सोमवार, 6 अप्रैल 2020

डासना जेल में शुरू सैनिटाइजिंग टनल

गाजियाबाद। जिला जेल डासना में रविवार को सैनिटाइजिंग टनल का शुभारंभ किया गया। इस मौके पर जेल के अधिकारी वह स्टाफ मौजूद रहा। जेल प्रशासन ने बताया कि पुलिस महानिदेशक/ महानिरीक्षक कारागार आनंद कुमार के निर्देशन में 5 अप्रैल 2020 को डासना जेल में सैनिटाइजिंग टनल का शुभारंभ किया गया।


वैश्विक महामारी कोविड-19 से बंदियों व स्टाफ को वीसंक्रमित करने के उद्देश्य से सैनिटाइजिंग टनल की शुरुआत की गई है। इस टनल के बनने से कारागार में निरुद्ध बंदियों व स्टाफ को कोविड-19 से प्रभावी ढंग से निपटने में सहायता मिलेगी। जेल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सुनील त्यागी ने बताया कि अब जो भी बंदी या स्टाफ डासना जेल में प्रवेश करेगा वह इसी सैनिटाइजिंग टनल से होकर गुजरेगा जिससे कोरोनावायरस का खतरा खत्म हो जाएगा।


डीएम-एसएसपी ने किया निरीक्षण

मुकेश सिंघल
गाजियाबाद। COVID-19 (कोरोना वायरस) लॉकडाउन के सफल क्रियान्वयन व कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने व संक्रमित व्यक्तियों के इलाज हेतु बनाए गए विभिन्न क्वॉरेंटाइन/ आइसोलेशन सैंटरों (सुंदरदीप इंस्टीट्यूट, आरकेजीआईटी कॉलेज, संयुक्त चिकित्सालय व अन्य ) का जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी द्वारा संयुक्त भ्रमण / निरीक्षण किया गया तथा मौजूदा मैडिकल स्टाफ / पुलिसकर्मियों व अन्य कर्मचारियों से वार्ता कर जायजा लिया गया तथा उनके द्वारा सेवाभाव से किये जा रहे कार्यों के लिए हौसलाअफजाई की गई। इस दौरान एडीएम सिटी व एसपी सिटी भी मौजूद रहे।
 
इस दौरान आवश्यक सतर्कता व सजगता बरतने, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने, कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु आवश्यक निर्देश दिए गए। साथ ही क्वॉरेंटाइन या आइसोलेट किए गए व्यक्तियों के परिजनों को प्रशासन/ पुलिस/चिकित्सकों को सहयोग करने हेतु ब्रीफ किया गया।
 एसएसपी द्वारा इस दौरान संक्रमण से खुद के बचाव हेतु सैनिटाइजर, मास्क, ग्लव्स आदि का उपयोग करते हुए लगातार साबुन से हाथ धोयें व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने तथा अपने आसपास अन्य लोगों को भी उक्त के बारे में जागरूक करने हेतु निर्देशित किया गया ।


जनसंघ से भाजपा तक का सफर

भारतीय जनता पार्टी आज 40 साल हो गई है। 6 अप्रेल 1980 को इसकी स्थापना हुई थी, इन 40 सालो के सफर में बीजेपी में अभूतपूर्व परिवर्तन हुआ है। दो सीट से लेकर 303 सीटों का सफर बीजेपी इन 40 सालो में तय किया किया। वर्ष 1951 में श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने जनसंघ की शुरुआत की जो आगे चलकर बीजेपी में परिवर्तित हो गई। श्यामाप्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय बीजेपी के पितृ पुरुष माने जाते है। 1980 में बीजेपी की स्थपना के बाद स्व अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय जनता पार्टी के पहले अध्यक्ष बने, अटल बिहारी को वाजेपयी को लालकृष्ण आडवाणी साथ मिला। दोनों ने ही पार्टी को मजबूत करने अहम् भूमिका निभाई। पार्टी निर्माण के बाद पहली बार वर्ष 1984 में बीजेपी ने चुनाव लड़ा और दो सीटे मिली। बीजेपी को हिंदुत्व वाली छवि और अयोध्या के राममंदिर ने देश भर पहचान दिलाई। वर्ष 1991 में में लालकृष्ण आडवाणी द्वारा सोमनाथ से अयोध्या तक निकाला । रथयात्रा ने देशभर में बीजेपी को पहचान दिलाई और खुलकर हिंदुत्व की बात करने वाली पार्टी बनकर सामने आई। 6 दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद को बीजेपी नेताओ ने गिरा दिया जिसमे लालकृष्ण आडवाणी, मुरलीमनोहर जोशी और उमा भारती समेत नेताओ का नाम आया। अयोध्या रथ यात्रा और बाबरी मस्जिद गिराने का फायदा बीजेपी को वर्ष 1996 के लोकसभा चुनाव में मिला। लोकसभा में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई। रास्ट्रपति ने सरकार बनाने बीजेपी को आमंत्रित किया। ये सरकार ज्यादा दिन नहीं चली और कुछ दिनों बाद ही गिर गई।


