शनिवार, 9 सितंबर 2023

समस्त थानों पर थाना समाधान दिवस का आयोजन

समस्त थानों पर थाना समाधान दिवस का आयोजन 

संदीप मिश्र 
मिर्जापुर। शनिवार को शासन के निर्देशानुसार (प्रत्येक माह के द्वितीय व चतुर्थ शनिवार) जनता की समस्याओं को सुनकर उनके त्वरित निस्तारण हेतु जनपद के समस्त थानों पर थाना समाधान दिवस का आयोजन किया गया।
उक्त अवसर पर डीआईजी विन्ध्याचल परिक्षेत्र आर.पी. सिंह द्वारा अपर पुलिस अधीक्षक नगर व अपर जिलाधिकारी के साथ थाना चील्ह पर, एसपी मिर्जापुर अभिनन्दन सिंह द्वारा अपर पुलिस अधीक्षक ऑपरेशन व उपजिलाधिकारी के साथ थाना चुनार पर उपस्थित रहकर आने वाले आमजन की शिकायतें सुनकर निस्तारण हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया गया।
इसी क्रम में थाना समाधान दिवस के अवसर पर अपर पुलिस अधीक्षक नगर, अपर जिलाधिकारी व तहसीलदार द्वारा थाना कोतवाली शहर पर, अपर जिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी नगर द्वारा कोतवाली कटरा पर, अपर जिलाधिकारी द्वारा थाना कोतवाली देहात पर, क्षेत्राधिकारी सदर द्वारा थाना कछवां पर, तहसीलदार द्वारा थाना लालगंज पर, नायब तहसीलदार द्वारा थाना हलिया पर, उपजिलाधिकारी द्वारा थाना जिगना व सन्तनगर पर, क्षेत्राधिकारी लालगंज व उपजिलाधिकारी द्वारा थाना ड्रमण्डगंज पर, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व उपजिलाधिकारी द्वारा थाना अदलहाट पर, उपजिलाधिकारी द्वारा थाना जमालपुर पर, क्षेत्राधिकारी ऑपरेशन व तहसीलदार द्वारा थाना अहरौरा पर, उपजिलाधिकारी द्वारा थाना मड़िहान पर, नायब तहसीलदार द्वारा थाना राजगढ़ पर सम्बन्धित थानों के प्रभारी निरीक्षक/थानाध्यक्षों व राजस्व विभाग के अऩ्य अधिकारी एवं कर्मचारीयों के साथ थाने पर आने वाले आमजन की समस्याएं सुनकर मौके पर निस्तारण कराया गया तथा शेष मामलों के निस्तारण हेतु राजस्व एवं पुलिस विभाग की संयुक्त टीम को मौके पर रवाना किया गया।

प्राप्त प्रार्थना पत्रों में कुछ का निस्तारण, कुछ में निस्तारण हेतु जिम्मेदारों को दिए निर्देश

थाना कोतवाली शहर पर 5 प्रार्थना पत्र प्राप्त 3 निस्तारित, थाना कोतवाली कटरा पर 3 प्रार्थना पत्र प्राप्त 2 निस्तारित, थाना विन्ध्याचल पर 9 प्रार्थना पत्र प्राप्त 1 निस्तारित, थाना कोतवाली देहात पर 24 प्रार्थना पत्र प्राप्त, थाना चील्ह पर 7 प्रार्थना पत्र प्राप्त, थाना कछवां पर 17 प्रार्थना पत्र प्राप्त 5 निस्तारित, थाना पड़री पर 5 प्रार्थना पत्र प्राप्त 1 निस्तारित, थाना लालगंज पर 17 प्रार्थना पत्र प्राप्त 6 निस्तारित, थाना हलिया पर 8 प्रार्थना पत्र प्राप्त 3 निस्तारित, थाना जिगना पर 12 प्रार्थना पत्र प्राप्त 3 निस्तारित, थाना ड्रमण्डगंज पर 7 प्रार्थना पत्र प्राप्त 2 निस्तारित, थाना सन्तनगर 7 प्रार्थना पत्र प्राप्त 4 निस्तारित, थाना चुनार पर 3 प्रार्थना पत्र प्राप्त 1 निस्तारित, थाना अदलहाट पर 5 प्रार्थना पत्र प्राप्त 3 निस्तारित, थाना जमालपुर पर 6 प्रार्थना पत्र प्राप्त 1 निस्तारित, थाना अहरौरा पर 7 प्रार्थना पत्र प्राप्त 3 निस्तारित, थाना मड़िहान पर 1 प्रार्थना पत्र प्राप्त, थाना राजगढ़ पर 5 प्रार्थना पत्र 1 निस्तारित तथा शेष मामलों के निस्तारण हेतु राजस्व एवं पुलिस विभाग की संयुक्त टीम को रवाना किया गया।

