महिला लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
महिला लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 15 मई 2021

हद: महिला को थूक कर चाटने का फरमान सुनाया

कविता गर्ग   

मुंबई। महाराष्ट्र के अकोला जिले में एक जाति पंचायत ने एक महिला को दूसरी शादी करने पर थूक कर चाटने व एक लाख रुपये जुर्माना भरने की सजा सुनाई। महिला द्वारा हिम्मत कर पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने पर पंचायत के 10 लोगों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर लिया गया है। पंचायत के तानाशाही फरमान की शिकार बनी महिला का पहला विवाह 2011 में अकोला में हुआ था। पहले पति से 2015 में उसका तलाक हो जाने के चार साल बाद 2019 में उसने दूसरा विवाह जलगांव जिले में कर लिया। नाथ-जोगी संप्रदाय की उक्त महिला का दूसरा विवाह करना उसकी जाति पंचायत को रास नहीं आया। जाति पंचायत ने अकोला में उक्त महिला की बहन व उसके कुछ और रिश्तेदारों को बुलाकर फरमान सुनाया कि दूसरा विवाह करने वाली महिला को एक लाख रुपये जुर्माना अदा करने व पंचायत के सामने थूक कर चाटने के बाद ही उसकी जाति में वापस लिया जाएगा

पंचायत ने यह फरमान पिछले माह नौ अप्रैल को सुनाया था। यह बात जब जलगांव में रह रही भुक्तभोगी महिला को पता चली, तो उसने हिम्मत जुटाकर जाति पंचायत के 10 लोगों के विरुद्ध जलगांव के ही चोपड़ा पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज करा दी। जलगांव के एसएसपी प्रवीण मुंडे के अनुसार, पुलिस ने महाराष्ट्र प्रोटेक्शन आफ पीपुल फ्राम सोशल बायकाट (प्रिवेंशन, प्राहिबिशन एवं रीड्रेशल) एक्ट की धारा पांच व छह के तहत मामला दर्ज किया है। जलगांव पुलिस ने जांच के लिए यह मामला अकोला के पिंजर पुलिस थाने को स्थानांतरित कर दिया है

गौरतलब है कि मार्च, 2021 में बॉम्बे हाईकोर्ट ने दूसरी शादी की वैधता के सिलसिले में एक बड़ा फैसला दिया। अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि एक बेटी अपने पिता की दूसरी शादी की वैधता को अदालत में चुनौती दे सकती है। जस्टिस आरडी धनुका और जस्टिस वीजी बिष्ट की पीठ ने अपने फैसले में 66 वर्षीय महिला की याचिका स्वीकार कर ली जिसमें परिवार अदालत के एक आदेश को चुनौती दी गई है। दरअसल याचिकाकर्ता महिला ने अपने पिता (दिवंगत) की दूसरी शादी की वैधता को चुनौती देते हुए साल 2016 में परिवार अदालत में एक याचिका दाखिल की थी। महिला ने याचिका में दलील दी थी कि उसके पिता ने उसकी मां की साल 2003 में मृत्यु हो जाने के बाद दूसरी शादी कर ली थी लेकिन पिता की मृत्यु के बाद साल 2016 में उसे पता चला कि उसकी सौतेली मां ने अपनी पिछली शादी से तलाक नहीं लिया था।

गुरुवार, 7 जनवरी 2021

20 साल से एक कमरे में कैद जिंदगी, आजाद

 दुष्यंत नीतम   

राजकोट। तीन मंजिला मकान से एक 65 साल की महिला को आखिरकार बाहर निकाला गया। उसकी हालत देख लोग हैरान हो गए। इतना ही नहीं, उसके कमरे से 60 तोला सोना मिला है,जबकि उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं है। वहीं, भतीजे ने उसे अपनाने से मना कर दिया। यह घटना राजकोट शहर की है। जहां आसपास के लोग बताते हैं कि 20 साल से महिला कमरे में बंद थी। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राजकोट शहर कंचनबेन नाम की महिला रहती थी। वो शादी नहीं की थी और वह अपने तीन मंजिला मकान के एक छोटे से कमरे में रह रही थीं। पड़ोसी उनके कमरे के बाहर खाना रख देते थे। खाना लेकर कंचनबेन कमरे में चली जाती थीं और बहुत कम ही बाहर निकलती थीं। पड़ोसियों ने इसकी जानकारी राजकोट की सामाजिक कार्यकर्ता जल्पाबेन पटेल को दिया। जिन्होंने अपनी टीम के साथ कंचनबेन के घर पहुंची और उसे कमरे से बाहर निकाला।

