शनिवार, 26 जून 2021

वैश्विक स्तर पर महत्वपूर्ण साझेदार है भारत: यूएसए

वाशिंगटन डीसी/ बीजिंग। चीन और पाकिस्‍तान के बढ़ते तनाव के बीच अमेरिका यह बयान पाकिस्‍तान और चीन को जरूर बेचैन करेगा। अमेरिका ने कहा हैं कि भारत हमारा वैश्विक स्तर पर महत्वपूर्ण साझेदार है। हम भारत के साथ मिलकर आर्थिक, रणनीतिक और सुरक्षा संबंधी कई मामलों में कार्य कर रहे हैं। व्हाइट हाउस की प्रेस प्रवक्ता जेन साकी ने कहा कि अमेरिका भारत की कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मदद करने के लिए कई कदम उठा रहा है। हम इस महामारी से लड़ने में भारत को हर तरह की मदद कर रहे हैं। 

उनका यह बयान ऐसे समय आया है। जब सीमा पर चीन, भारत पर लगातार दबाव बना रहा है। ऐसे में अमेरिका का खुलकर भारत के साथ आना चीन और पाकिस्‍तान के लिए चिंता का सबब हो सकता है। प्रेस प्रवक्ता जेन साकी ने कहा कि बाइडन प्रशासन ने भारत के लिए वैक्सीन की भी आपूर्ति की है। अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने चार जून को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से टेलीफोन पर वार्ता की और उनके द्वारा महामारी में की जा रही मदद की जानकारी दी। भारत के लिए अमेरिका-इंडिया चैंबर आफ कामर्स फाउंडेशन ने वेंटीलेटर, आक्सीजन कंसंट्रेटर और आक्सीजन सिलेंडर की भी आपूर्ति की।

हरियाणा की और नहीं बढ पा रही है मानसूनी हवाएं

राणा ओबरॉय             

चंडीगढ़। मानसून की उत्तरी सीमा 19 जून से बाड़मेर, भीलवाड़ा, धौलपुर, अलीगढ़, मेरठ, अम्बाला, अमृतसर पर ही बनी हुई है तथा इस के बाद मॉनसूनी हवायों के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां पश्चिमीविक्षोभ के प्रभाव के कारण ऊपरी सतह की अधिक ऊँचाई वाली पाश्चिमी हवायों के चलने के कारण नहीं बन पा रही है। मॉनसून टर्फ उत्तर में ऊपर हिमालय की तलहटियों की तरफ बढ़ने के कारण मानसूनी हवाएँ नीचे की तरफ हरियाणा की और नहीं बढ पा रही है।

मानसूनी हवायों की सक्रियता के लिए अनुकूल परिस्थितियां अगले पांच से सात दिनों के बाद ही बनने की सम्भावना है। पश्चिमीविक्षोभ के आंशिक प्रभाव के कारण राजस्थान के ऊपर बने एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन से उत्तरी व दक्षिण पाश्चिमी क्षेत्रों में 24 से 26 जून के बीच धूलभरी हवायों व गरजचमक के साथ कहीं बूंदाबांदी व कहीं हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई।

स्वास्थ्य विज्ञानियों की चेतावनी, अलर्ट जारी किया

पंकज कपूर             

देहरादून। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर भले ही काफी हद तक थम चुकी हो। मगर तीसरी लहर को लेकर चिंता बढ़ गई है। स्वास्थ्य विज्ञानियों की चेतावनी के बाद उत्तराखंड सरकार ने अलर्ट जारी कर दिया है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेताया है कि निरंतर रूप बदल रहा कोरोना का नया रूप ‘डेल्टा वेरिएंट नई चुनौती बन सकता है। इस स्थिति को देखते हुए अलर्ट जारी किया जा रहा है। शनिवार को स्वास्थ्य महानिदेशक डा. तृप्ति बहुगुणा ने सभी मुख्य चिकित्साधिकारियों (सीएमओ) को पत्र लिखकर तैयारियां पुख्ता रखने को कहा है।

स्वास्थ्य महानिदेशक के पत्र के मुताबिक, कोरोना के डेल्टा वेरिएंट की प्रसार क्षमता बेहद तीव्र है। साथ ही यह फेफड़ों के लिए अधिक खतरनाक माना जा रहा है और इससे संक्रमित व्यक्तियों की रोगप्रतिरोधक क्षमता को अधिक नुकसान पहुंचता है। एक तरह से एक शरीर में मौजूद एंटीबाडी के खिलाफ भी खुद को अधिक शक्तिशाली बना लेता है। ऐसे में आइसीएमआर (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) के निर्देशों के मुताबिक कोरोना जांच में किसी भी तरह की शिथिलता भारी पड़ सकती है। लिहाजा, निरंतर जांच के साथ कोरोना जैसे गंभीर लक्षण वाले व्यक्तियों की शीघ्र पहचान कर उन्हें तत्काल उपचार दिया जाए। इस तरह के रोगियों की पहचान के लिए निगरानी तंत्र को भी सुदृढ़ बनाए रखने को कहा गया है। साथ ही निर्देश दिए गए हैं कि सभी तरह के कोविड अस्पतालों व स्वास्थ्य केंद्रों आदि में पुख्ता संसाधन सुनिश्चत किए जाएं।

'तीसरी लहर' बच्चों के लिए घातक होने की आशंका

अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयारियां जोरो से चल रही है। चिंता की बात यह है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक होने की आशंका है। मौजूदा स्थिति में ही बच्चों के संक्रमण होने की दर बढ़ गई है। प्रतिदिन 10 वर्ष से कम आयु के 5 से 10 बच्चे कोरोना के चपेट में आ रहे है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने बच्चों का विशेष ध्यान रखने समझाइस दी है। प्रदेश सहित पुरे देश में बीते कुछ दिनों से लगातार छोटे बच्चे कोरोना वायरस से संक्रमित हो रहे है। 

चिकित्सक एवं वैज्ञानिक पहले ही चेतावनी दे दी है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक हो सकती है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी है। सबसे पहले अभिभावकों को आगाह किया है कि बच्चों का विशेष ख्याल रखें और बच्चों को भी पुरे तरह से गाइडलाइन का पालन करना सिखाएं। मौजूदा स्थिति में बिलासपुर शहर अंतर्गत कोरोना से संक्रमित होने वाले बच्चों के लिए सिर्फ दो अस्पताल संचालित हो रहे है। जहाँ पर 34 बेड बच्चों के लिए है। लेकिन अब बेड संख्या बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। इसके लिए चिल्ड्रन अस्पतालों से संपर्क किया जा रहा है। ताकि समय आने पर बच्चो के इलाज में किसी भी प्रकार का दिक्कत न हो। 

