बुधवार, 15 सितंबर 2021

अमेरिका में पकड़ को मजबूत कर रहा पाकिस्तान

वाशिंगटन डीसी/ इस्लामाबाद। अमेरिकी टॉप थिंक टैंक ने कहा है कि पाकिस्तान समर्थित अलगाववादी खालिस्तानी समूह अमेरिका में धीरे-धीरे अपनी पकड़ मजबूत कर रहा है। उसने यह भी कहा कि अमेरिकी सरकार इन संगठनों की भारत विरोधी गतिविधियों को रोकने के लिए नई दिल्ली द्वारा की गई अपीलों के प्रति उदासीन रही है।

'हडसन इंस्टीट्यूट ने मंगलवार को प्रकाशित अपनी रिपोर्ट 'पाकिस्तान का अस्थिरता का षड्यंत्र। अमेरिका में खालिस्तान की सक्रियता में पाकिस्तान द्वारा इन संगठनों को दिए जा रहे समर्थन की जांच करने के लिए 'अमेरिका के भीतर खालिस्तान और कश्मीर अलगाववादी समूहों' के आचरण को आंका है।

23 से पंजाब के तीन दिवसीय दौरा करेंगे टिकैत

जालंधर। दिल्ली मोर्चा और मुजफ्फरनगर किसान महापंचायत को सफल बनाने के लिए पंजाब के लोगों का धन्यवाद करने और हरमंदिर साहब में माथा टेकने के लिए किसान नेता राकेश टिकैत 23 सितंबर से पंजाब के तीन दिवसीय दौरा करेंगे।

भारतीय किसान यूनियन लक्खोवाल के महा सचिव हरिन्दर सिंह लक्खोवाल ने बुधवार को बताया कि महाकिसान पंचायत की सफलता पर गुरू साहिबान का शुक्राना अदा करने के लिए राकेश टिकैत 23 सितंबर को गाजीपुर बार्डर से सुबह दस बजे रवाना होंगे और राजपुरा, डेहलों से होते हुए रात को लक्खोवाल में रूकेंगे। वह 24 सितंबर को जालंधर और रईया होते हुए शाम को अमृतसर पहुंचेगे तथा 25 सितंबर को पट्टी, जीरा, मोगा, चोकीमान टोल प्लाजा होते हुए वापस गाजीपुर बार्डर पहुंचेंगे। इस दौरान वह प्रेस सम्मेलन तथा किसानों को भी संबोधित कर 27 सितंबर के भारत बंद की अपील करेंगे।

ग्राम जाटम में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम का आयोजन

दुष्यंत टीकम         
रायपुर। समर्थ जन कल्याण समिति द्वारा,मोर मायका के तहत कार्यक्रम का आयोजन जगदलपुर ग्राम जाटम में सम्पन्न हुआ। आयोजन में गरीब निर्धन महिलाएं और जिनका मायका खत्म हो चुका है। उनके लिए तीजा पर्व का आयोजन किया गया। आयोजन का मुख्य उद्देश्य उनको मायके का सुख देना चाहती थी। इसके लिए सांस्कृतिक विभाग के सहयोग से सांस्कृतिक कार्यक्रम किया गया। इस अवसर पर महिलाओं को साड़ी वितरण किया गया एंंव भंडारा का भी आयोजन किया गया। इस पुनीत कार्य में मुख्य अतिथि सांसद राज्यसभा फूलोदेवी नेताम विशिष्ट अतिथि जनपद अध्यक्ष अनिता नेताम, उपाध्यक्ष सुब्रतो सुलतान बागड़ी, सहदेव नाग बसंती, हरिराम मंडावी, जुग्धर नाग, नीता ठाकुर, जगन्नाथ नतंजी अमन बैस एवं सभी ग्राम पंचों गणमान्य का आभार समति की अध्यक्ष जया द्विवेदी द्वारा दिया गया। 

चौड़ीकरण व सुढृढीकरण कार्यो का शिलान्यास किया

कौशाम्बी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा लखनऊ सें वर्चुअल माध्यम से प्रदेश में जिला पंचायतों द्वारा हॉट मिक्स पद्धति से निर्मित संपर्क मार्गों का लोकार्पण तथा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-3 के अन्तर्गत स्वीकृति मार्गो का चौड़ीकरण एवं सुढृढीकरण कार्यो का शिलान्यास किया गया। मुख्यमंत्री द्वारा वर्चुअल माध्यम से जनपद कौशाम्बी में जिला पंचायत द्वारा हॉट मिक्स पद्धति से निर्माण कराये गये कुल 07 संपर्क मार्गों का लोकार्पण किया गया। जिसमें विकास खण्ड मूरतगंज के अन्तर्गत जी.टी रोड काजीपुर से सैय्यद सरांवा मार्ग का नवीनीकरण एवं जी.टी रोड से सिहोरी संपर्क मार्ग का नवीनीकरण कार्य सम्मिलित हैं। 
इसी प्रकार विकास खण्ड सिराथू के अन्तर्गत मंगरोहनी से मवई कला संपर्क मार्ग का नवीनीकरण कार्य, विकास खण्ड कौशाम्बी के अन्तर्गत बटबंधुरी से बल्लोपुर सम्पर्क मार्ग के अवशेष भाग पर पीसी सीसी व नाली निर्माण कार्य एवं म्यौहर काजू पीएमजीएसवाई मार्ग अर्का पुलिस चौकी से कदिलापुर संपर्क मार्ग का नवीनीकरण कार्य, विकास खण्ड सरसंवा के अन्तर्गत बभन पुरवा से खैरातियापार गौरा संपर्क मार्ग का पीसी एवं नाली निर्माण कार्य एवं करारी शाहपुर मार्ग से बहादुरपुर संपर्क मार्ग का विशेष मरम्मत कार्य सम्मिलित है। मुख्यमंत्री द्वारा वर्चुअल माध्यम से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अन्तर्गत-  एसएच-95 से मेडुआ सलेमपुर मार्ग टीएनपीएस रोड 4 किलोमीटर से भगवानपुर बहुगुरा मार्ग, मुस्तफाबाद से बन्थरी मार्ग, बी.एच रोड से कायमपुर मार्ग, करेन्दा उपरहार से भोपतपुर मार्ग, एवं असाढ़ा से बैसकांठी मार्ग चौड़ीकरण एवं सुढृढ़ीकरण के कार्यो का शिलान्यास किया गया इस अवसर पर एन.आई सी में अध्यक्ष जिला पंचायत कल्पना सोनकर जिलाधिकारी सुजीत कुमार, मुख्य विकास अधिकारी शशिकांत त्रिपाठी सहित अन्य संबंधित अधिकारीगण उपस्थित रहे।
सुशील केसरवानी 

सरकार ने खाका तैयार करने का कार्य शुरू किया

अतुल त्यागी
हापुड़। उत्तर प्रदेश में जल्द ही ट्रैक्टर ट्राली का प्रयोग कृषि कार्यों के अलावा अन्य कार्यों में भी अवैध रूप से किया जा सकेगा। इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक खाका तैयार करने का कार्य शुरू कर दिया है। उत्तर प्रदेश परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने सोमवार को लखनऊ में अधिकारियों के साथ एक बैठक ली और कई प्रकार की ट्रैक्टर ट्राली के निर्माण पर रोक लगाने के निर्देश दिए। अब तकनीकी अधिकारियों के द्वारा ट्राली का अनुमोदित डिजाइन तैयार कराया जायेगा इसके बाद कृषि कार्यों के अलावा अन्य कार्यों में वैध रूप से ट्रैक्टर ट्राली का प्रयोग किया जाएगा। जिसके लिए परिवहन विभाग जल्दी ही ट्राली का पंजीकरण शुरू करेगा कृषि कार्य के अलावा जितने भी व्यावसायिक कार्यों में ट्रैक्टर ट्रॉली का प्रयोग हो रहा है। वह अवैध रूप से हो रहा है। जिसको लेकर परिवहन विभाग समस्याओं का निवारण करने को लेकर अहम कदम उठाने जा रहा है।

हापुड़ में प्रशिक्षण देने के लिए योजना शुरू की

अतुल त्यागी
हापुड़। उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा नवनियुक्त ग्राम प्रधानों को हाईटेक बनाने को लेकर प्रत्येक ज़िले में प्रशिक्षण देने के लिए योजना शुरू कर दी गई। वहीं
हापुड़ जिले में नवनियुक्त ग्राम प्रधानों को हाईटेक बनाने की योजना पर बल दिया जा रहा है। 
इसके लिए ग्राम प्रधानों को लैपटॉप सीखना अवश्य होगा और प्रधानों को लैपटॉप पर कैसे कार्य करना होगा। इसके लिए प्रशिक्षण दिए जाने की तैयारियां शुरू होने जा रही है।