पुरानी रंजिश को लेकर दो पक्षों में मारपीट, 2 घायल

पुरानी रंजिश को लेकर दो पक्षों में मारपीट, 2 घायल 

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। प्रयागराज के यमुनानगर के कौंधियारा थाना क्षेत्र के अतरी खुर्द गांव में पुरानी रंजिश को लेकर शनिवार को दो पक्षों में मारपीट हो गई। इसी दौरान गोली चलने से दो युवक घायल हो गए। गोली युवकों की जांघ में लगी है। उन्हें स्थानीय चिकित्सालय ले जाया गया, जहां हालत नाजुक देख उन्हें एसआरएन अस्पताल रेफर कर दिया गया है। मौके पर पहुंची पुलिस ने बंदूक को कब्जे में ले लिया है।
कौंधियारा थाना क्षेत्र के अतरी खुर्द गांव में पुरानी रंजिश को लेकर संतोष नाम के युवक ने गांव के ही दिनेश और मनीष को गोली मार दी। घटना शनिवार को दोपहर में हुई कहासुनी के दौरान विवाद बढ़ गया। सूचना पाकर पुलिस पहुंच गई। गोली मारने वाला आरोपी फरार हो गया। उसकी लाइसेंसी बंदूक को पुलिस ने कब्जे में ले लिया है। घायलों को उपचार के लिए एसआरएन अस्पताल भेजवाया गया है।

पीएम ने जी20 शिखर सम्मेलन को संबोधित किया

पीएम ने जी20 शिखर सम्मेलन को संबोधित किया 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि जी20 महिलाओं के सशक्तीकरण में बड़ी भूमिका निभा सकता है। उन्होंने जी20 शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए इस बात का भी उल्लेख किया कि मानव को सशक्त बनाने और पृथ्वी को अधिक समावेशी एवं टिकाऊ बनाने पर कैसे सामूहिक रूप से विचार किया जा सकता है।
उन्होंने भारतीय नागरिकों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए भारत द्वारा प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल किए जाने का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री मोदी ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया कि शिखर सम्मेलन के "एक कुटुंब" सत्र में उन्होंने युवाओं के विकास को आगे बढ़ाने और कौशल विकास पर ध्यान केंद्रित करने के तरीकों पर जोर दिया। 
उन्होंने कहा, ‘‘इस बात पर भी प्रकाश डाला गया कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला जैसे क्षेत्रों में विश्वास और पारदर्शिता की भावना कैसे बढ़ाई जाए।
भारत समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को आगे बढ़ाने के लिए भी प्रतिबद्ध है। जी20 महिलाओं के सशक्तीकरण को आगे बढ़ाने में भी बड़ी भूमिका निभा सकता है।’’ प्रधानमंत्री का कहना है, ‘‘जी20 शिखर सम्मेलन के ‘एक कुटुंब’ सत्र में मानव को सशक्त बनाने और हमारे ग्रह को अधिक समावेशी और साथ ही टिकाऊ बनाने के बारे में सामूहिक रूप से कैसे सोचा जाए, इस पर विस्तार से चर्चा की गई।’
’ उन्होंने कहा, ‘‘इस बात का उदाहरण दिया गया कि कैसे हमारे नागरिकों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाया गया है।

