शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

वायरस के खिलाफ दिए जलाएंः मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के 130 करोड़ जनता को एक नया टास्क दिया है। शुक्रवार सुबह 9:00 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर वीडियो संदेश के जरिए देश के साथ रूबरू हुए। उन्होंने लॉक डाउन के नौवें दिन इसे मिल रहे व्यापक समर्थन के लिए जनता का शुक्रिया किया ।वहीं देश के 130 करोड़ जनता के एकजुटता का परिचय देने के लिए आह्वान किया की 5 अप्रैल रविवार को रात 9:00 बजे सभी 9 मिनट के लिए अपने घरों की बत्तियां ऑफ कर दे । जिसके बाद दरवाजे और बालकनी पर दीपक ,मोमबत्ती, टॉर्च या मोबाइल के फ्लैश लाइट जलाकर रोशनी करें। यह रोशनी अंधेरे में उजाले की महाशक्ति का संदेश होगा। साथ ही यह संदेश भी होगा कि कोरोना से जारी इस लड़ाई में कोई भी अकेला नहीं है। देश की सामूहिक शक्ति का एहसास दिलाने और अंधेरे को उजाले से परास्त करने के इस संदेश के साथ इस बात का भी पालन करने की बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है कि इस दौरान किसी को भी कहीं भी इकट्ठा नहीं होना है। क्योंकि कोरोना के संक्रमण के चेन को तोड़ने का यही यही एकमात्र रामबाण इलाज है ।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस दौरान आप सभी मां भारती का स्मरण कीजिए। यह नया कदम संकट की इस घड़ी में जीत का आत्मविश्वास जगाएगा। अब तक देश में कोरोना पॉजिटिव के 2069 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें से 53 की मौत हो चुकी है। हालांकि 156 अब तक ठीक हो कर घर पर जा चुके हैं। लेकिन हाल में सामने आए तबलीगी जमात के आयोजन ने देश की मेहनत पर पानी फेर दिया। कुल संक्रमित लोगों में से करीब 60% का तब्लीगी जमात कनेक्शन सामने आ चुका है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनता से रूबरू हुए तो लोगों को लगा कि शायद वे कुछ और बड़ा ऐलान करेंगे। लेकिन उन्होंने 22 मार्च के प्रयास और लॉक डॉन को सफल बनाने के लिए आम भारतीय का धन्यवाद किया और बताया कि उनके इस प्रयास का अनुसरण विश्व के बड़े बड़े देश कर रहे हैं जो सभी भारतीयों की उर्जा से चमत्कृत है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस दौरान भले ही अकेलापन का एहसास हो रहा हो लेकिन हम में से कोई भी अकेला नहीं है । खासकर हमारा कर्तव्य है कि हम अपने गरीब देशवासियों को आशा की ओर ले जाए। इस रविवार को अंधकार को चुनौती देने के लिए उन्होंने जनता से 9 मिनट मांगा है। उम्मीद की जा रही है कि ताली थाली की तरह यह प्रयोग भी कामयाब होगा। भगवान श्री राम के अयोध्या लौटने पर जिस तरह दीपक जलाकर लोगों ने उनका स्वागत किया था, उम्मीद है उसी प्रकार भारत में एक और दीपावली की परंपरा आरंभ होगी। अंधकार को चुनौती देने और एकजुटता का संदेश देने के इस आह्वान पर देश की प्रतिक्रिया 5 अप्रैल रात 9:00 बजे देखी जाएगी।


एक अरब डॉलर के फंड को मंजूरी

वाशिंगटन। वर्ल्ड बैंक ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर भारत के लिए एक अरब डॉलर के आपातकालीन कोष को मंजूरी दी है। इस महामारी से देश में 76 लोगों की जान जा चुकी है और लगभग 2,500 लोग संक्रमित हैं। विश्व बैंक ने गुरुवार को कहा कि उसने सहायता परियोजनाओं के पहले चरण के रूप में 1.9 अरब अमेरिकी डॉलर का प्रावधान किया है, जिससे 25 देशों की मदद की जाएगी। त्वरित प्रक्रिया के जरिए 40 देशों में नए अभियान शुरू किए जाएंगे। इस आपातकालीन वित्तीय सहायता का सबसे बड़ा हिस्सा (एक अरब डॉलर) भारत को मिला है।


निदेशक मंडल द्वारा कोविड-19 महामारी का मुकाबला करने के लिए विकासशील देशों को पहले चरण की सहायता को मंजूरी देने के बाद विश्व बैंक ने कहा कि भारत में एक अरब डॉलर के आपातकालीन वित्तपोषण से बेहतर ढ़ग से जांच, निजी सुरक्षा उपकरणों की खरीदारी और नई पृथक इकाइयों की स्थापना में मदद मिलेगी। विश्व बैंक ने दक्षिण एशिया में पाकिस्तान के लिए 20 करोड़ डॉलर, अफगानिस्तान के लिए 10 करोड़ डालर, मालदीव के लिए 73 लाख डॉलर और श्रीलंका के लिए 12.86 करोड़ डालर की मंजूरी दी।


पीएम साहब आप फर्जी गरीब है

'पीएम साहब आप फर्जी गरीब हैं; गरीबों को आटा नहीं मिल रहा है,आपको मोमबत्ती जलाने की पड़ी है'
  
पटना। जन अधिकार पार्टी (JAP) सुप्रीमो पप्पू यादव ने पीएम मोदी की देशवासियों के नाम अपील के बाद तल्ख टिप्पणी की है। पप्पू यादव ने पीएम की अपील को खोखला बताते हुए नरेन्द्र मोदी को फर्जी गरीब तक कह डाला है।


पप्पू यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि पीएम साहबआप फर्जी गरीब हैं। आपको नहीं पता है पूरा देश में गरीबों को आटा नहीं मिल रहा है। आपको मोमबत्ती जलाने की पड़ी है।पप्पू यादव ने पीए मोदी के उस अपील पर हमला बोला है जिसमें  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी शुक्रवार सुबह 9 बजे देशवासियों को वीडियो संदेश में कहा कि रविवार को रात नौ बजे 9 मिनट तक घर की लाइट बंद कर दीप जलाने की अपील की।
पीएम साहब आप फर्जी गरीब हैं। आपको नहीं पता है पूरा देश में गरीबों को आटा नहीं मिल रहा है। आपको मोमबत्ती जलाने की पड़ी है।


पप्पू यादव की टिप्पणियों पर अगर विश्लेषण करें तो  उनके मुताबिक लॉकडाउन में गरीबों को भला नहीं हो सका है। गरीबों के लिए सरकार लाख दावें करें कि उनके लिए सरकार के खजाने का मुंह खोल दिया है लेकिन सच्चाई ये हैं कि गरीबों को इसका लाभ नहीं मिल रहा। उनकी माने तो गरीबों को आटा तक नहीं मिल रहा है। पप्पू यादव ने लॉकडाउन के दौरान सरकारी तंत्र पर सवाल खड़े किए जिसमें गरीबों को घर पर बैठने को तो कह दिया गया लेकिन उनके भोजन-पानी की कोई सुध नहीं ली गयी।


अनुराग गोयल


सीआईएसएफ के 11 जवान भी संक्रमित

मुंबई एयरपोर्ट पर तैनात CISF के 11 जवान कोरोना संक्रमित
मुंबई। भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण अधिकांश उन्होंने लोगों में पाया गया है, जो हाल में विदेश से लौटे हों और उनके संपर्क में जो लोग आए हों। सबसे पहले स्क्रीनिंग की शुरुआत भी देश के हवाई अड्डों पर ही हुई थी। अब एयरपोर्ट की सुरक्षा में तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के जवानों के COVID-19 पॉजिटिव होने की बात सामने निकलकर आ रही है।


मुंबई में छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर तैनात सीआईएसएफ के 11 जवान कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। बीत कुछ दिनों में कुल 142 जवानों को क्वारंटाइन किया जा चुका है।
142 में से चार जवानों का कल याना गुरुवार को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। वहीं, आज सात जवानों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। 


महाराष्ट्र के पालघर में गुरुवार रात को कोरोना वायरस संक्रमित एक और मरीज की मौत हो जाने के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर दो हो गई। मुंबई महानगर क्षेत्र में आने वाले इस जिले में अब तक 11 लोग संक्रमित पाए गए हैं जबकि 109 लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। संक्रमितों के संपर्क में आने वाले 111 लोगों को पृथक किया गया है। साथ ही करीब 406 लोगों ने 14 दिनों की अपनी निगरानी अवधि को पूरा कर लिया है।


मोदी के 'दिया मंत्र' को बताया बकवास

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पांच अप्रैल को रात नौ बजे नौ मिनट तक दीये, टॉर्च, कैंडल और यहां तक की मोबाइल के फ्लैश लाइट को जलाने की अपील को कांग्रेस ने महज एक ‘बकवास’ बताया है। प्रधानमंत्री ने लोगों से यह अपील कोरोना वायरस से लड़ने के जज्बे और संकट की इस घड़ी में सामूहिकता का प्रदर्शन करने के लिए की है। पार्टी ने इसके अलावा सरकार पर भी निशाना साधा और कहा कि सरकार ने लोगों की समस्याओं खासकर के प्रवासी मजदूरों के लिए कोई उपाय नहीं सुझाये, जोकि जवाबदेही से भागना है। कांग्रेस के नेता बी.के. हरिप्रसाद ने कहा, ” मोमबत्ती जलाओ नया थाली बजाओ है! पूरी तरह बकवास!”


