जम्मू कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जम्मू कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 14 मई 2024

आतंकवादी केस की जांच के सिलसिले में छापेमारी

आतंकवादी केस की जांच के सिलसिले में छापेमारी 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर पुलिस की प्रांतीय जांच एजेंसी (एसआईए) ने आतंकवादी मामलें की जांच के सिलसिले में मंगलवार को दक्षिण कश्मीर के जिलों में कई स्थानों पर छापेमारी की। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि छापेमारी बिहार के एक प्रवासी श्रमिक की हत्या की जांच के मामले के लिये की गयी थी, जिसे पिछले महीने दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों ने गोली मार दी थी। बिजबेहरा पुलिस थाने में यह मामला दर्ज किया गया था और बाद में इसे आगे की जांच के लिए एसआईए कश्मीर में स्थानांतरित कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि छापेमारी दक्षिण कश्मीर के तीन जिलों में की जा रही है।

शनिवार, 9 दिसंबर 2023

फैसला देश हित के खिलाफ होने की आशंका

फैसला देश हित के खिलाफ होने की आशंका 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन की गतिविधियां संकेत दे रही हैं कि उच्चतम न्यायालय द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 से जुड़ी याचिकाओं पर सुनाया जाने वाला फैसला देश हित के खिलाफ होने की आशंका है।
मुफ्ती ने अनंतनाग में पत्रकारों से कहा, “शुक्रवार रात से हम देख रहे हैं कि विभिन्न दलों, विशेषकर पीडीपी के कार्यकर्ताओं के नाम वाली सूचियां थानों के माध्यम से ली जा रही हैं और ऐसा लगता है कि कोई ऐसा निर्णय आने वाला है जो इस देश और जम्मू-कश्मीर के पक्ष में न हो। भाजपा के एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए, कुछ एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं, जोकि दुर्भाग्यपूर्ण है।”
उन्होंने जोर देकर कहा कि यह सुनिश्चित करना शीर्ष अदालत की जिम्मेदारी है कि वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एजेंडे को आगे न बढ़ाए, बल्कि देश और उसके संविधान की अखंडता को बरकरार रखे। मुफ्ती ने कहा कि अदालत के फैसले से यह स्पष्ट होना चाहिए कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा 5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करने का निर्णय “अवैध, असंवैधानिक” था। उन्होंने कहा कि यह फैसला जम्मू-कश्मीर और यहां के लोगों से किए गए वादों के खिलाफ था।

रविवार, 26 नवंबर 2023

विभिन्न मांगों को लेकर संघ का विरोध-प्रदर्शन

विभिन्न मांगों को लेकर संघ का विरोध-प्रदर्शन 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र (सीटू) और जम्मू- कश्मीर सेब किसान संघ ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर रविवार को यहां श्रीनगर के प्रेस एन्क्लेव में विरोध-प्रदर्शन किया। सीटू की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष एवं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेता एम वाई तारिगामी ने कहा कि ट्रेड यूनियनों और सेब किसानों ने संयुक्त रूप से अपनी मांगों को लेकर देश भर में इसी तरह के विरोध प्रदर्शन आयोजित किए हैं। 
एम वाई तारिगामी ने कहा, ‘‘सेब उद्योग को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। ईरान और अमेरिका से सेब के आयात पर रोक लगनी चाहिए, नहीं तो यहां इससे जुड़े लोगों को नुकसान होगा। हमारी मांग यह भी है कि सरकार अरबों रुपये कमाने वालों की तरह किसानों का भी कर्ज माफ करे।’’ उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी मिलना चाहिए।
उन्होंने कथित 'जनविरोधी, श्रमिक विरोधी और किसान विरोधी नीतियों' के लिए सरकार की आलोचना भी की। माकपा नेता ने जम्मू-कश्मीर में आम लोगों को हो रही समस्याओं पर गंभीर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर पिछले दो दशकों में सबसे खराब बिजली संकट का सामना कर रहा है और बिजली की भारी कमी से जूझ रहा है।
ऐसे समय में जब घाटी में तापमान शून्य से नीचे स्तर तक गिर गया है, लंबे और अनिर्धारित बिजली कटौती के कारण लोगों को अत्यधिक असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। अस्पताल इस संकट का खामियाजा भुगत रहे हैं और उद्योगों के साथ-साथ अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र भी पीड़ित हैं। ’’

