मंगलवार, 27 जुलाई 2021

ऑरिजन की जांच, अमेरिका पर पलटवार किया

वाशिंगटन डीसी/ बीजिंग। कोरोनावायरस के ऑरिजन की जांच को लेकर चीन ने अमेरिका पर पलटवार किया है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने सोमवार को कहा कि अगर लैब की जांच करनी है तो विश्व स्वास्थ्य संगठन के अधिकारियों को फोर्ट डेट्रिक जाना चाहिए। अमेरिका का फोर्ट डेट्रिक एक मिलिट्री बेस है। गौरतलब है कि कोरोनावायरस के ऑरिजन को लेकर चीन पर आरोप है कि ये वुहान स्थित लैब से बाहर आया है।

झाओ लिजियान ने कहा, ‘अगर लैब्स की जांच करनी है तो डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों को फोर्ट डेट्रिक जाना चाहिए। अमेरिका को जल्द से जल्द पारदर्शी और जिम्मेदारी से काम करना चाहिए और डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों को फोर्ट डेट्रिक लैब की जांच के लिए बुलाना चाहिए। इस तरह से ही दुनिया के सामने सच्चाई सामने आ सकती है। दरअसरल, लिजियान का ये ट्वीट कोविड-19 के ऑरिजन की दूसरे दौर की जांच की मांग किए जाने का जवाब में था। फोर्ट डेट्रिक फ्रेडरिक, मैरीलैंड में स्थित एक सैन्य अड्डा है। गौरतलब है कि चीन पहले भी लैब लीक की बात को नकार चुका है।

मानवता के समक्ष जलवायु परिवर्तन बड़ी चुनौती

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को कहा कि मानवता के समक्ष जलवायु परिवर्तन अत्यधिक संकटपूर्ण चुनौती है और ग्लोबल वार्मिंग का असर हर जगह हो रहा है। कोविंद ने यहां कश्मीर विश्वविद्यालय के 19वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए यह उम्मीद भी जताई, कि विश्वविद्यालय स्थित ग्लेशियर विज्ञान एवं हिमालय जैव विविधता केंद्र जलवायु परिवर्तन से लड़ने में दुनिया को मार्ग दिखाएंगे। राष्ट्रपति ने कहा, ”जैसा कि आप जानते हैं। जलवायु परिवर्तन इस सदी में मानवता के समक्ष अत्यधिक संकटपूर्ण चुनौती है। ग्लेाबल वार्मिंग हर जगह अपना असर दिखा रही है। लेकिन हिमालय क्षेत्र की संवेदनशील पारिस्थितिकी से ज्यादा इसका असर कहीं और अधिक महसूस नहीं होता।”

उन्होंने कहा कि कश्मीर विश्वविद्यालय ने अत्यंत महत्व के दो केंद्र स्थापित कर संबंधित दिशा में एक और महत्वपूर्ण कार्य किया है। कोविंद ने कहा, ”एक (केंद्रों में से) ग्लेशियर विज्ञान के लिए समर्पित है और दूसरा हिमालय जैव विविधता दस्तावेजीकरण, जैव-विवरण और संरक्षण के लिए। राष्ट्रीय हिमालयी हिम तत्व प्रयोगशाला भी है। मुझे विश्वास है कि इन दोनों उत्कृष्टता केंद्रों और प्रयोगशाला से कश्मीर को मदद मिलेगी तथा ये जलवायु परिवर्तन से लड़ाई एवं प्रकृति की रक्षा करने में दुनिया को मार्ग दिखाएंगे।” जलवायु परिवर्तन को लेकर राष्ट्रपति ने ऐसे समय चिंता व्यक्त की है जब हाल में हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड सहित हिमालयी राज्यों में प्राकृतिक आपदा की घटनाएं देखने को मिली हैं। हिमाचल प्रदेश में रविवार को भूस्खलन की घटनाओं में जहां नौ लोगों की मौत हो गई, वहीं उत्तराखंड में फरवरी में ग्लेशियर फटने से 70 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। राष्ट्रपति ने कोविड-19 का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि विश्वविद्यालय ने महामारी को लेकर बहुत ही सराहनीय ढंग से काम किया।

कोविंद ने कहा, ”समूचा विश्व कठिन समय का सामना कर रहा है। कोरोना वायरस ने जीवन के सभी आयामों को प्रभावित किया है और शिक्षा कोई अपवाद नहीं है। सौभाग्य से, प्रौद्योगिकी ने एक समाधान उपलब्ध कराया। पूरे भारत में स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों ने ऑनलाइन तरीके से शिक्षा उपलब्ध कराने का काम जारी रखा।” राष्ट्रपति ने उल्लेख किया कि पिछले साल महामारी के शुरू होने के बाद कश्मीर विश्वविद्यालय ने ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने का काम शुरू किया और अपने छात्रों को ई-संसाधन उपलबध कराए। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ने इसके अतिरिक्त अपने मुख्य, उत्तरी और दक्षिणी परिसरों को पृथक-वास के लिए उपलब्ध कराकर प्रशासन का सहयोग किया। इससे पता चलता है कि समाज के प्रति विश्वविद्यालय का योगदान शिक्षा से परे भी जा सकता है।

संगठन के गठन की प्रक्रिया को पूरा किया जाएंगा

राणा ओबरॉय          
चंडीगढ़। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी का विस्तार का मामला फिर टलता हुआ नजर आ रहा है। कुछ दिनों पहले प्रदेश कांग्रेस प्रभारी व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दोनों ने बयान दिया था कि कुछ समय बाद ही हरियाणा में संगठन के गठन की प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा। परंतु इस बात को भी लगभग एक महीना बीतने वाला है। अभी तक संगठन का काम प्रदेश कांग्रेस कमेटी पूरा नहीं कर सकी। इसका सीधा लाभ सत्तारूढ़ पार्टी को मिला रहा है। अभी पिछले दिनों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लगभग सभी विधायकों समेत हरियाणा के राज्यपाल को ज्ञापन दिया था। इसमें एक बात साफ दिखाई दी की लगभग दो दर्जन विधायकों के साथ कांग्रेस कार्यकर्ता पूरे जोश से लबालब था। जिससे लगने लगा कांग्रेस कार्यकर्ताओं का जोश उनके दिलो में हिलोरे मार रहा है। 
जरूरत है तो सिर्फ इस बात की। ब्लॉक लेवल से लेकर प्रदेश की कार्यकारिणी तक का सही रूप से गठन किया जाए। जिससे कार्यकर्ता को जिम्मेदारी मिले। परंतु ऐसा लगने लगा है, हुड्डा और शैलजा ग्रुप की आपसी खींचतान के कारण संगठन प्रक्रिया धीमी हो गई है। शैलजा से पहले अशोक तंवर भी कई वर्षों तक कांग्रेस अध्यक्ष के पद पर रहने के बाद भी संगठन खड़ा नही कर सके थे। शायद ऐसा ही वर्तमान हरियाणा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा के साथ होता दिख रहा है। 

सफल अनावरण करते हुए 2 चोरों को अरेस्ट किया

अतुल त्यागी          
हापुड़। पुलिस द्वारा जनपद में अपराध की रोकथाम एवं वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु चलाए जा रहे अभियान के अन्तर्गत थाना हाफिजपुर पुलिस ने थाने के मु.अ.सं 137/21 व 143/21 धारा 379/411 भादवि का सफल अनावरण करते हुए 2 शातिर चोरों को गिरफ्तार किया। जिनके कब्जे से चोरी का स्टैपलाईजर, 1000/- रूपये नगद व 02 अवैध चाकू बरामद।

