पंजाब लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
पंजाब लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 10 जून 2021

घोषणा: पंजाब सरकार 4 मेडिकल कॉलेज खोलेगी

अमित शर्मा   
चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने राज्य में चार नए मेडिकल कॉलेज  खोले जाने की घोषणा की है। ये कॉलेज मोहाली, होशियारपुर, कपूरथला और मलेरकोटला में खोले जाएंगे। इसके साथ ही राज्य में एमबीबीएस की 500 सीट्स बढ़ जाएंगी। पंजाब के मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च मिनिस्टर ओपी सोनी ने इसका ऐलान किया है। डॉ. बीआर आंबेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज़ के शिलान्यास के दौरान मंत्री ने यह जानकारी दी। फिलहाल पंजाब में एमबीबीएस की करीब 1400 सीट्स हैं। नये मेडिकल कॉलेजों के लिए 1500 करोड़ रुपये आवंटित किये गये हैं। डॉ बीआर आंबेडकर मेडिकल इंस्टीट्यूट के लिए भी करीब 80 प्रतिशत फैकल्टी की नियुक्ति हो चुकी है। पैरामेडिकल स्टाफ व अन्य कर्मचारियों की नियुक्ति की प्रक्रिया जारी है।

शनिवार, 5 जून 2021

किसानों ने भाजपा नेता के निवास का घेराव किया

अमित शर्मा   

जालंधर। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर विभिन्न किसान संगठन शनिवार को भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मनोरंजन कालिया के घर के बाहर तीनों कृषि कानूनों की प्रतियां जलाने के लिए पहुंचे।

इस दौरान पुलिस ने शास्त्री मार्केट से मनोरंजन कालिया के घर की तरफ जाने वाले रास्ते को अवरोधक लगा कर बंद कर दिया था। जिसके चलते किसानों और पुलिस में खींचतान चल रही है।उल्लेखनीय है कि संयुक्त किसान मोर्चे ने पांच जून को सुबह भाजपा नेताओं के घरों के सामने कृषि कानूनों की कापियों को जलाने का आह्वान किया था। मोर्चें के आह्वान पर लोकतांत्रिक किसान सभा, देहाती मजूदर सभा, भारतीय किसान यूनियन और कामगार किसान यूनियन के नेताओं ने भाजपा नेता मनोरंजन कालिया के घर के बाहर कापियां जलाने की कोशिश की।

शुक्रवार, 4 जून 2021

कलह दूर करने के लिए 3 घंटे तक वार्तालाप हुई

राणा ओबरॉय   

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह कांग्रेस की प्रदेश इकाई में चल रही कलह को दूर करने के मकसद से गठित समिति के समक्ष शुक्रवार को पहुंचे और यह मुलाकात करीब तीन घंटे तक चली।

सूत्रों के मुताबिक, कैप्टन सबूत के तौर काफी दस्तावेज ले कर आए थे कि किस तरह उन्होंने विधायकों समेत अन्य नेताओं के अनुरोध पर काम कराया। कैप्टन ने उनको लेकर नेताओं द्वारा की गई शिकायतों का जवाब भी दिया। बैठक के बाद अमरिंदर सिंह ने इस इस मुलाकात का ब्यौरा देने से इनकार किया, हालांकि उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को मिलकर जीतना है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि अमरिंदर सिंह से इस मुलाकात के साथ ही समिति की संवाद करने की कवायद पूरी हो गई। अब वह जल्द ही आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

100 नेताओं से की गई चर्चा

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की अध्यक्षता वाली समिति ने पिछले चार दिनों में, कांग्रेस के पंजाब से ताल्लुक रखने वाले 100 से अधिक नेताओं से उनकी राय ली है. इनमें अधिकतर विधायक हैं। खड़गे के अलावा कांग्रेस महासचिव और पंजाब प्रभारी हरीश रावत तथा दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जेपी अग्रवाल इस समिति में शामिल हैं।

गौरतलब है कि हाल के कुछ सप्ताह में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पार्टी नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच तीखी बयानबाजी देखने को मिली है। विधायक परगट सिंह और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कुछ अन्य नेताओं ने भी मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है।

