राजनीति लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
राजनीति लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 1 दिसंबर 2022

बराड़ की गिरफ्तारी हेतु सूचना, 2 करोड़ का इनाम

बराड़ की गिरफ्तारी हेतु सूचना, 2 करोड़ का इनाम

अमित शर्मा 

चंडीगढ़। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ने बृहस्पतिवार को केंद्र सरकार से मांग की कि उनके पुत्र की हत्या के षड्यंत्रकारी व कनाडा स्थित ‘गैंगस्टर’ गोल्डी बराड़ की गिरफ्तारी में मदद करने वाली कोई सूचना देने वाले को दो करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा की जाए। सिंह ने कहा कि अगर सरकार इतनी बड़ी रकम देने में असमर्थ है, तो वह अपनी जेब से इनाम देने को तैयार हैं।

उन्होंने कहा, "मैं वादा करता हूं कि अगर वह (सरकार) इतनी राशि नहीं दे सकती है, तो मैं अपनी जेब से पैसे दूंगा, भले ही मुझे अपनी जमीन बेचनी पड़े।" सिंह ने अमृतसर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ऑस्ट्रेलियाई पुलिस का एक उदाहरण दिया, जिसने चार साल पहले एक महिला की हत्या करने के बाद वहां से भाग गए भारतीय मूल के एक नागरिक की गिरफ्तारी के लिए 10 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर के इनाम की घोषणा की थी।

सिंह ने मांग की कि बराड़ को भारत लाया जाना चाहिए, ताकि वह अपने अपराधों के लिए यहां कानून का सामना कर सके। सिद्धू मूसेवाला के नाम से मशहूर शुभदीप सिंह सिद्धू की 29 मई को पंजाब के मानसा जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के सदस्य बराड़ ने हत्या की जिम्मेदारी ली थी।

नेताओं-बुजुर्गों के बारे में बोलते हैं, सुनने की हिम्मत रखें 

नेताओं-बुजुर्गों के बारे में बोलते हैं, सुनने की हिम्मत रखें 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए कहा कि जब वह उसके नेताओं एवं बुजुर्गों के बारे में बोलते हैं, तो सुनने की भी हिम्मत रखनी चाहिए। मुख्य विपक्षी दल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी कांग्रेस संसदीय दल की प्रमुख सोनिया गांधी का कई बार अपमान कर चुके हैं और संसद के भीतर उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का भी मजाक बनाया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की ‘रावण’ वाली टिप्पणी का उल्लेख करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि प्रमुख विपक्षी दल के नेताओं के बीच उन्हें गाली देने की होड़ मची है। खरगे से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री ने मोदी के खिलाफ ‘औकात’ बता देने संबंधी टिप्पणी की थी। प्रधानमंत्री के ताजा हमले को लेकर उन पर पलटवार करते हुए कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘‘उसका क्या जब कई मौकों पर प्रधानमंत्री ने सोनिया गांधी जी का बहुत ही घिनौने शब्दों में अपमान किया तथा डॉक्टर मनमोहन सिंह का संसद के भीतर मजाक बनाया।’’ कांग्रेस के मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा ने कहा, ‘‘हमारे नेताओं और बुजुर्गों के बारे में बोलते रहते हैं, तो सुनने की भी हिम्मत रखिए।

‘जर्सी गाय’, ‘कांग्रेस की विधवा’, ‘शूर्पणखा’ ‘बाथरूम में रेनकोट पहनकर नहाना’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल प्रधानमंत्री ने खुद किया है।’’ उल्लेखनीय है कि खरगे ने गुजरात में सोमवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री सभी चुनावों में लोगों से “उनका चेहरा देखकर वोट करने” के लिए कहते हैं। खरगे ने पूछा था, ‘‘क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं।’’ खरगे की टिप्पणी को भाजपा ने गुजरात के लोगों का अपमान करार दिया है।

50 किलोमीटर से अधिक लंबा 'पीएम' का रोड शो

50 किलोमीटर से अधिक लंबा 'पीएम' का रोड शो

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अहमदाबाद शहर में 50 किलोमीटर से अधिक लंबा ‘रोड शो’ बृहस्पतिवार शाम नरोदा गांव से शुरू हुआ। शाम लगभग पांच बजकर 20 मिनट पर शुरू हुए ‘रोड शो’ के दौरान मार्ग के दोनों ओर बड़ी संख्या में लोगों ने फूल बरसाकर प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया।

विशेष रूप से डिजाइन किए गए वाहन पर खड़े होकर प्रधानमंत्री ने भीड़ की ओर हाथ हिलाकर उनका अभिवादन किया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक विज्ञप्ति में बताया कि ‘रोड शो’ अहमदाबाद के पूर्वी हिस्से से होकर गुजरेगा और शहर के पश्चिमी हिस्से में चांदखेड़ा क्षेत्र में आईओसी सर्कल पर समाप्त होगा।