नाविक को मुद्दे पर रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश


अकांशु उपाध्याय                 
नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को केंद्र सरकार को किसी आपराधिक मामले में घिर जाने के बाद ईरान में फंस गये पांच भारतीय नाविक को सहायता प्रदान करने एवं इस मुद्दे पर स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति रेखा पल्ली ने कहा, ” मैं कह रही हूं कि नियमानुसार जो भी संभव हो कीजिए। वे जिस चीत के हकदार हैं, उन्हें वह मिलना ही चाहिए।”
अदालत ने इसी के साथ केंद्र को भारतीय नाविक की  स्थिति रिपोर्ट दर्ज करने के लिए दो सप्ताह का वक्त दिया। उच्च न्यायालय ने केंद्र के वकील हरीश विद्यानाथन के इस बयान को रिकार्ड में लिया कि पांचों नाविक ईरान में भारतीय मिशन के अधिकारियों के संपर्क में हैं और उन्हें रहने की सुविधा प्रदान की गई है।
उन्होंने कहा, ” सभी पांचों को मिशन से निरंतर सहायता मिल रही है , उन्हें एक होटल में ठहराया गया है, उनके साथ संपर्क बनाकर रख गया है और उन्हें टेलीफोन की सुविधा दी गयी है।” विद्यानाथन ने अदालत को यह भी सूचित किया कि पांचों नाविकों के विरूद्ध आपराधिक मामले में बरी के आदेश के ईरान के सुप्रीम कोर्ट ने पलट किया, ऐसे में अब कानूनी दृष्टि से जो भी अलग कदम उठाना होगा,उठाया जाएगा।
पाचों नाविकों के परिवारों के वकील गुरिदंर पाल सिंह ने भारतीय अधिकारियों से कानूनी सहायता मांगी और यह भी दरख्वास्त किया कि उनकी भारतीय पहचान को साबित करने वाला दस्तावेज जारी किया जाए। इस पर अदालत ने कहा, ” हम स्थिति रिपोर्ट मांगेंगे। वह (सहायता से) इनकार तो नहीं कर रहे हैं। याचिका के अनुसार 2019 में इन नाविकों ने ईरान में एक मालवाहक जहाज पर काम शुरू किया था।
याचिकाकर्ताओं के वकील के अनुसार फरवरी, 2020 में ईरानी अधिकारियों ने जहाज पर छापा मारा और पांच नाविकों को मादक पदार्थ की तस्करी करने की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। इस साल मार्च में एक अदालत ने उन्हें बरी कर दिया लेकिन ईरानी अधिकारियों ने यह मामला सुप्रीम कोर्ट में होने का हवाला देकर नाविकों को पासपोर्ट देने से इनकार कर दिया।

टीकाकरण कराने गए 2 पक्षों के बीच विवाद हुआ

हरिओम उपाध्याय            
बलिया। स्वास्थ्य केंद्र पर कोविड-19 टीकाकरण कराने गए दो पक्षों के बीच विवाद हो गया। इस दौरान हुई जोरदार झड़प के दौरान मौके पर पहुंची पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।
मंगलवार को प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर हरिनंदन प्रसाद ने बताया है कि सुखपुरा थाना क्षेत्र के करनई गांव में कोविड 19 टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग ने शिविर लगाया था। पहले टीका लगाने को लेकर दो पक्षों में जोरदार झड़प हो गई। इस दौरान कुर्सी फेंकने से लेकर हाथापाई और मारपीट तक की गई। जिसमें स्वास्थ्य विभाग की टीम के सदस्य तथा कई ग्रामीण चोटिल हो गए। सुखपुरा थाना प्रभारी गगन राज सिंह ने बताया है कि इस मामले में स्वास्थ्य विभाग की ओर से की गई शिकायत के आधार पर दोनों पक्षों के 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधीक्षक बिपिन ताडा ने बताया है कि पुलिस ने दोनों पक्षों की तरफ से पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। गौरतलब है कि शुरूआत में लोगों के बीच कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर रूझान नही था। जिसके चलते तमाम प्रयासों के बावजूद स्वास्थय केंद्रो पर लोगों का अभाव बना रहता था। लेकिन अब स्वास्थय केंद्रों पर टीकाकरण कराने के लिये लोग भारी संख्या में पहुंच रहे है। जिसके चलते आपसी झगडों के मामले भी देखने और सुनने को मिल रहे है।

सीएम के इस्तीफे से आहत, समर्थक ने खुदकुशी की

बेंगलुरू। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे से आहत होकर उनके एक समर्थक ने आत्महत्या कर ली है। जिस पर मुख्यमंत्री ने युवकों से ऐसे कदम नहीं उठाने का आग्रह किया है।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि मृतक की पहचान रवि(35) के तौर पर की गई है और वह चामराजनगर जिले के बोम्मालपुर गांव का रहने वाला था।
येदियुरप्पा ने इस घटना पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि राजनीति में अनेक उतार चढ़ावों का होना आम बात है और युवाओं को ऐसे कदम उठाने से परहेज करना चााहिए। उन्होंने कहा " यह सही कदम नहीं हैं और मुझे रवि के आत्महत्या करने पर बहुत दुख है। मैं उसके इस तरह के लगाव से अभिभूत हूं लेकिन इस तरह के कदमों की सराहना नहीं करना चाहता हूं।"
उन्हाेंने कन्नड भाषा में किए गए टवीट में कहा " अगर किसी परिवार को इस तरह के दुख का सामना करना पड़े तो इसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है।"
पुलिस ने बताया कि रवि एक दिहाड़ी मजदूर था और उसने येदियुरप्पा के इस्तीफे की वीडियो देखकर गांव में एक अन्य युवक गुरूस्वामी को कहा था कि येदियुरप्पा की आंखों में आंसू थे। इस बात को लेकर वह रात भर परेशान रहा और सुबह कैंटीन जाकर उसने आत्महत्या कर ली।
रवि को 2017 में हुए उपचुनाव में येदियुरप्पा के साथ देखा गया था। इस घटना के बाद चामराजनगर जिले के भाजपा कार्यकर्ताओं ने रवि के घर का दौरा किया है।

दूरी की वजह बताकर बिजली देने से इनकार किया

हरिओम उपाध्याय                
मुजफ्फरनगर। बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियर ने अपने अनुमानों का कमाल दिखाते हुए अधिक दूरी की वजह बताकर दो व्यक्तियों को बिजली कनेक्शन देने से इनकार कर दिया। चेयरमैन के धरने प्रदर्शन से मचे बवाल के बाद जब बिजली विभाग के ही एक अन्य जेई से पैमाइश कराई गई तो वह महज 29 मीटर ही निकली। विभाग की ओर से इसे लेकर पीड़ितों को कनेक्शन देने की कार्यवाही तो शुरू कर दी गई लेकिन बिना ठोस आधार के कनेक्शन देने से इंकार करने वाले जेई के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई।
दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार बिजली चोरी के मामलों को रोकने के लिये जनता को अधिक से अधिक बिजली कनेक्शन देने के लिए प्रयासरत है। लेकिन पुरकाजी का बिजली विभाग सरकार की मंशा के खिलाफ मोर्चा खोलकर कनेक्शन ना देने के बहाने ढूंढकर लोगों के आवेदन निरस्त कर रहा हैं। मंगलवार को आवेदन निरस्त कर दिये जाने से आहत पीडित लोग पुरकाजी नगर पंचायत चेयरमैन जहीर फ़ारूक़ी के नेतृत्व में स्थानीय बिजली घर गए और वहां दरी डालकर धरने पर बैठ गए। चेयरमैन ने बताया कि धर्मसिंह और तहसीन नाम के गरीब व्यक्तियों ने 350 रुपये खर्च करके नए बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन किया था। उनके घर से पोल की दूरी 30 मीटर भी नही है और पुरकाजी जेई ने 100 मीटर से अधिक दूरी लिखकर आवेदन निरस्त कर दिया है। जबकि तहसीन जिसका आवेदन जेई ने निरस्त किया है उससे आगे के लोगो को कनेक्शन दे दिया। चेयरमैन जहीर फ़ारूक़ी को यह बात नागवार गुजरी और इसी बात को लेकर धरने पर बैठ गए। उन्होंने कहा कि जब तक घर से पोल तक कि दूरी जेई से बड़े अधिकारी द्वारा नापी नही जाएगी वह धरने से नही उठेंगे। एसडीओ पुरकाजी अजय यादव ने बिजली घर पर मौजूद मीरापुर जेई सर्वेश कुमार के साथ संजय बाबू को मौके पर फीता लेकर भेजा और तहसीन की रिपोर्ट पर पैमाइश करायी तो जेई की 100 मीटर की दूरी वाली रिपोर्ट झूठी पायी गयी। मौके पर मात्र 29 मीटर की दूरी मिली है। धरने पर पहुंचकर एसडीओ पुरकाजी ने सभी निरस्त कनेक्शनों को दोबारा जाँच कराकर नए कनेक्शन देने की बात कही और जेई के खिलाफ कार्यवाही का आश्वासन दिया। तब जाकर धरना समाप्त हुआ जहीर फ़ारूक़ी ने कहा सरकार तो कनेक्शन दे रही है लेकिन जेई जैसे लोग सरकार को बदनाम कराते हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने नेताओं की समिति का गठन किया

राणा ओबराय             
चंडीगढ़। केंद्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की भारत माला (दिल्ली-जम्मू कटरा राजमार्ग) परियोजना को लेकर पंजाब में हो रहे किसानों के विरोध को देखते हुए प्रदेश भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की एक समन्वय समिति का गठन किया है। इस समिति में दयाल सिंह सोढी प्रभारी, गुरतेज सिंह ढिल्लों, सुखपाल सिंह सरां और जतिंदर सिंह सरां को सहप्रभारी नियुक्त किया गया है। अश्वनी शर्मा ने आज यहां यह जानकारी देते हुए कहा कि गत कुछ समय से पंजाब के करीब 13 जिलों से गुजरने वाली केंद्र की भारत माला परियोजना का किसानों द्वारा विरोध किया जा रहा है।
किसान सम्भवत: परियोजना के लिए अधिग्रहण की जाने वाली भूमि के मुआवजे से संतुष्ट नहीं हैं और वे परियोजना के गुजरने तथा उसके लिए ज़मीन न देने के लिए इसका विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इस परियोजना के लिए किसानों को पूरा मुआवजा देने के लिए प्रतिबद्ध है और उनके साथ कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि परियोजना को लेकर हो रहा विरोध खत्म कराने के लिए पार्टी की इस समिति का गठन किया गया है। समिति इस विरोध को लेकर एक रिपोर्ट तैयार कर प्रदेश भाजपा को सौंपेगी ताकि इस मामले पर केंद्र से सम्पर्क कर बातचीत के जरिए इसका समाधान निकाला जा सके।

भारत-श्रीलंका के बीच खेलें जाने वाला मैच स्थगित

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारत और श्रीलंका के बीच आज (27 जुलाई) खेलें जाने वाला दूसरा टी-20 मैच स्थगित कर दिया गया है। भारतीय क्रिकेटर क्रुणाल पंड्या कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिसकी वजह से कोलंबो में होने वाले आज के मैच को एक दिन के लिए स्थगित कर दिया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि स्थगित खेल अब बुधवार (28 जुलाई) को होगा। जिसके बाद सीरीज का तीसरा मैच शुक्रवार को होगा।
क्रुणाल पंड्या के कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए जाने के बाद भारत और श्रीलंका दोनों टीमों को आइसोलेशन में भेज दिया गया है। क्रुणाल पांड्या के करीबीसंपर्क में रहने वाले खिलाड़ियों पर कड़ी नजर रखी जाएगी।

ऊर्जा विभाग की हड़ताल पर 6 माह तक रोक लगाईं

पंकज कपूर              
देहरादून। उत्तराखंड से आज की सबसे बड़ी खबर ऊर्जा कर्मियों की हड़ताल हुई। निषिद्ध घोषित
शासन से अधिसूचना हुई जारी। उत्तराखंड शासन ने ऊर्जा विभाग की हड़ताल पर 6 माह तक रोक लगा दी है। इसके विधिवत आदेश सचिव सौजन्य के द्वारा जारी कर दिए गए हैं। अब उत्तर प्रदेश अत्यावश्यक सेवाओं का अनुरक्षण अधिनियम, 1966 (उत्तराखण्ड राज्य में यथा प्रवृत्त) (उत्तर प्रदेश अधिनियम संख्या 30 सन् 1966) की धारा 3 की उपधारा (1) के अधीन शक्ति का प्रयोग करके राज्यपाल महोदय इस आदेश के निर्गत होने के दिनांक से छः मास की अवधि के लिए यूजेवीएन लिमिटेड, उत्तराखण्ड पावर कारपोरेशन लि० एवं पावर ट्रांसमिशन कारपोरेशन ऑफ उत्तराखण्ड लि० में समस्त श्रेणी की सेवाओं में तत्कालिक प्रभाव से हड़ताल निषिद्ध करते हैं उक्त अधिनियम की धारा-3 की उपधारा (2) के अधीन यह भी आदेश देते हैं। कि यह आदेश गजट में प्रकाशित किया जायेगा।

कार्यबल गठित करने का निर्देश, याचिका दायर की

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। इस साल अप्रैल से जून के दौरान भारत में कोरोना वायरस से हुई मौतों में कोविड-19 के नए स्वरूप की किस हद तक भूमिका थी, इसका पता लगाने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय कार्यबल गठित करने का केन्द्र को निर्देश देने के लिए उच्चतम न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की गई है। यह याचिका मुंबई में रहने वाले शोधकर्ता और अभिनव भारत कांग्रेस के ट्रस्टी पंकज फडनिस ने दायर की है।
जनहित याचिका में यह निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया है कि अंतरराष्ट्रीय कार्य बल को न्यायालय को इस तथ्य से भी अवगत कराना चाहिए कि इस नये कोविड वायरस की उत्पत्ति कहां से हुई। याचिका के अनुसार, ”इस विषय पर एक रिपोर्ट के सह-लेखक भारत सरकार के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार ने इस महामारी की दूसरी लहर के दौरान पिछले तीन महीने में करीब 39 लाख भारतीयों की मृत्यु होने का संकेत देते हुए युद्ध जैसी स्थिति होने की पुष्टि की है। यह त्रासदी अभी समाप्त नहीं हुई है।याचिका में कहा गया है, ”हम सभी कोरोना की तीसरी लहर का इंतजार करते हुए कड़े प्रतिबंधों के बीच रहने के लिए बाध्य हैं। कोविड-19 महामारी का प्रसार करने वाले वुहान वायरस की उत्पत्ति इस समय अंतरराष्ट्रीय जांच का विषय है। वुहान वायरस के डेल्टा स्वरूप की उत्पत्ति, जिससे ऐसा लगता है कि पिछले तीन महीने में भारत में करीब 39 लाख व्यक्तिों की मृत्यु हुई, के बारे में अभी भी जानकारी नहीं है।
वायरस का यह स्वरूप पहले भारत में मिला था और अब यह दुनिया में फैल रहा है और यह दुनिया की नजरों में भारत के प्रति तिरस्कार का भाव पैदा कर रहा है।” याचिका में केन्द्र सरकार को यह निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया है कि वह भविष्य में इस वायरस के और रूप बदलने के बारे में वैज्ञानिक तरीके से निगाह रखे ताकि वह डेल्टा स्वरूप की तरह इसके किसी नये रूप की चपेट में अचानक ही नहीं आ जाये। याचिका में दलील दी गई है कि ये कदम कोविड-19 की तीसरी लहर के रूप में और ज्यादा विपदा पर अंकुश पाने में काफी मददगार होंगे।

