शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

वैक्सीन उपलब्ध कराने से होगा सुधार

जेनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस ने गुरुवार को कहा कि अगर दुनिया की कोई भी कोरोना वैक्सीन सभी को सार्वजनिक रूप से उपलब्ध कराई जाए तो दुनियाभर में आर्थिक सुधार तेजी से हो सकते हैं। वह एनबीसी नेटवर्क द्वारा संचालित संयुक्त राज्य में एस्पेन सिक्योरिटी फोरम के सदस्यों के साथ एक ऑनलाइन पैनल चर्चा में बोल रहे थे। टेड्रोस ने कहा कि वैक्सीन साझा करने या अन्य उपकरणों को साझा करने से वास्तव में दुनिया को एक साथ ठीक होने में मदद मिलती है। आर्थिक सुधार तेजी से हो सकता है और कोरोना से नुकसान कम हो सकता है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन को लेकर राष्ट्रवाद अच्छा नहीं है, यह हमारी मदद नहीं करेगा। टेड्रोस ने सोमवार को कहा था कि 20वीं सदी की शुरुआत के बाद से कोरोना वायरस सबसे बड़ा स्वास्थ्य आपातकाल है, लेकिन वैक्सीन की खोज अभूतपूर्व है। गौरतलब है कि डब्ल्यूएचओ के आपात निदेशक माइकल रयान से जब एक प्रस्तावित रूसी टीके के बारे में पूछा गया तो उन्होंने पैनल को बताया कि किसी भी टीके को सुरक्षित और प्रभावी बनाने के लिए ट्रायल के नतीजों की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि कोई भी देश तब तक सुरक्षित नहीं होगा जब तक हम सभी सुरक्षित नहीं हैं। रयान ने यह भी कहा कि अधिकारियों को मानव चुनौती अध्ययनों के बजाय क्लीनिकल ट्रायल के माध्यम से कोरोना वायरस वैक्सीन के प्रभावी होने को प्रदर्शित करने में सक्षम होना चाहिए। इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वैक्सीन को लेकर काफी आशावादी दिख रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को कहा कि यह संभव है कि अमेरिका में 3 नवंबर चुनाव से पहले एक कोरोना वायरस वैक्सीन बन जाए। गौरतलब है कि अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ को चीन के हाथ की कठपुतली बताया है। इसके बाद अमेरिका, डब्ल्यूएचओ से हटने का ऐलान कर चुका है।         


ट्रंप के रिसोर्ट में एके 47 के साथ घुसे

फ्लोरिडा। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के फ्लोरिडा स्थित रिसॉर्ट में शुक्रवार को तीन युवा घुस गए। इनके पास सेमीऑटोमैटिक एके-47 रायफल थी। यह लोडेड थी। पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया है। पाम बीच पुलिस ने बताया कि कि ट्रंप उस वक्त वहां नहीं थे, रिसॉर्ट फिलहाल बंद है। ट्रंप का यह आलीशान रिसॉर्ट फोर्ट लाउडेरडेल में है। इसका नाम मार-ए-लेगो है।


पुलिस के मुताबिक, शुक्रवार सुबह मार-ए-लेगो से करीब तीन किलोमीटर दूर एक संदिग्ध कार देखी गई। पुलिस जैसे ही इसके करीब पहुंची तो कार ड्राइवर ने रफ्तार बढ़ा दी। कार मार-ए-लेगो के करीब पहुंची। इसमें से तीन युवक निकले और रिसॉर्ट की तरफ भागे। तीनों ने रिसॉर्ट की दीवार फांदी और गार्डन तक पहुंच गए। हेलिकॉप्टर और स्निफर डॉग की मदद से इन्हें खोजा गया और फिर गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में पता चला कि इन लोगों ने राइफल खरीदी नहीं बल्कि चोरी की थी।


पुलिस प्रवक्ता माइकल ऑग्रोडनिक ने ‘एपी न्यूज’ को बताया कि तीनों लड़कों ने क्लब से लगभग दो मील (तीन किलोमीटर) की दूरी पर कार पार्क किया गया था, और अधिकारियों के आने पर वे भाग गए। पुलिस रिपोर्ट के अनुसार, पिछा करने पर तीनों लड़के कार छोड़कर क्लब में भाग गए और उन्होंने लोडेड अर्ध-स्वचालित एके-47 राइफल और 14 राउंड मैगजीन को गार्डन में छुपा दिया।            


सावधानः डेंगू के सक्रिय होने का समय

हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। महामारी के इस दौर में लोग अन्य बीमारियों को लेकर उतना सजग नहीं है जितना कि होना चाहिए। ऐसे में आपको याद दिला दूं कि यह मौसम मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियों के पनपने और फैलने के लिए भी है। यह दोनों बीमारियां मच्छरों के काटने से फैलती हैं। डेंगू और मलेरिया बुखार के वायरस को यह मच्छर ही इंसानों के शरीर में पहुंचाते हैं। इन पर काबू पाने के लिए सरकार द्वारा लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। एसीएमओ डॉ. पीके सिंह ने बताया कि डेंगू बीमारी मादा एडिज मच्छर के काटने से होती है। अगस्त, सितंबर व अक्टूबर में अगर किसी को शरीर में दर्द, थकान, भूख ना लगना, हल्का-सा रैश, लो ब्लड प्रेशर की समस्या हो, लेकिन बुखार न हो तो यह डेंगू हो सकता है। ऐसे में किसी चिकित्सक की सलाह जरूर लें। डेंगू के लक्षण- डेंगू बुखार को ‘हड्डीतोड़ बुखार’ के नाम से भी जाना जाता है। इससे मरीज को इतना दर्द होता है कि जैसे उनकी हड्डियाँ टूट गई हों । इसके अलावा इसमें बुखार, सिर दर्द, आंखों के पीछे दर्द, उल्टी आना और चक्कर महसूस होना, त्वचा पर चेचक जैसे लाल चकत्ते भी हो जाते हैं। डेंगू में प्लैटलेट्स की संख्या तेजी से गिरने लगती है। उपचार- आयुर्वेदाचार्य संत कमल किशोर बताते हैं कि घरेलू इलाज के तौर पर पपीते के पत्ते का रस दिन में दो बार लगभग 2-3 चम्मच लिया जा सकता है। इसके अलावा अनार, गिलोय और तुलसी का काढ़ा भी इस बीमारी में लाभदायक है। पपीते के पत्तों और अनार का जूस लाल रक्त कणों में बढ़ोतरी और कमजोरी दूर करता है। गिलोय भी इस बीमारी में कारगर मानी जाती है। गिलोय का जूस अथवा तुलसी के साथ इसका काढ़ा बनाकर पिया जा सकता है। बचाव- डेंगू का मच्छर ठहरे हुए पानी में पनपता है, इसलिए इससे बचाव के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है अपने आस-पास सफाई रखें और पानी जमा न होने दें। मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए घर में भी कूलर, टूटे या बेकार बर्तन, बोतल, गमलों में भी पानी न भरा रहने दें। कूलर और गमलों में नियमित पानी बदलते रहें। बुख़ार, गले में ख़राश, जोड़ों में दर्द, आंखें लाल होने जैसे लक्षण नज़र आने पर अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन और भरपूर आराम करें। मच्छरों से बचने के लिए पूरे शरीर को ढकके रखें और हल्के रंग के कपड़े पहने।


विनाशकारी बारिश ने सब कुछ बहाया


तिरुवनंतपुरम। इडुक्की जिले के राजमाला के पेत्तिमुदी में मूसलाधार बारिश के कारण शुक्रवार सुबह भूस्खलन हुआ, जिसमें एक चाय बागान के कई मजदूरों के फंसे होने की आशंका है। अधिकारियों ने बताया कि लगातार बारिश के कारण बिजली की लाइन प्रभावित होने से इलाके में संचार सेवाएं बाधित हैं। उन्होंने बताया कि कम से कम 70 लोगे के वहां फंसे होने की आशंका है। भूस्खलन के कारण करीब 10 मजूदरों के घर वहां धंस गए हैं।


पुलिस और दमकल कर्मी मौके पर मौजूद हैं और जिला प्रशासन ने अस्पतालों से भी हर स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहने को कहा है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इलाके में 'रेड अलर्ट' भी घोषित कर दिया है। इडुक्की जिले के राजामलाई में पिछले चार दिनों से भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन में कम से कम चार लोगों के मारे जाने की आशंका है। मुनार के राजस्व अधिकरी मधु ने कहा, शुरूआती रिपोर्ट में 4 लोगों के मारे जाने के संकेत हैं लेकिन अभी घटना की विस्तृत जानकारी आने का इंतजार है। हम घटनास्थल पर जा रहे हैं।




इसी जिले के निवासी राज्य के ऊर्जा मंत्री एम.एम. मणि ने कहा, भूस्खलन ऐसी जगह पर हुआ था, जहां चाय के मजदूर रहते हैं। यह स्थान एक पहाड़ी के शीर्ष पर है। स्थानीय विधायक भी मौके पर जा रहे हैं। सभी आपातकालीन सेवाओं को वहां लगा दिया गया है। इस बीच, क्षेत्र के निवासी पार्थसारथी ने मीडिया को बताया कि उन्हें करीब 80 श्रमिकों और उनके परिवारों द्वारा बसाई गई तीन लाइनों के बारे में पता था। लेकिन वह ये नहीं जानते कि जब भूस्खलन हुआ था तब वहां कितने लोग थे। क्योंकि पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश के कारण कई श्रमिक अपने घरों पर थे।           



त्रिपुरा के मुख्यमंत्री की रिपोर्ट निगेटिव

अगरतला। सुप्रीम कोर्ट ने त्रिपुरा के 8,882 तदर्थ शिक्षकों को बर्खास्त किए जाने के फैसले को बरकरार रखा है। ये सभी स्कूली शिक्षा विभाग में कार्यरत थे। जस्टिस यूयू ललित व जस्टिस विनीत शरण की पीठ ने कहा, 'तथ्यों पर विचार करने के बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि बड़ी संख्या में नियुक्तियां अवैध और अमान्य पाई गई हैं। जो अभ्यर्थी सक्षम व योग्य हैं उन्हें 31 मार्च, 2023 तक निश्चित रूप से राज्य में शिक्षक पद पर चयन के लिए अवसर प्रदान किए जाएंगे। जो अभ्यर्थी इसमें विफल रह जाते हैं वे रोजगार के विकल्प को जारी रख सकते हैं। हमारी नजर में यह पदावनत करने जैसा नहीं है।'बता दें कि वर्ष 2014 में त्रिपुरा हाई कोर्ट ने 10,323 सरकारी शिक्षकों को यह कहते हुए बर्खास्त कर दिया था कि उनका चयन नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन एक्ट-1993 के अनुरूप नहीं हुआ है। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2017 में इस आदेश को संशोधित करते हुए राज्य को 31 दिसंबर तक नई नियुक्ति प्रक्रिया संपन्न करने का निर्देश दिया था। इस क्रम में वर्ष 2019-20 में तदर्थ शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया गया था।


त्रिपुरा के मुख्यमंत्री कोरोना नेगेटिव


त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने मंगलवार को कोविड-19 टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद जानकारी दी कि वे संक्रमित नहीं हैं। उन्होंने ट्वीट में बताया, 'मेरा COVID-19 टेस्ट रिजल्ट नेगेटिव है। अगले सात दिनों के लिए मैं होम क्वारंटाइन रहूंगा मैं सभी गाइडलाइन का पालन करूंगा। काम भी मैं घर से ही करूंगा।' उन्होंने आगे कहा कि COVID-19 के खिलाफ जंग जारी रहेगी और हम एकसाथ जीत हासिल करेंगे।         


देहरादून में 102 संक्रमितो की कोई मौत

देहरादून। प्रदेश में कोरोना जान लेवा भी ही रहा है। आज देर सायं एम्स और दून मेडिकल कालेज में कुल चार लोगों ने और दम तोड़ दिया। अब प्रदेश में मरने वाले कोरोना पीड़ितों की संख्या 102 हो गई है। अब से जच देर पहले एम्स ऋषिकेश में तीन कोरोना पीड़ितों ने और दून मेडिकल कालेज में एक ने दम तोड़ा।
इसके अलावा आज शाम हरिद्वार में 71 नये कोरोना केस दर्ज किये गये हैं। इस तरह प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 8623 जा पंहुची है।               


फिर से स्कूल खुलने की संभावना नहीं है

चैन्नई। तमिलनाडु के स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि मौजूदा स्थिति में स्कूलों को फिर से खोलने की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण में कमी आने के बाद स्कूलों को पेरेंट्स व जनता की राय के अनुसार बाद में खोला जाएगा।


मौजूदा हालातों में स्कूलों को फिर से खोलने की कोई उम्मीद नहीं है। कोरोना का संक्रमण जब कम हो जाएगा तब पहले अभ‍िभावकों से राय आमंत्र‍ित की जाएगी। अगर वैक्सीन नहीं बनती है तो फिर बिना जनता की सहमति के स्कूल नहीं खोले जाएंगे। बता दें कि देश भर के पेरेंट्स काेरोना संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए सरकार से मांग कर रहे हैं कि जब तक वैक्सीन या कोरोना की कोई दवा न तैयार हो जाए तब तक स्कूल न खोले जाए। ऐसे हालात में किसी भी तरह से बच्चों की सेहत के साथ समझौता नहीं किया जा सकता। वहीं केंद्र सरकार ने भी ऑनलाइन श‍िक्षा को जन-जन तक पहुंचाने के लिए कई ऑनलाइन पोर्टल भी लांच किए हैं। इससे पहले गृह मंत्रालय ने हाल ही में अनलॉक-3 के लिए गाइडलाइन्स जारी की थीं। इन गाइडलाइन्स के अनुसार स्कूल, कॉलेज और सभी कोचिंग संस्थान 31 अगस्त तक बंद रहेंगे।दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि शैक्षणिक संस्थानों को न खोलने का निर्णय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ व्यापक परामर्श के बाद लिया गया है। हालांकि सरकार इसे आगे भी बढ़ा सकती है।            ककं


