गुरुवार, 14 अप्रैल 2022

फतेहपुर: धूमधाम से मनाई गई अंबेडकर की जयंती

फतेहपुर: धूमधाम से मनाई गई अंबेडकर की जयंती   

सुनील पुरी           

फतेहपुर। जनपद में भारत रत्न डॉ. बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस शुभ अवसर पर जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे, मुख्य विकास अधिकारी सत्यप्रकाश, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 विनय पाठक, अपर जिलाधिकारी न्यायिक धीरेंद्र प्रताप सिंह, अपर उपजिलाधिकारी सहित अनेक अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा कलेक्ट्रेट हाल में भारत रत्न डॉ. बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया।


इसके उपरांत जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे, पुलिस अधीक्षक, राजेश कुमार सिंह, संयुक्त रूप से अंबेडकर पार्क में स्थापित बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा में माल्यापर्ण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया। जिलाधिकारी द्वारा जनपद से आये हुए दूर दराज के लोगों को जन्मदिन की बधाई दी। समिति के द्वारा बाबा साहब अंबेडकर की फोटो एवं लाइफ एण्ड मिशन नामक किताब भेट स्वरूप प्रदान किया गया। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 विनय पाठक, अपर जिलाधिकारी न्यायिक धीरेंद्र प्रताप सिंह, आई0ए0एस0/जिला पंचायत राज अधिकारी निधि बंसल ने बाबा साहब की प्रतिमा में माल्यार्पण किया।

इसके अलावा विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों द्वारा भी बाबा साहेब का जन्मदिन  बड़े ही हर्ष एवं उल्लास के बीच मनाया गया। आयोजित कार्यक्रमों में वक्ताओं ने विचार व्यक्त करके बाबा साहेब के बताए मार्ग पर चलने के लिए लोगों को प्रेरित किया एवं उनके द्वारा रचे गए संविधान के बारे में भी जानकारी देते हुए समाज में बढ़-चढ़कर भागीदारी निभाते हुए देश के सर्वांगीण विकास का संकल्प दोहराया।

हरियाणा में स्थापित होगा 'प्रशिक्षण संस्थान'

हरियाणा में स्थापित होगा 'प्रशिक्षण संस्थान'  


राणा ओबरॉय             

चंडीगढ़। हरियाणा में ड्रोन पायलटों को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए ड्रोन इमेजिंग एंड इंफॉर्मेशन सर्विस ऑफ हरियाणा लिमिटेड (दृश्या) के तत्वावधान में प्रशिक्षण संस्थान स्थापित किया जाएगा। यह संस्थान दृश्या और अन्य संगठनों के कर्मियों की विभिन्न प्रशिक्षण आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सहायक होगा। यह निर्णय मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में बृृहस्पतिवार को यहाँ हुई दृश्या के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की दूसरी बैठक के दौरान लिया गया।

मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि हरियाणा यूएवी संचालित गवर्नेंस एप्लिकेशन को तीव्र गति प्रदान करने के लिए एक अलग निगम बनाने वाला पहला राज्य है। खट्टर ने कहा कि दृश्या की स्थापना राज्य में एक अनूठी शुरुआत है। क्योंकि अब ड्रोन की मदद से क्षेत्र के विस्तार का पता लगाने के साथ-साथ अवैध अतिक्रमणों को भी नियंत्रित किया जा सकता है।

पहले समय-समय पर मैन्युअल सर्वेक्षण किए जाते थे, जिनमें बहुत समय लगता था और अधिक श्रमशक्ति (मैनपॉवर) की आवश्यकता के साथ-साथ खर्चीले होते थे। मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को विभिन्न प्रकार के सर्वेक्षण और इमेजिंग कार्य का त्वरित निस्तारण सुनिश्चित करने का निर्देश देते हुए कहा कि राजस्व विभाग के अलावा शहरी स्थानीय निकाय, बिजली, आपदा प्रबंधन, खनन, वन यातायात, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग, कृषि जैसे अन्य विभागों में भी ड्रोन का उपयोग सुनिश्चित किया जाए।

क्योंकि इससे शहरी क्षेत्रों में मानचित्रण, भूमि रिकॉर्ड, आपदा प्रबंधन और आपातकालीन सेवाओं, विकास की योजनाओं में मदद मिलेगी। खट्टर को विभिन्न श्रेणियों और सेंसरों के ड्रोन की खरीद से भी अवगत कराया गया। बैठक में बताया गया कि विदेशों से ड्रोन के आयात पर लगे प्रतिबंध के कारण खरीद में देरी हुई है।

प्रयागराज में लागू होगी 'पुलिस कमिश्नर प्रणाली'

प्रयागराज में लागू होगी 'पुलिस कमिश्नर प्रणाली'   