वर्ष 1998 में बीजेपी ने फिर अपने सहयोगी दलों के साथ मिलकर केंद्र में सरकार बनाई और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री बने। बीजेपी ने फिर 1999 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन बनाकर लोकसभा चुनाव लड़ा। इस गठबंधन में 20 से दल शामिल हुए, इस गठबंधन को 294 सीटों पर जीत मिली। इसमें बीजेपी को 182 सीटें हासिल हुई जिसके बाद एक बार फिर से अटल बिहारी वाजपेयी प्रधामंत्री बने और इस बार उन्होंने पांच साल का अपना कार्यकाल पूरा किया।


वर्ष 2002 के बाद से बीजेपी केंद्र की सत्ता से वंचित रही। अटलबिहारी के बाद नरेंद्र मोदी वर्ष 2014 में  दमदार नेता बनकर उभरे और बीजेपी ने 282 सीटे और नरेंद्र मोदी प्रधानमत्री बने। उसके बाद से बीजेपी निरंतर उचाईयो को छू रही है है। बीजेपी के आज 15 से अधिक राज्यों में बीजेपी और उसके सहयोगियो की सरकार है। 1991 के दौर में अटलबिहारी वाजपेयी और लालकृष्णा अडवाणी की जोड़ी थी जो वर्तमान में नरेंद्र मोदी और अमित शाह की है। जिसके नीतियों के दम पर बीजेपी बढ़ते क्रम पर है।


2014 में सरकार में आने के बाद नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी ने श्यामाप्रसाद मुखर्जी और लालकृष्ण अडवाणी के सपने को पूरा किया। कश्मीर से धारा 370 हटाकर वहां तिरंगा फहराया गया। वही 28 सालो से लंबित राम मंदिर का मुद्दा इनके कार्यकाल में समाप्त हुआ। जिसके बाद अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। दुनिया भर में 10 करोड़ कार्यकर्ताओ वाली बीजेपी विश्व में सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। वर्ष 2014 में आई बीजेपी और वर्ष 2019 में बानी बीजेपी की सरकार में बहुत परिवर्तन हुआ है। पुराने समय के तमाम बड़े नेता दरकिनार कर नए लोगो को पार्टी में शामिल किया गया है।


मतभेद भुलाकर एकजुट होने का समय

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि कोरोना संकट देश में धर्म, जाति और वर्ग आधारित मतभेदों को भुलाकर एकजुट होने का मौका है। उन्होंने यह भी कहा कि देश एकजुट होकर इस महामारी को पराजित करेगा। उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सरकार से एक बार फिर सरकार से आग्रह किया कि कोरोना की व्यापक स्तर पर जांच की जाए।
राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'कोरोना संकट भारत के लिए एक ऐसा मौका है जिसमें लोग अपने धर्म, जाति एवं वर्ग के मतभेदों को पीछे छोड़कर एकजुट हों और इस खतरनाक वायरस को पराजित करें।' उन्होंने कहा,' करुणा, संवेदना और त्याग इस सोच की बुनियाद हैं। हम साथ मिलकर इस लड़ाई को जीतेंगे।' अपने इस ट्वीट के साथ राहुल ने हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश करती एक तस्वीर भी साझा की।
वहीं, प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, 'कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने का एकमात्र रास्ता ज्यादा से ज्यादा जांच है। तभी हम संक्रमित व्यक्ति का उपचार कर सकते हैं। प्रियंका ने कहा, 'ज्यादा से ज्यादा जांच करो, फिर उपचार करो- यही हमारा मंत्र होना चाहिए। आप सबसे मेरी गुजारिश है कि ज्यादा जांच के लिए आवाज उठाइए।'


भुखमरी और तंगहाली का जश्न

आज हमारा देश कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है। लगातार हमारे देश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा भी लगभग 100 के पार पहुंच चुका है। हमारा देश आज एक ऐसी महामारी से जूझ रहा है जिस से निकल पाने के बावजूद भी देश बहुत पीछे चला जाएगा। भारत में 22 मार्च 2020 को देश के प्रधानमंत्री की अपील पर एक दिन का जनता कर्फ्यू लगाया गया था। उसी दिन कुछ प्रदेशों व जिलों को लॉक डाउन कर दिया गया था। 24 मार्च 2020 को रात्रि आठ बजे देश के प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम एक संबोधन दिया और रात्रि 12:00 बजे से अगले 21 दिनों तक यानी 14 अप्रैल 2020 तक संपूर्ण देश को लॉक डाउन कर दिया।


इसमें कुछ रोजमर्रा की चीजों को खोला गया। हमारे देश के प्रधानमंत्री ने इकोनॉमी को छोड़कर जनता को चुना क्योंकि अगर जनता ही नहीं रहेगी तो कैसी और किस काम की इकोनॉमी। लॉकडाउन के बाद भी धीरे-धीरे कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। इसी बीच खबरें आई की दिहाड़ी मजदूरों के आगे रोजी-रोटी का संकट आ गया।


लोग पलायन करने को मजबूर हो गए। लोगों ने 200, 400, 600 व 1000 किलोमीटर तक की पैदल यात्रा की। इसी के बाद शुरू हुआ संप्रदायिकता की भावनाओं को भड़काने का खेल। पहले संप्रदायिकता की भावनाओं को सोशल मीडिया पर ताकत दी गई और उसके बाद तबलीगी जमात से कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को हमारे देश में संप्रदायिकता कर रंग दे दिया। जो कल तक एक साथ उठते बैठते थे, वह आज दुश्मन नजर आने लगे।


