रविवार, 7 अप्रैल 2019

आपको महसूस हुआ भूकंप

झज्जर: झज्जर में 7 अप्रैल को सायं 9 बजकर 10 मिनट पर भूकम्प का झटका मासूस किया गया। जान मॉल का नुकसान नहीं । लोग घरों के बाहर दौड़े।universalexpress.page


रेलगाड़ियों के रूट डायवर्जन की सूचनाएं

*रूट डायवर्जन सूचना*


सहारनपुर:अवगत कराना है कि दिनांक 08.04.2019 को गांधी मैदान में वी0आई0पी0 कार्यक्रम होने के दौरान यातायात व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुये, यातायात के सुचारू संचालन हेतु भारी वाहनों का डायवर्जन किया जाता है, जो दिनांक 08.04.2019 को प्रातः 08: 00 बजे से अग्रिम आदेश तक प्रभावी रहेगा। *समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया जाता है कि अपने-अपने क्षेत्र मे प्रत्येक डायवर्जन वाले स्थान पर पर्याप्त पुलिस बल नियुक्त कर डायवर्जन को कडाई से लागू करायेगें।* प्रभारी यातायात को निर्देशित किया जाता है कि प्रत्येक महत्वपूर्ण स्थानों पर यातायात कर्मियें को नियुक्त कर समय से यातायात डायवर्जन की व्यवस्था करेंगें तथा यह सुनिश्चित करेंगे की डायवर्जन के दौरान कोई भी भारी वाहन शहर की ओर ना आने दिया जाये।
*1.* दिल्ली/शामली की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/टै्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) जिन्हें अम्बाला की ओर जाना है वे नानौता मे संजय चोक से गंगोह, नकुड, के रास्ते शाहजंहापुर चौकी होकर जायेंगे।
*2.* दिल्ली/शामली की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/ट्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) आदि जिन्हे मु0नगर या देहरादून की ओर जाना है वे नानौता मे संजय चौक से बडगांव के रास्ते देवबन्द हेकर जायेंगें।
*3.* अम्बाला की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/ट्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) जिन्हे दिल्ली की ओर जाना है वे शाहजंहापुर चौकी से नकुड, गंगोह, नानोता मे संजय चोक से होकर जायेगें।
*4.* अम्बाला की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/टै्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) आदि जिन्हे देहरादून व मु0नगर की ओर जाना है वे शाहजंहापुर चौकी से चिलकाना, कलसिया, छुटमलपुर के रास्ते होकर जायेंगें।
*5.* मु0नगर की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/टै्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) जिन्हे देहरादून की ओर जाना है वे देवबन्द, नागल, गागलहेडी, होकर छुटमलपुर के रास्ते देहरादून जायेंगें।
*6.* विकासनगर/बेहट की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/ट्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) जिन्हें दिल्ली की ओर जाना हे वह कलसिया तिराहे से छुटमलपुर से गागलहेडी से देवबन्द से नानौता होकर जायेंगे।
*7.* देहरादून/हरिद्वार की ओर से आने वाले भारी वाहन (ट्रक/टै्रेक्टर ट्राली) (कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोडकर) जिन्हें अम्बाला रोड की ओर जाना है वे छुटमलपुर कलसिया से चिलकाना से शाहजंहापुर चौकी होते हुये जायेगें।
*पार्किंग की व्यवस्था इस प्रकार रहेंगी!!*
*1-* नकुड, गंगोह, सरसावा की ओर से कार्यक्रम में आने वाले समस्त ट्रैक्टर ट्राली बस माल गोदाम रेलवे रोड में पार्क कराये जायेंगे। पार्किंग भर जाने के उपरान्त उक्त वाहनों को एलाईट पैट्रोल पम्प के सामने रेलवे की खाली भूमि पर पार्क कराये जायेंगे।
*2-* नकुड, रामपुर, बडगांव, गंगोह, सरसावा, गागलहेडी, नागल की ओर से कार्यक्रम में आने वाले ट्रैक्टर ट्रॉली व चार पहिया वाहन गंगोह बस अडडे में पार्क किये जायेंगे।
*3-* देवबन्द,गागलहेडी, मल्हीपुर की ओर से कार्यक्रम में आने वाले ट्रैक्टर ट्रॉली व चार पहिया वाहन गंगोह बस अडडे में पार्क कराये जायेंगे। पार्किंग भर जाने के उपरान्त उक्त वाहनो को फायर सर्विस तिराहे से घंटाघर की ओर मार्ग के दौनो ओर पडी खाली जगह में पार्क कराये जायेगें।
*4-* कार्यक्रम में आने वाले दोपहिया वाहन अम्बाला रोड फायर सर्विस के पास दोनो ओर खाली पडी जगह पर पार्क कराये जायेंगे।
*जनहित में ज़ारी*universalexpress.page


यूनिवर्सल एक्सप्रेस समाचार पत्र

universalexpress.page


मर्यादाओं की परीक्षा

मर्यादाओं की परीक्षा
संपादकीय
लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान की निर्धारित तिथि अब बहुत दूर नहीं रह गई है ! जैसे- जैसे तारीख नजदीक आ रही है ,वैसे- वैसे ही राजनेताओं की बेचैनी बढ़ रही है !चुनाव प्रचार बहुत तेज और आक्रामक को चला हैं ! राजनीतिक दल एक दूसरे पर विभिन्न प्रकार के आरोप मढ़ रहे हैं, जिसमें झूठ और सच कोई मायने नहीं रखता है ! बल्कि ,कई बार तो मर्यादित भाषा और टिप्पणियों से भी कोई गुरेज नहीं किया जा रहा हैं, शब्दों के भाव और उनके अर्थ का वास्तविक चित्रण नहीं किया जा रहा है !अर्थ का अनर्थ करने में किसी प्रकार की कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जा रही है! एक राजनेता में यह क्षमता होनी चाहिए वह जनता को संतुष्ट कर सके, उनकी आवश्यकता, अपेक्षाओं और वास्तविक समस्याओं को समझ सके! एक इमानदार नेता वही होता है जो एक बार बिकने के बाद दोबारा खरीदा ना जा सके, लेकिन यहां पर ऐसा कुछ भी नहीं है !यहां इसके विपरीत कोई भी नेता किसी बात को गंभीरता से नहीं लेता है, यहां तक वह अपनी ही बातों पर भरोसा नहीं करता है और सबसे बड़ी हैरानी की बात तो यह है कि जो भी कह रहा है ,उस पर जनता कैसे विश्वास कर लेती है ?जबकि स्पष्ट बात है कि वह अपनी बातों पर विश्वास नहीं करता है! उसके बावजूद जनता उस पर विश्वास किस प्रकार करती हैं !वास्तविकता से दूर जनता को इस प्रकार के विश्वास से बचना चाहिए !वास्तविकता में झांकने का प्रयास करना चाहिए ,वास्तव में जनता के हित और विकास की समझ रखने वाले दल अथवा राजनेता को भी समर्थन करने से पहले विचार- विनिमय करना आवश्यक होता है ! हालांकि यह केवल मत प्राप्त करने के अपने -अपने तरीके- विचार हैं !जो भी राजनेता इस समय चुनाव समर में अपने बल और विवेक तर्क शक्ति का उपयोग कर रहे हैं !वह हारने और जीतने के बाद कई बार एक ही मंच पर नजर आएंगे केवल जनता को भ्रमित करने के लिए एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाए जाते हैं! नीचा दिखाने का प्रयास किया जाता है! इसलिए प्रत्येक भारतवासी को इस बात से पुष्ट होने की सख्त आवश्यकता है कि वह लोकसभा चुनाव में हिस्सेदार हैं ,और उसे अपने मत का उचित उपयोग करने का पूरा अधिकार है !उसको यह करना भी चाहिए ,उसकी जिम्मेदारी भी है!मर्यादाओं की परीक्षा
संपादकीय
लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान की निर्धारित तिथि अब बहुत दूर नहीं रह गई है ! जैसे- जैसे तारीख नजदीक आ रही है ,वैसे- वैसे ही राजनेताओं की बेचैनी बढ़ रही है !चुनाव प्रचार बहुत तेज और आक्रामक को चला हैं ! राजनीतिक दल एक दूसरे पर विभिन्न प्रकार के आरोप मढ़ रहे हैं, जिसमें झूठ और सच कोई मायने नहीं रखता है ! बल्कि ,कई बार तो मर्यादित भाषा और टिप्पणियों से भी कोई गुरेज नहीं किया जा रहा हैं, शब्दों के भाव और उनके अर्थ का वास्तविक चित्रण नहीं किया जा रहा है !अर्थ का अनर्थ करने में किसी प्रकार की कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जा रही है! एक राजनेता में यह क्षमता होनी चाहिए वह जनता को संतुष्ट कर सके, उनकी आवश्यकता, अपेक्षाओं और वास्तविक समस्याओं को समझ सके! एक इमानदार नेता वही होता है जो एक बार बिकने के बाद दोबारा खरीदा ना जा सके, लेकिन यहां पर ऐसा कुछ भी नहीं है !यहां इसके विपरीत कोई भी नेता किसी बात को गंभीरता से नहीं लेता है, यहां तक वह अपनी ही बातों पर भरोसा नहीं करता है और सबसे बड़ी हैरानी की बात तो यह है कि जो भी कह रहा है ,उस पर जनता कैसे विश्वास कर लेती है ?जबकि स्पष्ट बात है कि वह अपनी बातों पर विश्वास नहीं करता है! उसके बावजूद जनता उस पर विश्वास किस प्रकार करती हैं !वास्तविकता से दूर जनता को इस प्रकार के विश्वास से बचना चाहिए !वास्तविकता में झांकने का प्रयास करना चाहिए ,वास्तव में जनता के हित और विकास की समझ रखने वाले दल अथवा राजनेता को भी समर्थन करने से पहले विचार- विनिमय करना आवश्यक होता है ! हालांकि यह केवल मत प्राप्त करने के अपने -अपने तरीके- विचार हैं !जो भी राजनेता इस समय चुनाव समर में अपने बल और विवेक तर्क शक्ति का उपयोग कर रहे हैं !वह हारने और जीतने के बाद कई बार एक ही मंच पर नजर आएंगे केवल जनता को भ्रमित करने के लिए एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाए जाते हैं! नीचा दिखाने का प्रयास किया जाता है! इसलिए प्रत्येक भारतवासी को इस बात से पुष्ट होने की सख्त आवश्यकता है कि वह लोकसभा चुनाव में हिस्सेदार हैं ,और उसे अपने मत का उचित उपयोग करने का पूरा अधिकार है !उसको यह करना भी चाहिए ,उसकी जिम्मेदारी भी है!universalexpress.page


लोनी नगर के भ्रष्टाचार पर टिकी सबकी नजर

लोनी नगर के भ्रष्टाचार पर टिकी सबकी नजर
लोनी ! नगर पालिका परिषद लोनी के भ्रष्टाचार का सच जनता के सामने दर-परत-दर खुलता जा रहा है !जनता इस बात में जितनी ज्यादा रुचि ले रही है ,उसका भ्रष्टाचारियों पर सीधा प्रभाव पड़ता देखा जा रहा है! वहीं यह खुला भ्रष्टाचार अब प्रशासन की आंखों में भी रड़कने लगा है !जिस प्रकार झूठ का स्वयं का अस्तित्व नहीं होता है ,ठीक उसी प्रकार अपराध का परिणाम प्रत्येक दशा में मिलना ही होता है !आप सभी सोशल साइट्स ,यूट्यूब चैनल और समाचार पत्र के माध्यम से यह बात सभी भली-भांति जानते हैं कि नगरपालिका के विकास कार्यों पर खर्च होने वाले रुपयों की खुलेआम कमिशन खोरी की जा रही है !जिसमें चेयरमैन और अधिशासी- अधिकारी बराबर के दोषी हैं ,यह बात नगर पालिका के पंजीकृत ठेकेदार और कर्मचारी ही कह रहे हैं, इसकी पुष्टि कर रहे हैं! हालांकि, चेयरमैन और अधिशासी-अधिकारी के विरुद्ध अभी तक कोई संवैधानिक कार्यवाही सार्वजनिक नहीं हुई है! क्योंकि आदर्श आचार संहिता और निकटवर्ती मतदान की व्यस्तता के चलते अभी तक अपेक्षाकृत कार्रवाई नहीं हो पाई है! यदि इसे जिला प्रशासन की उदारता समझा जाए तो यह पूरी तरह अनुचित है !भ्रष्टाचार में लिप्त और जिम्मेदार लोगों को इसके निर्धारित परिणाम का सामना करना ही होगा !संपूर्ण प्रक्रिया अपनी निर्धारित गति से, अपने निर्धारित लक्ष्य की तरफ बढ़ रही है !जनता के अधिकार से जुड़ा हुआ मामला है !पूरे नगर में किसी प्रकार की कोई जल- निकासी नहीं है! जनता की मूल समस्याओं पर किसी का कोई ध्यान नहीं है !जो भी कार्य विकास के नाम पर किया जा रहा है सब भ्रष्टाचार की बैसाखी के सहारे चल रहा है !जिस सड़क को जनता बहुत अच्छा समझती है, यदि उस सड़क पर कुल लागत का 60 प्रतिशत भी खर्च किया गया होता तब परिणाम हैरान करने वाला होता ! लेकिन ऐसा इसलिए नहीं हो पा रहा है, क्योंकि चेयरमैन और अधिशासी-अधिकारी दोनों ही पूरी तरह भ्रष्टाचार में लिप्त है !जनता शायद इस बात को अब बेहतर ढंग से समझ रही है !जिसके बहुत ही बेहतर परिणाम भी होंगे!universalexpress.page


धूमधाम से मनाई महर्षि कश्यप जयंती

धूमधाम से मनाई ऋषि कश्यप जयंतीuniversalexpress.page
लोनी ! समय-समय पर समाज का मार्गदर्शन करने के लिए अनेकों महापुरुष संसार में अवतरित हुए हैं! जिनमें एक महऋषि कश्यप भी थे !उन्होंने समाज को उचित दिशा और दशा प्रदान करने का महत्वपूर्ण प्रयास किया है! उनका योगदान सदा सदा के लिए स्मरण रखा जाएगा!
गत सप्ताह इंदिरा पुरी स्थित शहीद भगत सिंह पार्क में कश्यप समाज के लोगों के द्वारा एक सभा का आयोजन किया गया! जिसकी अध्यक्षता रामकुमार कश्यप के द्वारा की गई, मुख्य अतिथि के रूप में जनरल वीके सिंह और मंच संचालन जितेंद्र कश्यप के द्वारा किया गया! महर्षि कश्यप के संदर्भ में बात करते हुए उनके जीवन पर प्रकाश डाला गया और उनके आदर्श को जीवन में आत्मसात करने की प्रेरणा दी गई! इस अवसर पर विधायक नंदकिशोर गुर्जर, चेयरमैन रंजीता धामा ,पूरन सिंह कश्यप, धर्मवीर कश्यप, रण सिंह कश्यप आदि सैकड़ों लोग उपस्थित रहेuniversalexpress.page


यूनिवर्सल एक्सप्रेस न्यूज डेली अपडेट

जनता को अंसमझंस से बाहर आना होगा


गाजियाबाद ! लोकसभा चुनाव की निर्धारित तिथि कुछ ही दूर हैं !लेकिन जनता अभी भी चुनाव से काफी दूर लग रही है! जनता द्वारा ही किसी एक प्रत्याशी की संसद भेजना है !जहां लोकसभा क्षेत्र के भाग्य का निर्माण होना है!गाजियाबाद के लोगों और क्षेत्र का विकास ध्यान में रखकर अपने प्रत्याशी का चुनाव करना जनता के हित-साधने का एकमात्र तरीका है! जनता को
असमंजस छोड़ना होगा ! अपने मन-विचार से कार्य क्षमता और व्यवहार शीलता का आंकलन करना चाहिए! राजनीति में आरोप-प्रत्यारोप और भाई भतीजा-वाद अभी खत्म नहीं हुआ है ! कई बार क्षेत्रवाद के चलते तो राजनेता, राजनीति के मायने ही बदल देते हैं ! जनता का एकमात्र यही अधिकार है जो उसको जनार्दन बना देता है! यदि हमें कोई अधिकार मिला हुआ है, उसका सदुपयोग करना हमारा दायित्व बनता हैं ! वायदे और बेकाबू की सच्चाई पर पहुंचने का प्रयास करें प्रत्याशी की अक्षमता और अपनी अपेक्षाओं की समीक्षा करनी चाहिए ! आपके मतदान से ही हम देश को प्रधानमंत्री प्रदान करेंगे !देश के सभी सांसदों का चुनाव होगा !ऐसी स्थिति में गाजियाबाद से हमें हमारा प्रतिनिधित्व करने वाला संसद में हमारी समस्याओं को प्राथमिकता से लेकर चल सकें! मैदान में खड़े सभी प्रत्याशियों के विषय में विचार अवश्य करना चाहिए ! हमारी तर्क शक्ति हमें कैसे संतुष्ट करती है ! यह हम सब को अपने दिमाग से ही करना होगा ! ज्यादातर लोग ऐसा करते भी हैं ,जो किसी दल अथवा पार्टी से सरोकार नहीं रखते हैं कुछ लोग दलगत विचारधारा के प्रति निष्ठावान होते हैं !जो ज्यादा गहमा-गहमी के पचड़े में नहीं फंसते हैं! जनता को चुनाव में खूब दिलचस्पी रख कर एक दूसरे का उत्साह बढाना चाहिए !


 


 


 universalexpress.page


 


 


 


 


 


 


 


 


संसद भवन में हमारी आवाज बन सके


एमपी: परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर लगाईं आग

मनोज सिंह ठाकुर       भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले के एक गांव में 25 वर्षीय युवक पर कथित तौर पर प्रेम प्रसंग के चलते युवती के परिजन ने मि...