उन्होंने कहा, “प्रवासी मजदूरों या फिर सैकड़ों किलोमीटर चलने वालों के लिए कोई उपाय नहीं सुझाये गए।” हरिप्रसाद ने कहा, “सरकार ने कोविड से लड़ने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में एक शब्द नहीं बोला,जोकि पूरी तरह जवाबदेही से भागना है।”प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को कोरोनावायरससे लड़ने के लिए देश में सकरात्मक माहौल बनाने के लिए संदेश दिया और लोगों से पांच अप्रैल को रात नौ बजे नौ मिनट तक मोमबत्ती या दीये जलाने की अपील की है। इससे पहले प्रधानमंत्री ने लोगों से जनता कर्फ्यू की भी अपील की थी, जिसका लोगों ने व्यापक समर्थन किया था।


विधायक का गुरुकुल में भोजन वितरित

अतुल त्यागी जिला प्रभारी/प्रवीण कुमार 


गढ़मुक्तेश्वर विधायक कमल मलिक सहित भाजपा नेता संजीव यादव ने बृजघाट स्थित गुरुकुल में खाद्य सामग्री वितरण की


हापुड़। जहां एक तरफ पूरी दुनिया में कोरोना वायरस तेजी से पैर पसार रहा है। वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा हर जिले में आदेशों का पालन करते हुए शासन प्रशासन काफी सतर्क नजर आ रहा है। वहीं दूसरी तरफ जनपद हापुड़ के गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्रीय विधायक डॉ कमल मलिक व युवा भाजपा नेता संजीव यादव ने कोरोना संक्रमण के चलते हुए तीर्थ नगरी बृजघाट स्थित आर्स  गुरुकुल सुनरा अमर शिक्षण संस्थान में रहने वाले बालक व बालिकाओं को खाद्य सामग्री वितरण की व गुरुकुल में रह रहे। बालक बालिकाओं को सोशल डिस्टेंस में रहने के लिए जागरूक भी किया। वहीं दूसरी तरफ गुरुकुल में बनी गौशाला का भी निरीक्षण किया। वह गायों को चारा भी खिलाया व गढ़मुक्तेश्वर विधायक कमल मलिक ने बताया की  क्षेत्र में कोई भूखा ना रहे उसके लिए भी हमारा प्रयास जारी है। वहीं भाजपा नेता संजीव यादव भी लॉक डाउन के चलते हुए गरीब असहाय लोगों को लगातार खाने-पीने की सामग्री वितरण कर रहे हैं।


इंडियन बैंक घर पर ही देगा सेवाएं

अतुल त्यागी जिला प्रभारी/रिंकू सैनी
इंडियन बैंक की एक नई पहल


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ में लोकडाउन के दौरान बैंक उपभोक्ताओं को घर पर ही सुविधा देने के उद्देश्य से आज इंडियन बैंक रेलवे रोड हापुड़ ने एक नई पहल की है। जिसके माध्यम से जनपद हापुड़ के सभी ग्रामीण वासी इंडियन बैंक की इस वैन के माध्यम से अपनी जरूरत का पैसा आसानी से निकाल सकेंगे। ऐसे ग्रामीण जिनका खाता आधार कार्ड से लिंक है वह खाता धारक इस वैन के माध्यम से अपनी जरूरत का पैसा आसानी से निकाल सकते हैं। वहीं देखा जाए तो इस वैन में सबसे बड़ी बात यह है। कि इसमें इंडियन बैंक के खाताधारकों के अतिरिक्त विभिन्न बैंक के खाताधारक भी अपनी जरूरत का पैसा आसानी से निकाल सकते हैं। इसमें एक लिमिट भी तय की गई है जिसमें खाताधारक ₹10,000 तक की रकम ही निकाल सकते हैं। यह वैन लोकडाउन के दौरान प्रत्येक दिन हर एक गांव में जाएगी।


गाजियाबाद में संक्रमितो की संख्या 13

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जनपद में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या  बढ़कर 13 हो गई है। इनके संपर्क में आने वाले संक्रमित  व्यक्तियों तक पहुंच नहीं बन पाई है। यह आंकड़ा कहां जाकर रुकेगा या इसके क्या परिणाम सिद्ध होंगे? यह ठीक-ठीक नहीं कहा जा सकताा है। प्रशासनिक लापरवाही के चलते जनपद में वायरस का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। गाजियाबाद केे मसूरी थाना क्षेत्र से कोरोना वायरस के तीन पॉजिटिव मरीजों के मिलने से हड़कंप मच गया है। जनपद में पहले पॉजिटिव मरीजों की संख्या 10 थीं। जिनमें से 2 लोग ठीक होकर अपने घर चले गए थे। जिसके बाद यह नए 3 मामले सामने आने से स्वास्थ विभाग में हड़कंप मचा हुआ है।


लॉक डाउन में किया प्राणघातक हमला

घर में घुस दबंगों ने किया प्राणघातक हमला सिर में आई गंभीर चोटें


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। कोरांव थाना क्षेत्र की चौकी बड़ोखर अंतर्गत आने वाले गांव अमिलिया पाल में राजनारायण जाटव के घर पर कुछ दबंगों ने पुरानी रंजिश की बातों को लेकर प्राणघातक हमला कर दिया। जिसके कारण राज नारायण के सर में गंभीर चोटें आई हैं और उनका सर फट गया है। पीठ पर भी लाठी व शरिया आदि से पिटाई का निशान मेडिकल के समय स्पष्ट तौर पर देखा गया है। सर में लगी अधिक गंभीर चोट के कारण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कोरांव से अग्रिम इलाज हेतु कल रात में जनपद स्थित अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। जख्मी की पत्नी द्वारा तहरीर कोराँव थाने में देकर दबंगों के खिलाफ कार्रवाई तथा स्वयं को न्याय मिलने की गुहार लगाई है।


ज्ञातव्य हो कि वर्तमान में लॉक डाउन के दौरान अपने घर से बाहर ना निकलने व कहीं भी एक साथ पाँच लोगों के इकट्ठा ना होने की हिदायत पुलिस द्वारा एलाउंसमेन्ट कर क्षेत्रों में दी जारही है। बावजूद इसके पाँच से अधिक लोगों द्वारा घर मे घुस कर दबंगता पूर्वक प्राण घातकहमला करने पर हमलावरों पर पुलिस कौन कौन सी धाराएँ लगाती है। राजनारायण की पत्नी ने दबंगों के खिलाफ नामजद तहरीर कोराँव थाने में दी है। देखना यह है कि राजनारायण के ऊपर किए गए प्राणघातक हमले में पुलिस की कारवाई कब तक की जाती है। तहरीर की कॉपी वह कुछ फोटोग्राफ़ भी है जिसमें आप सभी को संपूर्ण घटना की जानकारी प्राप्त होगी तथा फोटो में स्पष्ट तौर पर देखा जा सकता है कि कितनी चोटें आई हैं।


गन्ना मंत्री ने कराया गांव को सैनिटाइज

शामली। जनपद के थाना भवन विकासखंड के अंतर्गत पड़ने वाले गांव दखोडी जमालपुर में माननीय कैबिनेट गन्ना मंत्री सुरेश राणा के निर्देश अनुसार थानाभवन विधानसभा को सैनिटाइज किया जाएगा। उसी के चलते आज गांव दखौडी जमालपुर में भाजपा के वरिष्ठ नेता वह मुजफ्फरनगर डिस्टिक कोऑपरेटिव बैंक के डायरेक्टर ठाकुर सोहनवीर सिंह ने खुद पाइप पकड़कर गांव के प्रत्येक मोहल्ले वह गली में घर-घर तक इस कोरोनावायरस जैसी घातक बीमारी को देखते हुए गांव में सैनिटाइजर का स्प्रे करवाया। भाजपा के वरिष्ठ नेता ठाकुर सोहनवीर सिंह इस आपदा की घड़ी में अपने तन मन धन से सहयोग में लगे हुए हैं। 2 दिन पूर्व ही उन्होंने अपने निजी कोष से 50000 रुपये के मास्क घर-घर जाकर वितरित किए थे और ग्राम वासियों से अपील की कि कोई भी व्यक्ति इस संकट की घड़ी में भूखा ना रहे। जिसे भी खाने-पीने संबंधित कोई समस्या हो तो वह संपर्क करें और उसके खाने-पीने संबंधित सभी व्यवस्थाएं की जाएंगी। पर कोई भी व्यक्ति अनावश्यक रूप से घरों से बाहर व सड़कों पर ना घूमें क्योंकि यह एक छुआछूत वाली बीमारी है। इसलिए यह बीमारी गांव तक ना पहुंच पाए नहीं तो यह एक महामारी का रूप ले सकती है। इसलिए प्रत्येक ग्रामवासी को इस महामारी से बचने के लिए जागरूक होने की आवश्यकता है। गांव में सैनिटाइजर का स्प्रे कराते समय ग्राम प्रधान अनंगपाल भाजपा युवा नेता मोनू राणा मौजूद रहे।


रिपोर्ट:- सतेन्द्र राणा


विधायक निधि से मांगा एक-एक करोड

विधायको को पत्र लिखकर कोरोना से संघर्ष के लिए विधायक निधि से एक करोड़ एक करोड़ की धनराशि आवंटित करने की अपील


लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष, हृदय नारायण दीक्षित ने उ0प्र0 विधान सभा के सभी मा0 सदस्यों को पत्र लिखकर कोरोना से संघर्ष के लिए जरूरी चिकित्सकीय उपकरण आदि के लिए विधायक निधि से एक करोड़ की धनराशि आवंटित करने अपील की है। पत्र में कहा गया है कि विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है। अपना भारत, मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व व मार्गदर्शन में महामारी से संघर्षरत है। उन्होंने परस्पर दूरी बनाने - ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ के लिए आग्रह किया है। उन्होंने 14 अप्रैल तक संपूर्ण बंदी - लाकडाउन की घोषणा भी की है। 