बुधवार, 15 नवंबर 2023

यात्रियों से भरी बस खाई में गिरी, 36 की मौत

यात्रियों से भरी बस खाई में गिरी, 36 की मौत 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर से बड़े हादसे की खबर आ रही है। डोडा में बुधवार को यात्रियों से भरी बस गहरी खाई में गिर गई। बताया जा रहा है कि हादसे में 36 लोगों की मौत हो गई। वहीं 19 अन्य लोग घायल हो गए। जिनमें कुछ की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है। जिनका उपचार चल रहा है। फिलहाल, बचाव अभियान जारी है। शवों को बरामद किया गया है।
मीडिया रिपोर्टस के अनुसार  हादसा”अस्सार क्षेत्र में हुआ है। बस कथित तौर पर लगभग 40 यात्रियों को ले जा रही थी। इस दौरान वह बटोटे-किश्तवाड़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर त्रुंगल-अस्सार के पास सड़क से फिसल गई और 300 फीट नीचे गिर गई। जिससे मौके पर चीख पुकार मच गई। स्थानीय लोगों ने हादसे की सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने राहत -बचाव अभियान चलाया. कई लोग बस में फंसे थे। कड़ी मशक्कत के बाद उन्हें बस से बाहर निकाला है।  घायलों को तुरंत नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं गंभीर रूप से घायल लोगों को विशेष उपचार के लिए हवाई मार्ग से जम्मू ले जाया जा रहा है। हालांकि पुलिस को मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है। क्योंकि कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए है।

मंगलवार, 7 नवंबर 2023

बिरदी को कश्मीर क्षेत्र का 'आईजीपी' नियुक्त किया

बिरदी को कश्मीर क्षेत्र का 'आईजीपी' नियुक्त किया 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी वी के बिरदी को मंगलवार को कश्मीर क्षेत्र का पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) नियुक्त किया गया। एजीएमयूटी कैडर के 2003 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी बिरदी, विजय कुमार का स्थान लेंगे, जिन्हें जम्मू कश्मीर का एडीजीपी (कानून व्यवस्था) नियुक्त किया गया है।
जम्मू कश्मीर प्रशासन ने एक आदेश में कहा कि बिरदी को कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक के रूप में तैनात किया गया है। इसमें कहा गया है कि इसके अलावा, अधिकारी अगले आदेश तक आईजीपी सशस्त्र कश्मीर के पद का कार्यभार भी संभालेंगे।

बुधवार, 4 अक्तूबर 2023

अग्निवीरों का पहला जत्था भारतीय सेना में शामिल

अग्निवीरों का पहला जत्था भारतीय सेना में शामिल

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर की कश्मीर घाटी से अग्निवीरों का पहला जत्था बुधवार को भारतीय सेना में शामिल हो गया। सेना के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। सेना ने बताया कि अग्निवीरों के पहले बैच के लिए मंगलवार को जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट (जेएकेएलआई) केंद्र श्रीनगर में पासिंग आउट परेड आयोजित की गई। 
युवा अग्निवीरों की भर्ती सेना भर्ती कार्यालय (एआरओ) श्रीनगर के माध्यम से की गई थी, जिन्होंने एक भव्य समारोह में पासिंग आउट परेड में भाग लिया। इस समारोह में अग्निवीरों के माता-पिता भी उपस्थित थे। सेना के श्रीनगर स्थित चिनार कोर ने एक्स पर लिखा, “भारतीय सेना की जेएकेएलआई का हिस्सा बनने के लिए कश्मीर से अग्निवीरों के पहले बैच के लिए पासिंग आउट परेड मंगलवार को जेएकेएलआई श्रीनगर में आयोजित की गई है। गौरवान्वित पल को महसूस करने के लिए अग्निवीरों की माता-पिता भी उपस्थित थे।”

मंगलवार, 19 सितंबर 2023

आतंकियों के साथ 7 दिनों से जारी मुठभेड़ खत्म

आतंकियों के साथ 7 दिनों से जारी मुठभेड़ खत्म 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों के साथ पिछले सात दिनों से जारी मुठभेड़ मंगलवार को खत्म हो गई। कश्मीर के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विजय कुमार ने मंगलवार को बताया कि मारे गए दो आतंकवादियों में लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर उजैर खान भी शामिल है।
कुमार ने कहा कि गोलीबारी में सेना के दो अधिकारियों और एक पुलिस अधिकारी सहित चार सुरक्षाकर्मियों की जान चली गई। एडीजीपी ने अनंतनाग में संवाददाताओं को बताया, “अभी तक लश्कर कमांडर उजैर खान का शव बरामद किया जा चुका है। दूसरे आतंकी का शव दिख रहा है, लेकिन अभी तक उसे निकालना संभव नहीं हो सका है।”
उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह बुधवार को दक्षिण कश्मीर जिले के गडोले वन क्षेत्र में शुरू हुई गोलीबारी खत्म हो गई है, लेकिन तलाशी अभियान जारी रहेगा। उन्होंने कहा, “एक बहुत बड़ा क्षेत्र है जहां तलाशी ली जानी बाकी है। बहुत सारे गोले हो सकते हैं जिनमें विस्फोट न हुआ हो, उन्हें बरामद कर नष्ट किया जाएगा।
हम लोगों से अपील करते हैं कि वे इस क्षेत्र में न जाएं।” एडीजीपी ने कहा कि सुरक्षा बलों को रिपोर्ट मिली थी कि वहां दो से तीन आतंकवादी हैं। कुमार ने कहा, “संभावना है कि तीसरा शव कहीं हो। तलाश पूरी होने के बाद इसका पता चलेगा।”

गुरुवार, 31 अगस्त 2023

एमबीबीएस के छात्र नहीं रख सकते टू व्हीलर

एमबीबीएस के छात्र नहीं रख सकते टू व्हीलर 

इकबाल अंसारी   
श्रीनगर। श्रीनगर के राजकीय मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने विगत दिवस देर रात एमबीबीएस छात्रों के साथ हुई मारपीट की घटना पर कड़ा एक्शन लिया है। कॉलेज प्रशासन ने बैठक कर निर्णय लिया गया कि छात्रों की सुरक्षा के मध्येनजर एमबीबीएस का कोई भी छात्र टू-व्हीलर नहीं रखेगा। इस संदर्भ में एडमिशन के दौरान छात्र व अभिभावकों द्वारा शपथ पत्र दिये भी गये थे, जिस पर तत्काल कार्यवाही की संस्तुति की गई। यहीं नहीं देर रात्रि हॉस्टलों से बाहर रहने वाले छात्रों को हास्टल व कक्षाओं से तीन माह निलम्बन की संस्तुति का निर्णय लिया गया। एमबीबीएस छात्रों के लिए हॉस्टलों में जो-जो नियम है, उन पर तत्काल प्रभाव से पालन कराने के निर्देश संबंधी चीफ वार्डन एवं वार्डनों, सुरक्षा कर्मियों को दिये गये।
विदित है कि विगत रात्रि श्रीनगर मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस छात्रों के साथ श्रीनगर घसिया महादेव के पास स्थानीय युवकों ने हमला कर दिया था। जिससे एमबीबीएस के एक छात्र पर धारदार हथियार से वार होने से छात्र घायल हो गया था। उक्त घटना के बाद मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत जी के निर्देशन में प्रभारी प्राचार्य डा. निरंजन कुमार गुंजन ने मेडिकल कॉलेज में चीफ वार्डन, वार्डन एवं सुरक्षा कर्मियों के साथ बैठक आहूत की गई। जिसमें निर्णय लिया गया कि हॉस्टल की टाइमिंग के अनुसार बिना वार्डन को सूचित किये बैगर सुरक्षा गार्ड द्वारा छात्रों को बाहर जाने दिया, जिस सुरक्षा कर्मी द्वारा यह लापरवाही बरती गई, उसके खिलाफ कॉलेज प्रशासन ने निलम्बन की संस्तुति की गई। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत जी ने कहा कि मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के दौरान एवं एडमिशन होने के बाद छात्र-छात्रों को पूरी गाइडलाइन का बराबर बताया गया है, इसके बाद भी कोई छात्र यदि देर रात्रि हॉस्टलों से बाहर जाते है, तो ऐसे छात्रों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी। छात्रों की सुरक्षा को देखते हुए मेडिकल कॉलेज के नियमों को छात्रों को अमल करना होगा। 
इसके लिए अभिभावकों व छात्र से शपथ पत्र भी लिया गया है। सभी छात्र छात्राओं, इन्टर्न व जूनियर/ सीनियर रेजिडेंट चिकित्सको द्वारा विवरणिका में हॉस्टल गाइडलाइंस का अक्षरशः पालन सुनिश्चित किया जाना है। अब प्रत्येक असिस्टेंट वार्डन, वार्डन व चीफ वार्डन को सतत् मानिटरिग के सख्त निर्देश सुनिश्चित करने को कहा गया है। किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

गुरुवार, 27 जुलाई 2023

3 दशक बाद श्रीनगर में मोहर्रम का जुलूस

3 दशक बाद श्रीनगर में मोहर्रम का जुलूस

निसार शाहीन शाह

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में तीन दशक के बाद मुहर्रम का जुलूस अपने पुराने रास्ते से निकाला गया। बताते चले कि पिछले तीस सालों से श्रीनगर में मुहर्रम के जुलूस पर प्रतिबंध था। समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, प्रशासन ने गुरुवार सुबह छह बजे से लेकर आठ बजे तक जुलूस निकालने की मंज़ूरी दी थी।

ये जुलूस पारंपरिक रास्ते यानी शहीद गंज से डलगेट के बीच निकाला गया। कानून व्यवस्था की स्थिति अच्छी न होने की वजह से इस रास्ते पर साल 1989 से ही जुलूस निकालना बंद था। एक दिन पहले ही कश्मीर ज़ोन के एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (एडीजीपी) विजय कुमार ने मुहर्रम को लेकर प्रबंधन पर उच्च-स्तरीय बैठक की थी।

समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए विजय कुमार ने कहा, “कल सुरक्षाबलों की बैठक हुई थी। हम तीन स्तरीय सुरक्षा दे रहे हैं। जुलूस शांतिपूर्वक निकाला गया है।”

रविवार, 16 जुलाई 2023

संगम शीर्ष पर गिरे पत्थर, 1 महिला की मौत

संगम शीर्ष पर गिरे पत्थर, 1 महिला की मौत

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में अमरनाथ यात्रा मार्ग के संगम शीर्ष पर शनिवार को पत्थरों के गिरने की घटना में एक महिला तीर्थयात्री की मौत हो गई और जम्मू-कश्मीर पुलिस की माउंटेन रेस्क्यू टीम (एमआरटी) के दो जवान घायल हो गए। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। मृतक तीर्थयात्री की पहचान लक्ष्मी नारायण की बेटी उर्मिलाबेन (53) के रूप में हुई है, जो अमरनाथ मार्ग पर संगम टॉप और निचली गुफा के बीच पत्थर गिरने गंभीर रूप से घायल हो गई थी।

घायल महिला का बचाने की कोशिश कर रहे जम्मू-कश्मीर पुलिस की दो सदस्यीय माउंटेन रेस्क्यू टीम, (एमआरटी) जिसमें वरिष्ठ ग्रेड कांस्टेबल मोहम्मद सलेम और मोहम्मद यासीन शामिल थे, के दोनों सदस्य भी ऑपरेशन के दौरान गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्होंने बताया कि घायल महिला तीर्थयात्री ने बाद में दम तोड़ दिया।

 यात्रा ड्यूटी पर तैनात घायल पुलिस कर्मियों को सेना की ओर से एक निजी हेलीकॉप्टर से निकाला गया।

खराब मौसम के कारण रविवार को अमरनाथ यात्रा अस्थायी रूप से निलंबित कर दी गई। मार्ग में कई स्थानों पर बारिश के बीच फिसलन भरी स्थिति के कारण किसी भी तीर्थयात्री को नुनवान और बालटाल आधार शिविरों से गुफा मंदिर की ओर जाने की अनुमति नहीं दी गई।

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने तीर्थयात्री की मौत पर शोक व्यक्त किया है और शोक संतप्त परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्त की है। डीजीपी ने दोनों पुलिसकर्मियों की प्रतिबद्धता की सराहना की और त्वरित निकासी में शामिल सभी लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की भी कामना की।

खराब मौसम के कारण 'अमरनाथ' यात्रा स्थगित 

खराब मौसम के कारण 'अमरनाथ' यात्रा स्थगित 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पहलगाम और बालटाल दोनों मार्ग पर खराब मौसम के कारण अमरनाथ यात्रा अस्थायी रूप से स्थगित कर दी गई है। अधिकारियों ने रविवार को यह सूचना दी। उन्होंने बताया कि खराब मौसम के कारण आज दक्षिण कश्मीर में पारंपरिक नुनवान पहलगाम आधार शिविर और मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले के बालटाल से किसी भी यात्री को आगे बढ़ने की अनुमति नहीं दी गई। 

उन्होंने बताया कि दोनों मार्गों और गुफा मंदिर के कई स्थानों पर अभी भी बारिश हो रही है, जिससे कई जगहों पर सड़क फिसलन भरी हो गई है। खराब मौसम की स्थिति को ध्यान में रखते हुए अधिकारियों ने सुधार होने तक यात्रा स्थगित करने का फैसला किया है। बीते शुक्रवार को किसी भी तीर्थयात्री को दुमैल के रास्ते सबसे छोटे बालटाल मार्ग से अमरनाथ गुफा मंदिर तक दर्शन के लिए पैदल और घोड़े से जाने की अनुमति नहीं दी गई थी। एक जुलाई से तीर्थयात्रा शुरू होने के बाद से गुफा मंदिर में दर्शन करने वाले यात्रियों की कुल संख्या शनिवार को 21401 तीर्थयात्रियों के दर्शन के बाद दो लाख से अधिक हो गई है।

बुधवार, 12 जुलाई 2023

अमरनाथ: तीर्थ यात्रियों का 10वां जत्था रवाना 

अमरनाथ: तीर्थ यात्रियों का 10वां जत्था रवाना 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। अमरनाथ मंदिर के लिए 7,800 से अधिक तीर्थयात्रियों का 10वां जत्था बुधवार को जम्मू के आधार शिविर से रवाना हुआ। अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यात्रियों को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच अमरनाथ मंदिर के लिए रवाना किया गया है।

बता दें कि रामबन में जम्मू-श्रीनगर हाइवे के एक हिस्से के बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण जम्मू आधार शिविर से तीन दिन तक यात्रा निलंबित रहने के बाद मंगलवार दोपहर फिर शुरू हुई थी। 

अधिकारियों ने बताया कि एक जुलाई से अब तक कुल 1,37,353 तीर्थयात्री दक्षिण कश्मीर के हिमालयी क्षेत्र में स्थित अमरनाथ मंदिर के दर्शन कर चुके हैं।

31 अगस्त तक चलेगी अमरनाथ यात्रा

हिमालयी क्षेत्र में स्थित 3888 मीटर ऊंचे गुफा मंदिर की 62 दिन चलने वाली वार्षिक तीर्थयात्रा एक जुलाई को शुरू हुई थी और यह 31 अगस्त तक चलेगी। अधिकारियों ने बताया कि बुधवार तड़के सवा 3 बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच 339 वाहनों के काफिले में 7805 तीर्थयात्री जम्मू के भगवती नगर आधार शिविर से घाटी के लिए रवाना हुए। उन्होंने बताया कि 4,677 तीर्थयात्री 207 वाहनों से पहलगाम के लिए जबकि 3,128 तीर्थयात्रियों को लेकर 132 वाहनों का काफिला बालटाल आधार शिविर के लिए रवाना हुआ। 

उन्होंने बताया कि 30 जून से अब तक जम्मू आधार शिविर से 56,303 तीर्थयात्री घाटी के लिए रवाना हो चुके हैं।

देश के कई हिस्सों में बारिश से तबाही

असम की सुनीता देवी ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा, ‘हमें खुशी है कि हमारी प्रार्थनाएं भगवान शिव ने सुनीं, और अपने दर पर हमें बुलाया।’ सुनीता जम्मू में पिछले सात दिनों से फंसे 23 लोगों के एक समूह का हिस्सा थीं। 

शनिवार और रविवार को हुई लगातार बारिश से हाइवे को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा था। खासकर रामबन जिले में पड़ने वाला हिस्सा बेहद बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से जम्मू-कश्मीर, पंजाब और हिमाचल प्रदेश समेत देश के कई इलाकों में भारी बरसात की वजह से नदियां उफान पर हैं और इंफ्रास्ट्रक्चर को नुकसान पहुंचा है।

शनिवार, 1 जुलाई 2023

अमरनाथ यात्रा, सिन्हा ने विभिन्न कदम उठाएं

अमरनाथ यात्रा, सिन्हा ने विभिन्न कदम उठाएं

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने शनिवार को कहा कि अमरनाथ तीर्थयात्रियों के लिए सुविधाओं को बेहतर करने और आध्यात्मिक यात्रा को एक सुखद अनुभव बनाने के लिए विभिन्न कदम उठाएं गए हैं। सिन्हा ने राजभवन में स्थापित नियंत्रण कक्ष संचालन पर एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह बात कही। 

बासठ दिन चलने वाली अमरनाथ यात्रा मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले के बालटाल और दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के पहलगाम के दो मार्गों से शुरू हुई है। आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि उपराज्यपाल ने नियंत्रण कक्ष के अधिकारियों के साथ उनकी टीम की कतार प्रबंधन, सुरक्षा कर्मियों, महिला कांस्टेबलों की तैनाती, निचली पवित्र गुफा में लंगर और सुरक्षा बलों के संचालन, रेलिंग और हेली सेवाओं की स्थापना की समीक्षा की और किए गए अनुकरणीय कार्यों की सराहना की। 

उन्होंने कहा कि श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) का नियंत्रण कक्ष चौबीस घंटे काम कर रहा है और परेशानी मुक्त तीर्थयात्रा सुनिश्चित करने के लिए जमीन पर विभिन्न हितधारकों के साथ समन्वय कर रहा है। तीर्थयात्रियों के लिए सुविधाओं में सुधार करने और आध्यात्मिक यात्रा को एक सुखद अनुभव बनाने के लिए सर्वोत्तम आराम प्रदान करने के लिए एक बड़ा कदम उठाया गया है। बैठक के दौरान श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ मंदीप कुमार भंडारी, एसएएसबी के अतिरिक्त सीईओ राहुल सिंह और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 

गुरुवार, 29 जून 2023

अमरनाथ की तीर्थयात्रा, पंजीकरण प्रक्रिया शुरू 

अमरनाथ की तीर्थयात्रा, पंजीकरण प्रक्रिया शुरू 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। प्रशासन ने दक्षिण कश्मीर हिमालय क्षेत्र स्थित अमरनाथ गुफा मंदिर की तीर्थयात्रा के लिए यहां आने वाले श्रद्धालुओं के वास्ते बृहस्पतिवार को मौके पर ही पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी। हिमालय क्षेत्र में 3,880 मीटर की ऊंचाई पर प्राकृतिक रूप से बनने वाले हिम शिवलिंग के दर्शन के लिए आगामी एक जुलाई से शुरू होने वाली यात्रा के वास्ते साधुओं सहित 1,500 से अधिक तीर्थयात्री जम्मू शहर पहुंच चुके हैं।

शहर के शालीमार क्षेत्र में जहां अपंजीकृत तीर्थयात्रियों के लिए मौके पर ही पंजीकरण के वास्ते केंद्र स्थापित किया गया है, वहीं पुरानी मंडी स्थित राम मंदिर परिसर में साधुओं के पंजीकरण के लिए एक विशेष शिविर स्थापित किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच, 1000 से अधिक तीर्थयात्री आगे की यात्रा के लिए यहां भगवती-नगर आधार शिविर पहुंच चुके हैं।

यह 62 दिवसीय तीर्थयात्रा दो मार्गों- अनंतनाग जिले में पारंपरिक 48 किलोमीटर लंबे नुनवान-पहलगाम मार्ग और गांदरबल जिले में 14 किलोमीटर लंबे बालटाल मार्ग से शुरू होगी। उपमंडल मजिस्ट्रेट नर्गेश सिंह ने पीटीआई-भाषा को बताया कि देश के सभी हिस्सों से आने वाले गैर-पंजीकृत तीर्थयात्रियों का पंजीकरण यहां काउंटर पर मौके पर ही शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि सुचारू पंजीकरण के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं।

तहसीलदार जय सिंह ने कहा, "जम्मू में साधुओं का पंजीकरण आज से शुरू हो गया है। साधुओं को सर्वोत्तम संभव सुविधाएं देने के लिए सभी इंतजाम किए गए हैं।" यात्रा के लिए यहां पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों में उत्साह देखते ही बनता है। उत्तर प्रदेश के संजीव कुमार ने कहा कि वह चौथी बार अमरनाथ यात्रा कर रहे हैं।

दिल्ली से आए 69 वर्षीय जगदेश राज ने कहा, "अपने पूरे जीवन में, मैं तीर्थयात्रा की इच्छा रखने वाले लोगों को सुविधा प्रदान करता रहा हूं, लेकिन खुद दर्शन करने नहीं पहुंच सका। हालांकि, मुझे बहुत खुशी है कि अब मैं अमरनाथ के दर्शन करने जा रहा हूं।" उत्तराखंड स्थित यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम की चारधाम यात्रा पूरी करने के बाद साधु यहां पहुंचे हैं। वहीं, एक अन्य तीर्थयात्री रमेश चंद्र गिरि ने कहा, "हम यहां पंजीकरण के लिए आए हैं, जो आज से शुरू हुआ...यह छठी बार है, जब मैं अमरनाथ जा रहा हूं।"

रविवार, 14 मई 2023

घुसपैठ की कोशिश को विफल किया, जेसीओ घायल 

घुसपैठ की कोशिश को विफल किया, जेसीओ घायल 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में रविवार सुबह नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ की कोशिश को विफल कर दिया, लेकिन इस दौरान एक जूनियर कमीशन अधिकारी (जेसीओ) घायल हो गया। रक्षा विभाग के अधिकारियों ने रविवार को बताया कि बारामूला जिले के उरी सेक्टर में गोलीबारी के दौरान जेसीओ को मामूली चोटें आईं।

अधिकारियों ने कहा कि सतर्क सैनिकों ने तड़के सेक्टर में संदिग्ध हलचल देखी और इसके बाद घुसपैठ की कोशिश को विफल कर दिया। अधिकारियों ने कहा, “आतंकवादियों और सैनिकों के बीच गोलीबारी हुई। गोलीबारी के बाद पाकिस्तानी ने घटना स्थल के ऊपर एक क्वाडकॉप्टर उड़ाने की कोशिश की, लेकिन भारतीय सैनिकों की ओर से गोलीबारी किए जाने पर वह तेजी से पीछे हट गया।”

उन्होंने कहा, "क्वाडकॉप्टर का मुद्दा निश्चित रूप से घुसपैठ की गतिविधियों के दौरान उचित सहायता प्रदान करने में आतंकवादियों और पाकिस्तानी सेना के बीच मिलीभगत को सामने लाता है।" इलाके में तलाशी अभियान जारी है। उन्होंने कहा कि इस प्रयास को ऐसे समय में नाकाम कर दिया गया जब जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा तंत्र हाई अलर्ट पर है। क्योंकि श्रीनगर इस महीने के अंत में होने वाली जी-20 बैठक की मेजबानी कर रहा है। 

सोमवार, 8 मई 2023

जम्मू-कश्मीर में 'भूकंप' के हल्के झटके महसूस किए 

जम्मू-कश्मीर में 'भूकंप' के हल्के झटके महसूस किए 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में कश्मीर घाटी के कुछ हिस्सों में सोमवार को भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.1 मापी गयी। भूकंप का केन्द्र 34़ 16 उत्तर में और 74़ 56 पूर्व में था।

कुछ पलों के लिए भूकंप के तेज झटके श्रीनगर और कश्मीर घाटी के अन्य भागों में महसूस किए गए। दोपहर दो बजकर 28 मिनट पर आए भूकंप बारामूला के पूर्वोत्तर में 10 किलोमीटर की गहराई पर था। भूकंप के कारण पानी में कुछ स्थानों पर लोग घरों से बाहर निकल आए। भूकंप से जान-माल के हानि की कोई खबर नहीं है।

शनिवार, 6 मई 2023

अभियान: सुरक्षा बलों ने 1 आतंकी को मार गिराया

अभियान: सुरक्षा बलों ने 1 आतंकी को मार गिराया

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर/राजौरी। जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले के घने जंगली क्षेत्र में जारी अभियान के दौरान सुरक्षा बलों ने शनिवार को एक आतंकवादी को मार गिराया, जबकि अन्य आतंकवादी के घायल होने की संभावना है। सेना ने यह जानकारी दी। इस बीच, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती जिलों-राजौरी और पुंछ में सुरक्षा स्थिति का जायजा लिया। राजौरी में जारी अभियान के दौरान शुक्रवार को आतंकवादियों द्वारा किए गए विस्फोट में सेना के पांच जवान शहीद हो गए और मेजर रैंक के एक अधिकारी घायल हो गये थे।