असमः जनता 2 महीनें से बाढ़ पीड़ित

दिसपुर। असम में भी कुदरत की सबसे बड़ी मार पड़ी है। करीब करीब पूरा असम जल प्रलय झेल रहा है। लेकिन बीते लगभग 2 महीनों से बाढ़ से जूझ रहे असम में स्थिति में लगातार सुधार होता दिख रहा है। लोग बाढ़ से बचने की कोशिश में ऊंची जगहों का रुख कर रहे हैं। बच्चों को नावों के जरिये निकाला जा रहा है हालांकि राज्य के दस जिलों में अब भी करीब 84,100 लोग इससे प्रभावित हैं। एक आधिकारिक बुलेटिन में गुरुवार को यह जानकारी दी गयी। एक आधिकारिक बुलेटिन ने कहा कि असम में बाढ़ के पानी की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है, हालांकि 10 जिलों के 84,100 लोग अभी भी आपदा से प्रभावित हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) ने कहा कि वर्तमान में, 177 गांव और 15,964 हेक्टेयर फसल क्षेत्र पानी के भीतर हैं।             


सिक्किम में भारी बारिश, उफान पर नदिया

सिक्किम में भारी बारिश के कारण रंगीत नदी उफान पर, प्रशासन सतर्क


गंगटोक। सिक्किम में भारी बारिश के कारण रंगीत नदी उफान पर है जिसकी वजह से प्रशासन सतर्क हो गया है। सिक्किम में भारी बारिश के कारण रंगीत नदी उफान पर है जिसकी वजह से प्रशासन सतर्क हो गया है। नदी का बहाव तेज हो गया है और बिल्कुल डराने वाला है। इसके साथ इस नदी के क्षत्रों में आने वाले आबादी इलाकों को भी अलर्ट कर दिया गया है। आपको बता दें कि सिक्किम में कोरोना वायरस दस्तक दे चुका है और यहां पर एक व्यक्ति की मौत हो गई है। अब जनता को कोरोना के साथ ही रंगीत नदी से आ सकने वाली बाढ़ से भी निपटना पड़ेगा। इससे पहले असम और मेघालय का बाढ़ की वजह से बुरा हाल हो चुका है।


किसी भी अप्रिय घटना को देखते हुए सिक्किम सरकार ने निर्णय लिया है कि इस साल स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन लगभग सभी राज्यों में छोटे स्तर पर किया जाएगा। सिक्कम में भी अधिकारियों ने कहा है कि 74 वें स्वतंत्रता दिवस समारोह को सिक्किम में सीओवीआईडी ​​-19 के प्रकोप के कारण छोटे स्तर पर ही मनाया जाएगा।                       


फ्री ट्रांसफर की औपचारिकता की पूरी

पणजी। इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) की फ्रेंचाइजी एफसी गोवा ने स्पेनिश विंगर जॉर्ज ओरटिज से फ्री ट्रांसफर पर करार की औपचारिकता पूरी करने की गुरुवार को पुष्टि की। 28 वर्षीय जॉर्ज का एफसी गोवा के साथ दो साल का अनुबंध हुआ है और अब वह 2022 की गर्मियों तक क्लब के साथ बने रहेंगे। जॉर्ज ने क्लब द्वारा जारी एक बयान में कहा, यह लीग बहुत प्रतिस्पर्धी है और यह शानदार क्लब है। मैंने एफसी गोवा के मैच देखे हैं जिनका स्तर काफी ऊंचा होता है। मैंने कोच और अन्य अधिकारियों से बात की। मैं भविष्य में इस क्लब के साथ खेलना चाहूंगा। एटलेटिको मेड्रिड-बी के पूर्व स्टार जॉर्ज ने अपना पिछला मैच एटलेटिको बेलीरेस के साथ स्पेनिश डीविजन ग्रुप 1 में खेला था। गेटाफे की युवा टीम का हिस्सा रहे जॉर्ज को एटलेटिको डी मेड्रिड बी में भी खेलने का अनुभव है।              



हिमाचलः 1 दिन में 131 रिकॉर्ड संक्रमित

शिमला। हिमाचल प्रदेश में कोरोना अपना कहर बरपा रहा है। प्रदेश में एक दिन में सबसे अधिक केस रिपोर्ट होने का रिकॉर्ड टूटा है। गुरुवार को सूबे में रिकॉर्ड 131 मामले रिपोर्ट हुए हैं। नए मामलों में नवनियुक्त ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी, उनकी दो बेटियों और पीएसओ भी शामिल हैं। इसके अलावा, सूबे में एक दिन में कुल्लू में 47, हमीरपुर में 21, सोलन में 16, ऊना में 14, बिलासपुर में सात, शिमला में 4, सिरमौर में 9 मंडी में 5 समेत कांगड़ा में 4 और किन्नौर में नए केस रिपोर्ट हुए हैं। शिमला में ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी के अलावा एसएसबी के पांच जवान संक्रमित हुए हैं। मंडी में 7, चंबा के चुवाड़ी में बिहार से लौटी महिला की सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव निकली है। किन्नौर में भी एक मामला सामने आया है। सिरमौर में 37 और कांगड़ा में 17 मरीज ठीक हुए हैं।


कुल्लू में एक ही दिन में कोरोना के 47 नए मामले आए हैं। इससे लोगों में हड़कप मच गया है। इनमें से अधिकतर बाहरी राज्यों से सेब सीजन के लिए आए कामगार हैं। जिले में एक ही दिन में एक साथ 47 मामले आने के बाद घाटी के डर का माहौल है। जरा सी चूक बागवानों को भी मुश्किल में डाल सकती है। कुल्लू में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या बढ़कर 65 हो गई है, जबकि अब तक जिला में 86 केस सामने आए हैं। डीसी डॉ. ऋचा वर्मा ने कहा कि वीरवार को जिले में कोरोना के 47 नए मामले सामने आए हैं। डरने की बात नहीं है। सभी क्वारंटीन थे।
ऊना के 14 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। 233 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। जिले में कोरोना पॉजिटिव के अब तक 264 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इसमें 174 स्वस्थ हो चुके हैं जबकि 90 सक्रिय मामले हैं। 14 कोरोना पॉजिटिव में ऊना उपमंडल के देहलां गांव के आठ लोग हैं। हरोली उपमंडल के हलेड़ा गांव की दो महिलाओं की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। टब्बा गांव का 21 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव है। हरोली उपमंडल के बढ़ेडा गांव की 60 वर्षीय महिला, बंगाणा के घरवासडा का 55 वर्षीय बीएसएफ जवान, कोटलकलां गांव 49 वर्षीय व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव हुआ है।           


राजस्थान में 422 नए केस सामने आए

जयपुर। राजस्थान में शुक्रवार को कोरोना के 422 नए पॉजिटिव केस सामने आए। इनमें अलवर में 164, जयपुर में 49, अजमेर में 45, सीकर में 44, सिरोही में 23, टोंक में 22, नागौर में 21, झुंझुनू में 16, चित्तौड़गढ़ और डूंगरपुर में 11-11, कोटा में 6, झालावाड़ में 4 संक्रमित मिले। साथ ही बीएसएफ के 6 जवान भी पॉजिटिव मिले। जिसके बाद कुल संक्रमितों का आंकड़ा 49418 पहुंच गया। वहीं, 6 लोगों की मौत भी हो गई। इनमें भरतपुर और नागौर में 2-2, अलवर और धौलपुर में 1-1 की मौत हो गई।


जोधपुर में लॉकडाउन रिटर्न


कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद चेते जिला प्रशासन ने जोधपुर शहर व उससे सटे क्षेत्रों में शनिवार व रविवार को संपूर्ण लॉकडाउन का फैसला किया है। इस दौरान आवश्यक सेवाएं पहले लागू लॉकडाउन के समान ही जारी रहेगी। जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह की और से जारी आदेश में कहा गया है कि लॉकडाउन 7 अगस्त की शाम 8 बजे से शुरू होकर 10 अगस्त को सुबह 6 बजे तक रहेगा। फिलहाल यह इस हफ्ते के लिए ही है। अगले सप्ताह के बारे में बाद में फैसला लिया जाएगा।


जोधपुर में सबसे ज्यादा संक्रमित मिले


प्रदेश में संक्रमण के सबसे ज्यादा केस जोधपुर में हैं। यहां 7670 (इनमें 47 ईरान से आए) संक्रमित हैं। इसके अलावा जयपुर में 6197 (2 इटली के नागरिक), अलवर में 5007, भरतपुर में 2798, पाली में 2891, बीकानेर में 2351, नागौर में 1617, अजमेर में 2350, कोटा में 2472, उदयपुर में 1518, धौलपुर में 1409, बाड़मेर में 1618, जालौर में 1228, सिरोही में 935, सीकर में 1267, डूंगरपुर में 691, चूरू में 716 संक्रमित हैं। इसके अलावा, झुंझुनूं में 672, राजसमंद में 698, भीलवाड़ा में 893, झालावाड़ में 723, टोंक में 368, चित्तौड़गढ़ में 365, जैसलमेर में 231 (इनमें 14 ईरान से आए), बांसवाड़ा में 240 मरीज मिले हैं। इसके अलावा, दौसा में 341, बारां में 227, सवाई माधोपुर में 280, करौली में 376, हनुमानगढ़ में 237, प्रतापगढ़ में 194 कोरोना मरीज मिल चुके हैं। श्रीगंगानगर में 314, बूंदी में 250 पॉजिटिव मिला। जोधपुर में बीएसएफ के 85 जवान भी पॉजिटिव मिल चुके हैं। दूसरे राज्यों से आए 189 लोग पॉजिटिव मिले।


प्रदेश में अब तक 763 लोगों की मौतराजस्थान में कोरोना से अब तक 763 मरीजों की जान जा चुकी है। इनमें जयपुर में सबसे ज्यादा 213 मरीजों की मौत हुई। इसके अलावा, जोधपुर में 82, भरतपुर में 56, अजमेर में 55, कोटा में 36, बीकानेर में 47, नागौर में 34, पाली में 31, धौलपुर में 18, उदयपुर में 12 और सिरोही में 11 मरीजों की जान गई है। वहीं, अलवर में 22, बाड़मेर में 12, सवाई माधोपुर में 11, सीकर में 11, ​राजसमंद और भीलवाड़ा में 8-8, ​करौली में 7, झुंझुनू​ और चित्तौड़गढ़ में 6-6, बारां में 5, जालौर और टोंक में 4-4, गंगानगर और दौसा में 3-3, प्रतापगढ़, चूरू और बांसवाड़ा 2-2, बूंदी, हनुमानगढ़ और डूंगरपुर में 1-1 की मौत हो चुकी है। वहीं, दूसरे राज्यों के 38 मरीजों की भी मौत हुई है।राज्य में अब तक 16 लाख से ज्यादा सैंपल जांचे जा चुके हैं। इनमें कुल 49418 पॉजिटव मिले हैं। 35186 लोग रिकवर हो चुके हैं। इसमें से 33210 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब राज्य में कुल 13469 एक्टिव केस बचे।


पत्रकारों की वसूली करनें को लेकर आतंक

अतुल त्यागी


क्षेत्र में हिंद न्यूज़ का पत्रकार बताने वाले दो कथित पत्रकारों का वसूली करने को लेकर आतंक


हापुड़/ गढमुक्तेश्वर। क्षेत्र में लगभग पिछले 3 सप्ताह से अपने आपको हिंद न्यूज़ का पत्रकार बताकर जनता में रोग ग़ालिब करने वाले दो तथाकथित पत्रकारों का वसूली करने को लेकर खुला आतंक चल रहा है। इन दोनों तथाकथित पत्रकारों की वसूली करते हुए की फोटो वीडियो भी क्षेत्र में तेजी से वायरल हो रही है। जो क्षेत्रीय पत्रकारों की छवि को धूमिल करते हुए क्षेत्रीय पत्रकारों के लिए चुनौती बनती जा रही है। इन दोनों तथाकथित पत्रकारों के द्वारा कभी शराब ठेके के सेल्समैन पर रौब गालिब कर तो कभी रेस्टोरेंट्स चलाने वाले दुकानदार से वसूली करने का मामला प्रकाश में आया है। इन दोनों तथाकथित पत्रकारों के द्वारा रोग गालिब पर वसूली करने को लेकर क्षेत्र में चर्चाएं जोरों पर चल रही है।           


आरोपी दो सगे भाइयों को किया गिरफ्तार

अतुल त्यागी


हापुड़ पुलिस द्वारा गिरफतार 20 करोड़ की ठगी के आरोपी दो सगे भाइयों को किया गिरफ्तार


