मंगलवार, 5 नवंबर 2019

किसानों को किस आधार पर बनाया बंदी

रायपुर! भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष संदीप शर्मा ने राजिम से पदयात्रा कर राजधानी जा रहे किसानों को अकारण बंधक बनाए रखने पर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। शर्मा ने कहा कि अपने भुगतान के लिए भटकते किसानों को राजधानी जाने से रोकना शांतिपूर्ण लोकतांत्रिक आंदोलन के अधिकारों का खुला हनन है। भाजपा किसान नेता शर्मा ने कहा कि मंडी प्रांगण से अपनी मांगों को लेकर निकल रहे किसानों को घंटेभर तक बंधक बनाए रखा गया, जो प्रदेश सरकार के किसान विरोधी चेहरे को बेनकाब करने के लिए पर्याप्त है। लोकतांत्रिक अधिकारों की दुहाई देने और किसानों के प्रति हमदर्दी का राग अलापने वाली प्रदेश सरकार और उसके प्रशासन ने किसानों को बंधक बनाकर यह साबित कर दिया है कि गंगाजल हाथ में लेकर किसानों के हितों की कसमें खाने वाले कांग्रेस नेता और प्रदेश सरकार के लोग किसानों को महज वोटों की फसल से ज्यादा कुछ नहीं मानते और किसानों के लिए कांग्रेस सरकार न तो पहले कभी संवेदनशील रही है, और न ही अब भी संवेदनशील है। शर्मा ने कहा कि किसानों को सब्जबाग दिखाने वाली मौजूदा प्रदेश सरकार अपने किसान विरोधी राजनीतिक चरित्र और एजेंडे का परिचय दे रही है। धान खरीदी के नाम पर अपने वादे से मुकरने की नीयत का प्रदर्शन कर रही सरकार एक ओर किसानों के हितों का गला घोटकर धान खरीदी के मसले का राजनीतिकरण करने पर आमादा है। दूसरी ओर किसानों के बिके धान का भुगतान दिलाने में सहायक होने की बजाय वह उन्हें बंधक बनाकर शांतिपूर्ण पदयात्रा-आंदोलन के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन करने का निंदनीय कृत्य कर रही है। शर्मा ने प्रदेश सरकार को चेतावनी दी कि किसानों के प्रति वह राजनीतिक नजरिये से काम करने की बजाय संवेदनशील बने। उन्होंने कहा कि भाजपा किसानों के हितों की लड़ाई लड़कर किसानों का अहित करने वालों के मंसूबे किसी कीमत पर सफल नहीं होने देगी!


दिल्ली पुलिस के समर्थन में उतरा 'परिवार'

नई दिल्ली। स्टार्टअप्स को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस और फंडिंग के मोर्चे पर राहत देने के लिए मोदी सरकार बड़ा कदम उठा सकती है. सूत्रों के मुताबिक, कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय ने एक प्लान तैयार किया है जिसके मुताबिक मौजूदा रेगुलेटरी फाइलिंग होती है, उसको 5 साल से बढ़ाकर 10 साल तक एग्जम्पट किया जा सकता है!
इसके अलावा जो दूसरी बड़ी राहत मिल सकती है वो पेडअप कैपिटल शेयर पर मिल सकती हैै! सरकार पेडअप शेयर कैपिटल का 50 फीसदी हिस्सा तक कंपनी के डायरेक्टर्स, प्रोमोटर्स और इम्लाइज के लिए स्वीट शेयर के तौर पर जारी करने की इजाजत दे सकती है! अभी तक जो नियम है उसके मुताबिक पेडअप शेयर कैपिटल के 100 फीसदी से ज्यादा डिपॉजिट्स को स्वीकार नहीं किया जा सकता है. लेकिन सरकार इस मोर्चे पर भी राहत दे सकती है!
रेगुलेटरी फाइलिंग के लिए कंपनीज एक्ट में बदलाव करने की जरूरत पड़ेगी, लेकिन जो फंडिंग को लेकर नियम आसान करने की बात की जा रही है, उसके लिए एक नोटिफिकेशन जारी करना होगा! इसके लिए सरकार जल्द ही ऐलान कर सकती है!


मोदी सरकार बड़ा कदम उठाने के मूड में

नई दिल्ली। स्टार्टअप्स को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस और फंडिंग के मोर्चे पर राहत देने के लिए मोदी सरकार बड़ा कदम उठा सकती है! सूत्रों के मुताबिक, कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय ने एक प्लान तैयार किया है जिसके मुताबिक मौजूदा रेगुलेटरी फाइलिंग होती है, उसको 5 साल से बढ़ाकर 10 साल तक एग्जम्पट किया जा सकता है!
इसके अलावा जो दूसरी बड़ी राहत मिल सकती है वो पेडअप कैपिटल शेयर पर मिल सकती हैै! सरकार पेडअप शेयर कैपिटल का 50 फीसदी हिस्सा तक कंपनी के डायरेक्टर्स, प्रोमोटर्स और इम्लाइज के लिए स्वीट शेयर के तौर पर जारी करने की इजाजत दे सकती है! अभी तक जो नियम है उसके मुताबिक पेडअप शेयर कैपिटल के 100 फीसदी से ज्यादा डिपॉजिट्स को स्वीकार नहीं किया जा सकता है! लेकिन सरकार इस मोर्चे पर भी राहत दे सकती है.
रेगुलेटरी फाइलिंग के लिए कंपनीज एक्ट में बदलाव करने की जरूरत पड़ेगी, लेकिन जो फंडिंग को लेकर नियम आसान करने की बात की जा रही है, उसके लिए एक नोटिफिकेशन जारी करना होगा! इसके लिए सरकार जल्द ही ऐलान कर सकती है!


मृत प्रेमी की फोटो से की जाएगी शादी

उत्तर-प्रदेश लखनऊ
मृत प्रेमी के फोटो के साथ शादी रचायेगीं तीन बच्चों की मां


लखनऊ। चौंक गए न,तीन बच्चों की मां और मृत प्रेमी के फोटो से शादी। लेकिन हकीकत यही है। एक महिला ने अपने प्रेमी की इच्छा को पूरा करने के लिए कुछ ऐसी ही अनूठी शादी करने का ऐलान कर दिया है। इसके लिए बाकायदा धूमधाम से तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। शादी आठ नवंबर को नगर के प्राचीन शिवमंदिर में वैदिक मंत्रोच्चार व सभी रस्मों को निभाते हुए की जाएगी।


ये अनूठा मामला अतरौली के एक मोहल्ले का है। यहां रहने वाली एक महिला तकरीबन 15 साल पहले विवाह करके आई थी। तीन बच्चे भी हैं। शादी के कुछ साल बाद ही उसका प्रेम संबंध मोहल्ले के निवासी मोबाइल रिपेयरिंग की दुकान चलाने वाले सौरभ वर्मा से हो गए। तीन साल पहले जब बीमारी के चलते महिला के पति की मौत हुई तो प्रेमी ने शादी का प्रस्ताव रख दिया। दोनों ने सहमति जाहिर की और एक दूसरे के साथ शादी करने व साथ जीने मरने की कसमें भी खा लीं। लेकिन अचानक इसके कुछ माह बाद ही सितंबर 2017 में सौरभ ने आत्महत्या कर ली।
अब महिला ने प्रेमी के साथ शादी की कसम व उसकी इच्छा को पूरा करने के लिए उसकी फोटो से शादी करने का ऐलान कर दिया है। इसके लिए बाकायदा मुहूर्त निकलवाकर शादी की तैयारियों में जुट गई है। नाते रिश्तेदारों को निमंत्रण पत्र भेजकर शादी में आने का न्योता दिया जा रहा है। महिला की इस तैयारी से पूरा मोहल्ला ही नहीं परिवार और नाते-रिश्तेदार भी असमंजस में हैं।
ढाई साल पहले महिला से शादी न होने पर आत्महत्या करने वाले प्रेमी सौरभ वर्मा की फोटो से शादी करने के महिला के निर्णय से परिवार ही नहीं मोहल्ले में भी तनाव है। हालांकि महिला का कहना है कि अपने प्रेमी की फोटो के साथ शादी करने से किसी को कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन हकीकत इसके उलट है।


9 साल बाद कोर्ट ने बुलाया कटघरे में

आगरा। राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष व इटावा के सांसद प्रो. रामशंकर कठेरिया के खिलाफ विशेष न्यायाधीश एमपी/एमएलए उमाकांत जिंदल के कोर्ट से नौ साल पुराने मामले में गैर जमानती वारंट जारी किए गए हैं। कोर्ट ने आगरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को 13 नवंबर को उन्हें पेश करने का आदेश दिया गया है।


सांसद रामशंकर कठेरिया व अन्य लोगों के खिलाफ वर्ष 2010 में प्रदर्शन के एक मामले में जीआरपी आगरा कैंट ने रेलवे अधिनियम की धारा 143,147, 174 आदि में मुकदमा दर्ज किया गया था। मुकदमे की सुनवाई विशेष न्यायाधीश एमपीध्एमएलए उमाकांत जिंदल के कोर्ट में चल रही है। कठेरिया के कई तारीख पर हाजिर नहीं होने पर कोर्ट ने मंगलवार को सख्त रुख अपनाया और कई बार पुलिस को आदेश जारी कर उन्हें कोर्ट में हाजिर जारी कराने को कहा, फिर भी कठेरिया कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। मंगलवार को मुकदमे की सुनवाई के दौरान न्यायाधीश उमाकांत जिंदल ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने के आदेश जारी किया है। साथ ही पुलिस को 13 नवंबर को कोर्ट में हाजिर करने को कहा है। प्रो. रामशंकर कठेरिया पूर्व में आगरा से सांसद थे, पिछले संसदीय चुनाव में भाजपा ने उन्हें आगरा के बजाए इटावा से टिकट दिया। वर्तमान में वह इटावा से ही सांसद हैं।


मुख्य सचिव ने माना प्रदूषण रोकने के प्रयास अधूरे

दिल्ली के मुख्य सचिव ने माना प्रदूषण रोकने के प्रयास अधूरे


नई दिल्ली ! दिल्ली में प्रदूषण की लगातार बिगड़ी स्थिति पर मंगलवार को राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण(एनजीटी) ने सुनवाई की। एनजीटी ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा कि आपकी सरकार कूड़ा जलाने को रोकने के मामले में क्या कर रही है।


एनजीटी ने कहा कि जब प्रदूषण बढ़ता है तो हमें बताया जाता है कि सभी निर्माण कार्य रोक दिए गए। इससे किसे नुकसान होता है। मजदूर बेरोजगार हो जाते हैं और उनके भलाई के लिए बना लाखों का फंड धरा रह जाता है। इस पर दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव ने एनजीटी के सामने अपना पक्ष रखते हुए माना कि प्रदूषण रोकने की उनकी कोशिशें अधूरी हैं और कूड़ा जलाने की समस्या से सख्ती से निपटेंगे। अगर कोई कहीं कूड़ा जलते देखे तो हमें सूचित करे हम कार्रवाई करेंगे।


एनजीटी ने इस मामले में केंद्र को भी तलब किया। उसने केंद्र सरकार से उसके द्वारा प्रदूषण रोकने के लिए उठाए गए कदम की भी जानकारी मांगी। इस पर केंद्र सरकार ने एनजीटी को बताया कि प्रदूषण रोकने के लिए सचिव स्तर की बैठकें जारी हैं। हमने राज्यों को इस समस्या से निपटने के लिए 1150 करोड़ रुपये दिए हैं।


