रविवार, 10 सितंबर 2023

पीएम सुनक ने चीनी प्रधानमंत्री से मुलाकात की

पीएम सुनक ने चीनी प्रधानमंत्री से मुलाकात की

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 
लंदन/बीजिंग। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने रविवार को नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन से इतर चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग से मुलाकात की और उन्हें ब्रिटेन की जासूसी चिंताओं से अवगत कराया। ब्रिटिश मीडिया की एक खबर में दो लोगों के खिलाफ जासूसी के आरोपों संबंधी खुलासे के बाद सुनक ने ली क्विंग के समक्ष ब्रिटेन के संसदीय लोकतंत्र में कथित चीनी हस्तक्षेप का मुद्दा उठाया और उन्हें ब्रिटेन की महत्वपूर्ण चिंताओं से अवगत कराया। 
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय ‘10 डाउनिंग स्ट्रीट’ के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री सुनक ने चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग से मुलाकात की और ब्रिटेन के संसदीय लोकतंत्र में चीनी हस्तक्षेप के बारे में अपनी महत्वपूर्ण चिंताओं से उन्हें अवगत कराया। ’’ दरअसल, ब्रिटेन की एक मीडिया रिपोर्ट में दो लोगों के खिलाफ जासूसी के आरोप लगाए गए हैं।
ब्रिटेन के साप्ताहिक समाचारपत्र 'द संडे टाइम्स' की खबर के मुताबिक ब्रिटेन में एक संसदीय शोधकर्ता ने चीन के लिए जासूसी होने का दावा किया था, जिसके बाद ब्रिटेन के आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत दो लोगों को गिरफ्तार किया गया।
उनमें से एक व्यक्ति, जिसकी उम्र 20 वर्ष के आसपास थी, एक शोधकर्ता है और उसका संबंध सत्ताधारी कंजर्वेटिव पार्टी के कई सांसदों से था। जबकि 30 साल से ज्यादा उम्र के एक अन्य व्यक्ति के बारे में कहा जाता है कि उसे मार्च में गिरफ्तार किया गया था और अब वह जमानत पर बाहर है।

