रविवार, 21 अगस्त 2022

अपना घर आश्रम में पहुंचा सारथी परिवार: फाउंडेशन 

अपना घर आश्रम में पहुंचा सारथी परिवार: फाउंडेशन 


सारथी वेलफेयर फाउंडेशन ने अपना घर आश्रम में किया सहयोग

गोपीचंद/भानु प्रताप उपाध्याय 

बागपत। रविवार को सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वाधान में सारथी परिवार अपना घर आश्रम अमीनगर सराय बागपत में पहुंचा। वहां जाकर अपना घर आश्रम में रहने वाले सभी सदस्यों को भोजन कराया, उनके साथ समय व्यतीत किया। साथ ही उनके हाल-चाल भी जाने और सभी सारथी परिवार के सदस्यों ने उनके साथ बहुत सारी बातें भी की। सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के सदस्य अनिल अरोरा ने बताया कि वृद्धों के साथ-साथ मानसिक व अहसहाय लोगों को इस आश्रम में रखा जा रहा है। देखने से पता लगता है, आश्रम में ऐसे बेसहारा लोगों की सेवा की जाती है। आदित्य भारद्वाज और शिवम तोमर ने आश्रम के मैनेजर से जब बात की, तो पता चला कि यहां पर उन सभी लोगों को व्यवस्था दी जाती है।

जिनके पास रहने खाने पीने की व्यवस्था नहीं है। आश्रम में खाने के साथ-साथ नाश्ते की व्यवस्था भी की गई है। प्रवीण कुमार और संजय गुप्ता ने वहां जाकर जाना कि 24 घंटे मेडिकल की सुविधा भी उन लोगों के लिए उपलब्ध है, जिससे आश्रम में रहने वाले लोगों को किसी भी सदस्य को कोई भी तकलीफ का सामना ना करना पड़े। सारथी वेलफेयर फाउंडेशन विकास गुप्ता ने बताया की हमारा  सारथी वेलफेयर फाउंडेशन का पूरा परिवार बाहर से आने वाले लोगों से मिला उनको देखकर सबका मन भावुक हो गया। इस मौके पर सारथी वेलफेयर फाउंडेशन की अध्यक्ष वन्दनागुप्ता उपाध्यक्ष शालू गुप्ता ने आश्रम के लिए हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया। इस मौके पर सारथी वेलफेयर फाउंडेशन की पूरी टीम ने भोजन खिलाकर उनके साथ समय व्यतीत किया।

नुक्कड़ सभा के माध्यम से ग्रामीणों को जागरूक किया 

नुक्कड़ सभा के माध्यम से ग्रामीणों को जागरूक किया 


महंगाई के विरोध में नुक्कड़ सभा के माध्यम से विधायक अनिता योगेन्द्र शर्मा ने किया लोगों को जागरूक

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। महंगाई के विरोध में रविवार को धरसीवां विधायक अनिता योगेन्द्र शर्मा के द्वारा ग्राम पंचायत देवरी में नुक्कड़ सभा के माध्यम से ग्रामीणों को जागरूक किया और देश लगातार बढ़ रही महंगाई का विरोध किया और ग्रामीण जनों को जागरूक किया कहा जब से केंद्र में मोदी सरकार आई है, तब से लगातार महंगाई आसमान छू रही है। चाहे, वह पेट्रोल-डीजल के दाम हो या फिर खाने का तेल या गैस सिलेंडर सभी का दाम लगातार आसमान छू रहा है, जिससे आमजन को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इस महंगाई के विरोध में आज चौपाल नुक्कड़ सभा के माध्यम से लोगों को जागरूक किया और कहा कि जिस प्रकार अंग्रेजो के द्वारा टैक्स लगाया जाता था। ठीक उसी प्रकार आज आजादी के 75 साल बाद दूध अनाज चावल दाल गेहूं शक्कर पर जीएसटी लिया जा रहा है, जिससे आम गरीब किसान मजदूर वर्ग रविवार को परेशानियों का सामना कर रहा है।

इस नुक्कड़ सभा में आज प्रमुख रूप से ब्लाक अध्यक्ष दुर्गेश वर्मा, देवरी सरपंच अशोक,  धरसीवा उपसरपंच साहिल खान, उपसरपंच सौम्य वर्मा ,सेक्टर प्रभारी तुकाराम साहू, हृदय राम साहू, जनपद सदस्य वैसाखू साहू, उपाध्यक्ष रोशन पुरी गोस्वामी, सेक्टर प्रभारी आशीष वर्मा ,सरपंच अजय कुर्रे , बूथ  प्रभारी राजीव युवा मितान के अध्यक्ष जय साहू, महेंद्र साहू देवरी, रवि लहरी सहित ग्रामीण जन एवं कार्यकर्ता भारी संख्या में अन्य लोग उपस्थित रहे।