बड़ी पतंग के साथ उड़ा मासूम, लाख-लाख बचा

बड़ी पतंग के साथ उड़ा मासूम, लाख-लाख बचा 

सरस्वती उपाध्याय 
छोटे बच्चों के साथ कभी-कभी ऐसा कुछ हो जाता है, जिसके बारे में उनके पेरेंट्स ने भी नहीं सोचा होता है। इसी वजह से छोटे बच्चों के पेरेंट्स को हर वक्त बहुत ध्यान रखना होता है, जिससे उनके बच्चे के साथ कोई दुर्घटना न हो जाए। 
इन दिनों छोटे बच्चे का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसे देखकर हर किसी का दिल दहल जाएगा। 
वायरल हो रहे इस वीडियो में हवा में उड़ते एक बच्चे को देखा गया। ये बच्चा अपने पेरेंट्स के साथ पतंगबाजी देखने गया हुआ था। लेकिन उसे क्या पता था कि आगे उसके साथ क्या होने वाला है। बच्चे के पेरेंट्स भी बिजी हो गए। जहां उनकी नजर थोड़ी सी हटी, वहीं एक बड़ा हादसा हो गया। वीडियो में आप देख सकते हैं एक बड़ी सी पतंग के साथ बच्चा हवा में उड़ गया। इसे देखते ही वहां मौजूद सभी लोगों के बीच चीख-पुकार मच गई। 
वहीं वायरल हो रह वीडियो को वहां मौजूद एक टूरिस्ट ने अपने कैमरे में कैद कर लिया। वीडियो को बड़ी पतंगों को कैद करने के लिए बनाया गया था, लेकिन इसमें कैद कुछ और ही हो गया। पिंक रंग की एक बड़ी सी पतंग की पूंछ को नीचे एक बच्चे ने पकड़ रखा था। किसी ने इस बात का ध्यान नहीं रखा। पतंग को हवा में उड़ा दिया गया। इसके साथ ही बच्चा भी हवा में उड़ गया। हवा में पतंग इधर से उधर अठखेलियां करने लगा। पतंग के साथ बच्चा भी हवा में स्पिन करने लगा। 
वहीं गनीमत ये रही कि बच्चे ने पतंग की पूंछ को काफी मजबूती से पकड़ रखा था। वो हवा में जिस तरह से स्पिन कर रहा था, अगर नीचे गिरता तो उसकी मौत निश्चित थी। हवा में उड़ते बच्चे को देखकर नीचे चीख-पुकार मच गई। लोग बच्चे की सलामती की दुआ मांगने लगे। वो तो शुक्र है कि हवा ने थोड़ी देर बाद अपनी गति काम कर दी। थोड़ी देर तक हवा में अठखेलियां करने के बाद बच्चा अपने आप ही नीचे आ गया।

चाय में गिर जाएं मक्खी, बिल्कुल ना पिएं

चाय में गिर जाएं मक्खी, बिल्कुल ना पिएं 

सरस्वती उपाध्याय 
मक्खी के साथ कुछ खतरनाक बैक्टीरिया भी हो सकते हैं, जो आपका पेट खराब कर सकते हैं। इसे फूड पॉइजनिंग कहते हैं, जिसके अंजाम बुरे हो सकते हैं।

दूध में मक्खी गिरना
कई बार दूध, चाय या किसी खाने में मक्खी गिरना आम बात है। कई लोग ऐसे खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थ को फेंक देते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके बारे में मेडिकल साइंस क्या कहता है? क्या मक्खी गिरने के बाद दूध या कोई दूसरी चीज खाने लायक रहती है?

मक्खी के साथ आ सकती है गंदगी
मक्खी किसी भी चीज पर बैठ जाती है, जो कि खतरनाक इंफेक्शन से संक्रमित हो सकती है। ऐसे में यह जिस चीज के अंदर गिरती है, उसमें भी खतरनाक बैक्टीरिया-वायरस पहुंच सकते हैं।

ये हैं आम बैक्टीरिया
Pubmed पर छपा शोध कहता है कि मक्खी कुछ बैक्टीरिया को ट्रांसफर करने की क्षमता रखती है। जिसमें ई. कोलाई, लिस्टेरिया, शिगेला, साल्मोनेला प्रमुख हैं।

फूड पॉइजनिंग का खतरा
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन के मुताबिक, ये बैक्टीरिया गंभीर इंफेक्शन पैदा कर सकते हैं। शरीर में पहुंचने के बाद इनसे फूड पॉइजनिंग हो जाती है।
फूड पॉइजनिंग के लक्षण
फूड पॉइजनिंग के कारण मरीज को डायरिया, पेट दर्द, क्रैम्प, जी मिचलाना, उल्टी और बुखार जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है।

