया जबकि घायलों को उपचार के लिए ट्रांस हिंडन के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


पुलिस सूत्रों के अनुसार घायल युवकों के नाम सतवीर और रोहन हैं जो रिश्ते में चाचा भतीजे लगते हैं।  इन्दिरा पुरम थाना प्रभारी  निरीक्षण संजीव शर्मा ने बताया कि चिपियाना खुर्द गौतमबुद्ध नगर के रहने वाले सतवीर अपने भतीजे रोहन के साथ रविवार रात करीब दस बजे खोड़ा की ओर से घर जा रहे थे। अभय खंड क्षेत्र में साई मंदिर के पास कार ने पीछे से उनकी मोटर साइकिल में टक्कर मार दी। जिसमें दोनों घायल हो गए। राहगीरों ने कार चालक को पकड़ लिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने कार चालक को हिरासत में ले लिया दोनों घायलों को उपचार के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनकी स्थिति नाजुक बनी हुई है। स्थानीय नागरिकों का कहना है कि दुर्घटना के समय कार चालक नशे में धुत था। चर्चा यह भी है कि वह दिल्ली पुलिस में सिपाही है, हालांकि इसकी अब तक पुष्टि नहीं हो सकी है।         


छत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर जारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है, रोजाना प्रदेश के अलग-अलग जिलों से नए संक्रमितों की पुष्टि हो रही है। वहीं, मौत के आंकड़ों में भी तेजी से इज़ाफा हो रहा है। इसी बीच स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल बुलेटिन जारी कर प्रदेश में कोरोना की स्थिति को लेकर जानकारी दी है। जारी बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में आज कुल 2272 नए मामले सामने आए हैं और 960 लोग डिस्चार्ज हुए हैं। वहीं कल 19 और कोरोना संक्रमित की मौत हो गई। मिली जानकारी के अनुसार कल मिले नए मरीजों में से रायपुर 462, रायगढ़ 227, दुर्ग 187, बिलासपुर 177, जांजगीर 117, बलौदाबाजार 112, कोरबा 103, दंतेवाड़ा 99, बस्तर 84, राजनांदगांव 80, बालोद 68, बेमेतरा 33, धमतरी 59, महामसुंद 47, गरियाबंद 21, बीजापुर 54, मुंगेली 56, सरगुजा 46, कोरिया 28, सूरजपुर 28, बलरामपुर 25, जशपुर 26, नारायणपुर 20, कांकेर 42, सुकमा 5 और गौरेला-पेंड्रा-मरवाही 4 मरीज शामिल हैं।               


खुदाई में निकले 2484 चांदी के सिक्के

बड़वानी। मध्य प्रदेश के बड़वानी जिला मुख्यालय पर नीमा समाज के इंद्र परिसर भवन के समीप हुई खुदाई में आठ अगस्त को चांदी के सिक्कों से भरा तांबे का घड़ा निकला था। इसे खोदाई कार्य करवा रहे ठेकेदार ने अपने पास रख लिया। सूचना पर पुलिस ने ठेकेदार 42 वर्षीय कैलाश पुत्र रणछोड़ धनगर को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो उसने यह बात स्वीकार कर ली। पुलिस ने उसके पास से होलकरकालीन 2484 चांदी के सिक्के जब्त किए हैं। इनका वजन 27 किलो 300 ग्राम है। पुलिस ने इनकी अनुमानित कीमत करीब 14 लाख रपये बताई है।                गग


मुंबई में यूपी पुलिस की गाड़ी पलटीं, मौत




मुंबई। मुंबई से एक गैंगस्टर को गिरफ्तार कर लखनऊ ले जा रही यूपी पुलिस की निजी गाड़ी मप्र के गुना जिले में पाखरिया पुरा टोल के पास रविवार सुबह पलट गई। आरोपित फिरोज अली की हादसे में मौके पर मौत हो गई, जबकि एक सब इंस्पेक्टर व सिपाही समेत चार लोग घायल हो गए। घायलों को ब्यावरा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ठीक ऐसे ही 10 पुलिसकर्मियों की हत्‍या का आरोपी विकास दुबे को उज्‍जैन से लाते समय कानपुर से पहले यूपी पुलिस की गाड़ी पलट गई थी। बाद में घटनास्‍थल से भागते समय विकास दुबे का पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया था। इसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। इस घटना ने विकास दुबे कांड को फिर से याद दिला दि‍या।   







पुलिस के अनुसार, 58 वर्षीय फिरोज उर्फ शमी बहराइच जिले के थाना कोतवाली के दरगाह शरीफ घंटाघर का रहने वाला था। लखनऊ के ठाकुरगंज थाने में वर्ष 2014 में उसके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज था। तभी से वह फरार था। उसे गिरफ्तार करने के लिए सब इंस्पेक्टर जगदीश प्रसाद पाण्डेय, कांस्टेबल संजीव सिंह और आरोपित के साढ़ू भाई अफजल पुत्र मुन्ना खान निवासी लखनऊ के साथ मुंबई गए थे।



फिरोज मुंबई के नाला सोपारा इलाके की झुग्गी बस्ती में रह रहा था। मुंबई से फिरोज की गिरफ्तारी के बाद पुलिस टीम शनिवार को लखनऊ के लिए रवाना हुई। रविवार सुबह साढ़े छह बजे हादसा हो गया। हादसे में फिरोज की मौत हो गई। अफजल खान का हाथ फ्रैक्चर हुआ है। पुलिसकर्मी संजीव, जगदीश प्रसाद व वाहन चालक सुलभ मिश्रा को भी चोटें आई हैं। जगदीश प्रसाद ने गुना के पुलिस अधिकारियों को बताया कि सड़क पर अचानक गाय सामने आ गई थी। उसे बचाने में वाहन पलट गया। यह भी आशंका जताई जा रही है कि चालक को झपकी आने के कारण हादसा हुआ है।             