पुलिस में होना थैंकलेस, डिलीट किया मैसेज

किरन रिजीजू ने पुलिस के समर्थन वाला ट्वीट बाद में किया डिलीट


नई दिल्ली ! तीस हज़ारी कोर्ट हिंसा के बाद वकीलों के कोर्ट में किए गए रवैये पर केंद्रीय मंत्री किरन रिजीजू ने ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है, ''पुलिस में होना थैंकलेस है। लेकिन वो वाहवाही के लिए काम नहीं करते। वे रोज़ाना अपनी ज़िंदगी को दांव पर लगाते हैं। अगर वे काम करते हैं तो उनकी निंदा होती है और नहीं करते हैं तो भी निंदा होती है। इस पुलिस विरोधी रवैये के बीच हम ये बात भूल जाते हैं कि जब वे ड्यूटी कर रहे होते हैं तो उनके घर, उनका परिवार होता है।'' हालांकि किरण रिजीजू ने यह ट्वीट बाद में अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से हटा दिया है।


गौरतलब है कि तीस हज़ारी कोर्ट में शनिवार को वकीलों और पुलिस की झड़प का विवाद थमता नज़र नहीं आ रहा है। मंगलवार को दिल्ली पुलिस वर्दी में सड़कों पर उतर कर विरोध प्रदर्शन कर रही है। सोमवार को वकीलों ने कामकाज बंद रखा था और इस दौरान उनकी गुंडागर्दी भी सामने आई थी। दिल्ली की अलग-अलग अदालत परिसरों में पुलिस और मीडिया के अलावा आम लोगों के साथ मारपीट की गई थी। इधर बार काउंसिल ने वकीलों से जल्द से जल्द काम पर लौटने की अपील की है।


आईटीओ स्थित दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों ने 'हमें न्याय चाहिए' के नारे लगाए और कहा कि हमें असुरक्षा का एहसास हो रहा है। प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों से दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने मुलाकात की। इस दौरान पुलिस कमिश्नर ने पुलिसकर्मियों से कहा, 'आप सभी शांति बनाए रखें। सरकार और जनता को हमसे उम्मीदें है। हमारे लिए परीक्षा, अपेक्षा और प्रतीक्षा की घड़ी है। आप सभी ड्यूटी पर वापस जाए। इस मसले पर न्यायिक जांच चल रही है। हमें अनुशासन बनाए रखना है। पहले से हालात बेहतर हो रहे हैं।


पुलिस क्यों पीट रही, फूट-फूटकर रोया सिपाही

बच्ची ने पूछा- पुलिस क्यों पिट रही है?' फूट-फूट कर रोया सिपाही


नई दिल्ली! राजधानी में काला कोट बनाम खाकी वर्दी की लड़ाई सड़कों पर दिख रही है। तीस हजारी कोर्ट में हिंसक झड़प के मसले में दिल्ली पुलिस के जवान प्रदर्शन कर रहे हैं। मुख्यालय के बाहर हो रहे प्रदर्शन में जवानों की भावनाएं निकलकर आ रही हैं। अपनी बात रखते हुए एक दिल्ली पुलिस का जवान फूट-फूटकर रोने लगा और कहा कि उनकी बच्ची आज पूछ रही है कि पुलिसवालों को क्यों पीटा जा रहा है?


आज तक संवाददाता से बात करते हुए दिल्ली पुलिस के जवान ने कहा, 'हमारी मांग सभी को मालूम है हर आदमी आज के वक्त में जागरूक है, सभी को पता है पुलिस की क्या मांग है। हमें इंसाफ चाहिए , एक तरफा फैसला क्यों होता है। घर से आया तो बच्ची ने पूछा पापा, पुलिस क्यों पिट रही है? वर्दी में क्यों जा रहे हो आप, आपकी पिटाई होगी। हम क्या करेंगे? कुछ नहीं हो सकता'


गौरतलब है कि शनिवार (2 नवंबर) को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पार्किंग के विवाद को लेकर दिल्ली पुलिस और वकीलों में हिंसक झड़प हो गई थी। वहां पुलिस ने हवाई फायरिंग की, जिसमें वकील घायल हो गया। उसी के बाद वकीलों ने पुलिस जीप में आग लगा दी, वहां तोड़फोड़ की।


इंसाफ के लिए सड़क पर उतरी दिल्ली पुलिस

तीस हजारी कोर्ट बवाल: इंसाफ के लिए सड़क पर उतरी दिल्ली पुलिस


नई दिल्ली ! दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर बीते शनिवार(2 नवंबर) को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प के मामले ने आज एक नया मोड़ ले लिया है। बीते तीन दिनों से जहां देशभर में वकील इस घटना का विरोध कर रहे थे वहीं आज दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर पुलिसकर्मी प्रदर्शन कर रहे हैं।


इस बीच सड़क पर उतरे पुलिसकर्मियों को समझाने के लिए आला अधिकारी डीसीपी ईश सिंघल उनके बीच पहुंचे और कार्रवाई करने का भरोसा भी दिलाया लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उनकी बात मानने के बजाय, 'हमें न्याय चाहिए'(वी वांट जस्टिस) के नारे लगाए। ईश सिंघल ने उनसे कहा कि आप लोगों की मंशा जायज है, आपका आना विफल नहीं जाएगा, हमलोग बैठकर बात करेंगे। यह सुनते ही प्रदर्शनरत पुलिसवाले शोर मचाने लगे।


फिर अधिकारियों ने उनसे शांति बनाए रखने की अपील की और आगे कहा कि दोषियों पर कानूनी कार्रवाई जारी रहेगी। यदि हम सड़क पर इस मुद्दे को हाइलाइट करने की कोशिश करेंगे तो फायदा किसका होगा। उन्होंने ये भी विश्वास दिलाया कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी होगी।


अंग्रेजी ,पंजाबी और उर्दू में भी ली शपथ

राणा ओबराय
हरियाणा विधानसभा में कुछ विधायकों ने ली पंजाबी व उर्दू में शपथ
चण्डीगढ़ ! हरियाणा की 14वीं विधानसभा के पहले दिन विधायकों के शपथ ग्रहण का बोलबाला रहा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल और विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा सहित कुल 76 विधायकों ने हिंदी में शपथ ली। इनके अलावा 8 विधायकों ने इंगलिश में शपथ ली। हिसार के विधायक कमल गुप्ता समेत 3 विधायकों ने संस्कृत और 2 विधायकों ने पंजाबी व 1 ने उर्दू में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली।
हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा विधानसभा में विपक्ष के नेता बन गए हैं। कांग्रेस पार्टी की ओर से विधानसभा सचिवालय को हुड्डा के कांग्रेस विधायक दल का नेता चुने जाने तथा उन्हें विपक्ष के नेता का पद सौंपने का अनुरोध पत्र सौंपा गया था। स्पीकर बनने के बाद ज्ञान चंद गुप्ता ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा के विपक्ष का नेता बनने की अधिकृत घोषणा की
ज्ञान चंद गुप्ता के स्पीकर बनने के बाद यह साफ हो गया कि पूर्व स्पीकर एवं जगाधरी से विधायक कंवरपाल गुर्जर को मनोहर सरकार में मंत्री पद मिलेगा।
वहीं उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश में निजी व सरकारी नौकरियों में हरियाणा के युवाओं को 75% भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस विषय में सरकार जल्द ही बिल लाने जा रही है सरकार युवाओं को रोजगार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा गठबंधन सरकार आंध्र प्रदेश, तेलंगाना उत्तराखंड, हिमाचल, महाराष्ट्र और गुजरात में लागू बिल का अध्ययन कर रही है। गठबंधन सरकार एक सर्वश्रेष्ठ बिल लाएगी। जिसके तहत हरियाणा के मूल निवासियों को 75 फ़ीसदी रोजगार सुनिश्चित किया जाएगा।


फरियादीयो की समस्या सुन, डीएम ने दिया आदेश

पंकज राघव संवाददाता 


संभल! संभल के जिला अधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह व पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने जनपद संभल के तहसील गुन्नौर में आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस में फरियादियों के समस्याओं सुनी तथा सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया कि नियमानुसार गुणवत्ता पूर्वक ढंग से शिकायतों का निस्तारण करें ताकि फारियादी संतुष्ट रहे। और उन्होंने कार्यवाही किये जाने के भी निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि समाधान दिवस में प्राप्त शिकायतों में से कुछ शिकायतों का शासन स्तर पर गठित कमेटी द्वारा समीक्षा की जाती है। अतएव शिकायतों का गुणवत्तापरक निस्तारण सुनिश्चित कराये। अन्यथा की स्थिति में सम्बन्धित अधिकारियों की जिम्मेदारी निर्धारित कर कार्रवाई भी हो सकती है।


छोटे कलाकारों को प्रोत्साहन के लिए कटिबद्ध

प्रयागराज! यमुनापार नैनी स्थित हिट फिल्म प्रोडक्शन के 1 वर्ष पूरे होने पर जमुनापार क्षेत्र के कलाकारों एवं बॉलीवुड इंडस्ट्री से जुड़े कलाकारों द्वारा प्रोडक्शन कंपनी में सुंदरकांड एवं प्रसाद वितरण किया गया! विगत 1 वर्ष में क्षेत्रीय कलाकारों द्वारा समूचे देश में विभिन्न कला के क्षेत्र में पहचान दिलाने वाली हिट फिल्म प्रोडक्शन के निर्देशक एवं बॉलीवुड फिल्म हुड़दंग की प्रोडक्शन टीम सदस्य एवं एवं सीरियल राजा बेटा की प्रोडक्शन टीम में काम कर चुके सौरभ तिवारी के अनुसार 1 वर्ष में यमुनापार के 2 दर्जन से अधिक थियेटर कलाकारों को फिल्म एवं सीरियल में जगह दिला चुकी, इस संस्था ने यमुनापार कलाकार उत्थान संघ एवं नुक्कड़ नाट्य अभिनय संस्थान के सहयोग से क्षेत्रीय प्रतिभाओं को मंच दिला कर पहचान दिलाई है! उक्त अवसर पर कार्यक्रम का शुभारंभ जमुनापार कलाकार उत्थान संघ के अध्यक्ष एवं हिट फिल्म प्रोडक्शन के संरक्षक सुविख्यात गायक प्रियांशु श्रीवास्तव ने दीप प्रज्वलन कर एवं कलाकारों को संबोधित कर  किया !
इस अवसर पर बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक जैद खान एवं छोटे पर्दे के कलाकारों में नविता, जाह्नवी, शिवेश कृष्ण कुमार मौर्य आदि मौजूद रहेे!


जयंतीलाल के हत्यारोपी प्रयागराज से गिरफ्तार

बीजेपी नेता जयंतीलाल भानुशाली की हत्या के आरोपी मनीषा और सुर्जीत प्रयागराज से गिरफ्तार


प्रयागराज ! गुजरात में बीजेपी नेता जयंतीलाल भानुशाली की ट्रेन में हत्या के मामले में दो आरोपी प्रयागराज से गिरफ्तार किए गए हैं। मामले में प्रयागराज की कीडगंज थाने की पुलिस ने गुजरात एसआईटी के साथ ये गिरफ्तारी की है। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार किए गए हत्या आरोपियों में मनीषा गोस्वामी और सुर्जीत भाउ हैं। एसएसपी प्रयागराज सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज गिरफ्तारी की पुष्टि की है। मामले में गुजरात एसआईटी अब दोनों आरोपियों को कोर्ट से ट्रांजिट रिमांड पर गुजरात ले जाने की तैयारी कर रही है।


बता दें इसी साल जनवरी में गुजरात के बीजेपी के वरिष्ठ नेता जयंतीलाल भानुशाली की ट्रेन में गोली मारकर हत्या कर दी गई। कच्छ इलाके के कद्दावर नेता पर सयाजी नगरी एक्सप्रेस में हमला हुआ। वह भुज से अहमदाबाद जा रहे थे, उन पर कटारिया और सरवेबरी स्टेशन के बीच अज्ञात हमलावरों ने हमला कर दिया। बताया जा रहा है कि भानुशाली को दो गोलियां लगीं, जिनमें से एक उनके सीने में और दूसरी उनकी आंख में लगी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई।