बृजेश केसरवानी       
प्रयागराज। लखनऊ व वाराणसी, कानपुर की तरह प्रयागराज में भी पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होगी। इसकी तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है और जल्द ही नोटिफिकेशन जारी होने की उम्मीद है। कानून-व्यवस्था के लिहाज इसे बेहद अहम माना जा रहा है। इस व्यवस्था से न केवल पुलिसिंग बदल जाएगी, बल्कि संगठित अपराध और अपराधियों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई हो सकेगी। बताया जाता है कि कमिश्नर प्रणाली का खाका तैयार करके पहले ही शासन को रिपोर्ट भेजी जा चुकी है। भेजा जा चुका है। इसमें तय किया गया है कि शहर के पुलिस थानों के अलावा गंगापार के झूंसी, फाफामऊ और यमुनापार के नैनी थाने को शामिल किया जाएगा। 
हालांकि शुरुआत में गंगापार व यमुनापार के क्षेत्रफल व भौगोलिक स्थित के आधार पर कुछ अड़चन आई थी, जिसे व्यवस्थित कर लिया गया है। इसके तहत इन दोनों ही क्षेत्रों में एक-एक एसपी की तैनाती होने की बात कही जा रही है। जबकि शहरी क्षेत्र में भी करीब आठ आइपीएस की तैनाती होगी। इससे कार्यशैली में भी बदलाव देखने को मिल सकता है। चर्चा है कि शासन स्तर पर कमिश्नर प्रणाली की फाइल को मंजूरी मिल चुकी है। कमिश्नर प्रणाली में पुलिस के अधिकार बढ़ जाएंगे। कानून-व्यवस्था से जुड़े मुद्दों पर कमिश्नर निर्णय ले सकेंगे। 
एडीएम, एसडीएम जैसी मजिस्ट्रीरियल पावर भी उनके पास रहेगी। इसमें उन्हें सीआरपीसी की धारा 151, 107-116 के तहत कार्रवाई करने, गुंडा व गैंगस्टर लगाने का अधिकार भी मिल जाएगा। इसके अतिरिक्त आपात स्थिति से निपटने के लिए प्रशासनिक अधिकारी के आदेश का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। धरना, प्रर्दशन, जुलूस की अनुमति भी पुलिस ही देगी। कमिश्नर प्रणाली लागू होने पर क्षेत्राधिकारी, प्रभारी निरीक्षक के पदनाम बदल जाएंगे। कमिनिस्ट्रेट के मुखिया पुलिस कमिश्नर (सीपी) होंगे। जबकि उनके अधीनस्थ ज्वाइंट कमिश्नर (जेसीपी), डिप्टी कमिश्नर (डीसीपी), एडिशनल डिप्टी कमिश्नर (एडीसीपी), असिस्टेंट कमिश्नर (एसीपी), पुलिस इंस्पेक्टर (पीआइ) और सब इंस्पेक्टर (एसआइ) के पद रहेंगे।

इंटेलिजेंस ब्यूरो में नौकरी पाने का अवसर, आवेदन

इंटेलिजेंस ब्यूरो में नौकरी पाने का अवसर, आवेदन 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। उम्मीदवार दिए गए इन सभी आवश्यक बातों को गौर से पढ़कर अप्लाई करें। इस भर्ती प्रक्रिया के तहत उम्मीदवार इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) में नौकरी (Naukri) पा सकते हैं। इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) में नौकरी करने का सपना देख रहे युवाओं के लिए अच्छी न्यूज है।
इसके लिए आईब ने असिस्टेंट सेंट्रल इंटेलिजेंस ऑफिसर ग्रेड II के पदों को भरने के लिए आवेदन मांगे हैं। इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार जो इन पदों के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे MHA या IB की आधिकारिक वेबसाइट mha.nic.in पर जाकर अप्लाई कर सकते हैं। इन पदों लिए आवेदन प्रक्रिया 16 अप्रैल से शुरू होगी। इसके अलावा आवेदन प्रक्रिया शुरू होने के बाद उम्मीदवार सीधे इस लिंक https://www.mha.gov.in/ पर क्लिक करके भी इन पदों के लिए अप्लाई कर सकते हैं। साथ ही इस लिंक  के जरिए आधिकारिक नोटिफिकेशन को भी चेक कर सकते हैं। इस भर्ती प्रक्रिया के तहत कुल 150 पदों को भरा जाएगा।
उम्मीदवारों के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन या कंप्यूटर साइंस एंड। टेक्नोलॉजी या कंप्यूटर साइंस या कंप्यूटर इंजीनियरिंग या कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग में वैध GATE Score 2020, 2021 और 2022 होना चाहिए या किसी मान्यता प्राप्त। विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक्स या भौतिकी के साथ साइंस में पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री या इलेक्ट्रॉनिक्स या इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन या कंप्यूटर साइंस या कंप्यूटर एप्लीकेशन में पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री होनी चाहिए।
उम्मीदवारों की आयुसीमा 18 से 27 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
उम्मीदवारों का चयन गेट मार्क्स और इंटरव्यू के आधार पर किया जाएगा। गेट स्कोर का वेटेज 1000 है और इंटरव्यू 175 मार्क्स का होगा। साक्षात्कार के लिए उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों को साइकोमेट्रिक / एप्टीट्यूड टेस्ट में उपस्थित होना होगा, जो साक्षात्कार प्रक्रिया का एक हिस्सा होगा।

समीक्षा अधिकारी के पदों पर भर्ती, तारीखों का ऐलान

समीक्षा अधिकारी के पदों पर भर्ती, तारीखों का ऐलान  

संदीप मिश्र        
लखनऊ। यूपी में समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी के पदों पर भर्ती की परीक्षा की तारीखों का ऐलान हो गया है। उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमिशन ने परीक्षा तारीखों का एलान किया है। जिन उम्मीदवारों ने प्रिलिमनरी परीक्षा में सफलता हासिल की है, वो अब ऑपिशियल वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर जाकर मुख्य परीक्षा के नोटिस को चेक कर सकते हैं।
बता दें आयोग द्वारा समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी के पदों पर भर्ती के लिए मेन्स परीक्षा का आयोजन 24 अप्रैल, 25 अप्रैल और 26 अप्रैल 2022 को किया जाएगा। इस परीक्षा में शामिल होने के लिए उम्मीदवारों के एडमिट कार्ड ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी किए जाएंगे।
अब हम आपको बताने जा रहे हैं, एडमिट कार्ड कैसे डाउनलोड करें ?
सबसे पहले उम्मीदवार आयोग की आधिकारिक वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर जाएं। फिर होम पेज पर दिख रहे समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी मुख्य परीक्षा के एडमिट कार्ड लिंक पर क्लिक करें। इसके बाद उम्मीदवार के सामने एक नया पेज खुलेगा और यहां सभी आवश्यक जानकारी को भरें और सबमिट के बटन पर क्लिक करें। आखिर में उम्मीदवार अपने एडमिट कार्ड को डाउनलोड कर लें।
वहीं उम्मीदवार एडमिट कार्ड का प्रिंट आउट भी निकलवा लें। बता दें आयोग द्वारा समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी पदों पर भर्ती के लिए प्रिलिमनरी परीक्षा 5 दिसंबर 2021 को आयोजित हुई थी। इस भर्ती अभियान के तहत 337 पदों पर नियुक्ति की जाएगी जिसमें, RO / ARO सामान्य भर्ती के 228 पद और RO / ARO विशेष भर्ती के 109 पद निर्धारित किए गए हैं।