ये लक्षण दिखते ही भागें अस्पताल
अगर आपको तीन दिन से ज्यादा डायरिया, 102 डिग्री फॉरेन्हाइट से तेज बुखार, देखने या बोलने में दिक्कत, खतरनाक डिहाइड्रेशन या पेशाब में खून आ रहा है तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

तुरंत करें ये काम
फूड पॉइजनिंग की वजह से शरीर में डिहाइड्रेशन हो सकती है। इसलिए पर्याप्त पानी और ओआरएस का सेवन करें। इसके साथ भरपूर आराम करें और लक्षणों को कम करने वाली दवाओं के बारे में डॉक्टर से पता करें।

देश की 10 में से 6 किशोरियां 'एनीमिया' से पीड़ित

देश की 10 में से 6 किशोरियां 'एनीमिया' से पीड़ित 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों का विश्लेषण करने वाले एक नए भारतीय अध्ययन में कहा गया है कि देश की 10 में से करीब छ: किशोरियां रक्त अल्पता (एनीमिया) से पीड़ित हैं। काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) और अन्य संस्थानों ने अपने अध्ययन में पाया कि भारत में 15 से 19 साल तक की किशोरियों में पोषण की खराब स्थिति, धन और शिक्षा जैसे अन्य सामाजिक-आर्थिक कारकों सहित किशोरावस्था में विवाह और मातृत्व भारतीय महिलाओं में एनीमिया का महत्वपूर्ण कारक हैं।
पीएलओएस ग्लोबल पब्लिक हेल्थ जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि भारतीय राज्यों में रक्त अल्पता की व्यापकता 60 प्रतिशत से अधिक है और यह 2015-16 के पांच से बढ़कर 2019-21 में 11 हो गई।
रक्त अल्पता एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या है, जो विशेष रूप से भारत में महिलाओं को प्रभावित करती है। रक्त अल्पता व्यक्ति में लाल रक्त कणों की कमी से जुड़ा है, जिसके परिणामस्वरूप कमजोरी और थकान महसूस होती है। 
राष्ट्रीय सर्वेक्षण, एनएफएचएस-4 (2015-16) और एनएफएचएस-5 (2019-21) के चौथे और पांचवें दौर के आंकड़ों का उपयोग करते हुए शोध में रुझानों का विश्लेषण करने के लिए क्रमशः 1,16,117 और 1,09,400 किशोरियों का अध्ययन किया। रक्त अल्पता 18 साल से कम आयु में विवाह करने वाली किशोरियों में ज्यादा व्यापक है। एनएफएचएस-4 और एनएफएचएस-5 में चयनित महिलाओं में से क्रमशः लगभग 10 और आठ प्रतिशत इसी आयुवर्ग से थीं। 
अध्ययन में कहा गया है कि लगभग 70 प्रतिशत प्रतिभागी ग्रामीण इलाकों में रहती हैं। अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि कम से कम दो बच्चों की माता किशोरियों में संतानहीन किशोरियों की तुलना में रक्त अल्पता ज्यादा है। उन्होंने यह भी पाया कि स्तनपान कराने वाली माताओं में रक्त अल्पता ज्यादा व्यापक है। शोधकर्ताओं ने कहा कि भारत के पूर्वोत्तर राज्यों की किशोरियों में देश के अन्य हिस्सों की महिलाओं की तुलना में रक्त अल्पता का खतरा कम है। 
उनका कहना है कि संभवतः ऐसा विविधतापूर्ण और पौष्टिक आहार के कारण है, जिसमें ‘आयरन’ से भरपूर लाल चावल शामिल है। शोध के अनुसार, इन राज्यों में पारंपरिक रूप से लाल चावल खाया जाता है और उनकी संस्कृति में स्थानीय स्तर पर उगाए जाने वाले और मौसमी खाद्य पदार्थों पर जोर दिया जाता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, लाल मांस की अधिक खपत सहित उपरोक्त कारक इन क्षेत्रों में रक्त अल्पता को कम करने में योगदान दे रहे हैं। 
शोध के मुताबिक, कुल मिलाकर, देश के सभी 28 राज्यों में से 21 राज्यों में अलग-अलग स्तर तक रक्त अल्पता के प्रसार में वृद्धि दर्ज की गई। शोध के अनुसार, असम, छत्तीसगढ़ और त्रिपुरा में 15 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई, जबकि पंजाब, कर्नाटक, तेलंगाना, बिहार और मध्य प्रदेश राज्यों में पांच प्रतिशत अंकों से कम की मामूली वृद्धि दर्ज की गई।

