गुरुवार, 30 जुलाई 2020

मॉरीशसः सुप्रीम कोर्ट भवन का उद्घाटन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रवींद जगन्नाथ ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संयुक्त रूप से मॉरिशस के नए सुप्रीम कोर्ट भवन का उद्घाटन किया। देश की राजधानी पोर्ट लुई में इस भवन का निर्माण भारत के आर्थिक सहयोग से किया गया है। इस उद्घाटन समारोह में जज, न्याय विभाग के अधिकारी के अलावा दोनों देशों के गणमान्य लोगों ने भी हिस्सा लिया। इस मौके पर मौके पर मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ ने हिंदी में कहा कि मोदी जी, हमारा देश, हमारी जनता आपके समर्थन के लिए आभारी है। उद्घाटन समारोह में लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के कुशल प्रबंधन के लिए मैं मॉरिशस की सरकार और लोगों को बधाई देना चाहूंगा। मुझे खुशी है कि भारत दवाइयों की समय पर आपूर्ति और अनुभवों को साझा करने के माध्यम से इस प्रयास का समर्थन करने में सक्षम था। 


दोनों देशों के बीच रहे मैत्रीपूर्ण संबंध


वर्चुअल इवेंट को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इतिहास में डेवलपमेंट पार्टनरशिप के नाम पर देशों को एक दूसरे पर निर्भर होना मजबूरी थी और इससे औपनिवेशिक व्यवस्था को बढ़ावा मिला। भारत के लिए विकसित सहयोग का मूल सिद्धांत पार्टनरों का सम्मान करना है। उन्होंने कहा, 'पोर्ट लुइस में नया सुप्रीम कोर्ट भवन भारत-मॉरिशस सहयोग का प्रतीक है।' संबोधन के अंत में प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के बीच मैत्री के संबंध को और मजबूत बनाने पर जोर देते हुए कहा- 'भारत-मॉरिशस मैत्री अमर रहे।' इस बात को उन्होंने मॉरिशस की स्थानीय भाषा में भी कहा, 'विव लामिते एंत्र लांद ए मोरीस।'


मॉरिशस  के पीएम ने पीएम मोदी को कहा- 'धन्यवाद'


मॉरिशस  के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद अदा किया और कहा, 'एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हृदय से धन्यवाद देता हूं कि मॉरिशस उनके दिल के बहुत करीब है।' मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'सरकार और मॉरिशस के लोगों को COVID19 वैश्विक महामारी के प्रभावी प्रबंधन के लिए बधाई देता हूं। मुझे खुशी है कि भारत समय पर दवाइयों की आपूर्ति और अनुभवों को साझा करके कोरोना प्रबंधन में सहयोग दे सका।' प्रधानमंत्री ने आगे कहा, 'भारत और मॉरिशस दोनों ही हमारी स्वतंत्र न्यायपालिकाओं को हमारी लोकतांत्रिक प्रणालियों के महत्वपूर्ण स्तंभों के रूप में सम्मान देते हैं। यह नई इमारत अपने आधुनिक डिजाइन और निर्माण के साथ इस सम्मान की निशानी है।'विदेश मंत्रालय के अनुसार, भारत की ओर से  मॉरिशस  को वर्ष 2016 में विशेष आर्थिक पैकेज का सहयोग दिया गया था जिसके तहत वहां पांच इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण किया जाना है। इसमें से दो का शुभारंभ पिछले साल प्रधानमंत्री मोदी ने किया था।' 


2016 में भारत ने दिया था विशेष आर्थिक पैकेज


मॉरिशस की राजधानी पोर्ट लुईस में भारत की सहायता से बनी यह पहली आधारभूत संरचना है। वर्ष 2019 में प्रधानमंत्री मोदी व  मॉरिशस के प्रधानमंत्री ने संयुक्त रूप से वहां मेट्रो एक्सप्रेस व नया ENT अस्पताल प्रोजेक्ट का शुभारंभ किया था। पहले चरण में मेट्रो एक्सप्रेस प्रोजेक्ट का काम पिछले साल सितंबर माह में पूरा हो गया था, जबकि दूसरे चरण के अंतर्गत 14 किलोमीटर लंबे मेट्रो लाइन बिछाने का काम अभी जारी है। बता दें कि भारत के सहयोग से ही वहां 100 बेड के अस्पताल का निर्माण शुरू हुआ था। वर्ष 2016 में भारत ने 35.3 करोड़ डॉलर का विशेष आर्थिक पैकेज दिया था। यह परियोजना निर्धारित समय में और अनुमानित से कम लागत में पूरी हुई है। यह भवन 4700 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला है।            


जीडीपी में 9.5 फ़ीसदी की गिरावट

वाशिंगटन डीसी। कोरोना संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित अमेरिका की जीडीपी में दूसरी तिमाही में 9.5 फीसदी की गिरावट आई है। कॉमर्स डिपार्टमेंट ने गुरुवार को यह बात कही। सालाना आधार पर जीडीपी में यह 32.9 फीसदी रही जो अब तक की सबसे बड़ी तिमाही गिरावट है। अमेरिका के आधुनिक इतिहास में इसकी तुलना ग्रेट डिप्रेशन और दूसरे विश्व युद्ध के बाद डिमोबिलाइजेशन से की जा सकती है। ये दोनो घटनाएं मॉडर्न इकनॉमिक स्टेटिस्टिक्स के आने से पहले हुई थीं।
अमेरिकी इकॉनमी में 1940 के दशक के बाद यह सबसे बड़ी गिरावट है जो इस बात का प्रमाण है कि कोरोना वायरस महामारी ने पूरे देश में बिजनस को किस कदर प्रभावित किया है। इसके कारण देश में लाखों लोग बेरोजगार हो गए हैं। सालाना आधार पर जीडीपी में 32.9 फीसदी की गिरावट आई है जो 1947 के बाद सबसे बड़ी गिरावट है। इस दौरान पर्सनल स्पेंडिंग में भी सालाना आधार पर 34.6 फीसदी की रेकॉर्ड गिरावट आई है। अमेरिका की जीडीपी में पर्सनल स्पेंडिंग की दो-तिहाई हिस्सेदारी है।             


चीन के साथ 'भारत' पर भी साधा निशाना

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ भारत पर भी साधा निशाना


वाशिंगटन डीसी। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रदूषण को लेकर भारत पर हमला बोला है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है कि भारत, चीन और रूस को अपनी हवा को लेकर कोई चिंता नहीं है जबकि अमेरिका अपने देश की हवा की परवाह करता है। ट्रंप कई मौकों पर प्रदूषण को लेकर भारत की तीखी आलोचना कर चुके हैं।


पैरिस जलवायु समझौते का जिक्र करते हुए ट्रंप ने बुधवार को कहा कि ये समझौता एकतरफा और ऊर्जा को बर्बाद करने वाला था इसलिए उन्होंने इससे बाहर होने का फैसला किया।बता दें कि ट्रंप ने जून 2017 में पेरिस जलवायु समझौते से अलग होने ऐलान किया था। इस वैश्विक समझौते में हानिकारक ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को घटाने के लिए कई कदम उठाने पर जोर दिया गया था। समझौते में भारत समेत विकासशील देशों को कुछ छूट मिली हुई थी।


ट्रंप ने टेक्सस के एक कार्यक्रम में कहा, "पैरिस जलवायु समझौते की पाबंदियों को मानकर वॉशिंगटन के वामपंथी डेमोक्रेट्स अनगिनत अमेरिकी नौकरियां और फैक्ट्री चीन और उसके जैसे प्रदूषण फैलाने वाले देशों को सौंप देते। वे हमसे हवा की चिंता करने के लिए कहते हैं लेकिन चीन अपने यहां की हवा पर ध्यान नहीं देता है। भारत भी अपनी वायु की गुणवत्ता को लेकर कोई चिंता नहीं करता है और ना ही रूस।लेकिन हम करते है। जब तक मैं राष्ट्रपति हूं तब तक अमेरिका फर्स्ट की नीति लागू रहेगी. ये बहुत सीधी सी बात है।


ट्रंप ने कहा, कई सालों से हम दूसरे देशों को खुद से पहले रखते आए हैं लेकिन अब हमारी प्राथमिकता अमेरिका है।अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि पैरिस जलवायु समझौता विनाशकारी था और उससे अमेरिका को अरबों डॉलर की चपत लगती। ट्रंप के पूर्ववर्ती बराक ओबामा ने इस वैश्विक समझौते में अहम भूमिका अदा की थी। ट्रंप ने कहा, अगर हमने इस समझौते को माना होता तो हम प्रतिस्पर्धा लायक नहीं रह जाते। हमने ओबामा प्रशासन के नौकरियां छीनने वाले पावर प्लान को रद्द कर दिया।


ट्रंप ने कहा, पिछले 70 सालों में हम पहली बार ऊर्जा निर्यातक देश बन पाए हैं। अमेरिका अब तेल और प्राकृतिक गैस का नंबर वन उत्पादक देश बन गया है। हम सुनिश्चित करेंगे कि भविष्य में हमारी ये पोजिशन बनी रहे। हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब ट्रंप ने प्रदूषण को लेकर भारत पर निशाना साधा हो। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इससे पहले कहा था कि भारत, चीन और रूस अपने उद्योगों से निकले धुएं के निपटारे के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं और समुद्र के जरिए इन देशों का कचरा लॉस एंजेलिस पहुंच रहा है।


ट्रंप ने कहा था कि अमेरिका के पास तुलनात्मक रूप से कम जमीन है और अगर आप चीन, भारत और रूस से तुलना करें तो पाएंगे कि ये देश अपने प्रदूषण के निपटारे के लिए कुछ भी नहीं कर रहे हैं, अपने देश में पेड़ों का सफाया कर रहे हैं और सारा कचरा समुद्र में बहा दे रहे हैं। यह कूड़ा बहकर लॉस एंजेलिस तक आ रहा है। लेकिन इसके बारे में कोई भी बात नहीं करना चाहता है। हर कोई बस हमारे देश के बारे में बात करता है। हमें ये करना होगा, हमें प्लेन नहीं उड़ाने होंगे, हमारे यहां गायें नहीं होनी चाहिए, हमारे पास कुछ नहीं होना चाहिए लेकिन चीन और विकासशील देशों के बारे में कोई कुछ नहीं कहता है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक अन्य बयान में कहा था कि चीन, भारत, रूस व कई अन्य देशों के पास ना तो साफ हवा है, ना साफ पानी है और ना ही साफ-सफाई को लेकर समझ ही है। उन्होंने कहा था कि कुछ शहरों में तो आप सांस तक नहीं ले सकते हैं।


दिसंबर 2018 की ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट के अनुमान के मुताबिक, भारत दुनिया में कार्बन डाई ऑक्साइड का चौथा सबसे बड़ा उत्सर्जक देश है और 2017 में वैश्विक उत्सर्जन में 7 फीसदी की हिस्सेदारी थी। साल 2017 में कार्बन का सबसे ज्यादा उत्सर्जन करने वालों में चीन (27%), अमेरिका (15%), यूरोपीय यूनियन (10%) और भारत (10%) थे।          


सीएम शिवांशु 'निर्भयपुत्र'


ट्रंप ने राष्ट्रपति चुनाव टालने का दिया सुझाव

वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को साल के अंत में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को टालने का सुझाव दिया है। ट्रंप ने कहा कि चुनाव में मेल इन सिस्टम से वोटिंग होनी है। ऐसे में यह अमेरिका के इतिहास के सबसे गलत और फर्जी चुनाव होंगे। उन्होंने वोटिंग के दौरान धोखाधड़ी की आशंका जताई है।


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया, 'वैश्विक मेल इन वोटिंग कि अनुपस्थित मतदान, जो कि अच्छा है। 2020 का चुनाव इतिहास का सबसे ज्यादा गलत और धोखाधड़ी वाला साबित होगा। यह चुनाव अमेरिका के लिए शर्मनाक होगा। चुनाव कराने में तब तक देरी करें, जब तक लोग सुरक्षित रूप से मतदान करने में सक्षम न हो जाएं। मेल-इन वोटिंग के माध्यम से व्यापक मतदाता धोखाधड़ी का कोई सबूत नहीं है।'


सरस 'निर्भयपुत्री'             


ब्रिटेनः एमआई-6 की कमान रिचर्ड को सौंपी

लंदन। चीन और रूस से बढ़ते जासूसी के खतरे से निपटने के ब्रिटेन ने रिचर्ड मूर को खुफिया एजेंसी MI6 की कमान सौंपी है। लंबा अनुभव रखने वाले मूर सोवियत संघ के पतन से ठीक चार साल पहले सीक्रेट इंटेलिजेंस सर्विस में शामिल हुए थे।


एक निपुण खुफिया अधिकारी मूर ने पश्चिमी देशों की सबसे शक्तिशाली खुफिया एजेंसियों में से एक MI6 का हिस्सा बनने से पहले कई राजनयिक और सुरक्षा मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम दिया है। वह MI6 के वर्तमान प्रमुख एलेक्स यंगर का स्थान लेंगे।
श्रीराम 'निर्भयपुत्र'             


फसल उजडती देख खुद को आग लगाई

देवास। मध्य प्रदेश के देवास में पुलिस टीम के सामने ही एक दिल दहलाने वाली घटना हो गई. देवास के पास ही सतवास में शासकीय भूमि पर अतिक्रमण हटाने गई पुलिस व राजस्व की टीम के सामने ही एक महिला ने आत्मदाह की कोशिश की। महिला ने खुद को आग लगा लिया इसके बाद पुलिस व प्रशासन की टीम ने आनन फानन में आग बुझाई और महिला को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया। बताया जा रहा है कि महिला करीब 20 प्रतिशत झुलस गई है। महिला को इलाज के लिए इंदौर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज जारी है। महिला को बचाते समय प्रशासन की टीम को भी चोट लगी है।
बताया जा रहा है कि अतिक्रमण हटाने गई राजस्व और पुलिस विभाग की टीम पर करीब दर्जनभर लोगों ने हमला कर दिया। इस हमले में पटवारी किशोर चावरे के कान में गंभीर चोट आई है। इस घटना में राजस्व निरीक्षक राजेंद्र धुर्वे व पटवारी दिलीप जाट को भी चोट आई है मामले में पुलिस ने बीते मंगलवार देर रात 11 बजे शासकीय कार्य में बाधा, बलवा सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है।


क्या है पूरा मामला…………..


प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश के देवास जिले के सतवास में प्रशासन की कार्रवाई रोकने के लिए महिला किसान ने खुद को आग लगा ली। प्रशासन की टीम जेसीबी लेकर अतिक्रमण हटाने पहुंची थी। खेत में सोयाबीन की फसल लगी थी।
महिला और उसके परिजन कार्रवाई का विरोध कर रहे थे, लेकिन जेसीबी फसल को उजाड़ने लगा। फसल नष्ट होते देख महिला ने पहले तो अपने ऊपर पेट्रोल डाला उसके बाद प्रशासन के सामने पहुंचकर माचिस की तीली से अपने आप को आग के हवाले कर दिया। महिला के पति का आरोप है की उसकी पत्नी सावरा बी ने खड़ी फसल को बर्वाद ना करने का बार बार प्रशासन से अनुरोध किया पर किसी ने एक नहीं सुनी।


वीडियो वायरल होने के बाद सियासत शुरू………….


