बुधवार, 29 जुलाई 2020

2 हफ्ते से पहले मिल जाएगी 'वैक्सीन'

मॉस्को। कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया की आर्थिक और सामाजिक तौर से कमर तोड़ कर रख दी है। इस समय हर किसी को कोरोना की वैक्सीन आने का इंतजार है। इस बीच रूस से अच्छी खबर आई है। रूस दो हफ्तों से भी कम समय में दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे सकता है। ये जानकारी सीएनएन ने अपनी रिपोर्ट में दी है। रूसी अधिकारियों ने सीएनएन को बताया कि वे वैक्सीन की मंजूरी के लिए 10 अगस्त या उससे पहले की तारीख पर काम कर रहे हैं। इस वैक्सीन को मॉस्को स्थित गमलेया इंस्टीट्यूट ने बनाया है।


वैक्सीन के ट्रायल पर उठ रहे सवाल
अधिकारियों के मुताबिक, वैक्सीन को पब्लिक यूज के लिए मंजूरी दी जाएगी। फ्रंटलाइन हेल्थकेयर वर्कर्स को पहले यह मिल जाएगी। लेकिन रूस ने अभी तक वैक्सीन के ट्रायल का कोई डेटा जारी नहीं किया है। इस वजह से इसकी प्रभावशीलता के बारे में टिप्पणी नहीं की जा सकती है।आलोचकों का कहना है कि जल्द वैक्सीन लाने का राजनीतिक दबाव है, जो रूस को एक वैश्विक वैज्ञानिक शक्ति के रूप में दर्शाने के लिए उत्सुक है। इसके अलावा वैक्सीन के अधूरे ह्यूमन ट्रायल पर भी सवाल उठ रहे हैं।     


शिवांशु 'निर्भयपुत्र'       


अलकायदा का नया अड्डा बना है केरल

नई दिल्ली। देश में अलकायदा दक्षिण भारतीय राज्य केरल में अपने पैर पसार रहा है। आतंकियों का नया गढ़ ये राज्य बन रहा है। इस खुलासे के बाद खुफिया एजेंसियों की नींद उड गई है।


संयुक्त राष्ट्र की आईएसआईएस, अल-कायदा और इनसे संबद्ध व्यक्तियों एवं संस्थाओं से जुड़ी एक निगरानी दल की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा तालिबान के तहत अफगानिस्तान के निमरूज, हेलमंद और कंधार प्रांतों से काम करता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि, संगठन में बांग्लादेश, भारत, म्यामांर और पाकिस्तान से 150 से 200 के बीच सदस्य हैं। एक्यूआईएस का मौजूदा सरगना ओसामा महमूद है, जिसने मारे गए आसिम उमर की जगह ली है। ऐसी जानकारी मिल रही है कि एक्यूआईएस अपने पूर्व मुखिया की मौत का बदला लेने के लिए क्षेत्र में तगड़ी जवाबी कार्रवाई की साजिश रच रहा है।


रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि, एक सदस्य राष्ट्र ने खबर दी है कि 10 मई, 2019 को घोषित, आईएसआईएस के भारतीय सहयोगी (हिंद विलायाह) में 180 से 200 के बीच सदस्य हैं। इसमें कहा गया है कि केरल और कर्नाटक राज्यों में आईएसआईएस सदस्यों की अच्छी-खासी संख्या है। खास कर केरल अलकायदा आतंकवादियों का नया गढ़ बनता जा रहा है। इस रिपोर्ट के बाद देश की सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हो गई हैं।


400 साल खड़ी रही अयोध्या में 'बाबरी'

नई दिल्ली। भगवान राम की जन्म स्थली अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत के लिए तैयारियां पूरे जोरों पर हैं जो पांच अगस्त को मंदिर निर्माण के भूमि पूजन समारोह में शामिल होने यहां आएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंदिर निर्माण के भूमि पूजन समारोह में शामिल होने पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन नेता असदुद्दीन ओवैसीने सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि अयोध्या में भूमि पूजन का हिस्सा बनना प्रधानमंत्री पद की संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा। ओवैसी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘आधिकारिक तौर पर भूमि पूजन में हिस्सा लेना प्रधानमंत्री की संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा। धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल भावना है।


साथ ही  लिखा है, ‘हम भूल नहीं सकते कि 400 साल तक अयोध्या में बाबरी मस्जिद खड़ी रही थी और उसे 1992 में अपराधी भीड़ ने ढहा दिया था।


बता दें, जिन सड़कों से प्रधानमंत्री का काफिला गुजरेगा, वहां दोनों ओर की इमारतों पर पीला रंग-रोगन किया जा रहा है जिनपर रामायाण के विभिन्न पात्रों की तस्वीरें उकेरी जा रही हैं। पीएम मोदी साकेत कॉलेज स्थित हेलीपैड से राम जन्मभूमि पहुंचेंगे। अयोध्या सूचना विभाग के उपनिदेशक मुरलीधर सिंह ने बताया कि सड़क की तीन किलोमीटर की पट्टी के दोनों ओर की इमारतों पर रंग-रोगन और रामायण के विभिन्न पात्रों की तस्वीरें उकेरने का काम अयोध्या नगर निगम कर रहा है। उन्होंने बताया कि साकेत में हेलीपैड पर भगवान राम और मां सीता के आदमकद रेखाचित्र नजर आएंगे, वहीं सड़कों के दोनों ओर इमारतों की दीवारों पर रामायण के विभिन्न चरित्रों की तस्वीरें दिखेंगी। अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री हनुमानगढ़ी भी जाएंगे और यहां जाने वाले रास्ते के दोनों ओर की इमारतों को भी सजाया-संवारा जा रहा है।


प्रधानमंत्री के दौरे वाले दिन अयोध्या में अनेक सड़कों और मंदिरों को फूलों से सजाया जाएगा तथा सरयू नदी के किनारे और विभिन्न मंदिरों में एक लाख से अधिक दीपक जलाए जाएंगे। राम जन्भूमि मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन समारोह के अवसर पर मंदिर प्रशासन लोगों और श्रद्धालुओं में वितरण के लिए ‘प्रसाद’ के एक लाख से अधिक पैकेट उपलब्ध कराएगा।


गर्भवती महिलाओं को 7.5 हजार प्रसूति खर्च

नई दिल्ली। इसी साल फरवरी महीने में श्रम मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता में हुई बैठक में एक फैसला लिया गया था। इस फैसले के तहत कर्मचारी राज्य बीमा निगम(ईएसआईसी) के तहत आने वाली गर्भवती महिलाओं को प्रसूति खर्च 7500 रुपये देने का प्रस्ताव रखा गया।


अब इस प्रस्ताव पर जल्द ही अंतिम मुहर लगने वाली है। दरअसल, श्रम और रोजगार मंत्रालय ने इस संबंध में एक ड्राफ्ट नोटिफिकेशन जारी किया है। इस पर हितधारकों से 30 दिन के भीतर अपने सुझाव देने को कहा गया है। इसके बाद सरकार अंतिम निर्णय करेगी। आपको बता दें कि सरकार का कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) की स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत प्रसूति खर्च बढ़ाकर 7,500 रुपये करने का प्रस्ताव है। अभी यह राशि 5,000 रुपये है। यानी 2500 रुपये की बढ़ोतरी का प्रस्ताव है।


ईएसआईसी की स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत बीमित महिला कर्मचारी या बीमित पुरुष कर्मचारी की पत्नी के लिए प्रसूति खर्च दिया जाता है। ये प्रसूति खर्च उन लाभार्थी महिलाओं को दिया जाता है जो ईएसआईसी नेटवर्क के अस्पताल या औषधि केंद्रों तक पहुंच नहीं होने के चलते अन्य अस्पतालों में मातृत्व सेवाओं का लाभ उठाती हैं। यह मातृत्व सहायता केवल दो बच्चों के लिए उपलब्ध करायी जाती है। बहरहाल, सरकार के निर्णय के बाद गर्भवती महिलाओं को प्रसूति खर्च पहले से 2500 रुपये अतिरिक्त मिलेंगे।


फ्रांस की मदद भारतीयों के लिए वरदान

पेरिस। कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए फ्रांस ने मंगलवार को बतौर मदद भारत को वेंटीलेटर, जांच किट व अन्य चिकित्सा उपकरण सौंपे हैं। फ्रांसीसी वायुसेना के विमान से लाए गए इन उपकरणों को भारत में फ्रांस के राजदूत एमैनुएल लेनिन ने पालम एयर फोर्स स्टेशन पर भारतीय रेडक्रॉस सोसाइटी को सौंपा। लेनिन ने इसकी जानकारी खुद तस्वीर के साथ ट्वीट करके दी।


उन्होंने लिखा, 'फ्रांस की तरफ से भेजे गए कोविड-19 उपकरणों को भारतीय रेडक्रॉस सोसाइटी के महासचिव आरके जैन को सौंपते हुए बहुत खुशी हो रही है। फ्रांस ने भारत को 200 मिलियन यूरो (करीब 1,756 करोड़ रुपये) की मदद का वादा किया था।'           


ब्राजील में मृतक संख्या-88000 हजार

ब्रासीलिया। ब्राजील में कोरोना वायरस (कोविड-19) से 921 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 88000 के पार पहुंच गयी है। यहां पर अब तक इस महामारी से 88539 लोगों की मौत हुई है। वहीं इस संक्रमण के 40816 नये मामले दर्ज किये जाने के कारण इससे प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या 2483191 हो गयी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को यह जानकारी दी। ब्राजील कोरोना वायरस से संक्रमित होने और इसके कारण होने वाली मौतों के मामले में अमेरिका के बाद विश्व में दूसरे नंबर पर है। इस प्राणघातक विषाणु से ब्राजील में सबसे अधिक साओ पाउलो प्रभावित हुआ है। यहां पर इससे अब तक 487654 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 21676 मरीजों की मौत हुई है। इसके बाद रियो डी जेनेरियो में 159,639 संक्रमित तथा 13033 की मौत और सिएरा में 165550 लोग संक्रमित तथा 7613 लोगों की मौत हुई है।           


धमकी देने का अधूरा प्रयास असफल

तेहरान। ईरान के अर्धसैनिक रिवोल्यूशनरी गार्ड ने रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण होरमुज़ जलडमरू मध्य में एक नकली विमान वाहक पोत पर हेलीकॉप्टर के जरिए मिसाइल से हमला किया। यह एक मॉक ड्रिल था, जिसका उद्देश्य तेहरान और वॉशिंगटन में बढ़े तनावों के बीच अमेरिका को धमकी देना था। ईरान के स्टेट टेलीविज़न की रिपोर्ट में बताया गया है कि ईरानी कमांडो भी "ग्रेट प्रोफेट 14" नामक अभ्यास के दौरान विमान वाहन की इस प्रतिकृति पर एक हेलीकॉप्टर से तेजी से हमला करते नजर आए। अन्य फुटेज में एक हेलीकॉप्टर को प्रतिकृति पर एक मिसाइल दागते हुए दिखाया गया, जिसमें बोर्ड पर 16 फर्जी फाइटर जेट्स थे, जबकि तेज नौकाओं ने जहाज को घेर लिया, जिससे समुद्र में सफेद लहर दौड़ गई।            


श्रीराम 'निर्भयपुत्र'


अंबाला में राफेल का स्वागत किया गया

राणा ओबरॉय


अम्बाला। हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि राफेल का अम्बाला में स्वागत है। राफेल के आने से जहां एक ओर वायुसेना की सामरिक ताकत बढ़ गई है, वहीं दूसरी ओर सुरक्षात्मक दृष्टिï से समूची व्यवस्था में नए अध्यायों का सूत्रपात हुआ है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कहते हैं कि न तो हम आंख झुका कर बात करते हैं और न आंख उठा कर बात करते हैं, हम तो आंख मिलाकर बात करते हैं। बदलते परिवेश में देखा जाए तो राफेल के आने से हमारी सामरिक व्यवस्था बहुत मजबूत हो चली है और आने वाले समय में जैसे ही अन्य राफेल भारत में आएंगे तो उस समय नजारा ही कुछ और होगा। विज ने कहा कि राफेल एक पराक्रमी योद्घा है जिसमें दुशमनों पर करारा प्रहार करने की क्षमता है। सामरिक दृष्टि से हमारी सेनाओं की मजबूती में नये युग का आगाज हुआ है। सरकार का यह कदम बहुत ही सराहनीय है।
उन्होंने आगे कहा कि भारत के पास चिनूक, अपाचे, सुखोई, जगुआर, मिराज, मिग-29 जैसे ताकतवर एयरक्राफ्ट हैं, राफेल के आने से हमारी ताकत कईं गुणा बढ़ गई है। पड़ौसी देशों को अब पहले से और अधिक सावधान रहने की जरूरत है। यदि कहीं से भी किसी भी दुशमन देश ने हिन्दुस्तान की तरफ आंख उठाने की हिम्मत की तो करारा जवाब देने के लिए हमारी सजग सेनाएं तैयार हैं। अब हम सामरिक दृष्टिï से और मजबूत हो गये हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हिन्दुस्तान 1962 वाला नही बल्कि 2020 का नया भारत है जो अपने स्वाभिमान और सरहदों की भली-भांति रक्षा करना जानता है।
गृहमंत्री ने यह भी कहा कि राफेल एक सुपरसोनिक लड़ाकू विमान है, जिसकी उपस्थिति आत्मविश्वास में वृद्घि करती है। लोगों में भी उत्साह और हिम्मत का जुनून है। लम्बे समय से देशवासी राफेल के आगमन का इंतजार कर रहे थे। आज बाद दोपहर जैसे ही राफेल ने अम्बाला की पावन और पवित्र धरा को छुआ, लोग खुशी से झूम उठे। हमें चाहिए कि देश के प्रधानमंत्री द्वारा सुरक्षात्मक दृष्टि से किए जा रहे प्रबन्धों के दृष्टिगत सरकार का इसी तरह भरपूर सहयोग करते रहें। विज ने राफेल विमानो की सकुशल  लैंडिंग पर जाबांज वायु वीरों के साथ-साथ सेनाओं को बधाई दी।
उन्होंने यह भी कहा कि अम्बाला की पावन धरा योद्घाओं और शूरवीरों की धरा है। स्वाधीनता संग्राम की पहली चिंगारी यहीं से फूटी थी। यहां के योद्घाओं ने राष्टï्रप्रेम के प्रति लोगों को जगाने का काम किया। हमें अपने एतिहासिक परिदृश्य से भी सीख लेने की जरूरत है। अम्बाला एक एतिहासिक नगर है, जिसके कण-कण से नई सीख और प्रेरणा मिलती है। सामरिक दृष्टि से भी अम्बाला का बहुत बड़ा महत्व है। आज पूरे देश में ही नही, पूरी दुनिया के लोग अम्बाला को जानने लगे हैं।   