उन्होंने पत्र में लिखा है कि उत्तर प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री योगी जी ने तदानुसार अनेक कदम उठाए हैं। वे प्रतिपल युद्ध स्तर पर सक्रिय हैं। दीक्षित ने विधायकों से कहा है कि आप लोकप्रिय जनप्रतिनिधि हैं। अपनी लोकप्रियता का प्रयोग करते हुए आप इस संदर्भ में सभी उपायों, निर्देशों के अनुपालन के लिए आमजनों को भी प्रेरित कर रहे हैं। ऐसा करना हम सबका राष्ट्रीय कत्र्तव्य हैं।


मा0 अध्यक्ष ने पत्र में लिखा है कि मुख्यमंत्री ने राज्य स्तर पर ‘उत्तर प्रदेश कोविड केयर फंड’ की स्थापना की है। इस फंड से सभी मेडिकल कालेजों व जिलास्तरीय अस्पतालों को कोराना से निपटने के लिए जरूरी उपकरणों से समृद्ध बनाया जाना है। महामारी से जूझने के लिए जरूरी चिकित्सकीय सहायता व जांच के उपकरणों, जरूरी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हम सब विधायक निधि का सदुपयोग कर सकते हैं। इस निधि की एक मद पर अधिकतम व्यय की 25 लाख की सीमा कोरोना सम्बंधी व्यय के लिए मा0 मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार खत्म कर दी गई है।


विधान सभा अध्यक्ष ने सभी सदस्यों से अनुरोध किया है कि इस महामारी से संघर्ष में अपना राष्ट्रीय दायित्व निभाते हुए हम सदस्यगण परस्पर दूरी के आवश्यक मानक का पालन, प्रचार, भी कर रहे होंगे। उन्होंने आशा की है कि आप इस संघर्ष में अग्रिम मोर्चे पर जूझ रहे चिकित्साकर्मियों प्रशासनिक कार्य में जुटे पुलिस कर्मियों आदि की सहायता व आदर के लिए भी सबको प्रेरित भी कर रहे होंगे। उन्होंने सभी सदस्यों के  स्वस्थ, सक्रिय व यशस्वी जीवन की कामना की है। 
 


उपचार में कानून का पालन सिखाओ

नर्सों के साथ अश्लील हरकत करने वाले जमातियों पर बोले सीएम योगी- इन्हें कानून का पालन करना सिखाओ
 लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार टीम 11 के साथ बैठक के दौरान गाजियाबाद की घटना में कड़ी कार्रवाई के लिए आदेश दिया। सीएम योगी ने कहा कि इंदौर जैसी घटना यूपी में कहीं नहीं दिखनी चाहिए। इसके लिए कानूनन जो भी कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी हो वो करिए। योगी ने कहा कि गाजियाबाद में जिन लोगों ने यह हरकत की, उस प्रवृत्ति के लोगों के साथ पूरी सख़्ती करो और उन्हें कानून का पालन कराना सिखाओ।


योगी ने कहा कि जैसे इंसेफसलाइटिस से लड़कर जीते, वैसे ही कोरोना से लड़कर जीतेंगे, यही नहीं हमें आगे की भी चुनौती की तैयारी रखनी है, ताकि इस तरह की किसी भी आपदा से हम अपने प्रदेश के लोगों को पूरी तरह सुरक्षित रख सकें। लैब और इंफ़्रा को खूब मजबूत रखना है।


योगी ने कहा कि क्वारंटीन लोग भागे तो डीएम एसपी की जवाबदेही तय होगी। ज़रूरी सामानों की आपूर्ति करने वाले वाहनों को आने जाने की पूरी छूट है।
योगी ने कहा कि आमजन के सहयोग से प्रदेश को हर तरह-तरह की आपदा से लड़ने के लिए आत्मनिर्भर बनाने के लिए ये फंड बनाया गया है। फंड में पहला योगदान प्रदेश के बेसिक शिक्षकों और शिक्षाधिकारियों ने दिया। 
गौरतलब है कि गाजियाबाद में शुक्रवार तक एमएमजी अस्पताल में 13 जमातियों को क्वारंटीन किया गया था। लेकिन इनमें से कुछ जमातियों पर आरोप था कि वे वार्ड में नर्सों और महिला कर्मचारियों के सामने पैँट उतार कर घूम रहे हैं। महिला मेडिकल स्टॉफ के साथ अश्लील हरकत करने का भी इन पर आरोप है। इस बारे में अस्पताल के नर्सिंग कर्मियों ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को शिकायत की थी। वहीं मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा लिखने का आग्रह किया था। इसके बाद नगर कोतवाली थाना पुलिस ने इसी पत्र के अधार पर देर रात जमातियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।


प्रयागराज में तीन कोरोना संक्रमित मिले

चकिया में पति पत्नी समेत तीन में मिले कोरोना के लक्षण    प्रयागराज। गत दिनों हैदराबाद से अपने घर  चकिया चकनिरातुल ए टू जेड वाली गली में (नजदीक अतीक चौराहा) आये ट्रक ड्राइवर रईस अहमद, उनकी पत्नी रूखसाना बेगम और पड़ोसी शानू में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं। पिछले कई दिनों से वह अपने घर पर बीमार थे। आज 03 अप्रैल को सुबह इसकी सूचना सिविल डिफेंस के सेक्टर वार्डेन बृजभूषण ने पोस्ट 9 के पोस्ट वार्डेन दिनेश त्रिपाठी, सेक्टर वार्डेन आशीष श्रीवास्तव  जी को दी। उन्होंने लूकरगंज प्रखंड के डिविजनल वार्डेन श्री राजीव भनोट जी को दी। इसकी सूचना पाकर चीफ वार्डेन श्री अनिल कुमार जी ने कोरोना प्रभारी और एसीएमओ डॉक्टर गणेश प्रसाद जी को दी। जहां फ़ौरन मेडिकल जांच टीम चकिया पहुंची, तीनों की जांच की गई तो वह तीनों में कोरोना के लक्षण मिले हैं। मेडिकल टीम ने तीनों को घर पर ही 14 दिन के लिए कोरेंटीन कर दिया है। उनके घर का सामने नोटिस चस्पा कर दी गयी है। साथ हो इसकी सूचना सिविल डिफेंस ने प्रभारी निरीक्षक खुल्दाबाद को भी दी है।


बृजेश केसरवानी


यूपी में अनियंत्रित है कोरोना संक्रमण

लखनऊ। दुनिया भर कहर ढहाता कोरोना वायरस कोविड-19 उत्तर प्रदेश में भी अपने पैर पसार चुका है। शासन और प्रशासन कितने भी दम भरते हो लेकिन उनके दावे और तंत्र दोनों ही फैल हो चुके हैं। उत्तर प्रदेश में कोरोना के 34 नए मामले सामने आए हैं। कानपुर में 6 लोग संक्रमित पाए गए हैं। आगरा में 8 लोग संक्रमित है। बलरामपुर अस्पताल में 12 मरीज भर्ती हैं। लखनऊ में 11 लोगों के सैंपल पॉजिटिव आए हैं। सभी 11 लोग अस्पताल में क्वॉरेंटाइन किए गए हैं। आजमगढ़ में चार, प्रतापगढ़ में एक हरदोई में दो, शाहजहांपुर में एक आदि मरीजों के सैंपल की जांच लखनऊ केजीएमयू में हुई है।


 


महाराष्ट्र में 19 की मौत,5 अस्पताल सील

मुंबई। राज्य में ‘कोरोना’ के संक्रमण से गुरुवार तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है! इनमें सबसे ज्यादा 15 मौतें मुंबई में हुई है! पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कुल छह लोगों की संक्रमण के चलते मौत हुई! इनमें पांच मुंबई और एक पालघर जिले का है! महाराष्ट्र के लिए मुंबई कोरोना का एपिसेंटर बन गया है! शहर में अब तक 190 से ज्यादा संक्रमित मरीज मिल चुके हैं! नाजुक स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि शहर के पांच बड़े अस्पताल आंशिक या पूरी तरह से संक्रमण के चलते सील कर दिए गए हैं! यहां चेंबूर स्थित ‘साईं अस्पताल’ को पूरी तरह से सील कर दिया गया है! वही, सैफी, जसलोक, भाभा और हिंदुजा हॉस्पिटल को आंशिक तौर पर सील किया जा चुका है! मुंबई के अलावा राज्य के पुणे, परभणी और पालघर में भी एक-एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है!


 


21 मार्च के बाद 64000 विदेश से आए

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का प्रकोप भारत में दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। हर दिन करीब 10 से 15 मरीज पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बुधवार को बताया कि 21 मार्च के बाद विदेशों से आए करीब 64,000 लोगों में से 8,000 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया और 56,000 लोगों को घरों में आइसोलेशन में रखा गया है। फिलहाल सभी लोग डॉक्टरों की निगरानी में है।


बैठक में कई मंत्री रहे मौजूद


कोरोनावायरस (कोविड-19) पर गठित मंत्रिसमूह की उच्च स्तरीय बैठक में बुधवार को मौजूदा स्थिति की समीक्षा की गई। डॉ. हर्षवर्धन की अध्यक्षता में गठित इस मंत्रिसमूह में शामिल विदेश मंत्री एस. जयशंकर, नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री (स्वंतत्र प्रभार), गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, जहाजरानी, रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मांडवीय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्वनी कुमार चौबे समेत चीफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत भी बैठक में मौजूद थे।


सोशल डिस्टेंसिंग से टूटेगा कोरोना की चेन


कोरोनावायरस के प्रकोप की रोकथाम के लिए प्रभावी उपाय के तौर पर सोशल डिस्टेंसिंग अर्थात लोगों के आपस में दूरी बनाने की अहमियत पर जोर देते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों से स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की।


 विदेशों से 21 मार्च के बाद आए 64000 लोग- डॉ. हर्षवर्धन
केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बताया कि 21 मार्च के बाद विदेशों से आए करीब 64,000 लोगों में से 8,000 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया और 56,000 लोगों को घरों में आइसोलेशन में रखा गया है।