महिला के आत्मदाह का वीडियो वायरल होने के बाद सियासत शुरू हो गई है। कांग्रेस ने इस मामले में ट्वीट कर कहा की शिवराज का जंगलराज, सरकार की प्रताड़ना से तंग आकर आग लगाई; देवास ज़िले के सतवास में खड़ी फसल पर जेसीबी चलवाने के शिवराज के फ़ैसले का विरोध करते हुये एक बेबस महिला ने खुद को आग के हवाले कर दिया। शिवराज जी, महामारी और मौत के बीच तो कम से कम जनता को मत मारो..! “शवराज चरम पर है”             


30 सितंबर तक भर सकेंगे इनकम टैक्स

नई दिल्ली। इनकम टैक्स रिटर्न भरने में राहत दी गई है। अब 30 सितंबर तक भर कर सकेंगे 2018-19 का इनकम टैक्स रिटर्न। पहले इसे 31 जुलाई तक दाखिल करना था। कोरोना और लोगों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए फैसला लिया गया है। सीबीडीटी ने आयकर रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख तीसरी बार बढ़ाई है। कोरोना काल में केंद्र सरकार ने करदाताओं को राहत देते हुए वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न भरने की डेडलाइन को 30 सितंबर तक बढ़ा दिया है। इससे पहले इसकी आखिरी तारीख 31 जुलाई रखी गई थी। आयकर विभाग (इनकम टैक्स डिपार्टमेंट) ने इसकी जानकारी ट्वीट के जरिए दी है।            


निशुल्क गेहूं व साबुत चना होगा वितरित

जुलाई 2020 में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मिलने वाला गेंहू तथा साबुत चना डिपो धारकों द्वारा किया जाएगा निशुल्क वितरण


रतन सिंह चौहान
होडल (पलवल,)। जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक राम अवतार ने बताया कि हरियाणा सरकार के आदेशानुसार माह मई 2020 में पलवल जिला में पी.डी.एस. का राशन सभी बी.पी.एल. (27837), ए.ए.वाई. (9282) तथा अन्य प्राथमिक परिवार (57671 पॉलीसी के तहत केवल गेंहू) राशन कार्ड धारकों को मास जुलाई 2020 में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मिलने वाला गेंहू तथा साबुत चना डिपो धारकों द्वारा निशुल्क वितरण किया जाना है। यदि किसी डिपोधारक द्वारा इस राशन के वितरण के एवज में राशन कार्ड धारक से राशि की मांग की जाती है तो वह राशन कार्ड धारक अपने क्षेत्र के सहायक खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी एवं जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक पलवल के कार्यालय में अपनी शिकायत दे सकते हैं। जिला पलवल में हरे राशन कार्डों पर पी.डी.एस. के तहत कोई राशन नहीं दिया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि पी.एम.जी.के.ए.वाई. योजना के तहत बी.पी.एल., ओ.पी.एच. व ए.ए.वाई. को 5 किलो गेंहू प्रति सदस्य के हिसाब से माह में एक बार मुफ्त वितरित किए जाएंगे। एन.एफ.एस.ए. योजना के तहत बी.पी.एल. व ओ.पी.एच. परिवारों को 5 किलो प्रति सदस्य तथा ए.ए.वाई. परिवारों को 35 किलो गेंहू प्रति राशन कार्ड 2 रुपये प्रति किलो के हिसाब से माह में एक बार वितरित किए जाएंगे। इसी प्रकार पी.एम.जी.के.ए.वाई. योजना के तहत बी.पी.एल., ओ.पी.एच. व ए.ए.वाई. परिवारों को एक किलो साबुत चना प्रति कार्ड माह में एक बार मुफ्त वितरित किए जाएंगे। एन.एफ.एस.ए. योजना के तहत बी.पी.एल. व ए.ए.वाई. परिवारों को दो लीटर तेल प्रति कार्ड 20 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से माह में एक बार वितरित किए जाएंगे। इसी क्रम में एन.एफ.एस.ए. योजना के तहत बी.पी.एल. व ए.ए.वाई. परिवारों को एक किलो चीनी प्रति कार्ड साढे 13 रुपये प्रति किलो के हिसाब से माह में एक बार वितरित किए जाएंगे।            


'लाल डोरा मुक्त' गांव, योजना चलाई

सरकार ने गांवों को लाल डोरा मुक्त करने की महत्वपूर्ण योजना चलाई है जिससे लोगों को गांव में स्वामित्व का अधिकार मिलेगा


रतन सिंह चौहान
होडल (पलवल)। उपायुक्त नरेश नरवाल ने बताया कि हरियाणा सरकार की राज्य के गांवों को लाल डोरा मुक्त करने के ऐतिहासिक फैसले के दृष्टिगत पायलट आधार पर पलवल जिले के 11 गांवों को लाल डोरा मुक्त करने का कार्य शुरू हो गया है। लाल डोरा मुक्त योजना के तहत जिले के जिन गांवों में ड्रोन से मैपिंग का कार्य होना है उन सभी गांवों में राजस्व और पंचायत विभाग के अधिकारी आपसी तालमेल से यह कार्य किया जा रहा है। सरकार ने गांवों को लाल डोरा मुक्त करने की महत्वपूर्ण योजना चलाई है जिससे लोगों को गांव में स्वामित्व का अधिकार मिलेगा और अनेक योजनाओं का सीधा लाभ मिलेगा। चरणबद्ध तरीके से गांवों को लाल डोरा से आजादी दिलाने के लिए ड्रोन सर्वे कर मैपिंग का कार्य किया जा रहा है।
खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी उपमा अरोडा ने जानकारी देते हुए बताया कि स्वामित्व योजना के तहत हरियाणा के सभी गांवों को लाल डोरा मुक्त किया जाना है। इस संबंध में ड्रोन द्वारा लाल डोरा की पैमाइश की जाएगी तथा वर्तमान की लाल डोरा के अंदर भू-मालिकों को राजस्व विभाग द्वारा भूमि का नंबर अलॉट किया जाएगा। इस योजना के अनुसार प्रथम चरण में जिला पलवल में पृथला, सदरपुर, डाढोता, गोपीखेडा, जलहाका, नगलाभीकू, रसूलपुर, हौसंगाबाद, छज्जूनगर, अकबरपुर डकोरा व नागल ब्राह्मïण गांवों का चयन किया गया है। इनमें से गांव अकबरपुर डकोरा, हौसंगाबाद, मुनीरगढी व छज्जूनगर गांवों की ड्रोन द्वारा अब तक पैमाइश कराई जा चुकी है तथा शीघ्र ही अन्य गांवों में कार्य शुरू किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि हरियाणा सरकार द्वारा हरियाणा के सभी गांवों को लाल डोरा मुक्त करने के लिए स्वामित्व योजना चलाई गई है। इस स्कीम के तहत लाल डोरा के अंदर की पैमाइश ड्रोन द्वारा करवाई जाएगी। स्कीम का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में लाल डोरा के अंदर की प्रोपर्टीज को फाइनेंशियल असेट के रूप में कन्वर्ट करना व किसी भी तरह की प्रोपर्टी और लीगल डिस्प्यूट को कम करना है। इस स्कीम के पहले चरण में आगामी 2 अक्तूबर 2020 तक प्रत्येक जिले के 11 गांवों को लाल डोरा मुक्त करना है।             


स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत छात्रों को सुविधा

राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत किशोर-किशोरियों को दी जा रही हैं विशेष सुविधाएं : सिविल सर्जन


रतन सिंह चौहान
होडल पलवल(देव केसरी)।कोविड के साथ-साथ जिला पलवल के किशोर-किशोरियों के स्वास्थ्य को लेकर एक नई दिशा देने के लिए जिला पलवल के स्वास्थ्य विभाग में चल रहे राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम का विवरण देते हुए सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप ने बताया कि किशोर-किशोरियों को विशेष सुविधाएं दी जा रही है। इन सभी किशोर-किशोरियों को काउंसलिंग के अलावा कुछ विशेष सुविधाए भी दी जाएगी।
उन्होंने बताया कि अभी स्टेट हेडक्वार्टर के अनुसार जिला पलवल में किशोरियों के लिए सेनेटरी नेपकिन की सुविधा भी जल्द से जल्द दी जाएगी। मासिक धर्म से सम्बंधित उनको सभी बातों से अवगत कराने के साथ-साथ सेनेटरी नेपकिन भी दिए जाएंगे। हर हफ्ते खिलाई जाने वाली आयरन की गोली एवं हर 6 महीने में खिलाई जाने वाली एल्बेंडाजोल की गोली के साथ अब सेनेटरी नेपकिन भी दिए जाएंगे। जिला पलवल में यह सुविधाएं प्रदान करने के लिए मित्रता क्लीनिक खुले हुए है। जिला पलवल में 14 मित्रता क्लीनिक है। सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर किशोर-किशोरियों को यह सुविधाएं मित्रता क्लीनिक के द्वारा प्रदान की जा रही है।
सिविल सर्जन ने बताया कि इन मित्रता क्लीनिक को आयुष विभाग के प्रशिक्षित डाक्टरों द्वारा चलाया जा रहा है। नागरिक अस्पताल पलवल के साथ-साथ हथीन एवं दूधौला में यह सुविधाएं किशोर स्वास्थ्य सलाहकार द्वारा दी जा रही है। यह सभी कार्य जिला किशोर स्वास्थ्य अधिकारी डा. पुष्पा की देखरेख में चल रहा है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत जिला पलवल में 210 किशोर स्वास्थ्य दिवस मनाए जाएंगे एवं 792 पीर एजूकेटर्स के साथ-साथ अब 416 नए पीर एजूकेटर्स भी जल्द ही प्रशिक्षित किए जाएंगे।              


उधम के 'बलिदान' से प्रेरणा लेनी चाहिए

शहीद उधम सिंह के बलिदान को कभी भी नहीं भुलाया जा सकता। युवा पीढ़ी को उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए । उदयसिंह सौरोत


रतन सिंह चौहान
होडल। अमर शहीद उधम सिंह के शहीदी दिवस की पूर्व संध्या पर राजकीय उच्च विद्यालय करमन में चौधरी सीताराम सौरोत यादगार सेवा समिति होडल द्वारा  पौधारोपण तथा प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में संस्था के अध्यक्ष उदय सिंह सौरौत मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित थे जबकि अध्यक्षता ग्राम पंचायत करमन के सरपंच गोपीचन्द सौरौत ने की तथा संचालन विद्यालय मुख्य अध्यापक हरीश चन्द ने किया। इस अवसर पर कारगिल शहीद  समुंद्र सिंह सिंह हुड्डा यादगार सेवा समिति के महासचिव दीपचंद सौरौत, सतपाल थानेदार  तथा सुखीराम सौरौत  विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उदय सिंह सौरौत ने कहा कि शहीद उधम सिंह के बलिदान को कभी भी नहीं भुलाया जा सकता। युवा पीढ़ी को उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए तथा आज का  पौधारोपण कार्यक्रम उनके अमित बलिदान को समर्पित है।  उन्होंने इस अवसर पर विद्यालय के प्रतिभाशाली छात्र- छात्राओं को सम्मानित करते हुए कहा कि  ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है केवल उन्हें अवसर प्रदान करने की आवश्यकता है।  सरपंच गोपीचंद सौरोत ने कहा कि सरकार द्वारा दिन-प्रतिदिन सरकारी विद्यालयों में सुविधाओं को बढ़ाया जा रहा है। अतः अधिक से अधिक विद्यार्थियों को  सरकारी विद्यालयों में दाखिला लेना चाहिए। इस अवसर पर शहीद समिति के महासचिव दीपचंद सौरौत ने  कोरोना काल में  अपनी भूमिकाओं का सत्यनिष्ठता के साथ  निर्वहन करने के लिए विद्यालय के अध्यापक- अध्यापिकाओं को सम्मानित किया। इस अवसर पर उदय सिंह सौरोत तथा अन्य अतिथियों द्वारा शहीदों की पुण्य स्मृति में पौधे लगाए गए तथा विद्यार्थियों को उपहार स्वरूप पौधे भेंट भी किए गए। विद्यालय मुख्याध्यापक हरीश चंद ने बताया कि इस कार्यक्रम का आयोजन सरकार द्वारा संचालित पौधागिरी कार्यक्रम के अंतर्गत किया गया है। पौधों में मुख्य रूप से पीपल अर्जुन, मेहंदी, कनेर, अशोक, अनार, जामुन तथा गुड़हल के पौधे शामिल हैं। इस अवसर पर प्रवक्ता विष्णु गौड़, वीरेंद्र सिंह, भजनलाल, गिरीश कुमार गौतम, हेमराज, अशोक कुमार, रामकिशन, राजेंद्र सिंह, लक्ष्मी देवी, शशि बाला, प्रदीप कुमार, धर्मेंद्र,  विद्यालय प्रबंधन समिति  अध्यक्ष कमलसिंह, कृष्णा देवी, महेंद्र मेंबर, भगत सिंह मेंबर आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।          


कौशल विकास से युवाओं को समान अवसर

राज्य सरकार ने एसवीएसयू को सभी कौशल आधारित पाठ्यक्रमों के लिए संबद्ध विश्वविद्यालय के रूप में किया घोषित


रतन सिंह चौहान
होडल पलवल। युवाओं को कौशल विकास में एक समान अवसर उपलब्ध करवाने के लिए सरकार ने श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय को संबद्ध विश्वविद्यालय के रूप में घोषित किया है। अब प्रदेश के महाविद्यालयों, शिक्षण संस्थानों में कौशल आधारित सर्टिफिकेट कोर्स, डिप्लोमा, अंडरग्रेजुएट एवं पोस्टग्रेजुएट के कौशल से संबंधित कोर्सेज को श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय से संबद्धता के लिए जोड़ सकते हैं, ताकि सभी प्रकार के कौशल से आधारित पाठयक्रमों की असेसमेंट एवं इवैल्यूएशन एक मानक स्तरों के अनुरूप हो। हरियाणा सरकार के स्किल डेवलपमेंट एंड इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग डिपार्टमेंट के नोटिफिकेशन टी-6/एसवीएसयु/एफिलिएशन के अनुरूप श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय स्किल एजुकेशन के सभी संस्थानों को अपने से संबद्ध कर सकता है।


विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार प्रो. आरएस राठौड ने कहा कि मुझे यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि माननीय कुलपति श्री राज नेहरू के विजनरी नेतृत्व के तहत, श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय ने एक और उपलब्धि हासिल की है, राज्य सरकार ने हमें राज्य में सभी कौशल आधारित पाठ्यक्रमों के लिए संबद्ध विश्वविद्यालय के रूप में घोषित किया है। एसवीएसयू राज्य में सभी कौशल पाठ्यक्रमों को संबद्ध करने में सक्षम होगा। इससे राज्य के युवाओं को उद्योग एकीकृत कार्यक्रमों में नामांकन करके लाभान्वित होने में मदद मिलेगी। मुझे पूरा विश्वास है कि इस तरह की सभी उपलब्धियां एसवीएसयू को बहुत जल्द स्किल आईआईटी बनने में मदद करेंगी।


विश्वविद्यालय के कुलपति श्री राज नेहरू ने हर्ष जाहिर करते हुए कहा कि सरकार ने युवाओं में कौशल प्रदान करने के लिए एसवीएसयु की स्थापना की, उस दिशा में विश्वविद्यालय बेहतर कार्य कर रहा है। युवाओं को बेहतर कौशल प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालय ने अब तक 90 से अधिक उद्योगों के साथ एमओयू किए हैं ताकि हमारे युवा विद्यार्थी उच्च स्तर के उद्योगों से जुड़कर कौशल सीखें एवं खुद का विकास करें। कौशल आधारित शिक्षा को लेकर जिस प्रकार सरकार ने एसवीएसयू पर विश्वास किया है, उसको विश्वविद्यालय पुरी कर्मठता से निभायेगा। श्री राज नेहरू ने कहा कि लाॅकडाउन के दौरान भी एसवीएसयू ने विद्यार्थियों को बेहतर प्लेसमेंट दिलाने का कार्य किया है। उद्यमिता कौशल विकास के अंतगर्त दस हजार युवाओं को उद्यमिता कौशल के गुण प्रदान किए जा रहे हैं। प्रदेश सरकार का यह ऐतिहासिक फैसला है, अब ज्यादा से ज्यादा युवा कौशल विकास की ओर अग्रसर होगें एवं श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय, प्रदेश के युवाओं को कौशल प्रदान करने के लिए हर प्रकार के बेहतर प्रयास करेगा।             


सिविल जज ने अपना पद ग्रहण किया

रतन सिंह चौहान


होडल पलवल। श्री चंद्रशेखर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पलवल ने बताया कि माननीय उच्च न्यायालय पंजाब-हरियाणा चंडीगढ़ द्वारा चयनित न्याय न्याय अधिकारी श्रीमती तबस्सुम खान श्रीमान दीपक यादव और श्रीमान विकास वर्मा को जिला एवं सत्र न्यायालय पलवल भेजा गया है। आज दिनांक 30 जुलाई 2020 को श्रीमती तबस्सुम खान ने सिविल जज जूनियर डिविजन पलवल में अपना पद ग्रहण कर लिया। इससे पहले वह सहायक प्रोफेसर के तौर पर शारदा यूनिवर्सिटी में कार्य थी श्रीमान विकास यादव जी जल्द ही सिविल जज जूनियर डिविजन पलवल में अपना पदभार संभालेंगे। इससे पहले वह सिविल जज जूनियर डिवीजन बागपत में कार्य थे। इसके अतिरिक्त श्रीमान दीपक यादव जी सिविल जज जूनियर डिविजन होटल में अपना पदभार संभालेंगे। इससे पहले वह अतिरिक्त सिविल जज भानगिर जिला नालगोंडा तेलंगना में कार्य थे।


मात्र 2 घंटे में अपहरण की गुत्थी सुलझाई

विजय भाटी


गौतमबुध नगर। नोएडा पुलिस ने केवल एक घंटे के भीतर 2 साल के मासूम बच्चे के अपहरण की गुत्थी सुलझाकर बच्चे को छुड़ाने में कामयाबी हासिल कर ली है।   मंगलवार को नोएडा सेक्टर 73 के सराफाबाद गाँव में मंगलवार को हुई इस घटना की जानकारी पुलिस ने आज दी है।  नोएडा पुलिस ने बच्चे का अपहरण करने और साजिश रचने के आरोप में चचेरे भाई व उसके दो साथियों को गिरफ्तार किया है।


पिता को किया अपहरण करने वालों ने फोन


गौतमबुद्ध नगर की एडिशनल पुलिस कमिश्नर अपर्णा गांगुली ने बताया कि मंगलवार को सरफाबाद सेक्टर-73 से 2 साल के बच्चे का अपहरण कर लिया गया था। बच्चे के पिता संदीप यादव ने पुलिस को फोन करके सूचना दी थी कि उसका बेटा घर के बाहर खेल रहा था। अचानक गायब हो गया। अब उसे एक फोन किया गया है। कॉलर ने कहा है कि वह बच्चे की हत्या कर देगा। यह सूचना मिलने के तुरंत बाद पुलिस ने तत्परता से काम किया। बच्चा करीब 1 घंटे बाद मेट्रो स्टेशन से बरामद कर लिया गया था।


अपर्णा गांगुली ने बताया कि गुरुवार को थाना सेक्टर-49 पुलिस ने 2 अपहरणकर्ता गिरफ्तार किए हैं। इनमें एक अभियुक्त पीयूष यादव पुत्र बिजेन्द्र यादव है। वह सर्फाबाद का निवासी है। पीयूष यादव और संदीप यादव चाचा भतीजे हैं। मतलब, पीयूष यादव ने अपने चचेरे भाई का अपहरण किया था। पीयूष के साथी जुबेर पुत्र वकील को भी गिरफ्तार किया गया है। जुबेर बदांयू शहर के कछला मोहल्ले के रहने वाला है। अभी नोएडा के सदरपुर गांव में रहता है। एडिशनल कमिश्नर ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों के कब्जे से घटना में प्रयुक्त एक मोबाइल फोन सैमसंग कम्पनी का बरामद किया गया। इसी फोन से इन लोगों ने बच्चे का अपहरण करने के बाद संदीप यादव को कॉल करके धमकी दी थी। संदीप यादव ने घटना की सूचना मंगलवार को समय करीब 12.30 बजे डायल-112 पर दी थी। इस सूचना पर थाना सेक्टर-49 पुलिस ने तत्काल मुकदमा अपराध संख्या 659/2020 धारा 364/506 आईपीसी दर्ज किया था।


कैसे हुआ घटना का खुलासा
एडिशनल पुलिस कमिश्नर ने बताया कि थाना स्तर पर टीम गठित करके तत्काल अपहृत बच्चे की तलाश शुरू की गयी। अपहरण की सूचना प्राप्त होने के लगभग एक घंटे के अन्दर ही अपहृत बालक को सेक्टर-72 नोएडा के पार्क से बरामद कर लिया गया था। बच्चा उसी दिन परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया था। गिरफ्तार अभियुक्त पीयूष यादव ने बताया कि उसने अपने दोस्तों जुबेर और एक अन्य के साथ मिलकर करीब 10 दिन पहले अपने चचरे भाई का अपहरण करने की योजना बनाई थी। उसी योजना के अनुसार उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर अपहरण किया था। पीयूष ने बताया कि उसने अपने चाचा संदीप यादव के घर के बाहर से बालक को उठाकर मोटर साइकिल पर ले जाकर गांव के शिव मंदिर के पास जुबेर और एक अन्य दोस्त को दे दिया था। उन्होंने बच्चे को अपने दोस्त के मकान सदरपुर सेक्टर-45 नोएडा में रखा था। पुलिस की तत्परता और कार्यवाही को देखते हुए वह लोग घबरा गये थे। उसने अपने दोस्तों को फोन से सूचना दी। उन दोनों ने बच्चे को सेक्टर-,72 पार्क में छोड़ दिया और वहां से भाग गये थे। फरार अभियुक्त की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं। अभियुक्तों से विस्तृत पूछताछ की जा रही है।              


निशुल्क कैंप लगाकर 150 की जांच की

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। सिविल डिफेंस गाज़ियाबाद द्वारा आज राज नगर एक्सटैन्शन की फॉरच्यून रेसीडेंसी सोसायटी में एक एंटीजन टेस्ट कैंप के दौरान 150 व्यक्तियों की जांच की गई।  अच्छी बात यह रही कि इनमें से कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित नहीं मिला।सिविल डिफेंस के चीफ वार्डन ललित जायसवाल के सौजन्य से लगाए जा रहे कैंप में डॉक्टरों की टीम को डिप्टी चीफ वार्डन अनिल अग्रवाल, सहायक उप नियंत्रक दिनेश कुमार व डिवीजनल वार्डन राजेन्द्र शर्मा के नेतृत्व में सिविल डिफेंस के वार्डन अपना सहयोग दे रहें है। इन कैम्पों में प्रातः 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक आने वालों के निःशुल्क टेस्ट किये जा रहे है।


डिवीजनल वार्डन राजेन्द्र शर्मा ने सभी लोगों से अपील की  कि आगे भी सभी लोग कोरोना के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने व परिवार तथा आसपास के लोगों को भी इस महामारी से सचेत करते रहें। दो गज की दूरी,मास्क है ज़रूरी का पालन करें। इस अवसर पर सिविल डिफेंस की ओर से अक्षय जैन, रजनीश सूरी, मयंक व पवन मेहंदीरत्ता  मौजूद रहे। सोसायटी की ओर से  डायरेक्टर राकेश अग्रवाल, जीएम वीरेंद्र त्यागी तथा निखिल त्यागी, मुनीश कौशिक, मनोज वर्मा, अमिता भामा, दीपा चौधरी का भरपूर सहयोग मिला।             


नोएडा में 44 कंटेनमेंट जोन डी-सील किए

कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सभी जनपद वासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन आम नागरिकों को विभिन्न जानकारी करा रहा है उपलब्ध


कल जनपद में 44 कंटेनमेंट जोन को किया गया डी-सीलिंग


विजय भाटी


गौतम बुध नगर। कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए जागरूकता ही बचाव है। अतः कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सभी जनपद वासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित बनाया जा सके इसके लिए कोविड-19 के नोडल अधिकारी नरेंद्र भूषण, पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह एवं जिलाधिकारी सुहास एल वाई के नेतृत्व में जागरूकता की दृष्टि से संबंधित अधिकारियों के द्वारा विभिन्न स्तर की जानकारी आम नागरिकों को निरंतर रूप से उपलब्ध कराई जा रही है ताकि सभी जनपद वासी जागरूक होकर कोरोना संक्रमण से अपना बचाव सुनिश्चित कर सकें। इस कड़ी में आज जनपद में 44 कंटेनमेंट जोन को डी-सीलिंग किया गया है, जिसकी सूची डीएम वार रूम के माध्यम से आम नागरिकों तक भेजी जा रही है। इसका अवलोकन करते हुए लाभ उठाया जाता है। राकेश चौहान जिला सूचना


31 अगस्त तक जनपद में धारा 144 लागू


  • उल्लंघन करने वालों पर जिला प्रशासन सख्ती के साथ करेगा कार्यवाही

  • जिला मजिस्ट्रेट अजय शंकर पांडेय ने आदेश किया निर्गत


अश्वनी उपाध्याय


ग़ाज़ियाबाद। आगामी त्यौहारों ईद, रक्षाबंधन जन्माष्टमी आदि एवं कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए जिला मजिस्ट्रेट अजय शंकर पांडेय के द्वारा संपूर्ण जनपद गाजियाबाद में आगामी 31 अगस्त तक धारा 144 लागू की गई है। इस संबंध में उन्होंने जानकारी देते हुए अवगत कराया है कि संपूर्ण जनपद में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने एवं सभी त्योहारों को शांतिपूर्वक ढंग से संपन्न कराने के उद्देश्य से आगामी 31 अगस्त तक धारा 144 लागू कर दी गई है।


उन्होंने कहा कि यदि किसी भी व्यक्ति के द्वारा जनपद में धारा 144 का उल्लंघन किया जाएगा तो संबंधित के विरुद्ध सुसंगत धाराओं के अंतर्गत जिला प्रशासन कठोरतम कार्यवाही प्रस्तावित करेगा।


क्या है धारा 144
धारा 144 का मुख्य मकसद कई लोगों का एक जगह पर इकठ्ठा होने से रोकना है। सरकार यह धारा तब लागू करती है जब लोगों के इकट्ठा होने से कोई खतरा हो सकता है। पढें क्या है धारा 144 और इससे जुड़े अहम सवालों के जवाब।



  1.  धारा-144 और कब लगाई जाती है?
    सीआरपीसी की धारा 144 शांति कायम करने या किसी आपात स्थिति से बचने के लिए लगाई जाती है। किसी तरह के सुरक्षा, स्वास्थ्य संबंधित खतरे या दंगे की आशंका हो। धारा-144 जहां लगती है, उस इलाके में पांच या उससे ज्यादा आदमी एक साथ जमा नहीं हो सकते हैं। धारा लागू करने के लिए इलाके के जिलाधिकारी द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी किया जाता है। धारा 144 लागू होने के बाद इंटरनेट सेवाओं को भी आम पहुंच से ठप किया जा सकता है। यह धारा लागू होने के बाद उस इलाके में हथियारों के ले जाने पर भी पाबंदी होती है।

  2. कब तक लग सकती है धारा-144?
    धारा-144 को 2 महीने से ज्यादा समय तक नहीं लगाया जा सकता है। अगर राज्य सरकार को लगता है कि इंसानी जीवन को खतरा टालने या फिर किसी दंगे को टालने के लिए इसकी जरूरत है तो इसकी अवधि को बढ़ाया जा सकता है। लेकिन इस स्थिति में भी धारा-144 लगने की शुरुआती तारीख से छह महीने से ज्यादा समय तक इसे नहीं लगाया जा सकता है।

  3. सजा का प्रावधान
    गैर कानूनी तरीके से जमा होने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ दंगे में शामिल होने के लिए मामला दर्ज किया जा सकता है। इसके लिए अधिकतम तीन साल कैद की सजा हो सकती है।

  4. धारा-144 और कर्फ्यू के बीच फर्क
    ध्यान रहे कि सेक्शन 144 और कर्फ्यू एक चीज नहीं है। कर्फ्यू बहुत ही खराब हालत में लगाया जाता है। उस स्थिति में लोगों को एक खास समय या अवधि तक अपने घरों के अंदर रहने का निर्देश दिया जाता है। मार्केट, स्कूल, कॉलेज आदि को बंद करने का आदेश दिया जाता है। सिर्फ आवश्यक सेवाओं को ही चालू रखने की अनुमति दी जाती है। इस दौरान ट्रैफिक पर भी पूरी तरह से पाबंदी रहती है।             


रविवार को खुली रहेगी मिठाई की दुकानें


  • रक्षाबंधन त्यौहार को दृष्टिगत रखते हुए रविवार के दिन जनपद गाजियाबाद में कंटेनमेंट जोन के बाहर की सभी मिठाईयां एवं राखी की दुकान रहेंगी खुली