संयुक्त राष्ट्र सहित निकायों में सुधारों पर जोर दिया

संयुक्त राष्ट्र सहित निकायों में सुधारों पर जोर दिया

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को संयुक्त राष्ट्र सहित वैश्विक निकायों में सुधारों पर नए सिरे से जोर दिया और कहा कि दुनिया की ‘‘नयी वास्तविकताएं’’ ‘‘नयी वैश्विक संरचना’’ में प्रतिबिंबित होनी चाहिए क्योंकि यह प्रकृति का नियम है कि जो नहीं बदलते हैं समय के साथ उनकी प्रासंगिकता खत्म हो जाती है।
जी20 शिखर सम्मेलन के ‘एक भविष्य’ सत्र में बदलाव की जरूरत वाले निकाय के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) का हवाला देते हुए मोदी ने कहा, ‘‘यह जरूरी है कि दुनिया को बेहतर भविष्य की ओर ले जाने के लिए वैश्विक निकायों को आज की वास्तविकताओं को प्रतिबिंबित करना चाहिए।’’
उन्होंने कहा कि जब संयुक्त राष्ट्र की स्थापना 51 सदस्यों के साथ हुई थी, तो दुनिया अलग थी और अब सदस्य देशों की संख्या लगभग 200 हो गई है। मोदी ने कहा, ‘‘बावजूद इसके, यूएनएससी में स्थाई सदस्य आज भी उतने ही हैं। तब से आज तक दुनिया हर लिहाज से बहुत बदल चुकी है। परिवहन हो, संचार हो, स्वास्थ्य, शिक्षा, हर क्षेत्र का कायाकल्प हो चुका है। ये नयी वास्तविकताएं हमारी नयी वैश्विक संरचना में प्रतिबिंबित होनी चाहिए।’’
यूएनएससी के पांच स्थायी सदस्यों में अमेरिका, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और रूस शामिल हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हमें खुले मन से विचार करना होगा कि आखिर क्या कारण है कि बीते वर्षों में अनेक क्षेत्रीय मंच अस्तित्व में आए हैं, और ये प्रभावी भी सिद्ध हो रहे हैं।’’ सुधारों की वकालत करते हुए उन्होंने कहा कि इसीलिए शनिवार को अफ्रीकी संघ को जी20 का सदस्य बनाकर एक ऐतिहासिक पहल की गई।
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘इसी तरह, हमें बहुपक्षीय विकास बैंक के ‘मैंडेट’ का विस्तार भी करना होगा। इस दिशा में हमारे फैसले तुरंत होने चाहिए और प्रभावी भी होने चाहिए।’’ मोदी ने अपने संबोधन में साइबर सुरक्षा और ‘क्रिप्टो करेंसी’ को दुनिया के वर्तमान और भविष्य को प्रभावित करने वाले ज्वलंत मुद्दों में से एक बताया। उन्होंने कहा कि क्रिप्टो करेंसी सामाजिक व्यवस्था और मौद्रिक एवं वित्तीय स्थिरता के लिए एक नया विषय है। उन्होंने इसे विनियमित करने के लिए वैश्विक मानकों के विकास की मांग की।
मोदी ने कहा कि साइबर जगत आतंकवाद के लिए वित्त पोषण का एक नया स्रोत बनकर उभरा है और इसे सुरक्षित करने के लिए वैश्विक सहयोग और ढांचा आवश्यक है। उन्होंने कहा, ‘‘यह हर देश की सुरक्षा और समृद्धि के लिए बहुत महत्वपूर्ण विषय है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘जब हम हर देश की सुरक्षा और संवेदनशीलता का ख्याल रखेंगे तो ‘एक भविष्य’ की भावना मजबूत होगी।’’
उन्होंने कहा कि दुनिया नयी पीढ़ी की प्रौद्योगिकी में अकल्पनीय पैमाने और गति देख रही है। उन्होंने उदाहरण के रूप में कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) का हवाला देते हुए कहा कि जी20 देशों को 2019 में समूह द्वारा अपनाए गए ‘‘एआई पर सिद्धांतों’’ से आगे बढ़ने की जरूरत है। मोदी ने कहा, ‘‘मेरा सुझाव है कि अब हम जिम्मेदार मानव केंद्रित सुशासन के लिये एक फ्रेमवर्क तैयार करें। इस संबंध में भारत भी अपने सुझाव देगा।
हमारा प्रयास होगा कि सामाजिक-आर्थिक विकास, वैश्विक कार्यबाल और अनुसंधान एवं विकास जैसे क्षेत्रों में सभी देशों को एआई का लाभ मिले।’’ जीडीपी-केंद्रित दृष्टिकोण के बजाय मानव-केंद्रित दृष्टिकोण के लिए अपने प्रयास पर प्रकाश डालते हुए, उन्होंने कहा कि भारत ने मानवता के हित में अपने चंद्र मिशन के डेटा को सभी के साथ साझा करने की इच्छा व्यक्त की है। उन्होंने कहा, ‘‘यह मानव-केंद्रित विकास के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का भी प्रमाण है।’’
उन्होंने कहा कि दुनिया को ‘‘वैश्विक परिवार’’ को वास्तविकता बनाने के लिए ‘‘वैश्विक गांव’’ की अवधारणा से आगे जाने की जरूरत है। उन्होंने एक ऐसे भविष्य का आह्वान किया जिसमें न केवल देशों के हित जुड़े हों बल्कि उनके दिल भी जुड़े हों। उन्होंने कहा, तेजी से बदलती दुनिया में टिकाऊ और स्थायित्व की भी उतनी ही जरूरत है जितनी परिवर्तन की। बाद में, मोदी ने सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट में कहा, ‘‘केवल जीडीपी केंद्रित दृष्टिकोण रखना पुराना हो गया है।
अब समय आ गया है कि प्रगति का मानव केन्द्रित दृष्टिकोण अपनाया जाए। भारत इस संबंध में कई प्रयास कर रहा है, खासकर डेटा और प्रौद्योगिकी से संबंधित क्षेत्रों में। हमें सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए एआई का उपयोग करने के लिए जो कुछ भी कर सकते हैं वह करना चाहिए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जैसा कि हम अपने विकास पथ पर आगे बढ़ रहे हैं, हमें अपना ध्यान निरंतरता और स्थिरता पर रखना चाहिए। इससे हाशिए पर रहने वाले लोगों का सशक्तिकरण सुनिश्चित होगा।’’