हत्या की मुख्य आरोपी है मनीषा गोस्वामी :-बता दें मामले की जांच में पुलिस ने खुलासा किया था कि जयंती भानुशाली की हत्या में बीजेपी के ही नेता छबील पटेल व मनीषा गोस्वामी ने करवाई थी। दोनों इसके लिए पुणे के शार्पशूटर को सुपारी दी थी। गुजरात पुलिस ने बताया कि हत्या के तीन दिन पहले छबील पटेल विदेश भाग गए और मनीषा गोस्वामी भी फरार थी। इस हत्याकांड में छबील पटेल के दो सहयोगी राहुल व वसंत पटेल को गिरफ्तार किया गया है। बाकी सभी आरोपितों की तलाश की जा रही है।


झेल रहे थे बलात्कार का आरोप :-भानुशाली अब्दसा सीट से विधायक रह चुके हैं. कच्छ जिले के बीजेपी उपाध्यक्ष भानुशाली के खिलाफ हाल ही में सूरत की एक लड़की ने रेप का आरोप लगाया था। हालांकि, शिकायत के कुछ वक्त बात लड़की ने गुजरात हाईकोर्ट में एक बयान दर्ज किया, उसने कहा कि वह मामला नहीं चलाना चाहती। युवती ने कहा था कि वह इस मामले में आगे कोई कार्रवाई नहीं चाहती हैं और दोनों के बीच समझौता हो गया है।


क्या है पूरा मामला? सूरत की एक लड़की ने सरथाना पुलिस स्टेशन में जयंती भानुशाली के खिलाफ शिकायत की थी! सूरत क्राइम ब्रांच इस मामले की जांच कर रही थी। लड़की ने अपनी शिकायत में कहा कि फैशन डिजाइनिंग पाठ्यक्रम में प्रवेश के सिलसिले में एक रिश्तेदार के माध्यम से उसकी जयंती भानुशाली से मुलाकात हुई थी! भानुशाली ने प्रवेश दिलवाने के बहाने उसे अहमदाबाद बुलाया था, वह ट्रेन से गांधीनगर गई। इसके बाद अपनी कार में बैठाकर उसे अश्लील वीडियो दिखाए गए और फिर बाद में उसके साथ बलात्कार भी किया गया!


गुजरात के बीजेपी के वरिष्ठ नेता जयंतीलाल भानुशाली की ट्रेन में गोली मारकर हत्या कर दी गई। कच्छ इलाके के कद्दावर नेता पर सयाजी नगरी एक्सप्रेस में हमला हुआ। वह भुज से अहमदाबाद जा रहे थे, उन पर कटारिया और सरवेबरी स्टेशन के बीच अज्ञात हमलावरों ने हमला कर दिया।बताया जा रहा है कि भानुशाली को दो गोलियां लगी जिनमें से एक उनके सीने में और दूसरी उनकी आंख में लगी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई!


प्रदूषण नियंत्रण के लिए राज्य सरकार हुई सख्त

विकास प्राधिकरण के उत्तरदायी अधिकारियों को व्यक्तिगत रूप से 


जिम्मेदार मानकर कड़ी कार्यवाही होगी सुनिश्चित: मुख्य सचिव 


लखनऊ! उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव श्री राजेन्द्र कुमार तिवारी ने समस्त मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों सहित पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में वायु प्रदूषण नियंत्रण हेतु मा0 उच्चतम न्यायालय द्वारा विगत 04 नवम्बर, 2019 को दिये गये निर्देशों का अनुपालन कड़ाई से सुनिश्चित कराया जाये। उन्होंने कहा कि कृषि अपशिष्ट को जलाये जाने की घटनाओं को पूर्ण रूप से रोकने हेतु सम्बन्धित जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, तहसीलदार, थानाध्यक्ष, जिला कृषि अधिकारी, लेखपाल तथा ग्राम पंचायत एवं ग्राम प्रधान के स्तर से हर संभव कदम उठाये जायें। उन्होंने कहा कि कृषि अपशिष्ट जलाये जाने की घटनाओं के पाये जाने पर प्रत्येक स्तर का मा0 उच्चतम न्यायालय द्वारा दिये गये आदेशों का उल्लंघन मानकर नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित करायी जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि कृषि अपशिष्ट जलाये जाने की अब तक हुई घटनाओं एवं उत्तरदायी व्यक्तियों की इन्वेन्ट्री भी तैयार करायी जाये।


मुख्य सचिव ने यह निर्देश आज परिपत्र भेजकर समस्त मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षकों को दिये हैं। उन्होंने कृषि, नगर विकास, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास, आवास एवं शहरी नियोजन, लोक निर्माण, ऊर्जा, पंचायतीराज, ग्राम्य विकास, गृह, राजस्व, परिवहन, पशुपालन एवं सूचना सहित सम्बन्धित विभागों के अपर मुख्य सचिवों एवं प्रमुख सचिवों को निर्देश दिये हैं कि मा0 उच्चतम न्यायालय तथा एनवायरमेंट पाॅल्यूशन कंट्रोल अथाॅरिटी (ईपीसीए) द्वारा दिये गये निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित कराने हेतु अपने स्तर पर प्रतिदिन समीक्षा कर सूचना उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराया जाये।
श्री राजेन्द्र कुमार तिवारी ने यह भी निर्देश दिये हैं कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में निर्माण गतिविधियों को पूर्ण रूप से बंद कराया जाये। उल्लंघनकर्ताओं पर एक लाख रुपये का जुर्माना अधिरोपित किया जाये। उन्होंने कहा कि आदेश का उल्लंघन पाये जाने की दशा में स्थानीय प्रशासन, नगर निगम एवं विकास प्राधिकरण के उत्तरदायी अधिकारियों को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार माना जायेगा। उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कोयला आधारित उद्योगों पर लगे प्रतिबंध का उल्लंघन पाये जाने की दशा में भी स्थानीय प्रशासन आदि के उत्तरदायी अधिकारियों के विरुद्ध मा0 सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना की कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कूड़ा जलाये जाने की घटनाओं पर पूर्ण प्रतिबंध लगाये जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि उल्लंघन की दशा में 05 हजार रुपये का जुर्माना अधिरोपित करते हुये उनके विरुद्ध मा0 सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के उल्लंघन के सम्बन्ध में वैधानिक कार्यवाही करायी जाये। उन्होंने कहा है कि सम्बन्धित स्थानीय निकाय एकत्रित कूड़े के निस्तारण हेतु त्वरित रूप से कार्ययोजना बनाकर कार्यवाही सुनिश्चित करायें।
मुख्य सचिव ने निर्देशों में कहा है कि रोड डस्ट को नियंत्रित करने हेतु आई0आई0टी0 दिल्ली के परामर्श के अनुसार वाटर स्प्रिंक्लिंग हेतु उचित प्रेशर का प्रयोग किया जाये। उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में निर्माण विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित कराने के निर्देश देते हुये कहा है कि अग्रिम आदेशों तक इमरजेन्सी सेवायें हेल्थ केयर सर्विस के अलावा डीजल जनरेटर चलाये जाने पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाये। उन्होंने वायु प्रदूषण नियंत्रण हेतु की जाने वाली कार्यवाही तथा स्थानीय प्रशासन, स्थानीय निकाय, पुलिस एवं ग्राम पंचायतों के उत्तरदायित्व के सम्बन्ध में टेलीविजन, मीडिया, समाचार पत्र, रेडियो आदि के माध्यम से वृहद प्रचार-प्रसार कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा मानकों के विरुद्ध वायु प्रदूषण उद्योगों को तत्काल बंद कराते हुये उनके विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित करायी जाये। उन्होंने वायु प्रदूषण के समस्त संभावित स्रोतों यथा-वाहन प्रदूषण आदि के प्रभावी नियंत्रण हेतु कार्यवाही सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये हैं।


गुरु और शिष्य के प्रेम का अभूतपूर्व चित्रण

प्रिंसिपल के कमरे में छिपे टीचर को खिडकी दरवाजे तोड़कर उपद्रवियों ने बाहर निकाला और फिर बरसाये लाठी डंडे


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में मंगलवार को गुरू-शिष्य परंपरा अराजकता की भेंट चढ़ गयी। जिले के सोरांव थाना क्षेत्र स्थित आदर्श जनता इंटर कालेज शास़्त्री नगर बलकरनपुर में टीचर से किसी बात पर नाराज छात्र अपने दर्जनों साथियों संग कालेज पहुंचा और कालेज में तोड़फोड़ शुरू कर दी। अपनी जान बचाने के लिये टीचर प्रींसिपल के कमरे में घुस गये और अंदर से दरवाजा व खिड़की बंद कर दी। लेकिन, खून सवार उपद्रवियों ने खिड़की दरवाजे तोड़कर टीचर को बाहर निकाला और उस पर बेरहमी से तब तक लाठी डंडे बरसाते रहे, जब तक कि वह अचेत होकर जमीन पर लुढ़क नहीं गये। इस दौरान स्कूल के दूसरे टीचर व प्रींसिपल किसी तरह छात्रों को कानून हाथ में न लेने और समझाने का प्रयास करते रहे, लेकिन अपनी मनमानी करने तक उपद्रवी वहां जुटे रहे। आनन फानन में स्कूल प्रशासन ने पुलिस को सूचना दी तो मौके पर सोरांव थाने की फोर्स पहुंची। पुलिस ने उपद्रव करने वाले कुछ लोगों को हिरासत में लिया है, जबकि घायल टीचर को इलाज के लिये अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 


क्या है मामला:-पुलिसक के अनुसार कालेज में जांच करने के लिये कुछ लोग आये हुये थे, जो बच्चों का स्वास्थ्य जांच कर रहे थे। इसी दौरान एक स्थानीय छात्र का वजन आदि क्लास में कराया गया और छात्र जब बाहर जाने लगा तो उसे वापस बुलाकर उनका नाम आदि दर्ज किया गया। इसी दौरान स्कूल में तैनात शिक्षक शिव बाबू शुक्ल ने छात्र को बार बार क्लास से बाहर आ जाने पर फटकार लगाई और छात्र से बहस होने लगी। आरोप है कि छात्र दलित बिरदरी का था और टीचर ने उसके साथ सख्ती दिखाई और पिटाई कर दी, जिससे नाराज छात्र अपने गांव चला गया और अपने दर्जनों साथियों संग स्कूल पहुंच गया और टीचर को सबक सिखाने के लिये बवाल करने लगा। बवाल की भनक लगते ही टीचर, प्रिंसिपल के केबिन में घुस गये तो उपद्रवियों ने खिडकी दरवाजे तोडने शुरू कर दिये और जमकर बवाल के बाद जब खिडकी दरवाजा तोड़कर टीचर को बाहर निकाला गया तो उन पर लाठी डंडे की बरसात कर दी गयी। 


मच गया हडकंप:-उपद्रव कर रहे लोगों को देखकर दूसरे टीचर भी सकते में आ गये और बीच बचाव के लिये लोगों को कानून हाथ में न लेने की अपील करते रहे। लेकिन, उपद्रवियों ने लाठी डंडा बरसाना तब ही बंद किया, जब वह अपनी मंशा में कामयाब हो गये। काफी देर तक चले इस पूरे घटनाक्रम के बाद कालेज में हडकंप मचा रहा। दहशत के बीच स्कूल में तैनात शिक्षक सकते रहे और पुलिस पहुंचने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। पुलिस ने बवाल कर रहे कुछ युवकों को हिरासत में लिया है। मामले की जानकारी देते हुये थानाध्यक्ष सोरांव ने बताया कि तहरीर घायल टीचर की ओर से दी जा रही है, उसी आधार पर मुकदमा दर्ज किया जायेगा। टीचर को इलाज के लिये अस्पताल ले जाया गया है। घटना क्यों हुई, अभी उसका कारण स्पष्ट नहीं है, मुकदमा लिखे जाने के बाद जानकारी दी जायेगी।


गंगा मेला आयोजन से पूर्व पूजा-अर्चना

पंकज राघव-संवाददाता 


संभल! ग्राम सिसौना डांडा तहसील गिन्नौर में आने वाले 12 नवंबर 2019 को गंगा मेला आयोजित होने से पूर्व मंगलवार को जिला अधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह व पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने हवन एवं दूध अभिषेक कर मां गंगे पर भूमि पूजन किया। जिसमें अपर जिलाधिकारी लवकुश कुमार त्रिपाठी, मुख्य विकास अधिकारी उमेश कुमार त्यागी, अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार जयसवाल, डिप्टी कलेक्टर प्रेमचंद सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी जाहिद हुसैन ,जिला पंचायत अध्यक्ष, उप जिलाधिकारी चंदौसी, उप जिलाधिकारी गुन्नौर व सभी जिला स्तरीय अधिकारी एवं जिला पंचायत के सभी अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे!


