पश्चिम बंगाल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
पश्चिम बंगाल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 17 सितंबर 2021

बंगाल: बलों की 52 कंपनियां तैनात की जाएंगी

मिनाक्षी लोढी       

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के भवानीपुर, शमशेरगंज और जांगीपुर विधानसभा सीट पर 30 सितंबर को हाेने वाले उपचुनावों में केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की करीब 52 कंपनियां तैनात की जायेंगी। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की महिला इकाई के एक सेक्शन ने दक्षिण कोलकाता के संवेदनशील भवानीपुर इलाके में रूट मार्च किया।

भवानीपुर विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव पर राज्य की ही नहीं बल्कि देश भर की नजर टिकी है, क्योंकि इस सीट से मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी चुनाव लड़ रही हैं। इससे पहले मार्च-अप्रैल चुनाव के दौरान नंदीग्राम सीट से वह भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार शुवेन्दु अधिकारी से हार गयी थीं।

गुरुवार, 16 सितंबर 2021

अभिषेक ने विज्ञापन विवाद पर सीएम को कोसा

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने विज्ञापन विवाद पर योगी को जमकर कोसा है। उन्होंने कहा कि डबल इंजन की सरकार यूपी में फेल हो गई है और दूसरे राज्यों के विकास मॉडल को चुराकर अपना बता रहीं है। भाजपा से टीएमसी में घर वापसी करने वाले मुकुल राय ने आरोप लगाते हुए कहा है ट्रांसफॉर्मिंग यूपी का मतलब तस्वीरें चुराना है। उत्तर प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार के झूठ की पोल फिर खुल गईं है।

द इंडियन एक्सप्रेस में उत्तर प्रदेश सरकार का छपा एक विज्ञापन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा के गले की हड्डी बन गया। ट्रांसफॉर्मिंग उत्तर प्रदेश अंडर योगी आदित्यनाथ शीर्षक से विज्ञापन प्रकाशित हुआ है। विज्ञापन न सिर्फ योगी आदित्यनाथ और उनकी सरकार के लिए मुसीबत बन गया है बल्कि इंडियन एक्सप्रेस जैसे अखबार की छवि को भी इस विज्ञापन से आघात पहुंचा है। मीडिया के अनुसार विज्ञापन में उत्तर प्रदेश की तस्वीर छापने के बजाय पश्चिम बंगाल के कोलकाता की तस्वीर छाप दी गयी है। विज्ञापन में दिखाया गया चित्र माँ फ्लाईओवर का है, जिसका निर्माण मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कराया है। विज्ञापन में कोलकाता शहर की पीली टैक्सी भी दौड़ती दिख रहीं हैं। वहां का एक मशहूर होटल भी दिखाई दे रहा है। विज्ञापन की सच्चाई जानने के बाद विपक्ष योगी सरकार पर पिल पड़ा है क्योंकि सामने उत्तर प्रदेश का चुनाव है। राजनैतिक लिहाज से बड़ा राज्य होने के कारण सभी दलों की निगाहें इस पर हैं। लिहाजा विज्ञापन को लेकर समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, टीएमसी सीधे मुख्यमंत्री योगी पर हमला बोल रहे हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए विपक्ष ने कहा है कि विकास के नाम पर उत्तर प्रदेश में कुछ नहीं है। लिहाजा अपनी नाक बचाने के लिए सरकार ने झूठा विज्ञापन प्रकाशित किया है। राज्य विधानसभा का चुनाव भाजपा के लिए करो और मरो की स्थिति बन गया है। कोविड की दूसरी लहर में राज्य में काफी मौतें हुईं। लोगों को आक्सीजन और दूसरी सुविधाएं नहीं मिल पायीं। लोग शवों का अंतिम संस्कार तक नहीं कर पाए। इसे लेकर विपक्ष सरकार को पहले ही कठघरे में खड़ा कर चुका है जबकि केंद्र ने साफ कह दिया था कि ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुईं है। विज्ञापन विवाद पर विपक्ष का आरोप है कि दूसरे राज्यों के विकास मॉडल को चुरा कर योगी सरकार अपना बताने पर तुली है। राज्य में डेंगू कहर बरपा रहा है। कई जिलों में स्थिति भयावह है। सरकार विज्ञापनों से अपनी छबि को सुधारना चाहती है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने विज्ञापन विवाद पर योगी को जमकर कोसा है। उन्होंने कहा कि डबल इंजन की सरकार यूपी में फेल हो गई है और दूसरे राज्यों के विकास मॉडल को चुराकर अपना बता रहीं है। भाजपा से टीएमसी में घर वापसी करने वाले मुकुल राय ने आरोप लगाते हुए कहा है ट्रांसफॉर्मिंग यूपी का मतलब तस्वीरें चुराना है। उत्तर प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार के झूठ की पोल फिर खुल गईं है। जमीन पर कुछ नहीं दिख रहा है जनता के पैसे को विज्ञापन में लगाया जा रहा है। दूसरे राज्य की तस्वीर चुरा कर अपना बताया जा रहा है। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा है कि ऐसा विकास आपने देखा होगा न सुना होगा। कोलकाता के विकास को हमारे मुख्यमंत्री खींचकर यूपी में लाए हैं। एक भूल को विपक्ष ने मुद्दा बना लिया है। टीएमसी सांसद महुआ मोइत्री ने लिखा है सरकार अपनी नीयत बदले या एड एजेंसी।

विज्ञापन को लेकर लोग जहां सरकार की चुटकी ले रहे हैं, वहीं सोशलमीडिया पर विदेश की तस्वीरें डाल कर लिख रहे हैं कि उत्तर प्रदेश बदल रहा है। लोग बता रहे हैं कि देखिए हमारा गांव कितना बदल गया है। सरकार की खूब चुटकी ली जा रहीं है। विज्ञापन को लेकर चैतरफा हमले से घिरी सरकार मुंह छुपा रही है उसके पास कोई जवाब नहीं  है। वैसे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और योगी में राजनीतिक लिहाज से छत्तीस का आंकड़ा है। बंगाल में संपन्न हुए चुनाव में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विजय हासिल कर मोदी एंड शाह टीम को धूल चटाई है, लेकिन कोलकाता में दीदी का विकास मॉडल योगी बाबा को कैसे भा गया यह समझ नहीं आ रहा। यह कैसा खेला होबै है।

सोशलमीडिया यूजर्स इंस्टाग्राम, फेसबुक,ट्विटर पर विदेशी तस्वीरें लगाकर सरकार के विकास मॉडल को ट्रोल कर रहे हैं। सोशलमीडिया प्लेटफॉर्म पर इस तरह की पोस्ट पर काफी कमेंट आ रहे हैं। सरकार के बचाव में भाजपा ने कई तर्क दिए हैं। सवाल उठता है इस विज्ञापन को लेकर कहां गलती हुई। सरकार की सहमति से यह सब खेल हुआ या फिर इंडियन एक्सप्रेस के विज्ञापन विभाग की तरफ से। विज्ञापन को सरकार को बताए बिना छाप दिया गया। यह भी हो सकता है कि विज्ञापन का संदेश समाज में सकारात्मक जाए जिसकी वजह से अखबार ने इस तरह का विज्ञापन जारी कर दिया। यह भी हो सकता है कि विज्ञापन फाइनल करने से पूर्व सरकार से अनुमति नहीं ली गई हो।

इंडियन एक्सप्रेस ने माफी भी मांगी है। अखबार की तरफ से कहा गया है कि उत्तर प्रदेश के विज्ञापन में भूल से गलत तस्वीर प्रकाशित हुई है। सभी डिजिटल संस्थान से यह तस्वीर हटा दी गईं है लेकिन सवाल उठता है कि इतनी बड़ी भूल इतने बड़े मीडिया संस्थान से कैसे हो सकती है। विज्ञापन सरकार की नीति और योजनाओं से जुड़ा है । अखबार का विज्ञापन विभाग अपने मन से ऐसी तस्वीर नहीं छाप सकता है। उत्तर प्रदेश सरकार को बगैर बताए उसने ऐसा छापा है तो निश्चित रूप से संस्थान की यह बड़ी भूल है। गलती अखबार की तरफ से की गई है लेकिन, इसका खामियाजा सरकार भुगत रही है। सवाल उठता है कि विकास के बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं क्या विज्ञापन के लिए प्रदेश में ऐसा कोई कार्य नहीं हुआ जिसका उपयोग विज्ञापन में किया जाता। फिलहाल यह मानवीय भूल है विपक्ष को बेवजह इस मसले को तूल नहीं देना चाहिए था। उसे जमीनी मुद्दों पर सरकार को घेरना चाहिए।

शनिवार, 4 सितंबर 2021

सीएम के विधानसभा पहुंचने का रास्ता साफ हुआ

मिनाक्षी लोढी         
कोलकाता। प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विधानसभा पहुंचने का रास्ता साफ हो गया है। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की खाली पड़ी विधान सभा सीटों में से तीन और ओडिशा की एक सीट पर 30 सितंबर को उपचुनाव कराने का ऐलान किया है। बंगाल में भवानीपुर, शमशेरगंज और जंगीपुर सीटों पर उपचुनाव होंगे। वहीं, ओडिशा की पीपली सीट पर भी उपचुनाव कराया जा रहा है। इन सीटों पर आज से ही चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है।


सीएम की मूर्ति लगाने का फैसला, विवाद शुरू हुआ

मिनाक्षी लोढी
कोलकाता। पश्चिम बंगाल में नया विवाद शुरू हो गया है। यह विवाद पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में बागुईहाटी क्षेत्र के नज़रूल पार्क उन्नयन समिति द्वारा देवी दुर्गा के साथ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मूर्ति लगाने के फैसले के बाद शुरू हुआ है। इस मुद्दे को लेकर बीजेपी नेता अर्जुन सिंह ने कहा है कि भारतीय इतिहास में जिस भी राजनेता ने अपना आदर्श बनाया है, उसे विनाश का सामना करना पड़ा है।
यह आज तक का इतिहास है। मायावती हो या दक्षिण के बड़े राजनेता, जिस भी राजनेता की पूजा की गई है, वे विनाश की ओर ले गए हैं। वहीं दुर्गा पूजा की तैयारी में जुटे मशहूर क्ले मॉडलर मिंटू पाल अपने कुमारतुली स्टूडियो में फाइबरग्लास की मूर्ति बना रही हैं। मिंटू पल ने कहा कि यह विचार कोलकाता में होने वाली थीम पूजा से आया है, इसलिए थीम पूजा के समय सभी क्लब चाहते हैं कि क्लब आगे बढ़े और कुछ नया दिखाए।

शुक्रवार, 3 सितंबर 2021

जांच कर रहे अधिकारियों को तलब किया जाएगा

मिनाक्षी लोढी         
कोलकाता। बता दें कि सुजय दास सोनारपुर में एक बीजेपी नेता की हत्या के मामले में जांच अधिकारी हैं। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक इस बार हर मामले की जांच कर रहे राज्य अधिकारियों को चरणबद्ध तरीके से तलब किया जाएगा। राज्य के जांच अधिकारियों से चुनाव के बाद हुई हिंसा के मामलों पर कई अहम जानकारियां हासिल की जा सकती है। सीबीआई किसको गिरफ्तार किया गया, किसे गिरफ्तार नहीं किया गया। उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया। राज्य के जांच अधिकारियों से राज्य पुलिस के हाथ में क्या सबूत आए, इसका ब्योरा जानना चाहती है।
बता दें कि सीबीआई टीम सबसे पहले हिंसा में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ता अभिजीत सरकार के घर जाकर उसके भाई से मिली थीं और बाद में उन्हें अपने साथ बयान दर्ज करवाने के लिए निजाम पैलेस ले गई थी। अभिजीत सरकार की इसी साल बंगाल चुनाव के नतीजों के बाद 2 मई को बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। अभिजीत सरकार के बड़े भाई विश्वजीत सरकार ने सीबीआई कार्यालय पहुंच कर कई सबूत सीबीआई अधिकारियों को दिए थे। परिवार का आरोप था कि कोलकाता पुलिस उनकी एफआईआर तक नहीं दर्ज कर रही थी। कोलकाता हाईकोर्ट के आदेश के बाद अभिजीत के शव का दोबारा पोस्टमॉर्टम कराया गया था। बाद में कोलकाता हाईकोर्ट के आदेश पर ही डीएनए टेस्ट भी कराया गया था। प्रदेश के अधिकारियों की मदद के लिए दिल्ली से टीमें भेजी गई हैं और मुख्यालय के कई अधिकारी कोलकाता में मौजूद हैं और विधानसभा चुनाव के बाद जिस जिले में भी हिंसा की खबर है वहां सीबीआई की टीम गई है और अभी तक उसने कुल 34 एफआईआर दर्ज किए हैं। इसमें हत्या के मामले हैं और हत्या का प्रयास व बलात्कार के मामले भी हैं। इससे पहले हाल के दिनों में सीबीआई की ऐसी सक्रियता और इतने बड़े पैमाने का अभियान देखने को नहीं मिला था।

सोमवार, 30 अगस्त 2021

तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए विधायक तन्मय घोष

मिनाक्षी लोढी       

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में बिष्णुपुर के विधायक तन्मय घोष सोमवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए। उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रतिशोध की राजनीति में लिप्त है। पत्रकारों से बात करते हुए घोष ने दावा किया कि भाजपा पश्चिम बंगाल के लोगों के बीच अराजकता फैलाने का प्रयास कर रही है। जिसके कारण वह टीएमसी में शामिल हो गए।

उन्होंने कहा, ”मैं सभी से पश्चिम बंगाल के कल्याण के लिए टीएमसी में शामिल होने का आग्रह करता हूं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के हाथों को मजबूत करने की जरूरत है।” घोष ने आरोप लगाया कि भाजपा प्रतिशोध की राजनीति कर रही है और राज्य में अराजकता फैलाने की कोशिश कर रही है। घोष पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले मार्च में टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। इससे पहले, घोष टीएमसी की युवा इकाई के बांकुड़ा जिले के बिष्णुपुर शहर के अध्यक्ष और स्थानीय नगर निकाय के पार्षद भी थे।

रविवार, 29 अगस्त 2021

हिंसा के केस में ब्यूरो ने 2 आरोपियों को अरेस्ट किया

कोलकता। पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हुए बड़े पैमाने पर हिंसा के केस में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया। इस केस में सीबीआई ने अब तक 21 केस दर्ज किए हैं। 15 अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी भी की गई। सीबीआई को कलकत्ता हाई कोर्ट ने जांच करने के आदेश दिए हैं। बंगाल में इस साल मई में चुनाव के नतीजे आने के बाद बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी। कहा जा रहा है कि तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद कई महिलाओं ने रेप और हत्या के आरोप लगाए थे। सीबीआई ने नादिया जिले में भाजपा समर्थक धर्म मंडल पर हुए कथित हमले के सिलसिले में सीबीआई ने शनिवार को दो लोगों को गिरफ्तार किया है। सीबीआई के मुताबिक दो आरोपी- बिजॉय घोष और असीम घोष-को जांच एजेंसी ने गिरफ्तारी से पहले कुछ समय के लिए हिरासत में लिया था।


शनिवार, 28 अगस्त 2021

विश्वविद्यालय के प्राध्यापक के खिलाफ मामला दर्ज

कोलकाता। सोशल मीडिया पर कथित तौर पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जान से मारने की धमकी देने के लिए कलकत्ता विश्वविद्यालय के एक प्राध्यापक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शनिवार को बताया कि यह मामला पीएचडी शोधार्थी तमाल दत्ता द्वारा की गई शिकायत के आधार पर हरे स्ट्रीट पुलिस थाने ने जंतु विज्ञान विभाग के प्राध्यापक अरिंदम भट्टाचार्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
पुलिस संयुक्त आयुक्त (अपराध) मुरलीधर शर्मा ने बताया कि भट्टाचार्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (भादंसं) की धारा 505 (1बी) (जनता को डराने या चिंतित करने की मंशा), 506 (जान से मारने या गंभीर चोट पहुंचाने की धमकी) और 120बी (आपराधिक षड्यंत्र रचने) के तहत मामला दर्ज किया गया है।
पुलिस ने बताया कि प्राध्यापक को फिलहाल हिरासत में नहीं लिया जा सका है। भट्टाचार्य से संपर्क करने पर उन्होंने बताया कि मैंने मुख्यमंत्री के खिलाफ किसी तरह की टिप्पणी नहीं की। शिकायतकर्ता तृणमूल कांग्रेस का समर्थक है। मैं पुलिस के कदम उठाने की प्रतीक्षा कर रहा हूं और उसके बाद ही इस पर कानूनी सलाह लूंगा।
तृणमूल कांग्रेस समर्थित पश्चिम बंगाल कॉलेज एवं विश्वविद्यालय प्राध्यापक संगठन ने भट्टाचार्य की सोशल मीडिया पोस्टों की निंदा की है। अप्रैल 2012 में, यादवपुर विश्वविद्यालय के रसायन शास्त्र के प्राध्यापक अंबिकेश महापात्रा को मुख्यमंत्री का मजाक उड़ाते हुए एक कार्टून कथित रूप से लोगों को भेजने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।


गुरुवार, 26 अगस्त 2021

जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन पर 3 को गिरफ्तार किया

मालदा। पश्चिम बंगाल पुलिस के एक विशेष कार्य बल (एसटीएफ) और राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन पर एक ट्रेन से तीन लोगों को गिरफ्तार किया और उनके पास से 19 करोड़ रुपए मूल्य की हेरोइन जब्त की।
एसटीएफ द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में बताया गया कि एसटीएफ और जीआरपी ने बुधवार को डिब्रूगढ़-नयी दिल्ली स्पेशल राजधानी ट्रेन के एक डिब्बे में छापा मारकर मणिपुर निवासी तीन लोगों को गिरफ्तार किया और उनके पास से 3.8 किलोग्राम हेरोइन जब्त की।
उन्होंने बताया कि जब्त की गई हेरोइन की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 19 करोड़ रुपये है और आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। विज्ञप्ति में बताया गया कि इस बीच, एक अन्य अभियान में एसटीएफ ने हथियारों का व्यापार करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया और उनके पास से 50 कारतूस और 49,000 रुपये नकद जब्त किए गए।

गुरुवार, 19 अगस्त 2021

चाय पर आमंत्रण के बाद से सियासी अटकलें तेज

मिनाक्षी लोढी      

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष को राज्य सचिवालय में चाय पर आमंत्रण के बाद से सियासी अटकलें तेज हो गई हैं। इस आमंत्रण के बाद राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि ममता बनर्जी बंगाल में भाजपा को बांटने की कोशिश में लग गई हैं।  बता दें कि इससे पहले भाजपा के बड़े नेता मुकुल रॉय की टीएमसी में घर वापसी हुई था।

दरअसल, राजभवन में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आयोजित चाय पार्टी में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ भाजपा नेता दिलीप घोष, तथागत रॉय और विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी भी मौजूद थे। सूत्रों के अनुसार इसी दौरान मुख्यमंत्री ने दिलीप घोष को राज्य सचिवालय में चाय पर आमंत्रण दिया। इतना ही नहीं ममता ने उन्हें काली पूजा में आने का भी न्यौता दिया। वहीं दिलीप घोष द्वारा आमंत्रण स्वीकार करने के बाद से बंगाल भाजपा में भी इस बात की खूब चर्चा हो रही है।

बता दें कि वर्ष 2019 के बाद से बंगाल में भाजपा को मिली सफलता से ममता बनर्जी को बड़ा झटका लगा है। यहां तक कि विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल के कई नेता भाजपा में शामिल हो गए थे जिसके बाद से ही ममता बनर्जी को लगने लगा कि भाजपा बंगाल में उन्हें चुनौती दे रही है। हालांकि विधानसभा चुनाव में मिली जीत से उन्हें थोड़ी राहत जरूर मिली लेकिन अभी भी वह भाजपा को हल्के में लेना नहीं चाहती हैं। इसलिए अब उनकी नजर बंगाल भाजपा के बड़े नेताओं पर है।

बताया जा रहा है कि दिलीप घोष के समर्थक उन्हें बंगाल में भाजपा को फिर से जीवंत करने का श्रेय देते हैं और अधिकारी को विपक्ष का नेता नियुक्त किए जाने से नाराज हैं।  सूत्रों का कहना है कि इस बात से दिलीप घोष भी पार्टी से नाराज चल रहे हैं। गौरतलब है कि इससे पहले वर्ष 2014 में ममता बनर्जी ने वाममोर्चा के चेयरमैन बिमान बोस समेत वामो के कुछ नेताओं को राज्य सचिवालय में चाय पर बुलाया था। जहां वाम दल को नेताओं ने ममता के साथ बैठ कर चाय और फिश फ्राई का लुफ्त उठाया था।

चुनाव के बाद हुए हिंसा की जांच करेगी सीबीआई

मिनाक्षी लोढी        
कोलकाता। बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हुए हिंसा की जांच सीबीआई करेगी। कलकत्ता हाईकोर्ट की पांच जजों की खंडपीठ ने बृहस्पतिवार को मामले की सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। इसके अलावा अन्य मामलों की कोर्ट की निगरानी में एसआइटी जांच करेगी। इसके साथ ही हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को पीडि़तों को मुआवजा देने का भी निर्देश दिया है।
कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल, न्यायमूर्ति हरीश टंडन, न्यायमूर्ति इंद्रप्रसन्न मुखर्जी, न्यायमूर्ति सौमेन सेन और न्यायमूर्ति सुब्रत तालुकदार की बड़ी पीठ ने फैसला सुनाया।
फैसले में कहा गया है कि चुनाव बाद हिंसा की जांच सीबीआइ करेगी। अस्वाभाविक मृत्यु, हत्या और दुष्कर्म सहित अन्य अधिक महत्व के अपराध के मामलों की जांच सीबीआइ करेगी, जबकि अपेक्षाकृत कम महत्वपूर्ण मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय सिट का गठन किया गया है। जांच कमेटी अपनी रिपोर्ट हाईकोर्ट को देगी। इसकी निगरानी सुप्रीम कोर्ट के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश करेंगे।
उल्लेखनीय है कि इस संबंध में कई याचिकाओं पर हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। उच्च न्यायालय ने 18 जून को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को मामले में आरोपों की जांच के लिए एक समिति गठित करने का निर्देश दिया था। आयोग ने 13 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सौंपी। रिपोर्ट में राज्य सरकार, पुलिस और प्रशासन की तीखी आलोचना की गई है। इसके जवाब में सरकार ने रिपोर्ट को झूठा और पक्षपाती बताते हुए खारिज कर दिया। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) द्वारा गठित समिति ने मतदान के नतीजों के बाद राजनीतिक हिंसा के कई मामलों की जांच सीबीआइ को सौंपे जाने की सिफारिश की थी।
मालूम हो कि आयोग ने हाई कोर्ट के आदेश के बाद चुनाव के बाद की हिंसा के आरोपों की सत्यता की जांच के लिए एक पैनल का गठन किया था। दो मई को विधानसभा परिणामों की घोषणा के बाद, पश्चिम बंगाल के कई शहरों में चुनाव के बाद हिंसा की घटनाएं हुईं थी।

गुरुवार, 12 अगस्त 2021

ट्विटर अकाउंट पर ब्लॉक करने की निंदा की: कांग्रेस

मिनाक्षी लोढी                      
कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने कांग्रेस का आधिकारिक ट्विटर अकाउंट कथित तौर पर ब्लॉक करने की बृहस्पतिवार को निंदा करते हुए सवाल किया कि क्या इसका संबंध भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राजनीति और नीतियों का विरोध करने से है। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि उसके और उसके कई नेताओं के ट्विटर अकाउंट को इस माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ने लॉक कर दिया है।
टीएमसी के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ’ब्रायन ने ट्वीट किया, ”ट्विटर और ट्विटर इंडिया, क्या चल रहा है? हम कांग्रेस और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के अकाउंट को ब्लॉक करने की कड़ी निंदा करते हैं।” टीएमसी की पश्चिम बंगाल इकाई के सचिव कुणाल घोष ने कहा कि यह खतरनाक प्रवृत्ति है।
उन्होंने कहा, ”इसका मतलब है कि अब से भाजपा सोशल मीडिया मंचों को भी नियंत्रित करेगी। वे यह भी तय करेंगे कि कौन ट्वीट कर सकता है और कौन नहीं। यह देखना होगा कि क्या कांग्रेस के ट्विटर हैंडल को ब्लॉक करने का संबंध भाजपा की राजनीति और उसकी नीतियों के उसके विरोध से है।”
कांग्रेस के सोशल मीडिया विभाग के प्रमुख रोहन गुप्ता ने कहा कि पार्टी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट और उसके शीर्ष नेताओं तथा कार्यकर्ताओं के करीब 5,000 अकाउंट इस माइक्रोब्लॉगिंग साइट ने ब्लॉक कर दिए हैं। कांग्रेस का कहना है कि उसके संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, महासचिव अजय माकन, जितेंद्र सिंह, सांसद मणिकम टैगोर, महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव और कई अन्य नेताओं के ट्विटर अकाउंट लॉक किये गए हैं।
गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही दिल्ली में कथित दुष्कर्म एवं हत्या की पीड़िता नौ वर्षीय बच्ची के माता-पिता से मुलाकात की तस्वीर साझा करने को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट लॉक किया गया था।

सोमवार, 9 अगस्त 2021

त्रिपुरा में भतीजे अभिषेक के काफिले पर हमला

मिनाक्षी लोढी                                      
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह पर तंज कसते हुए कहा कि त्रिपुरा में उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी के काफिले पर हुआ हमला। गृह मंत्री अमित शाह के सक्रिय समर्थन के बिना नहीं किया जा सकता। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि जहां भी भाजपा की सत्ता है। वहां पर अराजकता का शासन है।
पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के काफिले पर त्रिपुरा में हमला हुआ था, इस हमले के पीछे ममता ने गृहमंत्री अमित शाह को जिम्मेदार ठहराया है। त्रिपुरा में हुई वारदात में घायल टीमएसी कार्यकर्ताओं से कोलकाता में मुलाकात के दौरान ममता बनर्जी ने कहा कि जहां भी भारतीय जनता पार्टी को सत्ता मिली है, वहां अराजकता का शासन है। इस दौरान उन्होंन कहा कि हम अभिषेक बनर्जी और दल के कार्यकर्ताओं पर त्रिपुरा में हुए हमले को लेकर निंदा करते हैं। ममता ने कहा कि इस हमले के दौरान जया एवं सुदीप घायल हुए, वह दोनों छात्र हैं। उनके सिर पर भी चोटें आई हैं। उन्होंने कहा कि यह हमला तब हुआ जब वहां पुलिस बल मौजूद था। वहां मौजूदा पुलिस ने भी उनके चोट आने के पश्चात उनकी चिकित्सा कराने के बजाय उन्हें ही हिरासत में ले लिया। ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि मैं इन हिंसक घटनाओं के पश्चात पीछे नहीं हटूंगी। उन्होंने कहा कि जहां भी भाजपा का शासन है वहां पर टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर हमला किया जा रहा है। 
हमले होने के पश्चात पुलिस ने कोई रिएक्शन न लेकर टीएमसी के कार्यकर्ताओं को ही अपनी गिरफ्त में ले लेती है। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा के मुख्यमंत्री में इतनी ताकत नहीं है। जो वह ऐसे हमले करा सकें। उन्होंने कहा कि यह हमले गृहमंत्री अमित शाह के सक्रिय समर्थन के बिना नहीं किये जा सकते।

बुधवार, 4 अगस्त 2021

स्वास्थ्य विभाग ने पूरे राज्य में निगरानी को बढ़ाया

मिनाक्षी लोढी                            
कोलकाता। कोविड-19 रोधी टीके की दोनों खुराक लेने के बाद भी लोगों के संक्रमित होने की खबरों के बीच पश्चिम बंगाल स्वास्थ्य विभाग ने पूरे राज्य में निगरानी को बढ़ाने और ऐसे लोगों के जीनोम अनुक्रमण का निर्णय किया है। एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि विभाग ऐसे मरीजों के जीनोम अनुक्रमण की योजना बना रहा है ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या उनके कोरोना वायरस ‘स्ट्रेन’ में कोई आनुवंशिक बदलाव हुआ है। 
अधिकारी के अनुसार, इस तरह के अनुक्रमण का निर्णय वैश्विक महामारी की संभावित तीसरी लहर के बारे में विशेषज्ञों की चेतावनियों को ध्यान में रखते हुए किया गया। अधिकारी ने कहा, ” जीनोम अनुक्रमण परीक्षण उन लोगों पर किया जाना चाहिए, जो पूरी तरह से टीकाकरण के बाद भी संक्रमण की चपेट में आ गए।
प्राथमिक उद्देश्य यह पता लगाने का है कि क्या टीके ने वायरस के खिलाफ काम किया है या यह उत्परिवर्तित हो गया है।” उन्होंने बताया कि राज्य के उत्तरी जिलों में जिला प्रशासन ने जीनोम अनुक्रमण करने का निर्णय किया है, जहां पूर्ण टीकाकरण के बाद लोगों के संक्रमित होने के मामले सामने आए हैं।

मंगलवार, 3 अगस्त 2021

बंगाल में दीवार गिरने व करंट लगने से 14 की मौंत

मिनाक्षी लोढी           

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में दीवार गिरने और करंट लगने से कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई। वहीं, दामोदर घाटी निगम बांधों से पानी छोड़े जाने के बाद पानी सड़कों और घरों में भर जाने से राज्य के छह जिलों के कम से कम 2.5 लाख लोग विस्थापित हो गए। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने विस्थापितों के लिए आश्रय स्थल बनाए हैं। बाढ़ प्रभावित इलाकों में पिछले एक सप्ताह से राहत अभियान चल रहा है। पूर्व वर्द्धमान,पश्चिम वर्द्धमान,पश्चिम मेदिनीपुर,हुगली, हावड़ा और दक्षिण 24 परगना जिले के अनेक स्थानों में कमर तक पानी भरा हुआ है। जिससे लोगों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

अधिकारी के मुताबिक एक लाख से अधिक तिरपाल, एक हजार मीट्रिक टन चावल, पानी के हजारों पाउच और साफ कपड़े आश्रय गृह भेजे गए हैं। उन्होंने कहा,” हम बाढ़ के कारण जान गंवाने वाले सभी 14 लोगों के बारे में जानकारियां जुटा रहे हैं। हमें जिला प्रशासन से अंतिम रिपोर्ट मिलने का इंतजार है।” सेना और वायु सेना ने सोमवार को हुगली जिले में बचाव अभियान चलाया,जहां नदियां तटों को तोड़ते हुए बह रही हैं, जिससे गांवों में बाढ़ आ गई है।


गुरुवार, 29 जुलाई 2021

संसदीय समिति गठित करने की विपक्ष की मांग

मिनाक्षी लोढी        
कोलकाता। शिवसेना ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पेगासस जासूस कांड की पड़ताल के लिए जांच आयोग गठित करने के फैसले की बृहस्पतिवार को सराहना की और कहा कि बनर्जी ने जो किया वह दरअसल केन्द्र सरकार को करना चाहिए था। शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के सम्पादकीय में जासूसी कांड की विस्तृत जांच के लिए एक संयुक्त संसदीय समिति गठित करने की विपक्ष की मांग पर ध्यान नहीं देने पर केन्द्र की आलोचना की।
मराठी समाचार पत्र में कहा गया, यह काफी रहस्यपूर्ण बात है कि दो केन्द्रीय मंत्रियों, कुछ सांसदों, उच्चतम न्यायालय और सशस्त्र बलों के वरिष्ठ अधिकारियों तथा पत्रकारों की कथित फोन टैपिंग के मामले को केन्द्र उतनी गंभीरता से नहीं ले रहा, जितना यह वास्तव में है। बनर्जी ने सोमवार को कहा था कि उनकी सरकार ने इज़राइल के स्पाईवेयर पेगासस से राजनेताओं, अधिकारियों और पत्रकारों की जासूसी के आरोपों की जांच के लिए दो सदस्यीय आयोग का गठन किया है।सामना के सम्पादकीय में ममता बनर्जी के इस कदम की सराहना करते हुए कहा गया, ”देश के लोग ‘पेगासस’ को केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई), प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), आयकर की एक और संबद्ध शाखा के रूप में देखेंगे। बनर्जी का कदम साहसिक है। उन्होंने एक न्यायिक आयोग का गठन किया और जासूसी मामले की जांच शुरू की। उन्होंने वह किया जो केन्द्र को करना चाहिए था।”
इसमें कहा गया कि मुख्यमंत्रियों को अपने राज्यों के नागरिकों के अधिकारों और लोगों की स्वतंत्रता की रक्षा करनी चाहिए और बनर्जी ने इस संबंध में ”सभी को जागरूक” करने का काम किया है। सम्पादकीय में कहा गया कि जासूसी कांड के लिए जांच आयोग का गठन कर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने केन्द्र को एक झटका दिया है। शिवसेना ने उल्लेख किया कि फ्रांसीसी सरकार ने फ्रांस में वरिष्ठ अधिकारियों की ‘पेगासस’ द्वारा जासूसी के आरोपों की जांच शुरू कर दी है। उन्होंने पूछा, ” अगर फ्रांस कर सकता है, जो भारत सरकार क्यों नहीं?”

ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा था, ” हमें उम्मीद थी कि केन्द्र हैकिंग मामले में एक जांच आयोग का गठन करेगा या अदालत की निगरानी में जांच का आदेश दिया जाएगा। लेकिन केन्द्र सरकार बेकार बैठी है… इसलिए हमने इस मामले की जांच के लिए एक जांच आयोग बनाने का फैसला किया। पश्चिम बंगाल इस मामले में कदम उठाने वाला पहला राज्य है।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह कुछ मीडिया संगठनों के अंतरराष्ट्रीय समूह ने कहा था कि भारत में पेगासस स्पाइवेयर के जरिए 300 से अधिक मोबाइल नंबरों की कथित निगरानी की गयी। इसमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, केन्द्रीय मंत्रियों प्रह्लाद पटेल तथा अश्विनी वैष्णव और 40 से अधिक पत्रकारों, तीन विपक्षी नेताओं के अलावा अनेक कार्यकर्ताओं के नंबर भी थे। सरकार हालांकि इस मामले में विपक्ष के सभी आरोपों को खारिज करती रही है।

बुधवार, 28 जुलाई 2021

बंगाल: सीएम ममता की सोनिया गांधी से मुलाकात

मिनाक्षी लोढी
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। सूत्रों ने बताया कि ममता ने सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ पहुंचकर उनसे मुलाकात की। ममता ने इससे पहले मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं कमलनाथ, अभिषेक मनु सिंघवी और आनंद शर्मा से मुलाकात की थी।
कहा जा रहा है कि तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी भूमिका निभाने की तैयारी में हैं। पश्चिम बंगाल में लगातार तीसरी बार सत्ता पर काबिज होने वाली ममता बनर्जी का विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज करने के बाद यह पहला दिल्ली दौरा है।कहा जा रहा है कि तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी भूमिका निभाने की तैयारी में हैं। पश्चिम बंगाल में लगातार तीसरी बार सत्ता पर काबिज होने वाली ममता बनर्जी का विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज करने के बाद यह पहला दिल्ली दौरा है।

राजनीति: चेहरा बनाएं जाने के मुद्दे पर प्रतिक्रिया दी

मिनाक्षी लोढी        
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी को रोकने के लिए विपक्ष का चेहरा बनाए जाने के मुद्दे पर बुधवार को मिलीजुली प्रतिक्रिया दी और कहा कि यह सब परिस्थितियों पर निर्भर करेगा। नेतृत्व के मुद्दे पर उन्होंने कहा, “मैं बिल्ली के गले में घंटी बांधने में सभी विपक्षी दलों की सहायता करना चाहती हूं। 
मैं नेता नहीं, बल्कि आम कार्यकर्ता बनना बनर्जी ने मंगलवार को कहा था कि विपक्षी दलों की एकता अपने आप आकार लेगी। विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कराने के बाद पहली बार राष्ट्रीय राजधानी आईं बनर्जी ने बुधवार को कहा, “मैं एक साधारण कार्यकर्ता हूं और इसी तरह काम करना चाहती हूं।” उन्होंने भाजपा के चुनावी नारे पर कटाक्ष करते हुए कहा, “मैं सच्चा दिन देखना चाहती हूं, बहुत दिन अच्छे दिन देख लिये।” हूं।”पेगासस के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि स्थिति आपातकाल से भी ज्यादा गंभीर है और केंद्र सरकार जवाब नहीं दे रही। तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष बनर्जी ने कहा, “सभी जगह वे प्रवर्तन निदेशालय आयकर विभाग को छापा मारने के लिए भेज रहे हैं। यहां कोई जवाब नहीं दे रहा है। लोकतंत्र में सरकार को जवाब देना चाहिए। स्थिति बेहद गंभीर है, यह आपातकाल से भी ज्यादा गंभीर है।”
बनर्जी से यहां संवाददाताओं ने पूछा कि क्या वह विपक्ष का चेहरा बनना चाहती हैं। जिसके जवाब में उन्होंने कहा, “मैं कोई राजनीतिक भविष्यवक्ता नहीं हूं। यह परिस्थिति, सरंचना पर निर्भर करता है। अगर कोई और नेतृत्व करता है तो मुझे कोई समस्या नहीं। जब इस मुद्दे पर चर्चा होगी। तब हम निर्णय ले सकते है। मैं अपना निर्णय किसी पर थोप नहीं सकती।”

रविवार, 25 जुलाई 2021

केष्टोपुर मेंआग लगने से 30 दुकानें जलकर खाक

कोलकाता। कोलकाता के उत्तरी हिस्से में केष्टोपुर में शनिवार देर रात आग लगने से करीब 30 दुकानें जलकर खाक हो गईं और एक व्यक्ति झुलस गया। दमकल विभाग के सूत्रों ने बताया कि आग देर रात करीब दो बजे लगी और दमकल की 15 गाड़ियों ने तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग को बुझाया।
सूत्रों ने बताया कि एक स्थानीय निवासी बचने की कोशिश में झुलस गया और उसकी हालत गंभीर है। उन्होंने बताया कि आग केष्टोपुर में सतरूपा पल्ली में सड़क किनारे बनी फर्नीचर की एक दुकान में लगी और उसे झोपड़ियों में बनी नजदीक की दुकानों तक फैलने में वक्त नहीं लगा।घटना के बारे में सुनकर दमकल सेवा मंत्री सुजित बोस घटनास्थल पर पहुंचे और अग्निशमन अभियान की निगरानी की। बोस ने स्थानीय लोगों के उन आरोपों से इनकार किया कि दमकलकर्मी देर से पहुंचे और कहा कि दमकलकर्मियों के फौरन हरकत में आने से एक बड़ा हादसा होते-होते बच गया।
स्थानीय विधायक अदिति मुन्सी भी घटनास्थल पर पहुंचीं और उन्होंने प्रभावित परिवारों से बात की। दमकल सूत्रों ने बताया कि ऐसा माना जा रहा है कि दुकान में एलपीजी सिलेंडर में विस्फोट होने से आग लगी और ज्वलनशील सामग्री रखी होने के कारण आग दूसरी दुकानों तक फैल गई।

शनिवार, 24 जुलाई 2021

चुनाव में जीत के बाद सीएम के हौसले बुलंद हुए

अकांशु उपाध्याय       

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में जीत के बाद सीएम ममता बनर्जी के हौसले बुलंद हैं। अब वो बंगाल से बाहर निकल राष्ट्रीय स्तर पर बीजेपी को चुनौती देने की तैयारी में हैं। उस सिलसिले में वो 26 जुलाई से पांच दिन के दौरे पर दिल्ली में होगी। खास बात यह है कि 28 जुलाई को होने वाली बैठक में उन्होंने कांग्रेस, एनसीपी, एसपी और आरजेडी को न्योता भेजा 

दिल्ली आने से पहले ममता बनर्जी ने सभी दलों से अपील करते हुए कहा कि बीजेपी को हराने के लिए एक होना पड़ेगा। सभी विपक्षी दलों को अपने मतभेदों को भुलाना होगा। लेकिन अहम सवाल यह है कि क्या वो बीजेपी के खिलाफ विकल्प तैयार कर सकेंगी। 

सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...