विज्ञप्ति के अनुसार, ‘रोड शो’ हीरावाडी, हाटकेश्वर, मणिनगर, दनिलिम्दा, जीवराज पार्क, घाटलोदिया, नारनपुरा और साबरमती सहित शहर के विभिन्न हिस्सों से होकर गुजरेगा। इसके अनुसार, इसमें अहमदाबाद शहर के साथ-साथ गांधीनगर-दक्षिण की 13 विधानसभा सीट को शामिल किया जाएगा। गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में बृहस्पतिवार को 89 सीट के लिए मतदान हुआ और दूसरे चरण में शेष 93 सीट के लिए मतदान होगा।

किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार 'पार्टी'

किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार 'पार्टी'

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) की विधान परिषद सदस्य के. कविता ने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) तथा केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जैसी केंद्रीय एजेंसियों के निशाने पर आई वह और उनकी पार्टी के नेता किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार हैं। वह उन खबरों पर प्रतिक्रिया दे रही थीं, जिनमें कहा गया है ईडी ने दिल्ली शराब घोटाला मामले के आरोपियों में से एक अमित अरोड़ा की रिमांड रिपोर्ट में उनके नाम का उल्लेख किया गया है। कविता ने कहा, ‘‘हम किसी भी तरह की जांच का सामना करेंगे। अगर एजेंसियां आती हैं और हमसे सवाल करती हैं तो हम निश्चित तौर पर जवाब देंगे।

लेकिन मीडिया को चुनिंदा सूचनाएं लीक करके नेताओं की छवि बिगाड़ना... लोग इसे खारिज कर देंगे।’’ उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित आठ राज्य सरकारों को अपदस्थ करने तथा पिछले दरवाजे की राजनीति से सत्ता छीनने का आरोप लगाया। कविता ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उन्हें तथा अन्य नेताओं को किसी भी गलत काम का दोषी साबित कर जेल में रखने की चुनौती दी। उन्होंने कहा, "मैं मोदी से अनुरोध करती हूं कि इस रवैये को बदलें। ईडी और सीबीआई का इस्तेमाल कर चुनाव जीतना संभव नहीं है। तेलंगाना के लोगों के साथ यह बहुत मुश्किल है, जो चतुर हैं।" कविता ने कहा, ‘‘अगर आप कहते हैं कि आप हमें जेल में रखेंगे, तो यह करें। क्या होगा? डरने की कोई बात नहीं है। क्या आप हमें फांसी देंगे? ज्यादा से ज्यादा आप हमें जेल में रखेंगे। बस इतना ही।"

उन्होंने कहा कि चुनाव वाले राज्यों में ईडी और सीबीआई जैसी एजेंसियों को भेजने का नियमित चलन बन गया है। तेलंगाना में अगले साल नवंबर या दिसंबर में विधानसभा चुनाव होगा। कविता ने कहा, ‘‘चुनावी राज्यों में मोदी के पहुंचने से पहले ईडी पहुंच जाती है।’’ टीआरएस पार्टी के कार्यकर्ता एकजुटता व्यक्त करते हुए बड़ी संख्या में उनके आवास पर एकत्रित हो गए।

उन्होंने कहा कि जब तक टीआरएस लोगों के कल्याण के लिए काम करेगी, तब तक कुछ नहीं होगा। ईडी ने कहा, ‘‘अब तक की गई जांच के अनुसार, विजय नायर ने आप के नेताओं की ओर से साउथ ग्रुप (सरथ रेड्डी, के. कविता, मगुंटा श्रीनिवासुलु रेड्डी द्वारा नियंत्रित) नामक एक समूह से अमित अरोड़ा सहित विभिन्न व्यक्तियों के जरिए कम से कम 100 करोड़ रुपये की घूस प्राप्त की है।’’

एजेंसी ने कहा कि यह ‘‘खुलासा’’ अमित अरोड़ा ने अपना बयान दर्ज कराने के दौरान किया। अधिकारियों ने कविता की पहचान विधान परिषद सदस्य एवं तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की पुत्री के रूप में की। बाद में, एक ट्वीट में कविता ने कहा कि राव द्वारा भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) का गठन किए जाने से भाजपा बेचैन हो गई है, लेकिन टीआरएस कैडर के लिए नफरत और उन्हें डराने-धमकाने से काम नहीं चलेगा।

महिला ने किया सवाल, केजरीवाल का करारा जवाब

महिला ने किया सवाल, केजरीवाल का करारा जवाब

अकांशु उपाध्याय 

ई दिल्ली। दिल्ली में चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल प्रचार में जुटे हैं। इस दौरान एक महिला ने केजरीवाल से सवाल किया कि आपने मफलर क्यों नहीं पहनाइसके जवाब में केजरीवाल ने कहा- अभी ठंड नहीं आई है।

दरअसलकेजरीवाल अपने प्रत्याशियों के सर्मथन में लोगों से मुलाकात कर रहे थे। इस दौरान दिल्ली की जनता भी केजरीवाल के साथ सेल्फी लेने में जुटी थी। तभी केजरीवाल उस महिला के पास पहुंचते हैंजिसने उनसे मफलर न पहनने को लेकर सवाल किया। महिला के इस सवाल पर केजरीवाल भी हंसी नहीं रोक पाए और कहा कि अभी इतनी भी सर्दी नहीं आई है कि मफलर पहनूं।