जलभराव के कारण मेट्रो के प्रवेश द्वार बंद किएं

अकांशु उपाध्याय                
नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार सुबह भारी बारिश के बाद जलभराव के कारण साकेत मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए गए। डीएमआरसी ने ट्वीट किया, ”ट्रेनें फिलहाल साकेत मेट्रो स्टेशन पर नहीं रुक रही हैं।
जलभराव के कारण प्रवेश/निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं। इसके अलावा पूरी येलो लाइन पर सेवाएं सामान्य हैं।” येलो लाइन उत्तरी दिल्ली में समयपुर बादली को गुड़गांव के हुडा सिटी सेंटर से जोड़ती है।

पार्टी की राज्य इकाई को बैठक बुलाने के निर्देश दिएं

बेंगलुरु। भरतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बी एस येदियुरप्पा के कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद राज्य के नए मुख्यमंत्री के चयन की प्रक्रिया शुरू करने के वास्ते भाजपा के केन्द्रीय नेतृत्व ने पार्टी की राज्य इकाई को मंगलवार शाम को यहां विधायक दल की बैठक बुलाने के निर्देश दिए हैं।
येदियुरप्पा मंत्रिमंडल में गृह मंत्री रहे बसवराज एस बोम्मई ने यहां संवाददताओं से कहा,” एक निजी होटल में शाम सात बजे पार्टी विधायक दल की बैठक है।” मंत्रिमंडल को भंग कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि इसके बाद भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक होगी जहां अंतिम निर्णय (नए मुख्यमंत्री के संबंध में) लिया जाएगा।
पार्टी के एक शीर्ष पदाधिकारी ने बताया कि भाजपा केन्द्रीय नेतृत्व के पर्वेक्षक – केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, जी कृष्ण रेड्डी और भाजपा के महासचिव तथा कर्नाटक प्रभारी अरुण सिंह के विधायक दल की बैठक में शामिल होने की उम्मीद है। गौरतलब है कि येदियुरप्पा ने अपने कार्यकाल के दो वर्ष पूरे होने के दिन सोमवार को पद से इस्तीफा दे दिया था।

महामारी से निपटने की रणनीति पर चर्चा करेंगे एंटनी

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन अपनी दो दिवसीय भारत यात्रा के दौरान अफगानिस्तान की मौजूदा स्थिति और पाकिस्तान एवं हिंद-प्रशांत तथा कोरोनो महामारी से निपटने की रणनीति पर द्विपक्षीय चर्चा करेंगे। एंटनी ब्लिंकन मंगलवार की देर शाम यहां पहुंचेंगे और बुधवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ बैठक करेंगे तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे।
वह राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी भेंट कर सकते हैं तथा इसी दिन शाम को कुवैत के लिए रवाना होंगे। एंटनी ब्लिंकन ने यात्रा से पहले अपने ट्वीट में कहा , “ मैं भारत और कुवैत की यात्रा के लिए उत्साहित हूं। मैं हिंद-प्रशांत और पश्चिम एशिया क्षेत्र में साझा हितों के समर्थन में सहयोग को आगे बढ़ाने के लिए अपने साझेदारों के साथ बातचीत के लिए तत्पर हूं।”अमेरिकी विदेश मंत्री की यह यात्रा अफगानिस्तान से अमेरिकी सैन्य वापसी से एक महीने पहले हो रही है। अफगानिस्तान में तालिबान के साथ संघर्ष बढ़ने और वहां सुरक्षा की बिगड़ती स्थिति पर भारत ने भी चिंता जतायी है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक एंटनी ब्लिंकन के साथ बातचीत में सैन्य अभ्यास, रक्षा हस्तांतरण और प्रौद्योगिकी संबंधी मुद्दे शामिल होंगे।

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 74.35 पर पहुंचा भारत

कविता गर्ग            
मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में सकारात्मक रुख के चलते भारतीय रुपया मंगलवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले सात पैसे बढ़कर 74.35 पर पहुंच गया।
विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि रुपया एक सीमित दायरे में कारोबार कर रहा है और फिलहाल निवेशकों को बुधवार को आने वाले अमेरिकी फेडरल रिजर्व के नीतिगत फैसले का इंतजार है।
अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में घरेलू इकाई डॉलर के मुकाबले 74.36 पर खुली और बढ़त के साथ 74.35 पर पहुंच गई, जो पिछले बंद भाव के मुकाबले सात पैसे की बढ़त दर्शाता है। रुपया सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 74.42 पर बंद हुआ था।
इस बीच छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.05 प्रतिशत गिरकर 92.60 पर था। वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 0.48 प्रतिशत बढ़कर 74.86 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर था।

इशिगुरो को पुरस्कार के लिए चौथी बार नामित किया

लंदन। नोबेल पुरस्कार विजेता काजुओ इशिगुरो और पुलित्जर पुरस्कार विजेता रिचर्ड पॉवर्स प्रतिष्ठित बुकर पुरस्कार की दौड़ में 11 और लेखकों के साथ शामिल हैं। 2017 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार जीत चुके ब्रिटेन के इशिगुरो प्रेम एवं मानवता पर आधारित उपन्यास ‘क्लारा एंड द सन” के लिए 50,000 पाउंड के बुकर पुरस्कार के लिए मंगलवार को घोषित दावेदारों की लंबी सूची में जगह बनाने में कामयाब रहे। इशिगुरो को इस पुरस्कार के लिए चौथी बार नामित किया गया है। उन्हें इससे पहले ‘द रीमेन्स ऑफ दि डे’ के लिए 1989 में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। अमेरिकी लेखक पॉवर्स को ‘बिविल्डर्मेंट’ के लिए नामित किया गया है। 
पॉवर्स ने 2019 में ‘द ओवरस्टोरी’ के लिए पुलित्जर पुरस्कार जीता था और इस पुस्तक ने बुकर पुरस्कार के अंतिम दावेदारों में भी जगह बनाई थी।
इस साल की सूची में दक्षिण अफ्रीका के डैमोन गैलगट का उपन्यास ‘द प्रॉमिस’, ब्रितानी लेखक संजीव सहोता का ‘चाइना रूम’ और कनाडाई लेखक मैरी लॉसन का ‘ए टाउन कॉल्ड सोलेस’ जगह मिली है। बुकर पुरस्कार की शुरुआत 1969 में की गई थी। इनके अलावा अमेरिकी पैट्रीशिया लॉकवुड को ‘नो वन इज टॉकिंग अबाउट दिस’ और उनके हमवतन नाथन हैरिस को ‘द स्वीटनेस ऑफ वॉटर’ के लिए सूची में जगह मिली है।
सूची में अमेरिकी लेखक मैगी शिपस्टेड की ‘ग्रेट सर्कल’, ब्रितानी उपन्यासकार फ्रांसिस स्पफर्ड की ‘लाइट परपेचुअल’, ब्रितानी/सोमालियाई लेखक नादिफा मोहम्मद की ‘द फॉर्च्यून मेन’, ब्रितानी/कनाडाई लेखक रशेल कस्क की ‘सेकंड प्लेस’, दक्षिण अफ्रीकी उपन्यासकार कारेन जेनिंग्स की ‘एन आइलैंड’ और श्रीलंकाई लेखक अनुक अरुदप्रगसम की’ए पैसेज नॉर्थ’ भी शामिल है। सूची में अंतिम छह में जगह बनाने वाली किताबों की घोषणा 14 सितंबर को की जाएगी और विजेता को तीन नवंबर को लंदन में एक समारोह के दौरान पुरस्कृत किया जाएगा।

संयुक्त रूप से ड्रोन उत्पादन के फैसले का विरोध

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका में एक हिंदू संगठन ने रूस, पाकिस्तान और तुर्की द्वारा संयुक्त रूप से ड्रोन उत्पादन के फैसले का विरोध किया है और मामले की जांच की अमेरिकी सांसदों की मांग का समर्थन किया है। पिछले हफ्ते, डेविड सिसिलिन और गस बिलिरकिस समेत सांसदों के एक द्विदलीय समूह ने विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से मांग की थी कि कॉकेशिया, दक्षिण एशिया, पूर्वी भूमध्यसागरीय क्षेत्र और दुनिया भर के अन्य क्षेत्रों में अंकारा के ड्रोन कार्यक्रमों की अस्थिरकारी भूमिका की आधिकारिक जांच के लंबित रहने तक तुर्की को अमेरिकी ड्रोन प्रौद्योगिकी का निर्यात लाइसेंस निलंबित कर दिया जाए।
हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन (एचएएफ) ने सोमवार को एक बयान में कांग्रेस सदस्यों की जांच की मांग का समर्थन करते हुए कहा कि तुर्की-पाकिस्तान-रूस द्वारा संयुक्त रूप से लड़ाकू मानव रहित वाहन (यूएवी) उत्पादन करने से दुनिया भर के लोकतंत्रों को चिंतित होना चाहिए और 26-27 जून को कश्मीर में हुए ड्रोन हमलों को उन चुनौतियों की याद दिलानी चाहिए जिनका सामना अमेरिका का सहयोगी भारत करता है।एचएएफ के सार्वजनिक नीति के निदेशक तनियल कौशाकजियान ने कहा, “उत्तर अफ्रीका, पश्चिम एशिया, दक्षिण कॉकेशिया और दक्षिण एशिया तक तुर्की की तेजी से अस्थिर करने वाली भूमिका अमेरिका, हमारे हितों और हमारे सहयोगियों और भारत जैसे रणनीतिक भागीदारों के लिए एक स्पष्ट और प्रत्यक्ष खतरा है।”
उन्होंने कहा कि तुर्की के लड़ाकू यूएवी के साथ-साथ कश्मीर में मौजूदा जिहादी ताकतें भारत के लिए एक वास्तविक खतरा बन सकती हैं। पिछले हफ्ते, अमेरिकी सांसदों के एक द्विदलीय समूह ने कहा था, ” तुर्की ने पोलैंड और पाकिस्तान को ड्रोन बेचने के लिए समझौते किए हैं और रूस और पाकिस्तान के साथ सशस्त्र यूएवी और ड्रोन विरोधी रक्षा प्रणालियों के संयुक्त उत्पादन पर चर्चा कर रहा है।

वर्षगांठ के मौके पर महोत्सव कार्यक्रम रहना चाहिए

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर मनाया जाने वाला अमृत महोत्सव केवल एक सरकारी कार्यक्रम बनकर नहीं रहना चाहिए। बल्कि इसे जन आंदोलन के रूप में आगे बढ़ाने के लिए जन सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी। सूत्रों के अनुसार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने पार्टी सांसदों से अपील की, कि वे प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में दो-दो कार्यकर्ताओं की टोली तैयार करें। जो 75 गांवों का दौरा करे और वहां 75 दिन बिताए तथा जनता के बीच डिजिटल साक्षरता को लेकर जागरूकता अभियान चलाए।

सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने पार्टी सांसदों से कहा कि वे संसद में विपक्षी दलों के रवैये के बारे में जनता को अवगत कराएं और उन्हें बताएं कि सरकार सभी मुद्दों पर बहस के लिए तैयार है किंतु विपक्षी दल इससे भाग रहे हैं और हंगामा कर रहे हैं। बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने बताया कि बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ”आजादी का अमृत महोत्सव केवल सरकारी कार्यक्रम नहीं है। यह जन आंदोलन के रूप में होना चाहिए जन भागीदारी के साथ हमें आगे बढ़ना है।” मेघवाल के मुताबिक प्रधानमंत्री ने सांसदों से उनके संसदीय क्षेत्रों में जोर-शोर से आजादी का ”अमृत महोत्सव” मनाने को कहा और सुझाव दिया कि वे हर विधानसभा क्षेत्र में दो-दो कार्यकर्ताओं की टोली तैयार करें जो 75 गांवों का दौरा करे और वहां 75 दिन रूके। केंद्रीय मंत्री के अनुसार मोदी ने कहा, ”यह टोली जनता के बीच जाकर डिजिटल साक्षरता के बारे जागरूकता फैलाए। यह बहुत महत्वपूर्ण है। सांसद इस कार्यक्रम का प्रतिनिधित्व करें।”

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर सांसदों को उनके क्षेत्रों में स्थानीय खेलों की प्रतियोगिता कराने, स्वचछता संबंधी कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने सहित कार्यक्रमों के आयोजन का सुझाव दिया। मेघवाल के मुताबिक प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की आजादी के लिए कई लोगों ने अपनी कुर्बानी दी लेकिन ”हमें जनता को समझाना है कि क्या हम देश के लिए जी सकते हैं। यही भावना लेकर जनता के बीच बढ़ना है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बैठक में संसदीय कार्यमंत्री प्रल्हाद जोशी और संसदीय कार्य राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने संसद के दोनों सदनों में अब तक हुए काम काज का ब्योरा दिया। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद प्रधानमंत्री ने सांसदों से कहा कि वह जब जनता के बीच जाएं तो संसद में विपक्षी दलों के रवैये का भी उल्लेख करें।

2 बजे तक के लिए स्थगित की गई सदन की बैठक

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। राज्यसभा में सरकार और विपक्ष के बीच गतिरोध मंगलवार को भी जारी रहा और अलग अलग मुद्दों पर विभिन्न विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण सदन की बैठक एक बार के स्थनग के बाद दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे सदन की बैठक शुरू होने पर भी सदन में हंगाामा जारी रहा और नारेबाजी के बीच ही उपसभापति हरिवंश ने प्रश्नकाल चलाने का प्रयास किया। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने कुछ पूरक सवालों के जवाब भी दिए। हालांकि हंगामे के कारण उनकी बात ठीक से सुनी नहीं जा सकी। 

इसके बाद भी सदन में हंगामा जारी रहा और उपसभापति ने 12 बजकर करीब पांच मिनट पर बैठक दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। हंगामे के कारण उच्च सदन में आज भी शून्यकाल और प्रश्नकाल नहीं हो पाया। इससे पहले सुबह बैठक शुरू होने पर सदन ने अपने पूर्व सदस्य वसीम अहमद, मॉरीशस के पूर्व राष्ट्रपति और पूर्व प्रधानमंत्री अनिरुद्ध जगन्नाथ और जाम्बिया के प्रथम राष्‍ट्रपति तथा संस्‍थापक डॉक्‍टर केनेथ कोंडा को श्रद्धांजलि दी। आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाने के बाद सभापति एम वेंकैया नायडू ने शून्यकाल के तहत भाजपा सदस्य सुशील कुमार मोदी का नाम पुकारा और उनसे उनका मुद्दा उठाने के लिए कहा।

सीएम योगी के अत्याचार से लोगों में भारी गुस्सा

हरिओम उपाध्याय           

बलिया। आम आदमी पार्टी के उत्‍तर प्रदेश मामलों के प्रभारी और राज्यसभा सदस्‍य संजय सिंह ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर पिछड़े वर्ग के लोगों के साथ धोखा करने का आरोप लगाया और कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अत्याचार से अति पिछड़े वर्ग के लोगों में भारी गुस्सा है। आप सांसद संजय सिंह ने सोमवार को बलिया जिले के नगरा में पार्टी द्वारा आयोजित ‘पिछड़ा वर्ग हिस्सेदारी रैली’ को संबोधित करते हुए कहा कि ”मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अत्याचार से अति पिछड़े वर्ग के लोगों में भारी गुस्सा है।” उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने शिक्षकों की भर्ती में पिछड़े वर्ग के लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं दे कर संविधान का अपमान किया है।

9 लाख की राशि बारिश के पानी में बर्बाद न हो जाएं

कविता गर्ग          

मुंबई। महाराष्ट्र के चिपलुन कस्बे में पिछले सप्ताह भारी बारिश के बीच एक राज्य परिवहन बस डिपो के प्रबंधक बेहद साहस दिखाते हुए डूबी बस के छत पर करीब नौ घंटे तक बैठे रहे। ताकि दैनिक राजस्व की जमा की गई नौ लाख रुपए की राशि बारिश के पानी में बर्बाद न हो जाए। डिपो प्रबंधक रंजीत राजे-शिर्के के इस कदम की उनके सहकर्मी और अन्य लोग प्रशंसा कर रहे हैं। पिछले बृहस्पतिवार को कोंकण क्षेत्र के रत्नागिरी जिले के चिपलुन कस्बे में भारी बारिश से बाढ़ आ गई थी। महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (एमएसआरटीसी) डिपो में जलस्तर बढ़ने लगा था और इसके परिसर में खड़ी बसें डूबने लगी थीं।

खतरनाक मौसम के बीच साहस दिखाते हुए राजे-शिर्के डूबी हुई एक बस के छत पर चढ़ गए और नकदी को क्षति से बचाने के लिए करीब नौ घंटे तक वहां बैठे रहे। बाद में पुलिस ने उन्हें सुरक्षित बाहर निकाला। इस घटना को याद करते हुए राजे-शिर्के ने मंगलवार को बताया कि भारी बारिश के बाद कार्यालय में जलस्तर को बढ़ता देख डिपो के वॉचमैन ने उन्हें तड़के साढ़े तीन बजे कॉल किया।

अधिकारी ने बताया, ” जब मैं वहां करीब तीन बजकर 45 मिनट पर पहुंचा तो कार्यालय में गर्दन भर पानी भर चुका था। मैंने फिर भी अंदर जाने का निर्णय लिया और वहां जमा दैनिक राजस्व की नौ लाख रुपए की राशि को निकाल लिया।” वह डिपो से बाहर नहीं निकल सके क्योंकि चारों तरफ भयानक बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई थी। अधिकारी ने बताया, ”नकदी को क्षति पहुंचाने से बचाने के लिए इसे मैंने प्लास्टिक के थैले में रख लिया। इसके बाद मैं और मेरे एक सहकर्मी करीब छह बजे डूबी हुई एक बस की छत पर चढ़ गए।” उन्होंने बताया कि पांच अन्य कर्मी भी अन्य बसों की छतों पर चढ़े हुए थे। पानी के दबाव की वजह से बसें हिल रही थीं और गिरने का डर था, लेकिन वे सभी धैर्य के साथ बस पर बैठे रहे। प्रबंधक ने बताया, ” हम लोग भारी बारिश के बीच बस पर बैठे रहे और फिर अपराह्न तीन बजे पुलिस की एक टीम ने हमें वहां से निकाला।”

प्रतिष्ठित पत्रकारों ने याचिका दायर कर अनुरोध किया

अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। प्रतिष्ठित पत्रकारों एन राम और शशि कुमार ने उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर करके अनुरोध किया है कि इजराइली स्पाइवेयर पेगासस का इस्तेमाल करके सरकारी एजेंसियों द्वारा प्रतिष्ठित नागरिकों, नेताओं और पत्रकारों की कथित जासूसी किए जाने संबंधी खबरों की शीर्ष अदालत के किसी मौजूदा या सेवानिवृत्त न्यायाशीध से स्वतंत्र जांच कराई जाए।

इस याचिका पर आगामी कुछ दिन में सुनवाई हो सकती है। याचिका में इस बात की जांच करने का अनुरोध किया गया है कि क्या पेगासस स्पाइवेयर के जरिए फोन को अवैध तरीके से हैक करके एजेंसियों और संगठनों ने भारत में स्वतंत्र भाषण और असहमति को अभिव्यक्त करने को रोकने का प्रयास किया गया। याचिका में केंद्र को यह बताने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है कि क्या सरकार या उसकी किसी एजेंसी ने पेगासस स्पाइवेयर के लिए लाइसेंस प्राप्त किया है और क्या उन्होंने इसका इस्तेमाल प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से निगरानी करने के लिए किया है ?

सीएम अरविंद ने गोवा के समकक्ष पर निशाना साधा

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को गोवा के अपने समकक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि भाउसाहेब बंदोडकर, जैक डी सेक्वेरा और मनोहर पर्रिकर जैसे गोवा के कद्दावर राजनेताओं की तुलना मौजूदा नेताओं से करना अपमान की बात है।जिन्हें थोक में खरीदा-बेचा जा रहा है। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता एवं ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन ने सोमवार को गोवा के राजनेताओं को तीसरे दर्जे का बताया था, जिसकी गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कड़ी आलोचना की थी और इस बयान को प्रदेश दिग्गज नेताओं दिवंगत पर्रिकर और सेक्वेरा का अपमान करार दिया था।

सावंत ने ट्वीट किया था, ” आप (आम आदमी पार्टी) हमेशा से ही प्रदर्शन कर और नाटक करके सस्ती राजनीति करती है। लेकिन गोवावासियों को तीसरे दर्जे का नेता कहना भाउसाहेब बंदोडकर, जैक सेक्वेरा, मनोहर भाई पर्रिकर, राजेंद्र अर्लेकर या श्रीपद भाउ नाइक जैसे भूमिपुत्रों का अपमान है।” इसके जवाब में केजरीवाल ने ट्वीट किया, ” प्रमोद, इतने दिग्गज राजनेताओं की तुलना आप मौजूदा राजनेताओं से करके उनका अपमान कर रहे हैं। मौजूदा भाजपा ना ही भाउसाहेब बंदोडकर जितनी महान हैं। ना उनमें डॉ. जैक सेक्वेरा जितनी ईमानदारी है और ना ही मनोहर पर्रिकर जैसा दृष्टिकोण।”

अश्लील फिल्मों के केस में कुंद्रा की मुश्किलें कम नहीं

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। अश्लील फिल्मों के निर्माण मामले में राज कुंद्रा की मुश्किलें कम होती नहीं दिखाई दे रहीं हैं। उन्हें इस मामले में 14 दिनों की जेल कस्टडी में भेज दिया गया है। इससे पहले इस मामले में मुंबई की एक अदालत ने अश्लील फिल्मों के निर्माण और उन्हें कुछ ऐप के जरिए प्रसारित करने से जुड़े मामले में कारोबारी राज कुंद्रा की पुलिस हिरासत शुक्रवार को 27 जुलाई तक के लिए बढ़ा दी थी। अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति, कुंद्रा को शहर की पुलिस की अपराध शाखा ने 19 जुलाई की रात को गिरफ्तार किया था। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था। पुलिस ने इससे पहले अदालत को बताया था कि 45 वर्षीय कारोबारी अश्लील सामग्री के निर्माण एवं बिक्री की अवैध गतिविधि से आर्थिक लाभ कमा रहे थे।

सीएम से मुलाकात ने राजनीतिक तापमान को बढ़ाया

हरिओम उपाध्याय              
बलिया। विधान परिषद सदस्य रविशंकर सिंह ''पप्पू'' की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात ने जिले के राजनीतिक तापमान को बढ़ा दिया है। हालांकि, उन्होंने मुख्यमंत्री से अपनी मुलाकात को पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की प्रतिमा का अनावरण के लिए निमंत्रित करने के उद्देश्य से बताया है।
पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर के पौत्र रविशंकर सिंह ''पप्पू'' वर्तमान में एमएलसी हैं। पिछली बार वे समाजवादी पार्टी से चुनाव जीते थे। उनके चाचा और चन्द्रशेखर के छोटे पुत्र नीरज शेखर ने समाजवादी पार्टी छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। वे फिलहाल भाजपा से राज्यसभा सांसद हैं। इधर, एमएलसी रविशंकर सिंह काफी दिनों से समाजवादी पार्टी के नेतृत्व और कार्यक्रमों में दिखाई नहीं दे रहे। इस बीच सोमवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की तस्वीर सामने आ गई। खुद रविशंकर सिंह ने भी मुख्यमंत्री से अपनी मुलाकात की तस्वीर सोशल मीडिया पर साझा की। जिसमें उन्होंने जिला मुख्यालय स्थित चन्द्रशेखर उद्यान में पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की प्रतिमा का अनावरण और जिले के विकास को लेकर उनके चर्चा का हवाला दिया है। 
 उन्होंने कहा कि ''प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज से मुलाकात कर बलिया स्थित चंद्रशेखर उद्यान में परम चंद्रशेखर जी की मूर्ति के अनावरण तथा पैतृक गांव इब्राहिमपट्टी में चंद्रशेखर जी के नाम पर अस्पताल संचालित कराने के साथ ही जनपद के विकास कार्यों पर सकारात्मक वार्ता किया।'' एमएलसी रविशंकर सिंह के कई समर्थकों ने भी इस तस्वीर को वायरल किया। जिले के राजनीतिक पंडित इस मुलाकात को आगामी एमएलसी चुनाव से जोड़कर देख रहे हैं। माना जा रहा है कि एमएलसी चुनाव से पहले रविशंकर सिंह ''पप्पू'' भाजपा का दामन थाम सकते हैं। यदि ऐसा हुआ तो राजनीतिक माहौल काफी दिलचस्प हो सकता है। क्योंकि उधर, भाजपा सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त के पुत्र विपुलेंद्र प्रताप सिंह के भी एमएलसी चुनाव लड़ने की चर्चा है। इस चर्चा को तब बल मिला, जब सोशल मीडिया पर सांसद पुत्र द्वारा नवनिर्वाचित जिला पंचायत सदस्य, प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्यों को शुभकामना दिया गया। 

असम-मिजोरम विवाद से भारी तनाव उत्पन्न हुआ

गुवाहाटी। असम-मिजोरम सीमा विवाद से दोनों राज्यों में भारी तनाव उत्पन्न हो गया है। अभी यह मामला सुलझा भी नहीं कि असम की भूमि पर गुवाहाटी के नजदीक असम-मेघालय सीमावर्ती इलाके में मेघालय के बिजली विभाग द्वारा असम की जमीन पर बिजली के खंभे गाड़े जाने को लेकर जमकर हंगामा हो गया।
राजधानी गुवाहाटी से महज कुछ किमी की दूरी पर स्थित दक्षिण गणेश नगर में मेघालय सरकार के बिजली विभाग द्वारा बिजली के खंभे गाड़े जाने को लेकर इलाके के लोगों ने जमकर हंगामा किया। परिस्थिति को बिगड़ते देख मौके पर पुलिस के आला अधिकारी पहुंचकर स्थिति को नियंत्रित किया। 
दोनों राज्यों के आला पुलिस अधिकारी के बीच हुई बैठक के बाद बिजली के खंभे को उखाड़ लिया गया। फिलहाल सीमावर्ती इलाके में स्थिति सामान्य है लेकिन तनाव अभी बना हुआ है। दोनों राज्यों की पुलिस इलाके में गश्त कर रही है। यह विवाद सोमवार को उत्पन्न हुआ था। मंगलवार को भी इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है। दोनों राज्यों के आला पुलिस अधिकारी की सूझबूझ से मामला शांति के साथ निपट गया।
उल्लेखनीय है कि पूर्वोत्तर के सभी राज्य त्रिपुरा और सिक्कम को छोड़कर एक समय असम का ही हिस्सा थे। यही कारण है कि राज्यों के गठन के बाद भी सीमा विवाद एक बड़ा मुद्दा अभी भी बना हुआ है।

24 घंटे में कोरोना के 1,629 नए मामलें सामने आएं

भुवनेश्वर। राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1 हजार 629 नये मामले सामने आये हैं। राज्य के सूचना व जनसंपर्क विभाग ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। इसके साथ राज्य में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 9 लाख 70 हजार 814 हो गई है। अभीतक राज्य में  9 लाख 47 हजार 381 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या-17 हजार 746 है।विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार नये मामलों में से 939 संगरोध से हैं। जबकि 690 स्थानीय संपर्क में आकर संक्रमित हुए हैं। आज संक्रमित पाये गये लोग कुल 30 जिलों से हैं। इनमें खोर्धा जिले में सर्वाधिक  532 कोरोना संक्रमित पाये गये हैं।

लवलिना ने जर्मनी की मुक्केबाज नादिने को हराया

टोक्यो। टोक्यो ओलिंपिक में भारतीय मुक्केबाज लविलना बोरगोहेन क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई हैं। महिलाओं की 69 किलोग्राम वेट कैटेगरी के प्री क्वार्टर फाइनल में 23 साल की लवलिना ने जर्मनी की 35 साल की मुक्केबाज नादिने एपेट्ज को हराया। लवलिना ने यह बाउट स्प्लिट डिसिजन से 3-2 से जीता। तीनों राउंड में जजों का ओवरऑल फैसला लवलिना के पक्ष में रहा। लवलिना अब मेडल पक्का करने से सिर्फ एक जीत की दूरी पर हैं। बॉक्सिंग में सेमीफाइनल में पहुंचते ही कम से कम ब्रॉन्ज मेडल पक्का हो जाता है। लवलिना की क्वार्टर फाइनल बाउट 30 जुलाई को चाइनीज ताइपे की चिन निएन चेन से होगी।
शूटिंग इवेंट्स में भारतीय निशानेबाजों का निराशाजनक प्रदर्शन जारी है। मंगलवार को दो अलग-अलग इवेंट में भारत की चार जोडिय़ों ने हिस्सा लिया लेकिन इनमें से कोई भी मेडल राउंड में नहीं पहुंच सकी। 10 मीटर एयर पिस्टल के मिस्क्ड इवेंट में मनु भाकर और सौरभ चौधरी की जोड़ी क्वालिफिकेशन राउंड-2 में सातवें स्थान पर रही। वहीं, यशस्विनी देसवाल और अभिषेक वर्मा की जोड़ी क्वालिफाइंग राउंड-1 में ही बाहर हो गई। 10 मीटर एयर राइफल में दिव्यांश सिंह पंवार और इलावेनिल वालारिवन की जोड़ी क्वालिफिकेश राउंड में 12वें स्थान पर रही। अंजुम मुद्गिल और दीपक कुमार की जोड़ी 18वें स्थान पर रही। भारत के अचंता शरत कमल टेबल टेनिस के मेंस सिंगल्स में मेडल की होड़ से बाहर हो गए।
नंबर-1 सीड चीन के मा लोंग ने उन्हें 4-1 से हराया। मा लोंग ने पहला गेम 11-7 से जीता। शरत ने दूसरे गेम में 11-8 से जीत हासिल कर जोरदार वापसी की। चीनी खिलाड़ी ने इसके बाद कमल को कोई मौका नहीं दिया और अगले तीन गेम 31-11, 11-4, 11-4 से जीत लिया। इससे पहले भारत के हाथ एक और मेडल आते-आते रह गया। 10 मीटर एयर पिस्टल मिक्स्ड शूटिंग इवेंट में भारत की मनु भाकर और सौरभ चौधरी की जोड़ी टॉप-4 में आने से चूक गई। भारतीय जोड़ी क्वालिफिकेशन के पहले राउंड में 582 अंक लेकर पहले स्थान पर रही, लेकिन 8 जोडिय़ों के दूसरे राउंड में वे 7वें स्थान पर रही। टॉप-4 जोडिय़ों को मेडल राउंड में एंट्री मिली।

परिवारों को 50-50 लाख का मुआवजा देगी सरकार

दिसपुर। असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्व सरमा ने मंगलवार को कछार जिला मुख्यालय शहर सिलचर में मीडिया को संबोधित करते हुए घोषणा की, कि असम-मिजोरम सीमा पर हुई गोलीबारी में अपनी जान गंवाने वाले असम पुलिस के पांच जवानों के परिवारों को राज्य सरकार 50-50 लाख रुपये का मुआवजा देगी। साथ ही मृत पुलिस कर्मियों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी प्रदान की जाएगी।
मुख्यमंत्री ने साथ ही कहा कि जिस इलाके में हिंसा हुई है वह आरक्षित वन क्षेत्र है। सैटेलाइट इमेजिंग की मदद से इसको देखा जा सकता है कि अतिक्रमण कैसे हुआ है। असम सरकार ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में मुकदमा करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि जब कल असम-मिजोरम सीमा पर गोलीबारी हो रही थी तो मैंने मिजोरम के मुख्यमंत्री को छह बार फोन किया। उन्होंने 'सॉरी' कहते हुए मुझे आइजोल में बातचीत के लिए आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री डॉ. सरमा ने कहा कि हमारी जमीन का एक इंच भी हिस्सा कोई नहीं ले सकता। हम अपने क्षेत्र को सुरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। सीमा पर पुलिस है। यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है। यह दो राज्यों के बीच सीमा विवाद है।
असम-मिजोरम सीमा पर हिंसक झड़पों पर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा कि यह लंबे समय से चला आ रहा सीमा विवाद है। उस समय भी विवाद था जब दोनों तरफ कांग्रेस की सरकार थी। यह दो राज्यों के बीच का विवाद है, दो राजनीतिक दलों के बीच का मुद्दा नहीं है। घटना असम की सीमा पर हुई। हमारी पुलिस मामले की जांच करेगी। इसकी जांच की जाएगी कि नागरिकों को हथियार कहां से मिले। पांच पुलिस कर्मियों की जान चली गई। गुवाहाटी से सिलचर पहुंचने के बाद मुख्यमंत्री ने हिंसा में प्राण गंवाने वाले असम पुलिसकर्मियों को कछार पुलिस अधीक्षक मुख्यालय परिसर में अपनी भाव भीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।
उल्लेखनीय है कि कछार के पुलिस अधीक्षक वैभव चंद्रकांत निंबालकर को असम मिजोरम सीमा पर संघर्ष के दौरान गंभीर रूप से गोली लगने के बाद मुंबई ले जाया गया है। एसपी को उनके कूल्हों में एक गोली लगने के बाद गंभीर सर्जरी की आवश्यकता है। एसपी को कुल पांच गोली लगी थी। पैल में लगी गोली को सिलचर मेडिकल कालेज अस्पताल के चिकित्सकों ने सर्जरी कर बाहर निकाल दिया है।
उल्लेखनीय है कि मिजोरम पुलिस ने सोमवार को असम के अधिकारियों, पुलिस कर्मियों और नागरिकों पर गोलियां चलाई थीं, जिसमें असम पुलिस के पांच जवानों और एक नागरिक की मौत हो गई थी जबकि 50 से अधिक घायल हो गए थे।

फिल्म 'पठान' में एक्शन करती नजर आयेंगी दीपिका

कविता गर्ग         

मुंबई। बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण अपनी आने वाली फिल्म 'पठान' में हैरतअंगेज एक्शन सीन करती नजर आयेंगी। सिद्धार्थ आनंद के निर्देशन में बन रही फिल्म पठान में शाहरूख खान, दीपिका पादुकोण,जॉन अब्राहम और डिंपल कपाड़िया की अहम भूमिका है। 'पठान' में दीपिका हैरतअंगेज एक्शन सीन करती नजर आयेंगी।यह पहली बार होगा। जब दीपिका पादुकोण भारतीय स्क्रीन पर इस लेवल का एक्शन सीन कर रही हैं।

दीपिका पादुकोण ने इससे पूर्व हॉलीवुड 'ट्रिपल एक्स रिटर्न ऑफ जेडर केज' में अपने पावर पैक्ड एंट्री सीन से फैन्स को हैरान कर दिया था। बताया जा रहा है कि 'दीपिका फिलहाल पठान के लिए हाई ऑक्टेन एक्शन दृश्यों की शूटिंग कर रही हैं। दीपिका ने इसके लिए इंटेंस तैयारी की है। दीपिका को 'पठान में एक्शन अवतार में देखना काफी दिलचस्प होने वाला है।

चिकित्सीय शिक्षा में ओबीसी वर्ग के लिए आरक्षण

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। अखिल भारतीय चिकित्सीय शिक्षा क्षेत्र में ओबीसी वर्ग के लिए आरक्षण की मांग जारी है। सरकारी सूत्रों के अनुसार, इस मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार शाम एक समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को भी तत्काल रूप से आरक्षण के दायरे में लाने की बात कही है। बैठक में शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, परिवार एवं स्वास्थ्य कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया समेत कई विभागों के सचिव मौजूद थे।

राज्य शासकीय मेडिकल कॉलेजों में यूजी में 15% और पीजी में 50% सीटें ऑल इंडिया कोटा के तहत आती हैं।इनमें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को आरक्षण मिलता है। लेकिन अन्य पिछड़ा वर्ग को आरक्षण का प्रावधान नहीं है। खबर है कि समीक्षा बैठक में पीएम ने इच्छा जताई है कि मेडिकल एजुकेशन में ओबीसी आरक्षण का मुद्दा तय मंत्रालयों की तरफ से कोर्ट के बाहर प्राथमिकता के साथ सुलझाया जाना चाहिए। पीएम मोदी ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए भी आरक्षण लागू करने की बात कही है। पीएम ने मंत्रालय के अधिकारियों से अलग-अलग राज्यों में मेडिकल एजुकेशन को लेकर ईडब्ल्यूएस आरक्षण के मौजूदा हालात की समीक्षा करने के लिए भी कहा है। पीएम ने स्वास्थ्य मंत्रालय को निर्देश दिया है कि वो सभी राज्यों से जानकारी प्राप्त करें कि वहां ईडब्ल्यूएस वर्ग के आरक्षण की योजना की स्थिति क्या है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-346 (साल-02)
2. बुधवार, जुलाई 28, 2021
3. शक-1984,सावन, कृष्ण-पक्ष, तिथि- तीज, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:44, सूर्यास्त 07:10।
5. न्‍यूनतम तापमान -22, डी.सै., अधिकतम-37+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेंगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...