पुलिस कमिश्नर दिल्ली का भी पुलिस को समर्थन

नई दिल्ली! दिल्ली में वकीलों द्वारा पुलिसकर्मियों की पिटाई के बाद प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों से पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहा है कि यह दिल्ली पुलिस के लिए परीक्षा की घड़ी है! उन्होंने कहा कि यह याद रखें कि हम अपना बर्ताव कानून के रखवाले की तरह करें!


प्रदर्शनकारी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग रहे हैं! पुलिसकर्मियों के इस प्रदर्शन की वजह से आईटीओ, विकास मार्ग पर जाम लग गया है! पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के बार - बार समझाने के बाद भी पुलिसकर्मी अपना प्रदर्शन जारी किए हुए हैं! स्पेशल कमिश्नर (क्राइम) सतीश गोलचा ने प्रदर्शनकारियों को आश्वासन दिया है कि पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक उनसे बात करेंगे!


स्पेशल कमिश्नर (लॉ एंड ऑर्डर आरएस) कृष्णैया ने प्रदर्शनकारी पुलिसकर्मियों को शांत करते हुए कहा, 'पुलिसवालों का गुस्सा बिल्कुल सही लेकिन मुद्दे को सड़क पर उठाएंगे तो किसको फायदा होगा!' हालांकी प्रदर्शनकारी उनकी बात सुनने को तैयार नहीं थे! पुलिसकर्मी 'वी वॉन्ट जस्टिस के नारे लगा रहे थे!
इससे पहले  प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों से डीसीपी ईश सिंघल ने बात की और उनसे संयम बरतने को कहा! डीसीपी सिंघल ने कहा, 'आपको जिस बात से रोष है वह ऊपर तक पहुंच चुका है और आपका यहां आना विफल नहीं जाएगा! उन्होंने कहा, 'हम अपना काम न छोड़े, अपने अपने काम पर लौटे, संयम बनाएं रखें, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी' 


क्या कहना है प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों का?
प्रदर्शन में शामिल एक महिला पुलिसकर्मियों ने कहा, 'जब हम सेफ नहीं तो दूसरों का क्या सुरक्षा देंगे' प्रदर्शन में शामिल एक सब इंस्पेक्टर की पत्नी ने कहा, अगर पुलिस सड़कों पर पिटती रही तो इसका क्या असर पड़ेगा! अपराधी पुलिस से कैसे डरेंगे! एक अन्य पुलिसकर्मी ने कहा, हमारे साथियों को बुरी तरह पीटा गया, हम चाहते हैं इस मामले में इंसाफ हो और आरोपियों को सजा मिल!


आईटीओ पर लगा लंबा जाम
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट कर लोगों को सलाह दी है कि वे आईटीओ से लक्ष्मी नगर जाने के लिए दिल्ली गेट और राजघाट के रस्ते जाएं! 'पुलिसकर्मियों के साथ उनके परिवार वाले भी प्रदर्शन में शामिल हुए! इनकी मांग है कि आरोपी वकीलों के खिलाफ कार्रवाई हो!


क्या है विवाद?
बता दें सोमवार को साकेत कोर्ट का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें एक पुलिसकर्मी को कुछ वकील पीट रहे थे! बता दें शनिवार को तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हुई झड़प के बाद यह सोमवार को दिल्ली की सभी अदालतों में वकील हड़ताल पर थे! बता दें शनिवार को दिल्ली की तीस हजारी अदालत से यह सारा बवाल शुरू हुआ! जहां किसी बात पर पुलिस-वकीलों के बीच तू-तू मैं मै हाथापाई में बदल गई!


महाराष्ट्र-गुजरात में 3 दिन तक चक्रवात खतरा

नई दिल्ली! गुजरात और महाराष्ट्र में चक्रवात 'महा' के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने तैयारियों की उच्चस्तरीय समीक्षा की है। केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि गुजरात और महाराष्ट्र में तीन दिन तक चक्रवात का खतरा बना रहेगा। 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और भारी वर्षा होने का भी अलर्ट जारी किया गया है। वहीं भारतीय मौसम विभाग ने गुजरात, महाराष्ट्र, दमन-दीव और दादरा-नागर हवेली के लिए अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान 'महा' के लिए नवंबर 6 और 7 के लिए ताज़ा मौसम अपडेट जारी किया है। मछुआरों को 6 नवंबर तक मछली पकड़ने पर रोक लगाने के लिए कहा है। 
चक्रवात के खतरों से निपटने के लिए कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में सोमवार को राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) की बैठक हुई। इसमें सभी संबंधित विभागों के अधिकारी शामिल हुए। अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात का असर गुजरात, महाराष्ट्र और दमन दीव पर होने का अनुमान है। चक्रवात वाले इलाकों में नौसेना के जहाज तैनात किए गए हैं। सात नवंबर को चक्रवात गुजरात और महाराष्ट्र तट को पार करेगा। बैठक में मौजूद गुजरात और महाराष्ट्र सरकार के मुख्य सचिवों ने बताया कि उन्होंने आवश्यक तैयारी कर ली हैं। 
एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों के साथ तटरक्षक बल और नौसेना के जहाजों को तैनात कर दिया गया है। सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया है। मछली पकड़ने की सभी गतिविधियों को निलंबित कर दिया गया है। दमन और दीव प्रशासन ने भी इसी तरह की तैयारियां की हैं। इस बैठक में गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के साथ-साथ आईएमडी, एनडीएमए और एनडीआरएफ के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।
राहत-बचाव कार्य पर मंथन: 
कैबिनेट सचिव ने चक्रवात से निपटने के लिए विभिन्न एजेंसियों के पास मौजूदा संसाधनों का जायजा लिया। स्थिति खराब होने की हालत में बचाव और राहत कार्य कैसे होंगे, इस पर चर्चा की गई। कैबिनेट सचिव ने आपदा की स्थिति के दौरान प्रभावित राज्यों में तत्काल सहायता प्रदान करने पर बल दिया।
ऊंची लहरें उठेंगी: 
मौसम विभाग का कहना है कि यह चक्रवात वर्तमान में अरब सागर में पश्चिम और उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। इसके पांच नवंबर की सुबह तक तेज होने की संभावना है। अगले दिन यानी छह नवंबर की मध्यरात्रि और सात नवंबर की सुबह तक यह चक्रवात गुजरात और महाराष्ट्र तट को पार कर जाएगा। 1.5 मीटर तक पहुंचने वाली ज्वार की लहरों के साथ भारी वर्षा होने की संभावना है।
  पूर्वानुमान: 'महा' की ताकत हो सकती है कम
गुजरात पहुंचने से पहले चक्रवात 'महा' की ताकत कम होने की संभावना है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा था कि सात नवंबर से पहले देवभूमि-द्वारका जिले और केंद्र शासित प्रदेश दीव के क्षेत्रों में चक्रवाती तूफान दस्तक दे सकता है। मौसम विभाग के अधिकारियों ने संभावना जतायी है कि सात नवंबर से पहले ही महा का प्रभाव कम हो सकता है। 
तैयारी: 
-15 एनडीआरएफ की अतिरिक्त टीमें गुजरात में तैयार, नौसेना भी सतर्क 
-12,600 मछली पकड़ने वाली नावों में से केवल 600 को वापस लाना बाकी


'मेरा विधायक-मेरा मुख्यमंत्री' आदित्य ठाकरे

नई दिल्ली! महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव नतीजे आए हुए करीब दो हफ्ते होने जा रहा है लेकिन मुख्यमंत्री पद को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच लगातार गतिरोध बना हुआ है। दोनों ही पार्टियों की तरफ से मुख्यमंत्री को लेकर दावे किए जा रहे हैं।
इस बीच, मुंबई में ठाकरे आवास मातोश्री के बाहर एक पोस्टर लगाया गया है। इस पोस्टर में शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे की तस्वीर के साथ लिखा गया है- मेरा विधायक, मेरा मुख्यमंत्री। यह पोस्टर कथित तौर पर शिवसेना के कॉर्पोरेटर हाजी हलीम खान की तरफ से लगवाया गया है।
 गौरतलब है कि इसके पहले, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष व केद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करने के बाद कहा कि राज्य में सरकार का गठन जल्द होगा। वहीं, शिवसेना के सांसद संजय राउत ने राज्यपाल से मुलाकात के बाद कहा कि सरकार बनाने में हो रही देरी के लिए उनकी पार्टी जिम्मेदार नहीं है।
मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से दिल्ली में उनके आवास पर मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान उन्होंने सरकार बनाने के लिए पार्टी की तैयारियों और शिवसेना के रुख से शाह को अवगत कराया। दोनों नेताओं ने भाजपा की अगली रणनीति को लेकर भी मंथन किया। माना जा रहा है कि बैठक में शिवसेना को किसी तरह राजी करने और वैकल्पिक फामूर्ले, दोनों पर चर्चा की गई। इसके बाद फडणवीस ने महाराष्ट्र के चुनाव प्रभारी रहे पार्टी महासचिव भूपेंद्र यादव से भी मुलाकात की।
हालांकि, इस मुलाकात के बाद फडणवीस ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उन्होंने महाराष्ट्र में बेमौसम बारिश से प्रभावित किसानों को राहत पैकेज का मसला केंद्रीय गृह मंत्री के समक्ष रखा है। उन्होंने राज्य में सरकार के गठन को लेकर भाजपा के अगले कदमों को लेकर कुछ भी कहने से परहेज किया। फडणवीस ने सिर्फ इतना कहा कि उन्हें विश्वास है सरकार जल्द बनेगी।
वहीं, शिवसेना के सांसद संजय राउत और रामदास कदम ने शाम को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। राउत ने इसे शिष्टाचार भेंट बताया और कहा कि इस दौरान प्रदेश के मौजूदा राजनीतिक हालात पर भी चर्चा हुई। राज्यपाल से उनकी करीब एक घंटे तक सकारात्मक बातचीत हुई।
राउत ने कहा कि राज्य में सरकार बनाने को लेकर शिवसेना कहीं भी रोड़ा नहीं बन रही है। जिसके पास बहुमत होगा वह सरकार बनाएगा। दरअसल, शिवसेना 50-50 के फार्मूले पर अड़ी हुई है, जबकि भाजपा साफ कर चुकी है कि मुख्यमंत्री उसी का होगा।


देश की सबसे बड़ी पार्टी धूल फांकने को मजबूर

मुंबई! महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव के बाद सरकार बनाने को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच जारी रस्‍साकशी के बीच मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की! वहां से लौटने के बाद फडणवीस आज बीजेपी के कोर नेताओं से मुलाकात करेंगे! इसी बैठक में महाराष्ट्र में बनने वाली सरकार पर बात होगी! इसके साथ ही कब शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मिला जाए ये भी तय किए जाने की उम्मीद है!
बैठक के बाद कौन सबसे पहले शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मिलने जाएगा और उसके पास राज्य में सरकार बनाने को लेकर क्या फॉर्मूला होगा, इस पर भी तैयारी की जाएगीी! वैसे शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे आज सुबह दस बजे नादेड़ के दौरे पर जा रहे हैंं! वहां पर बेमौसम बारिश के कारण खराब हुई फसलों का जायजा लेंगे और किसानों से बात करेंगे!
इसी तरह विपक्षी खेमे में सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद आज एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार अपनी पार्टी के नेताओं के साथ बैठक करेंगे! एनसीपी की सहयोगी कांग्रेस पार्टी के नेताओं की भी बैठक हो सकती है! बताया जा रहा है कि इस बैठक में राज्य में बगैर बीजेपी के बनने वाली सरकार पर विचार मंथन होगा!
शिवसेना ने लगाया पोस्‍टर
इस बीच महाराष्ट्र चुनाव के बाद पूरे राज्य में सभी के मन में मुख्यमंत्री पद को लेकर सवाल उठ रहे हैं! भाजपा की और से देवेंद्र फडणवीस का नाम जाहिर किया गया है और शिवसेना की ओर से उनके युवा नेता आदित्य ठाकरे का! इसी को लेकर पूरा विवाद खड़ा नजर आ रहा है! दोनों ही पार्टियों के पक्षकारों की तरफ से आरोप-प्रत्‍यारोप का सिलसिला दो हफ्तों से चल रहा है! इस बार शिवसेना ने मानों ठान लिया है कि मुख्यमंत्री कोई शिवसैनिक ही होगा! शिवसेना की ओर से देर रात पोस्टर लगाए गए हैं जिसमें आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने की मांग की गई है! पोस्टर लगाने से पहले सेना के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे भी उद्धव ठाकरे से मिलने मातोश्री पहुंचे थे! क्या पोस्टर और मुलाकात द्वारा शिवसेना अपने 50 -50 के फॉर्मूले को लेकर बीजेपी को झुका पाएगी? यह देखने वाली बात होगी!


न्यायालय में गोली चला, जान लेने का प्रयास

समस्तीपुर! जिला मुख्यालय स्थित व्यवहार न्यायालय परिसर में सोमवार को दोपहर अपराधियों ने पुलिस और कानून को खुल्लम-खुल्ला चुनौती देते हुए गोली चला दी। इसमें एक न्यायालय कर्मी ही घायल हो गये। जानकारी के अनुसार एक मुकदमें में पेशी के लिए न्यायालय लाए गए बाहुबली अशोक यादव ( बिथान) को निशाना बनाकर अपराधियों ने गोली चला दी। चलाए गए गोली से न्यायालय के एसीजीएम के चतुर्थवर्गीय कर्मी प्रभु प्रकाश टोपो घायल हो गए।उन्हें आनन-फानन में सदर अस्पताल पहुंचाया गया वहां इलाज जारी है।


भाकपा माले जिला कमेटी सदस्य सुरेंद्र प्रसाद सिंह ने न्यायालय परिसर में गोली चलाने की घटना को गंभीर घटना बताया है।उन्होंने कहा है कि जब न्यायालय में लोग सुरक्षित नहीं है तो कहां सुरक्षित रहेगा। उन्होंने मांग किया है कि अपराधियों को अविलंब गिरफ्तार किया जाए, बिगड़ती कानून- व्यवस्था को सुधारा जाए अन्यथा भाकपा माले आंदोलन चलाएगी। एक प्रेस ब्यान में माले नेता ने कहा कि पूसा, ताजपुर, मोरबा, सरायरंजन, कल्याणपुर, उजियारपुर सहित संपूर्ण जिला में प्रतिदिन 2- 4 लोगों की हत्या, चोरी, लूट, छिनतई, अपराध इत्यादि घटनाएं हो रही है। जिलावासी दहशत के साये में जी रहे हैं। पुलिस प्रशासन अपराधियों को पकड़ने में नाकाम साबित हो रही हैं।


कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर साधा निशाना

नई दिल्ली! देश-विदेश सोनिया के राहुल से 'पुत्र मोह' पर जल्द आएगी वेब सीरीज, अब राहुल गांधी की अक्षमताओं को तार-तार करेगी ये वेब सीरीज!


लंबे समय तक गांधी परिवार के प्रति निष्ठावान रहे पंकज शंकर ने पार्टी के प्रदर्शन में गिरावट के लिए कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर निशाना साधा है और वह राहुल गांधी की कथित ''विफलताओं'' को रेखांकित करने के लिए एक वेब सीरीज का निर्माण कर रहे हैं!


पूर्व पत्रकार पंकज शंकर का कांग्रेस और गांधी परिवार के साथ वर्षों का जुड़ाव रहा है। उन्होंने कहा कि केवल प्रियंका गांधी वाड्रा ही कांग्रेस के भाग्य को बदल सकती हैं लेकिन सोनिया गांधी का ''पुत्र मोह'' कांग्रेस में उनकी बेटी के उन्नयन में बाधा बन रहा है।


शंकर ने कहा, ''वेब सीरीज निर्माण करना कांग्रेस नेतृत्व को आईना दिखाने का मेरा एक प्रयास है, ताकि मैं उन्हें बताऊं कि वास्तविकता उनकी समझ से बहुत दूर है।''


देश हित में प्याज खाना बंद कर देना चाहिए

नई दिल्ली! देश में प्याज के दाम बढ़ते ही जा रहे हैं। महाराष्ट्र के लासलगांव स्थित प्याज की सबसे बड़ी मंडी में इसकी कीमतों में जोरदार उछाल आया है। हालांकि सरकार ने लगातार बढ़ती आपूर्ति की वजह से दामों में गिरावट को लेकर भरोसा जताया था। लेकिन इसके महज दो दिन बाद यानी सोमवार को लासलगांव मंडी में प्याज की कीमतें 10 फीसदी बढ़ गईं।


इतनी बढ़ी प्याज की कीमत
प्याज की बढ़ती कीमतों की वजह से जनता परेशान है। सोमवार को प्याज का थोक मूल्य 55.50 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया है। यह चार साल का शीर्ष स्तर है। इससे पहले अगस्त की शुरुआत में इसकी कीमत 13 रुपये थी। खुदरा में प्याज की कीमत 20 रुपये प्रति किलो से बढक़र 80 रुपये हो चुकी है।100 रुपये प्रति किलो हो सकती है प्याज की कीमत,प्याज का दाम जल्दी ही 100 रुपये के स्तर को छू सकता है। खुदरा बाजारों में प्याज की कीमत 70 से 80 रुपये के बीच चल रही है। बात अगर पिछले तीन माह की करें, तो इस अवधि में थोक बिक्री में प्याज के दामों में चार गुना का इजाफ देखा गया है।


इस संदर्भ में कारोबारियों का कहना है कि बीते वर्ष प्याज का बहुत कम उत्पादन हुआ था। इसलिए इसमें बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। बेमौसम बारिश की वजह से प्याज की फसल प्रभावित हुई है। इसके अतिरिक्त कारोबारियों ने सरकार की प्रतिकूल नीतियों को इसका जिम्मेदार ठहराया है।


कलयुगी मां ने 6 माह के बेटे को मार डाला

हरिद्वार। छह माह का बेटा बहुत रोता था और हमेशा स्तनपान ही करता रहता था, इससे परेशान होकर मां ने ही उसे गंगा में डूबाकर मार डाला। दिल झकझोर कर रख देने वाली इस वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मां पुलिस के पास पहुंची और बेटा गायब होने की सूचना दी। लेकिन पुलिस की तफ्तीश में मामला खुल गया।


आरोपी मां संगीता बैग में बेटे को डालकर हरिद्वार में आनंदमयी पुलिया के पास ले गई और गंगा में डूबाकर उसकी हत्या कर दी। बच्चे के दम तोड़ देने के बाद उसने शव गंगा में ही बहा दिया। "मासूम बेटे के कत्ल के बाद महिला ने पुलिस को गच्चा देने की कोशिश जरूर की, लेकिन नाकामयाब रही। चंद सवालों में ही असलियत उसकी जुबां पर आ गई। कनखल पुलिस ने जब सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो संदेह चंद मिनट में ही हकीकत में बदल गया"।


रोपी महिला ने सिलसिलेवार ढंग से कत्ल की दास्तां बयां कर दी। दरअसल, रविवार की शाम जब मासूम के घर से रहस्यमय ढंग से गायब होने की खबर कनखल पुलिस को मिली, तब एसओ हरिओमराज चौहान खुद महिला के घर पहुंचे। उन्होंने जब संगीता से बातचीत की तो वह बिल्कुल सामान्य दिखाई दी। उसके चेहरे पर बेटे के लापता हो जाने जैसा कोई दुख नजर ही नहीं आ रहा था। यह बात एसओ को अटपटी लगी, फिर पुलिस ने अपनी जांच आगे बढ़ाई। दीपक बलूनी के घर से लेकर मुख्य सड़क तक के सीसीटीवी कैमरे चेक किए गए। मासूम के लापता होने से ठीक पौने घंटे पहले के एक सीसीटीवी फुटेज ने पुलिस की राह बिल्कुल आसान कर दी। इसमें बच्चे की मां ही काले रंग का बैग कंधे पर टांगकर तेजी में जाते हुए और फिर चंद मिनट बाद ही आते हुए दिखाई दे रही है।


जबकि उसने बताया था कि जब वह डेयरी पर दूध लेने गई, तब बेटा गायब हुआ। एसओ ने उच्चाधिकारियों को विश्वास में लेकर मां को हिरासत में ले सवाल किए तो उसने अपना जुर्म कुबूल कर लिया। मासूम के घर से गायब होने के बाद जब पुलिस घर पहुंची थी तब संगीता की बेटी आराध्या ने भी मां का नाम लेकर एक पुलिसकर्मी को चौंका दिया। दरअसल, आरोपी संगीता जब बेटे को लेकर गई थी उससे पहले उसने बेटी को छत पर छोड़ दिया था। आराध्या ने मां को भाई को बैग में ठूंसते देख लिया था। कनखल थाने के एक पुलिसकर्मी की माने तो जब वह वहां पहुंचे थे तब बेटी ने तुतलाती जुबां में मां का नाम लिया था।


करीब एक माह पूर्व आरोपी संगीता ने सार्वजनिक स्थान पर बेटे को छोड़ देने की भी प्लानिंग की थी, लेकिन बाद में कदम पीछे खींच लिए। पूछताछ में उसने बताया कि इसके लिए उसे बेटे को लेकर घर से जाना पड़ता। वक्त भी अधिक लगता। फिर वह कहानी क्या बनाती। इसलिए उसने यह कदम नहीं उठाया। गंगा के नजदीक होने के चलते नदी में डुबाकर मारने की प्लानिंग की। उसने सोचा था कि इस काम में उसे चंद मिनट लगेंगे और वह बेटे के घर से गायब होने की कहानी बना देगी।


चक्रवाती तूफान में लिया भयानक रूप

भुवनेश्वर। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना एक निम्न दाब क्षेत्र गंभीर रूप लेते हुए मंगलवार को बहुत ही गम्भीर रूप में तब्दील हो गया। मौसम विज्ञान केंद्र ने कहा कि बुधवार को इसके चक्रवाती तूफान में बदलने की आशंका है। भुवनेश्वर स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एचआर बिस्वास ने कहा कि यह विक्षोभ पूर्व-मध्य और उससे लगी बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्वी हिस्से और उत्तरी अंडमान सागर पर केंद्रित है। यह विक्षोभ जल्द ही गहरा सकता है और फिर बुधवार को इसके एक चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है। इस समय बंगाल की खाड़ी और अंडमान सागर से जो संकेत मिल रहे हैं उनके अनुसार यह सिस्टम पश्चिमी और उत्तर पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ते हुए प्रभावी होगा। उन्होंने बताया कि चक्रवाती तूफान शुरू में पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ सकता है और फिर बाद में उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर ओडि़शा-पश्चिम बंगाल के तटों की ओर बढ़ सकता है। हम इसकी गति और दिशा पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। अभी इसके संभावित प्रभाव को लेकर कोई स्पष्ट तस्वीर सामने नहीं आई है। उधर गुजरात के कुछ हिस्सों में 6 से 8 नवंबर तक भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक, चक्रवाती तूफान के कारण आंधी के साथ तेज बारिश होगी। मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे अगली सूचना तक समुद्र में न जाएं।


ड्राइवर की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा

कटनी। जबलपुर से रीवा जा रही शटल ट्रेन मंगलवार को बड़े हादसे की शिकार होते होते बच गई। ट्रेन में बैठे यात्रियों को अचानक तेज झटका लगा, जिससे बोगियों में हड़कंप मच गया, लोग ट्रेन के रुकते ही नीचे कूदने लगे। बताया जा रहा है कि शटल पैसेंजर निवार स्टेशन से माधवनगर स्टेशन की ओर जा रही थी। तभी अचानक लोको पायलट की नजर टूटी पटरी पर पड़ी। आनन-फानन में ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोक दिया। इससे यात्रियों को जोर का झटका लगा, जिससे लोग दहशत में आ गए। ड्राइवर द्वारा ट्रेन को इमरजेंसी ब्रेक लगाकर रोकने से बड़ा हादसा टल गया। ट्रेन के रूकते ही यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई।


वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देने के बाद रेलवे अमले ने 1 घंटे में सुधार कार्य के बाद ट्रेन को गंतव्य के लिए रवाना किया है। घटना के समय ट्रेन की सभी बोगियों में बड़ी संख्या में यात्री मौजूद थे। रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि गाड़ी क्रमांक 51701 रीवा-जबलपुर शटल निवार स्टेशन से रवाना होकर माधव नगर की ओर जा रही थी। जैसे ही शटल गाड़ी 1073/2/3 ट्रेन किलोमीटर के पास आईबीएच सिग्नल के समीप पहुंची वैसे ही लोको पायलट की नहर टूटी हुई पटरी पर पड़ी। आनन-फानन में लोको पायलट ने ट्रेन को बड़ी दुर्घटना से बचाने के लिए इमरजेंसी ब्रेक लगाया।


बुलबुल' तूफान डहा सकता है कहर

रायपुर। बस्तर के लिए अगले तीन दिनों में फिर से मौसम का प्रकोप सामने आ सकता है और संभावना व्यक्त की जा रही है कि 08 और 09 नवंबर के बाद यहां का मौसम तूफानी हो सकता है।


मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार एक तूफान हिंद महासागर क्षेत्र से उठ रहा है और बुलबुल नाम के इस तूफान का निशाना बस्तर बन सकता है। वैसे बस्तर में इसका प्रभाव अधिक रहेगा, लेकिन इस तूफान की गति कितनी होगी इस संबंध में अभी जानकारी जुटाई जा रही है।


उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह तक प्रतिदिन वर्षा का प्रभाव बना रहता था और अभी चंद ही दिन हुए हैं जिससे मौसम थोड़ा सूखा दिख रहा है।लगातार वर्षा के कारण अंचल के किसान धान की कटाई करने के लिए सूखे मौसम की प्रतीक्षा कर रहे थे और पिछले पांच दिनों से तेजी से कटाई का काम खेतों में चल रहा है। इस मानसून सत्र में बस्तर में अत्याधिक वर्षा रिकार्ड की गई है और धान के लिए यह वर्षा अच्छी रही। 


जिसकी वजह से धान की उत्पादन की भी अच्छी संभावना है। अब हिंद महासागर में उठने वाला बुलबुल तूफान की चेतावनी से किसान और अधिक भयभीत हो गये हैं। मौसम विभाग के एचपी चंद्रा ने स्पष्ट रूप से कहा है कि इस तूफान का असर दक्षिण छत्तीसगढ़ अर्थात बस्तर में अधिक होगा। किसानों को इस इस संबंध में सतर्क रहने की आवश्यकता बताई गई है।


चटनी के लिए 'लाल चीटियों' की होती है बिक्री

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के आदिवासी बाहुल्य बस्तर संभाग के रीति रिवाज एवं खानपान राज्य के अन्य हिस्सों से काफी भिन्न है। इसका एक ताजा उदाहरण लाल चीटियों की चटनी को लिया जा सकता है। बस्तर में इसे चापड़ा चटनी कहा जाता है। वर्षा ऋतु के समाप्त होने के बाद हाट बाजारों में लाल चीटियां बिकने आने लगती है। आदिवासी समाज के लोगों द्वारा चापड़ा चटनी बड़े चाव से खाई जाती है। इन दिनों स्थानीय साप्ताहिक बाजारों में पत्ते के दोनों में लाल चीटियां बिकती हुए देखी जा सकती है। 10 रुपए से लेकर 50 रुपए दोने तक में लाल चीटियां बिकती हैं। इन दोने में लाल चीटियों के अंडे भी होते हैं। आदिवासियों का कहना है कि लाल चीटियों को मिर्च, लहसुन तथा नमक के साथ पीसा जाता है। इसके बाद इसे खाया जाता है। आदिवासियों का दावा है कि संचारी रोगों से बचाव के रूप में भी लाल चीटियों की चटनी खाई जाती है। यदि किसी को बदलते मौसम में बुखार आने लगे तो उसे लाल चीटियों की चटनी यानी चापड़ा चटनी खाने की समझाइश भी दी जाती है। चापड़ा चटनी को बस्तर में घृणा के रूप में नहीं देखा जाता बल्कि बड़े चाव के साथ खाया जाता है।


बाजार में दो-पहिया लाने की आक्रामक रणनीति

नई दिल्ली। दोपहिया वाहन निर्माण की प्रमुख कंपनी होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड भारतीय बाजार में अगले साल प्रीमियम श्रेणी की मोटरसाइकिल और स्कूटर उतारने की आक्रमक रणनीति बना रही है,जिससे भारतीय बाजार की संभावनाओं का पूरा इस्तेमाल किया जा सके। कंपनी के ब्रांड ऑपरेटिंग प्रमुख और उपाध्यक्ष प्रभु नागराज ने बताया कि भारतीय बाजार में प्रीमियम श्रेणी के दुपहिया वाहनों की मांग में भारी इजाफा हो रहा है। देश में युवाओं में प्रीमियम श्रेणी के वाहनों में रूचि बढ़ रही है। परंपरागत तौर पर भारतीय बाजार यात्री वाहनों के लिए जाना चाहता है लेकिन अर्थव्यवस्था का स्वरूप बदलने और व्यक्तिगत आय बढ़ने के कारण प्रीमियम श्रेणी के वाहनों की बिक्री में वृद्धि हो रही है। उन्होंने बताया कि होंडा भारतीय बाजार में उन दुपहिया वाहनों को भी भारतीय युवाओं के लिए पेश करने की तैयारी कर रहा है जो अभी तक यूरोपीय बाजार में ही देखे जा सकते हैं।


भारत आरसीईपी व्यापार समझौते से अलग

नई दिल्ली! भारत ने सोमवार को रीजनल कॉम्प्रिहेंसिव इकोनॉमिक पार्टनरशिप (RCEP) समझौते में शामिल होने से इनकार कर दिया है! भारत ने निर्णय लिया कि वह 16 देशों के आरसीईपी व्यापार समझौते का हिस्सा नहीं बनेगा! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस फैसले का केंद्रीय गृहमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने स्वागत किया और पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर हमला बोला! वहीं कांग्रेस ने कहा कि उसके दबाव में नरेंद्र मोदी सरकार को यह फैसला लेना पड़ा!


अमित शाह ने आरसीईपी में शामिल न होने के फैसले पर सिलसिलेवार ट्वीट किए! उन्होंने ट्वीट में लिखा, 'भारत के आरसीईपी में शामिल न होने का फैसला प्रधानमंत्री मोदी के मजबूत नेतृत्व और सभी परिस्थितियों में राष्ट्रीय हित सुनिश्चित करने का संकल्प दिखाता है! इससे किसानों, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग, डेयरी मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर, फार्मास्युटिकल, स्टील और कैमिकल इंडस्ट्रीज को समर्थन मिलेगा'!


उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, 'पिछले कई वर्षों में पीएम मोदी का यह स्टैंड रहा है कि वह ऐसी डील के लिए हामी नहीं भरते, जिसमें राष्ट्रहित न हो! यह अतीत को छोड़कर आगे बढ़ने की तरह है, जहां कमजोर यूपीए सरकार ने व्यापार के लिए जमीन खो दिया और राष्ट्रहित की रक्षा भी नहीं की!' दूसरी ओर कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार ने उसके दबाव में आकर यह फैसला वापस लिया! कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा, भाजपा सरकार जबरन आरसीईपी समझौते पर दस्तखत कर देश के किसानों, मछुआरों, लघु व मध्यम उद्योगों के हितों की बली दे रही थी! आज अमित शाह अपनी झूठी पीठ थपथपा रहे हैं तो उन्हें सनद रहे कि कांग्रेस के विरोध के चलते सरकार को यह फैसला वापस लेना पड़ा!


गौरतलब है कि आरसीईपी में शामिल नहीं होने के फैसले पर भारत ने कहा कि वह सभी क्षेत्रों में वैश्विक प्रतिस्पर्धा के दरवाजे खोलने से भाग नहीं रहा है, लेकिन उसने एक परिणाम के लिए एक जोरदार तर्क पेश किया, जो सभी देशों और सभी सेक्टरों के अनुकूल है! सूत्रों के अनुसार, आरसीईपी शिखर सम्मेलन में अपने भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'इस समझौते का मौजूदा स्वरूप RCEP की बुनियादी भावना और मान्य मार्गदर्शक सिद्धांतों को पूरी तरह जाहिर नहीं करता है! यह मौजूदा परिस्थिति में भारत के दीर्घकालिक मुद्दों और चिंताओं का संतोषजनक रूप से समाधान भी पेश नहीं करता!


जल्दबाजी में निर्णय न ले: मकर

राशिफल


मेष-योजना फलीभूत होगी। तत्काल लाभ नहीं मिलेगा। उत्साह व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। नौकरी में अमन-चैन रहेगा। ऐश्वर्य के साधनों पर बड़ा खर्च हो सकता है। नए व्यापारिक अनुबंध होंगे। निवेश शुभ रहेगा। कारोबार में वृद्धि होगी। परिवार में खुशी का वातावरण रहेगा।


वृष-किसी प्रभावशाली व्यक्ति से संपर्क बनेगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। किसी बड़ी समस्या से निजात मिल सकती है। तंत्र-मंत्र में रुचि रहेगी। पराक्रम व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। कारोबार मनोनुकूल चलेगा। नौकरी में प्रभाव क्षेत्र बढ़ेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।


मिथुन-स्वास्थ्य पर खर्च होगा। लापरवाही न करें। कार्य करते समय चोट लग सकती है। गृहिणियां विशेष ध्यान रखें। जल्दबाजी से बचें। अकारण विवाद हो सकता है। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। धनहानि की आशंका है। व्यापार व्यवसाय ठीक चलेगा।


कर्क-कानूनी अड़चन दूर होगी। जीवनसाथी के इच्छुक लोगों को जीवनसाथी मिलने के योग हैं। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। निवेशादि सोच-समझकर करें। बाहर लंबी यात्रा की योजना बन सकती है। जीवन सुखमय गुजरेगा। उत्साह व प्रसन्नता रहेंगे। प्रमाद न करें।


सिंह-संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। रोजगार में वृद्धि होगी। पार्टनरों का सहयोग प्राप्त होगा। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण निर्मित होगा। प्रमाद से बचें।


कन्या-शैक्षणिक व शोध इत्यादि रचनात्मक कार्य के परिणाम सुखद मिलेंगे। किसी मांगलिक व आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद मिलेगा। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। यात्रा मनोरंजक रहेगी।


तुला-स्वास्थ्य का ध्यान रखें। विवाद को बढ़ावा न दें। वाणी में हंसी-मजाक समय व स्थिति को देखकर करें।  मेहनत अधिक होगी। लाभ में कमी रह सकती है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। फालतू बातों पर ध्यान न दें। व्यापार ठीक चलेगा।


वृश्चिक-काम पर पूरा ध्यान दे पाएंगे। थोड़े प्रयास से ही कार्यसिद्धि होगी। सामाजिक मान-सम्मान प्राप्त होगा। कारोबार में मनोनुकूल लाभ होगा। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से लाभ होगा। लंबी व्यावसायिक यात्रा की योजना बन सकती है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें।


धनु-दूर से अच्छे समाचार प्राप्त होंगे। घर में मेहमानों का आगमन होगा। विवाद से बचें। क्रोध न करें। कोई बड़ा काम तथा लंबी यात्रा की योजना बनेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। पुराने विवादों का समापन होगा। उत्साह व प्रसन्नता की वृद्धि होगी। व्यापार निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे।


मकर-नवीन वस्त्राभूषण पर व्यय होगा। बेरोजगारी दूर होगी। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता मिलेगी। व्यापार निवेश व नौकरी मनोनुकूल लाभ देंगे। लंबी यात्रा हो सकती है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी।


कुंभ-कुसंगति से हानि होगी। व्ययवृद्धि होगी। आर्थिक परेशानी रहेगी। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। लापरवाही न करें। किसी व्यक्ति के व्यवहार से आत्मसम्मान कम हो सकता है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। जोखिम न लें।


मीन-डूबी हुई रकम प्राप्ति की संभावना बनती है। यात्रा लाभदायक रहेगी। नौकरी में उच्चाधिकारी प्रसन्न रहेंगे। निवेश शुभ रहेगा। कारोबार में वृद्धि संभव है। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। बुद्धि के कार्य करें। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। रुके काम पूरे होंगे। प्रमाद न करें।


भाषा प्रभावित करने वाली 'फारसी'

फारसी भाषा

"फ़ारसी" यहाँ पुनर्निर्देश करता है। अन्य उपयोगों के लिए, फ़ारसी (बहुविकल्पी) देखें ।
फ़ारसी ( / ( p ʒr ʒ , n , - - ʃn / ), जिसे इसके अंतिम नाम फारसी ( فارسی , फरसी ) से भी जाना जाता है, [f [siɒːɾˈ] ( इस ध्वनि के बारे में सुनो ) ), एक पश्चिमी ईरानी भाषा है जो भारत-ईरानी उप- भाषा की ईरानी शाखा के ईरानी शाखा से संबंधित है। यह मुख्य रूप से ईरान , अफगानिस्तान और ताजिकिस्तान के भीतर आधिकारिक तौर पर बोली जाने वाली और तीन परस्पर समझदार मानक किस्मों में इस्तेमाल की जाने वाली एक बहुल भाषा है , जिसका नाम ईरानी फ़ारसी , दारी फ़ारसी (आधिकारिक तौर पर 1958 से दारी नाम) और ताज़िकी फारसी (आधिकारिक तौर पर सोवियत काल से ताजिक नाम है। )। यह उज्बेकिस्तान के भीतर एक महत्वपूर्ण आबादी द्वारा ताजिक किस्म में भी बोली जाती है, साथ ही अन्य क्षेत्रों के भीतर ग्रेटर ईरान के सांस्कृतिक क्षेत्र में एक फ़ारसी इतिहास के साथ। यह आधिकारिक तौर पर ईरान और अफगानिस्तान के भीतर फारसी वर्णमाला , अरबी लिपि की व्युत्पत्ति और ताजिकिस्तान के भीतर साइरिलिक की व्युत्पत्ति ताजिकिस्तान के भीतर लिखा गया है।


फ़ारसी
फारसी बोलने वालों की महत्वपूर्ण संख्या वाले क्षेत्र (बोलियों सहित)
ईरान, अफगानिस्तान और ताजिकिस्तान। 
  जिन देशों में फारसी एक आधिकारिक भाषा है
इस लेख में IPA ध्वन्यात्मक प्रतीक हैं। उचित रेंडरिंग समर्थन के बिना, आप यूनिकोड वर्णों के बजाय प्रश्न चिह्न, बॉक्स या अन्य प्रतीकों को देख सकते हैं। IPA प्रतीकों पर एक परिचयात्मक गाइड के लिए, सहायता देखें : IPA ।
इस लेख में फारसी पाठ शामिल है । उचित रेंडरिंग समर्थन के बिना, आप प्रश्न चिह्न, बॉक्स या अन्य प्रतीक देख सकते हैं।
फ़ारसी भाषा मध्य फ़ारसी की एक निरंतरता है, जो सासैनियन साम्राज्य की आधिकारिक धार्मिक और साहित्यिक भाषा है (224–651 CE), जो कि पुराने फ़ारसी की एक निरंतरता है, जिसका उपयोग अचमेनिद साम्राज्य (550–330 ईसा पूर्व) में किया गया था। इसकी उत्पत्ति दक्षिण-पश्चिमी ईरान के फ़ार्स ( फारस ) क्षेत्र में हुई। इसका व्याकरण कई यूरोपीय भाषाओं के समान है।


पूरे इतिहास में, फारसी एक प्रतिष्ठित सांस्कृतिक भाषा रही है जिसका उपयोग पश्चिमी एशिया , मध्य एशिया और दक्षिण एशिया में विभिन्न साम्राज्यों द्वारा किया जाता है। पुरानी फ़ारसी लिखित रचनाएँ ६ वीं और ४ वीं शताब्दी ईसा पूर्व के बीच के कई शिलालेखों पर पुरानी फ़ारसी क्यूनिफ़ॉर्म में दर्ज हैं , और मध्य फ़ारसी साहित्य पार्थियन के समय से शिलालेखों में अरामाइक- लिपिड लिपियों ( पाहलवी और मनिचैयन ) में शिलालेखों में शामिल है । साम्राज्य और पुस्तकों में तीसरी से 10 वीं शताब्दी ईस्वी के बीच जोरोस्ट्रियन और मनिचैन शास्त्रों में केंद्रित है। 9 वीं शताब्दी के अपने शुरुआती अभिलेखों के साथ ईरान की अरब विजय के बाद से नए फ़ारसी साहित्य का विकास शुरू हुआ, तब से अरबी लिपि को अपनाया गया। फारसी कविता मुस्लिम भाषा में अरबी भाषा के एकाधिकार से टूटने वाली पहली भाषा थी, फारसी कविता के लेखन के साथ कई पूर्वी अदालतों में अदालती परंपरा के रूप में विकसित हुई। मध्ययुगीन फ़ारसी साहित्य की कुछ प्रसिद्ध रचनाएँ फ़िरदौसी का शाहनाम , रूमी का काम, उमर ख़य्याम की रुबाईत , निज़ामी गंजवी का पंज गंज , हाफ़िज़ का दीवान , निशापुर के अत्तार द्वारा पक्षियों का सम्मेलन। , और सादी शिराज़ी द्वारा गुलिस्तान और बुस्तान के मिसकैलानिया ।


फ़ारसी ने अपनी पड़ोसी भाषाओं पर काफी प्रभाव छोड़ा है, जिसमें अन्य ईरानी भाषाएं, तुर्क भाषाएं , अर्मेनियाई , जॉर्जियाई और इंडो-आर्यन भाषाएँ (विशेष रूप से उर्दू ) शामिल हैं। इसने मध्ययुगीन अरब शासन के तहत कुछ शब्दावली उधार लेते हुए अरबी, विशेष रूप से बहरानी अरबी , पर कुछ प्रभाव डाला।


दुनिया भर में लगभग 110 मिलियन फारसी बोलने वाले लोग हैं, जिनमें फारसियन , ताजिक , हज़ारस , कोकेशियान टाट्स और एइमक्स शामिल हैं । फारसोफोन शब्द का उपयोग फ़ारसी के एक वक्ता को संदर्भित करने के लिए भी किया जा सकता है।


कम वर्षा अथवा खाध अभाव

अकाल भोजन का एक व्यापक अभाव है जो किसी भी पशुवर्गीय प्रजाति पर लागू हो सकता है। इस घटना के साथ या इसके बाद आम तौर पर क्षेत्रीय कुपोषण, भुखमरी, महामारी और मृत्यु दर में वृद्धि हो जाती है। जब किसी क्षेत्र में लम्बे समय तक (कई महीने या कई वर्ष तक) वर्षा कम होती है या नहीं होती है तो इसे सूखा या अकाल कहा जाता है। सूखे के कारण प्रभावित क्षेत्र की कृषि एवं वहाँ के पर्यावरण पर अत्यन्त प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इससे स्थानीय अर्थव्यवस्था डगमगा जाती है। इतिहास में कुछ अकाल बहुत ही कुख्यात रहे हैं जिसमें करोंड़ों लोगों की जाने गयीं हैं।


अकाल राहत के आपातकालीन उपायों में मुख्य रूप से क्षतिपूरक सूक्ष्म पोषक तत्व जैसे कि विटामिन और खनिज पदार्थ देना शामिल है जिन्हें फोर्टीफाइड शैसे पाउडरों के माध्यम से या सीधे तौर पर पूरकों के जरिये दिया जाता है।सहायता समूहों ने दाता देशों से खाद्य पदार्थ खरीदने की बजाय स्थानीय किसानों को भुगतान के लिए नगद राशि देना या भूखों को नगद वाउचर देने पर आधारित अकाल राहत मॉडल का प्रयोग करना शुरू कर दिया है क्योंकि दाता देश स्थानीय खाद्य पदार्थ बाजारों को नुकसान पहुंचाते हैं।


लंबी अवधि के उपायों में शामिल हैं आधुनिक कृषि तकनीकों जैसे कि उर्वरक और सिंचाई में निवेश, जिसने विकसित दुनिया में भुखमरी को काफी हद तक मिटा दिया है।[4] विश्व बैंक की बाध्यताएं किसानों के लिए सरकारी अनुदानों को सीमित करते हैं और उर्वरकों के अधिक से अधिक उपयोग के अनापेक्षित परिणामों: जल आपूर्तियों और आवास पर प्रतिकूल प्रभावों के कारण कुछ पर्यावरण समूहों द्वारा इसका विरोध किया जाता है।


सभ्यता-संस्कृति का आधार 'संगीत'

भारतीय संगीत
भारतीय संगीत का जन्म वेद के उच्चारण में देखा जा सकता है। संगीत का सबसे प्राचीनतम ग्रन्थ भरत मुनि का नाट्‍यशास्त्र है। अन्य ग्रन्थ हैं : बृहद्‌देशी, दत्तिलम्‌, संगीतरत्नाकर।


संगीत एवं आध्यात्म भारतीय संस्कृति का सुदृढ़ आधार है। भारतीय संस्कृति आध्यात्म प्रधान मानी जाती रही है। संगीत से आध्यात्म तथा मोक्ष की प्रप्ति के साथ भारतीय संगीत के प्राण भूत तत्व रागों के द्वारा मनः शांति, योग ध्यान, मानसिक रोगों की चिकित्सा आदि विशेष लाभ प्राप्त होते है। प्राचीन समय से मानव संगीत की आध्यात्मिक एवं मोहक शक्ति से प्रभावित होता आया है। प्राचीन मनीषियों ने सृष्टि की उत्पत्ति नाद से मानी है। ब्रह्माण्ड के सम्पूर्ण जड़-चेतन में नाद व्याप्त है, इसी कारण इसे "नाद-ब्रह्म” भी कहते हैं।


अनादिनिधनं ब्रह्म शब्दतवायदक्षरम् ।
विवर्तते अर्थभावेन प्रक्रिया जगतोयतः॥
अर्थात् शब्द रूपी ब्रह्म अनादि, विनाश रहित और अक्षर है तथा उसकी विवर्त प्रक्रिया से ही यह जगत भासित होता है। इस प्रकार सम्पूर्ण संसार अप्रत्यक्ष रूप से संगीतमय हैं। संगीत एक ईश्वरीय वाणी है। अतः यह ब्रह्म रूप ही हैं । संगीत आनन्द का अविर्भाव है तथा आनन्द ईश्वर का स्वरूप है। संगीत के माध्यम से ही ईश्वर को प्राप्त किया जा सकता है। योग व ज्ञान के सर्वश्रेष्ठ आचार्य श्री याज्ञवल्क्य जी कहते हैं -