अमेरिका में फैला दिमाग खाने वाला अमीबा




वाशिंगटन डीसी/ बीजिंग। कोरोना महामारी के कहर के बीच अमेरिका में दिमाग खा जाने वाले सूक्ष्म जीव अमीबा का प्रकोप सामने आया है। पेयजल आपूर्ति में अमीबा के पाए जाने के बाद टेक्सास राज्य में हड़कंप मच गया। कई शहरों में पेयजल आपूर्ति का पानी न पीने की चेतावनी जारी की गई है।







बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, टेक्सास में लेक जैक्सन में अमीबा के कारण एक बच्चे की मौत सामने आई है। जांच के दौरान पानी की आपूर्ति में मस्तिष्क खाने वाले सूक्ष्म जीव की मौजूदगी पाई गई थी। इसके बाद निवासियों को नल के पानी का उपयोग नहीं करने के लिए कहा गया है। हालांकि, अधिकारियों ने अच्छी तरह से पानी कीटाणुरहित कर दिया, लेकिन एहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं।


टेक्सास में आठ सितंबर को एक बच्चे को अस्पताल में दाखिल कराया गया तो अमीबा के होने की बात सामने आई। डॉक्टरों ने बताया कि अमीबा के संपर्क में आने के कारण जोशिया मैकइंटायर की मौत हो गई। रिपोर्टों के अनुसार, वह उस क्षेत्र के पानी से संक्रमित हो गया था। इसके बाद, निवासियों को सख्त निर्देश दिए गए कि वे नल के पानी का उपयोग न करें। विशेष तौर पर पानी को मुंह और नाक के जरिये शरीर के अंदर न जाने दें। प्रभावित क्षेत्रों में लेक जैक्सन, फ्रीपोर्ट, एंग्लटन, ब्रेजोरिया, रिचवुड, ऑयस्टर क्रीक, क्लूट और रोसेनबर्ग शामिल हैं। हालांकि, बाद में लेक जैक्सन को छोड़कर बाकी जगहों से चेतावनी को हटा दिया गया है।             





शुक्र ने बदली राशि, सिंह में किया प्रवेश

शुक्र ग्रह सोमवार को अपना घर बदलेगा और इसका प्रभाव राशियों पर पड़ेगा। शुक्र ग्रह 27 सितंबर की मध्य रात्रि 12.50 बजे अपनी कर्क राशि को छोड़कर सिंह राशि में प्रवेश करेगा और 23 अक्टूबर तक सिंह राशि में गोचर करेगा।


ज्योतिषियों के अनुसार शुक्र ग्रह मान-सम्मान को बढ़ाता है और सुख-समृद्धि दायक है। शुक्र एक प्रकार से शुभ ग्रह है। जिन जातकों की कुंडली में शुक्र ग्रह की स्थिति होती है उन्हें सुख-समृद्धि भी अधिक मिलती है। भगवताचार्य रोहित शर्मा ने बताया कि शुक्र ग्रह के प्रभाव से दांपत्य जीवन में भी उतार-चढ़ाव आते हैं। शुक्र ग्रह का गोचर सिंह राशि में हो रहा है, जिसका असर सभी राशियों पर दिखाई देगा। शुक्र ग्रह के दुष्परिणामों से बचने के लिए कुछ उपाय हैं, जिन्हें करने से संकट निकट नहीं आता है।


इन राशियों पर होगा प्रभाव


मेषः कार्य क्षेत्र में सफलता व धन लाभ का योग बन रहा है।


वृषभः सुख-सुविधाओं में वृद्धि, जीवनसाथी से अच्छा तालमेल बनेगा।


मिथुनः वाद-विवाद से बचें, व्यापारिक यात्रा के योग बन रहे हैं।


कर्कः संवाद क्षमता सुधरेगी, जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ख्याल रखें।


सिंहः भौतिक सुख-सुविधाएं मिलेंगी व वाहन से लाभ होगा।


कन्याः भाग्य में वृद्धि, कार्यक्षेत्र में अच्छा लाभ होगा।


तुलाः क्रोध पर नियंत्रण रखें, मेहनत का पूरा फल मिलेगा।


वृश्चिकः नौकरी और व्यापार से लाभ, पदोन्नति व वेतन वृद्धि के आसार।


धनुः कुछ कार्यों में बाधाओं से बेचैनी रहेगी। घर में अनुकूलता बनाएं।


मकरः व्यापार में परेशानी आएगी, उधार देने से बचें।


कुंभः नौकरी में प्रमोशन, जीवनसाथी के साथ मधुर संबंध बनेंगे।


मीनः कर्ज और गुप्त शत्रुओं से बचें, प्रतियोगी परीक्षा के लिए मेहनत करें।                


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)











 सितंबर 29, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-46 (साल-02)
2. मंगलवार, सितंबर 29, 2020
3. शक-1944, अश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि- द्वादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 60:04, सूर्यास्त 06:25।


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेंगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275                                


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                          











आखिरी थ्रो में भाला फेंककर स्वर्ण पदक जीता: नीरज

लिस्बन। स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने अपने अंतर्राष्ट्रीय सत्र की शुरुआत सिटी ऑफ लिस्बन एथलेटिक्स मीट में गुरूवार को 83.18 मीटर की थ्र...