दिल्ली नगर निगम चुनाव के लिए दिसंबर को मतदान होना है। दिसंबर को वोटों की गिनती होगी और रिजल्ट आएगा। पहले ये चुनाव अप्रैल में होने थेलेकिन तीनों निगमों के एकीकरण के फैसले के चलते चुनाव में देरी हुई। एमसीडी चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 14 नवंबर थी।

सरकार की लूट जारी, एक रुपया भी कम नहीं

सरकार की लूट जारी, एक रुपया भी कम नहीं

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत पिछले 10 महीनों के सबसे निचले स्तर पर है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार की ‘लूट’ जारी है। मुख्य विपक्षी दल ने यह भी कहा कि कच्चे तेल के दाम में आई गिरावट को देखते हुए देश में पेट्रोल एवं डीजल की कीमत 10 रुपये प्रति लीटर घट सकती है, लेकिन केंद्र सरकार ने एक रुपया भी कम नहीं किया।

पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने ट्वीट किया, ‘‘16 मई, 2014 को कच्चे तेल की कीमत 107.09 डॉलर प्रति बैरल थी। उस समय दिल्ली में पेट्रोल का दाम 71.51 रुपये और डीजल का दाम 57.28 रुपये प्रति लीटर था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक दिसंबर, 2022 को कच्चे तेल की कीमत 87.55 डॉलर प्रति बैरल थी। आज दिल्ली में पेट्रोल का दाम 96.72 रुपये प्रति लीटर और डीजल का दाम 89.62 रुपये प्रति लीटर है।’ ’खरगे ने आरोप लगाया, ‘‘कच्चे तेल की कीमत 10 महीने के सबसे निचले स्तर पर है, लेकिन भाजपा की लूट ऊंची बनी हुई है।’’ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भारत की जनता महंगाई से त्रस्त है, जबकि प्रधानमंत्री अपनी वसूली में मस्त हैं।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘पिछले 6 महीनों में कच्चा तेल 25 प्रतिशत से ज़्यादा सस्ता हो गया है। देश में पेट्रोल-डीज़ल के दाम 10 रुपये से ज़्यादा घटाए जा सकते हैं, लेकिन सरकार ने एक रुपया भी कम नहीं किया। भारत की जनता महंगाई से त्रस्त है, जबकि प्रधानमंत्री अपनी वसूली में मस्त हैं।’’ उल्लेखनीय है कि दिल्ली में वर्तमान में पेट्रोल की कीमत 96.72 रुपये प्रति लीटर और डीजल का दाम 89.62 रुपये प्रति लीटर है।

बुधवार, 30 नवंबर 2022

राज्य के 'सम्मान और गौरव' के रूप में उभरे मोदी 

राज्य के 'सम्मान और गौरव' के रूप में उभरे मोदी 

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर/अहमदाबाद। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को कहा कि महात्मा गांधी और वल्लभभाई पटेल 20वीं सदी में गुजरात के सम्मान व गौरव के प्रतीक थे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21वीं सदी में राज्य के 'सम्मान और गौरव' के रूप में उभरे हैं। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए एक दिसंबर को होने वाले पहले चरण के मतदान से पहले यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खरगे की प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ ‘‘रावण’’ वाली टिप्पणी ‘‘पूरे कांग्रेस नेतृत्व’’ की मानसिकता को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि गुजरात के लोग उन व्यक्तियों को करारा जवाब देंगे, जिन्होंने प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल किया, जो “गुजरात का सम्मान और गौरव हैं।”

उन्होंने कहा, “महात्मा गांधी और सरदार पटेल जहां 20वीं सदी में गुजरात के सम्मान और गौरव के प्रतीक थे, वहीं हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21वीं सदी में गुजरात के सम्मान और गौरव के रूप में उभरे हैं। और आज, हमारे प्रधानमंत्री के लिए कांग्रेस द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग किया जा रहा है।” गुजरात की 182 विधानसभा सीटों में से 89 पर बृहस्पतिवार को पहले चरण में मतदान होगा। राजनाथ ने कहा कि अन्य विपक्षी दल भी प्रधानमंत्री के खिलाफ निराधार आरोप लगाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल स्वस्थ लोकतंत्र को नहीं दर्शाता है।

गुजरात में सोमवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए खरगे ने कहा कि प्रधानमंत्री सभी चुनावों में लोगों से “उनका चेहरा देखकर वोट करने” के लिए कहते हैं। खरगे ने पूछा था, ‘‘क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं।’’ खरगे की टिप्पणी को भाजपा ने गुजरात के लोगों का अपमान करार दिया था। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री के लिए कांग्रेस अध्यक्ष ने जिस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया है, वह सिर्फ खड़गे की नहीं बल्कि पूरे कांग्रेस नेतृत्व की मानसिकता का प्रतिबिंब है।” भाजपा नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री का पद एक संस्था होता है।

रक्षामंत्री ने कहा, “प्रधानमंत्री का पद सिर्फ एक व्यक्ति का नहीं है, यह एक संस्था है। मुझे विश्वास है कि गुजरात के सम्मान और गौरव के प्रतीक प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करने वालों को गुजरात की जनता करारा जवाब देगी।” पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए भाजपा नेताओं द्वारा 'मौनी बाबा' शब्द का इस्तेमाल किए जाने के बारे में पूछने पर सिंह ने कहा कि यह अपशब्द नहीं है। उन्होंने कहा, “मौनी बाबा गाली नहीं हैं। किसी ने 'रावण' और 'नीच' शब्दों (प्रधानमंत्री के लिए) का इस्तेमाल किया था। हम ऐसी चीजों में कभी लिप्त नहीं होते हैं।”