सांसद बृज ने 'बुलडोजर' वाले बयान पर भड़काया

हरिओम उपाध्याय        
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद बृजलाल ने समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव के 'बुलडोजर' वाले बयान पर भड़कते हुये कहा कि माफिया सरगना मुख्तार अंसारी को बचाने वाली उनकी पार्टी को अपना चुनाव चिन्ह साइकिल के स्थान पर एलएमजी रख लेना चाहिये।
सांसद बृजलाल ने बुधवार को ट्वीट किया " समाजवादी पार्टी का चुनाव चिन्ह सायकिल की जगह एलएमजी होना चाहिये जो बिलकुल उपयुक्त है अखिलेश यादव। यही एलएमजी मुख़्तार अंसारी ने कृष्णानन्द राय की हत्या के लिए मंगायी थी, जो जनवरी 2004 में एसटीएफ ने पकड़ी थी। आप के पिता श्री ने पोटा से मुख़्तार को बचा लिया था।"
राज्यसभा सांसद ने कहा " मुख़्तार के गनर मुन्नर यादव और फ़ौज से चुराकर एलएमजी लाने वाले उसके भांजे बाबूलाल यादव को 10-10 साल की सजा हो गयी। मुख़्तार पर कार्यवाही नही हुई और कृष्णानन्द राय की दिसम्बर 2005 में आप की सरकार में हत्या कर दी गई।
गौरतलब है कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन में योगी सरकार पर निशाना साधते हुये कहा था कि भाजपा को अपना चुनाव चिन्ह बुलडोजर रख लेना चाहिये। सरकार गरीबों और निर्दोषों के घरों को बुलडोजर से गिरा रही है। उन्होने धमकी भरे लहजे में कहा था कि उनकी सरकार आने पर बुलडोजर की स्टीयरिंग की दिशा बदल भी सकती है।

दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति पर फैसला लिया गया

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। राजधानी में पिछले 3 वर्षों की तरह इस वर्ष भी दीपावली के मौके पर पटाखों का धूम धड़ाका करने, सुनने और देखने को नहीं मिलेगा। राजधानी दिल्ली में पटाखों की बिक्री, भंडारण और उपयोग पर रोक रहेगी। इस आशय की घोषणा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से की है। मुख्यमंत्री ने दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति को देखते हुए यह फैसला लिया है।
ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करते हुए कहा है कि पिछले 3 साल से दीपावली के समय राजधानी दिल्ली के प्रदूषण की खतरनाक स्थिति को देखते हुए पिछले वर्ष की तरह इस साल भी राजधानी दिल्ली में हर प्रकार के पटाखों के निर्माण, भंडारण, बिक्री एवं उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जा रहा है। यह पाबंदी इसलिए लगाई गई है ताकि पटाखों से होने वाले प्रदूषण की मार से लोगों की जिंदगी को बचाया जा सके।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने एक अन्य ट्वीट में कारोबारियों से अपील की है कि पिछले साल व्यापारियों द्वारा पटाखों के भंडारण के पश्चात प्रदूषण की गंभीरता को देखते हुए सरकार की ओर से देरी से पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया था, जिससे व्यापारियों को नुकसान झेलना पड़ा था। मुख्यमंत्री ने व्यापारियों से अपील की है कि इस बार पूर्ण प्रतिबंध को देखते हुए वह किसी भी तरह के पटाखों का भंडारण और बिक्री ना करें।

नींबू के रस के साथ बनाएं जातें हैं आलू कुरकुरे

दुष्यंत टीकम        
रायपुर। सभी आलू प्रेमियों के लिए, आलू कटलेट, ब्रेड रोल, आलू पकोड़ा और आलू सैंडविच जैसे कई आलू बेस्ड डिश हैं। इस स्वादिष्ट डिश को आलू कुरकुरे कहा जाता है। इस डिश को नाश्ते के रूप में या ब्रंच के लिए परोसा जा सकता है। ये डिश रसोई के अनुकूल इनग्रेडिएंट्स जैसे आलू, आटा, हरी मिर्च, पुदीना के पत्ते, दबाए हुए चावल, नींबू के रस और सीजनिंग के साथ बनाए जाते है। इस आलू कुरकुरे रेसिपी को अपनी पसंद की चटनी और केचप के साथ गर्मा-गर्म परोसें। इस रेसिपी को पॉट लक, गेम नाइट, किटी पार्टी, बर्थडे, पिकनिक के दौरान बनाकर देखें। ये आपके बच्चे का पसंदीदा टिफिन आइटम भी हो सकता है। इस रेसिपी को जरूर ट्राई करें, इसे रेट करें और हमें बताएं कि ये कैसी बनी?
आलू कुरकुरे की सामग्री
4 सर्विंग्स
3 आलू
1 बड़ा चम्मच हरी मिर्च
1 चम्मच नींबू का रस
1/2 कप पाउडर प्रेस्ड राइस
आवश्यकता अनुसार नमक
1/2 कप मैदा
1/2 कप पुदीने के पत्ते
1 छोटा चम्मच जीरा पाउडर
आवश्यकता अनुसार रिफाइंड तेल सबसे पहले आलू को कुकर में उबाल लें। एक चॉपिंग बोर्ड पर, पुदीने के पत्ते, हरी मिर्च को काट लें। आलू उबालने के बाद पानी निकाल दीजिए, आलू को ठंडा होने दीजिए। आलू को छीलकर एक बाउल में मैश कर लें।
मैश किए हुए आलू की कटोरी में, पुदीने के पत्ते, नमक, जीरा पाउडर, नींबू का रस और हरी मिर्च डालें। इन्हें आपस में अच्छी तरह मिलाएं। मिक्सचर से बॉल्स बना लें और उन्हें एक तरफ रख दें।
एक बाउल में मैदा और पानी (आवश्यकतानुसार) डालकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। इस पेस्ट में एक-एक करके बॉल्स डुबोएं और उन्हें पाउडर चावल के गुच्छे में रोल करें। बॉल्स को चारों तरफ से अच्छी तरह कोट कर लें।
मध्यम आंच पर रखी एक कढ़ाई में तेल गर्म करें। बॉल्स को चारों तरफ से सुनहरा होने तक डीप फ्राई कर लें। इन्हें टिश्यू पेपर से ढकी प्लेट में निकाल लीजिए ताकि एक्स्ट्रा तेल निकल जाए। अपनी पसंद के डिप के साथ गर्मा-गर्म परोसें।

इन स्टेप्स को फॉलो करके आप अपने घर पर आसानी से इस आलू कुरकुरे के डिश को बना सकते हैं और अपने परिवार और दोस्तों के साथ एक छोटे गेट-टुगेदर में इसे भी हिस्सा बना सकते हैं। आलू कुरकुरे के इस डिश को खाना लोग बहुत ज्यादा पसंद करते हैं।

किसान महापंचायत का सीएम ने समर्थन किया

दुष्यंत टीकम        
रायपुर। छत्तीसगढ़ के राजिम में 28 सितंबर को प्रस्तावित किसान महापंचायत का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समर्थन किया है। उन्होंने कहा- किसान नेता यहां आ रहे हैं, उनका स्वागत है। अगर वे लोग समर्थन मांगते हैं तो निश्चित रूप से समर्थन दिया जाएगा। मुख्यमंत्री दुर्ग के उतई रवाना होने से पहले रायपुर में मीडिया से बात कर रहे थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा- दिल्ली में जो आंदोलन चल रहा था, उसको सबसे पहले हमारे राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी ने शुरू किया। पंजाब और हरियाणा में उन्होंने ट्रैक्टर से यात्राएं की। प्रियंका गांधी ने भी लगातार उत्तर प्रदेश और राजस्थान में किसान महापंचायत की। किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। उन्होंने देशव्यापी आंदोलन खड़ा किया है। किसान नेता छत्तीसगढ़ में आ रहे हैं तो उनका स्वागत है। छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ ने भगत सिंह की 125वीं जयंती और मजदूर नेता शंकर गुहा नियोगी की शहादत दिवस पर 28 सितम्बर को किसान महापंचायत का आयोजन किया है। इसमें दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे नेताओं में से राकेश टिकैत, डॉ. दर्शनपाल सिंह, योगेंद्र यादव, मेधा पाटकर और डॉ. सुनीलम जैसे किसान नेताओं को बुलाया है। इसको लेकर प्रदेश की किसान राजनीति गर्म है।
जुटेंगे 10 हजार से ज्यादा किसान किसान नेता जागेश्वर जुगनू चंद्राकर ने बताया था, किसान महापंचायत के लिए सभी सहयोगी संगठन जोर लगा रहे हैं। उन लोगों ने अभी तक आसपास के 100 से अधिक गांवों में बैठक कर ली है। किसान नेताओं का कहना है, इस महापंचायत में 10 हजार से अधिक किसानों की भीड़ जुट सकती है।
आयोजकों ने बैठक कर तय की रणनीति
किसान महापंचायत के आयोजक मंडल में शामिल तेजराम विद्रोही, गौतम बंद्योपाध्याय, पारसनाथ चंद्राकर, जागेश्वर जुगनू चंद्राकर, शत्रुघ्न साहू जैसे नेताओं ने सोमवार को रायपुर में बैठक की।
इस दौरान पंचायत के आयोजन से जुड़ी रणनीति पर चर्चा हुई। किसान नेताओं ने बताया, राजिम मंडी परिसर में तैयारी शुरू कर दिया गया है।