एक्ट्रेस शहनाज ने इंस्टाग्राम पर तस्वीरें शेयर की

एक्ट्रेस शहनाज ने इंस्टाग्राम पर तस्वीरें शेयर की    

कविता गर्ग        

मुंबई। ‘बिग बॉस 13’ से देशभर में पॉपुलर हो चुकी पंजाबी एक्ट्रेस और सिंगर शहनाज गिल एक बार फिर सोशल मीडिया पर एक्टिव नजर आ रही है। एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला के निधन के बाद से एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया से दूरी बना रखी थी लेकिन एक बार फिर से वह काम करती नजर आ रही हैं। इन दिनों अपने फोटोशूट को लेकर सोशल मीडिया पर छाई हुई हैं। उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।

दरअसल, शहनाज ने इंस्टाग्राम पर तस्वीरें शेयर की हैं। जिनमें वो एक व्हाइट टॉप और स्कर्ट में नजर आ रही हैं। वहीं एक्ट्रेस ने कर्ली हेयर और हाई हील्स कैरी किया है। अपने बोल्ड अवतार में शहनाज बेहद खूबसूरत नजर आ रही हैं। उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। फैंस भी उनके फोटो को काफी पसंद कर रहे हैं।बता दें कि बिग बॉस 13 में नजर आ चुकी शहनाज गिल अब पंजाब ही नहीं पूरे देश के दिल की धड़कन बन चुकी हैं। वहीं वर्कफ्रंट की बात करें तो उनकी आखिरी रिलीज फिल्म हौसला रख थी, जिसमें वह दिलजीत दोसांज और सोनम बाजवा के साथ नजर आई थीं।

एचसी ने नामकुम सीओ के वेतन पर रोक लगाईं

एचसी ने नामकुम सीओ के वेतन पर रोक लगाईं  

इकबाल अंसारी         
रांची। झारखंड हाईकोर्ट ने नामकुम सीओ के वेतन पर रोक लगा दी है। मामला से जमीन से संबधित है। जिसपर हाई कोर्ट ने एक्शन लिया है।
कोर्ट ने आदेश दिया है कि एक सप्ताह में याचिकाकर्ता को उसके जमीन पर अधिकार दिलाया जाये। याचिकाकर्ता को जमीन नहीं देने पर कोर्ट नामकुम सीओ के खिलाफ अवमानना चलायेगी। मामले की अगली सुनवाई अब 20 अप्रैल को होगी। अदालत ने जिला के वरीय अधिकारियों को इसकी सूचना देने का भी आदेश दिया है। मामले के याचिकाकर्ता एनके पसारी हैं।
एसडीओ ने साल 2019 में उक्त भूखंड पर अधिकार दिलाने के लिए पुलिस बल तैनात करने का आदेश दिया था। लेकिन नामकुम सीओ ने आदेश का पालन नहीं किया। इसके बाद मामला हाई कोर्ट जा पहुंचा।

शादी का बंधन, रणबीर-आलिया ने लिए 7 फेरे

शादी का बंधन, रणबीर-आलिया ने लिए 7 फेरे   

कविता गर्ग       

मुंबई‌। आखिरकार रणबीर कपूर और आलिया भट्ट एक दूजे के पति-पत्नी बन गए‌‌। परिवार के सदस्यों की मौजूदगी में रणबीर और आलिया ने सात फेरे लिए और शादी के बंधन में बंधे‌। आलिया भट्ट और रणबीर कपूर अपनी शादी का रिसेप्शन 16 और 17 अप्रैल को करने वाले थे। हालांकि, अब इस प्लान में बड़ा चेंज हो गया है। कोरियोग्राफर राजेंद्र सिंह उर्फ मास्टरजी ने बताया है कि कपल अपने शादी का रिसेप्शन अब नहीं कर रहा है।

उन्होंने यह भी बताया कि शादी में कपूर और भट्ट परिवार का कोई सदस्य परफॉर्म नहीं करेगा। विकिपीडिया ने पहले ही दोनों को पति और पत्नी करार कर दिया है। रणबीर और आलिया को गूगल करने पर विकिपीडिया उन्हें पति-पत्नी बता रहा हैै।

आलिया भट्ट को करण जौहर अपनी बेटी मानते हैं. ऐसे में शादी में पहुंचते ही करण सबसे पहले आलिया से मिले। सूत्र ने बताया कि करण के साथ डायरेक्टर और आलिया के दोस्त अयान मुखर्जी भी नजर आए। दोनों आलिया से मिलकर इमोशनल हो गए थे। बताया यह भी जा रहा है कि आलिया, रणबीर, करण और अयान ने शादी से ब्रेक लेकर एक अलग कमरे में बातचीत भी की‌। आलिया को दुल्हन के जोड़े में देख अयान मुखर्जी के खुशी के आंसू छलक पड़े तो वहीं करण जौहर ने सभी को गले लगाया। अयान को बाद में आलिया के पिता महेश भट्ट से भी बात करते देखा गया।

मच्छरों से छुटकारा, अपनाएं घरेलू उपाय

मच्छरों से छुटकारा, अपनाएं घरेलू उपाय     


सरस्वती उपाध्याय          

गर्मियों में जितना गर्मी परेशान नहीं करती हैं, उससे कही ज्यादा तंग मच्छर कर देते हैं‌‌। जैसे ही मच्छर मारने की कोइल खत्म होती है। वैसे ही ये मच्छर हमला करने लगते हैं‌। जहां हल्का हाथ लगाओ वहीं मच्छर बैठा मिल जाता है। हर समय इन्हें भगाने में ही ध्यान रहता है और चाहे, जितनी कोशिश कर लो, किसी ना किसी कोने में मच्छर छुपकर बस मौके की तलाश में रहते हैं कि कब रेपलेंट (Mosquito Repellent) खत्म हो और कब आकर काट सकें‌। इन मच्छरों से सभी एक बराबर परेशान रहते हैं। कभी-कभी तो लगता है कि गर्मी बर्दाश्त हो सकती है, लेकिन ये मच्छर नहीं‌‌। आपकी भी मच्छरों ने इतनी ही बुरी हालत कर दी है तो ये कुछ घरेलू उपाय आपके काम आ सकते हैं।

1. लहसुन: लहसुन का रस मच्छरों को फूटी आंख नहीं सुहाता. कुछ लहसुन की कलियों को मसलकर पानी में उबाल लें। अब इसे स्प्रे बोतल में भरकर पूरे कमरें में छिड़क लें। कमरे में मौजूद सभी मच्छर भाग जाएंगे
जहां भी आसपास आपको लगता है कि मच्छर अंडे दे सकते हैं या पनप सकते हैं वहां कॉफी पाउडर या कॉफी ग्राउंड्स डाल दें। सब मच्छर और उनके अंडे मर जाएंगेे‌।

2. पुदीना: मच्छरों को पुदीने की खुशबू से चिड़ होती है। पुदीने के तेल को घर में जगह-जगह छिड़क दें। मच्छर आपके घर से दूर रहेंगे।

3. नीम का तेल: शरीर पर मच्छर ना काटें और आपसे दूर रहें, इसके लिए नीम के तेल (Neem Oil) को पानी में मिलाकर या अपने बॉडी लोशन में मिलाकर शरीर पर लगा लें। मच्छर आपके आसपास भी नहीं भटकेंगे।

4. सोयाबीन का तेल: सोयाबीन का तेल भी मच्छरों को आपसे दूर रखता है। रात में इसे शरीर पर लगाकर सोने पर मच्छर आपको नहीं काट पाएंगे।

पीएम मोदी द्वारा किया गया 'संग्रहालय' का उद्घाटन

पीएम मोदी द्वारा किया गया 'संग्रहालय' का उद्घाटन 

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। देश के अब तक के प्रधानमंत्रियों के 'जीवन दर्शन' के संग्रहालय का उद्घाटन पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया। यह संग्रहालय दिल्ली के नेहरू स्मारक म्यूज़ियम में तैयार किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संग्रहालय का पहला टिकट ख़रीदा गया। इस संग्रहालय में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू से लेकर मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक सभी प्रधानमंत्रियों के जीवन दर्शन को विस्तार से संग्रहित किया गया है।

इस संग्रहालय की लागत करीब 271 करोड़ रुपये आई है। इसे 2018 में मंजूरी मिली थी और चार साल के भीतर ये बनकर तैयार हो गया। ये संग्रहालय नेहरू म्यूजियम में करीब 10 हजार वर्ग मीटर की जमीन पर बना है। भारत के संविधान को भी प्रधानमंत्री संग्रहालय में जगह दी गई है।संग्रहालय के लिए सूचना प्रसार भारती, दूरदर्शन, फिल्म प्रभाग, संसद टीवी, रक्षा मंत्रालय, मीडिया घरानों (भारतीय और विदेशी) और विदेशी समाचार एजेंसियों जैसे संस्थानों के साथ संसाधनों और रिपॉजिटरी के माध्यम से एकत्र की गई थी। यहां कुल 43 गैलरी हैं। इसमें स्वतंत्रता संग्राम और संविधान के निर्माण पर प्रदर्शन से शुरू होकर, संग्रहालय यह बताता है कि कैसे हमारे प्रधानमंत्रियों ने विभिन्न चुनौतियों के माध्यम से देश को नेविगेट किया और देश की सर्वांगीण प्रगति सुनिश्चित की।

पीएमओ ने किया ट्वीट: पीएमओ ने ट्वीट कर कहा- “देश के हर प्रधानमंत्री ने संविधान सम्मत लोकतंत्र के लक्ष्यों की पूर्ति में भरसक योगदान दिया है। उन्हें स्मरण करना स्वतंत्र भारत की यात्रा को जानना है। यहां आने वाले लोग देश के पूर्व प्रधानमंत्रियों की योगदान से रूबरू होंगे, उनकी पृष्ठभूमि, उनके संघर्ष सृजन को जानेंगे”।

6 एयरबैग की अनिवार्यता, महंगी होंगी पैसेंजर कार

6 एयरबैग की अनिवार्यता, महंगी होंगी पैसेंजर कार     

अकांशु उपाध्याय              

नई दिल्ली। मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने कहा कि पैसेंजर कारों में 6 एयरबैग की अनिवार्यता उन्हें और ज्यादा महंगा बना देगी। इससे वाहन निर्माताओं की बिक्री पर असर होगा। उन्होंने कहा कि इस कदम से उन कंपनियों पर और दबाव पड़ेगा जो पहले से ही कच्चे माल की बढ़ी हुई लागत से वाहन की कीमतों को लेकर संघर्ष कर रही हैं। केंद्र सरकार ने जनवरी में एक प्रस्ताव जारी किया था। जिसमें 1 अक्टूबर से निर्मित सभी यात्री कारों में छह एयर बैग अनिवार्य कर दिए थे। सरकार की ओर से उठाया गया यह कदम सड़क सुरक्षा बढ़ाने की उपायों में से एक है। फिलहाल इसे अभी तक अंतिम रूप नहीं दिया गया है।

महामारी के कारण छोटी कारों की बिक्री में पहले से ही काफी गिरावट चल रही है। 6 एयरबैग का नियम आने से उनकी लागत में बढ़ोतरी होगी, इससे उनकी बिक्री को और नुकसान होगा। इसका सबसे बड़ा असर छोटी कार बाजार पर होगा। ग्राहक अधिक महंगी कारों का खर्च नहीं उठा सकते।

इतनी महंगी हो जाएगी कारें...

