गुरुवार, 14 मई 2020

14 को चांद-मंगल ग्रह नजदीक दिखेंगे

नई दिल्ली। पिछले कुछ वक्त से आसामन बेहद साफ है और रात के समय तो झिलमिल सितारों का नजारा ही अद्भुत होता है। दरअसल, पिछले कुछ वक्त से लॉकडाउन के कारण देशभर में वायु प्रदूषण के स्तर में भारी कमी देखने को मिली है। ऐसे में बड़े शहरों का आसमान भी इन दिनों साफ हो गया है। ऐसे में आसमान में चांद के साथ दिखने वाले अलग-अलग ग्रह आजकल लोग आसानी से देख पा रहे हैं और इसके लिए उन्हें किसी चश्मे या दूसरी चीज की जरूरत नहीं है। 
लोग बिना किसी बाइनोकुलर या टेलीस्कोप के आसानी से आसमान में साफ-साफ इन ग्रहों को देख सकते हैं. इसके लिए केवल आपको बिना बादल वाला आसमान और थोड़ा सा धैर्य रखने की जरूरत है और बस आप अंतरिक्ष में होने वाले इन ईवेंट्स को आसानी से देख सकते हैं।


12 मई की सुबह आसमान में चांद के साथ ब्रहस्पति ग्रह नजर आया था और अब जगह बदल जाने के बाद 14 मई को आसमान में चांद के साथ मंगल ग्रह नजर आएगा. 14 मई को आसमान में चांद और मंगल ग्रह काफी नजदीर दिखाई देंगे। हालांकि, अंतरिक्ष में वह असल में एक दूसरे के इतने नजदीक नहीं होंगे।


चांद और मंगल ग्रह को आप 14 मई को सुबह सूरज निकलने से पहले आसमान में आसानी से देख सकते हैं।आपको ग्रह को देखने के लिए दक्षिण-पूर्व की ओर देखना होगा. यदि आप उस दिशा का पता नहीं लगा पाते हैं तो आप अपने डिवाइस पर कम्पास ऐप की मदद ले सकते हैं।
अर्थस्काय.कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इन दिनों मंगल ग्रह काफी ब्राइट नजर आ रहा है। सूरज को छोड़ कर मंगल ग्रह अंतरिक्ष में रात के वक्त नजर आने वाली चीजों में 8वां सबसे चमकीला ऑब्‍जेक्‍ट है, लेकिन मंगल ब्राइटेनस के मामले में ब्रहस्पति ग्रह जैसा नहीं है। दरअसल, ब्रहस्पति चौथा सबसे बड़ा ऑब्‍जेक्‍ट है और यह मंगल के मुकाबले 12 गुना ज्यादा चमकदार है।


गूगल ने पराग्वे का राष्ट्रीय दिवस मनाया

न्यूयॉर्क। डूडल पराग्वे के राष्ट्रीय दिवस को मनाता है, जिसे स्थानीय रूप से दियारा डे इंडिपेंडेंस नैशनल के नाम से जाना जाता है। 1811 में इस दिन, भूमि-बंद देश का नाम “द हार्ट ऑफ साउथ अमेरिका” घोषित किया गया था।


पराग्वे की बहुसंख्यक जातीय आबादी, गुआरानी वंश और यूरोपीय, ज्यादातर स्पेनिश, मूल लोगों का एक संयोजन है। संस्कृतियों का यह संलयन पारंपरिक रूप से स्पैनिर्ड्स द्वारा पराग्वे के लिए शुरू की गई पारंपरिक कढ़ाई फीता में परिलक्षित होता है, जिसे aranandutí (“मकड़ी के जाले” के रूप में जाना जाता है), और पैराग्वेयिन राजवंश के भाषा विज्ञान के बीच, जिनमें से कई लोग गुआरानी और स्पेनिश दोनों बोलते हैं।


राष्ट्रीय अवकाश और इसकी समृद्ध संस्कृति के सम्मान में, पूरे देश में पराग तिरंगा झंडा ऊंचा उठता है। डूडल कलाकृति में दर्शाया गया, पराग्वे का झंडा दुनिया के कुछ राष्ट्रीय झंडों में से एक है, जिसके दोनों ओर अलग-अलग प्रतीक चिन्ह हैं।


डिस्टेंसिंग का उल्लंघन, शौचालय की सफाई

जकार्ता। लॉकडाउन में नरमी के बाद देश अपने नागरिकों को सोशल डिस्‍टेंसिंग बनाए रखने को सख्‍ती से नियम लागू कर रहे है। ऐसे में इंडोनेशिया में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वालों को शौचालय साफ करने की सजा देने की घोषणा की गई है। एक विदेशी समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावित देशों में सामाजिक दूरी बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं और इन्‍हें पूरा करने के लिए सख्‍ती से कहा गया है।
इस सजा का मकसद कोरोना के प्रसार को रोकना है।


ज्यादातर देशों में नागरिक सामाजिक दूरी के आदेशों को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और लगातार सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्‍लंघन कर रहे हैं. ऐसे में इंडोनेशिया के अधिकारियों ने इसका उल्लंघन करने वालों के लिए दंड की घोषणा की है. 'एआरवाई न्‍यूज' के मुताबिक इंडोनेशियाई अधिकारियों का कहना है कि सामाजिक दूरी के आदेशों का उल्लंघन करने वाले को सजा के तौर पर अपने शौचालयों की सफाई करनी होगी। विदेशी समाचार एजेंसी के अनुसार यह सुधार और सुधार के उद्देश्य से दी गई सजाओं में से एक है और इसका उद्देश्य कोरोना के प्रसार को रोकना है। इसी तरह इंडोनेशिया मास्‍क न लगाने वालों को ढाई हजार इंडोनेशियन रुपया यानी 17 डॉलर जुर्माना भी भरना पड़ेगा।
गौरतलब है कि इंडोनेशिया में अब तक 1028 लोगों की जान जा चुकी है, वहीं 15,438 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं। ऐसे में देश में वायरस का खतरा और न फैले इसके लिए नागरिकों को सोशल डिस्‍टेंसिंग बनाए रखने को कहा गया है। हालां‍कि इस महामारी के बावजूद कई लोग ऐसे भी हैं, जो इन नियमों का लगातार उल्‍लंघन कर रहे हैं। इसके लिए देश में कई तरह की सजा देने की बात की जा रही है।टॉयलेट साफ करने की सजा देना भी इन्‍हीं में से एक है।


53 किलो से अधिक चरस बरामद की

राणा ओबराय


हरियाणा पुलिस को तस्करों के खिलाफ फिर मिली बडी सफलता, 53 किलो से अधिक की चरस बरामद

चंडीगढ़। हरियाणा पुलिस द्वारा लाकॅडाउन में भी मादक पदार्थ तस्करों पर ताबडतोड़ कार्रवाई लगातार जारी है। पुलिस ने नशा सौदागरों पर एक ओर प्रहार करते हुए जिला भिवानी ने 53 किलो 600 ग्राम चरस बरामद कर इस सिलसिले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार आरोपी की पहचान जयपाल के रूप में हुई है, जो कि गांव मिताथल का निवासी है।आरोपी मोटरसाइकिल पर मादक पदार्थ को ले जा रहा था। पुलिस की क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी ने महम रोड, भिवानी के पास यह कार्रवाई कर आरोपी को काबू किया। गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने एक नाके पर प्लास्टिक की थैलियों को ले जा रहे एक मोटरसाइकिल चालक को रोककर नियम अनुसार तैलाषी ली तो उसके कब्जे से 53 किलोग्राम 600 ग्राम ’चरस’ बरामद हुई।


विवादः किशोरी को पीटकर किया घायल

पुराने विवाद के चलते किशोरी को पीटकर किया घायल


सीएचसी में कराया गया भर्ती


फतेहपुर। घरेलू कलह के चलते किशोरी को पड़ोसी महिलाओं और उनके परिवार के पुरुष सदस्यों ने पीटकर घायल कर दिया घायल किशोरी को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य में भर्ती कराया गया सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।


जानकारी के अनुसार जाफर गंज थाना क्षेत्र के धीर का पुरवा गांव में पुरानी रंजिश के चलते देवी चरण की 17 वर्षीय पुत्री शबनम को पड़ोसी महिलाओं तथा उनके परिवार के पुरुष सदस्यों ने पीटकर घायल कर दिया घायल किशोरी को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया उधर सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है इस मामले में किशोरी के पिता देवीचरण ने बताया कि पुराने विवाद के चलते संगीता देवी पत्नी श्यामलाल सुशील कुमार पत्नी सुधा देवी आदि ने उनकी पुत्री को पीट कर घायल कर दिया है जिसके बाद से काफी देर से उनकी पुत्री भी हो रही मामले की सूचना पुलिस को दे दी गई है।


लॉम्बार्ड के बच्चों को शरीर पर जलन

रोम। इटली के लॉम्बार्डी में बच्चों को शरीर पर जलन महसूस हो रही है। अकेले बरगामो शहर में 10 ऐसे मामले सामने आए हैं और अब एक अध्ययन में दावा किया जा रहा है कि ये कोरोना वायरस से जुड़े हुए हैं। डॉक्टरों के पास ऐसे बच्चे आए हैं जिनके पूरे शरीर पर लाल चकते बन गए हैं और हाथ-पांव में सूजन नजर आ रहा है।
अस्पताल में भर्ती हुए 80 फीसदी बच्चों में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए थे जबकि 60 प्रतिशत गंभीर रोगों जैसे कि हार्ट डिजिज से पीड़ित थे। शरीर पर जलन महसूस करने वाले लक्षण सबसे पहले ब्रिटेन, इटली और फिर स्पेन के बच्चों में दिखाई दिए हैं। यह कावासाकी बीमारी से मिलता-जुलता है।


कावासाकी बीमारी अधिकांश पांच साल से कम उम्र के बच्चों में पाई जाती है। पिछले 5 सालों में 19 बच्चों में कावासाकी केे लक्षण दिखे हैं। यह पता नहीं चल पाया है कि यह स्थिति कैसे पैदा होती है, लेकिन वैज्ञानिक मानते हैं कि संक्रमण के कारण इम्युन सिस्टम पर इसका असर पड़ता है।


बिजली बिल, जनता पर अतिरिक्त भार

प्रयागराज। जनहित संघर्ष समिति के प्रमिल केसरवानी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिस तरह से कोरोना संक्रमण के कारण पूरे देश की अर्थव्यवस्था खराब हो रही है। वहीं दूसरी ओर प्रयागराज के लोगो का धंधा ना होने के कारण आर्थिक तंगी का सामना करने को मजबूर हो गए हैं। वहीं दूसरी ओर घरेलू बिजली के बिल, कमर्शियल बिजली के बिल विभाग द्वारा भेजे जा रहे हैं। साथ ही प्राइवेट विद्यालय भी अपनी स्कूलों की फीस का मैसेज भी लोगों के मोबाइलों पर भेजने का काम कर रहे हैं। इन सभी के भुगतान को लेकर प्रयागराज की आम जनता काफी हैरान और परेशान हैं 3 महीने का बिजली का बिल बच्चों के स्कूल की शुल्क का बोझ जनता के ऊपर बढ़ता जा रहा है और जनता के ऊपर कर्ज़ का बोझ  धीरे-धीरे बढ़ता जा  रहा है।


इन सभी जन समस्याओं को देखते हुए जनहित संघर्ष समिति ने भारत सरकार से आवाहन किया है कि लाख डाउन के इस विपरीत परिस्थिति में घरेलू कमर्शियल बिजली का बिल के साथ प्राइवेट स्कूलों मै पढ़ने वाले बच्चों के स्कूलों की फीस को माफ कराया जाए।


बृजेश केशरवानी


लॉकडाउन का उल्लंघन करते दिखें 'लोग'

नगर में लॉक डाउन का उल्लंघन करते दिखे लोग


सैकड़ों लोग बिना मास्क और बिना सामाजिक दूरी के दिखे


क्षेत्र में एक कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद भी लोग नहीं ले रहे सबक


सुनील पुरी


बिंदकी। क्षेत्र में एक को रोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद भी लोग सबक नहीं ले रहे हैं। लॉक डाउन का उल्लंघन करते नजर आते हैं। कोरोनावायरस से बचाव के लिए मांस नहीं लगाते और ना ही सामाजिक दूरी का पालन करते हैं। ऐसी स्थिति में यही लगता है कि लोग खुद को धोखा दे रहे हैं या पुलिस प्रशासन को और जीवन को खतरे में डाल रहे हैं।


मालूम हो कि तहसील क्षेत्र के नया पुरवा गांव में 5 दिन पहले एक को रोना पॉजीटिव केस मिला था जिसके बाद से उस गांव में को हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया था लगातार स्वास्थ्य विभाग पहुंचकर गांव के लोगों का परीक्षण कर रही है वहीं दूसरी ओर कोरोनावायरस का एक केस मिलने के बाद भी लोग सबक नहीं ले रहे हैं लॉक डाउन का पालन नहीं करते घरों से बेवजह निकले दिखाई देते हैं इतना ही नहीं सक्रल ओ मांस नहीं लगाते और ना ही सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते नजर आते हैं नगर के मोहल्ला मेन बाजार फाटक बाजार किराना गली नेहरू इंटर कॉलेज रोड आदमी लोगों की भारी भीड़ देखी गई खरीदारी करते वक्त लोग मास्क नहीं लगाए हुए थे कई दुकानदार भी मास्क का प्रयोग नहीं करते दिखाई दिए दुकानों के सामने सामाजिक दूरी का पालन नजर नहीं आया भारी भीड़ देखी गई लोग बैरिकेडिंग के ऊपर से साइकिल निकालते भी देखे गए यही लगता है कि लोग कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर बेफिक्र नजर आते हैं या फिर अपने को धोखा देते हैं या पुलिस प्रशासन को देखा दे रहे बदल लोग कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर सतर्क नहीं रहे तो परेशानी खड़ी हो सकती है।


इंग्लैंड में नई एंटीबॉडी जांच की मंजूरी

लंदन। इंग्लैंड में स्वास्थ्य अधिकारियों ने एक ऐसी नई एंटीबॉडी जांच को मंजूरी दी है जिससे यह पता लगाया जा सकता है कि कोई व्यक्ति पूर्व में कोरोना वायरस से संक्रमित रहा है या नहीं। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) ने बताया कि स्विट्जरलैंड की दवा कंपनी रोशे द्वारा विकसित यह जांच बहुत ही सकारात्मक उपलब्धि है।


इसमें रक्त की जांच कर एंटीबॉडीज के जरिए यह देखा जाता है कि क्या व्यक्ति पहले कभी वायरस से संक्रमित था और अब उसमें इससे लड़ने की कुछ क्षमता हो सकती है। ब्रिटेन कोरोना वायरस जांच कार्यक्रम के राष्ट्रीय संयोजक प्रोफेसर जॉन न्यूटन ने कहा, यह बहुत ही सकारात्मक उपलब्धि है क्योंकि ऐसी सटीक एंटीबॉडी जांच पूर्व के संक्रमण का पता लगाने के लिए काफी विश्वसनीय है।


द गार्जियन की खबर के अनुसार 40,000 से अधिक लोग कोरोना वायरस के कारण जान गंवा चुके हैं। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भी इस जानलेवा विषाणु के खिलाफ लड़ाई में ऐसी एंटीबॉडी जांच को मील का पत्थर करार दिया था। स्वास्थ्य एवं सामाजिक देखभाल विभाग के प्रवक्ता ने कहा, एंटीबॉडी जांच कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और यह समझने में मदद करने की हमारी रणनीति का अहम हिस्सा है कि किसे यह बीमारी रही है।


ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैंकॉक ने गत सप्ताह कहा था कि उनका देश कोरोना वायरस एंटीबॉडी जांच व्यापक पैमाने पर कराने के लिए दवा कंपनी रोशे के साथ बातचीत कर रहा है।


कोरोना संग ही रहना होगाः डब्ल्यूएचओ

राणा ओबराय

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी देते हुए कहा, अब शायद कोरोना संग रहना ही होगा!।कोरोना कभी नही हो सकता ख़त्म?

जिनेवा/ नई दिल्ली। जैसा कि आप सब जानते हैं कि उस समय कोरोना वायरस से पूरी दुनिया त्रस्त है। हर देश की सरकार ने इसे फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन किया हुआ है। वैज्ञानिक इसका इलाज ढूंढने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी निदेशक ने संभावना के साथ-साथ चेतावनी दी है कि कोरोना वायरस शायद कभी खत्म न हो, जैसे एचआईवी खत्म नहीं हुआ। जानकारी के अनुसार विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आपात परिस्थिति संबंधी प्रमुख ने कहा है कि यह अनुमान लगाना असंभव है कि वैश्विक महामारी पर कब तक नियंत्रण पाया जा सकेगा। डॉ. माइकल रयान ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि संभवत: यह वायरस कभी न जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या अभी तक कम है। उन्होंने कहा कि टीके के अभाव में लोगों के भीतर इस विषाणु के खिलाफ प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होने में वर्षों लग सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह हमारे समुदायों में एक अन्य महामारी विषाणु बन सकता है।उन्होंने कहा कि पहले आई अन्य बीमारियां जैसे कि एचआईवी कभी खत्म नहीं हुई बल्कि उनका इलाज खोजा गया ताकि लोग इस बीमारी के साथ जी सकें। रयान ने बताया कि ऐसी उम्मीद है कि इसका एक प्रभावी टीका आएगा लेकिन तब भी इसे बड़ी मात्रा में बनाने और दुनियाभर के लोगों तक मुहैया कराने के लिए बहुत काम करने की आवश्यकता होगी।Coronavirus: कोरोना वायरस पर WHO ने जारी की चेतावनी, कहा- शायद कभी खत्म न हो वायरसबता दें कि अब तक पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के कारण पौन 3 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं इससे 42 लाख से अधिक लोग संक्रमित पाए गए हैं। अकेले अमेरिका में मरने वालों की संख्या 80 के लगभग है वहीं यहां संक्रमितों की संख्या 11 लाख को पार कर चुकी है। हालांकि भारत में अब भी हालात काबू में हैं। भारत में अबतक कुल 75 से अधिक मामले कोरोना संक्रमण के सामने आए हैं। वहीं इससे 2415 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।


स्पेन में मृतकों की संख्या-27321 हुई

मैड्रिड। स्पेन में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण 217 और लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 27321 हो गयी है।


स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को यह जानकारी दी। इससे पहले गत 10 मई को सबसे कम 143 मौतें दर्ज की गयी थीं। कोरोना के कारण हुयी मौतों के मामले में पूरे विश्व में स्पेन का चौथा स्थान है। कोरोना वायरस से सबसे अधिक अमेरिका में तथा उसके बाद ब्रिटेन में मौतें हुयी हैं। स्पेन में पिछले 24 घंटों के दौरान 506 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 229540 हो गयी है। संक्रमण के मामले में भी अमेरिका, रूस और ब्रिटेन के बाद स्पेन का चौथा स्थान है। इस दौरान 2500 और कोरोना संक्रमितों के स्वस्थ होने के बाद ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 143374 पहुंच गयी है। वायरस के फैलाव में कमी को देखते हुए स्पेन ने इस सप्ताह लॉकडाउन में धीरे-धीरे ढील देनी शुरू की है। अधिकारियों की मंशा है कि जून के अंत तक प्रतिबंधों काे पूरी तरह हटा लिया जाय। स्पेन में 24 मई तक हाई अलर्ट लागू है।


सीरीज को लेकर फैसला लेंगा 'श्री लंका'

कोलंबो। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने कहा है कि वो भारतीय टीम और बांग्लादेश के खिलाफ होने वाली सीरीज को लेकर इस हफ्ते फैसला लेंगे। भारत और बांग्लादेश दोनों को ही आने वाले समय में श्रीलंका का दौरा करना है, लेकिन कोरोनावायरस के कारण सीरीज होने की उम्मीद काफी कम नजर आ रही है।


श्रीलंका क्रिकेट के चीफ एक्सिक्यूटिव एश्ले डे सिल्वा ने कहा,


भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड और बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने हालात को देखने के लिए 15 मई तक का समय मांगा है और हमने उन्हें वो समय दिया है। हम इस हफ्ते के अंत तक किसी फैसले तक पहुंच जाएंगे।
हालांकि अगर यह सीरीज नहीं हो पाती है, तो यह श्रीलंका की लगातार तीसरी होम सीरीड होगी जिसे कोरोनावायरस के कारण कैंसिल किया जाएगा। आपको बता दें कि इससे पहले इंग्लैंड ने भी श्रीलंका के खिलाफ आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के तहत होने वाली टेस्ट सीरीज को पोस्टपोन कर दिया था।


चक्की वाले नहीं आ रहें 'कारनामों से बाज'

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार 


कोरोना वायरस को लेकर लोग अपने घरों में कैद हैं लॉक डाउन का सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन कर रहे हैं लेकिन आटा चक्की वाले अपने कारनामों से बाज नहीं आ रहे हैं।


हापुड़। जनपद हापुड़ के पिलखुवा कोतवाली क्षेत्र के गांव गालंद में लोग उस वक्त आश्चर्यचकित रह गए जब सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो गया वीडियो वायरल ने आटा चक्की वाले की करतूतों का किया पर्दाफाश जिसे देखकर लोग रह गए दंग।


ग्रामीण आटा चक्की पर अपना विश्वास लेकर आटा पीसवाने के लिए अपने गेहूं रख कर आते हैं लेकिन आटा चक्की वाला लोगों का विश्वासघात कर रहा है सस्ते रेट में सूखी रोटी लेकर लोगों के आटे में पीस कर दे रहा है जिसका सोशल मीडिया पर वीडियो बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है स्थानीय प्रशासन को लेना चाहिए बड़ा एक्शन अगर आटा खाने से लोग बीमार हो गए तो आखिर उसका जिम्मेदार कौन होगा।


बारिश आने से सोसाइटी में हुआ बचाव

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार 


उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ गढ़मुक्तेश्वर में नेशनल हाईवे 9 पर अचानक बारिश आने से सोसाइटी में अपना बचाव करते


हापुड़। लॉक डाउन 3 के चलते  प्रवासी मजदूर बेबस होकर अपने घरों को जाते लॉक डाउन के चलते सारी सीमाएं लांग ते हुए जनपद हापुड़ के गढ़मुक्तेश्वर पहुंचे जब उन्हों से बात की गई तो उन्होंने बताया हम लोगों के पास खाने को पैसा नहीं है मकान मालिक मकानों का किराया मांग रहे हैं जब खाने को पैसा नहीं है तो किराया कहां से हम दे पैरों में छाले खाने के लाले हम तो मजदूर लोग हैं मजदूरी करने के लिए अपना पेट पालने के लिए अन्य शहरों अन्य राज्यों में अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए आए थे हमें क्या पता था कोरोना महामारी आएगी और सब को घरों में कैद कर देगी हम तो भूखे प्यासे हैं कोरोना से डर नहीं लगता बस भूख से डर लगता है एक टाइम का खाना चलते रास्ते में कहीं ना कहीं कोई समाजसेवी दे देता है तो दूसरे टाइम की चिंता सताने लगती है।


13 को भूमि के पास से गुजरेगा 'धूमकेतु'

नई दिल्ली। अंतरिक्ष के कई ऐसे रहस्य हैं जिनसे अब भी पर्दा नहीं उठा है। लेकिन, कई बार लोगों को बेहद हैरतअंगेज नजारे देखने भी अंतरिक्ष में देखने को मिलते हैं। बुधवार को भी एक ऐसा ही नजारा देखने को मिलेगा। 13 मई को धरती पर आसमानी आतिशबाजी का नजारा देखने को मिल सकता है। ये बेहद खूबसूरत नजारा होगा जब आसमान से चमकते हुए धूमकेतु धरती के पास से निकलेंगे। इन्हें आप बिना किसी दूरबीन के खुली आंखों से देख सकते हैं।


गौरतलब है कि मई के महीने में ऐसा दो बार होने वाला है। एक धूमकेतु 13 मई को धरती से करीब 8.33 करोड़ किलोमीटर दूर से गुजरेगा। इसका नाम है कॉमेट स्वान फिलहाल ये धरती से करीब 8.50 करोड़ किलोमीटर दूर है। यह काफी तेजी से धरती की तरफ आ रहा है। इसके बाद 23 मई को कॉमेट एटलस धरती के पास से गुजरेगा।



खगोलविद् ने लगाया था पता: 13 मई को दिखने वाले कॉमेट यानी धूमकेतु स्वान के बारे में करीब एक महीने पहले 11 अप्रैल को एक नौसिखिये खगोलविद माइकल मैटियाज्जो ने पता लगाया था। वह नासा के सोलर एंड हेलियोस्फेयरिक ऑब्जरवेटरी से आंकड़े देख रहा था। तभी उसे सोहो सोलर विंड एनिसोट्रॉपिस इंस्ट्रूमेंट में इसकी तस्वीर दिखाई दी। फिर इसका नाम स्वान रख दिया गया। स्वान इंस्ट्रूमेंट का उपयोग सौर मंडल में हाइड्रोजन का पता लगाने के लिए किया जाता है। लेकिन, इसकी मदद से माइकल ने स्वान धूमकेतु का पता लगा लिया। अब यह धूमकेतु 13 मई को धरती के पास से निकलेगा। इस कॉमेट का एक ट्विटर हैंडल भी है।


यहां से दिखेगा अतिशबाजी वाला धूमकेतु: धूमकेतु स्वान सिर्फ उन लोगों को दिखाई देगा जो भूमध्य रेखा के दक्षिण में रहते होंगे। दुख की बात ये है कि भारत भूमध्य रेखा के उत्तर में है, इसलिए यहां के लोगों को खुली आंखों से ये धूमकेतु संभवतः देखने को न मिले। भारत के लोग इसे दूरबीन से इसे देख सकते हैं। यह पाइसेज कॉन्स्टीलेशन (मीन नक्षत्र) की तरफ से तेजी से आ रहा है। यह आपको हरे रंग में काफी तेजी से चमकता हुआ दिखाई देगा। इसके बाद, 23 मई को एक और धूमकेतु धरती के बगल से निकलेगा।


नाम है कॉमेट एटलस: इसे कॉमेट सी/2019 वाई4 एटलस भी बुलाते हैं। अभी तक इसकी दूरी का अंदाजा नहीं लग पाया है। कॉमेट एटलस की खोज 28 दिसंबर 2019 को हुई थी। उस समय इसकी चमक काफी धीमी थी। लेकिन अभी यह काफी तेजी से चमक रहा है। एटलस का नाम अमेरिका के हवाई द्वीप पर लगे एस्टेरॉयड टेरेस्ट्रियल इंपैक्ट लास्ट अलर्ट सिस्टम (एटलस) पर रखा गया है। इसका भी अपना ट्विटर हैंडल है। अब यह पता नहीं है कि एटलस पृथ्वी के बगल से किस समय निकलेगा, लेकिन जल्द ही वैज्ञानिक इसकी गति और धरती के बगल से गुजरने का समय पता कर लेंगे। ये भारत से नंगी आंखों से दिखाई देगा। ऐसी संभावना वैज्ञानिकों ने जताई है।


बॉक्स में क्या है धूमकेतु का रहस्य: धूमकेतु जमे हुए गैस, पत्थर और धूल से बनी हुई कॉस्मिक गेंद हैं, जो सूर्य के चारों ओर परिक्रमा कर रही हैं। जब वे जमे हुए होते हैं, तो उनका आकार एक छोटे से सूर्य जैसा होता है। परिक्रमा करते हुए जब ये सूर्य के निकट आ जाते हैं तो बहुत गर्म हो जाते हैं और गैस व धूल का वमन करते हैं जिसके कारण विशालकाय चमकती हुई पिंड का निर्माण हो जाता है जो कभी कभी ग्रहों से भी बड़े आकार के होते हैं ।


नासा के अनुसार अभी तक 3526 धूमकेतु पहचाने जा चुके हैं। धूमकेतु को बर्फ का मिश्रण भी माना जाता है क्योंकि ये जमे हुए गैस और पानी से मिलकर बने हुए रहते हैं। 1995 तक 878 धूमकेतुओं को सूचीबद्ध किया गया है और उनकी कक्षाओं की गणना की जा चुकी है। इनमें से 184 धूमकेतु का परिक्रमा काल 200 वर्षों से कम है। धूमकेतु का अंतरिक्ष विज्ञान में बहुत महत्व है क्योंकि उसके अध्ययन से अंतरिक्ष के बारे में कई अनोखी जानकारियां मिलती हैं।


धरती के पास से गुजरेगे कई 'ऐस्टाइरॉइड'

नई दिल्ली। अंतरिक्ष में चक्‍कर लगा रही हमारी पृथ्‍वी के बेहद पास से इस महीने कई खतरनाक ऐस्‍टरॉइड गुजरेंगे। इन सभी ऐस्‍टरॉइड में सबसे खतरनाक अपोलो श्रेणी का ऐस्‍टाइरॉइड 1997 BQ है। यह ऐस्‍टाइरॉइड अंतरिक्ष के सबसे बड़े और खतरनाक ऐस्‍टरॉइड में शामिल किया जाता है जिससे दुनियाभर के वैज्ञानिकों की सांसें फूली हुई हैं। अमेरिकी अंतर‍िक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक यह ऐस्‍टरॉइड बहुत तेजी से धरती की ओर बढ़ रहा है और 21 जून पृथ्‍वी की कक्षा से गुजरेगा।


राजदूत अली-सती ने पीएम से की मुलाकात

सऊदी अरब के कूटनीतिक प्रयास


रियाद/ नई दिल्ली। सऊदी अरब के उप-रक्षा मंत्री अदेल अल-ज़ुबैर शहज़ादा सलमान का संदेश लेकर इस्लामाबाद गए। उसी समय भारत में सऊदी अरब के राजदूत डॉक्टर सऊद मोहम्मद अल-सती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की।


पुलवामा हमले से पहले ही मोदी सरकार ने सऊदी सरकार को बहुत तवज्जो देना शुरू कर दिया था। इस दौरान शहज़ादा सलमान और प्रधानमंत्री मोदी का निजी 'इक्वेशन' भी काफ़ी मज़बूत हो गया था।


सऊदी अरब ने पाकिस्तान के चरमपंथ पर रवैये के खिलाफ़ कड़ा रुख़ अपनाना शुरू कर दिया था। जब पुलवामा हुआ था तो सऊदी सरकार ने पाकिस्तान का साथ देने के बजाए आतंकवाद के ख़िलाफ़ एक कड़ा वक्तव्य जारी किया था।


सामरिक मामलों के जानकार हर्ष पंत बताते हैं, ''सऊदी अरब नहीं चाहता था कि ये मामला इतना तूल पकड़े कि उसे सार्वजनिक रूप से भारत या पाकिस्तान में से किसी एक पक्ष का समर्थन करना पड़े। चूँकि सामरिक मामलों पर बहुत पहले से पाकिस्तान और सऊदी अरब की आपसी समझ एक दूसरे के बहुत क़रीब है, सऊदी अरब ने 'बैक चैनल' से ये कोशिश की कि पाकिस्तान इसे और आगे न ले जाए।


उसने भारत से भी बात की और जब उसे भारत से संकेत मिल गया कि कोई बीच का रास्ता निकल जाने पर उसे कोई आपत्ति नहीं है तो उसने पाकिस्तान से संपर्क किया। उसने पाकिस्तान को साफ़ कर दिया कि अगर उसने तनाव को कम करने की कोशिश नहीं की तो वो पाकिस्तान के साथ खड़े होने की हालत में नहीं होगा।


सेना पर हमले रोकने के लिए कार्रवाईः पाक

पाकिस्तान ने ईरान से कहा है कि वो पाकिस्तानी सेना पर चरमपंथी हमले रोकने के लिए उचित कार्रवाई करे।


इस्लामाबाद/ तेहरान। पाकिस्तान का आरोप है कि अलगाववादी बलूच लिबरेशन ऑर्मी चरमपंथी हमलों को अंजाम देने के लिए ईरान की ज़मीन का इस्तेमाल करती है। इसी संबंध में पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर बाजवा ने ईरानी सेना प्रमुख मेजर जनरल मोहम्मद बक़ेरी से बात की और कहा कि पाकिस्तान अपने पड़ोसी देशों के साथ रिश्ते में परस्पर सम्मान और बराबरी के साथ ये भी चाहता है कि कोई दखलंदाज़ी न हो।


हाल के दिनों में ये दूसरा मामला है जब दोनों देशों के रिश्तों में किसी मुद्दे को लेकर खटास पैदा हुई है। पिछले दिनों पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि उसकी आपत्ति के बावजूद कोरोना के दौर में ईरान ने पाँच हज़ार लोगों को वापस पाकिस्तान भेज दिया। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने पाकिस्तान में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने के लिए ईरान को ज़िम्मेदार ठहराया था।


ट्रंप ने दिया अभिनंदन की रिहाई का संकेत

ट्रंप ने सबसे पहले दिया अभिनंदन की रिहाई का संकेत


वाशिंगटन डीसी। भारत के राजनीतिक नेतृत्व ने ये आभास देने में कोई कसर नहीं रख छोड़ी कि इमरान ख़ाँ ने भारत के सख़्त रुख़ से डर कर ये क़दम उठाया है।


पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने पाँच मार्च को गोड्डा, झारखंड में एक चुनावी सभा में कहा, "उन्होंने हमारे पायलट को पकड़ा लेकिन मोदीजी की वजह से उन्हें उसे 48 घंटों के अंदर छोड़ना पड़ा। लेकिन अमित शाह की इस शेख़ी से पहले ही इस तरह के संकेत आने लगे थे कि अभिनंदन को छोड़ा जा रहा है।


28 फ़रवरी को ही उत्तर कोरिया के नेता किम जॉग उन से हनोई मिलने पहुंचे अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप से जब पत्रकारों ने भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के बारे में सवाल पूछा तो उन्होंने जवाब दिया, ''मैं समझता हूँ कि जल्द ही आपको पाकिस्तान से एक अच्छी ख़बर सुनने को मिलेगी। हम लोग इस प्रकरण से जुड़े हुए हैं और जल्द ही इसका अंत हो जाएगा। कुछ घंटो बाद ही इमरान ख़ान ने अभिनंदन को छोड़ने का ऐलान किया।


सऊदी अरब ने भी बड़ी भूमिका निभाई

क्राउन प्रिंस सलमान की निर्णायक भूमिका


लेकिन इसमें अमरीका के अलावा सऊदी अरब ने भी बड़ी भूमिका निभाई।


पुलवामा हमले के तुरंत बाद सऊदी के क्राउन प्रिंस सलमान ने पहले पाकिस्तान का दौरा किया और फिर भारत का।


रियाद। भारत के विदेशी मामलों के पंडितों ने नोट किया कि जहाँ सलमान ने कूटनीतिक 'टाइटरोप' चलते हुए पाकिस्तान में उनकी आतंकवाद के खिलाफ़ लड़ाई में दी गई क़ुर्बानी की तारीफ़ की वहीँ भारत में उन्हें प्रधानमंत्री मोदी की इस बात से सहमत होने में कोई परेशानी नहीं हुई कि आतंकवाद को किसी भी तरह जायज़ नहीं ठहराया जा सकता।


यही नहीं सऊदी अरब के उप-विदेश मंत्री आदेल अल-ज़ुबैर ने इस्लामी देशों के सम्मेलन के दौरान तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बात की. इस गतिरोध को सुलझाने में सऊदी अरब की क्यों दिलचस्पी हो सकती है?


सऊदी अरब में भारत के राजदूत रह चुके तलमीज़ अहमद मानते हैं कि 'सऊदी अरब अपने ईरान विरोधी गठजोड़ में पाकिस्तान को अपने साथ रखना चाहता है। साथ ही साथ वो भारत को ईरान से दूर ले जाने की रणनीति पर भी काम कर रहा है।


56,754 उद्यमियों को एकमुश्त लोन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को राज्य के 56 हजार 754 उद्यमियों को एकमुश्त दो हजार दो करोड़ के लोन बांटे। केंद्र से आर्थिक पैकेज एलान के बाद यूपी पहला राज्य है, जिसने लॉकडाउन अवधि में भी इतनी बड़ी धनराशि का लोन दिया है।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक क्लिक पर ऑनलाइन दो हजार दो करोड़ रुपया का लोन देकर रोजगार संगम ऑनलाइन मेले की व्यापक शुरूआत की है। 56 हजार 754 उद्यमियों को एक क्लिक पर 2 हजार 2 करोड़ का लोन दिया गया है। इस दौरान इन 56 हजार 754 इकाईयों से दो लाख लोगों को रोजगार की गारंटी भी मिली है।


लोक भवन में टीम-11 की बैठक से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने सूक्ष्म, लघु, सूक्ष्म और मध्यम उद्योग एवं निर्यात प्रोत्साहन तथा खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सिद्घार्थनाथ सिंह, प्रमुख सचिव नवनीत सहगल तथा अन्य अधिकारियों की मौजूद्गी में लाभार्थियों को ऋण का चेक प्रदान किया।


इस दौरान योगी ने कहा, “हमारे कामगार और श्रमिक हमारी ताकत और पूंजी हैं। हम इनके श्रम और हुनर का हर संभव उपयोग कर उप्र को देश और दुनिया का मैन्यूफैक्च रिंग हब बनाएंगे। उप्र के माथे पर पलायन को जो कलंक है उसे हरदम के लिए मिटाने को हमारे लिए यह बेहतरीन मौका है। दूसरे प्रदेश से आने वाले श्रमिकों का प्रदेश के नवनिर्माण में संभव उपयोग हो इसके लिए हर श्रमिक की दक्षता का रिकार्ड भी तैयार किया जा रहा है।”


मुख्यमंत्री ने कहा कि आगे दीपावली का पर्व है। इस दौरान पूरे देश में चीन से आने वाली गौरी-गणेश की मूर्तियां बड़े पैमाने पर बिकती हैं। हमारी कोशिश रहे कि इस बार स्थानीय इकाईयां उसका विकल्प दें। टेराकोटा के सामान बनाने वाले गोरखपुर के उद्यमियों में यह हुनर है। वह चीन से भी बेहतर गुणवत्ता की मूर्तियां बना सकते हैं। इसके लिए उनकी हर संभव मदद की जाए।


उन्होंने कहा, “उप्र का एमएसएमई सेक्टर भारत में सबसे बड़ा है। इस सेक्टर में कई ऐसी इकाईयां ने जिनके उत्पाद की पूरे देश और दुनिया में धूम है। जरूरत इनको अवसर मिलने की है। कोरोना महामारी के दौरान ही यूपी में पीपीई (पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूपमेंट) की 26 नई इकाईयां लग गयीं। ऐसे और भी उदाहरण हैं।”


चर्चा करने के बाद, कैसे मिलेगी 'राहत'

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की रोकथाम को लगाया गया लॉकडाउन 3.0 रविवार को खत्म हो रहा है। बढ़ते केसों के बीच दिल्ली के लोगों में डर तो है लेकिन बाकी राज्यों की तरह लोग यहां भी छूट तो चाहते ही हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों के सुझावों पर चर्चा करने के बाद कहा है कि क्या राहत मिलेगी इसपर आखिरी फैसला केंद्र सरकार को लेना है। फैसला क्या होगा यह अभी किसी को जानकारी नहीं है लेकिन अगर सरकार ने जिलों (रेड, ग्रीन और ऑरेंज) के हिसाब से छूट देने का तरीका बदला तो दिल्ली को राहत मिलने के आसार हैं।
फिलहाल केंद्र सरकार ने देशभर के जिलों को केसों के आधार पर ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन में बांटा हुआ है। दिल्ली के सभी जिले रेड जोन में आते हैं, जिसकी वजह से यहां सख्ती ज्यादा है। दिल्ली सरकार के अधिकारी चाहते हैं कि इस तरीके से जगहों को बांटना बदलना होगा। अगर ऐसा हुआ तो दिल्ली का बड़ा हिस्सा राहत की सांस लेगा।


'हॉटस्पॉट' से अलग जिंदगी सामान्य हो

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई बैठक में भी कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने इस बात पर जोर दिया है कि लॉकडाउन कंटेनमेंट जोनों में रहना चाहिए और हॉटस्पॉट इलाकों से बाहर के लोगों की जिंदगी सामान्य कर देनी चाहिए। मोदी ने साफ तौर पर तो कुछ नहीं बताया था लेकिन यह साफ किया कि लॉकडाउन 4.0 में राज्यों की सुनी जाएगी। अब केंद्र 15 तारीख के बाद क्या फैसला लेती है यह देखना होगा।
दिल्ली में 80 कांटेनमेंट जोन है। लेकिन इनमें से आधे से ज्यादा में हालात बदल चुके हैं, मतलब अब वहां केस नहीं आ रहे। ऐसे में नियम बदलने पर छूट संभव है। इस ऐसे समझें कि 13 मई तक 80 कंटेनमेंट जोन्स में से सिर्फ 39 में ही नए कोरोना केस मिले हैं। अन्य 41 में पिछले 15 दिनों से कोई केस नहीं है। ऐसे में उन्हें कंटेनमेंट जोन से अब बाहर किया जाएगा। लेकिन अगर जिले के हिसाब से जोनों का बंटवारा हुआ तो फायदा नहीं होगा। क्योंकि जो बचे 39 जोन हैं वे 11 में से 10 जिलों में पड़ते हैं। यानी फिर सभी जिले रेड ही रहेंगे और उन इलाकों में भी राहत नहीं होगी जहां नए केस नहीं आए।


मृतक संख्या-2550, संक्रमित-78003

नई दिल्ली। भारत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट के अनुसार भारत में कोरोना संक्रमित लोगों की कुल संख्या 78005 हो गई है, जिसमें से 26234 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है और देश में अभी कोरोना के एक्टिव संक्रमितों की संख्या 49220 है। भारत में अभी तक कोरोना से ढाई हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है और यह संख्या 2550 है। वहीं, राजस्थान में आज दोपहर दो बजे तक 24 नए कोरोना वायरस (COVID-19)के मामले सामने आए हैं। राज्य में अब तक 4418 मामले सामने आ गए हैं और 122 लोगों की मौत हो गई है। 2346 लोग डिस्चार्ज हो गए हैं और 1716 एक्टिव केस हैं। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी है।


सैकड़ों शहरों को प्रभावित करेगा 'तूफान'

नई दिल्ली। भारत में प्रकृति का कहर जारी है। केवल कोरोनावायरस ही नहीं मौसम भी पल-पल में मिजाज बदल रहा है। पश्चिमी विक्षोभ और दक्षिण भारत में हवाओं के दो बड़े बवंडर के टकराने के कारण पूरे देश में आंधी बारिश का माहौल बना हुआ है। अब एक चक्रवाती तूफान भी आने वाला है। यह तूफान 7 राज्यों के सैकड़ों शहरों को प्रभावित करेगा। हवा की स्पीड 70 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। 


भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) का कहना है कि अगले तीन दिनों में एक चक्रवाती तूफान की संभावना बन रही है। इसके साथ ही प्री-मानसून एक्टिविटी भी चल रही है। इसके मिले जुले प्रभाव के चलते कई राज्‍य प्रभावित होंगे। यहां तेज आंधी और भारी बारिश हो सकती है। अनुमान जताया जा रहा है कि आगामी 16 मई की शाम तक चक्रवाती तूफान प्रभावी हो सकता है। बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पूर्व क्षेत्र में एवं इससे लगे हुए दक्षिणी अंडमान सागर में लो प्रेशर का एरिया बना है, इसके चलते यह घटना घट सकती है। मौसम विभाग का कहना है कि उत्‍तर भारत के अनेक शहरों में मौसम बदल सकता है। यहां 70 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी और साथ में बारिश भी हो सकती है।


एनसीईआरटी ने पढ़ाई के विकल्प खोजें

लखनऊ। लॉकडाउन की वजह से सभी स्कूल और कॉलेज बंद हैं। इस स्थिति में बच्चों को पढ़ाई से जोड़ने और उनकी समस्या को सॉल्व करने के लिए एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) ने पहल की है। इसमें (कक्षा छठी से आठवीं) के सभी पाठ्यक्रमों के लिए वैकल्पिक अकादमिक कैलेंडर भी जारी किया है। यह जानकारी मंगलवार को एनसीईआरटी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर दी। एनसीईआरटी ने किशोर मंच के जरिए कैलेंडर शिक्षा को अधिक दिलचस्प बनाने के लिए विभिन्न तकनीक और सोशल मीडिया से जोड़ा है। इसके अलावा ऑनलाइन इंट्रैक्शन के लिए पाठ्यक्रम के अनुसार एक्सपर्ट क्लास की व्यवस्था की गई है, जिनका उपयोग करके बच्चे घर पर अपनी पढ़ाई जारी रख सकेंगे।एनसीईआरटी ने ऑनलाइन लाइव इंट्रैक्शन सेशन के लिए सभी पाठ्यक्रमों की क्लास निर्धारित शेड्यूल पर जारी की है। ताकि बच्चों को बेहतर तरीके से ऑनलाइन शिक्षा मिल सके। इसमें डेट, टाइम और क्लास के साथ पाठ्यक्रम को पढ़ाने वाले टीचर के बारे में भी जानकारी दी गई है। खासतौर पर महत्वपूर्ण विषयों के एनसीईआरटी एक्सपर्ट, राज्य स्कूल शिक्षा विभाग, स्कूल शिक्षा बोर्ड्स, केन्द्रीय विद्यालय संगठन और नवोदय विद्यालय समिति समेत तमाम संस्थाओं के साथ विडियो कॉन्फ्रेंसिंग और डीटीएच चैनल पर निर्धारित समय से बच्चों के साथ रूबरू होंगे।


नपा अध्यक्ष को बर्खास्त करने की मांग

समाजवादी पार्टी ने की लोनी नगर पालिका अध्यक्ष रंजीता धामा को बर्खास्त करने की मांग।


लोनी नगर पालिका बनी भ्रष्टाचार का अड्डा-दिनेश गुर्जर


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। बृहस्पतिवार को समाजवादी लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष दिनेश नागर ने आज उप जिलाधिकारी लोनी को ज्ञापन देकर लोनी नगर पालिका अध्यक्ष रंजीता धामा को बर्खास्त करने की मांग की। बृहस्पतिवार को समाजवादी लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष दिनेश गुर्जर उप जिलाधिकारी खालिद अंजुम के कार्यालय में पहूंचे  और उन्हें एक ज्ञापन सौंपा ज्ञापन में उन्होंने लोनी नगर पालिका की भाजपा चैयरमैन रंजीता धामा की बर्खास्तगी की मांग की। 
लोहिया वाहिनी के जिला अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि लोनी नगर पालिका में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है लोनी नगर पालिका भ्रष्टाचार का अड्डा बन गई है लोनी नगर पालिका के पूर्व चेयरमैन मनोज धामा भी लगातार लोनी नगर पालिका के भ्रष्टाचार को लेकर सुर्खियों में हैं उनके ऊपर 300 करोड रुपए के घोटाले का आरोप खुद उनके सांसद द्वारा लगाया गया है उन्होंने कहा कि भाजपा के शासन में भाजपा की अध्यक्ष अपने पति के रास्ते पर चलते हुए भ्रष्टाचार के रिकॉर्ड को तोड़ना चाहती हैं।दिनेश गुर्जर ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकार ने भाजपा चैयरमैन को बर्खास्त नही किया तो समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता मजबूरन धरने पर बैठने को विवश होंगे उन्होंने कहा कि लोनी नगर पालिका उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी नगर पालिका है और दिल्ली से जुड़ी हुई नगर पालिका है लेकिन भ्रष्टाचार के मामले में लोनी नगर पालिका ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं जो ईमानदार अधिकारी यहां पर काम करना चाहते हैं उनको पूर्व चेयरमैन और वर्तमान चेयरमैन काम नहीं करने देते हैं एक समुदाय विशेष का होने के नाते भाजपा चैयरमैन और उनके पति उन पर गलत कार्य करने का अनैतिक दबाव  बनाते हैं।


कर्तव्य परायणता 'विश्लेषण'

कोरोना एक महामारी है,विश्वव्याप्त महामारी ,इसमें कोई शक  नहीं ,यह एक जानलेवा बीमारी है ,लाइलाज भी I इसकी दवा बनाना डॉक्टर्स एवं इससे जुड़े अनुसंधानकर्ताओंके लिए चुनौती है। परन्तु हम-आप ,साधारण जन अपने धैर्य ,संयम और जीने के तौर तरीके के द्वारा इस कोरोना रूपी यमराज को परास्त कर सकते हैं ,इसे अपने तक पहुचने से रोक सकते हैं I आराम से ,परन्तु सावधानीपूर्वक,संयम के द्वारा ,समाजिक दूरी बनाकर, यही एक  उपाय है क्योंकि इसके आगे सरकार क्या ? चिकित्सक भी बेवस है I इस परिस्थिति में आपका अपना वर्तमान और भविष्य भी आपके ही हाथ है I 
 कोरोना के डर से अगर हम यह सोच लें कि हमें घर से नहीं  निकलना है ,और जान बचाने के लिये घर में सो कर समय व्यतित करना है तो यह हमारी मूर्खता है ,खाली बैठे रहना भी एक प्रकार का कर्म ही जिसका परिणाम हमें आर्थिक हानि एवं समय की हानि के रूप में मिलता है I ये कोई नई चीज नहीं है इससे पहले भी इस तरह की महामारियों का सामना हमारे पूर्वजों ने कई वार किये हैं तब तो उनके पास कोई संसाधन भी नहीं था ,यहाँ तक कि साधरण बुखार,सर्दी –खांसी में ही दम तोड़ देते थे और कई गंभीर असाध्य बीमारी में  भी पेड़-पौधों के पत्तियों, उनके जड़ें आदि खा कर ही स्वश्थ्य होते थे परन्तु अपना कर्म करने से कभी नहीं चूकतेI  
इसलिए कर्म के प्रति कभी भी उदासीन नहीं होना चाहिये ,कर्म करते रहना चाहिए ,रास्ते बदल सकते हैं पर मंजिल कभी नहीं भूलना चाहिए I  कोरोना वायरस के संकर्मण से बच  कर ( सामाजिक दूरी बना कर, साफ सफाई के नियमों का पालन कर ,संयम और धर्य से, जीवन जीने के तौर तरीके अपना कर ,आदि ) अपनी क्षमता, बुद्धि और ,विवेक के आधार पर परिस्थिति के अनुसार हमें निरंतर कर्म करते रहना होगा I जो व्यक्ति जिस काम में हों, विद्ध्यार्थियों के लिए पढाई  का काम, शिक्षकों का पढ़ने और पढ़ाने का काम ,व्यापारियों  के लिए व्यापर का काम , किसानों के लिए खेती का काम ,मजदूरों के लिए मजदूरी का काम, सैनिकों के लिए देश की शुरक्षा का काम ,अथवा समाज सेवा से जुड़े हुए लोगों के लिए सामाजिक काम हो ,अपना काम करना ही होगा I विना कर्म किए हम अपने शारीर का पालन पोषण कर ही नही सकते I
सामाजिक दूरी बना कर रखें, स्वस्थ्य और शुरक्षित रहने के नियमों का पालन करें , ,वैकल्पिक रास्ते अपनायें, काम करने के तरीके बेशक बदल दें, परन्तु आप अपना काम करना नहीं छोड़ें I यही एक साध्य है जिसके माध्यम से हम कोविड ‘19’ को पराजित कर सकते हैं I 
डा.कृष्णा मोहन ईश्वर 
प्राचार्य-सीआरसी पब्लिक स्कूल 


कामगार-श्रमिक हमारी ताकत व पूंजी

एमएसएमई सेक्टर के 57,000 उद्यमियों को 2000 करोड़ से अधिक का लोन


• केंद्र से राहत पैकेज की घोषणा के 24 घंटे भीतर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की शानदार पहल


• मुख्यमंत्री की इस पहल से एमएसएमई सेक्टर में श्रृजित होंगे 2 लाख रोजगार के अतिरिक्त अवसर


• ओडीओपी से जुड़ी इकाईयों के लिए बूस्टर साबित होगी यह पहल


• पारदर्शिता के लिए ऑन लाइन की गयी पूरी पक्रिया


लखनऊ। केंद्र से आर्थिक पैकेज की घोषणा के 24 घंटे के भीतर ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोन मेले के जरिए एमएसएमई सेक्टर को वह बूस्टर डोज दे दी जिसकी उसे प्रतीक्षा थी। दरअसल एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) के जरिए इसकी तैयारियां तो पहले से थीं। कोरोना के नाते इसमें कुछ गतिरोध आया था। कोरोना से इसकी बेहतरी का अवसर भी मिला। अवसर मिलते ही मुख्यमंत्री ने इस सेक्टर को राहत देने में तनिक भी देर नहीं की। इस क्रम में बुधवार को अपने आवास पर आयोजित ऑनलाइन लोन मेले में उन्होंने करीब 56 हजार 754 उद्यमियों को दो हजार करोड़ रुपये से अधिक के लोन बांटे गये। इससे दो लाख से अधिक लोगों को अतिरिक्त रोजगार मिलेगा। लॉकडाउन अवधि में इतने कम समय में इतने उद्यमियों को इतनी बड़ी धनराशि का लोन पूरी पारदर्शिता के साथ देने वाला उप्र पहला राज्य बन गया।


एमएसएमई का साथी पोर्टल भी लांच
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने एमएसएमई का साथी पोर्टल भी लांच किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि हमारे कामगार और श्रमिक हमारी ताकत और पूंजी हैं। हम इनके श्रम और हुनर का हर संभव उपयोग कर उप्र को देश और दुनिया का मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाएंगे। उप्र के माथे पर पलायन को जो कलंक है उसे हरदम के लिए मिटाने को हमारे लिए यह बेहतरीन मौका है। दूसरे प्रदेश से आने वाले श्रमिकों का प्रदेश के नवनिर्माण में संभव उपयोग हो इसके लिए हर श्रमिक की दक्षता का रिकार्ड भी तैयार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगे दीपावली का पर्व है। इस दौरान पूरे देश में चीन से आने वाली गौरी-गणेश की मूर्तियां बड़े पैमाने पर बिकती हैं। हमारी कोशिश रहे कि इस बार स्थानीय इकाईयां उसका विकल्प दें। टेराकोटा के सामान बनाने वाले गोरखपुर के उद्यमियों में यह हुनर है। वह चीन से भी बेहतर गुणवत्ता की मूर्तियां बना सकते हैं। इसके लिए उनकी हर संभव मदद की जाए। 


मुख्यमंत्री ने कहा कि उप्र का एमएसएमई सेक्टर भारत में सबसे बड़ा है। इस सेक्टर में कई ऐसी इकाईयां ने जिनके उत्पाद की पूरे देश और दुनिया में धूम है। जरूरत इनको अवसर मिलने की है। कोरोना महामारी के दौरान ही यूपी में पीपीई (पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूपमेंट) की 26 नई इकाईयां लग गयीं। ऐसे और भी उदाहरण हैं। 


ओडीओपी ‘पर विशेष फोकस
सर्वाधिक संभावना एक जिला एक उत्पाद के क्षेत्र में है। इस आर्थिक पैकेज का लाभ सभी जिलों की ऐसी इकाईयों को मिलेगा। उन जिलों के उत्पादों की देश दुनिया में पहचान और मजबूत होगी जिनके उत्पाद पहले से ही ब्रांड के रूप में स्थापित हैं। इससे स्थानीय स्तर पर न्यूनतम पूंजी में अधिकतम रोजगार मिलेगा। साथ ही प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ेगी।


24 घंटे में 3722 मामले,134 की मौत

नई दिल्ली। देश में कोरोना तेजी में फैलता जा रहा है। हर रोज मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। अब भारत में कोरोना मरीजों (Corona patients) का आंकड़ा 78 हजार को पार कर गया है। गुरुवार को जारी अपडेट के मुताबिक, अब देश में कुल कंफर्म केस की संख्या 78 हजार 3 है। इसमें से 26 हजार 235 लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 2549 लोग जान गंवा चुके हैं। बीते 24 घंटे में 3722 नए मामले सामने आए और 134 मौतें हुई हैं। साथ ही 1894 मरीज इलाज के बाद ठीक हो गए हैं। अभी देश में 49 हजार 219 एक्टिव केस हैं। महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना का कोहराम सबसे ज्यादा है। यहां मरीजों की संख्या 26 हजार के करीब पहुंच गई है। मरने वालों की तादाद भी 975 तक जा पहुंची है। वहीं, गुजरात में कोरोना पीड़ितों का आंकड़ा 9 हजार 267 तक जा पहुंचा है, जबकि मरने वाले मरीजों की तादाद 566 है। 


दिल्ली में कुल मरीजों की संख्या 7,998
तमिलनाडु में भी तेजी से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। अब तक यहां 9 हजार 227 केस की पुष्टि हुई है, जिसमें 64 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 8 हजार के करीब पहुंच गया है। मंत्रालय के अपडेट के मुताबिक, दिल्ली में कुल मरीजों की संख्या 7 हजार 998 है, जिसमें 106 लोगों की मौत हो चुकी है. दिल्ली के गाजीपुर फल और सब्जी बाजार के अध्यक्ष एसपी गुप्ता ने बताया कि गाजीपुर फल और सब्जी मंडी को दो दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। मंडी के सचिव और उप सचिव कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।


राजस्थान में 66 नए मामले, संक्रमितों की संख्या 4394 हुई
राजस्थान स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में आज सुबह नौ बजे तक कोरोना पॉजिटिव के 66 नए मामले सामने आए हैं और एक की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 4394 और मृतकों की संख्या 122 हो गई है। वहीं, 2575 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं और 1697 सक्रिय मामले हैं।


ओडिशा में 73 नए मामले, संक्रमितों की संख्या 611 हुई
सूचना और जनसंपर्क विभाग, ओडिशा के मुताबिक राज्य में आज सुबह नौ बजे तक कोरोना पॉजिटिव के 73 नए मामले सामने आए हैं। इनमें खोरधा में तीन, गंजाम में 43, भद्रक में नौ, जाजपुर में 17, सुंदरगढ़ में दो मामले शामिल हैं। इनमें से 71 अन्य राज्यों से लौटे हैं और दो मामले नियंत्रण क्षेत्र (कंटेनमेंट जोन) में पाए गए हैं। इसके बाद राज्य में कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 611 हो गई है।


यूपी में 28 नए कोरोना पॉजिटिव, मध्य प्रदेश के इंदौर में 131 नए संक्रमित
किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGM), लखनऊ के मुताबिक, बुधवार को परीक्षण किए गए 982 नमूनों में से 28 के नतीजे पॉजिटिव आए हैं। मध्य प्रदेश के इंदौर में 13 मई को 131 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई है, इसके साथ ही यहां कुल मामले बढ़कर 2238 हो गए हैं। वहीं एक और मौत के साथ मृतकों की संख्या बढ़कर 96 हो गई है।


पशु कटान में वांछित तीन अभियुक्त रेस्ट

फाईज़ अली सैफी
गाज़ियाबाद। एसएसपी कलानिधि नैथानी और एसपी ग्रामीण नीरज कुमार जादौन के निर्देशों का अनुपालन करते हुए वांछित अभियुक्तों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत थाना मुरादनगर पुलिस के उपनिरीक्षक शीशपाल सिंह और उनकी टीम के उपनिरीक्षक दिनेश कुमार, वरिष्ठ सिपाही सुग्रीव शर्मा, सिपाही अनुज और सिपाही नीरज को उस समय सफलता हाथ लगी, जब उन्होंने चेकिंग के दौरान मिली मुखबिर की सूचना पर बुधवार सुबह मोहल्ला व्यापारियान से अवैध पशु कटान में वांछित चल रहे तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया।
आपको बता दें कि पुलिस को पकड़े गए वांछित अभियुक्तों ने अपना नाम सद्दाम पुत्र वकील, राशिद पुत्र रशीद और तीसरे ने सगीर पुत्र बाबू निवासी थाना मुरादनगर गाजियाबाद बताया है। वहीं, थाना मुरादनगर प्रभारी निरीक्षक ओमप्रकाश सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए अभियुक्त अवैध पशु कटान के अभियोग में वांछित चल रहे थे, जिन्हें पुलिस ने अपनी सक्रियता के चलते गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके विरुद्ध अग्रिम कानूनी-कार्रवाई कर इन्हे माननीय न्यायालय के समक्ष पेश कर दिया है।


3 माह से गोकशी के अभियोग में फरार चल रहा जिला बदर बदमाश गिरफ्तार, चाकू बरामद
गाज़ियाबाद। एसएसपी कलानिधि नैथानी और एसपी ग्रामीण नीरज कुमार जादौन के आदेश अनुसार तथा क्षेत्राधिकारी सदर गाज़ियाबाद प्रभात कुमार के निर्देशन में थाना मुरादनगर पुलिस के उपनिरीक्षक गुड वीर सिंह व उनकी टीम के वरिष्ठ सिपाही प्रमोद कुमार और दीपक कुमार ने मंगलवार देर रात्रि 3 माह से फरार चल रहे एक जिला बदर बदमाश को बंबा रोड के जीएमएस अस्पताल के पास से गिरफ्तार किया है। पुलिस को इसके पास से एक अवैध चाकू भी बरामद हुआ है।


वहीं, पुलिस को पकड़े गए जिला बदर अभियुक्त ने अपना नाम साजिद पुत्र असलम निवासी थाना मुरादनगर गाजियाबाद बताया है। दरअसल, थाना मुरादनगर प्रभारी निरीक्षक ओमप्रकाश सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पकड़ा गया अभियुक्त जिला बदर बदमाश है, जिसके विरुद्ध गोकशी से संबंधित एक दर्जन के करीब मुकदमें थाना मुरादनगर में ही दर्ज है। इतना ही नहीं, उन्होंने बताया कि पकड़े गए अभियुक्त के विरुद्ध गैंगस्टर और गुंडा नियंत्रण अधिनियम की भी कार्यवाही हो चुकी है। पुलिस ने इनके विरुद्ध कानूनी-कार्रवाई करके इसको माननीय न्यायालय के समक्ष पेश कर दिया है।


यूपी में मृतक- 87, संक्रमित-3,758

लखनऊ। चंदौली में बुधवार देर रात पहले कोरोना पॉजिटिव मामले की पुष्टि हुई इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के सभी 75 जिलों में अब कोरोना संक्रमित हैं। राज्य में बुधवार रात तक 3,758 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए थे। जिनमें से नौ जिलों आगरा, कानपुर, लखनऊ, मेरठ, नोएडा, सहारनपुर, फिरोजाबाद, गाजियाबाद और मुरादाबाद से 2,514 मामले सामने आए हैं। यहां घातक वायरस के कारण होने वाली मौतों की संख्या 87 है।


 स्वास्थ्य के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि मरीजों की रिकवरी दर बढ़ रही थी जो एक अच्छा संकेत था। उन्होंने कहा कि ‘आरोग्य ऐप’ का तेजी से उपयोग किया जा रहा है और नए रोगियों का पता लगाने के लिए अलर्ट का पालन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में, विशेष रूप से अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी श्रमिकों के परीक्षण में भी वृद्धि हुई है। 


डिस्टेंस भूली पुलिस, 15 क्वॉरेंटाइन किए

सरवन कुमार सिंह की रिपोर्ट


उन्नाव। कोविड-19 कोरोना वायरस बेसिक महामारी के बीच 2 गज की दूरी बनाने के लिए यूं ही नहीं कहा जा रहा है। दूरी मेंटेन ना करने के कारण जनपद में 15 पुलिसकर्मियों को क्वॉरेंटाइन किया गया है। इस संबंध में आगे आकर पुलिस अधीक्षक ने घटना का उल्लेख करते हुए बताया कि सभी 15 पुलिसकर्मियों को क्वॉरेंटाइन किया गया है। जो सभी टोल प्लाजा पर मृतक परिजनों की मदद करते हुए नजदीक आए थे।


पुलिस अधीक्षक के अनुसारः पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने बताया कि सभी 15 पुलिसकर्मी जो क्वॉरेंटाइन किए गए हैं। ये वो मृतक परिजन थे जो गोरखपुर से डेड बॉडी लेने के लिए आए थे। जिनके संपर्क में उपरोक्त पुलिसकर्मी आए थे। जिनमें से दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद पुलिसकर्मियों को क्वॉरेंटाइन किया गया है। गौरतलब है गोरखपुर निवासी के घर जाते समय नवाबगंज टोल प्लाजा पर मौत हो गई थी। कानूनी प्रक्रिया के दौरान पुलिसकर्मियों को मृतक परिजनों के संपर्क में आना पड़ा।


जनपद में हुई पॉजिटिव मरीजों की संख्या 6ः इधर ताजा रिपोर्ट के अनुसार जनपद में कोरोना पॉजिटिव मिलने से मरीजों की संख्या 6 हो गई है। लेकिन एक की रिपोर्ट उपचार के बाद नेगेटिव आ चुकी है। जबकि एक अन्य महिला पॉजिटिव मरीज का उपचार कानपुर में चल रहा है। शेष सभी का लखनऊ में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। निवासी बारासगवर क्षेत्र के गांव कुतुबुद्दीन गढ़ेवा, 10 मई को मुम्बई से आया था।


कोरोना पॉजिटिव के रूप में छठा मरीज आया सामने


जिलाधिकारी रविंद्र कुमार ने बताया कि बारासगवर थाना क्षेत्र के कुतुबुद्दीन गढ़ेवा निवासी कोविड-19 की जांच में पॉजिटिव पाये गया हैं। इनके आवास को जिरोइंग कराते हुए सम्बन्धित राजस्व ग्राम कुतुबुद्दीन गढ़ेवा को हाॅटस्पाॅट चिन्हित किया गया है।जिसकी पूरी सीमा में पूर्णतः बैरिकेडिंग एवं ग्राम सभा से सैनेटाइजेशन कराने का अनुरोध किया जा रहा है। कन्टेन्मेंट एक्टिविटी में कुतुबुद्दीन गढ़ेवा राजस्व ग्राम को सम्मिलित किया गया है। कुल 5 एक्टिव केस। एक उपचार के दौरान हुआ ठीक। पहला पॉजिटिव सदर कोतवाली क्षेत्र में जमाती जिसका फाइनल रिपोर्ट नेगेटिव, दूसरा शुक्लागंज में कानपुर की महिला पत्रकार, तीसरा सुमेरपुर ब्लाक के घीना खेड़ा में, चौथा बांगरमऊ की ब्योली इस्लामाबाद में, पांचवा नवाबगंज के मिर्जापुर गांव में और छठा बारासगवर क्षेत्र के गांव कुतुबुद्दीन गढ़ेवा में।


शर्मसारः दुष्कर्मी पिता, मददगार माता

मुरैना (मध्यप्रदेश)। मध्य प्रदेश में एक बीर फिर इंसानियत शर्मसार हुई है। यहां के मुरैना जिले में 55 वर्षीय एक शिक्षक द्वारा अपनी 16 वर्षीय बेटी के साथ कथित तौर पर हाथ-पैर बांधकर बलात्कार करने का मामला सामने आया है। मुरैना जिले के पोरसा कस्बे में घटित इस घटना में इस शिक्षक की पत्नी भी कथित तौर आरोपी की मदद करती थी। पुलिस ने आरोपी दंपति को गिरफ्तार कर लिया है। एसडीओपी अवनीश बंसल ने बताया कि इस घटना की प्राथमिक जांच में तथ्य सामने आने पर पुलिस ने आरोपी शिक्षक एवं उसकी पत्नी पर मामला दर्ज कर मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है।


उन्होंने कहा कि बुधवार को पीड़िता एवं उसके आरोपी पिता दोनों की मेडिकल जांच भी करायी गयी है। बंसल ने बताया कि घर के बाहर किसी को पता न चले, इसलिये इस दंपति ने पीड़ित बेटी को घर में ही कैद कर दिया था। उन्होंने कहा कि परेशान किशोरी ने अपनी विवाहिता बड़ी बहन को इस बारे में सोमवार को बताया, जिसके बाद बड़ी बहन ने इसकी शिकायत चाइल्ड हेल्पलाइन पर की। वहां से आये सदस्यों ने किशोरी को मंगलवार को कैद से छुड़ाकर पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद पुलिस ने पति-पत्नी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर गिरफ्तार किया। बंसल ने बताया कि पीड़िता ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसका शिक्षक पिता उससे दो बार 26 मार्च एवं 10 अप्रैल को दुष्कर्म कर चुका है और दुष्कर्म करने से पहले उसके हाथ-पैर बांध दिये गए थे।


शिकायत के अनुसार पीड़ित किशोरी की मां भी आरोपी की मदद करती थी और उसे घर में कैद कर रखते थे। उन्होंने कहा कि पीड़िता ने बताया कि दुष्कर्म का विरोध करने पर आरोपी उसे नंगा कर देते थे और मारपीट करते थे। उन्होंने कहा कि पीड़िता के शरीर पर काटने के निशान भी दिखाई दे रहे हैं। इस बारे में मुरैना कलेक्टर प्रियंका दास ने कहा, ”शिक्षक द्वारा अपनी ही पुत्री के साथ दुष्कर्म किये जाने की घटना शर्मनाक है।” उन्होंने कहा, ”प्रशासन आरोपी पर कानूनी कार्रवाई करने में कोई ढिलाई नहीं बरतेगा। नियम के अनुसार शिक्षक को शीघ्र निलंबित किया जायेगा, क्योंकि उसने शिक्षक के पद की गरिमा के विरुद्ध कृत्य किया है।”


दिल्लीः 24 घंटे में 472 नए मामले

नीरज जिंदल 


नई दिल्ली। अबतक का सबसे बड़ा उछाल सामने आया है। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कुल 472 नए मामले सामने आए हैं, इसी के साथ कुल मामलों की संख्या 8470 पहुंच गया है। राजधानी में लगातार कोरोना वायरस का असर बढ़ता जा रहा है और पिछले कुछ दिनों में लगातार मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है। दिल्ली में अब कोरोना के कुल केस की संख्या 8470 हो गई है। पिछले 24 घंटे में कुल 472 मामले सामने आए, जबकि 187 लोग ठीक हो चुके हैं अबतक दिल्ली में 3045 लोग कोरोना वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना वायरस से कोई भी मौत नहीं हुई है हालांकि, सरकार ने कुछ पुरानी मौतों को कुल आंकड़ों में जोड़ा है। इसी के साथ दिल्ली में कोरोना वायरस के कारण हुई कुल मौतों की संख्या 115 हो गई हैं। राजधानी में अब कोरोना वायरस के कुल 5310 एक्टिव केस हैं, जबकि 1 लाख 19 हजार से अधिक टेस्ट करवाए जा चुके हैं।
गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जनता से मुखातिब होते हुए लॉकडाउन को लेकर जानकारी दी। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने जनता से लॉकडाउन में ढील को लेकर जो सुझाव मांगे थे, उन्हें जनता ने करीब पांच लाख सुझाव भेजे हैं। दिल्ली सरकार आज शाम तक केंद्र सरकार को लॉकडाउन में ढील को लेकर सुझाव देगी। जिसके बाद केंद्र सरकार उसपर निर्णय करेगी देश में लॉकडाउन 3.0 की अवधि 17 मई को खत्म हो रही है, जबकि 18 मई से लॉकडाउन 4.0 को नए तरीके से लागू किया जाएगा।


आईएएस अधिकारी संक्रमित, हड़कंप

पटना। बिहार में कोरोना के संक्रमण ने प्रवासी मजदूरों के लौटने के बाद रफ्तार पकड़ ली है। सूबे में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ती जा रही है। इस बीच बिहार के एक IAS भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। बिहार के नालंदा में एक IAS ऑफिसर को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जानकारी के मुताबिक नवादा के हिलसा अनुमंडल पदाधिकारी के पद पर तैनात एक आईएएस अफिसर को कोरोना संक्रमित पाया गया है। बिहार के किसी IAS का कोरोना पॉजिटिव पाए जाने का यह पहला मामला है। हिलसा अनुमंडल पदाधिकारी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम यह पता लगाने में जुटी है कि आखिर कोरोना कैसे IAS ऑफिसर तक पहुंचा और इसकी चैन क्या है।


लखनऊ में विस्फोट, 14 संक्रमित मिले

राजधानी  में फिर हुआ कोरोना का विस्फोट

लखनऊ। राजधानी लखनऊ को रेड जोन की श्रेणी में रख्खा है, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी लॉकडाउन में जनता को जैसे जैसे छूट देने को लेकर चर्चा कर रहें है वैसे वैसे राजधानी में कोरोना बम का विस्फोट होता नजर आ रहा है, वही प्रशासन के आला अधिकारियों द्वारा निरंतर प्रयास के बावजूद लखनऊ वासी मानने को त्यार नही की अनावश्यक घर से बाहर न निकले लेकिन पता नही कौन सी मजबूरी है कि जनता मानती नही जिसे देखो वही गाड़ी लिये लखनऊ की सड़कों पर सरपट दौड़ रहें है।


ऎसा ही कुछ नजारा हजरतगंज का है, जहां लोग बिना किसी पास के लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे है।
कहीं इसी का नतीजा तो नही 13 मई 2020 को कोरोना पॉजिटिव के कुल 13 नए केस मिले हैं, जिसमें से एक केस रिपीट पॉजिटिव है, लखनऊ के कैसरबाग सब्जी मंडी नया कोरोना हब के रूप में उभरा है, सभी 13 कोरोना संक्रमित कैसरबाग सब्जी मंडी के हैं।


बताते चले, कैसरबाग सब्जी मंडी में पहले ही एक दर्जन आढ़ती कोरोना संक्रमित मिले थे। अकेले कैसरबाग कोतवाली क्षेत्र में अब तक 70 से ज़्यादा पॉजिटिव केस मिले हैं, घसियारी मंडी, नजरबाग, फूलबाग, नजीराबाद, खंदारी बाजार और कैसरबाग सब्जी मंडी में अब तक सबसे ज़्यादा कोरोना संक्रमित मिले हैं।
राजधानी में अब तक संक्रमितों की कुल संख्या 276 हो गई है, अब तक राजधानी में 211 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज भी हुए हैं, लखनऊ में कुल एक्टिव केस की संख्या 64 है, मारवाड़ी गली, भूसा मंडी, गन्ने वाली गली, गोलागंज और हैदर मिर्जा रोड में भी संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पूरे इलाके में 11 हज़ार लोगों से सम्पर्क कर उन्हें जागरूक किया है।वहीं बुजुर्ग मरीजों को केजीएमयू में एडमिट कराया गया है, आज मिले 14 नए मामलों में से जो मरीज 60 साल या उससे ऊपर के हैं, उन्हें केजीएमयू में एडमिट कराया गया है, बाकी लोगों को लोकबन्धु अस्पताल भेजा गया है।


संवाददाता - जीत नारायण
छायाकार - नीरज कश्यप


 


क्वॉरेंटाइन सेंटर में युवक ने लगाई फांसी

सारंगढ़। तेलंगाना के हॉट जोन से आए श्रमिक ने क्वॉरेंटाइन सेंटर सारंगढ़ में फांसी लगााकर अपनी जान दे दी है। 3 दिन पहले 10 तारीक अपने एक साथी के साथ यह युवक सारंगढ़ पहुंचा था दोनों सारंगढ़ के अमलीपाली गांव के निवासी हैं ।
जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक तेलंगाना के जिस स्थान पर यह श्रमिक रह रहे थे वह कोरोना का हॉट स्पॉट है। ऐसे में जब किसी कदर दोनों श्रमिक मित्र सारंगढ़ पहुंचे तो इन्हें कोरेनटाइन सेंटर में एक अलग कमरे में रखा गया था। ताकि संक्रमण का संभावित खतरा उस सेंटर में रुके हुए अन्य लोगों को न हो।
सारंगढ़ के थाना प्रभारी आशीष वासनिक ने बताया कि युवक पिछले कुछ दिनों से विक्षिप्तों जैसा हरकत कर रहा था। वह स्वयं में बड़बड़ाता हुआ दिखाई दे रहा था। जिसे सारंगढ़ के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भी इलाज के लिए लाया गया था। बीती रात लगभग 3:00 बजे उस युवक ने अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। उसके साथ रुके एक अन्य साथी से पूछताछ की जा रही है।
पुलिस और प्रशासन का अमला मौके पर मौजूद। मृतक अमलीपाली गांव का अर्जुन निषाद है।


वृद्ध महिला ने वायरस को पराजित किया

मुकेश हरदिया


मेरठ। मेडिकल कॉलेज मेरठ के कोविड-19 वार्ड से बुधवार को दो और रोगी पूरी तरह स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज होने के बाद घर चले गए। इनमें रजबन की 85 वर्षीय बिलकिस बानो भी हैं, कूल्हे की हड्डी टूटने के बाद जांच कराने पर उनके पॉजिटिव होने का पता चला था। बुधवार को मेरठ के छह लोग कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंचे। अब तक 78 लोग कोरोना को मात दे चुके हैं। बुजुर्गवार बिलकिस ने धैर्य रखकर इस उम्र में भी कोविड-19 रोग से संघर्ष कर रोग पर विजय प्राप्त की है। अब तक मेरठ में जितने लोगों ने कोरोना को मात दी है, उनमें सबसे ज्यादा उम्र की हैं। घर पहुंचने पर मोहल्ले के लोगों ने ताली बजाकर स्वागत किया। इस मौके पर बिलकिस बानो ने कहा कि घबराइये नहीं, मैंने कोरोना को हरा दिया तो आप लोग तो हरा ही देंगे।बुजुर्गवार बिलकिस ने धैर्य रखकर इस उम्र में भी कोविड-19 रोग से संघर्ष कर रोग पर विजय प्राप्त की है। अब तक मेरठ में जितने लोगों ने कोरोना को मात दी है, उनमें सबसे ज्यादा उम्र की हैं। घर पहुंचने पर मोहल्ले के लोगों ने ताली बजाकर स्वागत किया। इस मौके पर बिलकिस बानो ने कहा कि घबराइये नहीं, मैंने कोरोना को हरा दिया तो आप लोग तो हरा ही देंगे।


छोटी सी बात पर 'पूरा परिवार खत्म'

नरसिंहपुर। मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर के काछी मोहल्ले में रहने वाले पिता घनश्याम कुशवाहा और 19 साल के बेटे जगदीश कुशवाहा के बीच छोटी सी बात पर हुए विवाद को लेकर घनश्याम ने कपूरी रेलवे ट्रैक पर रेल से कटकर आत्महत्या की। वहीं बेटे ने घर पर बने कुएं में कूदकर आत्महत्या कर ली।


इस घटना की जानकारी मिलते ही दो जवान बेटियों ने भी आत्महत्या का प्रयास किया। जिन्हें वक्त रहते पुलिस और पड़ोस में रहने वाले लोगों ने रोक लिया। पिता घनश्याम कुशवाहा के शराब पीकर घर आने पर पुत्र जगदीश ने आपत्ति जताई थी। इस बात को लेकर पिता घर से निकल गया और पुलिस को कपूरी रेलवे गेट के पास रेलवे ट्रेक पर उसका शव मिला। नरसिंहपुर कोतवाली पुलिस जब मृतक के घर जांच करने पहुंची तो बेटे का शव भी घर के कुएं में मिला। पुलिस ने जब इस मामले की जानकारी हासिल की तो पता चला कि 8 साल पहले मृतक की पत्नी ने भी जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी।


पुलिस ने मामला दर्ज कर शवों का पोस्टमार्टम कर उन्हें परिजनों को सौंप दिया है। घर पर दो जवान बेटियां अकेली हैं। ऐसे में उनकी निगरानी के लिए पुलिस ने महिला पुलिस को लगाया है. जिससे फिर से किसी भी तरह की अनहोनी को होने से रोका जा सके। कोतवाली थाना प्रभारी अजय सनकत के मुताबिक परिवार में घनश्याम के शराब पीने को लेकर परिजनों के बीच बातचीत हुई थी। जिसके बाद घनश्याम घर से बाहर निकल गया था और रेल लाइन पर उसका शव मिला था। वहीं पिता को ढूंढने निकला जगदीश भी घर नहीं लौटा और बुधवार को कुंए में उसका शव मिला।


हॉटस्पॉट में जरूरतमंदों को राशन दिया

बदायूं शहर के कई नॉन हॉटस्पॉट मुहल्लों में जरूरतमंदों ,गरीबो व असहायो को तलाश कर राशन किट उनके घरों तक पहुंचाई गई
 
बदायूँ। बरोज बुधवार को पूर्व मंत्री आबिद रजा द्वारा गरीब ,बेसहारा व जरूरतमंदों की मदद के लिए संचालित “लॉकडाउन राहत सेंटर” से बदायूं शहर के कई नॉन हॉटस्पॉट मुहल्लों में जरूरतमंदों ,गरीबो व असहायो को तलाश कर राशन किट उनके घरों तक पहुंचाई गई


आज के इस राशन वितरण कार्य में रफीक अहमद फारुखी ,हबीब फारुखी, जावेद फारुखी ,शफीक फारुखी , नहीम उददीन फारुखी, रेहान फारुखी, जितेन्द्र कश्यप, राजपाल, रामप्रकाश आदि का विशेष योगदान रहा। आपको बता दे देश मे लगे लॉकडाउन के बाद से गरीब व असहाय लोगो की मदद के लिए आबिद रज़ा द्वारा बनाए गए “लॉकडाउन राहत सेंटर” से लगातार जरूरत मंदो की तलाश कर घर घर राहत सामग्री पहुचाने का कार्य पीआरओ सरताज खान व उनकी टीम द्वारा जारी है।


डीएम की जनता से सहयोग की अपील

कासगंज। कोरोना वैश्विक महामारी के चलते कासगंज जिलाधिकारी सी पी सिंह ने अपने शब्दों में कासगंज की जनता से सहयोग की अपील की और पिछले दिनों में कोरोना से लड़कर जो कष्ट सहे,लॉक डाउन का पूर्ण पालन किया हैं उसके लिए जनता का आभार व्यक्त किया। और कहा कि अगर आने वाले 20- 25 दिनों कष्ट और सह लिया तो निश्चित ही हम कोरोना पर विजय प्राप्त कर लेंगे।
जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि जो प्रवासी मजदूर बाहर से आरहे हैं । ये नहीं कहा जा सकता कि उनमें कोई कोरोना मरीज नहीं हो सकता इसलिए बाहर से आने वाले अगर आपके अपने सम्बन्धी हैं तो उन्हें कोरन्टीन में रखें ।जिससे आपकी आपके परिवार की सुरक्षा रहे और अगर कोई नही मानता है तो तत्काल पुलिस या कंट्रोल रूम को सूचित करें। घर में रहें सुरक्षित रहें । जिलाधिकारी सी पी सिंह ने जय हिंद ,जय भारत , कहते हुए अपनी वाणी को विराम दिया।


वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी ने लॉक डाउन 4 के इस निर्णय के बाद और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद कासगंज का प्रशासन पूर्णरूप से सतर्क नजर आया । जनपद में यह देखने को मिला कि शहर की आवागमन की सीमाएं बन्द कर दी गई हैं । जगह जगह प्रशासन ने सुरक्षा कर्मियों की तैनाती कर दी है और ये कोरोना योद्धा जनता की सुरक्षा में तत्पर हैं।बिना कार्य के किसी को भी नहीं निकलने दिया जा रहा है अगर जरूरी कार्य से कोई व्यक्ति निकलता है तो उसकी पूरी जानकारी ली जा रही है। बिना मास्क के कोई दिखायी देता है तो चेतावनी देकर वापस भेज दिया जाता है कि बिना मास्क के, बिना बजय, बिना किसी कार्य के नहीं निकलना है।लॉक डाउन का उलंघन करने वालों पर पूर्ण कार्यवाही की जा रही है। कुछ शर्तों के साथ ही सुबह -शाम कुछ समय के लिए ही कुछ छूट मिली है जो कि गृहस्थी के कुछ जरूरी सामान ही ले सकते हैं।
जनपद में जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक व अन्य अधिकारी गढ़ स्वयं जनता की सेवा में घूम रहे है और पूरे शहर का जायजा ले रहे हैं जिला प्रशासन की पूरे शहर पर कड़ी नजर है।


 मुकेश यादव की रिपोर्ट…


30 जून तक रेलवे की सभी बुकिंग रद्द

नई दिल्ली। भारतीय रेल ने सामान्य यात्री ट्रेनों में 30 जून तक की यात्रा के लिए बुक सभी टिकटों को रद्द कर दिया है, इसमें मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों और उपनगरीय सेवाएं भी शामिल हैं। सभी यात्रियों को पूरा किराया रिफंड कर दिया जाएगा। रेलवे ने गुरुवार को बयान में यह जानकारी दी। हालांकि, रेलवे ने कहा कि इस दौरान, प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए चलाई जा रहीं ‘श्रमिक’ ट्रेनें और नई दिल्ली तथा प्रमुख स्टेशनों के बीच चल रही 15 जोड़ी विशेष ट्रेनों का परिचालन जारी रहेगा। इससे पहले बुधवार को रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों में 22 मई से वेटिंग टिकट की शुरुआत करने की घोषणा की थी। रेलवे बोर्ड ने बुधवार को न केवल अपनी वर्तमान विशेष ट्रेनों, बल्कि आगामी सभी ट्रेनों में यात्रा के लिए 22 मई से प्रतीक्षा सूची का प्रावधान शुरू करने संबंधी आदेश जारी किया। वर्तमान विशेष ट्रेनों में केवल कंफर्म टिकट बुक किये जा रहे हैं, वहीं 22 मई से शुरू हो रही यात्राओं के वास्ते 15 मई से टिकटों की बुकिंग में प्रतीक्षा सूची में टिकट बुक कराने का प्रावधान होगा। अब 1 AC में 20, एग्जीक्यूटिव क्लास में 20, 2AC में 50, 3AC में 100, AC चेयर कार में 100 और स्लिपर में 200 तक वेटिंग टिकट काटे जाएंगे। पीटीआई के मुताबिक, कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाये गये लॉकडाउन से पहले यात्रियों द्वारा बुक कराई गई 94 लाख टिकटों के रद्द होने पर भारतीय रेलवे को 1,490 करोड़ रुपये का नुकसान होगा।


रेलवे के शीर्ष अधिकारियों ने ‘पीटीआई’ को बताया कि 22 मार्च से 14 अप्रैल के बीच यात्रा के लिए बुक कराई गई 55 लाख टिकटों के लिए 830 करोड़ रुपये की राशि वापस की जाएगी। रेलवे ने 21 दिन के लॉकडाउन लागू होने से तीन दिन पहले 22 मार्च को अपनी यात्री ट्रेन सेवाओं को व्यापक पैमाने पर स्थगित कर दिया था। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन को 15 अप्रैल से बढ़ाकर तीन मई तक किए जाने के निर्णय के कारण बुक कराए गए 39 लाख टिकटों के लिए 660 करोड़ रुपये की राशि वापस की जायेगी।


रोडवेज की बस ने मजदूरों को कुचला

मुजफ्फरनगर। यूपी के मुजफ्फरनगर से गुरुवार सुबह सुबह एक बुरी खबर आई है। मुजफ्फरनगर में रोडवेज की बेकाबू बस ने प्रवासी मजदूरों को कुचल दिया है। इस हादसे में 6 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि 4 मजदूर घायल हैं. जानकारी के मुताबिक ये मजदूर पैदल ही पंजाब से बिहार के गोपालगंज जा रहे थे। हादसा थाना नगर कोतवाली क्षेत्र के मुजफ्फरनगर देवबंद सहारनपुर राजमार्ग टोल प्लाजा के करीब हुआ।


पैदल मजदूरों को पीछे से सरकारी बस ने कुचल दिया। घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भिजवाया जहां उनकी हालत को गंभीर देखते हुए डॉक्टर ने उन्हें मेरठ रेफर कर दिया जहां उनका इलाज चल रहा है। पुलिस ने मौके से सभी 6 मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सभी मजदूरों की पहचान हो गई है। पीछे से पैदल आ रहे सैकड़ों मजदूरों को पुलिस ने ट्रक व अन्य वाहनों में बैठा कर आगे के लिए रवाना कर दिया। जानकारी के अनुसार बस का ड्राइवर शराब के नशे में धुत था। जैसे ही यह बस सहारनपुर की थाना देवबंद क्षेत्र की घलोली चेक पोस्ट को पार कर मुजफ्फरनगर जनपद की सीमा में घुसी तो टोल प्लाजा से कुछ ही दूरी पहले रोडवेज बस ने इन मजदूरों को कुचल दिया। रोडवेज बस ड्राइवर को पुलिस ने दबोच लिया. पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस ने ड्राइवर को हिरासत में ले लिया है।


चलती ट्रेन से 338 मजदूर लापता

बांदा। यूपी के बांदा पहुंची वडोदरा श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। इस ट्रेन में सवार 1,908 में से 338 लोग चलती ट्रेन से लापता हो गए हैं। अब दो राज्यों का प्रशासन लापता प्रवासी कामगारों की खोजबीन में जुट गया है। 22 सामान्य डिब्बों की यह ट्रेन गुजरात के वडोदरा स्टेशन से मंगलवार को 1,908 प्रवासी मजदूरों को लेकर बांदा के लिए चली थी, जिन्हें वहां बाकायदा स्क्रीनिंग करके ट्रेन में बिठाया गया था।
सभी यात्रियों की जानकारी के साथ इसका एक लेटर अपर कलेक्टर वड़ोदरा डीआर पटेल द्वारा स्थानीय प्रशासन को भेजा गया था। जब ट्रेन बांदा पहुंची तो 1,908 की बजाय 1,570 लोग ही बांदा उतरे। चलती ट्रेन से लोग नदारद दिखे हैं, ऐसे में प्रशासन पर भी सवाल खड़े किए जा रहे हैं. रेलवे प्रशासन सकते में है।


वडोदरा से सवार 1,908 मजदूरों में से सिर्फ 1,570 यात्री ही बुधवार सुबह बांदा रेलवे स्टेशन पर उतरे। बाकी 338 लोग कहां लापता हैं, इसके बारे में किसी को कुछ नहीं पता। दावा किया जा रहा था कि पुख्ता स्वास्थ्य जांच और पड़ताल के बाद ही श्रमिकों को ट्रेनों से उनके गृह राज्यों में भिजवाया जा रहा है। बांदा प्रशासन इस संबंध में गुजरात प्रशासन से संपर्क कर गुमशुदा यात्रियों की जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहा है।


गुजरात से बांदा रवाना हुई थी ट्रेन


गुजरात के वडोदरा शहर से मंगलवार को 22 डिब्बों की एक श्रमिक स्पेशल ट्रेन बांदा के लिए रवाना हुई थी, जिसमें गुजरात प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई सूची के अनुसार उत्तर प्रदेश के 48 जिलों के 1908 यात्री स्वास्थ परीक्षण के बाद सवार हुए थे। नॉन स्टॉप ट्रेन का रास्ते मे कोई ठहराव नहीं था और यह बुधवार सुबह सीधे बांदा रेलवे स्टेशन आकर रुकी, जिसमें गिनती के बाद सिर्फ 1570 यात्री ही उतरे पाए गए।मंडलायुक्त गौरव दयाल ने ‘आजतक’ को बताया कि वडोदरा-बांदा श्रमिक स्पेशल ट्रेन में बुधवार को यहां 48 जिलों के 1570 लोग उतरे, जबकि भेजी गई सूची में 1908 यात्रियों की जानकारी थी। पहुंचे लोगों की स्क्रीनिंग कर उन्हें विभिन्न जनपदों के लिए रवाना कर दिया गया।


सूची हो सकती है गलत


गायब यात्रियों के सवाल पर उन्होंने कहा कि “हम वहां के प्रशासन से इस संबंध में संपर्क कर जानकारी जुटा रहे हैं। हो सकता हो कि वह लोग वहां से ट्रेन में सवार ही ना हुए हों या तो सूची में ही गलतियां हों।”एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि 22 डिब्बों की ट्रेन में 1908 लोगों को वैसे भी मानक के अनुसार नहीं बिठाया जा सकता, इस बात की संभावना अधिक है कि सूची बनाने में चूक हुई हो, फिर भी हम इसकी पड़ताल करवा रहे हैं।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मई 15, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-278 (साल-01)
2. शुक्रवार, मई 15, 2020
3. शक-1943, ज्येठ, कृष्ण-पक्ष, तिथि- अष्टमी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:50,सूर्यास्त 07:02।


5. न्‍यूनतम तापमान 22+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...