27-28 जून को पूर्वी लद्दाख के दौरे पर रहेंगे राजनाथ

अकांशु उपाध्याय              
नई दिल्ली/ बीजिंग। चीनी विदेश मंत्रालय​​​ ​के एक बयान के बाद बढ़ी तल्खी के बीच ​​​​​​रक्षा मंत्री राजनाथ ​सिंह 27-28 जून को पूर्वी लद्दाख के दौरे पर रहेंगे। इस दौरान वह​ ​लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (​एलएसी) के पास ​भारत की ​तैयारि​​यों का ​​जायजा लेंगे। वह एलएसी के पास ​कई सड़कों का उद्घाटन भी करेंगे।​ उन्होंने करीब एक हफ्ते पहले ​​अरुणाचल प्रदेश ​की सीमा से लगी ​​12 ​सड़कें राष्ट्र को समर्पित ​की थीं। रक्षा मंत्रालय के ​अधीन ​बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन ​(बीआरओ) ​पाकिस्तान और चीन ​सीमा तक सैनिकों की ‌आवाजाही सुगम बनाने के लिए ​लगातार ​​​सड़कों का जाल ​​बिछा रहा है। ​​रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह​ के इस लद्दाख ​दौरे में ​मुख्य फोकस बीआरओ के बुनियादी ढांचे ​पर होगा। लेकिन उनकी यह यात्रा ​ऐसे समय हो रही है।
जब चीनी​ सैनिक अभी भी एलएसी के अन्य क्षेत्रों जैसे ​​गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स से अलग नहीं हुए हैं। पिछले एक साल में एलएसी ​के करीब चीनी सेना का निर्माण जारी है जिससे क्षेत्र में तनाव बढ़ रहा है।​ अभी दो दिन पहले ​​चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने​​ भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ​के एक बयान के जवाब में भारत को अतिक्रमणकारी देश तक करार दिया है। ऐसे बयानों को देखते हुए लद्दाख में जारी तनाव कम होता दिखाई नहीं दे ​रहा है। सैनिकों की तैनाती को लेकर दोनों देशों के बीच सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर कई दौर की वार्ता भी हो चुकी है। इसके बावजूद पूर्वी लद्दाख के कई क्षेत्रों में दोनों देशों की सेनाएं आज भी आमने-सामने तैनात हैं।​​​​
दरअसल, विदेश मंत्री जयशंकर ने कतर इकनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए कहा था कि भारत के साथ विवादित सीमा पर चीन की सैन्य तैनाती और बीजिंग सैनिकों को कम करने के अपने वादे को पूरा करेगा या नहीं, इस बारे में अनिश्चितता दोनों पड़ोसियों के संबंधों के लिए चुनौती बनी हुई हैं।​ ​उन्होंने कहा था कि क्या भारत और चीन आपसी संवेदनशीलता और सम्मान पर आधारित संबंध बना सकते हैं और क्या पेइचिंग सीमावर्ती क्षेत्र में दोनों पक्षों के किसी बड़े सशस्त्र बल को तैनात नहीं करने की लिखित प्रतिबद्धता का पालन करेगा।​ इस पर चीन ने भारत के अतिक्रमण को सीमा पर तनाव का असली कारण ​बताते हुए कहा है कि हमें सीमा मुद्दे को शांतिपूर्ण तरीके से ​हल करने के लिए इसे द्विपक्षीय संबंधों से ​नहीं ​जोड़ा जाना चाहिए। ​इसी साल की शुरुआत में भारत से समझौते के बाद ​पैन्गोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारे​ से दोनों देशों के सैनिक पीछे हटे हैं। 
लेकिन अब भी दोनों तरफ से 50-60 हजार सैनिक एलएसी पर तैनात हैं। भारत ने पिछले ​एक साल में भारत और पाकिस्तान की सीमा से लगे इलाकों में इंफ्रास्ट्रक्चर सुधारने में तेजी से काम किया है।​ इस समय भी जम्मू-कश्मीर में 61, पंजाब में ​0​6, राजस्थान में 23 सड़कों पर काम चल रहा है। ​इनमें से अधिकतर ऑल वेदर रोड है यानी जो हर मौसम में इस्तेमाल की जा सकेंगी।​ रक्षा मंत्री​ ने 17 जून को ​अरुणाचल प्रदेश​ में ​12 ​सड़कें राष्ट्र को समर्पित​ करते हुए कहा था कि इन सामरिक सड़कों से न केवल संपर्क को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि अंतरराष्ट्रीय सीमाओं के पास सुरक्षा बल तेजी से आवाजाही हो सकेगी​​
चीन वार्ता की टेबल पर तो सहमत दिखता है लेकिन जमीनी हालात जस के तस हैं​। ​भारत​-​चीन कूटनीतिक स्तर की वार्ता या परामर्श और समन्वय के लिए कार्य तंत्र (​डब्ल्यूएमसीसी) ​की 25 जून को हुई 22​वें दौर ​की बैठक में दोनों पक्ष ​पूर्वी लद्दाख में एलएसी के साथ शेष मुद्दों का शीघ्र समाधान खोजने की आवश्यकता पर सहमत हुए।​ ​बैठक में सितम्बर, 2020 में दोनों ​देशों के ​विदेश मंत्रियों के बीच हुए समझौते को ध्यान में रखते हुए​ इस बात पर भी सहमति बनी कि मौजूदा द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुसार ​वरिष्ठ​ सैन्य कमांडरों ​के बीच 12वें दौर ​की वार्ता जल्द से जल्द आयोजित ​की जाए।​ चीन ने 9 अप्रैल को हुई कोर कमांडर स्तरीय 11वीं वार्ता में ​एलएसी के​ अन्य विवादित क्षेत्रों ​गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स​ से ​अपनी सैन्य टुकड़ी को हटाने से इनकार कर दिया था। 

'तीसरी लहर' के लिए सरकार ने कोई तैयारी नहीं की

हरिओम उपाध्याय             

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को खस्ताहाल बताते हुये कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर के लिये सरकार ने कोई तैयारी नहीं की है। अजय कुमार लल्लू ने शनिवार को कहा कि प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था बहुत खराब हालत से गुजर रही है। कोरोना की तीसरी लहर को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन, एम्स व अन्य विशेषज्ञाें ने भी स्पष्ट तौर पर कहा है कि इसका सबसे ज्यादा प्रभाव बच्चों पर होगा। जिसको लेकर यूपी की सरकार की कोई तैयारी नहीं है, सिर्फ हवाई दावे किये जा रहे हैं।

उन्होने कहा कि प्रदेश में 0-18 साल के बच्चे करीब साढ़े आठ करोड़ हैं। जिसमें 70 प्रतिशत बच्चों की आबादी ग्रामीण क्षेत्र में है। जहां ग्रामीण क्षेत्रों की सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर बाल चिकित्सक न के बराबर हैं। जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक के अनुसार प्रति एक हजार बच्चों पर एक बाल रोग विशेषज्ञ की आवश्यकता है। लेकिन उत्तर प्रदेश में इतनी दयनीय स्थिति है कि लगभग 13 हजार बच्चों पर एक बाल रोग चिकित्सक है। ऐसे में यदि ग्रामीण क्षेत्र में दुर्भाग्यवश कोरोना संकट फैला तो वहां बच्चों को कैसे बचाया जायेगा। प्रदेश सरकार को इसकी कोई फिक्र नहीं है।

1 दर्जन जिलाध्यक्षों को पद से बर्खास्त किया: यादव

हरिओम उपाध्याय           

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के आदेशानुसार, गोरखपुर और भदोही सहित लगभग एक दर्जन जिलाध्यक्षों को पद से बर्खास्त कर दिया है। उन्होंने इन जिलाध्यक्षों को समाजवादी पार्टी को जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी के लिये नामांकन नहीं कर पाये है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देशानुसार समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने लगभग एक दर्जन जिलाध्यक्षों को तत्काल प्रभाव सेे जिलाध्यक्ष पद से पदमुक्त कर दिया है। 

अखिलेश यादव ने गोरखपुर, मुरादाबाद, झांसी, आगरा, गौतबुद्धनगर, मऊ, बलरामपुर, श्रावस्ती, भदोही, गोंडा और ललितपुर जिले के जिलाध्यक्षों को जिलाध्यक्ष पद से मुक्त कर दिया है। उन्होंने इन जिलाध्यक्षों को इसलिये बर्खास्त किया है। क्योंकि यह समाजवादी पार्टी के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी का नामांकन नहीं करा पाये हैं।

टूर्नामेंट का पहला संस्करण लगातार दूसरे साल टाला

लंदन। कोरोना महामारी के कारण यूरो टी-20 स्लेम टूर्नामेंट का पहला संस्करण लगातार दूसरे साल टाल दिया गया है। बोर्ड ने इस संबंध में हाल ही में बैठक की है और टूर्नामेंट के पहले संस्करण को 2022 तक ले जाने का फैसला किया है। क्रिकेट आयरलैंड ने गुरुवार को एक विज्ञप्ति में कहा, “ टूर्नामेंट के स्थगित होने का मुख्य कारण पुनर्निर्धारित आईपीएल के साथ-साथ कोरोना महामारी के नए वेरिएंट द्वारा उत्पन्न मुश्किल तार्किक चुनौतियां हैं। जो यूरो टी-20 स्लेम की खिड़की पर प्रभाव डाल रही हैं।