हापुड़। मेहनत की कमाई के करोड़ों रूपये ठगकर फरार हुए 2 आरोपितों को हापुड़ कोतवाली पुलिस ने गिरफतार किया है। नवनियुक्त एसएचओ सुबोध कुमार सक्सेना ने होंडा सिटी कार से भागते हुए सगे भाई सौरभ त्यागी व अंकुल त्यागी को निजामपुर कट से गिरफतार कर जेल भेजा है। सीओ राजेश कुमार सिंह का कहना है कि पांच पांच मुकदमों के आरोपियों पर जिला प्रशासन द्वारा गैंग्स्टर की कार्यवाही की गई है। बता दें शहर के धनाठयों को आलीशान पार्टियां देकर अपनी शान शौकत दिखा रूपये हडपने का धंधा जारी है। इससे 1 पखवाडें पूर्व तीन अग्रवाल भाईयों को लगभग सवा सौ करोड़ रूपये लेकर चंपत होने के मामलों में भी हापुड़ पुलिस ने जेल भेजा है। जिसका मामला स्थानीय न्यायालय से लेकर हाइकोर्ट तक में विचाराधीन है। आज से 2 वर्ष पूर्व 20 करोड़ की ठगी के मामलों के आरोपी गांव रामपुर निवासियों को पुलिस द्वारा पकडे जाने से चारों तरफ वाहवाही हो रही है। पुलिस ने आरोपितों के पास से बरामद बगैर कागजातों की एक गाड़ी को सीज कर दिया है। जबकि 50 हजार रूपये की नकदी भी आरोपियों से मिली है। आरोपियों ने पत्रकार वार्ता में बताया कि 50 हजार रूपये धोखाधड़ी करके लोगों से लिए थे। वहीं एएसपी सर्वेश मिश्रा ने जानकारी पर बताया कि हाफिजपुर क्षेत्र के आरोपितों की गिरफतारी से लाटरी के नाम पर ठगने वालों में दहशत व्याप्त होगी। साथ ही लोगो से ठगों के बहकावे में ना आने की अपील की है। हापुड़ पुलिस द्वारा गिरफतार 20 करोड़ की ठगी के आरोपी दो सगे भाई।                        


हापुड़ः दो नेताओं की हुई घर वापसी

अतुल त्यागी


दो नेताओं की हुई घर वापसी सपा


हापुड़। समाजवादी पार्टी युवजन सभा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पूर्व सदस्य अनिल आजाद व सपा के पूर्व नगर अध्यक्ष इकबाल कुरैशी के निष्कासन को समाजवादी पार्टी की प्रदेश हाई कमान ने रद्द कर दिया है। यहां शुक्रवार को आयोजित एक सभा में सपा से निष्कासित उक्त दोनों नेताओं को सपा के जिलाध्यक्ष तेजपाल प्रमुख ने निष्कासन रद्द का पत्र सौंपा और समाजवादी पार्टी में उनका स्वागत किया। सपा के जिलाध्यक्ष तेजपाल प्रमुख ने विश्वास व्यक्त किया है कि उक्त दोनों नेताओं की घर वापसी से जनपद हापुड़ में सपा संगठन को बल मिलेगा और जनपद की तीनों विधान सभा सीटों पर आगामी चुनाव में सपा विजयी होगी। उन्होंने आरोप लगाया की प्रदेश में अपराध, भ्रष्टाचार, महंगाई बढऩे से लोगों का मोह भाजपा से टूट गया है। समाजवादी पार्टी ने घर वापसी के बाद उक्त नेताओं ने कहा कि उनकी निष्ठा समाजवादी पार्टी के सिद्धांतों व नीतियों में है। घर वापसी पर वे गर्व महसूस कर रहे है। इस मौके पर सपा के कार्यकर्ता उपस्थित थे।


यूपीः नए संक्रमितों ने सारे रिकॉर्ड किए ध्वस्त

लखनऊ। यूपी में नए कोरोना मरीजों की संख्या ने पिछले सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए हैं। नए आए आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 4658 लोग संक्रमित पाए गए हैं। जबकि 61 लोगों की मौत हुई है।
प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अब प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या एक लाख आठ हजार 974 हो गई है जिसमें 63,402 मरीज पूरी तरह ठीक होकर घर जा चुके हैं।          


क्रिकेट टूर्नामेंट में आतंकियों ने की फायरिंग

इस्लामाबाद। पाकिस्तान क्रिकेट टीम इस समय इंग्लैंड में टेस्ट और टी20 मैचों की  सीरीज खेलने गई है, जहां दोनों के बीच मैनचेस्टर में पहला टेस्ट मैच खेला जा रहा है। लेकिन पाकिस्तान में हुए आतंकवादी हमले ने पाकिस्तान क्रिकेट को एक बार फिर शर्मसार किया है, दरअसल पाकिस्तान में खेल जा रहे एक क्रिकेट टूर्नामेंट में आतंकवादियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी।
इस घरेलु टूर्नामेंट में कई पत्रकार और लोकल राजनेता भी मौजूद थे, खबरों के अनुसार वहां बड़ी तादाद में दर्शक भी मौजूद थे। जैसा हम सब जानते हैं कि पाकिस्तान आतंकवादी गतिविधियों के कारण हमेशा से ही निशाने पर रहा है, और 2009 में श्रीलंका टीम पर हुए हमले के बाद तो कई देशों ने वहां का दौरा करने से ही मना कर दिया है।
हमले के समय कई दर्शक थे मौजूद अमन क्रिकेट टूर्नामेंट खैबर पख्तूनख्वा के जिले ओराक्जई क्षेत्र में आयोजित हो रहा था, इस मैच में लोकल नेता हाजी कासिम भी मौजूद थे। यह टूर्नामेंट का फाइनल मुकाबला था, इसी वजह से यहां अन्य मुकाबलों की अपेक्षा अधिक भीड़ थी।
मैच के आरम्भ होने से पूर्व ही घाटियों से आतंकवादियों ने गोलियां बरसा दी, जिस वजह से मैच शुरू भी नहीं हो सका। इस हमले में किसी भी तरह की जान माल की हानि नहीं हुई।           


टिक-टोक-मैसेंजिंंग एप किए हस्ताक्षर

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए चीनी स्वामित्व वाले टिकटॉक और मैसेजिंग एप वीचैट के खिलाफ गुरुवार देर रात दो कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए। यह आदेश 45 दिनों के अंदर लागू हो जाएगा। यह किसी भी अमेरिकी कंपनी या व्यक्ति को बाइटडांस, टिकटॉक की चीनी मूल कंपनी या वीचैट के साथ लेन-देन करने से रोकता है। इसका मतलब है कि ये कंपनियां अमेरिका में एप्पल के एप स्टोर या गूगल के प्ले स्टोर पर दिखाई नहीं देंगी। इस आदेश के बाद से अमेरिका और बीजिंग के रिश्तों में पहले से जारी तल्खियां और बढ़ गई हैं। यह फैसला ऐसे समय पर लिया गया है जब नवंबर में अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं। इससे पहले ट्रंप ने अमेरिका में टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाने की धमकी दी थी। माइक्रोसॉफ्ट ने इस बात की पुष्टि की कि वह ट्रंप के साथ बातचीत के बाद टिकटॉक खरीदने को लेकर बातचीत कर रहा है। टिकटॉक के आदेश के अनुसार, ‘यह डाटा संग्रह, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को अमेरिकियों की व्यक्तिगत और मालिकाना जानकारी तक पहुंचने की अनुमति देता है। यह संभावित रूप से चीन के संघीय कर्मचारियों और ठेकेदारों को स्थान ट्रैक करने, ब्लैकमेल के लिए व्यक्तिगत जानकारी का डोजियर बनाने और कॉरपोरेट जासूसी का संचालन करने की अनुमति देता है।’ टिकटॉक के प्रवक्ता हिलेरी मैकक्यूइड ने कहा कि कंपनी आदेश को देख रही है और जल्द ही इसपर टिप्पणी करेगी। सोमवार को व्हाइट हाउस में ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा था कि टिकटॉक को 15 सितंबर तक यूएस के संचालन को रोकने के लिए बाध्य किया जाएगा, यदि इसे किसी अमेरिकी कंपनी को नहीं बेचा गया। उन्होंने यह भी कहा कि यदि बिक्री होती है, तो आय का हिस्सा अमेरिकी करदाताओं को जाना चाहिए। ट्रंप ने संभावित टिकटॉक बिक्री की बात पर कहा, 'उस कीमत का एक बहुत बड़ा हिस्सा संयुक्त राज्य के खजाने में आना चाहिए। अमेरिका में प्रतिपूर्ति या भुगतान किया जाना चाहिए क्योंकि संयुक्त राज्य अमेरिका के बिना उनके पास कुछ भी नहीं है।' राष्ट्रपति ने आगे कहा, ‘यह थोड़ा सा मकान मालिक-किराएदार की तरह है। पट्टे के बिना, किराएदार के पास कुछ भी नहीं है।’ माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक खरीदने को लेकर बातचीत कर रहा है और बातचीत को खत्म करने की समयसीमा 15 सितंबर तय की गई है। भारत टिकटॉक और वीचैट पर प्रतिबंध लगाने वाला पहला देश है। भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी चिंताओं का हवाला देते हुए यह प्रतिबंध लगाया था। भारत ने 106 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। भारत के इस कदम का ट्रंप प्रशासन और अमेरिकी सांसदों ने स्वागत किया था।         


पाक ने संघर्ष विराम का किया उल्लंघन

श्रीनगर। पाकिस्तान ने शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के पुंछ के बालाकोट सेक्टर में बिना किसी उकसावे के संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। भारतीय सेना की ओर से इसका करारा जवाब दिया गया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। यह घटना पाकिस्तान द्वावा मेंढर और बालाकोट क्षेत्रों में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम उल्लंघन करने के एक दिन बाद हुई। सेना ने कहा कि उसने पाकिस्तानी हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया है क्योंकि उन्होंने फायरिंग के लिए छोटे हथियारों का इस्तेमाल किया और मोर्टार से गोले दागे हैं।


पाकिस्तान नियंत्रण रेखा के करीब रक्षा चौकियों और असैन्य इलाकों को निशाना बनाता रहा है। कुछ गोले रिहायशी मकानों के पास गिरे हैं। नियंत्रण रेखा के आस-पास रहने वाले लोगों को पाकिस्तानी गोलाबारी का खामियाजा भुगतना पड़ता है और कई बार वे सुरक्षित स्थानों पर चले जाते हैं।          


स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम का स्थान बदला

रांची। झारखंड में इस बार स्वतंत्रता दिवस का मुख्य कार्यक्रम मोरहाबादी में नहीं होकर डोरंडा के जैप-1 मैदान में होगा। मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने कहा है कि कोविड-19 महामारी से उत्पन्न परिस्थिति को देखते हुए गृह मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार झारखंड सरकार ने इस वर्ष आगंतुकों की संख्या सीमित रखने का निर्णय लिया है। राज्य एवं जिला स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन आगंतुकों की संख्या सीमित रखते हुए किया जाएगा। मुख्य सचिव गुरुवार को स्वतंत्रता दिवस समारोह 2020 को लेकर तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव ने कहा कि इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस समारोह में कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में कार्यरत चिकित्सकों, स्वास्थ्य कर्मियों, स्वच्छता कर्मियों तथा संक्रमण से ठीक हुए कुछ व्यक्तियों को आमंत्रित किया जाए। लोगों को आमंत्रित करते समय ध्यान रखा जाए कि कार्यक्रम में 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों एवं 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति भाग नहीं लें। निर्देश दिया कि आमंत्रित सभी आगंतुकों द्वारा मास्क एवं सामाजिक दूरी मानदंड आदि नियमों का अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। समारोह स्थल पर बैठने की व्यवस्था करते हुए कुर्सियों के बीच दो गज की दूरी के मानदंड का अनुपालन सुनिश्चित करने को कहा गया है। कार्यक्रम स्थलों पर डबल सीटर सोफा नहीं लगाया जाएगा। मुख्य सचिव ने निर्देश दिया कि कोविड-19 महामारी को देखते हुए संबंधित पदाधिकारी मुख्य समारोह स्थल पर सैनिटाइजेशन, चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों, स्वच्छताकर्मियों, एंबुलेंस आदि सभी आवश्यक व्यवस्थाओं को सुनिश्चित कराएंगे। मुख्य समारोह में सीआरपीएफ, जैप, जिला पुलिस, फायर ब्रिगेड एवं होमगार्ड के जवान परेड में सम्मिलित होंगे। मुख्य सचिव ने राज्य के सभी उपायुक्तों को निर्देश दिया कि सभी अपने जिले में अवस्थित स्वतंत्रता सेनानियों एवं अन्य महापुरुषों की प्रतिमाओं की सफाई एवं माल्यार्पण की व्यवस्था सुनिश्चित कराएंगे। साथ ही, मुख्य समारोह स्थल तक जाने वाले सभी मार्गो एवं पूरे शहर की साफ सफाई भी सुनिश्चित कराएंगे। समीक्षा में गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अपर मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, मंत्रिमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग के प्रधान सचिव, स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रधान सचिव और आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव, रांची डीसी-एसएसपी समेत कई अधिकारी मौजूद थे।         


घटिया व कमजोर प्रशासन की हकीकत

घटिया और कमजोर प्रशासन की हकीकत 
अश्वनी उपाध्याय
गाजियाबाद। जनपद की प्रशासनिक व्यवस्था की हकीकत किस हद तक घटिया और निकम्मी हो सकती है ? शायद इसका आपको अनुमान भी नहीं है। संविधान को समर्पित अधिकारियों की निष्ठा इतनी कमजोर हो सकती है ? इसके लिए आपको थोड़ा आश्चर्य तो होगा ही। जनपद में सारे गैरकानूनी धंधे खुलेआम चल रहे हैं। हालांकि यह कोई बड़ी बात नहीं है। विशेष बात यह है कि जनपद में पुलिस की व्यवस्था हैरान करने वाली है। पुलिस के संरक्षण में अपराध और अपराधी मस्त हैं। इसके बाद पुलिस के द्वारा सड़कों पर जांच-पड़ताल के नाम पर खूब खसोट की गई है।अभी भी लूट खसोट का ये खेल जारी है। बिना मास्क और हेलमेट आदि के नाम पर खूब उत्पात मचाया जा रहा है।
गरीब-मजदूर लोगों को खूब सताया जा रहा है। 
जबकि गत 5 अगस्त को 'भूमि-पूजन' के नाम पर लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने सारे नियम और कानून की खुलेआम धज्जियां उड़ाकर, यह साबित किया है कि जनपद की पुलिस, कानून व्यवस्था और 'कसम-धरम' खाने वाले कानून के नुमाइंदों का कोई वजूद नहीं है। किसी अधिकारी, कर्मचारी की इतनी औकात नहीं है। या यूं कहिए विधायक के सामने पतलून खसकाने के अलावा दूसरा कर्तव्य नहीं है। जनपद की प्रशासनिक व्यवस्था इतनी घटिया और कमजोर है। ऐसी व्यवस्था पर कोरी लानत है। जो अधिकारी गधे चराने के लायक नहीं है। एयर कंडीशनर ऑफिस में बैठ कर कुर्सी तोड़ रहे हैं। जनता की गाढ़ी कमाई की मोटी-मोटी तनख्वाह डकार रहे हैं। स्वाभिमान नाम की कोई चीज नहीं है। ये जिल्लत भरी जिंदगी के अलावा और कुछ भी नहीं है। विधायक के खिलाफ कोई प्रावधान-कानून नहीं है ? हजारों की संख्या में भीड़ एकत्रित करना। जिसमें 'सामाजिक-दूरी' सहित लागू दिशा-निर्देश का उल्लंघन किया गया है। बिना मास्क के रैली निकालना, संक्रमण को बढ़ावा देना नहीं है ?           