वीणावादनतत्वज्ञः श्रुतिजातिविशारदः।
तालश्रह्नाप्रयासेन मोक्षमार्ग च गच्छति।
संगीत एक प्रकार का योग है। इसकी विशेषता है कि इसमें साध्य और साधन दोनों ही सुखरूप हैं। अतः संगीत एक उपासना है, इस कला के माध्यम से मोक्ष प्राप्ति होती है। यही कारण है कि भारतीय संगीत के सुर और लय की सहायता से मीरा, तुलसी, सूर और कबीर जैसे कवियों ने भक्त शिरोमणि की उपाधि प्राप्त की और अन्त में ब्रह्म के आनन्द में लीन हो गए। इसीलिए संगीत को ईश्वर प्राप्ति का सुगम मार्ग बताया गया है। संगीत में मन को एकाग्र करने की एक अत्यन्त प्रभावशाली शक्ति है तभी से ऋषि मुनि इस कला का प्रयोग परमेश्वर का आराधना के लिए करने लगे।


समग्र स्वास्थ्य के लिए व्यायाम

व्यायाम वह गतिविधि है जो शरीर को स्वस्थ रखने के साथ व्यक्ति के समग्र स्वास्थ्य को भी बढाती है। यह कई अलग अलग कारणों के लिए किया जाता है, जिनमे शामिल हैं: मांसपेशियों को मजबूत बनाना, हृदय प्रणाली को सुदृढ़ बनाना, एथलेटिक कौशल बढाना, वजन घटाना या फिर सिर्फ आनंद के लिए। लगातार और नियमित शारीरिक व्यायाम, प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ा देता है और यह हमारी नींद कम करता है इससे हमें सुबह उठने पर तकलीफ नहीं होतीहृदय रोग, रक्तवाहिका रोग, टाइप 2 मधुमेह और मोटापा जैसे समृद्धि के रोगों को रोकने में मदद करता है। यह मानसिक स्वास्थ्य को सुधारता है और तनाव को रोकने में मदद करता है। बचपन का मोटापा एक बढ़ती हुई वैश्विक चिंता का विषय है और शारीरिक व्यायाम से बचपन के मोटापे के प्रभाव को कम करने में मदद मिल सकती है।


व्यायाम के लाभ:-व्यायाम मानव देह को स्वस्थ रखने का एक अत्यन्त आवश्यक उपाय है। दौड़, दंड-बैठक, सैर, कुश्ती, जिम्नैस्टिक, हॉकी, क्रिकेट, टेनिस आदि खेल व्यायाम के ही कई रूप हैं। व्यायाम ऐसी क्रिया का नाम है जिससे देह में हरकत हो, देह की हर एक नस-नाड़ी, एक-एक सैल क्रिया में आ जाये। जिस समय हम व्यायाम करते हैं उस समय हमारी देह के अंग ऐसी चेष्टा करते हैं, जिसमें हमें आनन्द भी मिलता है और श्रम भी होता है। इससे हमारे शरीर का हर अंग स्वस्थ रहता है। जब हम व्यायाम करते हैं, तो हम अंगों को हिलाते-डुलाते हैं, उससे हमारे हृदय और फेफड़ों को अधिक काम करना पड़ता जिसके फलस्वरूप हमारी एक-एक सांस शुद्ध हो जाती है, हमारे रक्त की एक-एक बूँद स्वच्छ हो जाती है।यह हमारे शरीर को लचिला बनाता है।


मस्तिष्क का काम करने वाले मानवों को व्यायाम अवश्य ही करना चाहिये, क्योंकि देह से श्रम करके रोटी कमाने वालों के अंगों को तो हरकत करने का अवसर फिर भी मिल जाता है किन्तु अध्यापक, डाक्टर, वकील, कम्पयूटर-ओपरेटर आदि लोगों के लिये व्यायाम अत्यन्त आवश्यक है। व्यायाम से देह सुन्दर हो जाती है और उसकी रोगों से लड़ने की शक्ति बढ़ जाती है। हाँ बहुत अधिक व्यायाम से हानि भी हो सकती है। आप जब थक जायें तब आपको व्यायाम करना बन्द कर देना चाहिये।


चमेली की मोहक सुगंध

चमेली, जैस्मिनम (Jasminum) प्रजाति के ओलिएसिई (Oleaceae) कुल का फूल है। भारत से यह पौधा अरब के मूल लोगों द्वारा उत्तर अफ्रीका, स्पेन और फ्रांस पहुँचा। इस प्रजाति की लगभग 40 जातियाँ और 100 किस्में भारत में अपने नैसर्गिक रूप में उपलब्ध हैं। यह भारत में प्रमुख रूप से पाया जाता है। जिनमें से निम्नलिखित प्रमुख और आर्थिक महत्व की हैं:


1. जैस्मिनम ऑफिसनेल लिन्न., उपभेद ग्रैंडिफ्लोरम (लिन्न.) कोबस्की जै. ग्रैंडिफ्लारम लिन्न. (J. officinale Linn. forma grandiflorum (Linn.) अर्थात् चमेली।


2. जै. औरिकुलेटम वाहल (J. auriculatum Vahl) अर्थात् जूही।


3. जै. संबक (लिन्न.) ऐट. (J. sambac (Linn.) ॠत्द्य.) अर्थात् मोगरा, वनमल्लिका।


4. जै. अरबोरेसेंस रोक्स ब.उ जै. रॉक्सबर्घियानम वाल्ल. (J. Arborescens Roxb. syn. J. roxburghianum Wall.) अर्थात् बेला।


हिमालय का दक्षिणावर्ती प्रदेश चमेली का मूल स्थान है। इस पौधे के लिये गरम तथा समशीतोष्ण दोनों प्रकार की जलवायु उपयुक्त है। सूखे स्थानों पर भी ये पौधे जीवित रह सकते हैं। भारत में इसकी खेती तीन हजार मीटर की ऊँचाई तक ही होती है। यूरोप के शीतल देशों में भी यह उगाई जा सकती है। इसके लिये भुरभुरी दुमट मिट्टी सर्वोत्तम है, किंतु इसे काली चिकनी मिटृटी में भी लगा सकते हैं। इसे लिए गोबर पत्ती की कंपोस्ट खाद सर्वोत्तम पाई गई है। पौधों को क्यारियों में 1.25 मीटर से 2.5 मीटर के अंतर पर लगाना चाहिए। पुरानी जड़ों की रोपाई के बाद से एक महीने तक पौधों की देखभाल करते रहना चाहिए। सिंचाई के समय मरे पौधों के स्थान पर नए पौधों को लगा देना चाहिए। समय-समय पर पौधों की छँटाई लाभकर सिद्ध हुई है। पौधे रोपने के दूसरे वर्ष से फूल लगन लगते हैं। इस पौधे की बीमारियों में फफूँदी सबसे अधिक हानिकारक है।


आजकल चमेली के फूलों से सौगंधिक सार तत्व निकालकर बेचे जाते हैं। आर्थिक दृष्टि से इसका व्यवसाय विकसित किया जा सकता है। चमेली एक सुगंधित फूल है, जिसके महक मात्र से लोग मोहित हो जाते है! इस फूल से बहुत सारी दवाइयां बनायी जाती हैं, जो सिर दर्द, चक्कर, जुकाम आदि में काम आता है़!


असुविधा में यज्ञ कैसे करें?

गतांक से...
 (महानंद जी) ओम देवा भद्राम् भव्यम् ब्राह्मणा रुद्राहा: हम द्रव्हो गायंत्वाहा! मेरे पूज्यपाद गुरुदेव अथवा मेरे भद्र ऋषि मंडल अभी-अभी मेरे पूज्य पाद गुरुदेव नाना यज्ञो के संबंध में अपने विचार दे रहे थे! क्योंकि यज्ञ में परंपरागतो से ही मानव निहित रहा है और मेरे पूज्य पाद गुरुदेव ने भी अभी-अभी यह प्रकट करया कि यज्ञ अपने में बड़ा विचित्र है! जहां हमारी यह आकाशवाणी जा रही है, वहां एक यज्ञ का आयोजन हुआ और मैं यह जानता हूं कि यज्ञ अपने में बड़ा विचित्र उधरवा में कर्म है! मैं अपने यजमान को कहता हूं! हे यजमान, क्योंकि मेरा अंतरात्मा यजमान के साथ रहता है और मैं यह कहता रहता हूं कि हे यजमान तुम्हारे जीवन का सौभाग्य अखंड बना रहे! यह जो काल चल रहा है इस काल को मैं वाम मार्ग काल कहता रहता हूं! वाममार्ग उसे कहते हैं जो उल्टे मार्ग पर का गमन करता है! यज्ञ इत्यादि का खंडन करता है और उसे खंडन करने के पश्चात उसकी कीर्ति में नहीं रहना चाहता! विचार आता रहता है! पूज्यपाद गुरुदेव ने मुझे कई कालों में प्रकट करते हुए कहा, आज भी मुझे स्मरण है कि यज्ञ अपने में बड़ा अनूठा क्रियाकलाप है! बड़ी अनोखी एक विचित्र धारा है! परंतु देखो वह अपने में ही अपनी आभा कृतियों में रत होने वाला है! विचार आता रहता है गुरुदेव यह जो वर्तमान का काल चल रहा है! वह वाम मार्ग काल है, वह मार्ग उसे कहते हैं जो उल्टे मार्ग पर गमन करता है! मुझे आश्चर्य होता है कि कैसे ऐसे में मानव की आभा कैसे विकृत हो जाती है? और विकृत होकर के अपनेपन और तन को वह शांत कर देता है? हे मानव, तू अपनी मानवता के ऊपर विचार-विनिमय कर और यज्ञ जैसे क्रियाकलापों को अपने से दूर ना होने दें! हे यजमान तेरे जीवन का सौभाग्य और प्रतिभा  बनी रहे! मैं उच्चारण कर रहा था कि मेरे पूज्य पाद गुरुदेव कहीं राष्ट्रवाद की चर्चा करते हैं तो कहीं राम की तपस्या की चर्चा करते हैं! पूज्यपाद गुरुदेव बड़े-बड़े अति उत्थानो की विवेचना अपने मन में ही करते रहते हैं! मेरे प्यारे उन्होंने कहा संभवत कृताहा: कि हम उसी आभा मे रत रहना चाहते हैं! जहां मार्ग में एक महानता की उपलब्धि हो जाती है! मेरे पूज्य पाद गुरुदेव कई समय से वर्णन करा रहे हैं! कहीं राम की तपस्या का वर्णन करते रहते हैं कि राम इतने विशाल तपस्वी थे और कहीं विश्वभान चर्चाएं होती रहती है! परंतु वेद के माध्यम से विचार आता रहता है कि यजमान अपने में महान बने, परंतु मैं आज इन वाक्यों का गीत गाने नहीं आया हूं! मैं राष्ट्रवाद के ऊपर अपनी विचारधारा व्यक्त करना चाहता हूं! कि राष्ट्रवाद कितना अनूठा है और कितना विचित्र माना गया है! पूज्यपाद गुरुदेव ने कई काल में प्रकट करते हुए कहा है कि उस काल की वार्ताएं स्मरण आती है तो हृदय मे गदगदता जाती है! हृदय में अग्रता का उत्पादन होने लगता है! देखो ऋषि अपनी वार्ता प्रकट करता है, कहता है 'संभवे संभवा कृतम देवा:, यजमान तेरे जीवन की आभा सदैव बनी रहे तेरे जीवन का सौभाग्य अखंड बना रहे!


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


नवंबर 06, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-92 (साल-01)
2. बुधवार, नवंबर 06, 2019
3. शक-1941, कार्तिक-शुक्ल पक्ष, तिथि- दसंमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:28,सूर्यास्त 05:41
5. न्‍यूनतम तापमान -16 डी.सै.,अधिकतम-23+ डी.सै., हवा की गति बढ़नेे की संभावना रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित


 


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...