नई दिल्ली। कोरोना वायरस का प्रकोप भारत में दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। हर दिन करीब 10 से 15 मरीज पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बुधवार को बताया कि 21 मार्च के बाद विदेशों से आए करीब 64,000 लोगों में से 8,000 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया और 56,000 लोगों को घरों में आइसोलेशन में रखा गया है। फिलहाल सभी लोग डॉक्टरों की निगरानी में है।


बैठक में कई मंत्री रहे मौजूद


कोरोनावायरस (कोविड-19) पर गठित मंत्रिसमूह की उच्च स्तरीय बैठक में बुधवार को मौजूदा स्थिति की समीक्षा की गई। डॉ. हर्षवर्धन की अध्यक्षता में गठित इस मंत्रिसमूह में शामिल विदेश मंत्री एस. जयशंकर, नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री (स्वंतत्र प्रभार), गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, जहाजरानी, रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मांडवीय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्वनी कुमार चौबे समेत चीफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत भी बैठक में मौजूद थे।


सोशल डिस्टेंसिंग से टूटेगा कोरोना की चेन


कोरोनावायरस के प्रकोप की रोकथाम के लिए प्रभावी उपाय के तौर पर सोशल डिस्टेंसिंग अर्थात लोगों के आपस में दूरी बनाने की अहमियत पर जोर देते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों से स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की।


देश में 21 दिन का लॉकडाउन


हर्षवर्धन ने कहा, "प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद देशभर में लॉकडाउन है। इस लॉकडाउन के दौरान हमें अपने घरों में भी सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की आवश्यकता है।" डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, "हम संक्रामक रोग से जूझ रहे हैं। खुद की और दूसरों की रक्षा के लिए यह अत्यंत आवश्यक है कि हम सरकार द्वारा जारी सभी प्रोटोकॉल व दिशनिर्देश का पालन करें, जिसका पालन नहीं करने पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत कानूनी कार्रवाई हो सकती है।


भूखों को भोजन देने का बीड़ा उठाया

 कुशीनगर। गरीबों का भोजन बनाने वाले कारीगर रमेश मद्धेशिया ने बताया की जो नगर के सुभाष चौक पर पडरौना में 5 दिनों से गरीबों की सेवा में लगे हैं l मद्धेशिया ने बताया समाजसेवी दीपचंद अग्रवाल निस्वार्थ भाव से गरीबों के लिए दो समय का भोजन का बीड़ा जो उठाया है l इस सराहनीय कार्य में उन गरीबों का जो आशीर्वाद मिल रहा है वह खाली नहीं जाएगा l मद्धेशिया ने बताया की हमें जितना दिहाड़ी मजदूरी पर कार्य करने पर आनंद नहीं मिलता था, उतना अब गरीबों की सेवा में आनंद मिल रहा है l मद्धेशिया ने बताया कि डोर टू डोर उन गरीबों तक पहुंच कर भोजन देना और जब गरीब भोजन पाकर प्रसन्न होता है तो मुझे भी प्रसंता मिलती है, यह अपने आप में एक उपकार नहीं बल्कि यह मेरा और आपका कर्म है, मद्धेशिया ने बताया कि अभी तक हम लोग यही जानते थे कि सभी लोग सुखी है लेकिन हमें आज मालूम हुआ की दुनिया में कितने गरीब, मजबूर, असहाय और लाचार हैं, मद्धेशिया ने आई कैन न्यूज़ संवादाता को एक गाना गुनगुना कर बताया "दुनिया में कितना गम है मेरा गम कितना कम है लोगों का गम देखा तो अपना गम भूल गया" मद्धेशिया ने बताया मेरे साथ कार्य कर रहे रवि कुमार सिंह, राजन गुप्ता , मोनू शाह, अजय गुप्ता, किशन गुप्ता, इत्यादि लोग इस सेवा में लगे हैं और इस सेवा से बहुत ही  खुश है, मद्धेशिया ने कहा यह उपकार और सेवा का मौका हमारे गार्जियन तुल्य दीपचंद अग्रवाल अभयानंद मिश्र अधिवक्ता ने इस प्रेरणा को देकर आगे का रास्ता खोल दिया, मैं गरीब जरूर हूं लेकिन भविष्य में इस तरह का मौका मिलेगा तो निस्वार्थ भाव से सेवा करूंगा l साथ ही मद्धेशिया ने समस्त नगरवासियों को हाथ जोड़कर प्रार्थना किया की कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हमें त्याग करना पड़ेगा आप घर में रहे, घर में रहें, एक आवाज दो आपको दो वक्त का रोटी पहुंचाने का बीड़ा मेरा होगा l यह  प्रेरणा हमारे गार्जियन तुल्य दीपचंद अग्रवाल ने दी l


28 वर्ष बाद मंदिर में राम जन्मोत्सव

अयोध्या। 'भये प्रगट कृपाला दीनदयाला, काैशल्या हितकारी'। नाैमी तिथि मधुमास पुनीता, शुक्ल पक्ष अभिजित हरिप्रीता।' यह बाेल है रामनगरी में श्रीरामजन्माेत्सव के। जहां मठ-मन्दिराें में प्रभु श्रीराम का जन्माेत्सव धूमधाम के साथ सादगी पूर्वक मनाया गया।
 
  गुरुवार काे दाेपहार 12 बजते ही घण्टे-घड़ियालाें व शंखनाद की करतलध्वनि के बीच अभिजित मुहूर्त में भगवान राम का प्राकट्य हाेता है, चारों ओर रामलला की जय-जयकार हाेने लगती है। इस खुशी में मन्दिराें में बधाइयां गीत गाए जाते हैं। हालांकि काेराेना के कारण फुल लॉकडाउन के चलते इस बार श्रद्धालुगण मंदिरों में रामजन्माेत्सव से नदारद दिखें। लाेगाें ने अपने घराें व मन्दिराें में स्वयं प्रतीकात्मक रूप से रामजन्माेत्सव मनाया। 
 
 इसी कड़ी में 28 साल बाद अस्थाई मन्दिर में रामलला का जन्माेत्सव मनाया गया। इस दौरान भगवान अपने भाईयों समेत रेशमी पीले रंग वस्त्र में नजर आये। जिसकी मनाेरमता देखते ही बन रही थी।  
 
  रामजन्मभूमि के मुख्य अर्चक आचार्य सत्येन्द्र दास पूजन-अर्चन कर रामलला की आरती उतारते हैं। तत्पश्चात वहां पुलिसकर्मियाें काे प्रसाद बांटा जाता है। रामलला के जन्माेत्सव का साक्षी वहां माैजूद सुरक्षाकर्मी बनते हैं। हालांकि फेसबुक सहित सोशल मीडिया पर लाइव द्वारा लाेग रामलला के जन्म महाेत्सव का दर्शन करते हैं। रामकोट मुहल्ले में स्थित प्रभु श्रीराम की प्रधान पीठ कनक भवन में दाेपहार 12 बजे भगवान राम का जन्म हाेता है। मन्दिर के प्रधान पुजारी ने पूजन-अर्चन कर भगवान की आरती उतारी। भक्त अपने घराें से ही फेसबुक लाइव से कनक बिहारी सरकार के जन्माेत्सव का हिस्सा बनते हैं। वहीं कनक भवन परिसर में लालसाहब दरबार में बड़े ही भव्यता के साथ प्रभु श्रीराम का जन्माेत्सव मनाया गया। महाेत्सव काे पीठ के वर्तमान महन्त जानकी शरण महाराज ने अपनी सानिध्यता प्रदान की। 
 
  इस अवसर पर आश्रम के उत्तराधिकारी रामनरेश शरण समेत अन्य उपस्थित रहे। राम नवमी तिथि पर मणिराम छावनी में राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के दिशा-निर्देशन में रामनवमी पर्व मनाया गया। मन्दिर गर्भ ग्रह काे बड़े ही सुन्दरता के साथ सजाया गया था, जिसकी मनाेरमता देखते हुए बन रही थी। जानकी घाट स्थित राम बल्ल भा कुंज में राम जन्मोत्सव के बाद अधिकारी संत राजकुमार दास ने कहाकि लॉकडाउन हाेने की वजह से श्रद्धालु नहीं आने पाए। इसलिए आश्रम के लाेगाें ने ही मिलकर महाेत्सव मनाया। 
 
इस अवसर पर महन्त रमा शकर शरण वेदांती व सहित मंदिर के संत विद्यार्थी उपस्थित रहे। सदगुरु सदन गाेलघाट के महंत सिया किशोरी शरण ने कहाकि रामजन्माेत्सव पर पूरे मन्दिर परिसर काे विविध प्रकार के फूलाें सजाया से गया था। दाेपहार में भगवान के आरती-पूजन के बाद भक्ताें काे प्रसाद बांटा गया। उन्होंने कहाकि 'जेहि दिन रामजनम श्रुति गावंहि, तीरथ सकल तहां चली आवंहि।।' अर्थात जिस दिन भगवान राम का जन्म हाेता है। उसी दिन सभी तीर्थ अयाेध्या आते हैं। यहां आकर सरयू स्नान कर पुण्य के भागी बनते हैं। 
 
 इसी तरह के कौसलेस कुंज में रामा नुजाचर्या विद्याभस्कर मार्गदर्शन में भगवान राम का प्राकट्याेत्सव मनाया जाता है। दशरथ महल के महंत बिंदु गद्याचार्या देवेन्द् प्रसा दा चर्या ने प्रभु के जन्म बाद नामचीन गायकाें व किन्नराें द्वारा अनेकानेक बधइया गीत गाए जाते हैं। इससे पूरे मन्दिर परिसर में अद्भुत छटा निखरती है। 
 