पुलिस पर आरोप, एसडीएम को ज्ञापन

अश्वनी उपाध्याय गाजियाबाद। यूथ कांग्रेस के द्वारा उप जिलाधिकारी लोनी को मोहम्मद जाखिर इदरीसी नगर अध्यक्ष युवा कांग्रेस के नेतृत्व में पीड़ित परिवार को साथ लेकर ज्ञापन दिया गया। जिसमें पीड़ित के परिवार से रोजउद्दीन ने बताया कि पिछली 1 अगस्त 2020 को उनकी 10 साल की मासूम बच्ची की हत्या कर उसे पुलिस प्रशासन द्वारा आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की जा रही है। जबकि परिवार को अपने ही किरायेदारों पर बच्ची की हत्या करने का शक है। जिसमें पीड़ित की तरफ से आज यूथ कांग्रेस द्वारा मांग की गई है कि पुलिस प्रशासन द्वारा इस मामले की पूर्ण रूप से जांच हो और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई कर जेल भेजने का काम किया जाए। पीड़ित परिवार को सरकार की तरफ से ₹10 लाख की आर्थिक मदद की जाए। मोहम्मद जाखिर ने कहा कि जब तक इस परिवार की  सरकार के द्वारा आर्थिक मदद नहीं की जाती तक समस्त कांग्रेस परिवार इनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर पीड़ित परिवार की लड़ाई को लड़ने का कार्य करते रहेंगे मौजूद रहे लोनी नगर अध्यक्ष यूथ कांग्रेस मोहम्मद जाकिर इदरीसी, मोहम्मद सलीम यूथ कांग्रेस जिला सचिव ,अजय सिंह, मोहम्मद अली ,जमशेद ,योगेश, करीम भाई ,मोहम्मद आलम, चौधरी नवाब चेयरमैन, शराफत, अनिल कुमार, पवन, मुस्तकीम ,सलीम, रोज उद्दीन, मोमिन ,सददाम, वसिम, आदि युवा कांग्रेसी मौजूद रहे।


डीएम को राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के आवाहन पर कोरोना महामारी (कोविड 19) के कारण रोजगारो पर प्रतिकुल प्रभाव पडने के कारण लाखो मध्य आय वर्ग के अभिभावको पर अपने बच्चो की स्कूली फीस जमा कराने का दबाव ,समस्त न्यायालयो में कार्य बंद होने के कारण अधिवक्ता बंधुओ की आमदनी पर प्रतिकुल प्रभाव एवं मध्यम वर्ग को हो रही दिक्कतो को लेकर जिला कांग्रेस कमेटी ने जिला मुख्यालय गाजियाबाद पर जिला अध्यक्ष बिजेद्र यादव जी के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। जिला अधिकारी के माध्यम से महामहिम राज्यपाल को 6 सूत्रीय मांग संबधित ज्ञापन दिया 


जिला अध्यक्ष बिजेद्र यादव ने उत्तर प्रदेश सरकार से मांग की कि प्रदेश में संचालित यूपी बोर्ड, सीबीएसई बोर्ड, आसीएसई बोर्ड एवं अन्य बोर्डो के क्षात्रो की विगत 4 माह की फीस माफ की जाए, निजि स्कुलो में पढने वाले छात्रों की ड्रेस बार बार न बदली जाए, इस शिक्षण संस्थानों में कार्यरत मान्यता / गैर मान्यता प्राप्त शिक्षको एवं कर्मचारियों को सरकार कम से कम 8 हजार रुपए प्रति महा सहायता प्रदान की जाए ,नये साल की पाठय पुस्तकों में बदलाव न किया जाए, उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य मे स्थित विभिन्न न्यायालयो में लाखो की संख्या में प्रैक्टिस कर रहे वकीलों की आमदनी इस कोविड 19 में महामारी लाकडाउन के चलते नगण्य हो गई है सरकार के दूारा अधिवक्ताओ 10 हजार रुपये महीने के हिसाब से सहयोग राशि मानदेय के रुप में दी जाए ।


धरने पर जिला बिजेद्र यादव, वरिष्ठ कांग्रेस नेता जलालुदीन्न सिदीकी उर्फ जल्लू भाई, पूर्व प्रदेश सचिव डा संजीव शर्मा, पूर्व महानगर उपाध्यक्ष सलीम सैफी, पूर्व पार्षद अमोल वशिष्ठ, मोदी नगर अध्यक्ष आषिश शर्मा, पूर्व जिला उपाध्यक्ष त्रिलोक सिह, पार्षद रजनीश चौधरी, पूजा मेहता, रेणुका अरोड़ा, शनि पांचाल, शुभम जिनवाल, जयंत त्यागी, रवि चौधरी, राधाकिशन शर्मा, नरेंद्र चौधरी पूर्व पार्षद, आशिष प्रेमी, विक्रांता शर्मा, शुभम शर्मा, हरदीप, पंकज शर्मा, शिवांग शर्मा, हरक्षित, शेखर शर्मा, यूथ कांग्रेस प्रदेश महासचिव विनित त्यागी, सुरेश चौधरी, संदीप कुशवाह, अशोक पंडित, पूर्व पार्षद मो हनीफ चीनी, रामप्रकाश कश्यप, ओमप्रकाश कश्यप, सन्नी, रामकिशन पाल, विक्की, जय किशन, आयुश त्यागी, सुनील शर्मा, राम शर्मा, मोहित गोड, अनुज तैवतिया, लेखराम त्यागी, महेश गुप्ता, स्वातिम शर्मा, ओंकार सिह, अक्षयवीर त्यागी, विकास शर्मा, अब्दुल कादिर, विक्रांता शर्मा, अमित त्यागी, रजनी कांत राजू अधिवक्ता, शोरभ शर्मा, वोरा जी, सचिन पहलवान, हेदर अली, प्रदीप कुमार, लवनीस त्यागी, रत्नेश दिर्वेदी, एससीएसटी जिला अध्यक्ष जितेंद्र गोड, श्रीचंद दिवाकर, आशुतोष गुप्ता, एम ए आजाद, रहीश अहमद सैफी, नूरहसन भाटी, अमिश प्रेमी सचिव, विजय पाल चौधरी, आसमोहमद, वी के शिशोदीया अधिवक्ता, मनोज शर्मा, सोमेया, दिनेश प्रताप सिह खोडा, शिवानंद गोड पूर्व पार्षद, हाजी मोहमद खालीद, दिलशाद मलिक, यामीन मलिक, पंकज तंजानिया, तरुण बैध, सुनील गुप्ता, सनील भाटि आदि कांग्रेस जन शामिल रहे।


ऑनलाइन पढ़ाई में सुरक्षा को समझें

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना संकट के इस दौर में पढ़ाई को लेकर नया संकट खड़ा हो गया है। मजबूरी में सरकार को स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान बंद करने पड़े। ऐसे में ज्यादातर स्कूलों और शैक्षणिक संस्थानों ने पढ़ाई का एक नया रास्ता निकाला- ऑनलाइन एजुकेशन अर्थात मोबाइल, लैपटॉप अथवा डेस्कटॉप का इस्तेमाल करते हुए ऑनलाइन पढ़ाई।


ऑनलाइन एजुकेशन का सिस्टम लगातार जोर पकड़ता जा रहा है और अब यह तय हो गया है कि आने वाले दिनों में इसका उपयोग और भी ज्यादा बढ़ता जाएगा। ऐसे में अब यह जरूरी हो गया है कि सभी अभिवावक बच्चों को ऑनलाइन मंडरा रहे खतरें के बारे में भी बताए, आगाह करें।


बच्चों को बताएं – ऑनलाइन सुरक्षित कैसे रहना है?
ऑनलाइन की दुनिया, वास्तव में यूजर आईडी और पासवर्ड की दुनिया है। पासवर्ड जितना मजबूत होगा, आप भी उतने ही मजबूत होंगे। पासवर्ड जब तक सेफ रहेगा , आप भी तब तक ही सुरक्षित रहेंगे।


हना है ऑनलाइन सेफ – पढ़िए, क्या करें और क्या न करें


साइबर बुलिंग को भी जानना है जरूरी


ऑनलाइन किस तरह का खतरा मंडरा रहा है। यह बच्चों के साथ-साथ , हम सबके लिए जानना जरूरी है। हम सबके लिए यह जानना जरूरी है कि यह साइबर बुलिंग होता क्या है ? इसलिए आप भी पढ़िए, समझिए और बच्चों को भी जरूर समझाइए।


साइबर बुलिंग -कैसे रोकें और मुकाबला करें
आपको यह बखूबी समझ आ गया होगा कि यह ऑनलाइन खतरा है क्या ? आखिर यह साइबर बुलिंग है क्या ?  खतरें को जान और समझ लेने के बाद यह सबसे ज्यादा जरूरी हो जाता है कि उससे मुकाबला कैसे किया जाए। 


कहाँ करे शिकायत


सबकों यह मालूम होना चाहिए कि साइबर अपराध का शिकार होने पर क्या करें। इसके लिए जरूरी है तमाम हेल्पलाइन नंबर्स, मेल आईडी को याद रखना। यह सभी जरूरी जानकारी आपको ऊपर की तस्वीर में नजर आ रही होगी। आपको बता दें कि NCERT और संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन के नई दिल्ली स्थित कार्यालय ने मिलकर ऑनलाइन सुरक्षित रहने पर छात्रों और शिक्षकों के बीच में जागरूकता बढ़ाने के लिए उपरोक्त गाइडलाइन्स वाली किताब को तैयार किया है । जिसका शुभारंभ केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने किया।           


सस्ते मास्क के चक्कर में 18 लाख का चूना


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। ट्रांस हिंडन क्षेत्र स्थित चंद्रनगर एक कंपनी को एक दूसरी कंपनी ने सस्ते दामों पर मास्क देने के नाम पर 18 लाख रुपयों का चूना लगा दिया।


थाना लिंक रोड में लिखाई गई रिपोर्ट के अनुसार चंद्र नगर की कंपनी ने एक मशहूर कंपनी को 3M मास्क देने के लिए ऑर्डर दिया।  ऑर्डर की शर्तों के अनुसार 18 लाख 58 हज़ार रुपए बतौर 10 प्रतिशत एडवांस दे दिए गए। कंपनी को एक सप्ताह के भीतर मास्क की डिलवरी मिलनी थी। तय समय पर डिलिवरी न मिलने पर पीड़ित कंपनी ने सप्लायर को फोन किया तो फोन बंद मिले।  छानबीन करने पर पता चला की फ़्राड कंपनी को तीन महीने पहले ही शुरू की गई थी।


एसएचओ लिंक रोड शैलेंद्र सिंह ने बताया कि पीड़ित कंपनी ने हमारे यहाँ शिकायत दर्ज कराई है।  पुलिस द्वारा छानबीन शुरू कर दी गई है।  जालसाज जल्द ही पुलिस की पकड़ में होंगे।         









दावाः 10 से 12 के बीच वैक्सीन लांच की

मॉस्को। रूस ने दावा किया है कि 10 से 12 अगस्त के बीच कोरोना की वैक्सीन को लॉन्च कर दिया जाएगा। ये कोरोना को मात देने के लिए दुनिया की पहली वैक्सीन है। सारी तैयारियां पूरी कर ली गई है। रिपोर्ट के मुताबिक पहले इसे रजिस्टर्ड किया जाएगा और फिर 3 से 7 दिनों के अंदर ये वैक्सीन लोगों के लिए बाज़ार में उपलब्ध होगी। रूस की तरफ से पहले कहा गया था कि 15-16 अगस्त तक ये वैक्सीन आएगी। इस वैक्सीन को गामालेया नेशनल रिसर्च सेंटर आफ ऐपीडेमीलॉजी एंड माइक्रोबॉयोलॉजी ने तैयार किया है।


