शनिवार, 12 मार्च 2022

विधानसभा की 4 सीटों के लिए 'उपचुनाव' का ऐलान

विधानसभा की 4 सीटों के लिए 'उपचुनाव' का ऐलान    

अकांशु उपाध्याय        

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने लोकसभा की एक और विधानसभा की चार सीटों के लिए 12 अप्रैल को उपचुनाव का ऐलान किया है। चुनाव आयोग ने शनिवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति जारी कर पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट के अलावा पश्चिम बंगाल के बालीगंज, छत्तीसगढ़ की खैरागढ़, महाराष्ट्र की कोल्हापुर उत्तर और बिहार की बोचाहन सीट पर उपचुनाव की घोषणा की।

इन सीटों पर होने वाले चुनाव की अधिसूचना 17 मार्च को जारी होगी और नामांकन भरने की अंतिम तारीख 24 मार्च है। 25 मार्च को नामांकन पत्रों की जांच होगी जबकि नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 28 मार्च है। इन सीटों पर चुनाव की मतगणना 16 अप्रैल को होगी। उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व सांसद और केंद्रीय मंत्री रहे बाबुल सुप्रियो के इस्तीफे की वजह से खाली हुई है। उन्होंने भाजपा को छोड़कर तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया था।

मेधावी छात्रों को अतिथियों द्वारा सम्मानित किया

मेधावी छात्रों को अतिथियों द्वारा सम्मानित किया    

अश्वनी उपाध्याय       

गाजियाबाद। दिल्ली पब्लिक स्कूल गाजियाबाद, मेरठ रोड में 12 मार्च, 2022 को विद्यार्थियों की अकादमिक उत्कृष्टता को स्वीकृत व सम्मानित करने के उद्देश्य से, शैक्षणिक सत्र 2020 -21 के लिए वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित किया गया था। आशा शर्मा, महापौर गाजियाबाद- मुख्य अतिथि और रोहित पाठक, निदेशक- एचआर- डीपीएसजी सोसायटी विशिष्ट अतिथि थे। कार्यक्रम का प्रारम्भ दीप प्रज्वलित कर गणेश वंदना से किया गया। तत्पश्चात, केवीपीवाई और एनटीएसई स्कालर्स के साथ मेधावी छात्रों को गणमान्य अतिथियों द्वारा सम्मानित किया गया। प्रधानाचार्या संगीता मुखर्जी रॉय ने गर्वित विजेताओं को बधाई देते हुए कहा कि विद्यालय विद्यार्थियों को जीवन में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए पोषित करता है और बेहतर इंसान बनाने में अपनी प्रमुख भूमिका निभाता है।

मुख्य अतिथि ने अभिभावकों को उनके बच्चों के उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए बधाई दी और कहा कि विद्यालय को विद्यार्थियों में भारतीय संस्कृति और परिवार प्रणाली के पारंपरिक मूल्यों को विकसित करना चाहिए। इस अवसर पर रोहित पाठक ने कहा कि राजनीति और अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में देश को मजबूत बनाने के लिए छात्र ब्रिगेड को तैयार रहना चाहिए। कार्यक्रम का समापन राष्ट्र गान के साथ हुआ।

यूपी: 'होली' पर्व की कुशलता को लेकर बैठक संपन्न

यूपी: 'होली' पर्व की कुशलता को लेकर बैठक संपन्न     

गणेश साहू         
कौशाम्बी। आगामी होली के त्यौहार की कुशलता को लेकर क्षेत्र के गणमान्य संभ्रांत लोगों की एक बैठक चरवा थाने में शनिवार को संपन्न हुई है। पीस कमेटी की बैठक में उपस्थित क्षेत्र के संभ्रांत गणमान्य लोगों से थानेदार संतोष शर्मा ने कहा कि होली का त्यौहार और होलिका दहन परंपरागत तरीके से मनाया जाएगा‌। नई व्यवस्था नहीं कायम की जाएंगी। उन्होंने कहा कि शांति पूर्वक हर्ष उल्लास के साथ होली के त्योहार सभी लोग मनाए और त्यौहार का आनंद लें। उन्होंने उपस्थित लोगों से कहा कि होली के त्यौहार के दौरान अराजकता और खुशी के इस त्यौहार में खलल डालने का प्रयास करने वालों को चिन्हित करने में सहयोग करें। 
उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि यदि होली के पर्व पर किसी ने अराजकता फैलाने या खलल डालने का प्रयास किया तो अराजक तत्वों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। जिससे इलाके के लोग परंपरागत तरीके से शांतिपूर्वक अमन-चैन के साथ होलिका दहन करें और रंगो के इस पर्व की खुशियां मनाएं उन्होंने कहा कि बेवजह के विवाद से बचें और शराब पीकर सार्वजनिक स्थल पर उपद्रव करने वाले लोगो को थानेदार ने चेतावनी देते हुए सावधान रहने की नसीहत दी है।
होली पर्व को लेकर आयोजित पीस कमेटी की बैठक में चरवा पावर हाउस जेई बलवंत राम भारतीय, लोकीपुर पॉवर हाउस जेई रामबहादुर भारतीय, नायब तहसीलदार मोवीन अहमद और क्षेत्र के सभी लेखपाल उपस्थित रहे।नगर पंचायत चरवा को थाने में आयोजित पीस कमेटी की बैठक के विषय में सूचित किया गया‌। किंतु नगर पंचायत चरवा से कोई भी मीटिंग में नहीं आए।
चरवा थाना क्षेत्र के तमाम ग्राम प्रधान पति आशीष कुमार पाण्डे समसपुर, पन्नोई ग्राम प्रधान विनोद कुमार, सैय्यद सरावा मो असद, बली पुर टाटा ग्राम प्रधान पति वीरेंद्र कुमार,पंसौर ग्राम प्रधान गुड्डू, मलाक नागर ग्राम प्रधान लालता प्रसाद,आदि ग्राम प्रधान उपस्थित रहे।

परिवहन मंत्री ने 'बस स्टैंड' का औचक निरीक्षण किया

परिवहन मंत्री ने 'बस स्टैंड' का औचक निरीक्षण किया      

राणा ओबरॉय       

चंडीगढ़। पंजाब में आप की जीत का असर हरियाणा पर भी दिखना शुरू हो गया है। हरियाणा की भाजपा सरकार के मंत्री भी अब एक्शन मोड में दिखाई दे रहे हैं। शनिवार को प्रदेश के परिवहन मंत्री पंडित मूलचंद शर्मा ने 'सोहाना बस स्टैंड' का औचक निरीक्षण किया। मंत्री के अचानक बस अड्डा पर पहुंचने पर कर्मचारियों में अफरा तफरी मच गई। मंत्री ने बस स्टैंड पर कर्मचारियों की हाजिरी चैक की तो सोहाना बस स्टैंड का स्टेशन सुपर वाइजर और एक सब इंस्पेक्टर मिले गैर हाजिर मिले। 

इस पर परिवहन मंत्री ने खुद रजिस्टर में उनकी गैर हाजिरी भरी। मंत्री ने बस स्टैंड पर मौजूद एक यात्री से पूछा कि आपने कहां जाना है। इस पर यात्री ने कहा कि नूंह की बस का इंतजार कर रहा है। मंत्री ने कर्मचारी को बुलाकर पूछा कि नूंह की बस का समय कितने बजे का है। तब कर्मचारी ने बताया कि 11 बजे का है। मंत्री ने कहा कि एक घंटे की देरी के बाद भी बस नहीं आई। इस पर मंत्री ने कहा कि जांच करके रिपोर्ट दें कि एक घंटे की देरी के बाद भी बस क्यों नहीं आई। मंत्री ने कर्मचारी को लताड़ लगाते हुए कहा कि 70 हजार रुपए तनख्वाह ले रहे हैं‌।

पीएम ने महिलाओं की संख्या पर संतोष व्यक्त किया

पीएम ने महिलाओं की संख्या पर संतोष व्यक्त किया    

इकबाल अंसारी       
अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोक मानस में पुलिस और सुरक्षाकर्मियों की छवि में सुधारने की आवश्यकता पर बल देते हुए शनिवार को कहा कि वर्दी से अब लोगों को डर नहीं सुरक्षा का आश्वासन मिलता है। प्रधानमंत्री ने सुरक्षा के क्षेत्र में लड़कियों और महिलाओं की बढ़ती संख्या पर संतोष व्यक्त किया। नरेन्द्र मोदी ने अहमदाबाद में राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय का एक भवन राष्ट्र को समर्पित करने के बाद संस्थान में पहला दीक्षांत भाषण दिया। इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री अमित शाह, गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल उपस्थित थे।
प्रधानमंत्री ने पुलिस और सुरक्षाकर्मियों की छवि बदलने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि भारत में लोकप्रिय संस्कृति में भी पुलिस का चित्रण जिस तरह से किया जाता है वह उसकी क्षवि के संबंध में मददगार नहीं है। श्री मोदी ने कहा कहा, “स्वतंत्रता के बाद, देश के सुरक्षा तंत्र में सुधार की आवश्यकता थी। एक धारणा विकसित की गई थी कि हमें वर्दीधारी कर्मियों से सावधान रहना होगा, लेकिन अब यह बदल गया है। जब लोग अब वर्दीधारी कर्मियों को देखते हैं, तो उन्हें मदद का आश्वासन मिलता है।” उन्होंने इसी संदर्भ में कोविड-19 महामारी के दौरान पुलिस कर्मियों द्वारा किए गए मानवीय कार्यों के बारे में चर्चा की।
नरेंद्र मोदी ने इस अवसर पर कहा, “देश के सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए तनाव मुक्त प्रशिक्षण गतिविधियां समय की आवश्यकता है।” प्रधानमंत्री ने पुलिस कर्मियों के लिए नौकरी के तनाव से निपटने में संयुक्त परिवार के घटते समर्थन के बारे में भी चर्चा की। उन्होंने बलों में योग विशेषज्ञों सहित तनाव से निपटने के लिए विशेषज्ञों और विश्राम की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा, "देश के सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए तनाव मुक्त प्रशिक्षण गतिविधियां समय की आवश्यकता है।” 
प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम के प्रारंभ में महात्मा गांधी और दांडी मार्च में भाग लेने वालों को श्रद्धांजलि दी। आज ही के दिन महान मार्च की शुरुआत की गई थी। प्रधानमंत्री ने कहा, “अंग्रेजों के अन्याय के खिलाफ गांधी जी के नेतृत्व में जो आंदोलन चला, उसने अंग्रेजी हुकूमत को हम भारतीयों के सामूहिक सामर्थ्य का एहसास करा दिया था।” श्री मोदी ने कहा कि औपनिवेशिक काल के दौरान आंतरिक सुरक्षा की धारणा औपनिवेशिक शासकों के लिए शांति बनाए रखने के लिए जनता में भय पैदा करने पर आधारित थी।
उन्होंने यह भी कहा कि आज की पुलिसिंग के लिए बातचीत और अन्य सॉफ्ट स्किल्स जैसे कौशल की आवश्यकता होती है जो लोकतांत्रिक परिदृश्य में कार्य करने के लिए आवश्यक हैं।
उन्होंने सुरक्षा और पुलिसिंग कार्य में प्रौद्योगिकी के महत्व पर बल देते हुए कहा अगर अपराधी तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उन्हें भी पकड़ने के लिए तकनीक का इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी पर जोर देने से दिव्यांग लोग भी इस क्षेत्र में योगदान करने में सक्षम होंगे।
उन्होंने सुरक्षा के क्षेत्र में लड़कियों और महिलाओं की बढ़ती संख्या पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “हम रक्षा क्षेत्र में महिलाओं की अधिक भागीदारी देख रहे हैं। विज्ञान हो, शिक्षा हो या सुरक्षा, महिलाएं आगे बढ़कर नेतृत्व कर रही हैं।”
नरेंद्र मोदी ने कहा कि गांधीनगर क्षेत्र में राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, रक्षा विश्वविद्यालय और फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय हैं। उन्होंने इन संबंधित क्षेत्रों में समग्र शिक्षा कायम करने को लेकर नियमित संयुक्त संगोष्ठियों के माध्यम से इन संस्थानों के बीच तालमेल की आवश्यकता पर बल दिया।
उन्होंने कहा, “इसे पुलिस यूनिवर्सिटी मानने की गलती कभी न करें। यह एक रक्षा विश्वविद्यालय है जो देश की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखता है।” उन्होंने भीड़ और भीड़ मनोविज्ञान, वार्ता, पोषण और प्रौद्योगिकी जैसे विषयों के महत्व को दोहराया।
राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (आरआरयू) की स्थापना पुलिस, अपराध संबंधी न्याय और सुधारात्मक प्रशासन के विभिन्न अंगों में उच्च गुणवत्ता वाले प्रशिक्षित मानव शक्ति की आवश्यकता को पूरा करने के लिए की गई थी। सरकार ने 2010 में गुजरात सरकार द्वारा स्थापित रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय को उन्नत करके राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय नाम से एक राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय की स्थापना की है। अक्टूबर, 2020 से इसका संचालन शुरू किया गया। यहां पुलिस विज्ञान और प्रबंधन, आपराधिक कानून और न्याय, साइबर मनोविज्ञान, सूचना प्रौद्योगिकी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और साइबर सुरक्षा, अपराध जांच, रणनीतिक भाषाओं, आंतरिक रक्षा और रणनीति, शारीरिक शिक्षा और खेल, तटीय और समुद्री सुरक्षा जैसे पुलिस और आंतरिक सुरक्षा के विभिन्न क्षेत्रों में डिप्लोमा से डॉक्टरेट स्तर तक शैक्षणिक पाठ्यक्रम प्रस्तुत करता है।
वर्तमान में इन कार्यक्रमों में 18 राज्यों के 822 छात्र नामांकित हैं।

ध्रुवीकरण के नाम पर भाषण देकर भाजपा की जीत

ध्रुवीकरण के नाम पर भाषण देकर भाजपा की जीत  

नरेश राघानी        

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को तंज कसते हुए कहा कि हिन्दुत्व और ध्रुवीकरण के नाम पर चतुराई से भाषण देकर भाजपा ने विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की है। गहलोत ने कहा, सबको मालूम है कि देश में, उत्तर प्रदेश में कोरोना प्रबंधन कैसा रहा। जन-जन को मालूम है, लेकिन ये सभी बातें पीछे छूट गयी हैं क्योंकि आप (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) चतुराई से अपनी बातें रखते हैं और पूरा मीडिया उसमें आपका साथ देता है।
प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि, प्रधानमंत्री चतुराई से भाषण देते हैं और लोगों को लगता है कि चूंकि प्रधानमंत्री बोल रहे हैं, तो सबकुछ सच ही होगा। दांडी मार्च की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित ‘शांति यात्रा’ में हिस्सा लेने के बाद गहलोत ने कहा कि, प्रधानमंत्री विपक्ष पर आरोप लगाते हैं कि वह एजेंसियों (जांच एजेंसियों) को बदनाम कर रही है। जबकि पूरा देश देख रहा है कि क्या चल रहा है।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,614 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,614 नए मामलें  

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। कोविड-19 देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3,614 नए मामलें सामने आए हैं। एक्टिव केस 40 हजार के करीब है। भारत में वर्तमान में एक्टिव केस 40,559 है। राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक 179.91 करोड़ टीके की खुराक दी जा चुकी है। 

रिकवरी रेट वर्तमान में 98.71% है। पिछले 24 घंटों में कोरोना से 5,185 लोग ठीक हुए हैं‌। इसके साथ ही ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 4,24,31,513 हो गई है। डेली पॉजिटिविटी रेट 0.44% है। विकली पॉजिटिविटी रेट 0.52% है। अब तक कुल 77.77 करोड़ कोरोना टेस्टिंग हुई है।

एग्जीक्यूटिव ट्रेनी के पदों पर भर्ती, आवेदन प्रारंभ

एग्जीक्यूटिव ट्रेनी के पदों पर भर्ती, आवेदन प्रारंभ    

अकांशु उपाध्याय      
नई दिल्ली। अगर आप सरकारी नौकरी की तलाश में हैं तो यह आपके लिए बहुत अच्छी खबर हो सकती है। दरअसल, एनएमडीसी लिमिटेड ने एग्जीक्यूटिव ट्रेनी के पदों पर भर्ती निकाली हैं। इस भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और आवेदन की अंतिम तिथि 25 मार्च है। योग्य अभ्यर्थी एनएमडीसी की आधिकारिक वेबसाइट www.nmdc.co.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। इन पदों पर आवेदन के लिए कुल 29 पदों पर आवेदन निकाली गई है। इस पद के लिए उम्मीदवारों की शैक्षणिक योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से संबंधित में स्नातक और पीजी डिग्री या पीजी डिप्लोमा या एमबीए होनी चाहिए। इस पद के लिए चयन प्रक्रिया में यूजीसी- नेट दिसंबर 2022 और जून 2022 क्यूल स्कोर, जीडी के आधार पर किया जाएगा।
इस पद के लिए चयनित उम्मीदवारों को मासिक वेतन 50,000 रुपये से 1,80,000 रुपये तक दिया जाएगा।
उम्मीदवारों को इस पद की भर्ती के लिए 500 रुपए का आवेदन शुल्क देना होगा। हालांकि, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / पीडब्ल्यूडी / भूतपूर्व सैनिक श्रेणियों और अन्य के उम्मीदवारों को आवेदन के शुल्क का भुगतान करने में छूट दी जाएगी।
नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएमडीसी) के इस भर्ती अभियान में कुल 29 रिक्तियों को भरा जाना है जिसमें 13 पद अनारक्षित वर्ग के लिए, 6 ओबीसी और 4 एससी व 2 एससी के लिए हैं।
इन पदों पर आवेदन करने के लिए इच्छुक उम्मीदवारों को एक ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भरना होगा। आवेदन करने के लिए उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट www.nmdc.co.in पर जा कर आवेदन कर सकते है। इसके बाद करियर ऑप्शन को चुनना होगा। फिर उन्हें कार्यकारी प्रशिक्षु नौकरी रिक्तियों के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर उम्मीदवारों को जरूर क्लिक करना होगा। इसके बाद उम्मीदवार जानकारी की जांच करने के बाद ही ऑनलाइन आवेदन करने का विकल्प चुनें। आवेदन पत्र को उम्मीदवार ध्यान से भरें और आवश्यक दस्तावेज अपलोड करे। जिसके बाद आवेदन शुल्क का भुगतान करें और ऑनलाइन फॉर्म भरें और उपयोगानुसार दस्तावेज़ को डाउनलोड और प्रिंट करें।

वेस्टइंडीज़ के खिलाफ मुकाबले में 2 शतक जड़े

वेस्टइंडीज़ के खिलाफ मुकाबले में 2 शतक जड़े    

मोमीन मलिक 

नई दिल्ली। महिला वर्ल्डकप में टीम इंडिया की ओर से इतिहास रचा गया है। वेस्टइंडीज़ के खिलाफ खेले गए मुकाबले में शनिवार को भारत की ओर से दो शतक जड़े गए हैं‌। स्मृति मंधाना के अलावा हरमनप्रीत कौर  ने इस मैच में सेंचुरी जड़ी और कमाल कर दिया‌। वर्ल्डकप से पहले दोनों की फॉर्म को लेकर सवाल खड़े हो रहे थे, लेकिन अब जब सबसे बड़ा चैलेंज आया तो टीम की सीनियर्स प्लेयर्स ने ये धमाका किया है। इस मुकाबले में भारत ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया। इस मुकाबले में भी शेफाली वर्मा को नहीं खिलाया गया था, लेकिन स्मृति मंधाना और यास्तिका भाटिया की जोड़ी ने बेहतर शुरुआत दिलवाई‌। दोनों के बीच 49 रनों की साझेदारी हुई, जिसके बाद स्मृति मंधाना ने एक छोर संभाले रखा‌।

मंधाना ने अपने ही अंदाज में बल्लेबाजी की और 119 बॉल में 123 रन बना दिए। स्मृति ने अपनी पारी में 13 चौके, 2 छक्के लगाए। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 100 से ऊपर ही रहा। इस वर्ल्डकप में स्मृति शानदार फॉर्म में दिख रही हैं। तीसरे मैच में ये उनका पहला शतक है, जबकि वह एक अर्धशतक भी जमा चुकी हैं‌।स्मृति मंधाना के वनडे करियर की यह पांचवीं सेंचुरी है।

7,700 से अधिक बार शेयर, पायलट का वीडियो

7,700 से अधिक बार शेयर, पायलट का वीडियो     

अखिलेश पांडेय       
कीव/मास्को। यूक्रेन के सुरक्षा बल ने अपने वेरिफाइड फेसबुक अकाउंट से एक तस्वीर पोस्ट की है। इस तस्वीर में एक फाइटर पायलट को दिखाया गया है। इस तस्वीर का कैप्शन है- 'हेलो, रूसी खलनायकों, मैं तुम्हारी आत्मा के लिए आ रहा हूं। कीव का पिशाच। यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। एक ही दिन में इस तस्वीर को एक फेसबुक पेज पर 7,700 से अधिक बार शेयर किया गया है।
असल में यूक्रेन में इस तरह की चर्चा चल रही है कि कीव का गोस्ट नाम के एक फाइटर पायलट ने 10 रूसी फाइटर जेट्स को मार गिराया है। हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं हुई है और कई लोग इसे काल्पनिक कहानी भी कह रहे है। लेकिन इसी बीच यूक्रेन के सुरक्षा बल ने जब यह तस्वीर पोस्ट की तो फिर से यूक्रेन के 'पिशाच' की चर्चा होने लगी। अब तक रूस के आक्रमण का मजबूती से सामना कर रही यूक्रेन की सेना और आम लोगों के लिए यह 'पिशाच' साहस का प्रतीक भी बन गया है। यूक्रेन की पूरी वायु सेना के लिए भी इस प्रतीक का इस्तेमाल किया जा रहा है।हालांकि, यूक्रेन के सुरक्षा बल ने जो तस्वीर पोस्ट की है उसमें पायलट का नाम या पहचान जाहिर नहीं की गई है। इसमें एक पायलट ऑक्सीजन मास्क लगाए हुए, डार्क वाइजर के साथ कॉकपिट में नजर आता है। वह एमआईजी-29 जेट में बैठा मालूम पड़ता है।
यूक्रेन दावा करता रहा है कि उसने रूस के कई एयरक्राफ्ट को मार गिराया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू होने के वक्त रूस के पास करीब 1200 लड़ाकू जहाज थे। वहीं, यूक्रेन के पास सिर्फ 124 फाइटर एयरक्राफ्ट थे।

भाजपा ने चुनाव जीतने के बाद ब्याज में कटौती की

भाजपा ने चुनाव जीतने के बाद ब्याज में कटौती की

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार विधानसभा में चुनाव जीतने के बाद मनमानी पर उतर आई है और वह उल्टे सीधे फैसले ले रही है। कांग्रेस प्रमुख संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कुछ अखबारों में छपी खबरों का हवाला देते हुए कहा कि भाजपा ने विधानसभा के चुनाव जीतने के बाद पीएफ पर ब्याज में कटौती कर दी है और ब्याज दर 10 वर्ष के निकले स्तर पर पहुंचा दी है।
इसी तरह से लखीमपुर खीरी की घटना के गवाह को धमकाया जा रहा है। उन्होंने ट्वीट किया , “ क्या यू.पी में चुनावी जीत का मतलब ये है कि लखीमपुर खीरी नरसंहार के मुख्य गवाह सरदार दिलजोत सिंह को पीट कर और जान से मारने की धमकी दे चुप कर दिया जाएगा। योगी सरकार को जनमत मिला है, ये सच है, लेकिन अपराधियों को गवाह को पीटने-मारने का हक़ नहीं मिला। न्याय की पुकार रहेगी।” श्री सुरजेवाला ने कहा , “ देश के 84 प्रतिशत लोगों की आमदनी घट चुकी है।क्या चुनावी जीत के आधार पर करोड़ों कर्मचारियों की बचत पर धावा बोलना सही है। ईपीएफओ ने पीएफ जमा पर मिलने वाली ब्याज़ दरों में कटौती करते हुए इसे दस साल के सबसे निचले स्तर पर पहुँचा दिया है। क्या यही भाजपा की जीत का ‘रिटर्न गिफ़्ट’ है।

पीएफ पर मिलने वाले ब्‍याज की दर 8.1 फीसदी की

पीएफ पर मिलने वाले ब्‍याज की दर 8.1 फीसदी की 

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। पांच राज्‍यों में विधानसभा चुनाव के बाद और होली से ठीक पहले केंद्रीय भविष्‍य निधि संगठन ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पीएफ पर मिलने वाले ब्‍याज की दर को घटाकर 8.1 फीसदी कर दिया है। ईपीएफओ बोर्ड के फैसले पर वित्त मंत्रालय की मुहर लगने के बाद इसे अमल में लाया जाएगा। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए पीएफ पर मिलने वाली ब्‍याज दर 8.5 फीसदी थी। विशेषज्ञों के मुताबिक ईपीएफओ द्वारा पीएफ की दर में 0.40 फीसदी की कटौती काफी बड़ी कटौती है, क्‍योंकि सामान्‍यत: ब्‍याज दर में चौथाई फीसदी तक की ही कटौती या बढ़ोतरी की जाती है।

ब्‍याज दर में कटौती का फैसला गुवाहाटी में ईपीएफओ सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज की दो दिवसीय बैठक में लिया गया है। ईपीएफओ के फैसले से करीब 7 करोड़ ईपीएफ अंशधारकों को नुकसान उठाना पड़ेगा। मौजूदा बाजार की स्थिति और रूस-यूक्रेन क्राइसिस को देखते हुए यह माना जा रहा था कि इंट्रेस्ट रेट में कटौती की जा सकती है, पर इतनी बड़ी कटौती की उम्‍मीद नहीं थी। बता दें‍ कि पिछले दो सालों से ब्‍याज दर में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया था। हालांकि, चालू वित्त वर्ष में इसें 40 बेसिस प्वाइंट्स से घटा दिया गया है।

39 वर्षीय शख्स को रेप-ट्रिपल मर्डर केस में उम्रकैद

39 वर्षीय शख्स को रेप-ट्रिपल मर्डर केस में उम्रकैद   

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। एक प्रेग्नेंट महिला से रेप और फिर गला घोंटकर उसकी हत्या एवं 2 और हत्या करने वाले शख्स को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई। शख्स को कुल तीन हत्याओं के केस में दोषी पाया गया। जिसके बाद कोर्ट द्वारा उसे ये सजा दी गई। शख्स ने तीनों मर्डर 6 दिनों के अंदर किए थे। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, ये मामला ब्रिटेन के वेस्ट मिडलन्डस का है, जहां 39 वर्षीय एंथनी रसेल को रेप और ट्रिपल मर्डर केस में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। रसेल को जूली विलियम्स (58), उनके बेटे डेविड विलियम्स (31) और एक महिला निकोल मैकग्रेगर (31) की हत्याओं के लिए दोषी ठहराया गया। सुनवाई के दौरान एंथनी रसेल को साल 2020 में निकोल मैकग्रेगर के साथ रेप करने का भी दोषी पाया गया। निकोल उस समय 5 महीने की प्रेग्नेंट थी। रेप के बाद रसेल ने निकोल की गला घोंटकर हत्या कर दी थी। सजा सुनाते हुए जज ने कहा कि ये "असाधारण गंभीर" मामला है। तीन हत्याएं हुईं, जो बेहद क्रूर थीं।
हाल ही में कोर्ट में सुनवाई के दौरान बताया गया कि जूली विलियम्स ने 23 अक्टूबर 2020 को अपने बेटे डेविड की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके दो दिन बाद जूली की गुमशुदगी की सूचना उसकी बहन ने पुलिस को दी। यानि जूली और डेविड दोनों गायब हो गए। बाद में पुलिस को जूली की लाश मिली। उसके शरीर में 100 ज्यादा चोट के निशान थे। इसके बाद पुलिस को डेविड की भी लाश बरामद हुई।
इस घटना के बाद लूट की वारदात को अंजाम देने के बाद एंथनी रसेल शहर से भाग गया। लेमिंगटन शहर पहुंचने के कुछ घंटों बाद उसने निकोल मैकग्रेगर के साथ रेप किया और फिर उसकी हत्या कर दी। कुछ दिनों बाद निकोल की लाश घने जंगलों में पाई गई। उसके शरीर पर चोट के कई निशान थे। ये सब वारदातें एक हफ्ते से भी कम समय में हुई थीं।
तीनों हत्या के मोटिव को लेकर पुलिस का कहना है कि एंथनी रसेल को गलतफहमी थी कि डेविड का उसकी गर्लफ्रेंड से अफेयर था। इसलिए उसने डेविड की हत्या कर दी। लेकिन जब उसकी मां पुलिस तक पहुंची तो रसेल ने डेविड की मां जूली की भी हत्या कर दी। रसेल ने निकोल की हत्या क्यों की इसके पीछे तर्क दिया कि उसने रेप की करतूत को छिपाने के लिए ऐसा किया।

कांग्रेसी नेता अधीर ने सीएम ममता को पागल बताया

कांग्रेसी नेता अधीर ने सीएम ममता को पागल बताया  

मिनाक्षी लोढी       
कोलकाता। कांग्रेसी नेता अधीर रंजन चौधरी ने पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी को पागल बताया। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस की वजह से ममता है। गोवा में भाजपा को खुश करने के लिए उसने कांग्रेस को हरा दिया। अधीर रंजन ने कहा कि ममता बनर्जी से कहा कि आप कांग्रेस के खिलाफ टिप्पणी क्यों कर रहे हैं? अगर कांग्रेस नहीं होती तो ममता बनर्जी जैसे लोग पैदा नहीं होते। उन्‍हें यह याद रखना चाहिए। वे भाजपा को खुश करने के लिए गोवा गई। उन्होंने कांग्रेस को हरा दिया। आपने गोवा में कांग्रेस को कमजोर किया, यह सब जानते हैं।
कांग्रेस नेता ने कहा कि पागल व्यक्ति को जवाब देना सही नहीं है। पूरे भारत में कांग्रेस के 700 विधायक हैं। दीदी के पास हैं? कांग्रेस के पास विपक्ष के कुल वोट शेयर का 20% है। क्या उनके पास है?
अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि वे (ममता बनर्जी) भाजपा को खुश करने और भाजपा के एजेंट के रूप में काम करने के लिए ऐसा कह रही हैं। प्रासंगिक बने रहने के लिए वह इस तरह की बातें कहती हैं।
जानकारी हो कि पांच राज्‍यों में चुनाव का परिणाम आने के बाद ममता बनर्जी ने एक बयान दिया था। उन्‍होंने कहा था कि सभी राजनीतिक दल जो भाजपा से लड़ना चाहते हैं, उन्हें साथ चलना चाहिए। कांग्रेस अपनी विश्वसनीयता खो रही है। हम कांग्रेस पर निर्भर नहीं रह सकते हैं।

अभिनेत्री श्वेता ने मीडिया पर अपनी फोटो शेयर की

अभिनेत्री श्वेता ने मीडिया पर अपनी फोटो शेयर की  

कविता गर्ग     

मुंबई। टीवी की पॉपुलर एक्ट्रेस श्वेता तिवारी हमेशा की तरह इस बार भी फैन्स का दिल जीतती नजर आईं‌। जबसे एक्ट्रेस ने वेट लूज किया है। सोशल मीडिया पर इनकी केवल तारीफ ही हो रही है। टोन्ड बॉडी और फिटनेस के जरिए श्वेता तिवारी हर किसी को अपने लुक्स से 'घायल' कर रही हैं‌। एक बार फिर श्वेता तिवारी ने लोगों को अपना दीवाना बना लिया है। दरअसल, श्वेता तिवारी ने खुद की एक फोटो शेयर की है। जिसमें वह ब्लैक लेदर स्कर्ट, फिटेड हॉल्टर टॉप और हाई हील्स पहने दिखीं। 

इस फोटो में इनकी फिटनेस काबिले-तारीफ नजर आई। इस फोटो को देखकर फैन्स इनके एक बार फिर दीवाने हो गए हैं‌। बेटी पलक तिवारी  को भी इनका अंदाज काफी पसंद आया है। मां को 'क्वीन' बताकर पलक ने कॉमेंट किया है। ऐश्ली रेबेलो ने क्लिक की हुई है। न्यूड मेकअप, ब्लू आई शैडो के साथ चंकी नेक एक्सेसरीज पहनी हुई है। हाथ में ब्रेस्लेट और एक हाथ में गोल्ड की रिंग पहनी है। थाई हाई स्लिट में श्वेता वाकई में बेहद खूबसूरत और फिट नजर आ रही हैं। कानों में हूप्स पहने हैं और बालों को खुला रखा है। होटल की लॉबी में श्वेता तिवारी पोज देती नजर आ रही हैं। फैन्स श्वेता तिवारी की फोटो पर लगातार कॉमेंट्स कर रहे हैं। एक फैन ने लिखा, "फिटनेस हो तो ऐसी। वहीं, एक और फैन ने लिखा, "आप एक रॉकस्टार हो। हमेशा ऐसी ही रहना।

सोशल मीडिया पर 'पिंक टी' का वीडियो वायरल हुआ

सोशल मीडिया पर 'पिंक टी' का वीडियो वायरल हुआ   

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। भारत में चाय पीने के शौकीन लोगों की कमी नहीं है। उत्तर से लेकर दक्षिण भारत तक भारत में बनाने के तरीके और टेस्ट भी भले ही कुछ अंतर आ जाता हो, लेकिन चाय पूरे देश में खूब शौक से पी जाती है, लेकिन हाल ही सोशल मीडिया पर 'पिंक टी' का वीडियो खूब वायरल हो रहा है और इस वीडियो को 1 करोड़ से ज्यादा बार देखा जा चुका है।

दरअसल पिंक टी के इस वीडियो में देखा जा सकता है कि एक स्ट्रीट वेंडर पिंक कलर की खास चाय बनाता है। लोग इस पिंक टी को पीने के लिए बेताब हो रहे हैं। पिंक टी के इस वीडियो को अब तक 11 मिलियन से ज्यादा लोग देख चुके हैं और 4 लाख से ज्यादा लोग इसे लाइक कर चुके हैं। वीडियो में देखा जा सकता है कि दुकानदार सबसे पहले एक कप में फैन तोड़कर डालता है। बाद में घर का बना सफेद मक्खन का एक टुकड़ा डालें।

विश्वविद्यालयों में 'पीएचडी' की डिग्री अनिवार्य नहीं

विश्वविद्यालयों में 'पीएचडी' की डिग्री अनिवार्य नहीं  

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। देश के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में पढ़ाने का ख्वाब देख रहे युवाओं के लिए राहत भरी खबर है। अब केंद्रीय विश्वविद्यालयों में पढ़ाने के लिए पीएचडी की डिग्री अनिवार्य नहीं होगी। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ( यूजीसी ) ने पीएचडी की अनिवार्यता को खत्म करने का फैसला किया है। यूजीसी के इस फैसले से संबंधित विषय के विशेषज्ञ यूनिवर्सिटी में पढ़ा सकेंगे। स्टूडेंट्स को भी इसका फायदा मिलेगा।

इसके अलावा यूजीसी कई नए और विशेष पदों को सृजित करने की भी योजना बना रहा है। इन पदों पर नियुक्ति के लिए पीएचडी की आवश्यकता नहीं होगी। टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक ये पद प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस व एसोसिएट प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस हो सकते हैं। इस संबंध में यूजीसी चेयरमैन एम जगदेश कुमार ने कहा, 'कई विशेषज्ञ हैं जो पढ़ाना चाहते हैं। कोई ऐसा व्यक्ति हो सकता है जिसने बड़ी परियोजनाओं को लागू किया हो और जिसके पास जमीनी स्तर का काम करने का अनुभव हो, ये कोई कोई महान नर्तक या संगीतकार भी हो सकता है। 
जगदेश कुमार ने कहा, 'लेकिन हम उन्हें मौजूदा नियमों के अनुसार नियुक्त नहीं कर सकते। इसलिए यह स्पेशल पद सृजित करने का फैसला किया गया है जिनके लिए पीएचडी डिग्री की जरूरत नहीं होगी। एक्सपर्ट्स को सिर्फ अपना अनुभव दिखाना होगा।' इस मसले पर यूजीसी अध्यक्ष के साथ केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपतियों (वीसी) की बैठक के दौरान प्रस्ताव पर चर्चा हुई। बैठक में केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्ति के लिए नियमों में संशोधन पर काम करने के लिए एक समिति गठित करने का फैसला किया गया। बैठक अन्य बातों के अलावा राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के कार्यान्वयन में प्रगति पर चर्चा करने के लिए बुलाई गई थी।
इन सबके अलावा यूजीसी की योजना एक ऐसा पोर्टल शुरू करने की भी है जिसके जरिए शिक्षकों की भर्ती का हिसाब-किताब रखा जा सके। इससे शिक्षकों की नियुक्तियों प्रक्रिया में देरी नहीं होगी। शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक दिसंबर 2021 तक केंद्र वित्त पोषित संस्थानों में 10 हजार से ज्यादा शैक्षणिक पद खाली पड़े हैं।

एमपी: लैंडिंग के दौरान रनवे पर फिसलीं एयर फ्लाइट

एमपी: लैंडिंग के दौरान रनवे पर फिसलीं एयर फ्लाइट  

मनोज सिंह ठाकुर      
जबलपुर। मध्यप्रदेश के जबलपुर में डुमना एयरपोर्ट पर बड़ा हादसा होते-होते बच गया। दिल्ली से आ रही भारतीय एयर फ्लाइट, एआरटी-72-600 लैंडिंग के दौरान रनवे पर फिसल गई। बाद में नियंत्रण कर सबकुछ ठीक जरूर किया गया, लेकिन 55 यात्रियों की जान जोखिम में आ गई थी। अभी के लिए सभी सुरक्षित हैं।
ये घटना दोपहर 1.13 पीएम की है, जब दिल्ली से आ रही एयर इंडिया की फ्लाइट को डुमना एयरपोर्ट पर लैंड करना था। 
अब जब फ्लाइट हवाई पट्टी पर उतरने वाली थी, तब पायलट ने नियंत्रण खो दिया और विमान रनवे से फिसल गया। बाद में तुरंत अपनी सूझबूझ से पायलट ने विमान को फिर नियंत्रण में लाया और सभी यात्रि सुरक्षित कर लिए गए। उस समय 55 यात्री के अलावा 5 क्रू मेंबर भी मौजूद थे। हादसे के बाद डीसीजीए ने जांच के आदेश दे दिए हैं। इस हादसे की वजह जानने का प्रयास किया जा रहा है।

एआईसीसी कार्यालय में होगी 'सीडब्ल्यूसी' की बैठक

एआईसीसी कार्यालय में होगी 'सीडब्ल्यूसी' की बैठक  

अकांशु उपाध्याय      
नई दिल्ली। कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक रविवार को 4 बजे, दिल्ली में एआईसीसी कार्यालय में होगी। जिसमें 5 राज्यों में चुनावी हार और वर्तमान राजनीतिक स्थिति पर चर्चा होगी।
पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणामों में सभी जगह से कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा है। ऐसे में कांग्रेस पार्टी में सुधार की मांग उठाने को लेकर कल जी-21 नेताओं की बैठक बुलाई गई थी।सूत्रों के अनुसार, राज्यसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद के आवास पर हो रही इस बैठक में कपिल सिब्बल, अखिलेश प्रसाद सिंह, मनीष तिवारी और कुछ अन्य नेता शामिल हुए थे। ये बैठक दिल्ली में हुई‌। सूत्रों के मुताबिक, देर रात चली बैठक में कई मसलों पर फैसला हुआ।

ब्राह्मणों को एकजुट करने की जिम्मेदारी सौंपी

ब्राह्मणों को एकजुट करने की जिम्मेदारी सौंपी      

संदीप मिश्र          

शाहजहांपुर। विधानसभा चुनाव में इस बार सर्वाधिक केंद्र बिंदु में ब्राह्मण ही रहे। चुनाव के दौरान यह भी खूब प्रचारित किया गया कि ब्राह्मण भाजपा से नाराज हैं। हालांकि मुख्यमंत्री समेत तमाम वरिष्ठ नेता इस बात को नकारते ही रहे, इसके बावजूद ब्राह्मणों को साधने की कवायद भी चलती रही। इसी कवायद के एक हिस्से के रूप में कांग्रेस के नेता जितिन प्रसाद को बतौर ब्राह्मण चेहरा भाजपा में शामिल किया गया और उन्हें ब्राह्मणों को समझाने और एकजुट करने की जिम्मेदारी भी सौंपी गई।

इस जिम्मेदारी को जितिन प्रसाद बहुत ही खामोशी से निभाकर एक तरफ हट गए। शहर सीट से भाजपा के दिग्गज नेता सुरेश कुमार खन्ना की नौवीं जीत काफी हद तक जितिन प्रसाद की ही देन है। यदि ब्राह्मण वोट नहीं साधा गया होता, तो इस बार खन्ना की हवाइयां उड़ चुकी होतीं। वैसे भी जीत के बाद से ही रोजा मंडी मतगणना स्थल पर सभी भाजपाई एक ही बात कहते घूम रहे थे कि इस बार गोली कनपटी से निकल गई। वहीं, भाजपा से निकाले जाने के बाद सपा का दामन थामने वाले जितिन के चचेरे भाई जयेश प्रसाद ने भी विप्रों को साधने के लिए कई मीटिंगें की, लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिल सकी।

जितिन प्रसाद वाला कमाल जलालाबाद में सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुए विधायक शरदवीर सिंह ने किया, जिस कारण इस विधानसभा में भाजपा खाता खोलने में कामयाब हो सकी। वैसे देखा जाए तो राजनीति का खेल बाकई बहुत घिनौना है। अब देखिए कि अंतिम नगर पालिका अध्यक्ष पद के चुनाव में भाजपा से जयेश प्रसाद की पत्नी नीलिमा प्रसाद चुनाव मैदान में थीं और सपा से पार्टी जिलाध्यक्ष और तत्कालीन निवर्तमान चेयरमैन तनवीर खां की वालिदा जहांआरा उम्मीदवार थीं।

इस चुनाव में जयेश प्रसाद समेत पूरा भाजपाई अमला तनवीर खां का बर्चस्व तोड़ने में लगा था, लेकिन कामयाबी नहीं मिली और जीत जहांआरा की ही हुई, इससे पहले तनवीर खां ही चेयरमैन बनते आए थे। विधानसभा चुनाव में वही जयेश प्रसाद तनवीर के पक्ष में ब्राह्मणों यानि विप्रवरों को एकजुट करने में जुटे थे। अगर जयेश प्रसाद के प्रयास सफल हो जाते तो भी सुरेश खन्ना की पराजय पक्की थी और अपने वर्ग के सहारे खन्ना को घेरने वाले तनवीर खां के मंसूबे पूरे हो जाते, लेकिन ऐसा हो नहीं सका।

वहीं, जितिन प्रसाद इस मामले में बाजी मार ले गए और पूरे अंक बटोर कर चुपचाप किनारे हट गए। विप्र समाज जितिन के पीछे-पीछे ही था। लोगों की माने तो खन्ना की जीत में जितिन प्रसाद का बड़ा हाथ है। वहीं, चुनाव में खन्ना ने जिस तरह से ककरांकला को विकास का केंद्र बनाया और उसे तब न्यू सिटी घोषित किया, जब ककराकलां की हालत ऐसी थी कि वहां लोग जाना तक पसंद नहीं करते थे।

क्षेत्र में जबरदस्त विकास कराने के बाद खन्ना इस मुगालते में आ गए कि इस बार वहां के लोग उन्हें जरूर वोट देंगे, लेकिन बताया जाता है कि ककराकलां से खन्ना को जो वोट मिले वह दहाई के आंकड़े वाले भी नहीं थे। कमोवेश यही हाल मोहल्ला किला का भी रहा। यहां खन्ना की मीटिंगें कराकर उन्हें न सिर्फ सम्मानित किया गया, बल्कि भरोसा भी दिया गया कि इस बार वोट उन्हें ही दिया जाएगा, लेकिन यहां भी इसका उल्टा ही हुआ।

इसी तरह विधानसभा जलालाबाद में भाजपा जिलाध्यक्ष हरि प्रकाश वर्मा की जीत में सपा विधायक शरदवीर सिंह का बड़ा हाथ रहा, जो चुनाव से ठीक पहले टिकट नहीं मिलने पर सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे और उन्होंने भाजपा को जिताने तथा सपा प्रत्याशी नीरज कुशवाहा को हराने का संकल्प ले लिया था। इसके बाद वह हरि प्रकाश वर्मा के साथ क्षेत्र के ठाकुरों और ब्राह्मणों को एकजुट करने में कामयाब रहे। मतगणना में नीरज कुशवाहा और हरि प्रकाश वर्मा में कांटे की टक्कर दिखाई दी। अंत में भले ही जीत हरि प्रकाश वर्मा के हिस्से आई हो, लेकिन इस जीत में शरदवीर सिंह का भी योगदान है।

यूके-बिहार: गंगा नदी की जल गुणवत्ता में सुधार

यूके-बिहार: गंगा नदी की जल गुणवत्ता में सुधार 

पंकज कपूर     

पटना/देहरादून। बिहार और उत्तराखंड राज्यों में गंगा नदी की जल गुणवत्ता में सुधार हुआ है और अब जैविक ऑक्सीजन मांग (बीओडी) में कमी आने के साथ यहां इसका पानी नहाने योग्य है। इससे स्पष्ट है कि नदी के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। यह जानकारी आधिकारिक आंकड़ों में दी गई है। बीओडी पानी की गुणवत्ता तय करने का अहम मानक है।

इसका अभिप्राय जैविक जंतुओं द्वारा ऑक्सीजन के उपभोग से है। निम्न मूल्य होने का अभिप्राय पानी की बेहतर गुणवत्ता से है। आंकड़ों के मुताबिक गंगा का पानी नहाने के मानक के अनुकूल मिला जो अन्य तथ्यों के साथ प्रति लीटर पानी में तीन मिलीग्राम बीओडी की मांग होने पर होता है। ‘पीटीआई-भाषा’ से साझा किए गए आंकड़ों में गंगाजल की वर्ष 2015 और 2021 की तुलना की गई है। जिसके मुताबिक उत्तराखंड (हरिद्वार से सुल्तानपुर तक) और बिहार (बक्सर से भागलपुर तक)के हिस्से में गंगाजल में बीओडी का स्तर तीन मिलीग्राम प्रति लीटर रहा जो अप्रदूषित की श्रेणी में आता है। स्वच्छ गंगा के राष्ट्रीय मिशन (एनएमाीजी) के महानिदेशक जी अशोक कुमार ने बताया कि गंगा नदी के दो अन्य मार्गों जो उत्तर प्रदेश के कन्नौज से वाराणसी के बीच और पश्चिम बंगाल में त्रिवेणी से डायमंड हार्बर के बीच प्रदूषण का स्तर श्रेणी पांच में रहा जो न्यूनतम है। इस श्रेणी में बीओडी का स्तर प्रति लीटर तीन से छह मिलीग्राम होता है।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2015 के मुकाबले 2021 में जल गुणवत्ता में सुधार आया है क्योंकि बिहार में बीओडी का स्तर 7.8 से 27 मिलीग्राम प्रति लीटर (दूसरी श्रेणी) था जबकि उत्तर प्रदेश में यह तीसरी श्रेणी यानी 3.8 से 16.9 मिलीग्राम प्रति लीटर बीओडी थी। हालांकि, वर्ष 2015 के मुकाबले वर्ष 2021 में पश्चिम बंगाल से गुजरने वाली गंगा के हिस्से के बीओडी में बहुत सुधार नहीं हुआ और मामूली सुधार के साथ त्रिवेणी से डायमंड हार्बर तक यह पांचवी श्रेणी में बनी रही। यह 3.1 से 5.8 मिलीग्राम प्रति लीटर से घटकर 1.3 से 4.3 मिलीग्राम प्रति लीटर पर आ गई। उल्लेखनीय है कि बीओडी छह मिलीग्राम प्रति लीटर से अधिक होने पर पानी को प्रदूषित माना जाता है और उपचारात्मक कार्रवाई की जरूरत होती है।

मुंबई: बॉलीवुड फिल्म 'सेल्फी' की शूटिंग प्रारंभ की

मुंबई: बॉलीवुड फिल्म 'सेल्फी' की शूटिंग प्रारंभ की 

कविता गर्ग     

मुंबई। बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार और इमरान हाशमी की आने वाली फिल्म 'सेल्फी' की शूटिंग शुरू हो गयी है। राज मेहता के निर्देशन में बन रही सेल्फी वर्ष 2019 में प्रदर्शित मलयालम भाषा की कॉमेडी-ड्रामा 'ड्राइविंग लाइसेंस' की रीमेक है। इस फिल्म में अक्षय कुमार और इमरान हाशमी की मुख्य भूमिका है। 

करण जौहर के नेतृत्व वाले धर्मा प्रोडक्शंस ने बैनर के सोशल मीडिया हैंडल पर फिल्म सेल्फी की शूटिंग शुरू होने की खबर साझा की। सोशल मीडिया पर क्लैप की तस्वीर सामने आई है और लिखा गया है कि, सेल्फ़ी का पहला दिन और हमें आप सभी के प्यार, आशीर्वाद और अच्छे वाइब्स की ज़रूरत है!

एक्ट्रेस उर्वशी ने सुपरहिट गाना 'हुआ' है, साझा किया

एक्ट्रेस उर्वशी ने सुपरहिट गाना 'हुआ' है, साझा किया  

कविता गर्ग      
मुंबई। तंजानिया के इंटरनेट सेंसेशन किली पॉल ने बॉलीवुड अभिनेत्री उर्वशी रौतेला का सुपरहिट गाना 'हुआ है, आज पहली बार' पर लिप सिंक किया है।
किली पॉल अक्सर बॉलीवुड के गानों पर लिप-सिंक करते हुए अपना वीडियो साझा करते हुवे दिखाई देते हे। इस बार उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो साझा किया। जिसमें उन्होंने उर्वशी रौतेला की फिल्म सनम रे का गाना 'हुआ है, आज पहली बार' पर लिप सिंक किया है।
गौरतलब है कि किली पॉल और उनकी बहन नीमा वीडियो पोस्ट करके लाखों भारतीयों का दिल जीता है, जिसमें वे भारतीय फिल्मों के गानों के साथ लिप-सिंक करते हैं।

फिल्म 'इम्तिहान' का प्रदर्शन, 28 साल पूरे हुए: टंडन

फिल्म 'इम्तिहान' का प्रदर्शन, 28 साल पूरे हुए: टंडन 

कविता गर्ग    

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन की फिल्म इम्तिहान के प्रदर्शन के 28 साल पूरे हो गये हैं। रवीना टंडन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और अपने फैंस के साथ जुड़े रहने के लिए अक्सर अपने लाइफ के कई खास पलों को साझा करती हैं। रवीना की फिल्म 'इम्तिहान' के प्रदर्शन के 28 साल पूरे हो गये हैं। फिल्म 'इम्तिहान' में रवीना के साथ सैफ अली खान और सनी देओल भी मुख्य भूमिकाओं में थे। रवीना ने खुशी साझा करते हुए फिल्म इम्तिहान की कुछ तस्वारें अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की हैं। फिल्म की यादों को ताजा करते हुए रवीना ने कैप्शन में लिखा, "इम्तिहान के 28 साल, गाने और कहानी फिल्म की रीढ़ थे .. मजेदार यादें और हंसी।"रवीना टंडन जल्द ही फिल्म 'केजीएफ चैप्टर 2' में नजर आएंगी। फिल्म इस साल 14 अप्रैल को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।यह फिल्म प्रशांत नील द्वारा निर्देशित, 'केजीएफ: चैप्टर 1' की अगली कड़ी है। इस फिल्म के लीड एक्टर रॉकी भाई (यश) के जीवन के आगे की कहानी दिखाई जाएगी। फिल्म में यश के अलावा संजय दत्त भी मुख्य भूमिका में हैं।

चुनाव: 'रामपुर' सीट से विधायक निर्वाचित हुए आजम

चुनाव: 'रामपुर' सीट से विधायक निर्वाचित हुए आजम  

हरिओम उपाध्याय 
लखनऊ/रामपुर। उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए हाल ही में हुए चुनाव में जीत हासिल करने वाले सपा मुखिया एवं आजम खान ने अपने चुनाव क्षेत्र में दोबारा से इलेक्शन कराने की पटकथा तैयार करनी शुरू दी हैं। जिसके चलते उम्मीद की जा रही है कि एक बार फिर से उत्तर प्रदेश के कई जनपदों में विधानसभा चुनाव की एक बार फिर से गहमा-गहमी देखने को मिलेगी।दरअसल उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव की 10 मार्च को हुई मतगणना में उत्तर प्रदेश की करहल विधानसभा सीट से सपा मुखिया अखिलेश यादव को जीत हासिल हुई है। 
इसी तरह जेल में बंद सपा के पूर्व मंत्री आजम खान भी रामपुर विधानसभा सीट से विधायक निर्वाचित हुए हैं। लेकिन दोनों ही सपा नेता लोकसभा के सदस्य हैं जिसके चलते दोनों ने ही सांसदी के बजाय अपना विधायकी पद छोड़ने का निर्णय लिया है। 
बताया जा रहा है कि सपा मुखिया अखिलेश यादव सांसद का पद अपने पास रखते हुए विधायक का पद छोड़ेंगे। इसी तरह पूर्व मंत्री आजम खान भी सांसद होने की वजह से विधायक पद से इस्तीफा देंगे। दोनों सपा नेताओं के एमएलए पद से इस्तीफा देने के बाद निर्वाचन आयोग को अब इन दोनों सीटों पर दोबारा से उपचुनाव कराना होगा।

यूपी में दोबारा से इलेक्शन कराने की पटकथा तैयार

यूपी में दोबारा से इलेक्शन कराने की पटकथा तैयार  

संदीप मिश्र     

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए हाल ही में हुए चुनाव में जीत हासिल करने वाले सपा मुखिया एवं आजम खान ने अपने चुनाव क्षेत्र में दोबारा से इलेक्शन कराने की पटकथा तैयार करनी शुरू कर दी हैं। जिसके चलते उम्मीद की जा रही है कि एक बार फिर से उत्तर प्रदेश के कई जनपदों में विधानसभा चुनाव की एक बार फिर से गहमागहमी देखने को मिलेगी।दरअसल उत्तर प्रदेश में 18 वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव की 10 मार्च को हुई मतगणना में उत्तर प्रदेश की करहल विधानसभा सीट से सपा मुखिया अखिलेश यादव को जीत हासिल हुई है। 

इसी तरह जेल में बंद पूर्व मंत्री आजम खान भी रामपुर विधानसभा सीट से विधायक निर्वाचित हुए हैं। लेकिन दोनों ही सपा नेता लोकसभा के सदस्य हैं जिसके चलते दोनों ने ही सांसदी के बजाय अपना विधायकी पद छोड़ने का निर्णय लिया है। बताया जा रहा है कि सपा मुखिया अखिलेश यादव सांसद का पद अपने पास रखते हुए विधायक का पद छोड़ेंगे। इसी तरह पूर्व मंत्री आजम खान भी सांसद होने की वजह से विधायक पद से इस्तीफा देंगे। दोनों सपा नेताओं के एमएलए पद से इस्तीफा देने के बाद निर्वाचन आयोग को अब इन दोनों सीटों पर दोबारा से उपचुनाव कराना होगा।

सपा मुखिया अखिलेश यादव व सांसद आजम खान के अलावा अभी कई अन्य लोगों के भी इस्तीफे सामने आ सकते हैं। क्योंकि सपा मुखिया और पूर्व मंत्री आजम खान के अलावा कई अन्य सांसद भी विधायक निर्वाचित हुए हैं। यदि सत्ताधारी दल बीजेपी के भाजपा सांसदों को विधायकी के चलते मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिलता है तो शायद वह भी सांसद के बजाय विधायक पद से ही अपना इस्तीफा देंगे।

विधानसभा चुनाव में विपक्ष का सूपड़ा साफ किया

विधानसभा चुनाव में विपक्ष का सूपड़ा साफ किया  

संदीप मिश्र     

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 17 जिलों में सभी विधानसभा सीटें जीत कर विपक्ष का सूपड़ा साफ कर दिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य में ऐसे पहले मुख्यमंत्री बने है जिन्होने पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के साथ दोबारा जीत भी दर्ज की है।भाजपा ने वाराणसी, सोनभद्र, बुलंदशहर, गोंडा, पीलीभीत, शाहजहांपुर, खीरी-हरदोई, उन्नाव, फर्रुखाबाद, गोरखपुर, कन्नौज, कानपुर देहात, झांसी, ललितपुर, हमीरपुर, महोबा, देवरिया में सारी की सारी सीटें जीतीं हैं ।पार्टी सूत्रों ने दावा किया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पांच साल के कार्यकाल के दौरान अपने कुशल नेतृत्व और कल्याणकारी योजनाओं के दम पर पूरे यूपी में बहुत बड़ी लाइन खींच दी, जिसे विरोधी पार नहीं कर पाए। योगी यूपी के पहले ऐसे मुख्यमंत्री बने, जिन्होंने पांच साल का कार्यकाल भी पूरा किया और दोबारा जीत भी दर्ज की। चुनाव में भाजपा को इस बार सभी वर्ग का वोट मिला। योगी ने उत्तर प्रदेश को जाति के वोट बैंक को राष्ट्रवादी वोट बैंक में बदल दिया। यूपी में योगी की जीत की कई वजह रही, जिसमें प्रमुख रूप से मोदी का मार्गदर्शन, योगी का शासन, यूपी में गरीबों को राशन, महिलाओं को सुरक्षा का आश्वासन और हिन्दुत्व फैक्टर है।विधानसभा चुनाव में पश्चिमी यूपी में जाट वोटर शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में बंट गये। दलित वोट पहली बार बीएसपी से बीजेपी में शिफ्ट होता दिखा। इस साथ के साथ बीजेपी ने गाजियाबाद, हापुड़, गौतमबुद्धनगर, आगरा, कासगंज और एटा में क्लीन स्वीप किया, जबकि अलीगढ़, मथुरा, सहारनपुर, बुलंदशहर में बीजेपी की परफोरमेंस काफी बढ़िया रही। यूपी के हर फेज में चुनाव में बीजेपी विरोधियों को नुकसान हुआ।

इस बार के चुनाव में योगी के खिलाफ अखिलेश यादव और जयंत चौधरी, मायावती और प्रियंका गांधी मैदान में थीं। पश्चिम यूपी में जहां दावा जा रहा था कि एसपी और आरएलडी का गठबंधन आगे रहेगा लेकिन यहां बीजेपी लीड ले गई। जाट लैंड में राष्ट्रीय लोक दल के बड़ी मार्जिन से जीतने का दावा किया गया, पर जाटों ने बीजेपी को सपोर्ट किया। बुंदेलखंड ने भी बीजेपी को सियासी बुलंदी पर पहुंचा दिया।बुलंदशहर में सात सीटों पर कमल खिला। आगरा की नौ सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज कर इतिहास रचने का काम किया। सोनभद्र की तीन और वाराणसी की सात सीटें भाजपा के नाम रही। गोरखपुर की आठ सीटों पर कमल खिला, देवरिया भी पीछे नहीं रहा यहां सात विधानसभाओ में कमल का फूल खिल गया। गोंडा की भी सात सीटें भाजपा के नाम दर्ज हुईं। पीलीभीत की चार, शाहजहांपुर की सात, खीरी की आठ, हरदोई की आठ, उन्नाव की छह, फर्रुखाबाद की चार सीटों पर मोदी-योगी का जादू चला। कन्नौज की तीन, कानपुर देहात की चार, झांसी की चार, ललितपुर दो, हमीरपुर की दो, महोबा की दो सीटें भी भाजपा की झोली में पहली बार चली गईं, जबकि सहारनपुर में सात में से पांच सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की। बागपत में तीन में से दो सीटें भाजपा ने अपने नाम की। बरेली में नौ में से आठ सीटें भाजपा के खाते में आईं। सीतापुर की नौ में से आठ सीटें, लखनऊ की नौ में से सात, बांदा में चार में से तीन सीटों पर कमल खिला।

कानपुर देहात की चारों विधानसभा सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की। लखीमपुर खीरी में भाजपा ने सभी आठ सीटों पर जीत दर्ज की जबकि जौनपुर की सदर सीट से बीजेपी कैंडिडेट और योगी कैबिनेट के मंत्री गिरीश चंद्र यादव चुनाव जीत गए हैं। उन्होंने 6000 से अधिक वोटों से सपा के मोहम्मतद अरशद को हराया। सोनभद्र जिले की चारों विधानसभा सीटों पर कमल खिला। हरदोई की आठों विधानसभा सीट पर भाजपा का कब्जा हो गया है। गोरखपुर में बीजेपी ने क्लीन स्वीप किया। सीएम योगी के शहर गोरखपुर की सभी नौ सीटों पर भाजपा ने कब्जा कर लिया है। बुंदेलखंड में बीजेपी ने विपक्ष का पूरी तरह सफाया कर दिया। बीजेपी ने बुंदेलखंड की सभी 19 सीटों पर जीत दर्ज की। हरदोई सदर सीट पर इतिहास में पहली बार भाजपा के नितिन अग्रवाल ने 43 हज़ार वोटों से जीत दर्ज की। बीजेपी ने शाहजहांपुर की छह विधानसभाओं में जीत का परचम लहराया। प्रयागराज की 12 में से 8 सीटों पर भाजपा तो चार पर सपा जीती। बागपत की दो सीटों पर भाजपा को जीत मिली।


'बिग बाजार' का नियंत्रण, अपने हाथ में लेना शुरू

'बिग बाजार' का नियंत्रण, अपने हाथ में लेना शुरू  

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। अरबपति उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बीते सप्ताह 'बिग बाजार' का नियंत्रण अपने हाथ में लेना शुरू कर दिया। अब कंपनी ने फ्यूचर ग्रुप के इस सबसे बड़े ब्रांड का नाम बदलने की तैयारी भी कर ली है।

रिलायंस रिटेल उन सभी जगहों पर अब नया रिटेल स्टोर खोलने जा रही है, जहां पहले कभी बिग बाजार हुआ करता था। इस नए स्टोर का नाम स्मार्ट बाजार होगा। रिलायंस रिटेल मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिटेल सेक्टर की कंपनी है। ये रिलायंस ट्रेंड्स, रिलायंस फ्रेश, रिलायंस डिजिटल जैसे रिटेल स्टोर पहले से ऑपरेट करती है।
रिलायंस रिटेल की प्लानिंग 950 जगहों पर अपने खुद के स्टोर खोलने की है। ये सभी लोकेशन कंपनी ने फ्यूचर ग्रुप से अपने नियंत्रण में ली हैं। ईटी की खबर के मुताबिक इनमें से करीब 100 लोकेशन पर कंपनी इसी महीने स्मार्ट बाजार नाम से स्टोर खोल देगी। हालांकि इस बारे में रिलायंस रिटेल और फ्यूचर ग्रुप की ओर से अभी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है।
फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस इंडस्ट्रीज के बीच 24,713 करोड़ रुपये का सौदा हुए साल भर से ज्यादा समय हो चुका है। लेकिन अमेजन के मुकदमों की वजह से सौदा पूरा नहीं हो पाया है। बीते सप्ताह से रिलायंस ने अपना रुख आक्रामक करते हुए फ्यूचर समूह के बिग बाजार का स्टोर अपने हाथ में लेना शुरू कर दिया। रिलायंस ने पहले बिग बाजार के स्टोर्स की लीज को अपने नाम किया, लेकिन फ्यूचर को ऑपरेट करने दिया। अब रिलायंस इस बात पर स्टोर्स का नियंत्रण अपने हाथों में लगे रही है कि फ्यूचर इनका किराया दे पाने में असमर्थ है। 

यूरोपीय देशों ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंध लगाए

यूरोपीय देशों ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंध लगाए  

अखिलेश पांडेय   
कीव/मास्को। यूक्रेन पर रूस के हमले को देखते हुए अमेरिका और यूरोपीय देशों ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंध लगाए हैं। प्रतिबंधों से परेशान रूस की तेल कंपनियां भारत को तेल पर भारी डिस्काउंट ऑफर कर रही हैं। बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, रूस की तेल कंपनियां भारत को कच्चे तेल की कीमत पर 25-27 प्रतिशत तक की छूट की पेशकश कर रहीं हैं।
यूक्रेन पर हमले को लेकर रूस के कई बैंकों को अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग सिस्टम स्विफ्ट बैंकिंग सिस्टम से हटा दिया गया है जिसके बाद रूस के लिए अन्य देशों के साथ व्यापार करना मुश्किल हो गया है। रूस की सरकार इस स्थिति से निकलने के लिए एक नए भुगतान तंत्र का निर्माण करने में लगी है। अगर ये हो जाता है तभी भारत के साथ रूस के तेल का व्यापार बढ़ पाएगा।
रूस की सबसे बड़ी सरकारी तेल कंपनी रोसनेफ्ट से भारत अधिक मात्रा में कच्चा तेल खरीदता है। पिछले साल दिसंबर में जब रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भारत आए थे तब रोसनेफ्ट और इंडिया ऑयल कॉर्पोरेशन ने 2022 के अंत तक नोवोरोस्सिएस्क बंदरगाह के जरिए भारत को 2 करोड़ टन तक तेल की आपूर्ति के लिए एक कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किया था।
भारत मध्य-पूर्व पर तेल खरीद के लिए निर्भर है लेकिन वो अमेरिका और रूस जैसे देशों से तेल खरीद बढ़ाने की तरफ आगे बढ़ रहा है ताकि तेल के आयात में विविधता आए।

बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सूत्रों ने बताया है कि रूसी तेल कंपनियां ब्रेंट क्रूड ऑयल की पुरानी कीमतों पर 25-27 फीसदी की छूट दे रही हैं। रूसी कंपनियों द्वारा भारी छूट का संकेत देते हुए एक सूत्र ने कहा, ‘प्रस्ताव आकर्षक है। हालांकि, अभी भी कोई संकेत नहीं है कि तेल खरीद का भुगतान कैसे किया जाएगा।
हालांकि, ये भी कहा जा रहा है कि प्रतिबंधों के बीच रूस के साथ व्यापार शुरू करने से पहले भारत को बेहद सतर्क रहना चाहिए।यूक्रेन पर रूस के जारी हमले के बीच उससे तेल खरीदना कई देशों को नाराज कर सकता है, क्योंकि वो इसे रूस को वित्तीय सहायता देने के रूप में भी देख सकते हैं।

प्राइवेट बैंक के एक चीफ एग्जीक्यूटिव ने बिजनेस स्टैंडर्ड से बातचीत में कहा, ‘यह रूस की समस्या है कि वो अपने उत्पादों को बेचने में सक्षम नहीं हैं। युद्ध के कारण, कच्चे तेल की कीमतें 90 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 115 डॉलर प्रति बैरल हो गई हैं जिससे तेल खरीद के लिए भारत को भी अधिक पैसे देने पड़ रहे हैं। हमें तेल आयात के लिए रूस के अलावा अन्य विकल्प भी तलाशने चाहिए। 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...