इस संप्रदायिकता को रंग देने में कुछ मीडिया हाउसों ने भी अपनी अहम भूमिका निभाई। जनता कर्फ्यू के दिन प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के इलाज में जुटे कर्म योगियों का अभिवादन करने को कहा, उत्साह बढ़ाने को कहा। थाली ताली घंटी और शंख के माध्यम से देश की जनता ने उन्हें भरपूर समर्थन भी दिया और उत्साहवर्धन भी किया।


इसके बाद पांच अप्रैल को रात नौ बजे नौ मिनट तक घरों की लाइट को बंद कर अपनी बालकनी और छतों में आकर दिये, मोमबत्ती, टॉर्चर और मोबाइल की फ्लैश जलाने की अपील देशवासियों से की गई थी। देशवासियों को कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए एकजुटता दिखाने को कहा गया था।


लेकिन बेहद अफसोस हमारे देश का कुछ हिस्सा जो इस समय मानसिक रोगी हो चुका है, वह अपना होश खो बैठा और उसने जमकर आतिशबाजी की। ऐसा तो हमारे पीएम ने नहीं कहा था। लेकिन इसमें यह सवाल खड़ा हो रहा है कि आखिर आतिशबाजी कर वो हिस्सा किस बात की खुशी जाहिर करना चाह रहा था। कोरोना वायरस की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या 100 के पार पहुंच चुकी है। बहुत लोगों को रोजी रोटी छिन गई है।


वहीं हमारे देश के कुछ बुद्धिजीवी जश्न मनाने में मशगूल थे। गरीब तबके के लिए रोजी-रोटी का संकट खड़ा है। जगह-जगह लोग सेवा कर रहे हैं। क्या यह जश्न उन लोगों की रोजी रोटी या मौत पर मनाया गया था? आज जो लोग सोशल मीडिया पर संप्रदायिकता की भावना को भड़काने का काम कर रहे हैं। वह शायद कल के बारे में नहीं जानते कई विद्वान अर्थशास्त्रियों का मानना है की लॉक डाउन के बाद भारत में बहुत सारे व्यापार खत्म हो जाएंगे।


कुछ चीजों को सामान्य होने में बहुत सारा समय लगेगा। आज केवल दुख इस बात का है ज्ञान होने के बावजूद भी लोग अज्ञानी बन गए। लेकिन उन अज्ञानीयो का मकसद सिर्फ एक समुदाय को नीचा दिखाने का था। शायद कुछ लोग इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद हमें देशद्रोही साबित करने की कोशिश करेंगे। हम पत्रकार हैं पक्षकार नहीं, सही को सही और गलत को गलत कहना ही हमें सिखाया जाता है। न मैं किसी का विरोधी हूं न मैं किसी का पक्षकार हूं।


मयंक गुप्ता


रेलवेः यात्रा शुरू करने के जतन

नई दिल्ली। देश में जारी 21 दिनों का लॉकडाउन खुलने के बाद यात्राओं के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव और सामाजिक दूरी कायम रखने के मापदंडों के लिए रेलवे ने अभी से सारे जतन शुरू कर दिए हैं। यात्रा संबंधी प्रतिबंध हटने के बाद वह रेल यात्रियों के लिए एडवाइजरी जारी करने संबंधी सुझावों पर विचार कर रहा है। इसमें यात्रा से पहले अनिवार्य रूप से सामाजिक दूरी का पालन करने की शर्त के साथ ही अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने के लिए सभी को 'आरोग्य सेतु' ऐप का भी इस्तेमाल करने की हिदायत दे सकता है। सिर्फ स्वस्थ यात्रियों को ही रेल से सफर करने का भी निर्देश दिया जा सकता है।


सरकार की मंजूरी के बाद चरणबद्ध तरीके से होंगी रेल सेवाएं बहाल


अधिकारियों का कहना है कि कोरोना वैश्विक महामारी के चलते विगत 25 मार्च से जारी देशव्यापी लॉकडाउन के तहत सभी यात्री रेलों का सफर भी स्थगित है। रेल यात्रा फिर शुरू करने की सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद रेलवे यात्राएं चरणबद्ध तरीके से शुरू करेगा। अधिकारियों ने बताया कि आने वाले हफ्ते में यह फैसला लिया जाएगा कि रेल सेवाएं फिर से किस तरह बहाल की जाएं। रेलवे अपने 19 मार्च के उस फैसले पर भी विचार करेगा, जिसके चलते रेल यात्रियों को टिकटों पर मिलने वाली सभी छूटों को बंद कर दिया गया था। यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग और अन्य जांच की प्रक्रियाओं को भी निर्धारित किए जाने की जरूरत है। रेल यात्राएं शुरू होने के बाद सभी यात्रियों से मुंह पर मास्क पहनने की भी अपील की जाएगी। साथ ही आरोग्य सेतु ऐप भी इस्तेमाल करने को कहा जाएगा। साथ ही केवल सेहतमंद यात्रियों को ही सफर करने को कहा जाएगा।