अच्छे नतीजों का दावा-
स्पूतनिक न्यूज ने रक्षा मंत्रालय के हवाले से कहा कि इस टीके को लगाने के बाद नतीजे बहुत सकारात्मक आए हैं। ट्रायल किए जा रहे व्यक्ति की इम्यूनि​टी सिस्टम बेहतर रिस्पांस कर रही थी। व्यक्ति पर किसी भी किस्म का साइड इफेक्ट नहीं पाया गया। वॉलंटियर का बुरडेंको हॉस्पिटल में टेस्ट किया गया। गामालेया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों का कहना इस वैक्सीन को आम जनता के इस्तेमाल के लिए 10 अगस्त तक मंजूरी दिलवा लेंगे. लेकिन सबसे पहले फ्रंटलाइन हेल्थवर्कर्स को दी जाएगी. यानी वो लोग कोरोना के इलाज में जुटे हैं।


वैक्सीन पर डब्ल्यूएचओ की चेतावनी-इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यूएचओ ने रूस की इस वैक्सीन को लेकर कई तरह की चिंताएं जाहिर की है। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि रूस ने वैक्सीन बनाने के लिए तय गाइडलाइंस का पालन नहीं किया है, ऐसे में इस वैक्सीन की सफलता पर भरोसा करना मुश्किल है। WHO के प्रवक्ता क्रिस्टियन लिंडमियर ये कहकर सबको चौंका दिया कि अगर किसी वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल किए बगैर ही उसके उत्पादन के लिए लाइसेंस जारी कर दिया जाता है, तो इसे खतरनाक मानना ही पड़ेगा।


165 वैक्सीन हो रहा है काम-


इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि दुनियाभर में 6 वैक्सीन का काम तीसरे पेज में पहुंच गया है।लेकिन WHO का कहना है कि फिलहाल इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि ये सारी वैक्सीन कामयाब होगी। दुनिया भर में फिलहाल 165 वैक्सीन पर काम चल रहा है। जिसके अलग-अलग फेज के ट्रायल चल रहे हैं। WHO के मुताबिक इस वक्त 26 वैक्सीन ऐसे हैं जिसके क्लीनिकल ट्रायल चल रहे हैं।       


सैकड़ों अपराधियों को किया गिरफ्तार

अश्वनी उपाध्याय 


गाजियाबाद। जनपद की पुलिस द्वारा गुरुवार रात को वांटेड और फरार चल रहे अपराधियों की धरपकड़ के लिए एक विशेष अभियान चलाया गया। ऑपरेशन अभियान नाम के इस अभियान में विभिन्न थानों में पिछले लंबे समय से फार चल रहे 66 अपराधियों को पकड़कर जेल भेजा गया।  इसके अलावा 34 वारंटी अभियुक्तों को भी गिरफ्तार किया गया।


एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि गुरुवार को धारा -151  CrPC के तहत 71 अन्य अपराधियों को भी  गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। इनके संबंध में संबंधित थानों पर आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने कहा कि गुरुवार रात को चले सघन वाहन चैकिंग अभियान के दौरान विभिन्न थानों के अंतर्गत यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले कुल 127 वाहन सीज किए गए हैं। एसएसपी ने आश्वस्त किया कि आने वाले दिनों में ऐसे ही विशेष अभियान चलाकर गाज़ियाबाद को अपराध मुक्त करने की दिशा में प्रयास जारी रहेंगे।               


182 पुलिसकर्मियों ने कोरोना को हराया

हैदराबाद। हाल ही में शहर के उत्तरी क्षेत्र के 182 पुलिस अधिकारी और कर्मचारी कोरोना वायरस की लड़ाई जीतकर लौटे हैं। सभी गुरुवार को फिर से लोगों की सेवा के लिए आए हैं। इस दौरान प्राप्त जानकारी के अनुसार, सिकंदराबाद के एक समारोह हॉल में उनके सम्मान में एक समारोह आयोजित किया गया था। वहीं इस आयोजन में शहर के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए। इसके साथ ही, अंजनी कुमार ने कहा कि इस समय के दौरान, 'हैदराबाद पुलिस कर्फ्यू, लॉकडाउन और अब अनलॉक के दौरान जनता की सेवा में व्यस्त है।'


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने यह भी कहा कि 'ज्यादातर हैदराबाद पुलिस कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हो गए क्योंकि प्रवासी मजदूरों को उनके राज्यों में ले जाया गया और भीड़ भरे बाजारों में तैनात किया गया। यह बहुत अच्छी खबर है कि संक्रमितों में से 182 पुलिस कर्मी फिर से लोगों की सेवा के लिए आए हैं। इसके अलावा, नगर निगम आयुक्त ने कहा कि 'हैदराबाद पुलिस देश की सर्वश्रेष्ठ पुलिस में से एक है। जनता के लिए सेवा और सुरक्षा प्रदान करना पुलिस के लिए सर्वोपरि है। पुलिस आयुक्त ने कहा कि आने वाले 7 वर्षों में 30 प्रतिशत महिला पुलिसकर्मियों की नियुक्ति की जाएगी।


इसके साथ ही उन्होंने अपनी बात में यह भी कहा - 'शहर में कोरोना का खतरा अभी कम नहीं हुआ है। इसे ध्यान में रखते हुए, सभी को कोविद -19 के नियमों का पालन करना चाहिए। मुख्य रूप से बुजुर्गों और बच्चों को अधिक सावधानी से रहना चाहिए। आपको बता दें कि आयोजित कार्यक्रम में उत्तर क्षेत्र के पुलिस आयुक्त कमलेश्वर, अतिरिक्त उपायुक्त श्रीनिवास और अधिकारियों ने भाग लिया।           


नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति, नए भारत की नींंव

नई दिल्ली। पीएम मोदी आज देश की नई शिक्षा नीति को संबोधित कर रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि यह कार्यक्रम राष्ट्रीय शिक्षा नीति के संदर्भ में बहुत महत्वपूर्ण है। इस कॉन्क्लेव के माध्यम से, भारत के शिक्षा विश्व को राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विभिन्न पहलुओं के बारे में विस्तृत जानकारी मिलेगी। अधिक जानकारी स्पष्ट है, फिर आसान इस राष्ट्रीय शिक्षा नीति का कार्यान्वयन होगा। 3-4 वर्षों के व्यापक विचार-विमर्श के बाद, लाखों सुझावों पर लंबे विचार-मंथन के बाद राष्ट्रीय शिक्षा नीति को मंजूरी दी गई।


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरे देश में इसकी व्यापक चर्चा हो रही है। विभिन्न क्षेत्रों के लोग, विभिन्न विचारधाराओं के लोग अपने विचार दे रहे हैं, राष्ट्रीय शिक्षा नीति की समीक्षा कर रहे हैं। यह एक स्वस्थ बहस है, यह जितना अधिक है, देश की शिक्षा प्रणाली को उतना अधिक लाभ मिलेगा। यह भी प्रसन्नता का विषय है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के आने के बाद, यह देश के किसी भी क्षेत्र से नहीं निकला है, किसी भी तबके से, जिसके पास किसी भी प्रकार का पूर्वाग्रह है, या एक तरफ झुक रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21 वीं सदी के भारत, नए भारत की नींव रखने जा रही है।


उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के लिए इस सवाल पर आना स्वाभाविक है कि इतना बड़ा सुधार कागज पर किया गया था, लेकिन इसे जमीन पर कैसे रखा जाएगा। यानी सभी की नजरें इसके क्रियान्वयन की ओर हैं। आप सभी सीधे राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन से जुड़े हैं और इसलिए आपकी भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। जहां तक ​​राजनीतिक इच्छाशक्ति का सवाल है, मैं पूरी तरह से प्रतिबद्ध हूं, मैं पूरी तरह से आपके साथ हूं।             


श्रीलंकाः कमल वाली पार्टी ने चुनाव जीता

रामकुमार भट्ट


कोलंबो। भारत के बाद श्रीलंका के राजनीतिक परिदृश्य कमलमय हुआ है। प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे की कमल फूल निशान वाली पार्टी एसएलपीपी ने 225 सीटों वाले संसद में दोतिहाई से ज्यादा सीटों पर काबिज हुई है। चुनाव में विपक्ष के बड़े-बड़े नेता धराशाई हो गए हैं।


राजपक्षे के पार्टी की सुनामी इतनी जबरदस्त थी कि लंका के सबसे पुराने राजनीतिक दल यूएनपी के नेता 1977 में राजनीति में कदम रखने के बाद से कभी भी अपनी कोलंबों की सीट नहीं हारने वाले पूर्व प्रधानमंत्री रनिल विक्रमसिंघे को भी अपनी सीट गंवानी पड़ी। यही नहीं चुनाव में लंका की विश्व कप विजेता क्रिकेट टीम के कप्तान और यूएनपी के प्रत्याशी अर्जुना रणतुंगे भी गुम्पाहा सीट से पराजित हो गए। वहीं यूएनपी से अलग होकर सत्ता के लिए संघर्ष कर रही पार्टी एसजेबी के नेता और पूर्व प्रधानंत्री रमसिंघे प्रेमदासा के पुत्र सजिथ प्रेमदासा अपनी सीट बचाने में सफल रहे। पार्टी को द्वीप के अन्य हिस्सों में भी कुछ सफलता हासिल हुई है। चुनाव में जहां महिंदा राजपक्षे कुरुनेगाला सीट और उनके बेटे नमल परिवार की परंपरागत सीट हंबनटोटा से जीत हासिल की। अब लंका के राष्ट्रपति के तौर पर छोटे भाई गोटाबाया राजपक्षे के साथ प्रधानमंत्री राजपक्षे आने वाले पांच सालों तक बिना किसी बाधा के लंका पर शासन करेंगे। अबकी बार लंका की राजनीति में महिंदा के बेटे नमल की भी शक्तिशाली कैबिनेट मंत्री के तौर पर अहम भूमिका होने वाली है।


बिहारः बाढ़ ने 21 लोगों की जान ली

अविनाश श्रीवास्तव


पटना। बिहार की सभी प्रमुख नदियों में उफान जारी है। इस बीच बाढ़ के कारण राज्य के 16 जिलों की 69 लाख की आबादी प्रभावित हो चुकी है। बाढ़ के कारण अब तक 21 लोगों की मौत हो गई है। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई हैं। इधर, राज्य सरकार भी बाढ़ पीड़ित परिवारों के बैंक खाते में 6000 रुपये पहुंचाकर आर्थिक मदद देने में जुटी हुई है। राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, राज्य के 16 जिलों के कुल 124 प्रखंडों की 1,185 पंचायतें बाढ़ से प्रभावित हुई हैं। इन क्षेत्रों में करीब 69 लाख की आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है। आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव रामचंद्र डू ने बताया कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में 8 राहत शिविर खोले गए हैं, जहां 12 हजार से ज्यादा लोग रह रहे हैं। इसके अलावा बाढ़ प्रभावित इलाकों में कुल 1,402 सामुदायिक रसोईघर चलाए जा रहे हैं, जिसमें प्रतिदिन करीब दस लाख लोग भोजन कर रहे हैं।


उन्होंने बताया कि बाढ़ के दौरान अलग-अलग इलाकों में हुईं विभिन्न घटनाओं में 21 लोगों की मौत हुई है। इनमें सबसे अधिक सात लोगों की मौत दरभंगा जिले में तथा छह लोगों की मौत मुजफ्फरपुर जिले में हुई है। इस बीच 23 पालतू पशु की भी मौत हो गई है।उन्होंने बताया कि सभी बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 33 टीमें राहत एवं बचाव का कार्य कर रही हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 4,81,939 लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाकों से निकालकर सुरक्षित इलाकों में पहुंचाया गया है। अपर सचिव ने बताया कि बाढ़ प्रभावित प्रत्येक परिवार को ग्रेच्युट्स रिलीफ के अंतर्गत 6,000 रुपये की राशि दी जा रही है। अभी तक 4,50,129 परिवारों के बैंक खाते में कुल 270़80 करोड़ रुपये जीआर की राशि भेजी जा चुकी है। ऐसे परिवारों को एसएमएस के माध्यम से सूचित भी किया गया है।


बिहार राज्य जलसंसाधन विभाग के एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि कोसी के जलस्तर में उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है। गुरुवार की शाम इसके जलस्तर में वृद्धि हुई थी, लेकिन शुक्रवार को फिर इसकी प्रवृत्ति कमी की दिख रही है। वीरपुर बैराज के पास शुक्रवार को सुबह छह बजे कोसी का जलस्तर 1.85 लाख क्यूसेक था जो आठ बजे घटकर 1.83 लाख क्यूसेक हो गया।


इधर, गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि हुई है। गंडक का जलस्राव वाल्मीकिनगर बराज पर सुबह छह बजे 1.61 लाख क्यूसेक था जो आठ बजे बढ़कर 1.63 लाख क्यूसेक पहुंच गया है। इस बीच, राज्य की करीब सभी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बागमती जहां ढेंग, सोनाखान, कटौंझा, बेनीबाद और हायाघाट के पास खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, वहीं बूढ़ी गंडक सिकंदरापुर, समस्तीपुर रेल पुल, रोसड़ा रेल पुल और खगड़िया में लाल निशान के ऊपर है। इधर, कमला बलान जयनगर व झंझारपुर रेल पुल के पास खतरे के निशान से ऊपर है। गंगा नदी कहलगांव में लाल निशान के ऊपर है, जबकि घाघरा और अधवारा भी कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। मौसम विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान के मुताबिक, अगले चार-पांच दिनों तक पूरे बिहार में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है, जिसको देखते हुए सभी जिलों को अलर्ट करा दिया गया है।             