 इसके अलावा अयाेध्या के हनुमागढ़ी, बड़ी छावनी, मणिरामदास छावनी, श्रीरामवल्लभाकुंज, दशरथ महल, हनुमान बाग, जानकी महल, रंगमहल, लवकुश मन्दिर, काेशलेश सदन, अशर्फी भवन, ताेताद्रिमठ, वेदमंदिर, लक्ष्मणकिला, सदगुरू सदन, रामसखी मन्दिर वासुदेवघाट स्थित प्रियाप्रीतम केलिकुंज में महन्त रामगाेविन्द शरण महाराज ,सीताकान्त सदन, गाेलघाट के महन्त रामानुज शरण, समेत अन्य मन्दिराें में भी रामजन्माेत्सव हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया।


प्रथमः रामनवमी पर 'सरयू स्नान' नहीं

अयाेध्या। लॉकडाउन के चलते गुरूवार काे प्रसिद्ध रामनवमी पर्व पर एक भी श्रद्धालु सरयू स्नान नहीं कर पाए। काेराेना के कारण प्रशासन ने पहले ही सरयू में सामूहिक स्नान करने पर राेक लगा रखा है। 
 
  लॉकडाउन के कारण श्रद्धालुओं के अयाेध्या आने पर प्रशासन ने पाबंदी लगा रखी है। जिसका रामनवमी के दिन कड़ाई से पालन किया गया। नगरी में प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद दिखा। लाउडस्पीकर द्वारा जिला प्रशासन की तरफ से घूम-घूमकर अयाेध्यावासियाें और श्रद्धालुओं काे हिदायत दिया जा रहा था कि काेई भी व्यक्ति घर से बाहर सरयू स्नान के लिए न निकले। न ही किसी मठ-मन्दिर में रामजन्माेत्सव मनाए जाएं। सभी लाेग अपने घराें में ही भगवान राम का जन्माेत्सव मनायें। यदि काेई भी व्यक्ति सरयू स्नान व रामजन्माेत्सव में शामिल हाेने के लिए घर से बाहर निकलता है। या कहीं अधिक भीड़ लगाता है। ताे उसके विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जायेगी। 
 
 काेराेना के कारण गुरूवार काे लाखाें वर्षाें की परम्परा पर ग्रहण लग गया। या यूं कह लें कि आस्था पर काेराेना भारी पड़ गया। जहां प्रतिवर्ष रामनवमी के दिन 20 से 25 लाख श्रद्धालु अयाेध्या आकर आस्था की डुबकी लगाते थे। साथ ही प्रमुख मठ-मन्दिराें में रामजन्माेत्सव में सम्मिलित हाेते हैं। लेकिन इस बार नजारा कुछ और ही था। सरयू स्नान घाटाें पर सन्नाटा पसरा रहा। श्रद्धालुगण पूरी तरह स्नान से नदारद दिखे। पूरा सरयू घाट रैपिड एक्शन फाेर्स व पीएसी के हवाले दिखा। रामनगरी में चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल के जवान तैनात रहे। अयाेध्या की पूरी सीमा काे चाराें तरफ से सील कर दिया गया था। बाहरी व्यक्तियाें के आने पर पूर्णता पाबंदी रही। कल तक प्रसिद्ध रामनवमी पर्व के दिन रामनगरी की जाे सड़कें श्रद्धालुओं की भारी-भीड़ से पटी रहती थीं। वह आज खाली-खाली दिखी, धर्मनगरी में सड़काें पर चाराें ओर सन्नाटा पसरा रहा। सड़काें पर सिर्फ नीली व खाकी वर्दी के ही जवान दिखलाई पड़े रहे थे। यहां तक कि सरयू स्नान घाटाें पर भी पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। घाटाें से श्रद्धालुगण नदारद दिखे। जाे सरयू स्नानघाट रामजन्माेत्सव के दिन रामभक्ताें से खचाखच पटे रहते थे। जहां श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाकर दान-पुण्य करते थे। वह घाट आज वीरान पड़े रहे। वहां पूरी तरह से भय और बंदिशाें का माहाैल कायम था। हर ओर सन्नाटा पसरा रहा। 
 
 अयाेध्या की महिमा किसी से भी छिपी नहीं है। जहां मान्यता है कि दूसराें के पाप धाेने वाले तीर्थराज प्रयाग खुद रामनवमी के दिन अयाेध्यानगरी आकर सरयू स्नान कर अपने पाप धुलते हैं। इस दिन सभी तीर्थ अयाेध्यानगरी में माैजूद रहते हैं। जिस पर यह पंक्ति एकदम सटीक बैठती है- "जेहि दिन रामजनम श्रुति गावंहि, तीरथ सकल तहां चली आवंहि"। ऐसी अयाेध्यानगरी के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है। जब रामनवमी पर्व पर काेई भी स्नान नहीं करने पाया।


अल्पसंख्यकों पर आरोप-प्रत्यारोप बंद करें

वॉशिंगटन। अमेरिका ने कोरोना वायरस के फैलने के लिए धार्मिक अल्पसंख्यकों पर आरोप लगाने को ‘‘गलत’’ ठहराया है। उनका मानना है कि दुनियाभर की सरकारों को कोविड-19 की जड़ को लेकर ‘‘आरोप-प्रत्यारोप लगाने के खेल’’ को आक्रामकता से खारिज कर देना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के लिए अमेरिका के राजदूत सैम ब्राउनबैक ने धार्मिक समूहों से सामाजिक दूरी का पालन करने का अनुरोध किया। साथ ही दुनियाभर में, खासतौर से ईरान और चीन में शांतिपूर्ण धार्मिक कैदियों को रिहा करने की मांग की है। जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्होंने कोरोना जिहाद हैशटैग ट्रेंड करने के बारे में भारतीय अधिकारियों से बात की तो उन्होंने कहा, ‘‘मैंने अभी तक भारतीय अधिकारियों से बात नहीं की है।’


आपको बता दें कि ब्राउनबैक की ये टिप्पणियां नई दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन को लेकर आई है जो भारत में कोरोना वायरस फैलाने का प्रमुख केंद्र बनकर उभरा है। ब्राउनबैक ने धार्मिक अल्पसंख्यकों पर कोरोना के असर पर कांफ्रेंस कॉल के दौरान पत्रकारों से कहा, ‘‘मेरा कहना है कि धार्मिक समूहों को सामाजिक दूरी बनाए रखनी चाहिए. हमें यह करने की जरूरत है।


एक सवाल के जवाब में ब्राउनबैक ने कहा कि अमेरिका कोविड-19 विषाणु के लिए धार्मिक अल्पसंख्यकों पर आरोप लगाने की हरकत पर नज़र रख रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण रूप से यह विभिन्न स्थानों पर हो रहा है। सरकारों द्वारा ऐसा करना गलत है। सरकारों को यह बंद करना चाहिए और स्पष्ट रूप से कहना चाहिए कि यह कोरोना वायरस का स्रोत नहीं है। इसके लिए धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय जिम्मेदार नहीं हैं।’ लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण रूप से हम दुनिया के विभिन्न स्थानों पर आरोप-प्रत्यारोप देख रहे हैं और हम उम्मीद करते हैं कि सरकारें आक्रामकता से इसे खारिज कर देंगी।’ ब्राउनबैक ने सरकारों से मुश्किल की इस घड़ी में धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ काम करने और यह सुनिश्चित करने की अपील की कि उन्हें आवश्यक संसाधन और मदद मिलें।


मां-बेटे ने करोना को चकमा दिया

राणा ओबराय
मुंबई में 5 वर्ष के बच्चे और उसकी माँ ने कोरोना को हराया

मुंबई। मुंबई से एक राहत देने वाली खबर आ रही है। कुछ दिन पहले कोरोना से संक्रमित 5 वर्ष का बच्चा और उसकी मां का टेस्ट पॉजिटिव आया था। परंतु अब डॉक्टरों ने दो बार टेस्ट करने के बाद बच्चे और उसकी मां की टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव बताई है। यह एक बहुत खुशी की बात है इन दोनो कोरोना वायरस को हराकर एक नई उम्मीद जगा दी है। डॉक्टरों के अनुसार एक और टेस्ट करने के बाद इन दोनों को छुट्टी दे दी जाएगी।


राष्ट्रपति की राज्यपालों से वीसी बैठक

नई दिल्ली। देश में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक तरफ देशवासियों के साथ एक वीडियो संदेश साझा किया। वहीं, दूसरी ओर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए राष्ट्रपति भवन से देशभर के तमाम राज्यपाल, उपराज्यपाल और प्रशासकों के साथ वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की है। बैठक में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी शामिल हुए। 


बैठक में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोरोना संक्रमण के संबंध में बचाव और अब तक किए गए कार्यों पर चर्चा की। उन्होनें कोरोना से पैदा हुए राज्यों के हालात की जानकारी ली। राष्ट्रपति की इस पहल से कोरोना संक्रमण से निपटने में केंद्र और राज्य के स्तर पर की जा रही कोशिशों को बढ़ावा मिलने की उम्मीद जतायी जा रही है। इससे पहले भी राष्ट्रपति ने राज्यपालों के साथ वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए बात की थी। इधर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के खेल जगत के लोगों से कोरोना वायरस के महासंकट पर संवाद किया है। इस दौरान बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली, भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली, पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर समेत 40 खिलाड़ी अलग-अलग फील्ड से शामिल हुए। इससे पहले भी प्रधानमंत्री ने अलग-अलग क्षेत्र के लोगों से इस मसले पर संवाद किया है, ताकि अधिक से अधिक लोगों तक इस मसले पर जागरुकता फैलाई जा सके। वहीं इससे पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही राज्यों के मुख्यमंत्रियों, उद्योगपतियों, मीडिया प्रमुखों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत कर चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ लॉकडाउन पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर चर्चा की थी।