गुरुवार, 3 जून 2021

अंतर्कलह: बैठक में शामिल होने का बुलावा भेजा

राणा ओबराय                
चंडीगढ। पंजाब कांग्रेस की अंतर्कलह का असर बुधवार को कैबिनेट बैठक में साफ तौर पर देखने को मिला। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के दूसरे कार्यकाल में यह पहला मौका था, जब बैठक में 32 एजेंडे रखे गए।लेकिन दो एजेंडे पास करने के बाद बैठक खत्म हो गई। छह नाराज मंत्री इस बैठक में शामिल नहीं हुए तो उन्हें बुलावा भेजकर बैठक में शामिल होने का बुलावा भेजा गया। सूत्रों के अनुसार एक नाराज मंत्री ने तो यह भी कह दिया कि पहले विवाद सुलझा लेते हैं। बैठक तो बाद में भी हो जाएगी।

बुधवार को होने वाली कैबिनेट बैठक इसलिए भी महत्वपूर्ण थी। क्योंकि इसमें छठे वेतन आयोग की रिपोर्ट को मंजूरी के लिए पेश किया जाना था। इसके अलावा विधायक फतेहजंग सिंह बाजवा के बेटे को डीएसपी तो विधायक राकेश पांडे के बेटे को तहसीलदार लगाए जाने के लिए एजेंडा पारित किया जाना था। लेकिन, ये दोनों एजेंडे बैठक में नहीं रखे जा सके।वर्चुअल तौर पर हुई इस बैठक में मंत्रियों की नाराजगी का असर साफ तौर पर दिखाई दिया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह जैसे ही बैठक में शामिल हुए तो उन्होंने बैठक के कोरम के बारे में पूछा। इसके बाद मुख्‍य सचिव विनी महाजन ने उन्हें बताया कि सभी मंत्री बैठक में मौजूद नहीं हैं। इसके बाद जब कैप्टन ने मंत्रियों के बारे में पूछा तो उन्हें बताया गया है कि आठ मंत्री पंजाब भवन दिल्ली में हैं।

सोमवार, 31 मई 2021

छापेमारी कर आरोपी क़ाबू किए, 7 पिस्तौलें बरामद

अमित शर्मा  
जालंधर। पुलिस को चुनौती देकर पैट्रोल पंप ओर महिला से दिन दिहाडे इनौवा गाड़ी लूटी गई। वहीं होशियारपुर के एस एस पी नवजोत सिंह माहल ने कुख्यात अपराधियों को नाजायज पिस्तौलों सहित क़ाबू किया है। होशियारपुर पुलिस ने कतल केस में फ़रार चल रहे दोषियों को यू पी में छापामारी करके गिरफ़्तार किया है। एस एस पी नवजोत माहल ने बताया कि होशियारपुर के अधीन व्यक्ति को गोलियाँ मार हत्या के बाद उन्होंने सूचना के आधार पर एस पी डी रविंद्र पाल सिंह संधू के द्वारा बनाई टीम ने यूपी में छापेमारी करके आरोपी क़ाबू किए है। जिनके पास से नाजायज 7 पिस्तौलें बरामद हुई है। आरोपियो से पूछताछ में अन्य कई बढ़ी अपराधिक वारदातें हल होने की संभावना है। पकड़े गए आरोपी गुरजिंदर सिंह उर्फ़ सोनू रोडमजारिया,जो कि प्रीत  सेखो नाम के गैंगसटर के साथ मिलकर वारदातें करता था। प्रीत सेखो ने अमृतसर तरनतारन इलाक़े में काफ़ी दहशत मचाई हुई थी।