अश्वनी उपाध्याय


ग़ाज़ियाबाद। जिला अधिकारी गाजियाबाद अजय शंकर पांडेय ने जनपद वासियों का आह्वान करते हुए उन्हें जानकारी दी है कि रक्षाबंधन त्यौहार को दृष्टिगत रखते हुए आगामी रविवार को जनपद गाजियाबाद के अंतर्गत कंटेनमेंट जोन के बाहर सभी मिठाईयां एवं राखी की दुकानें खुली रहेंगी।


कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए जिलाधिकारी ने समस्त जनपद वासियों का आह्वान किया है कि सभी नागरिक कोरोना से अपने को सुरक्षित करने के उद्देश्य से मिठाईयां एवं राखी खरीद करते समय मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अवश्य करें ताकि सभी नागरिक कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित बने रहें।


गाजियाबाद में प्लाज्मा थेरेपी से उपचार

कोरोना संक्रमितों के लिए एक राहत की खबर है।


अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। संतोष मेडिकल कॉलेज में भी कोरोना संक्रमितों का इलाज प्लाज्मा थेरेपी से शुरू हो गया है।  अभी तक जिले में यह सुविधा कुछ निजी अस्पतालों तक ही सीमित थी। प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा शिक्षा) डॉ रजनीश दुबे ने बताया कि लखनऊ के केजेएमयू के बाद प्रदेश के 6 अन्य मेडिकल कॉलेजों में भी प्लाज्मा थेरेपी शुरू हो गई है।  इन मेडिकल कॉलेजों में एसजीपीजीआई लखनऊ, एसएसपीएच नोएडा, जिम्स ग्रेटर नोएडा, जीएसवीएम मेडिकल कालेज कानपुर, एसएन मेडिकल कालेज आगरा और सन्तोष मेडिकल कालेज गाजियाबाद शामिल हैं। इनमें अस्पताल में भर्ती कोरोना सें गम्भीर रूप से संक्रमित 75 मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी दी गई। इनमें से 60 मरीज ठीक हो चुके हैं।डॉ. रजनीश दुबे ने बताया कि चिकित्सा शिक्षा विभाग के तहत संचालित मेडिकल कालेजों में कोरोना से संक्रमित अब तक लगभग 20,000 मरीज भर्ती हो चुके हैं।  इनमें से 14 हजार मरीज उपचार के बाद डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि कोविड-19 संक्रमित मरीजों में 70 वर्ष से ऊपर के 1277 मरीजों का उपचार किया गया है। एक हजार मरीजों को अब तक उपचार के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है।


उन्होंने बताया कि पांच साल से कम आयु के 451 मरीजों का उपचार किया गया, जिनमें 421 मरीजों को उपचार के उपरान्त डिस्चार्ज किया जा चुका है। इसके अलावा मेडिकल कालेजों व संस्थानों में कोविड-19 से सक्रंमित 230 सिजेरियन डिलेवरी की गयी एवं 465 मरीजों की डायलिसिस की जा चुकी है। 


डा. दुबे ने बताया कि कोविड-19 से गम्भीर रूप से सक्रंमित 992 मरीजों को बाइपैप दिया गया जिनमें से 630 मरीज ठीक हो चुके हैं। 251 मरीजों को एचएफएमसी दिया गया जिनमें से अब तक 182 मरीज ठीक हो चुके हैं।  अति गम्भीर मरीजों में 262 मरीजों को रेमिडिसबेर इन्जेक्शन दिया गया। इनमें से 154 मरीज ठीक हो चुके हैं। 57 मरीजों को  टासिलीजॉम दवा दी गई जिनमें 36 मरीज ठीक हो चुके हैं। इसके अतिरिक्त 833 अति गंभीर मरीजों को वेन्टीलेटर पर रखा गया, जिनमें 62 मरीज ठीक हो चुके हैं।


उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश के क्रम में प्रदेश के सभी मेडिकल कालेजों के कोविड सेन्टर्स के आइसोलेशन बेड पर आक्सीजन की सुविधा उपलब्ध है। प्रदेश के 11 मेडिकल कालेजों में निशुल्क रेमिडिसबेर इन्जेक्शन व दो सेण्टरों एसजीपीजीआई तथा केजीएमयू , लखनऊ में निशुल्क टासिलीजॉम दवा भी उपलब्ध कराई गई है।              


डीजल पर वैट घटाने की घोषणा की

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने गुरुवार को राजधानी में डीजल पर मूल्यवर्धित कर (वैट) 30 से घटाकर 16.75 प्रतिशत करने की घोषणा की जिससे इस ईंधन के दाम 8.36 रुपये प्रति लीटर कम हो जायेंगे।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राज्य मत्रिमंडल की बैठक में लिये गए इस फैसले की घोषणा की। श्री केजरीवाल ने कहा दिल्ली में डीजल पर वैट 30 प्रतिशत से घटाकर 16.75 प्रतिशत कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस निर्णय से दिल्ली में डीजल का दाम 82 रुपये से 8.36 रुपये कम होकर 73.64 रुपये प्रति लीटर रह जायेगा।”
पड़ोसी राज्यों की तुलना में दिल्ली में वैट अधिक होने से डीजल काफी मंहगा था। ट्रांसपोर्टर डीजल पर वैट कम करने की लगातार मांग कर रहे थे।             


26 सालों में निचले स्तर पर सोने की मांग

भारत की 2020 में सोने की मांग 26 सालो में कम हो सकती है: डब्लूजीसी
नई दिल्ली। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (डब्ल्यूजीसी) ने गुरुवार को कहा कि 2020 में भारत की सोने की मांग 26 साल के निचले स्तर पर गिरने की उम्मीद है, जिसमें घरेलू सर्राफा कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई और खुदरा बिक्री घटने के साथ ही डिस्पोजेबल आय घट सकती है। दुनिया के दूसरे सबसे बड़े सराफा उपभोक्ता की कम मांग से वैश्विक कीमतों में तेजी आ सकती है, जो इस महीने की शुरुआत में एक रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गई, हालांकि यह भारत के व्यापार घाटे को कम कर सकता है और बीमार रुपये का समर्थन कर सकता है।
क्यों SBICap भारती एयरटेल पर एक खरीद रेटिंग है
“हमारे पास स्टॉक पर 690 रुपये के लक्ष्य मूल्य के साथ एक खरीद है, हम मानते हैं कि कई उत्प्रेरक हैं और टैरिफ में बढ़ोतरी या एआरपीयू सुधार कार्ड पूरी तरह से नहीं खेला जाता है। हम इस वित्तीय वर्ष के लिए एआरपीयू से लगभग 175 पर बाहर निकलते हैं। इसके अलावा, वोडाफोन आइडिया एजीआर की ओर से लंबी अवधि के पुनर्भुगतान अनुसूची की उम्मीद कर रहा है, लेकिन वे बाजार में हिस्सेदारी खो रहे हैं और हम भारती और जियो दोनों को इस तरह के आयोजन से लाभान्वित होते हुए देखते हैं, “राजीव शर्मा, हेड-रिसर्च, एसबीआई कैप ने कहा।
शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 7 पैसे फिसलकर 74.87 के स्तर पर खुला
अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा अपने कड़े रुख को दोहराए जाने और ब्याज दरों को स्थिर रखने के बाद गुरुवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 7 पैसे गिरकर 74.87 डॉलर पर खुला। इंटरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में, रुपया 74.84 पर खुला, फिर आगे की जमीन खो दी और 74.87 अमेरिकी डॉलर के मुकाबले छू लिया, जो 74.80 के अपने अंतिम बंद से 7 पैसे नीचे था।
संज्ञानात्मक Q2 लाभ 29% गिरावट; नया सीएफओ नियुक्त
1. न्यू जर्सी-मुख्यालय प्रौद्योगिकी प्रदाता कॉग्निजेंट ने जून में समाप्त दूसरी तिमाही के लिए शुद्ध लाभ में 29 प्रतिशत की गिरावट के साथ 361 मिलियन डॉलर की गिरावट दर्ज की, जो पिछले साल की समान अवधि के लिए $ 509 मिलियन थी।


2. इसने सामग्री सेवाओं के कारोबार से बाहर निकलने और इस साल के शुरू में रैंसमवेयर हमले के कारण नकारात्मक 210 आधार अंक प्रभाव सहित 3.4 बिलियन डॉलर के राजस्व में गिरावट दर्ज की है।


3. कॉग्निजेंट ने यह भी घोषणा की कि वर्तमान सीएफओ करेन मैकलॉघलिन ने 17 साल की सेवा के बाद कंपनी से सेवानिवृत्त होने का फैसला किया है। 1 सितंबर, 2020 से प्रभावी सीएफओ के रूप में जान सीगमंड मैक्लॉघलिन की जगह लेगा।


YES Sec 225 रुपए के लक्ष्य के साथ मणप्पुरम फाइनेंस पर खरीद करता है
“हम एमजीएफएल पर खरीद लेते हैं क्योंकि हम इसे उच्चतर प्रावधान के बावजूद आने वाले तिमाहियों में मजबूत लाभप्रदता की रिपोर्ट करते हैं, जो गोल्ड लोन के कारोबार में टेलविंड्स द्वारा संचालित है। स्टॉक के हालिया आउटपरफॉर्मेंस के बावजूद, उच्च लाभप्रदता और लाभ के संदर्भ में वैल्यूएशन 1.8.1 वित्त वर्ष 2014 के पी / एबीवी से कम है। पूंजीकरण, “हाँ प्रतिभूति ने कहा।


I-Sec 1,270 रुपये के लक्ष्य मूल्य के साथ IndiGo पर खरीद रखता है
मौजूदा फ्री कैश, कॉस्ट कटिंग के उपायों और 50 रुपये की अतिरिक्त तरलता उपलब्ध होने के आधार पर, इंटरग्लोब एविएशन (इंडिगो) कोविद -19 के प्रभाव को बनाए रखने के लिए बेहतर स्थिति में है। भारतीय हवाई यातायात की संभावना और प्रतिस्पर्धियों की कमजोर बाजार स्थिति। हम 20x कोर FY22 में Rs18bn की आय (पूर्व-निवेश आय) का मूल्य देते हैं और FY22 में Rs.130bn की अपेक्षित मुफ्त नकदी शेष जोड़ते हैं। हमारा लक्ष्य मूल्य रु .1,270 (है) अपरिवर्तित)। खरीद बनाए रखें, “आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने कहा।


सोने में तत्काल लाभ-बुकिंग: जियोजित
महामारी के बढ़ते मामलों और कमजोर अमेरिकी डॉलर के बीच सुरक्षित संपत्ति की बढ़ती मांग के कारण सोने का तेजी का रुख बरकरार रहेगा। केंद्रीय बैंकों से नई नीति में ढील देने और भू-राजनीतिक अनिश्चितताओं को कम करने की आशाओं ने भी पीली धातु की धारणा को समाप्त कर दिया। हालांकि, कमजोर शारीरिक मांग और रिकॉर्ड उच्च कीमतों के कारण तत्काल लाभ लेने से इंकार नहीं किया जा सकता है, ”जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड कमोडिटी रिसर्च हरेश वी।


राज्यों को सहायता के लिए कॉल करने के लिए जीएसटी पैनल
अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि जीएसटी परिषद यह तय कर सकती है कि अप्रत्यक्ष कर के कार्यान्वयन के कारण राज्यों को राजस्व नुकसान की भरपाई के लिए एक बाजार उधार तंत्र स्थापित किया जा सकता है या नहीं। राज्य कह रहे हैं कि यदि राजस्व में कमी आती है, तो उन्हें क्षतिपूर्ति के लिए परिषद द्वारा बाजार से धन उठाया जाना चाहिए। कर राजस्व पर कोविद -19 प्रभाव के कारण केंद्र ने वित्त वर्ष 21 के लिए ऐसा करने में असमर्थता व्यक्त की है।


पीएम ने ऋणदाताओं को बैंक योग्य परियोजनाओं को निधि देने के लिए कहा
पीएम नरेंद्र मोदी ने बुधवार को देश की शीर्ष उधारदाताओं से आग्रह किया कि वे अतीत में उत्पन्न गैर-संपत्तियों की अघोषित रूप से बैंक योग्य परियोजनाओं को निधि दें, और अधिकारियों को पूरी तरह से वापस करने का वादा किया। उन्होंने MSMEs, किसानों, सूक्ष्म-वित्त संस्थानों और गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों को ऋण देने के लिए बैंकरों को प्रेरित किया, जिन्हें दो महीने पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित पैकेज के दौरान विशेष जोर दिया गया था।


यस बैंक R-ADAG मुख्यालय का अधिग्रहण करता है
निजी ऋणदाता यस बैंक ने मुंबई में अनिल धीरूभाई अंबानी समूह के मुख्यालय रिलायंस सेंटर को अपने कब्जे में ले लिया है। निजी ऋणदाता ने कहा कि सांताक्रुज में 21,000 वर्ग फुट की इमारत का अधिग्रहण 22 जुलाई को हुआ था। बैंक ने अपने नोटिस में कहा कि वह रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 2,892 करोड़ रुपये के कर्ज के मुकाबले वसूली को प्रभावित कर रहा है।


अच्छे डिमांड आउटलुक में मारुति का हाथ हो सकता है
मारुति सुजुकी ने सूचीबद्ध कंपनी के रूप में अपना पहला नुकसान दर्ज किया, लेकिन यह स्ट्रीट के लिए कोई आश्चर्य की बात नहीं थी क्योंकि उत्पादन और बिक्री पिछले तिमाही के एक बड़े हिस्से के लिए पूरी तरह से रुक गए थे। अर्ध-शहरी और ग्रामीण बाजारों में मांग में सुधार पर प्रबंधन की टिप्पणी उत्साहजनक बनी हुई है। इसके उच्च मूल्यांकन को बनाए रखने के लिए शेयर को समर्थन देना चाहिए।


ब्रोकरेज अभी भी इंडसइंड बैंक में तेजी ला रहे हैं
ब्रोकरेज ने इंडसइंड बैंक पर भी तेजी का रुख बनाए रखा है, यहां तक ​​कि ऋणदाता ने जून तिमाही में समेकित शुद्ध लाभ में 510.3 करोड़ रुपये में 64.37% वर्ष-वर्ष की गिरावट दर्ज की है। ऋणदाता ने 524 रुपये में 3,288 करोड़ रुपये के शेयरों के अधिमान्य आवंटन की भी घोषणा की। एंटिक, सीएलएसए, एचएसबीसी, आईडीबीआई कैपिटल और मोतीलाल ओसवाल ने ‘खरीद’ रेटिंग बनाए रखी है, जबकि कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ने ‘ऐड’ रेटिंग बनाए रखी है।