देश में बनने वाली सभी कारों में ड्राइवर और फ्रंट पैसेंजर एयरबैग देना पहले से ही अनिवार्य है। ऑटो मार्केट डेटा प्रदाता JATO डायनेमिक्स के अनुसार, चार और एयरबैग के जुड़ने से लागत में 17,600 रुपये की वृद्धि होगी। जाटो इंडिया के अध्यक्ष रवि भाटिया ने कहा कि कुछ मामलों में लागत और भी अधिक हो सकती है, क्योंकि कंपनियों को कार की संरचना में इंजीनियरिंग में बदलाव करने की आवश्यकता होगी।

मेघालय के राज्यपाल ने सरकार पर साधा निशाना

मेघालय के राज्यपाल ने सरकार पर साधा निशाना 

इकबाल अंसारी      

शिलोंग। मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार मोदी सरकार पर निशाना साधा है। मलिक ने कहा कि जम्मू कश्मीर का राज्यपाल रहते हुए करोड़ो की रिश्वत ऑफर पर जब सीबीआई  पूछेगी तो मैं उनका नाम बता  दूंगा।   मलिक ने कहा कि जब मैंने यह बात पीएम नरेंद्र मोदी को बताई तो उन्होंने मेरा समर्थन  किया। पीएम ने कहा कि भ्रष्ट्राचार से कोई समझौता नहीं करेंगे। सत्यपाल मलिक ने हनुमानगढ़ जिले के संगरिया में एक कार्यक्रम में यह बात कही। मलिक ने कहा कि यूपी में भाजपा को बसपा की वजह से जीत मिली है। बसपा ने परदे के पीछे समर्थन दिया। इसकी वजह से भाजपा को जीत मिली। 

मलिक बोले- गेहूं क्या पीएम मोदी का है ?

मलिक ने किसानों के मामले पर केंद्र सरकार पर फिर से निशाना साधा। मलिक ने कहा कि पीएम मोदी गेहूं निर्यात की बात करते हैं। गेहूं क्या पीएम मोदी का है। मलिक ने  अडाणी- अंबानी को मोदी का दोस्त बताया। मलिक ने कहा कि किसान आंदोलन फिर से होगा। बड़े स्तर पर होगा। एमएसपी किसानों की लाइफलाइन है। सरकार इस मुद्दे को गंभीरता से नहीं ले रही है। उल्लेखनीय है कि हाल में पीएम मोदी ने गेहूं निर्यात करने की बात कही थी। 

जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल व मेघालय के मौजूदा राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दावा किया था कि जब वे जम्मू कश्मीर के राज्यपाल थे तब उन्हें 300 करोड़ रुपये की रिश्वत देने की पेशकश की गई थी। यह पेशकश 'अंबानी' और 'आरएसएस से संबद्ध व्यक्ति' की दो फाइलों को मंजूरी देने के एवज में दी जाना थी, लेकिन उन्होंने यह डील निरस्त कर दी। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा कि उस वक्त पीएम ने उनसे कहा था कि वह भ्रष्टाचार से कोई समझौता ना करें।

हत्या के झूठे मुक़दमे से बरी होने में 16 साल लगें

हत्या के झूठे मुक़दमे से बरी होने में 16 साल लगें  


भानु प्रताप उपाध्याय               

मुजफ्फनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फनगर में 70 साल के एक बुजुर्ग को ट्रक ड्राईवर की हत्या के एक झूठे मुक़दमे से बरी होने में 16 साल लग गए। इस दौरान इस बुजुर्ग ट्रक ड्राईवर को तक़रीबन डेढ़ साल तक जेल में भी रहना पड़ा, जिसके चलते जहां इनकी पत्नी को पैरालाइज हो गया तो वहीं इनके इकलौते बेटे की नौकरी भी छूट गई।

दरअसल, 19 जनवरी 2006 को मुज़फ्फरनगर जनपद की इंद्रा कॉलोनी निवासी शरमानंद शर्मा ने थाना सिविल लाइन को सूचना दी थी कि उनके ट्रक का ड्राइवर राकेश ट्रक में मृत पड़ा है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल करते हुए राकेश की मौत को एक्सीडेंटल मानते हुए अपनी आगे की कार्यवाही शुरू कर दी थी। हालांकि, बाद में मृतक राकेश के भाई विनोद ने ट्रक मालिक शरमानंद शर्मा और उनके बेटे अमित पर पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप लगाया था।

पुलिस ने फिर मामले की जांच के दौरान इसमें शरमानंद के दूसरे ड्राइवर भोपाल शर्मा को भी आरोपी बना दिया था। भोपाल शर्मा को ट्रक की जमानत कराने के लिए ट्रक मालिक शरमानंद शर्मा सामने लाया था। वहीं जांच के दौरान पुलिस द्वारा 2009 में मुकदमे को हत्या की धाराओं में तब्दील कर दिया गया था। मुकदमे की सुनवाई के दौरान आरोपी शरमानंद शर्मा की मौत हो गई थी, जिसके चलते तारीख पर न जाने से दूसरे आरोपी भोपाल सिंह के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट (एनबीडब्लू) जारी कर दिए गए थे।

काफी दिनों तक कोर्ट में पेश न होने पर पुलिस ने उन्हें भगोड़ा घोषित कर दिया था, जिसके बाद पुलिस ने 24 जनवरी, 2021 को भोपाल सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया‌। तक़रीबन डेढ़ साल तक जेल में रहने के बाद एडीजे-10 कमलावती की कोर्ट में इस केस की सुनवाई हुई, जिसमें गवाह के पक्षद्रोही होने पर साक्ष्य के आभाव में भोपाल शर्मा को 8 अप्रैल 2022 को बरी कर दिया था।