पर्व, उत्सव और मेलों को सदियों पुरानी परंपरा बताया

पर्व, उत्सव और मेलों को सदियों पुरानी परंपरा बताया

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत में पर्व, उत्सव और मेलों को सदियों पुरानी परंपरा बताया और बुधवार को कहा कि इनके जरिए ना सिर्फ संस्कृति समृद्ध होती है बल्कि स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी बहुत ताकत मिलती है। वहीं, आयोजित ‘‘संगाई महोत्सव’’ में प्रधानमंत्री ने एक वीडियो संदेश में कहा कि मणिपुर इतने प्राकृतिक सौन्दर्य, सांस्कृतिक समृद्धि और विविधता से भरा राज्य है कि हर कोई यहां एक बार जरूर आना चाहता है। उन्होंने कहा, ‘‘जैसे अलग-अलग मणियां एक सूत्र में एक सुंदर माला बनाती हैं, मणिपुर भी वैसा ही है। इसीलिए, मणिपुर में हमें मिनी इंडिया के दर्शन होते हैं।’’

ज्ञात हो कि कोरोना महामारी के कारण पिछले दो सालों में इस महोत्सव का आयोजन नहीं हो सका था। मोदी ने कहा, ‘‘हमारे देश में पर्वों, उत्सवों और मेलों की सदियों पुरानी परंपरा है और इनके जरिए संस्कृति तो समृद्ध होती ही है, साथ ही स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी बहुत ताकत मिलती है।’’ उन्होंने कहा कि संगाई महोत्सव जैसे आयोजन निवेशकों व उद्योगों को भी आकर्षित करते हैं।

उन्होंने उम्मीद जताई कि ये महोत्सव भविष्य में भी ऐसे ही उल्लास और राज्य के विकास का एक सशक्त माध्यम बनेगा। मोदी ने कहा कि इस बार का आयोजन पहले से और भी अधिक भव्य स्वरूप में सामने आया है जो मणिपुर के लोगों की भावना और उनके जज्बे को दिखाता है। उन्होंने कहा, ‘‘आज अमृतकाल में देश 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' की भावना के साथ बढ़ रहा है। ऐसे में ‘फेस्टिवल ऑफ वननेस’ की थीम पर संगाई महोत्सव का सफल आयोजन भविष्य के लिए हमें और ऊर्जा व नयी प्रेरणा देगा।’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि संगाई, मणिपुर का राजकीय जानवर तो है साथ ही भारत की आस्था और मान्यताओं में भी इसका विशेष स्थान रहा है और इसलिए यह भारत की जैविक विविधता का जश्न मनाने का एक उत्तम महोत्सव भी है।’’ प्रकृति के साथ भारत के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक सम्बन्धों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि टिकाऊ जीवनशैली के लिए जरूरी सामाजिक संवेदना की प्रेरणा भी देता है।

उन्होंने कहा, ‘‘जब हम प्रकृति को जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों को भी अपने पर्वों और उल्लासों का हिस्सा बनाते हैं, तो सह-अस्तित्व हमारे जीवन का सहज अंग बन जाता है।’’ यह महोत्सव पहले इंफाल तक ही सीमित रहता था लेकिन इस बार पूरे राज्य में इसका आयोजन किया गया है। इस पहल के लिए राज्य सरकार की सराहना करते हुए मोदी ने कहा कि जब ऐसे आयोजनों को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ जोड़ा जाता है, तभी इसकी पूरा क्षमता सामने आ पाती है।

मंगलवार, 29 नवंबर 2022

खड़गे को फ्रिंज कहा, दलित विरोधी विषवमन किया

खड़गे को फ्रिंज कहा, दलित विरोधी विषवमन किया

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मंगलवार को आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी के नेता अमित मालवीय ने उसके (कांग्रेस के) अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को फ्रिंज (अराजक) कहकर दलित विरोधी विषवमन किया है। जो भाजपा की मानसिकता को दिखाता है। दरअसल, भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रमुख मालवीय ने खड़गे द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना कथित तौर पर रावण से किए जाने को लेकर उन पर निशाना साधा था। 

इसके बाद कांग्रेस के मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा और सोशल मीडिया प्रमुख सुप्रिया श्रीनेत ने मालवीय पर पलटवार किया। खेड़ा ने मालवीय के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए कहा, वे (भाजपा) इस तथ्य को पचा क्यों नहीं पा रहे हैं कि एक दलित कांग्रेस का निर्वाचित अध्यक्ष बन गया? उन्हें फ्रिंज’ कहना यह दिखाता है कि आप और आपकी पार्टी दलितों के बारे में क्या सोचती है? 

सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, आपके पास यह दुस्साहस है कि एक वंचित पृष्ठभूमि से आने वाले और पिछले 55 वर्षों से चुनाव जीत रहे व्यक्ति को फ्रिंज कहा जाए। हमें कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर खरगे जी पर गर्व है। उन्होंने कहा, अब समय है कि आप लोग दलित विरोधी विषवमन बंद करिए। आपकी और फर्जी खबरें फैलाने वाली आपकी ब्रिगेड फ्रिंज है। 

इससे पहले, मालवीय ने खरगे के एक भाषण से जुड़ा वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया, गुजरात चुनाव में मुकाबला करने में असमर्थ रहने के बाद अब फ्रिंज तक पहुंच चुके, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे शब्दों पर अपना नियंत्रण खो बैठे और प्रधानमंत्री को रावण कह दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि मौत का सौदागर से लेकर रावण तक, कांग्रेस गुजरात और उसके बेटे का अपमान करना जारी रखे हुए है।

आप पर निशाना साधा, फसली बटेर की संज्ञा दी: नड्डा 

आप पर निशाना साधा, फसली बटेर की संज्ञा दी: नड्डा 

इकबाल अंसारी 

दाहोद। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जे पी नड्डा ने मंगलवार को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) पर निशाना साधते हुए उन्हें फसली बटेर की संज्ञा दी और जनता को ऐसे दलों से सतर्क रहने की सलाह दी। जनजातीय बहुल दाहोद जिले में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने 70 सालों में जनजातीय समुदाय के कल्याण के लिए कुछ नहीं किया जबकि भाजपा सरकारों ने इसके लिए अनेकों काम किए और समुदाय विशेष के लोगों को राष्ट्रपति, राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री तक बनाया है। 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस और आप ऐसी पार्टियां हैं जो सिर्फ चुनावों में दिखती हैं और चुनाव के बाद गायब हो जाती हैं। लेकिन चुनाव के बाद अगर कोई सेवा के लिए बचता है तो भाजपा के कार्यकर्ता बचते हैं। उन्होंने कहा, गुजरात में आम आदमी पार्टी सरकार बनाने आई थी लेकिन अब इसका आकार भी बचेगा या नहीं... ये तो आठ तारीख (मतगणना) के बाद ही पता चलेगा। ये चकमा देने वाले लोग हैं, इन फसली बटेरों से आपको सतर्क रहना है।

गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल हुए विजय

गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल हुए विजय

इकबाल अंसारी 

पणजी। गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के अध्यक्ष विजय सरदेसाई मंगलवार को मध्य प्रदेश में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल हुए। सरदेसाई के अलावा दुर्गादास कामत, संतोष कुमार सावंत, दीपक कलांगुटकर सहित पार्टी के कई नेताओं ने मंगलवार सुबह राहुल गांधी के साथ इंदौर में पदयात्रा की। इस साल के गोवा विधानसभा चुनाव में जीएफपी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया था।

सरदेसाई ने कहा कि उन्हें पदयात्रा में शामिल होने का आमंत्रण मिला था और उन्होंने इसे कांग्रेस के सहयोगी के तौर पर और "उन सभी के सम्मान में जो देश भर में पदयात्रा कर रहे हैं।", स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि यात्रा का मिशन एकता पर जोर देना और देश में फैली नफरत को रोकना है।

गढ़वी को त्रिकोणीय मुकाबले का सामना करना होगा

गढ़वी को त्रिकोणीय मुकाबले का सामना करना होगा

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर। गुजरात विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार ईशुदान गढ़वी खंभालिया से मैदान में हैं, जिसके चलते इस सीट पर सबकी नजरें हैं। गढ़वी को इस सीट पर त्रिकोणीय मुकाबले का सामना करना होगा, जहां से कांग्रेस ने अपने मौजूदा विधायक विक्रम मदाम को टिकट दिया है, जबकि भाजपा ने मुलुभाई बेरा को उतारा है। आप में शामिल होकर राजनीति में प्रवेश करने से पहले एक लोकप्रिय गुजराती समाचार वाचक रहे गढ़वी की छवि अच्छी है और वह राज्य में अपनी पार्टी के मुख्य प्रचारक के रूप में उभरे हैं, लेकिन चुनावी जानकारों का कहना है कि इस निर्वाचन क्षेत्र के सामाजिक समीकरण उनके लिए एक चुनौती हैं। 

दिग्गज नेता व पूर्व लोकसभा सदस्य मदाम और राज्य के पूर्व मंत्री बेरा दोनों अहीर समुदाय से संबंध रखते हैं। जाति के हिसाब से इस सीट पर अहीर समुदाय से संबंध रखने वालों की संख्या सबसे अधिक है जबकि मुसलमान मतदाता भी काफी महत्वपूर्ण हैं। चुनाव पर नजर रखने वालों का कहना है कि मतदान में जाति एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी और आप नेता गढ़वी को नुकसान हो सकता है क्योंकि इस सीट पर उनके समुदाय के मतदाताओं की संख्या बहुत कम है जबकि मुसलमानों का रूझान कांग्रेस की तरफ है। 

हालांकि, गढ़वी ने खुद को एक किसान के बेटे के रूप में पेश किया है। उन्होंने कहा है कि वह सभी के लिए काम करेंगे और सामुदायिक पहचान को बढ़ावा नहीं देंगे। आप के नेता व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया है कि गढ़वी रिकॉर्ड अंतर से जीत हासिल करेंगे। कांग्रेस और भाजपा दोनों के कार्यकर्ताओं ने दावा किया है कि मुकाबला उनके दलों के बीच है और आप इस लड़ाई में तीसरे स्थान पर रहेगी। 

हालांकि, आप सदस्यों का कहना है कि परंपरागत रूप से दोनों बड़े दलों को उनकी पार्टी के आने से “झटका” लगा है। भाजपा ने 2007 और 2012 में यह सीट जीती थी, लेकिन 2014 के उपचुनाव में वह कांग्रेस से हार गई थी। कांग्रेस ने 2017 के चुनाव में यह सीट बरकरार रखी थी। खंभालिया देवभूमि द्वारका जिले में पड़ता है, जो सौराष्ट्र क्षेत्र का एक हिस्सा है। इस सीट पर पहले चरण में एक दिसंबर को मतदान होना है। राज्य में दूसरे चरण के तहत पांच दिसंबर को मतदान होना है, जबकि मतगणना आठ दिसंबर को होगी।

सोमवार, 28 नवंबर 2022

अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में देरी, नाराजगी जताई 

अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में देरी, नाराजगी जताई 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम की ओर से अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में केंद्र की ओर से देरी पर सोमवार को नाराजगी जताते हुए कहा कि यह नियुक्ति के तरीके को ‘‘प्रभावी रूप से विफल’’ करता है। न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायमूर्ति ए एस ओका की पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत की तीन न्यायाधीशों की पीठ ने नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने के लिए समय सीमा निर्धारित की थी।

पीठ ने कहा कि समय सीमा का पालन करना होगा। न्यायमूर्ति कौल ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार इस तथ्य से नाखुश है कि राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) अधिनियम को मंजूरी नहीं मिली, लेकिन यह देश के कानून का पालन नहीं करने की वजह नहीं हो सकती है। शीर्ष अदालत ने 2015 के अपने फैसले में एनजेएसी अधिनियम और संविधान (99वां संशोधन) अधिनियम, 2014 को रद्द कर दिया था, जिससे शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति करने वाले मौजूदा न्यायाधीशों की कॉलेजियम प्रणाली बहाल हो गई थी।

पीठ ने कहा, ‘‘तंत्र कैसे काम करता है?’’ पीठ ने कहा, ‘‘हम अपना रोष पहले ही व्यक्त कर चुके हैं।’’ न्यायमूर्ति कौल ने कहा, ‘‘यह मुझे प्रतीत होता है, मैं कहना चाहूंगा कि सरकार नाखुश है कि एनजेएसी को मंजूरी नहीं मिली।’’

एमसीडी चुनावों में 170 वार्डों पर जीतेगी 'भाजपा'

एमसीडी चुनावों में 170 वार्डों पर जीतेगी 'भाजपा'

अश्वनी उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के एक आंतरिक सर्वेक्षण के अनुसार, पार्टी अगले महीने होने वाले दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनावों में 250 वार्डों में से 170 पर जीत हासिल कर सकती है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने सोमवार को यह जानकारी दी। भाजपा की दिल्ली इकाई के मीडिया प्रमुख हरीश खुराना ने पीटीआई-भाषा को बताया कि 13 नवंबर से 25 नवंबर के बीच कराए गए इस सर्वेक्षण में 43,750 मतदाताओं को शामिल किया गया था। दिल्ली नगर निगम के सभी 250 वार्डों के लिए मतदान चार दिसंबर को होना है और वोटों की गिनती तथा परिणामों की घोषणा सात दिसंबर को होगी।

खुराना ने कहा, “सभी 250 वार्डों में किए गए सर्वेक्षण से पता चलता है कि भाजपा 170 सीटें जीतने जा रही है। 150 वार्ड ऐसे हैं जहां भाजपा बहुत मजबूत स्थिति में है, जबकि 20-25 अन्य वार्ड हैं जहां पार्टी को अन्य दलों पर बढ़त है।भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने रविवार को चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि एमसीडी चुनाव में भाजपा 180 वार्डों में जीत हासिल करेगी। हालांकि आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने दावा किया है कि एमसीडी चुनाव में उनकी पार्टी 200 सीटों पर जीतेगी। उन्होंने यह भी दावा किया था कि भाजपा के हिस्से में 20 सीटें भी नहीं आएंगी।

चुनाव: रोड शो के दौरान 'सीएम' पर पत्थर फेंके

चुनाव: रोड शो के दौरान 'सीएम' पर पत्थर फेंके

अश्वनी उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/गांधीनगर। गुजरात में विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में सभी पार्टियों के नेता जनसभाएं और रोड शो कर रहे हैं। आज आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल एक रोड शो कर रहे थे। इस दौरान उनेक ऊपर पत्थर फेंके गए। बता दें सीएम केजरीवाल सूरत में एक रोड शो कर रहे थे। बता दें इस रोड शो को मीडिया भी कवर कर रही थी, तो कैमरों पर भी पत्थर लगे। 

वहीं जब यह पत्थरबाजी शुरू हुई तो अरविंद केजरीवाल अपनी गाड़ी के अंदर चले गए और जब फिर से उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की गई तो वो दोबारा आकर रोड शो करने लगे। जानकारी के मुताबिक केजरीवाल के काफिले पर एक गली से पत्थर फेंके गए। केजरीवाल अपनी गाड़ी के ऊपर से हाथ हिला रहे थे। तभी अचानक पत्थरबाजी होने लगी। पत्थरबाजों और 'आप' समर्थकों के बीच झड़प भी हो गई। 

'नारी शक्ति' को मजबूत करने का शानदार तरीका 

'नारी शक्ति' को मजबूत करने का शानदार तरीका 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले आठ वर्षों में देश में दूध उत्पादन में हुई वृद्धि पर सोमवार को खुशी जताई और कहा कि एक ‘जीवंत डेयरी क्षेत्र’ भी देश की “नारी शक्ति” को और मजबूत करने का एक शानदार तरीका है।प्रधानमंत्री मोदी ने यह टिप्पणी केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री परशोत्तम रूपाला के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए की। रूपाला ने कहा था कि पिछले आठ वर्षों में दूध उत्पादन में ‘उल्लेखनीय वृद्धि’ हुई है। उन्होंने कहा था, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में केवल 8 वर्षों में इसमें 83 मीट्रिक टन की वृद्धि हुई है।

इससे पहले 63 वर्षों में यह केवल 121 मीट्रिक टन बढ़ा था।’’ केंद्रीय मंत्री के ट्वीट को ‘टैग’ करते हुए मोदी ने लिखा, ‘‘यह विशेष खुशी की बात है। एक जीवंत डेयरी क्षेत्र भी हमारी नारी शक्ति को और मजबूत करने का एक शानदार तरीका है। आने वाले समय में डेयरी क्षेत्र और भी आगे बढ़े।’’

पीएम ने बहादुर को 'शहीदी दिवस' पर श्रद्धांजलि दी

पीएम ने बहादुर को 'शहीदी दिवस' पर श्रद्धांजलि दी

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को सिख गुरु तेग बहादुर को उनके 'शहीदी दिवस' पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्होंने अन्याय व अत्याचार के आगे झुकने से इनकार कर दिया था और उनकी शिक्षा देशवासियों को प्रेरित करती रहती हैं। साल 1621 में जन्मे नौवें सिख गुरु, गुरु तेग बहादुर को मुगल शासक औरंगजेब के आदेश पर मार दिया गया था। उनके शहादत दिवस को ‘शहीदी दिवस’ के रूप में भी जाना जाता है।

मोदी ने ट्वीट किया, “मैं श्री गुरु तेग बहादुर को उनकी शहादत के दिन श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। अदम्य साहस और सिद्धांतों के साथ-साथ आदर्शों के प्रति अटूट प्रतिबद्धता के लिए उन्हें दुनिया भर में सराहा जाता है।” उन्होंने कहा, “गुरु तेग बहादुर ने अत्याचार और अन्याय के आगे झुकने से इनकार कर दिया। उनकी शिक्षाएं हमें प्रेरित करती रहती हैं।” गुरु तेग बहादुर उस समय धार्मिक स्वतंत्रता के समर्थक थे, जब लोगों का जबरन धर्म परिवर्तन किया जा रहा था। मुगल सम्राट औरंगजेब के आदेश पर दिल्ली में 1675 में उनकी हत्या कर दी गई थी।

राजनीति का दौर, कांग्रेस में शामिल हुए व्यास

राजनीति का दौर, कांग्रेस में शामिल हुए व्यास

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर/अहमदाबाद। गुजरात सरकार के पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गए। व्यास ने इस महीने की शुरुआत में भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा दिया था। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की मौजूदगी में व्यास यहां पार्टी में शामिल हुए। राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत भी इस मौके पर मौजूद थे। गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले पांच नवंबर को व्यास ने भाजपा से इस्तीफा दिया था।

गहलोत व पायलट को कांग्रेस की 'संपत्ति' बताया 

गहलोत व पायलट को कांग्रेस की 'संपत्ति' बताया 

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा कांग्रेस नेता सचिन पायलट को ‘‘गद्दार’’ कहे जाने को लेकर मचे बवाल के बीच पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को दोनों नेताओं को पार्टी की ‘‘संपत्ति’’ बताया और कहा कि किसी भी नेता की बयानबाजी का ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ पर कोई असर नहीं पड़ेगा। पायलट को गहलोत द्वारा ‘‘गद्दार’’ बताए जाने के बारे में प्रतिक्रिया मांगे जाने पर गांधी ने इंदौर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं इसमें नहीं जाना नहीं चाहता कि किसने क्या कहा। दोनों नेता (गहलोत और पायलट) कांग्रेस की संपत्ति हैं। मैं आपको इसकी गारंटी दे सकता हूं कि इसका (बयानबाजी का) ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ पर कोई असर नहीं पड़ेगा।’’