जी20: मुद्दों को चर्चा पर हावी नहीं होना चाहिए

जी20: मुद्दों को चर्चा पर हावी नहीं होना चाहिए 

अखिलेश पांडेय 
नई दिल्ली/ब्रासीलिया। उभरती और विकसित अर्थव्यवस्थाओं के समूह की अध्यक्षता संभालने के बाद ब्राजील के राष्ट्रपति लुइज इनासियो लूला डी सिल्वा ने रविवार को कहा कि भू-राजनीतिक मुद्दों को जी20 में चर्चा पर हावी नहीं होने देना चाहिए। 
यहां जी20 शिखर सम्मेलन के समापन समारोह को संबोधित करते हुए लूला डी सिल्वा ने कहा कि समूह को “विभाजित जी20” में कोई दिलचस्पी नहीं है और आज की चुनौतियों का सामना संयुक्त कार्रवाई के जरिए ही किया जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा उन्हें जी20 की अध्यक्षता सौंपे जाने के तुरंत बाद उन्होंने कहा, “हमें संघर्ष के बजाय शांति और सहयोग की जरूरत है।”
अगला जी20 शिखर सम्मेलन नवंबर 2024 में रियो डी जनेरियो में होगा। लूला डी सिल्वा ने कहा, “जो रास्ता हमें नई दिल्ली से रियो डी जनेरियो तक ले जाएगा, उसके लिए सभी से बहुत समर्पण और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होगी।” उन्होंने कहा कि ब्राजील की अध्यक्षता में दक्षिण अमेरिकी देश के पांच क्षेत्रों में से प्रत्येक के शहरों में जी20 बैठकें आयोजित की जाएंगी। जी20 यूक्रेन में युद्ध पर विभाजित था और संघर्ष के संदर्भों को हल्का करने के बाद ही नयी दिल्ली घोषणा पर आम सहमति बनाई जा सकी।
जी20 घोषणापत्र में रूस की आलोचना करना कम कर दिया गया और केवल क्षेत्रीय लाभ के लिए बल के इस्तेमाल की निंदा की गई। ब्राजील की अध्यक्षता के दौरान उसकी प्राथमिकताओं को रेखांकित करते हुए लूला डी सिल्वा ने कहा कि उनका प्रयास होगा कि राजनीतिक और वित्तीय मार्ग समन्वित और एकीकृत तरीके से काम करें।
उन्होंने कहा, ‘‘सर्वोत्तम सार्वजनिक नीति पर सहमत होने का कोई मतलब नहीं है अगर इसके कार्यान्वयन के लिए कोई संसाधन आवंटित नहीं किए गए हैं।” उन्होंने मोदी को बधाई दी और उभरती अर्थव्यवस्थाओं के हित के विषयों को आवाज देने के प्रयासों के लिए भारत को धन्यवाद दिया।
उन्होंने सामाजिक समावेशन, भुखमरी के खिलाफ लड़ाई, ऊर्जा परिवर्तन और सतत विकास को भी जी20 की प्राथमिकताओं में सूचीबद्ध किया। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को राजनीतिक ताकत हासिल करने के लिए स्थायी, गैर-स्थायी सदस्यों के रूप में नए विकासशील देशों की जरूरत है।

पीएम ने फ्रांस के राष्ट्रपति के साथ वार्ता की

पीएम ने फ्रांस के राष्ट्रपति के साथ वार्ता की 

इकबाल अंसारी/सुनील श्रीवास्तव 
नई दिल्ली/पेरिस। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ द्विपक्षीय वार्ता की और कहा कि उन्होंने कई विषयों पर चर्चा की। मोदी ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ दोपहर के भोजन के समय बहुत ही सार्थक बैठक हुई।
हमने कई विषयों पर चर्चा की और यह सुनिश्चित करने के लिए तत्पर हैं कि भारत-फ्रांस संबंध प्रगति की नई ऊंचाइयों को छुएं।’’ जी20 शिखर सम्मेलन के समापन के बाद द्विपक्षीय वार्ता हुई। 
दोनों देशों के बीच बेहद प्रगाढ़ संबंध और रणनीतिक भागीदारी है।

खोखले बयान के लिए किया सम्मेलन का इस्तेमाल

खोखले बयान के लिए किया सम्मेलन का इस्तेमाल 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। कांग्रेस ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पर्यावरण के महत्व को लेकर जी-20 शिखर सम्मेलन का इस्तेमाल खोखले बयान देने के लिए किया है, जबकि उनकी सरकार बड़े पैमाने पर भारत के पर्यावरण संरक्षण को तहस-नहस कर रही है।
कांग्रेस संचार विभाग के प्रभारी जयराम रमेश ने रविवार को यहां जारी एक बयान में कहा कि जी-20 पर्यावरण और जलवायु स्थिरता बैठक में श्री मोदी ने कहा था, “हम जैव विविधता संरक्षण, सुरक्षा, पुनर्स्थापन और संवर्धन पर कार्रवाई करने में लगातार आगे रहे हैं। धरती माता की सुरक्षा और देखभाल हमारी मौलिक ज़िम्मेदारी है।
जलवायु के लिए चलाए जा रहे अभियान को अंत्योदय का पालन करना चाहिए यानी हमें समाज के अंतिम व्यक्ति के उत्थान और विकास को सुनिश्चित करना होगा।" 
उन्होंने कहा कि श्री मोदी ने जो बयान दिया है वह पूरी तरह से खोखला है जबकि सच्चाई इसके विपरीत है। मोदी सरकार बड़े पैमाने पर भारत के पर्यावरण संरक्षण को तहस-नहस कर रही है और वनों पर निर्भर सबसे कमज़ोर समुदायों के लोगों के अधिकारों को छीन रही है।
प्रवक्ता ने कहा कि सरकार एक तरफ समानता पर जोर देने के दावे करती है और उसके इस दावे को वन (संरक्षण) संशोधन अधिनियम 2023 पूरी तरह से खोखला साबित करता है। उनका कहना था कि यह अधिनियम देश के आदिवासियों और वनों में रहने वाले अन्य समुदायों के लिए विनाशकारी होगा, क्योंकि यह 2006 के वन अधिकार अधिनियम को कमज़ोर करता है और स्थानीय समुदायों की सहमति के प्रावधानों और बड़े क्षेत्रों में वन मंजूरी की जरूरतों को ख़त्म करता है।
उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग ने 2022 में इस पर आपत्ति जताई थी। पूर्वोत्तर के जनजातीय समुदाय विशेष रूप से असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, क्योंकि यह अधिनियम देश की सीमाओं के 100 किमी के भीतर की भूमि को संरक्षण कानूनों के दायरे से छूट देता है। उनका कहना था कि मिजोरम में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार है। इसके बावजूद वहां की सरकार ने इस अधिनियम के विरोध में विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित किया है।

450 रुपए में सिलेंडर, विद्यार्थियों को फ्री लैपटॉप

450 रुपए में सिलेंडर, विद्यार्थियों को फ्री लैपटॉप 

मनोज सिंह ठाकुर 
भोपाल। चुनाव को लेकर मचे घमासान के बीच राजनीतिक दलों द्वारा मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए तरह-तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने विधानसभा चुनाव जीतने के लिए इलेक्शन से पहले बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि अब राज्य में प्रत्येक गैस कनैक्शन धारक को 450 रुपए में सिलेंडर दिया जाएगा। इसके अलावा इंटरमीडिएट में 60 फीसदी अंक लाने वाले छात्र-छात्रा को सरकार लैपटॉप देगी। 
विवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विधानसभा चुनाव से पहले एक बड़ा ऐलान करते हुए राज्य के लोगों को रसोई के बजट में बड़ी राहत प्रदान की है। 
मुख्यमंत्री ने अपनी जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि अब राज्य में केवल उज्ज्वला योजना के पात्र लोगों को ही नहीं बल्कि गैर उज्ज्वला योजना वाले गैस कनेक्शन धारकों को हमेशा 450 रुपए में गैस सिलेंडर दिया जाएगा। 
इसके लिए मुख्यमंत्री द्वारा दो तरह की लिस्ट तैयार करवाई जा रही है। जिनमें एक लिस्ट में उज्ज्वला योजना के गैस कनेक्शन धारी शामिल रहेंगे, जबकि दूसरी लिस्ट में अन्य गैस कनेक्शन धारकों के नाम शामिल किए गए हैं। 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने छात्र-छात्राओं को शिक्षा की ओर अग्रसर करने के लिए 12वीं कक्षा में 60 फीसदी अंक लाने वाले छात्र-छात्राओं को लैपटॉप दिए जाने की भी घोषणा की है। 
उन्होंने कहा है कि अभी तक सरकार की ओर से 75 फ़ीसदी अंक लाने वाले विद्यार्थियों को ही लैपटॉप दिए जा रहे थे। लेकिन अगले साल जो बच्चे 60% अंकों के साथ उत्तीर्ण होंगे, उन्हें लैपटॉप का लाभ दिया जाएगा। उन्होंने ऐलान किया है कि अगले साल से हर स्कूल में 12वीं कक्षा में टॉप 3 रैंक लाने वाले छात्रों को सरकार की ओर से एक स्कूटी दी जाएगी।

मंदिर से गायब हुआ शिवलिंग, जांच में जुटी पुलिस

मंदिर से गायब हुआ शिवलिंग, जांच में जुटी पुलिस 

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। प्रयागराज के अतरसुइया थाना क्षेत्र के के खुशहाल पर्वत मोहल्ले में मंदिर से शिवलिंग गायब हो गया। स्थानीय लोग सुबह पूजा करने पहुंचे तो इसकी जानकारी हुई। 
सीसीटीवी के माध्यम से पुलिस खोजबीन कर रही है। खुशहाल पर्वत मुहल्ले में पुराना शिव मंदिर है। कई सालों से लोग यहां पूजा अर्चना करते हैं। 
रविवार की सुबह श्रद्धालु पहुंचे तो मंदिर से शिवलिंग गायब मिला। इंस्पेक्टर विनोद यादव का कहना है कि पता लगाया जा रहा है कि इस घटना में कौन-कौन लोग शामिल हैं ?

100 बेड के अस्पताल का निरीक्षण किया: उप सीएम

100 बेड के अस्पताल का निरीक्षण किया: उप सीएम

संदीप मिश्र/बृजेश केसरवानी 
लखनऊ/प्रयागराज। उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने भगवतपुर ब्लॉक सरदार बल्लभ भाई पटेल 100 बेड के अस्पताल का रविवार को निरीक्षण किया। उन्होंने व्यवस्थाओं का जायजा लिया और अधिकारियों निर्देश दिया कि 10 दिन में खामियों दूर कर मरीजों की भर्ती सुनिश्चित करें, जो भी आवश्यकता है‌, उसको उपलब्ध कराया जाएगा। भगवतपुर में नवनिर्मित 100 बेड के अस्पताल का उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने निरीक्षण किया।
इस दौरान उन्हें बताया गया कि गर्मी और पानी टपकने की समस्या के चलते अस्पताल में मरीजों की भर्ती नहीं हो रही है, जबकि ओपीडी चलती है। ओपीडी में रोजाना लगभग 100 मरीज आ रहे हैं। 
डिप्टी सीएम ने कहा कि गड़बड़ी को दूर कर 10 दिन में मरीजों की भर्ती की व्यवस्था करें। जो भी समस्या आ रही है उसको दूर किया जाएगा। मरीजों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो इसका पूरा ध्यान रखा जाए।
सीएमओ डॉ. आशु पांडेय ने बताया कि अस्पताल में 16 डॉक्टरों की तैनाती है, जिसमें फिजिशियन, नेत्र, अस्थि, बाल रोग, गॉयनी आदि विशेषज्ञ चिकित्सकों की तैनाती है। 15 पैरा मेडिकल स्टाफ हैं। यहां पर 100 बेड हैं और सभी बेड पर ऑक्सीजन की भी व्यवस्था है। एक्सरे और पैथालॉजी की सुविधा भी है। 
पानी टपने के कारण मरीज भर्ती नहीं किए जा रहे हैं।
सीलिंग का कार्य चल रहा है। अस्पताल में दो अक्तूबर तक मरीज भर्ती करने की तैयारी की जा रही है। डिप्टी सीएम ने कहा कि संचारी रोगों का प्रकोप बढ़ रहा है और डेंगू और वायरल के मरीज भी बढ़ रहे हैं इसको देखते हुए दो अक्तूबर तक नहीं, 10 दिन में अस्पताल को तैयार करें। अस्पताल में जो भी स्टाफ की कमी होगी और जो भी समस्याएं हैं, उसको दूर किया जाएगा। बता दें कि 2019 में कुंभ मेले में बनाए गए केंद्रीय चिकित्सालय के जो उपकरण और बेड लगाए गए थे, उसको कुंभ होने के बाद यहां शिफ्ट किया गया है। 
इस मौके पर जिलाधिकारी नवीन सिंह चहल, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एसपी सिंह, सीएमओ आशु पांडेय, अस्पताल के अधीक्षक डॉ. इश्तियाक अहमद आदि मौजूद रहे।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  


1. अंक-328, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. सोमवार, सितंबर 11, 2023

3. शक-1944, भाद्रपद, कृष्ण-पक्ष, तिथि-द्वादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:06।

5. न्‍यूनतम तापमान- 19 डी.सै., अधिकतम- 33+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें  संदीप मिश्र  लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा कि बीएएलएल...