मनोज सिंह ठाकुर                    


जिला सलाहकार समिति की हुईं बैठक

जिला सलाहकार समिति (पी.एन.डी.टी.) की बैठक का किया गया आयोजन


रतन सिंह चौहान
होडल। सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप के मार्गदर्शन में जिला सलाहकार समिति (पी.एन.डी.टी.) की बैठक आयोजित की गई। बैठक में उप सिविल सर्जन पी.एन.डी.टी. डा. जे.पी. प्रसाद, नागरिक अस्पताल स्त्री एवं प्रसूति विभाग की डा. पूजा तंवर, शिशु रोग विशेषज्ञ डा. बासुदेव, सोमार्थ एन.जी.ओ. से राकेश सिंह, एन.जी.ओ. डोनर क्लब पलवल से अल्पना मित्तल ने भाग लिया।
बैठक में पाहिल अल्ट्रासाउंड सेंटर हसनपुर के नए अल्ट्रासाउंड सेंटर के रजिस्ट्रेशन करने के लिए टीम द्वारा दस्तावेज जांचकर नए रजिस्ट्रेशन करने की सिफारिश की गई। नक्षत्र अल्ट्रासाउंड सेंटर की फाइल अधूरी एप्लीकेशन होने के कारण कमेटी द्वारा रद्द करने की सिफारिश की गई। भावना हॉस्पीटल हथीन की फाइल का निरीक्षण करने उपरांत अग्रिम कार्यवाही करने, होडल अल्ट्रासाउंड सेंटर में डा. निधी के नाम हटाने व सम्पत नर्सिंग होम होडल के पूरे समय अल्ट्रासोनोलोजिस्ट के कार्य करने की अनुमति की सिफारिश की गई। डा. विरेंद्र अल्ट्रासाउंड सेंटर के अल्ट्रासोनोलोजिस्ट के कार्य करने के समय में बदलाव करने की अनुमति की सिफारिश की गई। अरोडा नर्सिग होम पलवल व फेथ अल्ट्रासाउंड सेंटर पलवल की नई मशीन खरीदने व पुरानी मशीन कम्पनी को बॉयबैक करने की अनुमति की सिफरिश की गई। एच.आर.डी. मैडिकल सेंटर के प्रपोजल की नियमानुसार कागजी कार्यवाही उपरांत मशीन डोनेट करने की कमेटी द्वारा सिफारिश की गई व सी.एच.सी. सौंदहद के पी.एन.डी.टी. सेंटर को एस.डी.एच. होडल में स्थानांतरित करने की अनुमति की सिफारिश की गई। डा. विपुल गोयल के सभी दस्तावेज जांचने उपरांत उन्हें नागरिक अस्पताल पलवल में अल्ट्रासाउंड का कार्य करने की अनुमति की सिफारिश कमेटी द्वारा की गई व नागरिक अस्पताल पलवल मे 24 घन्टे अल्ट्रासाउंड का कार्य करने की अनुमति की सिफारिश भी कमेटी द्वारा की गई।
होडल के लाईफ केयर हस्पताल के नई मशीन खरीदने व पुरानी मशीन कम्पनी को बॉयबैक करने की अनुमति की सिफारिश की गई। पलवल के गुरूनानक हॉस्पीटल के सीटी स्कैन मशीन खरीदने की सिफारिश की गई। वरदान नर्सिंग होम पलवल के रिन्यूल करने से सम्बन्धित कागजात जांचने उपरांत रिन्यूल करने व अल्ट्रासाउंड मशीन को आई.वी.एफ.ओ.टी. में पोर्टेबल करने की सिफारिश की गई।              


परिवार पहचान के साथ योजना का लाभ

परिवार पहचान-पत्र उपलब्ध होगा उन्हें ही सरकारी योजना का लाभ मिल सकेगा। उपायुक्त


रतन सिंह चौहान
होडल,पलवल। उपायुक्त नरेश नरवाल ने बताया कि जिला में परिवार पहचान पत्र का कार्य सुचारू रूप से चल रहा है। उन्होंने बताया कि आगामी दिनों में परिवार पहचान-पत्र के वितरण का कार्य किया जाएगा। जिसके पास परिवार पहचान-पत्र उपलब्ध होगा उन्हें ही सरकारी योजना का लाभ मिल सकेगा। 
उपायुक्त नरेश नरवाल ने लोगों से आह्वान किया है कि जिन्होंने अभी तक अपना परिवार पहचान-पत्र नही बनवाया है वे अपने नजदीकी सीएससी केन्द्र पर जाकर परिवार पहचान-पत्र बनवा ले ताकि भविष्य में सरकार की जनकल्याणकारी योजना का लाभ आसानी से मिल सके। परिवार के मुखिया को अपने परिवार के पूरे विवरण के साथ फॉर्म अपने हस्ताक्षर के साथ अटल सेवा केंद्र या अंत्योदय सेवा केंद्र में जमा करना होगा, जिसे संबंधित विभाग द्वारा अपडेट किया जाएगा। परिवार पहचान-पत्र का विवरण बीएलओ व सुपरवाइजर के माध्यम से अपडेट किया जा रहा है। 
उल्लेखनीय है कि परिवार पहचान-पत्र योजना मुख्यमंत्री परिवार पहचान-पत्र योजना प्रदेश सरकार की एक अनूठी पहल है। यह योजना सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रमों में से एक है। समाज के वंचित क्षेत्रों के भविष्य को सुरक्षित करने और जीवन को सुनिश्चित करके सार्वभौमिक सामाजिक सुरक्षा की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह परिवार पहचान-पत्र प्रदेश में रहने वाले लोगों के लिए यह सुनिश्चित करेगा कि सभी लाभार्थियों को राज्य सरकार और केन्द्र सरकार की सेवाओं और योजनाओं का लाभ मिले। परिवार पहचान-पत्र से भ्रष्टïाचार को कम करने में मदद मिलेगी।             


पर्यावरण की स्वच्छता में वृक्षों का योगदान

पौधे पर्यावरण को स्वच्छ रखने में अहम योगदान देते है- जिला एवं सत्र न्यायाधीश


रतन सिंह चौहान
पलवल। पलवल में पौधारोपण अभियान के अंतर्गत सोमवार को जिला न्यायिक परिसर व लघु सचिवालय के सामने राष्टï्रीय राजमार्ग की ग्रीन बैल्ट पर गुलमोहर के पौधे लगाए गए। 
जिला एवं सत्र न्यायधीश चंद्रशेखर ने कहा कि पलवल जिले में पौधारोपण अभियान शुरू किया गया है। अभियान के अंर्तगत कोर्ट परिसर व लघु सचिवालय के सामने सडक़ के दोनों किनारों पर गुलमोहर के पौधे लगाए गए है। गुलमोहर के पौधे लगाने से पलवल शहर की सुंदरता बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि पौधे पर्यावरण को स्वच्छ रखने में अहम योगदान देते है। पेड़ों का होना अपने आप में सुकून प्रदान करता है।  पौधारोपण अभियान से पर्यावरण को स्वच्छ रखने व प्रकृति की सुंदरता को बढ़ावा मिलेगा। 
जिला उपायुक्त नरेश नरवाल ने गुलमोहर का पौधरोपण करने के उपरांत  कहा कि शहर की सुंदरता को बढाने के लिए लघु सचिवालय से आगरा चौक तक गुलमोहर के पौधे लगाए जा रहे है। पौधे का रख-रखाव एक बच्चे के पालन-पोषण की तरह करना पड़ता है। अत: लगाए गए पौधे की सही ढंग से देखभाल करना बहुत जरूरी है, इसके लिए इन पौधों की निगरानी सुनिश्चित की जाएगी। पलवल जिले में लगभग चार लाख पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। वन विभाग की तरफ से छायादार पौधे लगाए जाएगें वहीं जिला बागवानी विभाग द्वारा फलदार पौधे लगाए जाएगें। पौधारोपण अभियान को सफल बनाने के लिए जिला प्रशासन और सामाजिक संस्थाएं मिलकर कार्य कर रही है। 
उपायुक्त ने कहा कि जिले में प्रत्येक व्यक्ति एक पौधा अवश्य लगाए। पौधे लगाने के बाद में उनकी देखभाल अवश्य करें। उन्होंने बताया कि जिले के सभी शैक्षणिक संस्थानों में जामुन के पौधे लगाए जाएगें। उपायुक्त ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जहां पर पौधे लगाने की जगह मिले वहां पर पौधा अवश्य लगाऐं ताकि पलवल को हरा-भरा व सुन्दर बनाया जा सके।
इस अवसर पर पौधारोपण कार्यक्रम के दौरान अतिरिक्त उपायुक्त वत्सल वशिष्ठï, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एस.के. खडूजा, मुख्य न्यायिक एवं दण्डाधिकारी राजेश यादव, एसडीएम पलवल कंवर सिंह, नगराधीश जितेन्द्र कुमार, उप वन संरक्षक दीपक पाटिल, भारतीय राष्टï्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से प्रोजेक्ट निदेशक एम.के. बंसल, भारतीय राष्टï्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के कार्यकारी अभियंता धीरज सिंह सहित अन्य अधिकारियों ने पौधारोपण किया। इस मौके पर एअलायन्स क्लब पलवल सिटी के पदाधिकारी मनीष जैन, महेश सिंह व सुनिल अग्रवाल मौजूद रहे।              


सांसद साध्वी प्रज्ञा को धमकी, एफआईआर

विशाल रोहिवाल


भोपाल। मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर को अज्ञात व्यक्ति ने फोन कर धमकी दी है और अभद्र भाषा का प्रयोग किया। सांसद ने इस मामले की शिकायत कमल नगर थाने में दर्ज कराई है।


सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया कि उनके पास लगातार अज्ञात नंबर और प्राइवेट नंबरों से फोन आ रहे हैं। मंगलवार को भी कई फोन आए। उसने गालियां दीं, भाजपा नेताओं को भी गालियां दी। राम मंदिर निर्माण को लेकर भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया, गालियों का इस्तेमाल किया और धमकी भी दी। उन्होंने आगे बताया, इस मामले में कमल नगर थाने में शिकायत दर्ज करा दी है। इन धमकियों का मुझ पर कोई असर नहीं होता है। हां इतना जरूर समझ में आता है कि ये कायर लोग हैं, वे भयभीत हैं इसलिए अज्ञात नंबर से फोन करते है।


अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा, हम एक सांसद है और कानून में भरेासा करते हैं, इसलिए थाने में शिकायत दर्ज कराई है। जब कोई सामने ऐसा आक्रमणकारी आएगा, विधर्मी आएगा, देशद्रोही आएगा तो देशभक्त का जो कत्र्तव्य होना चाहिए वह करेंगे।             


डिजिटल जीवन प्रमाण-पत्र की सुविधा

जीवन प्रमाण पत्र प्रदान करने की सुविधा
अकांशु उपाध्याय


लखनऊ। उत्तर-प्रदेश शासन के द्वारा जीवन प्रमाण-पत्र वेबसाइट पर बनवाया जा सकता है। जिन पेंशनर्स को जीवन प्रमाण-पत्र की आवश्यकता है। उनके लिए सरकार के द्वारा यह सुविधा प्रदान की गई है। कोषागार निदेशक पंकज शमी के द्वारा यह सूचना साझा की गई है। जिससे पेंशनर्स अपने नजदीकी सुविधा केंद्र, साइबर कैफे इत्यादि पर जाकर या फिर जिनके पास डिवाइस मौजूद है। डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट जनरेट करता है। इस प्रक्रिया में पेंशनर्स को न तो हार्ड कॉपी भरकर कोषागार में देने की आवश्यकता है और ना ही आने की जरुरत है। इस प्रकार की असुविधा को ध्यान में रखते हुए यह सुविधा उपलब्ध कराई गई है। जिससे कोविड-19 कोरोना वायरस के प्रचार-प्रसार पर भी काफी हद तक सफलता प्राप्त की जा सकती है। पेंशनर्स को जीवन प्रमाण-पत्र के लिए कोषागार में ना पड़े इसी उद्देश्य से यह सुविधा प्रदान की गई है।            


सचिवालय ने संशोधित व्यवस्था लागू की

तत्कालीन संशोधित व्यवस्था लागू की गई 
अकांशु उपाध्याय
 लखनऊ। उत्तर प्रदेश सचिवालय के द्वारा विभागों में अपनाए जाने वाले सतर्कता, प्रबंधन निवारण के संबंध में सचिवालय प्रशासन अनुभाग के द्वारा समय-समय पर दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।
विशेष सचिव सुरजन सिंह के द्वारा प्रदत जानकारी के अनुसार उत्तर-प्रदेश में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के संदर्भ में कार्य व्यवस्था एवं कार्मिक विभाग को निर्देशित किया गया है। निर्धारित व्यवस्था में तत्कालीन प्रभाव को ध्यान में रखते हुए संशोधन किया गया है। सभी समीक्षा वर्ग के अधिकारी समय अनुसार कार्यालय में उपस्थित होकर अपने कार्य का निर्वहन करेंगे। समीक्षा अधिकारी एवं समूह 'ग'  और 'घ' के अधिकारी कार्यालय में उपस्थित होकर कार्य निस्तारण करेंगे। निजी सचिवों के कार्यालय में उपस्थित होने संबंधी विषयों पर निर्णय ले सकेंगे। रोस्टर के अनुसार घर पर कार्य संपादित करने वाले कार्मिकों को आवश्यकता के अनुसार कार्यालय में बुलाया जा सकता है। यह आदेश उन अधिकारियों कर्मचारियों पर लागू नहीं होता है। जो आकस्मिक एवं आवश्यक सेवाओं से जुड़े हुए हैं। कोविड-19 की रोकथाम के कार्य में प्रत्यक्ष रूप से कार्यरत है।              