गुरुवार, 27 मई 2021

सीएम अमरिंदर ने 2 जून को बुलाईं कैबिनिट बैठक

अमित शर्मा                       
चंडीगढ़। पिछले डेढ साल से कोरोना संक्रमण से जूझ रहे पंजाबवासियों को एक बार फिर पाबंदीयों से राहत मिलती नज़र आ रही है। लगभग एक माह से राज्य में चल रहे पाबंदीयों के दौर के बीच एक बार फिर हॉट-स्पाट जिलों में मार्किट बंद होने का समय बढ़ा कर राहत दी जा रही है। कोरोना के केस कम होने तथा मार्किट ओपन करने में दी जा रही राहत को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि राज्य एक बार अनलॉक की तरफ है। पाबंदीयों के कारण कोरोना संक्रमण के कम होने से राहत महसूस कर रहे कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अब एक बार फिर 2 जून को कैबिनिट की बैठक बुलाई है। अगर सब कुछ ठीक रहा यानिकि लोग नियमों का पालन करते रहे तो संभावना प्रबल है कि इस बैठक में या इससे पहले 31 मई को ही पाबंदीयों में छूट होगी। बता दें कि कोरोना महामारी से हर तरफ हाहाकार मची हुई है। पहली लहर के बाद लोग इतने रिलेक्स हो गए कि दूसरी लहर ने आतंक मचा दिया। दूसरी लहर में संक्रमण भी पहले की अपेक्षा ज्यादा हुआ और मौतें भी ज्यादा हुई। इसे देखते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा लगभग एक माह पहले राज्य में एक बार फिर सख्त पाबंदीयां लगाई। जिसमें नाईट कर्फ्यु, मार्किट बंद करने जैसे बड़े फैसले लिए गए। यहां तक की मार्किट कम्पलीट बंद करने के आदेश दिए गए। लेकिन इसके पश्चात पंजाब सरकार द्वारा हर एक जिला के अधिकारियों को अपने जिला के हालात मुताबिक मार्किट खुलने बंद होने तथा और पाबंदीयों जैसे बड़े फैसले लेने की इजाजत दी।

शनिवार, 22 मई 2021

सिद्धू के अलावा पार्टी नेताओं में कैप्टन से नाराजगी

राणा ओबराय            
चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव से पहले पंजाब कांग्रेस में अंदर की उथल-पुथल बढ़ती जा रही है। कहीं न कहीं अब पंजाब में कांग्रेस विभाजित होती नजर आ रही है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच टकराव की स्थिति किस मोड़ पर जाकर क्या परिणाम देगी ? कुछ नहीं कहा जा सकता। वहीं, खबर यह भी है कि नवजोत सिंह सिद्धू के अलावा अन्य पार्टी नेताओं में भी कैप्टन से नाराजगी का माहौल है। इस बीच यह चर्चा भी खूब जोरों पर है कि पार्टी में शांति कायम करने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का नया प्रधान बनाया जा सकता है।
बतादें कि, अभी पंजाब कांग्रेस के प्रधान सुनील जाखड़ हैं और अब उनकी जगह नवजोत सिंह सिद्धू के प्रदेश प्रधान बनने की बात उछल रही है। कहा जा रहा है कि नवजोत सिंह सिद्धू लोगों के बीच एक मशहूर चेहरा हैं और वह अपने जरिये चुनाव में कांग्रेस को लाभ पहुंचाने का काम कर सकते हैं। फिलहाल, पार्टी में कई नेताओं का यह भी मानना है कि नवजोत सिंह सिद्धू पर पार्टी को ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए। सिद्धू सिर्फ अमृतसर तक ही सीमित है। उनके तिरछे चलने से पार्टी की फिजा पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। सिद्धू सिर्फ दबाव बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इन नेताओं का कहना है कि पंजाब में पार्टी के पास अभी कैप्टन से बड़ा चेहरा नहीं है। पार्टी कैप्टन को नजरअंदाज करती है, तो उसके लिए जीत आसान नहीं होगी। इधर, पार्टी भी पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में हार के बाद पंजाब पार्टी नेतृत्व कैप्टन पर दबाव डालने की स्थिति में नजर नहीं आ रही है। ऐसे में पार्टी को अगला विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री कैप्टन के नेतृत्व में ही लड़ना होगा। पार्टी हाईकमान को भी लगता है कि कैप्टन ही पंजाब में उसकी नैया को पार लगा सकते हैं। कांग्रेस मानती है कि किसान आंदोलन के बाद भाजपा को पंजाब चुनाव में बहुत ज्यादा कुछ मिलने की उम्मीद नहीं है। ऐसे में तमाम नाराजगी के बावजूद सिद्धू कांग्रेस का हाथ नहीं छोड़ेंगे और कैप्टन के सहारे ही पंजाब में कांग्रेस की दोबारा वापसी हो सकेगी, लेकिन पार्टी हाईकमान सिद्धू वाली टेंशन को भी दूर करने में जुटी हुई है। पार्टी हाईकमान को डर है कि यहां कांग्रेस में यह आपसी कलह चुनाव में कहीं न कहीं तो नुकसान पहुंचाने का काम कर ही सकती है। ऐसे में पार्टी हाईकमान कोई रिस्क नहीं लेना चाहती। बतादें कि, इससे पहले चर्चा चली थी नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेस छोड़कर दोबारा भाजपा में जायेंगे, लेकिन इसी बीच पंजाब कांग्रेस के प्रभारी बनकर आये उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत ने सिद्धू को मनाने की पुरजोर कोशिश की और वह एक पल इसमें सफल होते हुए भी नजर आये। सिद्धू जो कैप्टन से दूरी बनाकर रखे हुए थे। दोनों ने साथ बैठकर लंच किया और बाद में भी काफी दिन साथ-साथ दिखे, परन्तु यह सब ज्यादा दिन तक नहीं चल सका। नवजोत सिंह सिद्धू के तेवर फिर बदल गए। अब देखना तो यह होगा कि सिद्धू के तेवर ठीक करने के लिए कांग्रेस क्या करती है और जैसे कि यह चर्चा जोरों पर है कि उन्हें पंजाब कांग्रेस का प्रधान बनाया जा सकता है?