एसआई जरूरतमंदों के लिए मसीहा बने

बृजेश केसरवानी
प्रयागराज। इस वक्त दुनियाभर के कई हिस्सों में कोरोना जैसी महामारी ने अपने पैर फैला रखे है। वहींं इस महामारी से देश वासियों को बचाए रखने के लिए केंद्र सरकार पूरी ताकत से काम कर रही है और पूरे देश में 21 दिनों का लॉक डाउन भी कर दिया है। जिसके चलते गरीब लोग जो रोज कमाने खाने वाले हैं। राशन जुटा पाने में दिक्कतों का सामना कर रहे हैं। देश की पुलिस इस वक्त पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ देशवासियों की सेवा में लगी हुई है। चाहे लॉक डाउन में लोगों को जागरूक करने की बात हो या गरीबों को राशन बाटने की बात हो। इसी कड़ी में प्रयागराज के थाना कीडगंज अंतर्गत नई बस्ती चौकी इंचार्ज रंजीत सिंह एवम उनके साथी राम बहादुर साहनी जी गरीबों को पक्का खाना और राशन  प्रतिदिन बटवाने का कार्य कर रहें हैं। वाकई पुलिस द्वारा उनका ये काम सहरानीय है और लोगों के दिलों में भी प्रशाशन की एक अच्छी छवि भी बन रही है। 


'यूनिवर्सल एक्सप्रेस' कि कार्यरत टीम जनपद प्रयागराज में तल्लीनता से कार्य कर रही है। यह विशेष कवरेज पुलिस को प्रोत्साहन और ऊर्जा संवाहक है।


मस्जिद से हमला, 2 पुलिसकर्मी घायल

कन्नौज की जामा मस्जिद से पुलिस पर हुआ हमला, दो पुलिस कर्मी घायल


कन्नौज। लाकडाउन के बावजूद शहर के मोहल्ला मीरा टोला स्थित जामा मस्जिद में शुक्रवार को जुमे की नमाज के लिए लोग एकजुट हो रहे थे। मस्जिद में नमाजियों के जुटने की जानकारी होते ही एलआईयू कर्मी राजवीर सिंह पुत्र लालमन सिंह ने सदर कोतवाली क्षेत्र की हाजी शरीफ पुलिस चौकी पर सूचना दी। यहां से वह पुलिस कर्मी सौदान सिंह पुत्र विजय लाल को साथ लेकर मस्जिद पहुंच गए और नमाज के लिए जुटने वाली भीड़ को ऐसा करने से रोकने लगे। उन्होंने कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने की सम्भावना भी जताई। लेकिन मौके पर मौजूद लोग इस बात का विरोध करने लग गए। देखते ही देखते समुदाय विशेष के लोगों ने एकजुट होकर एलआईयू कर्मी और पुलिस कर्मी पर हमला कर दिया। इस घटना में पुलिस कर्मी सौदान सिंह का सिर फट गया, जबकि राजवीर सिंह के हाथ मे चोट लग गई। जैसे-तैसे दोनों कर्मी जान बचाकर भागने का प्रयास करने लगे। हमले के दौरान उपद्रवियों ने बाइक भी क्षतिग्रस्त कर दी। इस बीच सूचना मिलते ही कोतवाली प्रभारी नागेंद्र पाठक फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। फोर्स को आता देख कर उपद्रवी भाग निकले। उधर कुछ ही देर में डीएम राकेश चन्द्र मिश्रा, एसपी अमरेंद्र प्रसाद, एसडीएम सदर शैलेश कुमार और सीओ सिटी श्रीकांत प्रजापति फोर्स के साथ पहुंच गए। यहां हमले में घायल हुए पुलिस कर्मियों को बिनोद दीक्षित अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां हालत गम्भीर होने पर डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। उधर मस्जिद में फोर्स तैनात कर दिया गया है। मामले को लेकर एसपी अमरेन्द्र प्रसाद ने कहा कि हमले के दोषियों पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।


राशन वितरण प्रणाली और प्रशासन

रवि चौहान


गाजियाबाद। सरकारी राशन की दुकानों के मालिकों के सामने प्रशासन नतमस्तक नजर आ रहा है। कोरोनावायरस के चलते ऐसे हालात हो गए हैं कि राशन की कालाबाजारी की कोई गुंजाइश नहीं रह गई है। यदि कोई कहीं स्टॉक भी करता है तो भी उसे खतरा बना रहता है। जिसके चलते  कालाबाजारी करने वालों  के सिर में काफी दर्द है। जिसका एक प्रमाण आपके सामने है।  


आपको बता दें शालीमार गार्डन मे वार्ड 37 मैं कोमल सरकारी राशन की दुकान पर लोगों को राशन देने से मना कर दिया गया। जिससे लोगों में आक्रोश फूटा, लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। दुकानदार दुकान बंद कर चला गया। वही दुकानदार का कहना है कि डीएसओ से हमारी सेटिंग है। वही एआरओ और एरिया इंस्पेक्टर भी इस दुकानदार के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। जिसका फायदा दुकानदार उठा रहा है और लोग परेशान हो रहे हैं। वहीं जिला प्रशासन भी इस तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहा है। जिससे साफ जाहिर है की उचित दर दुकान दार कोमल कालाबाजारी के फिराक में है।


बागपतः लॉक डाउन उल्लंघन पर कार्रवाई

गोपीचंद


बागपत। कोरोना वायरस के मददेनजर लाॅकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरूद्व जनपद बागपत पुलिस द्वारा की गयी कार्यवाही।
कोरोनावायरस महामारी का दिन प्रतिदिन कहर बढ़ रहा है। साथ-साथ इसका भरपूर प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है। इसके बावजूद भी लोग नासमझी और लापरवाही के प्रमाण दे रहे हैं। जिसके विरुद्ध प्रशासन को सख्ती बरतनी पड़ रही है। जिसके अंतर्गत जनपद बागपत पुलिस द्वारा लाॅकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरूद्व 01 अभियोग पंजीकृत कर 06 लोगों के विरूद्व थानावार विधिक कार्यवाही का विवरण। थाना बिनौली पर 01 अभियोग पंजीकृत कर 06 लोगों के विरूद्व, विधिक कार्यवाही की गयी है।


पोत पर सवार 114 नाविक संक्रमित

वाशिंगटन। अमेरिका के परमाणु ऊर्जा से लैस विमान वाहक पोत थियोडोर रूजवेल्ट पर 114 नाविक कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ से संक्रमित पाये गये हैं और पीड़ितों की संख्या अभी और बढ़ने की आशंका है।


कार्यवाहक नौसेना अधिकारी थॉमस मोडली ने गुरुवार को संवाददाताओं से कहा, “हमारे लगभग 114 नाविक कोरोना पॉजिटिव हैं। मैं पूरी निश्चितता के साथ आपको बता सकता हूं कि इनकी संख्या बढ़ेगी। यह संभवत: सैकड़ों में होगी।”


उन्होंने बताया कि कोरोना पॉजिटिव नाविकों में से किसी को अस्पताल में भर्ती नहीं होना पड़ा है। संक्रमित नाविकों में केवल हल्के या मध्यम फ्लू जैसे लक्षण नजर आये हैं जबकि कुछ में कोई भी लक्षण नजर नहीं आ रहा है। उन्होंने कहा कि कुछ नाविक पहले ही स्वस्थ हो चुके हैं। मोडली ने बताया कि उन्होंने रूजवेल्ट के कमांडिंग अधिकारी को ड्यूटी से हटा दिया है क्योंकि उन्होंने जहाज पर सवार कोरोना संक्रमितों के लिए सार्वजनिक तौर पर मदद मांगी थी। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक रूप से मदद मांगने पर जहाज पर संक्रमण फैलने के बारे में जानकारी लीक हुई जिससे अनावश्यक दहशत पैदा हुई।


सेंसेक्स में फिर गिरावट की गई दर्ज

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में शुक्रवार को फिर बिकवाली के दबाव में आरंभिक कारोबार के दौरान 350 अंक से ज्यादा टूटकर 28,000 के नीचे आ गया। वहीं, निफ्ट में भी 100 अंकों से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई। डॉलर के मुकाबले रुपये में भी कमजोरी आई।


हालांकि सकारात्मक विदेशी संकेतों से कारोबार की शुरूआत तेजी के साथ हुई, मगर डॉलर में आई गिरावट और बीते सत्र में कच्चे तेल के दाम में आई जोरदार तेजी के कारण भारतीय शेयर बाजार में कारोबारी रुझान कमजोर रहा। वहीं, बैंक और वित्तीय सेक्टर के शेयरों पर दबाव बना हुआ था। सुबह 9.19 बजे सेंसेक्स पिछले सत्र से 310.43 अंकों यानी 1.10 फीसदी की गिरावट के साथ 27,954.88 पर कारोबार कर रहा था। वहीं, निफ्टी 105.35 अंकों यानी 1.28 फीसदी की गिरावट के साथ 8,148.45 पर कारोबार कर रहा था।


हालांकि बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 358.22 अंकों की तेजी के साथ 28,623.53 पर खुला और 28,639.12 तक की बढ़त बनाने के बाद लुढ़ककर 27,904.62 पर आ गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफटी पिछले सत्र से 102.75 अंकों की बढ़त के साथ 8,356.55 पर खुला, लेकिन बिकवाली के दबाव में जल्द ही फिसलकर 8,148 पर आ गया। भारतीय मुद्रा रुपये में कारोबार की शुरूआत शुक्रवार को डॉलर के कमजोरी के साथ हुई। डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सत्र की क्लोजिंग से 39 पैसे फिसलकर 76.05 रुपये प्रति डॉलर पर खुला।


900,306 संक्रमित, 45000 की मौत

जिनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने गुरुवार रात को कहा कि विश्वभर में घातक कोरोना वायरस के प्रकोप से अब तक 900,306 लोग संक्रमित हो चुके हैं। और करीब 45 हजार लोगों की मौत हो गई है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान लगभग 5 हजार संक्रमितों की मौत हो गई है। वहीं जॉन्स हाँपकिंस विश्वविद्यालय का कहना है। कि विश्व में खतरनाक कोरोना वायरस अब तक 50 हजार से अधिक लोंगो की मौत हो चुकी है। और करीब 1 लाख लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं।


मजदूरों के खाते में भेजेंगे 5 हजार

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किया राहत का ऐलान
लोगों के बैंक खातों में सीधे किया जाएगा फंड ट्रांसफर
पब्लिक सर्विस वाहन चलाने वालों को मिलेंगे 5 हजार रुपये


नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संकट में लॉकडाउन के दौरान कामधंधा छोड़कर घर बैठे पब्लिक सर्विस वाहन चलाने वालों के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बड़ा ऐलान किया है। रिक्शा, ऑटो रिक्शा और बैटरी रिक्शा, आरटीवी, फटफट सेवा चलाने वालों के साथ ही दिहाड़ी मजदूरी करने वालों को दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार पांच हजार रूपये देगी। लॉकडान का सबसे ज्यादा नुकसान दिहाड़ी मजदूर, ऑटो, ई-रिक्शा चलाने वालों को ही हो रहा है।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कुछ दिनों से ऑटो, रिक्शा, आरटीवी वालों के मैसेज और फोन आए कि उनकी रोजी-रोटी बंद हो गई है। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि आप सब मेरे भाई जैसे हैं। मैं किसी भी व्यक्ति को भुखमरी में नहीं रहने दे सकता। सभी पब्लिक सर्विस वाहन चलाने वालों के खाते में 5 हजार रुपये सीधे डाले जाएंगे।
बता दें कि गुरूवार तक दिल्ली में कोरोना के 219 केस आए थे। इनमें 51 केस विदेश से आए हुए लोगों के हैं। 108 केस मरकज के हैं, इनमें भी 29 केस मरकज में विदेश से आने वालों के हैं। दिल्ली में अब तक 4 लोगों की मौत हुई है, इनमें मरकज से संबंधित 2 लो शामिल हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि मरकज से लाए गए 2046 लोगों में से 1810 लोगों को क्वारनटीन किया गया है। मरकज के 536 लोगों को शहर के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। सभी 2046 व्यक्तियों के टेस्ट किए जा रहे हैं।
भारत में 2 हजार 69 तक पहुंचा आंकड़ा, 53 की मौत
भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। भारत में अब तक 53 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 2 हजार 69 पार गया है। खास बात है कि कोरोना के 156 लोग भारत में ठीक हो चुके है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से गुरुवार की शाम को ये आंकड़े जारी किए गए हैं। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन जारी है जो कि 14 अप्रैल तक चलेगा।


जो भी सुनता है हैरान हुआ जाता है..

मयंक दीक्षित


जो भी सुनता है हैरान हुआ जाता है
कोरोना भी अब मुसलमान हुआ जाता है


इन्ही पंक्तियों के साथ शायर मुनव्वर राणा जमातियों के समर्थन में खड़े नजर आए। ये स्थिति तब है जब मरकज में शामिल 400 लोग कोरोना संक्रमित पाये गए है और करीब 9000 लोगों को क़वारन्टीन किया गया है ,गाज़ियाबाद स्थित अस्पताल में जमात वालों ने नर्सों व स्वास्थ्यकर्मियों के साथ अश्लील हरकतें व भद्दे कमेंट किये। देश के विभिन्न अस्पतालों से संक्रमित जमात के लोगों द्वारा इलाज़ में सहयोग न करने व थूकने की खबरें सामने आ रहीं है।
हैदराबाद के गांधी अस्पताल में निज़ामुद्दीन मरकज़ से आये क्वारन्टीन किये गए लोगों ने पास में खड़े होकर नमाज़ पढ़ी और अस्पताल में ही सामाजिक दूरी की अपील की खुलकर धज्जियाँ उड़ाई।
नोएडा के सेक्टर 16 की जे.जे. कॉलोनी में सादिक नाम के शख्स ने लोग जुटाए और घर की छत पर ही सामूहिक रूप से नमाज़ पढ़ी। इंदौर में जांच के लिए गए स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले किये गए। हालांकि प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए इंदौर वाले घटनाक्रम में 4 लोगों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ रासुका के तहत कार्यवाही की है। नोएडा के सादिक पर भी प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है।प्रशासन की इसी सख्ती के चलते निज़ामुद्दीन मरकज में लोगों को गुमराह करने वाला फरार मौलाना साद भी अब ऑडियो जारी कर घरों में ही नमाज पढ़ने व क्वारन्टीन में रहने की अपील करता सुनाई दे रहा है।


हालांकि AIMIM चीफ ओवैसी व मशहूर शायर राहत इंदौरी ने लोगों से सरकार का सहयोग करने की अपील की है। सबसे महत्त्वपूर्ण आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वीडियो संदेश जारी कर 5 अप्रैल की रात को 9 बजे 9 मिनट तक देश के सभी 130 करोड़ लोगों से अपने अपने घरों की लाइट बंद करके सामाजिक दूरी रखते हुए घरों की बालकनी से दिया, मोमबत्ती, मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाकर कोरोना नामक अंधकार को दूर करने व कुछ देर अकेले बैठकर माँ भारती का स्मरण करने की अपील की है।


अपीलः सामूहिक नमाज अदा नही करें

सत्येंद्र राणा


शामली।जनपद शामली के कस्बा जलालाबाद में सीओ थाना भवन अमित सक्सेना वह जलालाबाद चौकी प्रभारी पवन कुमार सैनी ने अपनी टीम के साथ कस्बे की जामा मस्जिद,  मनिहारो वाली मस्जिद , दरबार वाली मस्जिद व मुन्ने वाली मस्जिद व अरबी मदरसा की मस्जिद आदि में गस्त कर एलाउंसमेंट द्वारा नगर वासियों से जुमे की नमाज घर में ही अदा करने की अपील की। नगर वासियों ने भी जलालाबाद पुलिस का सहयोग करते हुए घरों में ही रहकर जुमे की नमाज अदा की। कस्बे की सभी मस्जिदों में ताले लटके मिले, जलालाबाद चौकी प्रभारी पवन कुमार सैनी बड़ी ही मुस्तैदी के साथ कस्बे में लॉक डाउन का बड़े ही संयम के साथ नगर वासियों से सरकार के आदेशों का पालन करने की हिदायत दे रहे हैं।


गाजियाबाद जिलाधिकारी के नाम पत्र

गाजियाबाद  जिलाधिकारी के नाम पत्र
अकाशुं उपाध्याय 
गाजियाबाद। विश्व स्तर पर नावेल कोरोनावायरस कोविड-19 का कहर, मौत के तांडव के रूप में परिवर्तित हो चुका है। भारत में संक्रमण वृद्धि और मौतों में बढ़ोतरी निरंतर जारी है। लॉक डाउन लागू होने के 9 दिन पश्चात भी जनपद में जरूरतमंदों पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। बल्कि लचर शासन व्यवस्था और दूरगामी दृष्टि के अभाव में यह अनीति बढ़ती जा रही है। सुभे के मुख्यमंत्री के द्वारा निशुल्क राशन सामग्री वितरण एवं सीधे अकाउंट में धन भेजने की घोषणा की गई। लेकिन सब बकवास है। संकट की पीड़ा कारक विपरीत परिस्थिति में जनता से बेतुका मजाक किया जा रहा है। जरूरतमंद और भूखे-प्यासे गरीब, बूढ़े-बच्चों की चित्कारी का आनंद लिया जा रहा है। किसी स्त्री, पुरुष अथवा नपुसलिंग के द्वारा राज्य शासन व्यवस्था संचालन से कोई फर्क नहीं पड़ता। लेकिन 'नाथ जी' के शासन में उत्पन्न इस पीड़ा में निस्वार्थ सेवा और कल्याणकारी तप के प्रताप का प्रभाव नहीं दिख रहा है। कल आपका यश होगा,या नही। यह अनभिज्ञ है। लेकिन आज आप कातर दृष्टि के पात्र बन गए हैं। शासन व्यवस्था में व्यस्त किसी से किसी प्रकार की अपेक्षा करना मूर्खता ही है।
परंतु जिला अधिकारी कुटिलता और निष्ठुरता का पक्ष नहीं लेंगे। जनपद में बड़े-बड़े व्यापारी, राजनेता और धन संपन्न लोग निवास करते हैं। वहीं उनकी चाकरी करने वाले भी रहते हैं। विधवा, वृद्धा, निराश्रित और लाचार जरूरतमंद भी रहते हैं। आपकी व्यवस्था आज 9 दिन के लॉक डाउन में हर मोर्चे पर विफल साबित हो रही है। जनपद की कुल आबादी का एक बड़ा हिस्सा खदान के अभाव से जूझ रहा है। जिस पर आप का भी ध्यान नहीं है। यह पत्र केवल इस आश्रय से प्रेषित है कि निष्ठावान व्यक्ति विभिन्न परिस्थितियों में सदैव नीति संगत बना रहता है। जरूरतमंद जनता को उसके हाल पर छोड़ देना, किसी भी नीति का समर्थन नहीं करता है। उनकी जरूरत विषय का विकार बन चुकी है। उसका आकलन और अवलोकन किया जा सकता है। हालांकि उन्हें भी आपके होने का कोई आभास नहीं है। क्योंकि अभी तक आपके द्वारा ऐसा कुछ भी नहीं किया गया, जिसका आभास हो।