गौरतलब है कि गहलोत ने एक निजी चैनल को हाल में दिए साक्षात्कार में पायलट को ‘‘गद्दार’’ करार देते हुए कहा था कि उन्होंने वर्ष 2020 में कांग्रेस के खिलाफ बगावत की थी और गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार गिराने की कोशिश की थी इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया जा सकता। गहलोत का यह बयान ऐसे वक्त आया है, जब राहुल गांधी के नेतृत्व में ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ की राजस्थान में दाखिल होने की तैयारियां हो रही हैं। गांधी ने इस बात का जवाब टाल दिया कि क्या मौका मिलने पर वह दोबारा अमेठी से चुनाव लड़ना चाहेंगे? उन्होंने कहा कि इस सवाल का जवाब साल-डेढ़ साल बाद मिल सकेगा और अभी उनका पूरा ध्यान ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ पर केंद्रित है।

उन्होंने कहा, ‘‘आप चाहते हैं कि अखबार कल यह बताएं कि मैं अमेठी से अगला चुनाव लडूंगा या नहीं? मैं चाहता हूं कि अखबार ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ के फलसफे के बारे में लिखें।’’ गांधी ने कहा कि देश के तीन-चार उद्योगपतियों के हाथों में सारा धन केंद्रित होने से बेरोजगारी बढ़ रही है और कांग्रेस इस समस्या को हल करने के लिए छोटे उद्यमों को बढ़ावा देगी तथा शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्रों में निवेश करेगी।

चुनाव: सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश 

चुनाव: सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश 

इकबाल अंसारी 

गोधरा। सांप्रदायिक रूप से संवेदशील माने जाने वाले गुजरात के गोधरा में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) इस बार के विधानसभा चुनाव में अपनी सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश में है। क्योंकि पिछले साल के निकाय चुनाव में उसने यहां असरदार दस्तक दी थी। 

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी को उम्मीद है कि इस चुनाव में मुस्लिम मतदाताओं का भरपूर समर्थन मिलेगा और अन्य उम्मीदवारों के बीच मतों का बंटवारा होगा जिससे उसकी राह आसान हो सकती है। एआईएमआईएम ने पिछले साल हुए गोधरा नगरपालिका के चुनाव में सात सीटें हासिल की थीं और भाजपा को निकाय की सत्ता से दूर रखने के लिए निर्दलियों के साथ समझौता भी किया था। ओवैसी की पार्टी के समर्थन से निर्दलीय संजय सोनी फरवरी, 2021 में नगरपालिका के अध्यक्ष बने, लेकिन पिछले साल नवंबर में भाजपा का समर्थन मिलने के बाद उन्होंने एआईएमआईएम का साथ छोड़ दिया।

इस बार गोधरा विधानसभा सीट पर एआईएमआईएम अपनी पकड़ और मजबूत बनाने और जीतने की कोशिश कर रही है। फिलहाल यहां से भाजपा का विधायक है। साल 2002 में ट्रेन की बोगी में आग लगाए जाने की घटना के बाद पूर्वी गुजरात के पंचमहल जिले का यह कस्बा सुर्खियों में आया था। उस घटना में 59 कारसेवकों की मौत हुई थी जिसके बाद पूरे प्रदेश में हिंसा हुई थी जिससे 1000 से अधिक लोग मारे गए थे। गोधरा गुजरात की उन 14 विधानसभा सीटों में से एक है जहां एआईएमआईएम इस बार चुनाव लड़ रही है। 

ओवैसी ने यहां से अपने उम्मीदवार हसन शब्बीर कच्बा के समर्थन में एक बड़ी सभा को संबोधित किया था। भाजपा ने यहां अपने वर्तमान विधायक सीके राउलजी को टिकट दिया है। कांग्रेस ने रश्मिताबेन चौहान और आम आदमी पार्टी ने राजेश भाई पटेल को उम्मीदवार बनाया है। एआईएमआईएम के पार्षदों का आरोप है कि गोधरा की मुस्लिम बहुल बस्तियों को विकास से उपेक्षित रखा गया था तथा लोगों को सड़क, साफ-सफाई और पानी की बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही थीं। 

पार्षद फैसल सुलेजा कहते हैं, पहले, विकास हुआ है, लेकिन सिर्फ 50 प्रतिशत इलाके में। यह दूसरी तरफ (हिंदू और अन्य समुदायों की आबादी वाले इलाके) में हुआ है। एआईएमआईएम के एक अन्य पार्षद इसहाक एम गनचीभाई कहते हैं कि उनकी पार्टी के पार्षदों ने यह सुनिश्चित किया कि विकास का पैसा समान रूप से सभी इलाकों को मिले। 

गोधरा विधानसभा में करीब 2,79,000 मतदाता हैं जिनमें 72,000 मुस्लिम हैं। गनचीभाई का कहना है कि अगर मुस्लिम मतदाताओं ने एकश्मुकत समर्थन कर दिया तो बहुकोणीय मुकाबले में एआईएमआईएम की जीत पक्की है। हालांकि, निकाय चुनाव निर्दलीय लड़ चुकीं सोफिया अनवा जमाल का कहना है कि एआईएमआईएम सिर्फ वोटों का बंटवारा करेगी जिसका फायदा आखिरकार भाजपा को होगा।

कलाकारों के समूह ने मकान को एक नया रूप दिया 

कलाकारों के समूह ने मकान को एक नया रूप दिया  मिनाक्षी लोढी  कोलकाता।  कोलकाता के कालीघाट में स्थित 120 साल पुराने, जर्जर हो चुक...