बुधवार, 19 मई 2021

890 गांवों में घर-घर जाकर सर्वे करने के आदेश दिएं

जालंधर। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा मंगलवार को शुरू किये गये ‘कोरोना मुक्त पिंड अभियान’ के तहत जिला प्रशासन ने कोविड मरीजों की पहचान करने के लिए जिले के सभी 890 गांवों में घर-घर जाकर सर्वे करने के आदेश दिए हैं। उपायुक्त घनश्याम थोरी ने बुधवार को प्रमुख सचिव हुसैन लाल की अध्यक्षता में एक वर्चुअल समीक्षा बैठक में भाग लेते हुए कहा कि जिले में एक विशाल स्क्रीनिंग अभियान शुरू किया जाएगा, जिसमें अधिकारियों द्वारा सभी रोगसूचक रोगियों की पहचान की जाएगी ताकि उनका समय पर इलाज सुनिश्चित किया जा सके।

घनश्याम थोरी ने कहा कि इस आउटरीच कार्यक्रम के तहत क्षेत्र के अधिकारी जिले के प्रत्येक ग्रामीण घर का दौरा करेंगे और फ्लू जैसे लक्षणों से पीड़ित लोगों की जांच करेंगे। टीमें ऑक्सीजन संतृप्ति की जांच करेंगी और उन मामलों की रिपोर्ट करेंगी। जहां ऑक्सीजन का स्तर 94 प्रतिशत से कम पाया जाता है। ताकि उनके कोविड -19 परीक्षण और उपचार की रिपोर्ट सकारात्मक होने पर जल्द से जल्द शुरू की जा सके।

गुरुवार, 6 मई 2021

जरूरी सेवाओं के साथ शराब ठेको को छूट: पंजाब

अमित शर्मा   

चंडीगढ़। पूरे देश में कोरोना का कोहराम मचा हुआ है। संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाया गया है। इस लॉकडाउन के अवधि में कुछ
रियायतों के साथ जरूरी सेवाएं संचालित करने की छूट दी गई है। वहीं शराब ठेके को भी छूट दी गई है। पंजाब सरकार ने अल्कोहल को एसेंशियल की लिस्ट में रखा है। सरकार के इस फैसले के बाद मिनी लॉकडाउन के दौरान शराब के ठेके खोले जाएंगे।

पंजाब सरकार ने इस संबंध में मंगलवार दोपहर को ही नोटिफेकेशन जारी कर दिया था। हालांकि नोटिफिकेशन में देरी के कारण एक दिन बाद से ठेके खुलने लगे। बता दें कि पंजाब सरकार ने कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए 15 मई तक के लिए लॉकडाउन की घोषणा की थी। लॉकडाउन के दौरान जरूरी सेवाओं को इससे छूट दी गई थी।पंजाब सरकार ने लॉकडाउन की घोषणा 2 मई को की थी। इस दौरान बताया था कि जरूरी वस्तुओं की दुकानें जैसे- दवा, दूध, सब्जी, मीट आदि की ही खोलने के आदेश थे। उस दौरान शराब के ठेकों सहित अन्य गैर-जरूरी दुकानों खोलने की अनुमति नहीं दी गई थी। लॉकडाउन के दौरान शादी समारोह और अंतिम संस्कार में केवल 10 लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई थी। सराकर के इस एलान के बाद शराब ठेकेदारों की ओर से शराब के ठेके खोलने की लगातार मांग उठाई जा रही थी। सरकार के इस आदेश के बाद राज्य में बंद सभी ठेके खोल दिए जाएंगे।