ट्रंप की दूसरी बार भी नेगेटिव रिपोर्ट

मनोज कुमार सिंह


वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वायरस की दूसरी जांच में संक्रमित नहीं पाए गए और वह स्वस्थ हैं तथा उनमें इस जानलेवा बीमारी के कोई लक्षण नहीं दिख रहे हैं। राष्ट्रपति की जांच ऐसी तकनीक से की गई जिसने 15 मिनट में ही नतीजे दे दिए। ट्रंप के कोरोना नेगेटिव पाए जाने से अमेरिका ने राहत की सांस ली है।ट्रंप के डॉक्टर सीन कोनली ने दूसरी जांच कराने की कोई वजह नहीं बताई। कोनली ने व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रीशम को भेजे एक ज्ञापन में कहा, ‘राष्ट्रपति कोविड-19 की जांच में संक्रमित नहीं पाए गए।‘


उन्होंने कहा कि आज सुबह राष्ट्रपति की एक नयी जांच प्रणाली के इस्तेमाल से कोविड-19 की फिर से जांच की गई। वह स्वस्थ हैं तथा उनमें इस रोग के कोई लक्षण नहीं हैं। महज एक मिनट में नमूने लिए गए और 15 मिनट में नतीजे आ गए। इस रिपोर्ट पर ट्रंप ने कहा कि मैंने जांच कराई थी। यह (रिपोर्ट) अभी आई है। उन्होंने जांच इसलिए कराई थी क्योंकि उन्हें जानने की उत्सुकता थी कि यह कितनी जल्दी और तेजी से काम करता है।


इससे पहले वह संक्रमित पाए गए 2 लोगों के संपर्क में आने के बाद मार्च के मध्य में हुई जांच में भी संक्रमित नहीं पाए गए थे। अमेरिका में इस संक्रमण के 2,36,339 मामले सामने आए है जो दुनिया में सबसे अधिक है तथा यहां इस बीमारी से 5,000 से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं।


कुष्ठ रोग की दवा उपचार में कारगर

नई दिल्ली। वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) कोविड-19 की चुनौती से निपटने के लिए कई स्तरों पर कार्य कर रहा है। इसी कड़ी में उसने कुष्ठ रोग के उपचार के लिए बनी अपनी ही एक दवा मायकोबैक्ट्रीयम डब्ल्यू को कोरोना के उपचार में कारगर पाया है। अब इसके कोरोना उपचार में इस्तेमाल को लेकर ड्रग कंट्रोलर जनरल से अनुमति मांगने की प्रक्रिया आरंभ की गई है।


जम्मू स्थित सीएसआईआर की प्रयोगशाला इंडियन इंस्टीट्यूट आफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम विश्वकर्मा ने मीडिया को बताया कि मायकोबैक्ट्रीयम मूलत: कुष्ठ रोग के उपचार के लिए स्वीकृत है।


प्रतिरोधक क्षमता पैदा करता है :यह दवा शरीर में बाहरी संक्रमण को रोकने के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता पैदा करती है। आंतरिक आकलन में यह पाया गया कि जिस प्रकार कोविड-19 के संक्रमण में साइटोकाइंस की अति सक्रियता देखी गई है वह नुकसानदायक होती है। दरअसल साइटोकाइंस प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा उत्पन्न किए जाने वाले प्रोटीन हैं। कई कोशिकाएं इन्हें पैदा करती हैं। इनकी मौजूदगी शरीर की प्रतिरोधक तंत्र को सक्रिय और नियंत्रित रखती है। यह पाया गया कि कोविड-19 के संक्रमण में साइटोकाइंस अति सक्रिय हो जाते हैं जिसके चलते प्रतिरक्षा तंत्र काम नहीं कर पाता।


अनुमति मिली तो पर मरीजों पर आजमाएंगे : एमडब्ल्यू की डोज से उन्हें नियंत्रित कर इस संक्रमण के खिलाफ प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूती प्रदान की जाएगी। विश्वकर्मा ने कहा कि यह संभावना है कि इस दवा के इस्तेमाल से कोविड-19 के खिलाफ एक महत्वपूर्ण उपचार निकले, इसलिए सरकार से इसके कोरोना में उपचार की अनुमति मांगी गई है। यदि अनुमति दी जाती है तो सीधे किसी बड़े अस्पताल में मरीजों पर इसको आजमाया जाएगा। हालांकि दवा कितनी सफल होगी, इसका इस्तेमाल के बाद ही पता चल सकेगा।


लॉक डाउन उल्लंघन, आपदा एक्ट में कार्रवाई

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ आपदा एक्ट-2005 (एपिडेमिक एक्ट) के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसके निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को दिए हैं। इसके साथ ही कोरोना से लड़ने के लिए प्रदेश सरकार कोरोना केयर कोष का गठन करने जा रही है। इस कोष का उपयोग मेडिकल कॉलेजों में कोरोना संबंधी उपचार की व्यवस्था को बेहतर करने, टेस्टिंग किट, पीपीई किट, वेंटीलेटर,  कोरेंटीन व आइसोलेशन वॉर्ड व टेली मेडिसिन के लिए किया जाएगा। इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि 15 अप्रैल को लॉकडाउन खोलने की कार्ययोजना बनाई जा रही है। 


आपको बता दें कि केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने बृहस्पतिवार को सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर लॉकडाउन के उल्लंघन और फेक न्यूज पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। 


गृहमंत्रालय की प्रवक्ता पुण्य सलिल श्रीवास्तव ने बताया कि पत्र में गृह सचिव भल्ला ने राज्यों को निर्देश दिया है कि आपदा प्रबंधन अधिनियम और आईपीसी के तहत लागू होने वाले विभिन्न दंडात्मक प्रावधानों की जानकारी सभी को दी जानी चाहिए। साथ ही लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। इसके अलावा राज्यों को सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के तहत फेक न्यूज फैलाने वालों के खिलाफ भी कड़े कदम उठाने को कहा गया है। भल्ला ने राज्यों से कहा है कि केंद्र सरकार ने झूठी खबरों की पहचान के लिए एक वेब पोर्टल बनाया है, जिस पर कोई भी व्यक्ति फैक्ट चेक करने के लिए जानकारी भेज सकता है। उन्होंने राज्य सरकारों से भी अपने स्तर पर एक ऐसा ही तंत्र स्थापित करने का आग्रह किया है।


बच्चों को लॉकडाउन में मानसिक तनाव से बचाएं : सरकार
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को राज्य सरकारों को निर्देश दिया कि बच्चों को लॉकडाउन के दौरान मानसिक तनाव से दूर रखने के लिए कदम उठाए जाएं। संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई अभी चल रही है। सभी को इसमें सहयोग की जरूरत है। सभी धर्म के लोग सोशल डिस्टेंस का पालन करें। लॉकडाउन का राज्य सरकारें सख्ती से पालन कराएं।


झुग्गी-झोपड़ी में भी फैलने लगा वायरस

मुम्बई। कोरोना वायरस अब मुंबई की झुग्गी-झोपड़ियों में भी फैलने लगा है। एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी कही जाने वाली धारावी में कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति की मौत से स्लम बस्ती धारावी में खलबली मच गई है। यहां कोरोना वायरस के एक और मामले की पुष्टि हुई है। एक 35 वर्षीय डॉक्टर का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है। उसके परिवार को क्वारंटाइन कर दिया गया है, आज उनका टेस्ट किया जाएगा। धारावी में जिस बिल्डिंग में वो मरीज रहता है उसको बीएमसी ने सील कर दिया है। इससे पहले 52 वर्षीय मरीज सफाईकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाया गया। वह अपने परिवार के साथ वरली में रहता है, लेकिन बस्ती को सेनेटाइज करने आता था। उसकी हालत स्थिर बताई गई है, व्यक्ति के संपर्क में रहे 23 लोगों को क्वरंटीन किया गया है।


 युद्धस्तर पर सैनिटाइजेशन का काम
बस्ती में मरीजों के मिलने के बाद बृहस्पतिवार सुबह से ही इलाके को सेनेटाइज करने का काम युद्धस्तर पर शुरू हो गया है। बालिगा नगर में 300 फ्लैट और 90 दुकाने सील की गई हैं। लोगों के लिए जीवनावश्यक बस्तुओं की आपूर्ति के लिए कर्मचारियों को काम पर लगाया गया है। वहीं, पुलिस फोर्स भी तैनात की गई है।
9 लाख लोगों की जांच
धारावी में पिछले हफ्ते 2 लाख लोगों का सर्वे किया गया था और 9 लाख लोगों की मेडिकल हिस्ट्री जांची गई थी। 90 लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए थे।  सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई थी।


ब्रिटिश काल में बसाई गई थी धारावी...


धारावी साल 1884 में ब्रिटिश काल में बसाई गई थी। इस बस्ती में फैक्टरी और दूसरी जगहों पर काम करने वाले मजदूर रहते थे। यहां पर बाहर से आने वाले लोगों को आसानी से झोपड़ी में छत नसीब हो जाती है इसलिए यहां लोग बड़ी संख्या में रहते हैं। करीब 520 एकड़ में फैले धारावी में 10 लाख से अधिक लोग रहते हैं। धारावी के सघन होने की वजह से यहां पर पहले भी महामारी फैलने का इतिहास रहा है। 1896 में जब प्लेग का साया देश और विदेश पर पड़ा था तो इसने धारावी सहित मुंबई की आधी आबादी को लील लिया था।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधानी बरते, सतर्क रहें।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 04, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-236 (साल-01)
2. शनिवार, अप्रैल 04, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि-एकादसी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 06:15,सूर्यास्त 06:40।


5. न्‍यूनतम तापमान 18+ डी.सै.,अधिकतम-31+ डी.सै., बरसात की संभावना बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


आईटीओ से लाल किले तक ‘तिरंगा यात्रा’ निकाली

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 71वें जन्मदिन पर शुक्रवार को सामाजिक संगठनों ने राष्ट्रीय राजधानी में आईटीओ से ...