पीबीओसी ने एशियन पेंट्स, अंबुजा सी ईमेंट्स पर दांव लगाया
ऐसे समय में जब भारतीय इक्विटी में चीनी निवेश क्रॉसहेयर में है, पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने पिछले वित्तीय वर्ष में एशियन पेंट्स और अंबुजा सीमेंट्स में क्रमश: 25% और 34.3% की वृद्धि की। चीनी केंद्रीय बैंक के पास एशियन पेंट्स में 30.9 लाख शेयर और अंबुजा सीमेंट्स में 62.8 लाख शेयर हैं या दोनों कंपनियों में से प्रत्येक में 0.32% हिस्सेदारी है, निफ्टी 50 कंपनियों की नवीनतम उपलब्ध वार्षिक रिपोर्ट में पता चला है।


RBI ने ऋण की पुनर्खरीद के विकल्प का वजन किया
ईटी ने रिपोर्ट में कहा कि आरबीआई कर्ज के एकमुश्त पुनर्गठन और पुनर्भुगतान अधिस्थगन का विस्तार करने के विकल्पों पर बहस कर रहा है, कोविद -19-प्रेरित लॉकडाउन के दर्द को दूर करने के लिए उद्योग को विभाजित किया गया है, ईटी ने बताया। जैसा कि देश अप्रैल और मई के गंभीर लॉकडाउन से धीरे-धीरे खुलता है, एक दृष्टिकोण है कि वित्तीय क्षेत्र और उद्योग को भी नए सामान्य को स्वीकार करना चाहिए और वर्तमान वातावरण के भीतर समाधान तलाशना चाहिए और अतीत की अनुचित प्रथाओं पर वापस नहीं आना चाहिए, उन्होंने कहा।


SGX निफ्टी सिग्नल टीपिड स्टार्ट
सिंगापुर एक्सचेंज का निफ्टी वायदा गुरुवार को 19 अंक या 0.17 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,215 अंक पर बंद हुआ।


कोविद -19 के मामले में तेल की कीमतों में गिरावट के कारण ईंधन की मांग में बढ़ोतरी हुई है
तेल की कीमतें गुरुवार को दुनिया भर में कोरोनोवायरस संक्रमण के बढ़ने के रूप में डूबीं, जिससे ईंधन की मांग में गिरावट का अंदेशा था कि अगस्त में उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रमुख तेल उत्पादकों के आने की संभावना है। यूएस वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) क्रूड वायदा 6 सेंट या 0.2% गिरकर 41.21 डॉलर प्रति बैरल पर 0130 जीएमटी पर आ गया, जबकि ब्रेंट क्रूड वायदा 7 सेंट, 0.2% भी 43.68 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया।


शुरुआती कारोबार में हांगकांग, मुख्य भूमि चीन के शेयरों में तेजी है
हांगकांग का हैंग सेंग सूचकांक 0.39 प्रतिशत या 96.10 अंक बढ़कर 24,979.24 अंक पर पहुंच गया। चीन का बेंचमार्क शंघाई कम्पोजिट सूचकांक 0.15 प्रतिशत या 5.02 अंक बढ़कर 3,299.57 पर बंद हुआ, जबकि चीन के दूसरे एक्सचेंज में शेन्ज़ेन कम्पोजिट सूचकांक 0.38 प्रतिशत या 8.47 अंक बढ़कर 2,245.43 अंक पर पहुंच गया।


जापान के शेयर ज्यादा खुले
टोक्यो स्टॉक ने गुरुवार को वॉल स्ट्रीट पर रैलियों का विस्तार किया, क्योंकि फेडरल रिजर्व ने फिर जोर देकर कहा कि यह लगभग शून्य दर और परिसंपत्ति खरीद की अपनी उच्च नीति को बनाए रखेगा। शुरुआती कारोबार में बेंचमार्क निक्केई 225 इंडेक्स 0.35 प्रतिशत या 77478 अंक बढ़कर 22,474.89 अंक पर था, जबकि ब्रॉड टॉपिक्स इंडेक्स 0.31 प्रतिशत या 4.84 अंक बढ़कर 1,553.88 अंक पर पहुंच गया।         


महावीर जैन


योगा सेंटर-जिम खोलने की दी अनुमति

बृजेश केसरवानी


लखनऊ। कोरोना के बढ़ते केस के बीच केंद्र सरकार ने देशभर में अनलॉक 3.0 के लिए दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। नई गाइडलाइन के मुताबिक, स्कूल कॉलेज, मेट्रो रेल सेवाएं, सिनेमाघर और बार 31 अगस्त तक बंद रहेंगे। राजनीतिक और धार्मिक समागम पर अभी रोक जारी रहेगी। हालांकि अनलॉक 3.0 में योगा सेंटर और जिम को 5 अगस्त से खोलने की अनुमति दे दी गई है। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय अलग से एसओपी जारी करेगा। अभी आधिकारिक गाइडलाइन नहीं आई है लेकिन राज्य सरकार इन संभावित शर्तों के साथ अनलॉक-3 का पालन करवाएगी।


यूपी पुलिस की फिर से हुई फजीहत

मिर्जापुर। उत्तर प्रदेश पुलिस की एक बार फिर से फजीहत हुई है। यूपी के मिर्जापुर में गंगा घाट पर चल रहे तलाशी अभियान को देख रहे शख्स को एक पुलिसकर्मी ने पैर पर ऐसी लात मारी कि वह सीधे नदी में गिर गया। मगर ये पूरी घटना कैमरे में कैद हो गई, जिसका वीडियो वायरल हो गया और एक बार फिर से यूपी पुलिस के आचरण और व्यवहार पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। इस घटना के बाद हुई फजीहत पर पुलिस विभाग ने एक्शन लिया है और इस मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। मिर्जापुर में विंध्याचल कोतवाली थाने के स्टेशन हाउस अधिकारी (एसएचओ) को शामिल करते हुए पुलिस विभाग को घटना की विभागीय जांच का आदेश देना पड़ा। आरोपी अधिकारी का नाम शेषधर पांडे बताया जा रहा है। 


हालांकि, पुलिस विभाग ने जांच के आदेश तब दिए जब बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बहुजन जागृति मंच सहित अन्य राजनीतिक मोर्चों ने इस घटना की खूब निंदा की।           


बुंदेलखंड को पर्यटन हब बनाने की मंशा

चित्रकूट। बुंदेलखंड को पर्यटन हब बनाने की सीएम योगी की मंशा के तहत 1.88 करोड़ रुपये से महर्षि वाल्मीकि आश्रम का कायाकल्प करने की आधारशिला रखी गई। संत-महंतों के साथ भूमि पूजन कर लोक निर्माण राज्यमंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने पहला फावड़ा चलाया। राज्यमंत्री ने कहा कि पर्यटन की अपार संभावनाओं को देखते हुए चित्रकूट के सभी धार्मिक स्थलों का विकास किया जाना है। इनमें चित्रकूट का प्रवेश द्वार वाल्मीकि आश्रम लालापुर प्रमुख है। इसके विकास की घोषणा मुख्यमंत्री स्वयं कर गए थे। आज उन्हें कार्य शुरू करने का सौभाग्य मिला है।


पर्यटन अधिकारी शक्ति ङ्क्षसह ने बताया कि आश्रम के विकास कार्यों के लिए वन विभाग कार्यदायी संस्था नामित है। इस मौके वाल्मीकि आश्रम के महंत भरतदास, महंत दिव्य जीवन दास, महंत मोहित दास, महंत रामजन्म दास, महंत महेंद्र दास, जिलाध्यक्ष भाजपा चंद्रप्रकाश खरे, सहकारी बैंक चेयरमैन बद्रीविशाल त्रिपाठी, प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश, एसडीओ आरके दीक्षित, पं. चंद्रदत्त पांडेय, विनोद मिश्र, प्रधान श्रलोक मिश्रा रहे।


यह होंगे कार्य 


सीढिय़ों का पुनर्निर्माण सीढिय़ों में टीन शेड बनेगी पेयजल के लिए पानी टंकी प्रकाश के लिए सोलर लाइट लगेगी वाल्मीकि आश्रम में टीनशेड निर्माण श्रद्धालुओं के बैठने के लिए स्टील।


महर्षि वाल्मीकि की तपोस्थली चित्रकूट-इलाहाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग में है। आश्रम के समीप से तमसा (वाल्मीकि नदी) बहती है। आश्रम की पूरी पहाड़ी पर अलंकृत स्तंभ और शीर्ष वाले प्रस्तर खंड बिखरे पड़े हैं, जो स्थल की प्राचीनता का बोध कराते हैं। यहां पर चंदेल कालीन आशांबरा देवी का मंदिर भी है। भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए संस्कृत विद्यालय भी है। कहा जाता है कि वाल्मीकि जी ने रामायण की रचना यहीं पर की थी। वनवास काल में भगवान श्रीराम यहीं पर महर्षि से चित्रकूट में रहने का आशीर्वाद लिया था।           


फसल-बागवानी के लिए नायाब काम

कानपुर। आईआईटी कानपुर ने फसलों और बागवानी के लिए नायाब काम किया है। आईआईटी कानपुर ने एक बीज विकसित किया है, जो कोरोना काल में काफी मददगार साबित हो सकता है। यही नहीं, इससे गड्ढा खोदने के झंझट से भी मुक्ति मिल जाएगी। बीज को आईआईटी कानपुर के इमेजनरी लैब ने एग्निस वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड (आईआईटी कानपुर के स्टार्ट-अप) के सहयोग से बनाया है। इमेजनरी लैब को आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों- प्रोफेसर जे रामकुमार और डॉ अमनदीप सिंह ने मिलकर बनाया है।आईआईटी कानपुर ने बीईईजी (बायोकम्पोस्ट समृद्ध इको-फ्रेंडली ग्लोबुले) नाम से स्वदेशी सीड बॉल को विकसित किया है। वैज्ञानिकों ने बताया कि मानसून के सीजन में इसे दूर से फेंका जा सकेगा। बारिश के संपर्क में आने पर यह बीज उर्वरक भी बन जाएगा। सीड बॉल में देशी किस्म के बीज, खाद और मिट्टी शामिल हैं। कोरोना के समय में इसके माध्यम से फिजिकल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए प्लांटेशन किया जा सकेगा। इससे गड्ढा खोदना और फिर उसमें पौधा लगाना आसान हो जाएगा। इसका एक बड़ा फायदा यह होगा कि प्लांटेशन के दौरान की जाने वाली तैयारियों में लगने वाला समय कम हो जाएगा। साथ ही इससे बड़ी संख्या में पेड़ लगाना भी संभव होगा। इसमें किसी पेड़ या वृक्ष के विकास के लिए जिन तत्वों की आवश्यकता होती है, वे प्रचुर मात्रा में मौजूद हैं।             


यूपी में तेजी से फैल रहा 'कोरोना'

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के साथ राजधानी लखनऊ में भी लगातार कोरोना के मरीज मिल रहे हैं। बुधवार को लखनऊ में कानून मंत्री बृजेश पाठक की पत्नी समेत 262 लोग पॉजिटिव मिले। इसके साथ लखनऊ के कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 7121 हो गई है। बुधवार को 32 लोग डिस्चार्ज हुए। लखनऊ में कोरोना से ठीक होकर घर लौटने वाले मरीजों का आंकड़ा 3100 पहुंच गया है।


मंत्री बृजेश पाठक की पत्नी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें होम आइसोलेशन में रखा गया है। परिवार के अन्य लोग भी क्वारैंटाइन हैं। जिले में बुधवार को इंदिरानगर में 19, आलमबाग में 16 और कृष्णानगर में 9 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। वहीं गोमती नगर में 19 और हजरतगंज में 16 पॉजिटिव मिले। महानगर में 10 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। विकासनगर में आठ लोग वायरस की चपेट में आए। हसन गंज में 14 लोगों में वायरस मिला। कैंट में 11 पॉजिटिव मिले। मड़ियांव, नाका, चिनहट, एलडीए कॉलोनी, चौक में 9-9 मरीज मिले।


ग्रामीण इलाकों में लगातार बढ़ रहा वायरस
राजधानी के शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण इलाकों में वायरस का दायरा बढ़ता जा रहा है। बुधवार को सरोजनी नगर में 14, इंटौजा, गुडंबा और बंथरा में एक-एक मरीज मिला। काकोरी में दो लोगों में संक्रमण मिला। मानक नगर में एक मरीज मिला। कैसर बाग में सात और तालकटोरा, बाजार खाला, जानकीपुरम, आशियाना व ठाकुर गंज में पांच मरीज मिले।             


भूमि-पूजन के लिए योगी को दिया न्योता

लखनऊ। अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन के लिए सिर्फ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को न्योता दिया गया है।यूपी के मुख्यमंत्री ही भूमिपूजन में शिरकत करेंगे।त्रबाकी किसी प्रदेश के सीएम को निमंत्रण नहीं दिया गया है। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 200 मेहमानों की लिस्ट तैयार की है। इसमें योगी आदित्यनाथ का नाम शामिल है। ट्रस्ट ने योगी के अलावा किसी मुख्यमंत्री को न बुलाने का फैसला किया है। ये तय हुआ है कि अगर मुख्यमंत्री को बुलाया, सभी को निमंत्रण भेजना पड़ सकता है। अब इस मुद्दे पर राजनीति तेज हो सकती है। क्योंकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भूमिपूजन में शिरकत करने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं। शिवसेना के संस्थापक बालासाहेब ठाकरे का राम मंदिर आंदोलन से लंबा रिश्ता रहा है। ऐसे में उद्धव ठाकरे की उम्मीदों को अब झटका लग सकता है।           


फेरबदल में कई जिलों के सीईओ हटाए

उत्तर प्रदेश में बड़े स्तर पर प्रशासनिक फेरबदल गोरखपुर समेत कई जिलों के सीडीओ हटाए गए


लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बुधवार रात 17 आईएएस और 15 सीनियर पीसीएस अधिकारियों का तबादला कर दिया है। महेंद्र कुमार को विशेष सचिव एपीसी ब्रांच, गजल भारद्वाज को सीडीओ रामपुर, अश्वनी पांडे को सीडीओ बलिया, अमित आसरी को सीडीओ चित्रकूट, अतुल वत्स को सीडीओ सुल्तानपुर, श्रीमती अंकुर लाठर को सीडीओ अमेठी बनाया गया है। इसके अलावा अन्नपूर्ण गर्ग को सीडीओ अम्बेडकरनगर, अमित पाल को विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा, विपिन जैन को सीडीओ प्रतापगढ़, कविता मीना को सीडीओ बहराइच, इंद्रजीत सिंह को सीडीओ गोरखपुर, मथूं कुमार स्वामी को विशेष सचिव ओद्योगिक विकास विभाग, गूराला श्री निवास लू को विशेष सचिव वित्त बनाया गया है। मनोज कुमार को निदेशक कृषि विपड़न एवं कृषि विदेश व्यापार, श्याम सुंदर शर्मा को सचिव पिछड़ा वर्ग आयोग, घनश्याम मीणा को सीडीओ कुशीनगर, अरविंद कुमार चौहान को विशेष सचिव समाज कल्याण की जिम्मेदारी दी गई है। पीसीएस अफसरों में मंजु लता को विशेष सचिव एपीसी ब्रांच, पूनम निगम को अपर आयुक्त झांसी मंडल, विश्राम को अपर जिलाधिकारी न्यायिक कौशांबी, नीता यादव को चीफ रेवेन्यू अफसर, अनिल कुमार सिंह को रजिस्ट्रार, अटल बिहारी बाजपेई चिकित्सा विश्विद्यालय, नरेंद्र सिंह द्वितीय को संयुक्त सचिव होम गार्ड विभाग बनाया गया है।


