शनिवार, 27 जून 2020

धर्म-जाति, नस्ल पर काम नहीं करते हैंं

हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को समावेशिता का एक मजबूत संदेश देते हुए कहा कि उनकी सरकार किसी भी धर्म, लिंग, जाति, नस्ल या भाषा के आधार पर भेदभाव नहीं करती है। प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता संग्राम में मार थोमा चर्च की भूमिका की भी प्रशंसा की। मोदी डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन के 90वें जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। वह वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से केरल स्थित चर्च के कार्यक्रम में शामिल हुए।


मोदी ने कहा, सरकार का मार्गदर्शन भारत का संविधान करता है और इसलिए सरकार धर्म, लिंग, जाति, नस्ल या भाषा के आधार पर भेदभाव नहीं करती है। उन्होंने कहा, द मार थोमा चर्च ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भूमिका निभाई है। चर्च राष्ट्रीय एकीकरण की दिशा में काम करने में सबसे आगे रहा है।


इस बीच प्रधानमंत्री मोदी ने इस कार्यक्रम का उपयोग कोरोनावायरस के खिलाफ भारत की सफल लड़ाई पर जोर देने के लिए किया। उन्होंने कहा, कोविड-19 के खिलाफ भारत में उबरने की दर (रिकवरी रेट) बढ़ रही है। कोविड-19 या किसी भी अन्य कारणों से किसी भी तरह की जान का नुकसान दुर्भाग्यपूर्ण है। हालांकि भारत की प्रति मिलियन (10 लाख) जनसंख्या पर मृत्यु दर 12 के अंदर ही है। इसे संदर्भ में देखें कि इटली में मृत्यु दर प्रति मिलियन जनसंख्या पर 574 है।


उन्होंने कहा कि अमेरिका, स्पेन, ब्रिटेन और फ्रांस के आंकड़े भारत की तुलना में बहुत अधिक हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि व्यापार और व्यवसाय खुलने शुरू हो गए हैं, लेकिन सावधानी बरतने की जरूरत है। चर्च के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोदी ने आत्मनिर्भर भारत के बारे में कहा कि यह हर भारतीय के लिए समृद्धि लाएगा। उन्होंने दावा किया कि इसका उद्देश्य निर्यात आय बढ़ाना है और 55 लाख से अधिक लोगों को रोजगार देना है।


'विशेष सुरक्षा बल' के गठन को मंजूरी

लखनऊ। कोरोना संकट को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) के गठन को मंजूरी दे दी है। अब कोर्ट, मेट्रो, एयरपोर्ट, औद्योगिक प्रतिष्ठानों, प्रमुख धार्मक स्थलों और बैंकों की सुरक्षा यूपीएसएसएफ के हवाले होगी। मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि पहले चरण में इस बल की 5 बटालियन का गठन किया जाएगा। उन्होंने इसके लिए जल्द ही ड्राफ्ट तैयार कर प्रस्ताव देने के निर्देश दिए हैं। दरअसल, यूपी में अलग-अलग कोर्ट में हुई घटनाओं के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट बेंच ने स्वत: संज्ञान लेते हुए सरकार को स्पेशल फोर्स के गठन के आदेश दिए थे।


यूपी सरकार ने केंद्रीय सीआईएसएफ की फोर्स की तर्ज पर यूपीएसएसएफ का गठन करने का फैसला किया है। यह फोर्स मेट्रो रेल, एयरपोर्ट, औद्योगिक संस्थान, बैंक समेत अन्य वित्तीय संस्थाओं और ऐतिहासिक, धार्मिक, तीर्थ स्थलों की सुरक्षा करेगी। इसके गठन को लेकर काफी लंबे समय से चर्चा चल रही थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान समय की मांग के अनुसार मेट्रो रेल, एयरपोर्ट, औद्योगिक संस्थानों, बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों के साथ जिला न्यायालयों की सुरक्षा के लिए विशेष प्रशिक्षित बल की जरूरत होती है। इस कारण यूपीएसएसएफ की स्पेशल ट्रेनिंग कराई जाएगी। इसमें आधुनिक सुरक्षा प्रणाली और सुरक्षा उपकरणों की जानकारी दी जाएगी। यूपीएसएसएफ का मुख्यालय लखनऊ में प्रस्तावित है। प्रथम चरण में इस बल की पांच बटालियन का गठन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने जल्द इसकी रूपरेखा तैयार कर प्रस्ताव प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। पुलिस विभाग के सूत्रों के मुताबिक, बीते दिनों औरैया में जिला कोर्ट में जज पर हमला हुआ था। इसके बाद सरकार ने फोर्स गठन की मंजूरी देने का फैसला लिया। 


गाजियाबादः न्यायालय में सोमवार से काम

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद । गाजियाबाद में न्यायालय परिसर में कोविड-19 की दस्तक के बाद पूरे न्यायालय परिसर को कंटेनमेंट जोन-2 में शामिल करते हुए 26 जून से 9 जुलाई तक यानी 14 दिन के लिए सील कर दिया गया था। लेकिन 26 जून की शाम मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा दी गई आख्या के बाद जिला जज ने पुराना आदेश रद्द करते हुए नया आदेश जारी किया है। जिसमें 29 जून यानी सोमवार से न्यायालय में सभी विधिवत न्यायायिक कार्य किए जाने के लिए आदेशित किया गया है।मामले की जानकारी देते हुए बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष हरप्रीत सिंह जग्गी ने बताया कि न्यायालय परिसर में 2 अधिवक्ताओं को कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया था। जिसके बाद जिला जज द्वारा पूरे न्यायालय परिसर को कंटेनमेंट जोन- 2 में शामिल करते हुए 14 दिन के लिए समस्त न्यायालय परिसर को सील कर दिया गया था। लेकिन 26 तारीख की शाम मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा आख्या देते हुए बताया गया कि 14 दिन कार्यालय बंद किए जाने की आख्या रिहायशी इलाके को ध्यान में रखते हुए दी गई थी। लेकिन न्यायालय या न्यायायिक कार्य कार्यालय के अंतर्गत आता है। जिसके लिए मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन के आदेश हैं कि यदि किसी कार्यालय परिसर में कोरोना से पीड़ित पाया जाता है तो उस परिसर को 24 घंटे के लिए सील करते हुए सैनिटाइजेशन की कार्रवाई की जाए। इसलिए उस आदेश को ध्यान में रखते हुए पहले दी गई आख्या को संशोधित करते हुए 26 जून की शाम से न्यायालय परिसर को अनसील करते हुए सामान्य न्यायिक गतिविधियों को संचालित करने की संस्तुति की गई है। यानी अब 29 जून सोमवार से सभी न्यायायिक कार्य सुचारू रूप से किए जाएंगे।
दमकल विभाग के द्वारा किया गया सेनेटाइज
इस मामले में फायर ऑफिसर सुनील कुमार ने बताया कि दमकल विभाग की टीम के द्वारा कोविड-19 महामारी को गंभीरता से लेते हुए शुक्रवार को कुल 15 स्थानों को सैनिटाइज किया गया है। जिनमें सबसे पहले न्यायालय परिसर में प्राथमिता पर रहा है।
बेल कराने वाले लोगों को मिलेगी राहत
अधिवक्ता हरप्रीत सिंह जग्गी और खालिद खान ने बताया कि न्यायायिक कार्य बंद किए जाने से वे लोग ज्यादा प्रभावित हो रहे थे, जिनकी बेल होनी थी। जिला जज के द्वारा न्यायालय परिसर को अनसील करते हुए 29 जून से जो न्यायायिक कार्य किए जाने के आदेश दिए गए हैं। इससे उन लोगों को बेहद राहत महसूस होगी जो लोग जेल में बंद हैं।


बाघ के हमले से घायल की, सहायता की

रोहित गोस्वामी

लखीमपुर खीरी। बाघ के हमले से घायल रामनिवास व गुलशन को देखने KGMC हॉस्पिटल लखनऊ पहुंचे विधायक रोमी साहनी, ओर दी 30,000 तीस हजार रुपये की आर्थिक सहायता।

पलिया क्षेत्र के ब्लॉक बांकेगंज के ग्राम छेदीपुर(थर्वरनपुर) में कुछ दिन पहले रामनिवास पुत्र मेवाराम, गुलशन व अपने भाई के साथ खेत मे खाद डाल रहे थे। तभी अचानक बाघ आ गया और इन लोगो पर हमला कर दिया, जिससे रामनिवास व उनका लड़का गुलशन काफी घायल हो गए और जिला अस्पताल से लखनऊ मेडिकल कालेज भेजा गया। विधायक रोमी साहनी को सूचना मिली तो विधायक घायलो से मिलने KGMC हॉस्पिटल लखनऊ पहुंचे और घायलों के इलाज के लिए विधायक रोमी साहनी  ने 30,000 तीस हजार रुपये दिए, विधायक को देखकर माँ ओर बेटा दोनों रोने लगे तो विधायक रोमी साहनी ने उन्हें ढांढस बंधाया और आगे भी इलाज कराने का जिम्मा लिया।

हिमाचलः 1611 के सैंपल, संक्रमित 864

शिमला। प्रदेश में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी आ गई है। जिससे सरकार और सेहत विभाग की ओर से प्रदेश के जिलों में संदिग्ध मरीजों के सैंपलों के टेस्ट बढ़ा दिए गए हैं। शुक्रवार को प्रदेश में 1611 सैंपलों को लेकर टेस्ट के लिए भेजा गया। इस समय प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 864 हो गई है। प्रदेश में कांगड़ा जिला सबसे अधिक संक्रमण से प्रभावित हुआ है। यहां पर बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों की संख्या भी काफी रही है। यहां दिल्ली, मुंबई, गोवा सहित कई ऐसे राज्यों से लोग वापस लाए गए, जहां पर संक्रमण का प्रभाव सबसे अधिक रहा है। ऐसे में अब यहां 244 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है। इसके बाद हमीरपुर जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 228 हो गई है।


बीबीएन में बनाया जा रहा कोरोना से निपटने के लिए इंजेक्शन


देश-विदेश में कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिए टैबलेट व इंजेक्शन बनाने के लिए हजारों डॉक्टर-वैज्ञानिक लगे हुए हैं। ऐसे में खुशी की खबर है कि प्रदेश के फार्मा हब बीबीएन (बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़) में भी इस वायरस को खत्म करने के लिए इंजेक्शन तैयार करने की शुरूआत की गई है। ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स द्वारा एंटीवायरल दवा फेविपिरविर का निर्माण करने के बाद अब इस सूची में एक और नाम जुड़ गया है। नालागढ़ की इमैक्यूल लाइफ साइंस प्राइवेट लिमिटेड रेमडेसिवीर इंजेक्शन का निर्माण करेगी। फिलहाल, रेमडेसिवीर इंजेक्शन के ट्रायल चल रहे हैं और जल्द इसका उत्पादन शुरू हो जाएगा। इसके अलावा वैक्सीन निर्माता पेनेशिया बायोटेक ने नोवल कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन के विकास, निर्माण और बिक्री के लिए नैसडैक में सूचीबद्घ रेफना के साथ भागीदारी की है। वैक्सीन के लिए कच्चा माल पनेशिया की पंजाब इकाई में तैयार किया जाएगा, जबकि वैक्सीन को निर्णायक रूप बद्दी संयंत्र में दिया जाएगा।


कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले


प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। शुक्रवार देर शाम 25 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। कांगड़ा जिला सबसे ज्यादा प्रभावित हो गया है। जहां पिछले कल कांगड़ा में 17 मरीज मिले थे, वही आज 16 नए मामले उजागर हुए। इसके अलावा हमीरपुर में 3, ऊना में 2, सोलन, सिरमौर, मंडी और चंबा में एक-एक नया मामला आया। इन्हें मिलाकर प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 864 पहुंच गई है। इनमें एक्टिव मरीज 350 हैं। 494 मरीज कोरोना के खिलाफ जंग जीत चुके हैं।


आज 20 संक्रमित मरीज कोरोना को मात देने में कामयाब रहे। सर्वाधिक प्रभावित कांगड़ा जिला में 11 मरीज आज संक्रमण मुक्त हुए। इसके अलावा हमीरपुर में 4, ऊना में 2, सोलन, शिमला और चंबा जिला में एक-एक मरीज स्वस्थ हुआ। स्वास्थ्य विभाग के रात 9 बजे जारी बुलेटिन के मुताबिक कांगड़ा में संक्रमण का आंकड़ा 244 पहुंच गया है। इसके बाद हमीरपुर का नंबर है, जहां 228 मामले हैं। ऊना जिला में अब101 पॉजिटिव मामले हो गए है। सोलन में संक्रमितों की संख्या 92, चंबा में 51, शिमला में 39, बिलासपुर में 38, सिरमौर में 37, मंडी में 25, कुल्लू में 5 और किन्नौर में 4 है।


प्रदेश में अभी एक्टिव मामले


प्रदेश में एक्टिव मामलों में हमीरपुर ने कांगड़ा को पछाड़ दिया है। हमीरपुर में सबसे ज्यादा 109 एक्टिव मरीज विभिन्न कोविड अस्पतालों में भर्ती हैं। कांगड़ा में एक्टिव मरीजों की तादाद 108, सोलन में 45, ऊना में 28, शिमला में 19, सिरमौर में 13, बिलासपुर व चंबा में 12-12, मंडी में 2 तथा कुल्लू व किन्नौर में एक-एक है।


शादी में बचाव को लेकर एहतियात बरते गए


शिमला में इन दिनों शादियों का सीजन शुरू हो गया है। प्रशासन के अनुसार कोरोना के चलते शादी में सिर्फ 50 लोग ही शामिल हो सकते हैं। लोग इस बात को ध्यान में रखते हुए शादी में कोरोना के बचाव के पूरे हर एहतियात बरत रहे हैं। शुक्रवार को भट्टाकुफर में हुई एक शादी में लोग शादी के दौरान ऐसे ही एहतियात बरते नज़र आये।


शहर के फागली से जैसे ही बारात भट्ठाकुफर पहुंची को बारात के स्वागत से पहले दूल्हे और बारातियो की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। उसके बाद ही सारे रीतिरिवाज हुए। दूल्हे अंशुल व दुल्हन अंकिता ने मास्क लगाकर ही फेरे लिए। उन्होंने कहा कि शादी की खुशी से पहले देश है और हमें कोरोना से हर हाल में लड़ना है। हमारी खुशियों को कोरोना नहीं रोक सकता बस हमें सभी ऐहतिहात बरतते हुए कोरोना को हराना है।


भाजपा अध्यक्ष पर आधे सच का आरोप

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से डोनेशन मिलने के आरोपों को लेकर बीजेपी और कांग्रेस में जुबानी जंग तेज हो गई है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा राहुल गांधी और गांधी परिवार पर निशाना साधने के बाद अब पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने बीजेपी पर जवाबी हमला किया है। पी चिदंबरम ने बीजेपी अध्यक्ष पर आधा सच बोलने का आरोप लगाया है।


चिदंबरम ने शनिवार को अपने ट्वीट में लिखा कि भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा अर्धसत्य बोलने में माहिर हैं। मेरे सहयोगी रणदीप सुरजेवाला ने कल उनकी आधी सच्चाई उजागर की। उन्होंने आगे कहा, “आरजीएफ को 15 साल पहले मिले अनुदान को मोदी सरकार की निगरानी में 2020 में चीन का भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ से क्या करना है।


चिदंबरम ने कहा, “मान लीजिए कि आरजीएफ 20 लाख रुपये लौटा देती है, तो क्या पीएम मोदी देश को भरोसा दिलाएंगे कि चीन अपना अतिक्रमण खाली करेगा और यथास्थिति बहाल करेगा? मि. नड्डा, वास्तविकता के साथ आने के लिए, उस अतीत में नहीं रहते जो आपके आधे-अधूरे सच से विकृत है। कृपया भारतीय क्षेत्र में चीनी घुसपैठ पर हमारे सवालों के जवाब दीजिए।


बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और उनके परिवार पर हमला करते हुए कहा था कि 2017 में डोकलाम स्टैंडऑफ के समय राहुल गांधी चीनी राजदूत के साथ गुपचुप मुलाक़ात करते हैं और उनकी पार्टी देश को इस पर गुमराह करती है। इससे एकदम आगे बढ़ते हुए आज एक नई जानकारी सामने आई। राजीव गांधी फाउंडेशन को चीनी दूतावास से डोनेशन मिला था।


उन्होंने कहा, “कांग्रेस पार्टी से सवाल है कि 2008 में पार्टी ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ एमओयू किया, जिसमें राहुल गांधी ने हस्ताक्षर किए और सोनिया गांधी पीछे खड़ी थीं, पार्टी टू पार्टी रिश्ता क्यों बना? कांग्रेस पार्टी यह बताए कि मनमोहन सिंह की सरकार के 10 साल में ऐसे कितनी पार्टियों के साथ एमओयू साइन किए हैं?” उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन के लिए डोनर की सूची 2005-06 की है। इसमें चीन की एम्बेसी ने डोनेट किया, ऐसा साफ है। ऐसा क्यों हुआ, क्या जरूरत पड़ी है? इसमें कई उद्योगपतियों, पीएसयू के भी नाम हैं। क्या ये काफी नहीं था कि चीन एम्बेसी से भी रिश्वत ली गई।

छत्तीसगढ़ः नए मरीजों सहित हुए 2547

रायपुर।  छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में एक क्वारंटाइन सेंटर से 2 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है। बताया जा रहा है कि दोनों कोरोना संक्रमित मरीज क्वा रंटाइन सेंटर में रह रहे थे। फिलहाल कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है।


गौरतलब है कि आज प्रदेश में मिले दो नए मरीजों के साथ प्रदेश में अब एक्टिव मरीजो की संख्या 649 हो गई है। वहीें मेडिकल बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में अब तक 2547 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। छत्तीसगढ़ में अब तक 1885 लोग कोरोना से जंग जीत चुके हैं। बता दें कि प्रदेश में अब तक 13 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है।




आज राज्य में 89 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान हुई वहीं 156 मरीज़ स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज हुए। राज्य में 
कुल पॉजिटिव मरीज़ों की संख्या 2545 है व एक्टिव मरीज़ों की संख्या 647 है।




दिल्ली सीएम ने की केंद्र से 5 सूत्री मांग

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना की दिन प्रतिदिन भयावह होती  स्थिति के बीच शनिवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस महामारी से निपटने में मिले सहयोग के लिये केंद्र सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि हम संक्रमण को नियत्रंण मे लाने की पांच सूत्री रणनीति पर आगे बढ़ रहे हैं। राजधानी में संक्रमण की स्थिति पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये आज मीडिया को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के खिलाफ युद्ध में दिल्ली सरकार के पांच हथियार हैं..अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाना, बड़े स्तर पर जांच और आइसोलेशन करना, ऑक्सीमीटर और मरीज में ऑक्सीजन के स्तर पर ध्यान देना, प्लाज्मा थेरेपी से इलाज तथा सर्वे और स्क्रीनिंग।


केंद्र से छोटे-छोटे मुद्दों पर टकराव करने वाले केजरीवाल का आज मोदी सरकार के प्रति अंदाज अलग दिखा। उन्होंने कहा दिल्ली में जांच तेजी से बढ़वाने में केंद्र सरकार ने बड़ा सहयोग दिया। केजरीवाल ने कहा कि केंद्र ने ही पहले ऐंटीजेन किट्स दीं और फिर हाथ पकड़कर बताया कि कैसे इस काम में तेजी लाई जाए। उन्होंने कहा जून में कोरोना उम्मीद से ज्यादा तेजी से बढ़ा इसलिए शुरुआत में बेड्स की कमी हुई लेकिन अब इस कमी को दूर कर लिया गया है। जांच और आइसोलेशन पर उन्होंने कहा कि पहले जांच के लिए धक्के खाने पड़ते थे लेकिन अब स्थिति सुधरी है। जून के पहले सप्ताह में रोज पांच हजार टेस्ट हो रहे थे जिसे अब बढ़ाकर 20 हजार कर दिया गया है। तीसरा हथियार ऑक्सीमीटर है। इस पर उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन वाले लोगों को ऑक्सीमीटर दिया जा रहा है। अगर उन्हें ऑक्सीजन स्तर कम लगता है तो वे फोन करके मदद ले सकते हैं। चौथा हथियार प्लाजमा थेरेपी है। उन्होंने कहा कि सबसे पहले दिल्ली में इसे आजमाया गया, 29 मरीजों को प्लजामा थेरेपी दी गयी जिसका परीक्षण सफल भी रहा था। सर्वे और स्क्रीनिंग को कोरोना के खिलाफ उन्होंने आखिरी हथियार बताते हुए कहा कि आज से दिल्ली में सीरो सर्वेक्षण शुरू हो रहा है। बीस हजार लोगों के खून के नमूने इसमें लिए जायेंगे ,जिनकी जांच से पता चलेगा कि राजधानी में कोरोना वायरस का कितना फैलाव हुआ है। इसे समझने में इस सर्वेक्षण से बड़ी मदद मिलेगी। केजरीवाल ने बताया कि शुक्रवार को 21 हजार से अधिक जांच की गई जो दिल्ली में अब तक की सर्वाधिक जांच थी। सीरो सर्वे आज से शुरू होकर 10 जुलाई तक पूरा होगा। इससे पता चलेगा कि कितने लोगों के शरीर में इस वायरस से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो चुकी है। सर्वे में पूरी दिल्ली से करीब 20 हजार नमूने एकत्रित किए जाएंगे शनिवार से दिल्ली के सभी जिलों में सीरोलॉजिकल सर्वे शुरू हुआ है। इसके लिए सभी जिलों के जिलाधिकारियों ने अपने जिले के मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी की देखरेख में टीमें तैयार की हैं। करीब 1100 टीमें गठित की गई हैं। टीमें चुनींदा इलाकों में जाकर नमूने एकत्रित करेंगी, जिनकी जांच के नतीजों के आधार पर यह पता चलेगा कि कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडीज किस तरह विकसित हो रही हैं और उनके विकसित होने की दर क्या है। खून के नमूने की जांच करके आधे घंटे में यह पता लगाया जा सकेगा कि जिस व्यक्ति का नमूना लिया गया है, उसके अंदर हर्ड इम्युनिटी विकसित हुई है या नहीं। नमूने की जांच के लिए एक विशेष किट का इस्तेमाल किया जाएगा। सभी नमूनों की जांच के आधार पर राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) एक रिपोर्ट तैयार करके सरकार को सौंपेगी। अगर कोई व्यक्ति कोरोना की चपेट में आता है, लेकिन उसके अंदर कोई लक्षण नहीं उभरता है, तो ऐसे लोगों के शरीर में 5-7 दिन के अंदर अपने आप एंटीबॉडी बनना शुरू हो जाती हैं, जो वायरस को शरीर में पनपने नहीं देती हैं।सर्वेक्षण से इन्हीं एंटीबॉडीज की जांच करके यह पता लगाया जाएगा कि दिल्ली में कौन कौन से ऐसे इलाके हैं और ऐसी कितनी आबादी है, जहां लोगों को कोरोना हुआ, मगर वे अपने आप ठीक भी हो गए। इससे वायरस के प्रसार और उसकी क्षमता का पता लगाने में भी मदद मिलेगी। गृह मंत्रालय के निर्देश पर एनसीडीसी यह सर्वे करवा रही है। इसमें जिले से 800 से 1000 के करीब नमूने लिए किए जाएंगे। खून के यह नमूने औचक ढंग से घरों को चुनकर वहां रहने वाले लोगों के लिए जायेंगे। दिल्ली कोरोना के मामले में 77,240 के साथ दूसरे स्थान पर है। कोरोना से दिल्ली में 2492 लोगों की मौत हो चुकी है।


नियमों के विरुद्ध अमल में ले सख्त कार्रवाई

नैनीताल। कोरोना वायरस की रोकथाम हेतु जारी नियमों एवं दिशा-निर्देशों का बार-बार उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही अमल में लाना सुनिश्चित करें। यह निर्देश मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिये राज्य में कोरोना संक्रमण व डेंगू पर प्रभावी रोकथाम हेतु किये जा रहे कार्यों की जनपदावार गहन समीक्षा करते हुए दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि राज्य के सभी जनपदों में माॅर्निंग वाॅक (सुबह की सैर) का समय कम होने के कारण प्रातःकाल में लगने वाली भीड़ को कम करने के लिए सुबह की सैर हेतु समय में वृद्धि करते हुए प्रातः 05 बजे से माॅर्निंग वाॅक (सुबह की सैर) करने की अनुमति दी जाये। उन्होंने राज्य में बाजार में दुकाने प्रातः 7 बजे से सांय 8 बजे तक खुली रखने के निर्देश सभी जिलाधिकारियों को दिए। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों को कोरोना संक्रमण की प्रभावी रोकथाम के लिए सतत् प्रयास जारी रखने, सर्विलांस कार्य को बहुत बढ़िया तरीके से संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कोविड-19 संक्रमण रोकथाम हेतु लगायी गयी टीमों की सुरक्षा हेतु सभी आवश्यक व्यवस्थाऐं बनाये रखने के निर्देश सभी जिलाधिकारियों को दिए। CM रावत ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि डेंगू तथा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए वृहद्ध स्तर पर जनजागरूकता अभियान चलाया जाये। जन जागरूकता अभियान में प्रधानों, मेम्बरो, क्षेत्र पंचायत एवं जिला पंचायत सदस्यों के साथ ही सभी जनप्रतिनिधियों को शामिल किया जाये। उन्होंने सप्ताह में एक दिन वृहद्ध जन जागरूकता व सफाई अभियान आयोजित करने के निर्देश सभी जिलाधिकारियों को दिए।



  • मण्डलायुक्त अरविन्द सिंह ह्यांकी ने बताया कि मण्डल के सभी जनपदों में कोविड-19 संक्रमण के प्रभावी रोकथाम हेतु किए जा रहे कार्यों की गहनता से समीक्षा की जा रही है। उन्होंने बताया कि मण्डल में बरसात के मौसम में संभावित दैवीय आपदाओं से प्रभावी ढंग से निपटने के साथ ही डेंगू संक्रमण के फैलने की संभावनाओं पर अंकुश लगाने के लिए दिशा-दिशा दिए गये हैं। उन्होंने बताया कि मण्डल कोरोना संक्रमण, डेंगू की रोकथाम, पेयजल आपूर्ति, बरसात के मौसम में संभावित दैवीय आपदा से प्रभावी नियंत्रण हेतु तैयारियों की समीक्षा की जा रही है। वीसी में जिलाधिकारी सविन बंसल ने जनपद में कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु किये जा रहे कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने डेंगू की रोकथाम के लिए जनपद द्वारा तैयार की गई कार्य योजना के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। वीसी में अपर आयुक्त संजय खेतवाल, संयुक्त निदेशक एटीआई नवनीत पाण्डे आदि उपस्थित थे।


फैक्ट्री में गैस रिसाव 1 की मौत 3 गंभीर

कुरनूल। आंध्र प्रदेश में कुरनूल जिले के नदयाला शहर में शनिवार को एक एग्रो फैक्ट्री की गैस पाइपलाइन से अमाेनिया गैस के रिसाव से फैक्ट्री के महाप्रबंधक की मौत हो गई और अन्य तीन कर्मचारी बीमार पड़ गए। पुलिस ने बताया कि महाप्रबंधक श्रीनिवास राव की अमोनिया गैस के चपेट में आने से मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि फैक्ट्री के टेंकर में लगभग दो टन अमोनिया गैस को भंडारण किया गया था। पाइपलाइन में दरार आने से अचानक पाइपलाइन से गैस का रिसाव शुरू हो गया। गैस रिसाव को देखते हुए फैक्ट्री के अन्य कर्मचारी घबराकर वहां से बाहर भाग गए। गैस रिसाव को बंद करने के लिए अग्निशमन के कर्मचारी कार्रवाई में जुट गए।


जिला कलेक्टर जी. वीरापनडियन, पुलिस अधीक्षक के. पक्कीराप्पा और अन्य अधिकारी ने मौके का मुआयना किया।  जिला कलेक्टर ने संवाददाताओं को कहा कि सांस के जरिए गैस शरीर के अंदर जाने से तीन कर्मचारी बीमार पड़ गए हैं और उनकी हालत खतरे से बाहर है। उन्हाेंने कहा कि गैस के रिसाव को बंद करने के लिए युद्धस्तर पर कदम उठाए जा रहे हैं।


हाईस्कूल-इंटर का परिणाम घोषित किया

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड ने शनिवार को हाईस्कूल और इंटर का परिणाम घोषित कर दिया है। हाईस्कूल और इंटर दोनों में ही बागपत बड़ौत के श्रीराम इंटर कलेज के छात्रों ने बाजी मारी है। हाईस्कूल की टॉपर रिया आगे चलकर प्रोफेसर बनकर बच्चों में शिक्षा की अलख जगाना चाहती हैे, तो वहीं इंटर में टॉप रहने वाले अनुराग मलिक भविष्य में आईएएस बनने का सपना देख रहे हैं। हाईस्कूल की टॉपर रिया जैन को 600 में से 580 अंक यानी 96़ 67 फीसद अंक मिले हैं। वहीं इंटरमीडिएट के टॉपर अनुराग मलिक को 500 में से 485 अंक यानी 97 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए।


हाईस्कूल की टॉपर रिया जैन ने बताया, “वह प्रतिदिन 15-16 घंटे की पढ़ाई करती थीं।” उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार और कालेज के शिक्षकों को दिया है। रिया जैन ने 600 में से 580 अंक प्राप्त किए हैं। वह अंग्रेजी विषय की प्रोफेसर बनना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि कठिन परिश्रम से हर मुकाम को पाया जा सकता है। हाईस्कूल टॉप करने वाली रिया जैन के पिता भारत भूषण बागपत बड़ौत के पास हिलवाड़ी गांव के रहने वाले हैं। उनके चार बच्चे हैं। वह चुनरी और वेडिंग दुपट्टे बेचने का काम करते हैं। भारत भूषण ने बातचीत में कहा, “हमारी बच्ची ने बहुत मेहनत से पढ़ाई की है। 16-16 घंटे पढ़ाई की है। आज वह प्रदेश में पहला स्थान लाकर हमारा नाम रोशन किया है। यह हमारे लिए सबसे खुशी का पल है।” अनुराग मलिक ने कहा, “मैंने बहुत मन से पढ़ाई की थी। मैं आईएएस बनकर देश की सेवा करना चाहता हूं। मैंने नार्मल समय में 15 से 16 घंटे पढ़ाई की है। परीक्षा के समय मैंने करीब 18 घंटे पढ़ाई की है। गणित मेरी रुचि का विषय रहा है। सफलता का श्रेय माता-पिता और शिक्षकों का है। अभी से सिविल सर्विस की तैयारी मे डट जाना है।” बागपत जिले के बड़ौत में रहने वाले अनुराग मलिक के पिता प्रमोद मलिक की इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों की दुकान है। अनुराग दो भाई हैं। उनका कहना है कि लक्ष्य को साधने के लिए उन्होंने सालभर मेहनत की थी। उन्होंने कहा कि अगर अपने लक्ष्य को पाना है तो सिर्फ उसके अलावा कुछ नहीं फोकस किया जाता है। सफलता निश्चित ही मिलती है।


मनोज सिंह ठाकुर


प्रयागराज में परीक्षा का परिणाम किया जारी

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) के 99वें वर्षों के कार्यकाल में दूसरी बार ऐसा हुआ है जब परीक्षा परिणामों की घोषणा प्रयागराज से बाहर की गयी। हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट 2020 परीक्षा का परिणाम प्रयागराज के स्थान पर शनिवार को लखनऊ से जारी किया गया। परिणाम बोर्ड के सचिव के स्थान पर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री और माध्यमिक शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने घोषित किया।


वर्ष 1921 में इलाहाबाद में यूपी बोर्ड की स्थापना की गई थी जबकि 1923 में पहली हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा आयोजित करवाई थी। 99 साल के इतिहास में यह दूसरा अवसर होगा जबकि बोर्ड परीक्षा का परिणाम प्रयागराज की बजाय लखनऊ से जारी किया। इससे पहले प्रयागराज से ही नतीजे जारी होते रहे।


इससे पहले बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सरकार में 2007 में हाईस्कूल परीक्षा का परिणाम लखनऊ से घोषित किया गया था। उस समय परिणाम घोषित होने से पहले ही उत्तीर्ण प्रतिशत लीक हो गया था, जिससे काफी हंगामा हुआ था। हालांकि इंटरमीडिएट का रिजल्ट प्रयागराज से ही जारी हुआ था।


अपनी स्थापना के बाद से बोर्ड ने तमाम उतार चढ़ाव देखे हैं और निरंतर छात्र-छात्राओं की संख्या बढ़ती गई। पहले हाईस्कूल एवं इंटर का रिजल्ट अलग-अलग तारीखों में जारी होता रहा है। बोर्ड प्रशासन ने 2015 से हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट का परिणाम एक साथ घोषित करना शुरू किया। पहले परिणाम जून में आते रहे लेकिन न्यायालय के एक आदेश के बाद रिजल्ट की तारीखें घटती रहीं। पहले मई फिर अप्रैल माह तक परिणाम घोषित हुआ। वर्ष 2019 का परिणाम बोर्ड ने 27 अप्रैल को घोषित किया था।


बोर्ड सूत्रों के अनुसार इस साल यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 18 फरवरी से छह मार्च के बीच आयोजित की गई थी। हाईस्कूल की परीक्षा 12 कार्य दिवस और इंटरमीडिएट की परीक्षा 15 कार्य दिवस में पूरी की गयीं।


इस बार बोर्ड हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा में 51 लाख 30 हजार 481 परीक्षार्थी शामिल हुये जिसमें हाईस्कूल में 27 लाख 44 हजार 976 और इंटरमीडिएट में 23 लाख 85 हजार 505 परीक्षार्थी शामिल हुये। वर्ष 2020 बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा समय पर शुरू हुयी थी। देश में कोरोना संकट की वजह से उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में बिलंब के कारण परिणाम 27 जून को घोषित किया गया।


बृजेश केसरवानी


मुठभेड़ में इंस्पेक्टर की जैकेट ने बचाया

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। वारदात की प्लानिंग कर रहे चार बदमाशों को पुलिस ने एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार कर लिया है। सभी बदमाश लाजपत नगर इलाके में लूट की योजना बना रहे थे। लेकिन बदमाश वारदात को अंजाम देते उससे पहले ही पुलिस ने बदमाशों का एनकाउंटर कर उनको गिरफ्तार कर लिया। गनीमत रही की लाजपत नगर थाने के एसएचओ धर्मदेव ने बुलेट प्रूफ जैकेट पहन रखी थी, बदमाशों की गोली बुलेटप्रूफ जैकेट पर जा लगी, जिससे उनकी जान बच गई।


पुलिस ने इनके पास से दो ऑटोमेटिक पिस्टल, दो देसी कट्‌टे, नौ जिंदा राउंड कारतूस, सौलह मोबाइल, एक बाइक और स्कूटी जब्त की है। इस गैंग के पकड़े जाने से पुलिस ने सात मामले सुलझाने का दावा किया है। साउथ ईस्ट डिस्ट्रि​क्ट के एडिश्नल डीसीपी कुमार ज्ञानेश ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों के नाम टीपू सुलतान, इस्माइल, शाकिर व छोटू हैं। ये सभी जामिया नगर और श्रीनिवास पुरी एरिया के रहने वाले हैं।


मोदी मिल में गिरी दीवार, मजदूर की मौत

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। मोदी चीनी मिल परिसर में शुक्रवार को वैल्डिंग करते समय मजदूर के ऊपर दीवार गिर जाने से मलबे के नीचे दबकर उसकी मौत हो गई। घटना के बाद मजदूरों ने मुआवजे की मांग को लेकर हंगामा भी किया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मिल प्रबंधन का कहना है कि मजदूर ठेकेदार के पास काम करता था। घटनास्थल पर मीडिया व एलआईयू को जाने से रोक दिया गया।


मुजफ्फरनगर के गांव सैरनगर निवासी आकिब (23 वर्ष) पुत्र लतीफ मोदी चीनी मिल में एक ठेकेदार के पास वैल्डिंग का काम करता था। शुक्रवार को आकिब मिल परिसर में दूसरे तल पर वैल्डिंग कर रहा था। इसी बीच ईटों का पिलर का हट गया और दीवार ढह गई। मलबे के नीचे आकिब दब गया। मजदूरों ने मुआवजे की मांग को लेकर मिल परिसर में हंगामा भी किया।


यशोदा में लगी 'एंटीबॉडीज' जांच मशीन

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। मरीजों की देखभाल, इलाज और जांच आदि में हमेशा एक कदम आगे रहने वाले यशोदा अस्पताल की नेहरू नगर और संजय नगर में लगी प्रयोगशालाओं (laboratory) में  SARS CoV 2 IgG आर्किटेक्ट मशीन से परीक्षण शुरू हो गया है।  आर्किटेक्ट मशीन में CMIA विधि द्वारा किया जाएगा जिसके द्वारा जांच के परिणाम केवल आधे घंटे में आ जाते हैं। इस मशीन में केवल 3 मिलीलीटर रक्त का नमूना लेकर जांच की जाती है।


आपको बता दें कि आईजीजी एंटीबॉडीज लक्षणों की शुरुआत के कुछ दिनों से लेकर 2 सप्ताह तक प्रभावित व्यक्तियों में दिखाई देते हैं। यह एंटीबॉडी मरीजों की बेहतर होती प्रतिरक्षा स्थिति को पहचानने में मदद करेगा। इस मशीन द्वारा टेस्ट सेरोसर्वी कराने के लिए आपको डॉक्टर के पर्चे की जरूरत पड़ेगी और जांच की फीस ₹1200 निर्धारित की गई है।


SARS CoV 2 IgG Serosurvey जांच के फायदे



  • डॉ शुचि घई ने बताया कि यह जांच मुख्य रूप से उन मरीजों के लिए विशेषतः लाभदायक है जिनकी प्रतिरोधक शक्ति कम हो जैसे टीबी, SARI, COPD, डायलिसिस, कैंसर के मरीज। कोविड 19 संक्रमण के दौरान यह जांच उन लोगों के लिए बहुत जरूरी है जो लगातार लोगों के संपर्क में रहते हैं जैसे हमारे स्वास्थ्यकर्मी, फ्रंट लाइन वर्कर्स, कन्टेनमेंट जोन के निवासी, सिक्योरिटी गार्ड्स, पुलिसकर्मी, इंडस्ट्रियल लेबर्स, ड्राइवर्स, दुकानदार आदि। ICMR गाइड लाइन्स के आधार पर यह जांच सभी सरकारी और निजी हॉस्पिटल के कर्मचारी, आफिस कर्मचारी, पब्लिक सेक्टर यूनिट के कर्मचारी को भी कराना चाहिए।


प्लास्टिक से बनी सड़क का उद्घाटन

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। नगर निगम दिन-प्रतिदिन पर्यावरण के प्रति जागरूक होता जा रहा है।  महापौर आशा शर्मा और नगर आयुक्त डॉ दिनेश चंद्रा के संयुक्त प्रयासों से शहर की प्लास्टिक वेस्ट का सदुपयोग करने के लिए उससे सड़कें बनाने का जो प्रोजेक्ट शुरू किया गया है आज उसी प्रोजेक्ट के अंतर्गत पाँचवी सड़क का निर्माण कार्य शुरू हुआ।


यह सड़क नगर निगम के वार्ड 67 (संजय नगर) में होटल फार्च्यून से शुरू होकर रहिसपुर गाँव मोड़ तक जाएगी।  डबल रोड डेन्स द्वारा सड़क निर्माण कार्य का उद्घाटन करते हुए महापौर आशा शर्मा ने बताया कि हम भविष्य में भी अधिकतर सड़कों के निर्माण के लिए प्लास्टिक वेस्ट का ही प्र्यओग करेंगे।  उद्घाटन के दौरान महापौर के साथ नगर आयुक्त डॉ दिनेश चन्द्र भी मौजूद रहे।


3,622 किलो प्लास्टिक वेस्ट का हुआ इस्तेमाल


यह सड़क निर्माण अवस्थापना निधि द्वारा स्वीकृत किया गया था जिसकी लागत लगभग 118 लाख है। सड़क की लम्बाई 1500 मीटर तथा चौड़ाई 12 मीटर है।  इस सड़क को बनाने में 3622 किलोग्राम प्लास्टिक वेस्ट का प्रयोग किया गया हैं। गाज़ियाबाद नगर निगम द्वारा गाजियाबाद में यह 5वी सड़क वेस्ट प्लास्टिक से बनाई गई है।


4 वार्डो को प्रभावित करेगी यह सड़क  


इस सड़क के बनने से संजय नगर सेक्टर 23, गुलघर, रहिसपुर गाँव, न्यू फ्रेंड कॉलोनी, एवं अन्य कॉलोनीयों में आने-जाने वाले लाखों लोगों को सुविधा मिलेगी। पार्षद अजय शर्मा ने महापौर का धन्यवाद प्रकट करते हुए बताया कि यह सड़क लगभग 10 वर्षों से नहीं बनी है। हर बार बस पैच वर्क करा दिया जाता है।  लेकिन महापौर आशा शर्मा के कार्यकाल में यह सड़क पूर्ण रूप से तैयार हो रही है।  इस दौरान पार्षद अजय शर्मा, मुख्य अभियंता मोइनुद्दीन खान, अधिशासी अभियंता देशराज एवं अन्य लोग उपस्थित रहे।


गाजियाबादः 680 संक्रमित, 50 की मौत

आकाशुं उपाध्याय


गाज़ियाबाद। जिले में सक्रिय कोविड 19 (Covid 19) संक्रमितों की 700 पार करने वाली है।  राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा आज (शनिवार को) दोपहर जारी हैल्थ बुलेटिन (Health Bulletin) के अनुसार पिछले पिछले 24 घंटों गाज़ियाबाद जिले (District Ghaziabad) में 69 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई है।  जबकि इस दौरान 37 लोगों ने कोरोना को मात दी है। वर्तमान में कुल सक्रिय संक्रमितों की संख्या 680 हो गई है जबकि अब तक संक्रमण की वजह से 50 लोगों की मौत हो चुकी है।


गौतम बुद्ध नगर में मिले 127 नए संक्रमित


पड़ोसी जिले गौतम बुद्ध नगर (Gautam Buddha Nagar) में पिछले 24 घंटों के दौरान 127 नए संक्रमित मिले हैं। 24 घंटों के दौरान यहाँ 97 लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं और अब कुल सक्रिय संक्रमितों की संख्या 915 पहुँच गई है।  जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 21 हो गई है।


गाज़ियाबाद जिला प्रशासन नहीं दे रहा है कंटेनमेंट ज़ोन की सूचना


आपको बता दें कि जिला प्रशासन या स्वास्थ्य विभाग ने पिछले 5 दिनों से कोई बुलेटिन जारी नहीं किया है।  डीएम डॉ अजय शंकर पाण्डेय से कई बार अनुरोध किए जाने के बाद भी आज तक जिला प्रशासन ने नए कंटेनमेंट ज़ोन की सूचना नहीं दी है।  ऐसे में जिले के निवासियों को यह पता नहीं चल पा रहा है कि नए कोविड मरीज शहर के किस क्षेत्र में है और अनजाने में उन्हें भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। 


सरकार के विरोध में कांग्रेस प्रदर्शन करेगी

29 जून से पेट्रोल, डीजल के विरोध मे कांग्रेस करेगी प्रदर्शन



राणा ओबराय
हरियाणा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष शैलजा का दावा, 29 जून से पेट्रोल, डीजल के विरोध मे कांग्रेस करेगी प्रदर्शन
नारनोल। डीजल-पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतों के विरोध में कांग्रेस 29 जून को पूरे प्रदेश में जिला मुख्यालयों पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर धरना देगी। यह बात हरियाणा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने शुक्रवार के रेवाड़ी रोड पर एक होटल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के लॉकडाउन के चलते लोग बेरोजगार हो गए है। इस प्रकार गरीब आदमी से दो वक्त की रोटी की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। ऐसे में राहत देना तो दूर सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी कर किसान, ट्रांसपोर्टरों व आमजन की कमर तोड़ दी है। हरियाणा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत काफी कम है लेकिन सरकार पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर टैक्स लगाकर अपना खजाना भरने में लगी हुई है। कुमारी शैलजा ने बढ़ती बेरोजगारी के लिए सरकार की नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि हरियाणा प्रदेश में लगातार बेरोजगारी बढ़ रही है। प्रदेश में पहले ही बेरोजगारी अधिक थी।
कांग्रेस शासन के दौरान हरियाणा में स्थापित उद्योग-धंधे पूरी तरह तबाह हो चुके हैं। प्राइवेट सेक्टर में बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है। अब सरकारी नौकरियां भी सरकार नहीं दे रही है। नया रोजगार तो दूरी पुराने रोजगार भी जा रहे है। सरकार प्रतिदिन नए-नए फैसले लेकर युवाओं को प्रताड़ित कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार का ग्रुप डी में ज्वाइनिंग करने वाले अगले पांच साल तक किसी अन्य भर्ती में आवेदन नहीं कर सकते की शर्त को उनके अधिकारों पर हमला है। इस अवसर पर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री राव नरेंद्र सिंह, पूर्व विधायक राव बहादुर सिंह सहित अन्य उपस्थित थे।



विरोध करते सपाइयों के मुचलके भरेंं

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। पेट्रोल, डीजल के दामों में बढ़ोतरी, बेरोजगारी, ध्वस्त कानून व्यवस्था, लखनऊ में प्रदर्शन कर रहे सपाईयों पर लाठीचार्ज, कोरोना के चलते आई आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोंगो को राहत देने के लिए बिजली बिल, गृह कर आदि सरकारी देय माफ करने आदि मुद्दों को लेकर ज्ञापन देने जिलाधिकारी कार्यालय जा रहे सपा युवजन सभा के नि वर्तमान जिला अध्यक्ष संदीप यादव सहित डेढ़ दर्जन से अधिक सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने जबरन गिरफ्तार कर लिया ।


सपा के जिला प्रवक्ता दान बहादुर मधुर के अनुसार समाजवादीपार्टी के जिला कार्यालय जॉर्ज टाउन में सुबह 11 :30 बजे सपा युवजन सभा के नि वर्तमान जिला अध्यक्ष संदीप यादव के नेतृत्व में पार्टी के कार्यकर्ता शान्ति पूर्ण ढंग से जिलाधिकारी कार्यालय की ओर पैदल ही रवाना हुए तो वहां पहले से ही मौजूद पुलिस ने सभी को जबरन गिरफ्तार कर अपने वाहन में भर लिया और स्थानीय पुलिस लाइन में दिन भर बैठाए रखा गया । सायंकाल 3 बजे जिलाधिकारी के प्रतिनिधि के रूप में ए सी एम. चतुर्थ श्री जितेंद्र पाल ने पुलिस लाइन आकर ज्ञापन लिया l गिरफ्तार नेताओं को शांति भंग के आरोप में निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया ।


गिरफ्तार किए गए सपा नेताओं से पुलिस लाइन में मिलने पहुंचे नि वर्तमान महानगर अध्यक्ष सैयद इफ्तेख़ार हुसैन,दानबहादुर सिंह मधुर, रवींद्र यादव एडवोकेट, मो अस्करी, सुशील यादव एडवोकेट आदि ने भाजपा के इशारे पर जिला प्रशासन द्वारा सपाईयों के बेवजह उत्पीडन का आरोप लगाया है । गिरफ्तार लोंगो में सर्व श्री संदीप यादव, रेहान अहमद, अरुण यादव, कुलदीप, सौरभ, शिवा कांत, विकास शुक्ला, जय शंकर उर्फ बबलू रावत, मोहित कुमार, राजेश कुमार, आकाश सिंह,j विशाल रावत, रोहित किसान, ऋतु राज गौड़, अभिषेक नारायण सिंह, अतुल यादव, अमित बागई, पवन गोस्वामी हैं । वही छात्र नेता आदिल हमजा को सुबह 10 बजे ही पुलिस ने घर से उठा लिया और कैंट थाने में बैठाए रखा l दोपहर बाद छोड़ दिया गया ।


राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए आवेदन

विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए 10 अगस्त 2020 से पहले करें अभ्यर्थी आवेदन

 

गौतम बुध नगर। जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी गौतम बुद्ध नगर अतुल कुमार सोनी ने जानकारी देते हुए बताया है कि प्रत्येक वर्ष तीन दिसम्बर को विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर राज्य स्तरीय पुरस्कार नियमावली 2017 हेतु 12 विभिन्न श्रेणियों में पात्रता रखने वाले उन सभी अभ्यर्थी/संस्थाओं को दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग द्वारा राज्य स्तरीय पुरस्कार प्रदान किया जाता है।

वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 में भी पात्र दिव्यांगजन अभ्यर्थी/संस्था आवेदन पत्र कार्यालय से प्राप्त करते हुए आवेदन पत्र का पूर्ण विवरण/संलग्नक अभिलेखों के साथ 10 अगस्त 2020 तक कार्यालय जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी कमरा नंबर 107 विकास भवन सुरजपुर जनपद गौतमबुद्धनगर में उपलब्ध करायें। उक्त योजना से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए विकास भवन सुरजपुर जनपद गौतमबुद्धनगर में किसी भी कार्यदिवस के दिन संपर्क किया जा सकता है। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुद्ध नगर।

कोई पशु, जीव-जंतु प्यासा नहीं रहेगा

किसी भी पशु जीव जन्तु को प्यासा नहीं रहने देंगे । बजरंगदल 

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद/लोनी। हम अपनी परंपराओं को नहीं भूल सकते ।किसी भी पशु जीव-जन्तु को पानी की ज़रूरत होती है। चिलचिलाती गरमी में उन्हें पानी पिलाने से अधिक ओर कोई पुण्य नहीं हो सकता है । इस काम में सभी भाइयों बहनो को सहभागी बनाना चाहिए।

विश्व हिंदू परिषद बजरंगदल लोनी ग़ाज़ियाबाद

अशोक विहार वार्ड ना 35 लोनी नगर समस्त टीम

नगर सुरक्षा प्रमुख  नवीन पटेल , योगेश गुप्ता, दिलीप पटेल, हर्ष पटेल , सिद्धांत चौरशिया , संजीव पटेल ,बिटू यादव, गौरव पटेल , सूभम सिंह  ,अजित पटेल, राहुल पटेल , कारण पटेल  दीपक ,सभी बजरंगी भाइयों के सहायता से किया गया है

भूमिका : गाय का यूं तो पूरी दुनिया में ही काफी महत्व है, लेकिन भारत के संदर्भ में बात की जाए तो प्राचीन काल से यह भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ रही है। चाहे वह दूध का मामला हो या फिर खेती के काम में आने वाले बैलों का। वैदिक काल में गायों की संख्‍या व्यक्ति की समृद्धि का मानक हुआ करती थी। दुधारू पशु होने के कारण यह बहुत उपयोगी घरेलू पशु है।

गाय का उल्लेख हमारे वेदों में भी पाया जाता है। गाय को देव तुल्य स्थान प्राप्त है। कहते हैं कि गाय में सभी देवी-देवताओं का वास होता है। गाय को पालने का चलन बहुत पुराना है। अगर घर में गाय का वास होता है उस घर के सारे वास्तु-दोष अपने आप खत्म हो जाते हैं। इतना ही नहीं, उस घर में आने वाली संकट भी गाय अपने ऊपर ले लेती है। ऐसी मान्यताएं प्रचलित है।

अन्य पशुओं की तुलना में गाय का दूध बहुत उपयोगी होता है। बच्चों को विशेष तौर पर गाय का दूध पिलाने की सलाह दी जाती है क्योंकि भैंस का दूध जहां सुस्ती लाता है, वहीं गाय का दूध बच्चों में चंचलता बनाए रखता है। माना जाता है कि भैंस का बच्चा (पाड़ा) दूध पीने के बाद सो जाता है, जबकि गाय का बछड़ा अपनी मां का दूध पीने के बाद उछल-कूद करता है।

गाय को ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी माना जाता है। जैसे हमारे देश के लिए गांवो का महत्व है, उसी प्रकार गांवो के लिए गायों का महत्व है। पिछले कुछ सालों से गाय के जीवन पर संकट के बादल मंडरा रहे है। इसका प्रमुख कारण है – प्लास्टिक।

शहरों में हर चीज हमें प्लास्टिक में ही मिलता है। जिसे हम प्रयोग के बाद कूड़े-कचरे में फेंक देते है। जिसे चरने वाली मासूम गायें खा लेती है, और अपनी ज़ान गवा देती हैं। हम सबको पता है कि प्लास्टिक नष्ट नहीं होता, इसलिए इसका प्रयोग सोच-समझ कर करना चाहिए। यह सिर्फ गायों के जीवन के लिए ही नहीं वरन् पर्यावरण के लिए भी जरुरी है।

फलावदा स्मार्ट नगर पंचायत बनाऊंगा

नगर पंचायतों में फलावदा नगर पंचायत को स्मार्ट नगर पंचायत बनाऊंगा--अब्दुल समद

फलावदा में एक भी कोरोना मरीज नही मिला 

मेरठ। नगर पंचायतो में मेरठ का स्मार्ट  नगर पंचायत बनाने का जज्बे को लेकर नवयुवा चेयरमैन जनाब अब्दुल समद से आर डी गादरे ने मुलायम की। इस मुलाकात में जनाब अ0 समद ने बताया कि इस लोकडाउन से परेशान हाल परिवारों की मदद खुद से अपने पास से ही लोगों की राशन पहुंचाना एक जज्बा रखकर काम किया। चेयरमैन फलावदा ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के चलते नगर पंचायत फलावदा ने सबसे ज्यादा साफ सफाई का विरोध थ्यान रखा गया है। सैनेटाइजिन्ग का भी बहुत ख्याल रखा गया है। 

अ0 समद जी से आर डी गादरे ने पूछा कि लोगों में चर्चा है कि आप पूर्व चेयरमैन सैयद परिवार के इशारो पर चलते हैं? अ,समद जी ने तुरंत जवाब दिया कि हमको किसी के इशारो पर चलने के लिए जनता ने नही चुना। हम शिक्षित है और खुद के निर्णय लेने की क्षमता है।  और इस महामारी संक्रमण रोग से बचाव के लिए हमने जनता हित में बहुत काम किये हैं।  और जनता ने भी बहुत सहयोग दिया है। आज हमने इस महामारी संक्रमण से बचाव के लिए नालो कि साफ सफाई जे सी बी मशीन द्वारा कराई गई है।  आने वाले समय में यदि बरसात होने लगे तो भी फ़लावदा मे जल भराव की स्थिति का सामना किया जा सकता है।  और साथ ही संक्रमण रोग से बचाव के लिए सैनेटाइजिन्ग और सफाई का बहुत बडा फायदा होता है। 

और जो गन्दगी नालों से निकलती है उसको फसलो के लिए खाद बनाकर खेतों में इस्तेमाल किया जाता है।  मेरा ख्वाब है कि फलायदा को स्मार्ट नगर पंचायत बनाऊंगा।  आज देश में युवा पीढ़ी को आगे आकर जनता को जागरूक करने की आवश्यकता है।  आधुनिक काल में शिक्षा की महत्ता को समझना होगा।  आज इस महामारी संक्रमण रोग से बचाव के लिए सामाजिक दूरी बनाकर रहे और इस महामारी को हराने में हमारा सहयोग करें। 

राजू गादरे जी ने कहा कि आपने प्रवासी मजदूरो के लिए क्या कदम उठाए? श्री अब्दुल समद चेयरमैन फलावदा ने बताया कि इस वक्त बेरोजगारी तो बढी हुई है इसमें कोई शक नहीं लेकिन जो प्रवासी मजदूर आए हैं सबको सरकार से और खुद से उनको राशन मुहैया कराया गया है। घरों में क्वारन्टीन के लिए आह्वान किया था। साफ सफाई की लगातार कार्यवाही को अंजाम दिया गया है। 

महंगाई के सवाल का जवाब देते हुए जनाब अब्दुल समद जी ने कहा कि इस भारतीय जनता पार्टी सरकार में  महंगाई की मार से लोगों का जीवन बद से बदतर होता जा रहा है। हमारे पंचायत में भी जो विकास की मदद आया करती है वह भी अधूरी है। आने वाले समय में परिस्थितियों का सामना करना बहुत मुश्किल रहेगा मै जनता से आह्वान करूगा कि अपने अपने फालतु के खर्चों मे एह्त्यात बरते।

फीस माफी को लेकर 'हस्ताक्षर अभियान'

फीस माफी को लेकर चलाया हस्ताक्षर अभियान

 रिपोर्ट बृजेश केसरवानी

प्रयागराज। स्कूलों में 5 महीने  की फीस माफ करने को ले कर अभिभावक ने चलाया हस्ताक्षर अभियान मे 211 हस्ताक्षर हुए। अधिकतर लोगों ने कहा स्कूल से लगातार मोबाइल में संदेश आता है। फीस जमा करें, नहीं तो बच्चों का नाम  काट देंगे। हम लोगों के घर की स्थिति अच्छी नहीं है फीस जमा कर सके। अभिभावक एकता समित उ.प्र . प्रदेश अध्यक्ष  विजय गुप्ता के  नेतृत्व में स्थान- लेबर चौराहा अल्लापुर। इस अवसर पर विजय गुप्ता ने कहा कि महामारी और लॉकडाउन के कारण सभी लोगों का व्यापार चौपट हो गया है। साथ ही साथ मध्य वर्ग परिवार और निम्न वर्ग  की आय का स्रोत भी समाप्त हो गया है। स्कूल की फीस जमा करने की स्थिति में नहीं है। ऐसी स्थिति में 5 माह की फीस माफ न्याय संगत है।

सरकार इस बात को ध्यान दें फीस न जमा करने की वजह से बच्चों का भविष्य अंधकार में हो जाएगा

""पढ़ेगा इंडिया, तभी तो बढ़ेगा इंडिया" हस्ताक्षर अभियान में

" शिव शंकर गुप्ता" विनय अग्रहरी ओम आनंद "अतुल तिवारी "शोभ  लाल तिवारी " मनीष गुप्ता"  आदि लोग उपस्थित रहे।

घटिया निर्माण के खिलाफ खड़े हुए ग्रामीण

अतुल त्यागी (मेरठ मैन प्रभारी)

प्रवीण कुमार (रिपोर्टर पिलखुआ)

स्लग-नाले में घटिया सामग्री का निर्माण पर ग्रामीणों का विरोध

हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ के थाना बाबूगढ़ क्षेत्र के गांव सिकंदरपुर काकोड़ी में ग्रामीणों पर ग्राम प्रधान पर नाली निर्माण में घटिया सामग्री व पुरानी ईट लगाने का आरोप लगाया है। आपको बता दे कि ग्राम सिकंदरपुर ककोड़ी में ग्राम प्रधान के द्वारा नया नाले का निर्माण कराया जा रहा है वही ग्रामीणों का कहना है कि नाले में पुरानी ईटो के रोड़े से निर्माण कार्य कराया जा रहा है जोकि भविष्य के लिए सरकार का पैसा खराब कराया जा रहा है वही ग्रामीणों का यह भी कहना है कि ग्राम प्रधान से शिकायत करने के बाद भी नये नाली निर्माण में घटिया सामग्री लगाकर कार्य किया जा रहा है जोकि ग्रामीणों के द्वारा रुकवा दिया है।

बाईट-धर्मवीर सिंह(ग्रामीण)

बाईट-ललित चौधरी(ग्रामीण)

बाईट-महाराज सिंह

बाईट- बिजेंद्र सिंह (ग्राम पंचायत सदस्य)

बाईट- कृष्णपाल सिंह

प्रेमी के साथ भागी बालिका की मौज




प्रेमी के साथ भागी बालिका कर रही मौज पुलिस परेशान

कौशाम्बी। चरवा थाना क्षेत्र के चरवा खुर्द गांव की एक बालिका बीस दिनों पूर्व अपने प्रेमी के साथ घर छोड़कर भाग गई बालिका प्रेमी के साथ मौज मस्ती कर रही है। लेकिन उसकी मां पुलिस को तहरीर देकर बालिका को खोजने की फरियाद कर रही है।

 

प्रेमी के साथ फरार बालिका के मामा की शादी 25 जून को थी जिसमें बालिका अपने प्रेमी के साथ शादी समारोह में शामिल हुई यहां पर उसकी मां और तमाम अन्य रिश्तेदार भी मौजूद थे। शादी का कार्यक्रम समाप्त होने के बाद बालिका फिर अपने प्रेमी के साथ बाहों में बाहें डाल कर फुर्र हो गई और बेटी के प्रेमी के साथ दुबारा भी भाग जाने के बाद मां ने पुलिस पर ही कहानी करनी शुरू कर दी है कि बेटी की बरामदगी पुलिस नहीं कर रही है। अब सवाल उठता है कि जब खुद अपना प्रेमी चुनने के लिए बेटी बेताब है तो इसमें पुलिस क्या हस्तक्षेप कर सकती है मां का आरोप है कि 26 जून को बेटी शादी में रिश्तेदार के घर गई थी और अपने घर भी आई थी और घर से अपना आधार कार्ड जेवर और नगदी रुपया भी उठा ले गई है। फरार बेटी की मां का नाटक लोगों को नहीं समझ में आ रहा है

बृजेंद्र केसरवानी 




 








Quick Reply

346 करोड की सौगात दे गए डिप्टी सीएम

जिले को फिर 346 करोड की सौगात दे गए डिप्टी सीएम

निर्माणाधीन रेलवे ओवरब्रिज और सर्किट हाउस का डिप्टी सीएम ने किया निरीक्षण

कौशाम्बी। उत्तर प्रदेश सरकार के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य आज जिले में विभिन्न निर्माणाधीन परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण किया और परियोजनाओं के निर्माण में लगे इंजीनियरों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया डिप्टी सीएम ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि निर्माणाधीन परियोजनाओं की गुणवत्ता से समझौता नहीं होगा। यदि किसी भी निर्माणाधीन परियोजना की गुणवत्ता से इंजीनियरों ने समझौता करने की कोशिश की तो इंजीनियर की खैर नहीं होगी और सीधा उस पर मुकदमा दर्ज करा कर जेल भेज दिया जाएगा।

डिप्टी सीएम ने आज जिले के विभिन्न योजनाओं के निरीक्षण के दौरान 346 करोड़ की सौगात जिले वासियों को फिर दे गए हैं। डिप्टी सीएम ने कहा कि लालगंज से चित्रकूट की सड़क को राज्य मार्ग में परिवर्तन किया जाना है। और इस सड़क में 346 करोड़ की लागत आएगी और जल्द ही सड़क का निर्माण शुरू हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि लालगंज से सुजातपुर मंझनपुर महेवा घाट होते हुए राजपुर चित्रकूट तक की सड़क पर जल्द ही निर्माण कार्य शुरू होगा। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने सर्किट हाउस के निरीक्षण के दौरान वहां पौधारोपण कर हरियाली का संदेश दिया है। डिप्टी सीयम केशव प्रसाद मौर्या के जनपद आगमन पर सांसद विनोद सोनकर चायल विधायक संजय कुमार गुप्ता सिराथू विधायक शीतला प्रसाद पटेल मंझनपुर विधायक लाल बहादुर पूर्व विधायक शिव दानी जिला अध्यक्ष अनीता त्रिपाठी पूर्व जिला अध्यक्ष प्रेमचंद्र चौधरी धर्मराज मौर्य अरुण केसरवानी दुर्गेश गुप्ता सहित भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेता उनके स्वागत में उमड़ पड़े हैं। कार्यक्रम के पूर्व डिप्टी सीएम को माल्यार्पण कर उनका ऐतिहासिक स्वागत किया गया है।

धर्मेंद्र सोनकर 

फरीदाबादः सीएमओ भी संक्रमण का शिकार

फरीदाबाद। शहर कोरोना को लेकर किन हालातों में है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बादशाह खान अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। कोरोना के नोडल अधिकारी डा. रामभगत ने इसकी पुष्टि की है। सीएमओ कृष्ण कुमार ने हाल ही में अपना कोरोना टेस्ट करवाया था ,जिसमें शनिवार को आई रिपोर्ट में वह पॉजीटिव पाए गए हैं। इससे पहले हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के प्रशासक व उनके परिजन भी कोरोना ग्रस्त पाए जा चुके हैं। हुडा प्रशासक के घरेलू नौकर को पहले कोरोना हुआ, जिसके बाद प्रशासक सहित घर के बाकि सदस्य भी उसकी चपेट में आ गए। लेकिन अब मुख्य चिकित्सा अधिकारी के चपेट में आने के बाद अंदाजा लगाया जा सकता है कि फरीदाबाद में कोरोना की स्थिति कितनी बदहाल होती जा रही है। फरीदाबाद में कोरोना का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। हर रोज नए नए मामले सामने आने से प्रशासन की चिंता बढ़ती जा रही है। शहर का ऐसा कोई कोना नहीं है, जहां से कोरोना के केस सामने नहीं आ रहे हों। मुख्य चिकित्सा अधिकारी के पॉजीटिव पाए जाने के बाद स्वास्थ्य सेवाओं में जुटे डाक्टर व कर्मचारी भी कहीं ना कहीं अपनी सतर्कता को लेकर चितिंत दिखाई देने लगे हैं। जबकि दूसरी ओर बाजारों में बढ़ती भीड़ को देखकर सोशल डिस्टेंस के सभी मायने फेल होते दिखाई दे रहे हैं। हालांकि प्रशासन ने कोरोना के प्रति सतर्कता बरतते हुए अभी तक जिले में धार्मिक स्थल, शिक्षण संस्थान एवं शापिंग मॉल पर लगाया गया प्रतिबंध नहीं हटाया है। इसके साथ ही रात को नौ बजे से लेकर सुबह पांच बजे तक का कफ्र्यू भी अभी जारी है। प्रशासन के अनुसार इन प्रतिबंधों की वजह से लोग एक जगह अधिक संख्या में एकत्रित नहीं हो पा रहे हैं, जिसका असर कोरोना की चेन पर पड़ रहा है। लेकिन फिर भी लोगों को अधिक से अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। वहीं दूसरी ओर बादशाह खान अस्पताल में पहले भी कई कोरोना के केस सामने आ चुके हैं। कोरोना टेस्ट करने वाली लैब भी बंद रह चुकी है, जिसके चलते कई दिनों तक कोरोना के टेस्ट नहीं किए जा सके थे। मौजूदा स्थिति तक भी इस लैब में यह कार्य तेज रफ्तार नहीं पकड़ पाया है।


फिर सजने लगी भू-माफियाओं की मंडी

कानपुर। चकेरी थाना क्षेत्र के सजारी में फिर सजने लगी है भू माफियाओं की मंडी, इस क्षेत्र में सैकड़ो बीघों के हिसाब से पड़ी कानपुर विकास प्राधिकरण की जमीन पर भू माफियाओं ने कर डाली है प्लाटिंग,, भोलेभाले किसानों को कुछ रकम देकर और रंगीन सपने दिखाकर उनकी जमीनों का एग्रीमेंट कराकर इन माफियाओं ने कानपुर विकास प्राधिकरण की जमीनों को निशाना बनाया, किसान की जमीन की आड़ में आस पास पड़ी सरकारी जमीन को गलत तरीके से रजिस्ट्री भी करवाई जा रही है।इसी क्षेत्र के एक चर्चित भू माफिया ने सैकड़ो साल पुराने पीपल के पेड़ को कटवाकरउस स्थान पर मौजूद ग्राम समाज के कुएं तक को बंद करवा दिया और उस जमीन पर अपनी नजर गड़ा दी।क्षेत्र में सरकारी जमीनों पर बड़े बड़े कार्यालय,, मार्केट,, गेस्ट हाउस,, व अन्य प्रतिष्ठानों का निर्माण जोरो से चल रहा है।इस महान कार्य मे इन माफियाओं को सहयोग करने वाले कानपुर विकास प्राधिकरण के कुछ बड़े अधिकारियों की भूमिका भी है।जो इन माफियाओं से मिलने वाली मलाई को खाकर उन्हें सहयोग दे रहें हैं और यहाँ से लेकर मोतीझील ( कार्यालय कानपुर विकास प्राधिकरण) तक उनकी मदद की जाती है। अब देखना यह। है कि जिम्मेदार इन भू माफियाओं के सामने घुटने टेकती है या कार्यवाही करते हैं।


डरे बिना सच बताएं पीएम मोदीः गांधी

चीन ने 3 जगह छीनी जमीन,सच बताएं PM…


कार्रवाई में हम आपके साथ: राहुल गांधी…


नई दिल्ली/ बिजिंग। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चीन विवाद को लेकर निशाना साधा है,लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए,तभी से हालात तनावपूर्ण हैं। शुक्रवार को राहुल ने एक वीडियो जारी किया,राहुल गांधी ने कहा कि पीएम बिना डरे,बिना घबराए सच बताएं कि चीन ने जमीन ली है और हम कार्रवाई करने जा रहे हैं,इस स्थिति में पूरा देश आपके साथ खड़ा है।कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि पूरा देश एक होकर सेना और सरकार के साथ खड़ा है,लेकिन एक जरूरी सवाल उठा है, कुछ दिन पहले हमारे प्रधानमंत्री ने कहा था कि कोई हिंदुस्तान में नहीं आया,किसी ने हमारी जमीन नहीं ली है।


राहुल गांधी ने कहा कि सैटेलाइट तस्वीर में दिख रहा है,सेना के पूर्व जनरल कह रहे हैं और लद्दाख के लोग कह रहे हैं कि चीन ने हमारी जमीन एक नहीं बल्कि तीन जगह छीनी है।
कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री जी आपको सच बोलना पड़ेगा,घबराने की जरूरत नहीं है,अगर आप कहेंगे कि जमीन नहीं गई,लेकिन चीन ने जमीन ली है तो चीन का फायदा होगा,हमें मिलकर इनसे लड़ना है और उठाकर फेंकना है। इसी वीडियो में राहुल गांधी ने कहा कि हमारे शहीद जवानों को आखिर बिना हथियार के बॉर्डर पर किसने भेजा और क्यों भेजा?
आपको बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी लगातार मोदी सरकार पर चीन के मसले पर हमलावर हैं,इससे पहले भी राहुल ने सवाल खड़ा किया था कि जवान निहत्थे होकर बॉर्डर पर क्यों गए थे। जिसपर विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने उन्हें जवाब दिया था।
ऑल पार्टी मीटिंग में पीएम मोदी ने कहा था कि चीन ने घुसपैठ नहीं की है,जिसके बाद विपक्ष ने सवाल खड़े किए थे। हालांकि,बाद में प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से सफाई जारी करते हुए कहा गया था कि पीएम ने सिर्फ झड़प वाली जगह की बात की थी।


सोनिया-प्रियंका ने भी जारी किया संदेश


कांग्रेस नेता राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी इस मसले पर एक संदेश जारी किया,सोनिया गांधी ने कहा कि आज जब भारत और चीन सीमा पर संकट की स्थिति है,तो केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हट सकती। प्रधानमंत्री कहते हैं कि हमारी सीमा में कोई घुसपैठ नहीं हुई,पर दूसरी और रक्षा मंत्री और विदेश मंत्रालय बड़ी संख्या में चीनी सैनिकों की मौजूदगी और घुसपैठ की चर्चा करते हैं।
सोनिया गांधी के अलावा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी वीडियो संदेश जारी किया,उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी लगातार चीन के नेताओं के साथ दोस्ती कर रहे थे,लेकिन चीन ने हमें धोखा दिया है।प्रियंका ने अपने ट्वीट में लिखा कि हमारी फौज के बहादुर सैनिक देश की अखंडता व देश की रक्षा के लिए शहीद हुए,उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देना है. प्रियंका बोलीं किदेश की एक इंच भी जमीन नहीं जाने देंगे,देश सच जानना चाहता है।
दरअसल, चीन के साथ बॉर्डर पर मई महीने से ही तनाव चल रहा है,लेकिन 15 जून को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारत के बीस जवान शहीद हो गए, इसके बाद स्थिति बिगड़ गई।अब भी खबर है कि गलवान घाटी,पैंगोंग लेक के पास चीन ने अपने सैनिकों की संख्या बढ़ाई है, साथ ही कुछ इंफ्रास्ट्रक्चर भी बना लिया है।


पेट्रोल-डीजल के दाम में 21वीं बढ़ोतरी

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार 21वें दिन बढ़े हैं। आज पेट्रोल के दाम में 25 पैसे और डीजल के दाम में 21 पैसे की बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली में अब पेट्रोल 80.38 रुपए और डीजल 80.40 रुपए प्रति लीटर हो गई है। देश में पेट्रोल  और डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। लगातार 21वें दिन यानी आज (शनिवार) एक बार फिर पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। आज दिल्ली में पेट्रोल पर 25 पैसे प्रति लीटर और डीजल पर 21 पैसे प्रति लीटर इजाफा हुआ है। जिसके बाद राष्ट्रीय राजधानी में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 80.38 रुपए और डीजल के लिए 80.40 पैसे चुकाने होंगे. शुक्रवार को पेट्रोल पर 21 पैसे प्रति लीटर और डीजल पर 17 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई थी।


भूटान ने भारत को राहत भरी खबर दी

नई दिल्ली/ थिंपू। पड़ोसी देशों से चल रहे तनाव के बीच भूटान ने भारत को राहत भरी खबर दी है। असम में भूटान की तरफ से नदियों का पानी रोके जाने की खबरों को खारिज करते हुए भूटान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर भारत को आश्वस्त किया है। भूटान के विदेश मंत्रालय ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज से स्पष्टीकरण दिया है। इसमें कहा गया है, “ये परेशान करने वाला आरोप है और विदेश मंत्रालय स्पष्ट करना चाहेगा कि इन आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। इस मुश्किल वक्त में पानी रोकने की कोई वजह ही नहीं है। भूटान और असम के दोस्तों के बीच गलतफहमी पैदा करने के लिए ऐसी सूचनाएं फैलाई जा रही हैं।


भूटान सरकार ने कहा, असम के बक्शा और उदलगिरी जिले कई सालों से भूटान के पानी का इस्तेमाल करते आ रहे हैं और जब हम कोरोना महामारी का सामना कर रहे हैं और एक मुश्किल वक्त से गुजर रहे हैं तो भी ये सहयोग जारी रहेगा।भूटान के विदेश मंत्रालय ने कहा, “कोरोना वायरस महामारी में लागू प्रतिबंधों की वजह से असम के किसान भूटान में प्रवेश नहीं कर पा रहे हैं जिससे उन्हें सिंचाई के लिए पानी लाने में दिक्कतें हो रही हैं. हालांकि, असम के किसानों की मुश्किलों को समझते हुए समद्रूप जोंगखार जिले के अधिकारियों और लोगों ने सिंचाई चैनलों की मरम्मत का काम शुरू कर दिया है ताकि असम की तरफ पानी के बहाव में कोई समस्या ना हो।असम के चीफ सेक्रटरी कुमार संजय कृष्ण ने एएनआई से बताया, सिंचाई का पानी भूटान की पहाड़ियों से बहते हुए असम में आता है लेकिन रास्ते में कुछ पत्थरों की वजह से बहाव रुक गया था। हमने भूटान से बातचीत की और तुरंत रास्ता क्लियर कराया। इसे लेकर कोई विवाद नहीं है और ये कहना गलत है कि भूटान ने असम की तरफ आने वाला पानी रोक दिया। इसी सप्ताह, असम के कई ग्रामीणों ने सिंचाई के लिए जल-आपूर्ति बाधित होने को लेकर भूटान सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से मांग की थी कि जल्द से जल्द भूटान सरकार के साथ बातचीत कर इस मुद्दे को सुलझाया जाए।


सेना प्रमुख ने की रक्षा मंत्री से मीटिंग

लद्दाख। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास चीनी सैनिकों की हलचल बढ़ने के बाद सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने रात रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। बैठक में कहा गया कि ड्रैगन बातचीत की आड़ में घुसपैठ बढ़ाने की साजिश रच रहा है लेकिन भारत भी उनके मंसूबों से निपटने के लिए तैयार है। चीन को किसी भी हाल में सबक सिखाने को लेकर रक्षा मंत्रालय में सहमति बनी है। बैठक में वायुसेना प्रमुख आर. के. सिंह भदौरिया भी उपस्थित थे। दोनों दलों के प्रमुखों ने चीन की तुलना में भारतीय सेना और वायुसेना दल की ताकत की जानकारी सिंह को दी।


उन्होंने बताया कि पिछले सप्ताह चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प को लेकर अब तक खुलासा नहीं हो पाया है।चीनी सैनिकों की वास्तविक नियंत्रण रेखा को चार किलोमीटर बदलने की साजिश को भारतीय जवानों ने नाकाम कर ड्रैगन को उसकी औकात दिखा दी है। इसके पहले भी नरवणे ने गलवान घाटी में तैनात अधिकारियों से चर्चा की थी। उस चर्चा से सामने आई जानकारी के आधार पर रक्षा मंत्री के साथ हुई इस बैठक में रणनीति तय की गई। रणनीति के तहत रूस से जल्द ही लड़ाकू विमानों की खरीदी की जाएगी। आगामी 15 दिनों में हवाई गश्त भी बढ़ाई जाएगी।


हालांकि, चीन अब भी बातचीत की रट लगाए हुए है। चीन ने उसके सैन्य अधिकारियों की ओर से बेसिर-पैर के दावों के साथ विदेश मंत्रालय की ओर सकारात्मक चर्चा का प्रस्ताव पेश करने की कुटिल नीति अपनाई है। भारत अब चीन के बातचीत के झांसे से गुमराह नहीं होगा। गलवान घाटी और पैंगोंग नदी परिसर में बड़ी संख्या में सेना तैनात है अक्तूबर तक इसमें और बढ़ोत्तरी की जाएगी। फिलहाल उस इलाके में सैनिकों के लिए जरूरी सुविधाओं वाले कैंप बनाए जाएंगे।कड़ाके की ठंड से बचने के लिए गर्म कपड़ों की खरीदी की जाएगी। लड़ाकू नौकाएं खरीदने का प्रस्वात तैयार किया जाएगाः सैन्य क्षमता बढ़ाने के लिए जल्द ही फिलीपींस, इंडोनेशिया, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों से लड़ाकू नौकाएं खरीदने का प्रस्ताव तैयार किया जाएगा। आर्थिक झटका चीन को सबसे पहली आर्थिक चुनौती मिली है ऊर्जा मंत्रालय से. सौर ऊर्जा उपकरणों के कलपुर्जों के निर्यात पर ऊर्जा मंत्रालय ने निर्यात शुल्क बढ़ाने का फैसला किया है। इस वर्ष 15 फीसदी जबकि अगले वर्ष इसे बढ़ाकर 40 फीसदी तक कर दिया जाएगा. इसके पीछे का मकसद भारतीय उद्यमियों को बढ़ावा देकर चीन पर निर्भरता कम करना है। केंद्रीय मंत्री आर. के. सिंह ने इस फैसले की घोषणा की। ‘लोकमत’ ने 22 जून को इस संदर्भ में खबर प्रकाशित की थी। उन्होंने यह भी बताया कि चीन पर निर्भरता कम करने के लिए नई सौर ऊर्जा नीति तैयार की जाएगी।


किन्नर में मुख्यमंत्री योगी से लगाई गुहार

गुड्डी किन्नर ने मुख्यमंत्री से लगायी गुहार....

हमलावरों पर पुलिस नही कर रही कार्रवाई

कुशीनगर। एक पखवाड़े पूर्व जनपद के रामकोला थाना क्षेत्र मे बधाई मांग रही किन्नरो पर जानलेवा हमला करने वाले दुसरे गुट के किन्नरो के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं किये जाने को लेकर क्षेत्र के किन्नर समाज मे आक्रोश व्याप्त है। किन्नरो की गुरु गुड्डी किन्नर ने रामकोला व पडरौना कोतवाली पुलिस पर हमलावरो से घूस लेकर कार्रवाई न करने का आरोप लगाते मुख्यमंत्री को शिकायत पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई है। और यह भी चेतावनी दी है कि न्याय नही मिलने पर पुरा किन्नर समाज पुलिस प्रशासन के खिलाफ सड़क पर उतरने के लिए मजबूर होगा।

मुख्यमंत्री को भेजे गये अपने शिकायत पत्र मे किन्नर गुरु गुड्डी ने रामकोला थानाध्यक्ष और पडरौना कोतवाल पर हमलावर किन्नरो से घूस लेकर कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे गुरु किन्नर सीमा मिश्रा द्वारा अपना उत्तराधिकारी घोषित कर कुशीनगर जनपद का सम्पूर्ण क्षेत्र से बधाई लेने का अधिकार मुझे वरासत किया है। पडरौना कोतवाली क्षेत्र के बलुचहा गांव निवासी गुड्डी किन्नर का कहना है कि 13 मई को वह अपने चेलो के  साथ रामकोला थाना क्षेत्र के परसौनी गांव मे बधाई लेने गयी हुई थी इस दौरान पडरौना नगर की निवासी राजकुमारी किन्नर अपने अन्य साथी किन्नरो मुसा उर्फ अनिता, पूजा, सोनी, दीपा आदि के साथ (इसमे ज्यादातर नेपाली किन्नर शामिल है) पहुंचकर अवैध रूप से मेरे क्षेत्र मे अपना अधिकार जताते हुए हमारे किन्नर साथियो को लाठी-डंडा से मारने पीटने करने लगी। इसमे रामजीत किन्नर, चांदनी किन्नर, बेनी किन्नर, दामोदर तथा ढोलकिया मोहर बुरी तरह से जख्मी हो गया। गुड्डी किन्नर कहा कि हमलावरों ने उसके जख्मी किन्नर साथियो के सिर मुडवा दिये। गुड्डी ने कहा जिला अस्पताल मे अपने साथियो का उपचार कराने के बाद मेडिकल रिपोर्ट के साथ रामकोला थाने पर नामजद तहरीर दी है। लेकिन रामकोला पुलिस उन हमलावरों को गिरफ्तार करने के बजाय मुझे प्रताड़ित कर समझौता करने का दबाब बना रही है। गुड्डी किन्नर ने पडरौना कोतवाल पवन सिंह पर हमलावर किन्नरो से घूस लेने का आरोप लगाया है। सीएम को भेजे पत्र मे गुड्डी ने कहा कि घटना से पूर्व तीन बार पडरौना कोतवाल को पत्र देकर विरोधी किन्नर राजकुमारी द्वारा अवैध अधिकार जताने के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गयी थी किन्तु कोतवाल पवन सिंह ने कोई कार्रवाई नही किया जिसके बाद यह घटना घटित हुई। गुड्डी ने कहा की घटना रामकोला थाना क्षेत्र के परसौनी गांव मे हुआ। हमारे साथियो को बुरी तरह से मारा पीटा गया। मेडिकल के साथ नामजद तहरीर हमने दिया। और पडरौना कोतवाल आधी रात को हमारे घर झापेमारी कर हम लोगो को भद्दी-भद्दी गाली देकर समझौता करने दबाब बना रहे है। किन्नर गुरु गुड्डी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को रजिस्टर्ड डाक द्वारा भेजे गये अपने शिकायत पत्र मे कहा है कि न्याय नही मिलने की सूरत किन्नर समाज पडरौना कोतवाल पवन सिंह और रामकोला थानाध्यक्ष के खिलाफ सड़क पर उतरने के लिए विवश होगा।

अब आपके खाने में आई लाल भिंडी

नारायण सिंह रावत
सितारगंज। काले, नीले, पर्पल गेहू व काला, लाल चावल के बाद तिगड़ी फ्रॉम बिजट्टी के बराड़ फ्रॉम के किसान अनिलदीप सिँह महाल ने लाल रंग की भिंडी की सब्जी की पैदावार की लोगों में खासी चर्चा है। मालूम हो कि भारतीय लोग द्वारा भिंडी की सब्जी को बहुत ज्यादा पसंद किया जाता है। इसकी तरी वाली सब्जी के अलावा


प्याज के साथ सूखी सब्जी ज्यादातर लोगों की मनपसंद सब्जी है और कलौंजी वाली भरवां भिंडी की तो अपनी अलग पहचान है। ऐसे में हरी भिंडी की जगह लोग अपने स्वाद को और बेहत्तर बनाने के लिए लाल भिंडी का उपयोग कर सकेंगे।
जैसा कि हम सब जानते हैं कि भारत में लगभग हर प्रदेश में भिंडी की सब्जी लोगों को बहुत प्रिय है। इसे तरी के साथ सुखी सब्जी के रूप में भी ​इस्तेमाल किया जाता है। कुल मिला कर शादी विवाह जैसे समारोहों तक की शान बनने वाली भिंडी की मांग साल भर बरकरार रहती है। आप लोगो ने भिंडी तो खाई ही होगी और उसका रंग हरा होता है यह भी जानते होगे, लेकिन क्या आपने कभी लाल भिंडी खाई है? अगर नहीं, तो जल्द ही आपको लाल भिंडी की बेहतरीन किस्म मिलने वाली है, क्योंकि वाराणसी के भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान ने कड़ी मेहनत के बाद आखिरकार भिंडी की नई प्रजाति ‘काशी लालिमा’ विकसित कर ली है जिसका रंग बैगनी-लाल है, इसकी लम्बाई सामान्य भिंडी जैसी ही है।
तिगड़ी फ्रॉम बिजट्टी के बराड़ फ्रॉम के किसान अनिलदीप सिँह महाल ने बताया कि भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान के पूर्व निदेशक डॉक्टर बिजेंद्र जी के नेतृत्व में लाल भिंडी की प्रजाति पर वर्ष 1995-96 में शोध कार्य प्रारम्भ हो गया था। इसके बाद काशी लालिमा का विकास शुरू हुआ। इसमें डॉ. एस के सानवाल, डॉ. जी पी मिश्रा और तकनीकी सहायक सुभाष चंद्र ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। इस नई प्रजाति ‘काशी लालिमा’ विकसित लाल रंग की यह भिंडी एंटी ऑक्सीडेंट, आयरन और कैल्शियम सहित अन्य पोषक तत्वों से भरपूर है खास बात तो यह है कि ये भिंडी गर्भवती महिलाओं के लिए तथा शुगर और दिल की बीमारियों के लिए सबसे ज्यादा स्वास्थ वर्धक है। महिलाओं के गर्भ में जो शिशु पलता है, उसके मस्तिष्क के विकास के लिए ये बहुत उपयोगी है गर्भवती महिलाएं इस लाल भिंडी का सेवन करें तो उनके अंदर जो फोलिक एसिड की कमी है वो दूर हो जाती है।
किसान अनिलदीप सिँह महाल ने लाल भिंडी के बारे में बताया कि पहले छत्तीसगढ़ के कुछ जनजाति इलाकों में छात्र लाल भिंडी पैदा कर रहे हैं लेकिन सबसे पहले भारत में इसको परिष्कृत रूप में भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान वाराणसी में उगाया गया है। इससे पहले अमेरिका के क्लीमसन विश्व विद्यालय में भी लाल भिंडी को उगाया जा चुका है अमेरिका में इस लाल भिड़ी की पैदावार हुई, पर भारत में यह पैदा नहीं हो पाया था लाल रंग की भिंडी अभी तक पश्चिमी देशों में ही उगाई जा रही है और यह भारत में आयात होती है। इसकी विभिन्न प्रजातियों की कीमत 150 से 600 रुपये किलो तक है। इसके बाद 1995 से भिंडी की नयी प्रजाति पर रिसर्च चल रहा था और पिछले कुछ वर्षों में हमने लाल भिंडी पर विशेष ध्यान दिया और इसे विकसित किया है।
अब इस देशी प्रजाति के विकसित होने के बाद भारत के किसान भी इसका उत्पादन कर सकेंगे। संस्थान में इसका बीज आम लोगों के लिए उपलब्ध हो जाएगा। पोषक तत्वों से भरपूर इस भिंडी के उत्पादन से भारतीय किसानों को फायदा मिलेगा। इसकी मांग अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में भी है भारत के साथ ही अमेरिका, मिस्र, मोरक्को, अफ्रीका, में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। महाल के अनुसार इस भिंडी का रंग बैगनी और लाल रंग का होता है इस भिंडी की लंबाई 11-14 सेमी और व्यास 1.5 और 1.6 सेमी होती है और यह 130 से 140 क्विंटल प्रति हेक्टेयर ये उपज देती है। भविष्य में शहरी क्षेत्र में इसकी भारी मांग होगी और इसका उत्पादन करने वाले किसानों को बहुत लाभ होगा। तिगड़ी फ्रॉम बिजट्टी के बराड़ फ्रॉम के किसान अनिलदीप सिँह महाल ने इस लाल रंग की भिंडी का अपने बराड़ फार्म में उत्पादन कर तहलका मचा दिया है। मालूम हो कि इसस पूर्व अनिलदीप सिंह महाल काले, नीले, पर्पल गेहू व काला, लाल चावल की भी बड़े पैमाने पर खेती कर रहे हैं। महाल एक इलाके के एक वैज्ञानिक सोच पर कृषि करने वाले किसान है। जो हर रोज कुछ नया करने का जज्बा रखते हैं। तमाम लोग भिंडी की लाल फसल को देखने उनके फार्म हाउस पर आ रहे हैं। 


विदेशी पूंजी भंडार 2 अरब डॉलर घटा

मुंबई। भारत का विदेशी पूंजी भंडार 19 जून को समाप्त सप्ताह में 2.078 अरब डॉलर घट गया। आरबीआई के साप्ताहिक पूरक आंकड़े के अनुसार, सकल विदेशी पूंजी भंडार 12 जून को समाप्त सप्ताह के 507.644 अरब डॉलर से घटकर 505.566 अरब डॉलर हो गया। भारत के विदेशी पूंजी भंडार में विदेशी मुद्रा भंडार (एफसीए), स्वर्ण भंडार, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में भारतीय भंडार शामिल होते हैं। विदेशी पूंजी भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा भंडार साप्ताहिक आधार पर 1.698 अरब डॉलर घटकर 467.039 अरब डॉलर पर आ गया। इसी तरह देश के स्वर्ण भंडार का मूल्य 35.80 करोड़ डॉलर घटकर 32.815 अरब डॉलर हो गया। इसके अलावा एसडीआर का मूल्य 60 लाख डॉलर नीचे फिसल कर 1.447 अरब डॉलर हो गया। आईएमएफ में देश का भंडार 1.60 करोड़ डॉलर घटकर 4.264 अरब डॉलर पर आ गया।


यूपी बोर्ड के परिणाम किए सार्वजनिक

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद शनिवार दोपहर साढ़े बारह बजे दसवीं और बारहवीं कक्षा के नतीजे घोषित हो गए। 56 लाख विद्यार्थियों का इंतजार खत्म करते हुए सूबे के उप मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा लखनऊ स्थिति लोक भवन में प्रेस वार्ता के जरिए दसवीं और बारहवीं कक्षा के परिणाम जारी करेंगे। 10वीं और 12वीं कक्षा के नतीजे बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी होंगे। इस साल दसवीं और बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं 18 फरवरी में शुरू हुई थीं और 6 मार्च तक चली थी। बोर्ड की परीक्षाएं कोरोना वायरस के कहर से पहले ही पूरी हो गई थीं। लेकिन कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए लगे लॉकडाउन की वजह से उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन प्रक्रिया में देरी हुई थी। जिसकी वजह से इस साल रिजल्ट की घोषणा में भी देरी हुई है। दूसरी बात इस साल ऐसा पहली बार हो रहा है, जब यूपी बोर्ड के दसवीं और बारहवीं के नतीजे प्रयागराज की बजाय लखनऊ से जारी होंगे। परिणाम की घोषणा भी माध्यमिक शिक्षा निदेशक की जगह माध्यमिक शिक्षा मंत्री जारी करेंगे।


15685 लोगों की मौत, 508253 संक्रमित

नई दिल्ली। देश भर में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 5,08,953 पर पहुंच गई है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा शनिवार को जारी किये गये आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घंटे में 18,552 मामले बढ़े वहीं 384 लोगों की मौत हुई। बीते 24 घंटे में 10,244 लोग ठीक हुए हैं। ICMR के अनुसार देश भर में अब तक 79,96,707 लोगों की जांच हो चुकी है। बीते 24 घंटे में 2,20,479 सैंपल्स की जांच हुई।स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में फिलहाल 1,97,387 एक्टिव केस, 2,95,880 लोग डिस्चार्ज और 15,685 लोगों की मौत हो गई है। भारत में कुल जांच किये गये सैंपल्स में से अब तक 5,08,953 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। ऐसे में देश में पॉजिटिविटी रेट 8.41 फीसदी है. वहीं एक्टिव केस और डिस्चार्ज्ड लोगों की संख्या में 98,493 मामलों का अंतर है। मंत्रालय द्वारा जारी किये गये आंकड़ों के अनुसार अंडमान निकाबोर द्वीप में 72, आंध्र प्रदेश में 11,489, अरुणाचल प्रदेश में 172, असम में 6607, बिहार में 8716, चंडीगढ़ में 425, छत्तीसगढ़ में 2545, दादरा नगर हवेली और दमन दीव में 163, दिल्ली में 77,240, गोवा में 1,039, गुजरात में 30,095, हरियाणा में 12,884, हिमाचल प्रदेश में 864, जम्मू-कश्मीर में 6,762, झारखंड में 2290. कर्नाटक में 11,005, केरल में 3876, लद्दाख में 946, मध्य प्रदेश में 12,798, महाराष्ट्र में 1,52,765, मणिपुर में 1075, मेघालय में 47, मिजोरम में 145, नागालैंड में 371, ओडिशा में 6,180, पुड्डुचेरी में 502, पंजाब में 4957, राजस्थान में 16660, तेलंगाना में 12,349, तमिलनाडु में 74,622, सिक्किम में 86, त्रिपुरा में 1325, उत्तराखंड में 2725, उत्तर प्रदेश में 20,943 और पश्चिम बंगाल में 16,190 मामले पुष्ट पाए गए हैं। वहीं शनिवार के आंकड़ों में 8023 मामले राज्यों को रिअसाइन किए गए हैं। आंकड़ों के अनुसार अंडमान निकाबोर द्वीप में 29, आंध्र प्रदेश में 6145, अरुणाचल प्रदेश में 129, असम में 2339, बिहार में1896, चंडीगढ़ में 84 , छत्तीसगढ़ में 618 , दादरा नगर हवेली और दमन दीव में 122, दिल्ली में 27,657, गोवा में 667, गुजरात में 6294, हरियाणा में 4657, हिमाचल प्रदेश में 353, जम्मू-कश्मीर में 2591, झारखंड में 635. कर्नाटक में 3909, केरल में 1846, लद्दाख में 587, मध्य प्रदेश में 2448, महाराष्ट्र में 65, 844, मणिपुर में 682, मेघालय में 4, मिजोरम में 115, नागालैंड में 209, ओडिशा में 1741, पुड्डुचेरी में 306, पंजाब में 1634, राजस्थान में 3218, तेलंगाना में 7346, तमिलनाडु में 32808, सिक्किम में 47, त्रिपुरा में 269, उत्तराखंड में 866, उत्तर प्रदेश में 6730 और पश्चिम बंगाल में 5039 मामले एक्टिव हैं। मंत्रालय के अनुसार अंडमान निकाबोर द्वीप में 0, आंध्र प्रदेश में 148, अरुणाचल प्रदेश में 1, असम में 9, बिहार में 58, चंडीगढ़ में 6 , छत्तीसगढ़ में 13 , दादरा नगर हवेली और दमन दीव में 0, दिल्ली में 2492, गोवा में 2, गुजरात में 1771, हरियाणा में 211, हिमाचल प्रदेश में 9, जम्मू-कश्मीर में 91, झारखंड में 12, कर्नाटक में 180, केरल में 22, लद्दाख में 1, मध्य प्रदेश में 546, महाराष्ट्र में 7106, मणिपुर में 0, मेघालय में 1, मिजोरम में 0, नागालैंड में 0, ओडिशा में 417, पुड्डुचेरी में 9, पंजाब में 122, राजस्थान में 1380, तेलंगाना में 237, तमिलनाडु में 957, सिक्किम में 0, त्रिपुरा में 1 , उत्तराखंड में 37, उत्तर प्रदेश में 630 और पश्चिम बंगाल में 616 लोगों की मौत हो चुकी है।


विदेश मंत्री ने फौज बढ़ाने का ब्यान दिया

नई दिल्ली/ बीजिंग। भारत-चीन में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच जैसे ही अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने चीन से निपटने के लिए फौज बढ़ाने का बयान दिया, वैसे ही चीन के सुर बदल गए। चीन को ये डर सताने लगा कि अगर हिंद-प्रशांत में भारत और अमेरिका मिल गए तो उसकी मुश्किल बढ़ जाएगी. लिहाजा, चीन का मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स अब भारत की तारीफ कर रहा है। उसका कहना है कि भारत अमेरिका के साथ नहीं जाएगा क्योंकि वो कूटनीतिक स्वतंत्रता पसंद करता है। अमेरिका के ताजा बयान के बाद भारत के साथ लद्दाख में भिड़े चीन को इस बात की चिंता सताने लगी है कि कहीं भारत और अमेरिका उसके खिलाफ लामबंद ना हो जाएंं। चीन के इस डर को फाइनेंशियल टाइम्स के एक स्तंभकार गिडोन रैचमैन ने बढ़ा दिया है। उन्होंने लिखा कि भारत ने नए शीत युद्ध में एक पक्ष को चुन लिया है। ये चीन की मूर्खता है कि वो अपने प्रतिद्वंद्वी को अमेरिका के पाले में डाल रहा है। इस बयान से चीन तिलमिला गया. उसे एहसास हो गया कि अमेरिका की एक चाल से पूरा समीकरण उसके खिलाफ बनने लगा है।उसका सरकारी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स इस दलील को खारिज करने में जुट गया।


ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है कि एक वक्त था जब भारत-चीन के बीच तनाव एक बड़ा खतरा था। भारत उस वक्त भी किसी देश पर निर्भर नहीं हुआ इसलिए ये तर्क बिल्कुल गलत है कि मौजूदा सीमा तनाव में भारत किसी एक गुट के साथ जाने के लिए मजबूर हो जाएगा। चीन की पूरी कोशिश है कि भारत किसी भी सूरत में अमेरिका से हाथ ना मिलाए। चीन को अच्छी तरह मालूम है कि भारत और अमेरिका साथ आए तो दक्षिण एशिया और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में वो बुरी तरह घिर जाएगा। चीन को भारत और अमेरिका की दोस्ती का डर इस कदर सता रहा है कि वो उसमें दरार डालने के लिए रूस का जिक्र कर रहा है। चीन के सरकारी मुखपत्र का कहना है कि रूस से हथियारों का सौदा कर भारत ने अमेरिका को बता दिया है कि वो उसे कितनी अहमियत देता है। यही नहीं उसने यहां तक कह दिया कि भारत और अमेरिका एक दूसरे का महज इस्तेमाल करते हैं। भारत पाकिस्तान पर काबू पाने के लिए अमेरिका से करीबी बढ़ाता है दूसरी तरफ अमेरिका हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की नकेल कसने के लिए भारत का इस्तेमाल करता है।भारत-अमेरिका की दोस्ती में दरार डालने की बेचैनी में चीन के सरकारी मुखपत्र ने यहां तक लिख दिया कि भारत को अच्छी तरह मालूम है कि अमेरिका उसके लक्ष्य को पूरा करने में उसकी मदद नहीं करेगा। साफ है कि चीन अब अपने आप को बेहद असुरक्षित महसूस करने लगा है। एक तरफ भारत ने रूस के साथ हथियारों की डील कर चीन की चिंता बढ़ा दी है तो दूसरी तरफ भारत समेत अपने मित्र देशों के समर्थन में अमेरिका के ऐलान ने उसकी नींद उड़ा दी है।


1 बार फिर डब्लूएचओ ने आगाह किया

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण को लेकर एक बार फिर WHO ने लोगों को आगाह किया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि अगर कोरोना वायरस की दूसरी लहर आई तो लाखों लोगों की मौत हो सकती है। WHO के असिस्टेंट डायरेक्टर जनरल रनीरी गुएरा ने अंदेशा जाहिर किया है कि वायरस अभी भी काफी देशों में कहर बरपाएगा। उन्होंने स्पेनिश फ्लू का जिक्र करते हुए कहा कि महामारी सितंबर-अक्टूबर के ठंडे मौसम में बढ़ गई थी। ऐसे में कोरोना वायरस का प्रभाव भी इस मौसम में दिखाई दे सकता है। रनीरी गुएरा ने कहा कि करीब 100 साल पहले आए स्पेनिश फ्लू की दूसरी लहर में करोड़ों लोगों की मौत हो गई थी। उनके मुताबिक स्पेनिश फ्लू भी कोविड की तरह ही बर्ताव कर रहा था। इस दौरान गर्मियों में उसका संक्रमण घट गया था। लेकिन बाद में ठंड आने पर बढ़ गया।यूरोपियन सेंट्रल बैंक के प्रमुख क्रिस्टीन लगार्डे ने भी कहा था कि अगर हमने 1918-19 के स्पेनिश फ्लू से कुछ भी सीखा है तो निश्चित तौर से कोरोना की दूसरी लहर आ सकती है।


इससे पहले कुछ स्टडी में ये बात सामने आई थी कि अधिक गर्मी में कोरोना वायरस का प्रसार धीमा हो जाता है, लेकिन ये इतना कम नहीं दिखाई दिया कि संक्रमण रुक गया हो.खासकर भारत जैसे देश में जहाँ गर्मी में तापमान 45 से लेकर 49 डिग्री तक कई इलाकों में दर्ज किया गया था। इसके बावजूद भी बढे तापमान में कोरोना का संक्रमण तथावत रहा। उधर महामारी रोग विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर को लेकर कोई तय परिभाषा नहीं है। फ़िलहाल दुनियाभर में कोरोना के 97.7 लाख मामलों की पुष्टि हो चुकी है। जबकि इससे दुनियाभर में 4.9 लाख लोगों की मौत दर्ज की गई है। जानकारों को अंदेशा है कि कई देशों में इसकी दूसरी लहर भी खतरनाक साबित हो सकती है।


घरों में प्रदान करने की सुविधा 'मुहैया' करायी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के छात्र-छात्राओं और आमजनों को एक बड़ी राहत देते हुए अब जाति और निवास प्रमाण पत्र उनके घरों में ही प्रदान करने की सुविधा मुहैया करायी है। मुख्यमंत्री श्री बघेल के निर्देश पर राज्य शासन के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जाति और निवास प्रमाण पत्र के वितरण को सरलीकरण करते हुए प्रमाण पत्रों को आवेदकों के घर पहुंच सुविधा उपलब्ध कराने का आदेश सभी जिला कलेक्टरों को जारी किया गया है। जारी आदेश के तहत जाति एवं निवास प्रमाण पत्र जारी होने के पश्चात संबंधित आवेदकों से डाक रजिस्ट्री शुल्क लेकर प्रमाण पत्र उनके घर के पते पर भेजा जाएगा। इसके लिए लोक सेवा केन्द्रों तथा तहसील कार्यालयों द्वारा आवेदकों से डाक रजिस्ट्री व्यय शुल्क लेकर और व्यय शुल्क की पावती देते हुए आवेदकों के निवास के पते पर प्रमाण पत्र भेजने की सुविधा दी जाएगी।


30 साल की महिला जांच में पुरुष निकली

मनोज सिंह ठाकुर

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसने मेडिकल साइंस को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है। यहां 30 साल की एक महिला दरअसल में जांच के बाद पुरुष निकली।

बीरभूम जिले की 30 वर्षीय एक विवाहित महिला को पेट में दर्द की शिकायत पर अस्पताल ले जाया गया, जहां जांच करने के बाद डाक्टर भी हैरान रह गए। डॉक्टरों ने जांच के बाद बताया कि जिसे लोग महिला समझ रहे थे वह वास्तव में ‘पुरुष’ है और उसके अंडकोष में कैंसर है। ये एक विशेष बीमारी से ग्रसित है जो कि सिर्फ कई हजार लोगों में से किसी एक को होती है।

दरअसल, ये महिला पिछले नौ साल से शादीशुदा है और कुछ महीने पहले पेट में दर्द की शिकायत लेकर शहर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस अस्पताल गई थी। यहां डॉक्टरों ने जब उसकी मेडिकल जांच की तो उसमें यह तथ्य सामने आया कि वह महिला असल में पुरुष है। डॉक्टरों के मुताबिक, वह देखने में महिला है। आवाज, स्तन, सामान्य जननांग इत्यादि सब कुछ महिला के हैं। मरीज एक दुर्लभ बीमारी से पीड़ित है।

जो कि 22,000 लोगों में से एक में पाई जाती है। जिसमें व्यक्ति जेनेटिकली पुरुष होता है लेकिन उसके शरीर के सभी बाह्य अंग महिला के होते हैं। 

जेल में छापे से प्रशासन में मचा हड़कंप

राम कुमार मौर्या


रुड़की। जेल में वीडियो वायरल का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। अभी जेल अधीक्षक द्वारा जांच पूरी हुई ही थी कि आईजी जेल के देर शाम जेल में छापा मारने से जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। जहां उन्हें बड़े पैमाने पर खामियां मिली। इस दौरान उन्होंने रूडकी जेलर को भी जमकर फटकार लगाई।
गौरतलब है कि 21 जून को जेल के अंदर का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमे बंदी जेल प्रशासन पर मारपीट और नशे के इंजेक्शन देने के गंभीर आरोप लगाते दिखाई दे रहे थे। इतना ही नहीं जेल प्रशासन के खिलाफ भी बंदियों ने मुर्दाबाद के नारे लगाए थे, जिसमें कुख्यात चीनू पंडित के साथ-साथ अन्य बंदी भी वीडियो में नज़र आ रहे हैं।
आई जी जेल के मीडिया में सुर्खियों में आने के बाद ज़िलाधिकारी ने आनन फानन में पूरे मामले की जांच ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामि बंसल को सौंप दी थी, जिसके चलते जेल अधीक्षक की जांच में बंदियों के बीच मारपीट का होना नहीं पाया गया था। वीडियो वायरल के बाद देर शाम आईजी जेल डॉ. पीवीके प्रसाद अचानक रूडकी जेल में पहुंच गए। जहां उन्होंने खामियां मिलने पर जेलर को भी जमकर फटकार लगाई। वहीं जेल की सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मियों और कुछ बंदियों के भी उन्होंने बयान दर्ज किए। इतना ही नहीं आईजी जेल ने जेल परिसर का बारीकी से मुआयना किया। इस दौरान आईजी जेल पीवीके प्रसाद ने बताया कि जेल में दो बंदियों के गुटों का विवाद था जिसकी जांच की जा रही है। जेल में बंद चीनू पंडित को जल्द ही दूसरी जेल में शिफ़्ट किया जाएगा।
हालांकि रूडकी जेल के बाद जेल आई जी हरिद्वार जेल का निरीक्षण करने भी पहुंचे। दरअसल रूडकी जेल के बंदियों का वीडियो वायरल होने के बाद जेल प्रशासन में लगातार हड़कंप मचा हुआ था जिसमें आई जी जेल के आने की संभावनाएं बढ़ गईं थीं।


मरीजों का आरोपः बार-बार लिया सैंपल

नई दिल्‍ली। दिल्ली के आरएमएल अस्पताल में कोविड के इलाज के लिए एडमिट कुछ मरीजों का आरोप है कि उनका बार-बार सैंपल लिया जा रहा है। मगर, हर बार रिपोर्ट में कुछ नहीं आता। इस वजह से उन्हें अस्पताल से छुट्टी भी नहीं मिल रही है। गुरुवार को योगेश शर्मा और इंस्पेक्टर जय नारायण ने यह आरोप लगाया था, अब एक और मरीज के. विजय ने ऐसा ही आरोप लगाया है।


व‍िजय का आरोप है कि वह 35 दिनों से अस्पताल में एडमिट हैं। अब तक उनका सात बार सैंपल लिया गया है। शुरू में दो सैंपल पॉजिटिव आया और उसके बाद पांच बार और सैंपल लिया गया, लेकिन हर बार उन्हें बताया जाता है कि उनकी रिपोर्ट न तो पॉजिटिव है और न ही निगेटिव। शुक्रवार को आरएमएल अस्पताल में एडमिट के. विजय ने फोन पर बताया कि वह कोविड की वजह से 21 मई को एडमिट हुए। 35 दिन हो गए और अभी तक एडमिट हैं। शुरू में फीवर और खांसी थी। अब सब ठीक है। अब तक 7 बार सैंपल लिया जा चुका
उन्होंने कहा कि अब तक 7 बार सैंपल लिया जा चुका है। पहले दो बार सैंपल पॉजिटिव आया और उसके बाद 5 बार सैंपल में कुछ नहीं आ रहा है। तीन दिन पहले भी सैंपल लिया गया था, उसमें भी कुछ नहीं आया। आज फिर सैंपल लिया गया है। उन्होंने कहा कि वह पूरी तरह से ठीक हैं। अभी सिर्फ विटामिन-सी की सुबह शाम एक-एक गोली दी जाती है। मरीजों का यह भी आरोप है कि सैंपल तुरंत लैब में नहीं पहुंचाए जाते। वह बाहर ही पड़ा रहता है। एक मरीज ने कुछ फोटो और विडियो भी शेयर किया है, जिसमें कुछ सैंपल दिख रहे हैं। हालांकि, यह पता नहीं चल रहा है कि इसमें कोविड का सैंपल है या नहीं। अस्पताल की प्रवक्ता स्मृति तिवारी ने कहा कि बाहर कोविड सैंपल नहीं है। मरीज की रिपोर्ट इनडिटरमिनेट है। इसमें जब इन्फेक्शन बॉर्डर लाइन पर होता है तो ऐसी रिपोर्ट आती है। उन्होंने कहा कि मरीज योगेश सीवियर स्थिति में एडमिट हुए थे, अभी स्टेबल हैं। रिपोर्ट निगेटिव आए बिना उन्हें कैसे छुट्टी दी जा सकती है। के. विजय के बार में भी ऐसा ही जवाब था। इंस्पेक्टर जय नारायण के बारे में प्रवक्ता ने कहा कि वह 19 जून को एडमिट हुए हैं, अभी उन्हें ठीक होने में समय लगेगा।
बिना निगेटिव रिपोर्ट के भी मिल सकती है छुट्टी

एलएनजेपी की माइक्रोबायोलॉजी की एचओडी डॉक्टर सोनल सक्सेना ने बताया कि जब कोविड की शुरुआत हुई थी, तब मरीज को छुट्टी देने से पहले दो बार निगेटिव रिपोर्ट जरूरी थी। अब ऐसा नहीं है। अब आईसीमएआर ने रूल चेंज कर दिया है। मरीज ठीक महसूस कर रहा है, क्लिनिकली फिट है तो बिना निगेटिव रिपोर्ट आए भी छुट्टी दी जा सकती है। खासकर मॉडरेट मरीजों को बिना रिपोर्ट के छुट्टी दी जा सकती है। इनडिटरमिनेट रिपोर्ट पर उनका कहना था कि इसका मतलब यह है कि मरीज में वायरस का लोड बहुत कम है। उसके अंदर डेड आरएनए हैं। जांच में ऐसा आता रहेगा। उन्होंने कहा कि जब संक्रमण बहुत पुराना होता है तो ऐसी स्थिति बनती है।


ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में किया बदलाव

ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में परिवहन मंत्रालय ने किया बड़ा बदलाव, अब कलर ब्लाइंड लोगों को भी मिलेगा लाइसेंस

नई दिल्ली। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय नेरंग नेत्रहीनता से हल्के या मध्यम स्तर पर प्रभावित लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस देने के लिए केंद्रीय मोटर वाहन नियम 1989 के फौर्म 1 तथा फौर्म 1ए में संशोधन के लिए एक अधिसूचना जारी की है। दिनांक 24 जून 2020 का जीएसआर 401 (ई) मंत्रालय द्वारा प्रकाशित एक सामाजिक तथा सुगमकारी विनियमन है।

मंत्रालय दिव्यांगजनों को परिवहन संबंधित सेवाओं, विशेष रूप से, ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने से संबंधित सेवाओं को प्राप्त करने में सक्षम बनाने के लिए कई प्रकार के कदम उठाता रहा है।

दिव्यांगजनों को ड्राइविंग लाइसेंस की प्राप्ति सुगम बनाने के संबंध में परामर्शी जारी की जा चुकी है तथा इसके अतिरिक्त मोनोकलर विजन वाले व्यक्तियों के लिए पहले भी एक परामर्शी जारी की जा चुकी है।

मंत्रालय को अभ्यावेदन प्राप्त हुआ कि रंग नेत्रहीन नागरिक ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं क्योंकि शारीरिक फिटनेस ( फॉर्म 1) या चिकित्सा प्रमाणपत्र ( फॉर्म 1ए) में इस बारे में घोषणा करने की आवश्यकता उनके लिए इसे कठिन बना देती है।

 

इस मुद्वे को चिकित्सा विशेषज्ञ के समक्ष उठाया गया तथा उनसे सलाह मांगी गई। जो अनुशंसाएं प्राप्त हुईं, उनके अनुसार रंग नेत्रहीनता से हल्के या मध्यम स्तर पर प्रभावित लोगों को ड्राइव करने की अनुमति दी जानी चाहिए और केवल बहुत अधिक रंग नेत्रहीनता वाले व्यक्तियों को ही प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। दुनिया के दूसरे देशों में भी इसे अनुमति दी गई है। तदनुरुप टिप्पणियों एवं सुझावों को आमंत्रित करने के लिए एक प्रारूप अधिसूचना जारी की गई।

जागरूकता के लिए शेयर अवश्य करें

जनोपयोगी,कानूनी,तकनीकी, सरकारी योजनाओ, आपसे सरोकार रखने वाली नौकरियों व व्यवसाय की उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने व्हाट्सएप ग्रूप में नीचे दिए नंबर को जोड़े या नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके भी आप सीधे मुझसे जुड़ सकते है।

प्रताप सिंह सुवाणा

कम पैसों में करें अपना व्यवसाय

कम पैसो में शुरू करे अपना व्यवसाय ..स्वयं के साथ अन्य को भी दे रोजगार

बहुत ही कम लागत और निवेश में शुरू किए जा सकने वाले बिज़्नेस की कड़ी में आपके लिए हम लाए है कु़छ और चुनिन्दा बिज़्नेस जिनसे आप ना केवल अपना बल्कि दूरसो को भी रोजगार दे सकते है। रिक्रूटमेंट फर्म- रिक्रूटमेंट फर्म एक बहुत अच्छा और कम निवेश में शुरू किया जाने वाला बिज़नस आइडिया है। आप इस बिज़नस को अपने निवास स्थान से ही शुरू कर सकतें है, आपको इसके लिए केवल कुछ फोन कनेक्शन की आवश्यकता होगी, जो कि आजकल बहुत ही आसानी से और ना के बराबर निवेश में उपलब्ध है।

ऑनलाइन वेबसाइट- आज के समय में वेबसाइट बनाना एक छोटा और बहुत अधिक संभावनाओं वाला बिज़नस है। इससे अच्छा खासा लाभ कमाया जा सकता है। और इसे आप अपने पास उपलब्ध सिस्टम की सहायता से बिना किसी इनवेस्टमेंट के शुरू कर सकते है।

फ्रीलांसिंग – आप अपना स्वयं का फ्रीलांसिंग का व्यापार कभी भी शुरू कर सकते है, इसके लिए आपको किसी तरह से पैसों की आवश्यकता नहीं होती। इसके लिए आपको अपना रिज्यूम किसी फ्रीलांसिंग वेबसाइट पर डालना होगा, अगर आपके पास कोई पुराना अनुभव हो, तो उसे भी आप अपने रिज्यूम में जोड़े।

पर्सनल ट्यूटर –अगर आपके पास पढ़ाने का हुनर है, तो बिना किसी निवेश के शुरू किया जाने वाला यह सबसे अच्छा बिज़नस है। इस बिज़नस में सबसे अच्छी बात यह है कि इसमे कभी मंदी नहीं आती, यह हर समय एक जैसे चलने वाला व्यापार है और आपके अनुभव बढ़ने के साथ आपके व्यापार में तरक्की होना तय है, और आगे जा कर आप कोचिंग सेंटर भी खोल सकते है।

इंटीरियर डिजाइनर –इंटीरियर डिजाइनर का व्यापार शुरू करना एक बहुत अच्छा बिज़नस आइडिया है, यह एक तरह का सर्विस प्रदान करने वाला बिज़नस है, जिसमे किसी निवेश की आवश्यकता नहीं होती। परंतु इसके लिए आपके पास एक खास ज्ञान और क्रिएटिविटी की आवश्यकता होती है।

मैच मेकिंग और वैडिंग प्लानर का व्यापार –आज कल ज़्यादातर शादी में प्रबंध के लिए मैच मेकर और वैडिंग प्लानर की आवश्यकता होती है। हालांकि हो सकता है कि इस व्यापार के लिए आपको कुछ निवेश करना पड़े, परंतु आज के समय में यह बहुत फायदे का व्यापार है।

रियल एस्टेट ब्रोकर या कंसल्टेंट का व्यापार –आप अपना स्वयं का रियल एस्टेट का व्यापार बिना किसी निवेश के शुरू कर सकते है। परंतु इसके लिए आपके पास कुछ संपत्ति खरीदने वालों और बेचने वालों के संपर्क होना आवश्यक है। आज के समय में अगर कोई व्यक्ति मकान किराए पर भी लेना चाहता है, तो उसे मध्यस्थ के रूप में रियल एस्टेट एजेंट की आवश्यकता होती है और इसमें भी आप पैसा कमा सकते है।

इन्शुरेंस कंसल्टेंट और एजेंट –आजकल कई लोगों को इन्शुरेंस से संबंधित जानकारी की आवश्यकता पढ़ती है, इसलिए यह आपके लिए व्यापार का अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। परन्तु इसके लिए आपको उचित ज्ञान और डिग्री की आवयश्यकता होगी।

सिक्योरिटी एजेंसी –आज के समय में सिक्योरिटी एजेंसी लोगों का महत्वपूर्ण मुद्दा है, लोग आज कल इसके लिए पैसे खर्च करने के लिए भी तैयार है। अगर आप यह व्यापार शुरू करना चाहते है, तो आपको इसके लिए कुछ व्यक्ति का प्रबंध करके उन्हे जरूरत की जगह सुरक्षा के लिए भेजना होगा और इसके जरिये आप मुनाफा कमा सकते है।

डांस, म्यूजिक और ड्राइंग क्लास –अगर आप इनमे से किसी चीज में पारंगत है, तो आपके लिए यह व्यापार का अच्छा विकल्प होगा। और आपके लिए यह व्यापार भी बिना किसी निवेश के उपलब्ध होगा।

कुकिंग क्लास का व्यापार –अगर आप पाक कला में माहिर है, तो कुकिंग क्लास आपके लिए अच्छा व्यापार का आइडिया है, हालांकि बड़ी-बड़ी कुकिंग क्लास में अच्छा-खासा निवेश होता है, परंतु अगर आप छोटे स्तर पर इसे शुरू करना चाहते है तो आप बिना किसी निवेश के अपनी रसोई से ही इसे शुरू कर सकते है।

फिटनेस और योगा टीचर –अगर आपको योग और फिटनेस का ज्ञान है, तो आपके लिए यह व्यापार योग्य होगा। आप चाहे तो उद्यानों या अपने घर पर ही अपनी योगा क्लासेस शुरू करके कमाई कर सकते है।

बेबी सिटिंग –आजकल कामकाजी महिलाओं की संख्या बढ़ने के कारण यह बिज़नस एक फायदे का सौदा है। इसके लिए आपको कोई निवेश की आवश्यकता नहीं है, आप इसे अपने घर से ही शुरू कर सकते है।

टिफिन सेंटर –अपने घर से अपने रोजाना के खाने के साथ अन्य व्यक्तियों के लिए कुछ एक्सट्रा खाना बनाकर आप अपना टिफिन सर्विस सेंटर व्यापार शुरू कर सकते है।

बुक बाइंडिंग का व्यापार –अगर आपको बूक बाइंडिंग करते आती है, तो यह आपके लिए एक फायदे का सौदा हो सकता है, क्योंकि यह व्यापार आप घर बैठे ही और ना के बराबर निवेश में शुरू कर सकते है।

एडवोकेट प्रताप सिंह सुवाणा

संबंधों को किस दिशा में ले जाएगा 'चीन'

नई दिल्ली/बीजिंग। भारत ने चीन को दो टूक कहा है कि ये पूरी तरह से चीन पर निर्भर है कि वो द्विपक्षीय संबंधों को किस दिशा में ले जाना चाहता है। चीन को इस पर सावधानी से विचार करना चाहिए। चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने कहा कि दोनों देशों के बीच सैन्य टकराव न हो इसका एक मात्र उपाय ये है कि चीन LAC पर नए निर्माण करना तुरंत बंद करे।


समाचार एजेंसी पीटीआई के साथ एक इंटरव्यू में विक्रम मिस्री ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि चीन इस बाबत अपने दायित्वों को समझेगा और एलएसी पर तनाव को दूर करेगा और वहां से पीछे हटने की प्रक्रिया शुरू करेगा। उन्होंने कहा कि चीन को बॉर्डर पार कर भारत की सीमा में आने और भारतीय जमीन पर निर्माण करने की अवैध हरकत को तुरंत बंद करना चाहिए।


गलवान पर दावा कर कोई फायदा नहीं


भारत के राजदूत ने गलवान घाटी पर चीन के किसी भी तरह के दावे को खारिज करते हुए कहा कि गलवान घाटी पर चीन की ओर से संप्रभुता का दावा बिल्कुल ही असमर्थनीय है और इस तरह बढ़ा चढ़ाकर दावा करने से चीन को किसी तरह का फायदा नहीं होने वाला है।


LAC पर यथास्थिति बदलने का असर द्विपक्षीय रिश्तों पर


विक्रम मिस्री ने ये साफ कर दिया कि एलएसी पर यथास्थिति बदलने की चीन की कोशिश का असर दोनों देशों के बीच के वृहद द्विपक्षीय संबंधों पर हो सकता है।


अपनी हरकतों से रिश्तों में दरार पैदा कर चुका है चीन


भारतीय राजदूत ने यह भी कहा कि भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय संबंधों में मजबूती आए, इसके लिए ये जरूरी है कि सीमा पर शांति और सौहार्द्र कायम रहे। उन्होंने कहा कि चीनी सेना की हरकतों ने द्विपक्षीय संबंधों में अच्छी खासी दरार पैदा कर दी है, अब चीनी सेना को भारत की सेना की सामान्य पेट्रोलिंग गतिविधियों के लिए बाधा बननी नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत ने हमेशा अपनी सीमा में ही किसी प्रकार की गतिविधि की है।


4,96,796 की मौतें, 53.57 लाख ठीक


  • दुनिया में अब तक 4 लाख 96 हजार 796 लोगों की मौत, जबकि 53.57 लाख ठीक हुए

  • अमेरिका में अब तक 1 लाख 27 हजार 640 लोगों की मौत, यहां 10.68 लाख ठीक हुए


वॉशिंगटन। दुनिया में कोरोनावायरस से अब तक 99 लाख 03 हजार 774 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 53 लाख 57 हजार 153 लोग ठीक हुए हैं। वहीं, 4 लाख 96 हजार 796 लोगों की मौत हो चुकी है। चीन में एक बार फिर मामले बढ़ने लगे हैं। शनिवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, 24 घंटे में यहां 21 नए मामले सामने आए। ये सभी राजधानी बीजिंग के बताए जाते हैं। दूसरी तरफ, ब्राजील में एक ही दिन में 46 हजार से ज्यादा केस सामने आए। 


चीन : स्थानीय मामले बढ़े
यहां शुक्रवार को कुल 21 नए मामलों की जानकारी दी गई है। खास बात ये है कि ये सभी मामले स्थानीय हैं। एक रिपोर्ट के मुातबिक, चीन में स्थानीय मामलों का बढ़ना इस बात की तरफ इशारा है कि यहां संक्रमण पर काबू पाने के दावे पूरी तरह सही नहीं हैं। 21 में 17 मामले राजधानी बीजिंग के हैं। हालांकि, इस दौरान किसी मौत की जानकारी सामने नहीं आई। बीजिंग के लोकल एडमिनिस्ट्रेशन ने शुक्रवार को कहा कि राजधानी के होलसेल मार्केट खोलने पर अब तक कोई विचार नहीं किया गया है।  


बीजिंग की एक लेक के किनारे मौजूद लोग। चीन में शुक्रवार को 21 नए मामले सामने आए। इनमें से 17 बीजिंग के हैं। लोकल एडमिनिस्ट्रेशन ने कहा है कि होलसेल मार्केट दोबारा खोलने पर विचार नहीं किया गया है।


ब्राजील : एक दिन में फिर सबसे ज्यादा केस
ब्राजील में शुक्रवार को 46 हजार 860 मामले सामने आए। इसी दौरान 990 लोगों की मौत हो गई। जेयर बोल्सोनोरो की सरकार पर डब्ल्यूएचओ का दबाव बढ़ रहा है। सरकार ने मास्क तो जरूरी किया लेकिन कम्युनिटी ट्रांसमिशन रोकने के उपाय नहीं किए। इस बीच, एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर ब्राजील ने जल्द ही संक्रमण रोकने के लिए सख्त कदम नहीं उठाए तो इसका देश की अर्थ व्यवस्था पर गंभीर असर हो सकता है।  


फिलिस्तीन : 207 नए मामले 
फिलिस्तिन में शनिवार को 207 नए मामले सामने आए। यहां अब कुल मामले 1795 हो गए। हेल्थ मिनिस्टर माई अल कैला ने एक बयान में कहा- पांच मार्च के बाद एक दिन में सामने आया संक्रमितों का यह सबसे बड़ा आंकड़ा है। उन्होंने कहा कि हेब्रोन जिले में सबसे ज्यादा मामले हैं। अब तक कुल 620 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, पांच की मौत हो चुकी है।


अमेरिका : 16 राज्य ज्यादा प्रभावित
अमेरिका में शुक्रवार को 40 हजार 870 नए मामले सामने आए। देश के 50 में 16 राज्यों में हालात ज्यादा खराब हैं। अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद हुए प्रदर्शनों को इसके लिए जिम्मेदार माना जा रहा है। फ्लोरिडा और टेनेसी में संक्रमण की रफ्तार बाकी राज्यों की तुलना में ज्यादा है। कोरोना टास्क फोर्स के सदस्य डॉक्टर एंथोनी फौसी ने माना है कि कुछ राज्यों में संक्रमण पर काबू पाने में ज्यादा कामयाबी नहीं मिल सकी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन पर अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। 


 टेनेसी के स्प्रिंगफील्ड में शुक्रवार को एक मरीज का टेस्ट करने के पहले डॉक्टर। अमेरिका के 16 राज्यों में संक्रमण की रफ्तार ज्यादा है। इनमें भी फ्लोरिडा और टेनेसी आगे हैं। 


सऊदी अरब : तेजी से बढ़ा संक्रमण
तमाम उपायों के बावजूद सऊदी अरब में संक्रमण फिर तेजी से फैल रहा है। सीएनएन के मुताबिक, पिछले महीने दी गई ढील के बाद राजधानी रियाद और उसके पास के इलाकों में संक्रमण तेजी से फैला है। यहां बाद में फिर पाबंदियां लगाई गईं लेकिन, तब तक नुकसान हो चुका था। पिछले 24 घंटों में 3,938 नए मामले सामने आए। कुल संख्या 1 लाख 74 हजार 577 हो गई। इसी दौरान 46 लोगों की मौत हुई। मरने वालों का कुल आंकड़ा 1474 हो गया।


ईयू : तीन देशों के यात्रियों पर रोक लगाने की तैयारी
यूरोपीय यूनियन यानी ईयू महामारी को देखते हुए अमेरिका, ब्राजील और रूस से आने वाले पैसेंजर्स पर रोक लगा सकता है। इस बारे में आखिरी फैसला 1 जुलाई को लिया जा सकता है। एक डिप्लोमैट के मुताबिक, यूरोपीय देशों में संक्रमण काबू में आ रहा है लेकिन, अमेरिका, ब्राजील और रूस में यह तेजी से फैल रहा है। शुक्रवार को एक मीटिंग में फैसला किया गया है कि 18 देशों से आने वाले पैसेंजर्स पर कोई रोक नहीं होगी। चीन से लोग आ सकेंगे लेकिन, उनकी पूरी जांच की जाएगी।  


दिल्ली में संक्रमण के साथ रिकवरी रेट बड़ा


  • मई में दिल्ली में कोरोना से 473 मौतें हुई थीं, लेकिन 15 जून तक कुल 1400 लोग इस संक्रमण के चलते मारे गए हैं, जून में ही 50 हजार मरीज बढ़े

  • मरीजों का रिकवरी रेट भी 41% से बढ़कर 58% पर आया, मरीजों की वृद्धि दर भी 5.8 फीसदी से घटकर 4.9 फीसदी हो गई


नई दिल्ली। दिल्ली और मुंबई के बीच कोरोना के बढ़ते आंकड़ों की ऐसी रेस चल रही है जिसे कोई भी जीतना नहीं चाहेगा। यही दो महानगर हैं जो कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। देश भर में कोरोना के जो कुल मामले सामने आए हैं, उनमें से लगभग 30 प्रतिशत सिर्फ इन दो शहरों से ही हैं।


दिल्ली में कोरोना का पहला मामला 2 मार्च को सामने आया था। वहीं, मुंबई में पहला मामला इसके 9 दिन बाद दर्ज किया गया, लेकिन फिर यह संक्रमण बेहद तेजी से फैला। स्थिति यह बन पड़ी कि मई के आखिर तक मुंबई में कुल 39,686 मामले दर्ज हो चुके थे। जबकि इस वक्त तक दिल्ली में संक्रमितों की कुल संख्या 19,844 थी। यानी मुंबई की तुलना में लगभग आधी। यह वो समय था जब तक देशभर में लॉकडाउन का सख्ती से पालन हो रहा था। लेकिन, जून आते-आते लॉकडाउन में ढील दिए जाने की आवाजें तेज होने लगी थीं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इनमें मुख्य थे जो लॉकडाउन को खत्म करने की जोर-शोर से पैरवी कर रहे थे। लेकिन लॉकडाउन का हटना सबसे घातक दिल्ली के लिए ही साबित हुआ है। 26 जून तक दिल्ली में कुल 2 हजार 429 लोग कोरोना के चलते अपनी जान गंवा चुके हैं।


आरजेडी को लगा एक और तगड़ा झटका

आराह। अभी-अभी बड़ी खबर आ रही है। खबर सियासी गलियारे से हैं। आरजेडी को एक और तगड़ा झटका लगा है। पार्टी के एक प्रदेश उपाध्यक्ष ने पद से इस्तीफा दे दिया है। पांच विधान पार्षदों के पार्टी  छोड़ कर जेडीयू में शामिल होने और पार्टी उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह के पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देने के बाद पार्टी को एक और बड़ा झटका लगा है। राजद के प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व विधायक विजेंद्र यादव ने पद और पूर्ण रूप से पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। विजेंद्र यादव लालू यादव के काफी करीबी माने जाने वाले नेताओं में शुमार हैं।विजेन्द्र य़ादव के इस्तीफे से भोजपुर में आरजेडी को तगड़ा झटका लगा है। भोजपुर इलाके में वे राजद के कद्दावर नेता के तौर पर जाने जाते हैं। बताया जा रहा है कि विजेन्द्र यादव पार्टी से काफी दिनों से नाराज चल रहे थे। बता दें कि कुछ दिनों पहले ही आरजेडी को दोहरा झटका लगा था। राजद के पांच विधान पार्षद पार्टी छोड़कर जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) में शामिल हो गए वहीं, राजद के उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया था । एमएलसी संजय प्रसाद, कमरे आलम, राधाचरण सेठ, रणविजय सिंह और दिलीप राय आरजेडी छोड़ कर जेडीयू में शामिल हो गये थे।


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...