सोमवार, 26 अप्रैल 2021

पंजाब: कर्फ्यू के साथ लॉकडाउन लगाने का फैसला

अमित शर्मा          

चंडीगढ़। पंजाब की अमरिंदर सरकार ने राज्य में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए रोजाना नाइट कर्फ्यू के साथ-साथ वीकेंड लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। राज्य कैबिनेट के फैसले के अनुसार अब हर दिन शाम 6 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा। जहां तक वीकेंड लॉकडाउन की बात है तो यह शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा। कैबिनेट के फैसले से पहले मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह कोविड-19 के कारण उपजे हालात से निपटने के लिए लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं हैं। अमरिंदर सिंह ने बताया कि हालात और बिगड़ने का अंदेशा है, खासकर दक्षिण पंजाब में। उन्होंने कहा कि सिर्फ लुधियाना में रविवार को 1300 से ज्यादा मामले आए थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि मामलों में वृद्धि से निपटने के लिए कड़े उपाय किए जा रहे हैं किंतु वह राज्य में लॉकडाउन का प्रस्ताव नहीं कर रहे हैं। क्योंकि इससे आर्थिक परेशानियां आती हैं और प्रवासी मजदूरों का पलायन होता है।

बुधवार, 14 अप्रैल 2021

अंबेडकर के नाम पर बनेगीं यूनिवर्सिटी, घोषणा की

राणा ओबराय          
जालंधर। विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों में सभी राजनीतिक दल जुटे हुए हैं। इन्हीं तैयारियों के बीच बड़े बड़े ऐलान भी शुरू हो गए हैं। आज बुधवार को शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने भी बड़ी घोषणा की। बाबा साहेब डॉ. भीम राव अंबेडकर को श्रद्धासुमन अर्पित करने जालंधर पहुंचे सुखबीर बादल ने कहा कि अगर पंजाब में शिअद की सरकार बनी तो उपमुख्यमंत्री का पद दलित परिवार के सदस्य को दिया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने घोषणा की कि दोआबा में डा. भीम राव अंबेडकर के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी। सुखबीर बादल ने कहा कि पंजाब के विकास में अनुसूचित जाति का जो योगदान है। उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। सुखबीर बादल ने विधानसभा चुनाव से पहले अनुसूचित जाति के लोगों को पार्टी के साथ जोडऩे की कोशिश की है। सुखबीर सिंह बादल ने कहा है कि साल 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए कई राजनीतिक दलों से बात चल रही है और अगर विचार मिले तो गठबंधन के तहत चुनाव लड़ेंगे।

सोमवार, 12 अप्रैल 2021

सीएम अमरिंदर ने कोरोना टीके की दूसरी खुराक ली

राणा ओबराय     
चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को कोविड-19 टीके की दूसरी खुराक ली। साथ ही लोगों से टीका लगवाने की अपील भी की। सिंह को पिछले महीने टीके की पहली खुराक दी गई थी।मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार ने ट्वीट किया, ‘ पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कोविड-19 टीके की दूसरी खुराक ली। साथ ही एक बार फिर पात्र व्यक्तियों से आगे आकर अपनी, अपने परिवार एवं समाज की सुरक्षा के लिए टीका लगवाने की अपील की।

शनिवार, 10 अप्रैल 2021

5 दिन के कोविड-19 रोधी टीके का भंडार बचा

राणा ओबराय     
चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शनिवार को कहा कि पंजाब में केवल पांच दिन का कोविड-19 रोधी टीके का भंडार बचा है और उन्होंने केन्द्र सरकार से टीके की आपूर्ति का कार्यक्रम साझा करने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में प्रतिदिन 85,000 से 90,000 लोगों को टीके लग रहे हैं और इस दर से पंजाब का मौजूदा 5.7 लाख टीकों का भंडार पांच दिन में समाप्त हो जाएगा।

उन्होंने केन्द्र से टीकों की नयी खेप प्राप्त होने की उम्मीद जताते हुए कहा कि अगर पंजाब एक दिन में दो लाख टीके लगाने के अपने लक्ष्य को हासिल करता है तो उसके पास टीकों की जो खुराक है। वह तीन दिन में समाप्त हो जाएगी। यहां जारी एक सरकारी बयान में सिंह ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिख कर अगली तिमाही के लिए पुख्ता आपूर्ति कार्यक्रम साझा करने को कहा है।