मानवता को सत्य-अपरिग्रह की शिक्षा दीं: राष्ट्रपति

मानवता को सत्य-अपरिग्रह की शिक्षा दीं: राष्ट्रपति   

अकांशु उपाध्याय       
नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बृहस्पतिवार को महावीर जयंती के अवसर पर देशावासियों को शुभकामनाएं दीं और उम्मीद जताई, कि लोग उनके सिद्धांतों पर चलते हुए वैश्विक शांति तथा पारस्परिक सद्भाव के लिए कार्य करेंगे।

राष्ट्रपति भवन ने राष्ट्रपति कोविंद के हवाले से ट्वीट किया, ‘‘ सभी देशवासियों, विशेषकर जैन समुदाय के लोगों को महावीर जयंती की शुभकामनाएं। भगवान महावीर अहिंसा की साक्षात प्रतिमूर्ति थे।

उन्होंने मानवता को सत्य और अपरिग्रह की शिक्षा दी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ मेरी कामना है कि उनके सिद्धांतों पर चलते हुए, हम वैश्विक शांति तथा पारस्परिक सद्भाव के लिए कार्य करें।’’

महावीर जयंती 24वें और अंतिम जैन तीर्थंकर भगवान महावीर के जन्म दिवस के अवसर पर मनाई जाती है।

राष्ट्रपति ने वैशाखी, विशु, रोंगाली बिहू, नब बर्ष, वैशाखड़ी और पुतान् दु पिरापु पर सभी देशवासियों को शुभकामनाएं दी।

उन्होंने कहा, ‘‘ देश के अलग-अलग क्षेत्रों में विभिन् न तौर-तरीकों से मनाए जाने वाले ये त् योहार हमारी विविधता और बहुलता को दर्शाते हैं। मेरी मंगल कामना है कि ये पर्व सभी के जीवन में खुशहाली लाएं।

नेताओं ने अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया

नेताओं ने अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया   

दुष्यंत टीकम          
रायपुर। डॉ. भीमराव अंबेडकर की बृहस्पतिवार को 131वीं जयंती है। इस अवसर पर बीजेपी के नेताओं ने राजधानी रायपुर के अंबेडकर चौक पर स्थित डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया।
इस दौरान भाजपा प्रभारी डी पुरंदेश्वरी, राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिव प्रकाश, पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह और सांसद सुनील सोनी भी मौजूद रहे। पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह ने कहा कि डॉ. अंबेडकर सामाजिक समरसता के अग्रदूत रहे हैं। जिन्होंने न केवल भारत के संविधान की स्थापना की, बल्कि ऐसा मार्ग बताया जो भारत की संस्कृति और संस्कार से जुड़ा हुआ है। बाबा साहेब भारत के विभाजन के घोर विरोधी थे। उन्होंने 370 जैसी अनुपयोगी धारा को नहीं लगाने का विरोध किया था, उनके बनाए हुए संविधान के भरोसे भारत की एकता और अखंडता की मजबूत हुई है। उनकी सोच काफी मजबूत थी। उन्होंने इस देश के लोगों को एक सूत्र में बांधने का काम किया।
इसके पहले पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ट्वीट कर बाबा साहेब को नमन किया। उन्होंने कहा कि भारत रत्न बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर समतामूलक समाज के प्रणेता और आधुनिक भारत के स्वप्नदृष्टा थे, उन्होंने वंचितों के कल्याण के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। उन्होंने समानता और सामाजिक समरसता की देश को दिशा दिखाई है। 

कार्बन एमिशन की तीव्रता, वैश्विक स्तर पर कार्य

कार्बन एमिशन की तीव्रता, वैश्विक स्तर पर कार्य   

सरस्वती उपाध्याय       
पर्यावरण के प्रति प्रतिबद्धता के अनुरूप, भारत 2070 तक नेट ज़ीरो के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कार्बन एमिशन की तीव्रता को कम करने के लिए वैश्विक स्तर पर लगातार काम कर रहा है।  
भारत में बिजली उत्पादन के स्त्रोतों पर नज़र डालें तो यह क्षेत्र वैसे तो दुनिया भर का सबसे विविध बिजली उत्पादन क्षेत्रों में से एक है‌। लेकिन भारत में कोयले द्वारा तापीय विद्युत उत्पादन कुल उत्पादन क्षमता का लगभग 62% है। ऐसे में पारंपरिक बिजली से स्वच्छ ईंधन-आधारित ऊर्जा उत्पादन में ट्रांज़िशन के लिए, एक समग्र दृष्टिकोण के माध्यम से, कोयला खदान श्रमिकों के हितों की रक्षा करना बेहद ज़रूरी है। एनेर्जी ट्रांज़िशन के नाम पर उन लोगों और उनसे जुड़े परिवारों को अनदेखा नहीं किया जा सकता, जिनका जीवन और एक लिहाज से अस्तित्व कोयला खदानों से जुड़ा है।  
उनकी आर्थिक मजबूरीयों को दूर करने के लिए एक कौशल विकास कार्य योजना तैयार करनी होगी। साथ ही, उनका पुनर्वास सुनिश्चित करने के लिए, उनको किसी नए रोजगार के लिए प्रशिक्षित करने का मजबूत ढांचा भी तैयार करना होगा। 
रिपोर्ट के लॉन्च पर बोलते हुए, ईवाई में पार्टनर और लीडर (पावर एंड यूटिलिटीज) जीपीएस, सोमेश कुमार ने कहा, “पर्यावरण के प्रति भारत की प्रतिबद्धताओं को देखते हुए, देश अब कोयला आधारित ऊर्जा से रीन्यूब्ल एनेर्जी में ट्रांज़िशन के लिए कमर कस रहा है। फ़िलहाल भारत में जस्ट ट्रांज़िशन या न्यायसंगत एनेर्जी ट्रांज़िशन एक उभरता हुआ विषय है, लेकिन अब वक़्त है इसके रणनीतिबद्ध तरीके से सर्वांगीण विकास को सुनिश्चित करने का। ऐसा इसलिए ज़रूरी है क्यों की कोयला आधारित बिजली उत्पादन की पूरी मूल्य शृंखला में अनगिनत परिवार जुड़े हैं। और इस ट्रांज़िशन के न्यायसंगत होने के लिए उन परिवारों के हितों का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है। यह जरूरी है कि कोयला श्रमिकों को कोयला क्षेत्र से बाहर निकलने में मदद दी जाए और उन्हें दूसरे वैकल्पिक रोजगारों के लिए आवश्यक कौशल प्रदान किया जाए।” 
आगे, जीपीएस के पार्टनर और लीडर (सोशल एंड स्किल्स सेक्टर) अमित वात्स्यायन कहते हैं, “कोयला खदान श्रमिकों के कौशल और उद्यमिता विकास पर ही जस्ट ट्रांज़िशन की सफलता और प्रासंगिकता टिकी हुई है। ऐसा करना कोयले पर निर्भर क्षेत्रों के आर्थिक विविधीकरण को सुनिश्चित करेगा और इन क्षेत्रों में निवेश को भी आकर्षित करेगा। यह रिपोर्ट एक ऐसे ट्रांज़िशन ढांचे के विकास पर केंद्रित है जिसका उपयोग जिलों या राज्यों द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिए किया जा सकता है कि न सिर्फ़ प्रभावित कोयला खदान श्रमिकों की आजीविका में व्यवधान कम से कम हो, उन्हें पर्याप्त अवसर भी प्रदान किए जाएं। इस ट्रांज़िशन को जस्ट या न्यायसंगत तब ही कहा जा सकता है जब सबसे गरीब और सबसे आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के हितों की रक्षा की जाती है।” 
एक न्यायपूर्ण परिवर्तन की आवश्यकता पर जोर देते हुए , विपुल तुली, अध्यक्ष, फिक्की पावर कमेटी और सीईओ-दक्षिण एशिया, सेम्बकॉर्प इंडस्ट्रीज ने कहा, "कोयले से दूर होने से देश पर दूरगामी प्रभाव पड़ेंगे। यह पूरी कार्य योजना, इसकी लागत, पुनर्नियोजन और इससे जुड़े तमाम पक्ष राष्ट्रीय और बहुपक्षीय स्तर पर महत्व रखता है। "  

रिपोर्ट की मुख्य बातें...

जैसे-जैसे ऊर्जा क्षेत्र में थर्मल से नवीकरणीय स्रोत की ओर झुकाव बढ़ेगा, ऊर्जा की मांग भी बढ़ेगी जिससे कोयले पर निर्भरता भी आने वाले वर्षों में और बढ़ने की उम्मीद है। इसलिए, भारत के सामने एक दोहरी चुनौती है - अपने ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करना और थर्मल क्षेत्र से जुड़े कार्यबल का सही प्रबंधन करना। भारत में लगभग 50% खदानें अत्यधिक लाभहीन हैं और जल्द ही बंद हो सकती हैं जिससे उन खदानों में श्रमिकों की आजीविका प्रभावित हो सकती है। 
कार्यबल पर बदलाव का प्रभाव 
कोयला खदानों से 7.25 लाख से अधिक प्रत्यक्ष रोजगार और कई अप्रत्यक्ष रोजगार सृजित होते हैं। पुराने कोयला संयंत्रों के बंद होने और खदानों के बंद होने से पांच राज्यों पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड और महाराष्ट्र में हजारों कोयला खदान श्रमिकों की आजीविका में व्यवधान का खतरा है। उनमें से ज्यादातर ब्लू-कॉलर कार्यकर्ता हैं। जिन्हें समय के नए कौशल के साथ कुशल बनाने की आवश्यकता है। प्रत्यक्ष श्रमिकों के अलावा, खनन जिलों की पूरी अर्थव्यवस्था कोयले से संबंधित गतिविधियों के इर्द-गिर्द घूमती है, और समुदायों ने पीढ़ियों से इस पर भरोसा किया है। 
'जस्ट ट्रांजिशन' की अवधारणा 
'जस्ट ट्रांजिशन' कोयला खदान श्रमिकों की आजीविका के संभावित नुकसान के कारण आर्थिक कमजोरियों को संबोधित करता है। वैकल्पिक उद्योगों में खनिकों के पुन: एकीकरण के लिए आर्थिक विविधीकरण और आजीविका को बढ़ावा देने की सुविधा पर जोर देना महत्वपूर्ण है। विभिन्न रीस्किलिंग कार्यक्रम प्रभावित खनिकों को कोयला खनन उद्योग से बाहर निकलने के लिए नए कौशल और संसाधन हासिल करने में सक्षम बनाएंगे। उद्यमिता विकास और एमएसएमई को बढ़ावा देना कोयला पर निर्भर उद्योग कस्बों की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने और विविधता लाने में प्रमुख कारक होंगे। 
राज्य कौशल कार्य योजना 
रिपोर्ट में कौशल कार्य योजनाओं की रूपरेखा दी गई है। जो परिवर्तनशील खनिकों के लिए उद्योग-प्रासंगिक कौशल और आजीविका संवर्धन हस्तक्षेपों को डिजाइन करने में मदद करने के लिए कार्यों के खाके/ढांचे के रूप में कार्य करेगी। ये योजनाएं राज्यों को श्रमिकों की संक्रमण संबंधी जरूरतों को पूरा करने की रणनीति के साथ नेतृत्व करने के लिए सशक्त बनाएंगी। कौशल कार्य योजना के घटकों में निम्नलिखित शामिल हैं‌, 
संभावित नौकरी के नुकसान का अनुमान लगाते हुए भौगोलिक समूहों की पहचान...
लक्षित जनसंख्या का आकलन - खनिक।
प्रमुख उद्योग चालकों और अनिवार्यताओं की पहचान 
चल रहे कौशल वृद्धि और आजीविका सहायता कार्यक्रमों में तालमेल बनाना।
वित्त पोषण और कार्यक्रम वितरण सहायता के लिए सहयोग और संस्थागत सुदृढ़ीकरण।
अभिसरण कार्यक्रम वितरण को साकार करने के लिए पदाधिकारियों की क्षमता निर्माण 
खनिकों को कार्यक्रमों के लाभों का आकलन करने के लिए निगरानी और प्रभाव मूल्यांकन।
ज्ञान प्रबंधन-रेडी रेकनर्स, वैश्विक और राष्ट्रीय सर्वोत्तम प्रथाओं आदि का भंडार।

यूक्रेन को कई अत्याधुनिक उपकरण प्रदान: यूएसए

यूक्रेन को कई अत्याधुनिक उपकरण प्रदान: यूएसए  

सुनील श्रीवास्तव      

वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन के हालिया रक्षा पैकेज के एक हिस्से के रूप में अमेरिका यूक्रेन को हॉवित्जर आर्टिलरी सिस्टम और एमआई -17 परिवहन हेलीकॉप्टर सहित कई अत्याधुनिक उपकरण प्रदान करेगा। अमेरिकी रक्षा विभाग के मुख्यालय पेंटागन ने इसकी जानकारी दी है।

इस पैकेज में जिन उपकरणों को शामिल किया जा रहा है। उनमें 155 मिमी की 18 होवित्जर तोपें, 40,000 गोले, 300 स्विचब्लेड ड्रोन, 500 जेवलिन एंटी-आर्मर मिसाइल, 200 सैन्य परिवहन हेलीकॉप्टर एम113 और 11 एमआई-17 हेलीकॉप्टर सहित कई और भी हैं।

अभिनेत्री ने फिल्म 'मिस्टर मम्मी' की शूटिंग पूरी की

अभिनेत्री ने फिल्म 'मिस्टर मम्मी' की शूटिंग पूरी की  


कविता गर्ग              

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री जेनेलिया डिसूजा ने अपनी आने वाली फिल्म 'मिस्टर मम्मी' की शूटिंग पूरी कर ली है। भूषण कुमार की टी-सीरीज़ और हेक्टिक सिनेमा प्रा. लिमिटेड की फिल्म मिस्टर मम्मी में रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा की जोड़ी नजर आयेगी।जेनेलिया डिसूजा ने अपने हिस्से की शूटिंग पूरी कर ली है। जेनेलिया ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपनी टीम को टैग कर एक प्यारी सी पोस्ट शेयर की जिसपर लिखा था, ए फन क्रू ! हमें पूरा विश्वास है कि इस कॉमेडी-ड्रामा फिल्म में निश्चित रूप से एक शानदार क्रू काम कर रही है, जिसकी स्टोरी लाइन सभी को गुद-गुदाएगी। 

बताया जा रहा है कि फिल्म मिस्टर मम्मी की कहानी एक ऐसे जोड़े के इर्द गिर्द घूमती है, जिनकी विचारधारा जब बच्चे की बात आती है तो एक दूसरे से बिलकुल अलग हो जाती है, लेकिन नियति इन चाइल्डहुड स्वीटहार्ट के जीवन में कॉमेडी, ड्रामा, के साथ कुछ अलग ही ट्विस्ट लेकर आती है। टी-सीरीज़ फ़िल्म्स और हेक्टिक सिनेमा प्राइवेट लिमिटेड प्रोडक्शन की फिल्म मिस्टर मम्मी का निर्देशन शाद अली कर रहे हैं। इस फिल्म का निर्माण भूषण कुमार, कृष्ण कुमार, शाद अली और शिव अनंत कर रहे हैं।

पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बदलाव नहीं: कंपनी

पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बदलाव नहीं: कंपनी  

अकांशु उपाध्याय        

नई दिल्ली। देश में तेल विपणन करने वाली कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दामों में पिछले आठ दिन से कोई बदलाव नहीं किया है। जिसके कारण गुरुवार को भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें स्थिर रहीं। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन की मूल्य अधिसूचना के अनुसार, दिल्ली में पेट्रोल 105.41 रुपये प्रति लीटर और डीजल 96.67 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। वहीं, मुंबई में पेट्रोल की कीमत 120.51 रुपये प्रति लीटर और डीजल के दाम 104.77 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर हैं। चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 110.85 रुपये और डीजल की कीमत 100.94 रुपये पर बरकरार है। कोलकाता में पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमश: 115.12 और 99.83 रुपये है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव के बीच लंदन ब्रेंट क्रूड आज 0.27 प्रतिशत गिरकर 108.49 डालर प्रति बैरल पर और अमेरिकी क्रूड 0.57 प्रतिशत की गिरावट के साथ 103.66 डालर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा है।

अभिनेत्री कंगना की फिल्म 'धाकड़' का टीजर रिलीज

अभिनेत्री कंगना की फिल्म 'धाकड़' का टीजर रिलीज 

कविता गर्ग         

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत की आने वाली फिल्म 'धाकड़' का टीजर रिलीज कर दिया गया है।कंगना रनौत की आने वाली फिल्म 'धाकड़' का टीजर रिलीज कर दिया गया है। कंगना ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर कर फैंस को इस बात की जानकारी दी है। कंगना ने इसके कैप्शन में लिखा है, "एक्शन। स्टाइल। थ्रिल। ऑल इन वन एजेंट अग्नि इज हेयर!"

कंगना फिल्म धाकड़ में एक नए अवतार में दिखेंगी। एजेंट अग्नि के रूप में, कंगना ने अपने सात अलग-अलग लुक और कई कॉम्बेट सीन्स से लोगों को सरप्राइज कर दिया है। यह फिल्म 20 मई 2022 को रिलीज होगी।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-188, (वर्ष-05)
2. शुक्रवार, अप्रैल 15, 2022
3. शक-1984, चैत्र, शुक्ल-पक्ष, तिथि-चतुर्दशी, विक्रमी सवंत-2078। 
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 25 डी.सै., अधिकतम-41+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न    सुशील केसरवानी         कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी शशिकान्त त्रिपाठी की अध्यक्षता में उद...