राजस्‍व की ओर नहीं, यात्रियों की सुरक्षा रेलवे का ध्‍यान 


रेलवे ने अपनी सेवाएं बहाल करने के विकल्पों पर चर्चा की है। रेलवे बोर्ड की ओर से हरेक ट्रेन पर मंजूरी के बाद ही आगे की कार्रवाई होगी। रेलवे बोर्ड के प्रत्येक जोन को चरणबद्ध तरीके से बहाल किए जाने का सुझाव दिया गया है। रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह बेहद संवेदनशील समय है और हमारा ध्यान राजस्व जुटाने की ओर फिलहाल नहीं है। हमारा पूरा ध्यान यात्रियों की सुरक्षा पर है और यह सुनिश्चित करना है कि कोरोना वायरस का संक्रमण और न फैले।



जैसे ही सरकार हरी झंडी देगी ट्रेने उसी के अनुरूप संचालित होंगी। फिलहाल इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया गया है। बोर्ड की ओर से जोन की कौन सी ट्रेनों को पहले शुरू किया जाए, इस पर भी कोई फैसला नहीं हुआ है। अभी इस बात पर विचार चल रहा है कि प्रवासियों के रूट वाली ट्रेनों को पहले चलाया जाए, या फिर उन रूटों की ट्रेनों को चलाया जाए जहां ज्यादा हलचल के आसार नहीं हैं। अधिकारियों ने कहा कि रेलवे को अभी यह भी देखना है कि लॉकडाउन किस तरीके से खुलता है। अगर यह कुछ चयनित क्षेत्रों के लिए होगा तो उन्हीं क्षेत्रों के लिए ट्रेनें चलेंगी।


सब बंद, दूध और दवाई मिलेगी

भोपाल। राजधानी भोपाल में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 40 हो गई है। रविवार को आठ लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इनमें तीन डॉक्टर भी हैं। सभी को एम्स में भर्ती कराया गया है। यह पहली बार है जब एकसाथ 8 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं, प्रशासन ने संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सख्त कदम उठाए हैं। कलेक्टर तरुण पिथौडे ने कहा है कि अब केवल दूध और दवाई की दुकानों को छोड़कर बाकी दुकाने अगले आदेश तक बंद रहेंगी।


इंदौर में कोरोना पॉजिटिव एक और महिला ने रविवार दोपहर दम तोड़ दिया। महिला का एमआरटीबी अस्पताल में इलाज चल रहा था। स्नेहलता गंज निवासी 53 साल की महिला को 10 दिन पहले सर्दी-खांसी और सांस लेने में तकलीफ हुई थी। उसे तीन दिन से तेज बुखार था। महिला की किसी प्रकार की ट्रैवल और कॉन्टेक्ट हिस्ट्री नहीं है।


इंदौर में अब तक 131 कोरोना पॉजिटिव है, इनमें से 9 मरीजों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में अब मरने वालों का आंकड़ा 13 हो गया है। मध्य प्रदेश में 194 कोरोना संक्रमित हो गए हैं। इनमें इंदौर 128, मुरैना 12, भोपाल 26, जबलपुर 8, उज्जैन 7, खरगोन 4, बड़वानी 3, ग्वालियर, शिवपुरी और छिंदवाड़ा में 2-2 संक्रमित मिले। इंदौर 9, उज्जैन 2, खरगोन और छिंदवाड़ा में एक-एक पीड़ित की मौत हो चुकी है। इसमें भोपाल के 2 और शिवपुरी के एक मरीज स्वस्थ्य होने पर घर भेज दिया गया।    


9 मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आई
इंदौर संभागायुक्त ने बताया है कि रविवार को 9 पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इन 9 मरीजों में से 8 अरविंदो हॉस्पिटल में और एक एमआरटीबी हॉस्पिटल में भर्ती है। संभागायुक्त ने बताया है कि पहली रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अब प्रोटोकाल के तहत


इनको रहेगी छूट
मेडिकल, दूध की दुकानें और आॅनलाइन सप्लाई चालू रहेगी। शासकीय कार्य के लिए अतिआवश्यक सेवा में लगे अधिकारी और कर्मचारी के वाहनों को इस प्रतिबंध से छूट रहेगी। मीडिया उनके प्रतिनिधियों को पहले की तरह छूट रहेगी। आपातकालीन सेवाओं के अतिरिक्त अन्य सभी तरह के पास सस्पेंड कर दिए गए हैं। वहीं निजी वाहन प्रतिबंधित रहेंगे। किसी भी क्षेत्र में आवाजाही पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगी। कैंटोनटमेंट क्षेत्र से बाहर जाना और जोन के बाहर पाए जाने पर उल्लंघन माना जाएगा और संबंधित की गिरफ्तारी की जाएगी।


भूकंपः 11 दिनों में 8 बार कांंपी धरती

हिमाचल में भुकंप, 11 दिनों में 8वीं बार कांपी धरती

चंबा। सोमवार सुबह हिमाचल के चंबा जिले में भूकंप के झटके महसूस किए गए, जानमाल के नुक़सान की कोई जानकारी नहीं है।