बिहार चुनाव की लड़ाई में हुई देरीः गांधी

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। भले ही बिहार विधानसभा चुनाव कुछ महीने दूर हैं, लेकिन राज्य कांग्रेस के नेताओं ने एक ऑनलाइन पार्टी बैठक के दौरान राहुल गांधी से कहा कि संगठनात्मक ढांचे के अभाव में बिहार में चुनावी लड़ाई की तैयारी में बहुत देर हो चुकी है। पार्टी सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। राहुल गांधी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राज्य इकाई के नेताओं के साथ बैठक की। इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री तारिक अनवर उन नेताओं में से थे जिन्होंने कहा कि अप्रैल-मई 2019 में लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस को तैयारियां करनी शुरू कर देनी चाहिए थी।


सूत्रों ने कहा कि पार्टी के नेताओं ने बताया कि राज्य में कांग्रेस का संगठनात्मक ढांचा कमजोर है। सूत्रों के मुताबिक, राज्य के नेताओं ने कहा, “बहुत देर हो चुकी है।” भले ही राहुल गांधी ने कहा है कि पार्टी समय पर महागठंबधन भागीदारों के साथ अपने सीट-बंटवारे समझौते को अंतिम रूप देगी। कांग्रेस ने गुरुवार को कहा कि ब्लॉक स्तर तक के 1,000 पार्टी कैडर बैठक में शामिल हुए, जो बाद में एक वर्चुअल रैली में बदल गया क्योंकि एक लाख से अधिक लोग विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से शामिल हुए। राहुल गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को राज्य के लोगों को सुशासन प्रदान करने के ‘सकारात्मक एजेंडे’ के साथ बिहार चुनाव लड़ने के लिए कहा था।           


बैराज में हाथ बंधे युवक-युवती के शव

विकास जाटव


नानकमत्ता। नानकसागर बैराज में युवक और युवती के शव मिलने से सनसनी फैल गई। दोनों के एक एक हाथ आपस में बंधे हुए हैं। उनकी शिनाख्त बरेली निवासी किशन लाल कश्श्यप व राजकुमारी के रूप में हुई है। पुलिस ने शवों को बैराज के पानी से निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए हैं। दोनों 3 अगस्त से अपने अपने घर से लापता थे और उनके परिजनों ने बरेली थाने में उनकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी।


मिल रही जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह नानकसागर बैराज से तकरीबन एक हजार आगे पूरब दिशा में ग्रामीणों ने बैराज के पानी में उतराती देखीं। इस घटना की जानकारी पुलिस चौकी नानकसागर को दी गई। इस पर चौकी प्रभारी राजेंद्र पंत पुलिस की टीम के साथ मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों की मदद से पुलिस ने शवों को पानी से बाहर निकलवाया। युवक का बायां हाथ और युवती का दाहिना हाथ आपस में चुनरी से बंधा था। युवक के शव की तलाशी के दौरान एक आधार कार्ड, 810 रुपये की नकदी बरामद कीं।


छानबीन में पुलिस को पता चला कि मृतक युवक किशनलाल कश्यप है। 25 वर्षीय यह युवक गंगापुर कालोनी बरेली का रहने वाला था। जबकि युवति का नाम राजकुमारी है और 21 वर्षीय यह युवती रामगंगा कालोनीे थाना बिहारी कैंप की रहने वाली थी। पुलिस को यह भी पता चला कि मृतका की हाल ही में शादी भी हो चुकी थी। दोनों तीन अगस्त से अपने अपने घरों से लापता थे। जिनकी स्थानीय थानों में गुमशुदगी दर्ज है। पुलिस ने दोनों के परिजनों को फोन पर शव मिलने के बाबत अवगत करा दिया है। पुलिस क्षेत्राधिकारी महेश चंद्र विंजौला तथा थाना प्रभारी कमलेश भट्ट ने भी मौके पर पहुंच कर मामले की जानकारी ली।            


बरेली पहुंचे योगी, स्थिति का जायजा लिया

बरेली। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार दोपहर करीब ढाई बजे बरेली पहुंचे। वहां पर उन्हें त्रिशूल एयरवेज से कड़े सुरक्षा घेरे में कमिश्नरी तक ले जाया गया। मुख्यमंत्री की सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए प्रशासन ने सर्किट हाउस से लेकर चौकी चौराहा तक के इलाके को सेफ जोन में तब्दील कर दिया। दोनों ओर से वाहनों के प्रवेश को रोक दिया गया। बरेली पहुंचते ही मुख्यमंत्री योगी ने सबसे पहले जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करके शहर की स्थितियों का जायजा लिया। इसके बाद सीएम कोविड-19 को लेकर मंडलीय बैठक करेंगे, जिसमें बरेली में बढ़ रहे संक्रमितों को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश देंगे।               


250 मुस्लिमों ने 'सनातन' धर्म अपनाया

राणा ओबरॉय


जयपुर / चंडीगढ़। अयोध्या में राम जन्मभूमि पूजन के दिन से देश के कई राज्यों में मुस्लिम परिवारों ने अपने मूल धर्म की ओर लौटना शुरू कर दिया है। मुस्लिम परिवारों का कहना है कि उनके पूर्वजों ने मुगलकाल में भय और डर से मुस्लिम धर्म अपनाया था। वास्तव में वे हिन्दू थे। इसलिए वे अब अपने मूल हिन्दू सनातन धर्म में वापसी कर रहे है। राजस्थान और हरियाणा में सैकड़ों मुस्लिम परिवारों ने हिन्दू समुदाय में लौट कर ख़ुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि वे बगैर किसी दबाव और लालच के हिन्दू धर्म अपना रहे है। राजस्थान के बाड़मेर जिले की पायला कला पंचायत समिति के मोतीसरा गांव में निवासरत 50 मुस्लिम परिवारों ने हिंदू धर्म अपना लिया है। इन लोगों का कहना है कि उन पर किसी भी तरीके का कोई दबाव नहीं था।


उनके मुताबिक पिछले कई सालों से वे अपने मूल धर्म में वापसी के लिए प्रयासरत थे। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की शुभ तिथि के बाद उन्होंने मुस्लिम धर्म को त्यागने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि वे हिंदू धर्म अपना रहे हैं और हिंदू रीति रिवाज के हिसाब से ही अपनी जिंदगी को जी रहे हैं। 50 परिवारों ने अपने पूरे सदस्यों के साथ हिंदू धर्म में वापसी की। इस दौरान उनके घर पर हवन यज्ञ करके जनेऊ पहन कर इन परिवार के ढाई सौ लोगों को फिर से हिंदू धर्म की दीक्षा दी गई। इस दौरान पुरोहित ने अनुष्ठान कराया। इस मौके पर बाड़मेर जिले सहित आसपास के अन्य दर्जनों हिंदू संतों को खासतौर से बुलाया गया था। उनके सानिध्य में ही इन लोगों की हिंदू धर्म में घर वापसी हुई है।


इस मामले में हिंदू धर्म अपनाने वाले बुजुर्ग सुभनराम ने बताया कि मुगल काल में मुस्लिमों ने हमारे पूर्वजों को डरा धमकाकर मुस्लिम बनाया था। उनका परिवार हिंदू धर्म से ताल्लुक रखता था। उन्होंने आगे बताया कि इतिहास की जानकारी होने के बाद हमने इस तथ्य पर गौर किया। बुजुर्गों से राय ली कि मुस्लिम बने रहे या वापस हिंदू धर्म में लौटे। उन्होंने बताया कि हमारे रीति रिवाज पूरे हिंदू धर्म से संबंध रखते हैं। इसी के बाद पूरे परिवार ने हिंदू धर्म में वापसी की इच्छा जताई। उनके मुताबिक घर पर हवन यज्ञ कराकर जनेऊ पहनकर खानदान के सभी 250 सदस्यों ने फिर से हिंदू धर्म में वापसी कर ली। गांव के हरजीराम के मुताबिक, कंचन ढाढ़ी जाति से ताल्लुक रखने वाला मुस्लिम परिवार पिछले कई सालों से अपने मूल धर्म में वापसी की राह तक रहा था। बुधवार को राम जन्मभूमि पर राम मंदिर के शिलान्यास के समारोह पर सभी ने हवन पूजा पाठ का प्रोग्राम रखा एवं हिंदू संस्कृति का पालन करते हुए अपनी स्वेच्छा से मूल धर्म में घर वापसी की है। उन्होंने बताया कि उनके ऊपर कोई दबाव वगैरह नहीं है। वहीं, गांव के पूर्व सरपंच प्रभुराम कलबी ने बताया कि ढाढ़ी जाति के परिवार के सदस्यों ने बिना किसी दबाव और अपनी इच्छा से हिंदू धर्म में वापसी की है। उनके मुताबिक संविधान के अनुसार कोई भी व्यक्ति किसी भी धर्म को अपना सकता है। इसमें किसी को कोई आपत्ति भी नहीं, बल्कि पूरे गांव ने इनके इस फैसले का सम्मान किया है।


इधर राजस्थान से सटे हरियाणा के दर्जनों गांव में भी मुगलकाल में मुस्लिम धर्म अपना चुके कई परिवारों ने हिन्दू धर्म की दीक्षा ली है। इन इलाकों में पिछले 3 दिनों से मूल धर्म वापसी कार्यक्रम चल रहा है। मुस्लिम समुदाय के ये लोग बगैर किसी लोभ लालच के हिन्दू धर्म स्वीकार कर रहे है।


साइकिल चालकों में 3 गुना इजाफा हुआ

नई दिल्ली। भारतीय प्राद्योगिकी संस्थान-दिल्ली और रुड़की के पूर्व छात्रों द्वारा किए गए शोध से पता चला है कि लॉकडाउन के कारण दिल्ली में साइकिल उपयोग में लाने वालों की संख्या में तीन गुना वृद्धि हुई लेकिन इंफ्रास्टक्च र की कमी के कारण काम और फिटनेस के लिए साइकिल उपयोग में लाने वालों के लिए कई तरह की दुश्वारियां बनी हुई हैं। सर्वे 'लाइवलीहुड साइकिलिस्ट इन दिल्ली' नाम के इस अध्ययन में यह भी कहा गया है कि दिल्ली में 11 लाख साइकिल सवार हैं लेकिन यहां मात्र 100 किमी साइकिल ट्रैक है। ऐसे में अलग-अलग उद्देश्यों के लिए साइकिल का उपयोग करने वालों को रोजाना अनचाहे खतरों का भय सताता रहता है।


इस सर्वे में लगभग 1400 लोगों के शामिल किया गया, जिनमें से 97 प्रतिशत ने रोजाना के आवागमन के माध्यम के रूप में साइकिल का उपयोग करने की इच्छा जतायी लेकिन साथ ही वे कई चीजों को लेकर डरे हुए भी दिखे। इसमें सबसे प्रमुख उनकी सुरक्षा है। इस 'परसेप्शन स्टडी' में यह खुलासा हुआ कि सुरक्षित और सुविधाजनक साइक्लिंग इंफ्रास्ट्रक्च र का अभाव, डेडिकेटेड साइक्लिंग लाइंस का न होना, दूषित वायु और अनियंत्रित ट्रैफिक के चलते दिल्ली के अधिक लोग साइकिल की सवारी नहीं कर पा रहे हैं। इसी कारण कई सामाजिक दिल्ली सरकार के सामने इन मुद्दों को रखने के लिए आगे आई हैं। इन संस्थाओं की मांग है कि दिल्ली सरकार जनता के लिए सुरक्षित साइक्लिंग ढांचा और स्थायी रूप से डेडिकेटेड साइकिल लेन्स स्थानपित करे।


इसके लिए हैशटैगदिल्लीधड़कनेदो कैंपेन शुरू किया गया है। यह दिल्ली में स्वच्छ वायु समाधानों और बेहतर एवं टिकाऊ सार्वजनिक परिवहन साधन विशेषकर साइक्लिंग को लेकर काम कर रहे नागरिक समाज संगठनों का सामूहिक प्रयास है। यह मुहिम दिल्ली को भारत का पहला साइक्लिंग-फ्रेंड्ली शहर बनाने में सहायता करने के लिए चलाया गया है। इसके तहत दिल्ली सरकार के पास एक याचिका दिया जाना है, जिसमें कहा गया है कि दिल्ली में नॉन-मोटराइज्ड ट्रांसपोर्ट पॉलिसी लाई जाये, जिसमें दो पहलुओं को प्राथमिकता मिले। पहला- साइकिल के लिए लेन बनाने को प्राथमिकता दिया जाना और दूसरा-परिवहन के कोविड-प्रूफ साधन के रूप में हर किसी को साइकिल के उपयोग की अनुमति देना।


दिल्ली में लम्बे समय से पर्यावरण, शिक्षा, सामाजिक उत्थान और सस्टेनेबल डेवलपमेंट के लिए काम कर रही अग्रणी गैर सरकारी संस्था (एनजीओ) 'स्वच्छा' के कार्यकारी निदेशक और प्रमुख विमलेंदु झा ने कहा, ''दिल्ली में साइकिलों के माध्यम से आजीविका चलाने वाले 91 प्रतिशत लोग हर रोज साइकिल चलाकर अलग-अलग जगहों पर जाते हैं, लेकिन क्या हमारी सड़कें सुरक्षित तरीके से पैदल और साइकिल से चलने के लिए डिजाइन की गयी हैं? इसका उत्तर है, नहीं। दिल्ली के लगभग 11 लाख साइकिल चालकों के लिए मात्र 100 किमी साइकिल ट्रैक है। यही नहीं, दिल्ली कई वर्षों से वायु प्रदूषण की समस्या से जूझ रही है। दिल्ली के वायु प्रदूषण की समस्या को परंपरागत साधनों जैसे कि साइकिल इंफ्रास्ट्रक्च र से हल नहीं किया जा सकता है, बल्कि इसके लिए शहर के कोने-कोने तक कनेक्टिविटी भी बेहद जरूरी है। इसलिए, पैदल चलने वालों की सुरक्षा और दिल्लीं में पैदल व साइकिल से चलने के उनके अधिकार की रक्षा हेतु मजबूत नीतियों की सख्त आवश्यमकता है।''


दिल्ली सरकार के आंकड़े बताते हैं कि शहर में लगभग 11 लाख नियमित साइकिल उपयोगकर्ता हैं। यह आंकड़ा कोविड-19 महामारी से पहले से है और रुझानों से संकेत मिलता है कि संख्या केवल बढ़ेगी। आईआईटी- दिल्ली और रुड़की के पूर्व छात्रों द्वारा किए गए अध्ययन से यह साफ है, जिसमें कहा गया है कि दिल्ली में साइकिल चलानों की संख्या चार फीसदी से बढ़कर 12 फीसदी हो गई है। दिल्ली में राहगिरी डे की सह-संस्थापक सारिका पांडा मानती हैं कि दिल्ली में अभी भी गतिशीलता के संकट से निपटना जरूरी है और शहर को पैदल चलने और साइकिल चलाने की योजनाओं के कार्यान्वयन की आवश्यकता है।           


बेटी की हत्या कर, अंतिम संस्कार किया

गोपीचंद सैनी


मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में एक पिता ने अपनी 17 वर्षीय बेटी की गला दबाकर हत्या कर दी औऱ शव का अंतिम संस्कार भी कर दिया। वहीं, मामला पुलिस के संज्ञाने में आने पर मामले की जांच पड़ताल के बाद पिता योगेश गिरफ्तार कर लिया। साथ ही पुलिस ने श्मशान घाट से अस्थियों को कब्जे में लिया है, जिन्हें जांच के लिए लैब भेजा जाएगा।


मामला मेरठ जिले के दौराला थाना क्षेत्र के मछली गांव की है। मिली जानकारी के मुताबिक, ज्योति का गांव के ही दीपक से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जुलाई में ज्योति और दीपक अपने घर से भाग गए थे। ज्योति के परिजनों ने दीपक के खिलाफ उसे भगा कर ले जाने का केस दर्ज कराया था। दो दिन बाद ज्योति को दिल्ली स्टेशन पर जीआरपी ने बरामद कर परिजनों को सूचना दी थी। दौराला पुलिस ज्योति को ले आई,


जहां पुलिस और कोर्ट के सामने ज्योति ने दीपक पर भगा ले जाने के आरोप झूठे बताते हुए अपनी मर्जी से जाने के बयान दिए थे। जिसके बाद वह केस खत्म हो चुका था और दीपक को बेगुनाह माना था। वहीं, कोर्ट ने ज्योति को उसके परिजनों को सौंपा दिया था। बताया जाता है कि परिजन ज्योति को लगातार समझा रहे थे, मगर वह प्रेमी संग ही रहने की जिद कर रही थी। पुलिस के मुताबिक, बुधवार रात पिता योगेश ने ज्योति का गला दबाकर उसकी हत्या कर दी और गांव के पास ही श्मशान घाट में अंतिम संस्कार कर दिया।


गुरुवार दोपहर बाद ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पुलिस गांव में पहुंची और ज्योति के परिजनों से पूछताछ की। ज्योति के पिता योगेश पहले तो ना-नुकर करता रहा, मगर पुलिस ने सख्ती से पूछा तो वह टूट गया और पूरा प्रकरण बताते हुए हत्या करने की बात स्वीकार की। पुलिस ने आरोपित पिता योगेश को गिरफ्तार कर श्मशान घाट से अवशेष बरामद किए हैं। थानाध्यक्ष करतार सिंह का कहना है कि ऑनर किलिंग में आरोपित पिता योगेश को गिरफ्तार कर लिया है। अभी और पूछताछ की जा रही है।                


रामदेव पर 10 लाख का जुर्माना लगाया

चेन्नई। मद्रास हाई कोर्ट ने योग गुरु बाबा राम देव की पतंजलि आयुर्वेद और दिव्य मंदिर योग ट्रस्ट के खिलाफ 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। कोर्ट ने यह जुर्माना पतंजलि के उस दावे के लिए लगाया गया है, जिसमें कहा गया था कि उनका आयुर्वेदिक सूत्रीकरण कोरोनिल कोरोना वायरस को ठीक कर सकता है। बता दें इससे पहले मद्रास हाई कोर्ट ने कोरोना वायरस के उपचार को लेकर पेश की गई कोरोनिल दवा के ट्रेडमार्क के इस्तेमाल पर रोक लगाई थी।


जस्टिस सीवी कार्तिकेयन ने चेन्नई की कंपनी अरुद्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड की याचिका पर 30 जुलाई तक के लिए यह अंतरिम आदेश जारी किया था। अरुद्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड ने दावा किया था कि सन 1993 से उसके पास 'कोरोनिल' ट्रेडमार्क है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, साल 1993 में ‘कोरोनिल-213 एसपीएल' और ‘कोरोनिल-92 बी' का रजिस्ट्रेशन कराया गया था। वह तब से उसका रिन्युअल करा रही है।




             



5 दिन से जवान लापता, सर्च ऑपरेशन

सोपियांं। जम्मू-कश्मीर के शोपियां से लापता सेना के एक जवान का पांच दिन बाद भी कोई पता नहीं चल पाया है।राइफलमैन शाकिर मंज़ूर अपने परिवार के साथ ईद मनाने के लिए जम्मू-कश्मीर गए थे। वह 2 अगस्त की शाम से लापता हैं। शाकिर 162 बटालियन का हिस्सा हैं। जवान की तलाश में शोपियां में आज सुबह सुरक्षाबलों ने तलाशी अभियान शुरू किया गया।


शोपियां इलाके में आज सुबह बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू किया गया है। शोपियां के एक स्थानीय नागरिक ने कहा कि सैनिकों और पुलिसकर्मियों की टीम सर्च ऑपरेशन चला रही है। आशंका है कि आतंकवादियों ने राइफलमैन का अपहरण कर लिया है। कुलगाम के पास उनकी जली हुई कार मिली है। शक है कि आतंकवादियों ने जवान का अपहरण कर लिया है। सिपाही की जली हुई कार दक्षिण कश्मीर में रामभामा इलाके के पास मिली थी। घटना के तुरंत बाद शाकिर मंज़ूर के परिवार ने अपील जारी की कि उसे नुकसान न पहुंचाया जाए। यह पहली बार नहीं है कि कश्मीर में अपने घर गए जवानों को आतंकवादियों ने निशाना बनाया है। पिछले कुछ सालों में ऐसे कई उदाहरण सामने आए हैं। मई 2017 में आतंकवादियों ने एक युवा, सेना अधिकारी लेफ्टिनेंट उमर फैयाज का अपहरण कर लिया, जब वह शोपियां में एक पारिवारिक शादी में भाग ले रहे थे अगले दिन उनकी लाश मिली थी। इसी तरह एक और सैनिक औरंगजेब को 2018 में उस समय अगवा कर लिया गया था जब वह अपने परिवार के साथ समय बिताने के लिए पुंछ जा रहे थे।फिलहाल, 2 अगस्त से लापता सेना के राइफलमैन शाकिर मंजूर को ढूंढने की कोशिश जारी है। शोपियां के अलावा आस-पास के इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इसके अलावा सेना आधुनिक तकनीकी का इस्तेमाल करके शाकिर मंजूर का लोकेशन पता करने की कोशिश कर रही है।


कड़े नियमों के बाद बैंकों में धोखाधड़ी जारी

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के कड़े नियमों के बावजूद, बैंकों में धोखाधड़ी जारी है। ऐसी स्थिति में, भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि चेक में धोखाधड़ी लेनदेन को रोकने के लिए बैंकिंग प्रणाली में 'पॉजिटिव पे' सुविधा प्रदान की जाएगी। पॉजिटिव पे फीचर के तहत, चेक जारी करने वाला व्यक्ति चेक को किसी और को सौंपने से पहले चेक का फोटो लेता है और उसे बैंक के मोबाइल ऐप पर अपलोड करता है।


सूत्रों के अनुसार, मौद्रिक नीति की द्विमासिक समीक्षा के बाद दास ने कहा, "चेक भुगतान की सुरक्षा को और बढ़ाने के लिए, 50,000 रुपये या अधिक मूल्य के सभी चेक के लिए 'सकारात्मक भुगतान' सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया गया है।" उन्होंने कहा कि 50,000 रुपये की इस सीमा के तहत, संख्या के संदर्भ में लगभग 20 प्रतिशत और भुगतान मूल्य के अनुसार 80 प्रतिशत लेनदेन आएंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस संबंध में अन्य दिशा-निर्देश जल्द ही जारी किए जाएंगे। यह ज्ञात है कि देश का दूसरा सबसे बड़ा निजी बैंक ICICI बैंक 2016 से अपने ग्राहकों को बिना किसी सीमा के ऐसी सुविधाएं प्रदान कर रहा है। इस सुविधा के साथ, बैंक चेक के लाभार्थी के सामने जानता है कि उसके ग्राहक ने चेक जारी किया है। इससे बैंक कर्मचारी चेक का भुगतान करने से पहले उसके पास पहले से उपलब्ध जानकारी का मिलान कर सकता है।           


अनेक रोगों का इलाज है गिलोय बैल

गिलोय जो एक मात्र बेल होती है लेकिन क्या आप जानते है गिलोय को भारत में एक औषधि का स्थान मिला है जी हां एक मात्र बेल जो एनेको रोगों को नष्ट करने का काम करती है।  
गिलोय जो एक औषधि के नाम से जानी जाती है। यह बरसात में आधिक मात्रा में पाई जाती है। इसकी एक कलम काट कर भी आप लगते है तो ये एक महीने में विशाल रूप ले लेती है। गिलोय को अनेकों नामों से जाना जाता है इसके पत्ते पान के आकार के होते है। गिलोय के अनेकों फायदे होते है। गिलोय शरीर की क्षमता इम्युनिटी बूस्ट में सबसे फायदेमंद होता है। 
बुखार, खासी, जुखाम, इम्युनिटी बूस्ट, शरीर में थकान होना आदि फायदों में गिलोय जाना जाता है।  
गिलोय के एक तने के छोटे-छोटे पीस करके उसे दो गिलास पानी के साथ जब तक उबालें और जब वह उबल कर एक गिलास हो जाने के बाद उसे ठंडा करके पी ले। गिलोय का काढ़ा बनाने के लिऐ आपको दो गिलास पानी में गिलोय के छोटे-छोटे टुकड़े, लॉन्ग, इलायची, काली मिर्च यह दो दो टुकड़े पानी में डालें और पानी को जब तक उबले जब तक कि वह आधा गिलास ना हो जाए। काढ़ा भरने के बाद उसको थोड़ा गुनगुना होने के बाद पिया जा सकता है। अगर आप रोज एक गिलास पीते हैं तो आपकी शारीरिक क्षमता बढ़ेगी। जैसा कि आप सभी जानते हैं गिलोय हर छोटे-बड़े इलाज के लिए लाभकारी होती है। जिसके लिए गिलोय का तरह तरह से इस्तेमाल किया जाता है। हम आपको बताते हैं कि आप गिलोय की गोलियों को भी बना सकते हैं जिसका आप कहीं भी किसी भी वक्त उपयोग कर सकते हैं गिलोय के टुकड़े या कलम के छोटे-छोटे टुकड़े करके उसे सुखा लें। सुखाने के बाद इसे आप कभी भी उपयोग में ला सकते हैं। इसे आप सुबह शाम मुंह में रख के खा सकते हैं और यह नाही कड़वा होता है इसका स्वाद बिल्कुल टेस्टी होता है। गिलोय शारीरिक क्षमता में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। गिलोय को आयुर्वेद में सबसे उचित स्थान मिला हुआ है।             


सेना प्रमुख ने योगी से मुलाकात की

लखनऊ। लखनऊ स्थित मध्य कमान के दौरे पर आए सैना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश (यूूपी) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की गई मुलाकात बहुत देर तक हुई, लेकिन मुलाकात में कोई जल्दबाजी नहीं की गई मुलाकात आराम से ठंडे दिमाग से बैठ कर हुई। सैन्य प्रमुख नियुक्त होने के बाद जनरल नरवणे का मध्य कमान के लिये यह पहला दौरा है।           


 


पीपीई किट से 2 दिन संक्रमण का खतरा

लखनऊ। कोरोना से बचाव के लिए स्वास्थ्यकर्मियों व अन्य के प्रयोग में लाए जा रही पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेंट (पीपीई किट) की बड़ी भूमिका है। विशेषज्ञों का मानना है कि पीपीई किट यदि ठीक से डिस्पोजल नहीं हुआ तो यह पर्यावरण और संक्रमण को भी बढ़ावा दे सकती है। अस्पतालों, एम्बुलेंस, एयरपोर्ट और यहां तक कि श्मशान घाटों तक पर खुले में फेंकी गई पीपीई किट के बारे में चिकित्सकों का साफ कहना है कि ऐसा करके हम खुद को बचा नहीं रहें हैं, बल्कि अपने साथ ही दूसरों को भी मुश्किल में डालने का काम कर रहे हैं।किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ. सूर्यकान्त का कहना है कि इस्तेमाल की गयी पीपीई किट से कम से कम दो दिन तक संक्रमण का पूरा खतरा रहता है। इसलिए किट का चाहे मास्क हो या गाउन उसको कदापि इधर-उधर न फेंके, बल्कि उसके लिए निर्धारित ढक्कन बंद पीली डस्टबिन में ही डालें और अस्पतालों को भी चाहिए कि इस बायो मेडिकल वेस्ट (अस्पताल के कचरे) के निस्तारण की व्यवस्था दुरुस्त रखें। उन्होंने बताया कि ऐसा देखने में आया है कि कुछ लोग किट को इस्तेमाल करने के बाद इधर-उधर फेंक देते हैं जो कि बहुत ही गंभीर मामला है। ऐसे लोगों के खिलाफ आपदा अधिनियम के तहत कार्रवाई होनी चाहिए, क्योंकि इससे संक्रमण के साथ पर्यावरण पर भी असर पड़ता है। अस्पतालों ने वैसे इस काम को एजेंसियों के जिम्मे कर रखा है जो कि कचरे को निस्तारित करने के लिए इन्सीनरेटर मशीन लगा रखी हैं, जहां पर इसका समुचित निस्तारण होता है ताकि किसी तरह के प्रदूषण का खतरा न रहे। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के एनेस्थीजीआलजी एंड क्रिटिकल केयर विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. तन्मय तिवारी का कहना है कि इसके लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने बाकायदा गाइड लाइन जारी की है कि पीपीई किट के इस्तेमाल और निस्तारण में किस तरह से सावधानी बरतनी है । उसके मुताबिक ही इसके निस्तारण में सभी की भलाई है। उन्होंने बताया कि देश में इस समय रोजाना लाखों पीपीई किट का इस्तेमाल हो रहा है और यह एक बार ही इस्तेमाल के लिए हैं। इसलिए इस्तेमाल के बाद इसको मशीन के जरिये ही नष्ट किया जाना सबसे उपयुक्त तरीका है।           


सोना-चांदी के भाव में फिर आया उछाल

मुंबई। घरेलू वायदा बाजार में चांदी का भाव शुक्रवार को रिकॉर्ड 77,949 रुपये प्रति किलो पर चला  और सोना ने भी 56,191 रुपये प्रति 10 ग्राम की रिकॉर्ड उंचाई को छुआ। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने और चांदी में तेजी के चलते भारतीय बाजार में महंगी धातुएं लगातार नई ऊंचाई को छू रही हैं। हालांकि ऊंचे भाव पर मुनाफावसूली का भी दबाव बना हुआ है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर चांदी के सितंबर एक्सपायरी अनुबंध में शुक्रवार की सुबह 10.19 बजे पिछले सत्र से 248 रुपये यानी 0.33 फीसदी की तेजी के साथ 76300 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले कारोबार के दौरान चांदी का भाव 77,949 रुपये प्रति किलो तक उछला, जो एक नया रिकॉर्ड है। हालांकि शुरूआती कारोबार के दौरान चांदी का भाव 75,063 रुपये प्रति किलो तक फिसला। एमसीएक्स- सोने के अक्टूबर वायदा अनुबंध में आठ रुपये की बढ़त के साथ 55853 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले कारोबार के दौरान सोने का भाव 56,191 रुपये प्रति 10 ग्राम तक उछला, जोकि अब तक का रिकॉर्ड स्तर है। हालांकि आरंभिक कारोबार के दौरान सोने का भाव 55506 रुपये प्रति 10 ग्राम तक फिसला।


एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने कहा कि सोने और चांदी के भाव काफी उंचे स्तर पर हैं इसलिए मुनाफावसूली का दबाव बना हुआ है। इसके अलावा, डॉलर में मजबूती आने से महंगी धातुओं के दाम टूट सकते हैं, मगर यह ज्यादा समय तक नहीं रहेगा। केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि सोने और चांदी में तेजी के सारे कारक अभी मौजूद हैं, लेकिन उंचे भाव पर मुनाफावसूली का दबाव देखा जा सकता है। इसके अलावा डॉलर में मजबूती और फ्राइडे फैक्टर्स के चलते भी सोने और चांदी के दाम पर दबाव रहेगा।           


जनपद में व्यक्ति की पीट पीटकर हत्या

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में कथित तौर पर 42 वर्षीय एक व्यक्ति की पीट-पीट कर कर हत्या कर दी गई। पुलिस ने बृहस्पतिवार को बताया कि घटना बुधवार देर रात को जगतवल्लभपुर थानांतर्गत भूपतिपुर गांव में हुई। पुलिस ने कहा कि पपीते के पेड़ को काटने पर हुए पारिवारिक विवाद ने झड़प का रूप ले लिया और अधीर राय को डंडे से सिर पर मारा गया जिससे उसकी मौत हो गई। तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि अधीर उनका कार्यकर्ता था और कथित तौर पर जिन्होंने हमला किया वह भाजपा के कार्यकर्ता थे। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि दोनों पक्षों में पुरानी दुश्मनी थी। उन्होंने कहा कि मामला दर्ज कर लिया गया है और छानबीन जारी है।           


मृतक संख्या-41,585 संक्रमित 20.27

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के बीच पिछले 24 घंटों में सर्वाधिक 62 हजार से अधिक नए मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या 20.27 लाख और सक्रिय मामलों की संख्या छह लाख के पार हो गई है। राहत की बात यह है कि इस दौरान 49,769 लोगों के स्वस्थ होने से संक्रमणमुक्त हाेने वालों की संख्या भी 13,78,106 लाख पर पहुंच गयी। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पहली बार एक दिन में सर्वाधिक 62,538 संक्रमण के मामले आने से इनकी संख्या 20,27,075 हो गयी तथा 886 लोगों की मौत होने से मृतकाें की संख्या 41,585 पर पहुंच गयी है। मंत्रालय के अनुसार स्वस्थ होने वालों की दर 67.98 प्रतिशत पर पहुंच गयी है और मृत्यु दर 2.05 प्रतिशत है। स्वस्थ होने वालों की दर में निरंतर हो रही वृद्धि के बावजूद संक्रमण के नये मामले बढ़ने से देश में पिछले 24 घंटाें में सक्रिय मामलों में 11,883 की बढ़ोतरी हुई जिससे इनकी संख्या 6,07,384 हो गयी है। बिहार में सबसे ज्यादा 18 87, आंध्र प्रदेश में 1740 और उत्तर प्रदेश में 1681 सक्रिय मामले बढ़े हैं वहीं तमिलनाडु में सर्वाधिक 698, नागालैंड में 52 और झारखंड में 32 सक्रिय मामले घटे हैं।


कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र में मरीजों की संख्या 3,44 बढ़ने से सक्रिय मामले 1,46,612 हो गये तथा 316 लोगों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा 16,792 हो गया। इस दौरान 10,854 लोग संक्रमणमुक्त हुए जिससे स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 3,16,375 हो गयी। देश में सर्वाधिक सक्रिय मामले इसी राज्य में हैं। आंध्र प्रदेश में मरीजाें की संख्या 1740 बढ़ने से सक्रिय मामले 82,166 हो गये हैं। राज्य में अब तक 1753 लोगों की मौत हुई है, वहीं 8,516 लोगों के स्वस्थ होने से कुल 1,12,870 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं।           


मजदूर शोषण के खिलाफ आवाज उठाई

रायपुर। धरसीवा के औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा त्रिमूर्ति नामक फैक्ट्री में मजदूरो के शोषण का मामला सामने आया है। फैक्ट्री में मज़दरों को अपशब्द बोल कर गाली-गलौज का काम कराया जाता है। शिवसेना ने मजदूरो के अधिकारों की रक्षा के लिए आवाज उठाई हैं। शिवसेना के पदाधिकारी परमानंद वर्मा ने बताया कि वर्तमान मे धरसींवा के औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा त्रिमूर्ति नामक फैक्ट्री में वर्तमान में कंसल्ट प्राईवेट लिमिटेड मे उपेंद्र नामक फोरमैन काम करता था जिसे फैक्ट्री प्रबंधक द्वारा अपशब्दो का उपयोग कर जबर्दस्ती आवश्यता से अधिक समय तक काम करवाया जा रहा था। श्री वर्मा ने बताया कि मजदूरों को गाली गलौज कर काम कराया जाता हैं, फैक्ट्री के अंदर और कई अन्य कर्मचारियों को भी अपशब्द भाषा का प्रयोग कर ओवरटाइम काम कराया जाता था। मजदूरों ने बताया कि फैक्ट्री प्रबंधन के इस बातों से आहत होकर मजबूरन काम छोड़ने को विवश हो गए। लेकिन उनसे जबरन काम कराने की बात कही जा रही थी वही कंपनी फैक्ट्री प्रबंधन द्वारा सुरक्षा की अनदेखी कर फैक्ट्री कर्मियों को काम कराया जाता है जिससे आहत होकर मजदूरो ने अपने अधिकारो के लिए आवाज उठाने के लिए शिवसेना से मदद मांगी।   


फैक्ट्री प्रबंधन की लापरवाही कभी भी हो सकते हादसे


फैक्ट्री प्रबंधन द्वारा उद्योग के अंदर कई ऐसे असुविधाएं देखी  गयी हैं जहां न तो मास्क पहने हुए हैं न हीं हेलमेट और ना ही जूता। सुरक्षा के उपकरण पर भी सवालिया निशान उठ रहे हैं मजदूर जान जोखिम में डालकर  बिना हेलमेट और जूते  के अंदर प्रवेश कर रहे हैं। कंपनी प्रबंधक पर सवालिया निशान उठना स्वाभाविक है। प्रबंधन लगातार मजदूरों के सुरक्षा को भी अनदेखी कर रही हैं। शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने मजदूरों के भुगतान को लेकर स्थानीय पुलिस चौकी सिलतरा में पुलिस प्रशासन को अवगत कराया जिसे पुलिस प्रशासन ने संज्ञान में लेते हुए जांच कर मामला लेबर कोर्ट स्थानांतरण करने की बात कही वही पुलिस कर्मी आरएन तिवारी जी का कहना है कि मामला मजदूरों का मजदूरी भुगतान को लेकर हैं जिसे लेबर कोर्ट के द्वारा सुलझाया जा सकता है ऐसे में मजदूरों का केस लेबर कोर्ट में भेजने की बात कही।


         


बरसात से भूस्खलन, 5 लोगों की मौत

इडुक्की। भारी बारिश और बाढ़ के चलते केरल के इडुक्की जिले के राजमला इलाके में भूस्खलन हुआ है। केरल पुलिस के अनुसार इस हादसे में अब तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है और 10 लोगों को बचाया गया है। बचाव कार्य के लिए एनडीआरफ की टीम को भी तैनात किया है। वन अधिकारी और अन्य आपातकालीन सेवा के कर्मचारी मौके पर पहुंच गए हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बचाव कार्यों के लिए  हेलीकॉप्टर सेवाएं प्रदान करने के लिए भारतीय वायु सेना से संपर्क किया है। यह सेवा जल्द ही उपलब्ध होने की उम्मीद है।


राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने बताया कि एक मोबाइल मेडिकल टीम और 15 एंबुलेंस को इडुक्की भेजा गया है। जरूरत पड़ने पर और मेडिकल टीमें भेजी जाएंगी। अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के लिए निर्देशित किया गया है।


नाबालिक बच्ची से रेप, कैंची से अंग गोदे

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। 12 साल की बच्ची से रेप के बाद उसके हाथ-पैर और नाजुक अंगों पर जख्म देने वाले संदिग्ध दरिंदे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। युवक की पहचान कृष्णा के तौर पर हुई है। इससे पहले इस मामले में दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को नोटिस थमाया था। बच्ची को इतने गहरे जख्म दिये गये थे कि अभी भी वो अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है।


पुलिस ने ऐसे पकड़ा: 4 अगस्त को मासूम बच्ची के साथ ऐसी दरिंदगी हुई थी। इस मामले में पुलिस को आऱोपी की तलाश थी। ज्वायंट कमिश्नर ऑफ पुलिस (वेस्ट) शालिनी सिंह ने मीडिया को बताया कि आरोपी को पकड़ने के लिए 20 टीमें बनाई गई थीं। इस टीम ने 20 CCTV के फुटेज खंगाले। इसके अलावा शक के आधार पर पकड़े गए कई अन्य लोगों से पूछताछ की गई। आखिरकार गुरुवार को पुलिस ने इस मामले के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।


आपराधिक प्रवृति का है कृष्णा: पुलिस ने खुलासा किया है कि कृष्णा आपराधिक प्रवृति का शख्स है। उसके खिलाफ पहले से 4 आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें हत्या, हत्या के प्रयास, लूटपाट जैसे बड़े मामले शामिल हैं। बच्ची के साथ दुष्कर्म के मामले में पॉक्सो एक्ट समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है।


घर में अकेली बच्ची से की दरिंदगी: घटना के बारे में पुलिस ने खुलासा किया है कि नाबालिग लड़की अपने परिजनों और एक छोटी बहन के साथ रहती है। घटना के वक्त बच्ची घर में अकेली थी। बच्ची के माता-पिता दैनिक मजदूरी करते हैं। उस दिन वो अपने काम से घर से बाहर गए थे।               


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...