इस घटना के एक दिन बाद सेना ने ‘ऑपरेशन त्रिनेत्र’ शुरू किया। जम्मू में सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा, ‘‘राजौरी सेक्टर के कांडी वन में जारी सेना, जम्मू-कश्मीर पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के संयुक्त अभियान में सुबह करीब सात बजे आतंकवादियों की घेराबंदी की गई।’’ उन्होंने बताया, ‘‘इसके बाद हुई मुठभेड़ में एक आतंकवादी को ढेर कर दिया गया और एक आतंकवादी संभवत: घायल हुआ है।’’ प्रवक्ता ने कहा कि मारे गए आतंकवादी के पास से एके-56 राइफल, चार मैगजीन, 56 गोलियां, नौ एमएम का एक पिस्तौल, उसके तीन मैगजीन और तीन ग्रेनेड बरामद किए गए।

उन्होंने कहा कि आतंकवादी की पहचान नहीं हो पाई है और फिलहाल यह भी पता नहीं चल सका है कि वह किस संगठन से जुड़ा था। प्रवक्ता ने बताया कि अभियान जारी है। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े संगठन ‘पीपुल्स एंटी फासिस्ट फ्रंट’ (पीएएफएफ) ने शुक्रवार के हमले की जिम्मेदारी ली है। अधिकारियों ने कहा कि मारे गए आतंकवादी के शव को घटनास्थल से हटा दिया गया और उसका पोस्टमॉर्टम भी किया गया।

राजौरी और पुंछ जिलों में आतंकवादियों द्वारा अक्टूबर 2021 से लेकर अब तक किए गए आठ हमलों में 26 सैनिकों सहित कुल 35 लोगों की जान गई है। राजनाथ ने राजौरी जिले के कांडी वन क्षेत्र में शुक्रवार को सेना के आतंकवाद-विरोधी अभियान के दौरान आतंकवादियों द्वारा किए गए विस्फोट में पांच जवानों के शहीद होने के एक दिन बाद इलाके का दौरा किया।

अधिकारियों ने बताया कि राजनाथ कुछ देर जम्मू में रुके और फिर सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे व जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के साथ राजौरी में ‘एस ऑफ स्पेड्स डिवीजन’ मुख्यालय पहुंचे। इस दौरान, उन्होंने आतंकवादियों के खिलाफ अभियान में शामिल सैनिकों से संवाद भी किया।

बुधवार, 3 मई 2023

घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया, 2 आतंकी ढेर 

घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया, 2 आतंकी ढेर 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में सुरक्षाबलों ने बुधवार को घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम कर दिया और इस क्रम में दो आतंकवादी मारे गए। रक्षा प्रवक्ता कर्नल एमरॉन मौसावी ने यहां बताया कि कुपवाड़ा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने खुफिया जानकारी मुहैया कराई थी कि नियंत्रण रेखा के पार से माछिल सेक्टर की ओर आतंकवादी लॉन्चपैड से घुसपैठ की कोशिश हो सकती है। इसके बाद सोमवार से ही जवानों को सतर्क कर दिया गया था।

उन्होंने कहा, ‘‘इस बेहद दुर्गम तथा दुरूह स्थान पर घुसपैठ को रोकने के लिए समन्वित इंतजाम किए गए थे। भारतीय सेना तथा जम्मू कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान दल को घुसपैठ के संभावित स्थानों पर तैनात किया गया था।’’ कर्नल मौसावी ने कहा कि सतर्क जवानों ने बारिश, कम दृश्यता तथा कम तापमान जैसी खराब मौसमीय परिस्थितियों का लगातार दो रातों तक डट कर सामना किया और बुधवार सुबह जवानों को आतंकवादी दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि इसके बाद भीषण गोलीबारी हुई और दोनों आतंकवादी मारे गए।

घटनास्थल से दोनों आतंकवादियों के शव, ए के श्रेणी की दो रायफल,गोलियां तथा गोला बारूद बरामद हुआ। प्रवक्ता ने बताया कि क्षेत्र की सघन तलाशी ली जा रही है, तथा मारे गए आतंकवादियों की शिनाख्त की जा रही है और उनके संगठन के बारे में पता लगाया जा रहा है।

रविवार, 30 अप्रैल 2023

गहरी खाई में गिरी कार, 3 लोगों की मौंत

गहरी खाई में गिरी कार, 3 लोगों की मौंत

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में एक कार के सड़क से फिसलकर गहरी खाई में गिर जाने से उसमें सवार तीन लोगों की मौंत हो गई। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया कि कार सवार शनिवार रात रियासी कस्बे से कराघ की ओर जा रहे थे, तभी टोटे गांव पहुंचने पर चालक ने वाहन पर से नियंत्रण खो दिया, जिससे यह 100 मीटर से अधिक गहरी खाई में गिर गया।

अधिकारी के मुताबिक, कार में सवार तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। उन्होंने बताया कि मृतकों की पहचान कराघ के नसीब सिहं (65), टोटे के करनैल सिंह (47) और देवीगढ़ के महोन चंद्र (32) के रूप में की गई है। अधिकारी ने बताया कि बचावकर्मियों को शवों को निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ी, क्योंकि गहरी खाई में गिरने के कापण वाहन में आग लग गई थी।

शनिवार, 22 अप्रैल 2023

आतंकियों को पकड़ने के लिए घेराबंदी और अभियान 

आतंकियों को पकड़ने के लिए घेराबंदी और अभियान 

इकबाल अंसारी 

श्रीनगर/पुंछ। जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में एक हमले में सेना के पांच जवानों के शहीद होने के बाद आतंकवादियों को पकड़ने के लिए चलाया गया घेराबंदी और तलाश अभियान शनिवार को दूसरे दिन में जारी है और इसमें ड्रोन एवं खोजी कुत्तों की मदद ली जा रही है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक एस एल थाउसेन और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) मुकेश सिंह समेत राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने सीमावर्ती क्षेत्र की सुरक्षा का जायजा लेने के लिए घटनास्थल का दौरा किया।

अधिकारियों ने बताया कि 14 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया जिनमें से कुछ को छोड़ दिया गया। पुंछ में बृहस्पतिवार को एक आतंकवादी हमले के बाद सेना के वाहन में आग लगने से पांच जवान शहीद हो गए थे तथा एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया था। सूत्रों ने बताया कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि सेना का ट्रक बृहस्पतिवार शाम को इफ्तार के लिए अग्रिम सीमा पर स्थित एक गांव में फल और अन्य सामान लेकर जा रहा था। सूत्रों ने बताया कि सेना की राष्ट्रीय राइफल्स यूनिट को इस इफ्तार का आयोजन करना था। एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक न्यूज एजेंसी से कहा, हमले में शामिल आतंकवादियों को पकड़ने के लिए भाटा डोरिया-तोता गली के बड़े इलाकों तथा आसपास के इलाकों में घेराबंदी और तलाश अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान में कई सुरक्षा एजेंसियां शामिल हैं। उन्होंने बताया कि पूरे इलाके को घेर लिया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि ड्रोन और खोजी कुत्तों को भी काम में लगाया गया है। उन्होंने बताया कि अभियान में शामिल जवान अत्यधिक सतर्कता बरत रहे हैं क्योंकि हो सकता है कि आतंकवादियों ने घने वन्य क्षेत्र में आईईडी लगाया हो। आतंकवादी हमले के बाद भीम्बर गली-पुंछ रोड पर यातायात रोक दिया गया और लोगों को मेंढर के जरिए पुंछ जाने की सलाह दी गई है। एनएसजी और राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) के अधिकारियों समेत शीर्ष अधिकारियों ने पिछले दो दिन में घटनास्थल का दौरा किया है। आतंकवादियों द्वारा इस्तेमाल की गयी स्टील-कोर गोलियां भी बरामद की गयी है। अधिकारियों ने बताया कि हमले की चपेट में आया ट्रक शाम सात बजे राष्ट्रीय राइफल्स द्वारा आयोजित की जाने वाली इफ्तार के लिए भीम्बर गली शिविर से फल, सब्जियां और अन्य सामान लेकर संगियोते गांव जा रहा था।

हमले में शहीद जवान राष्ट्रीय राइफल्स के थे जो आतंकवाद रोधी अभियान के लिए तैनात थे। सूत्रों ने बताया कि संदेह है कि तीन से चार आतंकवादियों के एक समूह ने इस हमले को अंजाम दिया और उन्होंने किसी विस्फोटक, स्टीकी बम या ग्रेनेड का इस्तेमाल किया, जिससे वाहन में आग लग गई। उन्होंने कहा कि समझा जाता है कि हमले को अंजाम देने वाले एक साल से अधिक समय से राजौरी और पुंछ में मौजूद थे और उन्हें इस दुर्गम इलाके का पर्याप्त ज्ञान था।

उन्होंने बताया कि यह इलाका जम्मू-कश्मीर गजनवी फोर्स (जेकेजीएफ) का गढ़ है और इसका 'कमांडर' रफीक अहमद उर्फ रफीक नाई इसी इलाके का रहने वाला है। सूत्रों ने बताया कि फिलहाल राजौरी और पुंछ क्षेत्र में तीन से चार आतंकवादी समूह सक्रिय हैं। सेना ने बताया कि ग्रेनेड का इस्तेमाल किए जाने के कारण ट्रक में आग लगने की आशंका है। सेना को ट्रक और एक जवान के शरीर पर गोली लगने के निशान मिले हैं। 

'भाजपा' ने दस साल में महंगाई, बेरोजगारी बढ़ाई

'भाजपा' ने दस साल में महंगाई, बेरोजगारी बढ़ाई संदीप मिश्र  लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार न...