इसके अलावा अलका वर्मा को अपर आयुक्त लखनऊ मंडल, हरीओम शर्मा को अपर आयुक्त गोरखपुर मंडल, नागेंद्र कुमार सिंह को सिटी मजिस्ट्रेट बलिया, आनंद कुमार को विशेष सचिव चिकित्सा शिक्षा, अनूप श्रीवास्तव को विशेष सचिव दिव्यांग जन सशक्तिकरण विभाग, प्रभुनाथ को विशेष सचिव लोक निर्माण विभाग बनाया गया है।           


24 अगस्त को राज्यसभा का उपचुनाव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के सांसद बेनी प्रसाद वर्मा और केरल से राज्यसभा सदस्य एमपी वीरेंद्र कुमार के निधन के कारण रिक्त हुईं दो सीटों पर उपचुनाव 24 अगस्त को होंगे। इसके अलावा आंध्रप्रदेश विधान परिषद के सदस्य एम वी रमना राव के इस्तीफे से रिक्त सीट के लिए उपचुनाव भी 24 अगस्त को होंगे।


चुनाव आयोग ने गुरुवार को जारी विज्ञप्ति में कहा है कि इन दोनों सीटों के उपचुनाव के लिए छह अगस्त को अधिसूचना जारी की जाएगी जबकि 13 अगस्त को नामांकन पत्र दाखिल किए जाएंगे और नामांकन पत्रों की जांच 14 अगस्त को होगी। इसके बाद 17 अगस्त तक नामांकन पत्र वापस लिए जा सकेंगे। आंध्र प्रदेश विधान परिषद के उपचुनाव भी इसी कर्यक्रम के तहत होंगे। एम वी रमना राव ने एक जुलाई को इस्तीफा दिया था। उनका कार्यकाल 29 मार्च 2023 तक था। विज्ञप्ति के अनुसार उपचुनाव के लिए मतदान 24 अगस्त को होगा और मतगणना उसी दिन शाम 5:00 बजे शुरू होगी तथा चुनावी प्रक्रिया 26 अगस्त तक समाप्त हो जायेगी।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं राज्यसभा सदस्य बेनी प्रसाद वर्मा का इस वर्ष 27 मार्च को निधन हो गया था जबकि एमपी वीरेंद्र कुमार का निधन 28 मई को हो गया था । श्री वर्मा का कार्यकाल दो अप्रैल 2022 तक था जबकि श्री कुमार का कार्यकाल चार जुलाई 2022 तक था।           


सरकार ने दिल्ली वालों को दिया तोहफा

नई दिल्ली। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने गुरुवार को एक बड़ा फ़ैसला करते हुए राजधानी में डीज़ल पर लगने वाले अब तक की सबसे बड़ी कटौती की गई है।


केजरीवाल सरकार ने गुरुवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में यह बड़ा फैसला लिया है, जिससे राजधानी में डीज़ल 8.36 रुपए प्रति लीटर सस्ता हो गया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि दिल्ली की अर्थव्यवस्था को मजबूती देने और आम लोगों को महंगाई से बचाने के लिए सरकार ने यह कदम उठाया है। दिल्ली सरकार ने अपने इस फैसले में राज्य में डीज़ल पर लगने वाले 30% वैट को घटाकर 16.75% कर दिया है। अब दिल्ली में डीजल 73.64 रुपए प्रति लीटर होगा। फिलहाल, दिल्ली में डीजल 81.94 रुपए प्रति लीटर है। अगर इसी के साथ पेट्रोल के कीमत की बात करें तो राजधानी में 30 जुलाई, 2020 को 80.43 रुपए प्रति लीटर चल रहा है।       


जवानों पर राइफल्स ने किया हमला

नई दिल्ली। मणिपुर के चंदेल में म्यांमार बॉर्डर के पास असम राइफल्स के जवानों पर बड़ा हमला हुआ है। इस हमले में तीन जवान शहीद हो गए और पांच जवान घायल हो गए हैं। पहले आईईडी ब्लास्ट किया गया और फिर जवानों पर फायरिंग की गई. ये जवान म्यांमार बॉर्डर पर पेट्रोलिंग करने गए थे। 15 जवान रात में गश्त करने के बाद सुबह लौट रहे थे, उसी वक्त बॉर्डर के पार आईईडी ब्लास्ट किया गया। जवानों ने जब जवाबी कार्रवाई की, तो आतंकवादी भाग खड़े हुए. हालांकि किसी आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।             


राम मंदिर के पुजारी हुए कोरोना संक्रमित

संतलाल मौर्य


अयोध्या। उत्तर प्रदेश के अयोध्या से बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां राम मंदिरके भूमि पूजन की तैयारियों के बीच कोरोना ने दस्तक दे दी है। यहां साधु-संतों के साथ राम जन्म भूमि की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मियों के भी कोरोना संक्रमित होने की सूचना है। ताजा खबर ये है कि राम जन्मभूमि के पुजारी प्रदीप दास कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। वह प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास के शिष्य हैं। प्रदीप दास भी सत्येंद्र दास के साथ राम जन्मभूमि की पूजा करते हैं। बता दें कि राम जन्मभूमि में प्रधान पुजारी के साथ-साथ 4 पुजारी राम लला की सेवा करते हैं। अब कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद पुजारी प्रदीप दास को होम क्‍वारंटाइन कर दिया गया है। वहीं, राम जन्मभूमि की सुरक्षा में लगे 16 पुलिसकर्मी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जिसके बाद हड़कंप मचा हुआ है।


बता दें कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अयोध्या आगमन है। पीएम मोदी राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ देश के तमाम गणमान्य लोग भी उपस्थित रहेंगे। इस भूमि पूजन कार्यक्रम की भव्यता और प्रचार में राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा है। बता दें प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर अयोध्या में सुरक्षा कड़ी की गई है। आईडी प्रूफ देखकर ही अयोध्या धाम में लोगों को प्रवेश मिल रहा है। अयोध्या धाम को 7 जोन में बांटा गया है।इस दौरान सभी एंट्री प्वाइंट पर सघन चेकिंग चल रही है।


वहीं दूसरी तरफ राम मंदिर भूमि पूजन के लिए राम जन्मभूमि परिसर में पंडाल बनने का काम शुरू हो गया है। जानकारी के अनुसार 2 वाॅटरप्रूफ पंडाल बनाए जा रहे हैं। इसमें एक छोटा सा मंच भी बनेगा। मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ सीएम योगी, संघ प्रमुख मोहन भागवत, ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय होंगे। वहीं संस्कृति विभाग परिसर में अब प्रदर्शनी नहीं लगाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पंडाल में कुर्सियां लगाई जाएंगी।


आहः कंधे पर प्रेमी को बैठा कर घुमाया

कविता गर्ग


झाबुआ। जिले में एक बार फिर से प्रेम प्रसंग के चलते एक महिला को तालीबानी सजा दिए जाने का मामला सामने आया है।घटना का वीडियो सामने आए के बाद पुलिस ने मामले में पति सहित 7 लोगों पर केस दर्ज किया है। वीडियो में महिला पति को कंधे पर बिठाकर सड़क से जाती हुई दिखाई दे रही है। लोग महिला के साथ पीछे से मारपीट भी कर रहे हैं। महिला बार-बार दोबारा ऐसा नहीं करने की बात कहते हुए छोड़ देने की गुहार लगा रही है।


कोतवाली थाना प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि पारा चौकी क्षेत्र के छापरी रणवास गांव की घटना है। पति-पत्नी में विवाद केे बाद गांववालों ने महिला को ऐसी सजा दी थी। पुलिस ने महिला के बयान के आधार पर 7 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।


वहीं, लोगों से मिली जानकारी के अनुसार महिला अपने प्रेमी के साथ चली गई थी। महिला का पता चलने पर उसे गांव लाया गया। यहां महिला को पति को कंधे पर बिठाकर पूरे गांव के चक्कर लगाने की सजा सुनाई गई। महिला जब सजा भुगत रही थी तो साथ चल रहे लोग उसका वीडियो बना रहे थे। बता दें कि झाबुआ जिले में पहले भी इस प्रकार के मामले सामने आए हैं।


34 साल बाद शिक्षा नीति में किया बदलाव

कविता गर्ग


नई दिल्‍ली। कैबिनेट ने नई शिक्षा नीति को हरी झंडी दे दी है। 34 साल बाद शिक्षा नीति में बदलाव किया गया है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि ये नीति एक महत्वपूर्ण रास्ता प्रशस्‍त करेगी। ये नए भारत के निर्माण में मील का पत्थर साबित होगी। इस नीति पर देश के कोने कोने से राय ली गई है और इसमें सभी वर्गों के लोगों की राय को शामिल किया गया है। देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि इतने बडे़ स्तर पर सबकी राय ली गई है।


अहम बदलाव


नई शिक्षा नीति के तहत अब 5वीं तक के छात्रों को मातृ भाषा, स्थानीय भाषा और राष्ट्र भाषा में ही पढ़ाया जाएगा। बाकी विषय चाहे वो अंग्रेजी ही क्यों न हो, एक सब्जेक्ट के तौर पर पढ़ाया जाएगा। 9वींं से 12वींं क्लास तक सेमेस्टर में परीक्षा होगी. स्कूली शिक्षा को 5+3+3+4 फॉर्मूले के तहत पढ़ाया जाएगा। वहीं कॉलेज की डिग्री 3 और 4 साल की होगी। यानि कि ग्रेजुएशन के पहले साल पर सर्टिफिकेट, दूसरे साल पर डिप्‍लोमा, तीसरे साल में डिग्री मिलेगी। 3 साल की डिग्री उन छात्रों के लिए है जिन्हें हायर एजुकेशन नहीं लेना है। वहीं हायर एजुकेशन करने वाले छात्रों को 4 साल की डिग्री करनी होगी। 4 साल की डिग्री करने वाले स्‍टूडेंट्स एक साल में MA कर सकेंगे। अब स्‍टूडेंट्स को MPhil नहीं करना होगा। बल्कि MA के छात्र अब सीधे PHD कर सकेंगे।


इतने बड़े पैमाने पर जुटाई गई थी राय


इस शिक्षा नीति के लिए कितने बड़े स्तर पर रायशुमारी की गई थी, इसका अंदाजा इन आंकड़ों से सहज ही लगाया जा सकता है। इसके लिए 2.5 लाख ग्राम पंचायतों, 6,600 ब्लॉक्स, 676 जिलों से सलाह ली गई थी।


स्‍टूडेंट्स बीच में कर सकेंगे दूसरे कोर्स


हायर एजुकेशन में 2035 तक ग्रॉस एनरोलमेंट रेशियो 50 फीसदी हो जाएगा। वहीं नई शिक्षा नीति के तहत कोई छात्र एक कोर्स के बीच में अगर कोई दूसरा कोर्स करना चाहे तो पहले कोर्स से सीमित समय के लिए ब्रेक लेकर वो दूसरा कोर्स कर सकता है। हायर एजुकेशन में भी कई सुधार किए गए हैं। सुधारों में ग्रेडेड अकेडमिक, ऐडमिनिस्ट्रेटिव और फाइनेंशियल ऑटोनॉमी आदि शामिल हैं। इसके अलावा क्षेत्रीय भाषाओं में ई-कोर्स शुरू किए जाएंगे। वर्चुअल लैब्स विकसित किए जाएंगे. एक नैशनल एजुकेशनल साइंटफिक फोरम (NETF) शुरू किया जाएगा। बता दें कि देश में 45 हजार कॉलेज हैं।


सरकारी, निजी, डीम्‍ड सभी संस्‍थानों के लिए होंगे समान नियम


हायर एजुकेशन सेक्रटरी अमित खरे ने बताया, ‘ नए सुधारों में टेक्नॉलॉजी और ऑनलाइन एजुकेशन पर जोर दिया गया है। अभी हमारे यहां डीम्ड यूनविर्सिटी, सेंट्रल यूनिवर्सिटीज और स्टैंडअलोन इंस्टिट्यूशंस के लिए अलग-अलग नियम हैं। नई एजुकेशन पॉलिसी के तहत सभी के लिए नियम समान होंगे।


1,81,90,382 सैंपलों की कुल जांच हुई

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले रोज अपने ही रिकॉर्ड को ध्वस्त करते जा रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना के 53,123 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं। वहीं इस वैश्विक महामारी से कल 775 मरीजों की मौत हो गई।






मंत्रालय के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में अब तक कोरोना के 15,83,792 मामले हो चुके हैं। इनमें 10,20,582 मरीज या तो स्वस्थ हो चुके हैं या फिर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। कोरोना से होनी वाली मौत के आंकड़ों की बात करें तो अभी तक इस महामारी ने 34,968 लोगों की जान ले ली हैं। टेस्टिंग की बात करें तो भारत में 29 जुलाई यानी कल कोरोना के 4,46,642 सैंपल की कोरोना टेस्टिंग हुई। इसके साथ ही अभी तक देश में कोरोना के 1,81,90,382 सैंपल को कोविड टटेस्टिंग हो चुकी है।             


यूपी के विधायक हुए बेलगाम, थाने में धरना

लखनऊ। योगी सरकार में भाजपा के विधायकों की भी कोई नहीं सुन रहा है | उन्नाव के सदर से भाजपा विधायक पंकज गुप्ता अपने समर्थकों के साथ पुलिस पर बुजुर्ग पर मारपीट का आरोप लगाकर रातभर कोतवाली में धरने पर बैठे रहे। वह डीएम व एसपी को मौके पर बुलाए जाने के बात पर अड़े रहे और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। सुबह डीएम व एसपी ने शहर कोतवाली पहुंच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया तब मामला शांत हो सका।






शहर कोतवाली के आदर्शनगर में महिला थाने की सरकारी भूमि पर कब्जेदारी को लेकर मंगलवार को पुलिस ने चार नामित व तीस अज्ञात लोगों के विरुद्ध केस दर्ज किया गया था। अधिकारियों के आदेश पर पुलिस ने सात लोगों को पकड़ कर कोतवाली पहुंचा दिया। इसती जानकारी होते ही सदर विधायक पंकज गुप्ता समर्थकों के साथ कोतवाली पहुंच गए। विधायक का आरोप था कि पकड़े गए वृद्ध के साथ पुलिसकर्मियों से मारपीट की। विधायक ने कहा कि उन्नाव पुलिस निरंकुश हो चुकी है, परेशान होकर मजबूरन उन्हें धरने पर बैठना पड़ा। सीओ ने समझाने की कोशिश की लेकिन बात नहीं बनी। मामला बढ़ने पर विधायक व उनके कार्यकर्ताओं ने सीओ सिटी पर गंभीर आरोप लगा पूरी रात नारेबाजी करते हुए डीएम व एसपी को मौके पर बुलाए जाने की बात पर अड़े रहे।