भारत में तीसरे चरण के ब्रिजिंग ट्रायल की मंजूरी

अकांशु उपाध्याय      
नई दिल्ली। भारत में जारी टीकाकरण के बीच रूसी वैक्सीन स्पूतनिक लाइट को भारत में तीसरे चरण के ब्रिजिंग ट्रायल की मंजूरी मिल गई है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने भारतीय आबादी पर टीके के परीक्षण को हरी झंडी दे दी है।
बता दें कि इससे पहले जुलाई में सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ऑफ द सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन  ने स्पूतनिक लाइट को इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन देने से इनकार कर दिया था। सीडीएससीओ ने रूसी वैक्सीन के स्थानीय ट्रायल को जरूरी बताया था।
कमेटी ने पाया था कि स्पूनतिक लाइट स्पूतनिक वी के कंपोनेंट-1 डेटा के ही समान थी, साथ ही भारतीय आबादी में इसका सेफ्टी और इम्युनोजेनिसिटी डेटा पहले ही ट्रायल में प्राप्त किया जा चुका था। डॉक्टर रेड्डीज लेबोरेटरी ने बीते साल रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (RDIF) के साथ भारत में स्पूनतिक वी के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए करार किया था।

हाल ही में लैंसेट में प्रकाशित एक स्टडी बताती है कि कोविड-19 के खिलाफ स्पूतनिक लाइट ने 78.6-83.7 फीसदी की प्रभावकारिता दिखाई है। यह दो डोज वाली कई वैक्सीन उम्मीदवारों की तुलना में ज्यादा है। यह स्टडी अर्जेंटीना में कम से कम 40 हजार बुजुर्गों पर की गई थी।

बारिश के चलते देश के कई राज्यों में तबाही मचीं

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। भारी बारिश के चलते देश के कई राज्यों में तबाही मची हुई है। लगातार नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है। लोगों के घरों में पानी घुस गया है। भारी बारिश की वजह से आई बाढ़ ने लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। काफी संख्या में लोगों की जान भी चली गई है। पहाड़ी इलाकों से तो भूस्खलन की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं। वहीं ओडिशा में तो स्थिति प्रत्येक दिन बिगड़ रही है। यहां पर भारी बारिश के चलते लोगों की मुश्किलें बढ़ गई है।
भारतीय मौसम विभाग ने अगले पांच दिनों के मौसम का पूर्वानुमान करते हुए बताया है कि बंगाल की खाड़ी में उत्पन्न हुए डिप्रेशन की वजह से उत्तरी छत्तीसगढ़ और उत्तरी ओडिशा पर बना डिप्रेशन अगले छह घंटों में पश्चिम, उत्तर-पश्चिम के राज्यों की ओर बढ़ जायेगा। जिसकी वजह से छत्तीसगढ़ और उसके पड़ोसी राज्यों में बारिश होगी।मौसम विभाग ने 15 तारीख के लिए जो पूर्वानुमान किया है उसके अनुसार छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और गुजरात में भारी बारिश की संभावना है. इन राज्यों के लिए विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है. जबकि उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और पंजाब के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है, यानी यहां कुछ इलाकों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। झारखंड के लोगों को 15 तारीख से बारिश से राहत मिल सकती है, हालांकि पिछले 48 घंटों से यहां लगातार बारिश हो रही है. वहीं 16 सितंबर को उत्तर भारत के अधिकतर राज्यों में बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है, जबकि मध्यप्रदेश, गुजरात के लिए आरेंज अलर्ट जारी किया गया है। नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में बारिश की संभावना है और मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है।17 सितंबर से मौसम में सुधार होगा और उत्तर भारत के कुछ राज्यों को छोड़कर अधिकतर राज्यों में मौसम खुशनुमा रहेगा। 18 सितंबर को ओडिशा में बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। इधर पिछले 24 घंटों से गुजरात के राजकोट और जामनगर जिलों में लगातार बारिश हो रही है जिसकी वजह से यहां जल प्रलय जैसी स्थिति है। अबतक 200 लोगों को रेसक्यू किया गया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी है कि बाढ़ के कारण जामनगर में एक राष्ट्रीय राजमार्ग के अलावा सौराष्ट्र क्षेत्र के राजकोट, जामनगर और जूनागढ़ जिलों से गुजरने वाले 18 राज्य राजमार्गों को बंद कर दिया गया है।
उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में पिछले 24 घंटे से बारिश हो रही है. मौसम विभाग ने बताया है कि अगले 24 घंटे में सीतापुर, मुरादाबाद, सहारनपुर, बिजनौर, एटा, बरेली, बलिया, कन्नौज, जालौन, प्रतापगढ़, बांदा, वाराणसी, बागपत और हापुड़ जिलों में बारिश की सूचना है।

स्वास्थ्य: हल्दी को पानी में मिलाकर पीने का फायदा

हल्दी कई औषधीय गुणों से भरपूर होती है। ये तो आप सभी जानते हैं। लेकिन इस गुणकारी हल्दी का इस्तेमाल लोगों ने कोरोना की पहली वेब से अपनी डाइट में ऐसे शामिल किया कि इसकी उन्हें आदत ही पड़ गई है। हल्दी का इस्तेमाल खाने में रंगत लाने के अलावा सेहत को दुरुस्त रखने के लिए भी खूब किया गया। कुछ लोगों ने हल्दी को दूध में मिलाकर पिया तो कुछ लोगों ने हल्दी को एक गिलास पानी में मिलाकर पिया। हल्दी में प्राकृतिक रूप से एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी ऑक्सीडेंट्स प्रचुर मात्रा में होते हैं। जो कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में कारगर साबित हुआ। आज हम आपको हल्दी को पानी में मिलाकर पीने से सेहत को क्या फायदा होता है ये बताएंगे।
ज्यादातर लोग दिल से संबंधित बीमारी से परेशान हैं। ऐसे में हल्दी वाले पानी को पीना आपके लिए लाभदायक होगा। जिन लोगों को हार्ट की समस्या होती है उन्हें हल्दी वाले पानी को जरूर पीना चाहिए। ये खून को गाढ़ा होने से बचाती है। जिससे हार्ट अटैक की आशंका कम होती है।
जिन लोगों को जलन या फिर शरीर के किसी हिस्से में सूजन है तो वो अपनी डाइट में हल्दी वाले पानी को शामिल करें। हल्दी कई औषधीय गुणों से युक्त होती है। हल्दी में पाया जाने वाला कुर्कुमिन तत्व सूजन और जोड़ों में होने वाले दर्द में असरदार है। इसलिए रोज सुबह एक चुटकी हल्दी को पानी में डालकर जरूर पिएं।
अगर आपको डाइजेशन की दिक्कत है तो आप रोजाना एक गिलास हल्दी वाले पानी का सेवन करें। हल्दी में एंटी ऑक्सीडेंट्स, एंटी इंफ्लेमेटी तत्व पाए जाते हैं। जो कि आपकी सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं।
लिवर की समस्या से जूझ रहे व्यक्तियों को हल्दी का पानी पीने से आराम मिलेगा। हल्दी के पानी में मौजूद टॉक्सिस लिवर सेल्स को फिर से ठीक करता है। इसके साथ ही हल्दी और पानी में मिले हुए गुण लिवर को संक्रमण से बचाने का काम करते हैं।आजकल ज्यादातर लोग बढ़े वजन की समस्या से परेशान हैं। अगर कोई मोटापे की समस्या से जूझ रहा है तो वो एक चुटकी हल्दी को पानी में डालकर पी लें। ये शरीर में आसानी से घुल जाता है। इसके साथ ही फैट बढ़ाने वाले टिश्यू को बनने से रोकता है।

पुलिस विवेचना में खामियों को देख फैसला सुनाया

हरिओम उपाध्याय     
बिलासपुर। हाईकोर्ट ने पॉक्सो एक्ट, रेप और अपहरण के एक आरोपी को जमानत पर छोड़ दिया। इस मामले में पीड़िता के पिता ने जमानत का विरोध किया था, मगर हाईकोर्ट ने पुलिस विवेचना में खामियों को देखते हुए अपना फैसला सुनाया।
यह मामला कोरबा जिले के बालको नगर इलाके से जुड़ा हुआ है, जहां रहने वाले युवक का इस युवती के साथ प्रेम संबंध है। 27 जनवरी 2021 को लड़की के पिता ने थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई और अपनी बेटी को नाबालिग बताया। पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध अपहरण, पॉक्सो एक्ट व रेप का मुकदमा दर्ज किया। आरोपी को एक माह बाद गिरफ्तार कर लिया गया और लड़की को उसके पिता के सुपुर्द कर दिया गया।
इस मामले में आरोपी युवक ने निचली अदालत में जमानत की अर्जी लगाई, जो खारिज हो गई। इसके बाद उसने हाईकोर्ट में याचिका लगाई। कोर्ट में अभियुक्त के अधिवक्ता की ओर से बताया गया कि पुलिस ने जिसे पीड़िता बताया है वह बालिग है और अपनी मर्जी से युवक के साथ गई थी। दोनों एक माह तक दिल्ली व पटना में साथ रहे हैं। एक दूसरे से दोनों प्रेम करते हैं और शादी करना चाहते हैं।
पीड़िता बालिग है और वह नहीं चाहती इस मामले में कोई कार्रवाई हो। जस्टिस आरसीएस सामंत की कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए युवती का पक्ष सुना गया। पीड़िता ने यह बात दोहराई और कहा कि वह आरोपी युवक के साथ शादी करना चाहती है। इधर युवती के पिता ने जमानत का विरोध यह कहते हुए किया कि उसकी बेटी अभी नाबालिग है। कोर्ट के संज्ञान में यह बात लाई गई कि पुलिस ने लड़की के उम्र के निर्धारण के लिये केवल सरपंच द्वारा एक जारी प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया है जिसकी वैधानिकता नहीं है। विवेचना में पीड़िता की उम्र को लेकर चूक बरती गई है।
गौरतलब है कि नाबालिगों के मामले में पीड़िता की उम्र की पुष्टि के लिए वैध दस्तावेजों की जरुरत पड़ती है। अमूमन स्कूल की अंकसूची को आधार बनाया जाता है, अन्यथा अनपढ़ होने की स्थिति में डॉक्टर के द्वारा बोन टेस्ट के आधार पर जारी प्रमाण पत्र की जरुरत होती है। मगर इस मामले में सरपंच द्वारा पीड़िता को नाबालिग बताते हुए उसकी उम्र का प्रमाणपत्र जारी कर दिया गया, जबकि वह बालिग थी।

शुल्क के लिए राशि तय करने का प्रस्ताव बनाया

दुष्यंत टीकम    
रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकारी स्कूलों में प्रवेश शुल्क के लिए राशि तय करने का प्रस्ताव बनाया गया है। जिसके मुताबिक हाई स्कूल के बच्चों से 380 रुपए और उच्चतर माध्यमिक स्कूल के बच्चों से 415 रुपए शुल्क लिया जाएगा। लोक शिक्षण आयुक्त ने स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव को यह प्रस्ताव भेजा है। बता दें कि कोरोना लॉकडाउन के दौरान प्रवेश शुल्क लेने पर रोक लगा दी गई थी। अब रोक हटाते हुए प्रवेश शुल्क लेने के लिए दिशा निर्देश जारी किया गया है।
लोक शिक्षण संचालनालय से जारी पत्र के मुताबिक़ शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए विद्यार्थियों के प्रवेश के लिए दिशा निर्देश जारी किए गए थे। जिसके बाद लोक शिक्षण संचालनालय ने पत्र जारी कर शिक्षण संस्थान बंद रहते तक किसी भी छात्र से कोई शुल्क नहीं लिए जाने के लिए आदेश जारी किया गया था। लेकिन स्कूल 26-7-2021 प्रदेश से सभी विद्यालयों को खोल दिया गया है। इसलिए अब शुल्क लेने के लिए निर्धारित कर प्रस्तावित कर दिया गया है।
पत्र के मुताबिक़ हाई स्कूल के विद्यार्थियों से निर्धारण छात्र सहायता निधि, विज्ञान क्लब निधि, बाल निधि, रेडक्रॉस निधि, क्रीडा शुल्क, विज्ञान क्लब, विज्ञान प्रयोग शुल्क और परीक्षा शुल्क को मिलाकर 380 रुपए लिया जाएगा। वही उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों से 415 रुपया शुल्क प्रस्तावित किया गया है।

पटरियों के किनारे एक अज्ञात व्यक्ति का शव मिला

हरिओम उपाध्याय    
बरेली। उत्तर प्रदेश के बरेली में आटामांडा रेलवे स्टेशन के पास पटरियों के किनारे एक अज्ञात व्यक्ति का शव मिला है। घंटों शव के पड़े रहने के बाद भी न तो जीआरपी को इसकी सूचना थी न ही सिविल पुलिस को। स्थानीय लोगों का कहना है कि जब उन्होंने सुबह शव को पड़ा हुआ देखा तो उन्होंने स्टेशन मास्टर को सूचना दी थी। मगर जीआरपी का कहना है कि उन्हें किसी भी तरह की कोई सूचना ही नहीं मिली।
खजुआ जागीर का रहने वाला बताया जा रहा 
स्थानीय लोगों को भी उस युवक की पहचान नहीं हो पा रही है। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि वह आटामांडा के ही पास के गांव खजुआ जागीर का रहने वाला है। तो कुछ लोग किसी दूसरे गांव का बता रहे है। मगर असल में युवक का नाम पता क्या है अभी तक किसी को सटीक जानकारी नहीं हो सकी है। फिलहाल पुलिस और जीआरपी दोनों मौके पर पहुंच रही है। बताया जा रहा है कि आटामांडा रेलवे स्टेशन के आस-पास का क्षेत्र सिविल पुलिस के अंडर आता है। इसलिए सभी कार्रवाई सिविल पुलिस ही करेगी।

सार्वजनिक मेलों और प्रदर्शनियों के लिए अनुमति दी

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण विभाग (डीडीएमए) ने एक आदेश जारी कर, बृहस्पतिवार से दिल्ली में सार्वजनिक मेलों और प्रदर्शनियों के लिए अनुमति दे दी है। कोविड-19 वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर लगे लॉकडाउन के कारण दिल्ली में सार्वजनिक मेलों और प्रदर्शनियों पर रोक लगा दी गई थी। प्राधिकरण ने बुधवार को जारी किए गए एक आदेश में कहा कि शहर में 16 सितंबर से व्यापार से लेकर उपभोक्ता प्रदर्शनियों को अनुमति दी जाएगी।
‘बैंक्वेट हॉल’ में ऐसी प्रदर्शनियों और मेलों को आयोजित करने की अनुमति होगी। आदेश में कहा गया है कि आठवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए दिल्ली के स्कूल अभी बंद रहेंगे। प्राधिकरण ने कहा कि वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया का सभी हितधारकों द्वारा सख्ती से पालन करने पर ही प्रदर्शनियों और मेलों की अनुमति दी जाएगी। प्राधिकरण द्वारा पहले जिन अन्य गतिविधियों पर रोक लगाई या जिनकी अनुमति दी गई, वे आदेश 30 सितंबर और एक अक्टूबर की मध्यरात्रि तक जारी रहेंगे।

नाकामियों से उबरकर इतिहास रचने में मदद मिली

बेंगलुरू। भारतीय महिला हॉकी टीम की डिफेंडर उदिता का मानना है कि वर्तमान पर फोकस करने से उनकी टीम को टोक्यो ओलंपिक में शुरूआती नाकामियों से उबरकर इतिहास रचने में मदद मिली। भारतीय महिला हॉकी टीम टोक्यो ओलंपिक में चौथे स्थान पर रही जिसने क्वार्टर फाइनल में आस्ट्रेलिया को हराया ।उदिता ने हॉकी इंडिया की एक विज्ञप्ति में कहा ,” मुझे लगता है कि पहले तीन मैचों में मिली हार के बाद वर्तमान पर फोकस करने से ही हम वापसी कर सके । इससे हमें आस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को हराने में भी मदद मिली और हमने टोक्यो में इतिहास रच डाला । ”
अपने ओलंपिक अनुभव के बारे में उन्होंने कहा ,” एक युवा खिलाड़ी के तौर पर हमने इस ऐतिहासिक अभियान से बहुत कुछ सीखा । हमने जाना कि दबाव का सामना कैसे किया जाता है और कैसे वर्तमान पर फोकस करने से मदद मिलती है ।” हिसार में जन्मी यह खिलाड़ी इस समय बेंगलुरू के भारतीय प्राधिकरण केंद्र में सीनियर महिला टीम की 25 संभावित खिलाड़ियों के शिविर में है।

एनटीए ने जेईई मेन 2021 के नतीजे जारी किए

अकांशु उपाध्याय       
नई दिल्ली। नेशनल टेस्ट एजेंसी (एनटीए) ने जेईई मेन 2021 के नतीजे जारी कर दिए। जिसमें कुल 44 उम्मीदवारों को 100 फीसदी अंक मिले हैं।
शिक्षा मंत्रालय के अधिकारियों की ओर से मंगलवार देर रात यह जानकारी दी गई है। कुल 44 उम्मीदवारों को सौ फीसदी अंक मिले हैं जबकि 18 उम्मीदवारों को टॉप रैंक मिला है। 
उन्होंने कहा कि टॉप करने वाले 18 उम्मीदवारों में आंध्र प्रदेश से चार, राजस्थान से तीन, दिल्ली से दो, उत्तर प्रदेश से दो, तेलंगाना से दो, महाराष्ट्र से एक, पंजाब से एक, चंडीगढ़ से एक, बिहार से एक और कर्नाटक से एक छात्र शामिल है।

पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे भूपेंद्र के नए मंत्री

अहमदाबाद। गुजरात में भूपेंद्र पटेल सरकार के नए मंत्री आज यानी बुधवार को दोपहर बाद पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे। भाजपा की राज्य इकाई के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता यमल व्यास ने बताया कि नए मंत्रियों के नाम अभी घोषित नहीं हुए हैं, ये मंत्री राजधानी गांधीनगर में दोपहर दो बजे के बाद शपथ लेंगे।
मुख्यमंत्री पद से विजय रूपाणी के गत शनिवार को अचानक इस्तीफा देने के बाद सोमवार को केवल भूपेंद्र पटेल (59) ने शपथ ली थी। भारतीय जनता पार्टी की गुजरात इकाई के प्रमुख भूपेंद्र यादव नए मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने वाले लोगों के नाम तय करने के लिए पिछले दो दिनों से गांधीनगर में लगातार बैठकें कर रहे हैं।
ऐसी अटकलें हैं कि पटेल अपने मंत्रिमंडल में कई नए चेहरों को शामिल करेंगे और कई पुराने नेताओं को युवा नेताओं के लिए जगह खाली करनी पड़ सकती है। पटेल को रविवार को सर्वसम्मति से भाजपा विधायक दल का नेता चुना गया था और सोमवार को गांधीनगर में राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने उन्हें राज्य के 17वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई थी। पटेल को गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश की वर्तमान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का करीबी माना जाता है।
उन्हें मुख्यमंत्री बनाये जाने के पीछे यह भी एक कारण माना जा रहा है। ऐसे में जब दिसंबर 2022 में राज्य विधानसभा चुनाव होने की उम्मीद है, भाजपा ने चुनाव में जीत के लिए पटेल पर भरोसा जताया है, जो कि एक पाटीदार हैं। साल 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने राज्य विधानसभा की 182 सीटों में से 99 सीटें जीतीं थी, जबकि कांग्रेस को 77 सीटें मिली थीं।

138 देशों में 9,657 जानकारियों को शामिल किया

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। भारत में उच्च इंटरनेट पहुंच दर, सोशल मीडिया के बढ़ते इस्तेमाल और उपयोगकर्ताओं में इंटरनेट साक्षरता की कमी के कारण कोविड-19 के संबंध में सोशल मीडिया पर सबसे अधक गलत जानकारी दी गई। एक नए अध्ययन में यह दावा किया गया है। अध्ययन का शीर्षक ‘प्रिवलेंस एंड सोर्स एनलाइसिस ऑफ कोविड-19 मिसइंर्फोमेशन इन 138 कंट्रीज’ था, जो ‘सेज इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ लाइब्रेरी एसोसिएशंस एंड इंस्टीट्यूशंस’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ।
अध्ययन में 138 देशों में प्रकाशित 9,657 गलत जानकारियों को शामिल किया गया। विभिन्न देशों में गलत सूचना के प्रसार और स्रोतों को समझने के लिए 94 संगठनों ने इनके तथ्यों की जांच की। अध्ययन में कहा गया, ”सभी देशों में से, भारत में सोशल मीडिया पर सबसे अधिक 18.07 प्रतिशत गलत जानकारी दी गई, जिसका कारण शायद देश की उच्च इंटरनेट पहुंच दर, सोशल मीडिया के इस्तेमाल में वृद्धि और उपयोगकर्ताओं में इंटरनेट साक्षरता की कमी है।”
परिणामों के आधार पर, अध्ययन में कहा गया है, ऐसा माना जाता है कि कोविड-19 संबंधी गलत सूचना के प्रसार का वैश्विक महामारी की स्थिति के साथ संबंध हो सकता है। अध्ययन में कहा गया, ”सोशल मीडिया सबसे अधिक 84.94 प्रतिशत गलत जानकारी फैलाता है और इंटरनेट कोविड-19 संबंधी गलत जानकारी देने के लिए 90.5 प्रतिशत जिम्मेदार है।
इनके अलावा, सोशल मीडिया मंचों में केवल फेसबुक के जरिए ही 66.87 प्रतिशत गलत जानकारी दी गई ।” इससे पहले, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी चेतावनी दी थी कि कोविड-19 के संबंध में गलत जानकारी फैल रही है और यह लोगों को खतरे में डाल रही है। डब्ल्यूएचओ ने लोगों से आग्रह किया था कि वे जो कुछ भी सुनते हैं, उसकी विश्वसनीय स्रोतों से दोबारा जांच करें।

24 से शुरू होगा आईफोन 13 प्रो मैक्स का ऑर्डर

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। भारत में प्रीमियम मोबाइल फोन एप्पल के दीवाने 24 सितंबर से आईफोन 13, आईफोन 13 मिनी, आईफोन 13 प्रो और आईफोन 13 प्रो मैक्स हासिल कर सकेंगे, जिनकी शुरुआती कीमत 69,900 रुपये से शुरू है। एप्पल ने एक बयान में कहा, ”ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, चीन, जर्मनी, भारत, जापान, ब्रिटेन, अमेरिका और 30 से अधिक अन्य देशों तथा क्षेत्रों के ग्राहक आईफोन 13 प्रो और आईफोन 13 प्रो मैक्स का प्री-ऑर्डर दे सकते हैं, जिसकी आपूर्ति 24 सितंबर शुक्रवार से शुरू होगी।”
एप्पल ने कहा कि ग्राहक आईफोन 13 प्रो को 1,19,900 रुपये (से लेकर) में और आईफोन 13 प्रो मैक्स को 1,29,900 रुपये (से लेकर) में ऐपल के ऑनलाइन स्टोर से खरीद सकते हैं। आईफोन 13 की कीमत 79,900 रुपये और आईफोन 13 मिनी की कीमत 69,900 रुपये है।
एप्पल ने हाल में बताया था कि भारत और लैटिन अमेरिकी जैसे बाजारों में उसने दो अंकों की मजबूत वृद्धि हासिल की है। इसके साथ ही जून तिमाही में कंपनी की आय बढ़कर 81.4 अरब अमेरिकी डॉलर हो गई, जो एक रिकॉर्ड है।
एप्पल ने जून 2021 तिमाही में 21.7 अरब डॉलर की शुद्ध आय हासिल की, जबकि एक साल पहले की समान अवधि में यह आंकड़ा 11.2 अरब डॉलर था। इस दौरान कंपनी की कुल बिक्री 59.6 अरब अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 81.4 अरब अमेरिकी डॉलर हो गई। ये वैश्विक आंकड़े हैं और अलग-अलग देशों के आधार पर वित्तीय आंकड़े पेश नहीं किए।

1 सैकड़ा से भी अधिक इंस्पेक्टरों के तबादले किए

हरिओम उपाध्याय     
मेरठ। मेरठ परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक ने तबादला एक्सप्रेस चलाते हुए एक सैकड़ा से भी अधिक इंस्पेक्टरों के तबादले कर दिए हैं। थोक के भाव किए गए इंस्पेक्टरों के इन तबादलों से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है।
बुधवार को मेरठ परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक प्रवीण कुमार की ओर से पिछले काफी समय से एक ही जनपद में जमा सौ से भी अधिक इंस्पेक्टरों के तबादले किए गए हैं। बड़े पैमाने पर किए गए इंस्पेक्टरों के तबादलों से विभाग में अफरा-तफरी की फैल गई है। पुलिस महानिरीक्षक ने जनपद मेरठ में तैनात इंस्पेक्टर अंजु सिंह को बागपत, अवधेश कुमार माहोर को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर आनंद प्रकाश मिश्र को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान सिद्दीकी को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर बृजेश कुमार को मेरठ से हापुड, इंस्पेक्टर अशोक कुमार को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर बृजेश कुमार सिंह को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर बृजेश कुमार कुशवाहा को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर भूपेंद्र सिंह को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर भरत लाल शाह को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर धनुष कुमारी को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर देवेश कुमार शर्मा को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह राठौर को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर इंद्रपाल सिंह को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर जनक सिंह को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर जितेंद्र कुमार को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर किरण पाल सिंह को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर मुकेश कुमार को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर मनीष बिष्ट को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर नरेंद्र प्रसाद को मेरठ से हापुड़, इंस्पेक्टर नजीर अली खां को मेरठ से हापुड़, इंस्पेक्टर प्रहलाद सिंह यादव को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर प्रेमचंद शर्मा को मेरठ से बुलंदशहर, प्रदीप ढोडीयाल को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार को मेरठ से हापुड़, इंस्पेक्टर ऋषि पाल शर्मा को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर रघुराज सिंह गुर्जर को मेरठ से हापुड़, इंस्पेक्टर राम संजीवन को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर राजेंद्र कुमार त्यागी को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर सुबोध कुमार यादव को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर संध्या वर्मा को मेरठ से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर सत्यवीर सिंह को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर को मेरठ से बागपत, इंस्पेक्टर योगेंद्र पाल को मेरठ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर संदीप कुमार सिंह को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर संजीव कुमार शर्मा को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर अरविंद कुमार सिंह को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर उमेश पंवार को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर राजेश चतुर्वेदी को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर जितेंद्र कुमार सिंह को गाजियाबाद से हापुड, इंस्पेक्टर लक्ष्मण वर्मा को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर अनिल कुमार शाही को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर विष्णु कुमार कौशिक को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर नीरज कुमार सिंह को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर अशोक पाल सिंह को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर दलीप सिंह को गाजियाबाद से हापुड़, इंस्पेक्टर बबीता तोमर को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर राजीव कुमार को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर रण सिंह को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर ओमप्रकाश सिंह को गाजियाबाद से बागपत, इंस्पेक्टर मदन पाल को गाजियाबाद से बागपत, इंस्पेक्टर शैलेंद्र प्रताप सिंह को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर अजय कुमार सिंह को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर संजय कुमार पांडे को गाजियाबाद से हापुड़ इंस्पेक्टर वीरेंद्र सिंह बेचारे को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर महेंद्र सिंह को गाजियाबाद से हापुड़, इंस्पेक्टर सुनीता राणा को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर मोहम्मद असलम को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर देवेंद्र सिंह बिष्ट को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर हरिओम सिंह को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर ओम प्रकाश आर्य को गाजियाबाद से बागपत, इंस्पेक्टर प्रतिभा सिंह को गाजियाबाद से मेरठ, इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार को गाजियाबाद से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर शैलेंद्र मुरारी दीक्षित को गाजियाबाद से बागपत, इंस्पेक्टर मिथिलेश कुमार उपाध्याय को गाजियाबाद से हापुड़, इंस्पेक्टर अल्ताफ अंसारी को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर आनंद कुमार गौतम को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर वीरेंद्र कुमार शर्मा को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर योगेंद्र सिंह को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर नरेश कुमार शर्मा को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर राजेश कुमार रोहिल्ला को बुलंदशहर से गाजियाबाद, जितेंद्र कुमार तिवारी को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर अखिलेश कुमार गौड़ को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर महेश राठौर को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर सत्येंद्र कुमार को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर ब्रजकिशोर को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर जयवीर सिंह को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर दिनेश चंद्र शर्मा को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार शर्मा को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर अवधेश कुमार त्रिपाठी को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर राज किशोर को बुलंदशहर से हापुड़, इंस्पेक्टर योगेंद्र कुमार को बुलंदशहर से हापुड़, इंस्पेक्टर विवेक शर्मा को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर बच्चन सिंह को बुलंदशहर से हापुड़, इंस्पेक्टर जितेंद्र कुमार सिंह को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर वेद राम को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर कटार सिंह को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर रमाकांत यादव को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर रामवीर सिंह को बुलंदशहर से मेरठ, इंस्पेक्टर योगेंद्र मलिक को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर दीक्षित कुमार त्यागी को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर धनेंद्र कुमार यादव को बुलंदशहर से हापुड़, इंस्पेक्टर ध्रुव भूषण दुबे को बुलंदशहर से हापुड, इंस्पेक्टर राजेश कुमार यादव को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर सचिन कुमार को बुलंदशहर से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर अरविंद कुमार को बागपत से मेरठ, इंस्पेक्टर शिव प्रकाश सिंह को बागपत से मेरठ, इंस्पेक्टर चमन प्रकाश शर्मा को बागपत से मेरठ, इंस्पेक्टर संजीव कुमार को बागपत से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर मुनेंद्र पाल सिंह को बागपत से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर अवधेश कुमार को बागपत से मेरठ, इंस्पेक्टर अजय कुमार शर्मा को बागपत से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर संतोष कुमार को हापुड़ से मेरठ, इंस्पेक्टर कौशलेंद्र यादव को हापुड़ से मेरठ, इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह को हापुड़ से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर दिनेश सिंह यादव को हापुड़ से मेरठ, इंस्पेक्टर आदेश गौड को हापुड़ से मेरठ, इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सक्सेना को हापुड़ से मेरठ, इंस्पेक्टर उत्तम सिंह राठौर को हापुड़ से मेरठ, इंस्पेक्टर राजपाल सिंह को हापुड से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर राजेंद्र कुमार को हापुड से बुलंदशहर, इंस्पेक्टर योगेश बालियान को हापुड से गाजियाबाद, इंस्पेक्टर अजय कुमार को हापुड़ से गाजियाबाद तथा इंस्पेक्टर सुरेंद्र सिंह को हापुड से तबादला करते हंए बुलंदशहर भेजा गया है।

कामकाजी महिलाओं का प्रतिशत लगातार बढ़ा

रांची। महिला सशक्तीकरण के दौर में महिलाओं में कामकाजी महिलाओं का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है। वे स्वावलंबी हो रही हैं और इससे पारिवारिक आर्थिक ढांचे में सुधार भी हो रहा है। मगर इसका खमियाजा महिलाओं की सेहत को भुगतना पड़ रहा है। दिल्ली, मुंबई समेत देश के सात बड़े शहरों में किए गए एक सर्वे में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। 'द इंडियन विमिन हेल्थ'  की वर्ष 2021 की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में कामकाजी महिलाओं की सेहत ठीक नहीं है। करीब 67 प्रतिशत महिलाएं अपनी सेहत से जुड़ी समस्याओं पर चर्चा करने से भी हिचकती हैं। नि:संदेह वे घुट-घुटकर अपनी व्याधियों और रोगों से मुकाबला कर रही होंगी।
 59% महिलाएं सेहत संबंधी समस्याओं से छोड़ देती हैं नौकरी
रिपोर्ट के अनुसार 22 से 55 वर्ष की उम्र की 59 प्रतिशत कामकाजी महिलाएं अपनी सेहत संबंधी परेशानियों के कारण नौकरी छोड़ देती हैं। दूसरा कारण बॉस का अच्छा व्यवहार नहीं होना। 90% महिलाओं को पारिवारिक दायित्व के कारण परेशानी होती है। 52% प्रतिशत महिलाओं के पास नौकरी और फैमिली रिस्पांसिबिलिटी के साथ खुद को स्वस्थ रखने का समय नहीं मिलता।
रिपोर्ट के अनुसार देश में महिलाएं वर्कप्लेस पर सेहत से जुड़ी समस्याओं - पीरियड्स ब्रेस्ट कैंसर गर्भाशय समेत कई समस्याओं पर बात करने से हिचकी जाती है। महिलाओं का कहना है कि जब हमारी सेहत की बात आती है, तो 80 फ़ीसदी पुरुष सहयोगी संवेदनशील नहीं होते हैं।
दोहरा बोझ झेल रही हैं कामकाजी महिलाएं।
क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉ भाग्यश्री कर का कहना है कि सिर्फ लाइफस्टायल डिसॉर्डर ही नहीं बल्कि कामकाजी महिलाएं अन्य बीमारियों की चपेट में जल्दी आ जाती हैं। सेहत के प्रति लापरवाही भी इसके लिए जिम्मेदार है। लापरवाही की बात को नकारते हुए कविता दास नौकरी और घर के बीच सामंजस्य को मुश्किल मानती हैं। उनके अनुसार, "खुद के सेहत के लिए समय निकाल पाना मुश्किल है। खासतौर पर जब सास ससुर भी साथ रहते हैं।
 डॉ भाग्यश्री के अनुसार देश में महिलाओं में पॉलीसिस्टिस ओवेरिन सिंड्रोम यानी पीसीओएस की शिकायतें भी बढ़ रही हैं. यह समस्या कामकाजी महिलाओं में ज्यादा पायी जाती है. वे कहती हैं कि पीसीओएस से ग्रस्त हो जाने पर मरीज बार-बार बीमार पड़ता है। इससे महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है। दोहरी जिम्मेदारियों की बोझ के चलते तनाव एवं अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से घिर चुकी महिलाओं को अब अपने लिए समय निकालने की जरूरत है।
महिला सशक्तीकरण के दौर में महिलाओं में कामकाजी महिलाओं का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है। वे स्वावलंबी हो रही हैं और इससे पारिवारिक आर्थिक ढांचे में सुधार भी हो रहा है। मगर इसका खमियाजा महिलाओं की सेहत को भुगतना पड़ रहा है। इस सीजन में दूसरी बार खोला गया कांके डैम का फाटक, खतरे के निशान पर पहुंचा पानी।
इस मानसून सीजन में कांके (गोंदा) डैम का फाटक दूसरी बार खोला गया। इसके पहले 29 जुलाई को डैम का लेबल 27 फीट क्रॉस करने पर खोला गया था। बुधवार को अहले सुबह डैम का लेबल 27.8 फीट हो जाने पर तीनों फाटक खोल दिया गया। फिलहाल डैम का लेबल 27.2 फीट पर स्थिर बना हुआ है।  डैम की क्षमता 28 फीट है, मगर साढ़े 27 क्रॉस करने पर इसे सुरक्षा के लिहाज से खोल दिया जाता है।

रोहित शर्मा को कप्तान बनाए जाने का समर्थन किया

अकांशु उपाध्याय    
नई दिल्ली। पिछले कुछ दिनों से लिमिटिड ओवर्स क्रिकेट में विराट कोहली की कप्तानी को लेकर सवालों का दौर चल रहा है। बीसीसीआई हालांकि कोहली के कप्तान बने रहने की बात कह चुका है। लेकिन भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी मदन लाल ने कोहली की बजाए रोहित शर्मा को कप्तान बनाए जाने का समर्थन किया है। मदन लाला का दावा है कि इस कदम से विराट कोहली का दबाव कम होगा।
मदन लाल ने कहा कि रोहित शर्मा के पास कप्तानी का अच्छा अनुभव है। उन्होंने कहा, ''यह एक अच्छा विकल्प होगा। हम लोग फिलहाल बेहतर स्थिति में हैं। हम लोग भाग्यशाली हैं कि हमारे पास रोहित शर्मा हैं और जब भी विराट कोहली को लगे कि वह एक या दो फॉर्मेट में ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं, उस वक्त रोहित आ सकते हैं और उनके पास काफी अनुभव है।
मिलने की बात कही है. पूर्व खिलाड़ी ने कहा, "मुझे लगता है कि इससे भारत को फायदा मिलेगा। मैंने पढ़ा है कि कोहली शायद वनडे और टी20 की कप्तानी छोड़ेंगे क्योंकि वह अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं जो अच्छी योजना है। मुझे नहीं पता यह महज अफवाह है या क्या है लेकिन विभाजित कप्तानी की योजना भारत को फायदा पहुंचाएगी। यह निर्भर करता है कि कोहली फिलहाल क्या सोच रहे है। भारत एक टीम के रूप में अच्छा कर रही है और यह हमने हाल ही में इंग्लैंड में देखा है। देखना होगा क्या होता है।
कोहली के टी20 वर्ल्ड कप के बाद लिमिटिड ओवर्स से कप्तानी छोड़ने का दावा किया गया था। लेकिन बीसीसीआई ने इन खबरों को खारिज कर दिया। बीसीसीआई ने कहा जब तक टीम विराट कोहली की अगुवाई में अच्छा प्रदर्शन कर रही है तब तक कप्तान बदलने का सवाल ही पैदा नहीं होता है।

बॉलीवुड में कमबैक करने जा रहे अभिनेता फरदीन

कविता गर्ग        

मुंबई। जाने-माने अभिनेता फरदीन खान बॉलीवुड में कमबैक करने जा रहे हैं। फरदीन खान काफी समय से फिल्मों से दूर हैं। फरदीन बॉलीवुड में कमबैक करने जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि फरदीन ने अपनी अगली फिल्म भी साइन कर ली है। फरदीन की इस कमबैक फिल्म को संजय गुप्ता बनाने जा रहे हैं। इस फिल्म का नाम 'विस्फोट' होगा और इसमें फरदीन के साथ रितेश देशमुख भी नजर आएंगे। इससे पहले फरदीन खान वर्ष 2010 में प्रदर्शित फिल्म 'दूल्हा मिल गया' में नजर आए थे। फरदीन की यह कमबैक फिल्म वेनुजुएला की 2012 में रिलीज हुई फिल्म 'रॉक, पेपर, सिजर्स' का ऑफिशल हिंदी रीमेक है।

अफगानिस्तान पर नियंत्रण से चिंता में हैं सऊदी

नई दिल्ली/ रियाद/ काबुल। भारत के सहयोगी दो बड़े खाड़ी देश सऊदी अरब और यूएई तालिबान के अफगानिस्तान पर नियंत्रण से चिंता में हैं। ये मसला सऊदी अरब के लिए कितना अहम है कि इस हफ्ते के अंत में सऊदी विदेश मंत्री प्रिंस फैजल बिन फरहान के भारत का दौरा करने की उम्मीद है।

दरअसल, ये देश अफगानिस्तान में तालिबान सरकार के गठन और उसे कानूनी मान्यता देने में कतर की भूमिका को लेकर परेशान हैं। सऊदी अरब का मानना है कि तालिबान के आने के बाद क्षेत्र में सिक्युरिटी से जुड़े मसले पैदा हो सकते हैं।

दोनों खाड़ी देश अफगानिस्तान में कतर, पाकिस्तान और तुर्की की सक्रिय भूमिका को लेकर चिंता में है। पाकिस्तान ने अपनी कमर्शियल फ्लाइट्स का संचालन काबुल के लिए शुरू कर दिया है। काबुल एयरपोर्ट के टेक्निकल ऑपरेशन का जिम्मा कतर संभाल रहा है, जबकि तालिबान सरकार सिक्युरिटी का जिम्मा तुर्की आर्मी को देने के बारे में सोच रही है।  

राजनीति: इजरायल ने ईरान पर लगाया बड़ा इल्ज़ाम

येरूशलम। इजरायल ने ईरान पर बड़ा इल्ज़ाम लगाया है। इजरायल ने कहा है कि ईरान, इशफहान शहर के करीब स्थित एक एयरबेस पर विदेशी लड़ाकों को ड्रोन उड़ाने की ट्रेनिंग दे रहा है। इजरायल के रक्षा मंत्री की तरफ से यह आरोप ईरान पर ऐसे समय में लगाया गया है। जब एक महीने पहले ही तेहरान पर ओमान में इजरायली टैंकर पर ड्रोन हमले का शक किया गया था।

इजरायल के रक्षा मंत्री बेनी गैंट्ज के ऑफिस की तरफ से उनके बयान को नया खुलासा करार दिया गया है। गैंट्ज ने रविवार को कहा था कि ईरान काशान एयरबेस का प्रयोग कर रहा है। उनका कहना था कि इशफहान के उत्तर में स्थित इस एयरबेस पर यमन, इराक, सीरिया और लेबनान के आतंकियों को ईरान के बने ड्रोन उड़ाने की ट्रेनिंग दी जा रही है। उन्होंने इसके साथ ही यह भी कहा है कि ईरान इस बात की जानकारी भी दे रहा है कि गाजा पट्टी पर यूएवी को मैन्युफैक्चर करने की मंजूरी कैसे मिलेगी।

गैंट्ज ने तेल अवीव के करीब राशमैन यूनिवर्सिटी में एक कॉन्फ्रेंस के दौरान यह बात कही है। गैंट्ज के ऑफिस की तरफ से कुछ सैटेलाइट तस्वीरों का हवाला दिया गया है। जिसमें काशान के रनवे पर कुछ यूएवी नजर आ रहे हैं। अभी तक ईरान ने इस पर कोई भी टिप्पणी नहीं की है।  

सिद्धार्थ ने फिल्म मिशन मजनू की शूटिंग पूरी की

कविता गर्ग         

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा ने फिल्म मिशन मजनू की शूटिंग पूरी कर ली है। सिद्धार्थ मल्होत्रा ने आरएसवीपी और गिल्टी बाय एसोसिएशन मीडिया की आने वाली जासूसी थ्रिलर फिल्म मिशन मजनू की शूटिंग पूरी कर ली है। सिद्धार्थ मल्होत्रा इस फिल्म में ​​​एक रॉ एजेंट की भूमिका निभाएंगे, जो पाकिस्तानी धरती पर भारत के गुप्त ऑपरेशन का नेतृत्व करते हैं।

फिल्म निर्माता अमर बुटाला ने कहा, "इस चुनौतीपूर्ण समय में शूटिंग करने के बावजूद, हमें बेहद खुशी है कि हमने सिद्धार्थ के हिस्से की शूटिंग अपने निर्धारित समय में पूरी की है। सिड के साथ काम करके बेहद खुशी हुई है और उन्होंने इस फिल्म को अपने तरीके से बेहद खास बना दिया है।"

गौरतलब है कि रॉनी स्क्रूवाला, अमर बुटाला और गरिमा मेहता (गिल्टी बाय एसोसिएशन मीडिया) द्वारा निर्मित फिल्म मिशन मजनू को, परवेज़ शेख, असीम अरोरा, और सुमित बठेजा ने लिखा है। शांतनु बागची निर्देशित इस फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और रश्मिका मंदाना ,शारिब हाशमी और कुमुद मिश्रा नजर आएंगे।

यूके: पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश की चेतावनी जारी की

पंकज कपूर     
देहरादून। मौसम विभाग ने 15 सितंबर को कुमाऊं मंडल के अधिकांश पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश की चेतावनी जारी की है। जिसमें नैनीताल, बागेश्वर व पिथौरागढ़ ,बागेश्वर जनपदों में कहीं कहीं तीव्र बौछार व भारी बारिश हो सकती है। 16 को पौड़ी, नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिले में कहीं कहीं तीव्र बौछार, भारी बारिश हो सकती है। 17 सितंबर को कुमाऊं एवं गढ़वाल मंडल के पर्वतीय क्षेत्रों में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना है। जिनमें पौड़ी, नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं तीव्र बौछार व भारी बारिश का येलो अलर्ट रहेगा।

गांव सादी खुर्द का नाम बदलकर शाचीपुरम को मंजूरी

हरिओम उपाध्याय       
लखनऊ। केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश में वाराणसी के पास जौनपुर जिले में गांव सादी खुर्द का नाम बदलकर शाचीपुरम करने को मंजूरी दे दी है। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि उन्नाव के पास सादा परगना हसनगंज का नाम दामोदर नगर और मुरादाबाद के पास ग्राम सरकड़ा खास का नाम बदलकर सारका बिश्नोई करने के यूपी सरकार के दो और प्रस्ताव विचाराधीन हैं।

नाम बदलने का इस साल मार्च-अप्रैल में प्रस्ताव दिया गया था। 2022 के चुनावों से पहले, योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार और अधिक नाम बदलने का अनुरोध केंद्र से कर सकती है। यूपी सरकार के विचाराधीन प्रस्तावों में फिरोजाबाद जिले का नाम चंद्र नगर, संभल का नाम पृथ्वीराज नगर या कल्कि नगर, देवबंद का नाम देववरंद और सुल्तानपुर का नाम कुशभवनपुर रखना है। यूपी सरकार के एक अधिकारी ने कहा कि प्रस्ताव को पहले राज्य सरकार द्वारा जांचा जाएगा और फिर अंतिम मंजूरी के लिए केंद्र को सिफारिश की जाएगी।

यूपी के अलावा, गृह मंत्रालय ने सतारा में न्हवी बीके का नाम बदलकर जयपुर करने के महाराष्ट्र सरकार के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा है। "इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी), भारतीय भौगोलिक सर्वेक्षण (जीएसआई), डाक विभाग और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की फील्ड इकाइयों से रिपोर्ट मांगने के बाद अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) जारी किया गया था।"

मंत्रालय ने पहले ब्रिटिश युग के रेलवे स्टेशन रॉबर्ट्सगैंग का नाम सोनभद्र, मथुरा के पास फराह टाउन रेलवे स्टेशन, इलाहाबाद शहर को प्रयागराज और प्रतिष्ठित मुगलसराय जंक्शन का नाम भारतीय जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय (डीडीयू) के नाम पर रखने को मंजूरी दी थी।

राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया

पंकज कपूर      
देहरादून। उत्तराखंड के नवनियुक्त राज्यपाल के शपथ ग्रहण को लेकर बुधवार को राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया गया। जहाँ लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत) गुरमीत सिंह ने राज्यपाल पद की शपथ ली। उच्च न्यायालय नैनीताल के मुख्य न्यायाधीश राघवेंद्र सिंह चौहान ने नवनियुक्त राज्यपाल को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। शपथ कार्यक्रम के दौरान, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, कई कैबिनेट मंत्री समेत शासन के आला अधिकारी और सेना से जुड़े तमाम अधिकारी भी मौजूद रहे।
आपको बता दें कि राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के इस्तीफे के बाद लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह को उत्तराखंड का राज्यपाल बनाया गया है। उन्हें चीन मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है और करीब चार दशकों तक सैन्य सेवा के बाद फरवरी 2016 में सेवा निर्मित हुए गुरमीत सिंह ने बुधवार को राज्यपाल पद की शपथ ली। राज्य गठन के बाद बतौर 8वे राज्यपाल के रूप में गुरमीत सिंह ने शपथ ली।

बढ़ती हुई धार्मिक कट्टरता के प्रति चिंता जाहिर की

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने समाज में बढ़ती हुई धार्मिक कट्टरता के प्रति जो चिंता जाहिर की है।  वो एक तरह से तमाम राजनीतिक दलों के लिए ये संदेश है कि वे देश की राजनीति को किस तरफ ले जा रहे हैं। लिहाज़ा ये नसीहत देने के लिए उन्हें स्वामी विवेकानंद के ऐतिहासिक व सबसे चर्चित भाषण का सहारा लेना पड़ा।
आमतौर पर न्यायाधीश अपने कोर्टरूम से बाहर सार्वजनिक रूप से अपने विचार व्यक्त करने से बचते हैं लेकिन चीफ जस्टिस रमन्ना की तारीफ इसलिये की जानी चाहिए कि उन्होंने समाज के ऐसे ज्वलंत मुद्दे पर मुखरता से अपनी बात कही है जो सांप्रदायिकता एक सभ्य समाज के लिए आज नासूर बनती जा रही है।
दरअसल,रमन्ना ने रविवार को हैदराबाद के विवेकानंद इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन एक्सीलेंस के 22वें स्थापना दिवस समारोह को वर्चुअल तरीके से संबोधित करते हुए ये चिंता जाहिर की है। महान दार्शनिक स्वामी विवेकानंद के 128 साल पहले शिकागो की धर्म-संसद में दिए गए ऐतिहासिक भाषण को याद करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब आज धार्मिक कट्टरवाद उफान पर है। स्वामी विवेकानंद के पुनरुत्थानशील भारत के सपने को सामान्य भलाई और सहिष्णुता के सिद्धांतों तथा धर्म को अंधविश्वासों व कट्टरता से ऊपर रखकर ही प्राप्त किया जा सकता है।
दर्शन का विज्ञान कहता है कि एक महान दार्शनिक भले ही एक अच्छा भविष्यवक्ता न हो लेकिन वह आने वाले समय में होने वाली बड़ी घटनाओं का अहसास पहले ही कर लेता है।  विवेकानंद की गिनती भी संसार के ऐसे महान दार्शनिकों में होती है जिन्हें 54 वर्ष पहले यानी 1893 में ही ये आभास हो गया था कि एक दिन धर्म व साम्प्रदायिकता के आधार पर भारत का भी विभाजन हो सकता है। साथ ही उनके विदा होने के बाद 1947 में वही हुआ भी। शायद इसीलिये धर्म संसद में दिए गए अपने भाषण में उन्होंने भविष्य के ऐसे खतरों का उल्लेख किया था।
प्रधान न्यायाधीश ने अपने भाषण में कहा कि “उस समय विवेकानंद ने अपने संबोधन में समाज में निरर्थक सांप्रदायिक मतभेदों से देश व सभ्यता को होने वाले खतरे का विश्लेषण किया था। साथ ही भारत के समतावादी संविधान के निर्माण का कारण बने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हुए सांप्रदायिक संघर्ष से बहुत पहले ही उन्होंने धर्मनिरपेक्षता की ऐसी वकालत की थी मानो उन्हें आने वाले समय का पूर्वाभास हो चुका था। विवेकानंद द्वारा की गई धर्म की व्याख्या का जिक्र करते हुए रमन्ना ने कहा- विवेकानंद का दृढ़ विश्वास था कि धर्म का असली सार भलाई और सहिष्णुता में है। धर्म को अंधविश्वास और कट्टरता से ऊपर होना चाहिए। सामान्य भलाई और सहिष्णुता के सिद्धांतों के माध्यम से दोबारा उठ खड़े होने वाले भारत के निर्माण का सपना पूरा करना है तो हमें आज के युवाओं के अंदर स्वामी जी के आदर्शों को स्थापित करने का काम करना चाहिए।
अमेरिका के शिकागो में दिए गए विवेकानंद के उस भाषण ने ही सम्पूर्ण विश्व को भारत के वेद दर्शन को समझने की लालसा पैदा की थी और उस एक भाषण ने ही दुनिया के धार्मिक नक्शे पर भारत की अमित छाप छोड़ी। वेदांत के संबंध में विवेकानंद के अद्भुत ज्ञान-भंडार का उल्लेख करते हुए रमन्ना ने कहा, “स्वामी विवेकानंद के संबोधन ने पूरे विश्व का ध्यान पुरातन भारत के वेदों के दर्शन की तरफ आकर्षित किया था।
उन्होंने व्यावहारिक वेदांत को लोकप्रिय बनाया, क्योंकि यह सभी के लिए प्रेम, करुणा और समान सम्मान का उपदेश देता है। रमन्ना ने ये भी कहा कि स्वामी विवेकानंद की शिक्षाएं और सिद्धांत आने वाले सभी काल के लिए बेहद प्रासंगिक हैं। लेकिन बड़ा सवाल है कि धार्मिक कट्टरता को बढ़ाने वाली ताकतें क्या चीफ जस्टिस की बातों से ले पायेंगी कोई नसीहत।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-396 (साल-02)
2. ब्रहस्पतिवार, सितंबर 16, 2021
3. शक-1984,सावन, शुक्ल-पक्ष, तिथि-दसमीं, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:44, सूर्यास्त 07:10।
5. न्‍यूनतम तापमान -24 डी.सै., अधिकतम-35+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेंगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एसडीएम ने किसानों का धरना समाप्त कराया

एसडीएम ने किसानों का धरना समाप्त कराया आदर्श श्रीवास्तव लखीमपुर खीरी। अपनी बदहाली सेे लडता किसान गणतंत्र की गहरी खाई में जा पहुंचा हैं। मध-म...