शनिवार, 25 अप्रैल 2020

अमेरिका ने फिर बढ़ाया 'लॉक डाउन'

वाशिंगटन। कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक दुनिया में इस महामारी से 1.90 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में करीब 50 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। ये दुनिया भर में कोरोना से हुई मौतों का करीब 25% है। मलेशिया में प्रधानमंत्री मुहिद्दीन यासिन ने शुक्रवार लॉकडाउन दो हफ्ते बढ़ाने का ऐलान किया। यहां 18 मार्च से 28 अप्रैल तक लॉकडाउन लगाया गया था। अब इसे 12 मई तक कर दिया गया है।


न्यूयॉर्क में मौत का आंकड़ा 20 हजार के ऊपर पहुंच चुका है। अमेरिका में पिछले 24 घंटे में 3176 लोगों की मौत हुई है। वहीं, 31 हजार से ज्यादा संक्रमण के केस सामने आ चुके हैं. अमेरिका में अब तक 8.8 लाख लोग संक्रमित हैं... अमेरिका के बाद इटली मौत के मामले में दूसरे नंबर पर है। यहां अब तक 25 हजार 549 लोगों की मौत हो चुकी। फ्रांस में संक्रमण और मौतों के आंकड़े बढ़े हैं। यहां अब तक 21856 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ब्रिटेन में संक्रमण के 1.38 लाख से ज्यादा केस सामने आए हैं। अब तक 18 हजार 738 लोगों की मौत हो चुकी है। न में कोरोना से स्थिति अब काबू में है। यहां अब तक 82 हजार से ज्यादा केस सामने आए हैं। दुनिया भर के लिए नासूर बन चुके इसी वायरस के कहर के चतले बेल्जियम में भी हाहाकार मचा है। यहां कोरोना से मृत्यु दर काफी अधिक है। अब तक 42,797 केस सामने आए है। जबकि 228 लोगों की मौत हुई है। पाकिस्तान में संक्रमण के मामले 11 हजार पर पहुंच गए हैं। चिंता की बात यह है कि इनमें से 79% मामले स्थानीय हैं. डीएचए ने कोरोना वायरस के विभिन्य मौसमों में प्रभाव को देखते हुए एक रिपोर्ट जारी की है। इसमें कहा गया गया है कि गर्मी और आद्रता भरे मौसम में कोरोना वायरस के फैलने की दर काफी कम है। आस्ट्रेलिया क्षेत्र में भी सरकारें बेहद सतर्क हैं और इसको किसी भी रूप में न फैलने देने के तमाम प्रयास कर रही हैं।


779 लोगों की मौत, 24906 संक्रमित

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस का कहर जारी है। नोवेल कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या में दिन पर दिन इजाफा होता जा रहा है। देश भर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 1429 नए मामले सामने आए हैं और 57 लोगों की मौत हो गई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 24,506 हो गई है, जिसमें 18,668 सक्रिय हैं, 5,063 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 775 लोगों की मौत हो गई है।


छूट मिली है, लॉक डाउन नहीं खुला

लोक डाउन जैसा था वैसा ही रहेगा, अनावश्यक दुकानें नही खुलेगी 
बुलंदशहर। नगर सिकन्दराबाद में सभी प्रकार के सामानो की दुकानो को खोलने की न्यूज बीती रात केंद्र सरकार द्वारा प्रसारित की गयी थी। जिसको लेकर हमारे नगर सिकन्दराबाद  में  आमजनो के द्वारा सुनी जा रहा थी की सभी तरह के सामानो की दुकान सारे दिन खोली जायेगी। इसी मामले को लेकर हमारे जिले के संवाददाता ने नगर एस0डी0एम रविशंकर सिंह से वार्ता की तब नगर के मुखिया जी ने बताया कि हमारे पास शासन से कोई ऐसा आदेश नहीं आया है कि सभी प्रकार की दुकानो को खोला जाये। जैसा हे वैसा ही रहेगा कोई किसी प्रकार का बदलाव नहीं हुआ है। ओर यू0पी के मुखिया जी ने भी फ़रमान जारी करके साफ कह दिया है कि लोक डाउन जैसा है वैसा ही रहेगा कोई भी बदलाव नहीं किया जायेगा।
इसलिए सभी नगर निवासीयो व दुकानदार भाई यो से अनुरोध है की गलत अफवाह ना फैलाये ओर लोक डाउन का पालन अग्रिम आदेश तक करते रहे। 
  ब्यूरो- पवन शर्मा 
 


कटौती नहीं मदद की जरूरतः पूर्व पीएम

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में कटौती के फैसले की आलोचना करते हुए कहा है कि मौजूदा दौर में कटौती की नहीं बल्कि लोगों की मदद करने की ज़रूरत है। डॉ. सिंह ने शनिवार को यहां जारी एक वीडियो सन्देश में कहा कि केंद्र को संकट के इस दौर में कर्मचारियों पर यह निर्णय थोपने की ज़रूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि यह फैसला गलत है और सरकार को महंगाई भत्ते और महंगाई राहत में कटौती नहीं करनी चाहिए थी। वीडियो में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी सरकार के इस फैसले की आलोचना की और कहा कि संकट के इस दौर में लोगों की मदद करने की बजाय उनके भत्तों में कटौती करना उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए सरकार के पास यदि पैसा नहीं था तो उसे कर्मचारियों की जेबों पर कैंची चलाने की बजाय बुलेट ट्रैन जैसी परियोजनाओं को रोकने तथा अपने खर्च में कटौती करने का निर्णय लेना चाहिए था।


16 लाख कर्मचारियों को दिया झटका

प्रशांत कुमार


लखनऊ। कोरोना वायरस महामारी और लगातार लॉकडाउन को देखते हुए प्रदेश सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश सरकार ने भी केंद्र की तरह अपने कर्मियों का जनवरी से प्रस्तावित महंगाई भत्ता व पेंशनरों का महंगाई राहत रोकने का एलान किया है।


इसके साथ ही सरकार ने छह तरह के भत्ते भी स्थगित कर दिए हैं। यूपी सरकार ने महंगाई भत्ते (डीए) पर भी रोक लगा दी है। अब कर्मचारियों और पेंशनरों को डीए भी नहीं मिलेगा। एक जनवरी 2020 से जून 2021 तक डीए बंद रहेगा। इसके अलावा सचिवालय भत्ता, पुलिस भत्ता भी बंद कर दिया गया है। इससे यूपी में 16 लाख से ज्यादा कर्मचारी प्रभावित होंगे। वहीं 11.82 लाख पेंशनरों को झटका लगा है। आर्थिक तंगी का सामना कर रही सरकार को कर्मचारियों के महंगाई भत्ते व महंगाई राहत पर फैसला लेने से करीब 10 हजार करोड़ रुपये की बचत हो सकती है।


वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम 11 के साथ समीक्षा बैठक की। बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से कहा कि संक्रमण रोकने के लिए हर जिले में फोकस टीम बनाइए। किसी भी सूरत में वायरस के संक्रमण का प्रसार नहीं होना चाहिए। उन्होंने निर्देशित किया कि कोरोना योद्धाओं के लिए पीपीई किट्स N-95 मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित करें।


सीआरपीएफ के 9 जवान संक्रमित

दिल्ली में कोरोना वायरस का कहर, सीआरपीएफ के 9 जवान पाए गए पॉजिटिव
नीरज जिंदल
नई दिल्ली। चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत दुनियाभर में तबाही मचा रखी है। मोदी सरकार ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन कर रखा है। हालांकि इसके बावजूद कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस वैश्विक महामारी की चपेट में सुरक्षाकर्मी भी आ रहे हैं। अब दिल्ली में सीआरपीएफ के 9 जवान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं ये जवान सीआरपीएफ की 31 बटालियन के हैं। इनको पहले से ही क्वारनटीन कर दिया गया था दरअसल, इससे पहले सीआरपीएफ का एक जवान कोरोना पॉजिटिव पाया गया था, जिसके बाद इन सभी को क्वारनटीन किया गया था और फिर जांच कराई गई थी। अब जांच में ये लोग भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ये जवान नोएडा में तैनात थे, तभी कोरोना वायरस की चपेट में आए वहीं, पूरे हिंदुस्तान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा होता जा रहा है। लॉकडाउन के बावजूद कोरोना के मरीजों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है।
भारत में अब तक कोरोना वायरस के 23 हजार 450 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 723 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके अलावा 4 हजार 813 से ज्यादा लोग इलाज से ठीक हो चुके हैं, जिनको अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है. वहीं, दुनियाभर में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 27 लाख 45 हजार 670 से ज्यादा हो चुकी है, जिनमें से एक लाख 92 हजार 125 से ज्यादा लोग दम तोड़ चुके हैं।


काम पर लौटेंगे ब्रिटेन प्रधानमंत्री

काम पर लौटेंगे ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन


लंदन। वहीं कोरोना को मात देने वाले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन सोमवार से काम पर लौट सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा- मैंने उनसे कल बात की थी, वे खुश थे। वे कब काम पर लौटेंगे इसका निर्णय उन्हें और उनके डॉक्टरों को करना है। कोरोना के लक्षण दिखाई पड़ने के बाद जॉनसन आइसोलेशन में चले गए थे। बाद में हालत खराब होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। कुछ दिनों पूर्व ही उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली है।


इंडोनेशियाः बडे इलाके में सुनामी खतरा

इंडोनेशिया बोर्नियो द्वीप को अपनी नई राजधानी बनाने की योजना बना रहा है। यूके और इंडोनेशिया के शोधकर्ताओं ने इस इलाके में सुनामी का खतरा बताया है।


इंडोनेशिया की वर्तमान राजधानी जकार्ता है। एक करोड़ आबादी वाला यह शहर दुनिया में सबसे तेज डूबते शहरों में से एक है। बोर्नियो और सुलावेसी के द्वीपों के बीच मकासार जलसंधि में कई भूमिगत भूस्खलन हुए हैं जिससे भारी लहरें उठेंगी। जिससे सुनामी का खतरा बना हुआ है।


जकार्ता। इंडोनेशिया की वर्तमान राजधानी जकार्ता है। एक करोड़ आबादी वाला यह शहर दुनिया में सबसे तेज डूबते शहरों में से एक है। माना जा रहा है कि सालों बाद यह शहर डूब जाएगा। इसलिए इंडोनेशिया बोर्नियो द्वीप को अपनी नई राजधानी बनाने की योजना बना रहा है। इसकी घोषणा इंडोनेशिया के योजना मंत्री ने की है। लेकिन, अब यहां भी खतरा मंडरा रहा है। यूके और इंडोनेशिया के शोधकर्ताओं ने इस इलाके में सुनामी ( Tsunami Warning ) का खतरा बताया है। शोधकर्ताओं ने कहा, भले ही इंडोनेशिया सरकार बोर्नियो द्वीप को नई राजधानी के रूप में निर्माण करना चाहती हो, लेकिन बोर्नियो और सुलावेसी के द्वीपों के बीच मकासार जलसंधि में कई भूमिगत भूस्खलन हुए हैं जिससे भारी लहरें उठेंगी। जिससे सुनामी का खतरा बना हुआ है। एडिनबर्ग में हेरियट-वाट विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने इस बात का दावा किया है।


सिंगापुरः12 हजार केस आए सामने

सिंगापुर: माइग्रेंट वर्कर्स ज्यादा पीड़ित


रकबा। सिंगापुर में संक्रमण के 12 हजार 75 मामले सामने आ चुके हैं। यहां सिंगापुर यहां देश सिंगापुर मलेशिया-इंडोनेशिया के बीच तट पर स्थित, राजधानी रकबा में शनिवार को 897 केस मिले हैं। इस हफ्ते में पहली बार संक्रमण का मामला 1000 से कम रहे हैं। देश में माइग्रेंट वर्कर्स सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। यहां करीब 14 लाख के लगभग विदेशी गरीब काम करने वाले मजदूर रहते हैं। यहां ज्यादातर दक्षिण और दक्षिणपूर्व एशिया के मजदूर रहते हैं।


रूस में संक्रमण का हुआ विस्तार

रूस: 68,622 संक्रमित


मास्को। रूस में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 68,622 हो गई है। इस बीमारी से अब तक 615 लोगों की मौत हो चुकी है। रूस के मरमंस्क स्थित रिस्पॉन्स केंद्र के मुताबिक, 24 अप्रैल को मरमंस्क क्षेत्र में 193 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इस क्षेत्र में कुल केस 856 है और चार लोगों की मौत हो गई है।


रूस मेंमॉस्को स्टेट यूनिवर्सिटी के मुख्य भवन के पास एक सड़क को डिसइन्फेक्ट कर्मचारी करते हैं।


इटलीः पहली बार संक्रमण में कमी

इटली: 5 हफ्ते में पहली बार संक्रमण में कमी


रोम। इटली में संक्रमण के मामलों में कमी आई है। बीबीसी के मुताबिक, यहां पांच हफ्ते में पहली बार एक दिन में सबसे कम मौतें हुई हैं। इटली के डॉक्टर संघ ने मान्यता रूप से कहा कि देश में अब तक 150 डॉक्टर्स की मौत हो चुकी है। संक्रमण के मामलों में 10% स्वास्थ्यकर्मी बहुत ज्यादा बीमार हैं। यहां इटली देश राजधानी रोम में अब तक करीब 36 हजार लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 1 लाख 93 हजार संक्रमित हैं।


पुलिस ने कई वाहनों को सीज किया

लॉक डाउन सफल बनाने के लिए पुलिस बल रहा सख्त
सीओ की मौजूदगी में कई वाहनों को पकड़ा गया


बेवजह घरों से निकले लोगों को लगाई गई फटकार


फतेहपुर। पुलिस क्षेत्राधिकारी की मौजूदगी में भारी पुलिस बल चौराहे में मौजूद रहा लॉक डाउन को सफल बनाने के कई वाहनों को रोका गया पास या अन्य कागजात न दिखा पाने पर वाहनों को पकड़कर कोतवाली ले जाया गया बेवजह घरों से निकले लोगों को फटकार भी लगाई गई।


कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए लोगों का जीवन सुरक्षित बनाए रखने के लिए लॉक डाउन की स्थिति चल रही है जिस को सफल बनाने के लिए पुलिस क्षेत्राधिकारी योगेंद्र सिंह मलिक तथा कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नंदलाल सिंह के नेतृत्व में ललौली चौराहे में भारी पुलिस बल लगा रहा दो पहिया वाहन से लेकर चार पहिया वाहन तक गाड़ियों की चेकिंग की गई बिना पास के या अन्य कागजात ना होने पर उन्हें पकड़कर कोतवाली ले जाया गया इसके चलते हड़कंप मचा रहा तमाम लोग घरों से बेवजह निकलकर सड़कों में घूमते नजर आए ऐसे लोगों के फटकार भी लगाई गई और घर जाने के निर्देश दिए गए इस संबंध में सीओ योगेंद्र सिंह मलिक ने कहा कि लॉक डाउन को सफल बनाने के लिए लगातार चेकिंग अभियान चलता रहेगा जो लोग कानून का उल्लंघन करते नजर आएंगे उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।


8 जमाती और 2 ट्रांसलेटर गिरफ्तार

जकार्ता। इंडोनेशिया के 8 जमातियों और दो ट्रांसलेटरों को सरधना पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। उन्हें सर छोटूराम इंजीनियरंग कॉलेज में बनाई अस्थायी जेल में रखा गया है। उधर, मवाना पुलिस ने 10 विदेशी जमातियों व तीन ट्रांसलेटरों को 41-ए का नोटिस देकर जमानती उपलब्ध कराने को कहा है। यदि वे जमानती नहीं दे पाते हैं तो आज इन्हें भी जेल भेज दिया जाएगा।


21 मार्च को इंडोनेशिया के 9 जमाती और 2 ट्रांसलेटर निजामुद्दीन मरकज से सरधना के मोहल्ला आजादनगर स्थित मदीना मस्जिद में आए थे। 29 मार्च को पुलिस को इनके यहां आने का पता चला तो मस्जिद में ही सबको क्वारंटाइन कर दिया गया। सभी के कोरोना सैंपल लिए गए। जांच में दो जमाती पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद सभी को सुभारती अस्पताल में आइसोलेट कर दिया गया। पुलिस ने इस संबंध में सभी के खिलाफ महामारी अधिनियम, धारा-144 के उल्लंघन और विदेशी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया।


ब्राजील में 3,670 लोगों की मौत

ब्राजील: संक्रमितों की संख्या 52,995


ब्रासिलिया। ब्राजील में संक्रमितों के 3,503 नए मामले सामने आए हैं। संक्रमितों की संख्या बढ़कर 52,995 हो गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने यह जानकारी दी, कि एक दिन पहले ब्राजील में 3,735 नए केस मिले थे। यहां ब्राजील देश  राजधानी ब्रासिलिया में अब तक 3,670 लोगों की मौत हो चुकी है। मंत्रालय के अनुसार ब्राजील में अब तक 27,600 से ज्यादा संक्रमित ठीक हो चुके हैं।


तुर्की में संक्रमण के नए केस 3122

तुर्की: 1 लाख 4 हजार 912 संक्रमित


अंकारा। तुर्की में संक्रमण के 3,122 नए केस मिले हैं। इसके साख ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर एक लाख चार हजार 912 हो गई है। तुर्की के स्वास्थ्य मंत्री फहार्टिन कोजा ने शुक्रवार को बताया कि 24 घंटे में 109 मौतें होने के साथ ही कुल संख्या 2,600 हो गई है। यहां देश तुर्की राजधानी अंकारा में पहला मामला 11 मार्च को सामने आया था।


तुर्की के चनाकैले प्रांत के गवर्नर ओरहान तवली ने गैलीपोली अभियान की 105वीं वर्षगांठ के मौके पर तुर्की स्मारक पर माल्यार्पण करते हैं।


ईरान में मृतको की संख्या-5574

ईरान में 93 और मौत


तेहरान। ईरान में पिछले 24 घंटों में 93 और लोगों की मौत हो गई। इस तरह वहां मरने वालों की संख्या 5574 हो गई है। देश में 88 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश का कोई भी प्रांत अब रेड जोन में नहीं है, लेकिन चेतावनी का स्तर यथावत है।


दुनिया में मृतकों की संख्या एक लाख 90 हजार से ज्यादा


पूरी दुनिया में कोरोना महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या एक लाख 90 हजार से ज्यादा हो गई है। जबकि संक्रमित व्यक्तियों का आंकड़ा 27 लाख 50 हजार से ऊपर पहुंच गया है। अकेले दो-तिहाई मौतें यूरोप में हुई हैं। अमेरिका में 50 हजार से ज्यादा मौतें हुई हैं। ब्रिटेन में शुक्रवार को 684 लोगों की मौत के साथ ही वहां मरने वालों की कुल संख्या 19506 हो गई है।


स्पेनः 24 घंटे में 367 लोगों की मौत

मेड्रिड। कोरोना वायरस महामारी का सबसे ज्यादा असर यूरोपीय देशों में देखा जा रहा है। इनमें से भी स्पेन काफी प्रभावित है। स्पेन में पिछले 24 घंटे में 367 लोगों की मौत हुई। 21 मार्च के बाद यह पहला मौका है जब मृतकों की संख्या इतनी कम रही। एक दिन पहले 440 लोगों की मौत हुई थी। इसी के साथ देश में अब कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या करीब 22 हजार 500 हो गई है। अमेरिका और इटली के बाद स्पेन में ही कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं। संक्रमण के 6700 नए मामले सामने आने के बाद देश में करीब 2 लाख 20 हजार लोग महामारी की चपेट में आ चुके हैं।


देश में मृतकों की संख्या कुछ कम होने के साथ सरकार ने प्रतिबंधों से छूट देने की गाइडलाइन तैयार करनी शुरू कर दी है। लॉकडाउन से सबसे पहले उन इलाकों को छूट दी जाएगी जहां एक लाख लोगों में रोजाना दो से ज्यादा लोग संक्रमित नहीं हुए। इसी के साथ सरकार ने सर्जिकल मास्क और सेनेटाइजर की कीमतों को नियंत्रित करना शुरू कर दिया है। इधर पाकिस्तान ने संक्रमितों की संख्या 11155 पर पहुंचने के बाद लॉकडाउन को 9 मई तक के लिए बढ़ा दिया है।


आपदा से ग्रस्त फसल बीमा-योजना

नई दिल्ली। वर्ष 2019-20 के खरीफ फसल प्राकृतिक कारणों से नुकसान होने के कारण किसानों को काफी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। किसानों की फसलों को प्राकृतिक आपदा से होने वाली क्षति से किसानो को बचाने के लिए ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरुआत की गई थी। कोरोना वायरस लॉक डाउन के चलते देश में सभी को काफी नुकसानी का सामना करना पड़ रहा है ऐसे में सर्कार किसानों को इस नुकसानी से बचाने के लिए किसानों को जल्द ही फसल बीमा योजना की सहयता दे रही है। इस फसल क्षतिपूर्ति की भरपाई के तहत फसल बीमा कंपनियां किसानों को बीमा राशि दे रही है।


कुछ राज्यों में राज्य सरकार के तरफ से राज्यांश प्रीमियम नहीं देने के कारण किसानों को फसल बीमा राशि अभी तक नहीं दी गई थी। राजस्थान सरकार ने वर्ष 2019 के खरीफ फसल की राज्यांश प्रीमियम राशी पिछले माह जमा कर दी थी, जिसके बाद राजस्थान राज्य के 9 जिलों के किसानों को 1240 करोड़ रूपये की बीमा राशी दे दी गई है। शेष किसानों को 1044करोड़ रूपये की बीमा राशी दिया जा रहा है। किसान समाधान फसल बीमा राशी की पूरी जानकारी लेकर आया है।