चंबा जिले में सुबह 7-30 बजे अचानक धरती कांप उठी,  स्थानिय लोग घरों से बाहर निकल आए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3•1 मापी गई है। बताया जा रहा है कि भूकंप का केंद्र चंबा जिले से पांच किमी दूर पूर्वोत्तर में ज़मीन के भीतर पांच किमी अंदर रहा। बीते 27 से 30 मार्च के बीच इसी जिले में सात बार 3 से 4•5 तीव्रता के झटके आ चुके हैं सोमवार को 8वीं बार भूकंप आया। भूकंप के कारण किसी भी तरह के जान-माल के नुक़सान की कोई जानकारी नहीं है।



पुलिस पर हमला, 17 लोगों पर रासुका

बरेली में पुलिस पर हमला, रासुका के तहत होगी कार्रवाई
प्रेमशंकर 
बरेली। झुंड लगाकर ताश खेल रहे लोगों को रोकने पर भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया। पुलिस ने 17 लोगों को हिरासत में लिया है जिनके खिलाफ रासुका लगाने की तैयारी है।


लाॅकडाउन का उलंघन करने से रोकने पर इज्जतनगर थानें के कर्मपुरा गांव में भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया।‌‌‌‌‌ बताया जा रहा है गांव में बड़ी संख्या में लोग घरों से बाहर निकलकर घूम रहे थे, झुंड के रूप में ताश खेल रहे लोगों को जब गश्त कर रही पुलिस ने रोका तो भीड़ जमा हो गई और पुलिस से बदसलूकी करने लगी। देखते ही देखते भीड़ ने उग्र रूप धारण कर लिया और पुलिस चौकी को घेरने की कोशिश की। इसके बाद और पुलिस बुलाई गई और भीड़ पर हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को रोका गया। पुलिस ने 17 लोगों की पहचान कर हिरासत में लिया है, अभी घटना में शामिल रहे और लोगों की पहचान की जा रही है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई करने की तैयारी कर ली है।


कब खुलेंगे स्कूल-कॉलेज ?

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन की स्थिति फिलहाल पूरे देश में 14 अप्रैल 2020 तक रहेगी। ये सवाल सभी के मन के उठ रहा है कि क्या लॉकडाउन की अवधि आगे बढ़ेगी.. स्कूल-कॉलेज कब शुरू होंगे। इस सवाल को लेकर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्थिति स्पष्ट की है। HRD मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि देश में कोरोना वायरस संकट परिस्थिति की 14 अप्रैल 2020 को समीक्षा की जाएगी और इसके बाद ही स्कूल-कॉलेज दोबारा खोलने को लेकर कोई निर्णय लिया जाएगा।
बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी के निर्देश पर पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित है, जो 14 अप्रैल 2020 तक चलेगा। आगे की स्थिति के लिए 14 अप्रैल को समीक्षा होगी। HRD मंत्री ने कहा कि छात्र-छात्राओं और अध्यापकों की सुरक्षा सरकार के लिए सबसे बड़ी प्राथमिकता है। हमारा मंत्रालय ये सुनिश्चित करने के लिए तैयार है कि यदि स्कूल-कॉलेज को 14 अप्रैल के बाद भी बंद रखने की जरूरत पड़ी तो छात्रों को पढ़ाई लिखाई का कोई नुकसान नहीं हो। पर कोई भी फैसला लेने से पहले सभी बातों का ध्यान रखा जाएगा।
गौरतलब है कि देश में 21 दिन के लिए लागू लॉकडाउन 14 अप्रैल को समाप्त होने पर HRD मंत्रालय बैठक करेगा। 14 अप्रैल के बाद की स्थिति के लिए मंत्रालय की योजना को लेकर मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा कि इस समय कोई भी फैसला करना मुश्किल है। पहले स्थिति की विस्तृत समीक्षा की जाएगी और फिर कोई फैसला किया जाएगा कि स्कूल-कॉलेज खोले जा सकते हैं या उन्हें कुछ और समय के लिए बंद रखना जरूरी है।
बता दें कि देश में डेढ़ लाख स्कूलों के अलावा विभिन्न विश्वविद्यालयों में 40 हजार से ज्यादा कॉलेज और 12 हजार उच्च शिक्षण संस्थान हैं। मंत्री ने बताया कि फिलहाल दीक्षा और स्वयं जैसे विभिन्न सरकारी प्लेटफार्म के जरिए बच्चों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। जिससे बच्चों की पढ़ाई के नुकसान की भरपाई करने की कोशिश की जा रही है।


भाजपा स्थापना दिवस पर की जनसेवा

मेरठ । भारतीय जनता पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर महानगर मंत्री ममता मित्तल द्वारा माधवपुरम पुलिस चौकी के पास आम जनता को भोजन वितरण किया गया। इसके साथ ही पूरे जिले की सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मियों को ब्रह्मपुरी थाने में 100 पेकेट भोजन उपलब्ध कराया गया। अपने निवास पर भी आम जनता को भोजन वितरित कर अपने कर्तव्य का निर्वहन किया। लगभग 800 लोगो को  भोजन का वितरण किया गया जिसमें जिला महामंत्री अरविंद मारवाड़ी, पार्षद राजकुमार मांगलिक, पूर्व मंडल अध्यक्ष राजीव गोयल, अमित अत्रि, विनोद, दीपक ,मोना, प्रमोद सिंघल, विकास जाटव, सुल्तान, आदि उपस्थित रहे।



 


कोरोना की लड़ाई लंबी, हारना मत

राकेश रोशन


नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के 40 वें स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि "कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लड़ाई लंबी है, इसलिए थकना नहीं है, हारना नहीं है ,और सिर्फ जीतना ही है" अब सवाल है कि जिस कोरोना संकट से देश गुजर रहा है और पीएम के निर्देश पर पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन लागू है तो क्या प्रधानमंत्री मोदी ने संकेत दे दिया है कि लॉकडाउन अभी नहीं टूटेगा?या फिर कुछ और?


लड़ाई लम्बी है ,थकना नहीं है,इसका मतलब क्या है?
40 वें स्थापना दिवस समारोह पर नरेंद्र मोदी के द्वारा संबोधन के दौरान कही गई यह बात कि कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लड़ाई लंबी है।इसके कई निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने एक प्रकार से देश के तमाम बुद्धिजीवियों और आम नागरिकों के बीच एक सवाल छोड़ दिया है ,जिसके बाद से लगातार अपने -अपने हिसाब से कयासों का दौर जारी है, कुछ लोग सवाल यह भी पूछ रहे हैं कि क्या प्रधानमंत्री एक लंबे लॉक डाउन के लिए देश को तैयार करना चाहते हैं या फिर या 15 अप्रैल को यह खत्म हो जाएगा.....


ख्याल रखियेगा पीएम ने देशवासियों से कुछ हफ्ते मांगे थे...
कोरोना वायरस के संकट  के बीच देश में चल रहे 21 दिनों का लॉक डाउन ,फिर ताली और थाली बजाकर कोरोना वायरस से लड़ रहे योद्धाओं का समर्थन और एक बार फिर 5 अप्रैल को रात्री 9 बजे 9 मिनट तक दीप प्रज्वलन का संकल्प।इसके बाद  भारतीय जनता पार्टी के 40 वें स्थापना दिवस समारोह पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह कहना कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लंबी है... लेकिन अब जरा इससे पहले प्रधानमंत्री के कथनों पर गौर कीजिए।याद कीजिए जब प्रधानमंत्री ने जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था। उन्होंने यह कहा था की वह देशवासियों से उनके कुछ हफ्ते चाहते हैं। परिणाम हुआ 2 दिनों बाद पूरे देश में 21 दिनों के लॉक डाउन का ऐलान कर दिया गया। 


दुनिया के  इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब 130 करोड़ लोगों की आबादी वाले देश में लोगों को 21 दिनों के लिए घरों में रहने के लिए कह दिया गया। एक तरफ 14 मार्च को लॉक डाउन समाप्त हो रहा है तो दूसरी तरफ कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है । कोरोना की वजह से मरने वाले लोगों के आंकड़े भी धीरे-धीरे बढ़ रहे हैं।21 दिनों का लॉक डाउन देश को प्रतिदिन आर्थिक तौर पर तोड़ रहा है। लेकिन प्रधानमंत्री ने कहा था कि अगर 21 दिन घरों में रहिएगा तो 21 साल पीछे जाने से बच जाइएगा यानी जो ठहरेगा वही जीतेगा तो आज के संबोधन के बाद कयासों का दौर जारी है ।लोग जानना चाह रहे हैं कि प्रधानमंत्री के द्वारा यह कहा जाना कि अभी लड़ाई लंबी है इसका मतलब क्या लॉक डाउन अभी नहीं टूटेगा?


पटना में 7000 से अधिक क्वॉरेंटाइन

पटना। पटना में करीब 7 हजार से अधिक लोगों को कोरेंटाइन सेंटर में रखा गया है। ये सभी ऐसे लोग हैं जो 25 मार्च के बाद भी विदेश या अन्य प्रदेशों से आए हैं। उन्हें अलग-अलग जगहों पर रखा गया है। इनमें से कई लोगों का 14 दिन का क्वॉरेंटाइन पूरा हो गया है लेकिन प्रशासन ने 14 अप्रैल के बाद ही उन्हें  निकलने की इजाजत दी है.
 निकलने से पहले एक बार फिर से उनकी स्क्रीनिंग की जाएगी, जिसके बाद उन्हें फिर घर से निकलने का आदेश दिया जाएगा। दूसरे चरण की स्क्रीनिंग 12 अप्रैल से शुरू होगी। इस बाबत डीएम कुमार रवि ने बताया कि 7 हजार से अधिक लोग क्वारंटाइन सेंटर में  रखे गए हैं उन पर विशेष नजर रखी जा रही है। कुछ ऐसे लोग भी हैं जो तबलीगी जमात में शामिल हुए थे उनकी खोजबीन की जा रही है।



इसमें से कुछ लोगों की पहचान की गई है उनकी जांच भी कराई गई है। बाहर से आए ज्यादातर लोगों को क्वॉरेंटाइन सेंटर में ही रखा गया है। जहां ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले किसी भी व्यक्ति में कोरोना पॉजिटिव नहीं पाया गया है। शहरी इलाके में जिन क्षेत्रों में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है उन इलाकों को विशेष तौर पर निगरानी की जा रही है। पटना शहर में जो क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं वहां रह रहे लोगों को नियमित चिकित्सा जांच कर रही है। वहीं कोराना को लेकर ग्रामीण भी सजग है। कई इलाकों में ग्रामीणों ने ही बाहर से आए लोगों को क्वॉरेंटाइन सेंटर में भिजवा दिया है। अनामिका


घर पर धूमधाम से मनाएं हनुमान जयंती

ललितपुर। श्री रामलीला हनुमान जयंती महोत्सव समिति की एक बैठक दूरभाष के माध्यम से समिति के अध्यक्ष पंडित बृजेश चतुर्वेदी की अध्यक्षता में एवं डॉ प्रबल सक्सेना महामंत्री के संचालन में संपन्न हुई।जिसमें 8 अप्रैल दिन बुधवार को पढ़ने वाले श्री हनुमान जयंती महोत्सव पर चर्चा की गई समिति के अध्यक्ष ने कहा आज देश में राक्षसी सुरसा जैसी महामारी कोरोना का खतरा निरंतर बना हुआ है।


आज पूरा देश लॉक डाउन के नियम का पालन कर रहा है इस लॉक डाउन में हमारे भारत वर्ष के समस्त प्रमुख तीर्थ क्षेत्र के साथ-साथ सभी बाजार एवं संस्थाएं बंद है समिति द्वारा भी यह निर्णय लिया गया है कि हम जनपद ललितपुर का प्राचीन एवं ऐतिहासिक पर्व श्री हनुमान जयंती महोत्सव प्रतीकात्मक रूप मैं मंदिर में एवं भव्य रुप से अपने अपने घरों में रहकर मनाएंगे ।


समिति ने समस्त धर्म प्रेमी बंधुओं आप सभी को हनुमान जयंती की अग्रिम शुभकामनाएं एवं हनुमान जयंती दिनांक 8 अप्रैल बुधवार को समस्त नगरवासी प्रातः 8:00 बजे अपने-अपने घरों पर शंख झालर और जो भी वाद्य यंत्र उनके द्वारा पूजन करने के पश्चात आरती करें एवं 8:05 से 8:15 तक श्री हनुमान जी की आरती गायन एवं ठीक 8:15 से श्री हनुमान चालीसा का पाठ उच्च स्वर में यदि माईक हो तो माइक से अथवा अपने अपने घरों में रखे हुए म्यूजिक सिस्टम के द्वारा अवश्य करें। ठीक इसी समय तुवन मंदिर पर वर्तमान परिस्थिति के अनुसार पुजारियों द्वारा आरती एवं हवन का कार्यक्रम संपन्न होगा


इस आयोजन को सभी भक्तजन सोशल मीडिया के माध्यम से भी प्रचारित एवं प्रसारित कर सकते हैं इस संकट की घड़ी में महामारी को पूर्ण रूप से समाप्त करने के लिए हम संकटमोचक श्री हनुमान जी महाराज से प्रार्थना करें संपूर्ण विश्व आरोग्यता को प्रदान करें और यह महामारी संपूर्ण विश्व से श्री हनुमान जी महाराज पूर्णतया समाप्त करें अतः आप सभी अपने घरों पर उसी समय अनुष्ठान करते हुए सारे नगर में सामूहिक भागीदारी निभाएं ताकि लगे कि हनुमान जयंती हम सभी ने सामूहिक रूप से मनाई है फोन पर कान्फ्रेंस के अवसर पर रमेश रावत श्यामा कांत चौबे राजेश दुबे अमित तिवारी रत्नेश तिवारी हरविंदर सलूजा जगदीश पाठक चंद्रशेखर राठौर धर्मेंद्र चौबे राजेंद्र ताम्रकार हरी मोहन चौरसिया शिवकुमार शर्मा भरत रिछारिया अवधेश कौशिक ललित कौशिक मुन्ना त्यागी कृष्णकांत तिवारी सहित समिति के पदाधिकारीयो द्वारा सभी जनपद वासियों से अपने अपने घरों में रहकर श्री हनुमत अनुष्ठान करने का आह्वान किया गया


रिपोर्ट सुनील चौबे बुढ़बार , शिब्बू राठौर


रेप, मुंह में कपड़ा ठूंस की हत्या

नोएडा। पारिवारिक संबंधों के बीच रिश्ते को तार-तार करने वाली एक घटना प्रकाश में आई है। नोएडा सेक्टर-49 थाना क्षेत्र के एक गांव में शनिवार रात को एक युवक ने अपने ही 8 वर्षीय ममेरी बहन के साथ दुष्कर्म कर दिया। ममेरी बहन के शोर मचाने पर आरोपी ने बच्ची के मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसकी हत्या कर दी। इस संबंध में पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस को दी गई शिकायत में मूल रूप से बिहार के रहने वाले व्यक्ति ने बताया कि वह मेहनत-मजदूरी करके परिवार का गुजारा करता है। व्यक्ति अपने परिवार के साथ सेक्टर-49 थाना क्षेत्र के एक गांव में बनी झुग्गी में रहता है।


शिकायतकर्ता का भांजा जीतू भी कुछ दूरी पर ही दूसरी झुग्गी में रहता है। शनिवार रात करीब 8 बजे शिकायतकर्ता की 8 वर्षीय बेटी अचानक घर से लापता हो गई। करीब 1 घंटे तक लगातार तलाश करने के बाद उस बच्ची का शव भांजे की ही झुग्गी में मिला। इसके बाद परिजनों ने तत्काल पुलिस को इसकी सूचना दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।


बच्ची के पिता ने अपने भांजे पर हत्या और दुष्कर्म का शक जाहिर किया। जिसकें बाद पुलिस ने भांजे को हिरासत में लेकर कड़ाई के साथ पूछताछ की। पुलिस पूछताछ में आरोपी युवक ने कबूल किया कि उसने ही बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। और बच्ची के शोर मचाने पर आरोपी ने बच्ची के मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 376 और पास्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया हैं।


आरएसएस के जून तक कार्यक्रम निरस्त

नागपुर। कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक को सावधानी बरतने पर मजबूर कर दिया है। संघ ने जून तक होने वाले अपने तमाम कार्यक्रम निरस्त कर दिए हैं।


संघ के डॉ. मनमोहन वैद्य ने कोरोना वायरस को लेकर उपजी स्थिति में जून तक होने वाले लगभग 90 से अधिक संघ शिक्षा वर्ग के अलावा अन्य सभी सार्वजनिक व सामूहिक कार्यक्रम निरस्त किए जाने की घोषणा की है।


फ्लाइट से चिकित्सा सामग्री की आपूर्ति

रायपुर। कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही लड़ाई में चिकित्सा सामग्री की कमी बड़ी बाधा बनकर सामने आ रही है। इस स्थिति से उबरने के लिए एयर इंडिया विशेष कार्गों फ्लाइट के जरिए चिकित्सा सामग्रियों की आपूर्ति कर रहा है। इसी कड़ी में सोमवार को दोपहर स्पेशल कार्गों प्लेन चिकित्सा सामग्री लेकर रायपुर हवाई अड्डे पर उतरा।


दिल्ली से चिक्तिसा सामग्री लेकर उड़ान भरने वाला कार्गों प्लेन वाराणसी के बाद दोपहर 2.20 बजे रायपुर हवाई अड्डे में उतरा है, जहां जरूरी चिकित्सा सामग्री को उतारने के बाद हैदराबाद के लिए उड़ान भर ली।
स्पेशल फ्लाइट के जरिए दूसरी बार चिकित्सा सामग्री की आपूर्ति की जा रही है। उतारी गई चिकित्सा सामग्री राज्य स्वास्थ्य विभाग को प्रदान की जाएगी।


 


सांसदों के वेतन पर कोरोना की मार

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में आज दो फैसले लिए गए। पहले फैसले के मुताबिक सभी सांसदों की सैलरी में एक साल के लिए 30 फीसदी कटौती की गई है। दूसरे फैसले के अनुसार दो साल के लिए MPLAD फंड को खत्म कर दिया गया है। इस फंड का इस्तेमाल कोरोना वायरस से लड़ने में किया जाएगा।


कैबिनेट के फैसले की जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि एक साल तक सभी सांसदों की सैलरी में 30 फीसदी की कटौती करने का फैसला किया है। सांसदों की इस सैलरी का इस्तेमाल कोरोना वायरस से लड़ने के लिए किया जाएगा। कैबिनेट के इस फैसले के बाद प्रधानमंत्री, सभी कैबिनेट मंत्रियों और राज्यमंत्रियों के वेतन में 30 फीसदी की कटौती हो जाएगी। इस बाबत केंद्र सरकार आज अध्यादेश जारी करेगी। इसके अलावा राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपाल भी एक साल तक अपनी सैलरी 30 फीसदी कम लेंगे। राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपालों ने ये फैसला स्वैच्छिक रूप से लिया है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कैबिनेट में सांसदों के सांसद लोकल एरिया डेवलपमेंट फंड (MPLAD) को 2 साल के लिए खत्म करने पर सहमति बनी। साल 2020-21 और 2021-22 के लिए लोकल एरिया डेवलपमेंट फंड को 2 साल के खत्म किया जाएगा।


बता दें कि लोकसभा और राज्यसभा के हर सांसद को अपने क्षेत्र के विकास के लिए हर साल 5 करोड़ रुपये सरकार से मिलते हैं। इसे MPLAD फंड कहा जाता है। 2 साल के लिए इस फंड को हटाने पर सरकार के पास 7900 करोड़ रुपये आएंगे। ये पैसा भारत सरकार के Consolidated Fund में जाएगा। इस रकम का इस्तेमाल कोरोना से लड़ने में किया जाएगा।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सतर्क रहे, सावधानी बरते।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 07, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-239 (साल-01)
2. मंगलवार, अप्रैल 07, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि- चतुर्दशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 06:15,सूर्यास्त 06:40।


5. न्‍यूनतम तापमान 18+ डी.सै.,अधिकतम-33+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


एक्ट्रेस शर्लिन ने शिल्पा के बयान पर रिएक्ट किया

कविता गर्ग        मुबंई। पोर्नोग्राफी केस में बिजनेसमैन राज कुंद्रा जेल में हैं। राज कुंद्रा पर अश्लील फिल्में बनाकर उन्हें ओटीटी प्लेटफॉर्म...