बंदोबस्त चकबंदी अधिकारी को नोटिस

बंदोबस्त चकबंदी अधिकारी को नोटिस जारी                अकाशुं उपाध्याय


मेरठ। अपर आयुक्त मेरठ मंडल रजनीश राय ने बताया कि अशोक कुमार लाल तत्कालीन बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी गाजियाबाद/गौतम बुध नगर के विरुद्ध शासन द्वारा अधिकृत आयुक्त जांच अधिकारी के द्वारा जांच की जा रही है। जिला अधिकारी गौतम बुध नगर के द्वारा जांच विषय पत्र प्रेषित भी किया गया था। किंतु अपचारी अधिकारी के द्वारा आदेश की तामील नहीं की गई। आयुक्त मेरठ मेरठ मंडल के द्वारा वर्णित पते पर एवं दूरभाष पर भी संपर्क किया गया। किंतु किसी प्रकार का उत्तर नहीं दिया गया। इस विषय में सूचित किया जाता है। यदि अपचारी अधिकारी अधिक से अधिक 15 दिन के अंदर अपना लिखित जवाब नहीं देते हैं तो सभी प्रकार की कार्रवाई का दायित्व उनका स्वयं का होगा।


प्राथमिक विद्यालय को सैनिटाइज मशीन भेंट

राजकीय प्राथमिक पाठशाला नंबर 4  कार्यालय को सैनिटाइज मशीन उपलब्ध भेंट की गई। 
रतन सिंह चौहान
होडल। पहला कदम फाउंडेशन पलवल द्वारा राजकीय प्राथमिक पाठशाला नंबर 4 में पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में संस्था के होडल मंडल अध्यक्ष दीपक सिंह एडवोकेट  मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित थे जबकि अध्यक्षता विद्यालय मुख्य शिक्षक वीरसिह सौरौत  ने की तथा संचालन संस्था के जिला अध्यक्ष महेश गौड़ ने किया। 
 इस अवसर पर दीपक  सिंह सौरौत ने कहा कि वर्तमान समय में पर्यावरण संरक्षण हमारी सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है तथा प्रत्येक व्यक्ति को अधिक से अधिक वृक्ष लगाने चाहिए। इस अवसर पर संस्था जिला अध्यक्ष महेश गौड़ ने कहा कि पहला कदम फाउंडेशन संस्था ने  पर्यावरण मित्र के माध्यम से प्रत्येक कार्यकर्ता को 20 पौधों के  पौधारोपण की जिम्मेदारी सौंपी है। इन पौधों में मुख्य रूप से अर्जुन, अशोक, पीपल, जामुन तथा बरगद शामिल हैं। उसी योजना को केंद्र बिंदु मानकर सरकार द्वारा संचालित पौधागिरी कार्यक्रम के अंतर्गत इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इस अवसर पर शिक्षक वर्ग को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए  दीपक सिंह सौरोत द्वारा राजकीय प्राथमिक पाठशाला नंबर 4  कार्यालय को सैनिटाइज मशीन उपलब्ध भेंट की गई। कार्यक्रम में एडवोकेट जय सिंह सौरौत ने कहा कि सरकारी संस्थाओं के प्रति प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी बनती है तथा हमें इन संस्थाओं की हर संभव मदद करनी चाहिए। इस अवसर पर संस्था द्वारा विद्यालय के अध्यापकों को भी कोरोना संक्रमण काल में अपनी भूमिकाओं का ईमानदारी से निर्वहन करने के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मोहन सिंह, रूपचंद, अलका देवी, रीना मंजू देवी, रेखा, सुनीता देवी, मंजू रानी, विनय, शिवचरण सिंह, प्रमोद कुमार, दारा सिंह, आनंद कुमार, सिम्मी मंगला, आदेश कुमारी, ललिता देवी, राजेश कुमार तथा यादराम आदि शिक्षक मुख्य रूप से उपस्थित थे।              


प्रतिबद्धता के तहत ई-सचिवालय लांच

रतन सिंह चौहान
होडल, पलवल। स्वतंत्रता दिवस समारोह को परंपरागत रूप से मनाने के लिए उपायुक्त नरेश नरवाल की अध्यक्षता में ई-सचिवालय पोर्टल के माध्यम से जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक की। कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने सूचना प्रौद्योगिकी का अधिक से अधिक प्रयोग कर जनता को पारदर्शी व सहज तरीके से नागरिक सेवाएं उपलब्ध करवाने की सुशासन संकल्प की प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता के तहत ई-सचिवालय लांच किया गया है।
बैठक में उपायुक्त ने विभिन्न विभागों की ओर से किए जाने वाली तैयारियों व प्रबंधों बारे आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उपायुक्त ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस समारोह की सभी तैयारियां वैश्विक महामारी कोविड-19 को ध्यान में रखकर अच्छी प्रकार से समय पर पूर्ण की जाएं।
बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त वत्सल वशिष्ठï, नगराधीश जितेंद्र कुमार, उपमंडल अधिकारी (ना.) पलवल कंवर सिंह, सिविल सर्जन डा. ब्रह्मïदीप सिंह, जिला शिक्षा अधिकारी अशोक बघेल, जिला सूचना एवं विज्ञान अधिकारी डी.पी. कुलश्रेष्ठï सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी पोर्टल से जुडे रहे।
नगराधीश जितेंद्र कुमार ने कहा कि कोविड-19 के दौरान आयोजित किए जाने वालो स्वतंत्रता समारोह में विशेष रूप से हिदायतों की पालना करना सुनिश्चित करें। स्टेज व आंगतुकों के बैठने की व्यवस्था, समारोह स्थल पर साफ-सफाई व सजावट तथा पारितोषिक वितरण संबंधी कार्यों की तैयारी संबंधित विभाग व अधिकारी समय पर पूर्ण कर लें। इस दौरान सभी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मुंह पर फेस मास्क लगाना सुनिश्चित करें। इस बार जिलास्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन ऑनलाइन ब्रॉडकास्टिंग के माध्यम से लाइव किया जाएगा।
गत दिवस सभी प्रशासनिक एवं जिलाधिकारियों को ई-सचिवालय पोर्टल संचालन के संबंध में जिला सूचना एवं विज्ञान अधिकारी डी.पी. कुलश्रेष्ठï द्वारा प्रशिक्षण दिया गया, जिसके परिणाम स्वरूप ई-सचिवालय पोर्टल का सफल संचालन हो सका।            


अवैध कब्जे की एसडीएम से शिकायत

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। करोड़ों रुपए की सरकारी जमीन को कब्जा मुक्त कराने के लिए दबंगों के खिलाफ उप जिलाधिकारी को लिखित शिकायत दी है। उप जिलाधिकारी ने कार्यवाही का आश्वासन  दिया है। गौरतलब हो लोनी क्षेत्र के ग्राम बंथला में दबंगों द्वारा तलाब की भूमि पर अवैध कब्जा किया जा रहा है। शिकायत में आरोप लगाया गया हैै कि स्थानीय सभासद रोहित शर्मा व उनके भाई अज्जू द्वारा बंथला स्थित तालाब पर कब्जा कर जबरन अपना घर बनाने का काम कराया जा रहा है।


जबकि एनजीटी व केंद्र सरकार के जल शक्ति मंत्रालय द्वारा जल संरक्षण के लिए तालाबों को कब्जा मुक्त कराने को लेकर आदेश जारी किया है। मंत्रालय सभी तालाबों का संरक्षण सुनिश्चित करने पर कार्य कर रहा है। उसके बावजूद भी भू माफिया तालाबों पर अवैध कब्जा कर रहे हैं।


वहींं, अवैध कब्जा करने वालों के खिलाफ लोनी उप जिलाधिकारी को शिकायत कर अवगत कराया है और कहा कि तालाब को कब्जा मुक्त कराकर इन दबंगों के खिलाफ संगीन धाराओं मे मुकदमा दर्ज कर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।


भाजयुमो के प्रकोष्ठो की घोषणा हुईंं

राणा ओबराय
भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) पंजाब के पदाधिकारियों, प्रकोष्ठों के संयोजक और सह संयोजक की करी घोषणा
चंडीगढ़। भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) पंजाब के पदाधिकारियों, प्रकोष्ठों के संयोजक और सह संयोजक की घोषणा कर दी गई है। घोषणा करने से पूर्व भाजयुमो पंजाब के अध्यक्ष भानु प्रताप राणा ने भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा, संगठन महामंत्री दिनेश कुमार, प्रदेश महामंत्री डॉ. सुभाष शर्मा, जीवन गुप्ता व मलविंदर सिंह कंग के साथ विचार-विमर्श किया। इस दौरान कहा गया कि पार्टी को नई बुलंदियों पर ले जाएंगे। अगली बार भाजपा की सरकार बनाने का संकल्प पूरा करेंगे।


भाजयुमो पदाधिकारी


उपाध्यक्ष पद पर अमृतसर से सलिल कपूर, जालंधर से अशोक सरीन, बरनाला से नीरज जिंदल, पटियाला दक्षिणी से शीनू गोयल, फिरोजपुर से अभिषेक धवन, पटियाला से पैरी गोयल, लुधियाना से अरुण गोयल, महासचिव के पद पर पठानकोट से दिपांशु घई को कमान सौंपी है। बठिंडा शहरी से वरिंदर सिंह, सचिव के पद पर राजपुरा से तरुण खुराना, संगरूर-1 से दिनेश शर्मा, बठिंडा शहरी से आशुतोष, मुकेरियां से अंकित राणा, गुरदासपुर से गौरव राजपूत, नाभा से विशाल शर्मा, फतेहगढ़ साहिब से सुखविंदर सुक्खी, कार्यालय सचिव के पद पर पटियाला से नीरज शर्मा, सह-कार्यालय सचिव के पद पर मोहाली से दीपक राणा, कोषाध्यक्ष के पद पर संगरूर-2 से संदीप मलाना, सह-कोषाध्यक्ष के पद पर नवांशहर से राहुल एडोना को नियुक्त किया है।


प्रकोष्ठों के संयोजक व सह-संयोजक


सभी प्रकोष्ठों के संयोजक व सह-संयोजक नियुक्त कर दिए गए हैं। जालंधर साउथ से कुनाल जोशी को मीडिया संयोजक व जालंधर से अर्जुन त्रेहन को मीडिया सह-संयोजक, मुकेरियां से आभास शाकर को कार्यक्रम संयोजक व लुधियाना से दमन कपूर को सह-संयोजक बनाया है। लुधियाना से अंकित सैनी को सोशल मीडिया संयोजक व संगरूर-1 से अंकित चोपड़ा को सह-संयोजक, फिरोजपुर से अविनाश गुप्ता को आई.टी. संयोजक व बठिंडा से रवि मौर्य को सह-संयोजक, खेल प्रकोष्ठ के पद पर तरनतारन से तरुण जोशी व जालंधर से साहिल शर्मा को सह-संयोजक, कॉलेज आउट रीच प्रकोष्ठ में खन्ना से शिवम् बेदी और कपूरथला से भरत महाजन व लुधियाना से अभय कपूर को सह-संयोजक बनाया है। लीगल प्रकोष्ठ में मोहाली से भूपिंदर गुप्ता को संयोजक, नवां गाँव से सुरिंदर बब्बल, खरड से नेहा जग्गी व लुधियाना से हिमांशु जिंदल को सह-संयोजक, सांस्कृतिक प्रकोष्ठ में दसूहा से सौरभ राणा को संयोजक, होशियारपुर से रोहित सूद को सह-संयोजक, स्टडी सर्किल प्रकोष्ठ में अमृतसर से प्रतीक कपूर को संयोजक, रोपड़ से जसप्रीत को सह-संयोजक, ट्रेनिंग कमेटी प्रकोष्ठ में जालंधर नार्थ से सरबजीत सिंह व फाजिल्का से राहुल विनायक को सह-संयोजक के पद पर नियुक्त किया है।       


विश्व हिंदू परिषद का धर्म जागरण कार्यक्रम

विश्व हिंदू परिषद् ने आयोजित किया धर्म जागरण  कार्यक्रम 


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। विश्व हिंदू परिषद् बजरंगदल जिला कार्यकारणी ने धर्म प्रचार प्रसार जागरण करने के उद्देश्य से ग़ाज़ियाबाद जिले के पांचों प्रखंडों में विभिन्न गाँवों एवं वार्डो में श्री हनुमान चालीसा के माध्यम से धर्म प्रसार का कार्य किया गया। जिस में संग़ठन ने 32 स्थानों का लक्ष्य रख कर  जिला कार्यकारणी एवं नगर कार्यकारणी के दायित्त्ववान कार्यकर्ताओं का प्रवास पूर्व में सुनियोजित किया।  जिस में सभी कार्यकर्ताओं ने मिल कर 42 देवालयों पर धर्म जागरण के उद्देश्य को अग्रसर करते हुए श्री हनुमान चालीसा  व् श्री राम नाम का 108 बार पाठ किया गया। तदुपरान्त दायित्त्ववान कायकर्ता का बौद्धिक भी रहा।
बौद्धिक में मुख्यतः संग़ठन की अचार पद्धति  व विश्व हिंदू परिषद् के उद्देश्यों को निम्न प्रकार से रखा। अपनी पूजा पद्धति को बच्चों के साथ घरों में लागू करना।लव जिहाद से अपनी बहन बेटियो की रक्षा करना। गौमाता को राष्ट्रीय माता का दर्जा दिलाने के लिए संकल्पित होना। हिन्दू नोजवानो को सनातन धर्म और नैतिक आध्यात्मिक मूल्यों के प्रति जागरूक करना। छुआ छूत की भावना को समाप्त कर समरसता पैदा करना और अखंड समाज के रूप में खड़ा करना। जिला ग़ाज़ियाबाद में श्री हनुमान चालीसा का प्रारूप विभिन स्थानों पर इस प्रकार रहा। लोनी नगर  प्रखंडों में लगभग 22वार्डो में 30 मंदिरों पर , लोनी देहात प्रखंडों में 5 गांवों के पांच मंदिरों पर, मोदी नगर में 3 मंदिरों पर , मुरादनगर में 4 मंदिरो में चालीसा विधिवत रूप से की गई।            


     


युवाओं को सेना में शामिल होने का मौका

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। इंजीनियरिंग पास कर चुके या इसके फाइनल ईयर में पढ़ रहे नौजवानों के पास भारतीय सेना में शामिल होने का मौका है। भारतीय सेना ने टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स (TGC 132) के लिए वैकेंसी निकाली है। आर्मी की आधिकारिक करियर वेबसाइट joinindianarmy.nic.in पर इसके लिए नोटिस भी जारी किया जा चुका है।


इस वैकेंसी के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया आज से शुरू हो रही है। इसकी जरूरी डीटेल, नोटिस और आधिकारिक वेबसाइट के लिंक्स इस खबर में दिए जा रहे हैं।


किस स्ट्रीम के लिए कितनी वैकेंसी


सिविल – 8


आर्किटेक्चर –1


मैकेनिकल – 4


इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स – 5


कंप्यूटर साइंस – 11


इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन – 8


इलेक्ट्रॉनिक्स – 1


मेटलर्जिकल – 1


इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंस्ट्रूमेंटेशन – 1


माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक्स एंड माइक्रोवेव – 1


कुल वैकेंसी – 41


आवेदन की जानकारी


इसके लिए ऑनलाइन आवेदन joinindianarmy.nic.in पर जाकर करना होगा। कोर्स जनवरी 2021 से देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री एकेडमी में शुरू होगा। इस कोर्स के बाद अभ्यर्थियों को इंडियन आर्मी में स्थायी कमीशन दिया जाएगा।


क्या चाहिए योग्यता


संबंधित स्ट्रीम में इंजीनियरिंग डिग्री प्राप्त की हो या डिग्री कोर्स के फाइनल ईयर में हों। अगर आप फाइनल ईयर में हैं, तो कोर्स शुरू होने के 12 सप्ताह के अंदर डिग्री जमा करनी होगी। उम्मीदवारों की उम्र 20 से 27 साल के बीच होनी चाहिए। नियमानुसार छूट का लाभ मिलेगा। यह वैकेंसी अविवाहित पुरुषों के लिए है।


कैसे होगा सेलेक्शन


इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स में छठे सेमेस्टर / मास्टर्स में सेकेंड सेमेस्टर / आर्किटेक्चर में 8वें सेमेस्टर तक प्राप्त अंकों के आधार पर एक निर्धारित कट-ऑफ के तहत आवेदन करने वालों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। फिर शॉर्टलिस्ट किए गए अभ्यर्थियों का इंटरव्यू लिया जाएगा। साइकोलॉजिस्ट, ग्रुप टेस्टिंग ऑफिसर और इंटरव्यूइंग ऑफिसर द्वारा इलाहाबाद, भोपाल, बंगलुरू और कपूरथला स्थित सेलेक्शन सेंटर्स पर इंटरव्यू होंगे। उम्मीदवारों को SSB द्वारा आयोजित दो चरणों की चयन प्रक्रिया से गुजरना होगा। जिन उम्मीदवारों को एसएसबी मेडिकली फिट घोषित करेगा, उन्हें ज्वाइनिंग लेटर जारी किया जाएगा।


ज्वाइन इंडियन आर्मी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। लिंक आगे दिया जा रहा है। ऑफिसर एंट्री अप्लाई/लॉगइन पर क्लिक करें। नया पेज खुलेगा। यहां रजिस्ट्रेशन लिंक पर क्लिक करें। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरें। रजिस्टर होने के बाद टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स के लिए दिख रहे अप्लाई ऑनलाइन लिंक पर क्लिक करें।           


सालों बाद होगा शिक्षा नीति में बदलाव

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में केंद्रीय मंत्री परिषद की बैठक प्रस्तावित है। आशा की जा रही है कि आज की कैबिनेट बैठक में नई शिक्षा नीति को मंजूरी मिल सकती है।  यदि ऐसा होता है तो देश की शिक्षा नीति में 34 साल बाद बड़ा बदलाव होगा।  आपको बता दें कि इस साल बजट में वित्त मंत्री सीतारमण ने नई शिक्षा नीति का एलान किया था। इस नई शिक्षा नीति के तहत देश में शिक्षा के मायने को बदला जाएगा। इससे न सिर्फ युवाओं को शिक्षा के नए अवसर मिलेंगे, बल्कि रोजगार प्राप्त करने में भी आसानी होगी।


यूनिवर्सिटीज में ऑनलाइन होगी शिक्षा


शिक्षा नीति का एलान करते हुए सरकार ने कहा था कि शिक्षा के क्षेत्र में एक्सटर्नल कमर्शियल बोर्रोविंग और विदेशी निवेश (एफडीआई) को लेकर जरूरी कदम उठाए जाएंगे। सरकार युवा इंजीनियरों को इंटर्नशिप का अवसर देने के उद्देश्य से शहरी स्थानीय निकायों के लिए एक कार्यक्रम शुरू करने की योजना बना रही है। साथ ही राष्ट्रीय पुलिस यूनिवर्सिटी और राष्ट्रीय फॉरेंसिक यूनिवर्सिटी का प्रस्ताव लाया जा रहा है। वहीं टॉप 100 यूनिवर्सिटीज पूरी तरह से ऑनलाइन शिक्षा कार्यक्रम शुरू करें, इसकी भी योजना तैयार हो रही है।


हायर एजुकेशन को मिलेगा बढ़ावा


केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा है कि हमारी जो नई शिक्षा नीति आ रही है, वह काफी कुछ इन बातों का समाधान करेगी। शिक्षा नीति में सरकार ने हायर एजुकेशन को बढ़ावा देने की बात कही गई है. इसके साथ ही युवाओं को हायर एजुकेशन लेना पहले के मुकाबले काफी आसान हो जाएगा।                 


            


प्रदेश में बढ़ी अपराध की दर-पर, चिंता

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। प्रदेश में अचानक बढ़ी अपराध की दर पर डीजीपी एचसी अवस्थी ने चिंता जताई है। डीजीपी मुख्यालय की ओर से यूपी पुलिस के सीनियर अफसरों के लिए दिशा-निर्देश जारी किया गया है। निर्देश में कहा गया है कि अपहरण की सूचना पर जिला पुलिस तुरंत टीम का गठन करे और जरूरत के मुताबिक तुरंत एसटीएफ को भी लगाया जाए। पूरे मामले की समीक्षा लगातार सीनियर अफसर करें।  इतना ही नहीं सीनियर अफसर खुद घटनास्थल का निरीक्षण करें और जरूरत पड़े तो आरोपियों की ब्रेन मैपिंग व पॉलीग्राफ़ टेस्ट भी कराए जाएं। डीजीपी मुख्यालय द्वारा जारी दिशा निर्देश में कहा गया है कि अपराध की सूचना मिलते ही घटनास्थल पर थाना प्रभारी, क्षेत्राधिकारी के साथ-साथ पुलिस कप्तान भी मौके पर पहुंचें। इतना ही नहीं शिकायतकर्ता के आरोपों से अगर यह स्पष्ट होता है कि अपहरण किसी अपराध के उद्देश्य से किया गया है तो तुरंत मुकदमा पंजीकृत किया जाए। दिशा निर्देश में कहा गया है कि फिरौती के लिए अपहरण की घटना पर अविलंब आईपीसी की धरा 364A के तहत मुकदमा पंजीकृत कर टीमों का गठन किया जाए। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।


दिशा निर्देश में कहा गया है कि अपहरण की घटना होने के 24 घंटे के अंदर अपहृत की फोटो तमाम जिलों के साथ अन्य राज्यों में भेजकर उसकी जानकारी हासिल की जाए। अगर जरूरत पड़े तो एसटीएफ को लगाकर अपहृत की बरामदगी सुनिश्चित की जाए।


अधिक काढ़ा पीने से होती हैं यें बीमारियां

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना काल में हम सभी का ध्यान शरीर की प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बढ़ाने में लगा हुआ है।  इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए लोग आयुर्वेदिक काढ़ा का जम कर इस्तेमाल कर रहे हैं। डॉक्टरों का भी मानना है कि इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए काढ़ा काफी मददगार साबित हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने भाषणों में काढ़ा के सेवन का जिक्र किया था।


लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस काढ़े से आपकी सेहत को कुछ नुकसान भी हो सकते हैं।  अधिक मात्रा में काढ़े का सेवन करने से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है। शरीर पर काढ़े किए विपरीत प्रभावों को जानने के लिए आपको इन 5 खास लक्षणों पर नजर रखनी होगी। अगर इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो थोड़े समय के लिए काढ़े का सेवन कर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।


नाक से खून आना


मुंह में छाले पड़ना


पेट में जलन होना


पेशाब करते समय जलन होना


अपच और पेचिश जैसी समस्या


आयुर्वेदिक काढ़े के नुकसान


असल में इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक काढ़े को आमतौर पर अलग-अलग जड़ी बूट‍ियों के मेल के बाद तैयार किया जाता है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए जो इम्यूनिटी बूस्टर काढ़ा चलन में है उसमें काली मिर्च, अश्वगंधा, पीपली, दालचीनी, हल्दी, सोंठ और गिलोय जैसी औषधियों का डाल कर तैयार किया जा रहा है। यह सभी चीजें तासीर में गर्म होती हैं और बहुत ज्यादा मात्रा में सेवन करने पर यह नक्सीर जैसी समस्या पैदा कर सकते हैं। कई मामलों में बुखार जैसी समस्या भी देखने को मिलती है। इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि आप काढ़े का सेवन संतुलित मात्रा में ही करें।


कैसे करें समस्या को कम


सबसे जरूरी बात यह है कि आप वात और पित्त दोष का ध्यान रखें. इसके लिए आपको गर्म तासीर वाली चीजें काढ़े में कम डालनी हैं और ठंडी तासीर वाली चीजें ज्यादा। मौसम के अनुसार भी काढ़े की सामग्रियों में बदलाव होते रहना चाहिए।         


जनपद में बढ़ रही ठीक होने की रफ्तार

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना के विरुद्ध जारी लड़ाई में गाज़ियाबाद जिले में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने आश्चर्यजनक रूप से ट्रेंड को पलट कर रख दिया है।  पूरे उत्तर प्रदेश में हर दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या हर दिन बढ़ रही है।  वहीं गाज़ियाबाद में नए संक्रमितों की संख्या में तेजी से गिरावट आ रही है और ठीक होने वालों की संख्या में उसी रफ्तार से वृद्धि हो रही है। यही कारण है कि अब जिले में 82 प्रतिशत रिकवरी रेट के साथ कुल सक्रिय संक्रमितों की संख्या केवल 785 ही रह गई है।


24 घंटों का हाल


पिछले 24 घंटों के दौरान गाज़ियाबाद में 83 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है जबकि इस अवधि में 231 कोरोना संक्रमित ठीक होकर अपने घरों को लौटे हैं।  वर्तमान सक्रिय मरीजों की संख्या 785 है।  जिले में अब तक 3859 लोग कोरोना का मात दे चुके हैं।


कितने हुए टेस्ट


स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार गाज़ियाबाद जिले में कुल मिलाकर 90 हजार से अधिक टैस्ट हो चुके हैं। इनमें 50 हजार से अधिक टैस्ट एंटीजन किट के जरिए किए गए हैं। जबकि 40 हजार से अधिक आरटीपीसीआर टैस्ट थे। स्वास्थ्य विभाग की ओर से लगातार कैंप लगाकर एंटीजन टैस्ट कराए जा रहे हैं। सीएमओ ने बताया कि कोरोना के विरुद्ध चल रहे जागरूकता अभियानों का असर भी दिखने लगा है। लोग पहले से अधिक जागरूक हुए है


स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन है इनाम का हकदार


जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने  जिस तेज़ी से कोरोना के विरुद्ध विजय पाई है उसके लिए वे किसी बड़े पुरस्कार के हकदार है।  अगर हम इसी रफ्तार से प्रगति करते रहे तो संभव है कि अगले कुछ दिनों में सक्रिय संक्रमितों की संख्या लगभग शून्य हो जाएगी। यदि ऐसा होता है तो स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ जिला प्रशासन को भी राहत की सांस मिलेगी।             


सेना ने 2 घुसपैठियों को मार गिराया

जम्मू-कश्मीर। जम्मू-कश्मीर की एक बड़ी खबर सामने आई है। जहां पर राजौरी के एलओसी पर सैना ने दो धुसपैठियों को ढेर कर दिय है। और पाक के धुसपैठ करने में फिर नाकाम रहा है। बताया जा रहा है कि बीते रात सुरक्षाबलों को एलाओसी पर संदिग्ध हरकते सामने आई और सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभालते ही दो घुसपैठियों को मार गिराया है। जम्मू-कश्मीर के राजौरी के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर सेना ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया है। सेना ने दो घुसपैठियों को मार गिराया है। इस दौरान एक घायल हो गया।                


इंडियन पायलट उड़ा कर लाएंगे राफेल

नई दिल्ली। आज 36 में से 5 राफेल फाइटर जेट फ्रांस से भारत आ रहे हैं। भारत के ही फाइटर पायलट राफेल उड़ाकर देश लेकर आएंगे। राफेल लाने वाले इंडियन एयरफोर्स के जाबांज पायलटों की टीम का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह को मिली है। उनकी टीम में दक्षिण कश्मीर से एयर कमोडोर हिलाल अहमद राथर, यूपी के बलिया से कोमोडोर मनीष सिंह, राजस्थान के जालोर से विंग कमांडर अभिषेक त्रिपाठी भी शामिल हैं।


कश्मीर के हिलाल अहमद राथर राफेल उड़ाने वाले पहले पायलट
एयर कमोडोर हिलाल अहमद राथर कश्मीर में रातों रात चर्चा का विषय बन गए हैं। हिलाल मौजूदा समय में फ्रांस में भारत के एयर अटैच हैं। भारतीय वायुसेना के इस अधिकारी के करियर विवरणों के अनुसार, दुनिया में यह सर्वश्रेष्ठ फ्लाइंग अधिकारी हैं। हिलाल की पढ़ाई जम्मू जिले के नगरोटा कस्बे में सैनिक स्कूल में हुई। वह वायुसेना में 17 दिसंबर, 1988 को एक लड़ाकू पायलट के रूप में शामिल हुए। 1993 में फ्लाइट लेफ्टिनेंट बन गए, 2004 में विंग कमांडर, 2016 में ग्रुप कैप्टन और 2019 में एयर कोमोडोर बने।


राफेल स्क्वाड्रन के पहले कमांडिंग ऑफिसर ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह
ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह 17वीं स्क्वाड्रन ‘गोल्डन एरो’ के कमांडिंग ऑफिसर हैं. हरकीरत सिंह पहले मिग-21 के पायलट थे। उन्हें एयरक्राफ्ट और खुद की जान बचाने के लिए 2009 में शौर्य चक्र से सम्मानित किया जा चुका है। साल 2008 में हरकीरत सिंह स्क्वाड्रन लीडर थे। उस साल 23 सितंबर की रात मिग-21 को दो विमानों वाली अभ्यास अवरोधन उड़ान बाइसन में भरनी थी। करीब 4 किमी की ऊंचाई पर अवरोध प्रक्रिया के दौरान अचानक इंजन में आग लग गई और तीन धमाके हुए, लेकिन हरकीरत सिंह ने तुरंत आग पर काबू पा लिया और विमान को सुरक्षित लैंड कराया।


बलिया से एयर कोमोडोर मनीष सिंह
उत्तर प्रदेश के बलिया जनपद में बकवा गांव के रहने वाले मदन सिंह के बेटे मनीष भी राफेल विमान भारत लाने वाले पहले बैच में शामिल है। जब बलिया के लोगों ने पायलट्स की ग्रुप पिक्चर में मनीष सिंह को देखा, स्थानीय लोगों की खुशी का ठिकाना न रहा। मनीष सिंह ने बलिया में प्रारंभिक शिक्षा के बाद सैनिक स्कूल से पढ़ाई की है। मनीष साल 2002 में इंडियन एयरफोर्स में पायलट बने। अंबाला और जामनगर के बाद 2017-2018 में इनकी तैनाती गोरखपुर में थी। फ्रांस से राफेल डील के बाद मनीष को प्रशिक्षण के लिए सरकार ने फ्रांस भेजा।


विंग कमांडर अभिषेक त्रिपाठी
राजस्थान में जालोर शहर के ब्रह्मपुरी में रहने वाले अभिषेक त्रिपाठी कुश्ती के दांव-पेच के बाद अब आसमान का सिंकदर राफेल से उड़ा रहे हैं। उन्होंने 2001 में एनडीए की परीक्षा उत्तीर्ण कर अपने सपनों को उड़ान दी। इसके बाद फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में वायुसेना में अपनी सेवाएं दी। इसके बाद फ्लाइंग लेफ्टिनेंट, स्क्वाडर्न लीडर और अब में अंबाला में विंग कमांडर के पद पर कार्यरत हैं।


7000 किमी का सफर तय कर आएगा राफेल
फ्रांस से 7000 किमी का सफर तय करके पांच राफेल विमान बुधवार को अंबाला एयरबेस पर पहुंचेंगे। इन पांच राफेल विमानों ने सोमवार को फ्रांसीसी शहर बोडरे में मेरिनैक एयर बेस से उड़ान भरी थी। बेड़े में तीन सिंगल सीटर और दो डबल सीट वाले विमान शामिल हैं। इन्हें भारतीय वायुसेना में इसके 17वें स्क्वाड्रन के हिस्से के रूप में शामिल किया जाएगा, जिसे अंबाला एयर बेस पर ‘गोल्डन एरो’ के रूप में भी जाना जाता है।

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच राफेल मौजूदा परिदृश्य में भारत के लिए एक गेम चेंजर होगा। कहा जा रहा है कि यह भारत की वायुशक्ति को कई गुना बढ़ा देगा। राफेल 4.5 जेनरेशन का विमान है और इसमें नवीनतम हथियार व बेहतरीन सेंसर लगे हैं।


एक ही दुपट्टे पर लटके मिले मां और बेटा

पांच साल के मासूम बेटे व मां का शव एक ही दुपट्टे में लटकते मिले…


एक हफ्ते से दोनों को घर से बाहर निकलते नहीं देखा था पड़ोसियों ने…


लखनऊ। पति की मौत से डिप्रेशन में चल रही अजरा परवीन ने पांच साल के बेटे की हत्या करने के बाद खुद भी फांसी लगा ली‌। दोनों के शव घर की रसोई में छत के कुंडे से दुपट्टे के सहारे लटकते मिले। पुलिस को घर से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। हसनगंज थाना क्षेत्र के छोटी पकरिया मोहल्ले में कल देर रात घटी इस सनसनीखेज घटना से हर कोई हैरान है।
एडीसीपी (उत्तरी) राजेश कुमार श्रीवास्तव के अनुसार खदरा के न्यू मदेयगंज छोटी पकरिया निवासी मेडिकल स्टोर संचालक राकेश कुमार सन्नी उर्फ मुन्ना की एक सप्ताह पूर्व बीमारी से मौत हो गई थी। परिवार में पत्नी अजरा और बेटा मोहम्मद जैन थे। राकेश के भाई मो. रिजवान कुछ दूरी पर स्थित राम बगिया में रहते हैं। कल देर रात रिजवान भाभी के घर गया तो काफी देर तक घंटी बजाने के बाद भी दरवाजा नहीं खुला। इसी बीच वहां डालीगंज में रहने वाला अजरा का भाई जावेद अपने दोस्त के साथ पहुंचा और सबने मिलकर दरवाजा खुलवाने का प्रयास किया पर दरवाजा नहीं खुला।
इसके बाद जावेद पड़ोस के मकान से घर के अंदर गया, रसोई की खिड़की से झांकने पर मां-बेटे के शव फंदे से लटकते दिखाई दिए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़कर दोनों शवों को फंदे से नीचे उतारा। इंस्पेक्टर हसनगंज अमरनाथ वर्मा के अनुसार पड़ोसियों ने राकेश की मृत्यु के बाद से करीब एक हफ्ते से मां-बेटे को घर से बाहर निकलते नहीं देखा था, मौके की प्रारंभिक जांच से प्रतीत हो रहा कि डिप्रेशन के चलते अजरा ने बेटे की हत्या कर शव को फंदे से लटकाने के पश्चात खुद भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज कर पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।


संवाददाता सुहेल मारूफ की रिपोर्ट…              


एचआरडी का नाम हुआ शिक्षा मंत्रालय

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया है। यह फैसला मोदी कैबिनेट की बैठक के दौरान लिया गया है। इस बैठक के दौरान मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को भी मंजूरी दे दी है। इसके बारे में विस्तृत जानकारी सरकार की ओर से शाम 4 बजे होने वाली कैबिनेट ब्रीफिंग में दी जाएगी।


गौरतलब है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया था कि मंत्रालय का मौजूदा नाम बदल कर शिक्षा मंत्रालय कर दिया जाए। इस प्रस्ताव पर मोदी कैबिनेट ने मुहर लगा दी है। इसके साथ ही नई शिक्षा नीति को भी मंजूरी दे दी गई। अब पूरे उच्च शिक्षा क्षेत्र के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी होगी ताकि शिक्षा क्षेत्र में अव्यवस्था को खत्म किया जा सके। शिक्षा मंत्रालय ने उच्च शिक्षा के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी ‘नेशनल हायर एजुकेशन रेगुलेटरी अथॉरिटी (एनएचईआरए) या हायर एजुकेशन कमिशन ऑफ इंडिया’ तय किया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति का निर्माण 1986 में किया गया था और 1992 में इसमें कुछ बदलाव किए गए थे। तीन दशक बाद भी कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है।


केंद्र सरकार का मानना है कि शिक्षा के क्षेत्र में बड़े स्तर पर बदलाव की जरूरत है ताकि भारत दुनिया में ज्ञान का सुपरपावर बन सके। इसके लिए सभी को अच्छी क्वालिटी की शिक्षा दिए जाने की जरूरत है ताकि एक प्रगतिशील और गतिमान समाज बनाया जा सके। शिक्षा मंत्रालय का प्राथमिक स्तर पर दी जाने वाली शिक्षा की क्वालिटी सुधारने के लिए एक नए राष्ट्रीय पाठ्यक्रम का फ्रेमवर्क तैयार करने पर जोर है। इस फ्रेमवर्क में अलग-अलग भाषाओं के ज्ञान, 21वीं सदी के कौशल, कोर्स में खेल, कला और वातारण से जुड़े मुद्दे भी शामिल किए जाएंगे।


पेट्रोल पंप बंद, आत्महत्या का विरोध

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। पंजाब में बुधवार को सभी पेट्रोल पंप बंद रहें। पंजाब के ईंधन पंप मालिकों ने कहा है कि वह पेट्रोल और डीजल पर उच्च कर दरों के खिलाफ विरोध जताने के लिये आज अपने पेट्रोल पंप बंद रखेंगे। ईंधन पंप मालिकों का कहना है कि उच्च कर दरों का उनके काम पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।


उच्च कर दरों के खिलाफ सुबह 8 बजे से शाम पांच बजे तक बंद रहेंगे पेट्रोल पंप


पेट्रोल पंप डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष परमजीत सिंह ने कहा कि कर दरों में विषमता के कारण पंजाब में ईंधन के दाम चंडीगढ़ और हरियाणा के मुकाबले अधिक हैं। उन्होंने कहा, ‘हम उच्च कर दरों के खिलाफ 29 जुलाई को सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक अपने ईंधन पंप बंद रखेंगे।’ पंप मालिकों के अनुसार पंजाब में पेट्रोल के खुदरा दाम 82.35 रुपये प्रति लीटर जबकि चंडीगढ़ में 77.41 रुपये और पंचकूला में 78.46 रुपये प्रति लीटर है। इसी प्रकार पंजाब में डीजल के दाम 75.54 रुपये प्रति लीटर हैं। वहीं चंडीगढ़ में एक लीटर डीजल की कीमत 72.91 रुपये और पंचकूला में 73.54 रुपये है।

हाल ही में एक पेट्रोल पंप मालिक ने की थी आत्महत्या


पंप मालिकों ने कहा कि पंजाब में पेट्रोल पर 33.40 प्रतिशत जबकि डीजल पर 19.77 प्रतिशत कर लगाया जाता है। उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ में पेट्रोल पर 22.45 प्रतिशत और डीजल पर 14.02 फीसदी वैट वसूला जाता है। गौरतलब है कि मोहाली में एक पेट्रोल पंप मालिक की तरफ से आत्महत्या करने के बाद पंजाब के सभी पेट्रोल पंप मालिको का कहना है कि सरकार की पॉलिसियों के चलते पेट्रोल पंप मालिक ने आत्महत्या की है और वह सभी उसी का विरोध करते हैं।


768 लोगों की मौत, 48512 नए संक्रमित

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 48,512 नए मामले सामने आए और 768 लोगों की मौत हुई। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में एक दिन में 35,286 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं, जिससे स्वस्थ होने वालों की कुल संख्या 9,88,029 हो गई है। इसी अवधि में सक्रिय मामलों में 12,459 की वृद्धि हुई जिससे इनकी संख्या 5,09,447 हो गई। मृतकों की संख्या 34,193 हो गई है। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 48,512 नए मामले सामने आने से संक्रमितों की कुल संख्या 15,31,669 हो गई है।                 


वारियर्स का काम कर रहे हैं स्वास्थ्य कर्मी

अमर केसरवानी


जांजगीर-चांपा। जिले के अंतर्गत आने वाले ब्लॉक डभरा के गांवों में क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। यहां कोरोना योद्धाओं के रूप में जा जाकर प्रवासी मजदूरों का कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल लिया जा रहा है। इन कोरोना वॉरियर्स को सलाम है जो लगातार मार्च महीने से जारी लॉक डाउन में गांव-गांव जाकर प्रवासी मजदूरों और चिन्हित ग्रामीणों का स्वास्थ्य चेक अपना कर्तव्य निर्वहन कर रहे हैं। पिछले 4 माह से घर से दूर रहकर कोरोना योद्धा के रूप में अपने जान की परवाह नहीं करते हुए निष्ठा के साथ ड्यूटी कर रहे हैं। इन कोरोना वॉरियर्स के जज्बे को सलाम सैकड़ों आरडी किट और आरटी पीसीआर का सैंपल ले चुके हैं। डभरा ब्लॉक के कई गांवों में जाकर 10 हजार 727 से ज्यादा प्रवासी मजदूरों में से 1555 की सैम्पलिंग की जा चुकी है। इसमें 35 लोगों का पॉजिटिव केस निकले हैं।


ब्लॉक डभरा में लैब टेक्नीशियन जादू सिंह सिदार और राकेश बंजारे के नेतृत्व में दो टीम बनाई गई है जिसमें एमएलटी सूर्यकांत जगत, दीपक डनसेना, आयुष नारंग, विनोद साहू, भूषण महीपाल, शांतनु चन्द्रा और ड्राइवर बिहारी साहू, लुकेश्वर नामदेव, संतोष बरेठ टीम बनाकर पूरे ब्लॉक में सैंपल लेकर बड़ी मेहनत से काम कर रहे हैं। राकेश बंजारे ने बताया कि सेवा करना उनके लिए गर्व की बात है कि इस वैश्विक महामारी की रोकथाम में अपना सहयोग दे पा रहे हैं और परिवार भी उनकी हौसला बढ़ा रहा है। ब्लॉक डभरा क्षेत्र की कई क्वॉरेंटाइन सेंटरों में अभी भी 78 प्रवासी मजदूर बचे हुए हैं। वहीं लगातार स्वास्थ्य टीम द्वारा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं पुलिसकर्मियों पत्रकारों और प्रशासनिक कर्मचारियों के सैंपल लेकर टेस्ट के लिए भेजा गया है। डभरा ब्लॉक के क्वॉरेंटाइन सेंटर ग्राम तेंदूमुड़ी में 2 पॉजिटिव, ग्राम कांसा में 24, छोटे कटेकोनी में 1, सुखदा में 4, बगरैल में 1, चंद्रपुर में 1, ग्राम खुरघट्टी में 1 कोरोना पॉजिटिव मिला है जिसमें ब्लॉक में कुल 35 पॉजिटिव हैं।             


यूपी में 5 से 15 अगस्त तक हाईअलर्ट

यूपी में 5 अगस्त से लेकर 15 अगस्त तक हाईअलर्ट
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राम की नगरी अयोध्या में 5 अगस्त से लेकर 15 अगस्त तक हाई अलर्ट रहेगा। केंद्रीय खुफिया एजेंसियों के इनपुट के बाद यूपी में सभी जिलों को अलर्ट किया गया। 5 अगस्त को होने वाले राम मंदिर शिलान्यास पर आतंकी साजिश का इनपुट मिले हैं जिसके बाद से सभी सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट किया गया है।


5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन का कार्यक्रम है. इस कार्यक्रम को लेकर अयोध्या समेत पूरे प्रदेश में रामभक्त काफी उत्साहित हैं लेकिन इसी बीच केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने इनपुट दिया है कि आयोजन पर आतंकी साया मंडरा रहा है। इंटेलिजेंसी एजेंसीज का कहना है कि 5 अगस्त को होने वाले राम मंदिर शिलान्यास को लेकर आतंकी साजिश रची जा रही है। ऐसे में पूरे प्रदेश में भूमिपूजन यानि 5 अगस्त से लेकर स्वतंत्रता दिवस तक हाई अलर्ट घोषित किया गया है।
प्रदेश के सभी जिले हाई अलर्ट पर 
केंद्रीय खुफिया एजेंसियों से मिले इनपुट के बाद सुरक्षा को लेकर उत्तर प्रदेश में व्यवस्था चाक चौबंद की जा रही है। इनपुट मिले हैं कि आतंकी 5 अगस्त से 15 अगस्त के बीच किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम दे सकते हैं. ऐसे में सभी जिलों के महत्वपूर्ण स्थानों, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन पर सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं।
डीजीपी मुख्यालय ने आगरा, मथुरा, मेरठ, कानपुर, प्रयागराज, गोरखपुर, वाराणसी, लखनऊ समेत दर्जनभर शहरों को हाई अलर्ट पर रहने के लिए कहा है. प्रदेश भर के सभी महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और धार्मिक स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद करने के निर्देश दिए गए हैं। डीजीपी मुख्यालय ने आगरा मथुरा मेरठ कानपुर प्रयागराज गोरखपुर वाराणसी लखनऊ समेत दर्जनभर शहरों को हाई अलर्ट पर रहने को कहा। प्रदेश भर के सभी महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और धार्मिक स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद करने के दिए गए निर्देश।
केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने यूपी में आतंकी हमले का भेजा था।


अलर्ट- आईएसआई के इशारे पर अफगान ट्रेंड फिदायीन हमले की साजिश रची गई है। यूपी के साथ-साथ कश्मीर घाटी को लेकर भी अलर्ट किया गया। इंडो नेपाल बॉर्डर सीमा पर एसएसबी के साथ यूपी एटीएस सक्रिय की गई।                


शांति व्यवस्था के लिए बैठक आयोजित

शिवकेश शुक्ल


सोहराब खान


जगदीशपुर-अमेठी। आगामी बकरीद त्यौहार के मद्देनजर शांति व्यवस्था बनाने के लिए पीस कमेटी की बैठक थाना परिसर पर सम्पन्न हुई ।जिसकी अध्यक्षता अपर पुलिस अधीक्षक दयाराम सरोज ने की।
जगदीशपुर कोतवाली परिसर में बैठक को सम्बोधित करते हुए अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि क्षेत्र में अमन चैन बकरार रखना हम सब की जिम्मेदारी है जिसके तहत प्रतिबन्धित जानवर की कुर्बानी व खुले में कुर्बानी न करे वही कुर्बानी के दौरान बचे अवशेषो को मिट्टी में दफन करने की बात कही आगे बोलते हुए कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित शोसल डिस्टेंस का पालन करते हुए कुर्बानी का कार्यक्रम सम्पन्न कराए। एसडीएम राम शंकर ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि त्योहार के मद्देनजर विवाद से बचे जिससे त्योहार हर्षोल्लास से सम्पन्न हो सके वहीं क्षेत्राधिकारी सन्तोष सिंह ने कहा कि किसी भी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न दें बल्कि सतर्क रहें जानकारी मिलने पर पुलिस को सूचित करें जिससे समय रहते मामले को हल किया जा सके।


बैठक को सम्बोधित करते हुए कोतवाल जगदीशपुर राजेश सिंह ने कहा कि त्यौहारों को आपस में मिल जुल कर मनाए और हमारा यही प्रयास होगा कि एक दूसरे का सम्मान करें इस मौके पर चौकी प्रभारी फिरतू यादव, उप निरीक्षक अखिलेश प्रजापति, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हाजी मो0 रफीक वारसी उर्फ अल्लू मिंया,प्रधान सोनू, प्राचार्य मान सिंह, सुरेश यज्ञसैनी, प्रधान नसीम,मौलाना सलमान,मौलाना इसरार, गौरव सिंह प्रधान,महमूद प्रधान,प्रतिनिधि लल्लू सिंह,प्रधान उमापति तिवारी रामचंद्र शुक्ला सहित तमाम गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।             


आज से परिवार सहित आमरण अनशन


  • एडीएम महराजगंज व शिवगढ़ थानाध्यक्ष पर मिली भगत का आरोप, खड़ी फसल जोतवाई



  • पिता की मृत्यु के बाद पीड़ित भाइयों के नाम भूमि दर्ज, कूटरचित दस्तावेज बनवाने का आरोप 


रायबरेली। शिवगढ़ थाने के पिंडोली के अवधेश कुमार ने जिलाधिकारी से एसडीएम व थानाध्यक्ष पर विपक्षियों से सांठगांठ कर खड़ी फ़सल जुतवाने का आरोप लगाते हुये न्याय की गुहार लगायी है और न्याय न मिलने की दशा में 29 जुलाई को आमरण अनशन की चेतावनी दी है। जिलाधिकारी को सौंपे गये शिकायती पत्र में कहा गया है कि बीते शुक्रवार को उप जिला अधिकारी महाराजगंज  एवं थानाध्यक्ष शिवगढ़ ने बिना किसी आदेश के विपक्षियों से सांठगांठ कर प्रार्थी की खड़ी फसल जोतवा दिया जबकि वह जमीन पर प्रार्थी की पैतृक जमीन है जिस पर प्रार्थी के पिता की मृत्यु के बाद उसके सभी भाइयों के नाम दर्ज हो गयी।


उस जमीन को हथियाने के लिए कूट रचित दस्तावेज के सहारे तहसीलदार मजिस्ट्रेट से फर्जी आदेश करवाकर जबरन खड़ी फसल जोतवा दी गई जो गलत है। आरोप है कि विपक्षियों से सांठगांठ करके तहसीलदार मजिस्ट्रेट व एसडीएम ने जबरन प्रार्थी की जमीन को खड़ी फसल को जोतवा दिया और अश्लील शब्दों का प्रयोग करते हुए कहा कि अगर इस खेत के आसपास भी आये तो जेल भिजवा दूंगा।


जिलाधिकारी को दिए गए प्रार्थना पत्र में कहा गया है कि यदि प्रार्थी को न्याय नहीं मिलता है तो वह 29 जुलाई को परिवार समेत जिलाधिकारी कार्यालय पर आमरण अनशन पर बैठने के लिये बाध्य होगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।             


यूपीः बागपत विधायक को जान का खतरा

बागपत से बीजेपी विधायक हैं योगेश धामा


तिहाड़ जेल में बंद है गैंगस्टर सुनील राठी


गोपीचंद सैनी 


लखनऊ/बागपत। उत्तर प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था के बीच सत्तारूढ़ दल के नेताओं ने भी राज्य में असुरक्षित महसूस करना शुरू कर दिया है। बागपत से बीजेपी विधायक योगेश धामा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) हितेश चंद्र अवस्थी से अपनी सुरक्षा बढ़ाने की गुहार लगाई है। उन्होंने दावा किया कि दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर सुनील राठी से उनकी जान को खतरा है। राठी एक अन्य गैंगस्टर मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में जेल में है। मीडिया से बातचीत में धामा ने कहा कि गैंगस्टर ने बागपत की अदालत में मुन्ना बजरंगी मामले की सुनवाई के लिए आने पर उन्हें खुलेआम धमकी दी। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में अवैध खनन गतिविधियों को रोकने के लिए वह मुझे जिम्मेदार मानता है। मेरी जिंदगी को सच में खतरा है। विधायक ने दावा किया कि राठी एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे से भी ज्यादा खतरनाक है। विकास दुबे कानपुर में इस महीने की शुरुआत में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी था। कानपुर में अपहरण के बाद एक और हत्या, अगवा शख्स की लाश मिली, मांगे थे 20 लाख वहीं, बागपत के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) अनित कुमार ने कहा कि धामा ने हमसे संपर्क नहीं किया है। हम उन्हें प्रोटोकॉल के अनुसार सुरक्षा मुहैया करा रहे हैं। बता दें कि राठी के गुर्गों ने 7 जुलाई को राष्ट्रीय लोकदल के नेता देशपाल खोखर की गोली मारकर हत्या कर दी थी, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने अपने गांव से बालू ले जा रहे ट्रकों के गुजरने पर आपत्ति जताई थी।


'रंभा' नदी को अस्तित्व में लाने के आदेश

पंकज कपूर

ऋषिकेश। विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने आज बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय में वन विभाग एवं (नमामि गंगे) सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर ऋषिकेश की रम्भा नदी के माध्यम से गंगा जी में मिलने वाली गंदगी को रोकने संबंधी योजनाओं का शीघ्र शुभारंभ करने को कहा ।

श्री अग्रवाल ने कहा है कि सोमेश्वर नगर स्थित पौराणिक महादेव मंदिर सोमेश्वर महादेव के नीचे से रम्बा नदी का उद्गम स्थल है यहां से निकल कर रम्भा नदी आगे बहते हुए बीरपुर खुर्द स्थित वीरभद्र महादेव के पास से होते हुए गंगा में मिलती है । श्री अग्रवाल ने कहा है कि गंगा जी में मिलते समय इस नदी का पानी काफी दूषित हो जाता है रंभा नदी को पुराने स्वरूप में वापस लाने के लिए ठोस कदम उठाए जाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया गया ।

उन्होंने बताया है कि रंभा नदी में डाली जा रही गंदगी से गंगा जी की स्वच्छता एवं शुद्धता प्रभावित होने की संभावना बनी रहती है। श्री अग्रवाल ने अधिकारियों से कहा है कि अन्य गंदे नालों को जो इस प्रकार से टेप किए गए उसकी गंदगी को रोकने के लिए अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा है कि इस समस्या का शीघ्र समाधान किया जाए। इस अवसर पर डीएफओ देहरादून राजीव धीमान ने कहा है कि रंभा नदी के किनारों में 135 परिवारों ने वन विभाग की भूमि पर अतिक्रमण किया हुआ है जिनको विभाग हटाने की प्रक्रिया करेगा।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने उपस्थित अधिकारियों को कहा है कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं प्रभावित परिजनों से सामंजस्य स्थापित कर इस समस्या का समाधान निकाला जाए ताकि लोगों को किसी प्रकार की परेशानी भी ना हो और रम्भा नदी में बह रहे गंदे पानी को गंगा जी में जाने से भी रोका जा सके। इस अवसर पर वन विभाग के डीएफओ राजीव धीमान, नमामि गंगे के परियोजना प्रबंधक संदीप कश्यप, परियोजना अभियंता एके चतुर्वेदी वन विभाग के एसडीओ बीवी मरर्तोलिया सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।           

बाल श्रमिकों के लिए खुला योगी पिटारा

असगर नकी


सुलतानपुर। केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार 'अच्छे दिन' का नारा देकर सत्ता में आई थी। यूपी में क्राइम से हटकर अगर बात की जाए तो कई मुद्दों पर सरकार अच्छे दिन लेकर भी आई। अब बारी है होटल, ईंट-भट्टों आदि स्थानों पर मजदूरी करने वाले बाल श्रमिकों के अच्छे दिन की। सरकार की ओर से श्रम विभाग को निर्देशित किया गया है कि इन्हें चिह्नित करके बाल श्रमिक विद्या योजना के तहत इनकी पढ़ाई का जिम्मा उठाए। श्रम विभाग इन बाल श्रमिकों की पढ़ाई के साथ-साथ इन्हें छात्रवृत्ति भी देगा।





गरीबी और मजबूरी के तहत अक्सर करके बच्चे कम उम्र में मजदूरी करके अपने और परिवार के पेट की आग बुझाने के लिए कहीं होटलों पर झूठे बर्तन धुलते, कभी रिक्शा और ठेला खींचते तो कभी ईंट-भट्टों व भवन निर्माण में ईंट-गारे का काम करते नजर आते हैं। उनके बचपन का गला उनके अपने ही हाथों घुट रहा था। इसे भली भांति समझकर प्रदेश की योगी सरकार इनके लिए योजना लेकर आई। सरकार ने श्रम विभाग को निर्देश दिए कि अगस्त तक बाल मजदूरों को चिह्नित करने का काम निपटा लिया जाए।




इन बाल श्रमिकों को मिलेगी वरीयता
उप श्रमायुक्त नासिर खान बताते हैं कि सरकार कि कोरोना काल के चलते इस योजना का प्रचार-प्रसार जून माह में नहीं हो सका। इसलिए अब तक एक भी बाल श्रमिक चिह्नित नहीं हो सके हैं। उन्होंने बताया कि योजना के अंतर्गत संगठित तथा असंगठित क्षेत्र के सभी बाल मजदूरों को लाभ मिलेगा। उन बाल श्रमिकों को वरीयता मिलेगी जिनके माता- पिता की मृत्यु हो चुकी हो या माता- पिता में से किसी एक कि मृत्यु हो चुकी हो। जिनके मां-बाप दिव्यांग हैं उन्हें भी योजना का विशेष लाभ मिलेगा।
अटल आवासीय विद्यालय में मिलेगा प्रवेश
खान ने आगे बताया कि योजना के अन्तर्गत शिक्षा ग्रहण करने पर बाल मजदूरो को हर महीने एक हजार रुपये और लड़कियों को 1200 रुपये मिलेंगे। कक्षा 8-9 और 10 पास करने पर अलग से 6 हजार रुपये दिए जाएंगे। बाल मजदूर शिक्षा के मंदिर तक पहुंच जाए इसके लिए सरकार ने उसके मां-बाप को प्रोत्साहित करते हुए सरकार की सभी जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ देने का निर्देश दिया है। जिसमें अंत्योदय, पेंशन और आयुष्मान जैसी योजनाएं शामिल हैं। उपश्रमायुक्त नासिर खान ने बताया कि बाल श्रमिकों को चिह्नित किया जा रहा है। इन बाल श्रमिकों को वर्ष 2021 में शुरू होने वाले अटल आवासीय विद्यालय में प्रवेश दिया जाएगा।              


दिल्ली दंगाः वकीलों का पैनल किया रद्द

रवि चौहान


नई दिल्ली। दिल्ली के उपराज्यपाल ने 15 मई को दिल्ली सरकार के पैनल को खारिज करते हुए दिल्ली पुलिस के पैनल को मंजूर कर लिया था। इस पर 17 मई को दिल्ली के गृह मंत्री ने रिपोर्ट बनाई थी। इसमें उन्होंने कहा था कि सरकारी वकील नियुक्ति का अधिकार दिल्ली पुलिस के पास नहीं है।
उन्होंने नियमों का हवाला देते हुए कहा था कि यह काम दिल्ली सरकार का है। करीब 8 पेज के नोट में गृह मंत्री ने सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का जिक्र करते हुए कहा था कि संविधान को बचाने के लिए ही एलजी चुनी हुई सरकार के जनहित से जुड़े निर्णय को अवलोकन के लिए राष्ट्रपति के पास भेजेंगे। अगर जनहित के मसले को खारिज करेंगे तो उसका कारण बताएंगे। हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट का 2016 और 2018 का आदेश है कि सरकारी वकील को सरकार नियुक्त करेगी। ताजा मामला नॉर्थ ईस्ट दंगों को लेकर मंगलवार को दिल्ली हिंसा से जुड़े मामलों पर सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में सुनवाई के लिए बनाए गए वकीलों के पैनल पर चर्चा हुई. इस बैठक में कैबिनेट ने कहा कि दिल्ली हिंसा को लेकर कोर्ट पहले ही दिल्ली पुलिस की जांच को लेकर सवाल खड़े कर चुका है। इसीलिए दिल्ली पुलिस की तरफ से चुने गए वकीलों के पैनल से इस मामले की जांच कराना ठीक नहीं होगा। दिल्ली कैबिनेट ने इसे क्रिमिनल जस्टिस के सिद्धांतों के खिलाफ बताया।
दिल्ली कैबिनेट ने अपनी इस बैठक में उपराज्यपाल और दिल्ली पुलिस के प्रपोजल को स्टडी करते हुए कहा कि,
इस हिंसा को लेकर जो भी जिम्मेदार हैं उन्हें इसकी सजा जरूर मिलनी चाहिए। लेकिन इसी तरह इस मामले में किसी भी निर्दोष को सजा नहीं मिलनी चाहिए। इसीलिए दिल्ली कैबिनेट ने उपराज्यपाल के उस प्रस्ताव को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया था कि दिल्ली पुलिस ने जो वकीलों का पैनल तैयार किया है उसे मंजूरी दी जाए।
इस कैबिनेट बैठक में दिल्ली पुलिस पर हिंसा की जांच को लेकर उठ रहे सवालों का भी जिक्र किया गया। जिसमें सबसे पहले दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस सुरेश कुमार का नाम लेते हुए कहा गया है कि उन्होंने कहा था, दिल्ली हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस पूरी न्यायिक व्यवस्था को ताक पर रख रही है। कैबिनेट ने कई सेशन कोर्ट और मीडिया रिपोर्ट्स का भी हवाला दिया, जिनमें दिल्ली पुलिस की जांच पर कई सवाल उठाए गए थे। कहा गया कि, दिल्ली पुलिस हिंसा मामलों की जांच में किसी को भी उचित न्याय नहीं दिला सकती है. जांच करने वाली एजेंसी को कभी भी वकील तय करने का अधिकार नहीं दिया जाना चाहिए। क्योंकि ये सभी केस काफी सेंसिटिव हैं, इसीलिए अब दिल्ली सरकार के वकीलों का पैनल इन्हें देखेगा।
दिल्ली कैबिनेट की तरफ से जारी किए गए बयान में उपराज्यपाल पर भी तीखा हमला बोला गया है। जिसमें कहा गया है कि राज्यपाल को सिर्फ अत्यंत जरूरी मामले में हस्तक्षेप करने का अधिकार है। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश का जिक्र किया गया है। जिसमें कहा गया था कि चुनी हुई सरकार के फैसलों के खिलाफ उपराज्यपाल किसी बहुत जरूरी मामले में ही अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर सकते हैं। नहीं तो ये लोकतंत्र की भावना के खिलाफ होगा। कहा गया है कि वकीलों की नियुक्ति का मामला कोई बहुत बड़ा हस्तक्षेप करने वाला मामला नहीं है, इसीलिए दिल्ली सरकार को अधिकार है कि वो अपने वकील नियुक्त कर सकती है।गौरतलब है कि हाल ही में दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में अतिरिक्त सेशंस जज धर्मेंद्र राणा ने कहा था। की ऐसा लगता है कि “जांच में सिर्फ एक पक्ष को निशाना बनाया जा रहा है।”मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, दंगों से जुड़े एक मामले पर सुनवाई के बाद अपने आदेश में जज राणा ने कहा, “केस डायरी को पढ़ने से एक परेशान करने वाला तथ्य निकल कर आता है। ऐसा लगता है कि जांच में सिर्फ एक पक्ष को निशाना बनाया जा रहा है। जांच अधिकारी भी अभी तक ये नहीं बता पाए हैं कि दूसरे पक्ष की संलग्नता में क्या जांच की गई है।” जज ने मामले से संबंधित डीसीपी को केस पर “निगरानी” रखने को और “निष्पक्ष जांच सुनिश्चित” करने को कहा था।


कोरोनाः चीनी डॉक्टर ने किया बड़ा खुलासा

बीजिंग । चीन में कोरोना वायरस के मामलों का शुरू में ही पता लगाने वाले एक चीनी डॉक्टर ने स्थानीय प्रशासन पर इस मामले में लीपापोती का आरोप लगाया है। डॉक्टर ने कहा कि कोरोना वायरस के केंद्र वुहान में इस महामारी को लेकर प्रारंभिक स्तर पर लीपापोती की गई और जब वह जांच के लिए गए उससे पहले ही सबूत नष्ट कर दिए गए थे। हांगकांग के सूक्ष्मजीव विज्ञान एवं चिकित्सा के प्रोफेसर क्वोक-यंग युएन ने यह आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि हुनान के वन्यजीव बाजार में सबूत नष्ट कर दिए गए थे और चिकित्सकीय निष्कर्ष के प्रति जवाबी कार्रवाई बहुत धीमी थी। बता दें कि युएन ने चीनी शहर वुहान में कोविड-19 महामारी के फैलने की जांच में मदद की थी। उन्होंने कहा कि जब हम हुनान के सुपर मार्केट में गए तब वाकई वहां देखने के लिए कुछ था ही नहीं, क्योंकि बाजार की पहले ही सफाई कर दी गई थी। हम ऐसा कुछ नहीं पहचान पाए जो इंसानों में इस वायरस को पहुंचा रहा हो। उन्होंने कहा कि मुझे संदेह है वुहान में स्थानीय स्तर पर कुछ लीपापोती की गई है। जिन स्थानीय अधिकारियों को तत्काल सूचना आगे भेजनी थी, उन्होंने उसे उतनी तत्परता से नहीं भेजा।               
 


अमेरिकी राष्ट्रपति के लिए बहस आयोजित

वाशिंगटन । अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए पहली बहस 29 सितंबर को आयोजित होने जा रही है। इसका आयोजन ओहियो के क्लीवलैंड में होगा। इससे संबंधित आयोग सीपीडी ने इसकी जानकारी दी। इस पहली बहस में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने प्रतिद्वंदी और डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बिडेन के सामने होंगे। आयोग ने इस बहस के लिए 29 सितंबर की तिथि निर्धारित करते हुए कहा, सीपीडी को यह बताते हुए खुशी हो रही है कि राष्ट्रपति पद के लिए पहली बहस की सह-मेजबानी केस वेस्टर्न रिजर्व यूनिवर्सिटी और क्लीवलैंड क्लीनिक करेंगे। इस बहस को क्लीवलैंड में हेल्थ एजुकेशन कैंपस (एचईसी) में आयोजित किया जाएगा। तीन नवंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनावों में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का मुकाबला डेमोक्रेट प्रतिद्वंदी और पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन से हो रहा है। सीपीडी ने कहा कि ट्रंप और बिडेन के बीच दूसरी बहस 15 अक्तूबर को मियामी, फ्लोरिडा में एड्रिएन आर्ट सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आट्र्स में होगी। जबकि दोनों के बीच तीसरी बहस का आयोजन 22 अक्तूबर को नेशवील, टैनेसी के बेलमोंट यूनिवर्सिटी में किया जाएगा।  सभी बहस की अवधि 90 मिनट होगी और ये रात 9 बजे से 10.30 बजे तक बिना किसी विज्ञापन के प्रसारित की जाएंगी। इसका लाइव प्रसारण व्हाइट हाउस पूल नेटवर्क द्वारा किया जाएगा।             
 


3 साल की मासूम से ताऊ ने किया रेप


  • सगे ताऊ ने किया था दुष्कर्म, हरदोई अस्पताल ने लखनऊ किया रेफर, केजीएमयू ने कोराना की आड़ लेकर भर्ती नहीं किया

  • सिविल और लोहिया ने भी किया इंकार, लोहिया के गेट पर बच्ची को लिए खड़ा था बेबस पिता


लखनऊ/हरदोई। खून के रिश्ते भी किस तरह कलंकित होते हैं इसकी मिसाल हरदोई में देखने को मिली। यहां वासना में अंधे हुए एक सगे ताऊ ने अपनी तीन वर्षीय मासूम भतीजी के साथ दुष्कर्म कर डाला। इतना ही नहीं वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ताऊ बच्ची को लहुलुहान हालत में घर पर छोड़कर मौके से फरार हो गया। बच्ची को गंभीर हालत में महिला जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया, जहां से उसे राजधानी लखनऊ रेफर कर दिया गया। वही राजधानी लखनऊ में भी इस बच्ची को कहीं इलाज नहीं मिल रहा है। कोरोना के कारण केजीएमयू प्रशासन ने बच्ची को भर्ती करने से मना कर दिया है। शहर के दूसरे अस्पतालों ने भी बच्ची को भर्ती करने से इंकार कर दिया है। देर रात तक पिता अपनी बच्ची को लिये लोहिया अस्पताल के गेट पर खड़ा था और बच्ची की हालत बिगड़ती जा रही थी।


शर्मशार करने वाली यह घटना हरदोई के सांडी थाना इलाके के एक गांव की है। यहां एक सगा ताऊ ईश्वर लाल अपनी तीन वर्षीय मासूम बच्ची को टॉफी खिलाने के बहाने घर से बाहर ले गया। इसके बाद उसके अंदर का राक्षस जागा और उसने हैवानियत की घटना को अंजाम दिया और बच्ची को रोते हुए वह घर लाया और घर मे डालकर फरार हो गया। परिजनों ने जब खून देखा तो मामला समझ में आया। बच्ची के माता-पिता और अन्य परिजन मासूम को लेकर थाने पहुंचे। बच्ची को गंभीर हालत में महिला जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया, जहां से उसे राजधानी लखनऊ रेफर कर दिया गया।राजधानी पहुंचने के बाद भी दुष्कर्म पीड़ित बच्ची की तकलीफों को किसी डाक्टर ने नहीं सुना। केजीएमयू में कोरोना की आड़ लेकर बच्ची को भर्ती करने से मना कर दिया। पिता एम्बूलेन्स में बच्ची को लेकर दूसरे अस्पतालों में भी भटका पर कहीं सुनवाई नहीं हुयी। देर रात तक पिता अपनी बच्ची को लिये लोहिया अस्पताल के गेट पर खड़ा था। सिविल और लोहिया अस्पताल में भी बच्ची को भर्ती नहीं किया गया। देर रात तक पिता लोहिया अस्पताल के गेट पर लहूलुहान बच्ची को लिए बेबस होकर धरती के भगवान कहे जाने वाले डाक्टरों की मिन्नत करने में जुटा हुआ था। वहीं हरदोई पुलिस ने दुष्कर्म की रिपोर्ट तो दर्ज कर ली पर आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है।


अयोध्या व आसपास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

बृजेन्द्र वीर सिंह


अयोध्या। अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन के मद्देनजर सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। सभी जिलों मे अलर्ट जारी कर सुरक्षा कड़ी करने को कहा गया है। खासतौर से अयोध्या के आसपास के जिलों में पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। कहीं कोई गड़बड़ी न होने पाए इसके मद्देनज़र उत्तर प्रदेश सरकार ने अयोध्या के आसपास के जिलों अंबेडकरनगर, गोण्डा, बहराइच, सुलतानपुर, अमेठी, बस्ती, बाराबंकी, महाराजगंज और सिद्धार्थनगर में नौ वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों को भेजा है।प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि भूमि पूजन के मद्देनज़र पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सभी जिलों को सतर्क रहने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि खुफिया एजेंसियों की ओर से कोई पुख्ता सूचना नहीं है। फिर भी कहीं कोई चूक न हो और कानून-व्यवस्था संबंधी अथवा अन्य प्रकार की अप्रिय स्थिति न पैदा हो इसलिए अयोध्या के आसपास के नौ जिलों में वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है।



अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी की ओर से जारी आदेश के मुताबिक, अमेठी में एडीजी अभियोजन आशुतोष पाण्डेय, गोण्डा में एडीजी यातायात अशोक कुमार सिंह, बहराइच में एडीजी पीएसी रामकुमार, सुलतानपुर में आईजी फायर विजय प्रकाश, अंबेडकरनगर में आईजी प्रतीक्षारत पीयूष मोर्डिया, बस्ती में आईजी बस्ती रेंज एके राय, बाराबंकी में आईजी भर्ती बोर्ड विजय भूषण, महाराजगंज में डीआईजी चंद्रप्रकाश द्वितीय और सिद्धार्थनगर में डीआईजी प्रशासन आरके भारद्वाज की तैनाती की गई है। इन अधिकारियों को अपने पर्यवेक्षण में अचूक सुरक्षा इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने 29 जुलाई की शाम से 6 अगस्त की सुबह तक व्यवस्था संभालने को कहा गया है। उन्हें स्थानीय अधिकारियों का मार्गदर्शन करने और गहन समीक्षा कर पुख्ता व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं।               



अस्पताल के बाहर भीगती रही डेडबॉडी


  • सहारनपुर के जिला अस्पताल में दिखी दम तोड़ती स्वास्थ्य सेवाएं

  • इमरजेन्सी वार्ड के बाहर बगैर इलाज के ही मर गया मरीज

  • बिलखती रही पत्नी, किसी ने उठाया तक नहीं भीगता हुआ शव

  • वीडियो वायरल होने पर डाक्टर गढ़ने लगे कहानी,सीएमएस बोले, जांच होगी


लखनऊ। झांसी में कोरोना संक्रमित मरीज ने मरने से पहले मेडकिल कालेज की अव्यवस्थाओं का पूरा चिट्ठा वीडियो बनाकर वायरल कर दिया पर लगता है योगी सरकार सरकार के अफसरों को इन तमाम शिकायतों से कोई लेना देना नहीं है। हरदोई की रेप पीड़ित मासूम का पिता राजधानी के अस्पतालों के चक्कर काट-काट कर टूट चुका है। अब सहारनपुर से मेडिकल सेवाओं को कटघरे में खड़ा करने वाली ये खबर आ रही है कि अपने पति को इलाज के लिए जिला अस्पताल आई एक महिला को इलाज तो दूर की बात, उनके गुजरने के बाद पति का शव उठाने वाला भी कोई नहीं मिला।यूपी की लचर मेडिकल सेवाओं की जमीनी हकीकत ये है कि मरीज अब अस्पताल जाने से भी डर रहे हैं। झांसी में ऐसा ही कुछ हुआ। मिली जानकारी के मुताबिक साजिदा नाम की महिला अपने पति सुखराम को इलाज के लिए सोमवार सुबह जिला अस्पताल ले कर आई थी। वह काफी देर तक अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड के बाहर अपने पति के इलाज के लिए डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों से मिन्नतें करती रही लेकिन किसी जिम्मेदार ने उसकी ये गुहार नहीं सुनी। बताया गया है कि डाक्टरों की अनदेखी के कारण मरीज सुखराम काफी देर तक इमरजेंसी वार्ड में फर्श पर पड़ा रहा पर न तो डाक्टरों को दिल पसीजा और न मेडिकल कर्मियों ने ही कुछ किया। इलाज के अभाव में फर्श पर पड़े पड़े ही मरीज ने दम तोड़ दिया।



मरीज के मरने के बाद भी मुसबीतों ने थमने का नाम नहीं लिया। सुखराम की लाश इमरजेन्सी वार्ड के बाहर फर्श पर ही पड़ी रही पर किसी ने उसे उठाने मे मृतक की पत्नी की मदद नहीं की। इसी बीच बारिश होने लगी और शव देर तक बारिश में भीगता रहा। लोग तमाशबीन बने घटना का वीडिय बनाते रहे लेकिन कोई मदद को आगे नहीं आया। इसी बीच काफी देर बात महिला के रोने की आवाजें सुनकर कुछ लोगों का दिल पसीजा और उन लोगं ने शव को वहां से उठाकर पास बने रैन बसेरा में रख दिया। इतना सब होने के बाद भी अस्पताल प्रशासन का दिल नहीं पसीजा और मेडिकल कर्मियों ने यह कहना शुरु कर दिया किइमरजेंसी वॉर्ड के सामने कोई शव छोड़कर गया था। हालांकि इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद दो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को हटाया गया है और मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं।             



संगठनात्मक ढांचे में किया गया फेरबदल

बहुजन समाज पार्टी ने संगठनात्मक ढांचे में किया व्यापक फेरबदल


बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती के निर्देश पर जिलाध्यक्ष अरविंद गौतम ने किया व्यापक बदलाव
अंबेडकर नगर। बसपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी के निर्देश पर अंबेडकरनगर जिले की बहुजन समाज पार्टी इकाई ने व्यापक बदलाव किया है। बसपा सुप्रीमो के निर्देश पर जिलाध्यक्ष अरविंद गौतम श्री गोविंद निषाद को जिला- उपाध्यक्ष मनोनीत किया है। इसके अलावा जिला सचिव विधानसभा प्रभारी के रूप में आलापुर सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र में छेदी राम मौर्य व हरीश चंद्र गौतम को जिम्मेदारी दी गई है। जबकि डॉ. काशीराम को जिला सचिव विधानसभा प्रभारी- कटेहरी बनाया गया है। इसके अलावा जिले की पांचों विधान सभाओं ने विधानसभा अध्यक्षों की तैनाती करते हुए।
आलापुर विधानसभा क्षेत्र की पूरी कार्यकारिणी का पुनर्गठन करते हुए नए चेहरों को तरजीह दी गई है।
जिलाध्यक्ष के मुताबिक राम बहोर राव को कटेहरी रामबचन गौतम को टांडा, राजेश कुमार गौतम को जलालपुर दिनेश राव को अकबरपुर विधानसभा क्षेत्र का अध्यक्ष बनाया गया है। जबकि आलापुर विधानसभा क्षेत्र का बलराम निषाद को अध्यक्ष विजेंद्र मिश्र को उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह पटेल को महासचिव एवं मेवा लाल शर्मा को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।
बहुजन समाज पार्टी के अयोध्या , देवीपाटन मंडल, गोरखपुर एवं बस्ती मंडल प्रभारी पूर्व सांसद पूर्व राज्यसभा सदस्य घनश्याम चंद खरवार ने सभी नवनियुक्त पदाधिकारियों को बधाई दी है ।               


दोस्ती के बाद अपनाएं 'लिव-इन-रिलेशनशिप'

कई शहरों में आजकल लिव-इन रिलेशनशिप का चलन बढ़ा है। लिव-इन रिलेशनशिप उसे कहते हैं जब एक वयस्क लड़का और लड़की आपसी सहमति से, बिना शादी किए पति-पत्नी की तरह रहते हैं।ज्यादातर लोगों के लिए लिव-इन रिलेशनशिप अपने रिश्तों को समझने और परखने का अच्छा तरीका है। वहीं कुछ लोग लिव-इन में सिर्फ टाइमपास और अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए रहते हैं। आइये जानते हैं कि लिव-इन रिलेशन में रहने से पहले आपको किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।


दोस्ती के बाद ही लिव-इन रिलेशनशिप अपनायें 
लिव-इन में रहने से पहले आपको अपने पार्टनर को अच्छी तरह से जान लेना चाहिए। उसके सेंटीमेंट्स और मूड के बारे में आपको पहले से जानकारी होना जरूरी है। इसके अलावा जरूरी है कि आप लोगों नें पहले कुछ समय साथ रहकर दोस्त के रूप में गुजारा हो। लड़कियों को खासकर इस मामले में सावधान रहना चाहिए। अपने पार्टनर के प्यार और उसके एहसास को अच्छी तरह परख लें। अगर थोड़ा भी संदेह हो तो ऐसे रिश्ते से बचें और पार्टनर को थोड़ा और समय दें।
रिश्तों में कभी-कभार थोड़ी बहुत अनबन हो जाना आम बात है। इससे आपके रिश्तों में ताजगी आती है और रिश्ता मजबूत बनता है। लिव-इन रिलेशन में भी ऐसी अनबन हो सकती हैं। ऐसे में कई बार आप थोड़ी सी नाराजगी में बहुत गलत बात कह जाते हैं, जो आपके पार्टनर को बुरी लग सकती हैं। जैसे- अपने घर चले जाओ या अलग हो जाओ या मुझे तुम्हारी जरूरत नहीं आदि। नाराजगी के समय याद रखें कि सामने वाले शख्स को आप पर पूरा भरोसा था तभी वो आपके साथ ऐसे रिश्ते में आने के लिए राजी हुआ है।


खर्चों के मैनेजमेंट को लेकर बात करें
आजकल मंहगाई इतनी बढ़ गई है कि किसी शहर में दो लोगों को अच्छी जीवनशैली के लिए पर्याप्त पैसा जुटाना कई बार एक अकेले इंसान के लिए भारी पड़ सकता है। इसलिए अगर आप लिव-इन रिलेशनशिप में रहने वाले हैं तो अपने पार्टनर से खर्चों के बंटवारे को लेकर पहले ही साफ-साफ बात कर लें और इसका एक खाका बना लें। अक्सर पार्टनर्स के बीच पैसों को लेकर अनबन शुरू होती है जो रिश्ते टूटने के कगार तक पहुंच जाती है। अगर आप अपने पार्टनर को समझने और जानने के लिए लिव-इन रिलेशनशिप का रास्ता चुन रहे हैं तो आपको मानसिक और भावनात्मक तौर पर मजबूत होना चाहिए। कई बार आपको पार्टनर की कोई आदत पसंद नहीं आती या आपकी कोई आदत उन्हें नहीं पसंद आती, तो आपसी बातचीत से इन मुद्दों का हल निकालना चाहिए। इसके अलावा आपको कई बार कुछ बातें अपनी समझदारी से इग्नोर करनी पड़ सकती हैं। ऐसी स्थिति में आपका दिमागी रुप से मजबूत होना जरूरी है।


गलत होने पर अलग होने को रहें तैयार
अगर आप लिव-इन में रहते हैं लेकिन आपके पार्टनर से आपका रिश्ता अच्छी तरह नहीं निभ रहा है या आपके पार्टनर आपकी भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं तो हमेशा अपनी बात कहने की हिम्मत और हौसला रखिये। इसके अलावा कई बार कुछ लोग रिश्तों में आने के बाद बदल जाते हैं या वो आपको किसी गलत काम के लिए मजबूर करते हैं तो हमेशा अलग होने के लिए तैयार रहें।             


एएमयू की मस्जिदों में नहीं होगी नमाज

अलीगढ। कोरोना वायरस संक्रमण को ध्यान में रखते हुए अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अंतर्गत जामा मस्जिद सहित किसी भी मस्जिद में ईद-उल-अजहा की नमाज अदा नहीं की जायेगी। विश्वविद्यालय के नाजिम दीनियात प्रो. मोहम्मद सलीम ने कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना वायरस से पैदा होने वाली स्थिति के दृष्टिगत ईद-उल-अजहा की नमाज एएमयू की किसी भी मस्जिद में अदा नहीं की जाएगी। छात्र, शिक्षक व गैर शिक्षक कर्मी ईद उल अजहा की नमाज अपने घरों और आवासीय स्थानों पर अदा करें, जिन लोगों के लिए ईद-उल-अजहा की नमाज का कोई प्रबंध नहीं है वह नमाजे चाश्त अदा करें। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब जन स्वास्थ्य को बड़े खतरे का सामना है, लोग इस्लामी सिद्घांतों के अनुरूप वैकल्पिक नमाज अदा कर सकते हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के कारण ईद उल अजहा के अवसर पर कुलपति की ओर से छात्रों एवं यूनिवर्सिटी स्टाफ के लिए आयोजित किया जाने वाला कार्यक्रम इस वर्ष आयोजित नहीं किया जायेगा। कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने एएमयू के सभी शिक्षकों, वर्तमान एवं पूर्व छात्रों तथा देश के सभी नागरिकों को ईद के अवसर पर बधाई देते हुए आग्रह किया है कि वह समाज के कमजोर वर्ग की बढ़ चढ़कर सहायता करें।


उन्होंने कोविड-19 की रोकथाम के लिए जन स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी दिशा निर्देशों का पालन करने के लिए भी लोगों से आग्रह किया है। नाजिमे दीनियात प्रो. मोहम्मद सलीम ने कहा कि परिसर में किसी भी स्थान पर खुले में कुर्बानी न करें और ना ही एक स्थान पर एकत्रित हों। कुर्बानी अपने घरों पर करें और कुर्बानी के बाद सफाई का पूरा ख्याल रखें। उन्होंने लोगों से कब्रिस्तान न जाने का भी आग्रह किया।               


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)


 जुलाई 30, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-350 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, जुलाई-30, 2020
3. शक-1943, श्रावण,शुक्ल-पक्ष, तिथि- एकादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:25,सूर्यास्त 07:20।


5. न्‍यूनतम तापमान 25+ डी.सै.,अधिकतम-39+ डी.सै.। भारी बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                   


अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। बिजनेस सॉफ्टवेयर फर्म फ्रेशवर्क्स इंक ने बुधवार को अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की है। अपने शानद...