विधायक ने कहा कि कार्यकर्ताओं व आम आदमी को वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस प्रताड़ित कर रही है। हाल ही में पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीकांत कटियार से भी पुलिस कर्मियों से अभद्रता की थी। उन्होंने कहा कि संभ्रांत लोगों के खिलाफ कार्रवाई और अपराधी सड़कों पर घूम रहे हैं। पूरे मामले को सीएम को बताएं और विधानसभा में प्रश्न भी उठाएंगे। मामला बढ़ने पर रात आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस शहर कोतवाली पहुंच गई। देर रात एएसपी उत्तरी विनोद कुमार पांडे ने कोतवाली पहुंच विधायक समेत कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया, मगर सभी डीएम और एसपी को मौके पर बुलाए जाने की मांग करते रहे। तड़के डीएम रविंद्र कुमार व एसपी रोहन पी कनय ने शहर कोतवाली पहुंच सदर विधायक से बातचीत और आश्वासन दिया कि जांच करवा कर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। डीएम व एसपी के आश्वासन दिए जाने के बाद मामला शांत हो गया और सभी कोतवाली से रवाना हो गए।            


यूपीः 17 आईएएस,15 पीसीएस के तबादले

लखनऊ । यूपी में आईएएस- पीसीएस के तबादले योगी सरकार ने किए हैं । कई जिलों के सीडीओ सरकार ने बदल दिए हैं ।


यह लिस्ट-17 आईएएस के हुए तबादले-महेंद्र कुमार विशेष सचिव एपीसी शाखा गजल भारद्वाज सीडीओ रामपुर अतुल वस्त्र सीडीओ सुल्तानपुर अश्विनी पांडेय सीडीओ बलिया अन्नपूर्णा गर्ग सीडीओ अम्बेडकर नगर श्रीमती अंकुर लाठर सीडीओ अमेठी विपिन जैन सीडीओ प्रतापगढ़ कविता मीणा सीडीओ बहराइच इंद्रजीत सिंह सीडीओ गोरखपुर घनश्याम मीणा सीडीओ कुशीनगर अमित पाल विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा मुथु कुमार स्वामी विशेष सचिव औद्योगिक विकास गुराला श्रीनिवास विशेष सचिव वित्त मनोज कुमार निदेश कृषि विपणन श्याम सुंदर शर्मा सचिव पिछड़ा वर्ग अरविंद चौहान विशेष सचिव समाज कल्याण अमित आसरी सीडीओ चित्रकूट


15 PCS के ट्रांसफर की लिस्ट- मंजू लता विशेष सचिव एपीसी शाखा पूनम निगम अपर आयुक्त झांसी मंडल विश्राम एडीएम न्यायिक कौशाम्बी नीता यादव सीआरओ बस्ती अनित सिंह रजिस्ट्रार अटल विश्वविद्यालय प्रभुनाथ विशेष सचिव पीडब्ल्यूडी श्रीवेंद्र सिंह अपर निबंधक सहकारिता
नरेंद्र सिंह संयुक्त सचिव होमगार्ड अलका वर्मा अपर आयुक्त लखनऊ मंडल हरिओम शर्मा अपर आयुक्त गोरखपुर मंडल
नागेंद्र कुमार सिंह सिटी मजिस्ट्रेट बलिया आनंद कुमार विशेष सचिव चिकित्सा शिक्षा अनूप श्रीवास्तव विशेष सचिव दिव्यांग कल्याण बद्रीनाथ सिंह विशेष सचिव राज्यपाल रमेश प्रसाद अपर आयुक्त झांसी मंडल।


9वीं सदी की शिव मूर्ति लंदन से वापस

नई दिल्ली। भगवान शिव की एक चोरी हुई मूर्ति जल्द ही भारत वापस लौटने वाली है। राजस्थान में चित्तौड़गढ़ जिले के घाटेश्वर मंदिर में ये शिव मूर्ति 1998 में चोरी हो गई थी, जो किसी तरह ब्रिटेन में रहने वाले एक शख्स के पास पहुंच गई थी। सदियों पुरानी ये ऐतिहासिक मूर्ति गुरुवार 30 जुलाई को ही भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के पास वापस आएगी।


तस्करी के बाद ब्रिटेन पहुंची मूर्ति


रिपोर्ट्स के मुताबिक, 9वीं सदी की ये मूर्ति नटेश शिव की है, जो चित्तौड़गढ़ के बरोली गांव में स्थित घाटेश्वर मंदिर में स्थापित थी। इस मूर्ति को फरवरी 1998 में मंदिर से चोरी कर लिया गया था। यहां से तस्करी के जरिए ये लंदन में एक निजी कलेक्टर के पास पहुंच गई थी। जानकारी के अनुसार, भारतीय एजेंसियों ने 2003 में ब्रिटिश अधिकारियों को इसके बारे में जानकारी दी थी और फिर 2005 में उस शख्स से इस मूर्ति को लौटाने के लिए बात की गई, जिसने स्वेच्छा से इसे लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग के हवाले कर दिया था।


2017 में हुई प्रामाणिकता की पुष्टि


ये मूर्ति उसके बाद से ही भारतीय उच्चायोग में रखी गई थी और 2017 में एएसआई अधिकारियों की जांच के बाद इसकी प्रामाणिकता की पुष्टि हुई थी। अब एक बार फिर ये मूर्ति भारत वापस आ रही है और एएसआई इसे अपने कब्जे में लेगा।


रिपोर्ट के मुताबिक, 1998 से पहले भी इस मूर्ति को मंदिर से चुराने की कोशिश की गई थी, लेकिन तब चोरों को सफलता नहीं मिल पाई थी। इस मूर्ति का एक हाथ और एक पैर टूट गया है। इससे पहले भी भारतीय संस्कृति और इतिहास से जुड़ी कई अहम वस्तुएं दुनिया के अलग-अलग देशों से भारत वापस लाई जा चुकी हैं।


सुरक्षा को लेकर सीएम की हाई लेवल मीटिंग

लखनऊ। अयोध्या में 5 अगस्त को होने जा रहे राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर तैयारियां जोरों शोरों से जारी हैं। अयोध्या में भूमि पूजन से पहले यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने सुरक्षा को लेकर बड़ी बैठक की है। सीएम ने पुलिस अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने के निर्देश भी दिए हैं।


सीएम ने अधिकारियों को भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर हर जिले में सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। भूमि पूजन कार्यक्रम और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे को देखते हुए सुरक्षा के पर्याप्त प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं। शरारती व असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगाह रखने के भी निर्देश दिए गए हैं। कार्यक्रम में करीब 200 लोगों के शामिल होने की उम्मीद है। ऐसे में पुलिस के सामने कोविड-19 के प्रोटोकॉल को सख्ती से पालन कराने की भी चुनौती होगी, ऐसे में सीएम योगी ने निर्देश दिए हैं कि कोरोना वायरस के प्रोटोकॉल को फॉलो करने में कोई भी ढीलाई ना बरती जाए।


गौरतलब है कि इस कार्यक्रम को लेकर केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने इनपुट दिया है कि आयोजन पर आतंकी साया मंडरा रहा है। इंटेलिजेंसी एजेंसीज का कहना है कि 5 अगस्त को होने वाले राम मंदिर शिलान्यास को लेकर आतंकी साजिश रची जा रही है। ऐसे में पूरे प्रदेश में भूमिपूजन यानि 5 अगस्त से लेकर स्वतंत्रता दिवस तक हाई अलर्ट घोषित किया गया है।केंद्रीय खुफिया एजेंसियों से मिले इनपुट के बाद सुरक्षा को लेकर उत्तर प्रदेश में व्यवस्था चाक चौबंद की जा रही है। इनपुट मिले हैं कि आतंकी 5 अगस्त से 15 अगस्त के बीच किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। ऐसे में सभी जिलों के महत्वपूर्ण स्थानों, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन पर सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं।


अरेस्ट सैकड़ों हत्याओं का दोषी, 'डॉक्टर डेथ'

राणा ओबरॉय


नई दिल्ली। देश में डॉक्टर डेथ के नाम से कुख्यात डॉक्टर देवेंद्र शर्मा आखिरकार पुलिस के हत्थे चढ़ गया | देश के मेडिकल इतिहास में उसके अपराध हमेशा पुलिस और पीड़ितों को याद रहेंगे | पुलिस की अपराध शाखा की नारकोटिक्स सेल ने इस दुर्दांत हत्यारे को बड़ी चालाकी से धर दबोचा | डॉ. देवेंद्र शर्मा की बुधवार देर रात बापरौला इलाके से गिरफ्तारी की पुष्टि भी हुई है। खुद डॉक्टर डेथ कई बार दावा करता है कि अब तक 100 से ज्यादा ट्रक ड्राइवरों और टैक्सी चालकों की हत्या कर चुका है | उसके मुताबिक उसने 100 कत्ल के बाद हत्याओं की गिनती करना छोड़ दिया है।


डॉक्टर डेथ ने हरियाणा में सीरियल किलर के रूप में कुख्याती अर्जित की है | उसे हरियाणा का सबसे बड़ा जल्लाद नाम से जाना जाता है | पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज है कि उसने कई राज्यों में फैले किडनी रैकेट के सरगना के रूप में काम किया था | रिकॉर्ड के मुताबिक अब तक वो करीब 125 लोगों की किडनी अवैध रूप से निकालकर ट्रांसप्लांट कर चुका है। यह शख्स राजस्थान की एक अदालत से पैरोल के बाद गायब हो गया था | जयपुर पुलिस को इसकी पैरोल जंपिंग मामले में तलाश थी।दिल्ली पुलिस में अपराध शाखा के डीसीपी डॉ. राकेश पावरिया के मुताबिक नारकोटिक्स सेल के इंस्पेक्टर राममनोहर की टीम ने उसे सुनियोजित रूप से धर दबोचा है |उनके मुताबिक हत्या में उम्रकैद काट रहा सीरियल किलर देवेंद्र कुमार शर्मा जनवरी 2020 में राजस्थान से पैरोल जंप कर नदारत हो गया था | उन्होंने बताया कि यह मुजरिम दिल्ली के बापरौला में भेष बदलकर रह रहा था। एक सूचना के बाद उसकी छानबीन में एसआई श्याम बिहारी सरन, हवलदार अशोक नागर, संजय, सिपाही सुमित व सुनील की टीम जुटी हुई थी | उन्होंने बताया कि 62 वर्षीय डॉ. देवेंद्र कुमार शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है। फ़िलहाल उससे पूछताछ की जा रही है | पुलिस के मुताबिक, यह मुजरिम एक विधवा महिला से शादी कर यहां छिपा था | उसने पुलिस को गुमराह करने की खूब कोशिश की। लेकिन दिल्ली पुलिस ने उसकी जब हकीकत जाहिर की तो उसने सच उगल दिया। उन्होंने बताया कि जयपुर पुलिस को इसकी सूचना दे दी गई है। जयपुर पुलिस इस सीरियल किलर की सुपुर्दगी के लिए दिल्ली पहुँच गई है |अपराध की दुनिया में डॉ. देवेंद्र शर्मा का नाम दुर्दांत अपराधियों की श्रेणी में है | वह बीएएमएस डिग्रीधारी है | लेकिन किडनी निकालने व ट्रांसप्लॉट करने की सर्जरी में उसका कोई मुकाबला नहीं |


बताया जाता है कि इस डॉक्टर ने कई ट्रक ड्राइवरों की हत्या कर उनके शव को कासगंज स्थित हजारा नहर में मगरमच्छों को खिला दिया | ताकि कोई सुबूत न मिले। यह उन लोगों की किडनियां निकाल लिया करता था | यही नहीं ड्राइवरों की गाड़ियों को वो दिल्ली के कासगंज बाजार में बेच देता था | कई गाड़ियों को उसने मेरठ के कबाड़ियों को बेचकर कटवा दिया था।


अंबानी के ऑफिस पर यस बैंक का कब्जा

मुंबई। कर्ज के जाल में फंसे रिलायंस ग्रुप के अनिल अंबानी को एक और झटका लगा है। दरअसल, निजी क्षेत्र के यस बैंक ने 2,892 करोड़ रुपये का बकाया कर्ज नहीं चुकाने की वजह से अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (ADAG) के सांताक्रूज मुख्यालय को अपने कब्जे में ले लिया है। आपको यहां बता दें कि अनिल धीरूभाई अंबानी समूह पिछले साल इसी मुख्यालय को पट्टे पर देना चाहता था ताकि वह कर्ज चुकाने के लिए संसाधन जुटा सके। यह मुख्यालय 21,432 वर्ग मीटर में है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक यस बैंक ने रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर द्वारा बकाये का भुगतान नहीं करने के चलते दक्षिण मुंबई के दो फ्लैटों का कब्जा भी अपने हाथ में ले लिया है। दो अन्य संपत्तियां दक्षिण मुंबई के नागिन महल में हैं। ये दोनों फ्लैट क्रमश: 1,717 वर्ग फुट और 4,936 वर्ग फुट के हैं। इस तरह, यस बैंक के कब्जे में रिलायंस ग्रुप की तीन संपत्तियां आ गई हैं।


आपको यहां बता दें कि अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (एडीएजी) की लगभग सभी कंपनियां सांताक्रूज कार्यालय ‘रिलायंस सेंटर’ से परिचालन कर रही हैं। हालांकि, पिछले कुछ साल के दौरान समूह की कंपनियों की वित्तीय स्थिति काफी खराब हो गई है। कुछ कंपनियां दिवालिया हो गई हैं, जबकि कुछ को अपनी हिस्सेदारी बेचनी पड़ी है। यस बैंक ने कहा कि उसने छह मई को रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर को 2,892.44 करोड़ रुपये का बकाया चुकाने का नोटिस दिया था। 60 दिन के नोटिस के बावजूद समूह बकाया नहीं चुका पाया। इसके बाद 22 जुलाई को हमने रिलायंस समूह की तीनों संपत्तियों का कब्जा ले लिया। बैंक ने आम जनता को आगाह किया है कि वह इन संपत्तियों को लेकर किसी तरह का लेनदेन नहीं करें।


यस बैंक के डूबे कर्ज की एक बड़ी वजह एडीएजी समूह की कंपनियों को दिया गया कर्ज है। नॉन परफॉर्मिंग एसेट (एनपीए) के ऊंचे स्तर की वजह से भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ ने बैंक में 10,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालकर उसे संकट से बाहर निकाला है। बैंक के लिए राहत पैकेज से पहले सरकार और रिजर्व बैंक ने मार्च में यस बैंक के निदेशक मंडल को भंग कर दिया था। साथ ही बैंक के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) और निदेशक मंडल की नियुक्ति की थी।