बाहर का खाना, सेहत खराब

हमारी सेहत ही नहीं बल्कि हमारी सोच, नजरिया और निर्णय लेने की क्षमता कैसी होगी यह सब भी हमारी डायट पर निर्भर करता है। क्योंकि हमारा खाना हमारे ब्रेन की हेल्थ पर सीधा असर डालता है। यहां जानें कि किस तरह की चीजें खाना हमारे दिमाग की सेहत को खराब कर सकता है....
हानिकारक हैं।


जिन ड्रिंक्स को हम एनर्जी ड्रिंक्स और स्पॉर्ट्स ड्रिंक के नाम पर दिन में कई बार लेते हैं वे हमें कितनी एनर्जी देती हैं, इस बारे में तो ठीक-ठीक कुछ नहीं कहा जा सकता है। लेकिन यह बात जरूर साफ है कि ये ड्रिंक्स हमारे ब्रेन की सेहत को नुकसान पहुंचाती हैं। सोडा, फ्रूट्स ड्रिंक आदि में शुगर की मात्रा बहुत अधिक होती है। इससे ना केवल वेट बढ़ने के चांस होते हैं बल्कि डायबिटीज टाइप-2 होने का खतरा भी बढ़ जाता है। टाइप-2 डायबिटीज के रोगियों में या जिन लोगों के ब्लड में शुगर की मात्रा बहुत अधिक होती है, उनमें डिमेंशिया यानी याददाश्त कम होना और अल्जाइमर होने के चांस बढ़ जाते हैं।


मलेशिया में स्टार्ट, कार्गो का परिचालन

नई दिल्ली/ कुआलालंपुर। विमानन क्षेत्र की प्रमुख कंपनियों को केंद्र की ओर से यात्री सेवाओं की शुरुआत करने की घोषणा का इंतजार है। इस बीच इंडिगो ने अपने अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू कार्गो परिचालन का विस्तार करने की योजना बनाई है। इंडिगो की योजना निकट भविष्य में चीन, सिंगापुर और मलेशिया में कार्गो परिचालन शुरू करने की है।


एयरलाइन का बड़े पैमाने पर घरेलू नेटवर्क और भारत में सबसे बड़े विमान बेड़े के रूप में अब कार्गो क्षेत्र में और अधिक विस्तार करने का कदम महत्व रखता है। हालांकि इनमें से अधिकांश उड़ानें चिकित्सा उपकरणों और अन्य आवश्यक सामानों के लिए मुफ्त (फ्री-ऑफ-कॉस्ट) आधार पर संचालित की गई हैं। एयरलाइन के मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) विलियम बौल्टर ने आईएएनएस को बताया, कार्गो हमारे लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है, क्योंकि यात्री सेवाएं सक्रिय नहीं हैं। हम इस सेगमेंट में अपनी उपस्थिति का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने कहा, हमने घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों तरह की कार्गो सेवाओं का संचालन किया है, जो चिकित्सा संबंधी आवश्यक वस्तुओं और अन्य दैनिक आवश्यकताओं की वस्तुओं का परिवहन करती हैं। अबू धाबी और मस्कट के लिए हमारी उड़ानों ने भारत की ताजा सब्जियों को वहां के एक प्रमुख खाद्य भंडार के लिए उपलब्ध कराया है। हम इसी तरह के अवसरों की तलाश कर रहे हैं। एयरलाइन ने पिछले सप्ताह दक्षिण भारत के कोच्चि से मस्कट और अबू धाबी के लिए पहली कार्गो उड़ान सेवा संचालित की थी। इंडिगो ने 18 अप्रैल को पहली बार कोच्चि और अबू धाबी के बीच उड़ान पर कार्गो लदान के लिए विमान के केबिन स्थान का उपयोग किया। खाड़ी देशों के अलावा एयरलाइन की निकट भविष्य में चीन, सिंगापुर और मलेशिया में भी माल ढुलाई की योजना है।बौल्टर ने कहा, अब कार्गो सेवा शुरू करने के लिए मलेशिया, सिंगापुर और चीन हमारी निगाह में हैं। उन्होंने कहा, घरेलू क्षेत्र में भी कार्गो सेगमेंट में हमारी उपस्थिति बढ़ेगी। केंद्र की लाइफलाइन उडान स्कीम के तहत इंडिगो ने अब तक तीन से 22 अप्रैल के बीच 84 टन माल लेकर 35 कार्गो उड़ानें संचालित की हैं। इससे इतर बौल्टर ने कहा कि एयरलाइन केंद्र के साथ लगातार संपर्क में है और यात्री सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए सरकार द्वारा सुझाए गए किसी भी स्वास्थ्य एवं सुरक्षा संबंधी उपायों को लागू करने के लिए तैयार है। वर्तमान में इंडिगो से लेकर पूरा विमानन क्षेत्र ही राष्ट्रव्यापी बंद के बाद बुरे दौर से गुजर रहा है। कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सरकार ने सभी तरह की यात्री सेवाओं को निलंबित किया हुआ है। इंडिगो ने कुछ वरिष्ठ अधिकारियों को छोड़कर अप्रैल के महीने के लिए किसी भी कर्मचारी का वेतन नहीं काटने का फैसला लिया है।


अमेरिकाः 30-45 साल के बीच की मौतें

वाशिंगटन। अमेरिका के डॉक्टर्स ने चेतावनी दी है कि कोरोना वायरस की वजह से 30 से 49 साल के कई लोगों की अचानक मौतें हो रही हैं। इनमें कई लोग ऐसे होते हैं जो बिल्कुल भी बीमार नहीं दिखते और उनमें कोई लक्षण नहीं होता। लेकिन अचानक आए स्ट्रोक्स की वजह से लोगों की मौतें हो रही हैं। न्यूयॉर्क में कई लोगों की मौतें उनके घर में ही हो गईं। अमेरिका: कोरोना के लक्षण नहीं, 30 से 49 साल के लोगों की अचानक हो रहीं मौतें।


वाशिंगटन की रिपोर्ट के मुताबिक, मैनहटन के MSBI हॉस्पिटल के डॉक्टर थॉमस ऑक्सली ने बताया कि उनके एक मरीज ने कोई दवा नहीं ली थी, पहले से कोई दिक्कत नहीं थी। बाकी लोगों की तरह वह मरीज लॉकडाउन में घर में था। अचानक उसे बात करने में दिक्कत महसूस हुई।
अमेरिका: कोरोना के लक्षण नहीं, 30 से 49 साल के लोगों की अचानक हो रहीं मौतें। जांच में पता चला कि वे स्ट्रोक्स के शिकार हुए हैं और उनके सिर में काफी बड़ा ब्लॉकेज हो गया है। जांच में वे कोरोना से भी संक्रमित पाए गए। मरीज की उम्र सिर्फ 44 साल थी।हालांकि, इस तरह के गंभीर स्ट्रोक्स के शिकार होने वाले लोगों की औसत उम्र अब तक 74 साल रही है। लेकिन कोरोना वायरस की वजह से कम उम्र के लोगों की जान स्ट्रोक्स की वजह से जा रही है।


अमेरिकाः 24 घंटों में 3,176 की मौत

ब्रासीलिया/ वाशिंगटन। ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो कोरोना वायरस को हल्की सर्दी-खांसी बोलकर उसके खतरे को कम कर आंक रहे थे और अब हालत यह है कि यहां मनौस के एक अस्पताल के रेफ्रिजरेटर ट्रक में शवों के ऊपर शव रखे हैं और बुलडोजरों को सामूहिक कब्र बनाने में लगा दिया गया है। यहां दैनिक मौतों का आंकड़ा 20 से बढ़कर 100 हो गया है। देश में 2,900 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं जबकि संक्रमितों का आंकड़ा 45,000 की संख्या को पार कर चुका है। उधर, लॉकडाउन हटाने को लेकर देश में जारी प्रदर्शनों को राष्ट्रपति भी समर्थन दे रहे हैं।


सबसे ताकतवर देश पर दोहरी मार...बेरोजगार हो सकते हैं 4 करोड़। अमेरिका में 24 घंटों में 3,176 लोगों की मौत के साथ कुल मृतक आंकड़ा पिछले 10 दिन के अंदर दोगुना होकर 50 हजार के पार पहुंच गया है। देश में रोजाना 2000 लोगों की औसतन मौत हो रही है। दुनिया में कोरोना से जान गंवा चुके 1.95+ लाख से अधिक लोगों में यह सर्वाधिक संख्या है। अमेरिका में मौत का असली आंकड़ा माना जा रहा है कि 50 हजार से भी कहीं ज्यादा है, क्योंकि ज्यादातर राज्य केवल अस्पतालों में मरने वाली संख्या को ही रिपोर्ट कर रहे हैं और घरों में मरने वालों का आंकड़ा इसमें नहीं जोड़ा जा रहा है।सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक, देश में हर साल फैलने वाले सीजनल फ्लू से पिछले 9 सीजन में से 7 को मिलाकर भी कोरोना वायरस के बराबर मौत नहीं हुई हैं। फ्लू से 2011-12 में सबसे कम 12 हजार और 2017-18 में सबसे ज्यादा 61 हजार मौत दर्ज की गई थी। हालांकि कोरोना वायरस का आंकड़ा साल 1918 में फैले स्पेनिश फ्लू के कहर से बहुत पीछे है, जिसने 6.75 लाख अमेरिकी नागरिकों की जान ली थी। कोरोना वायरस के आंकड़े ने 1950-53 के बीच हुए कोरियाई युद्ध में मारे गए 36,516 अमेरिकियों की संख्या को भी बहुत ज्यादा पीछे छोड़ दिया है।  इस बीच, जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक, अमेरिका में शुक्रवार सुबह तक 8,67,459 मामले सामने आ चुके हैं जबकि 50,243 लोग जान गंवा चुके हैं।


उत्तर-कोरिया की मदद के लिए 'चीन'

प्योंगयांग। तानाशाह किम जोंग के स्वास्थ को लेकर सलाह के लिए चीन ने मेडिकल एक्सपर्ट की एक टीम उत्तर कोरिया भेजी है। उत्तर कोरियाई नेता के स्वास्थ्य के बारे में पर खबरों के बीच चीनी डॉक्टर और अधिकारी वहां पहुंच रहे हैं। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अंतर्राष्ट्रीय संपर्क विभाग के एक वरिष्ठ सदस्य के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को उत्तर कोरिया के लिए निकला। विभाग पड़ोसी उत्तर कोरिया के साथ काम करने वाला मुख्य चीनी निकाय है। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए स्रोतों ने पहचान करने से इनकार कर दिया गया।


नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन गंभीर रूप से बीमार हैं और उनकी हालत बेहद नाजुक बताई जा रही है। दक्षिण कोरिया के लोकल मीडिया की खबर के अनुसार किम का इलाज उस अस्पताल में हो रहा है जो खास उनके परिवार के लिए बनाया गया है। डेली एनके के अनुसार हयांग सैन अस्पताल को लंबे समय से हृदय संबंधी बीमारियों से निपटने के लिए विशेष सुविधा के रूप में रखा गया है।


फ्रांसः मृतक-38, संक्रमण-22,245

पेरिस। फ्रांस में कोरोनोवायरस के कारण और 389 मौतें दर्ज की गई हैं। इन आंकड़ों के साथ देश में इस संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 22,245 हो गई है, जो कि संयुक्त राज्य अमेरिका, इटली और स्पेन के बाद दुनिया का चौथा सर्वाधिक आंकड़ा है। यह जानकारी डायरेक्टर जनरल ऑफ हेल्थ जेरोम सालोमोन ने महामारी को लेकर होने वाले प्रतिदिन के कांफ्रेंस में दी।


समाचार एजेंसी सिन्हुआ की शुक्रवार की रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 के बढ़ते मामलों में दैनिक आधार पर 1.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो गुरुवार के 2.4 प्रतिशत के मुकाबले और बुधवार को 2.6 प्रतिशत के मुकाबले कम है। अस्पताल में भर्ती होने के आंकड़ों ने धीमी और स्थिर गिरावट की सूचना दी है, जिससे देखभाल करने वालों को राहत मिली है। आईसीयू में मरीजों की संख्या 4870 से गिर अब 183 रह गई है, जो कि देश के मूल 5000 बेड की क्षमता के हिसाब से काफी कम है। उत्साहजनक संकेतों के बावजूद सालोमोन ने चेतावनी देते हुए कहा, वायरस का संक्रमण अभी उच्च स्तर पर बना हुआ है। उन्होंने कहा, हमें 11 मई तक वायरस के प्रसार को न्यूनतम स्तर तक पहुंचाने के लिए अपने सामूहिक प्रयासों को जारी रखना है। डी-कनफिनमेंट को सफल करने के लिए हमें प्रतिबंधों और सामाजिक दूरी का सख्ती से पालन करते हुए एक साथ सफल होना होगा। फ्रेंच स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ (ईएचईएसपी) द्वारा गुरुवार को प्रकाशित एक शोध में कहा गया है कि लॉकडाउन के एहतियात से फ्रांस में 60,000 लोगों की मौतों को रोका जा सकता है


शनि की चाल बदलने से पड़ेगा 'प्रभाव'

नई दिल्ली। सोमवार 11 मई, 2020 को शनि मार्गी से वक्री होने जा रहे हैं। शनि 142 दिनों यानी 29 सितंबर तक वक्री रहेंगे। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार शनि के मार्गी से वक्री हो जाने से सभी राशियों पर इसका शुभ-अशुभ प्रभाव पड़ेगा। आइए, आज जानते हैं शनि की चाल बदलने से सभी राशियों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा।
 
मेष राशिः शनि के वक्री होने से मेष राशि के जातकों को सावधान रहने की आवश्यकता है। आपके कार्यों में रुकावटें आने की संभावना है। आय से अधिक धन खर्च भी हो सकता है। स्वास्थ्य के प्रति ध्यान देने की आवश्यकता है। त्वचा से संबंधित रोग आपको परेशान कर सकते हैं। वृष राशिः वृष राशि के जातकों को इस समय किसी तरह का नुकसान भी हो सकता है। पारिवारिक कलेश हो सकते हैं। कार्यस्थल पर मेहनत करने के बाद भी लाभ कम ही मिलेगा। यह समय संयम रख आगे बढ़ने का है, इस समय में किसी भी वाद-विवाद में न उलझें।


हरियणाः 468084 परिवारों का सर्वेक्षण

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने कोरोनावायरस के चलते प्रदेश के 46 लाख 8 हजार 84 परिवारों का सर्वे करवाया है। इन घरों में स्वास्थ्यकर्मियों और आशा वर्कर ने जाकर स्क्रीनिंग की है। इन परिवारों में से 9 हजार 977 लोगों में सांस और निमोनिया के लक्षण मिले हैं। इन लोगों का अब कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा। इसकी पुष्टि हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने की है। वहीं हरियाणा में लगातार ठीक हो रहे मरीजों की रिकवरी रेट पर केंद्र सरकार ने हरियाणा सरकार की सराहना की है।


स्वास्थ्य मंत्री ने विभाग को साथ ही यह भी हिदायत दी है कि यदि स्क्रीनिंग करने वाली टीम के सदस्यों में किसी तरह के लक्षण सामने आते हैं तो उनका भी कोरोना टेस्ट किए जाए। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की ओर से ऐसे सभी लोगों के टेस्ट करने के फरमान पहले ही जारी किए जा चुके हैं लेकिन मंत्री ने बताया कि टीम के जो सदस्य घर-घर जाकर लोगों से बात कर रहे है, उनमें ज्यादा खतरे की आशंका रहती है। वहीं केंद्र सरकार ने हरियाणा में कोरोना की रोकथाम के लिए चल रहे प्रयासों को सराहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बैठक की है। बैठक में सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्री शामिल हुए। इस दौरान कोरोना संक्रमण को लेकर सभी राज्यों की ओर से अपने-अपने यहां पर कोरोना संक्रमण नियंत्रण के लिए चल रहे प्रयासों के बारे में बताया।


बस्ती को सील करने की खबर झूठी

आजमगढ़। बरदह थाना क्षेत्र के ग्राम सभा छत्तरपुर कोरोना प्रकरण में बस्ती को सील करने की ख़बर निकली झूठी। विगत 22 अप्रैल को पता चला की विवाहित जोड़े राजस्थान के हनुमान गढ़ी में कोरोना पाज़िटिव पाए गए है। जानकारी के अनुसार दुल्हन के माता और भाई बहन को जाँच के लिए मेडिकल टीम के द्वारा मिनी PGI भेज दिया गया, छत्तरपुर बस्ती को साफ़ सफ़ाई और सेनिटाइज किया जा रहा है। इधर पत्रकरो के द्वारा यह बताया गया की छत्तरपुर गाँव को सील कर दिया गया है। जिससे ग्रामीणों को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है, जब की हमारे संवाददाता उप जिलाधिकारी लालगंज कार्यालय पहुँचे,उपजिलाधिकारी द्वारा कोई पुष्टी नहीं की गई। क्षेत्र अधिकारी लालगंज ने कहा यह सब अफ़वाह है ऐसी कोई बात नहीं है। पुलिस अधीक्षक आज़मगढ़ के जनसंपर्क अधिकारी से बात की तो उन्होंने बताया कि ऐसी कोई बात नहीं है। बरदह थाना क्षेत्र के ग्राम सभा छत्तरपुर बस्ती को सील नहीं किया गया है। इधर गोड़हरा बाज़ार में ग्रामीणों को दुकानदार समान देने को तैयार नहीं, इस तरह से ग्रामीणों को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।


कोई भूखा रहे यह स्वीकार नहींः विधायक

परिवार का कोई भी सदस्य भूखा रहे यह स्वीकार नहीं है-बिधायक


देवदूत बनकर उभरे विधायक चायल संजय गुप्ता


कौशाम्बी। विधायक चायल संजय कुमार गुप्ता चायल वासियों के लिए देवदूत बनकर उभर आए हैं। इस जनपद में सेवा का कार्य भोजन द्वारा राशन किट उनकी टीम द्वारा सर्वप्रथम शुरुआत किया गया। सबसे अनूठी पहल उन्होंने शुरू किया कि जो चायल के निवासी देश के विभिन्न प्रांतों में लॉक डाउन के कारण फंसे हुए हैं। जहां पर श्रमिकों को भोजन की समस्या हो रही है मुंबई में बड़ी संख्या में चायल के श्रमिकों का दर्द उभर कर आया जहां पर भोजन के नाम पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा सिर्फ एक टाइम का बहुत कम मात्रा में भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। जिससे वह बेचारी भूखे ही रह जाते थे।


जिन कारखाना में वह सब श्रमिक काम करते थे उनके मालिकानो ने भी श्रमिको को सहायता देना बंद करते हुए अपना मोबाइल बंद कर लिया। जब चायल के श्रमिकों ने अपनी पीड़ा विधायक चायल संजय गुप्ता को बताई तो वह सुनकर द्रवित हो गए और उन्होंने यह संकल्प लिया कि चायल के श्रमिकों को देश के किसी भी कोने में भूखा नहीं रहने देंगे तत्काल उन्होंने एक हेल्पलाइन नंबर जारी करते हुए श्रमिकों का छोटी छोटी संख्या में ग्रुप गठित कराया। एक ग्रुप में 10 से 30 लोगों की संख्या निर्धारित की गई। प्रत्येक ग्रुप से एक ग्रुप लीडर बना कर उसके खाते में 500 रुपया प्रति व्यक्ति के हिसाब से धनराशि भेजकर उनके माध्यम से सभी को राशन उपलब्ध करवाया अभी तक 70 से भी ज्यादा ग्रुपो में धनराशि बिधायक द्वारा ट्रांसफर कर दी गई है। बाकी आगे भी ग्रुप तैयार करके धनराशि भेजी जाएगी।


विधायक चायल संजय कुमार गुप्ता ने हमारे संवाददाता से वार्ता किया तो उन्होंने बताया मेरी विधानसभा मेरा परिवार है परिवार का कोई भी सदस्य भूखा रहे यह स्वीकार नहीं है। संकट की इस घड़ी में ईश्वर मेरी चाहे जितनी भी परीक्षा ले जहां तक मेरा सामर्थ होगी मैं पीछे नहीं हटुगां। हमारे संवाददाता ने जब कुछ ग्रुप लीडरों से वार्ता किया तब उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि कहा विधायक द्वारा हमारे खाते में धनराशि भेजी गई है। उसी धनराशि से हम लोग भोजन करते भी हैं और दूसरों को भी करा रहे हैं। हमारे चायल विधायक  किसी भी भगवान से कम नहीं है।


 ज़ैगम अब्बास


पाक़ रमजान, जरूरी एहतियात बरतें

प्रेम शंकर


मेरठ। रमज़ान का पावन महिना शुरू हो गया है और आज यानी शनिवार को पहला रोज़ा है। रोज़ा रखने के दौरान सभी मुस्लिम भाईयों से सामाजिक कार्यकर्ता नफीस खान ने की अपील। उन्होंने कहा है कि वह किस तरह से रोज़े रखने के दौरान घरों में रहते हुए सोशल डिस्टेंन्सिंग का पालन करें, नमाज अदा करने के दौरान किन बातों का ध्यान रखें और मुसीबत की इस घड़ी में देश की जनता को कोरोना संकट से दूर रखने के लिए परवरदिगार से दुआ करें। कहते हैं रमज़ान के इस पाक महीने में ऊपर वाले से मांगी गई हर दुआ कबूल होती है।


गांव-गांव जाकर सर्वे-स्क्रीनिंग की गई

रतसर (बलिया)। कोरोना के बढते प्रभाव को देखते हुए शासन के निर्देशानुसार सामुदायिक स्वा० केन्द्र रतसर के चिकित्सकों की टीम द्वारा गांव-गांव जाकर सर्वे व स्क्रीनिंग का कार्य चरम पर है। प्रभारी चिकित्सक डा.रकीब अख्तर के निर्देशन में टीम शुक्रवार को क्षेत्र के जनऊपुर, चाफी आदि गांवों में जाकर लोंगो की स्क्रीनिंग की। प्रत्येक घरों का सर्वे कर जनपद के बाहर से आए लोगों के संदर्भ में जानकारी ली और क्वारंटीन में रहन सहन के साथ इस बीमारी के प्रति जानकारी देते हुए लोंगों को जागरूक किया। 


स्वास्थ्य केन्द्र के नोडल टीम के प्रभारी डा० आर के सिंह ने बताया कि जिला मुख्यालय से चयनित गांवों की स्क्रीनिंग एवं सर्वे के लिए सूची प्राप्त होते ही यहां पर तैनात मेडिकल टीम अपने मेडिकल किट के साथ तैयार हो कर सर्वे एवं स्क्रीनिंग के लिए क्षेत्र में निकल जाती है। गांव में जाकर लोगों को स्वास्थ्य संबन्धी जानकारी देने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने,  मास्क लगाकर घर से बाहर निकलने, साफ-सफाई का पूरा खयाल रखने,  गुनगुने पानी का सेवन करने और बासी भोजन से परहेज करने के साथ ही उन फलों का सेवन करने की सलाह दी जाती है  जिसमें विटामिन सी मौजूद हो।


साथ ही बाहर से आये व्यक्ति की  सूचना कन्ट्रोल रूम को तत्काल देने की अपील की जाती है। जिससे उस व्यक्ति का स्क्रीनिंग कर क्वारंटीन कराया जा सके। इस अवसर पर इस कार्य में लगे सभी स्वास्थ्यकर्मियों ने एक स्वर में कहा कि आज इस कार्य को संपादित करते हुए हमें गर्व की अनुभूति होती है कि हम सभी देश बचाने की मुहिम का एक हिस्सा है। टीम में डा० देवेन्द्र यादव, डा० फूलेन्द्र नाथ सिंह, फार्मासिस्ट सुमित सिन्हा, अमित कुमार सिंह, बीसीपीएम अनिल कुमार, शिवजी यादव के अलावा सम्बन्धित गांव की एएनएम, आशा संगिनी तथा आशा कार्यकर्त्री भी मौजूद रही।


रिपोर्ट- संवाददाता डॉ एके पाण्डेय


डीएम ने बैठक में की कार्य समीक्षा

संवाददाता राजेश कुमार


महराजगंज। जिलाधिकारी डॉ उज्जवल कुमार की अध्यक्षता में कोरोना से बचाव संबंधी बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई , जिसमें पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान, मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल, अपर जिलाधिकारी कुंज बिहारी अग्रवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित समस्त उप जिलाधिकारी आदि ने भाग लिया l
 बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम हेतु लागू किए गए लाभ लाक डाउन का शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित कराया जाए l  छूट के अलावा अनाधिकृत लोग यदि घर से बाहर सड़कों पर घूमते पाए जाएं तो उनके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाए l सभी उपजिला अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि रमजान के पवित्र महीने में लोग इकट्ठा न हो पाए l उन्हें आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति डोर टू डोर कराई जाए l इसके अतिरिक्त सब्जी मंडी आदि में भी सामाजिक दूरी का अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए l उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी गेहूं का वाजिब दाम मिले l उन्हें किसी प्रकार से परेशान न किया जाए l बाहर से आने वाले लोगों पर नजर रखने को कहा l वाहनों की चेकिंग गंभीरतापूर्वक करने को कहा l दुपहिया वाहन चालक बिना हेलमेट के वाहन चलाते मिले तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए l उन्होंने सामुदायिक रसोई में कार्यरत लोगों एवं सफाई  कर्मियों को  प्रोत्साहित कर उनका उत्साहवर्धन करने को कहा l


जम्मू-कश्मीर में संक्रमितो की संख्या-468


कोरोना से जम्मू में बुजुर्ग की मौत, अब तक 6 लोगों की जा चुकी है जान


श्रीनगर। कोरोना वायरस से जम्मू-कश्मीर में भी मरीजों की संख्या बढ़ रही है। जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में 70 वर्षीय एक बुजुर्ग व्यक्ति की शनिवार को कोविड-19 के कारण मौत हो गई। यह इस केंद्र शासित प्रदेश में कोरोना वायरस से होने वाली छठी मौत है। अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी कश्मीर जिले के तंगमर्ग इलाके के रहने वाले इस व्यक्ति की शनिवार सुबह यहां बेमिना के एसकेआईएमएस अस्पताल में मौत हो गई। उन्होंने बताया कि मरीज को 13 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था और अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के कारण यह छठी मौत है। बता दें कि जम्मू में एक और कश्मीर में 5 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण की वजह से हो चुकी है।


स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक शुक्रवार देर रात के जम्मू कश्मीर में 14 नए मामले सामने आए हैं, इसके साथ ही प्रदेश में कुल संक्र​मित मरीजों की संख्या 468 हो गई है। इन मरीजों में से 411 संक्रमित मरीज कश्मीर से हैं जबकि 57 संक्रमित जम्मू से हैं।जम्मू कश्मीर से एक अच्छी खबर ये है कि यहां पर मरीजों की ठीक होने का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। अब तक 109 मरीजों को ठीक कर घर भेजा जा चुका है। इसमें कश्मीर संभाग से 92 जबकि जम्मू से 17 मरीज हैं। शुक्रवार को भी 17 कोरोना मरीजों को ठीक कर घर भेजा गया था।


पंजाब में 11 नए मामले, 298 संक्रमित

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। कोरोना वायरस के पंजाब में 11 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में ऐसे मरीजों की संख्या बढ़कर 298 हो गयी। जानकारी के अनुसार नए मामलों में छह पटियाला से हैं जबकि मनसा में दो और जालंधर, लुधियाना तथा अमृतसर से एक-एक मामला सामने आया है। राज्य में अब भी 211 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। इसमें कहा गया है कि चार मरीज इस बीमारी से ठीक भी हुए हैं। इन मरीजों में दो जालंधर से और एक-एक मरीज संगरूर तथा होशियारपुर से हैं।


बुलेटिन के अनुसार राज्य के कुल कोरोना वायरस मामलों में से करीब 69 प्रतिशत मोहाली, जालंधर, पटियाला और पठानकोट में है. मोहाली और जालंधर जिलों में 63-63 मामले सामने आए हैं. इसके अलावा, पटियाला में 55, पठानकोट में 24, एसबीएस नगर में 19, लुधियाना में 17, अमृतसर में 14, मनसा में 13, होशियारपुर में सात, मोगा में चार मामले सामने आए हैं। शेष मामले रूपनगर, संगरूर, कपूरथला, फरीदकोट, फतेहगढ़ साहिब और बरनाला आदि जिलों से हैं, बुलेटिन में कहा गया कि एक मरीज गंभीर स्थिति में वेंटिलेटर पर है।


पंजाब में अब तक इस बीमारी के कारण 17 लोगों की मौत हुई हैं और 70 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी मिल चुकी है। अब तक कुल 10,611 नमूने जांच के लिए गए हैं, जिनमें से 2,003 की रिपोर्ट की प्रतीक्षा है। इस बीच, चंडीगढ़ में कोई नया मामला सामने नहीं आया और एक मरीज को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।


सामने आए वायरस के नए लक्षण

नीरज जिंदल


नई दिल्ली। दुनियाभर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण का पता लगाने के लिए वैज्ञानिक दिन रात एक कर रहे हैं। वायरस के बारे में वैज्ञानिक जितनी जांच कर रहे है उसके उतने ही अगल अलग रूप दिखाई दे रहे हैं।कोरोना वायरस पर शोध कर रहे वैज्ञानिकों ने वायरस के नए लक्षण का पता लगाया है। बताया गया है कि खांसी, जुकाम, बुखार ही नहीं अब पैरों को देखकर भी कोरोना के बारे में पता लगाया जा सकेगा कोरोना वायरस के मरीजों में पैर के अंगूठों में ये नए लक्षण दिख रहे हैं।
कोरोना वायरस पर शोध कर रहे वैज्ञानिकों ने इस लक्षण को सबसे पहले इटली के एक 13 साल के बच्चे में देखा। बच्चे के पैर में गहरा घाव था शुरुआत में लोगों ने माना कि उसे किसी मकड़ी ने काटा होगा क्योंकि वह मकड़ी के काटने जैसा दिखने वाला ही घाव था। लेकिन कुछ दिन बाद बच्चे की हालत बिगड़ने लगी और उसकी जांच की गई तो पता चला कि वो कोरोना पॉजिटिव है। अमेरिका में कोरोना के काफी मरीजों में इस तरह के लक्षण दिखाई दे रहे हैं। बताया जा रहा है कि वैज्ञानिकों के इस शोध के बाद डॉक्टर मरीजों की पहचान अब उनके पैरों से भी करने लगे हैं।
वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के इस लक्षण को कोविड टोज नाम दिया है। ये लक्षण काफी हद तक उन लोगों में दिखाई दे रहा है जो ज्यादा ठंडे इलाकों में रहते हैं। स​र्दियों में उनके पैरों में इस तरह के निशान ज्यादा दिखाई दे रहे हैं जिस जगह पर यह घाव होता है वहां पर काफी जलन भी होती है।


अभी क्या है कोरोना के लक्षणः अभी तक कोरोना के लक्षण कफ, बुखार, थकान महसूस होना, खांसी आना, सांस लेने में तकलीफ होना या गला सूखने केा रखा गया था. बाद में पता चला कि कोरोना मरीजों को सूंघने की शक्ति खत्म हो जाती है और टेस्ट पूरी तरह से गायब हो जाता है आंखें गुलाबी हो जाती हैं।


जुटने पर रहेंगी रोक, संभावना बाकी

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 30 जून तक ज्य़ादा लोगों के एक साथ जुटने पर रोक लगाने का निर्देश दिया है। क्योंकि इससे कोरोना संक्रमण फैलने की पूरी सम्भावना है। उन्होंने कहा कि आगामी 30 जून तक किसी भी सार्वजनिक समारोह की अनुमति न दी जाए। उसके बाद परिस्थितियों पर विचार करते हुए कोई निर्णय लिया जाएगा। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन से कुछ राहत देते हुए मोदी सरकार ने आज से शर्तों के साथ दुकानों को खोलने की मंजूरी दे दी है। शुक्रवार देर रात केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से इसको लेकर आदेश जारी कर दिया गया था। लॉकडाउ की वजह से देशभर में व्यापारिक और व्यवसायिक गतिविधियां रुकी हुई हैं और इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने शर्तों के साथ दुकाने खोलने की अनुमति दी है।


शुक्रवार रात को आए गृह मंत्रालय के आदेश में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में जरूरी सावधानियों को ध्यान में रखते हुए 50 प्रतिशत स्टाफ के साथ दुकान और प्रतिष्ठान खोलने की अनुमति दे दी है। हालांकि यह छूट सभी दुकानों के लिए नहीं है। यह छूट नगर निगम या नगरपालिका के आवासीय परिसरों में चलने वाली दुकानों के लिए तो है लेकिन नगर निगम या नगर पालिका में चलने वाले मार्केट कॉम्पलेक्सों के लिए यह छूट नहीं है।


इस बीच प्रदेश के संत कबीर नगर में देवबंद से लौटे छात्र के परिवार के 19 लोग कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। पूरे परिवार को कोरोना का संक्रमण इस छात्र से हुआ जो देवबंद से लौटा था। देवबंद से आए मगहर का रहने वाला 23 वर्षीय युवक दो दिन पूर्व जांच में कोरोना पॉजिटिव मिला था। उसके परिवार के 30 लोग और संपर्क के 26 लोग जिला अस्पताल क्वारंटीन कराए गए थे। प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढकर 1,604 हो गये। संक्रमण के कुल मामले 57 जिलों से आये हैं। अब तक कुल 206 लोग संक्रमण मुक्त होकर अपने घर जा चुके हैं जबकि 24 लोगों की मौत हुई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐसे 18 जिलों में वरिष्ठ अधिकारियों को भेजने का फैसला किया है, जिनमें संक्रमण के मामले ज्यादा हैं, इन अधिकारियों में चिकित्सा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी भी होंगे।


गृह मंत्रालय का आदेश नहीं है स्पष्ट

शिमला। कोरोना वायरस को लेकर केंद्र सरकार के सभी दुकानें खोलने के आदेश के बाद असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है। क्योंकि इन आदेशों में स्पष्ट तौर पर यह नहीं लिखा है कि कौन सी दुकानें खुलेंगी और कौन सी नहीं ऐसे में हिमाचल में भी दुकानदार दुविधा में हैं। प्रदेश के हॉटस्पॉट जिले ऊना समेत तमाम जिलों में भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। इस संबंध में ऊना के डीसी संदीप कुमार का अहम बयान सामने आया है उन्होंने कहा कि इस संबंध में फिलहाल केंद्र के आदेशों को लागू नहीं किया जाएगा।
यह बोले सोलन और ऊना के डीसीः ऊना के डीसी संदीप कुमार ने कहा कि क्योंकि छूट देने को लेकर राज्य सरकार की ओर से कोई फैसला नहीं लिया गया है। ऐसे में यदि कोई भी नई व्यवस्था करने के लिए राज्य सरकार से निर्देश मिलने के बाद ही कोई नया फैसला लागू किया जाएगा। वहीं, सोलन के डीसी केसी चमन ने बताया कि इस संबंध में अभी फैसला नहीं लिया गया है और शुक्रवार को 10 बजे से सीएम के साथ वीसी के जरिये मीटिंग होगी उसके बाद जो भी आदेश आएंगे, उसके अनुसार फैसला किया जाएगा. फिलहाल, सभी दुकानें नहीं खुलेंगी।
मंडी और कांगड़ा के डीसी का बयानः कांगड़ा जिले के डीसी राकेश कुमार प्रजापति ने केंद्र के नए आदेशों के बारे में कहा कि फिलहाल, सभी दुकानें नहीं खुलेंगी और इस संबंध में रिव्यू मीटिंग की जाएगी, उसके बाद ही फैसला होगा. वहीं, मंडी के डीसी ऋग्वेद ठाकुर का कहना है कि मंडी ज़िला में 25 अप्रैल को भी कफ्यू की वर्तमान स्थिति ही लागू रहेगी। इसमें बदलाव को लेकर कोई भी जानकारी शनिवार शाम तक सभी के साथ साझा की जाएगी। शिमला व्यापार मंडल के अध्यक्ष का बयानः शिमला व्यापार मंडल के अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह ने कहा कि फिलहाल, वह स्थानीय प्रशासन के आदेशों का इंतजार कर रहे हैं और आदेश मिलने के बाद ही सशर्त दुकानें खोलोंगे. उन्होंने कहा कि डीसी ने उन्हें जानकारी दी है कि सरकार के निर्देश मिलने के बाद भी आगामी आदेश जारी किए जाएंगे।


ऊना है हिमाचल का हॉटस्पॉटः गौरलतब है कि कोरोना मरीजों को लेकर ऊना हिमाचल का हॉट स्पॉट है। यहां सबसे अधिक 16 मरीज सामने आए हैं, जिनमें 10 मरीज ठीक हो चुके हैं. इसके अलावा, सोलन में 9, चंबा में छह, कांगड़ा में 5, हमीरपुर और सिरमौर में दो-2 मामले रिपोर्ट हुए हैं। हिमाचल में कोरोना वायरस के कुल 40 मामले रिपोर्ट हुए हैं।


कलेक्ट्रेट सभागार में समीक्षा बैठक

कलैक्ट्रेट सभागार में किया गया कोरोना से संबंधित समीक्षा बैठक का आयोजन


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना वायरस कोविड-19 की वजह से लागू किए लॉक डाउन के सफल क्रियान्वयन व कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने  हेतु आज कलैक्ट्रेट सभागार में श्री सुधीर गर्ग, प्रमुख सचिव (वन,पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग उत्तर प्रदेश शासन) की अध्यक्षता में  श्रीमान पुलिस महानिरीक्षक श्री प्रवीन कुमार ,  जिलाधिकारी श्री अजय शंकर पांडे व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री कलानिधि नैथानी की उपस्थिति में एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया । 


इस दौरान कोरोना संक्रमण के प्रसार व उससे बचाव से संबंधित विभिन्न पहलूओं पर विचार विमर्श किया गया । बैठक में जनपद के अन्य उच्चाधिकारीगण भी मौजूद रहे।इस दौरान सम्बन्धित अधिकारियों को लाॅकडाउन का पूर्णतया सख्ती से अनुपालन कराने, आवश्यक सतर्कता व सजगता बरतने, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने व कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु आवश्यक निर्देश दिए गए। साथ ही कोरोना से जंग में लगे हुए सभी कर्मचारियों  (कोरोना वारियर्स) को खासतौर से एहतियात बरतने, संक्रमण से खुद के बचाव हेतु सैनिटाइजर, मास्क, ग्लव्स आदि का उपयोग करते हुए लगातार साबुन से हाथ धोने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने तथा अपने आसपास अन्य लोगों को भी उक्त के बारे में जागरूक करने हेतु निर्देशित किया गया।


दरोगा की रिवाल्वर से दरोगा की मौत

बुलंदशहर। जनपद के बीवी नगर थाने में दरोगा ने दरोगा को गोली मारकर हत्या कर दी है जिससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है हत्या के बाद हत्या आरोपी दरोगा नरेंद्र सिंह भागने की फिराक में था जिसे गिरफ्तार कर लिया गया। हत्यारोपी दरोगा नरेंद्र की सर्विस रिवाल्वर से चली गोली और उप निरीक्षक विजेंद्र पाल के पेट में लग गई। जिसके लगने के कुछ ही समय बाद उप निरीक्षक की मौत हो गई हत्यारोपी मृतक उप निरीक्षक विजेंद्र पाल गाजियाबाद जनपद के रहने वाले हैं। बताया जाता है कि शौच जाने के दौरान दरोगा नरेंद्र की सर्विस रिवाल्वर से गोली चली। मृतक नरेंद्र के कमरे में बने शौचालय में शौच करने गया था। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के द्वारा मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मामले की तफ्तीश की जा रही है।


सामूहिक नवाज रोकी, पुलिस पर हमला

बहराइच। अलग-अलग थाना क्षेत्रों में मस्जिद में नमाज पढ़ने की सूचना पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची। इस दौरान नमाजियों ने सिपाही पर हमला बोल दिया। पुलिस ने इस मामले में 31 नमाजियों पर हत्या के प्रयास समेत कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। एसओ बौंडी ब्रह्मानंद सिंह ने बताया कि शुक्रवार को उन्हें थाना क्षेत्र के दिहवाकला स्थित मस्जिद में नमाज पढ़ने की सूचना मिली। जब टीम मौके पर पहुंची तो नमाजियों ने सिपाहियों पर हमला बोल दिया। किसी तरह पुलिस ने घटना पर काबू पाया व नमाज पढ़ रहे 23 लोगों को हिरासत में लिया।एसओ ने बताया कि मौलाना सईद, गुल्लऊ, इरफान, सद्दाम, अनवर अली, मो. अतीक, मो. सईद, जाकिर, ताज मोहम्मद, हजरद्दीन, ताहिर, ननकऊ, लुकमान, नफीस, इसारत, जाकिर, बदलू, अलीयार, सद्दीक, सूफियान, लल्लन, जाबिर अली, अली मोहम्मद के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन व जानलेवा हमले समेत कई अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।


खैरीघाट थाना क्षेत्र के तेलियानपुरवा में मौलवी रमजान अली पुत्र अलीजान के नेतृत्व में मस्जिद में इकट्ठा होकर नमाज अदा करने पर मस्जिद के मौलवी रमजान अली समेत आठ लोगों पर हत्या के प्रयास, बल्वा, महामारी अधिनियम सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्रवाई की जा रही है। शहर के गुलामअलीपुरा में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद एक किलोमीटर के दायरे में आने वाले बैंक व पेट्रोलपंप को शुक्रवार को लॉक कर दिया गया। प्रतिबंधित क्षेत्र में आवागमन रोकने के लिए बैरिकेङ्क्षडग के साथ पुलिस मुस्तैद कर दी गई है। सुरक्षा चक्र तोडऩे पर कानूनी कार्रवाई की जा रही है। गुलामअलीपुरा की रहने वाली महिला में गुरुवार को कोरोना की पुष्टि हुई थी। आनन-फानन में मुहल्ले को जाने वाले रास्तों पर पुलिस तैनात कर दी गई। बावजूद इसके, आवागमन के साथ हॉटस्पॉट क्षेत्र में बैंक खुले होने से ग्राहकों की मौजूदगी को देखते हुए सुबह इन्हें बंद करने का आदेश जारी कर दिया गया। डीएम के आदेश के बाद पुलिस ने डिगिहा स्थित पेट्रोल पंप, एक्सिस बैंक, इको बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्रा, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक, इंडियन बैंक व आर्यावर्त बैंक को बंद करा दिया गया है। एलडीएम बलराम साहू ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर यह फैसला किया गया है। अग्रिम आदेशों तक बैंक पूर्णतया बंद रहेंगे। इन क्षेत्रों को जाने वाले सभी रास्तों पर पुलिस का पहरा बैठा दिया गया है। पास वाले ही वाहनों को प्रवेश दिया जा रहा है।


असहाय लोगों को खाद सामग्री वितरित

वृद्ध असहाय लोगों को जिला पंचायत सदस्य ने वितरण किए खाद्य सामग्री


म्योहर कौशाम्बी। जिला पंचायत कौशाम्बी के सदस्य और भाजपा नेता साजन मौर्य ने अपने जिला पंचायत क्षेत्र के निजामपुर हड़िया भददुरपुर देवरा आदि गांव में वृद्ध असहाय जनो मजदूरो जरूरतमंद लोगों एवं विधवा महिलाओं को शनिवार को खाद्य सामग्री का वितरण  किया।


राशन सामग्री बितरण करते हुए उन्होंने लोगों से कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए उचित दूरी बनाकर लोग रहे और साफ सफाई का विशेष ध्यान रखने की बात उन्होंने लोगों से कही। जिला पंचायत सदस्य साजन मौर्या ने कहा कि बाहर से आने आने वाले लोगों से उचित दूरी बनाये रक्खे और मास्क पहनकर ही बाहर के लोगो से बात करें। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के बचाव में सावधानी ही सुरक्षा है घर में रहें स्वस्थ रहें।
सुशील दिवाकर


युवक पर गिरा पेड़, मौके पर मौत

पेड़ काट रहे युवक के ऊपर गिरा पेड़ युवक की मौके पर मौत


पश्चिम शरीरा क्षेत्र में शुक्रवार की शाम हादसे में युवक की मौत


पश्चिम शरीरा कौशाम्बी। पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र में हरा पेड़ काटते वक्त पेड़ काट रहे युवक पर ही पेड़ गिर गया है। जिससे युवक पेड़ में दब गया और मौके पर युवक की मौत हो गयी।


जानकारी के मुताबिक पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र के नागरेहा कला गांव का युवक डिप्टी सिंह पुत्र भगवान सिंह लिपटिस का हरा पेड़ काटने गांव के बाहर गया था। युवक पेड़ काट रहा था जिस पेड़ को युवक काट रहा था। वह पेड़ काटते वक्त युवक पर ही गिर गया युवक ने भागने की कोशिश की लेकिन भाग नही सका। अचानक पेड़ गिर गया और उसके नीचे युवक दब गया चोट अधिक लग जाने से मौके पर ही युवक की मौत हो गयी घटना 24 अप्रैल की शाम की है। घटना की जानकारी 25 अप्रैल को सुबह पुलिस को मिलने पर मौके पर पश्चिम शरीरा थाना पुलिस पहुँची और युवक की लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


गब्बर सिंह पत्रकार


खाता धारको को मिलेंगे इलेक्ट्रॉनिक कार्ड

नई दिल्ली। कई बार ऐसी जरूरत आ जाती है, जिसे पूरी करने के लिए हमारे पास पर्याप्त पैसा नहीं होता। हमारे सामने सीमित विकल्प होते हैं। दोस्त-रिश्तेदार से उधार ले सकते हैं। क्रेडिट कार्ड पर पर्सनल लोन ले सकते हैं। पर्सनल लोन में ब्याज की दर काफी ज्यादा होती है। कई लोग संकोची स्वभाव के होते हैं, जिससे उनके लिए दोस्त या रिश्तेदार से मदद मांगना मुश्किल होता है। हम आपको इस स्थिति में मदद पाने के लिए बैंक की ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के बारे में बता रहे हैं, जो ऐसी जरूरतें पूरी करने की सुविधा देता है। आपको बता दें कि आरबीआई (RBI) ने ऐलान करते हुए कहा है कि आने वाले समय में बैंकों की ओर से खाताधारकों को इलेक्ट्रॉनिक कार्ड (Electronic card) जारी किए जाएंगे। आरबीआई ने नियमों में ढील देते हुए बैंकों में ओवरड्राफ्ट अकाउंट (Overdraft account) रखने वाले ग्राहकों को इलेक्ट्रॉनिक कार्ड जारी करने की अनुमति दी है। यह सुविधा उन ओवरड्राफ्ट खातों के लिए है जो पर्सनल लोन की तरह हैं। सरकारी और निजी बैंक ओवरड्राफ्ट की फैसिलिटी देते हैं। ज्यादातर बैंक करंट अकाउंट, सैलरी अकाउंट और फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर यह सुविधा देते हैं। कुछ बैंक शेयर, बॉन्ड और बीमा पॉलिसी जैसे एसेट के एवज में भी ओवरड्राफ्ट की सुविधा देते हैं। इस फैसिलिटी के तहत बैंक से आप अपनी जरूरत का पैसा ले सकते हैं और बाद में यह पैसा चुका सकते हैं इन लोगों को मिलेगा लाभ- RBI ने बताया कि जुलाई 2015 के दिशानिर्देश के अनुसार बैंकों को बचत बैंक और चालू खाते वाले ग्राहकों को डेबिट कार्ड जारी करने की अनुमति दी गई है। बता दें इस सुविधा का लाभ क्रेडिट और लोन अकाउंटहोल्डर्स को नहीं मिलेगा। इसका लाभ सिर्फ बैंक ओवरड्राफ्ट खाते रखने वाले ग्राहकों को ही मिलेगा। आरबीआई ने ये भी स्पष्ट किया है कि इलेक्ट्रॉनिक कार्ड ग्राहक को दी गई ओवरड्राफ्ट सुविधा की वैधता से अधिक की अवधि के लिए नहीं जारी किया जाएगा। इसके अलावा ये इलेक्ट्रॉनिक कार्ड सिर्फ देश में लेनदेन के लिए होगा आरबीआई ने इस सुविधा को शुरू करने से पहले निदेशक मंडल को एक प्लान योजना बनाने का काम दिया है। फिलहाल उम्मीद की जा रही है कि बैंक जल्द से जल्द अपने खाताधारकों को ये खास सुविधा प्रदान करेंगे। RBI की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि नकद लेनदेन पर यह प्रतिबंध प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएमजेडीवाई) के साथ प्रदान की गई ओवरड्राफ्ट सुविधा पर लागू नहीं होगा।


पारदर्शिता बरतें यूपी सरकारः प्रियंका

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कोरोना टेस्टिंग के बारे में उत्तर प्रदेश सरकार को पारदर्शिता बरतने का सुझाव दिया है। प्रियंका गांधी ने शनिवार को ट्वीट किया “ उत्तर प्रदेश में टेस्टिंग को लेकर काफी लोग चिंतायें व्यक्त कर रहे हैं। कोरोना से लड़ाई में पारदर्शिता बड़े काम की चीज है। सर्व समाज और सरकार मिलकर ही इस महामारी को शिकस्त दे सकते हैं।”


सुझाव के तौर पर ट्वीट में चार पोस्टर अटैच करते हुये उन्होने लिखा “ पूरी दुनिया इस बात को मान चुकी है कि ढंग से और ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग ही कोरोना की रोकथाम की कुंजी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने दो दिनों से जांचो की संख्या बताना बंद कर दिया है। ” उन्होंने कहा “ टेस्टिंग को लेकर पूरी तरह से पारदर्शिता होनी चाहिये ताकि जनता को जानकारी मिले और इस महामारी के खिलाफ समाज और प्रशासन एकजुट होकर लड़ पाए। आंकड़ों और सच्चाई को छिपाने से समस्या घातक हो जाएगी। यूपी सरकार को यह जल्द से जल्द समझना होगा। ”


उत्तर प्रदेश की प्रभारी ने कहा कि प्रदेश के किस लैब में रोज कितने टेस्ट हो रहे हैं। केजीएमयू समेत प्रदेश के अन्य टेस्टिंग लैब की प्रतिदिन क्षमता क्या है। यह आंकड़ा जनता के समक्ष रखना बहुत ही महत्वपूर्ण है। ट्वीट में संलग्न में लिखा है कि उत्तर प्रदेश में पूल टेस्टिंग के नाम से कई दर्जन लोगों के स्वाब इकठ्ठे एक ही किट द्वारा हो रहे हैं। हेल्थ एक्सपर्टस ने इस प्रक्रिया के लिए सख्त नियम तय किये हैं जिनका सही पालन न होने से नुकसान हो सकता है। सरकार को पूल टेस्टिंग के इस्तेमाल में पूरे सावधानी लेनी चाहिए और इस बारे में जनता को जानकारी देनी चाहिए।


कांग्रेस महासचिव ने सुझाव दिया है कि क्वारंटाइन केंद्रों में डब्लूएचओ की गाइड लाइन फॉलो करना बहुत ही महत्वपूर्ण है। इन केंद्रो पर भोजन और नाश्ता की उपलब्धता, स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा प्रतिदिन जांच और केन्द्र की साफ-सफाई की रिपोर्ट जारी होनी चाहिए। क्वारंटाइन केंद्रों की अवधि पूरी होने पर संदिग्ध को घर भेज के बाद भी दुबारा जांच करने की योजना जनता को स्पष्ट की जाए।


भत्तो पर रोक वापस ले सरकारः सपा

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकार पर कर्मचारियों को हतोत्साहित करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकारी कर्मिचारियों तथा पेंशनर्स को मिलने वाले महंगाई भत्ते पर लगाई गई रोक के फैसले को शीघ्र वापस लेना चाहिए।


अखिलेश यादव ने कहा कि अधिकारी और कर्मचारी अपनी जान पर खेलकर सामान्य दिनो से कई गुना अधिक काम कर रहे है। उन्होंने हा कि पेंशन पर निर्भर रहने वाले बुजुर्जो के लिये यह निर्णय घातक है। सपा अध्यक्ष ने ट्वीटकर कहा “सरकारी सेवकों के डीए पर पाबंदी का फैसला सरकार तुरंत वापस ले। एक तरफ बिना अवकाश लिए अधिकारी-कर्मचारी लोग अपनी जान पर खेलकर सामान्य दिनों से कई गुना काम कर रहे हैं, दूसरी तरफ़ सरकार उन्हें हतोत्साहित कर रही है। पेंशन पर निर्भर रहने वाले बुजुर्गों के लिए तो ये और भी घातक निर्णय है।”


गौरतलब है कि कोरोना से लड़ाई में वित्तीय इंतजाम के लिये सरकार ने पहली जनवरी 2020 से 30 जून 2021 तक कर्मचारियों के मंहगाई भत्ते (डीए) की बढ़ोत्तरी पर रोक लगा दी है। इस दौरान कर्मचारियों तथा पेंशनर्स को मिलने वाले डीए में किसी प्रकार की बढ़ोत्तरी नही होगी।


संदिग्ध हालात में छत से कूदी महिला

गौतमबुद्ध नगर। दिल्ली से सटे नोएडा में एक महिला की बहुमंजिला इमारत से संदिग्ध हालातों में गिरने से मौत हो गयी। हादसे की जांच पुलिस कर रही है। अभी तक हादसे के पीछे की वजह का सही पता नहीं चल पाया है। घटना की पुष्टि गौतमबुद्ध नगर जिले के पुलिस प्रवक्ता ने शनिवार को की।


 उन्होंने बताया, जिस महिला की मृत्यु हुई उसकी उम्र करीब 37 साल थी। घटना शनिवार तड़के करीब 4 बजे की पता चली है। प्रवक्ता के मुताबिक, पुलिस ने मौके से शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने पर ही मौत की सही वजह पता लग पाएगी। हादसा अंतरिक्ष गोल्फ व्यू में हुआ। पुलिस छानबीन में पता चला है कि महिला इस अपार्टमेंट की 17वीं मंजिल से नीचे गिरी थी।


 


अलर्टः लॉक डाउन में हैकर्स हुए एक्टिव

दिलीप शर्मा


सावधान इन दिनों साइबर ठग सक्रिय हैं। लॉकडाउन का फायदा उठाते हुए आपको सोशल नेटवर्किंग फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्यूटर जैसे प्लेटफार्म को हैंकर हैंग कर कर रहे हैं। खासकर फेसबुक को ठग अधिक निशाना बना रहे हैं। ऐसे लोगों के फेसबुक को हैंग कर कर रहे हैं, जिनका प्लेटफार्म बहुत सारे लोगों के साथ होने के साथ विश्वनीयता बनी हुई है।


छत्तीसगढ़ में कुछ ऐसे ही उदाहरण महासमुंद जिले में 24 अप्रैल को देखने को मिली यहां एक लैब संचालक और रेस्टोरेंट मालिक के फेसबुक आईडी को हैक कर लिया गया। और हैंकर ने बकायदा इन हैंक किए हुए आईडी से अपना पोस्ट डालते हुए लोगों से मदद की गुहार लगाई। हालांकि अभी तक यह खुलासा नहीं हो पाया है कि किसी ने उक्त हैंकर के खाते में किसी तरह की मदद की है। आइए आज हम आपकों ऐसे कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं जिससे आपका सोशल नेटवर्किंग को सिक्योर किया जा सकें।


सबसे पहले कामकाज वाले Email को अपना फेसबुक आइडी के पासवर्ड को अलग रखें।
याद रखें Email आफ़िस, कालेज, बिजेनस, या यूनिवर्सिटी में प्रयोग करते हैं, उसका प्रयोग फेसबुक login करने के लिए न करें।
सबसे बड़ी गलती हमारा अपना मोबाइन नंबर को ही पासवउर् बना लेते हैं, जो बहुत सारे लोगों के पास मौजूद होता है।
इसलिए अपने ऑफिशियल ईमेल, मोबाइल को फेसबुक login से दूर ही रखें।
फेसबुक ने सुविधा दी है कि आप अपना login एड्रेस में प्रयोग होने वाला E-mail/Phone No. जब मन करे तब बदल सकतें हैं।


सेना से मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर। पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही है, फिर भी आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देने की फिराक में लगे हुए हैं। शनिवार को जम्मू-कश्मीर में मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों ने तीन आतंकवादियों को मौत के घाट उतार दिया। बताया जा रहा है कि घाटी में लॉक डाउन में अब तक 21 आतंकवादी मारे जा चुके हैं। शनिवार तड़के पुलवामा जिले के अवंतिपुरा इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकवादियों और एक उसके सहयोगी को मार गिराया है। माना जा रहा है कि कुछ आतंकवादी अब भी छिपे हो सकते हैं। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि आतंकवादियों के खिलाफ सर्च अभियान अब भी जारी है और अब तक मारे गए आतंकवादियों की पहचान नहीं हो पाई है। बता दें कि शुक्रवार को ही अधिकारियों ने यह जानकारी दी थी कि साल 2020 में अब तक सुरक्षाबलों ने पचास आतंकवादियों को मार गिराया है। वहीं, इस घटना से पहले लॉक डाउन के दौरान अब तक 18 आतंकवादी घाटी से मारे जा चुके हैं।


नई गाइडलाइन के तहत मिली छूट

नई दिल्ली। लॉकडाउन के बीच केंद्र सरकार ने देश वासियों को सबसे बड़ी राहत दी है। करीब एक महीने से बंद चल रही कई दुकानों को आज से शर्तों के साथ खोलने की इजाजत दे दी गई है। देश में छूट के साथ कुछ दुकानें खोलने की छूट दी है। गैरी जरूरी सामनों की दुकानें खोलने की अनुमति दी गई है। लेकिन दुकानदारों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। संस्थान में काम करने वाले लोगों को मास्क पहनना जरूरी होगा। 50 प्रतिशत स्टाफ़ की काम कर सकते हैं। बता दें कि गृह मंत्रालय ने शर्तों के साथ ये अनुमति दी है।


लॉकडाउन में शर्तों के साथ कर सकेंगे कारोबार


सरकार ने इकोनॉमी को पटरी लाने के लिए कई शर्तों के साथ दुकानों को खोलने की मंजूरी दी है। बीते 30 दिनों के लॉकडाउन के बाद केंद्र सरकार ने दुकानों को खोलने के बड़ी राहत दी है। हालांकि अभी लॉकडाउन 3 मई तक लागू रहेगा लेकिन गृह मंत्रालय ने दुकानों को खोलने को लेकर शुक्रवार को नई गाइडलाइंस जारी की है। गाइडलाइंस के अनुसार आवासीय कॉलोनियों के समीप की दुकानें हीं खुलेंगी। साथ ही ये दुकानें संबंधित राज्य या केंद्र शासित प्रदेशों के स्थापना अधिनियम के तहत पंजीकृत होनी चाहिए। इसके अलावा इन दुकानों में केवल 50% कर्मचारी ही काम करेंगे और दुकानों  में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इसके साथ ही कर्मचारियों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। इसके अलावा कर्मचारियों को लॉकडाउन के दूसरे नियमों को मानना होगा।


गाइडलाइंस में कुछ रोक भी


हालांकि गृह मंत्रालय ने अपनी गाइडलाइंस में कुछ रोक भी लगाई है। गृह मंत्रालय के गाइडलाइंस के मुताबिक शॉपिंग मॉल्‍स और शॉपिंग कॉम्‍प्‍लेक्‍स नहीं खुलेंगे। हॉटस्पॉट और कंटेनमेंट जोन में किसी तरह की छूट नहीं दी गई है। इसके साथ ही नगरपालिका क्षेत्र में मार्केट परिसर में मौजूद दुकानें तीन मई तक नहीं खुलेंगी। इससे पहले गृह मंत्रालय ने किताब और पंखों के दुकानों को खोलने की मंजूरी दे दी थी। दरअसल 1 महीने से चल रहे लॉकडाउन की वजह से व्‍यापारियों को करोड़ों का नुकसान हो चुका है साथ ही रोजगार का संकट पैदा हुआ है। ऐसे में सरकार की और दी गई छूट कहीं ना कहीं इकोनॉमी को थोड़ी पटरी पर तो जरूर ही लाएगा।


प्रतिदिन होती है 100 लोगों की मौत

मानौस। ब्राजील का मानौस शहर वर्तमान समय में ‘वुहान’ बन चुका है। मानौस की आबादी करीब 24 लाख है। लेकिन ब्राजील के सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीज यहीं पर हैं। अभी तक यहां हर दिन 20 से 30 कोरोना संक्रमितों की मौत हो रही थी, लेकिन अब यह आंकड़ा 100 तक पहुंच गया है। हालात यह बन गए हैं कि मृतकों के शवों को दफनाने के लिए जगह तक नहीं बची। ऐसे में स्थानीय प्रशासन जेसीबी से सामूहिक कब्रें खुदवा रहा है, जहां शवों को एक साथ दफनाया जा रहा है।


अस्पताल से कब्रिस्तान ले जाने और अंतिम संस्कार करने वालों की कमी है। इसलिए ट्रैक्टर से शव पहुंचाए जा रहे हैं। कब्रिस्तान में कुछ कर्मी तैनात हैं, जो जेसीबी की मदद से शव दफनाते हैं। मौतों का आकंड़ा बढ़ने पर कर्मचारी भी शवों के पहुंचने का इंतजार करते दिखाई देते हैं।50 हजार संक्रमित, 3300 से ज्यादा लोगों की जानें गईं: मानौस के मेयर आर्थर वर्जिलियो नीटो ने कहा- देश में 50 हजार लोग संक्रमित हैं, जबकि 3300 की जान जा चुकी है।


परिजनों को शव देखने की मनाहीः स्थानीय मीडिया के मुताबिक, ब्राजील में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित लोग मानौस में ही हैं। हालात ये हैं कि मृतकों को दफनाने के लिए कर्मचारी तैनात किए गए हैं। परिजनों को शव देखने या उनके पास जाने की मनाही है।


मेयर आर्थर वर्जिलियो नीटो ने कहा- ‘कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा अचानक बढ़ गया है। जगह कम है। इसलिए सामूहिक कब्रों में शव दफनाए जा रहे हैं। कब्रों की तस्वीर किसी हॉरर फिल्म सी दिखाई देने लगी है।


घर में मिले पांच शव, फैली सनसनी

2 बच्चों, दो महिलाओं और एक पुरुष शामिल



एटा। पूरे देश में लागू लॉकडाउन के चलते हर कोई अपने घर में बंद है और सड़कों पर बहुत कम गतिविधियां देखी जा रही हैं। उत्तर प्रदेश के एटा में लॉकडाउन के दौरान आज शनिवार को एक घर में एक ही परिवार के 5 सदस्यों के शवमिले हैं। घटना सामने आने के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार घर में मिले पाँच लोगोंं के शवों में दो बच्चे और दो महिलाओं के शव शामिल हैं। बताया जा रहा है कि 2 बच्चों, दो महिलाओं और एक पुरुष का शव बंद मकान में मिला है।


सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने गेट तोड़ कर शव निकाला है। वहीं फॉरेंसिक और डॉग स्क्वायड टीम मौके पर मौजूद है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक हत्या की आशंका की तरफ जांच की जा रही है। घटना थाना कोतवाली नगर के श्रंगार नगर कालोनी की है। जहां रिटायर्ड स्वास्थ्य कर्मी के घर में 2 मासूम बच्चों सहित 5 लोगों के शव घर में मिले है। एक ही परिवार के पांच लोगों के शव मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। मृतकों में 78 वर्षीय राजेश्वर प्रसाद पचौरी स्वास्थ्य विभाग से रिटायर्ड व उनकी पुत्र वधु 35 वर्षीय दिव्या पचौरी व मृतक दिव्या की बहन 24 वर्षीय बुलबुल व 10 वर्षीय आयुष बेटा व दूसरा बेटा 1 साल का है। पुलिस ने सभी पांच शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है। फिलहाल पुलिस घटना की जांच पड़ताल में जुट गई है। मौत के कारणों का अभी स्पष्ट पता नहीं चल पाया है।


अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। बिजनेस सॉफ्टवेयर फर्म फ्रेशवर्क्स इंक ने बुधवार को अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की है। अपने शानद...