जर्नल ने ‘टोमैटो फ्लू’ वायरस को लेकर चेतावनी दी 

जर्नल ने ‘टोमैटो फ्लू’ वायरस को लेकर चेतावनी दी 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। लैंसेट जर्नल ने ‘टोमैटो फ्लू’ वायरस को लेकर चेतावनी दी है, जिससे भारत के कुछ हिस्सों में बच्चे प्रभावित हुए हैं। संक्रमण का नाम ‘टोमैटो फ्लू’ (Tomato Flu) इसलिए पड़ा। क्योंकि, इसमें मरीज़ के शरीर पर लाल व दर्दनाक फफोले होते हैं जो धीरे-धीरे टमाटर के आकार तक बढ़ जाते हैं। जर्नल के मुताबिक, वायरस ‘बहुत संक्रामक’ है, लेकिन जानलेवा नहीं है।लैंसेट स्टडी में कहा गया है कि जिस तरह हम कोविड -19 की चौथी लहर के संभावित खतरे से निपट रहे हैं, उस हालात में एक नया वायरस, जिसे टोमैटो फ्लू के रूप में जाना जाता है, भारत में केरल राज्य में 5 साल से कम उम्र के बच्चों में दिखाई दिया है। देश में टोमैटो के फ्लू के 100 से ज्यादा मामले आ चुके हैं। अकेले केरल में 82 केस मिल चुके हैं। डॉक्टरों ने पूरे देश में इस बीमारी को लेकर चेतावनी जारी की है। ये चेतावनी खासकर के केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु के लोगों के लिए है।

बता दें कि दो महीने पहले 6 मई को केरल में इसके मरीज मिले थे। केरल के बाद ओडिशा में भी इसके मामले पाए गए हैं। लैंसेट रेस्पिरेटरी जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, भुवनेश्वर में 26 बच्चों के संक्रमित पाए गए हैं। 20 अगस्‍त 2022 तक केरल, तमिलनाडु और ओडिशा में इस वायरस के फैलने की खबर है। इस बीमारी के लक्षण 1 से 5 साल के बच्चों में देखे गए हैं। यह हाथ, पैर और मुंह में होने वाली बीमारी है। लैंसेट स्टडी में बताया गया है कि टोमैटो फ्लू के लक्षण कोविड -19 वायरस के समान ही होते हैं। लेकिन, यह वायरस SARS-CoV-2 से संबंधित नहीं है, यह पूरी तरह अलग है। टोमैटो फ्लू बच्चों में चिकनगुनिया या डेंगू बुखार के बाद हो सकता है। इस फ्लू का नाम टोमैटो फ्लू इसलिए है क्योंकि इसमें पूरे शरीर में लाल और दर्द वाले फफोले हो जाते हैं। यह फफोलों का आकार टमाटर के बराबर भी हो सकता है।

क्‍या है टोमैटो फ्लू?

बीमारी का यह नाम कैसे पड़ा?
मेडिकल टर्मिनोलॉजी में टोमैटो फ्लू या टोमैटो फीवर एक तरह की ‘हैंड, फुट एंड माउथ’ बीमारी है। मतलब इसका असर हाथ, पैर और मुंह पर प्रमुखता से दिखाई देता है। रिसर्चर्स के अनुसार टोमैटो फ्लू में त्वचा पर लाल निशान के साथ बड़े बड़े दाने दिखाई देने लगते हैं। लाल फफोले पड़ने से बीमारी का नाम टोमैटो फ्लू रखा गया है।

टोमैटो फीवर के लक्षण...
लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक यह बिमारी एक तरह का वायरल फ्लू है जो ज्यादातर बच्चों में होता है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस बिमारी से ग्रसित बच्‍चों के शरीर में टमाटर जैसे चकत्ते निकल आते हैं। त्वचा में जलन शुरू हो जाती है। मुंह सूखने लगता है और प्यास नहीं लगती है। बच्चों के शरीर में पानी की कमी होने लगती है जिसके कारण यह बिमारी और गंभीर हो जाती है। इन सब के अलावा तेज बुखार, बदन दर्द, जोड़ों में दर्द, डिहाइड्रेशन और मुंह में छाले भी इसके लक्षण हैं। हाथों, घुटनों, और कूल्हे का रंग फीका पड़ना भी इस बिमारी की ओर इशारा करता है।

पांच साल तक के बच्चे प्रभावित...
इस बीमारी की खास बात है कि यह पांच साल से कम उम्र के बच्चे को प्रभावित कर रहा है। इसकी वजह से बच्चों की स्किन पर जलन और खुजली होती है। इसके अलावा इस बीमारी से संक्रमित होने पर रोगी बच्चे को तेज बुखार भी आता है। टोमैटो फ्लू से संक्रमित होने वाले बच्चों को डिहाइड्रेशन की समस्या के साथ-साथ शरीर और जोड़ों में दर्द भी गंभीर रूप से होता है।

कैसे रहें इस फ्लू से सतर्क ?
इस बीमारी के बारे में यह बताया गया कि यह जानलेवा नहीं है। ऐसे में मृत्यु सर फिलहाल शून्य है। हालांकि इस बीमारी के बारे में स्वास्थ्य मंत्रालय का भी कोई बयान नहीं आया है। लेकिन लक्षणों की समय पर पहचान और संक्रमित को आइसोलेट कर इस इसे आसानी से काबू किया जा सकता है। इसलिए पैनिक होने की जरूरत नहीं है। इसमें कम इम्यूनिटी वाले बच्चों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है।

साफ-सफाई और खानपान का ध्यान रखें...
टोमैटो फ्लू के लक्षण ही बच्चे को एक अच्छे डॉक्टर को दिखाएं। इस बात का ध्यान रखना होगा कि बच्चा खुजली न करे और उसकी साफ-सफाई ठीक ढंग से होनी चाहिए। उसे ठीक तरीके से आराम करने दें और समय-समय पर पानी पिलाते रहें। सबसे खास बात यह भी है कि इम्यूनिटी मजबूत रखें।

युद्ध: बड़ी संख्या में लोगों के बेरोजगार होने का खतरा

युद्ध: बड़ी संख्या में लोगों के बेरोजगार होने का खतरा

सुनील श्रीवास्तव 

बर्लिन/मेकेनहेम। रूस-यूक्रेन युद्ध के छ: महीने पूरे होने के बीच यूरोपीय देशों में रूस से प्राकृतिक गैस की आपूर्ति बाधित होने से कई छोटी एवं मझोली कंपनियां बंदी की कगार पर पहुंच गई हैं। इस वजह से बड़ी संख्या में लोगों के बेरोजगार होने का खतरा भी पैदा हो गया है। रूस-यूक्रेन युद्ध के छ: महीने बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था पर इसके विनाशकारी परिणाम नजर आने लगे हैं।

विश्लेषकों का मानना है कि तनावपूर्ण हालात में सुधार नहीं हुआ तो आगे स्थिति और भी बिगड़ सकती है। इस युद्ध की वजह से न केवल प्राकृतिक गैस बहुत अधिक महंगी हो गई है, बल्कि इसकी उपलब्धता पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ा है। यदि रूस पश्चिमी प्रतिबंधों का बदला लेने के लिए यूरोप को आपूर्ति पूरी तरह से बंद कर देता है तो आने वाली सर्दियों में यूरोपीय देशों की परेशानी और भी बढ़ जाएगी। जर्मनी की जस्ता कंपनियों के संघ के प्रमुख मार्टिन कोप ने कहा कि यदि गैस आपूर्ति में कटौती हुई तो सारे उपकरण बेकार हो जाएंगे।

दुनिया भर में सरकारें, व्यवसाय और परिवार युद्ध के आर्थिक प्रभावों को महसूस कर रहे हैं। बढ़ती मुद्रास्फीति और ऊर्जा लागत बढ़ने से यूरोप मंदी की कगार पर पहुंच गया है। कई यूरोपीय देशों में मुद्रास्फीति कई दशकों के उच्च स्तर पर पहुंच गई है। उच्च खाद्य कीमतों से विकासशील दुनिया में व्यापक भूख और अशांति पैदा हो सकती है। रूस और यूक्रेन से उर्वरक तथा अनाज निर्यात बाधित होने से हालात खराब हो गए हैं। इस बीच अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने एक साल से कम समय में चौथी बार वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए अपने पूर्वानुमान को घटा दिया है।

पूर्व राष्ट्रपति को अपनी 'मातृभूमि' लौटने का अधिकार 

पूर्व राष्ट्रपति को अपनी 'मातृभूमि' लौटने का अधिकार 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 

कोलंबो। श्रीलंका के मुख्य विपक्षी दल समागी जना बालवेगया (एसजेबी) ने कहा है कि देश के पूर्व राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे को देश लौटने का अधिकार है, लेकिन धन के दुरुपयोग के आरोपों के लिए उन पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए, क्योंकि उन्हें कानूनी छूट नहीं है। राजपक्षे (73) देश छोड़कर चले गए हैं और देश की अर्थव्यवस्था के कुप्रबंधन के लिए सरकार के खिलाफ हुए विद्रोह के कारण उन्होंने पिछले महीने इस्तीफा दे दिया था। एसजेबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अजीत पी. परेरा के हवाले से बताया, ‘‘गोटबाया राजपक्षे इस देश के नागरिक हैं और उन्हें अपनी मातृभूमि लौटने का अधिकार है।

इस अधिकार से कोई इनकार नहीं कर सकता। लेकिन, धन के दुरुपयोग के आरोपों के लिए उन पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए।’’ श्रीलंका का संविधान पूर्व राष्ट्रपतियों को व्यक्तिगत सुरक्षा और कर्मचारियों के साथ एक कार्यालय सहित विशेषाधिकार देता है। परेरा ने शुक्रवार को मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘उनके खिलाफ अपने माता-पिता के स्मारक के लिए राजकीय कोष को कथित रूप से खर्च करने का मामला था। उन्हें मुकदमे का सामना करना होगा और दोषी पाए जाने पर दंडित किया जाना चाहिए, क्योंकि उन्हें संविधान के अनुसार कानूनी छूट नहीं है।’’

एसजेबी ने राजपक्षे की सरकार पर भारत द्वारा प्रदान की गई एक अरब अमेरीकी डॉलर की ऋण सुविधा का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है, जो कि वित्तीय सहायता के तहत नकदी की कमी वाले राष्ट्र को अपने अभूतपूर्व आर्थिक संकट से निपटने में मदद करने के लिए दी गई थी। बृहस्पतिवार की एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राजपक्षे अमेरिका के ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं क्योंकि वह अपनी पत्नी लोमा राजपक्षे के अमेरिकी नागरिक होने के कारण आवेदन करने के योग्य हैं। राजपक्षे ने 2019 का राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए अपनी अमेरिकी नागरिकता त्याग दी थी।

समाज को जागृत, एकीकृत करने का काम: आरएसएस

समाज को जागृत, एकीकृत करने का काम: आरएसएस 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सरसंघचालक मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) समाज को जागृत एवं एकीकृत करने का काम कर रहा है। ताकि भारत सम्पूर्ण विश्व के लिये एक ‘आदर्श समाज’ के रूप में उभर सके। भागवत ने कहा कि लोगों को समाज की सेवा के लिये सामुदायिक भाव के साथ आगे आना चाहिए, व्यक्तिगत रूप से नहीं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दिल्ली इकाई द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भागवत ने संघ के स्वयंसेवकों द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न कल्याण कार्यो का उल्लेख किया।सरसंघचालक ने कहा, संघ, समाज को जागृत एवं एकीकृत करने के लिये तथा एक इकाई के रूप में अधिक संगठित करने के लिये काम कर रहा है ताकि भारत सम्पूर्ण विश्व के लिये एक ‘आदर्श समाज’ के रूप में उभर सके। उन्होंने कहा कि देश की स्वतंत्रता के लिये समाज के विभिन्न वर्गो से अनेक विभूतियों ने योगदान एवं बलिदान दिया।

भागवत ने कहा कि भारतीयों का डीएनए और बुनियादी स्वभाव है कि वे समाज के रूप में सोचते हैं, व्यक्तिगत रूप से नहीं तथा हमें इन्हें और प्रोत्साहित करने की जरूरत है। कल्याण कार्यो का उल्लेख करते हुए भागवत ने कहा कि संघ के स्वयंसेवक बिना व्यक्तिगत हितों पर ध्यान दिये हुए सम्पूर्ण समाज के लिये काम करते हैं। उन्होंने कहा कि हमें कल्याण कार्य करते समय ‘मैं और मेरा’ के भाव से ऊपर उठने की जरूरत है और इससे हमें एक समाज के रूप में विकसित होने में मदद मिलेगी।

किसान यूनियन के नेता टिकैत को हिरासत में लिया

किसान यूनियन के नेता टिकैत को हिरासत में लिया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत को हिरासत में ले लिया गया है। बताया जा रहा है कि वे दिल्ली के जंतर-मंतर पर सोमवार को होने वाले किसान संगठनों के प्रदर्शन में शामिल होने के लिए आ रहे थे। वहीं, इस प्रदर्शन से पहले दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। दिल्ली-हरियाणा टिकरी बॉर्डर पर पुलिस ने बैरिकेड्स लगा दिए हैं। दरअसल सोमवार को किसानों ने यहां प्रदर्शन का ऐलान किया है, जिसके लिए वे कल राष्ट्रीय राजधानी पहुंचना शुरू कर देंगे।

राकेश टिकैत को दिल्ली पुलिस ने मधु विहार थाने में रखा है। राकेश टिकैत ने ट्वीट कर कहा, ‘सरकार के इशारे पर काम कर रही दिल्ली पुलिस किसानों की आवाज को नहीं दबा सकती। यह गिरफ्तारी एक नई क्रांति लेकर आएगी। यह संघर्ष अंतिम सांस तक जारी रहेगा। 'ना रुकेंगे, ना थकेंगे, ना झुकेंगे।' सरकार के इशारे पर काम कर रही दिल्ली पुलिस किसानों की आवाज को नहीं दबा सकती। यह गिरफ्तारी एक नई क्रांति लेकर आएगी।

जापान के पीएम किशिदा कोरोना पॉजिटिव मिलें 

जापान के पीएम किशिदा कोरोना पॉजिटिव मिलें 

अकांशु उपाध्याय/अखिलेश पांडेय 

नई दिल्ली/टोक्यो। जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जापान के प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार उनको कोविड के हल्के लक्षणों के साथ इस महामारी से संक्रमित पाए गए हैं। वह अगले हफ्ते ही ट्यूनीशिया में एक अफ्रीकी विकास सम्मेलन में भाग लेने वाले थे।जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा कोविड पॉजीटिव आए। उन्हें कोविड के हल्के लक्षण हैं। 

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भी ट्वीट कर उनके जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि मैं मेरे मित्र के जल्द स्वस्थ्य होने की प्रार्थना करता हूं।

अगले सप्ताह नए अस्पताल का उद्घाटन करेंगे, पीएम 

अगले सप्ताह नए अस्पताल का उद्घाटन करेंगे, पीएम 

राणा ओबरॉय 

चंडीगढ़/फरीदाबाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगले सप्ताह यहां अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित 2,600 बिस्तरों वाले एक नए निजी अस्पताल का उद्घाटन करेंगे। लगभग 130 एकड़ जमीन पर निर्मित इस अस्पताल में पूरी तरह स्वचालित केंद्रीकृत प्रयोगशाला, रोगी वार्ड और बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) की व्यवस्था होगी। ‘अमृता अस्पताल’ में सात मंजिला अनुसंधान खंड है और माता अमृतानंदमयी मठ के तत्वावधान में छह वर्ष की अवधि में इसका निर्माण किया गया है। प्रधानमंत्री 24 अगस्त को इस अस्पताल का उद्घाटन करेंगे।

अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि नए सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में शुरू में 500 बिस्तरों की व्यवस्था होगी। अगले पांच वर्ष के दौरान चरणबद्ध तरीके से इसके पूरी तरह से चालू होने की उम्मीद है। उन्होंने दावा किया कि 81 विशिष्टताओं वाले इस अस्पताल का संचालन पूरी तरह शुरू होने के बाद यह दिल्ली-एनसीआर और देश का सबसे बड़ा अस्पताल बन जाएगा। हॉस्पिटल के ‘रेजिडेंट मेडिकल डायरेक्टर’ डॉ. संजीव के सिंह के अनुसार, परियोजना की कल्पना पहली बार 2012 में की गई थी और प्रारंभिक योजना इसे दिल्ली में स्थापित करने की थी, लेकिन अंततः इसे फरीदाबाद में बनाने का निर्णय लिया गया। उन्होंने बताया कि परियोजना के लिए जमीनी कार्य 2016 के मध्य में शुरू हुआ था, जिसमें कृषि भूमि के अधिग्रहण जैसे कई कारकों के कारण देरी हुई थी। इसके बाद कोविड-19 महामारी के चलते लागू लॉकडाउन के दौरान इसमें और देरी हुई।

उन्होंने बताया, “हालांकि, कोविड से हमने कुछ सबक सीखे, और कुछ डिजाइन फिर से तैयार किए। लोगों को सुरक्षित माहौल प्रदान करने के लिए कुछ प्रबंध किए गए, क्योंकि कोविड-19 छींकने या खांसने से निकलने वाली बूंदों (ड्रापलेट्स) के जरिए तेजी से फैल रहा था। इसलिए हमने ‘निगेटिव प्रेशर रूम’ तैयार किया। यह एक तरह का पृथक कक्ष है, जिसमें संदिग्ध रोगियों को दूसरे रोगियों से दूर रखा जा सकता है। यह एक नियमित पृथक कक्ष से अलग है।” गौरतलब है कि अमृता हॉस्पिटल देश में माता अमृतानंदमयी मठ के तत्वावधान में बनाया गया दूसरा अस्पताल है। पहला अस्पताल 1998 में कोच्चि में स्थापित किया गया था। दिल्ली-मथुरा रोड के पास फरीदाबाद के सेक्टर 88 में एक करोड़ वर्ग फुट भूमि पर बनाए गए इस हॉस्पिटल का निर्माण किया गया है। परिसर में एक मेडिकल कॉलेज, एक अनुसंधान ब्लॉक और आठ उत्कृष्टता केंद्र भी होंगे, जिनमें गैस्ट्रो-साइंसेज, गुर्दा विज्ञान, हड्डी रोग, प्रत्यारोपण और जच्चा-बच्चा देखभाल केंद्र शामिल हैं।

सिंह को सीएम का शिक्षा सलाहकार नामित किया

सिंह को सीएम का शिक्षा सलाहकार नामित किया

संदीप मिश्र 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को नयी ऊंचाईयों तक पहुंचाने के लिए प्रदेश सरकार ने महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए प्रख्यात शिक्षाविद प्रो धीरेन्द्र पाल सिंह को राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का शिक्षा सलाहकार नामित किया है।

मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि नियोजन विभाग के सचिव आलोक कुमार की ओर से इस संबंध में पत्र जारी कर दिया गया है। प्रो. सिंह 2018 से 2021 तक विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के चेयरमैन रह चुके हैं। उन्होंने लगभग चार दशकों के अपने करियर में भारतीय उच्च शिक्षा में कई अकादमिक संस्थाओं का नेतृत्व किया है।

वह उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू), मध्य प्रदेश में सागर स्थित डा हरी सिंह गौर विश्वविद्यालय और इंदौर स्थित देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के कुलपति भी रह चुके हैं। इसके अलावा निदेशक के रूप में राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (नैक) का उन्होंने नेतृत्व किया है।

मुफ्ती को एक बार फिर घर में नजरबंद किया, आरोप

मुफ्ती को एक बार फिर घर में नजरबंद किया, आरोप 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी (PDP) प्रमुख महबूबा मुफ्ती को एक बार फिर उनके घर में नजरबंद (House Arrest) कर दिया गया है। इसकी जानकारी उन्होंने ट्वीट करके दी। इसी के साथ महबूबा मुफ्ती ने कश्मीरी पंडितों (Kashmiri Pandits) की स्थिति के लिए केंद्र की मोदी सरकार (Modi Govt) पर एक बार फिर हमला बोला है। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने रविवार को ट्वीट कर आरोप लगाया कि सरकार ने उन्हें नजरबंद कर दिया है। उन्होंने अपने घर के बाहर तैनात CRPF और मुख्य गेट पर लगे ताले की फोटो भी शेयर की है। महबूबा ने ट्वीट कर कहा कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर से मुझे सुरक्षा का हवाला देकर नजरबंद कर लिया है, मगर वे लोग खुद ही घाटी के कोने-कोने में घूम रहे हैं।

महबूबा ने कहा कि केंद्र सरकार कश्मीरी पंडितों के दर्द को छिपाना चाहती है। उनकी निर्दयी नीतियों की वजह से उन लोगों की टारगेट किलिंग की जा रही है, जिन्होंने कश्मीर नहीं छोड़ा है। इस तरह से सरकार हमें सबके सामने कश्मीरी पंडितों का दुश्मन प्रोजेक्ट कर रही है। इसीलिए मुझे आज हाउस अरेस्ट कर लिया गया है।महबूबा मुफ्ती रविवार को सुनील कुमार भट्ट के परिवार से मिलने जा रही थीं। भट्ट की 16 अगस्त को आतंकियों ने हत्या कर दी थी। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में आतंकियों ने सुनील और उनके भाई पर हमला किया था, जिसमें सुनील की मौत हो गई थी। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन अल बद्र ने ली थी। महबूबा को 3 महीने पहले यानी 13 मई को भी प्रशासन ने हाउस अरेस्ट किया था, उस वक्त वे बडगाम जा रही थीं। उस वक्त वे टारगेट किलिंग में मारे गए कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट के परिजनों से मिलने जा रही थीं।

त्यागी के समर्थन में महापंचायत, हजारों लोग शामिल

त्यागी के समर्थन में महापंचायत, हजारों लोग शामिल 

विजय भाटी

गौतमबुद्ध नगर। ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में महिला से अभद्रता मामले में गिरफ्तार कथित भाजपा नेता श्रीकांत त्यागी के समर्थन में हुई महापंचायत में हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए। आधे दर्जन से अधिक राज्यों और पश्चिमी यूपी के एक दर्जन जिलों से लोग श्रीकांत के समर्थन में सलारपुर स्थित रामलीला ग्राउंड पहुंचे। श्रीकांत त्यागी की पत्नी अनु त्यागी के समर्थन में जबरन सोसायटी में घुसने पर जेल जाने वाले 6 युवकों को पंचायत के मंच पर बुलाकर सम्मानित किया गया।

श्रीकांत के समर्थन में सलारपुर स्थित रामलीला ग्राउंड में हजारों की संख्या में त्यागी समाज के लोग पहुंचे और स्थानीय सांसद डॉ. महेश शर्मा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। महापंचायत में उपस्थित वक्ताओं ने कमिश्नरेट पुलिस पर भी जमकर भड़ास निकाली और कहा कि पुलिस ने श्रीकांत हुआ उसके परिवार पर गलत तरीके से कारवाई की है। संयुक्त यागी स्वाभिमान मोर्चा के तत्वावधान में आयोजित इस महापंचायत में दोपहर बाद तक लोगों का आना जाना लगा रहा और सुबह से ही नारेबाजी करते हुए लोग कार्यक्रम स्थल तक पहुंचे। इस दौरान करीब डेढ़ हजार से अधिक पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है और आयोजकों की तरफ से महापंचायत में 50 हजार से अधिक लोगों के पहुंचने का दावा किया जा रहा है। महापंचायत में त्यागी समाज के लोगों ने श्रीकांत त्यागी की पत्नी अनु त्यागी और उनके परिजनों को पुलिस द्वारा प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया। सोसाइटी में श्रीकांत के परिजनों से मिलने गए युवकों को निर्दोष बताते हुए आरोप लगाया गया कि डॉ महेश शर्मा के इशारे पर 10 युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

त्यागी समाज के लोगों का कहना है कि श्रीकांत को गलती की सजा मिलनी चाहिए, लेकिन पुलिस ने उसकी पत्नी अनु त्यागी और मामी को थाने में बुलाकर प्रताड़ित किया, जो गलत है। मामी को पांच दिन पुलिस जीप में लेकर घूमती रही। बच्चों को खाना देने पहुंचे छह युवकों पर भी केस दर्ज किया गया। श्रीकांत मामले में छह युवकों पर राजनीति से प्रेरित होकर केस दर्ज किया गया। इसे बिना शर्त हटाया जाना चाहिए। साथ ही, मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जानी चाहिए। साथ ही, श्रीकांत से गैंगस्टर एक्ट हटाया जाना चाहिए। एक तरफ जहां मुखर हो त्यागी समाज ने आज नोएडा में महापंचायत बुलाई, वहीं ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी के लोग मौन तरीके से अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं। दोनों गुटों के बीच पोस्टर वार शुरू हो गया है। जहां महापंचायत में लगे पोस्टर इस प्रकरण को त्यागी समाज के सम्मान से जोड़ा जा रहा है, वहीं ग्रैंड ओमेक्स सोसायइटी के निवासी पूरी सोसाइटी में पोस्टर लगा कर अन्याय के विरुद्ध एकजुट होकर संघर्ष करने का संदेश दे रहे हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री शर्मा ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया 

पूर्व केंद्रीय मंत्री शर्मा ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने हिमाचल प्रदेश कांग्रेस की संचालन समिति के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि वे अपने स्वाभिमान के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं कर सकते हैं। कहा जा रहा है कि प्रमुख बैठकों में नहीं बुलाए जाने के कारण आनंद शर्मा कांग्रेस में खुद को उपेक्षित और अलग-थलग महसूस कर रहे थे।

जानकारी के मुताबिक, आनंद शर्मा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कहा कि उनका स्वाभिमान नॉन निगोशिएबल है। उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया है। आनंद शर्मा के इस्तीफ से पहले G23 समूह के दूसरे नेता गुलाम नबी आजाद ने भी जम्मू-कश्मीर में अभियान समिति के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था।

पूर्व पीएम के भाषणों के सीधे प्रसारण पर रोक लगाई 

पूर्व पीएम के भाषणों के सीधे प्रसारण पर रोक लगाई 

अखिलेश पांडेय 

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में मीडिया पर निगरानी रखने वाली संस्था ने सभी उपग्रह टेलीविजन चैनलों द्वारा पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के भाषणों के सीधे प्रसारण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। यह कदम ऐसे वक्त उठाया गया है, जब कुछ घंटों पहले खान ने इस्लामाबाद में एक रैली को संबोधित करते हुए सरकारी प्रतिष्ठानों और सरकारी अधिकारियों को धमकी दी थी।

खान ने शनिवार को यहां एक जनसभा में शीर्ष पुलिस अधिकारियों, एक महिला मजिस्ट्रेट, पाकिस्तान के निर्वाचन आयोग और राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराने की धमकी दी थी। उन्होंने अपने सहयोगी शहबाज गिल के साथ हुए बर्ताव को लेकर यह धमकी दी, जिन्हें राजद्रोह के आरोपों में पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (पेमरा) ने शनिवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा कि टेलीविजन चैनल बार-बार चेतावनी देने के बावजूद ‘‘सरकारी प्रतिष्ठानों’’ के खिलाफ सामग्री के प्रसारण को रोकने में नाकाम रहे हैं।