जी20 समूह ने आतंकवाद के रूपों की निंदा की

जी20 समूह ने आतंकवाद के रूपों की निंदा की

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारत की अध्यक्षता में शक्तिशाली जी20 समूह ने आतंकवाद के सभी रूपों की शनिवार को निंदा की और आतंकवादी समूहों को सुरक्षित पनाहगाह और भौतिक या राजनीतिक समर्थन से वंचित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को घोषणा की कि सदस्य देशों के बीच सहमति के साथ जी20 ने नयी दिल्ली घोषणापत्र (नयी दिल्ली लीडर्स समिट डिक्लेरेशन) को अपनाया है।
घोषणापत्र में कहा गया है कि आतंकवाद की कोई भी कार्रवाई आपराधिक और अनुचित है, चाहे ऐसी कार्रवाई कहीं भी घटित हुई हो और किसी ने भी की हो। जी20 नेताओं ने वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) और एफएटीएफ जैसी संस्थाओं की बढ़ती संसाधन जरूरतों को पूरा करने की भी प्रतिबद्धता जताई। घोषणापत्र में कहा गया है, ‘‘हम शांति के लिए सभी धर्मों की प्रतिबद्धता को स्वीकार करते हैं और नस्लवाद तथा असहिष्णुता के अन्य रूपों समेत आतंकवाद के सभी रूपों की निंदा करते हैं। 
यह अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए सबसे गंभीर खतरों में से एक है।’’ 
जी20 नेताओं ने महत्वपूर्ण ऊर्जा प्रतिष्ठानों सहित महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचों के खिलाफ सभी आतंकवादी कृत्यों की कड़ी निंदा की। नेताओं ने कहा कि प्रभावी आतंकवाद रोधी उपाय, आतंकवाद के पीड़ितों के लिए समर्थन और मानवाधिकारों की रक्षा परस्पर विरोधी लक्ष्य नहीं हैं, बल्कि पूरक हैं। घोषणापत्र में कहा गया है, ‘‘अंतरराष्ट्रीय कानून के आधार पर एक समग्र दृष्टिकोण अपनाकर आतंकवाद का प्रभावी ढंग से मुकाबला किया जा सकता है। आतंकवादी समूहों को सुरक्षित पनाहगाह और भौतिक या राजनीतिक समर्थन से वंचित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने का आह्वान किया गया है।’’
इसमें कहा गया है, ‘‘हम छोटे हथियारों और हल्के हथियारों की अवैध तस्करी के बारे में भी चिंता व्यक्त करते हैं। इस तरह की घटनाओं से निपटने के लिए देशों के बीच अंतरराष्ट्रीय सहयोग महत्वपूर्ण है।’’ जी20 शिखर सम्मेलन के नतीजों पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि जी20 नेताओं ने आतंकवाद और धनशोधन का मुकाबला करने के विषय पर भी बात की। 
उन्होंने कहा कि नेताओं ने आतंकवाद के सभी रूपों और अभिव्यक्तियों की निंदा की और माना कि यह अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए सबसे गंभीर खतरों में से एक है। जी20 नेताओं ने घोषणापत्र में एफएटीएफ और एफएटीएफ जैसी संस्थाओं की बढ़ती संसाधन जरूरतों को पूरा करने की भी प्रतिबद्धता जताई गई। घोषणापत्र में कहा गया है, ‘‘हम ‘यात्रा नियम’ सहित अपने मानकों के वैश्विक कार्यान्वयन में तेजी लाने के लिए एफएटीएफ की पहल का समर्थन करते हैं।’’

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  


1. अंक-327, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. रविवार, सितंबर 10, 2023

3. शक-1944, भाद्रपद, कृष्ण-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:06।

5. न्‍यूनतम तापमान- 19 डी.सै., अधिकतम- 33+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...