पुलिसः यूपी में बेखौफ हुई अराजकता

कानपुर। औरैया जनपद के थाना दिबियापुर कस्बे में उस समय सनसनी फैल गई जब देर शाम 9:00 बजे के करीब ग्रीन वैली स्कूल के पास एक न्यूज़ चैनल आपरेशनल हेड व ऑल इंडियन रिपोर्टर्स एसोसिएशन के मण्डल संगठन मंत्री पत्रकार प्रशान्त कुमार पुत्र मनोज कुमार निवासी नेहरू नगर दिवियापुर को तीन अज्ञात बदमाशों ने उनकी ही कार में अगवा कर बंधक बना लिया।अपहृत पत्रकार प्रशांत कुमार ने औरैया पुलिस को बताया कि वह अपना कामकाज निपटाने के बाद घर जा रहे थे तभी ग्रीन वैली स्कूल के पास एक मोटरसाइकिल पर सवार तीन लोगों ने उन से औरैया जाने का रास्ता पूछा और इसी बीच उन बदमाशों ने कट्टे के बल पर उनको गाड़ी में ही बंधक बना लिया और इधर उधर भटकाने के बाद आँखों मे पट्टी बांधकर अज्ञात रास्ते होते हुए बदमाश कही ले गये प्रशान्त कुमार को उक्त तीनों बदमाश  गाड़ी में बराबर मारपीट करते रहे तथा बदमाशो ने जान से मारने का भी प्रयास किया रसूलाबाद थाना क्षेत्र के वैरगरा गाँव से आगे जंगल में वह पेशाब करने के बहाने से गाड़ी से उतरा इसके बाद उक्त बदमाशों ने उसे जंगल में जान से मारने का प्रयास किया तो कट्टा फायर ना कर सका और मिस हो गया और गुस्साए बदमाश उसके साथ मारपीट कर उनकी नई सफेद रंग की हुंडई औरा कार ,नगदी दो मोबाइल , बेग व अन्य सामान लेकर फरार हो गए जंगल मे दूर दिख रही रोशनी की तरफ चलते चलते रात्रि वह वेरगरा ग्राम पहुंचा जहां पर ग्रामीणों को घटना की जानकारी देते हुए मोबाइल से बात कराने का निवेदन किया जहां के ग्रामीणों ने उसे मोबाइल देकर एसपी औरैया तथा संबंधित थाना प्रभारी को घटना की सूचना देते हुए डायल 112 पर सूचित किया मौके पर पहुंची थाना रसूलाबाद पुलिस व औरैया दिबियापुर पुलिस ने देर रात्रि तक घटना की छानबीन करने में जुटे रहे। वहीं घटना के बाबत अपरपुलिस अधीक्षक औरैया कमलेश दीक्षित ने बताया पत्रकार के साथ हुई घटना के मामले को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस जांच में करने में जुटी हुई है कि अपहृत रसूलाबाद- कैसे कैसे पहुचा उन बिंदुओं की गहनता से पुलिस जांच कर रही व फिलहाल पुलिस घटना के हर बिंदुओ की गहनता से जांच करने में जुटी हुई है।             


तंगी के कारण दंपत्ति ने की आत्महत्या

बिलासपुर। लॉकडाउन के चलते लोग आर्थिक रूप से पूरी तरह टूट चुके हैं ।नतीजतन उनके समक्ष आत्महत्या ही एकमात्र उपाय रह गया है। इस तरह की घटनाएं थमती नहीं दिख रही। आज फिर तोरवा थाना क्षेत्र के दोमुहानी में ऐसे ही एक पति पत्नी ने फांसी लगाकर जान दे दी। सुबह लड़के के पिता ने बार बार फोन लगाया लेकिन किसी ने फोन रिसीव नहीं किया जिसके बाद पड़ोसियों ने घर जाकर देखा तो पति पत्नी दोनों फांसी पर लटक रहे थे। खास बात यह है कि इन दोनों ने अभी पांच छह माह पहले ही प्रेम विवाह किया था। अमन साहू और श्रुति के बीच प्रेम संबंध था लेकिन दोनों की जाति अलग-अलग थी। इस कारण से दोनों ही के अभिभावक इस शादी से खुश नहीं थे।
लिहाजा अमन साहू के पिता ने दोनों को अपने घर से अलग दोमुहानी में दूसरा घर दे दिया था, जहां यह दोनों रह रहे थे ।इस बीच लॉक डाउन लग जाने के कारण दोनों आर्थिक तंगी का भी शिकार थे, तो वही बताया जा रहा है कि 1 दिन पहले बलात्कार के आरोप में पकड़े गए वीरेंद्र देवांगन को भी अमन साहू ने अपने घर पर पनाह दिया था। हो सकता है कि अमन और श्रुति को इस बात का डर था कि वीरेंद्र देवांगन के पकड़े जाने के बाद उसे अपने घर में पनाह देने के जुर्म में पुलिस उन्हें भी गिरफ्तार कर सकती है। दरअसल वीरेंद्र, अमन साहू का मित्र था इसीलिए शायद अंजाने में ही इन्होंने उसे घर में पनाह दिया था। वही आसपास के लोगों का मानना है कि अमन साहू ने जिस श्रुति के साथ शादी की थी वह भी नाबालिग थी , यहां तक कि दोनों ने औपचारिक रूप से विवाह किया भी नहीं था।शायद दोनों में इस बात का भी डर रहा हो। कुल मिलाकर श्रुति और अमन की खुदकुशी के पीछे कई वजह हो सकती है, जिसे पता लगाने की कोशिश तोरवा पुलिस कर रही है। हालांकि दोनों ने अपने पीछे कोई सुसाइड नोट नहीं छोड़ा है और ना ही उनके अभिभावक ही इनकी जिंदगी में खास दखल रखते हैं, जिससे कि उनसे कुछ जाना जा सके। बताया जा रहा है अमन और श्रुति दोनों की ही मां नहीं है और पिता भी इनकी परवाह नहीं करते थे। इनका अड़ोस पड़ोस के लोगों से भी खास मेल मुलाकात नहीं थी। इस कारण से अमन और श्रुति को लेकर बहुत जानकारी पुलिस के पास भी नहीं है, लेकिन माना जा रहा है कि जिस तरह लॉकडाउन के दौरान लोग आर्थिक रूप से परेशान हो रहे हैं अमन और श्रुति भी परिवार से सहयोग न मिलने के बाद इसी संकट का शिकार हुए हो, जिसके चलते उन्हें इस तरह मौत को गले लगाना पड़ा है। वैसे अमन साहू और श्रुति दोनों ही कम उम्र के थे जिन्होंने प्रेम विवाह किया था, यह सोचे बगैर कि गृहस्थी की गाड़ी कैसे चलेगी। यह उन सभी के लिए सबक है जो प्रेम पाश में फंस कर भविष्य की चिंता किये बगैर ऐसा कदम उठाते है और जिसकी परिणति इसी तरह की होती है।


भारत में अब केवल 12वीं कक्षा बोर्ड हैं

10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास 


अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने 34 साल बाद शिक्षा नीति में बदलाव करते हुए नई शिक्षा नीति-2020 जारी कर दी है।नई शिक्षा नीति के अनुसार देश में अब 12वींं में ही बोर्ड की परीक्षा होगी। वहीं पहले 10वी बोर्ड की परीक्षा देना अनिवार्य होता था। अब स्कूली शिक्षा में 5+3+3+4 फॉर्मूले चलेगे, इसकेअनुसार ही 9वींं से 12वींं क्लास तक सेमेस्टर में परीक्षा होगी और पढ़ाया जाएगा। दुसरी ओर कॉलेजों की डिग्रियों में भी बदलाव किया है। अब कॉलेज की डिग्री 3 और 4 साल की होगी, मतलब कि स्नातक के पहले साल में सर्टिफिकेट, दूसरे साल में डिप्‍लोमा और तीसरे साल में डिग्री मिलेगी। जिन छात्रों को उच्च शिक्षा में नहीं जाना है उनको 3 साल में डिग्री मिल जाएगी। लेकिन ​उच्च शिक्षा में जाने वाले छात्रों को 4 साल की डिग्री करनी होगी। इस प्रणाली में 4 साल वाले छात्रों को एक साल में एमए की डिग्री मिल सकेगी। दुसरी ओर उच्च शिक्षा में भी अब दसवीं बोर्ड की तरह एमफिल को खत्म कर दिया है और एमए के छात्र अब सीधे ही पीएचडी कर सकेंगे। 


देश में 5वीं तक अंग्रेजी माध्यम खत्म
नई शिक्षा नीति 2020 के निर्णय अनुसार अब 5वीं तक के छात्रों को मातृ भाषा, स्थानीय भाषा और राष्ट्र भाषा में ही पढ़ाया जाएगा। शेष विषयों में अंग्रेजी ही क्यों न हो। ऐसी स्थिति में एक विषय के अनुसार हि पढ़ाया जाएगा।


अब इस तरह का होगा 10+2 का नया कोर्स
नई शिक्षा नीति के अनुसार 10+2 के कोर्स को पूरी तरह खत्म कर दिया गया है। अब इसे 10+2 से खत्म कर 5+3+3+4 सांचे में ढाल दिया गया है। देश में अब स्कूल के पहले पांच साल में प्री-प्राइमरी स्कूल के तीन साल और कक्षा एक और कक्षा 2 सहित फाउंडेशन स्टेज शामिल होंगे। वहीं अगले तीन साल को कक्षा 3 से 5 की तैयारी में विभाजित किया जाएगा। फिर तीन साल मध्य चरण मतलब कक्षा 6 से 8 और माध्यमिक अवस्था के चार वर्ष यानि कक्षा 9 से 12। स्कूलों में कला, वाणिज्य, विज्ञान स्ट्रीम का कोई कठोर पालन नहीं होगा। छात्र अपनी ईच्छा के अनुसार अब जो भी पाठ्यक्रम चाहें, ले सकते हैं।             


सेना पर हमला, 3 जवान शहीद 6 घायल

चंदेल। मणिपुर में सेना के जवानों पर घात लगाकर हमला किया गया है। इस हमले में सेना के तीन जवान शहीद हो गए, जबकि 6 जवान घायल हो गए हैं। घटना बुधवार रात करीब सवा एक बजे राजधानी इंफाल से करीब 95 किलोमीटर की दूरी पर चंदेल जिले में हुई। यह पहाड़ी इलाका है। भारत-म्यांमार सीमा पर उग्रवादी समूहों के खिलाफ ऑपरेशन के दौरान 4 असम राइफल्स के तीन जवान शहीद हो गए। जवानों पर घात लगाकर उग्रवादियों ने हमला बोला था। इस हमले में 6 जवान घायल हो गए हैं, जिन्हें इंफाल पश्चिम जिले के मिलिट्री अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


सूत्रों का कहना है कि मणिपुर के स्थानीय उग्रवादी समूह पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने हमले को अंजाम दिया है। सेना की ओर से उग्रवादियों की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इसके साथ ही भारत-म्यांमार सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है। पिछले साल नवंबर में चंदेल जिले में ही असम राइफल्स के कैंप पर उग्रवादियों ने हमला किया था। उग्रवादियों ने सैन्य कैंप में बम फेंके थे। इसके बाद दोनों ओर से गोलीबारी हुई थी। इसके बाद उग्रवादी नजदीक की पहाड़ी में भाग गए थे। इस हमले में सेना का कोई भी जवान हताहत नहीं हुआ था।


नाबालिग बहनों से रेप, वीडियो भी बनाया

बलौदाबाजार। दो नाबालिग बहनों से गैंगरेप का मामला सामने आया है। 11 लोगों ने इस गैंगरेप को अंजाम दिया है। आरोपियों ने इस घटना का वीडियो बनाकर दो बहनों को ब्लैकमेल भी कर रहे थे।


केसला गांव में ये घटना डेढ़ माह पहले की बताई जा रही है। दोनों बहनें अपने पुरुष मित्र से मिलने गई थी। तभी आरोपियों ने दोनों बहनों से इस घिनौनी हरकत को अंजाम दिया। आरोपियों ने इस गैंगरेप का वीडियो भी बनाया था। लगाातार धमकी मिलने के बाद दोनों नाबालिग बहनों ने अपने परिजनों को आपबीती बताई। सभी आरोपी गांव के ही रहने वाले हैं।              


कट्टरपंथियों ने निंदक की अदालत में हत्या की

पेशावर। ईशनिंदा के मामले की सुनवाई से पूर्व ही अदालत के भीतर घुसकर कट्टरपंथियों ने एक अमेरिकी नागरिक की हत्या कर दी | यह नागरिक जाने अनजाने में ईशनिंदा का आरोप झेल रहा था | लेकिन अपनी टिप्पणी पर उसने माफ़ी भी मांग ली थी | बावजूद इसके करीब 2 साल से वो जेल में कैद था | पाकिस्तान के पेशावर में ईशनिंदा के इस आरोपी को एक कट्टरपंथी व्यक्ति ने उस वक़्त अदालत में घुसकर गोली मार दी, जब उसे सुनवाई के लिए लाया गया था | मारा गया अमेरिकी नागरिक भी मुस्लिम ही है | बताया जाता है कि भरी अदालत में हमलवारों ने 6 गोलियां दागकर ताहिर नसीम नामक इस व्यक्ति की हत्या कर दी | ताहिर नसीम अहमदी समुदाय से ताल्लुक रखता था. इस घटना से अदालत भी हैरान है | उधर अदालत में हुई इस हत्या के बाद अमेरिका ने भी इस घटना की निंदा की है | उसने पाक सरकार से तुरंत एक्शन लेने को कहा है |





जानकारी के मुताबिक ताहिर नसीम को दो साल पहले पेशावर में ही ईशनिंदा के आरोप में गिरफ्तार किया गया था | आरोप है कि उन्होंने पैगंबर मोहम्मद पर अभ्रद टिप्पणी की थी | बुधवार को पेशावर की एक अदालत में जब इस मामले की सुनवाई चल रही थी, तभी कुछ हमलावर आये और उन्होंने जज के सामने ही ताहिर पर लगातार फायरिंग शुरू कर दी | बताया जाता है कि इस हमले में ताहिर को 6 गोली लगीं, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई | जानकारी के मुताबिक ताहिर के खिलाफ पुलिस ने वर्ष 2018 में कट्टरपंथियों के दबाव में मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया था | उस पर जो धाराएं लगाई गई थीं उसमें अधिकतम सजा का प्रावधान है | ईशनिंदा के आरोपी को पाकिस्तान में फांसी की सजा का चलन है |            


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)


 जुलाई 31, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-351 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, जुलाई-31, 2020
3. शक-1943, श्रावण,शुक्ल-पक्ष, तिथि- एकादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:20,सूर्यास्त 07:18।


5. न्‍यूनतम तापमान 22+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.। भारी बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                   


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...