इसमें कहा गया है, ‘‘ऐसा देखा गया है कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष इमरान खान अपने भाषणों/वक्तव्यों में सरकारी प्रतिष्ठानों पर लगातार निराधार आरोप लगा रहे हैं और उकसावे वाले बयानों के जरिए घृणास्पद भाषणों का प्रचार कर रहे हैं, जिससे कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने में मुश्किल हो सकती है और इससे सार्वजनिक शांति भंग होने की आशंका है।’’ नियामक ने कहा कि खान के भाषण संविधान के अनुच्छेद 19 का उल्लंघन हैं और मीडिया की आचार संहिता के खिलाफ है। उसने कहा, ‘‘सक्षम प्राधिकरण यानी पेमरा अध्यक्ष इन कारणों को देखते हुए सभी उपग्रह टीवी चैनलों पर इमरान खान के भाषण के सीधे प्रसारण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाते हैं।’’ पीटीआई के अध्यक्ष पर लगाए गए प्रतिबंध पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए पार्टी ने कहा कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की सरकार फासीवादी सरकार है। इस बीच, खान ने कहा कि वह आज यानी रविवार को रावलपिंडी के लियाकत बाग मैदान में एक रैली को संबोधित करेंगे।

एफपीआई ने अगस्त में 44,500 करोड़ का निवेश किया 

एफपीआई ने अगस्त में 44,500 करोड़ का निवेश किया 

अकांशु उपाध्याय/कविता गर्ग 

नई दिल्ली/मुंबई। पिछले महीने शुद्ध खरीदार बनने के बाद विदेशी निवेशकों ने अगस्त में भी भारतीय शेयर बाजारों के लिए जबरदस्त उत्साह दिखाया है। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने अगस्त में अब तक करीब 44,500 करोड़ रुपये का निवेश किया है। अमेरिका में महंगाई कम होने और डॉलर सूचकांक में गिरावट के बीच भारतीय बाजारों के प्रति उनका भरोसा बढ़ा।

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, एफपीआई ने जुलाई माह में लगभग 5,000 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया था। एफपीआई ने लगातार नौ महीनों तक बड़े पैमाने पर बिकवाली की, जिसके बाद वे जुलाई में पहली बार शुद्ध खरीदार बने थे। इससे पहले अक्टूबर 2021 से जून 2022 के बीच उन्होंने भारतीय इक्विटी बाजारों में 2.46 लाख करोड़ रुपये की भारी बिक्री की थी।

कोटक सिक्योरिटीज के प्रमुख- इक्विटी शोध (खुदरा) श्रीकांत चौहान ने कहा कि आने वाले महीनों में एफपीआई प्रवाह में उतार-चढ़ाव बना रहेगा, हालांकि बढ़ती महंगाई, मौद्रिक नीति में सख्ती और तिमाही नतीजों को लेकर चिंताएं कम होने से उभरते बाजारों में आवक बेहतर होने की उम्मीद है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा कि निकट अवधि में पूंजी प्रवाह मुख्य रूप से डॉलर की गति से प्रभावित होगा। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक एफपीआई ने 1-19 अगस्त के दौरान भारतीय इक्विटी में शुद्ध रूप से 44,481 करोड़ रुपये का निवेश किया है। यह चालू वर्ष में उनका अब तक का सबसे अधिक निवेश है।

एमसीडी के क्लर्क को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया 

एमसीडी के क्लर्क को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में एंटी करप्शन ब्रांच (ACB) ने बड़ा एक्शन लिया है। जहां एसीबी ने  एमसीडी के एक क्लर्क को 2 लाख की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। फिलहाल, आरोपी क्लर्क से पूछताछ की जा रही है। जानकारी के मुताबिक, एमसीडी ने सिविल लाइन्स ज़ोन में 26 जुलाई को एक संपत्ति सील की थी, जिसकी पेनाल्टी 20 लाख रुपये थी। आरोप है कि इंद्रजीत ने इस पेनाल्टी को कम करके 5,16000 कर दिया था। इसके बदले 2 लाख रुपये की रिश्वत मांगी गई थी। इसके बाद ACB ने आरोपी को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। लिहाजा क्लर्क इंद्रजीत को रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया गया है।

इससे पहले सेंट्रल इन्विटिगेशन ब्यूरो (CBI) ने दिल्ली पुलिस के एक इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल को 2 लाख रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था। इंस्पेक्टर की पहचान सज्जन सिंह यादव जबकि कांस्टेबल की पहचान अमित लुच्चा के रूप में हुई थी।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 




प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-317, (वर्ष-05)

2. सोमवार, अगस्त 22, 2022

3.शक-1944, भाद्रपद, कृष्ण-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 05:51, सूर्यास्त: 06:56। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 28 डी.सै., अधिकतम-35+ डी.सै.। उत्तरभारत में बरसात की संभावना। 

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक कासहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27,प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

 (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...