क्रिकेट आयरलैंड के मुख्य कार्यकारी वारेन ड्यूट्रोम ने एक बयान में कहा, “ पिछले साल हम प्रतियोगिता की संरचना को बदलने के लिए सहमत हुए थे। कोरोना महामारी के चलते यात्रा को कम करने और विभिन्न क्वारंटीन आवश्यकताओं पर हुई बातचीत के आधार पर एक ही देश में टूर्नामेंट के आयोजन की कल्पना की गई थी। आपको केवल आईपीएल और पीएसएल जैसी स्थापित प्रतियोगिताओं पर उभरती महामारी के प्रभावों को देखना होगा। यह जानते हुए कि जटिलता और अनिश्चितता को अभी भी प्रबंधित करने की आवश्यकता है। ”


राष्ट्रपति को ले जा रहें हेलीकॉप्टर पर गोलीबारी की

बोगोटा। कोलंबिया के राष्ट्रपति इवान डुके ने शुक्रवार को बताया कि वेनेजुएला की सीमा से लगे दक्षिणी कैटाटुम्बो में उन्हें और उनके वरिष्ठ अधिकारियों को ले जा रहे हेलीकॉप्टर पर गोलीबारी की गई। यह किसी राष्ट्रपति के विमान पर सीधे हमला किए जाने की दुर्लभ घटना है। डुके ने बताया कि हेलीकॉप्टर में सवार सभी व्यक्ति सुरक्षित हैं। हेलीकॉप्टर में डुके के अलावा देश के रक्षा मंत्री डिएगो मोलानो, गृह मंत्री डेनियल पलासियोस और नॉर्ट डी सैंटेंडर राज्य के गवर्नर सिल्वानो सेरानो सवार थे। वे ‘वैधता के साथ शांति- सतत कैटाटुम्बो अध्याय” शीर्षक वाले समारोह में शामिल हुए थे।

राष्ट्रपति ने एक बयान में कहा, ”मैं देश को सूचित करना चाहता हूं कि कैटाटुम्बो के सार्डिनटा में एक प्रतिबद्धता पूरी करने के बाद कुकुटा शहर के पास राष्ट्रपति के हेलीकॉप्टर पर हमला किया गया।” उन्होंने बताया कि हेलीकॉप्टर में लगे उपकरणों एवं उसकी क्षमताओं ने बड़ी दुर्घटना होने से रोक ली।

राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा जारी एक वीडियो में कोलंबियाई वायुसेना के हेलीकॉप्टर में गोलियां लगने के कारण कई छेद नजर आ रहे हैं। डुके ने यह नहीं बताया कि हमला किस समय किया गया था या हमला किसने किया, लेकिन ऐसा माना जाता है कि इलाके में कई सशस्त्र समूह सक्रिय हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि ये ”कायराना” हमले उन्हें नशीले पदार्थों की तस्करी, आतंकवाद और संगठित अपराध के खिलाफ लड़ाई लड़ने से रोक नहीं सकते। उन्होंने कहा, ”संदेश यह है कि कोलंबिया अपराध के खिलाफ हमेशा मजबूती से खड़ा है और हमारे संस्थान किसी भी खतरे से ऊपर हैं।”

योजना बनाते 6 अपराधियों को अरेस्ट किया: हापुड़

अतुल त्यागी                 
हापुड़। कप्तान नीरज कुमार जादौन द्वारा जनपद में चलाए जा रहे अपराधियों की धरपकड़ अभियान के तहत थाना बहादुरगढ़ पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने लूट की योजना बनाते हुए 6 शातिर अपराधियों को गिरफ्तार किया है। जिनके कब्जे असलहा बरामद किया गया है। जनपद पुलिस द्वारा जनपद में अपराध की रोकथाम एवं अवैध शस्त्रों की बरामदगी हेतु चलाए जा रहे अभियान के अन्तर्गत थाना बहादुरगढ़ पुलिस ने लूट की योजना बनाते समय 06 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है।
जिनके कब्जे से एक अवैध देशी रिवाल्वर, एक देशी पिस्टल, 2 अवैध तमंचे, 4 जिन्दा कारतूस एवं 02 अवैध चाकू व टार्च व चाबी का गुच्छा बरामद।
जनपद में कप्तान नीरज कुमार जादौन की तैनाती होने के बाद लगातार क्राइम का ग्राफ कम होता हुआ नजर आ रहा है। साथ ही अपराधी सलाखों के पीछे पहुंचाए जा रहे हैं। पुलिस अपराधियों की कुंडली खंगालने में जुटी है। अपराधी सलाखों के पीछे नजर आ रहे हैं।

समर्थित प्रत्याशी का मुकाबला नहीं कर सकीं भाजपा

अश्वनी उपाध्याय              

गाज़ियाबाद। जिलें में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल गठबंधन भारतीय जनता पार्टी समर्थित प्रत्याशी का मुकाबला नहीं कर सकीं। स्थिति कुछ ऐसी हो गई कि गठबंधन की प्रत्याशी नसीम बेगम नामांकन भी नहीं कर सकी। ऐसी स्थिति में भाजपा प्रत्याशी ममता त्यागी का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है, बस औपचारिकता शेष रह गई है। वहीं समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी नसीम बेगम के पति एवं बसपा के निलंबित विधायक असलम चौधरी ने आरोप लगाया कि भाजपा विधायक अजीत पाल त्यागी एवं वरिष्ठ नेता बृजपाल तेवतिया उनके एक प्रस्तावक को होटल से उठाकर ले गये। इस मामले में अजीत पाल त्यागी की होटल के सामने खड़े हुए वीडियो भी वायरल हो रही है।

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए भाजपा ने पार्टी के पूर्व क्षेत्रीय उपाध्यक्ष बसंत त्यागी की पत्नी ममता त्यागी को प्रत्याशी बनाया था। शनिवार को सुबह भाजपा के सभी कार्यकर्ता, पदाधिकारियों के साथ ही केंद्रीय मंत्री एवं स्थानीय सांसद जनरल वीके सिंह, जिला प्रभारी सत्येंद्र शिशौदिया, जिलाध्यक्ष दिनेश सिंघल, महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा, राज्यसभा सदस्य अनिल अग्रवाल, विधायक सुनील शर्मा, अजीत पाल त्यागी, नंद किशोर गुर्जर, डा. मंजू शिवाच, मोदीनगर नगर पालिका चेयरमैन अशोक माहेश्वरी, लोनी नगर पालिका चेयरमैन रंजीता धामा, खोड़ा नगर पालिका चेयरमैन रीना भाटी समेत सभी एकत्र हुए। 

यहां से दोनों अध्यक्षों के साथ ही सांसद, विधायक कलक्ट्रेट पहुंचे तथा जिला निर्वाचन अधिकारी एवं जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह को ममता त्यागी ने दो सैट में नामांकन पत्र के दो सैट सौंपे। नामांकन में प्रस्ताव एवं अनुमोदक में परमिता कसाना, अंशु मावी एवं बसपा के जिला पंचायत सदस्य शौकेंद्र चौधरी रहे। नामांकन पत्र भरे जाने के बाद भाजपा के जिला प्रभारी सत्येंद्र शिशौदिया ने कहा कि अधिकांश जिला पंचायत सदस्य भाजपा प्रत्याशी ममता त्यागी के साथ है। सभी जिला पंचायत सदस्य विकास एवं राष्ट्रवाद के मुद्दे पर एक साथ है। इस स्थिति में ममता त्यागी की जीत सुनिश्चित है।

कौशाम्बी: कुएं से निकलीं अधेड़ की लाश, रहस्य बना

कौशाम्बी। कोखराज थाना क्षेत्र के असतुल्ला गंज गांव के एक कुएं से अधेड़ की सड़ी गली लाश शनिवार को निकली है। कुएं से लाश मिलने की सूचना पर आसपास के कई गांव के लोग मौके पर एकत्रित हो गए मामले की सूचना ग्रामीणों ने पुलिस को दी। मौके पर पुलिस पहुंची और लोगों से शिनाख्त कराने का प्रयास किया। अधेड़ असतुल्ला गंज निवासी बताया जाता है। पुलिस ने लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।अधेड़ की मौत कैसे हुई है ? यह रहस्य बना हुआ है।
जानकारी के मुताबिक, कोखराज थाना क्षेत्र के असतुल्ला गंज निवासी अमरनाथ सरोज उम्र 40 वर्ष पुत्र शिव मोहन 23 जून को घर से नलकूप कहकर निकले थे। लेकिन, वह नलकूप से वापस नहीं लौटे अमरनाथ सरोज के नलकूप से वापस न लौटने पर परिजनों ने यह मान लिया कि अमरनाथ कहीं चले गए होंगे। 
4 दिन बीत जाने के बाद भी परिजन अमरनाथ को खोजने का प्रयास नहीं कर सके। मामले की सूचना भी पुलिस को नहीं दी गई। शनिवार को अमरनाथ के खेत में बने कुएं से लाश बरामद हुई। जिसकी शिनाख्त भी परिजनों ने अमरनाथ सरोज के रूप में कर ली है। जैसे ही कुएं से लाश बरामद होने की जानकारी ग्रामीणों को मिली गांव के तमाम लोग घटनास्थल पर एकत्रित हो गए हैं और लाश की शिनाख्त अमरनाथ के रूप में की है। अधेड़ कुएं में कैसे गिरा ? यह रहस्य बना हुआ है। अधेड़ की मौत का मामला संदिग्ध प्रतीत होता है। सूचना पाकर मौके पर स्थानीय पुलिस चौकी के चौकी इंचार्ज सिपाहियों के साथ पहुंचे हैं और अधेड़ की लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं।
मंजीत सिंह 

हापुड़: पड़ौसियों पर मार-पीट का आरोप लगाया, जेल

अतुल त्यागी         
हापुड़। पड़ौसियों पर मार-पीट का आरोप लगाया था। जिसमे दो को जेल भेजा गया। गुलजार झगड़ालू किस्म का व्यक्ति है। जो की अपने घर के बराबर में उसने एक मोटर घर के भार रख रखी हैं और पाइप को रास्ते में डाल देता है। जो भी उससे कहता है, ये ठीक नही है भाई तो गाली-गलौज करते हुए कहता है कि जो तुम से हो, वो कर लेना। गली के सामने पाईप डाल देता है। जोकि, वहा पर पानी भरने से कोई भी व्यक्ति की बाइक व पैदल भी गिर पड़ता है। प्रशासन की इधर कोई भी नज़र नहीं, ये गली में जाने का तिराहाया है।

पीएम ने आयोध्या विकास परियोजना की समीक्षा की

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ आयोध्या विकास परियोजना की समीक्षा की और कहा कि राम की इस नगरी को आध्यात्मिक और वैश्विक पर्यटन केंद्र के साथ ही एक टिकाऊ स्मार्ट शहर के रूप में विकसित करना है। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से हुई इस समीक्षा बैठक में उत्तर प्रदेश के दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा के अलावा उत्तर प्रदेश सरकार के कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि बैठक में अयोध्या के विकास से जुड़ी परियोजना के विभन्न पहलुओं पर उत्तर प्रदेश के अधिकारियों की ओर से एक प्रस्तुती दी गई।

बयान में कहा गया कि अयोध्या के विकास की कल्पना में एक अध्यात्मिक केंद्र, वैश्विक पर्यटन केंद्र और टिकाऊ स्मार्ट सिटी विकसित करना है। बैठक में प्रधानमंत्री को अयोध्या के संपर्क को बेहतर करने से संबंधित ढांचागत विकास से जुड़ी विभिन्न परियोजनाओं से अवगत कराया गया। इस दौरान हवाई अड्डे के विकास से जुड़ी परियोजनाओं, रेलवे स्टेशन, बस अड्डे, सड़कों और राजमार्गों के विकास से संबंधित योजनाओं पर चर्चा की गई।

बयान में कहा गया बैठक के दौरान एक हरित उपनगर बसाने को लेकर भी चर्चा की गई ताकि यहां दर्शन करने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के लिए आश्रम, होटल और विभिन्न राज्यों के भवनों की सुविधा उपलब्ध हो। एक आधुनिक पर्यटन सुविधा केंद्र और वैश्विक स्तर का एक संग्रहालय बनाए जाने को लेकर बैठक में चर्चा की गई। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि अयोध्या हर भारतीय की सांस्कृतिक चेतना का शहर है इसलिए वहां की परियोजनाओं में उत्कृष्ट परंपरा और सर्वाश्रेष्ठ विकासात्मक बदलाव का प्रदर्शन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अयोध्या के मानवीय लोकाचार भविष्य के बुनियादी ढांचों से मिलते जुलते होने चाहिए। उन्होंने अयोध्या की पहचान का जश्न मनाने, नवीन तरीकों से इसकी सांस्कृतिक जीवंतता को बनाए रखने के लिए सामूहिक प्रयासों का आह्वान किया।

7 साल से देश के अन्नदाताओं का दमन किया: कांग्रेस

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मोदी सरकार को किसान विरोधी बताते हुए कहा है कि सात साल से देश के अन्नदाताओं के साथ पाखंड कर उनका दमन किया जा रहा है उनके अधिकारों का हनन हो रहा है। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने शनिवार को यहां जारी बयान में कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार कभी किसानों पर लाठी बरसाती है। कभी आँसू गैस छोड़ती है, तो कभी उनकी राहों में कील और काँटे बिछाती है। सड़कों पर सोने को मजबूर किसानों को सरकार कभी आतंकी, कभी खालिस्तानी बताती है

किसानों के साथ कांग्रेस की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी किसानों के आज आयोजित प्रदर्शन का समर्थन करती है और अधिकारों की हर लड़ाई में देश के किसान के साथ खड़ी है। उनका कहना था कि सरकार पिछले सात माह से किसानों को प्रताड़ित कर रही है और उन्हें परास्त करने के लिए षडयंत्र कर रही है। सुरजेवाला ने कहा कि 2014 में मोदी सरकार ने सबसे पहले अध्यादेश के माध्यम से किसानों की ज़मीन हड़पने की कोशिश की। फिर उन्हें समर्थन मूल्य पर लागत के साथ 50 प्रतिशत मुनाफा देने से इंकार कर दिया। वर्ष 2018 में किसान सम्मान निधि से देश के 14 करोड़ 65 लाख किसानों को वंचित किया।


अश्लील हरकत, डेढ़ लाख से अधिक का फाइन लगाया

लंदन। ब्रिटेन में एक सिविल इंजीनियर को उस समय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। जब उस पर पब्लिक प्लेस में अश्लील हरकत करने के चलते डेढ़ लाख से अधिक का फाइन लगा दिया गया। हालांकि, 37 साल के जेम्स लुईस बूथ नाम के इस व्यक्ति का दावा था कि वो कोई अश्लील हरकत नहीं कर रहा था। बल्कि उसकी पैंट में एक कीड़ा चला गया था। ब्रिटेन के स्टर्लिंग शेरिफ कोर्ट में इस मामले की सुनवाई हुई है। 26 साल के कॉन्ट्रेक्ट क्लीनर लुईस ब्रेनन ने जब जेम्स को अपनी कार में अश्लील हरकत करते देखा था तो वे पब्लिक प्लेस में जेम्स की हरकत से गुस्से में थे और उन्होंने पुलिस को फोन लगा दिया था। 
जेम्स ने आगे कहा कि हालांकि, वहां कोई कीड़ा मौजूद नहीं था। वहीं जेम्स की इस बात पर लुईस का कहना था कि वे एकदम झूठ बोल रहे हैं। क्योंकि मेरे फोन करने के बाद पुलिस 40 मिनटों बाद वहां पहुंची थी और जेम्स उस दौरान भी अश्लील हरकत करने में बिजी थे। एक कीड़े को चेक करने में इतना समय नहीं लगता है। जेम्स की बात को स्टर्लिंग शेरिफ कोर्ट में भी पूरी तरह से नकार दिया गया है। 
इस मामले में जज का कहना था कि अपनी गलती छिपाने के लिए कीड़े का सहारा लेना बेहद बेबुनियाद कदम है। जेम्स को पब्लिक प्लेस पर अश्लीलता का दोषी ठहराया गया और उन पर 1500 पाउंड्स यानि लगभग डेढ़ लाख रूपये का जुर्माना लगाया गया है।जेम्स ने आगे कहा कि हालांकि वहां कोई कीड़ा मौजूद नहीं था. वहीं जेम्स की इस बात पर लुईस का कहना था कि वे एकदम झूठ बोल रहे हैं।
क्योंकि मेरे फोन करने के बाद पुलिस 40 मिनटों बाद वहां पहुंची थी और जेम्स उस दौरान भी अश्लील हरकत करने में बिजी थे। एक कीड़े को चेक करने में इतना समय नहीं लगता है। जेम्स की बात को स्टर्लिंग शेरिफ कोर्ट में भी पूरी तरह से नकार दिया गया है। इस मामले में जज का कहना था कि अपनी गलती छिपाने के लिए कीड़े का सहारा लेना बेहद बेबुनियाद कदम है। जेम्स को पब्लिक प्लेस पर अश्लीलता का दोषी ठहराया गया और उन पर 1500 पाउंड्स यानि लगभग डेढ़ लाख रूपये का जुर्माना लगाया गया है।

ब्रिटेन में भारतीय महिला ने 5 वर्षीय बेटी की हत्या की

लंदन। ब्रिटेन में 36 वर्षीय एक भारतीय महिला ने अपनी पांच साल की बेटी की अपने घर पर हत्या कर दी। मां में अपना जुर्म कबूल कर लिया है। महिला का कहना है कि उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उसके अंदर कोरोना से मरने का डर पैदा हो गया था और सोचा कि उसकी छोटी बच्ची उसके बिना नहीं रह सकती। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ये जानकारी सामने आई है।मेट्रो डॉट को डॉट यूके की रिपोर्ट के अनुसार, सुधा शिवनाथम ने पिछले साल 30 जून को दक्षिण लंदन के अपने फ्लैट के बेडरूम में अपनी बेटी सयागी की 15 बार चाकू मारकर हत्या कर दी। 
इसके बाद उसने खुद को भी गंभीर रूप से घायल कर लिया। रिपोर्ट में कहा गया कि उसके पति ने कहा कि वो वायरस से संक्रमित होने को लेकर डर गई थी और हो सकता है कि लॉकडाउन प्रतिबंधों के कारण वह अकेलापन महसूस कर रही हो और उसे कोई रास्ता न सूझा हो। बृहस्पतिवार को ओल्ड बेली में पेश हुई शिवनाथम ने अपराध स्वीकार कर लिया। उसे अनिश्चित काल के लिए अस्पताल में रखा जाएगा। शादी के बाद 2006 से ब्रिटेन में रह रही शिवनाथम ने महामारी से लगभग एक साल पहले रहस्यमय बीमारियों की शिकायत की थी। अभियोजकों ने कहा कि वह गंभीर रूप से बीमार थी और आश्वस्त हो गई थी कि वह मरने वाली है।

जियो कंपनी ने कई नए प्रीपेड प्लान्स को लॉन्च किया

अकांशु उपाध्याय        
नई दिल्ली। जियो ने पिछले कुछ दिनों में कई नए प्रीपेड प्लान्स को लॉन्च किया है। अब कंपनी ने साइलेंटली लंबी वैलिडिटी वाले एक नए प्रीपेड प्लान को पेश किया है। जियो का ये प्लान 3,499 रुपये वाला है।आइए जानते हैं इस प्लान के बारे में विस्तार से।
टेलीकॉमटॉक ने अपनी एक रिपोर्ट में इस प्लान की जानकारी दी है। साथ ही अब इसे कंपनी की ऑफिशियल वेबसाइट और ऐप पर भी देखा जा सकता है। 
इस प्लान में ग्राहकों को 365 दिन की वैलिडिटी मिलेगी और इस दौरान उन्हें रोज 3 जीबी डेटा दिया जाएगा। यानी ग्राहकों को जियो के 3,499 रुपये वाले प्लान में 1 साल के दौरान टोटल 1,095 जीबी डेटा मिलेगा। साथ ही डेली डेटा लिमिट के बाद इंटरनेट की स्पीड घटकर 64 केबीपीएस हो जाएगी। इसके साथ ही ग्राहकों को इस प्लान अनलिमिटेड कॉल्स और रोज 100 एसएमएस भी मिलेंगे। 
जियो के इस प्लान में ग्राहकों को कॉलिंग, डेटा और एसएसएस के साथ ही जियो टीवी, जियो सिनेमा, जियो सिक्योरिटी, और जियो न्यूज जैसे जियो ऐप्स का भी एक्सेस मिलेगा। 
आपको बता दें अब तक 3GB डेली डेटा के साथ आने वाला जियो का सबसे महंगा प्लान 999 रुपये था। ये प्लान 84 दिन की वैलिडिटी के साथ आता है। इस प्लान में अनलिमिटेड कॉल्स, रोज 100 एसएमएस और जियो ऐप्स का एक्सेस भी दिया जाता है।
इस नए प्लान के आने से जियो पहली प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी बन गई है, जो 1 साल के प्लान में रोज 3 जीबी डेटा दे रही है। अभी तक जियो, एयरटेल और वीआई जैसी सभी प्राइवेट कंपनियां 3 जीबी डेली डेटा वाला प्लान ज्यादा से ज्यादा 84 दिन की ही वैलिडिटी के साथ दे रही थीं।

सयुंक्त किसान मोर्चा ने 'खेती बचाओ' दिवस मनाया

अकांशु उपाध्याय           
नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों के विरोध में चलाए जा रहे किसान आंदोलन के 7 माह पूरे होने पर देशभर में संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से मनाए जा रहे खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ दिवस के चलते भारी संख्या में किसान हरियाणा में राजभवन की तरफ मार्च कर रहे हैं। शनिवार को नए कृषि कानूनों के विरोध में देशभर में चलाए जा रहे किसान आंदोलन के साथ्त माह पूरे होने पर संयुक्त किसान मोर्चा के तत्वाधान में खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ दिवस मनाया जा रहा है। नए कृषि कानूनों के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए भारी संख्या में किसान हरियाणा के पंचकुला में राजभवन की तरफ मार्च करते हुए आगे बढ़ रहे हैं। स्थिति को देखते हुए सड़कों पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात की गई है।
पूरे पंचकूला शहर को पुलिस छावनी में तब्दील करते हुए सुरक्षा के व्यापक बंदोबस्त किये गए हैं। उधर हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने किसानों के खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ दिवस पर करारा तंज कसते हुए कहा है कि किसान सात माह से राजधानी के बाॅर्डरों पर बैठे हुए हैं। सरकार की ओर से सुनवाई न होने पर अब वह निराश हो गए है। इसलिए किसान आंदोलन को जिंदा रखने के लिए उनके नेता रोज एक नया कार्यक्रम बनाने को मजबूर हो गए हैं। आज किसान संगठनों की तरफ से राजभवन में ज्ञापन देने की बात कहीं गई है। ऐसा तो होता ही रहता है।
किसानों के खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ दिवस पर निकाले जा रहे मार्च को लेकर पंचकूला के डीजीपी मोहित हांडा ने कहा है कि हमारे पास किसी भी हालात से निपटने के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस बल है। हम हर तरह की स्थिति से निपटने के लिए शांति से कोशिश करेंगे। हमें उम्मीद है कि किसान संगठन आज के सभी कार्यक्रम बिना किसी कानून व्यवस्था की स्थिति को आघात पहुंचाएं आयोजित करेंगे। गौरतलब है कि केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसान पिछले साल 26 नवंबर से दिल्ली और हरियाणा की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। वे इन तीनों कानूनों को रद्द करने और फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी की गारंटी देने के लिए एक नया कानून लाने की मांग कर रहे हैं। इन विवादास्पद कानूनों पर बने गतिरोध को लेकर हुई किसानों और सरकार के बीच कई दौर की वार्ता बेनतीजा रही थी।