टीम के मुताबिक कंचनेन बिना कपड़ों की थीं। उनके बाल भी करीब 8 फीट तक बढ़ गए थे। कमरा पूरी तरह से गंदा था और बदबू आने लगी थी। उनके घर के एक कमरे से 60 तोला सोना भी मिला है। जल्पाबेन ने बताया कि काफी कोशिशों के बाद कंचनबेन के सगे भतीजे का नंबर मिला। उनसे फोन पर बात भी की गई, लेकिन उन्होंने कंचनबेन को अपनाने से मना कर दिया। इसलिए अब उन्हें सूरत के मानव मंदिर वृद्धाश्रम भेज दिया गया।

सोमवार, 28 दिसंबर 2020

दलाल ने विवाहिता का अधेड़ से विवाह कराया

संदीप यादव   
नागौर। असम की एक विवाहित महिला को दलाल ने कुंवारी बताकर एक 40 साल के अधेड़ को 1 लाख 60 हजार में बेच दिया। इतना ही नहीं दलाल ने उसकी कोर्ट मैरिज तक करा दी। जब विवाहिता को इस पूरे खेल का पता चला तो अब उसको डराया और धमकाया जा रहा है। इस मामले में जो 40 साल को अधेड़ आदमी है, जिससे इस विवाहिता की दूसरी शादी हुई वह भी उसको वापस भेजने के लिए भी तैयार है। लेकिन वे इससे पहले दलाल से अपने रुपए वापस चाहता है। यह अजीब मामला राजस्थान के नागौर शहर से सटे बालवा गांव का है।जांच के दौरान सामने आया कि बालवा निवासी गोपालराम की शादी नहीं हो रही थी। इसके चलते वह चूंटीसरा के एक एजेंट कमल के सम्पर्क में आया, जिसने आश्वासन दिया कि वह उसकी शादी करवा देगा। कुछ दिनों बाद इस एजेंट ने गोपालराम से बोला कि असम से एक लड़की नागौर आई हुई है। उसे देख लो और पंसद कर लो। अक्टूबर माह में लड़की देखने के बाद एजेंट ने 29 अक्टूबर को गोपालराम एवं सोरूपा की शादी करवा दी। इसके एवज में एक लाख 60 हजार रुपए लिए।धोखे से कोर्ट मैरिज के बाद बालवा पहुंची सोरूपा ने बताया कि गोपालराम के साथ उसे किसी तरह का दुख नहीं है। यहां गोपालराम का परिवार उसको वापस भेजने की कह भी रहा है। गोपाल व उसके परिवार को उसकी पहली शादी के बारे में किसी प्रकार की जानकारी नहीं थी। उन्हें अंधेरे में रखकर उसकी शादी करवाई गई।
आरोपी कमल और उसकी पत्नी ने उसको नशे की गोलियां खिला दी थी। इसके चलते कई दिनों तक तो उसको होश ही नहीं रहा। इधर, गोपालराम के परिवार ने बताया कि वे एजेंट से अपने रुपए वापस चाहते हैं। साथ ही सोरूपा को वहीं भेजना चाहते हैं जहां वे जाना चाहती है। पीड़िता सोरूपा ने गोपालराम को बताया कि वह मूल रूप से असम की रहने वाली है। एक साल पहले उसकी शादी नागौर में पवन के साथ हुई थी। वे कुम्हारी दरवाजे के पास रहते हैं। यह शादी उसको डरा-धमकाकर की गई है।पीड़िता ने बताया कि वह 12 महीने से मां-पिता से मिलने असम नहीं जा सकी थी। उसके पति पवन ने अपने जानकार कमल को 12 हजार रुपए देकर असम भेजा। कमल ने उसे असम ले जाने की बजाय दलाल के माध्यम से यहीं बेच दिया। शुक्रवार को कमल और एक महिला यहां आए और उसके साथ मारपीट करते हुए धमकी भी देकर गए हैं कि अगर वह यहां नहीं रहती है तो उसको मार देंगे। सोरूपा ने बताया वह यहां रहना नहीं चाहती है वह अपने पति के पास ही जाना चाहती है।नागौर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा का कहना है कि इस तरह के मामले की अभी कोई रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है, लेकिन यह गंभीर मामला है। इस प्रकरण को गंभीरता से दिखवाया जाएगा। साथ ही जो भी इस मामले में दोषी हैं। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी करवाई जाएगी।

सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...