मंगलवार, 19 नवंबर 2019

'मैडोना' ने खुद बताया पेशाब पीने का फायदा

न्यूयॉर्क। सिंगर मैडोना ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में सिंगर आइस बाथ लेते और उसके बाद एक कप यूरिन पीते दिख रही हैं। मैडोना ने 17 नवंबर, रविवार को इस वीडियो को पोस्ट किया। मैडोना फिलहाल म्यूजिकल ईवेंट के लिए 'मैडम एक्स टूर' पर हैं. वीडियो शेयर करते हुए सिंगर ने लिखा। क्या हम आइस बाथ चैलेंज शुरू कर सकते हैं? 41 डिग्री, चोट का सबसे अच्छा इलाज।” वीडियों में उन्हें परफॉर्मर अहलमलिक विलियम्स के साथ होटल के बाथरूम में देखा जा सकता है।


वीडियो में आइस बाथ टब से निकलने के बाद पहले वह अपने मोजे निकालती हैं और इसके बाद एक सफेद कप में एक पीले रंग का द्रव्य पदार्थ को पीते नजर आती हैं, जो उनकी इस ट्रीटमेंट का एक हिस्सा है। वो कहती हैं, “बर्फीले पानी से निकलने के बाद यूरिन पीना वाकई बेहद अच्छा है।” सोशल मीडिया पर सिंगर का ये वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.हालांकि, ये पहली बार नहीं है, जब मैडोना ने एक मेडिकल ट्रीटमेंट के तौर पर यूरिन का इस्तेमाल किया है। इससे पहले भी पैरों में घाव से ठीक करने के लिए यूरिन का इस्तेमाल कर चुकी हैं।


अमेठी में इंदिरा गांधी प्राइज मनी 'मैराथन'

अमेठी। 35वीं अखिल भारतीय इंदिरा गांधी प्राइजमनी मैराथन को अमेठी के राहुल कुमार पॉल ने जीत लिया है। उन्‍होंने मैराथन को 2:28:36 में मैराथन जीती। यानी दो घंटा, 28 मिनट और 36 सेकेंड में पूरी की। वहीं गाजीपुर के हरेंद्र चौहान दूसरे स्‍थान पर और आर्मी पुणे के हेतराम को तीसरा स्‍थान मिला है। सीएमपी डिग्री कॉलेज यानी मैराथन समाप्‍त होने के करीब दो किमी पहले तक आर्मी पुणे के हेतराम सबसे आगे चल रहे हैं। दूसरे पर अमेठी के राहुल कुमार पाल और तीसरे पर गाजीपुर के हरेंद्र चौहान थे। हालांकि इसके बाद अमेठी के राहुल कुमार पॉल हनुमान मंदिर तक आगे हो चुके थे। और उनके पीछे गाजीपुर के हरेंद्र और सबसे पीछे सेना पुणे के हेतराम तीसरे स्‍थान पर पहुंच चुके थे।


पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की जन्मतिथि पर आज यानी मंगलवार को 35वीं मैराथन शुरू हुई। सुबह साढ़े छह बजे प्रदेश सरकार के खेलमंत्री उपेंद्र तिवारी ने हरी झंडी दिखाकर मैराथन का शुभारंभ किया। 222 पुरुष और 41 महिला धावक निर्धारित रूट पर दौड़ रहे हैं। इस बार इंदिरा मैराथन की थीम 'रन फॉर ग्रीन प्रयाग' है।


एनजीटी के नियमों के विरुद्ध दो गिरफ्तार

एनजीटी के नियमों का उल्लंघन करने पर 02 लोगों को गिरफ्तार किया गया।


गौतमबुध नगर। एनजीटी के नियमों का  उल्लंघन  करने पर जिलाधिकारी बीएन सिंह के निर्देशों के अनुपालन में नगर मजिस्ट्रेट नोएडा शैलेंद्र कुमार मिश्र के द्वारा आज हरौला सेक्टर 4 नोएडा मे एनजीटी के नियमों का उल्लंघन करने पर खुले में बिल्डिंग मैटेरियल विक्रय होता पाए जाने पर थाना सेक्टर 20 नोएडा में एफ आई आर दर्ज कराते हुए असलम व राजाराम को गिरफ्तार किया गया।


उन्होंने बताया कि चलाए गए अभियान में पुलिस विभाग के अधिकारी गण, प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारी गण एवं प्रशासन के द्वारा संयुक्त रूप से यह कार्यवाही सुनिश्चित की गई है। नगर मजिस्ट्रेट नोएडा ने कहा कि आगे भी इसी प्रकार से कार्रवाई जारी रहेगी ताकि जनपद में एनजीटी  के नियमों का पालन सुनिश्चित कराया जा सके। जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


जनता के प्रति समर्पित कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी

अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। लोनी क्षेत्र में प्रदूषण की समस्या को ध्यान में रखते हुए अधिकारी शक्ति में आ गए। क्षेत्र में प्रदूषण बढ़ता ही जा रहा है, जिसके लिए स्थानीय प्रदूषण फैलाने वाली औद्योगिक इकाइयां भी कहीं ना कहीं जिम्मेदार है। जिस को ध्यान में रखते हुए स्थानीय प्रशासन का रुख सख्त हो गया है। क्षेत्र में प्रशासनिक व्यवस्था कर्तव्यनिष्ठा के साथ कार्य करें तो क्षेत्र की जनता को कुछ तो राहत अवश्य मिल सकेगी। जिसके अंतर्गत लोनी बॉर्डर स्थित बेहटा हाजीपुर गांव में तार जलाने वाले माफियाओं के खिलाफ जिलाधिकारी एवं एसएसपी के दिशा-निर्देशन में उप-जिलाधिकारी के द्वारा बड़ी कार्रवाई की गई। इस दौरान तहसीलदार, ईओ नगर पालिका और प्रदूषण विभाग के अधिकारी एवं भारी पुलिस बल मौजूद रहा। दर्जनों गोदामों को सील किया गया एवं तांबा-एलुमिनियम का काफी मात्रा में तार जप्त किया गया। इस दौरान हल्का विरोध भी हुआ, लेकिन और अधिक पुलिस बल आने से कोई हिम्मत नहीं जुटा सका। गौरतलब है कि क्षेत्र में भारी मात्रा में रात्रि में तार जलाने की शिकायतें पब्लिक द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों को मिल रही थी।


2.5 करोड़ की लॉटरी से बढ़ाएंगे डेयरी उत्पादन

लुधियाना। दिपावली बंपर का पहला ईनाम दो करोड पचास लाख लुधियाना के मेहरबान गांव में लगा है। यहां रहने वाले अमनदीप जो डेयरी फार्मिंग का काम करते हैं ने बताया कि सात वर्ष से दिपावली बंपर पर किस्मत अजमा रहे हैं। इस बार वाहेगुरू ने सुन ली। पूछने पर जवाब मिला कि लाटरी में निकले पैसे से डेयरी कारोबार को ही बढायेंगे। अभी फिलहाल गांव में पचास गज के मकान में ही रह कर गुजारा चल रहा है। 


7 साल से डाल रहे थे महा लक्ष्मी दीपावली बंपर।


अमनदीप सिंह बताया की पिछले 7साल से दीपावली बंपर डालते आ रहे है। इस साल वाहेगुरु ने मेहर की हमारी 2.5 करोड़ की लॉटरी निकाल गई। अमनदीप अपने बेटे के साथ मार्किट में दीपावली की खरीदारी करने अपने बेटे के साथ गए थे। वहां से पंजाब स्टेट लॉटरी की वी टिकट खरीदी थी। इन पैसे से डायरी फार्म बड़ा करेगे।और वह अपने मौजूदा निवास में ही रहेंगे।


घायल बंदरों को अपनी गाड़ी से भेजा अस्पताल

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी की सड़क पर घायल पड़े बंदर की मदद करने के लिए सोशल मीडिया पर खूब तारीफ हो रही है। दरअसल रायसीना रोड पर प्रेस क्लब ऑफ  इंडिया के पास सोमवार को घायल बंदर तड़प रहा था। एक जर्नलिस्ट ने इसकी फोटो क्लिक कर ट्वीट कर दिया। जर्नलिस्ट ने मेनका गांधी को टैग करते हुए बंदर के लिए मदद की गुहार लगाई। इस ट्वीट के एक घंटे के अंदर मेनका गांधी सक्रिय हो गईं। उन्होंने बंदर की मदद के लिए कार भेज दी। बता दें कि मेनका गांधी एनिमल राइट्स से जुड़ी हैं और जानवरों से प्यार के लिए जानी जाती हैं। मेनका गांधी के इस काम के लिए उनकी तारीफ हो रही हैं। लोग उन्हें सुषमा स्वराज का अवतार बता रहे हैं।


अकाली दल नेता की 15 गोली मार की हत्या

गुरदासपुर। पंजाब में एक सनसनीखेज हत्याकांड की वारदात को अंजाम दिया गया है। बटाला के नजदीकी गांव ढिलवां में पूर्व अकाली सरपंच दलबीर सिंह की हत्या कर दी गई है। सैर के दौरान सोमवार देर शाम को गांव के ही कुछ लोगों ने उन्हें पहले गोली मारी और बाद में तेजधार हथियारों से हमला कर उनकी हत्या कर दी। परिजनों का कहना है कि राजनीतिक रंजिश के तहत हत्या की गई है। पुलिस ने बताया कि जमीन विवाद के चलते इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया। पुलिस ने तीन नामजद और चार अज्ञात लोगों के खिलाफ  हत्या का केस दर्ज मामले की जांच शुरू कर दी है। फिलहाल सभी आरोपी फरार बताए जा रहे हैं। मृतक के परिजन और अकाली दल के नेता सुच्चा सिंह लंगाह का आरोप है कि हमलावरों ने दलबीर सिंह पर सैर के दौरान पहले पीठ पर तेज धार हथियारों से हमला किया और बाद में 15 से 16 गोलियां मारकर उनकी हत्या कर दी।  सिविल अस्पताल बटाला में मृतक के शव का पोस्टमार्टम करवाने पहुंचे पुलिस जांच अधिकारी बलजीत सिंह का कहना था के दलबीर सिंह की उसके गांव के ही कुछ लोगों ने जमीनी विवाद के चलते हत्या कर दी। फिलहाल आरोपी फरार है उनको पकडऩे के लिए छापेमारी जारी है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


पार्किंग से चोरी तो होटल देगा पूरा पैसा

अगर पार्किंग से चोरी हुई गाड़ी तो होटल देगा पूरे पैसे, सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया 
अगर होटल और रेस्टोरेंट की पार्किंग से गाड़ी चोरी होती है तो इसका मुआवजा भी होटल और रेस्टोरेंट वालों को ही देना होगा


नई दिल्ली। गाड़ी चोरी होने के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि अगर होटल और रेस्टोरेंट की पार्किंग से गाड़ी चोरी होती है तो इसका मुआवजा भी होटल और रेस्टोरेंट वालों को ही देना होगा। यह फैसला कोर्ट ने ताज महल होटल बनाम यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के मामले की सुनवाई करते हुए सुनाया है और कहा अगर ग्राहक होटल मैनेजमेंट को अपनी गाड़ी की चाबी सौंप देता है तो गाड़ी की सुरक्षा होटल ही करेगा और गाड़ी चोरी होने या फिर उसमें कुछ नुकसान होने पर होटल द्वारा मुआवजा दिया जाएगा।


दिल्ली के होटल ताज महल में सुप्रीम कोर्ट ने साल 1998 में गाड़ी चोरी के मामले में अपभोक्ता आयोग पक्ष में फैसला सुनाया, जिसमें मारुति जेन कार के होटल से चोरी हो गई थी और आयोग ने होटल के मैनेजमेंट को दोषी ठहराते हुए 2.8 लाख रुपये का जुर्माना लगाते हुए कहा था कि यह होटल मैनेजमेंट की लापरवाही है। आयोग द्वारा कहा गया था कि यह होटल की जिम्मेदारी है कि अगर ग्राहक का वाहन जिस स्थिति में पार्क किया गया है उसे उसी स्थिति में वापस मिलना चाहिए। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा कि ऐसे में होटल यह कहकर नहीं बच सकता कि उसने पार्किंग फ्री में दी थी। अगर वह पार्किंग होटल वाले दे रहे हैं और उसी पार्किंग में गाड़ी को कोई नुकसान या चोरी हो जाती है, तो इसकी पूरी जिम्मेदारी होटल की होगी
कोर्ट का कहना है कि होटल वाले ग्राहकों से होटल रूम, फूड, एंट्री फीस जैसे कई तरह के पैसे चार्ज करते हैं और ऐसे में गाड़ी चोरी पर मुआवजा होटल को ही देना होगा, क्योंकि गाड़ी की सुरक्षा की होटल की पूरी जिम्मेदारी रहती है।


गांधी परिवार को कुछ हुआ,भाजपा जिम्मेदार

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भी लोकसभा में शुरू होने वाली बैठक हंगामे के साथ शुरू हुई। कांग्रेस नेता सोनिया, राहुल गांधी से एसपीजी की सुरक्षा वापस लिये जाने के मुद्दे पर कांग्रेस, द्रमुक के सदस्यों ने पूरे प्रश्नकाल में आसन के समीप नारेबाजी की। शून्यकाल में इन दलों ने इस विषय पर सदन से वाकआउट किया। शून्यकाल में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने जब इस विषय को उठाने का प्रयास किया तो लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि कांग्रेस सदस्य पहले ही इस विषय को नियम-प्रक्रिया के तहत उठा चुके हैं। चौधरी ने कहा कि गांधी परिवार के सदस्यों की जान खतरे में है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी साधारण सुरक्षा प्राप्त करने वाले लोग नहीं हैं और 1991 से एसपीजी की सुरक्षा प्राप्त कर रहे थे। उन्होंने प्रश्न किया कि अचानक से एसपीजी सुरक्षा क्यों हटा ली गई? गांधी परिवार पर अगर किसी तरह का हमला होता है तो इसके लिए बीजेपी जिम्मेदार होगी। लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने कहा कि चौधरी इस विषय को पहले ही उठा चुके हैं। स्पीकर ने उन्हें आगे बोलने की इजाजत नहीं दी।


संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि कांग्रेस सदस्य के इस विषय पर कार्यस्थगन प्रस्ताव के नोटिस को स्पीकर खारिज कर चुके हैं। यह अब शून्यकाल का विषय नहीं है और इसे बिना नोटिस के कांग्रेस सदस्य कैसे उठा सकते हैं। इस पर कांग्रेस के सभी सदस्य खड़े होकर विरोध दर्ज कराने लगे। चौधरी को इस विषय पर आगे बोलने की अनुमति नहीं दिये जाने पर कांग्रेस और राकांपा के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया। इसके बाद द्रमुक के टीआर बालू ने भी इस विषय को उठाने का प्रयास किया। लेकिन उन्हें भी बोलने की अनुमति नहीं दी गई। जिसके बाद द्रमुक सदस्यों ने भी सदन से वाकआउट किया। इससे पहले मंगलवार सुबह सदन की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस सदस्यों ने आसन के पास आकर नारेबाजी शुरू कर दी। द्रमुक सदस्य भी गांधी परिवार के सदस्यों की एसपीजी सुरक्षा हटाये जाने के विरोध में आसन के समीप पहुंच कर नारेबाजी करने लगे। गौरतलब है कि हाल ही में सरकार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी की एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली थी। अब उन्हें जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है। हंगामे के बीच ही लोकसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल चलाया और किसानों से संबंधित विषय पर सदस्यों ने कृषि मंत्री से प्रश्न पूछे। बिरला ने नारेबाजी कर रहे सदस्यों से अपने स्थान पर जाने की अपील करते हुए कहा कि किसानों के विषय पर चर्चा हो रही है और ऐसे में सदन में हंगामा अच्छी परंपरा नहीं है।


77 हजार कर्मियों का वीआरएस आवेदन

नई दिल्ली। सरकारी टेलीकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) में 77 हजार कर्मचारियों ने वीआरएस के लिए आवेदन कर दिया है। कंपनी में कुल 1.50 लाख कर्मचारी कार्यरत हैं। फिलहाल स्कीम के अनुसार यह सारे कर्मचारी 31 जनवरी 2020 को अपने-अपने पद से रिटायर हो जाएंगे। 


बीएसएनएल के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि कंपनी ने एक लाख कर्मियों को वीआरएस देने का लक्ष्य है। तीन दिसंबर तक कर्मचारी इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं। योजना के मुताबिक कंपनी के सभी स्थायी कर्मचारी, जो किसी दूसरे संस्थान या फिर विभाग में प्रतिनियुक्ति पर हैं और 50 साल की उम्र को पूरा कर चुके हैं वो वीआरएस के लिए आवेदन कर सकते हैं।


बीएसएनएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पीके पुरवार ने कहा कि सरकार और बीएसएनएल की ओर से दी जा रही! यह श्रेष्ठ वीआरएस सुविधा है और इसे कर्मचारियों को सकारात्मक रूप में देखना चाहिए।  गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने पिछले महीने ही 69 हजार करोड़ रुपये का पुनरुद्धार पैकेज बीएसएनएल और एमटीएनएल को दिया था। एमटीएनएल ने भी अपने कर्मचारियों के लिए वीआरएस योजना पेश की है। बीएसएनएल स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना-2019 के अनुसार कंपनी के सभी नियमित और स्थायी कर्मचारी जिनमें अन्य संगठन में प्रतिनियुक्ति पर तैनात या बीएसएनएल से बाहर प्रतिनियुक्ति के आधार पर तैनात कर्मी भी शामिल होंगे और जिनकी उम्र 50 वर्ष या उससे अधिक हो चुकी है! वे वीआरएस योजना का लाभ ले सकते हैं। योजना के तहत वीआरएस लेने वाले व्यक्ति को नौकरी के पूर्ण हो चुके प्रति वर्ष के आधार पर 35 दिन का वेतन और नौकरी के शेष बचे प्रति वर्ष के आधार पर 25 दिन के वेतन की राशि मिलेगी।


रिलायंस इंडस्ट्री देश की सर्वोत्कृष्ट इंडस्ट्री

मुंबई। आरआईएल देश में नंबर-1 बनी हुई है! रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में आई तेजी के चलते कंपनी का मार्केट कैप मंगलवार को 9.5 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया है! रिलायंस इंडस्ट्रीज ऐसा करने वाली देश के पहली कंपनी बन गई है! एक्सपर्ट्स का कहना है टैरिफ बढ़ाने की खबरों के चलते सभी टेलीकॉम कंपनियों के शेयरों में तेजी आई है! इसी का असर रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर पर दिख रहा है! एनएसई पर रिलायंस का शेयर 3 फीसदी से ज्यादा की तेजी के साथ कोराबार कर रहा है! यह 1500 रुपये ऊपर बना हुआ है! वहीं, वोडाफोन-आइडिया का शेयर 28 फीसदी उछल गया है! इसके अलावा एयरटेल के शेयर में 6 फीसदी की तेजी बनी हुई है!
रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में आई तेजी के चलते कंपनी का मार्केट कैप अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है! शेयर ने एक हफ्ते में 5.45 फीसदी, एक महीने में 6.36 फीसदी, तीन महीने में 17 फीसदी, 9 महीने में 24 फीसदी और एक साल में 31 फीसदी का बंपर रिटर्न दिया है!


इंसानों की तरह बात करता है, कुत्ता

नई दिल्ली। जनता से रिश्ता वेबडेस्क स्टेला भले ही एक डॉग है! लेकिन उसे इसानों की तरह बातें करना आता है! स्टेला की मालिक क्रिस्टिना हंगर एक स्पीच पैथालोगिस्ट हैं! जिन्होंने उसे एक कस्‍टमाइज्‍ड की-बोर्ड की मदद से बोलना सिखाया है! इस की-बोर्ड में 29 बटन हैं जो अलग-अलग 29 शब्दों जैसे आओ, खेलो, देखो आदि से बनाए गए हैं! स्टेला को जब भी कुछ बोलना होता है तो वह इस की-बोर्ड की मदद से अपने मालिक को अपनी भावनाएं समझाती है! कई बार वह वाक्य बनाने के लिए 4 और 5 शब्दों के बटन को एक साथ दबाती है!


स्टेला जो अमेरिका के सैन डिएगो में अपनी मालिक क्रिस्टिना हंगर के साथ रहती है, आज अपने बात करने के तरीके के चलते इंटरनेट पर सेलिब्रिटी बन गई है! इंस्टाग्राम पर शेयर किए गए उसके वीडियोज को हजारों लोगों ने देखा है! और 4.7 लाख से ज्यादा लोग स्टेला को फॉलो करते हैं!


इंस्टाग्राम पर शेयर किए गए एक वीडियो में स्टेला बार-बार लुक बटन को दबाते हुए नजर आ रही है! और अपने मालिक से कहने की कोशिश कर रही है कि वह बाहर से आ रही आवाज को सुने और देखे कि वो क्या चीज है! वहीं एक अन्य वीडियो में वह 'अभी-अभी-अभी स्टेला स्टेला देखो' के बटन दबा रही है और अपने मालिक का ध्यान अपनी ओर खींचने की कोशिश कर रही है!


किसी भी अन्य बड़े कम्युनिकेटर की तरह स्टेला भी इस बात का ध्यान रख रही है! कि वह जब भी बात करे तो हम उसे अपनी अटेंशन दें! क्रिस्टीना हंगर ने अपने एक ब्लॉग में बताया है! कि स्टेला को जब भी अपनी बात कहनी होती है! तो वो पहले देखो का बटन दबाती है! और उसके बाद जब हम उसे देखते हैं तब वह अपना मैसेज कीबोर्ड के जरीए बताती है!


स्टेला के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं! जो लोगों को काफी इंप्रेस कर रहे हैं! एक व्यक्ति ने स्टेला की वीडियो पर कमेंट करते हुए लिखा, ”मुझे बात करने वाली डॉग स्टेला काफी पसंद है”. वहीं एक अन्य व्यक्ति ने लिखा, ”यह बेहद मजेदार है”!


इंसाइड एडिशन के मुताबिक, क्रिस्टीना हंगर ने घर के अलग-अलग हिस्सों में बटन रख कर स्‍टेला को बात करना सिखाया है! हंगर ने आगे कहा, “कुछ समय बाद उन्होंने देखा कि स्टेला को जो शब्द पहले से पता है उन्हें बोलने के लिए उसे कोई ओर तरीका चाहिए.”  सीएनएन को दिए एक इंटरव्यू में हंगर ने कहा कि स्टेला का पसंदीदा शब्द बाहर है क्योंकि उसे बाहर रहना काफी अच्छा लगता ह!


टाटा स्टील 3000 से अधिक को हटाएगी

जल्द टाटा स्टील 3,000 से अधिक लोगों को नौकरी से कर सकती है बहार


नई दिल्ली। टाटा स्टील अपने यूरोप के ऑफिस से 3,000 से अधिक लोगों को नौकरी से निकालने की योजना बना रही है। कंपनी ने सोमवार को कहा कि अतिरिक्त आपूर्ति, कमजोर मांग और उच्च लागत के चलते कंपनी ऐसा करने को मजबूर है। एक सूत्र ने Reuters को बताया कि टाटा समूह के यूरोपीय मुख्य कार्यकारी हेनरिक एडम ने पहले ही बिना आंकड़े दिए कहा था कि जल्द कंपनी यूरोपीय व्यापार में नौकरी में कटौती कर सकती है।


एक बयान में, टाटा ने कहा कि वह अपने यूरोपीय परिचालनों में 3,000 से अधिक कर्मचारियों की संख्या में कटौती करके अपनी परफॉरमेंस में सुधार करना चाहती है। भारतीय कंपनी टाटा स्टील, जिसने अपने यूरोपीय कारोबार को मजबूत करने के लिए जून में एक परिवर्तन कार्यक्रम शुरू किया था, जिसमें कंपनी ने नीदरलैंड और वेल्स में स्टील निर्माण शुरू किया था।


टाटा स्टील की ओर से यहां आयोजित जनजातीय संवाद कार्यक्रम में अर्थव्यवस्था में सुस्ती के ऊपर पूछे गए सवाल पर नरेन्द्रन ने कहा कि अर्थव्यवस्था ठीक है। ये सुधर रही है। सरकार कदम उठा रही है। हालांकि उन्होंने कहा कि ऑटो सेक्टर में थोड़ी सुस्ती है, लेकिन अन्य क्षेत्रों में हम सुधार देख रहे हैं। इससे पहले मीडिया से मुखातिब नरेन्द्रन ने कहा कि हर साल संवाद कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं।


इस साल 180 से ज़्यादा आदिवासी समुदायो के नुमाइंदों ने संवाद सम्मेलन में हिस्सा लिया है। उन्होंने कहा कि टाटा स्टील का ये मंच आदिवासी समुदाय को अपनी बात रखने का एक मंच देता है। नरेन्द्रन ने उम्मीद जताई कि ये सम्मेलन आदिवासियों की समस्याओ को हल करने के लिए काम करने में मदद करेगा।


मां-बहन, भाभी का करता था रेप, हत्या

भोपाल। मध्‍य प्रदेश के दतिया में रिश्‍तों की मर्यादा को शर्मसार करने वाली एक खबर सामने आई है। दतिया पुलिस ने एक ही परिवार के चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके ऊपर परिवार के ही शराब की लत के शिकार एक लड़के की हत्या करने का आरोप है। बताया जा रहा है कि जिस की हत्या की गई उसने कई बार शराब के नशे में अपनी मां, बहन और भाभी से रेप किया। दतिया पुलिस की एसडीओ गीता भारद्वाज के मुताबिक ये वीभत्स जानकारी परिवार के ही सदस्यों ने तब दी जब उनसे उनके 24 वर्षीय लड़के के बारे में पूछा गया। मृतक का शव 12 नवंबर को गोपालदास हिल एरिया से मिला था। 


हत्‍या वाली रात भी छोटे भाई की पत्‍नी से की रेप की कोशिश
गीता भारद्वाज ने बताया, 'सुशील का शव 12 नवंबर को मिला और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला कि उसकी मौत गला घोटने की वजह से हुुई। उसकी पहचान साबित होने के बाद पता चला कि उसे शराब की लत थी और उसके घर वाले भी उससे तंग आ चुके थेे। परिवार के सदस्यों ने पूछताछ में रेप के आरोपी सदस्य की हत्या का जुर्म कबूल किया। उनका कहना था कि शराब पीने के बाद उसने कई बार मां, बहन और भाभी से रेप किया।' मृतक के पिता ने अपने कबूलनामे में कहा कि उसका बेटा 11 नवंबर को शराब के नशे में घर आया और उसने छोटे भाई की पत्नी से रेप करने की कोशिश की।


इन लोगों की हुई है गिरफ्तारी
पिता ने कहा, 'वो पहले भी कई बार ऐसा कर चुका था इसलिए हमने उसकी हत्या कर दी और शव को गोपाल दास हिल के पास डाल दिया। पुलिस ने मृतक के पिता, उसकी पत्नी, छोटे बेटे और छोटे बेटे की पत्नी को गिरफ्तार किया है। चारों को सोमवार को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया।


अक्षय की 'गुड न्यूज़' फिल्म हुई रिलीज

नई दिल्ली। अक्षय कुमार और करीना कपूर स्टारर फिल्म 'गुड न्यूज' Good News' का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है। इस फिल्म में करीना और अक्षय के अलावा दिलजीत दोसांझ और कियारा आडवाणी भी अहम भूमिकाओं में हैं। कुल 3 मिनट 22 सेकेंड के इस ट्रेलर में कई कॉमेडी सीन्स हैं. जहां बीते दिनों दमदार पोस्टर्स ने सोशल मीडिया पर धमाल मचाया वहीं अब यह धमाकेदा ट्रेलर लोगों को जमकर ठहाके मारने पर मजबूर कर रहा है। बता दें कि इस फिल्म में अक्षय और करीना ऐसे विवाहित जोड़े की भूमिका में दिखेंगे, जो बच्चे के लिए कोशिश कर रहा है।


यूनीक सब्जेक्ट पर बेस्ड फिल्म का ट्रेलर कॉमिक एलिमेंट से भरपूर है। दिलजीत दोसांझ के पंच दमदार हैं। महज उनकी मौजूदगी हंसाने का दम रखती हैं। प्रेग्नेंसी के कंफ्यूजन से भरी कहानी में करीना-अक्षय की केमिस्ट्री शानदार है। इस फिल्म के डायरेक्टर राज मेहता हैं और धर्मा प्रोडक्शन हाउस और जी स्टूडियो के बैनर तले बनी है। राज मेहता बतौर डायरेक्टर इस फिल्म से डेब्यू कर रहे हैं। हीरू जौहर, अरुणा भाटिया, करन जौहर, अपूर्वा मेहता और शशांक खेतान ने इसे प्रोड्यूस किया है। फिल्म 27 दिसंबर 2019 को रिलीज होगी।


मिडिल क्लास को नया तोहफा देंगे

नई दिल्ली। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार मिडिल क्‍लास को एक बड़ा तोहफा देने की तैयारी में है। दरअसल, सरकार अब मिडिल क्‍लास के लिए स्वास्थ्य व्यवस्था तैयार करने पर विचार कर रही है। यह व्यवस्था उन लोगों के लिए होगी जो अबतक किसी पब्‍लिक हेल्‍थकेयर सिस्‍टम के दायरे में नहीं आते हैं। न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक नीति आयोग ने इसका ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। इस नई स्वास्थ्य प्रणाली में उनको शामिल नहीं किया जाएगा जो आयुष्मान भारत योजना के दायरे में हैं। बता दें कि आयुष्मान भारत योजना का लाभ उन गरीब लोगों को मिलता है जो खुद कोई स्वास्थ्य बीमा योजना लेने की स्थिति में नहीं हैं।


नीति आयोग के सलाहकार (स्वास्थ्य) आलोक कुमार ने कहा, ''करीब 50 फीसदी आबादी अभी भी किसी सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यवस्था से जुड़ी नहीं है। ऐसे लोगों के लिए उनसे मामूली राशि लेकर ऐसी प्रणाली तैयार करने का विचार है जो मिडिल क्‍लास की स्वास्थ्य देखभाल जरूरतों को पूरा कर सके।'' आलोक कुमार ने आगे कहा कि मध्यम वर्ग में आने वाले लोगों को अगर देश में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा व्यवस्था के निर्माण के लिए  200 या 300 रुपये देने पड़ते हैं, तो उन्हें कोई समस्या नहीं होगी। यह योजना व्यवहारिक लग रही है।


बता दें कि प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) के तहत कुल आबादी का 40 फीसदी हिस्‍सा कवर होता है। यह योजना गरीबों के लिए है और इस योजना में 5 लाख रुपये तक का बीमा मिलता है। हालांकि मिडिल क्‍लास के लिए सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है। ऐसे में यह पहली बार होगा जब मिडिल क्‍लास पब्‍लिक हेल्‍थकेयर कवर का फायदा उठा सकेगा।


देशभर में इंदिरा गांधी जयंती मनाई

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती पर मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत अनेक नेताओं ने श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट संदेश में कहा, पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को उनकी जंयती पर श्रद्धांजलि।


इस मौके पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी व अन्य नेता इंदिरा गांधी के समाधि स्थल शक्ति स्थल पहुंचे। सभी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवम्बर, 1917 को हुआ था। 1966 में उन्होंने देश की बागड़ोर संभाली। 1975 में आपातकाल लागू करने का उनका फैसला इतिहास के काले पन्नों में दर्ज है। इंदिरा की राजनीतिक छवि को आपातकाल की वजह से गहरा धक्का लगा। इसी का नतीजा रहा कि 1977 में देश की जनता ने उन्हें नकार दिया। उनके लिए 1980 का दशक खालिस्तानी आतंकवाद के रूप में बड़ी चुनौती लेकर उभरा। 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' उनकी मौत का सबब बना। 31 अक्टूबर 1984 को दो सुरक्षाकर्मियों सतवंत सिंह और बेअंत सिंह ने उन्हें गोली मार दी। दिल्ली के एम्स ले जाते समय उनका निधन हो गया।


लगातार छठे दिन पेट्रोल के दाम बढ़े

लगातार छठे दिन पेट्रोल हुआ महंगा, डीजल की कीमत में भी इजाफा


नई दिल्‍ली। तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) ने पेट्रोल की कीमत में लगातार छठे दिन मंगलवार को भी इजाफा किया। डीजल की कीमत में भी कुछ इजाफा किया गया है। ओएमसी ने राजधानी दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 15 पैसे प्रति लीटर तो डीजल की कीमत में पांच पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है।


इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में पेट्रोल क्रमश: 74.20 रुपये, 79.86 रुपये, 76.89 रुपये और 77.13 रुपये प्रति लीटर की कीमत पर मिल रहा है। वहीं, देश के चार महानगरों में डीजल क्रमश: 65.84 रुपये, 69.06 रुपये, 68.25 रुपये और 69.59 रुपये प्रति लीटर के भाव पर बिक रहा है।


माली में आतंकी हमला,24 जवान मारे गये

बमाको। दहशतगर्दों से मोर्चा ले रहे माली में सोमवार को सेना पर हुए आतंकी हमले में 24 जवान मारे गए और 29 जवान घायल हो गए। यह हमला माली और नाइजर सीमा पर विशेष अभियान में जुटे सेना के गश्ती दल पर हुआ। माली सेना ने मंगलवार को यह जानकारी दी।


माली सेना ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल में कहा है कि आतंकवादियों के खिलाफ माली और नाइजर के सीमावर्ती इलाकों के टोंगो दोगों में ऑपरेशन शुरू किया गया है। सोमवार को इसी अभियान के तहत सेना आतंकावादियों का पीछा कर रही थी। इस दौरान पीछे से घात लगाकर आतंकवादियो ने सेना के एक गश्ती दल पर हमला किया। इसमें 24 जवानों की मौत हो गई और 29 जवान घायल हो गए। माली की सेना ने कहा है कि इस संघर्ष में 17 आतंकवादियों को मार गिराया गया। 100 संदिग्ध नाइजीरियों को तिलोई में हिरासत में लिया गया है। अभी तक हमले की किसी ने भी जिम्मेदारी नहीं ली है। इससे पहले आतंकवादियों ने सेना पर हमला कर 54 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया था।


संयुक्त राष्ट्र के अनुसार माली और बुर्किना फासो में जनवरी से लेकर अब तक 1500 से अधिक नागरिक मारे जा चुके हैं। वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के 1500 जवान माली में तैनात हैं। यह देश जी-5 सहेल का भी सदस्य है। सहेल आतंकवादरोधी बल है। इसमें रिटानिया, माली, नाइजर, बुर्किना फासो और चाड देश के सैनिक शामिल हैं। पश्चिमी अफ्रीका के नेताओं ने माली को इस्लामवादी आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए अगले पांच वर्षों में $ एक बिलियन की राशि देना का वादा किया है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने भी कहा है कि 2020 से माली को अधिक सैन्य संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे।


भारत पेट्रोलियम की बिक्री, 60,000 करोड़

नई दिल्ली। भारत पेट्रोलियम और एअर इंडिया को बेचने की कवायद तेज भारत पेट्रोलियम की बिक्री से मिल सकते हैं 60 हजार करोड़वित्त मंत्री ने मार्च 2020 तक प्रक्रिया पूरी करने के दिए संकेत।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संकेत दिए हैं कि सरकारी कंपनियों एअर इंडिया और भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (BPCL) का विनिवेश जल्दी ही किया जाएगा। एअर इंडिया की हालत खस्ता है इसलिए उससे तो सरकार को खास फायदा नहीं होगा, लेकिन मुनाफे में चल रही भारत पेट्रोलियम का हिस्सा बेचने से सरकार को करीब 60,000 करोड़ रुपये की मोटी रकम मिल सकती है।
कब तक हो सकती है बिक्री
वित्त मंत्री ने शनिवार को कहा कि दोनों कंपनियों का विनिवेश मार्च 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा। गौरतलब है कि सरकार ने इस वित्त वर्ष में विनिवेश से 1.05 लाख करोड़ रुपये हासिल करने का लक्ष्य रखा हैै। तो बीपीसीएल की बिक्री से उसे अकेले इस लक्ष्य का करीब 60 फीसदी हिस्सा हासिल हो जाएगा।
कितनी है सरकार की हिस्सेदारी
BPCL में सरकार की 53.29 फीसदी हिस्सेदारी है और इस कंपनी का बाजार पूंजीकरण 1 लाख करोड़ रुपये से ऊपर हैै। सरकार अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचेगी और मौजूदा बाजार पूंजीकरण के हिसाब से उसे करीब 60 हजार करोड़ रुपये मिल सकते हैं।
दूसरी तरफ, एअर इंडिया की हालत खस्ता है और उसके खरीदार नहीं मिल रहेे। इसमें सरकार की 100 फीसदी हिस्सेदारी है और सरकार किसी तरह इसका खरीदार हासिल कर इसमें अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचना चाहती है। सरकार ने पिछले साल भी एअर इंडिया की हिस्सेदारी बेचने की कोशिश की थी, लेकिन खरीदार न मिल पाने की वजह से इसे टालना पड़ा था। एअर इंडिया पर करीब 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।
इसके अलावा शिपिंग कॉर्प ऑफ इंडिया (SCI), टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड और नॉर्थ ईस्टर्न इलेक्ट्र‍िक पावर कॉर्प लिमिटेड में भी सरकार अपनी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर रही है। कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया में 30 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की योजना हैै।
BPCL को हुए था 7,132 करोड़ रुपये का मुनाफा
गत 30 सितंबर को विनिवेश पर गठित सचिवों की एक कोर टीम ने भारत पेट्रोलियम की हिस्सेदारी बेचने को मंजूरी दी थी। बीपीसीएल मुनाफे में चलने वाली कंपनी है, इसलिए सऊदी अरामको, रोसनेफ्ट, कुवैत पेट्रोलियम, एक्सनमोबिल, शेल, टोटल एसए और अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी जैसी दिग्गज अंतरराष्ट्रीय कंपनियां इसकी हिस्सेदारी खरीदने के लिए बोली लगा सकती हैं. वित्त वर्ष 2018-19 में बीपीसीएल को 7,132 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था।


हिमस्खलन: चार जवान दो अन्य की मौत

श्रीनगर । सियाचिन ग्लेशियर में हिमस्खलन होने से सोमवार को चार सैनिक और दो पोर्टर बर्फ में दब गए। सभी को रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर हेलीकॉप्टर से सैन्य अस्पताल ले जाया गया लेकिन चारों सैनिकों और दोनों पोर्टरों की मौत हो गई।


सियाचिन ग्लेशियर के उत्तरी क्षेत्र में 19 हजार फीट की ऊंचाई पर इस कठिन क्षेत्र में सोमवार दोपहर को हिमस्खलन हुआ, जिसमें गश्‍ती दल के 8 जवान फंस गए। जवानों को बचाने के लिए सेना ने तत्काल रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया। हिमस्खलन की चपेट में आए सेना के जवान गश्त करने वाली टीम का हिस्सा हैं, जिसमें आठ जवान शामिल थे। यह सभी सोमवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे सियाचिन के उत्तरी छोर की ओर पट्रोलिंग करने गए थे। इसके बाद आस-पास के स्थानों से हिमस्खलन बचाव दल इस स्थान पर पहुंचे और खराब मौसम के बीच राहत कार्य शुरू किया।
सभी आठ जवानों को हिमस्खलन के मलबे से बाहर निकाला गया। चिकित्सा दलों के साथ गंभीर रूप से घायल हुए सभी लोगों को हेलीकॉप्टरों से नजदीकी सैन्य अस्पताल में पहुंचाया गया। बर्फ में दबने से चार सैनिक और दो सिविलियन पोर्टर्स अति हाइपोथर्मिया के शिकार हो गए, इसलिए इन्हें बचाया नहीं जा सका। सेना के अस्पताल में भर्ती दो अन्य जवानों की हालत गंभीर है जिनका इलाज जारी है।


ऐसा ही भारी हिमस्खलन 3 फरवरी, 2016 को भी हुआ था जिसमें करीब 10 जवान शहीद हो गए थे। लांस नायक हनमनथप्पा कोपड़ करीब 25 फीट बर्फ के अंदर दबे रहकर छह दिनों तक जिंदा रहने के बाद उन्होंने दिल्ली के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली थी। कोपड़ उन दस जवानों में थे जो करीब 20,500 फीट की ऊंचाई पर सोनम पोस्ट पर पहरेदारी करते हुए बर्फ के साथ बहकर उसमें दब गए थे। सियाचिन में इससे पहले भी कई बार ऐसे हादसों में भारतीय सेना के सैकड़ों जवान अपनी जान गंवा चुके हैं।


आंकड़ों के अनुसार, साल 1984 से लेकर अब तक हिमस्खलन की घटनाओं में सेना के 35 ऑफिसर्स समेत 1000 से अधिक जवान सियाचिन में शहीद हो चुके हैं।
सियाचिन ग्लेशियर को पूरी दुनिया में सबसे अधिक ऊंचाई पर स्थित युद्ध स्थल के रूप में जाना जाता है। सियाचिन ग्लेशियर पूर्वी कराकोरम के हिमालय में भारत-पाक नियंत्रण रेखा के पास उत्तर पर स्थित है। सियाचिन ग्लेशियर का क्षेत्रफल लगभग 78 किमी है। सियाचिन, काराकोरम के पांच बड़े ग्लेशियरों में सबसे बड़ा और विश्व का दूसरा सबसे बड़ा ग्लेशियर है।


शिवसेना के नेतृत्व में बनेगी सरकार

मुंबई। महाराष्ट्र की राजनीतिक स्थिति पर चर्चा के लिए राकांपा अध्यक्ष शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच हुई मुलाकात के कुछ घंटों बाद, शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने मराठा दिग्गज से मुलाकात की और भरोसा जताया कि राज्य में बहुत जल्द उनकी पार्टी के नेतृत्व में सरकार बनेगी।


यहां पवार के निवास पर उनसे मुलाकात करने के बाद राउत ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख से कहा कि उन्हें राज्य के नेताओं के प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करनी चाहिए और उन्हें बेमौसम बरसात के चलते महाराष्ट्र में पैदा हुए कृषि संकट के बारे में सूचित करना चाहिए।


राउत ने कहा, 'चूंकि वह (पवार) केंद्रीय कृषि मंत्री रहे हैं और एक वरिष्ठ नेता भी हैं, उन्हें नेताओं के प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई करनी चाहिए और प्रधानमंत्री से मुलाकात कर देश में किसानों के संकट के बारे में सूचित करना चाहिए।'


महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर कोई बातचीत हुई, इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने सीधे-सीधे जवाब नहीं दिया लेकिन सरकार गठन का भरोसा जताया और कहा, 'राज्य को बहुत जल्द शिवसेना के नेतृत्व में सरकार मिलेगी।'


भ्रष्ट-अधिकारियों को किया जबरन रिटायर

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने अपने 12 भ्रष्ट पुलिसकर्मियों को समय से पहले जबरन सेवानिवृत्त कर दिया है। इन पुलिसकर्मियों के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट (पीओसी)के तहत कार्रवाई की गई है। दिल्ली पुलिस में एक साथ इतने दागी पुलिसकर्मियों को जबरन सेवानिवृत्त किए गए जाने की संभवत: यह पहली कार्रवाई है। कार्रवाई की जद में आने वाले पुलिसकर्मियों में तीन एसआई, एक एएसआई , चार हलवदार और चार सिपाही शामिल हैं।


सेवानिवृत्त किए गए इन सभी पुलिसकर्मियों की दो से चार साल तक की नौकरी अभी शेष थी। मगर इनके खिलाफ आरोप साबित हो गए थे। लिहाजा इन्हें समय से पहले जबरन सेवानिवृत्त कर दिया गया। इन पुलिसकर्मियों की सूची पिछले दिनों तैयार की गई थी। विभागीय स्तर पर भेजी गई सूची के आधार पर डीसीपी सिक्योरिटी ने इन पुलिसकर्मियों को जबरन सेवानिृवत्त करने का आदेश जारी किया है। यह कार्रवाई मौलिक नियम (एफआर) 56 (जे)/ सी.सी.एस.(पेंशन) नियम 1972 के नियम-48 के तहत की गई है। इसमें ऐसे पुलिसकर्मियों को एक बार में तीन माह के वेतन और भत्ते का भुगतान करने जैसे कुछ प्रावधान शामिल हैं। दागी पुलिसकर्मियों की सूची तैयार करने के निर्देश : सूत्रों के मुताबिक, कुछ महीने पहले ही उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में हुई बैठक में दिल्ली पुलिस को दागी पुलिसकर्मियों की सूची तैयार करने के निर्देश दिए गए थे। इसके बाद दागी पुलिसकर्मियों को चिह्नित करने की प्रक्रिया पिछले कुछ समय से चल रही थी। करीब चार महीने तक पुलिसकर्मियों के रिकॉर्ड की जांच की गई। इसमें यह बात सामने आई कि करीब 90 हजार पुलिसकर्मियों की फौज में से 16 हजार पर किसी न किसी तरह का आरोप है। कार्रवाई की जद में वे पुलिसकर्मी आ रहे हैं, जिन पर लगे आरोप सिद्ध हो गए हैं और उन्हें सजा सुनाई गई है।


तीन सदस्यीय कमेटी ने दागियों को चिह्नित किया 
विशेष आयुक्त-प्रशासन, सतर्कता सहित तीन सदस्यीय समिति का गठन पुलिस बल में शामिल भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों की पहचान के लिए किया गया था। इस समिति ने सभी विभागों के प्रमुखों को ऐसे अधिकारियों-कर्मचारियों के नाम की सूची सौंपने के लिए कहा था, जो दागी हैं और पुलिस विभाग में बने रहने के योग्य नहीं हैं। स्क्रीनिंग के माध्यम से समिति ने इंस्पेक्टर रैंक और इससे नीचे के 79 और तीन एसीपी की पहचान की है। इनकी रिपोर्ट तैयार की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक, दागी पुलिसकर्मियों के खिलाफ यह कार्रवाई चरणबद्ध तरीके से की जाएगी। ज्यादातर दागी पुलिसकर्मियों की उम्र 55 वर्ष से अधिक है।


यूपी को एनजीटी की फटकार, जुर्माना

कानपुर। राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (NGT) ने गंगा में प्रदूषण पर सख्त रुख अपनाया है। एनजीटी ने कड़ी कार्रवाई करते हुए यूपी सरकार पर 10 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. इसी क्रम में कानपुर देहात के रनिया और नगर के राखी मंडी इलाके में गंगा में जहरीले क्रोमियम युक्त सीवेज गिरने से रोकने में नाकाम रहने पर उत्तर प्रदेश सरकार को फटकार लगाई है। साथ ही प्रदूषण फैलाने वाली 122 टेनरियों पर 280 करोड़ रुपये जुर्माना लगाया है। वहीं एनजीटी ने यूपीपीसीबी (UPPCB) को पहले के आदेश का पालन न करने और अनट्रीटेड सीवेज की अनदेखी का दोषी ठहराते हुए एक-एक करोड़ रुपये जुर्माना लगाया है।


एनजीटी अध्यक्ष जस्टिस आदर्श कुमार गोयल की पीठ ने कहा कि राज्य सरकार गंगा में जहरीले पदार्थ गिरने से रोकने में नाकाम रही है। इसके चलते 1976 से अब तक इस समस्या का समाधान नहीं हो सका। वहीं, यहां का भूजल दूषित हुआ और आसपास के निवासियों की सेहत के साथ ही पर्यावरण को भी नुकसान हुआ है।


यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (यूपीपीसीबी) को दोषी टेनरियों से जुर्माना राशि वसूलनी चाहिए। जब तक इस रकम की वसूली नहीं होती तब तक सरकार खुद यह रकम ईएससीआरओडब्ल्यू के खाते में हस्तांतरित करे। इसका इस्तेमाल इलाके में पर्यावरण और सार्वजनिक स्वास्थ्य के सुधार में किया जाएगा। राज्य सरकार की भी जिम्मेदारी है कि वह दोषी टेनरियों या दोषी अधिकारियों से जुर्माना वसूले।


पीठ ने कहा कि सरकार प्रभावित इलाके में पीने योग्य पानी की आपूर्ति के साथ अन्य दिशानिर्देशों पर कदम उठाए। साथ ही विशेषज्ञ समिति तीन महीने के अंदर इलाके में स्वास्थ्य अध्ययन करे। सीपीसीबी उचित दिशानिर्देश जारी कर सकती है ताकि यह सुनिश्चित कराया जा सके कि कोई भी प्राधिकरण जल प्रवाह में प्रदूषित सीवेज या प्रदूषित पदार्थों को डालने की अनुमति न दे सकें।


मयंक के लिए खुलेगे वनडे के दरवाजे

नई दिल्ली। मयंक अग्रवाल की टेस्ट मैचों में आक्रामक बल्लेबाजी से उनके लिए वनडे और टी-20 की टीम में चयन के दरवाजे खुल सकते हैं और यह सलामी बल्लेबाज वेस्टइंडीज के खिलाफ अगले महीने होने वाली सीरीज के लिए टीम में जगह बना सकता है। क्रिकेट पंडितों का मानना है कि वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज में अगर उप-कप्तान रोहित शर्मा को अगले साल के शुरू में होने वाले न्यूजीलैंड दौरे से पहले आराम दिया जाता है तो फिर अग्रवाल अच्छे विकल्प हो सकते हैं। रोहित पिछले कुछ समय से लगातार खेल रहे हैं और उन्हें वेस्टइंडीज में खेले गए दो टेस्ट मैचों में मौका नहीं मिला था, लेकिन वह टीम में शामिल थे। भारतीय उप-कप्तान न्यूजीलैंड दौरे के लिए तीनों फॉर्मेट में टीम के अहम हिस्सा होंगे। इस दौरे में भारत को पांच टी20 अंतरराष्ट्रीय, तीन वनडे और दो टेस्ट मैच खेलने हैं। वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे और टी-20 सीरीज के लिए अग्रवाल एक विकल्प हो सकते हैं, जिन्होंने लिस्ट ए में अब तक 50 से अधिक औसत और 100 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं तथा 13 शतक ठोके हैं। शिखर धवन की लंबे समय से चली आ रही खराब फॉर्म तथा केएल राहुल के अलावा एक अन्य विकल्प तैयार रखने की जरूरत से भी अग्रवाल के पक्ष में मामला बन सकता है।


भौतिक-स्पर्धा से उपजा तनाव

आधुनिक आरामदेह जीवन शैली और भौतिक स्पर्धा के कारण होने वाले तनावों ,,सुलभता से उपलब्ध पैक्ड फूड्स के साथ लगातार एक जगह बैठकर काम करना इस रोग में सहायक हैं .इस रोग ने हमारे देश में बहुत लम्बे पैर पसार लिए हैं और हम विश्व में नंबर एक पर पहुंच चुके हैं .इसका होना हमारे हाथ में हैं .
इंटरनैशनल डायबीटीज फेडरेशन के मुताबिक, दुनियाभर में आज के समय में करीब 42.5 करोड़ की आबादी डायबीटीज का शिकार है। सोचिए कि यह बीमारी कितना गंभीर रूप ले चुकी है और कितनी तेजी से पांव पसार रही है। शहर ही नहीं बल्कि गांवों में भी अब यह बीमारी तेजी से फैल रही है। हालांकि सही मैनेजमेंट और लाइफस्टाइल व खान-पान के जरिए डायबीटीज को कंट्रोल किया जा सकता है। 
वैसे तो अब डायबीटीज के ट्रीटमेंट के लिए कई तरह की दवाइयां और इलाज आ गए हैं। लेकिन फिर भी इस बीमारी को लेकर एहतियात बरतने की सख्त जरूरत है। सबसे पहले तो यह जान लें कि डायबीटीज कैसे होता है।
दरअसल हमारे शरीर में पेन्क्रियाज में मौजूद इंसुलिन फूड में मौजूद ग्लूकोज को सेल्स द्वारा अवशोषित में मदद करता है ताकि उसका इस्तेमाल एनर्जी के लिए किया जा सके। जब इंसुलिन का स्तर घटने लगता है तो फिर ब्लड में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है जो डायबीटीज का रूप ले लेता है। 
जिस तरह चिलचिलाती गर्मी में आम खाने का अलग ही स्वाद और मजा होता है, ठीक उसी तरह बरसात में जामुन खाने का। जामुन तो लगभग सभी लोग खाते होंगे, लेकिन इसके गुणों और फायदों के बारे में शायद सभी को पूरी जानकारी नहीं होगी। आज हम आपको जामुन और इसकी गुठली के बेजोड़ फायदों के बारे में बताएंगे। लेकिन पहले ये जान लें कि जामुन को दुनियाभर में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। जैसे कि जम्बुल, ब्लैक प्लम, जावा प्लम या फिर जैम्बलैंग।
डायबीटीज के मरीजों के लिए जामुन के साथ-साथ उसकी गुठली एक बेहतरीन औषधि है। मरीज रोजाना जामुन खाने के अलावा उसकी गुठली के चूर्ण का सेवन भी कर सकते हैं। इसके लिए जामुन की गुठली को सुखाकर पीस लें और उस चूर्ण को रोजाना एक गिलास पानी के साथ लें।
जामुन में भरपूर मात्रा में आयरन होता है जो खून को साफ करने और बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा यह डायरिया, अपचन जैसी पेट संबंधी समस्याओं से निजात दिलाने में भी मदद करता है।
आपको शायद यकीन न हो लेकिन जामुन बढ़ते वजन से परेशान लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है। चूंकि इसमें काफी कम कैलरी होती हैं इसलिए यह वजन कम करने में भी सहायक है।
जामुन को कैंसर के इलाज में भी कारगर माना गया है। साल 2005 में आयी एक स्टडी में दावा किया गया था कि जामुन में कैंसर प्रतिरोधी और कीमोप्रिवेंटिव तत्व होते हैं जो शरीर से फ्री रैडिकल्स को निकालने में मदद करते हैं।
जामुन हमारे दिल का भी ख्याल रखता है और हार्ट संबंधी बीमारियों से बचाव करता है।
जिन लोगों को ब्लड क्लॉट, सांस संबंधी बीमारी या फिर हाइपोग्लाइसिमिया है वे जामुन न खाएं। चूंकि जामुन में क्लॉटिंग तत्व होते हैं इसलिए उन लोगों को जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए जिनकी फैमिली हिस्ट्री भी अगर ब्लड क्लॉट की रही हो। डायबीटीज से पीड़ित लोग भी सीमित मात्रा में इसका सेवन करें। 
डायबीटीज के लक्षण 
बार-बार पेशाब आना, खासकर रात के वक्त 
पेशाब करने के बाद पेशाब में चीटियां जमा हो जाना 
बहुत ज्यादा प्यास लगना और मुंह में चिपचिपापन रहना 
पसीने में बदबू ज्यादा होना 
फोड़े-फुंसियां ज्यादा होना 
घाव का जल्दी न भरना 
डायबीटीज के मरीजों के लिए सबसे अहम होता है ब्लड शुगर लेवल को मेनटेन करना। यही वजह है कि इसके मरीजों को खान-पान को लेकर खास सावधानी बरतनी पड़ती है। आमतौर पर माना जाता है कि फ्रूट्स खाना डायबीटीज के मरीजों के लिए सेफ होते हैं लेकिन हाई शुगर वाले फ्रूट्स ऐसे मरीजों के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं। 
किन लोगों में डायबीटीज होने का ज्यादा खतरा? 
1- वजन ज्यादा होने और हाई ब्लड प्रेशर होने पर व्यक्ति डायबीटीज की चपेट में आ सकता है। 
2- अगर शरीर में कलेस्ट्रॉल का स्तर अधिक हो जाए तो भी व्यक्ति डायबीटीज का शिकार हो सकता है। 
3- दिल के मरीजों और 40 साल से अधिक उम्र लोगों में डायबीटीज होने का खतरा अधिक रहता है। 
4- आयुर्वेद के अनुसार, वैसे लोग जो उल्टी-सीधी चीजों का सेवन करते हैं, आलस से भरी जिंदगी जीते हैं, नया अनाज ज्यादा खाते हैं, दही का ज्यादा सेवन करते हैं और मीठी चीजें ज्यादा खाते हैं, वे डायबीटीज का शिकार हो सकते हैं। 
5- डायबीटीज होने का कारण है गलत लाइफस्टाइल, खराब खान-पान व आदतें, मोटापा और हॉर्मोन्स का असंतुलन। ये सब चीजें ठीक कर ली जाएं तो फिर डायबीटीज से बचा जा सकता है। 
डायबीटीज के प्रकार 
यह दो तरह की होती है-टाइप 1 और टाइप 2। 
टाइप 1 डायबीटीज बचपन में अचानक इंसुलिन हॉर्मोन का बनना बंद होने के कारण होती है। इसमें बढ़ते ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन का इंजेक्शन लेने की जरूरत होती है। 
टाइप 2 डायबीटीज- यह आमतौर पर गलत लाइफस्टाइल, मोटापा और बढ़ती उम्र में होती है। इसमें शरीर में इंसुलिन कम मात्रा में बनता है। आंकड़ों के अनुसार, डायबीटीज के ज्यादातर मरीज टाइप 2 डायबीटीज की कैटिगरी में ही आते हैं। अकेले भारत में ही करीब 10 लाख लोग टाइप-2 डायबीटीज का शिकार हैं। अभी भारत में डायबीटीज से पीड़ित 25 वर्ष से कम आयु के हर 4 लोगों में से 1 को टाइप 2 डायबीटीज है। 
डायबीटीज में मीठे के अलावा इन चीजों को खाने से बचें 
1- सूखे फल और ड्राई फ्रूट्स - इनमें मौजूद शुगर हाई कॉर्बोहाइड्रेट की मात्रा के कारण डिस्टर्ब हो जाता है। इसलिए सूखे हुए, पुराने फल खाने की बजाए फ्रेश और सिजनल फ्रूट खाएं। 
2- फ्लेवर्ड योगर्ट-प्लेन योगर्ट में प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं जो कि डायबीटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होते हैं लेकिन फ्लेवर्ड योगर्ट में यह गायब होता है जो ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकता है। 
3- दाल, रोटी, चावल, सब्जी और सलाद जैसे फुल मील की जगह रोटी, सब्जी, सलाद, स्किम पनीर लें। सब्जियों में आलू, मटर, और कॉर्न अवॉइड करें। इसके अलावा वाइट पास्ता खाने के शौकीन हैं, तो उससे भी दूरी बनाकर रखें। 
4- डायबीटीज के मरीजों को बीफ, समान जैसे फूड आइटम्स खाने से भी बचना चाहिए। इनमें सैचरेटेड फैट काफी मात्रा में पाया जाता है। जो कलेस्ट्रॉल का स्तर भी बढ़ाता है। साथ ही इससे डायबीटीज के मरीजों को दिल से जुड़ी बीमारियां भी हो सकती हैं। 
5- इसके अलावा पैकेज्ड फूड जैसे चिप्स, कुकीज, पीनट बटर जैसी चीजों से भी दूरी बनाकर रखें। ये शरीर में शुगर लेवल को बढ़ा सकते हैं। 
6- डायबीटीज के मरीजों को प्रोसेस्ड शुगर लेने से मना किया जाता है ऐसे में लोग नैचरल शुगर लेते हैं। लेकिन इस नैचरल शुगर में भी कार्ब्स पाए जाते हैं जो कि बल्ड शुगर पर वही प्रभाव डालता है जैसे कि वाइट शुगर। 
डायबीटीज से बचने के लिए और क्या करें? 
- डायबीटीज से बचना है तो रोजाना एक्सर्साइज करें और वजन को कंट्रोल में रखें 
- धूम्रपान और शराब का सेवन न करें और आलू, अरबी व शकरकंद जैसी चीजें बिल्कुल भी न खाएं। 
डायबीटीज के इलाज में 'रामबाण' है अमरूद 
अमरूद को डायबीटीज के इलाज में सबसे पावरफुल फ्रूट माना जाता है। इसमें डायटरी फाइबर अत्यधिक मात्रा में होता है, जो कब्ज को दूर करने में मदद करता है। डायबीटीज के मरीजों को अक्सर कब्ज की समस्या रहती है। एक स्टडी के अनुसार, अमरूद का ग्लाइसिमिक इंडेक्स बहुत कम होता है, जिसकी वजह से यह डायबीटीज के मरीजों के लिए एकदम फायदेमंद है। 
आयुर्वेद के अनुसार, डायबीटीज में खाएं ये चीजें 
- सब्जियों में करेला, पालक, लौकी, सहजन, कड़ी पत्ता, खीरा, परवल, मेथी, चने का साग, नींबू, टमाटर आदि खाएं। 
- फलों में संतरा, आंवला, मौसमी, सिंघाड़ा, पपीता, जामुन आदि खाएं। ध्यान रखें कि जामुन के बजाय जामुन की गुठली ज्यादा फायदेमंद है। गुठली को सुखाने के बाद पीसकर पाउडर बना लें, फिर खाएं। 
- जौ और चने के आटे से फायदा होता है। गेहूं, सोयाबीन आदि का मिक्स आटा भी अच्छा है। जितना हो सके, पुराना अनाज खाएं।- मूंग, चना, कुल्थी की दालें अच्छी हैं। 
- खाने में सरसों का तेल इस्तेमाल करें। 
बरतें सतर्कता, डायबीटीज रहेगी दूर 
- डायबीटीज को दूर करने के लिए नियमित रूप से अपना ब्लड शुगर टेस्ट कराएं। खाने से पहले और बाद में ब्लड शुगर के स्तर में क्या अंतर है, इसका रेकॉर्ड रखें। अगर यह स्तर 100-125mg/dL से ज्यादा हो तो सतर्क हो जाएं और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 
- ऐसा खाना खाएं जिसमें कैलरी कम हों। तीन वक्त खाना खाने के बजाय थोड़ा-थोड़ा करके 6-7 बार खाएं। 
- टेंशन और स्ट्रेस को दूर रखें व भरपूर नींद लें। इसके अलावा रेग्युलर हेल्थ चेकअप कराएं। 
- सामान्य आटे की रोटियां खाने के बजाय जौ, चना और गेंहूं एक साथ पिसवा लें और उस आटे की रोटियां खाएं। 
- बासी रोटी खाने से भी डायबीटीज कंट्रोल में रहता है। 
इसके अलावा मांस मछली अंडा शराब के साथ पिज़्ज़ा बर्गर आदि नहीं खाये .यह रोग हमारे खान पान ,आहार विहार पर अधिक ध्यान देने से रोग मुक्त के साथ रोग से ग्रसित नहीं होते हैं .
यह एक ऐसा रोग हैं जो हमारे शरीर के प्रत्येक सिस्टम पर प्रभाव डालता हैं
दूसरा एक बार ग्रसित होने के बाद दवा लेने का क्रम नहीं छोड़ना चाहिए।


उपभोक्ताओं पर पड़ेगा दूरसंचार संकट

नई दिल्ली। दूरसंचार संकट का असर अब आम उपभोक्ताओं पर पड़ने वाला है। देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनियों भारती एयरटेल व वोडाफोन ने एक दिसंबर से अपने टैरिफ में बढ़ोतरी करने का फैसला किया है। कंपनियों के एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) के लंबित बेहद भारी भरकम बकाए के बाद यह फैसला सामने आया है। हालांकि, दोनों कंपनियों ने अभी यह नहीं बताया है कि आम लोगों की जेब पर उनके फैसले का कितना असर पड़ने जा रहा है।


भारती एयरटेल ने एक बयान में कहा, "दूरसंचार क्षेत्र में तेजी से बदलती प्रौद्योगिकी के साथ अत्यधिक पूंजी के निवेश की लगातार जरूरत है। इसलिए, यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि उद्योग डिजिटल इंडिया के दृष्टिकोण का समर्थन करने के लिए हमेशा व्यावहारिक रहे." इसमें कहा गया, "तदनुसार, एयरटेल दिसंबर से कीमतों में उचित वृद्धि करेगी।"
वोडाफोन ने दूरसंचार क्षेत्र में वित्तीय संकट का उल्लेख किया और कहा कि इसे सभी हितधारकों ने स्वीकार किया है और कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में सचिवों की एक उच्चस्तरीय कमेटी उचित राहत पहुंचाने पर विचार कर रही है।


वोडाफोन आइडिया लिमिटेड ने कहा है कि वह 'उपयुक्त रूप से' टैरिफ में बढ़ोतरी करेगी जो एक दिसंबर से प्रभावी होगा।


प्रयागराज में सड़क हादसा तीन की मौत

डंपर-पिकअप में टक्‍कर, तीन की मौत व छह जख्‍मी


प्रयागराज। जनपद के करछना थाना क्षेत्र स्थित करछना थानाक्षेत्र के प्रयागराज-मीरजापुर रोड पर भीरपुर चौकी के समीप मंगलवार की सुबह सड़क हादसा हो गया। डंपर और महिंद्रा पिकअप में भीषण भिड़ंत हो गई। हादसे में तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं छह लोग जख्‍मी हो गए। हादसे के बाद आसपास के लोगों की जुटी भीड़ की सूचना पर पुलिस पहुंची। शवों को कब्‍जे में ले लिया और घायलों को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र करछना ले जाया गया। वहां वहां प्राथमिक उपचार के बाद सभी छह लोगों को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। ।


मृतकों में रमाकांत मौर्य पुत्र लालचंद्र, जटाशंकर पुत्र लक्कड, संजय पुत्र लालचंद हैं। ये सभी लोग बिरौरा जिला मीरजापुर के रहने वाले थे। वहीं घायलों में सदानंद मौर्य, रामेश्वर प्रसाद, बलवंत, गुल्लुर, ओम प्रकाश, अवधेश कुमार शामिल हैं। राजेश केसरवानी


मिर्जापुर में लेखपालों के खिलाफ कार्रवाई

मीरजापुर।  चेतावनी के बाद भी पराली जलाए जाने पर गंभीर न हुए तीन किसानों को सेटेलाइट ने पकड़ लिया। एसडीएम वीके दुबे ने तीनों के खिलाफ जुर्माना वसूल करने का आदेश क्षेत्रीय लेखपाल राम आसरे को दिया है। इससे अन्य किसानों के माथे पर भी चिंता की लकीरें दिखाई दे रही हैं।


रविवार की शाम तहसील क्षेत्र के गोरथरा गांव में पराली जलाई जा रही थी। इसकी निगरानी सेटेलाइट से होने के कारण यह गांव तत्काल चिन्हित कर लिया गया। जिला मुख्यालय पर सूचना पहुंची तो एसडीएम मडि़हान ने तत्काल तहसीलदार करमेंद्र कुमार को जांच कर पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा।


सोमवार की सुबह तहसीलदार व क्षेत्रीय लेखपाल ने गांव में पहुंचकर तीन लोगों की पहचान की है और आगे की कार्रवाई की जा रही है। रैकरी गांव निवासी राजकुमार पटेल का खेत गोरथरा गांव के मौजे चेरई कोन में है। जहां रामविलास मौर्य व रामनरायन ने रविवार की शाम पराली को जला दिया। सूचना लगी तो कृषि उपनिदेशक की सूचना पर डीपीआरओ ने भी मौके पर जाकर जांच की। एसडीएम विमल कुमार दुबे ने बताया कि तीनों के खिलाफ जुर्माना वसूल किया जाएगा। दो एकड़ से कम खेत के किसान से ढाई हजार व इससे अधिक खेत वालों से पांच हजार की वसूली


बलिया में सात के खिलाफ कार्रवाई, 28 हजार जुर्माना, किसानों में मचा हड़कंप


पराली जलाने पर सात किसानों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इस मामले में आरोपी किसानों पर जुर्माना लगाया गया है।सदर तहसील क्षेत्र में एसडीएम अश्विनी कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि पराली जलाने के मामले में सात किसानों पर जुर्माना लगाया गया है। इन सभी किसानों पर कुल 28 हजार का जुर्माना लगाया गया है।


एसडीएम ने सरयां गांव के दो किसानों पर छह-छह हजार तथा इसी गांव के एक किसान पर चार हजार जुर्माना लगाया है। चार किसानों पर 25-25 सौ का जुर्माना लगाया गया है। इन सभी किसानों से जुर्माना वसूलने के लिए जल्द ही नोटिस जारी की जाएगी। उन्होंने किसानों से अपील की कि फसल अपशिष्ट जलाने के बजाय वैकल्पिक उपयोग जैसे बायो एनर्जी, कम्पोष्ट खाद आदि का प्रयोग करें


पराली जलाव में असफल,4 लेखपाल सस्पेंड


पराली जलाने से क‍िसानों को न रोक पाने में चार लेखपाल निलंबित


हरदोई । पराली जलाने वाले किसानों के साथ ही लापरवाही पर जिम्मेदारों के विरुद्ध भी कार्रवाई हो रही है। सदर तहसील में तीन लेखपालों के निलंबन के बाद सोमवार को चार लेखपालों को और निलंबित कर दिया गया है। जिसके बाद से खलबली मची हुई है।


पराली जलाने से वायु प्रदूषण फैल रहा है। इसके नियंत्रण को लेकर कड़े निर्देश जारी किए जा चुके हैं। जिसमें क्षेत्रीय लेखपालों की भी ड्यूटी लगाई गई है। उन्हें सख्त आदेश दिए गए हैं कि वह क्षेत्र में निवास करें और पराली जलाने वालों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई करें। एसडीएम सदर राकेश कुमार ने बताया कि उसके बाद भी कुछ लेखपाल मनमानी कर रहे हैं। उसी पर कार्रवाई हो रही है। जिसमें चार लेखपालों को निलंबित कर दिया गया है। 


एसडीएम के अनुसार अरमी के लेखपाल अशोक कुमार आनंद, विक्टोरियागंज के लेखपाल लक्ष्मी नारायण, गोड़ाधार के लेखपाल आनंद प्रकाश एवं पचकोहरा के अमरेश कुमार तिवारी लेखपाल को निलंबित कर दिया गया है। सभी की विस्तृत जांच के आदेश दिए गए हैं। ऐसा मिलने पर और भी कार्रवाई होगी।


रेप मामले में परिजनों को सजा सुनाई

जीतेन्द्र श्रीवास्तव


सुल्तानपुर। पैसे के लिए रिश्ते की तिलांजलि देने वाले माँ बाप व भाई को साजिश करके युवती को मौत के लिए मजबूर करने व सबूत नष्ट करने का फास्ट ट्रैक कोर्ट पूनम सिंह ने दोषी करार दिया था उन्हें सोमवार को सजा सुनाई गई।माँ बाप को दस दस व भाई को तीन साल की सजा सुनाई गई।इस मामले की मृत पीड़िता ने गैंगरेप का मुकदमा लिखाया था जिसमे सपा के पूर्व विधायक को भी शामिल होने का आरोप लगाया था जो बाद में निर्दोष पाए गए।


घटना क्षेत्र के जयसिंहपुर थाना अंतर्गत चोरमा गांव की है।11 फरवरी 2017 को नेहा पुत्री राजेन्द्र सिंह ने 100 डायल को सूचना दी कि उसकी बहन शौच के लिए गयी थी वापस नही लौटी। पुलिस पहुंची तो पिता राजेन्द्र सिंह, माँ बेबी सिंह व भाई अनूप सिंह ने आशंका जताया कि क्षेत्रीय विधायक अरुण वर्मा ने हत्या कराई है। मामला हाई फाई हो गया क्योंकि प्रिया नाबालिग रहते 2013 में एक गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराया था। जिसमे विधायक को भी शामिल होने की बात कही थी उसी मामले में वह गवाह थी।


पोस्टमॉर्टेम में हत्या किए जाने की पुष्टि होने पर पुलिस ने सतर्कता से जाँच शुरू किया तो पता चला कि गैंगरेप मामले में जो सरकारी सात लाख रुपये की मदद राशि मिली थी उसी को हड़पने के लिए हत्या की गई है। विवेचना में यह भी तथ्य प्रकाश में आया माँ बाप व भाई ने हत्या करके लाश को छिपाने व साक्ष्य नष्ट करने की कोशिश की थी। साथ ही तीनो ने दोबारा विधायक पर पीड़ित गवाह की हत्या में फंसाकर पैसा वसूलने को मंशा थी। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर जेल व चार्जशीट कोर्ट भेजा। गवाही चली तो प्रिया के पति राहुल निवासी इमिलिया ने भी गवाही दी कि गैंगरेप की बात छिपकर उससे शादी की गई।उसकी पत्नी का पैसा हजम करने की बात सत्य है।


शासकीय अधिवक्ता फौजदारी तारकेश्वर सिंह ने दर्जन भर गवाह पेश कर अभियोजन की सत्यता साबित की। जबकि मुल्जिमो के वकील ने फर्जी फंसाये जाने की बात कही। पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों व उभयपक्ष की बहस के बाद शनिवार को फैसला सुनाया गया जिसमें पति पत्नी व बेटे को साजिश करके मौत के लिए मजबूर करने और साक्ष्य छिपाने का दोषी ठहरा कर जेल भेज दिया है था उन्हें आज सजा सुनाई गई।


डीएम के प्रयास से मासूम का सफल ऑपरेशन

जनपद बहराइच के जिलाधिकारी शंभू कुमार के प्रयास से 14 माह की सुनीता का हुआ सफल ऑपरेशन।


पिता चंद्र निषाद माता रेखा देवी के साथ हस्ती खेलती घर पहुंची बच्ची


बहराइच। तहसील महसी अंतर्गत ग्राम कुटिया मई को पुरवा निवासी गरीब परिवार चंद्र निषाद के घर लगभग 14 माह पूर्व बालिका का जन्म हुआ था परिवार अभी बेटी की जन्म की खुशियां ठीक से मना भी नहीं पाया था कि परिवार के लोग यह जानकर अत्यंत दुखी वे कि नवजात बच्ची सुनीता के शरीर में मल त्यागने का द्वार ही बंद है और बच्ची के दाहिने हाथ का अंगूठा भी नहीं है बच्ची में शारीरिक अक्षमता को देखकर पिता चंदन निषाद के सात माता रेखा देवी काफी उदास हुए खेत खलिहान में मजदूरी करके जीव को उपार्जन करने वाला परिवार अपने स्तर से बच्ची के इलाज का प्रयास करता रहा और इस प्रयास में लगभग 14 माह का अरसा गुजर गया
बच्ची के इलाज के लिए अपने अस्तर से प्रयास करने वाले परिवार को एक क्षेत्रीय नेक आदमी सुधाकर मिश्रा एक नवंबर 2019 को जिलाधिकारी के जनता दर्शन में लेकर आए और बच्ची के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की जिलाधिकारी श्री कुमार ने बच्ची के माता-पिता को आश्वस्त किया कि सुनीता के इलाज का संपूर्ण खर्च वह स्वयं उठाएंगे इलाज के लिए यदि आवश्यकता पड़ी तो बच्ची का इलाज लखनऊ अथवा दिल्ली के नामचीन चिकित्सा संस्थान में भी कराया जाएगा।
जिलाधिकारी ने तत्काल मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से वार्ता कर बच्चे को माता पिता के साथ जिला चिकित्सालय भेजा जहां पर शल्य चिकित्सक डॉ एफ आर मलिक ने बच्ची का परीक्षण कर 4 नवंबर 2019 को सर्जरी की तिथि निर्धारित कर दी निर्धारित समय में जिला चिकित्सालय पहुंची बच्ची का सफल ऑपरेशन हुआ और 12 नवंबर 2019 को सुनीता को जिला चिकित्सालय से छुट्टी दे दी गई जिला चिकित्सालय के शल्य चिकित्सक डॉ मलिक ने बताया कि बच्ची सुनीता एक टॉपिक अनस बीमारी से ग्रस्त थी जिसका अनोप्लास्टी सफल ऑपरेशन किया गया है वर्तमान समय में बच्ची स्वस्थ है।


बाबू खान


नगर-निगम का किया गया औचक निरीक्षण

गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी के द्वारा नगर-निगम गाजियाबाद के विकास कार्यों में गतिशीलता लाने तथा जनता की शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण एवं तत्काल निस्तारण किए जाने के संदर्भ में औचक निरीक्षण किया गया। मुख्य सचिव द्वारा अपने निरीक्षण के दौरान पुरानी सब्जी मंडी में पहुंचकर स्थलीय तरह निरीक्षण किया जहां पर सफाई व्यवस्था मानकों के अनुसार नहीं पाई गई और वहां पर कूड़े एवं पॉलिथीन के ढेर लगे हुए नजर  आए। तत्पश्चात मुख्य सचिव नगर आयुक्त के कार्यालय पहुंचे जहां पर मुख्य सचिव आर के तिवारी के द्वारा सार्वजनिक शौचालय को चेक किया गया। कार्यालय में शिकायत कर्ताओं के लिए कोई बोर्ड लगा हुआ नहीं पाया गया। शिकायत कक्ष पहुंचने पर वहां पर आगंतुकों के लिए टूटी हुई कुर्सियां रखी हुई पाई गई जिस पर मुख्य सचिव के द्वारा नाराजगी प्रकट की गई। शिकायत कक्ष में पंजिका का निरीक्षण किया गया। इस अवसर पर मुख्य सचिव द्वारा तीन शिकायत कर्ताओं से फोन पर बात की गई जिसमें दो शिकायत कर्ताओं के द्वारा अपनी समस्या का निस्तारण न होने के संबंध में मुख्य सचिव को जानकारी दी गई। मुख्य सचिव द्वारा इस अवसर पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए मौके पर ही सेनेटरी इंस्पेक्टर सतीश एवं विद्युत इंस्पेक्टर विशंभर शर्मा को मौके पर ही निलंबित करने के निर्देश दिए गये। तत्पश्चात मुख्य सचिव द्वारा नगर निगम के द्वारा संचालित किए जा रहे विकास कार्यक्रमों की गहनता के साथ समीक्षा की गई, जिसमें उन्होंने पाया कि अवस्थापना विकास निधि एवं 14 वें वित्त आयोग के माध्यम से जो विकास कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं उनका रखरखाव पंजिका में अधिकारीगण सही प्रकार से नहीं कर रहे हैं तथा विकास कार्य का संपन्न होने के बाद भुगतान भी निर्धारित समय अवधि के भीतर नहीं पाया गया उन्होंने गहन समीक्षा के दौरान यह भी पाया कि वर्ष 2019-20 में जो विकास कार्य स्वीकृत हुए हैं उनमें अभी तक कार्य प्रारंभ भी नहीं किया गया है, जिस पर मुख्य सचिव के द्वारा कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्य अभियंता को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए गये। वहीं दूसरी ओर मौके पर उपस्थित नगर आयुक्त दिनेश चंद को आगामी एक माह के भीतर सभी कार्य को ठीक करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि नगर निगम के माध्यम से जो विकास कार्य संपादित किए जा रहे हैं उनका सही रखरखाव सुनिश्चित किया जाए तथा जो कार्य स्वीकृत है उनको निर्धारित समय अवधि के भीतर पूर्ण करने की कार्रवाई सभी विभागीय अधिकारियों के द्वारा सुनिश्चित की जाए। मुख्य सचिव ने स्पष्ट कहा कि प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री की स्पष्ट मंशा है कि जनता की समस्याओं एवं शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित करते हुए उनका निराकरण करने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। अतः नगर निगम में जो शिकायतें दर्ज हो उनका निस्तारण संबंधित विभागीय अधिकारियों के द्वारा तत्काल प्रभाव से सुनिश्चित किया जाए ताकि सरकार एवं शासन की मंशा का लाभ जनता को प्राप्त हो सके। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह नगर आयुक्त दिनेश चंद तथा अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित रहे।


पराविद्या की दीक्षा

गतांक से...
देखो माता सीता के जीवन को नाना प्रकार की उद्गीथ का स्मरण आता रहता है। जब ऋषि के आश्रम में अपने बालकों को राजकुमारों को विद्या अध्ययन कराती थी और वे विद्या अध्ययन करके अस्त्रों-शस्त्रों की विद्या में निपुण होकर जब ग्रह में गए। तो उनका वास होता है, होता रहता है, होता रहेगा भी। परंतु यह प्रणाली ऐसी नहीं है, राजा विश्वसनीय आएगा, तो यह प्रणाली पुनः स्थापित कर सकेगा। परंतु मैं यह विचारता रहता हूं कि उनका मत साहित्य में वाम मार्ग के काल में शुद्धता आ गई। परंतु यह विचार में नहीं आ रहा है मैंने अपने गुरुदेव से कई समय प्रश्न किए हैं और उन्होंने भली-भांति उत्तर दिए हैं और वे इस प्रकार है कि माता सीता वेद विद्यालयों में संतानों को उपार्जन करना। आश्रम में महर्षि बाल्मीकि अस्त्रों-शास्त्रों में विज्ञानवेता और आयुर्वेद के मर्म को जानने वाले आयुर्वेद में प्राय: कहलाते थे। आयुर्वेद विद्यालय में तो मेरी पुत्रियों की संतानों का जन्म होता रहा है। मुझे मेरे पूज्यपाद गुरुदेव ने निर्णय कराते हुए कहा है कि राष्ट्र की यह प्रणाली में राजा को राष्ट्र के वैभव को हनन करने का यह अधिकार नहीं होता है कि मेरी पुत्रियों के श्रृंगार को राजा को अपने ऐश्वर्या में परिणित करते चले जाए। यह प्रणाली मानव कुछ समय की प्रणाली है। यह परंपरा की प्रणाली नहीं है। राजा स्वयं ऐसा उद्योग उद्गम करता रहा है और उद्गम करके पृथ्वी 'वसुंधरा' के गर्भ में इत्यादि को उत्पन्न करता रहा है। उनको पान करते रहे हैं और राजा प्रजा में भ्रमण करता हुआ, अपने अस्तित्व और राष्ट्र को ऊंचा बनाता रहा है। मैं आज विशिष्टता में इस संबंध में जाना नहीं चाहता हूं। विचार केवल यह है कि हमारे यहां बहुत उधरवा में परंपरा रहिए। क्योंकि मनु महाराज ने भी इस संबंध में प्रणाली को निर्धारित किया। यह राष्ट्र की प्रणाली को आज मानव अपने से ओझल करता चला जा रहा है। इसलिए राजा और प्रजा सर्वत्र चिंता में मगन हो करके, यह राष्ट्र अग्निकांड की प्रतिभा में रत होने के लिए तत्पर हो रहा है। विचार आता रहता है मेरे पूज्य पाद गुरुदेव ने कई काल में प्रकट भी कराया है। आज मैं उस आभा में जाना नहीं चाहता हूं। विचार केवल यह है कि वाममार्ग अपने को समाज को जागना चाहिए। उदृष्टि बनकर के कर्तव्य बाद में रत हो जाए। क्योंकि कर्तव्य में मानव की प्रतिभा, कर्तव्य ही आत्मीयता है। कर्तव्य ही राष्ट्रवाद है और कर्तव्य ही समाज को आनंद की वृत्ति में परिणत करा देता है। अब मैं अपने से आज्ञा पाऊंगा, क्योंकि मेरे पूज्य पाद गुरुदेव जी जब उड़ाने उड़ते हैं। तो वे बड़ी विचित्र उड़ाने उड़ने लगते हैं। विचार यह है कि विश्वामित्र महाराज अपने 84 ब्रह्मचारियों को धनुर्विद्या का अध्ययन कर आते रहे। राम के काल में देखो ऐसे ऐसे 236 विद्यालय है। धनुर्वेद की विद्याओं को प्रदान किया जाता था और उसमें अस्त्रों का ज्ञान विज्ञान अंतरिक्ष में उड़ाने और एक-एक में यंत्र का निर्माण करना। यह परमाणु अनु विद्या को जानने वाले, उस समय अभ्युदय होते रहे और राष्ट्र को ऊंचा बनाते रहे। इस प्रकार के विद्यालय प्राय: होने चाहिए। जिससे पुन: रामराज्य की प्रणाली में यह समाज परिणत हो जाए और मानव अपने में सुखद अनुभव करने लगे तथा अपनी-अपनी आभा में रत रहना चाहिए। ऐसा मेरा सदा यह विचार रहता है अब मैं अपने गुरुदेव से आज्ञा पाऊंगा। मेरे प्यारे ऋषिवर महानंद जी ने अपने भव्य विचार प्रकट किए। विचारों में एक विडंबना यह राष्ट्र और समाज दोनों पवित्र कैसे बने? हम प्रार्थना करते रहते हैं कि राष्ट्र पवित्र बन जाए, मानव और मानव में प्रीति युक्त होकर के इस संसार की प्रतिभा में ज्ञान को अपने में समाहित करते रहे। ताकि विचार पवित्र रहे। क्योंकि समाज जब ऊंचा बनता है, तो ज्ञान में और अध्यात्मिक विज्ञान से ऊंचा बनता है। भौतिक विज्ञान भी होना चाहिए। उस भौतिक विज्ञान में परमपिता परमात्मा की पुट लगी रहनी चाहिए। जिससे भौतिक विज्ञान में मानव को अभिमान न आ जाए। क्योंकि अभिमान ही मृत्यु है। अभिमान ही संसार में रक्त में वृद्धिधारा कहलाती है। आज का विचार संपन्न होने जा रहा है। वेदों का पठन-पाठन होगा।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


नवंबर 20, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-106 (साल-01)
2. बुधवार, नवंबर 20, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष-कृष्ण पक्ष, तिथि- नवमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:40,सूर्यास्त 05:36
5. न्‍यूनतम तापमान -13 डी.सै.,अधिकतम-24+ डी.सै., छिटपुट बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित


जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से घबराया 'चीन'

बीजिंग। जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से चीन घबरा गया है। यही वजह है कि जी-7 देशों की बैठक के तुरंत बाद चीन ने जिनपिंग के ड्रीम प्रोजे...