बंगाल मंत्रिमंडल ने क्रेडिट कार्ड स्कीम को स्वीकृति दी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल मंत्रिमंडल ने गुरुवार को स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड स्कीम को स्वीकृति दे दी हैं। जिसका तृणमूल कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में वादा किया था।  सीएम ममता बनर्जी ने मंत्रिमंडल के इस फैसले की जानकारी दी। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड की सहायता से छात्र उच्च अध्ययन के लिए 10 लाख रुपये तक का सॉफ्ट लोन ले सकेंगे। बनर्जी ने कहा कि ” मंत्रिमंडल ने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड स्कीम को हरी झंडी दे दी है। 
कोई भी छात्र जो पश्चिम बंगाल में 10 वर्षों से रह रहा है, वह इसका लाभ ले सकता है। लोन भारत या विदेश में ग्रेजुएशन,पोस्ट- ग्रेजुएशन, डॉक्टरेट और पोस्ट-डॉक्टरल स्टडी के लिए प्रदान किया जाएगा। राज्य में यह स्कीम 30 जून से आरंभ हो जाएगी। सीएम ममता ने कहा कि 40 वर्ष की आयु तक के छात्र इस योजना के लिए पात्र हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा प्राप्त करने के लिए अब किसी को घर नहीं बचेना पड़ेगा और न ही स्टूडेंट्स के माता -पिता को चिंता करनी पड़ेगी। राज्य सरकार 10 लाख तक के लोन की गारंटर होगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार स्टूडेंट्स के साथ खड़ी है। 
इस लोन को स्टूडेंट नौकरी मिलने के बाद चुका सकेंगे। सीएम ममता ने आगे कहा कि, “एक छात्र को नौकरी मिलने के बाद कर्ज चुकाने के लिए पंद्रह वर्ष का वक़्त दिया जाएगा। इस लोन को लेने की प्रक्रिया को भी सुगम बनाया गया है। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन दिया जा सकेगा। बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनान के दौरान अपने चुनावी मैनिफेस्टो में ऐसी योजना का वादा किया था और अब इस पर अमल किया जा रहा है।

भालू के हमले में 2 भाइयों समेत 3 ग्रामीणों की मौंत

इकबाल अंसारी             
गढ़वा। जिले के बरगढ़ प्रखंड के बरकोल गांव के पास स्थित जंगल में एक भालू के हमले में दो भाइयों समेत तीन ग्रामीणों की मौत हो गई। इसके अलावा घटना में एक महिला समेत तीन लोग घायल हुए हैं। भालू के हमले में ये तीनों लोग किसी तरह अपनी जान बचाने में कामयाब रहे। मृतक और घायल सभी अपने गांव लौट रहे थे और इसी दौरान भालू ने उनपर हमला किया।
मृतकों की पहचान अनित गिद्ध (35), सुमित गिद्ध (38) और राजू मिंज (40) के रूप में की गई। जबकि घायलों में छोटू गिद्ध, उसकी पत्नी मरियम लकड़ा और कमलेश गिद्ध शामिल हैं। 
घायल एवं मृतक सभी लोग बरकोल गांव के कोरिया कोड़कर टोला के रहने वाले थे। ये सभी ग्रामीण बरकोल से अपने टोला में वापस लौट रहे थे। इसी दौरान कोरिया कोड़कर जंगल से गुजरने के दौरान एक भालू ने उन पर हमला कर दिया। इस हमले में बारी-बारी से भालू ने तीन लोगों को मार डाला, जबकि तीन लोग घायलावस्था में किसी तरह भालू से बचकर भागने में सफल रहे।

अंधकार-विनाश और तबाही लेकर आता है नशा: पीएम

अकांशु उपाध्याय                      
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने समाज से नशीले पदार्थों के खतरे को कम करने के लिए जमीनी स्तर पर किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि नशा अपने साथ अंधकार, विनाश और तबाही लेकर आता है। प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस के मौके पर ट्वीट कर कहा कहा, "आज, अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस पर, मैं उन सभी लोगों की सराहना करता हूं जो हमारे समाज से नशीले पदार्थों के खतरे को खत्म करने के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं। जीवन बचाने के लिए ऐसा हर प्रयास महत्वपूर्ण है। 
आखिर नशा अपने साथ अंधकार, विनाश और तबाही लेकर आता है। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, "आइए हम दवाओं पर तथ्यों को साझा करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हैं और ड्रग्स मुक्त भारत के अपने दृष्टिकोण को साकार करते हैं। याद रखें- एडिक्शन न तो कूल होता है और न ही स्टाइल स्टेटमेंट। प्रधानमंत्री ने एक पुराने मन की बात एपिसोड को साझा करते हुए कहा इसमें ड्रग्स के खतरे पर काबू पाने के कई पहलू शामिल थे। प्रधानमंत्री द्वारा साझा वीडियो में उन्होंने कहा, ‘‘ड्रग्स ‘थ्री डी’ बुराइयों को लाने वाला है और ये बुराइयां जीवन में अंधेरा (डार्कनेस), बर्बादी (डिस्ट्रक्शन) तथा तबाही (डिवास्टेशन) हैं।’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘नशा अंधेरी गली में ले जाता है। 
विनाश के मोड़ पर आकर खड़ा कर देता है और बर्बादी के मंजर के सिवाय नशे में कुछ नहीं होता है।

कोरोना की जंग में सीएम योगी के मंत्र का दिखा असर

हरिओम उपाध्याय           
गोरखपुर। कोरोना के खिलाफ शुरू जंग में 'टीका ही टिकायेगा, महामारी पर विजय दिलाएगा' का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मंत्र का असर दिखने लगा है। टीकाकरण के रिकार्ड बन रहे हैं। शहर ही नहीं, गांवों में भी होने वाले वैक्सीनेशन के आंकड़े इसकी गवाही दे रहे हैं। गोरखपुर में टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी हुई, लेकिन 21 जून से शुरू महाभियान में काफी तेजी आ गई है। 
प्रतिदिन नए कीर्तिमान गढ़े जा रहे हैं। लक्ष्य से औसतन 40 प्रतिशत से अधिक टीकाकरण कर मुख्यमंत्री का गृह जनपद पूरे प्रदेश में जागरुकता की नजीर पेश कर रहा है। सिर्फ चार दिनों में 13 हजार का हुआ टीकाकरण 21 से 24 जून तक महज चार दिनों में यहां एक लाख 13 हजार 207 लोगों को कोविड वैक्सिन लगाई जा चुकी थी। 25 जून को शाम 07 बजे तक हुई रिपोर्टिंग के मुताबिक इस दिन 27 हजार 088 लोगों को टीका लगाया जा चुका था। जिले में कुल टीकाकृत लोगों की संख्या 08 लाख 43 हजार 823 हो गई थी। कुल टीकाकरण के मामले में गोरखपुर अब राज्य में छठवें स्थान पर पहुंच गया है। 
गोरखपुर में 21 जून से प्रतिदिन औसतन 20 हजार लोगों को वैक्सिन लगाने का लक्ष्य रखा गया, लेकिन 21 जून को लक्ष्य ही लक्ष्य से 35 प्रतिशत अधिक टीके लगाए गए। इस दिन 27 हजार 298 लोगों ने टीका लगवाया था। 22 जून को लक्ष्य से 45 प्रतिशत से अधिक टीकाकरण करते हुए 29 हजार 163 लोगों ने वैक्सीनेशन करवाया। इसी तरह 23 जून को टीकाकरण करवाने वालों की संख्या 25 हजार 544 रहा। यह भी लक्ष्य से 28 फीसद अधिक रहा। 24 जून को वैक्सिन को लेकर जबरदस्त उत्साह दिखा। लक्ष्य से 55 प्रतिशत अधिक 31 हजार 202 लोगों ने टीका लगवाया।

टी-20 वर्ल्ड कप यूएई में होना लगभग तय: आईपीएल

आबुधाबी। इंडियन प्रीमियर लीग के बचे हुए मैच और भारत की मेजबानी में होने वाला टी-20 वर्ल्ड कप यूएई में होना लगभग तय है। आईपीएल इस साल 19 सितंबर से 15 अक्टूबर तक हो सकता है। इसकी एक दिन बाद यानी 17 अक्टूबर से टी-20 वर्ल्ड कप खेला जा सकता है। 16 टीमों के इस टूर्नामेंट का खिताबी मुकाबला 14 नवंबर को हो सकता है।
यह खबर क्रिकेट वेबसाइट ईएसपीएन क्रिकइंफो ने चलाई है। इसके मुताबिक, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड वर्ल्ड कप को यूएई में शिफ्ट करने के लिए पहले ही इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल को लिख चुका है। प्लान के मुताबिक टी-20 वर्ल्ड कप का पहला राउंड 8 टीमों के बीच दो ग्रुप में खेला जाएगा। इसमें 12 मैच होंगे। इनमें से 4 टीमें (दोनों ग्रुप की टॉप-2 टीम) सुपर-12 के लिए क्वालिफाई करेंगी। यह 8 टीमें बांग्लादेश, श्रीलंका, आयरलैंड, नीदरलैंड, स्कॉटलैंड, नामीबिया, ओमान और पपुआ न्यू गिनी हैं। यह दोनों ग्रुप के मैच यूएई और ओमान में हो सकते हैं।

छात्रों के लिए परीक्षा आयोजित करेगा शिक्षा बोर्ड

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने शुक्रवार को कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) अगस्त में छात्रों के लिए बोर्ड परीक्षा आयोजित करेगा। ये परीक्षाएं उन छात्रों के लिए होंगी। जो बोर्ड के मूल्यांकन फार्मूले से खुश नहीं हैं या सोचते हैं कि परिणाम में उन्हें दिए गए अंक कम हैं। उन्होंने विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों को आश्वस्त किया कि बोर्ड के मूल्यांकन प्रणाली के तहत परीक्षार्थियों को उनकी योग्यता के अनुरूप परिणाम मिलेगा। 
पोखरियाल ने सोशल मीडिया पर जारी अपने संबोधन में कहा कि सीबीएसई ने 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के मूल्यांकन और आंकलन पर व्यापक दिशा-निर्देश पहले ही जारी कर दिए हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को आश्वासन दिया कि मूल्यांकन प्रणाली से तैयार परिणाम से असंतुष्ट होने पर विद्यार्थियों को अगस्त में जब भी स्थिति अनुकूल होगी, परीक्षा देने का विकल्प प्रदान किया जाएगा। 
पोखरियाल ने छात्रों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द करने का निर्णय लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सीबीएसई के मूल्यांकन प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का भी आभार व्यक्त किया। मंत्री ने दोहराया कि छात्रों की सुरक्षा, स्वास्थ्य और भविष्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। मंत्री ने पूर्व में छात्रों से सोशल मीडिया के माध्यम से उन्हें अपने प्रश्न भेजने के लिए कहा था, लेकिन आज उन्होंने छात्रों के प्रश्न नहीं लिए। छात्रों ने सबसे अधिक सवाल मूल्यांकन मानदंड और परीक्षा तिथियों को लेकर थे। जेईई मेन और एनईईटी के उम्मीदवारों ने भी अपनी परीक्षा के बारे में स्पष्टता मांगी थी।

परीक्षा निरस्त करने की मांग, याचिका निस्तारित की

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों की बोर्ड की ओर से 12वीं की परीक्षा निरस्त करने की मांग करनेवाली याचिका निस्तारित कर दी है। आज आंध्र प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उसने 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी है। कोर्ट ने आज अपने पहले के उस आदेश को दोहराया जिसमें कहा गया है कि सभी राज्य आंतरिक मूल्यांकन का रिजल्ट सीबीएसई और आईसीएसई की तरह ही 31 जुलाई तक जारी करें। सुनवाई के दौरान आंध्र प्रदेश सरकार की ओर से वकील दुष्यंत दवे ने कहा कि राज्य सरकार ने स्थिति की दोबारा समीक्षा की और उसके बाद 12वीं की परीक्षा निरस्त करने का फैसला किया। 

आंध्र प्रदेश सरकार की इस दलील के बाद कोर्ट ने कहा कि राज्य सरकारों की ओर से 12वीं की परीक्षाएं निरस्त करने के बाद अब कोई आदेश देने की जरूरत नहीं है।पिछले 24 जून को कोर्ट ने सभी राज्यों में 12वीं के मूल्यांकन का तरीका एक जैसा रखने का निर्देश देने से इनकार किया था। जस्टिस एएम खानविलकर की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा था कि हर राज्य का शिक्षा बोर्ड स्वायत है, अपने हिसाब से निर्णय ले सकता है। 12वीं के रिजल्ट के लिए अंतिम तिथि घोषित करने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि यूजीसी से कहा जाएगा कि सभी राज्य बोर्ड को एक कट ऑफ डेट दें। 24 जून को सुप्रीम कोर्ट ने आंध्र प्रदेश सरकार की 12वीं की परीक्षा जुलाई में करने के फैसले की आलोचना की थी।

कोर्ट ने आंध्र प्रदेश सरकार से कहा था कि अगर आप जुलाई के अंत में परीक्षा लेंगे तो ये काफी अनिश्चितता हो जाएगी। आप रिजल्ट कब जारी करेंगे। दूसरे कोर्स में दाखिला के लिए आपके रिजल्ट का कोई इंतजार नहीं करेगा। कोर्ट ने कहा था कि अन्य बोर्डों ने जमीनी हकीकत को देखते हुए सोच-समझकर फैसला लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि डेल्टा वैरिएंट भी आ रहा है। इसे लेकर कोई असमंजस नहीं होना चाहिए। यह लोगों के स्वास्थ्य का सवाल है। 

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में फिर हुईं बड़ी बढ़ोतरी

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आज बड़ी बढ़ोतरी हुई। जिसके बाद मुंबई में पेट्रोल 104 रुपये, चेन्नई में 99 रुपये और दिल्ली में 98 रुपये प्रति लीटर के पार पहुँच गया। डीजल भी मुंबई में 96 रुपये प्रति लीटर से ऊपर चला गया है। तेल विपणन कंपनियों ने देश के चार बड़े महानगरों में पेट्रोल की कीमत शनिवार को 35 पैसे तक और डीजल की कीमत 37 पैसे तक बढ़ा दिये। इससे पहले शुक्रवार को दोनों जीवाश्म ईंधनों के दाम स्थिर रहे थे। 

अग्रणी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार, आज दिल्ली में पेट्रोल और डीजल का मूल्य 35-35 पैसे बढ़ा। इस वृद्धि के बाद यहाँ पेट्रोल 98.11 रुपये और डीजल 88.65 रुपये प्रति लीटर के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया। दिल्ली में जून में अब तक पेट्रोल का मूल्य 3.88 रुपये और डीजल की कीमत 3.50 रुपये बढ़ चुकी है। इससे पहले मई में पेट्रोल 3.83 रुपये और डीजल 4.42 रुपये महँगा हुआ था।

मुंबई में पेट्रोल का दाम 33 पैसे बढ़कर 104.22 रुपये प्रति लीटर हो गया। यह पहली बार 104 रुपये के पार गया है। डीजल 37 पैसे महँगा होकर 96.16 रुपये प्रति लीटर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गया। चेन्नई में पेट्रोल 31 पैसे महँगा होकर 99.19 रुपये और डीजल 34 पैसे महँगा होकर 93.23 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका। कोलकाता में पेट्रोल 34 पैसे और डीजल 35 पैसे महँगा हुआ। एक लीटर पेट्रोल वहाँ 97.97 रुपये का और डीजल 91.50 रुपये का हो गया। पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह छह बजे से नयी कीमतें लागू की जाती हैं।

यूपी में आने वाले हर यात्री का टेस्ट किया जाएं: सीएम

हरिओम उपाध्याय            

लखनऊ। यूपी में भी डेल्टा प्लस वैरिएंट का मामला सामने आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि प्रदेश में आने वाले हर यात्री का आरटीपीसीआर टेस्ट किया जाए और उसका सैम्पल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा जाए। वैरिएंट का पता लगाने के लिए जिलों से मंगाए गए है। केजीएमयू में आज से 150 नमूनों की जीनोम सिक्वेंसिंग जांच शुरू हो गई है। 

देशभर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ‘डेल्टा प्लस’ का खतरा अब उत्तर प्रदेश में भी मंडराने लगा है। नागपुर से आए एक व्यक्ति में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने अहम निर्देश दिए हैं। सीएम योगी ने प्रदेश में आने वाले यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच कर उनके की जीनोम सीक्वेंसिंग कराने के निर्देश दिए हैं।

यूपी की जेल नियमावली में बदलाव करने पर विचार

हरिओम उपाध्याय        

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ सरकार राज्य की जेल नियमावली में बदलाव करने पर विचार कर रही है। ताकि, कैदियों का बेहतर रख-रखाव सुनिश्चित हो सके और जेलों को सुरक्षित बनाया जा सके। जेल विभाग द्वारा जेल नियमावली के संशोधित प्रारूप की प्रस्तुति देखने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि जेल में बंद कैदियों के रखरखाव में सुधार के प्रयास किए जाने चाहिए।

उन्होंने कहा कि अधिकारियों को कैदियों को रचनात्मक गतिविधियों से जोड़कर उनके कौशल का विकास करना चाहिए ताकि वे रिहा होने के बाद सही मानसिकता के साथ सामान्य जीवन जी सकें। सरकार के प्रवक्ता के अनुसार, योगी आदित्यनाथ ने जेल अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि महिला कैदियों के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले।

कांग्रेस नेता द्वारा लिखें पत्र ने परेशानी में डाला: तोमर

अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा लिखे गए एक पत्र ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को परेशानी में डाल दिया है। पत्र का आशय है कि तोमर का किसानों से कभी कोई लेना-देना नहीं रहा है और न ही उनकी पृष्ठभूमि किसानों की है, वे तो समाज सेवी हैं। पत्र के मुताबिक, यह तथ्य तोमर ने निर्वाचन आयोग को दिए शपथ पत्र में स्वयं दर्ज कराए हैं। उल्लेखनीय है कि किसान आंदोलन की शुरुआत में कृषि मंत्री तोमर ने किसानों को संबोधित 8 पेज का एक पत्र लिखा था। जिसमें उन्होंने स्वयं को किसान परिवार से बताया था। मगर दिग्विजय सिंह के पत्र के मुताबिक तोमर ने लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्र में अपनी संपत्ति की जानकारी में यह स्वीकार किया था कि उनके पास कोई भी कृषि भूमि नहीं है।

तोमर ने अपने व्यवसाय के कॉलम में किसान नहीं बल्कि समाजसेवी होने का तथ्य दर्ज कराया था। दिग्विजय सिंह ने उसी शपथ पत्र के आधार पर तोमर को पत्र लिखकर पूछा है यदि आप किसान हैं तो शपथ पत्र झूठा है और यदि शपथ पत्र सही है तो आप किसान नहीं है। अभी तक कृषि मंत्री ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पत्र का जवाब नहीं दिया है। यह भी एक संयोग है कि दोनों नेता एक ही राज्य से है। इस पत्र के आधार पर तोमर के संसदीय क्षेत्र के कुछ लोगों ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग को भी पत्र भेजा है और शपथ पत्र की जांच करवाने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि पिछले 7 महीने से कृषि से संबंधित तीन कानूनों के विरोध में किसान आंदोलनरत हैं। उसी संदर्भ में कांग्रेस नेता ने उन्हें पत्र लिखा था कि यदि कृषि कानूनों को संसद की प्रवर समिति को सौंप दिया होता तो किसान आंदोलन की नौबत ही न आती।

कांग्रेस सहित सभी पार्टियों ने कृषि विधेयकों पर चर्चा कराने की मांग की थी मगर उसे भी निरस्त कर दिया गया था जबकि संसदीय परंपराओं में यदि एक भी सदस्य मत विभाजन की मांग करता है तो लोकसभा अध्यक्ष को मानना पड़ता है। उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से कृषि मंत्री पर आरोप लगाया है कि सभी संसदीय परंपराओं को ठुकराते हुए मनमाने तरीके से कृषि बिल पास कराए गए और भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक काला अध्याय जोड़ दिया गया। यह सब कार्पोरेट जगत को लाभ पहुंचाने के लिए किया गया है।

इस पत्र के माध्यम से उन्होंने कृषि मंत्री से 10 सवाल किए थे मगर लंबा अरसा बीत जाने के बाद भी जवाब नहीं मिला है। उल्लेखनीय है कि कृषि क्षेत्र के तीनों कानूनों के विरोध में किसान देशभर में आंदोलनरत है और दिल्ली सीमा पर पिछले 6 माह से ज्यादा समय से धरने पर बैठे हुए हैं। जिसमें कई किसानों की अब तक मृत्यु भी हो चुकी है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी हाईकमान ने कुछ बड़े लोगों को आंदोलन समाप्त करवाने के लिए लगाया है। कृषि मंत्री तोमर ने भी किसानों को फिर से बातचीत का न्योता भेजा है।

स्वास्थ्य पर खर्च के केस में भारत का स्थान 176वां हैं

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। स्वास्थ्य पर खर्च के मामले में भारत का स्थान विश्व के 196 देशों में 176वां है। भारत अपने सकल घरेलू उत्पाद का सिर्फ 1.8 फीसद स्वास्थ्य पर खर्च करता है। जबकि मालदीव जैसा नन्हा-सा देश भी अपने नागरिकों को स्वस्थ रखने के लिए जीडीपी का 6.65 फीसद खर्च कर देता है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के ग्लोबल हेल्थ एक्सपेंडीचर डेटाबेस के मुताबिक विकासशील देशों में मालदीव के अलावा लेटिन अमेरिकी देश अर्जेंटीना जीडीपी का 5.91 फीसद तथा कोलंबिया 5.47 फीसद स्वास्थ्य सुविधाओं पर खर्च करता है। जहां तक विकसित देशों का सवाल है तो स्वीडन इस मामले में सबसे आगे है। वो अपने नागरिकों को स्वस्थ रखने के लिए हर वर्ष जीडीपी की 9.27 फीसद राशि खर्च कर देता है। स्वीडन के बाद जापान का नंबर आता है। जिसका खर्च 9.21 फीसद है। इस क्रम में जर्मनी जीडीपी का 8.88 फीसद, नॉर्वे 8.57 फीसद तथा अमेरिका 8.51 फीसद स्वास्थ्य सुविधाओं पर खर्च करता है।

बरेली: पटेल चौक पर स्काई वॉक बनाने की तैयारी शुरू

संदीप मिश्र                

बरेली। स्मार्ट सिटी के तहत पटेल चौक पर स्काई वॉक बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। इंजीनियरों ने इसका डिजाइन बनाना शुरू कर दिया है। जल्द ही करीब 10 करोड़ के टेंडर किए जाएंगे। स्काई वॉक बनने के बाद पटेल चौक पर लगने वाले जाम से लोगों को काफी राहत मिल जाएगी। स्मार्ट सिटी के इंजीनियरों का कहना है कि इसका काम अगस्त में शुरू करने की कोशिश की जा रही है।

स्मार्ट सिटी परियोजना में पटेल चौक की तस्वीर काफी बदल जाएगी। शहर के अति व्यस्त रहने वाले इस चौराहे पर यातायात का काफी दबाव रहता है। इस वजह से लोगों को आवागमन में परेशानी होती है। अभी कुछ दिन पहले स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल चुकी है। स्काई वॉक को बनाने के लिए अनुमानित लागत लगभग दस करोड़ रुपए आंकी गई है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-315 (साल-02)
2. रविवार, जून 27, 2021
3. शक-1984,अषाढ़, शुक्ल-पक्ष, तिथि-तीज, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:42, सूर्यास्त 07:16।
5. न्‍यूनतम तापमान -21 डी.सै., अधिकतम-38+ डी.सै.।
बरसात की संभावना
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित) 

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की राजकुमार              कौशाम्बी। जिलाधिकारी सुजीत कुमार द्वारा सम्राट उदयन सभागार में राजनैतिक...