बुधवार, 7 अप्रैल 2021

कोरोना के मामलों को देखते हुए रैलियों पर लगीं रोक

राणा ओबराय        
चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमित के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए रैलियों पर रोक लगा दी है। सरकार के आदेशों के बाद राज्य में कोई भी राजनीतिक दल रैलियों का आयोजन नहीं कर पाएगा। इसके साथ ही सरकार ने 30 अप्रैल तक सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करने का भी निर्णय लिया है। 11 जिलों में नाइट कर्फ्यू को भी सरकार ने 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है।
पंजाब में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 2,924 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसी अवधि में 63 मरीजों की मौत भी हुई है। अब राज्य में कोरोना के कुल मामलों की संख्या दो लाख 57 हजार 57 हो गई है। राज्य में अभी 25,913 सक्रिय मामले हैं और अभी तक यहां 7216 लोगों की मौत हुई है। सरकार ने 10 अप्रैल तक पांबेदियां जारी रखने का आदेश दिया था, जिसे बढ़ाकर अब 30 अप्रैल तक कर दिया गया है।

आदेशों के मुताबिक मॉल में एक वक्त में 100 से अधिक व्यक्तियों को इजाजत नहीं होनी चाहिए और सिनेमाघरों को आधी सीटें खाली रखने को कहा गया है। सबसे अधिक प्रभावित 11 जिलों में अंतिम संस्कार एवं शादियों को छोड़कर सभी सामाजिक जमावड़े पर पूर्ण पाबंदी लगायी गयी है। अंतिम संस्कार एवं शादियों में भी 20 लोगों को ही इजाजत है।

कोरोना संक्रमण के प्रसार की गति को देखते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने यूपी सरकार को नाइट कर्फ़्यू लगाने पर विचार करने को कहा है। लेकिन यहाँ हो रहे पंचायत चुनावों को देखते हुए नहीं लगता है कि सरकार किसी भी प्रकार का प्रतिबंध लगाने के पक्ष में हैं।  हाँ ये जरूर है कि पंचायत चुनाव होने के बाद सिलसिलेवार तरीके से नाइट कर्फ़्यू लगाने की संभावनाएं बन रही हैं।

सोमवार, 5 अप्रैल 2021

प्राइमरी शिक्षक पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किएं

राणा ओबराय      
चंडीगढ़। शिक्षक बनने की इच्छा रखने वाले युवाओं के लिए अच्छी खबर है। पंजाब में प्राइमरी शिक्षक पदों के लिए आवेदन आमत्रित किए हैं। पंजाब के स्कूल शिक्षा विभाग ने इन पदों के लिए एक बार फिर से आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। अब आवेदन 21 अप्रैल 2021 तक कर सकते हैं। इसके लिए आवेदन की अंतिम तिथि पहले 21 दिसंबर 2020 को ही समाप्त हो चुकी थी। इस भर्ती प्रक्रिया के तहत प्री प्राइमरी शिक्षकों के 8393 पद भरे जाने हैं। आवेदन शुल्क सामान्य वर्ग के लिए 1000 रुपये व एससी/एसटी के प्री प्राइमरी शिक्षक पद के लिए न्यूनतम योग्यता 12वीं पास होने के साथ नर्सरी टीचर एजुकेशन में डिप्लोमा मांगा गया है। 12वीं में न्यूनतम 45% अंक होने जरूरी हैं। साथ में अभ्यर्थी को 10वीं कक्षा में पंजाबी भाषा भी पढ़ा होना जरूरी है। 500 रुपये है।इस भर्ती प्रकिया के लिए नोटिफिकेशन 24 नवंबर 2020 को जारी किया गया था। जबकि आवेदन एक दिसंबर 2020 को शुरू हुए थे। अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी पंजाब के स्कूल एजुकेशन रिक्रूटमेंट बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

गुरुवार, 1 अप्रैल 2021

मरने वालों में 80-85 प्रतिशत पुरानी बीमारी वालें

राणा ओबराय     
चंडीगढ़। प्रशासनिक और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ वर्चुअल मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, कि स्थिति की समीक्षा आठ अप्रैल को की जाएगी। मोहल्ला स्तर पर लोगों तक पहुंच बनाई जाए। बुरी तरह से प्रभावित मोहाली, लुधियाना, जालंधर और अमृतसर में कोविड नियमों का भी सख्ती से पालन करवाया जाए। लोगों की परेशानी पर गौर करते हुए मुख्यमंत्री ने शनिवार को कोविड योद्धाओं के लिए एक घंटे के रखे जाने वाले मौन को खत्म करने का आदेश दिया।
कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब में कोविड के कारण उच्च मृत्यु दर पर चिंता प्रकट की। इस पर राज्य की कोविड विशेषज्ञों की कमेटी के चेयरमैन डॉ. तलवार ने कहा कि राज्य में मरीज समय पर अस्पताल नहीं जाते और सह-रोगों की भी उच्च दर है। मरने वालों में से 80-85 प्रतिशत मरीज गंभीर बीमारी वाले हैं। उन्होंने एक बार फिर सभी धार्मिक और राजनीतिक नेताओं से अपील की है कि कोविड नियमों का पालन करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाए।

मंगलवार, 30 मार्च 2021

पंजाबी सिंगर दिलजान की सड़क हादसे में हुई मौत

राणा ओबराय    

चंडीगढ़। पंजाबी सिंगर दिलजान की एक सड़क हादसे में मंगलवार को मौत हो गई है। वो रात के समय अमृतसर से करतारपुर आ रहे थे। इसी दौरान जंडियाला गुरु के पास हादसा हो गया। जानकारी के मुताबिक पंजाब के मशहूर सिंगर दिलजान के साथ अलसुबह करीब पौने चार बजे हादसा हुआ। उनकी गाड़ी डिवाइडर से जा टकराई। जिससे उनको गंभीर चोटें आई और इलाज के दौरान मौत हो गई। मिली जानकारी के मुताबिक, पंजाबी सिंगर दिलजान करतारपुर के रहने वाले थे और रात के समय किसी कारण से वो कार लेकर निकले थे। पुलिस का कहना है कि हादसों के कारणों की जांच करवाई जा रही है। दिलजान मंगलवार तड़के अमृतसर से करतारपुर की तरफ अपनी कार में सवार होकर जा रहे थे। जीटी रोड पर उनकी कार की रफ्तार काफी तेज थी। पुल के पास पहुंचते ही कार अनियंत्रित हो गई और डिवाइडर से टकराकर पलट गई।

शनिवार, 27 मार्च 2021

अन्तरिम जमानत की अवधि बढ़ाने के दिए आदेश

राणा ओबराय    
चंडीगढ़। पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एवं कार्यकारी अध्यक्ष, हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायमूर्ति राजन गुप्ता की अध्यक्षता में 13वीं हाई पावर्ड कमेटी की बैठक का आयोजन किया गया। हाई पावर्ड कमेटी के आदेशों के तहत पहले रिहा किये गए ऐसे 2017 दोषियों/विचाराधीन कैदियों की पैरोल/अन्तरिम जमानत की अवधि बढ़ाने की अनुमति दी गयी। सरकारी प्रवक्ता ने बताया, कि इस बैठक में हरियाणा के एडवोकेट जनरल बलदेव राज महाजन, अतिरिक्त मुख्य सचिव, गृह विभाग, राजीव अरोड़ा,जेल महानिदेशक (सेवानिवृत्त) श्री के. सेल्वराज और जिला और सत्र न्यायाधीश/सदस्य सचिव, राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण प्रमोद गोयल उपस्थित थे। बैठक में कमेटी ने प्रथम चरण, द्वितीय चरण व तृतीय चरण के तहत अपराधियों के आत्मसर्पण के सम्बन्ध में जेल अधिकारियों द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट की भी समीक्षा की गई जिसमें यह पाया गया है कि 879 दोषियों में से 851 ने आत्मसमर्पण कर दिया है और 8 दोषियों की उच्च न्यायालय ने पैरोल बढ़ा दी है। इसके अलावा 1 दोषी को सरकार द्वारा समय से पहले रिहा कर दिया गया है और 11 दोषियों की मृत्यु हो गयी तथा 8 अपराधी फरार हो गये। कमेटी ने स्वैच्छिक सहमति पर केन्द्र सरकार द्वारा तय मानदण्डों के तहत पात्र सभी कैदियों को कोविड टीकाकरण की अनुमति प्रदान कर दी है। इसके अलावा, जिला विधिक सेवा प्राधिकरणों के अध्यक्षों/जिला एवं सत्र न्यायाधीशों को सप्ताह में एक बार जेलों का दौरा करने के लिए भी कहा गया है। समिति ने बीते 11 फरवरी को आयोजित बैठक में जेल अधिकारियों को 2580 दोषियों जो जघन्य अपराधों में शामिल थे, के पुन: प्रवेश के लिए निर्देश दिए। अब जेलों में कैदियों की वर्तमान तादाद को देखते हुए तथा कोविड-19 की वृद्धि तथा 2580 दोषियों की पुन: भर्ती के मद्देनजर दिनांक 31-05-2021 तक हाई पावर्ड कमेटी ने 2017 (658 $ 1359) दोषियों/विचाराधीन कैदियों की पैरोल/अन्तरिम जमानत बढ़ा दी है, जिन्हें 7 साल की सजा हुई अथवा जिनको उन अपराधों के लिए मुकदमों का सामना करना पड़ रहा है जिनमें अधिकतम कारावास की अवधि 7 साल तक की है। जेल अधिकारियों को 10-05-2021 तक आत्मसमर्पण योजना प्रस्तुत करने का निर्देश भी दिया गया है। रिलीज की तारीख के आधार पर आत्मसमर्पण की तारीख तय की जानी चाहिए अर्थात जिस दोषी/विचाराधीन कैदी को पहले छोड़ा गया है, वह पहले आत्मसमर्पण करेगा। इसके अलावा साक्षात्कार आयोजित करने अथवा कैदियों के साथ मिलन करने में जेल अधिकारियों द्वारा कठिनाईयों का सामना करने के कारण, कमेटी ने कैदियों के अपने परिवार के सदस्यों से मिलने के सम्बन्ध में जेल विभाग के हालिया प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। इसमे कमेटी नें प्रतिदिन सभी कार्य दिवसों पर 4:00 बजे तक क्रमश: 1000, 1001 से 1500, 1501 से 2000 और 2001 या अधिक क्षमता वाली जेलों में, प्रतिदिन अधिकतम क्रमश: 80, 120, 150 और 180 आगंतुकों को अनुमति दी है। वकीलों को सभी कार्य दिवसों में 4:00 बजे से 5:00 बजे के बीच विचाराधीन कैदियों से मिलने की अनुमति दी गयी है।

शुक्रवार, 19 मार्च 2021

कोरोना: सीएम का बड़ा फैसला, स्कूल-कॉलेज बंद

राणा ओबराय  
चंडीगढ़। देश में कोरोना के केस रोजाना बढ़ रहे है। जिसको लेकर राज्य की सरकारें चिंता में है। इसी बीच पंजाब सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। पंजाब सरकार ने सभी स्कूल व कॉलेज बंद करने का आदेश जारी किया है। पंजाब के स्कूल व कॉलेज 31 मार्च तक बंद रहेंगे। इसके साथ ही सरकार स्कूल व कॉलेज की परीक्षाएं रद्द करने की तैयारी कर रही है।

शुक्रवार, 12 मार्च 2021

पंजाब: पॉजिटिव हुए वित्तमंत्री, क्वारंटाइन रहेंगे

राणा ओबरॉय  

चंडीगढ़। पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद उन्होंने ख़ुद को क्वारंटाइन कर लिया है। इसकी जानकारी ख़ुद मनप्रीत बादल की तरफ से अपने फेसबुक पेज पर शेयर की गई है। मनप्रीत बादल ने लिखा, कि वह कोरोना पॉजिटिव हैं और आने वाले दिनों में वह क्वारंटाइन में रहेंगे।

मनप्रीत बादल ने बताया कि उन्होंने बजट सत्र शुरू होने से पहले भी कोरोना टैस्ट करवाया था, जो की नेगेटिव आया था। इसके बाद बजट सत्र ख़त्म होने बाद में भी उन्होंने कोरोना टैस्ट करवाया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई।मनप्रीत बादल ने उनके संपर्क में आने वाले व्यक्तियों को आगाह करते उन्हें कोरोना टैस्ट करवाने के लिए कहा है जिससे उनको और उनके परिवारों को किसी तरह की कोई परेशानी न आए।

जेडीयू को भी मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए

अविनाश श्रीवास्तव    पटना। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार और उसमें जनता दल यूनाइटेड के शामिल होने की अटकलों के बीच जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिं...