जम्मू कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जम्मू कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 7 जून 2021

बस स्टैंड पर आतंकियों का ग्रेनेड से हमला, घायल

पुलवामा। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल इलाके में स्थित बस स्टैंड पर आतंकियों ने रविवार शाम को ग्रेनेड से हमला कर दिया। इस हमले में वहां तैनात सीआरपीएफ जवानों को तो कोई नुकसान नहीं पहुंचा लेकिन राह चलते सात लोगों को मामूली चोटे आईं हैं। सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
उधर, आतंकी हमला कर मौके से भाग निकले। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर आतंकियों की धर-पकड़ के लिए तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। खबर लिखने तक तलाशी अभियान जारी था तथा किसी भी आतंकी के पकड़े या मारे जाने की कोई सूचना नहीं थी।

गुरुवार, 3 जून 2021

सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में 1 आतंकी को मार गिराया

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में पुलवामा जिले के त्राल इलाके में पुलिस शिविर में एक कांस्टेबल को गोली मारकर घायल करने वाले आतंकवादी को बृहस्पतिवार तड़के सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में मार गिराया गया। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि रातभर चली मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने मोहम्मद आमीन मलिक को मार गिराया।आतंकवादी पहले आत्मसमर्पण कर चुका था। त्राल में विशेष अभियान समूह (एसओजी) शिविर के भीतर इस आतंकवादी और पुलिस के बीच बुधवार शाम को मुठभेड़ शुरू हो गई थी। मलिक ने कांस्टेबल अमजद खान की राइफल कथित तौर पर छीन ली थी और उन्हें गोली मार कर घायल कर दिया था। 

खान को इलाज के लिए यहां एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद आतंकवादी राइफल के साथ शिविर में छिप गया था।अधिकारियों ने बताया कि त्राल इलाके के नगबाल के रहने वाले मलिक ने .12 बोर की राइफल के साथ 30 मई को सुरक्षा बलों के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षाबलों ने आतंकवादी को बुधवार को फिर से आत्मसमर्पण के लिए मनाने की कोशिश की थी और यहां तक कि उसके माता-पिता को भी उसे मनाने के लिए बुलाया था। हालांकि मलिक ने आत्मसमर्पण से इंकार कर दिया था। उसने सुरक्षा बलों की ओर गोलीबारी शुरू कर दी थी और सुरक्षाबलों ने भी जवाबी कार्रवाई की जिसमें वह मारा गया।

बुधवार, 2 जून 2021

सीमा पर संघर्षविराम का उल्लंघन, गोलाबारी की

श्रीनगर। पडोसी देश पाकिस्तार बार बार मुंह की खाने के बाद भी अपनी नापाक हरकतों से बाज नही आ रहा है। पाकिस्तान ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर के अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की। बुधवार को आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के आज सुबह अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर करीब 20 से 25 राउंड की गोलीबारी की। सूत्रों ने बताया कि भारत पाक सीमा पर सुरक्षा और चोकसी के लिये तैनात सीमा सुरक्षा बलों बीएसएफ के जवानों ने पाकिस्तान की इस गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया। पाकिस्तान की गोलीबारी में किसी के हताहत या किसी तरह के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। इससे पहले 18 मई को बीएसएफ के जवानों ने सांबा सेक्टर में घूसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया था और इस दौरान एक घायल घुसपैठिये को पकड़ लिया था। वहीं बीएसएफ ने 14 मई को सीमावर्ती सांबा जिले पाकिस्तान की तरफ से ड्रोन से गिराये गये हथियारों और गोला-बारूद का जखीरा बरामद किया था।

गुरुवार, 20 मई 2021

हथियारों के जखीरे के साथ दो आतंकी गिरफ्तार

अकांशु उपाध्याय  
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में पुलिस ने एक आतंकवादी संगठन के दो सक्रिय आतंकवादियों के पास से छह हैंड ग्रेनेड बरामद किये हैं। पुलिस प्रवक्ता ने गुरुवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों के आवागमन के बारे में खुफिया सूचना मिलने के बाद स्थानीय पुलिस ने शहर में नाकेबंदी की थी। इस बीच दो लोग संदिग्ध स्थिति में वहां पहुंचे और पुलिस को देख कर भागने लगे जिन्हें बाद में पुलिस गिरफ्तार करने में कामयाब रही।
गिरफ्तार लोगों की पहचान जहांगीर अहमद हजाम और उसके भाई अब्दुल हमीद के रूप में की गयी है। दोनों तंगधारा के खबावरपाड़ा के निवासी हैं। दोनों के पास से छह हथगोले बरामद किये गये हैं जो आतंकवादियों तक पहुंचाने थे। पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है और मामले की जांच की जा रही है।

रविवार, 16 मई 2021

सीमा: संदिग्ध ड्रोन आसमान में उड़ता नजर आया

श्रीनगर। जम्मू में अंतराष्ट्रीय सीमा के पास एक संदिग्ध ड्रोन आसमान में उड़ता नजर आया। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने यह पता करने के लिए सघन तलाशी अभियान चलाया कि उसने भारतीय सीमा के अंदर कुछ गिराया तो नहीं है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तलाशी में कुछ भी संदिग्ध नहीं पाया गया। दो दिन पहले ही एक पाकिस्तानी ड्रोन ने जम्मू कश्मीर के सांबा जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक एके 47 राइफल, एक पिस्तौल और कुछ अन्य हथियार गिराये थे। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार देर रात यहां कनचक सेक्टर में एक संदिग्ध पाकिस्तानी ड्रोन आसमान में उड़ता नजर आया, कुछ स्थानीय निवासियों को कुछ देर तक आसामन में पीले रंग की धारी नजर आयी और फिर वह अंधेरे में गायब हो गयी। उन्होंने बताया कि रविवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे सेना, सीमा सुरक्षा बल और पुलिस की संयुक्त टीम ने अंतरराष्ट्रीय सीमा से करीब डेढ़ किलोमीटर के दायरे में पंच तल्ली और लालियाल के विशाल क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया।

संक्रमण: जम्मू-कश्मीर में 24 तक बढ़ाया लॉकडाउन

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के मामलों में खतरनाक वृद्धि के कारण किएं गए लॉकडाउन को रविवार को 18 दिन हो गए। जिससे केंद्र शासित प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा। अधिकारियों के अनुसार जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शनिवार को लॉकडाउन को 24 मई तक के लिए बढ़ा दिया। अधिकारियों ने कहा कि लोगों के आने-जाने और इकट्ठा होने पर प्रतिबंध रविवार को भी जारी रहा, हालांकि प्रतिबंध सख्त नहीं थे। उन्होंने बताया कि बाजार बंद रहे और सार्वजनिक परिवहन सड़कों से नदारद रहा। अधिकारियों ने बताया कि हालांकि, यहां शहर के कुछ इलाकों और घाटी और जम्मू क्षेत्र के अन्य जिला मुख्यालयों में निजी कारें चलती देखी गईं।

मंगलवार, 11 मई 2021

कश्मीर: सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकी ढ़ेर

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में मंगलवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गये। पुलिस प्रवक्ता ने बताया, कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना के आधार पर राष्ट्रीय राइफल्स, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और पुलिस के विशेष अभियान समूह ने सुबह अनंतनाग से करीब 30 किलोमीटर दूर वैलू कोकरनाग के जंगल इलाकों में संयुक्त घेराबंदी और तलाश अभियान छेड़ा। वैलू में सभी निकासी स्थलों को सील करने के बाद सुरक्षा बल के जवान लक्षित इलाके की ओर बढ़ रहे थे। तभी वहां छुपे आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों ने भी गोलियां चलायी। दोनों पक्षों के बीच मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गये। उन्हाेंने बताया कि किसी कानून एवं व्यवस्था की गड़बड़ी को रोकने के लिए इलाके में अतिरिक्त सुरक्षा बल और पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। अंतिम रिपोर्ट मिलने तक इलाके में तलाश अभियान जारी था।

मंगलवार, 4 मई 2021

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल जगमोहन का निधन हुआ

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल और पूर्व केंद्रीय मंत्री जगमोहन का 93 वर्ष की आयु में सोमवार को निधन हो गया। वह कुछ समय से बीमार चल रहे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई नेताओं ने मंगलवार को उन्हें श्रद्धांजलि दी।
प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘जगमोहन जी का निधन हमारे राष्ट्र के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है। वह एक कुशल प्रशासक और प्रतिष्ठित विद्वान थे। उन्होंने देश की बेहतरी के लिए हमेशा काम किया। बतौर मंत्री अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने कई नवप्रवर्तक नीतियां बनाई। परिवार के सदस्यों और प्रशंसकों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।2021
जगमोहन ने पाने करियर की शुरुआत एक नौकरशाह के रूप में की थी और उन्हें सख्त और दक्ष प्रशासक के रूप में देखा जाता था। उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल के रूप में भी काम किया। वर्ष 1984 में उन्हें जम्मू एवं कश्मीर का राज्यपाल नियुक्त किया गया था। वह जम्मू कश्मीर के पांचवेंं राज्यपाल थे। उनका पूरा नाम जगमोहन मल्होत्रा था।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी उनके निधन पर शोक जताया और कहा कि जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल को हमेशा याद किया जाएगा।

मंगलवार, 27 अप्रैल 2021

लद्दाख: हिमस्खलन की चपेट में आने से 2 जवान शहीद

श्रीनगर। केन्द्रशासित प्रदेश लद्दाख में विश्व के सबसे ऊंचा युद्ध क्षेत्र सियाचिन में हिमस्खलन की चपेट में आने से दो जवान शहीद हो गए। सेना के प्रवक्ता ने मंगलवार को यह जानकरी दी। उत्तरी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी और सभी रैंकों ने सिपाही अमरदीप सिंह और परबजीत सिंह के सर्वोच्च बलिदान को सलाम किया और उनके परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार 25 अप्रैल को सियाचिन ग्लेशियर के सब सेक्टर हनीफ में एक विशाल हिमस्खलन की चपेट में आने तीन जवान और एक कुली दब गए। जिसके बाद तत्काल बचाव अभियान चलाया गया। जिसमें एक जवान और कुली को बचा लिया गया। रिपोर्ट में बताया कि सिपाही अमरदीप सिंह और परबजीत सिंह हिमस्खलन की चपेट में आने से शहीद हो गए। बर्फ में दबे उनके पार्थिव शव को निकाला गया है।

शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021

जम्मू-कश्मीर: दसवीं की परीक्षाओं को रद्द किया

श्रीनगर। कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रदेश प्रशासन ने जम्मू-कश्मीर शिक्षा बोर्ड की चल रही दसवीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया। साथ ही बारहवीं की परीक्षाओं को स्थगित करने के साथ सभी निजी टयूशन सेंटरों व स्कूलों को 30 अप्रैल तक बंद करने के आदेश जारी कर दिया है। 
गुरुवार को उपराज्यपाल कार्यालय ने ट्विट करके दसवीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द किए जाने की पुष्टि की है। ट्विट के जरिये कहा गया है कि दसवीं कक्षा की बाकी बची परीक्षाओं को रद्द किया जा रहा है। बच्चों को ग्यारहवीं कक्षा में प्रोमोशन करने का फैसला बाद में लिया जाएगा। यह फैसला उनकी अब तक हुई परीक्षा व इंटरनल असेसमेंट के आधार पर लिया जाएगा। इसके अलावा प्रशासन ने बारहवीं की बाकी बची परीक्षाओं को भी फिलहाल टाल दिया है। अब बाकी पेपरों की परीक्षा कब होगी, इसको लेकर एक महीने बाद बोर्ड कोई फैसला लेगा। 
 
उल्लेखनीय है कि दसवीं कक्षा के अभी भी हिंदी, उर्दू, मैथेमेटिक्स, म्यूजिक, पेंटिंग आर्ट्स एंड ड्राइंग और साइंस के पेपर होना बाकी थे लेकिन प्रशासन ने शेष परीक्षाओं को न कराने का फैसला लिया गया है। दसवीं की परीक्षाएं 24 अप्रैल को संपन्न होनी थी। इसी तरह बाहरवीं कक्षा के 17 अप्रैल कोे आइटी एंड आइटीइएस, 22 अप्रैल को कैमिस्ट्री, 26 अप्रैल को मैथेमेटिक्स, एप्लाइड मैथेमेटिक्स और 29 अप्रैल को बायो, बॉटनी, जूलाजी और स्टेटिस्टिक्र अकाउंटेंसी आदि की होने वाल पेपर अब स्थगित कर दिये गये हैं। स्थगित बारहवीं की परीक्षाओं के लिए बोर्ड एक महीने बाद फिर से समीक्षा करेगा और अगर कोरोना के मामले कम हुए तो बोर्ड बारहवीं के पेपरों की अलग से डेटशीट जारी करेगा।
गुरुवार को आपदा प्रबंधन के सदस्य सचिव सिमरनदीप सिंह ने स्कूलों और टयूशन सेंटरों को 30 अप्रैल तक बंद रखने का आदेश जारी किया। पहली से लेकर बारहवीं तक के स्कूल चार अप्रैल से 18 अप्रैल तक पहले ही बंद थे लेकिन अब स्कूलों के साथ टयूशन सेंटरों को भी 30 अप्रैल तक बंद कर दिया गया है। इसी बीच शिक्षा निदेशक जम्मू रवि शंकर शर्मा ने भी अपने मुख्य शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि अगर कोई टयूशन सेंटर खुला पाया जाता है तो उस सेंटर को आपदा प्रबंधन आदेश की अवहेलना का दोषी पाते हुए स्थायी रूप से बंद करवा दिया जाए।

रविवार, 11 अप्रैल 2021

72 घंटों में सुरक्षाबलों ने 12 आतंकियों को मारा

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। पिछले 72 घंटे में सुरक्षाबलों ने 12 आतंकवादियों को मार गिराया गया है। ये सभी आतंकी चार अलग-अलग आँँपरेशन में मारे गए। त्राल और शोपियां में 7 आतंकवादी ढेर किए गए हैं। डीजी जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा बिजबेहरा में आँँपरेशन खत्म हो गया है। पिछले 72 घंटे में चार अलग-अलग आँँपरेशन में 12 आतंकवादी मारे गए हैं। 
इसमें त्राल और शोपियां में मारे गए 7 आतंकवादी, हादीपुरा में मारे गए अलबद्र के 3 आतंक वादी और अब बिजबेहरा में मारे गए लश्कर-ए-तैयबा के 2 आतंकवादी शामिल हैं। जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले के हादीपोरा में हुई एक मुठभेड़ में 3 आतंकवादी मारे गए हैं।                                       
उनके पास 1 एके राइफल और 1 पिस्तौल बरामद की गई है। पुलिस ने कहा कि नए भर्ती हुए एक आतंकवादी को आत्मसमर्पण कराने के लिए पुलिस और सुरक्षा बलों ने काफी कोशिशें कीं। उसके माता-पिता ने भी अपील की, लेकिन बाकी आतंकवादियों ने उसे आत्मसमर्पण नहीं करने दिया। इससे पहले शनिवार शाम को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग और शोपियां जिलों में एक के बाद एक 2 मुठभेड़ शुरू हुईं थी। 
पहली मुठभेड़ दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के हादीपोरा इलाके में शुरू हुई जबकि दूसरी मुठभेड़ अनंतनाग जिले के सेमथान बिजबेहारा इलाके में शुरू हुई थी। ये दोनों ही आॅपरेशन अब खत्म हो गए हैं। दोनों जगहों पर आतंकियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद पुलिस और सेना की संयुत्तफ टीमों ने जैसे ही घेराबंदी की, आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद मुठभेड़ों में तेजी आई।

शनिवार, 10 अप्रैल 2021

आतंकियों को पकड़ने के लिए अभियान जारी हैं

शोपियां। जिलें के चित्रागाम गांव में आतंकवादियों की धर-पकड़ के लिए सुरक्षाबलों की ओर से शुक्रवार देर रात शुरू तलाशी अभियान शनिवार को भी जारी है। 
शुक्रवार देर रात स्थानीय पुलिस को चित्रगाम गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना प्राप्त हुई। इस पर  पुलिस, सेना तथा सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने पूरे गांव की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया। 
तलाशी के दौरान सुरक्षाबलों ने गांव की तरफ आने-जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया। 

आतंकवादियों के रिहायशी मकानों में छिपे होने की आशंका के चलते गांव में मौजूद हर एक घर की तलाशी ली जा रही है। फिलहाल, सुरक्षाबलों का किसी भी आतंकवादी से सामना नहीं हुआ है। बता दें कि शोपियां जिले में ही शुक्रवार को सुरक्षाबलों ने पांच आतंकवादियों को मार गिराया था। मुठभेड़ के दौरान तीन आंतंकवादी गुरुवार दोपहर बाद जबकि दो  शुक्रवार सुबह मारे गए। आतंकवादियों के कब्जे से हथियार व गोलाबारूद भी बरामद किया गया। मुठभेड़ के दौरान एक सैन्य अधिकारी सहित चार जवान घायल हो गये थे।

शुक्रवार, 9 अप्रैल 2021

पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला पाएं गए कोरोना संक्रमित

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेशनल कांफ्रेंस (एनसी) के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला शुक्रवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये। अब्दुल्ला ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, “एक साल तक मैंने इस वायरस को चकमा देने की पूरी कोशिश की लेकिन आखिरकार इसने मुझे अपनी चपेट में ले लिया। आज दोपहर के बाद मैं कोरोना से संक्रमित पाया गया। लेकिन मेरे कोरोना संक्रमण के कोई लक्षण नहीं हैं।” अब्दुल्ला ने कहा कि चिकित्सा सलाह के कारण उन्होंने खुद को अपने घर में आइसोलेट कर लिया है। साथ ही ऑक्सीजन सेचुरेशन स्तर और अन्य चिकित्सा पैरामीटर की निगरानी कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि अब्दुल्ला के पिता एवं एनसी के अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसकेआईएमएस) में कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक लेने के कुछ हफ्तों बाद गत 30 मार्च को कोरोना संक्रमित पाए गए थे।

डॉ. फारूक अब्दुल्ला को बेहतर निगरानी के लिए डॉक्टरों की सलाह पर एसकेआईएमएस में भर्ती कराया गया था। जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने रविवार को एसकेआईएमएस का दौरा किया था और डॉ. अब्दुल्ला के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी। डॉ अब्दुल्ला दोबारा कोरोना से संक्रमित पाये गये हैं।

शोपियां-पुलवामा में मुठभेड़, 7 आतंकियों की मौत

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां और पुलवामा जिलों में सुरक्षा बलों ने दो मुठभेड़ों में आतंकवादी संगठन अंसार गजवातुल हिंद के प्रमुख इम्तियाज अहमद शाह समेत सात आतंकवादियों को मार गिराया। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘शोपियां में हुई मुठभेड़ में पांच जबकि पुलवामा जिले के त्राल इलाके के नौबाग में हुई मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए।’ इससे पहले कश्मीर जोन की पुलिस ने कहा था कि बीती रात मुठभेड़ के बाद शोपियां में एक मस्जिद में छिपे दो आतंकवादियों को पकड़ने के प्रयास जारी हैं।

शनिवार, 3 अप्रैल 2021

अब्दुल्ला ने कोरोना की वैक्सीन की खुराक लीं, भर्ती

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद डॉ. फारुक अब्दुल्ला को चिकित्सकों की सलाह पर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डॉ. अब्दुल्ला 30 मार्च को कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये थे। नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष डॉ. अब्दुल्ला ने श्रीनगर में 2 मार्च को कोविड-19 की वैक्सीन की खुराक ली थी।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने बताया, कि चिकित्सकों की सलाह पर उनके पिता डॉ. अब्दुल्ला को श्रीनगर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर लिखा, “बेहतर निगरानी के लिए चिकित्सकों की सलाह पर मेरे पिता को श्रीनगर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पिता के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करने वाले सभी लोगों का मेरा परिवार आभारी है।

शुक्रवार, 2 अप्रैल 2021

सुरक्षा बलों-आतंकियों के बीच मुठभेड़, चलीं गोलियां

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों तथा आंतकवादियों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई है। एक पुलिस प्रवक्ता शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया सूचना के आधार पर प्रदेश पुलिस के विशेष अभियान समूह, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) तथा राष्ट्रीय राइफल (आरआर) ने गुरुवार को देर रात पुलवामा के काकपोरा में घेराबंदी तथा तलाश अभियान शुरू किया। उन्होंने सुरक्षा बलों के जवान काकपोरा के सभी निकाली बिंदुओं को बंद कर जब एक विशेष क्षेत्र की ओर बढ़ रहे थे, तो वहां छिपे हुए आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए गोलियां चलाई।  पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि बाद में अंधेरे के कारण तलाश अभियान को रोक दिया गया। उन्होंने बताया कि आज सुबह सुरक्षा बलों के जवान जब आतंकवादियों की मौजूदगी वाले क्षेत्र की ओर बढ़ रहे थे, तो आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि अंतिम सूचना मिलने तक सुरक्षा बलों तथा आतंकवादियों के बीच गोलीबारी जारी थी।

शुक्रवार, 26 मार्च 2021

पुलवामा के आतंकियों ने धमकी भरे पोस्टर लगाएं

श्रीनगर। सुरक्षाबलों की कार्रवाई से साजिश नाकाम होने पर आतंकियों की बौखलाहट अब साफ दिखाई देने लगी है। इस बार आतंकी किस कदर सुरक्षाबलों की कार्रवाई से तिलमिलाए हुए हैं। उसका उदाहरण नए पोस्टर्स में देखने को मिला। जम्मू कश्मीर में पुलवामा के मुरन गांव में आतंकियों ने धमकी भरे पोस्टर लगाए हैं। पोस्टर्स में चेतावनी दी गई है, कि लोगों को सुरक्षाबलों से दूर रहना चाहिए। इसके साथ ही पोस्टर में आगे लिखा है। कि जहां भी सुरक्षाबल होंगे हम उन पर हमला करेंगे। जो लोग सुरक्षाबलों के साथ जुड़े हैं। उन पर भी हम हमला करेंगे।
पोस्टर में लिखा है कि ये बदला लेने का समय है। गांव में पोस्टर जैश-ए-मोहम्मद ने लगाए हैं। पुलिस ने मामले को संज्ञान में ले लिया है। और जांच कर रही है। जम्मू कश्मीर में गुरुवार को ही सुरक्षाबलों को आतंकियों ने निशाना बनाया था। गुरुवार को आतंकवादियों ने श्रीनगर शहर के बाहरी इलाके लवेपोरा में सीआरपीएफ पार्टी पर हमला किया और सुरक्षाबलों पर गोलीबारी की। आईजी कश्मीर विजय कुमार ने कहा कि इस हमले में सीआरपीएफ के दो जवान शहीद हो गए और दो जवान घायल हुए। इस हमले में लश्कर-ए-तैयबा शामिल है। घायल जवानों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं आतंकवादियों को पकड़ने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी गई। शहीद हुए जवान का नाम एएसआई मंगाराम बरमन बताया गया, वह त्रिपुरा के रहने वाले थे।

सोमवार, 22 मार्च 2021

सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 4 आतंकी ढेर

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षा बलों के तलाश एवं घेराबंदी अभियान के दौरान शुरू हुये मुठभेड़ में चार अज्ञात आतंकवादी मारे गये। पुलिस के एक प्रवक्ता ने सोमवार को यह जानकारी दी। इस बीच अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए शोपियां में एहतियात के तौर पर मोबाइल इंटरनेट सेवा रोक दी गई है। प्रवक्ता ने बताया, कि आतंकवादियों की उपस्थिति की खुफिया सूचना मिलने के बाद राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने सोमवार तड़के शोपियां के मनिहाल गांव में संयुक्त रूप से तलाश एवं घेराबंदी अभियान शुरू किया।

गुरुवार, 18 मार्च 2021

जम्मू-कश्मीर में समस्याओं के समाधान का रास्ता साफ

श्रीनगर। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बृहस्पतिवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के विशेष प्रावधान खत्म किए जाने के बाद वहां समस्याओं के समाधान का रास्ता साफ हो गया और उनके मंत्रालय की योजनाएं भी वहां लागू हो रही हैं। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान रवनीत सिंह बिट्टू, नमा नागेश्वर राव और कुछ अन्य सदस्यों के पूरक प्रश्नों के उत्तर में नकवी ने यह भी कहा, कि केंद्र सरकार की योजनाओं का अल्पसंख्यक समाज के लोगों को बहुत फायदा हुआ और इसमें भी 50 फीसदी लाभार्थी महिलाएं रहीं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के आने से पहले अल्पसंख्यक समुदायों में शैक्षणिक सशक्तिकरण के लाभार्थी तीन करोड़ थे और मोदी सरकार बनने के बाद इनकी संख्या छह साल में चार करोड़ हो गयी।मंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत पहले 92 जिले आते थे। लेकिन मोदी सरकार बनने के बाद 70 फीसदी जिले कवर कर लिए गए। पहले केरल में एक या दो जिले इसके तहत आते थे, लेकिन अब कई जिले इसमें कवर कर लिए गए हैं। बिट्टू के एक पूरक प्रश्न के उत्तर में नकवी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से 370 के खात्मे के साथ वहां समस्याओं के समाधान का रास्ता साफ हो गया है। अब हमारी योजनाएं वहां लागू होती हैं। अल्पसंख्यक कार्य मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार बनने के बाद अल्पसंख्यक समाज की महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए कई कदम उठाए गए और इसी के तहत तीन तलाक का खात्मा किया गया और मुस्लिम महिलाओं को बिना ‘मेहरम’ (पुरुष रिश्तेदार) के हजयात्रा जाने की अनुमति दी गई।

सोमवार, 15 मार्च 2021

कश्मीर: मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद का कमांडर ढेर

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सोमवार को सुरक्षा बलों के तलाश एवं घेराबंदी अभियान (कासो) के दौरान हुई मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद का एक शीर्ष कमांडर मारा गया। इससे पहले रविवार को भी शोपियां में सुरक्षा बलों के कासो के दौरान शुरू हुई मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का एक स्थानीय आतंकवादी मारा गया। तलाश एवं घेराबंदी अभियान शनिवार रात को शुरू की गई थी।कश्मीर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने शोपियां में मुठभेड़ के दौरान जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर सज्जाद अफगानी के मारे जाने पर सुरक्षा बलों को बधाई दी है। शोपियां में अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए एहतियात के तौर पर शनिवार रात से ही मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी।

जेडीयू को भी मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए

अविनाश श्रीवास्तव    पटना। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार और उसमें जनता दल यूनाइटेड के शामिल होने की अटकलों के बीच जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिं...